today murli 22 october

TODAY MURLI 22 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 22 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 21 October 2018 :- Click Here

22/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, instead of allowing your intellects to wander here and there, remember the Father in the home. Take your intellects far, far away. This is called the pilgrimage of remembrance.
Question: What are the signs of the children who remember the Father with true hearts?
Answer: 1. The children who remember the Father with true hearts can never perform any sinful actions. They never perform any actions that would defame the Father. They have very good manners. 2. They stay in remembrance even when eating meals. They awaken from their sleep naturally, at the right time. They are very tolerant and very sweet. They never hide anything from the Father.
Song: Our pilgrimage is unique. 

Om shanti. The Father sits here and explains to you children. Some understand the incorporeal Father, some understand the corporeal father and some understand the mother and Father. Even when this mother and Father explain, the mother is separate from the Father. When the Incorporeal explains, the Incorporeal is separate from the corporeal, but it is the Father who explains this. Only you children know that there are physical pilgrimage places and the spiritual pilgrimage place. Those physical pilgrimages last for half the cycle. If you say that they have been continuing for birth after birth, it would then be understood that they have been continuing from the beginning and that they are eternal. It is not like that. This is why it is said that they have continued for half the cycle. The Father has now come and has explained to you the secrets of those pilgrimages. ‘Manmanabhav’ means the spiritual pilgrimage. He definitely explains to souls, because the One who explains is the Supreme Father. No one else can explain it. Each one goes to the pilgrimage place of the founder of that religion. This is also the custom and system of half the cycle. They go to all the pilgrimage places, but those places cannot grant anyone salvation. They themselves repeatedly go on pilgrimages. They go on pilgrimage to Amarnath and to Badrinath every year and then they also go to the four pilgrimage places. Now, only you know about this spiritual pilgrimage. The spiritual Supreme Father has said: Manmanabhav. Renounce all the physical pilgrimages and remember Me and you will go to the true heaven. A pilgrimage means coming and going. That only happens at this time. There are no pilgrimages in the golden age. You will go and sit in the ashram of heaven for all time. Here, they just give that name to a place. In fact, there is no swarg-ashram (heavenly ashram) here. The golden age is called the swarg-ashram. Hell cannot be given that name. The residents of hell reside in hell and the residents of heaven reside in heaven. Here, people go to physical ashrams and then come back. The unlimited Father explains all of this. In fact, there is only the one true, unlimited Guru. The unlimited Father is also only the One. Although they speak of Guru Aga Khan, he is not really a guru. He is not a bestower of salvation. If he were a bestower of salvation, he himself would be able to go into liberation and salvation. He cannot be called a guru. They have simply given him that name. Sikhs say: Satguru Akal (The Immortal One). In fact, only the one Supreme Soul is Sat Shri Akal who is also called the Satguru. He alone is the One who grants salvation. Those of Islam, the Buddhists and Brahma etc. cannot do this, even though they speak of Guru Brahma, Guru Vishnu. Although Brahma can be called a guru, there cannot be Guru Vishnu or Guru Shankar. There definitely is the name Guru Brahma, but there must also be the Guru of Guru Brahma. Sat Shri Akal has no guru. He is the only Satguru. There are no gurus or philosophers etc. who give spiritual knowledge except the One. Buddha etc. bring everyone else down with them. He has to go through the stages of rajo and tamo. He doesn’t come to grant salvation. The name ‘Bestower of Salvation’ is only known for the One but He has then also been called omnipresent. In that case, what is the need to adopt a guru? I am a guru, you are a guru, I am Shiva and you are Shiva…No one would be satisfied with that. However, yes, because they are pure, they are given regard, but they cannot grant salvation. It is only the One who is called the true Guru. There are many types of guru. Even a master who teaches you is called a guru. This one is also the Master. He teaches you how to battle with Maya. You children have the knowledge of being trikaldarshi with which you become rulers of the globe. Only those who know the world cycle become the kings who are rulers of the globe. To know the cycle of the drama and to know the beginning, middle and end of the kalpa tree is the same thing. The symbol of the cycle has been mentioned in many scriptures. The books of philosophy are separate. There are many types of book. Here, you don’t need any books. You have to understand that which the Father is teaching you. All the children have a right to the Father’s property. However, not everyone would have the same property in heaven. The kingdom belongs to those who belong to the Father. When you say “Baba” and listen to even a little knowledge, you claim a right, but it is numberwise. There is a lot of difference between the Emperor of the World and the subjects and maids and servants. A whole kingdom is being established. By belonging to the Father, you definitely receive the inheritance of heaven. You receive the inheritance from the Father. Because these things are new, people don’t understand. The Father explains that there are no vices in the golden age. Maya herself doesn’t exist there, so where could the vices come from? The kingdom of Maya begins in the copper age. These are the five chains of Ravan. They don’t exist there. You don’t have to go into a lot of discussion. That is the totally viceless world. However, whatever the customs and systems are of giving birth to children, the coronation ceremonies and the building of palaces etc., they will definitely be good, because that is heaven. The Father explains: Children, you constantly have to connect your intellects in yoga on this spiritual pilgrimage. This is very easy. People wake up early on the path of devotion. So, even on the path of knowledge, you have to wake up early and remember the Father. You mustn’t study any other books etc. The Father says: Remember Me alone because the death of everyone, young and old, is now just ahead. When a person is dying, other people say to that person: Remember God. If you don’t remember God in your final moments, you won’t be able to go to heaven! So, the Father also says: Manmanabhav. You mustn’t even remember this body. I, the soul, am an actor, a child of Shiv Baba. You have to stay in remembrance constantly. Generally, you wouldn’t tell little children to remember God. Here, you have to tell everyone because everyone has to go to the Father. You have to connect your intellects in yoga to the Father. You mustn’t fight or quarrel with anyone. That is very damaging. When someone says something, just ignore it as though you haven’t heard it. You shouldn’t create any opposition which would begin a fight. You have to be tolerant in every situation and you also have to understand that the Father is the Father and also Dharamraj. If anything happens, simply report it to the Father. That would then reach Dharamraj anyway and that person would be subject to punishment. The Father says: I give happiness. It is Dharamraj who gives sorrow, that is, punishment. I don’t have a right to give punishment. You tell Me and then Dharamraj will give the punishment. By telling Baba about it you will become light because he is still the right hand. Those who defame the Satguru cannot reach their destination. Only Dharamraj would pass judgment as to who is to be blamed. Nothing can remain hidden from Him. It would be said that a mistake was made according to the drama, but it would also have been made in the previous cycle. However, this doesn’t mean that you can continue to make mistakes. In that case, how would you become free from making mistakes? If you make a mistake you have to ask for forgiveness. In Bengal, if someone accidentally touches someone’s foot, he instantly asks for forgiveness. Here, people continue to insult one another. One should have very good manners. The Father teaches a lot, but when someone doesn’t understand, it is understood that his register is bad. He continues to cause defamation. His status is destroyed. There is the burden of sin for birth after birth anyway. Punishment has to be experienced for that. Then, if someone stays here and performs some sinful acts, there would be a hundred-fold punishment received for that. Punishment has to be experienced. Baba explains about sacrificing oneself at Kashi. That is the path of devotion. This refers to the path of knowledge. Firstly, there are the sins of the past, and secondly, whatever wrong you do at this time, you accumulate a hundred-fold punishment for that. Very severe punishment would have to be experienced. The Father explains everything. Don’t commit any sin. Become a destroyer of attachment. It takes so much effort. You mustn’t remember this Mama and Baba. You won’t accumulate anything by remembering them. Shiv Baba enters this one and so you have to remember Shiv Baba. It isn’t that because Shiv Baba comes in this one you have to remember this one. No, you have to remember Shiv Baba up there. You have to remember Shiv Baba and your sweet home. Keep this in your intellect like a genie: Shiv Baba resides up there. Shiv Baba comes here and speaks to us, but we have to remember Him up there, not down here. Your intellects should go far away, not remain here. Shiv Baba will go away anyway. Shiv Baba only enters this one. You cannot see Him in Mama. You know that this is Baba’s chariot, but you look at this face. Let your intellect dangle up there. You won’t enjoy yourself as much by keeping your intellect down here. This is not the pilgrimage. The limit of your pilgrimage is up there. It isn’t that you should continue to look at Baba because Shiv Baba is in him. In that case, your habit of going up above would be broken. The Father says: Remember Me up there. Connect your intellects in yoga there. Some foolish people (buddhus) think that they should just sit here and continue to look at Baba. Oh! but you have to connect your intellect to the sweet home. Shiv Baba cannot be constantly sitting in the chariot. He simply comes here and does service. He takes His chariot, does serviceand then leaves the chariot. One cannot always be riding a bull. So, your intellects should remain there. Baba comes, speaks the murli and then leaves. This one’s intellect also remains up there. You should follow the right path. Otherwise, you will repeatedly fall off the track. That One is only here for a short time. If Shiv Baba were not in him, why would you remember this one? Even this one can speak the murli. Sometimes He is in this one and sometimes He is not. Sometimes He takes a rest. You have to remember Him there. Sometimes Baba has the thought: According to the drama, I will go and speak the same murli that I spoke on this day in the previous cycle. You can also say that you will claim as much inheritance from the Father as you did in the previous cycle. You definitely have to mention the name of Shiv Baba. However, no one would know how to say this. The Father’s name would definitely be remembered. You just have to give the Father’s introduction. It isn’t that you just have to sit and look at this one. Baba has explained: Remember Shiv Baba. Otherwise, sins will be committed. You constantly have to remember the Father. Otherwise, your sins will not be absolved. The destination is very high. This is not like going to your aunty’s home. It shouldn’t be that when you begin to take a meal, you remember Baba and then that’s it; that you begin to eat just like that. No, you have to remember Him the whole time you are eating. This requires effort. You cannot receive a high status just like that. This is why you can see that, out of millions, only eight jewels pass. The destination is very high. You have to become masters of the world; this would not be in anyone’s intellect. It wasn’t even in this one’s intellect. Just think about it: who would receive 84 births? Definitely those who come first are Lakshmi and Narayan. All these are the things that you have to churn. The Father explains: Let your hands do the work while your heart stays in remembrance. You may continue to do your business etc. but you constantly have to continue to remember the Father. This is the pilgrimage. You don’t have to go on those pilgrimages and then come back. Many people go on pilgrimages, but it is now very dirty even there. There should never be a brothel at a pilgrimage place. Now, there is so much corruption. There is not one master there. They quickly begin to insult one another. Today, someone may be a Chief Minister and tomorrow they would throw him out. They become slaves to Maya. They accumulate money and build houses etc. They even steal to get wealth. You are now making preparations to go to heaven. You should only remember that. You also have to imbibe everything. You should write down the murli and then revise it. You have a lot of time available. At night, you have a lot of time. Stay awake at night and that habit will be instilled. The eyes of those who truly remember Baba will open naturally. Baba tells you his own experience of how he awakens naturally at night. Nowadays, people make so much extra effort to fall asleep. Yes, of course, the body gets tired by doing a lot of physical work. Look how old Baba’s chariot is! Just think about it: Baba comes into the impure world and makes so much effort. He used to make so much effort on the path of devotion, and even now He makes so much effort. The body is impure and the world is also impure. Baba says: I have a lot of rest for half the cycle. I don’t have to think about anything. I have to think a lot on the path of devotion. That is why the Father is remembered as the Merciful One, the Ocean of Knowledge and the Ocean of Bliss. They praise Him so much. That same Father is teaching us. No one else can teach us. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t oppose anyone. If someone says anything, just ignore it as though you haven’t heard anything. You have to become tolerant. You mustn’t have the Satguru defamed.
  2. You mustn’t allow your register to be spoilt. If you make a mistake, tell the Father about it and ask for forgiveness. Instil the habit of remembering Him up there.
Blessing: May you be an incarnation of tolerance and simply adjust yourself instead of stepping away.
Some children lack any power of tolerance and so, even when something trivial happens, their faces very quickly change. Then, out of fear, they would either think of changing their place or they would try to change the one they are distressed by. They would not change themselves, but would move away from others. So, instead of changing your place or thinking of changing others, change yourself: become an incarnation of tolerance. Learn how to adjust yourself to everyone.
Slogan: To try to interact with others on the basis of your Godly activities is a quality of a yogi.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 22 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 22 October 2018

To Read Murli 21 October 2018 :- Click Here
22-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बुद्धि को यहाँ-वहाँ भटकाने के बजाए घर में बाप को याद करो, दूर-दूर तक बुद्धि को ले जाओ – इसे ही याद की यात्रा कहा जाता है”
प्रश्नः- जो बच्चे सच्ची दिल से बाप को याद करते हैं उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- 1. सच्ची दिल से याद करने वाले बच्चों से कभी कोई विकर्म नहीं हो सकता। उनसे ऐसा कर्म नहीं होगा जिससे बाप की ग्लानी हो। उनके मैनर्स बड़े अच्छे होते हैं। 2. वह भोजन पर भी याद में रहेंगे। नींद भी समय पर स्वत: खुल जायेगी। वह बहुत सहनशील, बहुत मीठे होंगे। बाप से कोई भी बात छिपायेंगे नहीं।
गीत:- हमारे तीर्थ न्यारे हैं……. 

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं, कोई निराकार बाप को समझे, कोई साकार बाप को समझे, कोई मात-पिता को समझे। यह मात-पिता समझाते हैं तो भी माता अलग और पिता अलग हो जाते। अगर निराकार समझाये तो निराकार अलग, साकार अलग हो जाते। परन्तु यह समझाने वाला बाप है। तुम बच्चे ही यह जानते हो कि जिस्मानी तीर्थ और रूहानी तीर्थ हैं। वह जिस्मानी तीर्थ आधाकल्प के हैं, अगर कहेंगे जन्म-जन्मान्तर से यह चलते आये हैं तो फिर ऐसे समझेंगे शुरू से लेकर यह चलते हैं, अनादि हैं। ऐसे तो है नहीं इसलिए आधाकल्प से कहा जाता है। अभी बाप ने आकर इन तीर्थों का राज़ समझाया है। मनमनाभव अर्थात् रूहानी तीर्थ। जरूर आत्माओं को ही समझाते हैं और समझाने वाला है परमपिता। और कोई समझा न सके। हर एक अपने-अपने धर्म स्थापक के तीर्थ पर जाते हैं। यह भी आधाकल्प की रस्म-रिवाज है। सब तीर्थ करते हैं परन्तु वह कोई को सद्गति दे न सकें। खुद ही घड़ी-घड़ी तीर्थों पर जाते रहते। अमरनाथ, बद्रीनाथ तरफ वर्ष-वर्ष तीर्थ करने निकलते फिर चारों धाम करते हैं। अभी यह रूहानी तीर्थ सिर्फ तुम जानते हो। रूहानी सुप्रीम बाप ने समझाया है मनमनाभव और जिस्मानी तीर्थ आदि सब छोड़ो, मुझे याद करो तो तुम सच्चे-सच्चे स्वर्ग में चले जायेंगे। यात्रा माना आना-जाना। वह तो अभी ही होता है। सतयुग में यात्रा होती नहीं। तुम हमेशा के लिए स्वर्ग आश्रम में जाकर बैठेंगे। यहाँ तो सिर्फ नाम रख देते हैं। वास्तव में स्वर्ग आश्रम यहाँ होता नहीं। स्वर्ग आश्रम सतयुग को कहा जाता है। नर्क को यह अक्षर दे नहीं सकते। नर्कवासी नर्क में ही रहते हैं, स्वर्गवासी स्वर्ग में रहते हैं। यहाँ तो जिस्मानी आश्रम में जाकर फिर लौट आते हैं। यह बेहद का बाप समझाते हैं। वास्तव में सच्चा-सच्चा बेहद का गुरू एक ही है। बेहद का बाप भी एक है। भल कहते हैं आगाखां गुरू, परन्तु वह कोई गुरू नहीं है। सद्गति दाता तो नहीं है ना। अगर सद्गति दाता होता तो खुद भी गति-सद्गति में जाये। उनको गुरू नहीं कहेंगे। यह तो सिर्फ नाम रख दिये हैं। सिक्ख लोग कहते हैं सतगुरू अकाल। वास्तव में सत श्री अकाल एक ही परमात्मा है जिसको सतगुरू भी कहते हैं। वही सद्गति करने वाला है। इस्लामी, बौद्धी या ब्रह्मा आदि नहीं कर सकते। भल कहते हैं गुरू ब्रह्मा, गुरू विष्णु। अब गुरू भल ब्रह्मा को कहा जाए बाकी गुरू विष्णु, गुरू शंकर तो हो न सके। गुरू ब्रह्मा का नाम है जरूर। परन्तु ब्रह्मा गुरू का भी तो गुरू होगा ना। सत श्री अकाल का तो फिर कोई गुरू नहीं। वह एक ही सतगुरू है। बाकी और कोई गुरू या फिलॉसाफर या प्रीचुअल नॉलेज देने वाला है नहीं, सिवाए एक के। बुद्ध आदि तो अपने पिछाड़ी सबको ले आते हैं। उनको रजो-तमो में आना ही है। वह कोई सद्गति के लिए नहीं आते हैं। सद्गति दाता एक का ही नाम बाला है, जिसको फिर सर्वव्यापी कहते हैं। फिर गुरू करने की क्या दरकार है। हम भी गुरू, तुम भी गुरू, हम भी शिव, तुम भी शिव – इनसे तो कोई का पेट नहीं भरता। बाकी हाँ, पवित्र हैं इसलिए उनका मान होता है, सद्गति दे नहीं सकते। वह तो एक ही है, जिसको सच्चा-सच्चा गुरू कहा जाता है। गुरू तो अनेक प्रकार के हैं। सिखलाने वाले उस्ताद को भी गुरू कहते हैं। यह भी उस्ताद है। माया से युद्ध करना सिखलाते हैं। तुम बच्चों को त्रिकालदर्शीपन की नॉलेज है, जिससे तुम चक्रवर्ती बनते हो। सृष्टि के चक्र को जानने वाले ही चक्रवर्ती राजा बनते हैं। ड्रामा के चक्र को वा कल्पवृक्ष के आदि-मघ्य-अन्त को जानना, बात एक ही है। चक्र की निशानी बहुत शास्त्रों में भी लिखी हुई है। फिलॉसाफी की किताब अलग होती है। किताबें तो अनेक प्रकार की होती हैं। यहाँ तुमको कोई किताब की दरकार नहीं। तुमको तो जो बाप सिखलाते हैं, वह समझना है। बाप की प्रापर्टी पर तो सब बच्चों का हक होता है। परन्तु स्वर्ग में सबको एक जैसी प्रापर्टी तो नहीं होगी। राजाई है उनकी जो बाप का बना। बाबा कहा, थोड़ा भी ज्ञान सुना, तो वह हकदार हो जाते। परन्तु नम्बरवार। कहाँ विश्व के महाराजा, कहाँ प्रजा दास-दासियां। यह सारी राजधानी स्थापन हो रही है। बाप का बनने से स्वर्ग का वर्सा तो जरूर मिलता है। वर्सा मिलता है बाप से। यह नई बातें होने कारण मनुष्य समझते नहीं। बाप समझाते हैं सतयुग में विकार हैं नहीं। माया ही नहीं तो विकार कहाँ से आये। माया का राज्य शुरू होता है द्वापर से। यह हैं रावण की 5 जंजीरें। वहाँ यह होती नहीं। जास्ती डिस्कस नहीं करना है। वह है ही सम्पूर्ण निर्विकारी दुनिया। बाकी बच्चे पैदा होने की, गद्दी पर बैठने की, महल आदि बनाने की जो रस्म-रिवाज होगी – वह जरूर अच्छी ही होगी क्योंकि स्वर्ग है।

बाप समझाते हैं – बच्चे, इस रूहानी यात्रा में तुम्हें निरन्तर बुद्धियोग लगाना है। यह बहुत सहज है। भक्ति मार्ग में भी सवेरे उठते हैं। ज्ञान मार्ग में भी सवेरे उठ बाप को याद करना है और कोई किताब आदि पढ़ना नहीं है। सिर्फ बाप कहते हैं मुझे याद करो क्योंकि अब छोटे-बड़े सबका मौत सामने खड़ा है। मरते समय कहते हैं – भगवान् को सिमरो। अन्तकाल अगर भगवान् को नहीं सिमरेंगे तो स्वर्ग में जा नहीं सकेंगे। तो बाप भी कहते हैं – मनमनाभव। इस देह को भी याद नहीं करना है। हम आत्मा एक्टर हैं, शिवबाबा की सन्तान हैं। लगातार याद में रहना है। वैसे छोटे बच्चों को तो नहीं कहेंगे कि भगवान् को याद करो। यहाँ सबको कहना पड़ता है क्योंकि सबको बाप के पास जाना है, बाप से ही बुद्धियोग लगाना है। कोई से लड़ाई-झगड़ा नहीं करना है। यह बड़ा नुकसानकारक है। कोई कुछ कहे, सुना-अनसुना कर देना है, सामना नहीं करना चाहिए, जो लड़ाई हो जाए। हर बात में सहनशील भी होना चाहिए और फिर समझना है बाप, बाप भी है, धर्मराज भी है। कुछ भी बात है तो तुम बाप को रिपोर्ट करो। फिर धर्मराज के पास पहुँच ही जायेगा और सजा के भागी बन पड़ेंगे। बाप कहते हैं मैं सुख देता हूँ। दु:ख अर्थात् सजायें धर्मराज़ देते हैं। मुझे सज़ा देने का अधिकार नहीं है। मुझे सुनाओ, सजा धर्मराज देंगे। बाबा को सुनाने से हल्का हो जायेंगे क्योंकि यह फिर भी राइटहैण्ड है। सतगुरू का निन्दक ठौर न पाये। जजमेन्ट तो धर्मराज ही देंगे कि किसका दोष है? उनसे कुछ छिप नहीं सकता। कहेंगे ड्रामा अनुसार भूल की, कल्प पहले भी की होगी। परन्तु इसका मतलब यह नहीं कि भूल करते ही रहना है। फिर अभुल कैसे बनेंगे? भूल हो जाए तो क्षमा मांगनी होती है। बंगाल में किसका पैर आदि लग जाता है तो झट क्षमा मांगते हैं। यहाँ तो एक-दो को गाली देने लग पड़ते हैं। मैनर्स बहुत अच्छे होने चाहिए। बाप सिखलाते तो बहुत हैं, परन्तु समझते नहीं तो समझा जाता है इनका रजिस्टर खराब है। निंदा कराते रहते हैं तो पद भ्रष्ट हो जायेंगे। जन्म-जन्मान्तर के विकर्मों का बोझा तो है ही। उनकी तो सज़ा भोगनी ही है। फिर यहाँ रहकर अगर विकर्म करते हैं तो उनकी सौगुणा सजा मिल जाती है। सजा तो खानी ही है। जैसे बाबा काशी कलवट का समझाते हैं। वह है भक्ति मार्ग का। यह ज्ञान मार्ग की बात है। एक तो पहले वाले विकर्म हैं, दूसरा फिर इस समय जो करते हैं उनका दण्ड सौगुणा हो जाता है। बहुत कड़ी सजा खानी पड़ेगी। बाप तो हर एक बात समझाते हैं। कोई पाप न करो, नष्टोमोहा बनो। कितनी मेहनत है! इस मम्मा-बाबा को याद नहीं करना है। इनको याद करने से जमा नहीं होगा। इनमें शिवबाबा आते हैं तो याद शिवबाबा को करना है। ऐसे नहीं कि इनमें शिवबाबा है इसलिए इनकी याद रहे। नहीं, शिवबाबा को वहाँ याद करना है। शिवबाबा और स्वीट होम को याद करना है। जिन्न मुआफिक बुद्धि में याद रखना है – शिवबाबा वहाँ रहते हैं, शिवबाबा यहाँ आकर सुनाते हैं, परन्तु हमको याद वहाँ करना है, यहाँ नहीं। बुद्धि दूर जानी चाहिए, यहाँ नहीं। यह शिवबाबा तो चला जायेगा। शिवबाबा इस एक में ही आते है। मम्मा में उनको देख न सकें। तुम जानते हो यह बाबा का रथ है परन्तु इनके चेहरे को नहीं देखना है। बुद्धि वहाँ लटकी रहे। यहाँ बुद्धि रहने से इतना मजा नहीं आयेगा। यह कोई यात्रा नहीं हुई। यात्रा की हद तुम्हारी वहाँ है। ऐसे नहीं कि बाबा को ही देखते रहो क्योंकि इनमें शिव है। फिर ऊपर जाने की आदत छूट जाती है। बाप कहते हैं मुझे वहाँ याद करो, बुद्धि-योग वहाँ लगाओ। कई बुद्धू समझते हैं कि बाबा को ही बैठ देखें। अरे, बुद्धि को स्वीट होम में लगाना है। शिवबाबा तो सदैव रथ पर रह न सके। यहाँ आकर सिर्फ सर्विस करेंगे। सवारी ले सर्विस कर फिर उतर जायेंगे। बैल पर सदैव सवारी हो नहीं सकती। तो बुद्धि वहाँ रहनी चाहिए। बाबा आते हैं, मुरली चलाकर चले जाते हैं। इनकी बुद्धि भी वहाँ रहती है। रास्ता बरोबर पकड़ना चाहिए। नहीं तो घड़ी-घड़ी पट्टी से गिर पड़ते हैं। यह तो थोड़ा समय है। इनमें शिवबाबा ही नहीं होगा तो याद क्यों करेंगे? मुरली तो यह भी सुना सकते हैं, इनमें कभी है, कभी नहीं है। कभी रेस्ट लेते हैं। तुम याद वहाँ करो।

कभी-कभी बाबा ख्याल करते हैं – ड्रामा अनुसार कल्प पहले आज के दिन जो मुरली चलाई थी वही जाकर चलाऊगाँ। तुम भी कह सकते हो कि कल्प पहले बाप से जितना वर्सा लिया था, उतना ही लेंगे। शिवबाबा का नाम जरूर लेना पड़े। परन्तु ऐसे किसको आयेगा नहीं। बाप जरूर याद आयेगा। बाप का ही परिचय देना है। ऐसे नहीं, सिर्फ इनको बैठ देखना है। बाबा ने समझाया है – शिवबाबा को याद करो, नहीं तो पाप हो जायेगा। निरन्तर बाप को याद करना है, नहीं तो विकर्म विनाश नहीं होंगे। बड़ी मंज़िल है। मासी का घर थोड़ेही है। ऐसे नहीं, भोजन पर पहले याद किया फिर ख़लास, ऐसे ही भोजन खाने लग पड़े। नहीं, सारा समय याद करना पड़े। मेहनत है। ऐसे थोड़ेही ऊंच पद मिल सकता है। तब तो देखो करोड़ों में 8 रत्न पास होते हैं। मंज़िल बड़ी भारी है। विश्व का मालिक बनना है, यह तो किसकी बुद्धि में नहीं होगा। इनकी बुद्धि में भी नहीं था। अब ख्याल किया जाता है, 84 जन्म किसको मिलते हैं? जरूर जो पहले आते हैं वह हैं लक्ष्मी-नारायण। यह हैं सब विचार सागर मंथन करने की बातें। बाप समझाते हैं – हथ कार डे, दिल याद डे। भल धन्धे आदि में रहो, परन्तु निरन्तर बाप को याद करते रहो। यह है यात्रा। तीर्थों पर जाकर फिर लौटना नहीं है। तीर्थ बहुत मनुष्य करते हैं, अब तो वहाँ पर भी गंद हो गया है। नहीं तो तीर्थ स्थान पर कभी वेश्यालय नहीं होते। अभी कितना भ्रष्टाचार है। एक धनी तो कोई है नहीं। झट गाली देने लग पड़ते। आज चीफ मिनिस्टर है, कल उनको भी उतार देते। माया के मुरीद बन जाते हैं। पैसे इकट्ठे करेंगे, मकान बनायेंगे, धन के पिछाड़ी चोरी करने लग पड़ते हैं। तुम अब स्वर्ग में जाने की तैयारी कर रहे हो। वही याद आना चाहिए। धारणा भी होनी चाहिए। मुरली लिखकर फिर रिवाइज़ करनी चाहिए। फुर्सत तो बहुत रहती है। रात को तो बहुत फुर्सत है। रात को जागो तो आदत पड़ जायेगी। जो सच्चा-सच्चा बाबा को याद करने वाला होगा उनकी आंख आपेही खुल जायेगी। बाबा अनुभव बताते हैं। कैसे रात को आंख खुल जाती है। अभी तो नींद के लिए और ही पुरुषार्थ करते हैं। हाँ, स्थूल काम करने से भी शरीर को थकावट होती है। बाबा का रथ भी देखो कितना पुराना है। विचार करो, बाबा पतित दुनिया में आकर कितनी मेहनत करते हैं! भक्ति मार्ग में भी मेहनत करते थे, अभी भी मेहनत करते हैं। शरीर भी पतित तो दुनिया भी पतित। बाबा कहते हैं मैं आधाकल्प तो बहुत आराम करता हूँ, कुछ भी ख्याल नहीं करना पड़ता है। भक्ति मार्ग में बहुत ख्याल करना पड़ता इसलिए बाप को रहमदिल गाया हुआ है। ओशन ऑफ नॉलेज, ओशन आफ ब्लिस, कितनी महिमा करते हैं। वही बाप अभी हमको पढ़ाते हैं और कोई पढ़ा न सके। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी का भी सामना नहीं करना है, कोई कुछ कहे तो सुना-अनसुना कर देना है। सहनशील बनना है। सतगुरू की निंदा नहीं करानी है।

2) अपना रजिस्टर खराब होने नहीं देना है। भूल हो जाए तो बाप को सुनाकर क्षमा मांग लेनी है। वहाँ (ऊपर) याद करने की आदत डालनी है।

वरदान:- किनारा करने के बजाए स्वयं को एडजेस्ट करने वाले सहनशीलता के अवतार भव
कई बच्चों में सहनशक्ति की कमी होती है इसलिए कोई छोटी सी बात भी होती है तो चेहरा बहुत जल्दी बदल जाता है, फिर घबराकर या तो स्थान को बदलने की सोचेंगे या जिनसे तंग होंगे उनको बदल देंगे, अपने को नहीं बदलेंगे, लेकिन दूसरों से किनारा कर लेंगे इसलिए स्थान अथवा दूसरे को बदलने के बजाए स्वयं को बदल लो, सहनशीलता का अवतार बन जाओ। सबके साथ स्वयं को एडजेस्ट करना सीखो।
स्लोगन:- परमार्थ के आधार से व्यवहार को सिद्ध करना – यही योगी का लक्षण है।

TODAY MURLI 22 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 22 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 21 October 2017 :- Click Here

22/10/17
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
18/02/83

Methods to maintain constant zeal and enthusiasm.

Today, the Father, the Comforter of the hearts of all the children, has come amidst all of you children to give you the response of the sound of your hearts and all of your sweet conversations. From amrit vela, BapDada continues to listen to the variety of significant sounds of all the children everywhere. Throughout the day, how many types of sounds of how many children must He hear? Every child has a variety of sounds at different times. Who listens to the naturalsounds the most? Anything that is natural is always loved very much. Having heard all the different sounds of the children, BapDada will tell you children the main points in essence.

All of you children are moving along very well, whilst paying attention to remaining stable in the stage of being lost in love, according to your capacity, and to becoming an embodiment of the experience of one who is lost in love. Each of you has the one zeal and enthusiasm in your heart to become equal to the Father, a jewel who is close to the Father and who constantly gives the proof of being a worthy child. This zeal and enthusiasm is the basis of a flying stage for all. This enthusiasm will finish the many obstacles that may come and will also help you a great deal in becoming complete. The pure and determined thought for this enthusiasm becomes an especially powerful weapon to help you become victorious. So, constantly keep this zeal and enthusiasm and this method for attaining the flying stage in your heart. Never allow your zeal and enthusiasm to decrease. The enthusiasm is that you definitely will become equal to the Father and full of all powers, all virtues and all treasures of knowledge, because even in the previous cycle you became an elevated soul. This is not your fortune for just one cycle, but this line of fortune has been drawn by the Bestower of Fortune many times. There is natural zeal on the basis of this enthusiasm. What is the enthusiasm? “Wah my fortune!” By becoming an embodiment of the awareness of the different titles that BapDada has given you, you will have constant enthusiasm, that is, you will have constant happiness. The greatest aspect of your enthusiasm is that you searched for the Father for many births, but it is at this time that BapDada found you. You were hidden behind a variety of curtains. Even though you were hiding behind those curtains, He found you, did He not? You became separated and went so far away. Having left the land of Bharat, look where you went! You went behind so many curtains of religion, action, land, customs and systems, etc. So, you constantly maintain this enthusiasm and happiness, do you not? Did the Father make you belong to Him or did you make the Father belong to you? It was the Father who sent you the message first, was it not, even though some of you took a certain length of time to recognise Him and others took another length of time? The souls who constantly maintain zeal and enthusiasm and the children who keep one Strength and one Support constantly experience courage and receive the Father’s help. The courage you have is: It has to happen! With this courage, you automatically become worthy of receiving help, Maya, too, loses all courage in front of your thoughts of courage. To have thoughts such as, “I don’t know whether it will happen or not, whether I will be able to do this or not,” is to invoke Maya. Since you invoke Maya, why would she not come? To have this thought means to show the path to Maya. Since you open the path for Maya, why would she not come? When she has been loving you for half the cycle, why would she not come when you show her the path? Therefore, become a courageous soul who constantly maintains zeal and enthusiasm. By having a relationship with the Father, the Lawmaker and the Bestower of Blessings, you have become the children and therefore the masters. You have become the masters of all the treasures in which nothing is lacking. If such masters don’t maintain enthusiasm, then who would? Let your head always be aware of this slogan: “I was, I am and I will be.” Do you remember this? This awareness has brought you here. May you constantly have this awareness! Achcha.

Today, Baba has especially come to meet the double foreign children, the ones who are the furthest away and have come from far away. The children of Bharat constantly have all rights, anyway. Nevertheless, you become chancellors and give others a chance and this is why the tradition of being great donors has continued in Bharat even until today. All of you have given your co-operation in your own way for the great sacrificial fire of world service. Each of you has played the best part of all with a lot of love. With everyone’s single thought, many souls received the message to come close to the Father. Now, the ignited lights will continue to awaken many others with this message. You double foreign children made your determined thought practical. The children from Bharat also brought many special souls close who will then spread the name and enable others to receive the message. You also gave love to the media people and brought them close. The power of the pen and the power of speech will both continue to ignite the lamp of the message together. Congratulations for this to both the double-foreign children and the children who live close in Bharat! The double-foreign children brought special souls who have become instruments for spreading a powerful sound and special congratulations for that. The Father is constantly the children’s Server. The children are first and the Father is the Backbone. It is the children who come onto the field. It is the efforts of the children and the love of the Father. Achcha.

To those who constantly maintain zeal and enthusiasm, to the courageous children who are constantly worthy of receiving BapDada’s help, to those who are constantly lost in love for service, to those who enable other souls to receive all the powers that they themselves have received, to those who have all rights to the Father and who are the children and therefore the masters, BapDada’s special love-filled remembrance and namaste.

BapDada meeting Dadi Janki: You have received the blessing of being equal to the Father, have you not? You do double service. Very good success of service of the mind of this child can be seen. You are the practical proof of an embodiment of success. Along with the Father’s praise, everyone also sings praise of the child. You tour around everywhere with the Father. You are a ruler of the globe. You are playing a very good practical part of being a conqueror of matter. Now, a very good part of serving through thoughts is also being played. The practical proof is good. Many important people will now come. The sound from abroad will reach those in this land. All the double-foreign children have shown very good practical proof of zeal and enthusiasm for service. Therefore, on behalf of everyone, many congratulations to you. You have brought a good mike. You served whilst being an embodiment of remembrance and this is why there is success. You have prepared a good garden. Allah is looking at His garden.

BapDada meeting Jayantiben: You have been lucky and lovely from birth, anyway. Your birth has also been through luck. Wherever you go, that place will become lucky. See, the land of London has become lucky, has it not? What gift do you give wherever you go? You go and share the fortune that you have received from the Bestower of Fortune. Do you know with which vision everyone sees you? You are a star of fortune! Wherever a star is sparkling, there is splendour there. You do experience this, do you not? It is the steps of the child and the Father’s help. You are following the Father and you have also followedyour companion very well (Dadi Janki). You are running a very good race of becoming equal. Achcha.

BapDada meeting Sister Gayatri: Gayatri is no less. You have adopted a very good method of service. Whoever becomes an instrument to make souls come to Madhuban also continues to be showered with flowers of pure love by BapDada and the family. Achcha. With everyone’s co-operation, success is visible even as far as Madhuban. Baba is not mentioning anyone’s name, but all of you should understand that Baba is speaking to you. No one is any less. Always think first that you are ahead in service. All you, young and old, have used your body, mind, wealth, time and thoughts for service.

BapDada meeting Murlibhai and Rajniben (parents of Jayantiben): The string of BapDada’s love has pulled you. What do you constantly remember now? What do you remember in every breath and at every second? It is always “Baba” that emerges from your hearts. You experience happiness in the mind through the experience of remembrance. Now, whatever you think with that concentration that will become the way to move forward. Simply concentrate on one Strength and one Support and then think. When there is one Strength and one Support in your faith, whatever happens will then be good. BapDada is constantly with you and will always be with you. You are courageous, are you not? Seeing the children’s courage and faith, BapDada is congratulating you for your faith and courage. You are emperors, children of the Carefree Emperor, are you not? The destiny of the drama has made you into jewels who are close. You have also received very good company. The company of the corporeal is also powerful. The company for the soul is the Father, in any case. You have a double lift and this is why you are carefree emperors. You became charitable souls at the right time and performed an act of charity. This is why you are constantly worthy of BapDada’s co-operation. You have claimed a right to so much charity. You became instruments for a charitable place. The child’s fortune has been created, in any case. The treasure of charity has been accumulated. You are master Murli, the Murli of Murlidhar. You constantly have the Father’s hand in your hand. Constantly stay in remembrance and continue to take power. The Father’s treasures are your treasures. Continue to move along whilst considering yourself to have all rights. BapDada considers you to be a child of the home and therefore a master of the home. Whilst interacting with everyone, let everything be done for God. Let there be that company even in your interaction with everyone. Achcha.

BapDada meeting the UK group: Do all of you consider yourselves those who have a right to self-sovereignty and thus the ones with a right to world sovereignty? London is a capital. So, whilst living in that capital you also constantly remember your kingdom, do you not? Do you remember your palaces when you see the palace of the Queen? Do you know how beautiful your palaces will be? Your kingdom will be a kingdom that hasn’t existed up to now. Nor will there ever be a kingdom like yours. Do you have such intoxication? Although everything will be destroyed now, you will come to Bharat, will you not? This is clearly understood, is it not? Wherever Brahmins have done a great deal of service, that will definitely be a picnic place. The population will be small and so there won’t be a need for such expansion. Achcha. Always remember your home, your kingdom, your Father and your duty.

Question: What is the way to move constantly forward?

Answer: Knowledge and service. The children who imbibe knowledge very well and who are always interested in doing service continue to move constantly forward. The Father who has a thousand arms is with you. So, constantly keep the Companion with you and continue to move forward.

Question: What type of service happens automatically through those who are surrendered whilst living at home with their families?

Answer: With the elevated co-operation of such souls, the tree of service continues to bear fruit. Everyone’s co-operation becomes water for the tree. When a tree receives water, it bears very good fruit. Similarly, with the co-operation of the elevated co-operative souls, the tree becomes fruitful. Therefore, you are the children who are seated on BapDada’s heart-throne, those who are constantly concerned about doing service and who are surrendered whilst living at home, are you not? Achcha. Om shanti.

Blessing: May you be an embodiment of Godly success by finishing all waste in an accurate way and thereby claim number one.
Just as darkness is automatically dispelled by light, in the same way, by using your time, thoughts and breath in a worthwhile way, wastage automatically finishes because to use something in a worthwhile way means to use it for something elevated. Those who use everything for something elevated gain control over all wastage and claim number one. They find a way to stop all waste. This is Godly success. Those with occult powers show temporary miracles, whereas you attain Godly success with an accurate method.
Slogan: Those who uplift those who defame them are truly knowledgeable souls.

 

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

Read Murli 20 October 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 22 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 22 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 21 October 2017 :- Click Here
[Web-Dorado_Zoom]
22/10/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
18-02-83

सदा उमंग-उत्साह में रहने की युक्तियाँ

आज सर्व बच्चों के दिलाराम बाप, बच्चों के दिल की आवाज, दिल की मीठी-मीठी बातों का रेसपाण्ड देने के लिए बच्चों के बीच आये हैं। अमृतवेले से लेकर बापदादा चारों ओर के बच्चों के भिन्न-भिन्न राज़ भरे हुए साज़ सुनते रहते हैं। सारे दिन में कितने बच्चों के और कितने प्रकार के साज़ सुनते होंगे। हरेक बच्चे के भी समय-समय के भिन्न-भिन्न साज़ होते हैं। सबसे ज्यादा नैचुरल साज़ कौन सुनता है? नैचुरल वस्तु सदा प्रिय लगती है। तो सब बच्चों के भिन्न-भिन्न साज़ सुनते हुए बापदादा बच्चों को सार में मुख्य बातें सुनाते हैं।

सभी बच्चे यथाशक्ति लगन में मगन अवस्था में स्थित होने के लिए वा मगन स्वरूप के अनुभवी मूर्त बनने के लिए अटेन्शन बहुत अच्छा रखते चल रहे हैं। सबकी दिल का एक ही उमंग-उत्साह है कि मैं बाप समान समीप रत्न बन सदा सपूत बच्चे का सबूत दूँ। यह उमंग-उत्साह सर्व के उड़ती कला का आधार है। यह उमंग कई प्रकार के आने वाले विघ्नों को समाप्त कर सम्पन्न बनने में बहुत सहयोग देता है। यह उमंग का शुद्ध और दृढ़ संकल्प विजयी बनाने में विशेष शक्तिशाली शस्त्र बन जाता है इसलिए सदा दिल में उमंग-उत्साह को वा इस उड़ती कला के साधन को कायम रखना। कभी उमंग-उत्साह को कम नहीं करना। उमंग है – मुझे बाप समान सर्व शक्तियों, सर्व गुणों, सर्व ज्ञान के खजानों से सम्पन्न होना ही है – क्योंकि कल्प पहले भी मैं श्रेष्ठ आत्मा बना था। एक कल्प की तकदीर नहीं लेकिन अनेक बार के तकदीर की लकीर भाग्य विधाता द्वारा खींची हुई है। इसी उमंग के आधार पर उत्साह स्वत: होता है। उत्साह क्या होता? ‘वाह मेरा भाग्य’। जो भी बापदादा ने भिन्न-भिन्न टाइटिल दिये हैं, उसी स्मृति स्वरूप में रहने से उत्साह अर्थात् खुशी स्वत: ही और सदा ही रहती है। सबसे बड़े ते बड़े उत्साह की बात है कि अनेक जन्म आपने बाप को ढूंढा लेकिन इस समय बापदादा ने आप लोगों को ढूंढा। भिन्न-भिन्न पर्दों के अन्दर छिपे हुए थे। उन पर्दों के अन्दर से भी ढूंढ लिया ना? बिछुड़कर कितने दूर चले गये। भारत देश को छोड़कर कहाँ चले गये! धर्म, कर्म, देश, रीति-रसम, कितने पर्दों के अन्दर आ गये। तो सदा इसी उत्साह और खुशी में रहते हो ना! बाप ने अपना बनाया या आपने बाप को अपना बनाया? पहले मैसेज तो बाप ने भेजा ना! चाहे पहचानने में कोई ने कितना समय, कोई ने कितना समय लगाया। तो सदा उमंग और उत्साह में रहने वाली आत्माओं को एक बल एक भरोसे में रहने वाले बच्चों को, हिम्मते बच्चे मददे बाप का सदा ही अनुभव होता रहता है। ”होना ही है” यह हिम्मत। इसी हिम्मत से मदद के पात्र स्वत: ही बन जाते हैं। और इसी हिम्मत के संकल्प के आगे माया हिम्मतहीन बन जाती है। पता नहीं, होगा या नहीं होगा, मैं कर सकूंगा या नहीं, यह संकल्प करना, माया का आह्वान करना है। जब आह्वान किया तो माया क्यों नहीं आयेगी। यह संकल्प आना अर्थात् माया को रास्ता देना। जब आप रास्ता ही खोल देते हो तो क्यों नहीं आयेगी। आधाकल्प की प्रीत रखने वाली रास्ता मिलते कैसे नहीं आयेगी इसलिए सदा उमंग-उत्साह में रहने वाली हिम्मतवान आत्मा बनो। विधाता और वरदाता बाप के सम्बन्ध से बालक सो मालिक बन गए। सर्व खजानों के मालिक, जिस खजाने में अप्राप्त कोई वस्तु नहीं। ऐसे मालिक उमंग-उत्साह में नहीं रहेंगे तो कौन रहेगा। यह स्लोगन सदा मस्तक में स्मृति रूप में रहे – ‘हम ही थे, हम ही हैं और हम ही रहेंगे।’ याद है ना। इसी स्मृति ने यहाँ तक लाया है। सदा इसी स्मृति भव। अच्छा !

आज तो डबल विदेशी, सबसे ज्यादा में ज्यादा दूरदेशवासी, दूर से आने वाले बच्चों से विशेष मिलने के लिए आये हैं। वैसे तो भारत के बच्चे भी सदा अधिकारी हैं ही। फिर भी चान्सलर बन चान्स देते हैं इसलिए भारत में महादानी बनने की रीति-रसम अब तक भी चलती है। सबने अपने-अपने रूप से विश्व सेवा के महायज्ञ में सहयोग दिया। हरेक ने बहुत लगन से अच्छे ते अच्छा पार्ट बजाया। सर्व के एक संकल्प द्वारा विश्व की अनेक आत्माओं को बाप के समीप आने का सन्देश मिला। अभी इसी सन्देश द्वारा जगी हुई ज्योति अनेकों को जगाती रहेगी। डबल विदेशी बच्चों ने अपने दृढ़ संकल्प को साकार में लाया। भारतवासी बच्चों ने भी अनेक नाम फैलाने वाले, सन्देश पहुँचाने वाले विशेष आत्माओं को समीप लाया। कलमधारियों को भी स्नेह ओर सम्पर्क में समीप लाया। कलम की शक्ति और मुख की शक्ति दोनों ही मिलकर सन्देश की ज्योति जगाते रहेंगे। इसके लिए डबल विदेशी बच्चों को और देश में समीप रहने वाले बच्चों को, दोनों को बधाई। डबल विदेशी बच्चों ने पावरफुल आवाज़ फैलाने के निमित्त बनी हुई विशेष आत्माओं को लाया उसके लिए भी विशेष बधाई हो। बाप तो सदा बच्चों के सेवाधारी हैं। पहले बच्चे। बाप तो बैकबोन है ना। सामने मैदान पर तो बच्चे ही आते हैं। मेहनत बच्चों की मुहब्बत बाप की। अच्छा।

ऐसे सदा उमंग-उत्साह में रहने वाले, सदा बापदादा की मदद के पात्र, हिम्मतवान बच्चे, सदा सेवा की लगन में मगन रहने वाले, सदा स्वंय को प्राप्त हुई शक्तियों द्वारा सर्व आत्माओं को शक्तियों की प्राप्ति कराने वाले, ऐसे बाप के सदा अधिकारी वा बालक सो मालिक बच्चों को बापदादा का विशेष स्नेह सम्पन्न यादप्यार और नमस्ते।

जानकी दादी से:- बाप समान भव की वरदानी हो ना। डबल सेवा करती हो। बच्ची की मंसा सेवा की सफलता बहुत अच्छी दिखाई दे रही है। सफलता स्वरूप का प्रत्यक्ष सबूत हो। सभी बाप के साथ-साथ बच्ची के भी गुण गाते हैं। बाप साथ-साथ चक्कर लगाते हैं ना। चक्रवर्ती राजा हो। प्रकृतिजीत का अच्छा ही प्रत्यक्ष पार्ट बजा रही हो। अब तो संकल्प द्वारा भी सेवा का पार्ट अच्छा चल रहा है। प्रैक्टिकल सबूत अच्छा है। अभी तो बहुत बड़े-बड़े आयेंगे। विदेश का आवाज़ देश वालों तक पहुँचेगा। सभी विदेशी बच्चों ने सर्विस के उमंग-उत्साह का अच्छा ही प्रैक्टिकल सबूत दिखाया है इसीलिए सभी के तरफ से आपको बहुत-बहुत बधाई हो। अच्छा माइक लाया, याद का स्वरूप बनकर सेवा की है, इसलिए सफलता है। अच्छा बगीचा तैयार किया है। अल्लाह अपने बगीचे को देख रहे हैं।

जयन्ती बहन से:- जन्म से लकी और लवली तो हो ही। जन्म ही लक से हुआ है। जहाँ भी जायेंगी वह स्थान भी लकी हो जायेगा। देखो लण्डन की धरती लकी हो गई ना। जहाँ भी चक्कर लगाती हो तो क्या सौगात देकर आती हो? जो भाग्य विधाता द्वारा भाग्य मिला है वह भाग्य बाँटकर आती हो। सभी आपको किस नज़र से देखते हैं, मालूम है? भाग्य का सितारा हो। जहाँ सितारा चमकता है वहाँ जगमग हो जाता है। ऐसे अनुभव करती हो ना। कदम बच्ची का और मदद बाप की। फालो फादर तो हो ही लेकिन फालो साथी (जानकी दादी को) भी ठीक किया है। यह भी समान बनने की रेस अच्छी कर रही है। अच्छा !

गायत्री बहन (न्यूयार्क):- गायत्री भी कम नहीं, बहुत अच्छा सर्विस का साधन अपनाया है। जो भी निमित्त बन करके आत्मायें मधुबन तक पहुँचाई, तो निमित्त बनने वालों को भी बापदादा और परिवार की शुभ स्नेह के पुष्प की वर्षा होती रहती है। जितना ही शैली अच्छी आत्मा है, उतना ही यह जो बच्चा आया (राबर्ट मूलरी) यह भी बहुत अच्छा सेवा के क्षेत्र में सहयोगी आत्मा है। सच्ची दिल पर साहेब राजी। साफ दिल वाला है इसलिए बाप के स्नेह को, बाप की शक्ति को सहज कैच कर सका। उमंग-उत्साह और संकल्प बहुत अच्छा है। सेवा में अच्छा जम्प लगायेगा। बापदादा भी निमित्त बने हुए बच्चों को देख हर्षित होते हैं। उनको कहना कि सेवा में उड़ती कला वाले फरिश्ते स्वरूप हो और ऐसे ही अनुभव करते रहना। अच्छा – सभी के सहयोग से सफलता मधुबन तक दिखाई दे रही है। नाम किसका भी नहीं ले रहे हैं। लेकिन सब समझना कि हमें बाबा कह रहे हैं। कोई भी कम नहीं है। समझो पहले हम सेवा में आगे हैं। छोटे बड़े सभी ने तन-मन-धन-समय संकल्प सब कुछ सेवा में लगाया है।

मुरली भाई और रजनी बहन से: – बापदादा के स्नेह की डोर ने खींच लाया ना। सदा अभी क्या याद रहता है? श्वासों श्वांस सेकण्ड-सेकण्ड क्या याद रहता? सदा दिल से बाबा ही निकलता है ना। मन की खुशी, याद के अनुभव द्वारा अनुभव की। अभी एकाग्र हो जो सोचेंगे वह सब आगे बढ़ने का साधन हो जायेगा। सिर्फ एक बल एक भरोसे से एकाग्र हो करके सोचो। निश्चय में एक बल और एक भरोसा, तो जो कुछ होगा वह अच्छा ही होगा। बापदादा सदा साथ हैं और सदा रहेंगे। बहादुर हो ना। बाप दादा बच्चे की हिम्मत और निश्चय को देखके निश्चय और हिम्मत पर बधाई दे रहे हैं। बेफिकर बादशाह के बच्चे बादशाह हो ना। ड्रामा की भावी ने समीप रत्न तो बना ही दिया है। साथ भी बहुत अच्छा मिला है। साकार का साथ भी शक्तिशाली है। आत्मा का साथ तो है ही बाप। डबल लिफ्ट है इसलिए बेफिकर बादशाह। समय पर पुण्यात्मा बन पुण्य का कार्य किया है। इसलिए बापदादा के सहयोग के सदा पात्र हो। कितने पुण्य के अधिकारी बने। पुण्य-स्थान के निमित्त बने। किसी भी रीति से बच्चे का भाग्य बना ही दिया ना। पुण्य की पूँजी इक्टठी है। मुरलीधर का मुरली, मास्टर मुरली है। बाप का हाथ सदा हाथ में है। सदा याद करते और शक्ति लेते रहो।

बाप का खजाना सो आपका, अधिकारी समझकर चलो। बापदादा तो घर का बालक सो घर का मालिक समझते हैं। परमार्थ और व्यवहार दोनों साथ-साथ हों। व्यवहार में भी साथ रहे। अच्छा।

यू.के. ग्रुप से:- सभी अपने को स्वराज्य अधिकारी सो विश्व राज्य अधिकारी समझते हो? वैसे भी लण्डन राजधानी है ना। तो राजधानी में रहते हुए अपना राज्य सदा याद रहता है ना। रानी का महल देखते अपने महल याद आते हैं। आपके महल कितने सुन्दर होंगे, जानते हो ना। ऐसा आपका राज्य है जो अब तक कोई ऐसा राज्य न हुआ है, न होगा। ऐसा नशा है? भल अभी तो सब विनाश हो जायेगा। लेकिन आप तो भारत में आ जायेंगे ना। यह तो पक्का है ना। जहाँ भी ब्राहमण आत्माओं ने इतनी सेवा की है वह पिकनिक स्थान जरूर रहेंगे। आदमशुमारी कम होगी, इतने विस्तार की आवश्यकता नहीं होगी। अच्छा – अपना घर, अपना राज्य, अपना बाप, अपना कर्तव्य सब याद रहे।

प्रश्न: – सदा आगे बढ़ने का साधन क्या है?

उत्तर:- नॉलेज और सेवा। जो बच्चे नॉलेज को अच्छी रीति धारण करते हैं और सेवा की सदा रूचि बनी रहती है वह आगे बढ़ते रहते हैं। हजार भुजा वाला बाप आपके साथ है, इसलिए साथी को सदा साथ रखते आगे बढ़ते रहो।

प्रश्न:- प्रवृत्ति में जो सदा समर्पित होकर रहते हैं – उनके द्वारा कौन सी सेवा स्वत: हो जाती है?

उत्तर:- ऐसी आत्माओं के श्रेष्ठ सहयोग से सेवा का वृक्ष फलीभूत हो जाता है। सबका सहयोग ही वृक्ष का पानी बन जाता है। जैसे वृक्ष को पानी मिले तो वृक्ष से फल कितना अच्छा निकलता है, ऐसे श्रेष्ठ सहयोगी आत्माओं के सहयोग से वृक्ष फलीभूत हो जाता है। तो ऐसे बापदादा के दिलतख्तनशीन सेवा की धुन में सदा रहने वाले, प्रवृत्ति में भी समर्पित रहने वाले बच्चे हो ना। अच्छा। ओम् शान्ति।

वरदान:- यथार्थ विधि द्वारा व्यर्थ को समाप्त कर नम्बरवन लेने वाले परमात्म सिद्धि स्वरूप भव 
जैसे रोशनी से अंधकार स्वत: खत्म हो जाता है। ऐसे समय, संकल्प, श्वांस को सफल करने से व्यर्थ स्वत: समाप्त हो जाता है, क्योंकि सफल करने का अर्थ है श्रेष्ठ तरफ लगाना। तो श्रेष्ठ तरफ लगाने वाले व्यर्थ पर विन कर नम्बरवन ले लेते हैं। उन्हें व्यर्थ को स्टॉप करने की सिद्धि प्राप्त हो जाती है। यही परमात्म सिद्धि है। वह रिद्धि सिद्धि वाले अल्पकाल का चमत्कार दिखाते हैं और आप यथार्थ विधि द्वारा परमात्म सिद्धि को प्राप्त करते हो।
स्लोगन:- अपकारी पर भी उपकार करने वाला ही ज्ञानी तू आत्मा है।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 20 October 2017 :- Click Here

Font Resize