today murli 22 may

TODAY MURLI 22 MAY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 21 May 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 21 May 2018 :- Click Here

22/05/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, cool everyone down by sprinkling cool drops of knowledge on them. You are the goddesses of coolness who shower knowledge.
Question: Why has the Father given you the urn of knowledge?
Answer: You have been given the urn of knowledge so that you can first cool yourself down and then make everyone else cool. At this time, everyone is burning in the fire of lust. Take them off the pyre of lust and make them sit on the pyre of knowledge. When souls become pure and cool, they can become deities. Therefore, you have to give every spirit the injection of knowledge and purify them. This is your spiritual service.
Song: The rain of knowledge is on those who are with the Beloved.

Om shanti. The rain is for those who are with the Father. Now, there is rain and the Father. So, how can there be rain from the Father? You would be amazed, would you not? The world doesn’t know about these things. This is the rain of knowledge. You are made to sit on the pyre of knowledge in order to make you into goddesses of coolness. Against (in contrast) the word ‘cool’, there is the word ‘heat’. Your name is ‘goddesses of coolness’. There wouldn’t be just one; there would definitely be many through whom Bharat becomes cool. At this time, all are burning on the pyre of lust. Here, your name is ‘goddesses of coolness ‘, Sheetla Devis, the ones who cool everyone down. You are the goddesses who sprinkle cool drops. You go to sprinkle drops. These are the drops of knowledge, which are sprinkled on souls. When souls become pure, they become cool. At this time, the whole world has become ugly by being on the pyre of lust. You children are now given the urn. With this urn, you yourselves become cool and you also make others the same. This one (Mama – the one given the urn) also became cool, did she not? Both are sitting together. There is no question of leaving your home and family. However, the cowshed had to be created and so some must have left home. What for? In order to sit on the pyre of knowledge and become cool. Only when you become cool here will you be able to become deities. Baba has explained: Unless a person has become a theist through you, he is an atheist. Those who belong to the theist world do not fight or quarrel among themselves. Those of the atheist world fight and quarrel. Who are called atheists? Those who don’t know Me, their most beloved, Supreme Father, the Supreme Soul from beyond. There is confusion in every home in the world because they have become atheists by forgetting the Supreme Father, the Supreme Soul. They don’t know the unlimited Father or the beginning, the middle or the end of His creation. The unlimited Father explains why you have become atheists. Why have you forgotten the unlimited Father who is called God, the F ather? One should know the occupation of one’s Father. He is the Seed, the Truth, the Living Being, the Embodiment of Bliss, the Ocean of Knowledge and the Ocean of Peace. He has all of these specialities. His specialities are different. It is to Him that it is said: You are the Mother and Father and we are Your children. Therefore, He would definitely be the Mother and Father. No one can be put right until he knows Alpha. You know that in Bharat, in the golden age, there was the kingdom of gods and goddesses. Lakshmi and Narayan were called a goddess and god. Those who belong to the deity religion would understand that Lakshmi and Narayan truly were the first masters of this Bharat. It is a matter of 5000 years. Look, when the Father and Teacher are explaining to you they look around everywhere to see whether you children are listening and imbibing very well or whether your intellects’ yoga is wandering elsewhere. On the path of devotion, although they would be sitting in front of an idol of Krishna, their intellects would be wandering to their business etc. They would not even be able to concentrate on that image. Here, too, when there isn’t proper recognition, they are unable to imbibe. Shiv Baba gives you the mantra that disciplines the mind so that you are able to control Maya. He says: Remember your Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. Connect your intellects in yoga to Him. Now, your intellects’ yoga should not go towards the old home. Your intellects should be connected in yoga with the Father because all of you have to come to Me. I have come as the Guide to take you back home. This is the Shiv Shakti Pandava Army. You are those who take power from Shiva. Because God is the Almighty Authority, people believe that He can even bring back to life those who are dead. However, the Father says: Beloved children, each one in this drama has received his eternal part. I am the Creator, Director and Principal Actor. I cannot do anything with anyone’s part in the drama. People think that every leaf moves with God’s orders. Would God sit and order every leaf? God Himself says: I too am bound by the drama. It isn’t that leaves move according to My orders. The idea of omnipresence has made the people of Bharat totally poverty-stricken. Bharat becomes crowned with the Father’s knowledge. You children know that the Dilwala Temple has been created accurately. Adi Dev is Dilwala, the one who wins the heart of everyone in the whole world. The one God would be said to be the One who wins the heart of all the devotees. This is their memorial. Up above is the image of the deities and beneath that they are shown doing Raja Yoga tapasya; 108 children are sitting in that yoga posture in remembrance of Shiv Baba. They are the ones who made Bharat into heaven. Gandhiji used to say that he was establishing the kingdom of Rama in the new world. However, there is purity in the new world; he couldn’t bring that about. It is the task of the Father alone to make the impure world pure. No human being can carry out that task. It is said of this one: I enter this one at the end of the last of his many births. Therefore, he too is impure, is he not? Those who were pure have become impure and they are once again becoming pure. Those who were worthy of worship have become worshippers themselves; they have become devotees. God comes and meets the devotees. Those people make effort to attain eternal liberation so that they become free from playing a part. However, no one can receive eternal liberation. God says: I too do not receive eternal liberation. I too have to come to serve. I have to please the devotees. I also have to enter the impure world in an impure body in order to make this Bharat prosperous, to give back the lost self-sovereignty once again and to make you solvent. I have come many times and I will continue to come. I will make Bharat beautiful. This is the devilish world and I will make it divine. Those who recognise Me will claim their inheritance. Shiv Baba comes every cycle to give Bharat its inheritance. Nowadays, people don’t celebrate His birthday. They have even stopped the holiday that used to be marked on the calendar. In fact, just the one Shiv Jayanti should be celebrated. It is worth not apenny to celebrate the birthdays of all the others. To celebrate the birthday of the one Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, is worth a pound because He makes Bharat “The Golden Sparrow.” The praise is of that One. People believe that the Ganges is the Purifier, and yet they are not happy with that one thing; they continue to wander everywhere. They prove that they truly are impure. Only the one Supreme Soul is the Ocean of Knowledge from whom you Ganges of knowledge have emerged. The names Saraswati, Ganga (Ganges) and Jamuna are your names. A temple has been built on the River Ganges. In fact, you are the Ganges of knowledge. You are not deities; you are Brahmins. They have created an image of a deity and given it the name Ganges. They don’t know that you Shaktis are the Ganges of knowledge. You are now changing from human beings into deities through this Raja Yoga. This is true yoga. All the other yogas that people teach give you good health temporarily. By having yoga with that one Father, we become ever healthy. The Father now sits here and makes Bharat into heaven. Until you consider yourself to be a soul, a child of God, you cannot receive the inheritance. All the rest are brothers. The people of Bharat say: We are all fathers, forms of God. Shivohum, tat twam. (I am Shiva and the same applies to you.) How can all the fathers who are unhappy receive the inheritance of happiness? There is extreme darkness. This is the night. Knowledge is the day. All of these things have to be understood. Children, you are spiritual socialworkers. Those are physical social workers. You give the spirits an injection so that they become pure. All of those do physical service. The Father sits here and explains: There is so much difference! You remember God and are becoming gods and goddesses. God Himself says: Beloved children, I have come as your Slave. Now accept what I tell you. This is called Shrimat Bhagawad. He is the Highest on High. Some say that the birthday of Brahma is higher. Not at all! It was Shiv Baba who created Brahma, Vishnu and Shankar and who gets them to do things. How else would the new world be created? The highest birthday is that of Trimurti Shiva. Shiva comes with Brahma, Vishnu and Shankar. So, only His birthday should be celebrated. Nowadays they even celebrate the birthdays of cats and dogs. People have so much love for dogs. Look what the world has now become! They say: Lions etc. won’t exist in the golden age. The law doesn’t allow it. There will be few human beings in the golden age, and so there will also be few animals. There weren’t so many illnesses earlier. Now so many illnesses have emerged and all the animals etc. also increase later. In the golden age, even the cows are very good. They say: Krishna grazed cows. They don’t say that there were such first-class cows in the golden age. There are palaces studded with diamonds and jewels for the deities there. Here, the palaces are of bricks and clay. All of these matters have to be understood. Those who understand these things will never leave this school. Even if someone comes and sits here, unless he understands his aim and objective , he wouldn’t be able to understand anything. Whenever you go to other spiritual gatherings, they don’t have any aim or objective. This is a school. In a school, an aim and objective is definitely needed. You know your aim and objective. Knowledge will not trickle into the intellects of those who don’t have it in their fortune. They will not receive liberation-in-life. Those who come later (in the cycle) cannot go to heaven. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep your intellect constantly connected with the one Father. Do not let your intellect go towards your old home or the old world. Make your stage concentrated and stable.
  2. Imbibe in yourself all the specialities of the Father. Sprinkle drops of knowledge on every soul, put out their fire and make them cool.
Blessing: May you be far-sighted and make your mind pure instead of making it numb or suppressing it.
On the path of devotion, devotees make so much effort: they do breathing exercises (pranayama) and numb their mind. All of you have just connected your minds to the one Father. You have made your mind busy and that is all. You have not suppressed your minds, but have made them pure. Your minds now have pure thoughts and this is why they are pure minds. The wandering of minds has stopped. You have found your destination. You now know the beginning, the middle and the end and so you have become far-sighted and have broad intellects and so have been liberated from making effort.
Slogan: Those who always eat the nourishment of happiness are always healthy and happy.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 22 MAY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 22 May 2018

To Read Murli 21 May 2018 :- Click Here
22-05-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ज्ञान के ठण्डे छींटे डाल तुम्हें हरेक को शीतल बनाना है, तुम हो ज्ञान बरसात करने वाली शीतल देवियाँ”
प्रश्नः- बाप ने तुम्हें ज्ञान का कलष क्यों दिया है?
उत्तर:- ज्ञान का कलष मिला है पहले स्वयं को शीतल बनाकर फिर सर्व को शीतल बनाने के लिए। इस समय हरेक काम अग्नि में जल रहा है। उन्हें काम चिता से उतार ज्ञान चिता पर बिठाना है। आत्मा जब पवित्र शीतल बने तब देवता बन सके, इसलिए तुम्हें हर रूह को ज्ञान इन्जेक्शन लगाकर पवित्र बनाना है। तुम्हारी यह रूहानी सेवा है।
गीत:- जो पिया के साथ है….

ओम् शान्ति। जो बाप के साथ है उसके लिए बरसात है। अब बरसात और बाप। तो भला बाप की बरसात कैसे? वन्डर खायेंगे ना। दुनिया इन बातों को नहीं जानती। यह है ज्ञान बरसात। तुमको शीतल देवियाँ बनाने लिए ज्ञान चिता पर बिठाया जाता है। शीतल अक्षर के अगेन्स्ट है तपत (गर्म)। तुम्हारा नाम ही है शीतल देवी। एक तो नहीं होगी ना। जरूर बहुत होंगी, जिन्हों से भारत शीतल बनता है। इस समय सभी काम चिता पर जल रहे हैं। तुम्हारा नाम यहाँ शीतला देवियाँ है, शीतल करने वाली। ठण्डा छींटा डालने वाली देवियाँ। छींटा डालने जाते हैं ना। यह हैं ज्ञान के छींटे जो आत्मा के ऊपर डाले जाते हैं। आत्मा प्योर बनने से शीतल बन जाती है। इस समय सारी दुनिया काम चिता पर काली हो पड़ी है। अब कलष मिलता है तुम बच्चों को। कलष से तुम खुद भी शीतल बनते हो और औरों को भी बनाते हो। यह भी शीतल बनी है ना। दोनों इकट्ठे बैठे हैं ना। घरबार छोड़ने की बात नहीं। लेकिन गऊशाला बनी होगी तो जरूर कोई ने घरबार छोड़ा होगा। किसलिए? ज्ञान चिता पर बैठ शीतल बनने के लिए। जब तुम यहाँ शीतल बनेंगे तब ही तुम देवता बन सकेंगे। बाबा ने समझाया भी है जब तक तुम्हारे द्वारा कोई आस्तिक नहीं बना है तो गोया नास्तिक ही है। आस्तिक दुनिया वाले आपस में कभी लड़ते-झगड़ते नहीं। नास्तिक दुनिया वाले लड़ते-झगड़ते हैं। नास्तिक किसको कहा जाता है? जो मुझ अपने पारलौकिक परमप्रिय परमपिता परमात्मा को नहीं जानते हैं। सारी दुनिया में घर-घर में रोला है क्योंकि परमपिता परमात्मा को भूलने कारण नास्तिक बन पड़े हैं। बेहद के बाप और उनकी रचना के आदि-मध्य-अन्त को नहीं जानते। बेहद का बाप समझाते हैं तुम नास्तिक क्यों बने हो? बेहद का बाप जिसको गॉड फादर कहते हो, ऐसे फादर को क्यों भूले हो? फादर का तो आक्यूपेशन जानना चाहिए। वह है बीजरूप, सत-चित-आनंद, ज्ञान का सागर, शान्ति का सागर… सब शिफ्तें (विशेषतायें) उनमें हैं। उनकी शिफ्तें अलग हैं। उनको ही कहा जाता है – तुम मात-पिता हम बालक तेरे… तो जरूर वह माँ-बाप होगा ना। जब तक अल्फ को नहीं जाना है तब तक सीधा हो नहीं सकते। यह तो जानते हो कि सतयुग में भारत में गॉड-गॉडेज का राज्य था। लक्ष्मी-नारायण को गॉड-गॉडेज कहते थे जो देवी-देवता धर्म वाले होंगे वह समझेंगे कि बरोबर लक्ष्मी-नारायण इस भारत के पहले-पहले मालिक थे। पांच हजार वर्ष की बात है। देखो, बाप-टीचर जब समझाते हैं तो चारों तऱफ देखते हैं कि बच्चे अच्छी तरह सुनते धारण करते हैं या बुद्धियोग और कहाँ भटकता है? जैसे भक्ति मार्ग में भल कृष्ण की मूर्ति के आगे बैठे होंगे परन्तु बुद्धि धन्धे आदि तऱफ धक्का खाती रहेगी। एकाग्रचित उस चित्र में भी नहीं रहेंगे। यहाँ भी पूरी पहचान नहीं है तो फिर धारणा भी नहीं होती है। शिवबाबा यह माया को वश करने का वशीकरण मंत्र देते हैं। कहते हैं तुम अपने परमपिता परमात्मा शिव को याद करो। बुद्धि का योग उनके साथ लगाओ। अभी तुम्हारा बुद्धियोग पुराने घर की तरफ नहीं जाना चाहिए। बुद्धियोग बाप के साथ लटका रहना चाहिए क्योंकि तुम सबको मेरे पास आना है। मैं पण्डा बन आया हूँ तुमको ले चलने लिए। यह शिव शक्ति पाण्डव सेना है। तुम हो शिव से शक्ति लेने वाले। वह है सर्वशक्तिमान तो लोग समझते हैं परमात्मा तो मरे हुए को जिंदा कर सकते हैं। परन्तु बाप कहते हैं – लाडले बच्चे, इस ड्रामा में हर एक को अनादि पार्ट मिला हुआ है। मैं भी क्रियेटर, डायरेक्टर, प्रिन्सिपल एक्टर हूँ। ड्रामा के पार्ट को हम कुछ भी नहीं कर सकते। मनुष्य समझते हैं – पत्ता-पत्ता परमात्मा के हुक्म से चलता है। क्या परमात्मा बैठ पत्ते-पत्ते को हुक्म करेंगे? परमात्मा खुद कहते हैं – मैं भी ड्रामा के बंधन में बाँधा हुआ हूँ। ऐसे नहीं कि मेरे हुक्म से पत्ते हिलेंगे। सर्वव्यापी के ज्ञान ने भारतवासियों को बिल्कुल कंगाल बना दिया है। बाप के ज्ञान से भारत फिर सिरताज बनता है।

तुम बच्चे जानते हो देलवाड़ा मन्दिर भी ठीक बना हुआ है। आदि देव दिलवाला है सारे सृष्टि की दिल लेने वाला। भक्तों की दिल लेने वाला एक भगवान कहेंगे ना। यह उन्हों के ही यादगार हैं। ऊपर में है देवताओं के चित्र और नीचे राजयोग की तपस्या कर रहे हैं। 108 बच्चे आसन लगाकर बैठे हैं शिवबाबा की याद में। उन्होंने ही भारत को स्वर्ग बनाया है। गाँधी जी भी कहते थे नई दुनिया रामराज्य चाहिए, परन्तु उस रामराज्य नई दुनिया में तो है पवित्रता। वह तो कर न सके। पतित सृष्टि को पावन बनाना, यह तो बाप का ही काम है। कोई मनुष्य यह कार्य कर न सके। इनके लिए भी कहते हैं बहुत जन्मों के अन्तिम जन्म के भी अन्त में मैं प्रवेश करता हूँ तो यह पतित ठहरा ना। जो पावन थे वही पतित बने हैं, फिर पावन बनते हैं। आपेही पूज्य आपेही पुजारी। जो पुजारी भक्त बने हैं, भगवान भक्तों को ही मिलते हैं। बाकी वह जो मुक्ति के लिए पुरुषार्थ करते हैं कि पार्ट बजाने से मुक्त हो जाऍ परन्तु मोक्ष किसको भी मिलता नहीं है। भगवान कहते हैं – मुझे भी मोक्ष नहीं मिलता। मुझे भी सर्विस पर आना पड़ता है। भक्तों को राज़ी करना पड़ता है, इस भारत को मालामाल बनाने, गँवाया हुआ स्वराज्य फिर से देने, सालवेन्ट बनाने मुझे भी पतित शरीर में पतित दुनिया में आना पड़ता है। अनेक बार आया हूँ और आता रहूँगा। भारत को गुलगुल बनाऊंगा। यह है ही आसुरी दुनिया, उनको दैवी बनाता हूँ। जो जो मुझे पहचानेंगे वही वर्सा लेंगे। शिवबाबा कल्प-कल्प भारत को वर्सा देने आते हैं। उनकी जयन्ती आजकल मनाते नहीं। कैलेन्डर से हॉली डे भी निकाल दी है। वास्तव में तो एक ही शिव जयन्ती मनानी चाहिए और सबकी जयन्तियाँ मनाना वर्थ नाट पेनी है। एक परमपिता परमात्मा शिव की जयन्ती मनाना वर्थ पाउण्ड है क्योंकि वह भारत को सोने की चिड़िया बनाते हैं। महिमा उस एक की है। मनुष्य समझते हैं पतित-पावनी गंगा है फिर भी एक से राज़ी थोड़ेही होते हैं। सब जगह भटकते रहते हैं। सिद्ध करते हैं बरोबर हम पतित हैं। ज्ञान का सागर तो एक ही परमात्मा है जिससे तुम ज्ञान गंगायें निकली हो। तुम्हारे ही नाम हैं सरस्वती, गंगा, जमुना। गंगा नदी पर भी मन्दिर बना हुआ है। वास्तव में ज्ञान गंगायें तुम हो। तुम देवता नहीं हो। तुम ब्राह्मण हो। गंगा के नाम पर देवता का चित्र भी रख दिया है। उन्हों को तो पता नहीं है। ज्ञान गंगायें तुम शक्तियाँ हो। तुम अब मनुष्य से देवता बन रही हो इस राजयोग से। सच्चा योग यह है। बाकी तो सब अल्पकाल हेल्थ के लिए अनेक प्रकार के योग सिखलाते हैं। यह एक ही बाबा के साथ योग लगाने से हम एवर हेल्दी बनते हैं। अब बाप बैठ भारत को हेविन बनाते हैं। जब तक अपने को आत्मा, परमात्मा का बच्चा नहीं समझा है तब तक वर्सा मिल न सके, और सब हैं ब्रदर्स। भारतवासी फिर कह देते हम सब फादर्स हैं, ईश्वर के रूप हैं। शिवोहम् ततत्वम्। अब फादर्स जो सब दु:खी हैं, उनको सुख का वर्सा मिले कहाँ से। कितना घोर अंधकार है। यही है रात। ज्ञान है दिन। यह सब बातें समझने की हैं।

बच्चे तुम हो रूहानी सोशल वर्कर। वह हैं जिस्मानी सोशल वर्कर्स। तुम रूह को इन्जेक्शन लगाते हो कि रूह प्योर बन जाये। बाकी तो सब जिस्मानी सेवा करते हैं। बाप बैठ समझाते हैं – कितना फ़र्क है! तुम गॉड को याद कर गॉड-गॉडेज बन रहे हो। भगवान खुद कहते हैं – लाडले बच्चे, मैं तुम्हारा गुलाम बनकर आया हूँ। अब मैं जो कहता हूँ सो मानो। उसको श्रीमत भगवत कहते हैं। ऊंचे ते ऊंच वह है। कोई कहे ब्रह्मा जयन्ती ऊंच है, बिल्कुल नहीं। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को बनाने वाला, उनसे कार्य कराने वाला शिवबाबा है ना। नहीं तो नई सृष्टि कैसे बने? सबसे ऊंच जयन्ती है ही त्रिमूर्ति शिव की। शिव आते ही हैं ब्रह्मा, विष्णु, शंकर के साथ। तो उनकी ही जयन्ती मनायी जा सकती है। आजकल तो कुत्ते-बिल्ली सबकी जयन्ती मनाते रहते हैं। कुत्तों को भी कितना प्यार करते हैं! आजकल की दुनिया देखो क्या है! कहेंगे – सतयुग में यह शेर आदि नहीं होंगे। कायदा नहीं कहता। सतयुग में मनुष्य भी बहुत थोड़े होंगे, तो जानवर आदि भी थोड़े होते हैं। बीमारियाँ भी पहले इतनी थोड़ेही थी। अभी तो कितनी ढेर बीमारियाँ निकल पड़ी हैं, तो यह जानवर आदि पीछे वृद्धि को पाते हैं। सतयुग में गायें भी बड़ी अच्छी होती हैं। कहते हैं – कृष्ण ने गऊयें चराई। ऐसे नहीं कहते – सतयुग में ऐसी फर्स्टक्लास गायें थी। देवताओं के लिए वहाँ हीरे-जवाहरों के महल होते हैं और यहाँ हैं ठिक्कर-भित्तर के। यह सब समझने की बातें हैं। जो समझ जायेंगे वह कभी स्कूल छोड़ेंगे नहीं। एम ऑब्जेक्ट समझने बिगर कोई आकर बैठे तो भी समझ नहीं सकेंगे। जहाँ भी सतसंग में जाते हैं वहाँ एम आब्जेक्ट कुछ होती नहीं। यह तो पाठशाला है। पाठशाला में तो जरूर एम ऑब्जेक्ट चाहिए ना। तुम एम आब्जेक्ट को जानते हो, जिनकी तकदीर में नहीं होगा उनकी बुद्धि में ज्ञान कभी टपकेगा ही नहीं। जीवनमुक्ति में भी थोड़ेही आयेंगे। पिछाड़ी वाले स्वर्ग में आ न सके। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार :

1) बुद्धियोग सदा एक बाप में लगा रहे। पुराने घर, पुरानी दुनिया में बुद्धि न जाए। ऐसी एकाग्रचित अवस्था बनानी है।

2) बाप की सर्व शिफ्तें (गुण) स्वयं में धारण करना है। हर आत्मा पर ज्ञान के छींटे डाल उनकी तपत बुझाए शीतल बनाना है।

वरदान:- मन को अमन वा दमन करने के बजाए सुमन बनाने वाले दूरादेशी भव
भक्ति में भक्त लोग कितनी मेहनत करते हैं, प्राणायाम चढ़ाते हैं, मन को अमन करते हैं। आप सबने मन को सिर्फ एक बाप की तरफ लगा दिया, बिजी कर दिया, बस। मन को दमन नहीं किया, सुमन बना दिया। अभी आपका मन श्रेष्ठ संकल्प करता है इसलिए सुमन है, मन का भटकना बंद हो गया। ठिकाना मिल गया। आदि-मध्य-अन्त तीनों कालों को जान गये तो दूरादेशी, विशाल बुद्धि बन गये इसलिए मेहनत से छूट गये।
स्लोगन:- जो सदा खुशी की खुराक खाते हैं वे सदा तन्दरूस्त और खुशनुम: रहते हैं।

BRAHMA KUMARIS MURLI 21 MAY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 May 2018

To Read Murli 20 May 2018 :- Click Here
22-05-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ज्ञान के ठण्डे छींटे डाल तुम्हें हरेक को शीतल बनाना है, तुम हो ज्ञान बरसात करने वाली शीतल देवियाँ”
प्रश्नः- बाप ने तुम्हें ज्ञान का कलष क्यों दिया है?
उत्तर:- ज्ञान का कलष मिला है पहले स्वयं को शीतल बनाकर फिर सर्व को शीतल बनाने के लिए। इस समय हरेक काम अग्नि में जल रहा है। उन्हें काम चिता से उतार ज्ञान चिता पर बिठाना है। आत्मा जब पवित्र शीतल बने तब देवता बन सके, इसलिए तुम्हें हर रूह को ज्ञान इन्जेक्शन लगाकर पवित्र बनाना है। तुम्हारी यह रूहानी सेवा है।
गीत:- जो पिया के साथ है….

ओम् शान्ति। जो बाप के साथ है उसके लिए बरसात है। अब बरसात और बाप। तो भला बाप की बरसात कैसे? वन्डर खायेंगे ना। दुनिया इन बातों को नहीं जानती। यह है ज्ञान बरसात। तुमको शीतल देवियाँ बनाने लिए ज्ञान चिता पर बिठाया जाता है। शीतल अक्षर के अगेन्स्ट है तपत (गर्म)। तुम्हारा नाम ही है शीतल देवी। एक तो नहीं होगी ना। जरूर बहुत होंगी, जिन्हों से भारत शीतल बनता है। इस समय सभी काम चिता पर जल रहे हैं। तुम्हारा नाम यहाँ शीतला देवियाँ है, शीतल करने वाली। ठण्डा छींटा डालने वाली देवियाँ। छींटा डालने जाते हैं ना। यह हैं ज्ञान के छींटे जो आत्मा के ऊपर डाले जाते हैं। आत्मा प्योर बनने से शीतल बन जाती है। इस समय सारी दुनिया काम चिता पर काली हो पड़ी है। अब कलष मिलता है तुम बच्चों को। कलष से तुम खुद भी शीतल बनते हो और औरों को भी बनाते हो। यह भी शीतल बनी है ना। दोनों इकट्ठे बैठे हैं ना। घरबार छोड़ने की बात नहीं। लेकिन गऊशाला बनी होगी तो जरूर कोई ने घरबार छोड़ा होगा। किसलिए? ज्ञान चिता पर बैठ शीतल बनने के लिए। जब तुम यहाँ शीतल बनेंगे तब ही तुम देवता बन सकेंगे। बाबा ने समझाया भी है जब तक तुम्हारे द्वारा कोई आस्तिक नहीं बना है तो गोया नास्तिक ही है। आस्तिक दुनिया वाले आपस में कभी लड़ते-झगड़ते नहीं। नास्तिक दुनिया वाले लड़ते-झगड़ते हैं। नास्तिक किसको कहा जाता है? जो मुझ अपने पारलौकिक परमप्रिय परमपिता परमात्मा को नहीं जानते हैं। सारी दुनिया में घर-घर में रोला है क्योंकि परमपिता परमात्मा को भूलने कारण नास्तिक बन पड़े हैं। बेहद के बाप और उनकी रचना के आदि-मध्य-अन्त को नहीं जानते। बेहद का बाप समझाते हैं तुम नास्तिक क्यों बने हो? बेहद का बाप जिसको गॉड फादर कहते हो, ऐसे फादर को क्यों भूले हो? फादर का तो आक्यूपेशन जानना चाहिए। वह है बीजरूप, सत-चित-आनंद, ज्ञान का सागर, शान्ति का सागर… सब शिफ्तें (विशेषतायें) उनमें हैं। उनकी शिफ्तें अलग हैं। उनको ही कहा जाता है – तुम मात-पिता हम बालक तेरे… तो जरूर वह माँ-बाप होगा ना। जब तक अल्फ को नहीं जाना है तब तक सीधा हो नहीं सकते। यह तो जानते हो कि सतयुग में भारत में गॉड-गॉडेज का राज्य था। लक्ष्मी-नारायण को गॉड-गॉडेज कहते थे जो देवी-देवता धर्म वाले होंगे वह समझेंगे कि बरोबर लक्ष्मी-नारायण इस भारत के पहले-पहले मालिक थे। पांच हजार वर्ष की बात है। देखो, बाप-टीचर जब समझाते हैं तो चारों तऱफ देखते हैं कि बच्चे अच्छी तरह सुनते धारण करते हैं या बुद्धियोग और कहाँ भटकता है? जैसे भक्ति मार्ग में भल कृष्ण की मूर्ति के आगे बैठे होंगे परन्तु बुद्धि धन्धे आदि तऱफ धक्का खाती रहेगी। एकाग्रचित उस चित्र में भी नहीं रहेंगे। यहाँ भी पूरी पहचान नहीं है तो फिर धारणा भी नहीं होती है। शिवबाबा यह माया को वश करने का वशीकरण मंत्र देते हैं। कहते हैं तुम अपने परमपिता परमात्मा शिव को याद करो। बुद्धि का योग उनके साथ लगाओ। अभी तुम्हारा बुद्धियोग पुराने घर की तरफ नहीं जाना चाहिए। बुद्धियोग बाप के साथ लटका रहना चाहिए क्योंकि तुम सबको मेरे पास आना है। मैं पण्डा बन आया हूँ तुमको ले चलने लिए। यह शिव शक्ति पाण्डव सेना है। तुम हो शिव से शक्ति लेने वाले। वह है सर्वशक्तिमान तो लोग समझते हैं परमात्मा तो मरे हुए को जिंदा कर सकते हैं। परन्तु बाप कहते हैं – लाडले बच्चे, इस ड्रामा में हर एक को अनादि पार्ट मिला हुआ है। मैं भी क्रियेटर, डायरेक्टर, प्रिन्सिपल एक्टर हूँ। ड्रामा के पार्ट को हम कुछ भी नहीं कर सकते। मनुष्य समझते हैं – पत्ता-पत्ता परमात्मा के हुक्म से चलता है। क्या परमात्मा बैठ पत्ते-पत्ते को हुक्म करेंगे? परमात्मा खुद कहते हैं – मैं भी ड्रामा के बंधन में बाँधा हुआ हूँ। ऐसे नहीं कि मेरे हुक्म से पत्ते हिलेंगे। सर्वव्यापी के ज्ञान ने भारतवासियों को बिल्कुल कंगाल बना दिया है। बाप के ज्ञान से भारत फिर सिरताज बनता है।

तुम बच्चे जानते हो देलवाड़ा मन्दिर भी ठीक बना हुआ है। आदि देव दिलवाला है सारे सृष्टि की दिल लेने वाला। भक्तों की दिल लेने वाला एक भगवान कहेंगे ना। यह उन्हों के ही यादगार हैं। ऊपर में है देवताओं के चित्र और नीचे राजयोग की तपस्या कर रहे हैं। 108 बच्चे आसन लगाकर बैठे हैं शिवबाबा की याद में। उन्होंने ही भारत को स्वर्ग बनाया है। गाँधी जी भी कहते थे नई दुनिया रामराज्य चाहिए, परन्तु उस रामराज्य नई दुनिया में तो है पवित्रता। वह तो कर न सके। पतित सृष्टि को पावन बनाना, यह तो बाप का ही काम है। कोई मनुष्य यह कार्य कर न सके। इनके लिए भी कहते हैं बहुत जन्मों के अन्तिम जन्म के भी अन्त में मैं प्रवेश करता हूँ तो यह पतित ठहरा ना। जो पावन थे वही पतित बने हैं, फिर पावन बनते हैं। आपेही पूज्य आपेही पुजारी। जो पुजारी भक्त बने हैं, भगवान भक्तों को ही मिलते हैं। बाकी वह जो मुक्ति के लिए पुरुषार्थ करते हैं कि पार्ट बजाने से मुक्त हो जाऍ परन्तु मोक्ष किसको भी मिलता नहीं है। भगवान कहते हैं – मुझे भी मोक्ष नहीं मिलता। मुझे भी सर्विस पर आना पड़ता है। भक्तों को राज़ी करना पड़ता है, इस भारत को मालामाल बनाने, गँवाया हुआ स्वराज्य फिर से देने, सालवेन्ट बनाने मुझे भी पतित शरीर में पतित दुनिया में आना पड़ता है। अनेक बार आया हूँ और आता रहूँगा। भारत को गुलगुल बनाऊंगा। यह है ही आसुरी दुनिया, उनको दैवी बनाता हूँ। जो जो मुझे पहचानेंगे वही वर्सा लेंगे। शिवबाबा कल्प-कल्प भारत को वर्सा देने आते हैं। उनकी जयन्ती आजकल मनाते नहीं। कैलेन्डर से हॉली डे भी निकाल दी है। वास्तव में तो एक ही शिव जयन्ती मनानी चाहिए और सबकी जयन्तियाँ मनाना वर्थ नाट पेनी है। एक परमपिता परमात्मा शिव की जयन्ती मनाना वर्थ पाउण्ड है क्योंकि वह भारत को सोने की चिड़िया बनाते हैं। महिमा उस एक की है। मनुष्य समझते हैं पतित-पावनी गंगा है फिर भी एक से राज़ी थोड़ेही होते हैं। सब जगह भटकते रहते हैं। सिद्ध करते हैं बरोबर हम पतित हैं। ज्ञान का सागर तो एक ही परमात्मा है जिससे तुम ज्ञान गंगायें निकली हो। तुम्हारे ही नाम हैं सरस्वती, गंगा, जमुना। गंगा नदी पर भी मन्दिर बना हुआ है। वास्तव में ज्ञान गंगायें तुम हो। तुम देवता नहीं हो। तुम ब्राह्मण हो। गंगा के नाम पर देवता का चित्र भी रख दिया है। उन्हों को तो पता नहीं है। ज्ञान गंगायें तुम शक्तियाँ हो। तुम अब मनुष्य से देवता बन रही हो इस राजयोग से। सच्चा योग यह है। बाकी तो सब अल्पकाल हेल्थ के लिए अनेक प्रकार के योग सिखलाते हैं। यह एक ही बाबा के साथ योग लगाने से हम एवर हेल्दी बनते हैं। अब बाप बैठ भारत को हेविन बनाते हैं। जब तक अपने को आत्मा, परमात्मा का बच्चा नहीं समझा है तब तक वर्सा मिल न सके, और सब हैं ब्रदर्स। भारतवासी फिर कह देते हम सब फादर्स हैं, ईश्वर के रूप हैं। शिवोहम् ततत्वम्। अब फादर्स जो सब दु:खी हैं, उनको सुख का वर्सा मिले कहाँ से। कितना घोर अंधकार है। यही है रात। ज्ञान है दिन। यह सब बातें समझने की हैं।

बच्चे तुम हो रूहानी सोशल वर्कर। वह हैं जिस्मानी सोशल वर्कर्स। तुम रूह को इन्जेक्शन लगाते हो कि रूह प्योर बन जाये। बाकी तो सब जिस्मानी सेवा करते हैं। बाप बैठ समझाते हैं – कितना फ़र्क है! तुम गॉड को याद कर गॉड-गॉडेज बन रहे हो। भगवान खुद कहते हैं – लाडले बच्चे, मैं तुम्हारा गुलाम बनकर आया हूँ। अब मैं जो कहता हूँ सो मानो। उसको श्रीमत भगवत कहते हैं। ऊंचे ते ऊंच वह है। कोई कहे ब्रह्मा जयन्ती ऊंच है, बिल्कुल नहीं। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को बनाने वाला, उनसे कार्य कराने वाला शिवबाबा है ना। नहीं तो नई सृष्टि कैसे बने? सबसे ऊंच जयन्ती है ही त्रिमूर्ति शिव की। शिव आते ही हैं ब्रह्मा, विष्णु, शंकर के साथ। तो उनकी ही जयन्ती मनायी जा सकती है। आजकल तो कुत्ते-बिल्ली सबकी जयन्ती मनाते रहते हैं। कुत्तों को भी कितना प्यार करते हैं! आजकल की दुनिया देखो क्या है! कहेंगे – सतयुग में यह शेर आदि नहीं होंगे। कायदा नहीं कहता। सतयुग में मनुष्य भी बहुत थोड़े होंगे, तो जानवर आदि भी थोड़े होते हैं। बीमारियाँ भी पहले इतनी थोड़ेही थी। अभी तो कितनी ढेर बीमारियाँ निकल पड़ी हैं, तो यह जानवर आदि पीछे वृद्धि को पाते हैं। सतयुग में गायें भी बड़ी अच्छी होती हैं। कहते हैं – कृष्ण ने गऊयें चराई। ऐसे नहीं कहते – सतयुग में ऐसी फर्स्टक्लास गायें थी। देवताओं के लिए वहाँ हीरे-जवाहरों के महल होते हैं और यहाँ हैं ठिक्कर-भित्तर के। यह सब समझने की बातें हैं। जो समझ जायेंगे वह कभी स्कूल छोड़ेंगे नहीं। एम ऑब्जेक्ट समझने बिगर कोई आकर बैठे तो भी समझ नहीं सकेंगे। जहाँ भी सतसंग में जाते हैं वहाँ एम आब्जेक्ट कुछ होती नहीं। यह तो पाठशाला है। पाठशाला में तो जरूर एम ऑब्जेक्ट चाहिए ना। तुम एम आब्जेक्ट को जानते हो, जिनकी तकदीर में नहीं होगा उनकी बुद्धि में ज्ञान कभी टपकेगा ही नहीं। जीवनमुक्ति में भी थोड़ेही आयेंगे। पिछाड़ी वाले स्वर्ग में आ न सके। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार :

1) बुद्धियोग सदा एक बाप में लगा रहे। पुराने घर, पुरानी दुनिया में बुद्धि न जाए। ऐसी एकाग्रचित अवस्था बनानी है।

2) बाप की सर्व शिफ्तें (गुण) स्वयं में धारण करना है। हर आत्मा पर ज्ञान के छींटे डाल उनकी तपत बुझाए शीतल बनाना है।

वरदान:- मन को अमन वा दमन करने के बजाए सुमन बनाने वाले दूरादेशी भव
भक्ति में भक्त लोग कितनी मेहनत करते हैं, प्राणायाम चढ़ाते हैं, मन को अमन करते हैं। आप सबने मन को सिर्फ एक बाप की तरफ लगा दिया, बिजी कर दिया, बस। मन को दमन नहीं किया, सुमन बना दिया। अभी आपका मन श्रेष्ठ संकल्प करता है इसलिए सुमन है, मन का भटकना बंद हो गया। ठिकाना मिल गया। आदि-मध्य-अन्त तीनों कालों को जान गये तो दूरादेशी, विशाल बुद्धि बन गये इसलिए मेहनत से छूट गये।
स्लोगन:- जो सदा खुशी की खुराक खाते हैं वे सदा तन्दरूस्त और खुशनुम: रहते हैं।

TODAY MURLI 22 May 2017 DAILY MURLI (English)

To READ Murli in hindi :- Click Here

To read murli 21/05/2017 :- Click Here

22/05/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, now become soul conscious, the same as the Father. The Father’s only desire is that the children become the same as Him and return home with Him.
Question: On seeing which wonder do you children thank the Father?
Answer: The wonder you see is how Baba fulfils His duty. He teaches His children Raja Yoga and makes them worthy. Internally, you children say thank you to such a sweet Baba. Baba says: This word ‘thanks’ belongs to devotion. Children have a right; there is no question of thanking Him for this. According to the drama, the Father has to give the inheritance.
Song: What can storms do to those whose Companion is God?

 

Om shanti. This song is for the children. What can the storms of Maya do to those whose Companion is the Supreme Father, the Supreme Soul, the Almighty Authority? It is not those physical storms, but the storms of Maya that extinguish the light of the soul. Now that you have found the Companion who awakens you, what can Maya do? You have been given the title ‘Mahavir’, those who gain victory over Maya, Ravan. How will you gain victory? You children are sitting in front of BapDada face to face. Bap and Dada are called the Father and the elder brother. Therefore, they are BapDada. You children understand that the spiritual Father is sitting in front of you. The spiritual Father speaks to spirits. Souls listen through the sense organs; they also speak. You children have created the habit of being body conscious. You have had the awareness of the body throughout the cycle. As you shed one body and took the next one, the name also changed. Someone is called Paramanand and someone else is called something else. Baba says: I am eternally soul conscious; I don’t ever take a body, so I can never have the awareness of the body. This body belongs to this Dada; I remain eternally soul conscious. I wish to make you children like Myself, because you now have to return to Me. You have to shed body consciousness. This takes time. The practice of being body conscious has been instilled over a long period of time. Now the Father says: Shed your body and become like Me, because you are to be My guests ; you are to return to Me. This is why I say: First have the faith that you are a soul. I only say this to souls: Remember the Father and then any other vision will end. It is this that takes effort. I am serving you souls. It is the soul that listens through the organs. I, the soul, am giving Baba’s message to you. The soul doesn’t call himself male or female. The terms ‘male and ‘female are given to the body. He is the Supreme Soul. The Father says: O souls, are you listening? The soul says, “Yes, I am listening.” Do you recognise your Father? He is the Father of all souls. Just as you are souls, so I am your Father. He is called the Supreme Father, the Supreme Soul. He doesn’t have a body of His own. Brahma, Vishnu and Shankar have their own forms. A soul is simply called a soul, but My name is Shiva. Many names have been given to bodies. I do not take a body, which is why I do not have a bodily name. You are saligrams. You souls are asked: O souls, are you listening? You must now have the practice of being soul conscious. A soul listens and speaks through the organs. The Father sits here and explains to souls. Souls have become senseless because they have forgotten the Father. It isn’t that Shiva is God and that Krishna is also God. They say that God is in the pebbles and stones. This wrong idea has spread over the whole world. Many accept that they are children of God, the Father, but the majority still says that God is omnipresent. You should remove everyone from that bog. The whole world is on one side and the Father is on the other. The Father’s praise is, “God, Your divine play, through which the whole world receives salvation, is unique.” You receive salvation through My directions. There is only the One who grants salvation. People beat their heads so much in order to receive salvation. This is the only Satguru who grants both liberation and liberation-in-life. Now the Father says: I have to come in order to grant salvation to those sages and holy men etc. I am the only One who grants salvation to all. I speak to souls. I am your Father. No one else can say: All of you souls are My children. They say that God is omnipresent, so they can never say that (all are My children). The Father Himself says: I have come to give the fruit of devotion to the devotees. It is remembered that God is the only Protector of the devotees. All are devotees so, surely, God must be someone distinct from them. If the devotees were God, they would not need to remember God. Everyone calls God one thing or another in their own language. However, His accurate name is Shiva. When someone insults or defames another person, a case is filed against him, but this is the drama and no one can say anything about this. The Father knows that you have become unhappy and that this will also happen again. The same Gita, scriptures, etc. will emerge, but no one understands anything simply by reading the Gita etc. Power is needed. Those who relate the scriptures cannot say to anyone, “O children, by having yoga with Me, your sins will be absolved.” They simply read the Gita and relate it. You are now experienced. You understand how you go around the cycle of 84 births. Everything in the drama happens according to its own time. The Father tells you children, you souls: Learn how to explain, “I am speaking to a soul. I, this soul, am speaking through these lips and you, the soul, are listening through your ears. I am giving the Father’s message: I am a soul.” It is very easy to explain this. You, the soul, shed a body and take the next. The soul has completed 84 births. The Father now says: If God were omnipresent, you should say, “Human Supreme Soul.” Why then do they speak of human beings? You are speaking to this soul. My brothers, souls, do you understand that I am giving you the Father’s message of 5000 years ago? The Father says: Remember Me! This is the land of sorrow. The golden age is the land of happiness. O souls, you were in the land of happiness. You have been around the cycle of 84 births. You definitely go through the stages of satopradhan, sato, rajo and tamo. Now let us return to the land of Shri Krishna. What would you like to become there? Will you become an emperor or an empress or will you become a servant? Speak to souls in this way. Let there be that enthusiasm. It is not that you are the Supreme Soul. The Supreme Soul is the Ocean of Knowledge. He never becomes an ocean of ignorance. You become oceans of ignorance and knowledge. By taking knowledge from the Father you become master oceans. In fact, only the one Father is the Ocean. All others are rivers; there is a difference. All of this is explained to souls when they have become senseless. None of this is explained in heaven. Here, everyone is senseless, impure and unhappy. Only the poor sit comfortably and understand this knowledge. The wealthy have their own intoxication. Scarcely any of them will emerge. King Janak gave everything. Here, all are Janak. You are taking knowledge in order to go into liberation-in-life, and so you have to make it firm that you are souls. Baba, how much can we thank You? According to the drama, You must give the inheritance and we must become Your children. What is there in this to give thanks for? We have to become Your heirs. There is no question of “thanks” in this. The Father comes and explains this Himself and makes us worthy. The word “thanks” emerges on the path of devotion when they sing praise. The Father has to fulfil His duty. He comes once again to show the path to heaven. According to the drama, Baba has to come to teach Raja Yoga. He has to give the inheritance. Then you will go to heaven according to the extent of your efforts. It isn’t that Baba will send you. You will automatically go to heaven according to the effort you have made. There is nothing in this to thank Me for. You are now amazed at the game that Baba shows. We didn’t know this previously but we know it now. Baba, will we forget this knowledge again? Yes children, this knowledge will disappear from My intellect as well as yours. Then, when it is time for the knowledge to be given, it will emerge. I am now to return to the land of nirvana and I will then play My part on the path of devotion. Those sanskars automatically emerge in the soul. I will come after a cycle in this same body. This remains in your intellects but, nevertheless, you must remain soul conscious. Otherwise, you will be body conscious. The main thing is to remember the Father and the inheritance. You claim your inheritance cycle after cycle according to your efforts. This is explained to you in such an easy way, but it takes incognito effort to reach that destination. When a soul first comes, he is definitely a pure, satopradhan soul. Then he definitely has to become a sinful, tamopradhan soul. You definitely have to become satopradhan from tamopradhan. The Father has given the message “Remember Me”. The whole of creation receives the inheritance from the Father. He is the One who grants salvation to all. He is the One who has compassion for all, that is, He has mercy for everyone. There is no sorrow in the golden age. All other souls go and reside in the land of peace. You children understand that it is now the time of settlement. The karmic accounts of sorrow have to be settled with the power of yoga. Then you have to accumulate your future account of happiness through knowledge and yoga. The more you accumulate, the more happiness you receive and the more the accounts of sorrow are settled. We settle the accounts of sorrow now, at the confluence of the cycles and, on the other hand, we are also accumulating. This is a business. Baba gives the jewels of knowledge and makes you virtuous, but it then depends on how much each of you imbibes. Each jewel is worth millions and you become constantly happy in the future through them. This is the land of sorrow, whereas that is the land of happiness. Sannyasis do not know that there is nothing but constant happiness in heaven. Only the one Father makes Bharat so elevated through the Gita. Those people recite so many scriptures etc. yet the world has to become old. The deities were at first in the new world, in the kingdom of Rama. The deities do not exist now. Where did they go? Who took 84 births? There cannot be an account of 84 births for anyone else. It is definitely those who belong to the deity religion who take 84 births. People think that Lakshmi and Narayan are God. They say: Wherever I look, I only see You. Achcha, do they become happy with the idea of omnipresence? The idea of omnipresence has continued for a long time, and yet Bharat has become poverty-stricken hell. God has to give the fruit of devotion. How can sannyasis, who make spiritual endeavour themselves, give the fruit of devotion? No human being can be the Bestower of Salvation. All of those who belong to this religion will come back. There are also many who have been converted into the sannyas religion; they too will come. All of these things have to be understood. Baba explains: You must maintain the practice of being a soul. The body functions with the support of the soul. The body is perishable whereas the soul is imperishable. A total part is recorded in this tiny soul. It is such a wonder! Even scientists do not understand this. An immortal imperishable part is recorded in this tiny soul. The soul is imperishable and his part is also imperishable. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. At the confluence of the cycles, settle the accounts of sorrow with the power of yoga and increase your new account. Imbibe jewels of knowledge and become virtuous.
  2. I am a soul. I am speaking to a soul, my brother. This body is perishable. Practi s e: I am giving the message to my brother soul.
Blessing: May you be an accurate effort-maker who leaves the shores of temporary supports and makes the one Father your Support.
You now have to let go of the things that you have made your temporary support. While you still have those as your support you cannot experience constant support from the Father and when you do not have the Father’s support, you make limited things supports for you. Limited things are deceitful; therefore, seeing the fast speed of time, now fly away from those limited supports at a fast speed and cross them in a second for only then will you be said to be an accurate effort-maker.
Slogan: To have a balance of karma and yoga is to be a successful karma yogi.

*** Om Shanti ***

To Read Murli 20/05/2017 :- Click Here

Font Resize