today murli 23 december

TODAY MURLI 23 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 23 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 22 December 2018 :- Click Here

23/12/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
12/03/84

The Easy Way to Spirituality is Contentment.

Today, BapDada was looking at the contentment, the spirituality and the smile of satisfaction of all the children from everywhere who are far away and yet remain close. Contentment is the easy way to experience spirituality and cheerfulness is the easy attainment. Those who have contentment are definitely seen to be embodiments of cheerfulness. To have contentment is to be an embodiment of all attainments. Contentment is the easy way to imbibe all specialities. The treasure of contentment automatically attracts all other treasures towards itself. Contentment is the practical proof of the subject of knowledge. Contentment makes you a carefree emperor. Contentment is the way to remain constantly set on your seat of self-respect. Contentment constantly and easily makes you into a great donor, a world benefactor and a bestower of blessings. Contentment frees you from spinning the cycle of the limitations of “mine and yours” and makes you into a spinner of the discus of self-realisation. Contentment makes you constantly free from negative thoughts and enables you to claim a right to the victorious seat of steadfastness and stability. It enables you to remain stable in the perfect form of having a right to remain constantly seated on BapDada’s heart throne, to wear the tilak of easy remembrance and the crown of the service of world transformation. Contentment is the donation of life in Brahmin life. It is the easy way to progress in Brahmin life. When you are content with yourself and the family, the family is content with you. Whilst living in the midst of any situation, atmosphere or vibration s of upheaval, you remain content. Similarly, those who are embodiments of contentment claim a right to the certificate of being an elevated soul, a victorious jewel. You have to claim three certificates.

1) Contentment of the self with the self. 2) Constant contentment of the Father with the self. 3) Contentment of the Brahmin family with the self.

Through these you can make your present and your future elevated. Even now, there is time to claim the certificate s. You can claim them, but you don’t have too much time. It is late now, but it isn’t too late. Even now, you can move forward with the speciality of contentment. Even now, there is a margin for coming last and going fast and coming first. Later, those who come last will remain last. Therefore, today, BapDada was checking these certificate s. You can checkyourself too. Are you cheerful or are you full of questions? Are you double-foreigners cheerful and content? If all your questions have ended, you remain cheerful. The time for contentment is the confluence age. It is at this time that you have the knowledge of contentment. There, you will remain beyond the knowledge of being content or discontent. It is at this time that there is the treasure of the confluence age. All contented souls are those who give others the treasures of contentment. You are master bestowers, children of the Bestower. You have accumulated this much, have you not? Have you accumulated a fullstock or is there a margin for a little more? If your stock is low, you cannot become a world benefactor. You can only be a benefactor. You have to become equal to the Father. Achcha.

All of you, who have come from this land and abroad, are going back as master almighty authorities, full of all treasures, are you not? Since you have come here, you also have to return. The Father comes here and so He also goes back. You children too come here and go back having become full. You go back to make others equal to the Father. You go back to make your Brahmin family grow. You go back to quench the thirst of thirsty souls. This is why you are going back, is it not? You are not going back due to your own heart’s desire or because of any bondage, but you are going back according to the Father’s directionsfor service for a short time. You are going back with this understanding, are you not? Don’t think that you belong to America or Australia etc., no. BapDada has made you instruments for service and sent you there for a short time. BapDada is sending you there; you are not going there due to your own desire. You don’t say, “My home, my country” etc. No, the Father is sending you to a service place. All of you are always detached and loving to the Father. You don’t have any bondage, not even any bondage of service. The Father has sent you and so He knows. You have become instruments and so you are instruments for as long as and wherever He makes you instruments. You are double light in this way, are you not? You Pandavas are also loving and detached, are you not? No one here has any bondage. To become detached means to be loving. Achcha.

To those who constantly maintain the spirituality of contentment, to those who remain cheerful and give everyone the power of contentment through their every thought, word and deed, to those who make disheartened souls powerful with the treasures, to the constant world benefactors, unlimited carefree emperors, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Avyakt BapDada meeting Dadiji and Dadi Janki:

The pair of you being the holy swans of rup (the form) and basant (showering with words) is good. This one (Dadi Janki) prefers mostly to be an embodiment of silence and do service, whereas this one (Dadiji) has to speak. This one goes into solitude whenever she wants. This one prefers to serve through her form. In fact, all of you are “all-round  but this is the partnership of Rup and Basant. In fact, there is a need for both these sanskars. Where words don’t work, the form works, and where the form doesn’t work, then words will work. Therefore, this is a good pairing. All the pairs that are formed are good. That pair was good and this is also good. (Referring to Didi). She has become an incognito river in the drama. Those from abroad also have a lot of love for her. It doesn’t matter. You have seen the other form of Didi. Everyone is so happy to see you. All the Maharathis are together. Brij Indra, Nirmal Shanta – all are companions, even though they are far away. The Shaktis co-operate very well. Because you all place each one of you ahead of the other, you have moved forward, and, because of placing the instrument shaktis ahead, you are all ahead. This is the reason for the growth of service: through this you are making one another move forward. There is love for one another and there is unity. To speak constantly of the specialities of others is to make service grow. There has always been growth through this method and there will continue to be growth. To look constantly at the specialities and to teach others how to see specialities is the thread of the rosary of the gathering. Pearls are also threaded together on a thread. The thread of the gathering is: not to speak about anything except specialities. Because Madhuban is the great land, there is great fortune and great sin too. If someone goes back from Madhuban and speaks wasteful words, then that sin is accumulated. Therefore, always wear the spectacles of seeing specialities. You cannot then see anything wasteful. For instance, when you wear rose-tinted glasses, you cannot see anything that is not rose-coloured. Similarly, always wear the glasses of seeing specialities. Even if you do sometimes see something, don’t speak about it. When you speak about it, you lose your fortune. If there are weaknesses etc., the Father is responsible for those. Who made you instruments? The Father. So to speak about the weaknesses of those who are instruments means to speak about the weaknesses of the Father. Therefore, let no one say anything except something with good wishes for the other.

BapDada sees you jewels as even more elevated than Himself. You are the decoration of the Father. So, the children who decorate the Father are even greater than He is. BapDada is pleased and sings praise of the children. Wah, My jewel So-and-so! Wah, My jewel So-and-so! He continues to sing this praise. The Father never looks at anyone’s weaknesses. Even when He gives a signal, He gives that signal with regard , according to your speciality. Although the Father has the authority, He always gives a signal with that regard. Let this speciality of the Father’s constantly emerge from the children. You have to follow the Father, do you not?

All the main senior sisters (Dadis) are sitting in front of BapDada:

The praise of Janak who was liberated in life is your memorial, is it not? There are the two titles: Liberated-in-life and Videhi (bodiless) – (for Dadi). This one –Dadiji – is a jewel anyway. The jewel of contentment, the jewel of the forehead, the jewel of success – so many jewels! All are jewels and nothing but jewels. No matter how much you try to hide the sparkle of jewels, they cannot remain hidden; a jewel will sparkle even in mud. It will work like a light. Therefore, that is your name and that is the work you do. This one (Dadi Janki) also has those virtues: bodiless and liberated-in-life. You always stay in the depths of the experience of happiness in life. This is called being liberated-in-life. Achcha

Avyakt version: Be humble and construct the new world.

The main basis of being constantly and easily successful in service is humility. To be humble means to maintain your self-respect and it is also the easy way to receive respect from everyone else. To be humble doesn’t mean to bow down, but to make everyone bow down to your speciality and love. The sign of greatness is humility. To the extent that you are humble, you will accordingly be considered great in the heart of everyone. Humility easily makes you egoless. The seed of humility automatically enables you to attain the fruit of greatness. Humility is the easy way to receive blessings from everyone’s heart. The sign of being egoless is humility. When you have the virtue of humility in your attitude, vision, words, contacts and relationships, you become great. Just as the bowing of a tree serves others, so too, to be humble means to become a server and bow down. This is why there has to be the balance of greatness and humility. Those who remain humble attain everyone’s respect. When you are humble, everyone respects you. No one respects those who are arrogant; everyone moves far away from them. Those who are humble give everyone happiness. Wherever they go and whatever they do, they will give happiness to everyone. Whoever comes in contact with them experiences happiness.

The speciality of a server is being a very humble world servant who also has the authority of knowledge. To the extent that you remain humble, you accordingly remain a carefree emperor. Keep a balance of being humble and an authority. The consciousness of being humble and unlimited and of being an instrument are the main bases of successful service. To the extent that you have self-esteem, you also need to have humility. Let there be no arrogance in your self-esteem. Do not feel that you are more elevated than those younger than you. There mustn’t be any feelings of dislike for them. No matter what souls are like, look at them with the vision of mercy. There mustn’t be any arrogance or feeling of insult with others. Let there never be that type of behaviour in your Brahmin birth. When there is no arrogance, you won’t feel insulted even when you are insulted. Such souls would constantly remain humble and busy in the task of construction. Those who are humble will be able to work for the construction of the new world. To consider oneself to be an instrument and to remain humble is the seed of good wishes and pure feelings. Instead of expecting any limited respect, be humble. Stubbornness indicates bad manners whereas humility indicates good manners. To be humble in your interactions with everyone indicates that you are good-mannered and truthful. You will become a star of success when you are not arrogant about your success and you don’t speak about it. Do not sing your own praise, but to the extent that you are successful, be humble, constructive and easy-natured. Others may sing your praise, but you only sing praise of the Father. Such humility easily enables you to carry out the task of construction. Unless you are humble, you cannot carry out the task of construction. Because people mis understand, they think that the souls who practise the lesson of remaining humble and who say “Ha ji” to everyone to be defeated. However, such souls are, in fact, victorious. Do not allow your intellect to change from having faith to having doubts because of what others say at that time or because of the atmosphere. Do not doubt whether you’ll be victorious or defeated. Instead of that doubt, be firm in your faith. Today, others may say that you are defeated, but tomorrow, those same people will praise you by showering you with flowers. To have sanskars of having the specialities of being humble and constructive are the signs of a master. As well as this, others who come into contact with such souls will find them to be loving and will give them blessings from their hearts. They will have good wishes for them in their heart. Whether others know you or not, whether they have a distant relationship with you or not, through your love, let everyone who sees you feel that you belong to them. To the extent that you become full by imbibing all virtues and experiencing the fruit of all virtues, you must also become humble. Reveal every virtue you have by remaining in your stage of humility. Only then will you be called a great soul who has the authority of righteousness. A server is one who is constructive whilst also remaining humble. Humility is the means of success in service. By remaining humble, you will constantly remain light in service. When you are not humble but want respect, that becomes a burden, and those who are burdened will always come to a halt; they cannot go fast. Therefore, whenever you feel that you have a burden, you must understand that you are not humble. Where there is humility, there will not be any bossiness, there will be spirituality. Just as the Father comes here with so much humility, so follow the Father in the same way. If there is the slightest bossiness in service, that service will not be successful. Brahma Baba lowered himself with such humility. He was such a server who served with so much humility that he was even ready to massage the children’s feet. He always felt that the children were ahead of him and could give better lectures that he could. He never put himself first. He always put the children first, he always let them go first and considered them to be senior. Because he did this, he didn’t put himself down but, in fact, became even more elevated. This is known as being a number one worthy server. To give respect to others and keep yourself humble is a sign of having mercy for others. This form of constantly giving becomes a form of receiving for all time. Renounce temporary, perishable respect and remain stable in your self-respect. Remain humble and continue to give respect to others. This form of giving becomes a form of receiving. To give respect to others means to put them ahead and infuse them with zeal and enthusiasm. When you give them the treasures of zeal, enthusiasm, happiness and co-operation all the time, you are made into a charitable soul for all time.

Blessing: May you be a powerful soul who transforms your waste thoughts into powerful thoughts and becomes an easy yogi.
Some children think that they don’t have such a visible part, that they are unable to have yoga or become bodiless; these are waste thoughts. Transform these thoughts and have the powerful thought that remembrance is your original religion. “I am an easy yogi every cycle. If I do not become yogi, who else would?” Never think, “What can I do because my body is not working well? This old body is useless.” No. Have thoughts of “Wah, wah!” Sing songs of wonder of your final body and you will receive power.
Slogan: The power of good wishes can transform the wasteful feelings of others.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 23 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 December 2018

To Read Murli 22 December 2018 :- Click Here
23-12-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 12-03-84 मधुबन

रूहानियत की सहज विधि – सन्तुष्टता

आज बापदादा चारों ओर के दूर होते समीप रहने वाले सभी बच्चों की सन्तुष्टता वा रूहानियत और प्रसन्नता की मुस्कराहट देख रहे थे। सन्तुष्टता, रूहानियत की सहज विधि है, प्रसन्नता सहज सिद्धि है। जिसके पास सन्तुष्टता है वह सदा प्रसन्न स्वरूप अवश्य दिखाई देगा। सन्तुष्टता सर्व प्राप्ति स्वरूप है। सन्तुष्टता सदा हर विशेषता को धारण करने में सहज साधन है। सन्तुष्टता का खजाना सर्व खजानों को स्वत: ही अपनी तरफ आकर्षित करता है। सन्तुष्टता ज्ञान की सबजेक्ट का प्रत्यक्ष प्रमाण है। सन्तुष्टता बेफिकर बादशाह बनाती है। सन्तुष्टता सदा स्वमान की सीट पर सेट रहने का साधन है। सन्तुष्टता महादानी, विश्व कल्याणी, वरदानी सदा और सहज बनाती है। सन्तुष्टता हद के मेरे तेरे के चक्र से मुक्त कराए स्वदर्शन चक्रधारी बनाती है। सन्तुष्टता सदा निर्विकल्प, एकरस के विजयी आसन की अधिकारी बनाती है। सदा बापदादा के दिलतख्तनशीन, सहज स्मृति के तिलकधारी, विश्व परिवर्तन के सेवा के ताजधारी, इसी अधिकार के सम्पन्न स्वरूप में स्थित करती है। सन्तुष्टता ब्राह्मण जीवन का जीयदान है। ब्राह्मण जीवन की उन्नति का सहज साधन है। स्व से सन्तुष्ट, परिवार से सन्तुष्ट और परिवार उनसे सन्तुष्ट। किसी भी परिस्थिति में रहते हुए, वायुमण्डल, वायब्रेशन की हलचल में भी सन्तुष्ट। ऐसे सन्तुष्टता स्वरूप, श्रेष्ठ आत्मा विजयी रत्न के सर्टीफिकेट के अधिकारी है। तीन सर्टीफिकेट लेने पड़ें:-

(1) स्व की स्व से सन्तुष्टता (2) बाप द्वारा सदा सन्तुष्टता (3) ब्राह्मण परिवार द्वारा सन्तुष्टता।

इससे अपने वर्तमान और भविष्य को श्रेष्ठ बना सकते हो। अभी भी सर्टीफिकेट लेने का समय है। ले सकते हैं लेकिन ज्यादा समय नहीं है। अभी लेट हैं लेकिन टूलेट नहीं हैं। अभी भी सन्तुष्टता की विशेषता से आगे बढ़ सकते हो। अभी लास्ट सो फास्ट सो फर्स्ट की मार्जिन है। फिर लास्ट सो लास्ट हो जायेंगे। तो आज बापदादा इसी सर्टीफिकेट को चेक कर रहे थे। स्वयं भी स्वयं को चेक कर सकते हो। प्रसन्नचित हैं या प्रश्नचित हैं? डबल विदेशी प्रसन्नचित वा सन्तुष्ट हैं? प्रश्न खत्म हुए तो प्रसन्न हो ही गये। सन्तुष्टता का समय ही संगमयुग है। सन्तुष्टता का ज्ञान अभी है। वहाँ इस सन्तुष्ट, असन्तुष्ट के ज्ञान से परे होंगे। अभी संगमयुग का ही यह खजाना है। सभी सन्तुष्ट आत्मायें सर्व को सन्तुष्टता का खजाना देने वाली हो। दाता के बच्चे मास्टर दाता हो। इतना जमा किया है ना! स्टाक फुल कर दिया है या थोड़ा कम रह गया है? अगर स्टाक कम है तो विश्व कल्याणकारी नहीं बन सकते। सिर्फ कल्याणी बन जायेंगे। बनना तो बाप समान है ना। अच्छा!

सभी देश विदेश के सर्व खजानों से सम्पन्न मास्टर सर्वशक्तिवान होकर जा रहे हो ना! आना है तो जाना भी है। बाप भी आते हैं तो जाते भी हैं ना। बच्चे भी आते हैं और सम्पन्न बनकर जाते हैं। बाप समान बनाने के लिए जाते हैं। अपने ब्राह्मण परिवार की वृद्धि करने के लिए जाते हैं। प्यासी आत्माओं की प्यास बुझाने जाते हैं, इसीलिए जा रहे हो ना! अपनी दिल से वा बन्धन से नहीं जा रहे हो। लेकिन बाप के डायरेक्शन से सेवा प्रति थोड़े समय के लिए जा रहे हो! ऐसे समझ जा रहे हो ना? ऐसे नहीं कि हम तो हैं ही अमेरिका के, आस्ट्रेलिया के…. नहीं। थोड़े समय के लिए बापदादा ने सेवा के प्रति निमित्त बनाकर भेजा है। बापदादा भेज रहे हैं, अपने मन से नहीं जाते। मेरा घर है, मेरा देश है। नहीं! बाप सेवा स्थान पर भेज रहे हैं। सभी सदा न्यारे और बाप के प्यारे! कोई बन्धन नहीं। सेवा का भी बन्धन नहीं। बाप ने भेजा है बाप जाने। निमित्त बने हैं, जब तक और जहाँ निमित्त बनावे तब तक के लिए निमित्त हैं। ऐसे डबल लाइट हो ना! पाण्डव भी न्यारे और प्यारे हैं ना। बन्धन वाले तो कोई नहीं हैं। न्यारा बनना ही प्यारा बनना है। अच्छा-

सदा सन्तुष्टता की रूहानियत में रहने वाले, प्रसन्नचित रहने वाले सदा हर संकल्प, बोल, कर्म द्वारा सर्व को सन्तुष्टता का बल देने वाले, दिलशिकस्त आत्माओं को खजानों से शक्तिशाली बनाने वाले, सदा विश्व कल्याणकारी बेहद के बेफिकर बादशाहों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

अव्यक्त बापदादा से दादी जी तथा दादी जानकी जी की मुलाकात

होलीहंसों की रूप-बसन्त की जोड़ी अच्छी है। यह (जानकी दादी) शान्ति से रूप बन सेवा ज्यादा पसन्द करती है और इनको (दादी जी को) तो बोलना ही पड़ता है। यह जब भी चाहे एकान्त में चली जाती है। इसे रूप की सेवा पसन्द है, वैसे तो आलराउन्ड हैं सभी लेकिन फिर भी रूप-बसन्त की जोड़ी है। वैसे दोनों ही संस्कारों की आवश्यकता है – जहाँ वाणी काम नहीं करेगी तो रूप काम करेगा और जहाँ रूप काम नहीं कर सकता वहाँ बसन्त काम करेगा। तो जोड़ी अच्छी है। जो जोड़ी बनती है, वह सब अच्छी है। वह भी जोड़ी अच्छी थी – यह भी अच्छी है। (दीदी के लिए) ड्रामा में वह गुप्त नदी हो गई। उनसे डबल विदेशियों का भी बहुत प्यार है। कोई बात नहीं। दीदी का दूसरा रूप देख लिया। सब देखकर कितने खुश होते हैं। सभी महारथी साथ हैं। बृजइन्द्रा, निर्मलशान्ता सब दूर होते भी साथी हैं! शक्तियों का अच्छा सहयोग है। सभी एक दो को आगे रखने के कारण आगे बढ़ रहे हैं। और निमित्त शक्तियों को आगे रखने के कारण सब आगे हैं। सेवा के बढ़ने का कारण ही यह है, एक दो को आगे बढ़ाना। आपस में प्यार है, युनिटी है। सदा दूसरे की विशेषता वर्णन करना – यही सेवा में वृद्धि करना है। इसी विधि से सदा वृद्धि हुई है और होती रहेगी। सदैव विशेषता देखना और विशेषता देखने का औरों को सिखाना, यही संगठन की माला की डोर है। मोती भी तो धागे में पिरोते हैं ना। संगठन का धागा है ही यह। विशेषता के सिवाए और कोई वर्णन नहीं क्योंकि मधुबन महान भूमि है। महा भाग्य भी है तो महा पाप भी है, मधुबन से जा करके अगर ऐसा कोई व्यर्थ बोलता है तो उसका बहुत पाप बन जाता है इसलिए सदैव विशेषता देखने का चश्मा पड़ा हुआ हो। व्यर्थ देख नहीं सकते। जैसे लाल चश्मे से सिवाए लाल के और कुछ देखते हैं क्या! तो सदैव यही चश्मा पड़ा हुआ हो – विशेषता देखने का। कभी कोई बात देखो भी तो उसका वर्णन कभी नहीं करो। वर्णन किया, भाग्य गया। कुछ भी कमी आदि है तो उसका जिम्मेवार बाप है, निमित्त किसने बनाया! बाप ने। तो निमित्त बने हुए की कमी वर्णन करना माना बाप की कमी वर्णन करना, इसलिए इन्हों के लिए कभी भी बिना शुभ भावना के और कोई वर्णन नहीं कर सकते।

बापदादा तो आप रत्नों को अपने से भी श्रेष्ठ देखते हैं। बाप का श्रृंगार यह हैं ना। तो बाप को श्रृंगारने वाले बच्चे तो श्रेष्ठ हुए ना। बापदादा तो बच्चों की महिमा कर खुश होते रहते हैं। वाह मेरा फलाना रत्न, वाह मेरा फलाना रत्न। यही महिमा करते रहते हैं। बाप कभी किसकी कमजोरी को नहीं देखते। ईशारा भी देते तो भी विशेषता पूर्वक रिगार्ड के साथ इशारा देते हैं। नहीं तो बाप को अथॉरिटी है ना, लेकिन सदैव रिगार्ड देकर फिर ईशारा देते हैं। यही बाप की विशेषता सदा बच्चों में भी इमर्ज रहे। फालो फादर करना है ना।

बापदादा के आगे सभी मुख्य बहनें (दादियां) बैठी हैं:-

जीवनमुक्त जनक आपका गायन है ना। जीवनमुक्त और विदेही दो टाइटिल हैं। (दादी के लिए) यह तो है ही मणि। सन्तुष्ट मणी, मस्तक मणी, सफलता की मणी, कितनी मणियां हैं। सब मणियां ही मणियां हैं। मणियों को कितना भी छिपाके रखो लेकिन मणी की चमक कभी छिप नहीं सकती। धूल में भी चमकेगी, लाइट का काम करेगी, इसलिए नाम भी वही है, काम भी वही है। इनका (दादी जानकी का) भी गुण वही है, देह मुक्त, जीवन मुक्त। सदा जीवन की खुशी के अनुभव की गहराई में रहती हैं। इसको ही कहते हैं जीवन मुक्त। अच्छा।

अव्यक्त महावाक्य – निर्मान बन विश्व नव-निर्माण करो

सेवा में सहज और सदा सफलता प्राप्त करने का मूल आधार है – निर्मानचित बनना। निर्मान बनना ही स्वमान है और सर्व द्वारा मान प्राप्त करने का सहज साधन है। निर्मान बनना झुकना नहीं है लेकिन सर्व को अपनी विशेषता और प्यार में झुकाना है। महानता की निशानी है निर्मानता। जितना निर्मान उतना सबके दिल में महान् स्वत: ही बनेंगे। निर्मानता निरहंकारी सहज बनाती है। निर्मानता का बीज महानता का फल स्वत: ही प्राप्त कराता है। निर्मानता सबके दिल की दुआयें प्राप्त करने का सहज साधन है। निरहंकारी बनने की विशेष निशानी है-निर्मानता। वृत्ति, दृष्टि, वाणी, सम्बन्ध-सम्पर्क सबमें निर्मानता का गुण धारण करो तो महान बन जायेंगे। जैसे वृक्ष का झुकना सेवा करता है, ऐसे निर्मान बनना अर्थात् झुकना ही सेवाधारी बनना है, इसलिए एक तरफ महानता हो तो दूसरे तरफ निर्मानता हो। जो निर्मान रहता है वह सर्व द्वारा मान पाता है। स्वयं निर्मान बनेंगे तो दूसरे मान देंगे। जो अभिमान में रहता है उसको कोई मान नहीं देते, उससे दूर भागेंगे। जो निर्मान होते हैं वह सबको सुख देते हैं। जहाँ भी जायेंगे, जो भी करेंगे वह सुखदायी होगा। उनके सम्बन्ध-सम्पर्क में जो भी आयेगा वह सुख की अनुभूति करेगा।

सेवाधारी की विशेषता है – एक तरफ अति निर्मान, वर्ल्ड सर्वेन्ट; दूसरे तरफ ज्ञान की अथॉरिटी। जितना ही निर्मान उतना ही बेपरवाह बादशाह। निर्मान और अथॉरिटी दोनों का बैलेंस। निर्मान-भाव, निमित्त-भाव, बेहद का भाव – यही सेवा की सफलता का विशेष आधार है। जितना ही स्वमान उतना ही फिर निर्मान। स्वमान का अभिमान नहीं। ऐसे नहीं – हम तो ऊंच बन गये, दूसरे छोटे हैं या उनके प्रति घृणा भाव हो, यह नहीं होना चाहिए। कैसी भी आत्मायें हों लेकिन रहम की दृष्टि से देखें, अभिमान की दृष्टि से नहीं। न अभिमान, न अपमान। अभी ब्राह्मण-जीवन की यह चाल नहीं है। यदि अभिमान नहीं होगा तो अपमान, अपमान नहीं लगेगा। वह सदा निर्मान और निर्माण के कार्य में बिज़ी रहेगा। जो निर्मान होता है वही नव-निर्माण कर सकता है। शुभ-भावना वा शुभ-कामना का बीज ही है निमित्त-भाव और निर्मान-भाव। हद का मान नहीं, लेकिन निर्मान। असभ्यता की निशानी है जिद और सभ्यता की निशानी है निर्मान। निर्मान होकर सभ्यतापूर्वक व्यवहार करना ही सभ्यता वा सत्यता है। सफलता का सितारा तब बनेंगे जब स्व की सफलता का अभिमान न हो, वर्णन भी न करे। अपने गीत नहीं गाये, लेकिन जितनी सफलता उतना नम्रचित, निर्माण, निर्मल स्वभाव। दूसरे उसके गीत गायें लेकिन वह स्वयं सदा बाप के गुण गाये। ऐसी निर्माणता, निर्माण का कार्य सहज करती है। जब तक निर्मान नहीं बने तब तक निर्माण नहीं कर सकते। नम्रचित, निर्मान वा हाँ जी का पाठ पढ़ने वाली आत्मा के प्रति कभी मिसअन्डरस्टैन्डिंग से दूसरों को हार का रूप दिखाई देता है लेकिन वास्तविक उसकी विजय है। सिर्फ उस समय दूसरों के कहने वा वायुमण्डल में स्वयं निश्चयबुद्धि से बदल शक्य का रूप न बने। पता नहीं हार है या जीत है। यह शक्य न रख अपने निश्चय में पक्का रहे। तो जिसको आज दूसरे लोग हार कहते हैं, कल वाह-वाह के पुष्प चढ़ायेंगे। संस्कारों में निर्मान और निर्माण दोनों विशेषतायें मालिक-पन की निशानी हैं। साथ-साथ सर्व आत्माओं के सम्पर्क में आना, स्नेही बनना, सर्व के दिलों के स्नेह की आशीर्वाद अर्थात् शुभ भावना सबके अन्दर से उस आत्मा के प्रति निकले। चाहे जाने, चाहे न जाने दूर का सम्बन्ध वा सम्पर्क हो लेकिन जो भी देखे वह स्नेह के कारण ऐसे ही अनुभव करे कि यह हमारा है। जितना ही गुणों की धारणा से सम्पन्न, गुणों रूपी फल स्वरूप बनो उतना ही निर्मान बनो। निर्मान स्थिति द्वारा हर गुण को प्रत्यक्ष करो तब कहेंगे धर्म सत्ता वाली महान आत्मा। सेवाधारी अर्थात् निर्माण करने वाले और निर्मान रहने वाले। निर्माणता ही सेवा की सफलता का साधन है। निर्माण बनने से सदा सेवा में हल्के रहेंगे। निर्मान नहीं, मान की इच्छा है तो बोझ हो जायेगा। बोझ वाला सदा रूकेगा। तीव्र नहीं जा सकता, इसलिए अगर कोई भी बोझ अनुभव होता है तो समझो निर्मान नहीं हैं। जहाँ निर्माणता है वहां रोब नहीं होगा, रूहानियत होगी। जैसे बाप कितना नम्रचित बनकर आते हैं, ऐसे फालो फादर। अगर जरा भी सेवा में रोब आता है तो वह सेवा समाप्त हो जाती है। ब्रह्मा बाप ने अपने को कितना नीचे किया – इतना निर्मान होकर सेवाधारी बनें जो बच्चों के पांव दबाने के लिए भी तैयार। बच्चे मेरे से आगे हैं, बच्चे मेरे से भी अच्छा भाषण कर सकते हैं। ‘पहले मैं’ कभी नहीं कहा। आगे बच्चे, पहले बच्चे, बड़े बच्चे – कहा तो स्वयं को नीचे करना नीचे होना नहीं है, ऊंचा जाना है। तो इसको कहा जाता है सच्चे नम्बरवन योग्य सेवाधारी। दूसरे को मान देकरके स्वयं निर्मान बनना यही परोपकार है। यह देना ही सदा के लिए लेना है। अल्पकाल के विनाशी मान का त्याग कर स्वमान में स्थित हो, निर्मान बन, सम्मान देते चलो। यह देना ही लेना बन जाता है। सम्मान देना अर्थात् उस आत्मा को उमंग-उल्लास में लाकर आगे करना है। यह सदाकाल का उमंग-उत्साह अर्थात् खुशी का वा स्वयं के सहयोग का खजाना, आत्मा को सदा के लिए पुण्यात्मा बना देता है।

वरदान:- व्यर्थ संकल्पों को समर्थ में परिवर्तित कर सहजयोगी बनने वाली समर्थ आत्मा भव 
कई बच्चे सोचते हैं कि मेरा पार्ट तो इतना दिखाई नहीं देता, योग तो लगता नहीं, अशरीरी होते नहीं -यह हैं व्यर्थ संकल्प। इन संकल्पों को परिवर्तित कर समर्थ संकल्प करो कि याद तो मेरा स्वधर्म है। मैं ही कल्प-कल्प का सहजयोगी हूँ। मैं योगी नहीं बनूंगा तो कौन बनेगा। कभी ऐसे नहीं सोचो कि क्या करूं मेरा शरीर तो चल नहीं सकता, यह पुराना शरीर तो बेकार है। नहीं। वाह-वाह के संकल्प करो, कमाल गाओ इस अन्तिम शरीर की, तो समर्थी आ जायेगी।
स्लोगन:- शुभ भावनाओं की शक्ति दूसरों की व्यर्थ भावनाओं को भी परिवर्तन कर सकती है।

TODAY MURLI 23 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 23 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 22 December 2017 :- Click Here

23/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, there is no need for sound in this study. Here, the Father has given you just one mantra: Children, remain quiet and remember Me.
Question: What are the signs of children who have Godly intoxication?
Answer: 1) The behaviour of the children who have Godly intoxication is very royal. 2) They speak very little. 3) They only let jewels emerge from their mouth. Generally, royal people also speak very little. You are God’s children and you should therefore remain royal.

Om shanti. The unlimited Father sits here and explains to you unlimited children. There isn’t anyone else who would say that he is explaining to the unlimited children. You children know that our unlimited Father is the One who is called Shiv Baba. In fact, there are many people whose name is Shiva, but they are not the unlimited Father. There is only the one unlimited Father and He has come from the supreme abode. Everyone calls out to that incorporeal One. He is called God. Brahma, Vishnu and Shankar are deities. God, who lives in the supreme abode, is the Father of all souls. You haven’t come in front of a guru or a saint etc. here. You know that you are sitting in front of the unlimited Father. The unlimited Father has come to Madhuban. Those people say that Krishna came in Madhuban, but that is not so. It is the flute of the unlimited Father that is played in Madhuban. The Father explains that He comes every cycle at the confluence age, not in every age. They made a mistake when they said that I come in every age. All the scriptures that exist belong to devotion; it isn’t that they are eternal. Baba has explained that the ocean and the rivers of water are eternal, but it isn’t that devotion is eternal. You know that there is no devotion in the golden and silver ages. Devotion begins in the copper age. The unlimited Father, who is the Ocean of Knowledge, sits in this Brahma and speaks knowledge to us. He does not speak it to us from the subtle region. The Father personally sits in front of you here and explains to you. This is why it is sung that the Resident of the faraway land came to the foreign land. You know that you souls are brothers. You are residents of the faraway land. Those people who sing this don’t understand anything. You are travellers and you have come here from the faraway land to play your part s. You know that this is a battlefield. The play of victory and defeat is played here. The Father also explains this. All human beings want to receive peace. They don’t mean the peace of the land of liberation; they want peace while living here. However, it is not possible to receive peace of mind here. Sannyasis go away to the forests for peace. They don’t know that we souls can only receive peace in our incorporeal world. Those people believe that souls merge into the brahm element or into God. They don’t even understand that the original religion of souls is peace. It is souls that speak. Souls live in the land of peace. It is there that souls will receive peace. At this time everyone wants peace. None of the sannyasis believe in happiness. They continue to defame everything because it is shown in the scriptures that there were Kans, Jarasandha etc. in the golden and silver ages. They have forgotten Lakshmi and Narayan. Their intellects have become tamopradhan. The Father says: I am incorporeal. Those people say that God is beyond name and form. On the one hand, they sing His praise and on the other hand, they say that He is omnipresent. When they say that He is beyond name and form, how could He be omnipresent? A soul definitely has a form. No one can say that a soul is beyond name and form. It is said that a wonderful star sparkles in the centre of the forehead. Therefore, it is the soul that sheds a body and takes another. God doesn’t take rebirth. It is human beings who enter the cycle of birth and death. This is your study. No bands etc. are needed in a study. Your study takes place in the morning at the time when people are sleeping. In fact, there is no need for you to play records. We are going beyond sound. It is just to awaken everyone that you have to play them. The sound doesn’t go outside when reading or listening to the murli. There is no sound in studying. The Father sits here and gives you the mantra: Children, remain silent and remember Me. There are no gurus here who would sit and whisper a mantra in everyone’s ear. They then tell you not to tell anyone else that mantra. It is not like that here. Baba is the Ocean of Knowledge. This is the Gita study place. Would you be given a mantra at school? When you personally explain to anyone, do you play a record? No. You have to explain in the same way in class too. The pictures are in front of you. Someone who hasn’t even seen a map would not understand where England or Nepal is. If he had seen a map that would enter his intellect. All the secrets of the drama have been explained to you children with the pictures. This knowledge is such that you can even explain it without using pictures. People don’t know anything about God. They have elongated the duration of the cycle. The Father has now explained to you. You then have to explain to others. You have to divide the cycle into the four ages, into four parts. You have to divide the cycle into two halves: half the cycle is the new world and half the cycle is the old world. It isn’t that the new world is of a longer duration. For instance, if the lifespan of a building is 50 years, it would be said after half its duration that it is old. It is the same with the world. The Father Himself comes and explains all of this to you children. There is no need to sing songs or recite poetry in this. The systems and customs of us Brahmins of the confluence age are completely unique. No one knows what the confluence age is or what happens at the confluence age. You know that the Father, the Resident of the faraway land, has come into the impure world. The land of Brahma, Vishnu and Shankar is not said to be the faraway land. The faraway land is the land of Shiv Baba and souls. We are all residents of the incorporeal world. First, there is the incorporeal world, then the subtle world and then the corporeal world. First, souls of the deity religion come down from the incorporeal world. First, there is the sun-dynasty clan here and then souls of the moon dynasty come down. When the sun dynasty exists, the moon dynasty doesn’t. When the moon dynasty exists, it would be said that the sun dynasty existed in the past. In the silver age it would be said that the part of Lakshmi and Narayan has become the past. However, they wouldn’t say that they will once again become merchants and shudras; no. It is now that you have this knowledge. The Father explains to you the secrets of the cycle. Although those people have created the Trimurti, they haven’t shown Shiva in that. If they were to know Shiva, they would also know the cycle. Because of not knowing Shiva, they don’t know the cycle either. They sing of the Resident of the faraway land, but they don’t know that God is the Purifier. You know that this is your very big sacrificial fire. People put sesame seeds, wheat and barley grains into a sacrificial fire. This is the sacrificial fire of Rudra in which the horse is sacrificed to receive self-sovereignty. The material of the whole of the old world is to be sacrificed into this sacrificial fire. Those who want to claim the kingdom are the only ones who stay in yoga completely. In the silver age there are two degrees less. For the first 1250 years it is the golden age. After 625 years it is reduced by one degree because it is the stage of descent. Then, in the silver age, further alloy is mixed in. It is now explained to you children: The more you connect your intellects in yoga to the Father, the more the alloy will continue to be removed. Otherwise, there will be punishment and you will then go to the silver age. Everyone loves Krishna and swings him in a swing. They do not swing Rama as much. Nowadays, they even have a race. However, they don’t know that Lakshmi and Narayan were Radhe and Krishna in their childhood. They have defamed Radhe and Krishna a great deal, but there is no defamation of Lakshmi and Narayan. Krishna was a young child. A child and a great soul are said to be equal. Great souls have renunciation, but Krishna wasn’t impure that he had to have renunciation. A young child is pure and this is why everyone loves him. First he is satopradhan and then he goes through the stages of sato, rajo and tamo. Everyone remembers Krishna a great deal. Baba’s mantra “Manmanabhav!” is very well known. Become soul conscious! Renounce all religions of the body! You can give this knowledge to people of any religion. The unlimited Father says: Remember Allah! A soul is a child of Allah. A soul says: Khuda tala, Allah, Sai (praise of God). When you speak of Allah, then, surely, the Father of souls is incorporeal, so it is surely Him that everyone remembers. When people say “Allah” their vision definitely goes upwards. It enters their intellects that Allah resides up above. This is the corporeal world. We are residents of that place. The Father says: I am the Traveller and you too are travellers. However, you travellers enter rebirth whereas I, the Traveller, don’t enter rebirth. I liberate you from impure rebirths. You are very unhappy in this kingdom of Ravan and this is why you call out to Me. The Father explains very good things to you. Children, the play is now to end. There is a lot of sorrow here. Everything here has become so expensive. It is not going to get any cheaper now. Everything was very cheap earlier. Everyone had a lot of grain etc. Satyug is called the golden age. There were gold coins there. There will be nothing but gold there. There won’t even be silver there. There, even the markets will be full of splendour. Just imagine the diamonds and jewels that they will wear there. There, everything is just a game of diamonds and jewels. There will be many farms there too. Here, in America, they have so much grain that they burn it. Nowadays, whatever extra they have they sell. They donate to Bharat. Look what the condition of Bharat has become! The Father says: I gave you such fortune of the kingdom! Your deity religion is one that gives a lot of happiness. That is called the golden age. Mahmud Guznavi looted so many camel-loads of diamonds and jewels from the temples. He must have taken so many riches that no one could even calculate it. You are now once again becoming the masters. The one Traveller is the One who will make the whole world beautiful. He changes the graveyard and establishes the land of angels. You children have come here to be refreshed. You remember the Traveller. You too are travellers. You have come here and taken bodies of the five elements. The five elements don’t exist in the subtle region. The five elements exist here where you play your part. Our real land is that land. At this time souls have become impure. This is why they call out to the Father: Come and purify us! Ravan has made us impure and ugly. We became impure from the time Ravan’s kingdom came into existence. You now understand that you definitely were pure. That is why you remember Him and say: O Purifier, come! There has to be someone whom people call out to. Children call out to the Father: O God, the Father. His name is Heavenly God, the Father. Therefore, He would definitely create heaven. Baba has explained to you that there is no need for bands etc. in a study. Baba has told you that there are some good records that Baba has had made. So, when you see that you are a little sad, play those songs to refresh yourself. However, the less sound you make, the better. Royal people make very little sound. You have to speak very little, as though you are making jewels emerge. You are the children of God and so there should be so much royalty. You should have so much intoxication. The child of a king would not have as much intoxication as you should have. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep yourself constantly refreshed. Only let jewels emerge through your lips. If you ever become sad, listen to the songs that Baba has had made.
  2. Practise being soul conscious. Stay in remembrance and make effort to have the alloy removed.
Blessing: May you be a yogi soul who makes the impossible possible with the power of silence.
The power of silence is the greatest power of all. All other powers have emerged from this one power. Even the power of science has emerged from this power of silence. With the power of silence you can make the impossible possible. What people of the world consider to be impossible, for you yogi souls, it is easily possible. They would say that God is very high, and brighter than a thousand suns, but you speak from your own experience: We have attained Him. With the power of silence, we become merged in the Ocean of Love.
Slogan: Those who carry out the task of renewal as instruments are true servers.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 23 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 December 2017

To Read Murli 22 December 2017 :- Click Here
23/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – इस पढ़ाई में आवाज की आवश्यकता नहीं – यहाँ तो बाप ने एक ही मंत्र दिया है कि बच्चे चुप रहकर मुझे याद करो”
प्रश्नः- जिन बच्चों को ईश्वरीय नशा रहता है उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- ईश्वरीय नशे में रहने वाले बच्चों की चलन बड़ी रॉयल होगी। 2- मुख से बहुत कम बोलेंगे। 3- उनके मुख से सदैव रत्न ही निकलेंगे। वैसे भी रॉयल मनुष्य बहुत थोड़ा बोलते हैं। तुम तो ईश्वरीय सन्तान हो, तुम्हें रॉयल्टी में रहना है।

ओम् शान्ति। बेहद का बाप बैठ बेहद के बच्चों को समझाते हैं। ऐसे तो कोई होता नहीं जो कहे कि बेहद के बच्चों प्रति समझाते हैं। बच्चे समझते हैं कि हमारा बेहद का बाप वह है, जिसको शिवबाबा कहते हैं। यूँ तो बहुत मनुष्य हैं जिनका नाम शिव होता है। परन्तु वह कोई बेहद का बाप नहीं। बेहद का बाप एक ही है जो परमधाम से आया है। उस निराकार को ही पुकारते हैं। उनको भगवान कहा जाता है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर देवता हैं। भगवान जो परमधाम में रहते हैं, वह सब आत्माओं का बाप है। तुम कोई गुरू गोसांई आदि के आगे नहीं आये हो। तुम जानते हो कि हम बेहद बाप के आगे बैठे हैं। बेहद का बाप मधुबन में आया है। वो लोग कहते हैं कृष्ण मधुबन में आया, परन्तु नहीं। बेहद के बाप की ही मुरली मधुबन में बजती है। बाप समझाते हैं मैं कल्प-कल्प संगमयुग पर आता हूँ न कि युगे-युगे, यह भूल कर दी है जो कहते हैं युगे-युगे आता है। यह जो भी शास्त्र आदि हैं यह सब भक्ति के हैं। ऐसे नहीं कि यह अनादि हैं। बाबा ने समझाया है यह सागर और पानी की नदियाँ अनादि हैं ही। बाकी ऐसे नहीं कि भक्ति अनादि है। तुम जानते हो सतयुग, त्रेता में भक्ति होती नहीं। भक्ति शुरू होती है द्वापर में। बेहद का बाप जो ज्ञान का सागर है, वह इस ब्रह्मा द्वारा बैठ ज्ञान सुनाते हैं। सूक्ष्मवतन में तो नहीं सुनायेंगे, बाप यहाँ सम्मुख बैठ समझाते हैं, तब तो गाते हैं दूरदेश के रहने वाले.. तुम जानते हो हम आत्मायें ब्रदर्स हैं। दूरदेश के रहने वाले हैं। वह गाने वाले तो कुछ भी समझते नहीं। तुम मुसाफिर हो, दूरदेश से आये हो पार्ट बजाने। तुम जानते हो यह कर्मक्षेत्र है। यहाँ हार और जीत का खेल है। यह भी बाप समझाते हैं। सब मनुष्य चाहते हैं – शान्ति मिले। शान्ति कोई मुक्तिधाम के लिए नहीं कहते। यहाँ रहते शान्ति मांगते हैं। परन्तु यहाँ तो मन की शान्ति मिल न सके। सन्यासी लोग शान्ति के लिए जंगल में चले जाते हैं, उन्हों को यह पता ही नहीं कि हम आत्माओं को शान्ति अपने निराकारी दुनिया में ही मिल सकती है। वह समझते हैं आत्मा ब्रह्म अथवा परमात्मा में लीन हो जाती है। यह भी नहीं समझते कि आत्मा का स्वधर्म है ही शान्त। यह आत्मा बात करती है। आत्मा रहती है शान्तिधाम में। वहाँ ही उसको शान्ति मिलेगी। इस समय सबको शान्ति चाहिए। सुख को कोई सन्यासी मानते नहीं। निंदा करते हैं क्योंकि शास्त्रों में दिखाया है कि सतयुग त्रेता में भी कंस जरासंधी थे। लक्ष्मी-नारायण को भूल गये हैं। तमोप्रधान बुद्धि हो गये हैं। बाप कहते हैं मैं हूँ निराकार। वो लोग कहते हैं परमात्मा नाम-रूप से न्यारा है। एक तरफ महिमा गाते हैं फिर कहते हैं सर्वव्यापी है, जब नाम-रूप से न्यारा है फिर सर्वव्यापी कैसे होगा। आत्मा का भी रूप जरूर है। कोई कह न सके आत्मा नाम रूप से न्यारी है। कहते हैं भ्रकुटी के बीच… तो आत्मा ही एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। परमात्मा पुनर्जन्म नहीं लेते। जन्म-मरण में मनुष्य आते हैं। यह है तुम्हारी पढ़ाई। पढ़ाई में कोई बाजा गाजा नहीं बजाते। तुम्हारी पढ़ाई होती है सवेरे। उस समय मनुष्य सोये रहते हैं। वास्तव में तुमको रिकार्ड बजाने की भी दरकार नहीं हैं। हम तो आवाज से परे जाते हैं। यह तो निमित्त सबको जगाने के लिए बजाने पड़ते हैं। मुरली पढ़ने अथवा सुनने में आवाज बाहर नहीं जाता है। पढ़ाई में आवाज होता ही नहीं है। बाप बैठ मंत्र देते हैं – बच्चे चुप रहकर मुझे याद करो। यहाँ कोई गुरू आदि तो है नहीं जो बैठ एक-एक को कान में मंत्र दे। फिर कह देते किसको नहीं सुनाना। यहाँ तो वह बात नहीं है। बाबा तो ज्ञान का सागर है।

यह है गीता पाठशाला। तो पाठशाला में मंत्र दिया जाता है क्या? तुम जब किसको पर्सनल समझाते हो तो रिकार्ड बजाते हो क्या? नहीं। क्लास में भी ऐसे समझाना है। चित्र भी सामने हैं। जिसने कभी नक्शा ही नहीं देखा होगा तो क्या समझेंगे कि इंगलैण्ड, नेपाल कहाँ है। अगर नक्शा देखा होगा तो बुद्धि में आयेगा। तुम बच्चों को भी चित्रों पर सारा ड्रामा का राज़ समझाया गया है। यह नॉलेज ऐसी है जो बिगर चित्रों के भी समझा सकते हो। मनुष्यों को भगवान का कुछ भी पता नहीं है। कल्प की आयु तो लम्बी चौड़ी कर दी है। अब तुमको बाप ने समझाया है। तुमको फिर औरों को समझाना पड़े। 4 युगों का 4 हिस्सा करना पड़े फिर आधा-आधा करना पड़े। आधा में नई दुनिया, आधा में पुरानी दुनिया। ऐसे नहीं कि नई दुनिया की आयु बड़ी देंगे। समझो कोई मकान की आयु 50 वर्ष है तो आधा में पुराना कहेंगे। दुनिया का भी ऐसे है। यह सब बाप ही आकर बच्चों को समझाते हैं। इसमें गीत गाने वा कविता आदि सुनाने की दरकार नहीं। हम संगमयुग के ब्राह्मणों की रसम-रिवाज बिल्कुल ही न्यारी है। किसको पता नहीं है कि संगमयुग किसको कहा जाता है, संगम पर क्या होता है? तुम जानते हो दूरदेश के रहने वाला बाप पतित दुनिया में आये हैं। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर का दूरदेश नहीं है। दूरदेश है शिवबाबा का और आत्माओं का। हम सब निराकारी दुनिया में रहने वाले हैं। पहले है निराकारी दुनिया फिर आकारी फिर साकारी। निराकारी दुनिया से, पहले देवी-देवता धर्म की आत्मायें आती हैं। पहले सूर्यवंशी घराना यहाँ था, फिर चन्द्रवंशी घराने की आत्मायें आयेंगी। सूर्यवंशी हैं तो चन्द्रवंशी नहीं हैं। चन्द्रवंशी जब होते हैं तो कहेंगे सूर्यवंशी पास्ट हो गये। त्रेता में कहेंगे लक्ष्मी-नारायण का पार्ट पास्ट हो गया। बाकी ऐसे नहीं कहेंगे कि हम फिर वैश्य शूद्र बनेंगे, नहीं। यह नॉलेज तुमको अभी है। बाप तुमको चक्र का राज़ समझाते हैं। भल उन्होंने त्रिमूर्ति बनाया है। परन्तु शिव को डाला नहीं है। शिव को जाने तो चक्र को भी जाने। शिव को न जानने के कारण चक्र को भी नहीं जानते। गाते हैं दूरदेश का रहने वाला… परन्तु जानते नहीं कि भगवान ही पतित-पावन है। तुम जानते हो हमारा यह बहुत बड़ा यज्ञ है। उस यज्ञ में तिल जौं डालते हैं। यह है राजस्व अश्वमेध रूद्र ज्ञान यज्ञ। इस यज्ञ में सारी पुरानी दुनिया की सामग्री स्वाहा होनी है। जिसको राज्य पाना है वही योग में पूरा रहते हैं। सिलवर एज़ में भी दो कला कम कहा जाता है। पहले 1250 वर्ष सतयुग के हैं। फिर 625 वर्ष में एक कला कम हो जाती है, उतरती कला है ना। त्रेता में और भी खाद पड़ जाती है। अब तुम बच्चों को समझाया जाता है – जितना बाप के साथ बुद्धियोग रखेंगे तो खाद निकल जायेगी। नहीं तो सजा खाकर फिर सिलवर एज़ में आ जायेंगे। कृष्ण को सब प्यार करते हैं, झूला झुलाते हैं। राम को इतना नहीं झुलायेंगे। आजकल तो रेस की है। परन्तु यह कोई नहीं जानते कि लक्ष्मी-नारायण ही छोटेपन में राधे-कृष्ण हैं। राधे-कृष्ण पर बहुत दोष लगाये हैं, लक्ष्मी-नारायण पर कोई दोष नहीं। कृष्ण तो छोटा बच्चा है। बच्चा और महात्मा समान कहते हैं। महात्मा लोग तो सन्यास करते हैं, कृष्ण तो पतित था ही नहीं जो सन्यास करे। छोटा बच्चा पवित्र होता है, इसलिए उनको सब प्यार करते हैं। पहले है सतोप्रधान फिर सतो-रजो-तमो में आते हैं। कृष्ण को सब बहुत याद करते हैं। बाबा का मनमनाभव मंत्र तो बहुत नामीग्रामी है। देही-अभिमानी बनो। देह के सब धर्म छोड़ो। यह ज्ञान तुम कोई भी धर्म वाले को दे सकते हो। बेहद का बाप कहते हैं अल्लाह को याद करो। आत्मा अल्लाह का बच्चा है। आत्मा कहती है खुदा ताला। अल्ला सांई। जब अल्लाह कहते हैं तो जरूर आत्मा का बाप निराकार है, उनको ही सब याद करते हैं। अल्लाह कहने से जरूर नज़र ऊपर जायेगी। बुद्धि में आता है कि अल्लाह ऊपर में रहता है। यह है साकार सृष्टि। हम वहाँ के रहने वाले हैं।

बाप कहते हैं – हम भी मुसाफिर, तुम भी मुसाफिर हो। परन्तु तुम मुसाफिर पुनर्जन्म में आते हो, मैं मुसाफिर पुनर्जन्म में नहीं आता। मैं तुमको छी-छी पुनर्जन्म से छुड़ाता हूँ। इस रावण राज्य में तुम बहुत दु:खी हो तब तो मुझे बुलाते हो। बाप कितनी अच्छी-अच्छी बातें तुमको समझाते हैं। बच्चे अभी खेल पूरा होता है। यहाँ बहुत दु:ख है। हर चीज़ कितनी मंहगी हो गई है फिर सस्ती थोड़ेही होगी। आगे सस्ताई थी। सबके पास अनाज आदि खूब रहता था। सतयुग को कहते हैं गोल्डन एज़। वहाँ सोने के सिक्के थे। वहाँ सोना ही सोना होगा, चांदी भी नहीं। वहाँ बाजार भी भभके की होगी। हीरे-जवाहर क्या-क्या पहनते होंगे। वहाँ हीरे-जवाहरों का ही खेल चलता है। खेती-बाड़ी ढेर होगी। यहाँ अमेरिका में अनाज इतना होता है, जो जला देते हैं। अभी तो जो बचत होती है वह बेच देते हैं। भारत को दान करते हैं। भारत की गति देखो क्या हो गई है। बाप कहते हैं मैंने तुमको कितना राज्य भाग्य दिया था। तुम्हारा देवी-देवता धर्म बहुत सुख देने वाला है। उनको ही कहा जाता है गोल्डन एज़। मुहम्मद गज़नवी कितने हीरे-जवाहरों के माल लूटकर ऊंट भराकर ले गया। कितना माल उठाया होगा? कोई हिसाब थोड़ेही कर सकेंगे। अब तुम फिर मालिक बन रहे हो। एक मुसाफिर सारी दुनिया को हसीन बनाने वाला है। कब्रिस्तान को बदल परिस्तान स्थापन करते हैं। यहाँ तुम बच्चे आये हो रिफ्रेश होने। मुसाफिर को याद करते हो। तुम भी मुसाफिर हो। यहाँ आकर 5 तत्वों का शरीर लिया है। सूक्ष्मवतन में 5 तत्व होते नहीं। 5 तत्व यहाँ होते हैं, जहाँ तुम पार्ट बजाते हो। हमारा असली देश वहाँ है। इस समय आत्मा पतित बन गई है इसलिए बाप को पुकारते हैं कि आप आओ – आकर हमको पावन बनाओ। रावण ने हमको पतित बनाकर काला कर दिया है। जबसे रावण आया है तो हम पतित बने हैं। अब समझते जरूर हैं हम पावन थे तब तो याद करते हैं – हे पतित-पावन आओ। कोई तो है जिसको बुलाते हैं। बच्चे बाप को बुलाते हैं ओ गॉड फादर। उनका नाम ही है हेविनली गॉड फादर। तो जरूर हेविन ही रचेगा।

बाबा ने समझाया है पढ़ाई में बाजे गाजे की दरकार ही नहीं है। बाबा ने कह दिया है कोई अच्छे-अच्छे रिकार्ड हैं, जो बाबा ने बनवाये हैं – तो जब देखो उदासी आती है तो अपने को रिफ्रेश करने के लिए भल ऐसे-ऐसे गीत बजाओ। परन्तु जितना आवाज कम करेंगे तो अच्छा है। रॉयल मनुष्य कम आवाज करते हैं। मुख से थोड़ा बोलना है। जैसे रत्न निकलते हैं। तुम ईश्वर के बच्चे हो तो कितनी रॉयल्टी, कितना तुम्हारे में नशा होना चाहिए। राजा के बच्चे को इतना नशा नहीं होगा जितना तुमको रहना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने को सदा रिफ्रेश रखना है। मुख से रत्न ही निकालने हैं। कभी उदासी आदि आये तो बाबा के बनवाये हुए गीत सुनने हैं।

2) देही-अभिमानी बनने की प्रैक्टिस करनी है। याद में रह खाद निकालने का पुरुषार्थ करना है।

वरदान:- शान्ति की शक्ति द्वारा असम्भव को सम्भव करने वाले योगी तू आत्मा भव 
शान्ति की शक्ति सर्वश्रेष्ठ शक्ति है। और सभी शक्तियां इसी एक शक्ति से निकली हैं। साइन्स की शक्ति भी इसी शान्ति की शक्ति से निकली है। शान्ति की शक्ति द्वारा असम्भव को भी सम्भव कर सकते हो। जिसे दुनिया वाले असम्भव कहते वह आप योगी तू आत्मा बच्चों के लिए सहज सम्भव है। वह कहेंगे परमात्मा तो बहुत ऊंचा हजारों सूर्यो से तेजोमय है, लेकिन आप अपने अनुभव से कहते – हमने तो उसे पा लिया, शान्ति की शक्ति से स्नेह के सागर में समा गये।
स्लोगन:- निमित्त बन निर्माण का कार्य करने वाले ही सच्चे सेवाधारी हैं।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize