today murli 22 july

TODAY MURLI 22 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 22 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 21 July 2018 :- Click Here

22/07/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
23/12/83

Through the double  light stage labouring ends.

Today, BapDada, the Resident of the faraway land, has come to meet His children from faraway lands. All of you have come from faraway lands and BapDada has also come from the faraway land. The furthest of all and the nearest of all is BapDada’s land. It is so far that it is beyond the boundary of this corporeal world; it is a different world. All of you have come from the corporeal world and BapDada has come from the land beyond this corporeal world via the subtle region and has brought Brahma Baba with Him. It is so close that He can reach here in a second. It takes you so many hours to reach here and you have to spend so much hard-earned money. How long did it take you to save all of that money? Coming and going to the Father’s land incurs no expense. With the treasure of love, you can reach there in a second. It doesn’t take any effort, does it? BapDada knows that after you children lost your fortune of the kingdom, you have been working very hard with your bodies, minds and wealth for many births. You were the masters of the world who had a crown and throne and were the masters of the treasure-store of all attainments. Even nature served you. You were such self-sovereigns who ruled the kingdom, but now that you have become subservient, what do you do at present? You now have jobs. So, this is labouring, is it not? There is so much difference between kings and those who have become the government’s servants who have to earn an income. For so many births, you have been doing so many things for the livelihood of the body, you have been making so many different types of spiritual endeavour to connect your minds to the Father, you have been performing many different types of devotion and have also been doing so many things in the different births to accumulate wealth. Look at all the different things that you, who had been crowned and seated on a throne, have had to do in order to sustain yourselves in happiness and comfort! So, seeing you children labouring, BapDada liberated you from that labour and made you into easy yogis. He made you have the right to self-sovereignty in a second. He liberated you from making effort. All of you are thinking that Baba didn’t liberate you from your jobs. However, whatever each of you is doing now, you are not doing it for yourself. You are doing it for God’s service. You are not working considering that to be your job. You are doing it as a trustee. This is why the labour has changed into love. Out of love for the Father, for service and for celebrating a meeting, you don’t feel that to be labouring.

Secondly, the Father is Karavanhar (the One who inspires you and makes you act) and you are the instruments to carry out the task. You are those who carry out the task in name with the power of the Almighty Authority Father, that is, with the connection through your awareness. Many big machines function on the basis of the connection of electricity and so the basis is light (electricity). All of you also become double light on the basis of having a connection whilst performing every action, do you not? When you have a doublelight stage, the words “labour” and “difficult” end. You haven’t been liberated from your jobs, but you have been liberated from labouring. Therefore, the feelings and motives have changed. There is the awareness of being a trustee and a deep feeling for God’s service. Therefore, it has changed, has it not? Do you have the feeling of belonging now? You consider the three square feet you have received to be Baba’s home. You don’t say that it is your home, do you? You do not live in your own home. You live in the Father’s home. You do everything according to the Father’s directions. You do not do anything according to your own desires or your own needs. You carry out the Father’s directions whilst remaining carefree and detached. Whatever you have received, it belongs to the Father and it is for service. Even if you use something for the body, the body is not yours either. You also gave that to the Father, did you not? You have given your body, mind and wealth to the Father, have you not? Or have you kept some things aside for yourself? It is not like that, is it? Seeing the effort of many births of you children, BapDada has now liberated you from labouring for many births. This is the sign of the love between the Father and the children.

Just as all of you have come especially to meet the Father, so BapDada has also come especially to meet you. He has also brought Father Brahma from the subtle region. Father Brahma has greater love for you. The Father has love anyway, but Father Brahma has greater love. Why does he have special love for the double foreigners? Brahma said: I have been invoking the double-foreign children for a long time. I invoked the children so many years ago. It is due to that invocation that you have come from abroad and reached the Father here. So, there must definitely be special love for the children who have been invoked for a long time and who have come after having been invoked for a long time. Father Brahma has invoked you with a lot of love in order to make you into heirs in the corporeal form. Do you understand? You continue to hear how you were given birth so many years ago, do you not? You had already entered a womb, but you took birth in the physical form later. This is why Father Brahma has special love. He has love because he knows the fortune of the future.

To Dadi Janki: Just as double foreigners are happy to see the Father, they are also happy to see you because it is from you instrument children that they learn practically about the sustenance received from the Father through the corporeal form. Therefore, everyone also has special love for you. The speciality visible in Dadi and Didi and you instrument souls is that everyone sees the Father in all of them. This is the special experience of the Father’s sustenance that they have. Whenever you look at Didi or Dadi, whom do you see? The Father who is meeting you through the physical support. This is what you experience, is it not? The sustenance they receive through you special souls is that you disappear and the Father becomes visible because you have the Father in your every thought and word and you constantly speak of “Baba, Baba” in everything. Therefore, others too only see and hear the word “Baba”. Today, Didi is also being remembered. She has become an incognito Ganges. In any case, out of the three rivers, they say that one river is incognito. Didi is now merged in Dadi. In a subtle form, she too is giving her feeling and experience, because she is not a soul bound by any bondage of karma. She has gone to play a part in a relationship of service. Souls who are tied in the bondage of karma can only perform tasks where they are, whereas karmateet souls can play their part s of service everywhere from one place, because they are liberated from karma. This is why Didi is with all of you. It is not difficult for a karmateet soul to play a double part. Their speed is very fast; they can go wherever they want in a second. Special souls constantly play their special part s. This is why she went away like the wind. It was as though the eternal, imperishable programme was predestined. This too was a unique part. From the beginning, Didi had a unique partof going into trance. At the end too, she became transferred through a unique form of trance. Achcha.

To all the chatrak (birds who are thirsty for drops of rainwater) children of this land and abroad, to all the long-lost and now-found children of this cycle, to the souls who remain lost in love of the one Father, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Personal meeting: BapDada selected you from so many different places and planted you in Allah’s garden. Do you have this happiness? All of you have now become spiritual roses. You are spiritual roses who always give others spiritual fragrance. What does anyone who comes close to all of you or into connection with you experience? They feel that you are spiritual and non-worldly; all worldliness has ended. Whoever looks at you only sees an angelic form. You have become angels, have you not? You are always seen as angels who are stable in a doublelight stage. Angels always live up above. When you see pictures of angels, you always see them with wings. Why? They are flying birds. Therefore, birds always fly up above. You have found the Father, you have found an elevated place, an elevated stage. Therefore, what else do you need?

In response to letters from the double-foreign children:

Baba received everyone’s letters of love and remembrance filled with love from their hearts. Children have very sweet heart-to-heart conversations and sometimes they also make sweet complaints: When will You call us? Why do You not help us so that we can come there? The Father loves such complaints because if you did not tell the Father, who else would you tell? This is why BapDada is pleased with the love and affection of you children. Therefore, you are loved by the Father and, because of being constantly loving to the Father, you also receive love and co-operation from the Father in return. Achcha.

Become full of the power of spirituality.

According to the time, souls of the world now want to see you souls as samples of spirituality. Therefore, become full of the power of spirituality. For this, simply pay attention to the one expression, “Commitment to One”, and repeatedly underline this within yourself and become completely pure. Just as spiritual drishti and the power of spirituality make an impact on service abroad – even though they don’t understand the language, the angelic stamp of spiritual drishti from your face and eyes is applied – so now go into the depths of spirituality and reveal your angelic form. The power of spirituality can do the task many times more than words can do. Just as you have developed the practice of coming into sound, so also increase the power of spirituality and you won’t feel like coming into sound.

The vision and attitude of those who completely surrender themselves become pure and have the power of spirituality in them. They don’t look at the body. First, one’s sight sees and then one’s attitude is drawn there. Spiritual drishti means to look at oneself and others as souls. Now, have such a practice that you see but don’t see the body. According to the time, everyone now wants to see a new sparkle. Therefore, imbibe the power of spirituality in your every, thought, word and deed. However, there will only be spirituality all the time when you consider yourself and whoever you are an instrument to serve to be BapDada’s valuable jewels, entrusted to you to look after. Whatever thoughts you have in your mind, always think that your mind is something entrusted to you and that you must not be dishonest in looking after it. Consider yourself to have received your mind, body and anything else, such as students, centre or physical things, for you to look after in name only. You have been entrusted with them to look after them. By considering something to be entrusted to you, you will remain free from attraction. By being free from attraction, there will be spirituality. The clearer your divine eyes become, that is, the more they are filled with spirituality, the more you will be able to reveal the images of BapDada and His creation and the three worlds – the corporeal, subtle and incorporeal – through your eyes. It will be as clear as if they are seeing a projector show. It is now time to become filled with the power of spirituality. If there isn’t spirituality you will be coloured with many different types of Maya. Now become ready to take the test papers, that is, become filled with the power of spirituality, for only then will you be able to pass every type of paper. You have been entrusted with your body for God’s service as a valuable thing to look after. Whenever you see something that has been entrusted to you, you automatically remember the One who entrusted it to you. Therefore, that is something valuable that belongs to the spiritual Father. By considering it to be valuable, there will be spirituality and, through this, the intellect will always feel reassured and comfortable and not feel tired. You become confused instead of being spiritual, if you are dishonest in the way you look after something entrusted to you; you become afraid instead of feeling reassured. To remain constantly cheerful is a virtue of knowledge. Those who are cheerful will definitely make others cheerful, no matter what the state of their minds are. However, just add the word spirituality to this. To have the sanskar of being cheerful is also a blessing that helps you at the time of need. Constantly be loving – this is the method to free you from all weaknesses. When you remain in the company of the One you love, you will be coloured with spirituality by that Company.

When something spreads into the atmosphere, its effect is felt some distance away. In the same way, so many of you easy yogis and elevated souls make the atmosphere spiritual in such a way that, because of the spirituality, the atmosphere around you draws souls to itself. The foundation of the atmosphere is one’s attitude. Until you have made your attitude completely powerful with the power of spirituality, there won’t be the expansion of service that you wanted. Whenever any person has to be caught, they surround him so completely that he cannot escape. In the same way, when you encompass the atmosphere with your attitude, no soul can come out of that enclosure created by that spiritual attraction. Now, do such service! No matter with what type of authority or moodsomeone comes to you, let that person bow down to the personality of your virtues, the personality of your spirituality and the personality of all of your powers. Those people will not be able to influence you with their own personality. Rather, the power of spirituality will transform their internal attitude. Just as fragrance is merged in flowers and is not separate from them, in the same way, let the fragrance of spirituality be merged in you. Fragrance is such that it attracts others from a distance. People at a distance would wonder where the fragrance is coming from. Your spirituality will attract the world. So, as well as being merciful in a knowledgeable way, also have the authority of spirituality. According to the present time, there is a great need for the power of spirituality. All the fighting and battling is because of people not having spirituality. So, be a spiritual rose and spread the fragrance of spirituality. This is the occupation of Brahmin life.

Blessing: May you be worthy of worship and worthy of being remembered and one who donates and performs charity through your powerful stage.
In the final period, when weak souls experience even a little attainment from you complete and perfect souls, they will take their sanskars of the final experience with them and rest in the home for half the cycle. Then, in the copper age, they will become your devotees and worship and praise you. So, be a great donor and a bestower of blessings for these weak souls at the end and donate your experiences to them and accumulate charity. This donation and charity of a second through your powerful form will make you worthy of being worshipped and remembered for half the cycle.
Slogan: Instead of becoming afraid in adverse situations, become a detached observer and you will become victorious.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 22 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 22 July 2018

To Read Murli 21 July 2018 :- Click Here
22-07-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 23-12-83 मधुबन

डबल लाईट की स्थिति से मेहनत समाप्त

आज दूर देश में रहने वाले बापदादा दूरदेशी बच्चों से मिलने के लिए आये हैं। आप सब भी दूरदेश से आये हो तो बापदादा भी दूरदेश से आये हैं। सबसे दूर से दूर और नज़दीक से नज़दीक बापदादा का देश है। दूर इतना है जो इस साकार दुनिया की बाउन्ड्री से बहुत दूर है। लोक ही दूसरा है। आप सभी साकार लोक से आये हैं और बापदादा साकार लोक से भी परे परलोक से वाया सूक्ष्मवतन ब्रह्मा बाप को साथ लाये हैं। और नज़दीक भी इतना है जो सेकण्ड में पहुँच सकते हो ना। आप लोगों को आने में कितने घण्टे लगते हैं और कितना मेहनत का कमाया हुआ धन देना पड़ा। कितना समय लगा इकट्ठा करने में। और बाप के वतन से आने और जाने में खर्चा भी नहीं लगता है। सिर्फ स्नेह की पूँजी, इसके द्वारा सेकण्ड में पहुँच जाते हो। कोई मेहनत तो नहीं लगती है ना। बापदादा जानते हैं कि राज्य-भाग्य गँवाने के बाद बच्चे अनेक जन्म भिन्न-भिन्न प्रकार की तन की, मन की, धन की मेहनत ही करते रहे हैं। कहाँ विश्व के मालिक ताज, तख्तधारी, सर्व प्राप्तियों के भण्डार के मालिक! प्रकृति भी दासी! ऐसे राज्य अधिकारी, राज्य भाग्य करने वाले, अब अधीन बनने से क्या कर रहे हैं! नौकरी कर रहे हैं! तो मेहनत हुई ना। कहाँ राजे और कहाँ कमाई करके खाने वाले गवर्मेन्ट के सर्वेन्ट हो गये। कितने जन्म शरीर को चलाने के लिए, शरीर निर्वाह का कर्म, मन को बाप से लगाने के लिए भिन्न-भिन्न साधनायें, अनेक प्रकार की भक्ति और धन को इकट्ठा करने के लिए कितने प्रकार के भिन्न-भिन्न जन्मों में भिन्न-भिन्न कार्य किये। ऐसे ताज-तख्तधारी सुख-चैन से पलने वाले को क्या-क्या करना पड़ा! तो बच्चों की मेहनत को देख बापदादा ने मेहनत से छुड़ाए सहज योगी बना दिया है। सेकण्ड में स्वराज्य-अधिकारी बनाया ना। मेहनत से छुड़ाया ना। यह सब सोचते हैं कि नौकरी से तो नहीं छुड़ाया। लेकिन अभी कुछ भी करते हो अपने लिए नहीं करते हो। ईश्वरीय सेवा के प्रति करते हो। अभी मेरा काम समझकर नहीं करते हो। ट्रस्टी बन करके करते हो इसलिए मेहनत मुहब्बत में बदल गई। बाप की मुहब्बत में, सेवा की मुहब्बत में, मिलन मनाने की मुहब्बत में मेहनत नहीं लगती।

दूसरी बात, करावनहार बाप है। निमित्त करने वाले आप हो। सर्वशक्तिवान बाप की शक्ति से अर्थात् स्मृति के कनेक्शन से अभी निमित्त मात्र कार्य करने वाले हो। जैसे लाइट के कनेक्शन से बड़ी-बड़ी मशीनरी चलती है। तो आधार है लाइट। आप सभी हर कर्म करते कनेक्शन के आधार से स्वयं भी डबल लाइट बन चलते रहते हो ना। जहाँ डबल लाइट की स्थिति है वहाँ मेहनत और मुश्किल शब्द समाप्त हो जाता है। नौकरी से नही छुड़ाया लेकिन मेहनत से छुड़ाया ना। भावना और भाव बदल गया ना। ट्रस्टीपन का भाव और ईश्वरीय सेवा की भावना, तो बदल गया ना। अभी अपना-पन है? तीन पैर पृथ्वी जो मिली है, वह भी बाबा का घर कहते हो ना। मेरा घर तो नहीं कहते हो ना। अपने घर में नहीं रहते। बाप के घर में रहते हो। बाप के डायरेक्शन से कार्य करते हो। अपनी इच्छा से, अपनी आवश्यकताओं के कारण नहीं करते। जो डायरेक्शन बाप का, उसमें निश्चिंत और न्यारे होकर करते। जो मिला बाप का है वा सेवा अर्थ है। भले शरीर प्रति भी लगाते हो लेकिन शरीर भी अपना नहीं है। वह भी बाप को दे दिया ना। तन-मन-धन सब बाप को दे दिया है ना वा कुछ रखा है किनारे करके। ऐसे तो नहीं हो ना। तो बापदादा ने बच्चों की जन्म-जन्म की मेहनत देख अब से अनेक जन्मों तक मेहनत से छुड़ा दिया। यही निशानी है बाप और बच्चों के मुहब्बत की।

जैसे आप सब स्पेशल मिलने आये हो, बापदादा भी स्पेशल मिलने आये हैं। ब्रह्मा बाप को भी वतन से ले के आये हैं। ब्रह्मा बाप का ज्यादा स्नेह है। बाप का तो है ही लेकिन ब्रह्मा बाप का ज्यादा स्नेह है। डबल विदेशियों से विशेष स्नेह क्यों है? ब्रह्मा बोले – विदेशी बच्चों का बहुत समय से आह्वान किया। कितने वर्षों से पहले बच्चों को आह्वान किया। उसी आह्वान से विदेश से बाप के पास पहुँचे। तो बहुत समय जिसका आह्वान किया जाए और बहुत समय के आह्वान के बाद वह बच्चे पहुँचे तो जरुर विशेष प्यार होगा ना। तो ब्रह्मा बाप ने बहुत स्नेह से साकार रुप में वारिस बनने का, आप सबको आह्वान किया। समझा। सुनते रहते हो ना कि कितने वर्ष पहले आपको जन्म दिया। गर्भ में तो आ गये थे, पैदा पीछे हुए हो साकार रुप में, इसलिए ब्रह्मा बाप को विशेष स्नेह है और भविष्य की तकदीर जानते हुए स्नेह है।

जानकी दादी को देख बाबा बोले:- अभी डबल विदेशी जैसे बाप को देख करके खुश होते हैं। वैसे आपको भी देख करके खुश होते हैं क्योंकि बाप से ली हुई पालना का प्रत्यक्ष रूप साकार में आप निमित्त बच्चों से सीखते हैं इसलिए विशेष आप से भी सभी का प्यार है। दादी वा दीदी जो भी निमित्त आत्माए हैं उन्हों की विशेषता यही दिखाई देती जो उनमें बाप को देखेंगे। यही बाप की पालना का विशेष अनुभव करते। जब भी दीदी दादी से मिलते हो तो क्या देखते हो! बाप साकार आधार से मिल रहे हैं। ऐसे अनुभव होता है ना। यही विशेष आत्माओं की पालना है, जो आप गुम हो जायेंगे और बाप दिखाई देंगे क्योंकि उन्हों के हर संकल्प, हर बोल में सदा बाबा, बाबा ही रहता है। तो औरों को भी वो ही बाबा शब्द सुनाई वा दिखाई देता है। आज दीदी भी याद आ रही है। गुप्त गंगा हो गई ना। वैसे भी 3 नदियों में एक नदी गुप्त ही दिखाते हैं। अभी दीदी तो दादी में समाई हुई है ना। सूक्ष्म रूप में वह भी अपनी भासना दे रही है क्योंकि कर्मबन्धनी आत्मा नहीं है। सेवा के सम्बन्ध से पार्ट बजाने गई है। कर्म-बन्धनी आत्माएं जहाँ हैं वहाँ ही कार्य कर सकती हैं और कर्मातीत आत्माएं एक ही समय पर चारों ओर अपना सेवा का पार्ट बजा सकती हैं क्योंकि कर्मातीत हैं इसलिए दीदी भी आप सबके साथ है। कर्मातीत आत्मा को डबल पार्ट बजाने में कोई मुश्किल नहीं। स्पीड बहुत तीव्र होती है। सेकण्ड में जहाँ चाहे वहाँ पहुँच सकती हैं। विशेष आत्मायें अपना विशेष पार्ट सदा बजाती हैं इसलिए ही हवा के मुआफिक चली गई ना। जैसे अनादि अविनाशी प्रोग्राम बना हुआ ही था। यह भी विचित्र पार्ट था। शुरू से लेकर दीदी का विचित्र ट्रांस का पार्ट रहा। अन्त में भी विचित्र रूप के ट्रांस में ही ट्रान्सफर हो गई। अच्छा।

सभी देश-विदेश के चात्रक बच्चों को कल्प के सिकीलधे बच्चों को, सदा बाप के स्नेह में लवलीन रहने वाले लवलीन आत्माओं को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

पर्सनल मुलाकात:- कहाँ-कहाँ से बापदादा ने चुनकर अपने अल्लाह के बगीचे में लगा लिया। यह खुशी रहती है ना! अभी सभी रूहानी गुलाब बन गये। सदा औरों को भी रूहानी खुशबू देने वाले रूहे गुलाब हो। कोई भी आप सबके समीप आता है, सम्पर्क में आता है तो आप सभी से क्या महसूस करता है? समझते हैं कि यह रूहानी हैं, अलौकिक हैं। लौकिकता समाप्त हो गयी। जो भी आपकी तरफ देखेंगे उनको फरिश्ता रूप ही दिखाई दे। फरिश्ते बन गये ना। सदा डबल लाइट स्थिति में स्थित रहने वाले फरिश्ता दिखाई देंगे। फरिश्ते सदा ऊंचे रहते हैं। फरिश्तों को चित्र रूप में भी दिखायेंगे तो पंख दिखायेंगे। किसलिए? उड़ते पंछी हैं ना। तो पंछी सदा ऊपर उड़ जाते। तो बाप मिला, ऊंचा स्थान मिला, ऊंची स्थिति मिली और क्या चाहिए।

(विदेशी बच्चों के पत्रों के रिटर्न में) सबकी दिल के प्यार भरे याद-प्यार पत्र तथा याद मिली। बच्चे मीठी-मीठी रूहरिहान भी करते तो कभी-कभी मीठे-मीठे उल्हनें भी देते हैं। कब बुलायेंगे, क्यों नहीं हमको मदद करते जो हम पहुँच जाते। ऐसे उल्हनें भी बाप को प्रिय लगते हैं क्योंकि बाप को नहीं कहेंगे तो किसको कहेंगे इसलिए बापादादा को बच्चों का लाड-प्यार अच्छा लगता है इसलिए बाप के प्यारे हैं और सदा बाप के प्यारे होने के कारण रिटर्न में बाप द्वारा स्नेह और सहयोग मिलता है। अच्छा।

विशेष महावाक्य – रूहानियत की शक्ति से सम्पन्न बनो

समय अनुसार अब विश्व की आत्मायें आप आत्माओं को रूहानियत का सैम्पुल देखना चाहती हैं इसलिए रूहानियत की शक्ति से सम्पन्न बनो। इसके लिए ”एकव्रता भव” यह एक शब्द सिर्फ अटेन्शन में रखो और बार-बार अपने आप में अण्डरलाइन कर सम्पूर्ण पवित्र बनो। जैसे विदेश की सेवाओं में रूहानी दृष्टि का और रूहानियत की शक्ति का प्रभाव पड़ता है, चाहे भाषा ना समझे लेकिन जो छाप लगती है वह फरिश्तेपन की, सूरत और नयनों द्वारा रूहानी दृष्टि की लगती है। तो अब रूहानियत की गुह्यता में जाकर अपने फरिश्ते रूप को प्रत्यक्ष करो। जो कर्म वाणी करती है उससे कई गुणा अधिक रूहानियत की शक्ति कार्य कर सकती है। जैसे वाणी में आने का अभ्यास हो गया है, वैसे रूहानियत का अभ्यास बढ़ाओ तो वाणी में आने का दिल नहीं होगा।

जो सम्पूर्ण समर्पण हो जाता है उसकी वृत्ति-दृष्टि शुद्ध हो जाती है, उसमें रूहानियत की शक्ति आ जाती है। वे जिस्म को नहीं देखते हैं। पहले दृष्टि देखती है तब वृत्ति जाती है। रूहानी दृष्टि अर्थात् अपने को वा दूसरों को भी रूह देखना। जिस्म तरफ देखते हुए भी नहीं देखना, अब ऐसी प्रैक्टिस होनी चाहिए। समय प्रमाण अब हर एक नई रौनक देखना चाहते हैं इसलिए हर कर्म में, हर संकल्प में, वाणी में रूहानियत की शक्ति धारण करो लेकिन रूहानियत सदा कायम तब रहेगी जब स्वयं को और दूसरों को, जिनकी सर्विस के लिये निमित्त हो, उन्हें बापदादा की अमानत समझ कर चलेंगे। मन में जो संकल्प करते हो वह भी ऐसे समझ करके करो कि यह मन भी एक अमानत है। इस अमानत में ख्यानत नहीं डालनी है। तो अपने मन और तन को और जो कुछ भी निमित्त रूप में मिला है, चाहे जिज्ञासु हैं, सेन्टर है वा स्थूल कोई भी वस्तु है वह सब अमानत मात्र है। अमानत समझने से अनासक्त रहेंगे, अनासक्त होने से ही रूहानियत आयेगी। आपके यह दिव्य नेत्र जितना-जितना क्लीयर अर्थात् रूहानियत से सम्पन्न होंगे उतना ही इन नयनों द्वारा बापदादा और पूरी रचना के स्थूल, सूक्ष्म, मूल तीनों लोकों के चित्र ऐसे स्पष्ट दिखाई देंगे, जैसे प्रोजेक्टर द्वारा स्पष्ट देखते हैं। अभी रूहानियत की शक्ति से सम्पन्न होने का समय है। अगर रूहानियत नहीं होगी तो भिन्न-भिन्न प्रकार की माया की रंगत में आ जायेंगे। अभी परीक्षाओं के पेपर देने के लिए तैयार हो जाओ अर्थात् रूहानियत की शक्ति से सम्पन्न बनो तब हर प्रकार के पेपर में पास हो सकेंगे। यह शरीर ईश्वरीय सर्विस के लिए अमानत के रूप में मिला हुआ है। जिसकी अमानत है उनकी स्मृति, अमानत को देखकर आती है। तो रूहानी बाप की यह अमानत है, अमानत समझने से रूहानियत रहेगी और रूहानियत से सदैव बुद्धि में राहत रहेगी, थकावट नहीं होगी। अमानत में ख्यानत करेंगे तो रूहानियत के बदले उलझन में आ जायेंगे, राहत के बजाए घबराहट में आ जायेंगे। सदा हर्षित रहना यह ज्ञान का गुण है। जो स्वयं हर्षित है वह कैसे भी मन वाले को हर्षित करेगा। लेकिन इसमें सिर्फ रूहानियत शब्द को एड करो। हर्षितपन का संस्कार भी एक वरदान है जो समय पर बहुत सहयोग देता है। सर्व कमजोरियों से मुक्ति की युक्ति है कि ‘सदा स्नेही बनो’ – जिसके स्नेही हैं, उस स्नेही के संग से रूहानियत का रंग सहज ही लग जायेगा।

जैसे वायुमण्डल में कोई चीज़ फैल जाती है तो सारे वायुमण्डल में काफी दूर तक उसका प्रभाव छाया होता है। इसी रीति से इतने सब सहज योगी वा श्रेष्ठ आत्मायें अपने वायुमण्डल को ऐसा रूहानी बना दो जो आसपास का वायुमण्डल रूहानियत के कारण आत्माओं को अपनी तरफ खैंच ले। वायुमण्डल का फाउन्डेशन वृत्ति है। तो वृत्तियों को जब तक रूहानियत की शक्ति से सम्पन्न पावरफुल नहीं बनाया है तब तक सर्विस में वृद्धि जो चाहते हो वह नहीं हो सकती। जैसे कोई भी आत्मा को पकड़ना होता है तो घेराव डालते हैं ताकि निकल नहीं सकें। ऐसे वृत्ति द्वारा रूहानियत का घेराव डालने से कोई भी आत्मा रूहानी आकर्षण से बाहर नहीं निकल सकती। अभी ऐसी सर्विस करो। कोई कैसी भी अथॉरिटी वाला आये वा कैसे भी मूड वाला आये लेकिन आपके गुणों की पर्सनैलिटी, रूहानियत की पर्सनैलिटी, सर्व-शक्तियों की पर्सनैलिटी के सामने झुक जायेंगे। अपना प्रभाव नहीं डाल सकेंगे। रूहानियत की शक्ति उन्हों के अन्दर की वृत्तियों को बदल देगी। जैसे फूलों में खुशबू समाई हुई होती है, अलग नहीं होती। ऐसे आप लोगों में रूहानियत की खुशबू समाई हुई हो। खुशबू ऐसी चीज़ होती है जो दूर वालों को भी आकर्षित करती है। दूर से ही सोचेंगे – यह खुशबू कहाँ से आ रही है। तो आपकी रूहानियत विश्व को आकर्षित करेगी। तो ज्ञानयुक्त रहम के साथ-साथ रूहानियत का रूहाब भी धारण करो। आजकल के समय प्रमाण रूहानियत के शक्ति की बहुत-बहुत आवश्यकता है। रूहानियत न होने के कारण ही यह सब लड़ाई झगड़े हैं। तो रूहानी गुलाब बन रूहानियत की खुशबू फैलाओ, यही ब्राह्मण जीवन का आक्यूपेशन है। अच्छा।

वरदान:- अपनी शक्तिशाली स्थिति द्वारा दान और पुण्य करने वाले पूज्यनीय और गायन योग्य भव 
अन्तिम समय में जब कमजोर आत्मायें आप सम्पूर्ण आत्माओं द्वारा प्राप्ति का थोड़ा भी अनुभव करेंगी तो यही अन्तिम अनुभव के संस्कार लेकर आधाकल्प के लिए अपने घर में विश्रामी होंगी और फिर द्वापर में भक्त बन आपका पूजन और गायन करेंगी इसलिए अन्त की कमजोर आत्माओं के प्रति महादानी वरदानी बन अनुभव का दान और पुण्य करो। यह सेकण्ड का शक्तिशाली स्थिति द्वारा किया हुआ दान और पुण्य आधाकल्प के लिए पूज्यनीय और गायन योग्य बना देगा।
स्लोगन:- परिस्थितियों में घबराने के बजाए साक्षी हो जाओ तो विजयी बन जायेंगे।

TODAY MURLI 22 July 2017 DAILY MURLI (English)

Om Shanti Rajyog Meditation Course will start on Peace of Mind channel from 21st July at 8:30 pm by Bk Sister Shivani. Repeat telecast will be at 2:30 pm next day. You can Also Watch Live on youtube by Clicking Here (starting time: – 8:30 P.M )

Today Murli Brahma kumaris : 22 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

22/07/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to become master oceans of love. Never cause sorrow for anyone, but continue to move along with great love for each other.
Question: While moving along, which children’s throats are choked by Maya?
Answer: Maya chokes the throats of those who have even a little doubt about any aspect or who experience the bad omens of lust or anger. They experience such bad omens that they leave the study. They do not understand how they forgot everything that they studied and taught others. Their intellects become locked.
Song: You are the Ocean of Love! We thirst for one drop.

Om shanti. This is the praise of the Father. You children understand that devotees just sing the song. You children understand to what extent the Father is the Ocean of Love. He makes all the impure ones pure. He gives all the children the inheritance of the land of happiness. You know that you are claiming the inheritance. For half the cycle, when it is the kingdom of Maya, we do not have such a loving Father. The unlimited Father is the Ocean of Love. You now understand how He is the Ocean of Love, Peace, and Happiness. You receive all of this in a practical form, but those on the path of devotion do not receive it. They just sing this and remember Him. That remembrance is now coming to an end because the children are personally sitting in front of Him. They understand that that song is about the unlimited Father. That Father definitely must have given so much love. In the golden age, all have great love for one another; even animals have love for one another. That does not exist here. There are no animals there that cannot live together without love. You children are taught that if you become master oceans of love here, those sanskars then become imperishable. Here, all are enemies of one another because it is the kingdom of Ravan. The Father says: I am making you very lovely, exactly as I did a cycle ago. If Baba even hears that so and so becomes angry //the voice of someone getting angry He would give caution, saying: Children, it is not good to get angry; by doing so you will experience sorrow and also cause sorrow for others. A physical father would also give these teachings to his children. He gives limited happiness, whereas that Father gives unlimited, eternal happiness. Therefore, you children should not cause sorrow for one another. For half a cycle, you have been causing a lot of sorrow. Ravan has spoilt you very much. An invader loots the place he invades. You are now enlightened about how this drama cycle continues to turn. If you cannot understand the details of knowledge, just remember two words. We receive this inheritance from the unlimited Father. To the extent that you remember the Father and remain pure like a lotus, you gain victory over the vices, you will accordingly claim a right to the inheritance. There are many types of vice. Not following shrimat is also a vice. By following shrimat you become viceless. You have to remember Me constantly. You do not have to remember anyone else. The Father says through this one: O children, I have come and I will take all of you back home. All religions are numberwise. There is so much respect for the Pope. At present, everyone has blind faith. You cannot give importance to anyone except the one Father. All are artificial. Everyone has now become impure by taking rebirth. All human beings have to become completely impure by the end. They speak of the ‘Purifier’, but they do not understand it in detail. This is the world of impure ones, and so what respect would they have? There is the Pope, there is the first, the second, the third and so on, and they continue to come down. They are shown numberwise, and then they will again claim their status, numberwise. You now know this cycle accurately. You come here to the unlimited Father from whom you have to claim the inheritance. You cannot receive the inheritance without the corporeal one. The Father says: Do not remember bodily beings. You have to remember the one Father who is the Highest on High. This is a very strict order. Children, constantly remember Me alone! If you remember bodily beings, then, because of that remembrance, you will have to take rebirth and your pilgrimage of remembrance will come to an end. Your sins will not be absolved and there will be a great loss. In a business, there is profit as well as loss. They also call the incorporeal Father the Magician and the Businessman. You understand that the key to divine vision is in the hands of the Father. Achcha. Whatever you saw, even if you had a vision of Krishna, what benefit was there in that? None whatsoever! Here, to know the drama cycle is the study. To the extent that you remember the Father and spin the cycle, so you will claim a high status accordingly. You have now become My children. You do remember that I belonged to you, do you not? We souls used to live in the supreme region. There is no question of saying this there. The drama continues to move along by itself, just as there is the fish toy. Many fish are threaded on a string. When the string is dangled, the fish slowly come down. In the same way, all souls are tied by the string of the drama. They continue to go around the cycle. One moment, they go up and the next, they come down. You understand that it is now your stage of ascent. The Father, the Ocean of Knowledge, has come. You have now understood the stages of ascent and descent. It is so easy! How much time does the stage of descent take, and then, how does the stage of ascent come about? You know that the Father comes and turns everything around. At first, there is the original eternal deity religion and then the other religions come. You children know that it is now your stage of ascent and that the stage of descent has come to an end. There is a lot of sorrow in the tamopradhan world. These storms are nothing. There will be such storms that big palaces will collapse. The time of great sorrow is to come. This is the time of destruction. They will continue to cry out in distress and sorrow. From everyone’s lips only the words “Oh! Rama!” (Oh! God!) will emerge. They will only remember God. Even when someone is about to be hung, the priest says: “Remember God the Father ”, but they do not know anything. They do not even know about their own souls accurately. They do not know what “I, the soul”, am or what part I play. A soul is so tiny. It is said: A soul is as tiny as a star. Many have a vision of a soul. It is a tiny light. It is a white light like a dot. No one can see it except with divine vision. Even if they do see it, they do not understand it. Without knowledge, they are not able to understand anything. Many have lots of visions; that is not a big thing. Here, you can use your intellects to understand. Baba explains accurately. It is not in anyone’s intellect that a part of 84 births is recorded in a soul. Baba explains to the children who become Brahmins. It is only those children who take 84 births. This will not sit in anyone else’s intellect. You understand accurately that there is a cycle of 84 births. Firstly, there is the praise of Brahmins. These Brahmins are the mouth-born progeny. No one else knows this. The name of the Brahma Kumars and Kumaris has become ordinary. No one understands what this organization is or why it has this name. When you put the name ‘Prajapita Brahma’, all questions will be removed. You can say: The children of Shiv Baba are all brothers, whereas the children of Prajapita Brahma are brothers and sisters. When they understand this, there will not be any questions. They understand that a new world is being established and that you truly are becoming pure from impure through Brahma. Raksha Bandhan that you celebrate now is an old system which has continued. You now understand its meaning. You receive knowledge of all the memorials at this time. You will not celebrate the birth of Rama in the golden age. There is no question of celebrating there because you do not have any knowledge there. You won’t even know that you are in your stage of descent. You will continue to take rebirth in happiness. The creation there is created through yoga. There is no mention of vice because it is not the kingdom of Ravan. There, they are completely viceless. They have a vision of shedding the body beforehand, otherwise how would it be known that they shed one old body and take another new one. From here, you will first go to the land of silence. You children understand that that is our home, that it is the land of silence. It is our home as well as our Father’s, the One we remember. You became separated from the Father and so you remember Him. In happiness, you do not even remember the Father. It is a world of happiness. Baba just stays in His own land as though He is in the stage of retirement. In the world, people go into the stage of retirement when they become old. However, the Supreme Father, the Supreme Soul, cannot be called old. It is the body that is young or old; the soul remains the same. The shadow of Maya is cast upon the soul. You children have now understood everything. Previously, you did not understand anything. The Father has explained the secrets of the Creator and creation. You children are sitting in front of Him. There is a lot of praise of Him. A president is a president, a prime minister is a prime minister; each one has received his own part. The Father is praised as the Highest on High, and so we definitely have to receive the highest inheritance. This is a matter of great understanding. You children have to explain just as the Father explains. First, you have to give the introduction of the Father and explain that you also receive the inheritance from the Father. Yours is the family path. This cycle should be rotating in your intellects. You definitely must do service. Day by day, it will become much easier. Only then will there be an expansion of the number of people. When everything is received easily, faith is also instilled easily. New ones begin to dance in happiness; there is full faith. Each one’s part continues, numberwise, according to effort. Each one is making effort to earn a true income. There is a difference between a true and a false income. True diamonds sparkle from afar. Today, people have a lot of difficulty in keeping money. Where can they keep it? Where can they hide it? The time will come when, although they have money, they will not be able to do anything. Even among you children, the locks on your intellects are being opened, numberwise. If there is the experience of bad omens somewhere, there is then doubt and they leave the study. They used to study and teach others but they do not understand what happened. Their throats choke with even the slightest doubt. They had doubt in Baba, they indulged in vice and fell down completely. The greatest enemies are lust and anger. Attachment is no less either. It isn’t that sannyasis do not have memories of their earlier life. They have the full memory. Enlightened souls understand from signals how bhog is offered, who comes and what happens. The drama continues second by second. Everything is fixed in the drama. They will do whatever happened a cycle ago. Only that will emerge. The part of the drama will continue to be revealed second by second. The main thing is remembrance of the Father through which sins are absolved. Your sins will be absolved to the extent that you stay in remembrance of the Father. Otherwise, the Father, in the form of Dharamraj, will give you visions. At present, there are many who make many mistakes and hide them from the Father. Their names may be good, but the Father knows how low their status becomes. There are many bad omens. They perform wrong, sinful actions and hide them from the Father. Nothing can remain hidden in front of the Truth. Everything of yours is fixed up above. Baba is the Knower of the secrets within. You should understand that if you secretly perform sinful acts you experience a lot of punishment. We Brahmins have become instruments to look after everything, so if we have that habit ourselves, it is not good. If a teacher in a school has been reported, the principal would ask him to leave in front of the whole gathering. You should have great fear. You just have to remember one Shiv Baba. Baba says: Constantly remember Me alone. You have to go to the Father, and so remember Him and spin the discus of self-realization. If you remember anyone else, your spiritual pilgrimage comes to an end. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to save yourself from the bad omens of Maya, remain constantly true to the true Father. Having made mistakes, do not hide them from the Father. Remain free from performing wrong acts.
  2. Not to follow shrimat is also a vice. Therefore, do not disobey any shrimat. You have to become completely viceless.
Blessing: May you become victorious by making nature, the elements, your servants instead of being influenced by facilities or any means of salvation.
Yogis and most elevated souls can never be influenced by nature. You Brahmin souls are the most elevated yogi souls. Nature is the servant of you masters. Therefore, none of nature’s facilities or means of salvation can influence you. Let the facilities not be the basis of your spiritual endeavor, but when your spiritual endeavor makes the facilities your support, you will then be said to be conquerors of matter, victorious souls.
Slogan: One who moves along considering every moment to be the last moment is said to be ever ready.

*** Om Shanti ***

 

Read Bk Murli 21 July 2017 :- Click Here

 

Brahma kumaris murli 22 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

ओम शांति Rajayoga Meditation Course 21 सितंबर से 8:30 बजे बीके सिस्टर शिवानी द्वारा Peace Of Mind Channel पर शुरू होगा। दोहराएं प्रसारण अगले दिन दोपहर 2:30 बजे होगा .Click Here for Youtube आप यूट्यूब पर लाइव देख सकते हैं (प्रारंभ समय: – रात 8:30)

22/07/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें मास्टर प्यार का सागर बनना है, कभी भी किसी को दु:ख नहीं देना है, एक दो के साथ बहुत प्यार से रहना है”
प्रश्नः- माया चलते-चलते किन बच्चों का गला एकदम घोट देती है?
उत्तर:- जो थोड़ा भी किसी बात में संशय उठाते हैं, काम या क्रोध की ग्रहचारी बैठती तो माया उनका गला घोट देती है। उन पर फिर ऐसी ग्रहचारी बैठती है जो पढ़ाई ही छोड़ देते हैं। समझ में ही नहीं आता कि जो पढ़ते और पढ़ाते थे वह सब कैसे भूल गया। बुद्धि का ताला ही बन्द हो जाता है।
गीत:- तू प्यार का सागर है…

ओम् शान्ति। यह बाप की महिमा है और बच्चे जानते हैं कि भगत लोग तो ऐसे ही गीत गाते हैं। तुम बच्चे जानते हो कि बाप कितना प्यार का सागर है। सब पतितों को पावन बनाते हैं। सब बच्चों को सुखधाम का वर्सा देते हैं। तुम समझते हो हम वर्सा ले रहे हैं। आधाकल्प जब माया का राज्य है तो ऐसा प्यारा बाप नहीं होता है। बेहद का बाप प्यार का सागर है। प्यार का, शान्ति का, सुख का सागर कैसे है, यह तुम अभी जानते हो। प्रैक्टिकल में तुम बच्चों को सब कुछ मिल रहा है। भक्ति मार्ग वालों को मिलता नहीं है। वह सिर्फ गाते हैं, याद करते हैं। अभी वह याद पूरी होती है। बच्चे सम्मुख बैठे हैं। समझते हैं, बेहद के बाप का ही गायन है। जरूर वह बाप इतना प्यार देकर गये हैं। सतयुग में भी हर एक, एक दो को बहुत प्यार करते हैं। जानवरों में भी एक दो में प्यार होता है। यहाँ तो वह है नहीं। वहाँ कोई ऐसे जानवर नहीं होते जो आपस में प्यार से न रहें। तुम बच्चों को भी सिखलाया जाता है, यहाँ प्यार के मास्टर सागर बनेंगे तो वह संस्कार तुम्हारा अविनाशी बन जायेगा। यहाँ सब एक दो के दुश्मन हैं क्योंकि रावण राज्य है। बाप कहते हैं कल्प पहले मिसल हुबहू तुमको अब बहुत प्यारा बनाते हैं। कभी किसका आवाज सुनते हैं कि यह गुस्सा करते हैं तो बाप शिक्षा देंगे कि बच्चे गुस्सा करना ठीक नहीं है, इससे तुम भी दु:खी होंगे दूसरों को भी दु:खी करेंगे। जैसे लौकिक बाप भी बच्चों को शिक्षा देते हैं, वह होते हैं हद का सुख देने वाले। यह बाप है बेहद का और सदाकाल का सुख देने वाला। तो तुम बच्चों को एक दो को दु:ख नहीं देना चाहिए। आधाकल्प बहुत दु:ख दिया है। रावण ने बहुत बिगाड़ा है। जो जिसके ऊपर चढ़ाई करते हैं उनको लूट लेते हैं। अभी तुमको रोशनी मिलती है। यह ड्रामा का चक्र फिरता रहता है। अगर तुम ज्ञान के विस्तार को नहीं समझ सकते हो तो दो अक्षर ही याद करो। बेहद के बाप से हमको यह वर्सा मिलता है। जितना जो बाप को याद कर कमल फूल समान पवित्र रहेंगे अर्थात् विकारों पर जीत पायेंगे उतना वर्से के अधिकारी बनेंगे। विकार भी अनेक प्रकार के हैं। श्रीमत पर न चलना, वह भी विकार है। श्रीमत पर चलने से तुम निर्विकारी बनते हो। मामेकम् याद करना है और कोई को याद नहीं करना है, बाप इन द्वारा कहते हैं हे बच्चों मैं आया हूँ, सबको ले जाने वाला हूँ। हर एक धर्म में नम्बरवार हैं। पोप का कितना मान है। इस समय तो सब अन्धश्रद्धा में हैं। तुम सिवाए एक बाप के और किसको मान दे नहीं सकते। सब आर्टीफिशल हैं। इस समय सब पुनर्जन्म लेते-लेते पतित बनते हैं। जो भी मनुष्य मात्र हैं उनको पिछाड़ी में पूरा पतित बनना ही है। पतित-पावन नाम कहते हैं परन्तु डिटेल में समझते नहीं हैं। यह पतितों की दुनिया है तो उनका क्या मान होगा। जैसे पोप हैं फर्स्ट, सेकेण्ड, थर्ड में चलते आये हैं, उतरते आये हैं। उन्हों को नम्बरवार दिखाते हैं फिर भी वह नम्बरवार ही अपना पद लेंगे। इस चक्र को तुम अभी अच्छी रीति जानते हो। यहाँ आते ही हैं बेहद के बाप के पास, जिससे वर्सा लेना है। साकार बिगर तो वर्सा मिलता नहीं है।

बाप कहते हैं देहधारी को याद मत करो। ऊंच ते ऊंच एक बाप को ही याद करना है। कितना बड़ा फरमान है – बच्चे, मामेकम् याद करो। देहधारी को याद किया तो उनकी याद से पुनर्जन्म फिर लेने पड़ेंगे। तुम्हारी याद की यात्रा ठहर जायेगी। विकर्म विनाश नहीं होंगे। बहुत घाटा पड़ जायेगा। धन्धे में फायदा भी होता है, घाटा भी होता है। निराकार बाप को जादूगर, सौदागर भी कहते हैं। तुम जानते हो दिव्य दृष्टि की चाबी बाप के हाथ में है। अच्छा कुछ भी देखा, कृष्ण का दीदार किया, इससे फायदा क्या है? कुछ भी नहीं। यह तो ड्रामा चक्र को जानना पढ़ाई है ना। जितना बाप को याद करेंगे, चक्र को फिरायेंगे तो ऊंच पद पायेंगे। अभी तुम हमारे बच्चे बने हो। याद आता है ना, हम आपके थे। हम आत्मायें परमधाम में रहती थी। वहाँ कहने की भी बात नहीं रहती है। ड्रामा अपने आप चलता रहता है। जैसे एक मछलियों का खिलौना दिखाते हैं ना। उसमें तार में मछलियां पिरोई रहती हैं। ऐसा करने से धीरे-धीरे नीचे उतरती हैं। वैसे जो भी आत्मायें हैं सब ड्रामा की तार में बंधी हुई हैं। चक्र लगाती रहती हैं। अब चढ़ती हैं फिर उतरने लग पड़ती हैं। तुम जानते हो अब हमारी चढ़ती कला है। ज्ञान सागर बाप आया हुआ है – चढ़ती कला फिर उतरती कला को तुम जान गये हो। कितना सहज है। उतरती कला कितना टाइम लेती है। फिर कैसे चढ़ती कला होती है। तुम जानते हो बाप आकर पलटा देते हैं। पहले-पहले है आदि सनातन देवी-देवता धर्म फिर दूसरे धर्म आते रहते हैं। तुम बच्चे जान चुके हो कि हमारी चढ़ती कला है। उतरती कला पूरी हुई। तमोप्रधान दुनिया में बहुत दु:ख है। यह तूफान आदि तो कुछ भी नहीं हैं। तूफान तो ऐसे लगेंगे जो बड़े-बड़े महल गिर जायेंगे। बहुत दु:ख का समय आने वाला है। यह विनाश का समय है। हाय-हाय, त्राहि-त्राहि करते रहेंगे। सबके मुख से हाय राम ही निकलेगा। भगवान को ही याद करेंगे। फाँसी पर चढ़ते हैं तो भी पादरी आदि कहते हैं गॉड फादर को याद करो। परन्तु जानते नहीं। अपनी आत्मा को भी यथार्थ रीति नहीं समझते। मैं आत्मा क्या चीज़ हूँ? क्या पार्ट बजाता हूँ? कुछ जानते नहीं हैं। आत्मा है कितनी छोटी। कहते हैं स्टॉर मिसल छोटी है। आत्मा का साक्षात्कार बहुतों को होता है। बहुत छोटी लाइट है। बिन्दी मिसल सफेद लाइट है। उनको दिव्य दृष्टि बिगर कोई देख न सके। अगर देखते भी हैं तो समझ में नहीं आता है। सिवाए ज्ञान के कुछ भी समझ में नहीं आता। साक्षात्कार तो ढेर होते हैं। यह कोई बड़ी बात नहीं है। यहाँ तो बुद्धि से समझ सकते हो। बाबा यथार्थ रीति ही समझाते हैं और कोई की बुद्धि में यह बात नहीं है कि हमारी आत्मा में 84 जन्मों का पार्ट नूँधा हुआ है। जो ब्राह्मण बच्चे बनते हैं, उन्हों को ही बाप समझाते हैं और उन्हों के ही 84 जन्म होते हैं। दूसरे कोई की बुद्धि में बैठेगा नहीं। तुम एक्यूरेट समझते हो कि 84 जन्म का चक्र है। पहले गायन है ब्राह्मणों का, मुख वंशावली ब्राह्मण हैं ना। यह और कोई नहीं जानते। ब्रह्माकुमार कुमारियां आर्डनरी बात हो गई है। कोई भी समझते नहीं हैं – यह संस्था क्या है? यह नाम क्यों पड़ा है? प्रजापिता ब्रह्मा नाम डालने से फिर क्यों का प्रश्न निकल ही जायेगा। तुम कह सकते हो शिवबाबा के बच्चे सब भाई-भाई हैं। फिर प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे ब्रदर्स, सिस्टर्स हैं। यह समझने से फिर प्रश्न नहीं आयेगा। समझेंगे नई दुनिया स्थापन होती है। बरोबर ब्रह्मा द्वारा तुम पतित से पावन बन रहे हो। यह जो रक्षा बन्धन आदि मनाया जाता है, यह पुरानी रसम चली आती है। अभी तुम अर्थ को समझते हो जो भी यादगार हैं, सबका तुमको इस समय ज्ञान मिलता है। सतयुग में थोड़ेही राम नवमी मनायेंगे। वहाँ मनाने की बात ही नहीं रहती। वहाँ तो ज्ञान रहता ही नहीं। यह भी पता नहीं पड़ेगा कि हमारी उतरती कला है। सुख में जन्म लेते रहेंगे। वहाँ है ही योगबल से पैदाइस। विकार का नाम ही नहीं होता है क्योंकि रावण का राज्य ही नहीं। वहाँ तो सम्पूर्ण निर्विकारी हैं। पहले से ही साक्षात्कार होता है। नहीं तो कैसे सिद्ध हो कि एक पुराना शरीर छोड़ दूसरा नया लेते हैं। यहाँ से तुम पहले जायेंगे शान्तिधाम। बच्चे समझते हैं वह हमारा घर है, उनको ही शान्तिधाम कहते हैं। वह तो हमारा अथवा बाप का घर है, जिस बाप को याद करते हैं। बाप से ही बिछुड़े हैं, इसलिए याद करते हैं। सुख में तो बाप भी याद नहीं आते। है ही सुख की दुनिया। बाबा अपने धाम में रहते हैं, जैसे कि वानप्रस्थ में चले जाते हैं। दुनिया में तो जब बूढ़े होते हैं तो वानप्रस्थ ले लेते हैं। लेकिन परमपिता परमात्मा को बूढ़ा थोड़ेही कहेंगे। बूढ़ा वा जवान शरीर होता है। आत्मा तो वही है। आत्मा में माया का परछाया पड़ता है। तुम सब कुछ जान गये हो, आगे नहीं जानते थे। रचयिता रचना का राज़ बाप ने समझाया है।

[wp_ad_camp_3]

 

तुम बच्चे सामने बैठे हो। उनकी महिमा बहुत है। प्रेजीडेंट, प्रेजीडेंट है। प्राइम मिनिस्टर, प्राइम मिनिस्टर है। सबको अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है। बाप ऊंच ते ऊंच गाया जाता है। तो जरूर हमको ऊंच ते ऊच वर्सा मिलना चाहिए ना। कितनी समझ की बात है। जैसे बाप समझाते हैं बच्चों को भी समझाना है। पहले बाप का परिचय देना है, वर्सा भी बाप से मिलता है। तुम्हारा है प्रवृत्ति मार्ग तो बुद्धि में चक्र फिरना चाहिए। सर्विस जरूर करनी है। दिन-प्रतिदिन बहुत सहज होता जायेगा, तब तो प्रजा वृद्धि को पायेगी ना। सहज मिलने से सहज निश्चय हो जायेगा। नये-नये अच्छे उछलने लग पड़ते हैं, पूरा निश्चय बैठ जाता है। नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार सबका पार्ट चल रहा है। हर एक सच्ची कमाई करने का पुरूषार्थ कर रहे हैं। सच्ची और झूठी कमाई में फ़र्क तो रहता है ना। सच्चे रत्न दूर से ही चमकते हैं। आजकल मनुष्यों को पैसे रखने की कितनी मुसीबत है। कहाँ छिपावें, कहाँ रखें। धन पड़ा होगा, समय ऐसा आयेगा जो कुछ कर नहीं सकेंगे। तुम बच्चों का भी नम्बरवार बुद्धि का ताला खुलता जाता है। कहाँ न कहाँ ग्रहचारी बैठती है तो कोई न कोई संशय आ जाता है। पढ़ाई ही छोड़ देते हैं, समझ में ही नहीं आता। हम तो पढ़ते थे, पढ़ाते थे, अब क्या हो गया है। थोड़ा भी संशय आने से गला ही घुट जाता है। बाबा में संशय हुआ, विकार में गये तो एकदम से गिर पड़ते हैं। काम और क्रोध सबसे बड़े दुश्मन हैं। मोह भी कम नहीं है। ऐसे नहीं कि सन्यासियों को अपनी लाइफ की स्मृति नहीं रहती होगी। सब स्मृति रहती है। ज्ञानी तू आत्मा बच्चे इशारे से ही समझ जाते हैं। कैसे भोग लगाते हैं। कौन आते हैं, क्या होता है? सेकेण्ड बाई सेकेण्ड ड्रामा चलता रहता है। ड्रामा में नूँध है जो कल्प पहले हुआ था, वही करेंगे, इमर्ज होगा। ड्रामा का पार्ट सेकेण्ड बाई सेकेण्ड खुलता जाता है। मुख्य है बाप की याद जिससे विकर्म विनाश होंगे। जितना बाप की याद में लगे रहते उतना विकर्म विनाश होते रहते। नहीं तो बाप धर्मराज रूप में साक्षात्कार करायेंगे। अभी भी बहुत हैं जो चलते-चलते अनेक भूलें करते रहते हैं। बताते नहीं हैं। नाम बहुत अच्छा-अच्छा है, परन्तु बाप जानते हैं कि कितना कम पद हो पड़ता है। कितनी ग्रहचारी रहती है। उल्टे विकर्म करके बाप से छिपाते रहते हैं। सच्चे के आगे कोई बात छिप नहीं सकती। तुम्हारा सब ऊपर में नूँधा जाता है। अन्तर्यामी बाबा तो वह है ना। समझना चाहिए हम छिपाकर विकर्म करते हैं तो बहुत सजा खानी पड़ेगी। हम ब्राह्मण निमित्त बने हैं सम्भालने के लिए। हमारे में ही यह आदत है तो ठीक नहीं। स्कूल में टीचर की रिपोर्ट होती है, तो प्रिन्सीपल बड़ी सभा बीच उनको निकाल देते हैं। तो बहुत डर रखना चाहिए। तुमको याद एक शिवबाबा को करना है। बाबा कहते हैं मामेकम् याद करो। तुमको तो बाप के पास जाना है। उनको याद करना है और स्वदर्शन चक्र फिराना है और कोई को याद करेंगे तो तुम्हारी रूहानी यात्रा बन्द हो जायेगी। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) माया की ग्रहचारी से बचने के लिए सच्चे बाप से सदा सच्चे रहना है। कोई भी भूल कर छिपाना नहीं है। उल्टे कर्मों से बचकर रहना है।

2) श्रीमत पर न चलना भी विकार है इसलिए कभी भी श्रीमत का उल्लंघन नहीं करना है। सम्पूर्ण निर्विकारी बनना है।

वरदान:- साधन वा सैलवेशन के प्रभाव में आने के बजाए प्रकृति को दासी बनाने वाले विजयी भव 
कभी भी योगी पुरूष वा पुरूषोत्तम आत्मायें प्रकृति के प्रभाव में नहीं आ सकती। आप ब्राह्मण आत्मायें पुरूषोत्तम और योगी आत्मायें हो, प्रकृति आप मालिकों की दासी है इसलिए प्रकृति के कोई भी साधन वा सैलवेशन आपको अपने प्रभाव में प्रभावित न कर लें। साधन, साधना का आधार न हों लेकिन साधना, साधनों को आधार बनाये तब कहेंगे प्रकृतिजीत, विजयी आत्मा।
स्लोगन:- एवररेडी वह हैं जो हर घड़ी को अन्तिम घड़ी समझकर चलते हैं।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 20 July 2017 :- Click Here

Font Resize