today murli 22 january

TODAY MURLI 22 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 22 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 21 January 2019 :- Click Here

22/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you now have to forget those bodies and become free from being attracted. You have to become karmateet and return home. Therefore, perform pure acts. Do not perform any sinful acts.
Question: In order to check your stage, praise of which three should you always remember?
Answer: 1. Praise of the Incorporeal. 2. Praise of the deities. 3. Praise of the self. Now check whether you have become worthy of worship, the same as the incorporeal Father. Have you imbibed all His virtues? Is your behaviour as royal as that of the deities? Are your food, drink and virtues like those of the deities? Do you know all the virtues of the soul and have you become an embodiment of them?

Om shanti. It has been explained to you children that the place of residence of you souls is the tower of silence Just as there is the peak of the Himalaya mountains, which is very high, so you also reside in the highest place of all. Those people practi s e climbing mountains and they have races. Some are clever at climbing mountains. Not everyone can climb them. You children don’t need to race etc. in that. Souls that have become impure have to become pure and go up above. That is called the tower of silence. Those people have the tower of science. They have very big bombs and they have a tower of them too. They keep all their dangerous things there. They put poison etc. in bombs. The Father says: Children, you have to fly home. Those people release such bombs while sitting at home that they destroy everything. You have to go from here up above to the tower of silence. You came from there and you will then return there when you have become satopradhan. From satopradhan you have become tamopradhan and you now have to become satopradhan once again. Those who make effort to become satopradhan also show the path to others. You children now have to perform pure acts. You mustn’t perform any sinful acts. The Father has explained to you the philosophy of karma. You became degraded in the kingdom of Ravan. The Father is now teaching you to perform pure acts. The five vices are great enemies. Attachment too is a vice. None of the vices are any less. Even by having attachment, you become trapped in body consciousness. This is why the Father explains to the kumaris a great deal. A kumari is called pure. Mothers also have to become pure. All of you are Brahma Kumars and Kumaris. Even though you are old, you are children of Brahma. The Father explains: Sweetest children, now go beyond the stage of being kumars and kumaris. Just as you first came into bodies so you will then have to leave them. You have to make effort for this. If you want to claim a high status, you should not remember anyone else. What else do you have? You came here empty handed. You didn’t have anything. Even those bodies are not yours. You now have to forget those bodies. You have to become free from being attracted and become karmateet. Become a trustee. The Father says: You may tour around, but don’t waste money. People donate a lot. It is printed in the newspapers that so-and-so is a great donor. He has had a hospital and a dharamshala etc. built. Those who donate a lot receive a title from the Government. The first titles are “His Holiness, Her Holiness”. Those who are pure are called holy. Just as the deities were pure, so you too have to become like them. Then you will remain pure for half the cycle. Many people ask: How is that possible? Children are born there too. Therefore, instantly tell them that Ravan doesn’t exist there. The world becomes vicious through Ravan. Rama, the Father, comes and purifies it. There are no impure beings there. Some say that you should not speak about purity. How can the body continue? They don’t even know that there was a pure world. Now the world is impure. This is a play: the brothel and the Temple of Shiva, the impure world and the pure world. First, there is happiness and then there is sorrow. This is the story of how you claimed your kingdom and how you then lost it. You have to understand this very well. We were defeated and we now have to become victorious. You should be courageous. You have to make your own stage strong. While having a home and family and taking care of them, you definitely have to become pure. You mustn’t perform any sinful acts. Many people have a lot of attachment. You should check: You have promised that you will not love anyone except the One, so why do you have love for others? You should remember the One who is the most loved of all and you will then forget all your bodily relationships. While seeing everyone, consider yourselves to be going to heaven. All of those are iron-aged bondages. We are now going into divine relationships. No other human being has this knowledge in his intellect. If you stay in remembrance of the Father very well, your mercury of happiness will remain high. Continue to reduce your bondages as much as possible; lighten yourselves! There is no need to increase your bondages. There is no expense incurred in attaining this kingdom. You are claiming the sovereignty of the world without any expense. They spend so much on their armaments and armies etc. You don’t have any expense at all. Whatever you give to the Father, you are not really giving, but you are, in fact, taking from Him. The Father is incognito. He continues to give you shrimat to open museumshospitals and universities from where one can receive knowledge. You become constantly free from disease by having yoga. Those who have health and wealth have happiness for 21 births. Come and understand how you can receive liberation and liberation-in-life in a second. You can explain on their doorstep. Just as people come to your door to ask for alms, so too, it is as though you give them the alms through which they become very prosperous. Tell anyone who comes: What are you begging for? We give you such alms that you become liberated from asking for alms for birth after birth. By knowing the unlimited Father and the world cycle, you become this. This badge of yours can also work wonders. Through this, you can give anyone the unlimited inheritance in a second. You should do service. The Father makes you into the masters of the world in a second. Then, it depends on your efforts. Young and old are all told to remember the Father. You can do service on trains too using your badges. When you are wearing your badge, you can explain to everyone that they have two fathers. An inheritance is received from both of them. No inheritance is received from Brahma. He is the agent. The Father is teaching you through this one and giving you the inheritance. You should see the person who comes in front you and then explain. Many people go on pilgrimages. All of those are physical pilgrimages whereas this is a spiritual pilgrimage. You become the masters of the world through this. People keep stumbling along on physical pilgrimages. You should also have the picture of the ladder with you. Continue to do service and you won’t even need food etc. It is said: There is no nourishment like happiness. When you don’t have money, you feel hungry all the time. It is as though the stomachs of wealthy kings are always full. Their activity is very royal. Their way of speaking is also first-class. You understand what you are becoming. There, people eat and drink with great royalty. They would never eat between meals. They eat very peacefully, with great royalty. You should learn all virtues. Check the praise of the Incorporeal, the deities and yourself. You are now becoming those with Baba’s virtues and you will then become those who have the virtues of the deities. So you now have to imbibe those virtues. You are now imbibing divine virtues. They remember Him as the Ocean of Peace and the Ocean of Love. Just as the Father is worshipped, so you too are worshipped. The Father says, “Namaste” to you. You are worshipped in two ways. Only the Father explains all of these things. He also explains your praise. Make effort and become like them. Ask your heart whether you have become like them. Just as we came here bodiless, so we have to go back bodiless. It is also mentioned in a scripture that you even have to renounce your stick. However, there is no question of a stick here. Here, it is a question of renouncing your body. All the rest are things of the path of devotion. Here, you simply have to remember the one Father. You belong to no one except the one Father. You children have received knowledge. You know how people are trapped so much in the chains of the gurus. There are many types of guru. You no longer want any gurus, nor do you have to study anything else. The Father has given you the one mantra: Constantly remember Me alone. Remember your inheritance and imbibe divine virtues. While living at home with your family, you have to become pure. You come here to be refreshed. You understand that you are sitting here personally in front of the Father. There (at your centres) you understand that Baba is sitting in Madhuban. Just as you souls are sitting on your thrones, similarly, Baba is also sitting on this throne. Baba doesn’t take the Gita scripture in His hands. It isn’t that He has learnt it by heart either. Those sannyasis etc. learn it by heart. That One is the Ocean of Knowledge. He explains to you all the secrets through Brahma. Has Shiv Baba ever gone to school or spiritual gatherings? The Father knows everything. People ask: Does Baba know any science? Baba says: What am I going to do with science? People call out to Me to come and make the impure ones pure, so why would I learn science for that? They ask: Has Shiv Baba studied such-and-such a scripture? Oh! but it is said of Him that He is the Ocean of Knowledge. Those scriptures belong to the path of devotion. They have put the conch shell and discus etc. in the hands of Vishnu. They don’t know the meaning of them at all. In fact, those ornaments should be given to Brahma and the Brahmins. There are no bodies in the subtle region. Many people have visions of Brahma while sitting at home. They also have visions of Krishna. That means they are told to go to Brahma and they can become like Krishna or would go into the lap of Krishna. They just have a vision of a prince. If you study well, you can become that. That is your aim and objective. A sample would be shown of just one. That is called a model. You know that Baba has come to tell you the story of the true Narayan and to change you from an ordinary man into Narayan. First of all, you will definitely become prince s. It is shown in the scripture that Krishna ate the butter, but that was in fact the globe of the sovereignty of the world. How could the moon etc. be shown in his mouth? The two cats are shown fighting each other and butter is shown being taken from in between them by the one who became the master of the world. Look at yourself and see whether you have become like that or not. This study is for claiming a royal status. This would not be called a praja pathshala (a study place to become subjects). This is the pathshala for becoming Narayan from an ordinary man. This is a Godly University. God is teaching you. Baba has said: Write: Ishwariya Vishwa Vidhyalaya (Godly World University). Write University in brackets However, you forget to write that. No matter how much literatureyou give people, they don’t understand anything from that. Here, you have to explain personally. You receive the unlimited inheritance from the unlimited Father. You have been receiving limited inheritances for birth after birth. You can do service using the badge. Even if someone does laugh at you, the point of the two fathers is still good. There are many who explain to their children in this way. Children also explain to their father. A wife would bring her husband here. In some cases, they even fight one another. You now know that all of you are souls, sons. You each have a right to the inheritance. In the world, the daughter gets married and goes to another home. That is called donating the kumari. She is given to someone else. You don’t have to do that any more. There, in heaven, too, a kumari goes to another home, but she remains pure. This is the impure world whereas that golden age is Shivalaya, the pure world. You children now have the omens of Jupiter over you. You will definitely go to heaven. This is fixed, but, you do have to claim a high status by making effort. You have to ask your heart: Do I do service like so-and-so? It should not be that you want a teacher. You yourself have to become a teacher. Achcha. You children have to make effort. What would Baba do by taking money from anyone? You can go and open museums etc. All the buildings etc. here will be destroyed. Baba is the Businessman and also the Stockbroker. He liberates you from the chains of sorrow and gives you happiness. The Father now says: A lot of time has gone by and little now remains. You will see how much upheaval there will be. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Live as a trustee and become free from being attracted. Do not have any wasteful expenditure. Continue to make effort to remain as pure as the deities.
  2. Remember the loveliest One of all (the Father). As much as possible continue to reduce the bondages of the iron age and lighten yourself. Do not increase them. Stay in the happiness that you are going into golden-aged divine relationships.
Blessing: May you be free from obstacles and sacrifice all your wasteful questions into the sacrificial fire by becoming knowledge-full.
When any obstacle comes, you go into many questions of “Why?” and “What?” To be full of questions means to be distressed. Become knowledge-full and sacrifice all wasteful questions into the sacrificial fire and your time along with the time of others will be saved. By doing this, you will easily become free from obstacles. Faith and victory are your birthright: maintain this pride and you will never become distressed.
Slogan: To maintain constant enthusiasm and to give that enthusiasm to others is your occupation.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

Just as Father Brahma stayed in the stage of being merged in love and also renounced the attitude of the consciousness of “I” and drew everyone’s attention to the Father, follow the Father in the same way. On the basis of knowledge, remain merged in remembrance of the Father and being merged in this way is the stage of being absorbed in love.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 22 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 22 January 2019

To Read Murli 21 January 2019 :- Click Here
22-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें अब इस शरीर को भूल अनासक्त, कर्मातीत बन घर चलना है इसलिए सुकर्म करो, कोई भी विकर्म न हो”
प्रश्नः- अपनी अवस्था की जाँच करने के लिए किन तीन की महिमा को सदा याद रखो?
उत्तर:- 1. निराकार की महिमा 2. देवताओं की महिमा 3. स्वयं की महिमा। अब जाँच करो कि निराकार बाप के समान पूज्य बने हैं, उनके सब गुणों को धारण किया है! देवताओं जैसी रायल चलन है! देवताओं का जो खान पान है, उनके जो गुण हैं वह हमारे हैं? आत्मा के जो गुण हैं उन सब गुणों को जान उनका स्वरूप बने हैं?

ओम् शान्ति। बच्चों को समझाया गया है कि आत्माओं का निवास स्थान है टावर आफ साइलेन्स यानी शान्ति की चोटी। जैसे हिमालय पहाड़ी की चोटी है ना। वह बहुत ऊंची होती है। तुम रहते भी ऊंच ते ऊंच हो। वो लोग पहाड़ी पर चढ़ने की प्रैक्टिस करते हैं, रेस करते हैं। पहाड़ी पर चढ़ने में भी कोई होशियार होते हैं। सब नहीं चढ़ सकते। तुम बच्चों को इसमें रेस आदि करने की दरकार नहीं। आत्मा जो पतित है, उनको पावन बन ऊपर जाना है। इसको कहा जाता है टावर ऑफ साइलेन्स। और वह फिर है टावर आफ साइंस। उनके बड़े-बड़े बाम्बस होते हैं, उनका भी टावर होता है। वहाँ रखते हैं खौफनाक चीज़ें। जहर आदि बाम्बस में डालते हैं। बाप कहते हैं बच्चे तुमको तो उड़ना है घर की तरफ। वह फिर घर बैठे ऐसे बाम्बस फेकते हैं जो सब खत्म कर देंगे। तुमको तो यहाँ से ऊपर जाना है टावर ऑफ साइलेन्स। वहाँ से तुम आये हो फिर जायेंगे तब जब सतोप्रधान बन जायेंगे। सतोप्रधान से तमोप्रधान में आये हो फिर सतोप्रधान बनना है। जो सतोप्रधान बनने का पुरूषार्थ करते वह फिर औरों को भी रास्ता बताते हैं। तुम बच्चों को अब सुकर्म करना है। कोई भी विकर्म नहीं करना है। बाप ने कर्मों की गति भी समझाई है। रावण राज्य में तुम्हारी दुर्गति हुई है। अब बाप सुकर्म सिखाते हैं। 5 विकार बड़े दुश्मन हैं। मोह भी विकर्म है। कोई भी विकार कम नहीं है। मोह रखने से भी देह-अभिमान में फँस पड़ते हैं इसलिए बाप कन्याओं को बहुत समझाते हैं। कन्या पवित्र को कहा जाता है, माताओं को भी पवित्र बनना है। तुम सब ब्रह्माकुमार कुमारियाँ हो। भल बुढ़िया हो परन्तु ब्रह्मा के तो बच्चे हो ना।

बाप समझाते हैं मीठे-मीठे बच्चों, अब कुमार कुमारी की स्टेज से भी ऊपर जाओ। जैसे पहले शरीर में आये फिर निकलकर जाना है, मेहनत करनी है। अगर ऊंच पद पाने चाहते हो तो और कोई की स्मृति न आये। हमारे पास है ही क्या। हाथ खाली आये हैं ना, कुछ भी नहीं। अपना यह शरीर भी नहीं है। अब इस शरीर को भूलना है। अनासक्त, कर्मातीत बन जाना है। ट्रस्टी बनो। बाप कहते हैं भल घूमो फिरो, बाकी फालतू खर्चा मत करो। मनुष्य दान भी बहुत करते हैं। अखबार में पड़ता है फलाना बहुत दानी है। हॉस्पिटल, धर्मशाला आदि बनाई है। जो बहुत दान करते हैं उनको फिर गवर्मेन्ट से टाइटिल मिलता है। पहले-पहले टाइटिल होते हैं हिज होलीनेस, हर होलीनेस। होली पवित्र को कहा जाता है। जैसे देवतायें पवित्र थे ऐसे बनना है। फिर आधाकल्प पवित्र रहेंगे। बहुत कहेंगे यह कैसे हो सकता है। वहाँ भी बच्चे पैदा होते हैं। तो फट से बोलो वहाँ रावण नहीं है। रावण द्वारा ही विकारी दुनिया होती है। राम बाप आकर पावन बनाते हैं। वहाँ पतित कोई हो नहीं सकता। कोई कहते हैं पवित्रता की बात भी नहीं करनी चाहिए। शरीर कैसे चल सकेगा। यह पता ही नहीं है कि पवित्र दुनिया भी थी। अब अपवित्र दुनिया है। यह खेल है, वेश्यालय, शिवालय.. पतित दुनिया, पावन दुनिया। पहले है सुख फिर है दु:ख। कहानी है कैसे राजाई ली फिर कैसे गंवाई। यह अच्छी तरह से समझना है। हमने हार खाई है, हमको ही जीत पानी है। बहादुर बनना चाहिए। अपनी अवस्था को जमाना चाहिए। घरबार होते, सम्भाल करते पवित्र जरूर बनना है। कोई भी अपवित्र काम नहीं करना है। मोह भी बहुतों में होता है। अपने को देखना चाहिए हमने प्रतिज्ञा की है कि आपके सिवाए किसको भी प्यार नहीं करेंगे फिर दूसरों को क्यों प्यार करते हो! जो प्यारे ते प्यारी चीज़ है वह याद आनी चाहिए। फिर और सब देह के सम्बन्ध भूल जायेंगे। सबको देखते ऐसे समझो हम अब स्वर्ग में जा रहे हैं। यह सब कलियुगी बंधन है। हम दैवी सम्बन्ध में जा रहे हैं। और कोई मनुष्य की बुद्धि में यह ज्ञान नहीं। तुम बाप की याद में अच्छी तरह रहो तो खुशी का पारा चढ़ा रहेगा। जितना हो सके बन्धन कम करते जाओ। अपने को हल्का कर दो। बन्धन बढ़ाने की ज़रूरत नहीं। इस राज्य पाने में खर्चे की ज़रूरत नहीं। बिगर खर्चे विश्व की राजाई लेते हो। उन्हों का बारूद, लश्कर आदि पर कितना खर्चा होता है। तुम्हारे पास खर्चा कुछ भी नहीं। तुम जो कुछ बाप को देते हो वह देते नहीं परन्तु लेते हो। बाप तो है गुप्त। वह श्रीमत देते रहते हैं कि म्युज़ियम खोलो, हॉस्पिटल, युनिवर्सिटी खोलो, जिससे तुम नॉलेज प्राप्त करते हो। योग से तुम सदैव के लिए निरोगी बन जाते हो। हेल्थ, वेल्थ उनके साथ हैपीनेस तो है ही – 21 जन्मों के लिए। एक सेकेण्ड में मुक्ति जीवनमुक्ति कैसे मिलती है वह आकर समझो। द्वार पर ही समझा सकते हो। जैसे दरवाजे पर भीख मांगने आते हैं ना। तुम भी जैसे भीख देते हो जिससे मनुष्य एकदम मालामाल बन जाते हैं। कोई भी हो बोलो तुम क्या भीख मांगते हो। हम तुमको ऐसी भीख देते हैं जो तुम जन्म-जन्मान्तर भीख मांगने से ही छूट जायेंगे। बेहद के बाप और सृष्टि चक्र को जानने से तुम यह बनते हो।

तुम्हारा यह बैज भी कमाल कर सकता है। सेकेण्ड में बेहद का वर्सा इनसे तुम कोई को भी दे सकते हो। सर्विस करनी चाहिए। बाप सेकेण्ड में विश्व का मालिक बनाते हैं। फिर है पुरूषार्थ पर। छोटे बड़े सबको कहा जाता है बाप को याद करो। ट्रेन में भी तुम बैज पर सर्विस कर सकते हो। बैज सदा लगाकर रहो, इस पर तुम सबको समझा सकते हो कि तुमको दो बाप हैं। दो से ही वर्सा मिलता है। ब्रह्मा से वर्सा नहीं मिलता है। वह तो दलाल है। इन द्वारा बाप तुमको सिखलाते हैं और वर्सा देते हैं। मनुष्य, मनुष्य देखकर समझाना चाहिए। यात्रा पर भी बहुत जाते हैं। वह सब है जिस्मानी यात्रायें। यह है रूहानी। इससे तुम विश्व के मालिक बनते हो। जिस्मानी यात्रा से तो धक्के खाते रहते हैं। सीढ़ी का चित्र भी साथ में हो। सर्विस करते रहो फिर उनको भोजन आदि की भी दरकार नहीं रहेगी। कहा जाता है खुशी जैसी खुराक नहीं। धन नहीं होगा तो उनको घड़ी-घड़ी भूख लगती रहेगी। धनवान राजाओं का जैसे पेट भरा रहता है। बड़ी रॉयल चलन होती है। बातचीत भी फर्स्टक्लास। तुम समझते हो हम क्या बन रहे हैं! वहाँ खान पान आदि बड़ी रॉयल्टी से होता है। बे-टाइम कभी खाते नहीं। बड़ा रायॅल्टी से शान्ति से खाते हैं। तुम्हें सब गुण सीखने चाहिए। निराकार की महिमा देवताओं की महिमा और अपनी महिमा तीनों की जाँच करो। अब तुम बाबा के गुणों वाले बन रहे हो फिर बनेंगे देवताओं के गुण वाले। तो वह गुण अभी धारण करने चाहिए। अब तुम दैवीगुण धारण कर रहे हो। गाते हैं शान्ति का सागर, प्रेम का सागर.. जैसे बाप पूजा जाता है वैसे तुम भी पूजे जाते हो। बाप तुमको नमस्ते करते हैं। तुम्हारी तो पूजा भी डबल होती है। यह सब बातें बाप ही समझाते हैं। तुम्हारी महिमा भी समझाते हैं कि पुरूषार्थ कर ऐसा बनो। दिल से पूछना चाहिए कि हम ऐसे बने हैं? जैसे हम अशरीरी आये हैं वैसे अशरीरी होकर जाना है। शास्त्रों में भी है, लाठी भी छोड़ो। परन्तु इसमें लाठी की बात नहीं। यहाँ तो शरीर को छोड़ने की बात है। बाकी सब हैं भक्ति मार्ग की बातें। यहाँ सिर्फ बाप को याद करना है। बाप बिगर दूसरा न कोई।

तुम बच्चों को ज्ञान मिला है, तुम जानते हो मनुष्य कितना गुरूओं की जंजीरो में फँसे हुए हैं। अनेक प्रकार के गुरू हैं। अब तुम्हें न गुरू चाहिए, न कुछ पढ़ना ही है। बाप ने एक ही मंत्र दे दिया है – मामेकम् याद करो। वर्से को याद करो और दैवीगुण धारण करो। गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र बनना है। यहाँ आते हो रिफ्रेश होने के लिए। यहाँ समझेंगे हम बाबा के सम्मुख बैठे हैं। वहाँ समझेंगे कि बाबा मधुबन में बैठे हैं। जैसे हमारी आत्मा तख्त पर बैठी है वैसे बाबा भी इस तख्त पर बैठे हैं। बाबा कोई गीता शास्त्र आदि हाथ में नहीं लेते हैं। ऐसे भी नहीं इसने कोई कण्ठ किया हुआ है। वह तो सन्यासी आदि कण्ठ करते हैं। यह तो है ज्ञान का सागर। ब्रह्मा द्वारा सब राज़ समझाते हैं। शिवबाबा कभी कोई स्कूल में सतसंग में गया है क्या? बाप तो सब कुछ जानते ही हैं। कोई कहे भला साइंस जानते हैं? बाबा कहते हैं साइंस से हमको क्या करना है। मुझे बुलाते ही हैं कि आकर पतितों को पावन बनाओ, इसमें साइंस क्यों सीखूंगा। कहेंगे शिवबाबा फलाना शास्त्र पढ़े हैं? अरे उनके लिए तो कहा जाता है ज्ञान का सागर। यह तो भक्ति मार्ग के शास्त्र हैं। विष्णु के हाथ में शंख, चक्र आदि दे दिया है। अर्थ का कुछ भी पता नहीं। वास्तव में यह अलंकार ब्रह्मा को और ब्राह्मणों को देना चाहिए। सूक्ष्मवतन में तो यह शरीर ही नहीं। ब्रह्मा का साक्षात्कार भी घर बैठे बहुतों को होता है। कृष्ण का भी होता है। इसका अर्थ है इस ब्रह्मा के पास जाओ तो कृष्ण जैसा बन जायेंगे वा कृष्ण की गोद में आ जायेंगे। वह सिर्फ प्रिन्स का साक्षात्कार होता है। अगर तुम अच्छी रीति पढ़ेंगे तो यह बन सकते हो। यह है एम आबजेक्ट। सैम्पुल तो एक का बतायेंगे ना। उसको मॉडल कहते हैं। तुम जानते हो बाबा आया है सत्य नारायण की कथा सुनाने, नर से नारायण बनाने। पहले तो जरूर प्रिन्स बनेंगे। शास्त्रों में दिखाया है कृष्ण ने माखन खाया, वास्तव में यह है विश्व की बादशाही का गोला। बाकी चन्द्रमा आदि कैसे मुख में दिखायेंगे। कहते भी हैं दो बिल्ले आपस में लड़े, बीच में जो सृष्टि का मालिक बना उनको माखन दिखा दिया है। अब अपने को देखो हम ऐसे बने हैं वा नहीं। यह पढ़ाई है ही राजाई पद के लिए। प्रजा पाठशाला थोड़ेही कहेंगे। यह है नर से नारायण बनने की पाठशाला। गॉडली युनिवर्सिटी। भगवान पढ़ाते हैं। बाबा ने कहा लिखो ईश्वरीय विश्व विद्यालय, ब्रैकेट में लिखो युनिवर्सिटी। परन्तु यह लिखना भूल जाते हैं। तुम कितना भी लिटरेचर दो तो भी कुछ समझेंगे नहीं। इसमें सम्मुख समझाना पड़ता है। बेहद के बाप से बेहद का वर्सा मिलता है। जन्म जन्मान्तर तुम हद का वर्सा लेते आये हो। तुम बैज पर सर्विस कर सकते हो। भल कोई हंसी भी करे। दो बाप की बात अच्छी है। ऐसे बहुत अपने बच्चों को समझाते हैं। बच्चे भी बाप को समझा लेते हैं। स्त्री पति को ले आती है। कहाँ-कहाँ फिर झगड़ते हैं। अब तुम जानते हो, तुम सब आत्मायें बच्चे हो। वर्से के हकदार हो। लौकिक सम्बन्ध में बच्ची शादी करके दूसरे घर में जाती है, उनको कन्या दान कहा जाता है। दूसरे को देते हैं ना। अभी तो वह काम नहीं करना है। वहाँ स्वर्ग में भी कन्या दूसरे घर में जाती है परन्तु पवित्र रहती है। यह है पतित दुनिया और वह सतयुग है शिवालय, पावन दुनिया। तुम बच्चों पर अब है बृहस्पति की दशा। तुम स्वर्ग में तो ज़रूर जायेंगे यह तो पक्का-पक्का है। बाकी पुरूषार्थ से ऊंच पद पाना है। दिल से पूछना है कि हम फलाने मिसल सर्विस करते हैं। ऐसे नहीं ब्राह्मणी (टीचर) चाहिए, टीचर तुम खुद बनो। अच्छा!

बच्चों को पुरूषार्थ करना है। बाकी बाबा किससे पैसे ले करके क्या करेंगे। तुम जाकर म्युजियम आदि खोलो। मकान आदि तो सब यहाँ खत्म हो जायेंगे। बाबा तो व्यापारी है ना। शर्राफ भी है। दु:ख की जंजीरों से छुड़ाए सुख देने वाला है। अब बाप कहते हैं बहुत गई थोड़ी रही.. तुम देखते रहेंगे, बहुत हंगामे होंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ट्रस्टी और अनासक्त बनकर रहो। कोई भी फालतू (व्यर्थ) खर्चे मत करो। स्वयं को देवताओं जैसा पवित्र बनाने का पुरूषार्थ करते रहो।

2) एक प्यारे ते प्यारी चीज (बाप) को याद करो। जितना हो सके कलियुगी बन्धन को हल्का करते जाओ, बढ़ाओ मत। सतयुगी दैवी सम्बन्ध में जा रहे हैं, इस खुशी में रहो।

वरदान:- नॉलेजफुल बन सर्व व्यर्थ के प्रश्नों को यज्ञ में स्वाहा करने वाले वाले निर्विघ्न भव
जब कोई विघ्न आते हैं तो क्या – क्यों के अनेक प्रश्नों में चले जाते हो, प्रश्नचित बनना अर्थात् परेशान होना। नॉलेजफुल बन यज्ञ में सर्व व्यर्थ प्रश्नों को स्वाहा कर दो तो आपका भी टाइम बचेगा और दूसरों का भी टाइम बच जायेगा। इससे सहज ही निर्विघ्न बन जायेंगे। निश्चय और विजय जन्म सिद्ध अधिकार है – इस शान में रहो तो कभी भी परेशान नहीं होंगे।
स्लोगन:- सदा उत्साह में रहना और दूसरों को उत्साह दिलाना-यही आपका आक्यूपेशन है।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

जैसे ब्रह्मा बाप ने सदा लवलीन स्थिति में रह मैंपन की वृत्ति का त्याग किया, सबका ध्यान बाप की तरफ खिंचवाया। ऐसे फालो फादर करो। नॉलेज के आधार से बाप की याद में ऐसे समाये रहो तो यह समाना ही लवलीन स्थिति है।

TODAY MURLI 22 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 22 January 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 21 January 2018 :- Click Here

22-01-2018
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are God’s children and this is your invaluable life. Your Godly clan is the most elevated. Maintain the intoxication that God Himself has adopted you.
Question: What do you need to practise in order to break the consciousness of the body?
Answer: 1.While walking or moving around, practise being aware that you are in your present body for this short time in name only. Just as the Father has entered a body for a short time, in the same way, we souls have also adopted these bodies in order to make Bharat into heaven by following shrimat. Remember the Father and the inheritance and the consciousness of the body will then break. This is called liberation-in-life in a second. 2. Wake up at amrit vela and have a sweet conversation with the Father and the consciousness of the body will end.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. God is only One and He is also the Father. It has been explained to you children that the form of a soul is not a huge, oval-shaped light (lingam). A soul is a very tiny dot; it is like a star sparkling in the centre of the forehead. It is not a huge, oval-shaped light like those in the temples; no. As is a soul, so is the Father, the Supreme Soul. The form of a soul is not like that of a human being. It is the soul that takes the support of a human body; the soul does everything. Sanskars are in the soul. A soul is a star. A soul takes birth according to his good or bad sanskars. Therefore, you have to understand these things very clearly. People place a lingam in the temples. So, in order to explain to them, we too show a Shiva lingam. That One is called Shiva. There can be nothing without a name or form. Everything definitely has some form. The Father is the Resident of the supreme abode (paramdham). The Father, the Supreme Soul, says: Just as a soul enters a body, I too have to enter a body in order to change hell into heaven. The Father’s praise is unique. You children now know that you have come here to play your part s . This is the eternal, imperishable, unlimited drama. It can never end; it continues to turn. There is one Creator and one creation. This is the cycle of the unlimited world. There are four ages. The other age is the confluence of the cycles when the Father comes and changes the impure world into a pure world. This cycle continues to turn. You children are now aware that all souls are residents of the supreme abode and that you came onto this field of action to play your part s. This unlimited drama has to repeat. The Father is the Master of the unlimited. There is unlimited praise of that Father. This praise cannot belong to anyone else. He is also the Seed of the human world tree. He is the Father of all. The Father says: I enter Ravan’s foreign world. On one side, there is the community of those who have devilish traits and on the other side, there is the community of those who have divine virtues. This world is called the land of Kans (devil). Kans is called a devil whereas Krishna is called a deity. The Father has now come to make you into deities and take you back. No one else has the strength to do this. The Father sits here and gives you teachings and inspires you to imbibe divine virtues. This is the Father’s duty. The Father says: When everyone becomes tamopradhan, they forget Me. Not only do they forget Me, they also put Me into pebbles and stones. It is only when they defame Me to this extent that I come. No one else is defamed as much as I am. This is why I come as your Liberator. I will take all of you back like a swarm of mosquitoes. No one else can say: Focus your mind on Me (Manmanabhav), the Supreme Father, the Supreme Soul, and your sins will be absolved. Krishna cannot say this. You children know the praise of the Father. He is the Ocean of Knowledge, the Ocean of Happiness. Then Brahma, Vishnu and Shankar are the second number. Who carries out establishment through Brahma? Would it be Shri Krishna? The Supreme Father, the Supreme Soul, sits here and explains that, first of all, He needs Brahmins, and so He creates Brahmins, the mouth-born creation, through Brahma. Those brahmins are a creation born through sin. At the confluence age, you are the children of Brahma. The Father comes and changes you from shudras into Brahmins. At this time, you belong to God’s clan. God is incorporeal whereas Brahma is corporeal. First, the Father creates Brahmins, then deities and then warriors. This cycle continues to turn. Other religions emerge later. Bharat is the main place. This Bharat is an imperishable land where the Father comes and creates heaven. He is the Father, the Teacher and also the Satguru. How could He be omnipresent? He is your Father. No one in this world, apart from you Brahmins, can be a knower of the three aspects of time. You children understand that you reside with the Supreme Father, the Supreme Soul, in the supreme abode. Then you come down, numberwise, onto the field of action and then, having completed 84 births, you return there. The Father explains how you go into the different castes and how many births you take while the cycle continues to turn. You now belong to God’s community. This is your invaluable life. You have now become God’s children. The Father comes and adopts you through Brahma. The Father is the Creator of heaven, so He Himself comes and makes you into the masters of the world. It is the task of the Father alone to establish peace over the whole world. The Father says: This is My part. Once again, I have come to teach you Raja Yoga through which you become ever healthy. You become deities and everything then repeats. The sapling is being planted. The Father is the Master of the Garden and is planting the sapling through this one. The Father personally sits here with you and says: My long-lost and now-found children, My children who have been separated for a long time, do you remember how I sent you to heaven and how you went around the cycle of 84 births? You have now come to Me. Therefore, consider yourselves to be souls and remember Me, your Father. You definitely have to return home. Whether you want to go or not, I will definitely take you back. First, there was the original eternal deity religion and then there was the devilish kingdom. When the kingdom of the deities ended, there was no longer any purity. Therefore, you became those with a single crown. It is now the rule of the people over the people. The kingdom of the deities is being established once again. The flames of destruction are now being ignited from this sacrificial fire. You will not rule an impure world. It is now the confluence age. You will not say this in the golden age. You children are now making effort. Who is inspiring you? The One who gives you shrimat. The One who is the most powerful and elevated is the one Father. He is carrying out establishment through Brahma. The Father says: I am the most Obedient Servant of Bharat. I make Bharat into heaven. There, the kings and the subjects all remain happy. There is natural beauty there. Just look how beautiful Lakshmi and Narayan are! Heavenly God, the Father, is the One who establishes heaven. People of the whole world say that the Gita was spoken by God Krishna. However, Krishna cannot say: Manmanabhav, constantly remember Me alone and your sins will be burnt away. There is no other method. The water of the Ganges is not the Purifier. That would not say: Remember Me alone. Only the one Father sits here and says this. The Father speaks to souls. The Father alone is the Bestower of Salvation for All. There are temples to Him. All the memorials are built from the copper age onwards. There is also the Somnath Temple, but no one knows what He did here or when He came here. They have mixed up Shiva with Shankar. There is so much difference between Shiva, the Resident of the supreme abode and Shankar, a resident of the subtle region. They don’t understand anything. The Father says: No matter how many scriptures and Vedas people study, or how much penance and tapasya they do, none of them can meet Me. Although I give everyone the return of their loving devotion (bhavna), they consider God to be the infinite light of brahm. Even if they do have a vision of brahm, nothing is achieved through that. I grant some a vision of Hanuman, others a vision of Ganesh and fulfil their desires for a temporary period. They become happy for a temporary period, but everyone still has to become tamopradhan. Even if they go and sit in the Ganges all day, they still have to become tamopradhan. The Father says: Children, become pure and you will become the masters of the pure world for 21 births. There is no other satsang where there can be so much attainment. The Father comes to teach you Raja Yoga. Therefore, you should follow His shrimat. You should pay attention to studying. The Father gives you the most elevated directions and, by following His shrimat, you make Bharat into heaven. You have to understand the secrets of the drama very clearly and make effort. You have to make effort and become worthy. You children should have the intoxication that you have come here to establish heaven with the Father. You are the residents of that place. You are in your present bodies, just in name, for a temporary period. Baba has also only come here for a short time. The consciousness of these bodies has to be broken. Remember the Father and the inheritance. This is known as liberation-in-life (jeevanmukti) in a second. The Father says: I have come to take everyone back. Now consider yourselves to be souls and wake up early in the morning and remember Baba. Talk to Him. You know that your 84 births are now ending. We have now become the children of God, then we will become children of the deities and then children of the warriors. Baba is making us into the masters of the world. Sit and praise the Father: Baba, You have performed wonders. You come and teach us every cycle. Baba, the knowledge You give us is so wonderful ! Heaven is so wonderful ! Those wonders are physical, whereas this wonder is established by the spiritual Father. The Father has come to establish the land of Krishna. From whom did Lakshmi and Narayan attain their reward? From the Father. Together with the World Mother and the World Father, there must also be the children; they are Brahmins. The World Mother (Jagadamba) is a Brahmin. She is Kamdhenu (the cow who fulfils everyone’s desires). She fulfils everyone’s desires. This one is Jagadamba and then she becomes the empress of heaven. It is such a wonderful secret! The Father gives you many different methods to make your stage firm. Stay awake at night and remember Baba and your final thoughts will lead you to your destination. When you make full effort, you are able to stay in remembrance. You have to return home having passed with honours. Only eight win this scholarship. You all say that you will marry Lakshmi or Narayan. Therefore, you definitely first have to pass. Check that you don’t have any monkey behaviour. Continue to remove it. Check that you didn’t make anyone unhappy throughout the whole day. The Father is the One who grants happiness to everyone. You children also have to become like Him. You must not cause anyone sorrow through your words or deeds. Show everyone the true path. Those inheritances are from limited fathers, whereas this is the unlimited inheritance from the unlimited Father. Only those who receive it can tell you about it. Those who belong to your religion will instantly be touched by this. The Father says: I enter the body of Brahma once again in order to establish the kingdom of deities. It is in the intellects of you children that, at this time, you are Brahmins and that you will then become deities. First, you will go to the subtle region and then to the land of peace. From there you will go to the new world, through the palace of a womb. You come here through the jail of a womb. It is said “False Maya, false body…” The Father says: People have defamed religion so much! They celebrate the birthday of Shiva, but they don’t know when Shiva came or whom He entered. He must definitely have entered someone’s body in order to make hell into heaven. The Father very clearly explains and advises you children: Keep your chart as to how long you remembered the Father throughout the whole day. Wake up early in the morning and remember the Father and your inheritance. We have come to the unlimited Father in order to change Bharat into heaven in an incognito way. We now have to return home. Before going back, we must definitely establish our kingdom. You are now at the confluence age, whereas the whole world is in the iron age. You are confluence-aged Brahmins. The Father has brought the gift of liberation and liberation-in-life for you children. In the golden age, when all other souls were in the land of liberation, those of Bharat were liberated in life. The Father brings heaven on the palm of His hand for you, and so He Himself would definitely make you worthy for that. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Constantly stay in the intoxication of being the instruments who establish heaven with the Father. The Father makes you into the masters of the world.
  2. Become those who give happiness like the Father. You must not cause anyone sorrow. Show everyone the true path. In order to experience self-progress, keep a chart for yourself.
Blessing: May you live as a trustee and leave all the burdens of every action to the Father and become a double-light angel.
BapDada always helps the children who remain courageous. When you children have elevated thoughts, the Father becomes present. Simply leave everything to the Father and then the Father knows what His task is. Do not take the burden of the responsibilities upon yourself. Be a trustee and you will remain constantly light; a double-light angel who continues to fly. When your heart is clean, all your desires are fulfilled.
Slogan: When you have the wings of zeal and enthusiasm with you, you will continue to fly in the flying stage.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 21 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 22 January 2017

To Read Murli 21 January 2018 :- Click Here
22-01-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम ईश्वरीय सन्तान हो, तुम्हारा यह अमूल्य जीवन है, तुम्हारा ईश्वरीय कुल बहुत ही श्रेष्ठ है। स्वयं भगवान ने तुम्हें एडाप्ट किया है, इसी नशे में रहो”
प्रश्नः- शरीर का भान टूट जाए – उसके लिए किस अभ्यास की आवश्यकता है?
उत्तर:- चलते फिरते अभ्यास करो कि इस शरीर में हम थोड़े टाइम के लिए निमित्त मात्र हैं। जैसे बाप थोड़े समय के लिए शरीर में आये हैं ऐसे हम आत्मा ने भी श्रीमत पर भारत को स्वर्ग बनाने के लिए यह शरीर धारण किया है। बाप और वर्सा याद रहे तो शरीर का भान टूट जायेगा, इसको ही कहा जाता है सेकण्ड में जीवनमुक्ति। 2- अमृतवेले उठ बाप से मीठी-मीठी बातें करो तो शरीर का भान खत्म होता जायेगा।
गीत:- ओम् नमो शिवाए…

ओम् शान्ति। भगवान होता ही है एक जो बाप भी है, बच्चों को समझाया गया है – आत्मा का रूप कोई इतना बड़ा लिंग नहीं है। आत्मा तो बहुत छोटी स्टार मिसल भ्रकुटी के बीच में है। कोई इतना बड़ा ज्योर्तिलिंगम् नहीं है, जैसे मन्दिरों में रखा हुआ है। नहीं। जैसे आत्मा वैसे परमात्मा बाप है। आत्मा का रूप मनुष्य जैसा नहीं है। आत्मा तो मनुष्य तन का आधार लेने वाली है। आत्मा ही सब कुछ करती है। संस्कार सब आत्मा में हैं। आत्मा स्टार है। आत्मा ही अच्छे वा बुरे संस्कारों अनुसार जन्म लेती है। तो इन बातों को अच्छी रीति समझना है। मन्दिरों में लिंग रखा हुआ है इसलिए समझाने के लिए हम भी शिवलिंग दिखाते हैं। इसका नाम शिव है, बिगर नाम के कोई चीज़ होती नहीं। कुछ न कुछ आकार है। बाप है परमधाम में रहने वाला। परमात्मा बाप कहते हैं जैसे आत्मा शरीर में आती है वैसे मुझे भी आना पड़ता है, नर्क को स्वर्ग बनाने। बाप की महिमा सबसे न्यारी है। अभी तुम बच्चे जानते हो, तुम आत्मायें आई हो यहाँ पार्ट बजाने। यह बेहद का अनादि अविनाशी ड्रामा है, इनका कभी विनाश नहीं होता। यह फिरता ही रहता है। बाप रचता भी एक है, रचना भी एक है। यह बेहद सृष्टि का चक्र है। 4 युग हैं। दूसरा है कल्प का संगमयुग, जिसमें ही बाप आकर पतित दुनिया को पावन बनाते हैं। यह चक्र फिरता रहता है। तुम बच्चों को अब स्मृति आई है कि हम सब आत्मायें परमधाम में रहने वाली हैं। इस कर्मक्षेत्र पर पार्ट बजाने आई हैं। इस बेहद के ड्रामा को रिपीट होना है। बाप है बेहद का मालिक। उस बाप की अपरमअपार महिमा है। ऐसी महिमा और कोई की नहीं है। वह मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है। सबका फादर है। बाप कहते हैं मैं पराई रावण की दुनिया में आता हूँ। एक तरफ है आसुरी गुणों वाली सम्‍प्रदाय। दूसरी तरफ है दैवीगुणों वाली सम्‍प्रदाय, इनको कंसपुरी भी कहते हैं। कंस असुर को कहा जाता है। कृष्ण को देवता कहा जाता है। अब बाप आये हैं देवता बनाने और सबको वापिस ले जाने, और कोई की ताकत नहीं। बाप ही बैठ बच्चों को शिक्षा दे दैवी गुण धारण कराते हैं। यह बाप की ही फ़र्जअदाई है। बाप कहते हैं जब सभी तमोप्रधान हो जाते हैं, मुझे भूल जाते हैं, न सिर्फ भूल जाते हैं परन्तु मुझे पत्थर ठिक्कर में ठोक देते हैं, इतनी ग्लानी कर देते हैं तब तो मैं आता हूँ। मेरे जैसी ग्लानी किसकी नहीं करते, तब तो मैं आकर तुम्हारा लिबरेटर बनता हूँ। सबको मच्छरों सदृश्य ले जाऊंगा। और कोई ऐसे कह न सके कि मनमनाभव। मुझ अपने परमपिता परमात्मा को याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। कृष्ण तो कह न सके। परमात्मा की महिमा तो बच्चे जानते हैं। वह ज्ञान का सागर, सुख का सागर है। फिर सेकण्ड नम्बर में है ब्रह्मा, विष्णु, शंकर। ब्रह्मा द्वारा स्थापना कौन करेगा? क्या श्रीकृष्ण? परमपिता परमात्मा शिव बैठ समझाते हैं कि पहले-पहले हमको चाहिए ब्राह्मण। तो ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण मुख वंशावली रचता हूँ। वह हैं कुख वंशावली। तुम अब संगम में ब्रह्मा की सन्तान हो। बाप आकर शूद्र से ब्राह्मण बनाते हैं। अभी तुम हो ईश्वरीय कुल के। ईश्वर हुआ निराकार, ब्रह्मा हुआ साकार। बाप पहले-पहले ब्राह्मण फिर देवता बनाते हैं। देवता के बाद क्षत्रिय…यह चक्र फिरता रहता है। फिर इनसे और धर्म निकले हैं। मूल है भारत, यह भारत अविनाशी खण्ड है, जहाँ बाप आकर स्वर्ग बनाते हैं। वह बाप भी है, टीचर भी है, तुम्हारा सतगुरू भी है। उनको फिर सर्वव्यापी कैसे कह सकते। वह तो तुम्हारा बाप है। इस दुनिया में सिवाए तुम ब्राह्मणों के कोई त्रिकालदर्शी हो नहीं सकता। तुम बच्चे समझते हो परमपिता परमात्मा के साथ हम परमधाम के रहने वाले हैं। फिर नम्बरवार कर्मक्षेत्र पर आते हैं। फिर पिछाड़ी में हम ही जाते हैं। 84 जन्म पूरे लेने हैं।

बाप समझाते हैं – तुमने कितने जन्म लिए और कैसे वर्णो में आये। यह चक्र चलता रहता है। अभी तुम हो ईश्वरीय सम्‍प्रदाय, यह तुम्हारा अमूल्य जीवन है जबकि तुम ईश्वरीय सन्तान बने हो। ब्रह्मा द्वारा बाप आकर एडाप्ट करते हैं। बाप है स्वर्ग का रचयिता तो खुद ही आकर स्वर्ग का मालिक भी बनाते हैं। अब सारे विश्व में शान्ति स्थापन करना – यह बाप का ही काम है। बाप कहते हैं मेरा पार्ट है, मैं तुमको फिर से राजयोग सिखलाता हूँ, जिससे तुम एवरहेल्दी बनेंगे। जैसे देवता बने थे, फिर अब रिपीट होता है। यह सैपलिंग लग रहा है। बाप बागवान है, इन द्वारा कलम लगा रहे हैं। बाप सम्मुख बैठ समझाते हैं – मेरे सिकीलधे बच्चे, बहुत समय से बिछुड़े हुए बच्चे, याद है ना – मैंने तुमको स्वर्ग में भेजा था। फिर तुम 84 का चक्र लगाकर अब आकर मिले हो। अब अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो। तुमको वापिस जरूर ले जाना है। तुम चाहो न चाहो ले जरूर जाना है। पहले आदि सनातन दैवी राज्य चला फिर आसुरी राज्य चला। दैवी राज्य के बाद पवित्रता तो चली गई फिर सिंगल ताज हो गया, अब तो प्रजा का प्रजा पर राज्य है फिर दैवी राज्य की स्थापना हो रही है। आसुरी राज्य के विनाश के लिए इस रूद्र यज्ञ से यह विनाश ज्वाला प्रज्वलित हुई है। तुम पतित सृष्टि पर थोड़ेही राज्य करेंगे। अभी है संगम। सतयुग में तो ऐसे नहीं कहेंगे। अभी तुम बच्चे पुरुषार्थ कर रहे हो। कराने वाला कौन है? श्रीमत देने वाला समर्थ, श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ है ही एक बाप। वही ब्रह्मा द्वारा स्थापना करा रहे हैं। बाप कहते हैं मैं भारत का मोस्ट ओबीडियन्ट सर्वेन्ट हूँ। भारत को स्वर्ग बनाता हूँ। वहाँ यथा राजा रानी तथा प्रजा सब सुखी रहते हैं। नैचुरल ब्युटी रहती है। लक्ष्मी-नारायण को देखो कितने सुन्दर हैं। हेविनली गॉड फादर है हेविन स्थापन करने वाला। सारी दुनिया में गीता के लिए कहते हैं कृष्ण भगवानुवाच। परन्तु कृष्ण तो कह न सके मनमनाभव, मामेकम् याद करो तो विकर्म भस्म हों। और कोई उपाय भी नहीं है। गंगा तो पतित-पावनी है नहीं। वह थोड़ेही कहेगी कि मामेकम् याद करो। यह तो एक बाप ही बैठ समझाते हैं। बाप आत्माओं से बात करते हैं। बाप ही सबका सद्गति दाता है। उनके मन्दिर भी हैं। द्वापर से सब यादगार बनना शुरू होते हैं। सोमनाथ का मन्दिर है, परन्तु वह क्या करके गये हैं – यह कोई नहीं जानते। वह शिव शंकर को मिला देते हैं। अब कहाँ शिव परमधाम के निवासी और कहाँ शंकर सूक्ष्मवतन के वासी। कुछ भी समझते नहीं। बाप कहते हैं कितने भी वेद शास्त्र आदि कोई पढ़े, जप तप करे परन्तु मेरे से मिल नहीं सकते। भल मैं भावना का भाड़ा सबको देता हूँ, परन्तु वह तो अखण्ड ज्योति ब्रह्म को ही परमात्मा समझ लेते हैं। ब्रह्म का साक्षात्कार हो परन्तु उससे कुछ भी हांसिल नहीं होगा। कोई को हनूमान का, कोई को गणेश का साक्षात्कार कराता हूँ, वह तो मैं अल्पकाल के लिए मनोकामना पूर्ण करता हूँ। अल्पकाल लिए खुशी तो रहती है। परन्तु फिर भी सबको तमोप्रधान तो बनना है। चाहे सारा दिन गंगा में जाकर बैठ जाएं तो भी तमोप्रधान तो सबको बनना ही है।

बाप कहते हैं बच्चे पवित्र बनो तो पवित्र दुनिया का 21 जन्म के लिए मालिक बनेंगे। और कोई सतसंग नहीं जहाँ इतनी प्राप्ति हो। बाप ही आकर राजयोग सिखलाते हैं तो कितना श्रीमत पर चलना चाहिए। पढ़ाई पर ध्यान देना चाहिए। बाप श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ मत देते हैं। श्रीमत से भारत को स्वर्ग बनाना है। तुम्हें ड्रामा के राज़ को अच्छी तरह से समझना है और पुरुषार्थ करना है। पुरुषार्थ कर ऐसा लायक बनना है। तुम बच्चों को नशा होना चाहिए कि हम बाप के साथ स्वर्ग की स्थापना करने आये हैं। हम वहाँ के रहवासी हैं। इस शरीर में हम निमित्त मात्र हैं थोड़े टाइम के लिए। बाबा भी थोड़े टाइम के लिए आये हैं, इस शरीर का भान टूट जाना चाहिए। अपने बाप और वर्से को याद करो, इसको ही सेकण्ड में जीवनमुक्ति कहा जाता है। बाप कहते हैं मैं आया हूँ सबको वापिस ले जाने। अब तुम अपने को आत्मा समझ सवेरे उठकर बाबा को याद करो। उनसे बातें करो। तुम जानते हो हमारे 84 जन्म पूरे हुए। अब हम ईश्वरीय सन्तान बने हैं। फिर दैवी सन्तान, फिर क्षत्रिय सन्तान बनेंगे। बाबा हमको विश्व का मालिक बनाते हैं। बाबा की बैठ महिमा करो। बाबा आपने तो कमाल की है। कल्प-कल्प आकर हमको पढ़ाते हो। बाबा आपका ज्ञान बड़ा वन्डरफुल है। स्वर्ग कितना वन्डरफुल है। वह हैं जिस्मानी वन्डर्स, यह है रूहानी बाप का स्थापन किया हुआ वन्डर। बाप आये हैं कृष्णपुरी स्थापन करने। इन लक्ष्मी-नारायण ने यह प्रालब्ध कहाँ से पाई? बाप द्वारा। जगत अम्बा और जगत पिता के साथ बच्चे भी होंगे। वह हैं ब्राह्मण, जगत अम्बा तो ब्राह्मणी थी। वह है कामधेनु। सबकी मनोकामनायें पूर्ण कर देती है। यह जगत अम्बा ही फिर स्वर्ग की महारानी बनती है। कितना वन्डरफुल राज़ है। यह बाप अपनी अवस्था को जमाने के लिए भिन्न-भिन्न युक्तियां बताते रहते हैं। रात को जागो। बाबा को याद करो तो अन्त मती सो गति हो जायेगी। अगर पूरा पुरुषार्थ होगा तो याद ठहरेगी। पास विद आनर हो जाना है। 8 को ही स्कालरशिप मिलती है। सब कहते हैं – हम लक्ष्मी-नारायण को वरें, तो पास होकर दिखाना है। अपने को देखना है कि मेरे में कोई बन्दरपना तो नहीं है? उसको निकालते जाओ। देखो, सारे दिन में किसको दु:ख तो नहीं दिया? बाप है सबको सुख देने वाला। बच्चों को भी ऐसा बनना है। वाचा, कर्मणा से कोई को भी दु:ख नहीं देना है। सच्चा-सच्चा रास्ता बताना है। वह है हद के बाप का वर्सा। यह है बेहद के बाप का वर्सा, सो तो जिसको मिलता होगा वही बतायेंगे। जो अपने धर्म के होंगे उन्हों को झट टच होगा।

बाप कहते हैं फिर से दैवी धर्म स्थापन करने मैं ब्रह्मा के तन में आता हूँ। तुम बच्चों की बुद्धि में है कि अभी हम ब्राह्मण हैं फिर देवता बनना है। पहले सूक्ष्मवतन में जाकर फिर शान्तिधाम में जायेंगे। वहाँ से फिर नई दुनिया में, गर्भ महल में आयेंगे। यहाँ गर्भजेल में आते हैं। इनको कहते हैं झूठी माया, झूठी काया… बाप कहते हैं कितनी धर्म ग्लानी की है, शिव जयन्ती मनाते हैं परन्तु शिव कब आया, किसमें प्रवेश किया, यह कोई को पता नहीं है। जरूर कोई शरीर में आकर नर्क को स्वर्ग बनाया होगा ना। बाप बच्चों को बहुत अच्छी रीति समझाते हैं और राय देते हैं अपना चार्ट बनाओ। सारे दिन में कितना समय बाप को याद किया! सवेरे उठकर बाप को, वर्से को याद करो। हम बेहद के बाप के साथ आये हैं। गुप्तवेष में भारत को स्वर्ग बनाने। अब हमको वापिस जाना है। जाने से पहले अपनी राजधानी जरूर स्थापन करनी है। अब तुम हो संगम पर। बाकी सारी दुनिया है कलियुग में। तुम संगमयुगी ब्राह्मण हो। बाप बच्चों के लिए सौगात ले आते हैं – मुक्ति और जीवनमुक्ति की। सतयुग में भारत जीवनमुक्त था, बाकी सब आत्मायें मुक्तिधाम में थी। बाप हथेली पर बहिश्त ले आते हैं तो जरूर उसके लिए लायक भी खुद ही बनायेंगे। अच्छा!

मीठे मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा इस नशे में रहना है कि हम बाप के साथ स्वर्ग की स्थापना के निमित्त हैं। बाप हमें विश्व का मालिक बनाते हैं।

2) बाप समान सुख देने वाला बनना है। कभी किसी को दु:खी नहीं करना है। सबको सच्चा रास्ता बताना है। अपनी उन्नति के लिए अपना चार्ट रखना है।

वरदान:- हर कर्म का बोझ बाप पर छोड़ स्वयं ट्रस्टी बन रहने वाले डबल लाइट फरिश्ता भव 
हिम्मत रखने वाले बच्चों को बापदादा सदा ही मदद करते हैं। बच्चे श्रेष्ठ संकल्प करते और बाप हाजिर हो जाते। सिर्फ बाप के ऊपर सारा कार्य छोड़ दो तो बाप जाने, कार्य जाने। खुद अपने ऊपर जवाबदारियों का बोझ नहीं उठाओ, ट्रस्टी बनकर रहो तो सदा हल्के, डबल लाइट फरिश्ता बन उड़ते रहेंगे। दिल साफ है तो मुराद हांसिल हो जाती है।
स्लोगन:- उमंग-उत्साह के पंख साथ हों तो उड़ती कला में उड़ते रहेंगे।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize