today murli 22 december

TODAY MURLI 22 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 22 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 21 December 2018 :- Click Here

22/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, by coming to this school, you receive instant attainment. Each jewel of knowledge that the Father gives is property worth hundreds of thousands.
Question: Why does the intoxication that Baba gives you diminish? What is the way for you to keep your intoxication always high?
Answer: Intoxication diminishes when you turn away and see the faces of your relatives and haven’t become destroyers of attachment. In order for you to keep your intoxication always high, learn to have a heart-to-heart conversation with the Father. Baba, I belonged to You. You then sent me to heaven and I experienced happiness for 21 births and then became unhappy. I have now come once again to claim the inheritance of happiness. Become a destroyer of attachment and your intoxication will always remain high.
Song: To live in Your lane and to die in Your lane. 

Om shanti. Whose words did you hear? The gopes and gopis. To whom do they say it? To the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiv Baba. A name is definitely needed. You say: Baba, I belong to You while alive in order to become part of the garland around Your neck. By remembering You alone, I will become part of the garland around Your neck. The rosary of Rudra is very well known. The Father has explained that all souls are part of the rosary of Rudra. This is a spiritual tree. That is a genealogical tree of human beings and this is the tree of souls. The tree has sections – a section for deities, a section for those of Islam, a section for Buddhists. No one else can explain these things. Only the God of the Gita tells you this. He alone is beyond birth and death. He cannot be called ‘One who never takes birth’. It is just that He doesn’t enter the cycle of birth and death. He doesn’t have a physical or a subtle body. In the temples they worship a Shiva lingam. They call that the Supreme Soul. They go in front of the deity idols and sing this praise. They would never say: Salutations to the Supreme Soul Brahma. They always consider Shiva to be the Supreme Soul. They say: Salutations to the Supreme Soul Shiva. That is the incorporeal world, the other is the subtle region and this is the corporeal world. Now, you children know that, here, you aren’t given knowledge of God being omnipresent. If God were also in this one, you would say to him: Salutations to the Supreme Soul. You don’t say, “Salutations to the Supreme Soul”, when He is in a body. In fact, the words used are “Great soul”, “charitable soul” and “sinful soul”. “Great Supreme Soul” is never said. There aren’t even the terms, “Charitable Supreme Soul” or “Sinful Supreme Soul”. These matters have to be understood. Only you children know that, by coming to this school, you receive the attainment of instant fruit. Through this study, we will become deities in the future. No one else can say this. You are the ones who change from human beings into deities. Lakshmi and Narayan are the well-known ones among the deities. This is why people speak of the story of the true Narayan. There would definitely be Lakshmi with Narayan. They don’t say: The story of the true Rama. They say: It is the story of the true Narayan. Achcha, what will happen through that? Ordinary man will change into Narayan. You would hear the story of a b a rrister from a barrister and become a barrister. You come here for the attainment of your future 21 births. The attainment of the future 21 births is received when it is the confluence age. You know that you have come here to claim your inheritance of the golden-aged kingdom from the Father. However, first of all, there has to be the firm faith that Shiv Baba is your Baba. He is also the Baba of this Brahma. So He is the Dada (Grandfather) of the BKs. This father (Brahma) says: This is not my property. You receive the Grandfather’s property. Shiv Baba has the wealth of the jewels of knowledge. Each jewel is property worth hundreds of thousands. The value of it is so high that no one could have even dreamt of the fortune of a kingdom for 21 births. Although people have been worshipping Lakshmi and Narayan, no one knows how they attained their status. They have said that the duration of the golden age is hundreds of thousands of years and this is why they are unable to understand anything. You know that it is now 5000 years since they came to rule the kingdom. Then the story is said to begin with the first era: Long, long ago there used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan in this Bharat. Bharat is called Bahist (Paradise), heaven. This is not in anyone’s intellect. You children now know that the duration of a cycle is 5000 years. Whatever is written in those scriptures is fixed in the drama. There has been no result by listening to them. They celebrate so much. There is just one Jagadamba, but they make so many idols of her. So, Saraswati, Jagadamba is the daughter of Brahma. It isn’t that she has eight or ten arms. The Father says: All of that is the vast paraphernalia of the path of devotion. There is none of that in knowledge. You just have to remain in silence and remember the Father. There are many daughters who have never even seen Baba. They write: Baba, You don’t know me, but I know You very well. You are the same Baba. I will definitely claim my inheritance from You. Many have visions even while sitting at home. Even though some don’t have visions, they continue to write. While in remembrance they become completely absorbed in love. The Father alone is the Bestower of Salvation. You should love Him so much. Children completely cling to their parents because the parents give their children happiness. However, parents of today don’t give happiness; they trap the children in vices even more. The Father says: Past is past. You are now receiving guidance: Children, leave aside the things of the sword of lust and become pure because you now have to go to the land of Krishna. There is the kingdom of Krishna in the golden age. They have portrayed Krishna in the copper age. It isn’t that the prince of the golden age would come and speak the Gita in the copper age. He has to become Shri Narayan and rule in the golden age. God speaks: At this time, all human beings have devilish natures. The God of the Gita comes to make them into those with divine natures. Instead of the Father’s name, they have inserted the name of the child and they have then shown that child in the copper age. This too is a big mistake. Then they cannot prove the existence of the Yadavas and the Pandavas at that time. The Father says: Children, you belonged to the elevated deity clan, and so why has your condition now become like this? I am now once again making you into deities. Human beings cannot make human beings into the kings of heaven. Human beings would not establish heaven. It is such a big mistake to call a soul the Supreme Soul. Sannyasis cannot change human beings into deities. This is the work of the Father alone. Those who belong to the Arya Samaj would make others into those who belong to the Arya Samaj. Christians would make others into Christians. Whomever you go to, they would make you the same as themselves. The deity religion exists in the golden age, and so the Father has to come at the confluence age. This is the Mahabharat War and, through this war, there will be your victory. After destruction, there will be cries of victory. You know that destruction is definitely going to take place. Today, when someone is seated on a throne, they don’t take long to dethrone him. Would you call this heaven? This is complete hell. It is a mistake to call it heaven. People are so unhappy. If someone is born today, there is great joy and happiness. However, if someone dies, there is sorrow. Here, you have to become a destroyer of attachment to everyone. Otherwise, Baba would never tell you to go out on service. Baba says: I have destroyed attachment. Why should I have attachment to anything? I am not a householder. You children know that this haystack truly is going to be set on fire. Destruction doesn’t take long. When you give a lecture, tell them to come and claim their inheritance from the unlimited Father. You receive a limited inheritance from your limited father. You have taken 63 births in this hell. I have come to give you the inheritance of heaven for 21 births. So, is the inheritance of Ravan good or is that of Rama good? If the inheritance of Ravan is good, then why do you burn his effigy? Do you ever burn Shiv Baba? Krishna’s effigy is never burnt. This is the community of Ravan. All are born through vice. This is the brothel, the ocean of poison. That is the viceless Shivalaya, the ocean of nectar. They show Vishnu lying in an ocean of milk, but there cannot be an ocean of milk. Milk comes from a cow. They say that God is omnipresent and then they say “Shivohum” (I am Shiva) because they remain pure. However, they don’t say to others: God is in you, or: God is not in you because you are impure. The soul says: I am now being made pure by the Supreme Father, the Supreme Soul and then, when I am pure, I will rule the kingdom. You have received and lost the inheritance countless times. The cycle of the drama is now in your intellects. The Father explains: All of you are Parvatis and I am Shiva. The stories etc. refer to here. There are no stories etc. in the subtle region. You are told the story of immortality to make you into the masters of the land of immortality. That is the land of immortality. There is nothing but happiness there. In the land of death, there is sorrow from the beginning through the middle to the end. All of this is explained to you so well. The efforts of those who claimed their inheritance from the Father in the previous cycle also continue now. However many missionaries there have been up to the present time, there were just as many missionaries previously too. Although Baba says that you are slack in service, He also says that you are doing the same service that you did in the previous cycle. Nevertheless, you have to continue to make effort. Storms make the small earthenware lamps flicker. The Boatman of everyone is the one Father. There is the saying: Take my boat across… The destiny of the drama is created in this way. All will go to the old world. There are only a few here. There are so few of you. Although there will be many at the end, there is the difference of day and night. All of them are the community of Ravan. The Father makes your intoxication rise very high. However, when you see the faces of your friends and family, that intoxication decreases. It shouldn’t happen like that. It is said to souls: Have a heart-to-heart conversation with the Father. Baba, I belonged to You. You sent me to heaven. I ruled a kingdom for 21 births and then attained sorrow for 63 births. I will now definitely claim my inheritance from You. Baba, You are so good! I forgot You for half the cycle. Baba says: This drama is predestined. It is also My duty to come every cycle and liberate you children from Maya and then make you into Brahmins and tell you the secrets of the beginning, the middle and the end of the world. I come when I have to create heaven. You are now becoming angels. You are given visions of purity. You also have to become destroyers of attachment. If someone says to Baba: Baba, should I go on service? Baba would say: If you have destroyed attachment, you are a master, you can go where you want. Why are you confused? You are a master; you have to show the path to the blind. It is because you haven’t destroyed your attachment that you ask. If you had destroyed attachment, you would run; you wouldn’t be able to stay here. The destination is high. The Father surrenders Himself to the serviceable children. This Baba was the first number. Everyone had renunciation, but this one was the first number. Baba says: Become soul conscious, that is, consider yourself to be bodiless. The unlimited Father is giving you the inheritance for 21 births. Achcha, how does He come? It is written: Creation is created through the mouth of Brahma and so He would surely enter Brahma. Brahma alone is called Prajapita. Therefore, come and claim your inheritance from that unlimited Father. There is no question of being embarrassed about explaining these things. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Like Father Brahma, you have to claim a number ahead in renunciation. In order to become part of the garland around the neck of Rudra, you have to surrender yourself while alive.
  2. In order to become serviceable , become a destroyer of attachment. Show the path to the blind.
Blessing: May you be a constantly contented soul who remains free from the illness of body and mind with blessings and medicine.
Even if the body is sometimes not well, do not let your mind become disturbed by any illness of the body. Constantly continue to dance in happiness and your body will become fine. Make your body work with the happiness of your mind and you will exercise both. Happiness is the blessing and exercise is the medicine. So, with both the blessing and the medicine, you will become free from illness of body and mind. With happiness you will forget your pain. In order to be constantly content with your body and mind, do not think too much. By thinking too much time is wasted and your happiness disappears.
Slogan: Practise seeing the essence in the expansion and your stage will always be constant and stable.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 22 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 22 December 2018

To Read Murli 21 December 2018 :- Click Here
22-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – इस पाठशाला में आने से तुम्हें प्रत्यक्षफल की प्राप्ति होती है, एक-एक ज्ञान रत्न लाखों की मिलकियत है, जो बाप देते हैं”
प्रश्नः- बाबा जो नशा चढ़ाते हैं, वह हल्का क्यों हो जाता है? नशा सदा चढ़ा रहे उसकी युक्ति क्या है?
उत्तर:- नशा हल्का तब होता है जब बाहर जाकर कुटुम्ब परिवार वालों का मुख देखते हो। नष्टोमोहा नहीं बने हो। नशा सदा चढ़ा रहे उसके लिए बाप से रूहरिहान करना सीखो। बाबा, हम आपके थे, आपने हमें स्वर्ग में भेजा, हमने 21 जन्म सुख भोगा फिर दु:खी हुए। अब हम फिर से सुख का वर्सा लेने आये हैं। नष्टोमोहा बनो तो नशा चढ़ा रहे।
गीत:- मरना तेरी गली में……. 

ओम् शान्ति। यह किसके बोल सुने? गोप गोपियों के। किसके लिए कहते हैं? परमपिता परमात्मा शिवबाबा के लिए। नाम तो जरूर चाहिए ना। कहते हैं – बाबा, आपके गले का हार बनने के लिये जीते जी हम आपका बनते हैं। आपको ही याद करने से हम आपके गले का हार बनेंगे। रुद्र माला तो प्रसिद्ध है। बाप ने समझाया है सब आत्मायें रुद्र की माला है। यह रूहानी झाड़ है। वह है जीनालॉजिकल मनुष्यों का झाड़, यह है आत्माओं का झाड़। झाड़ में सेक्शन भी हैं। देवी-देवताओं का सेक्शन, इस्लामियों का सेक्शन, बौद्धियों का सेक्शन। यह बातें और कोई समझा नहीं सकते। गीता का भगवान् ही सुनाते हैं। वही जन्म-मरण रहित है। उनको अजन्मा नहीं कह सकते। सिर्फ जन्म-मरण में आने वाला नहीं है। उनका स्थूल वा सूक्ष्म शरीर नहीं है। मन्दिरों में भी शिवलिंग को ही पूजते हैं, उनको ही परमात्मा कहते हैं। देवताओं के आगे ही जाकर महिमा गाते हैं। ब्रह्मा परमात्माए नम: कभी नहीं कहेंगे। शिव को ही हमेशा परमात्मा समझते हैं। शिव परमात्मा नम: कहेंगे। वह है मूलवतन, वह सूक्ष्मवतन और यह है स्थूल वतन।

अभी तुम बच्चे जानते हो कि यहाँ वह ज्ञान नहीं कि परमात्मा सर्वव्यापी है। यदि इनमें भी परमात्मा हो तो फिर इनको परमात्मा नम: कहा जाए। शरीर में होते परमात्मा नम: नहीं कहते। वास्तव में अक्षर ही है महान् आत्मा, पुण्य आत्मा, पाप आत्मा……। महान् परमात्मा नहीं कहा जाता। पुण्य परमात्मा वा पाप परमात्मा अक्षर भी नहीं है। यह तो समझने की बातें है ना। सिर्फ तुम बच्चे ही जानते हो कि इस पाठशाला में आने से प्रत्यक्षफल देने वाली प्राप्ति होती है। इस पढ़ाई से हम भविष्य में देवी-देवता बनेंगे और कोई ऐसा कह नहीं सकते। मनुष्य से देवता तो तुम बनते हो। देवताओं में प्रसिद्ध हैं लक्ष्मी-नारायण इसलिए सत्य नारायण की कथा कहते हैं। नारायण के साथ लक्ष्मी तो जरूर होगी। सत राम की कथा नहीं कहते। सत नारायण की कथा कहते हैं। अच्छा, उससे क्या होगा? नर से नारायण बनेंगे। बैरिस्टर द्वारा बैरिस्टर की कथा सुन बैरिस्टर बनेंगे। यहाँ तुम आते ही हो भविष्य 21 जन्मों की प्राप्ति के लिए। भविष्य 21 जन्मों की प्राप्ति भी तब होती है जब संगमयुग होता है। तुम जानते हो हम आये हैं बाप से सतयुगी राजधानी का वर्सा लेने। लेकिन पहले तो यह पक्का निश्चय चाहिए कि शिवबाबा हमारा बाबा है। इस ब्रह्मा का भी वह बाबा है। तो बी.के. का दादा हुआ। यह बाप कहते हैं यह मेरी प्रापर्टी नहीं है। दादा की प्रापर्टी तुमको मिलती है। शिवबाबा के पास ज्ञान रत्नों का धन है। एक-एक रत्न लाखों की मिलकियत है। इसकी कीमत इतनी भारी है जो 21 जन्म के लिए राज्य भाग्य कोई के स्वप्न में भी नहीं होगा। लक्ष्मी-नारायण आदि की पूजा तो भल करते आये हैं परन्तु यह किसको पता नहीं कि इन्होंने यह पद कैसे पाया? सतयुग की आयु लाखों वर्ष कह दी है इसलिए कुछ समझ नहीं सकते हैं। अभी तुम जानते हो उन्हों को राज्य किये 5 हजार वर्ष हुए। फिर एक संवत से शुरू हुई कहानी कही जाती है। लांग-लांग एगो…….. इस भारत में ही लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। भारत को बहिश्त, स्वर्ग कहा जाता है। यह किसकी बुद्धि में नहीं है। अभी तुम बच्चे जानते हो कल्प की आयु ही 5 हजार वर्ष है। इन शास्त्रों में जो लिखा है यह सब भी ड्रामा में नूंध है। इन्हें सुनने से परिणाम कुछ भी नहीं निकला। कितने शादमाने करते हैं। जगत अम्बा है तो एक ही परन्तु उनकी मूर्तियां कितनी बनाते हैं। तो जगत अम्बा सरस्वती ब्रह्मा की बेटी है। बाकी 8-10 भुजायें तो हैं नहीं। बाप कहते हैं यह सब भक्ति मार्ग की बड़ी सामग्री है। ज्ञान में तो यह कुछ नहीं है, चुप रहना है। बाप को याद करना है। ऐसी बहुत बच्चियां हैं जिन्होंने कभी देखा भी नहीं। लिखती हैं बाबा आप हमको पहचानते नहीं हो लेकिन मैं अच्छी रीति जानती हूँ। आप वही बाबा हो, हम आपसे वर्सा लेकर ही छोड़ेंगे। घर बैठे भी बहुतों को साक्षात्कार होते हैं। भल साक्षात्कार न भी हो तो भी लिखती रहती हैं। याद में एकदम लवलीन हो जाती हैं। बाप ही सद्गति दाता है, उनको कितना प्यार करना चाहिए। माँ-बाप से बच्चे एकदम लिपट जाते हैं क्योंकि माँ-बाप बच्चों को सुख देते हैं। लेकिन आजकल के माँ-बाप कोई सुख नहीं देते हैं और ही विकारों में फंसा देते हैं। बाप कहते हैं – पास्ट इज़ पास्ट। अब तुमको शिक्षा मिलती है – बच्चे, काम कटारी की बातें छोड़ पवित्र बनो क्योंकि अभी तुम्हें कृष्णपुरी में चलना है। कृष्ण का राज्य है ही सतयुग में। मनुष्यों ने कृष्ण को द्वापर में दिखा दिया है। ऐसे थोड़ेही सतयुग का प्रिन्स द्वापर में आकर गीता सुनायेंगे। उनको तो श्री नारायण बन सतयुग में राज्य करना है।

भगवानुवाच – इस समय सभी मनुष्यमात्र आसुरी स्वभाव वाले हैं। उनको दैवी स्वभाव वाला बनाने गीता का भगवान् आते हैं। उस बाप के बदले बच्चे का नाम लिख दिया है जिस बच्चे को फिर द्वापर में ले आये हैं। यह भी बड़ी भूल है। फिर तो यादव और पाण्डव सिद्ध न हों। तो बाप कहते हैं – बच्चे, तुम तो ऊंच दैवी कुल के थे फिर तुम्हारा यह हाल क्यों हुआ है? अब फिर तुमको देवता बनाता हूँ। मनुष्य, मनुष्य को स्वर्ग का राजा नहीं बना सकते। मनुष्य थोड़ेही स्वर्ग की स्थापना करेंगे। आत्मा को परमात्मा कहना कितनी बड़ी भूल है। सन्यासी तो मनुष्य से देवता बना न सके। यह तो बाप का ही काम है। आर्य समाजी, आर्य समाजी बनायेंगे। क्रिश्चियन, क्रिश्चियन बनायेंगे। ऐसे जिसके पास तुम जायेंगे वह वैसा ही बनायेंगे। देवता धर्म है ही सतयुग में, तो बाप को संगम पर आना पड़े। यह महाभारत युद्ध है, इस लड़ाई द्वारा ही तुम्हारी विजय होती है। विनाश के बाद फिर जय-जयकार होगी। तुम तो जानते हो विनाश भी जरूर होने वाला है। आज कोई तख्त पर बैठा तो उनको उतारने में देरी थोड़ेही करते हैं। क्या इसको स्वर्ग कहेंगे? यह तो पूरा नर्क है। इसको स्वर्ग कहना तो भूल है। मनुष्य कितने दु:खी हैं। आज कोई जन्मा तो खुशी-सुख और मरा तो दु:ख। यहाँ तो सबसे नष्टोमोहा होना पड़े। नहीं तो बाबा सर्विस पर जाने के लिए कभी नहीं कहेंगे। बाबा कहते मैं तो नष्टोमोहा हूँ। किसी चीज़ में मोह क्यों रखूँ। मैं कोई गृहस्थी थोड़ेही हूँ।

तुम बच्चे जानते हो बरोबर इस भंभोर को आग लगनी है, विनाश में देरी थोड़ेही लगती है। तुम कहाँ भाषण करते हो तो समझाते हो कि आकर बेहद के बाप से वर्सा लो। हद के बाप से हद का वर्सा मिलता है। तुमने 63 जन्म इस नर्क में लिये हैं। मैं 21 जन्म लिए तुमको स्वर्ग का वर्सा देने आया हूँ। अब रावण का वर्सा अच्छा या राम का? अगर रावण का अच्छा है तो उनको जलाते क्यों हो? शिवबाबा को कभी जलाते हो क्या? कृष्ण को थोड़ेही जलाते हैं। यह तो है ही रावण सम्प्रदाय। विकार से पैदा होते हैं। यह है वेश्यालय, विषय सागर। वह है वाइसलेस, शिवालय, अमृत सागर। क्षीर सागर में विष्णु को दिखाते हैं ना। अब क्षीर का सागर थोड़ेही होता है। दूध तो गऊ से निकलता है। अब देखो कहते हैं ईश्वर सर्वव्यापी है फिर अपने को शिवोहम् कहते क्योंकि खुद पवित्र रहते, दूसरे को ऐसे थोड़ेही कहते – तुम्हारे में ईश्वर है, तुम्हारे में नहीं है क्योंकि तुम पतित हो। आत्मा कहती है मैं अभी परमपिता परमात्मा द्वारा पावन बन रही हूँ, फिर पावन बन राज्य करेंगे। तुमने अनेक बार वर्सा लिया और गंवाया है। यह ड्रामा का चक्र बुद्धि में बैठ गया है। बाप समझाते हैं तुम सब पार्वतियां हो, मैं शिव हूँ। कथा आदि यहाँ की बात है, सूक्ष्मवतन में तो कथा आदि होती नहीं। अमरकथा तुमको सुनाते हैं अमरपुरी का मालिक बनाने। वह है अमरलोक, वहाँ तो सुख ही सुख है, मृत्युलोक में आदि-मध्य-अन्त दु:ख है। कितना अच्छी रीति समझाते हैं। जिन्होंने कल्प पहले बाप से वर्सा लिया था, उन्हों का ही अब पुरुषार्थ चलता है। इस समय तक जो मिशनरी चलती है, पहले भी इतनी चली थी। भल बाबा कहते हैं तुम सर्विस ठण्डी करते हो, परन्तु यह भी समझाते हैं कि कल्प पहले जो तुमने सर्विस की थी वही करते हो। पुरुषार्थ फिर भी करते रहना है। छोटे-छोटे दीपकों को तूफान हिला देंगे। खिवैया तो सबका एक बाप ही है। कहावत भी है – नईया मेरी पार लगाओ…… ड्रामा की भावी ऐसी बनी हुई है। सब उस पुरानी दुनिया तरफ जा रहे हैं। यहाँ हैं थोड़े। तुम कितने थोड़े हो। भल पिछाड़ी में बहुत होंगे तो भी रात-दिन का फ़र्क है। वह सारी रावण सम्प्रदाय है। बाप नशा तो बहुत चढ़ाते हैं फिर बाहर कुटुम्ब परिवार का मुँह देखा तो नशा हल्का हो जाता है। ऐसा होना नहीं चाहिए। आत्माओं को कहा जाता है तुम बाप से रूहरिहान करो – बाबा, हम आपके थे, आपने स्वर्ग में भेजा था। 21 जन्म राज्य किया फिर 63 जन्म दु:ख पाया। अब हम आपसे वर्सा लेकर ही छोड़ेंगे। बाबा, आप कितने अच्छे हो। हम आपको आधाकल्प भूल गये थे। बाबा कहते यह तो आनादि बना-बनाया ड्रामा है। मेरी भी यह ड्युटी है। मैं कल्प-कल्प आकर तुम बच्चों को माया से लिबरेट कर ब्राह्मण बनाए सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ सुनाता हूँ। मैं आता ही तब हूँ जब स्वर्ग बनाना है। तुम अब फरिश्ते बन रहे हो। प्योरिटी का भी साक्षात्कर कराते हैं। तुमको नष्टोमोहा भी बनना है। बाबा को अगर कोई कहते हैं- बाबा, हम सर्विस पर जायें? तो बाबा कहेंगे – अगर तुम नष्टोमोहा हो तो मालिक हो, जहाँ चाहे जाओ। मूंझते क्यों हो। मालिक हो, अन्धों को राह बतानी है। नष्टोमोहा नहीं हैं तब पूछते हैं। नष्टोमोहा हो तो यह भागे, वह ठहर न सकें। बड़ी मंज़िल है। बाप सर्विसएबुल बच्चों पर कुर्बान जाते हैं। पहले नम्बर में तो यह बाबा था ना। त्याग तो सब करते हैं परन्तु फिर भी इनका फर्स्ट नम्बर है।

बाबा कहते हैं देही-अभिमानी बनो अर्थात् अपने को अशरीरी समझो। बेहद का बाप तुमको 21 जन्मों का वर्सा देते हैं। अच्छा, वह आये कैसे? लिखा भी हुआ है – ब्रह्मा के मुख से रचना रचते हैं तो जरूर ब्रह्मा में ही आयेंगे। ब्रह्मा को ही प्रजापिता कहा जाता है तो उस बेहद के बाप से आकर वर्सा लो। यह बातें समझाने में लज्जा की तो कोई बात नहीं है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ब्रह्मा बाप समान त्याग में नम्बर आगे जाना है। रुद्र के गले का हार बनने के लिए जीते जी बलिहार जाना है।

2) सर्विसएबुल बनने के लिए नष्टोमोहा बनना है। अन्धों को राह बतानी है।

वरदान:- दुआ और दवा द्वारा तन-मन की बीमारी से मुक्त रहने वाले सदा सन्तुष्ट आत्मा भव
कभी शरीर बीमार भी हो तो शरीर की बीमारी से मन डिस्टर्ब न हो। सदैव खुशी में नाचते रहो तो शरीर भी ठीक हो जायेगा। मन की खुशी से शरीर को चलाओ तो दोनों एक्सरसाइज हो जायेंगी। खुशी है दुआ और एक्सरसाइज है दवाई। तो दुआ और दवा दोनों से तन मन की बीमारी से मुक्त हो जायेंगे। खुशी से दर्द भी भूल जायेगा। सदा तन-मन से सन्तुष्ट रहना है तो ज्यादा सोचो नहीं। अधिक सोचने से टाइम वेस्ट होता है और खुशी गायब हो जाती है।
स्लोगन:- विस्तार में भी सार को देखने का अभ्यास करो तो स्थिति सदा एकरस रहेगी।

TODAY MURLI 22 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 22 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 21 December 2017 :- Click Here

22/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Yogeshwar, the Father, has come to teach you Raja Yoga. It is only by studying this yoga that you will become conquerors of sin and then become world emperors and empresses in the future.
Question: What promise must you remember in order to be saved from sin?
Answer: Mine is one Shiv Baba and none other. Have true, spiritual love for the one Father. If you remember this promise you won’t perform sinful actions. Maya makes you body conscious and makes you perform wrong actions. Baba is the Master. Remember Him and battle with full force against Maya and you won’t be defeated.
Question: What hope does the Father have in His children?
Answer: Just as a physical father wants to give his children a high education, in the same way, the unlimited Father says: I want to make My children into angels of heaven. If you children just follow My shrimat you can become elevated.
Song: I have come having awakened my fortune.

Om shanti. You sweetest children know that you have come here to make your new fortune. To whom? To Yogeshwar, to God, who teaches you. This is called Raja Yoga. God is teaching yoga. Which yoga? There are many types of hatha yoga. This is not a physical yoga. Sannyasis have yoga with the elements and with brahm. God doesn’t teach them yoga. You children know that the Supreme Father, the Supreme Soul, is once again teaching you Raja Yoga as He did in the previous cycle. Sannyasis would never say that they taught this yoga in the previous cycle and that they are now teaching it once again. You children can say this. Those hatha yogis cannot teach Raja Yoga. It is Shiv Baba who teaches us and He is also called “Yogeshwar”. People call Krishna, “Yogeshwar” by mistake. Krishna is the prince of the golden age. There is no question of yoga there. This is a very good point. Learn the art of explaining to others. You have to explain tactfully. Everything for you depends on yoga. The more you stay in yoga, the more you will become conquerors of sin. The ancient yoga of Bharat is remembered very much. No one, apart from the Supreme Father, the Supreme Soul, can teach this Raja Yoga. That is why His name is Yogeshwar (God of yoga). It is only God who teaches Raja Yoga. For what does He teach Raja Yoga? Does He give the sovereignty of Bharat? No, it is not a question of Bharat alone. I teach you children Raja Yoga in order to make you into the masters of the whole world. This aim and objective is clear. Although someone may rule over a piece of land and not over the whole world, it would be said that he is a master of the world. You children know that you have come having created your fortune for the new world. The whole world becomes new. Bharat is the capital. In your new world too, Delhi will be the capital. That is remembered as the land of angels. You are the angels of knowledge. You take a dip in the Ocean of Knowledge and change from human beings into angels of heaven. This is the Mansarovar (lake that changes human beings into angels). It is said that by bathing in it human beings become angels. You have come here to become angels of heaven. You are receiving your sovereignty. You will have a lot of jewellery. You say that you are studying Raja Yoga through which you will become emperors and empresses in the future. However, you will only become that if you follow shrimat well. Don’t think that those who become subjects will also be called angels; no. You have to imbibe divine virtues by following shrimat. A physical father is attached to his children and so he wants his children to have a higher education. This Father also says: I will make you into the angels of heaven. To the extent that you follow shrimat, accordingly you will become elevated. There is no difficulty. The wealthy don’t have time to listen to this. Only the poor have time. No one else has as much time as you do. Those people who have a lot of concerns are unable to have yoga. Today, Baba asked a child: Do you know whose chariot you are serving? Someone who looks after horses would be aware of which master’s horse he is looking after. You also know whose chariot this is. If you serve this chariot while remembering Shiv Baba, you can claim a status higher than that of many others. This one is just the chariot, but you have to remember Shiv Baba. Even if you remember this much, your boat can go across. For where is Baba teaching you Raja Yoga? For the future new world. He teaches it at the confluence age. How could Krishna teach Raja Yoga? He was in the golden-aged kingdom, but who established that kingdom? The Father. Who made the ancient deities become that? Who taught them Raja Yoga? Those people mention Krishna’s name. The Father says: I teach you children at this time. You have come having awakened your fortune in order to claim a high status in the future new world. The Father says: Remember Me and become the masters of the pure world; there is no other way. On the one hand, they remember the Purifier and ask Him to come. On the other hand, they say that the rivers are the Purifier. This is such a big mistake. It is a small thing but you do have to open the eyes of human beings. When the Father comes He explains that He is the Purifier. I bathe you in knowledge and purify you. This is the impure world. Sannyasis teach many types of yoga. However, I am the only One who can teach Raja Yoga. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, Himself, is called the Purifier. You should remember Him so much! You also need good manners. We are becoming 16 celestial degrees full. Your food and drink should be pure. Some imbibe this quickly. ‘Liberation-in-life in a second  is remembered. There wouldn’t have been just one Janak. An example is given of just one. There wouldn’t have been just one Draupadi either. God maintains the honour of everyone. He saves both men and women from becoming impure. They have written Krishna’s name in the Gita. Whatever you children do at this time that becomes a memorial on the path of devotion. The Shiv Baba Temple is so big. The names of those who do service are glorified. The Dilwala Temple is your accurate memorial. Down below, you are doing tapasya and up above, there are pictures of the kingdom. You are now having yoga with the Father in order to become the masters of heaven. You also remember heaven. When a person dies, people say that he has gone to heaven. However, no one knows where heaven is. They believe that Bharat was heaven and then they say that it is up above. The Father explains: ‘Liberation-in-life in a second’ is remembered. Even then, they speak of the Ocean of Knowledge. Even if you make the trees of a forest into pens and the ocean into ink, this knowledge will not finish; it will continue till the end. Therefore, you have to make effort. It is right to say that it just takes a second. When you know the Father, the inheritance from Him is liberation-in-life. Together with that, how the cycle turns and how the religions are established is also explained to you. So many things have to be explained. Together with that, remember the Father and also remember your inheritance. You remember and also have the faith that you are claiming the sovereignty of the world. So, why do you then forget it? Therefore, Baba says: The more you remember Me, the more your sins will be absolved. This is why it takes time until you reach your karmateet stage. When you reach your karmateet stage, you won’t be able to stay here any longer. Baba has been explaining to you children for years. It is a very simple matter: Alpha and beta. Baba also tells you the secrets of the cycle. When you have all the secrets in your intellects you also have to explain to others. You have the whole tree in your intellects. You have to claim the easiest inheritance from the Father. Some say: Baba, I’m unable to have yoga. Maya makes me commit sin. The Father explains: Children, if you commit sin, you will have to make a lot of effort. Maya makes you body conscious and makes you perform wrong actions. The Father says: Children, after belonging to Me, don’t perform any sinful actions. You promised that you would belong to one Shiv Baba and none other. When a kumari gets engaged she has so much love for her husband-to-be. Therefore, you should have so much love for the unlimited Father. Your love is so incognito. That is physical whereas this is spiritual. They have developed that practice. Here, you repeatedly forget because this is something new. You have to consider yourselves to be souls and remember the Father. You are Godly helpers. You are spiritual servers. You are standing on the battlefield. Baba, the Master, is also standing with you. He says: Fight Maya with full force so that these five vices don’t interfere. Some write: Baba, an evil spirit came. Baba says: Continue to chase away those evil spirits. They will continue to come till the end and they will bring very powerful storms. Storms that you never had on the path of ignorance will also come. You would say that you were in the stage of retirement and never had such thoughts but that, after coming into knowledge, there was the intoxication of lust. You also have such dreams. What is this? This is wonderful knowledge. Some become confused and leave. Baba tells you that many storms will come. The stronger you become, the more Maya will make you fall, and this is why you have to become mahavirs and stable. Stay in remembrance of Baba. You mustn’t put those thoughts into practice. By putting them into practice, you commit sin. You have to make a lot of effort and remove bad habits. The eternal Surgeon knows and this Baba also knows that there are many types of obstacle from Maya. Here, you have to become very pure. If you want to become part of the sun dynasty you have to become worthy. This is Raja Yoga, yoga to become kings, not yoga to become subjects. Therefore, make effort and claim the kingdom. You can go anywhere tactfully, in an incognito way. Say to them: Tell us whom we should remember so that we can be liberated from sorrow. People speak of the ancient yoga of Bharat, but what is that? Can you teach us Raja Yoga so that we can become kings? You should ask them such things and bring them into knowledge. Show such bravery that their intellects become receptive to just one thing. You need those who are diplomatic. That is why Baba asks: Have you become serviceable enough? You have to be very cautious. At this time the world is very dirty. There is a story about this of how Kichak (one with impure vision) chased Draupadi. This is why Baba says that you have to be very cautious. The main thing is Raja Yoga. Explain to anyone who comes that it was the Father who taught Raja Yoga and yet the name of the child was mentioned. Secondly, also prove that Krishna is not God at all. The God of the Gita is Shiva from whom we receive the inheritance of heaven. You need wise methods to explain this. Your service is spiritual whereas those social workers do physical service. That is worldly society and this is spiritual society. Spirits are given an injection and this is why it is said: When the Satguru gives you the ointment of knowledge… Now, the light of the soul is extinguished. When a person dies, people light a lamp. They believe that the soul would otherwise be in darkness. There truly is unlimited darkness. There hasn’t been any oil poured (into souls) for half the cycle. The light of souls has been extinguished. Now, by the oil of knowledge being poured in, there is light. The Father now tells you children: Constantly remember Me alone! Krishna cannot say this. We souls are brothers. We are claiming our inheritance from the Father. It is good to write a chart of how long you stay in remembrance of Baba. By your practising this, that stage will then become firm. This method is good. Also continue to do service. Keep your chart and you will continue to make progress. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Be very careful that no evil spirit enters you. Never become confused by the storms of Maya. Remove bad habits.
  2. Keep your chart of remembrance. Together with that, become a spiritual server and give souls an injection of knowledge.
Blessing: May you be free from spinning between remembrance and forgetfulness and make your life as valuable as a diamond.
This confluence age is the age for remembrance whereas the iron age is the age of forgetfulness. If you constantly have the awareness of your elevated part and your elevated fortune, you will then become as valuable as a diamond. However, if you forget it, then you are a stone. This is the game of remembrance and forgetfulness. Residents of the confluence age can never tour around the iron age. If your intellect goes there, even slightly, you will then become trapped in a whirlwind because there is a lot of splendour in the iron age, but that splendour is deceptive.
Slogan: Those who keep their physical organs and senses in law and order are true Raj Yogis.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 22 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 22 December 2017

To Read Murli 21 December 2017 :- Click Here
22/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – योगेश्वर बाप आये हैं तुम्हें राजयोग सिखलाने, इस योग से ही तुम विकर्माजीत बन भविष्य में विश्व महाराजा-महारानी बनते हो”
प्रश्नः- विकर्मों से बचने के लिए कौन सी प्रतिज्ञा याद रखो?
उत्तर:- मेरा तो एक शिवबाबा दूसरा न कोई। एक बाप से सच्चा रूहानी लव रखना है। यह प्रतिज्ञा याद रहे तो विकर्म नहीं होगा। माया देह-अभिमान में लाकर उल्टा कर्म कराती है। बाबा उस्ताद है, उसे याद कर माया से पूरी युद्ध करो तो हार नहीं हो सकती।
प्रश्नः- बाप को अपने बच्चों प्रति कौन सी आश है?
उत्तर:- जैसे लौकिक बाप चाहते हैं मैं बच्चों को ऊंच पढ़ाऊं, बेहद का बाप भी कहते हैं मैं अपने बच्चों को स्वर्ग की परी बना दूँ। बच्चे सिर्फ मेरी श्रीमत पर चले तो श्रेष्ठ बन जायें।
गीत:- तकदीर जगाकर आई हूँ……

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चे जानते हैं हम अपनी नई तकदीर बनाने यहाँ आये हैं। किसके पास? योगेश्वर के पास, सिखलाने वाले ईश्वर के पास। इसको कहते हैं राजयोग। ईश्वर योग सिखलाते हैं, कौन सा योग? हठयोग तो अनेक प्रकार का है। यह जिस्मानी योग नहीं है। सन्यासियों का तत्व योग, ब्रह्म योग है। उनको ईश्वर योग नहीं सिखाते। तुम बच्चे जानते हो परमपिता परमात्मा हमको फिर से कल्प पहले मुआफिक राजयोग सिखलाते हैं। सन्यासी ऐसे कभी नहीं कहेंगे। यह योग कल्प पहले भी सिखाया था और अभी भी सिखला रहा हूँ। तुम बच्चे कह सकते हो, वह हठयोगी राजयोग सिखला नहीं सकते हैं। हमको सिखलाने वाला शिवबाबा है, जिसको योगेश्वर कहा जाता है। मनुष्य भूल से कृष्ण को योगेश्वर कह देते हैं। कृष्ण सतयुग का प्रिन्स है, वहाँ योग की बात ही नहीं। यह बहुत अच्छी प्वाइंट है, समझाने की तरकीब सीखो। युक्ति से समझाया जाता है। तुम्हारा सारा मदार योग पर है, जितना योग में रहेंगे उतना विकर्माजीत बनेंगे। भारत का प्राचीन योग बहुत गाया हुआ है। यह राजयोग परमपिता परमात्मा के सिवाए कोई सिखला न सके, इसलिए इनका नाम योगेश्वर है। ईश्वर ही राजयोग सिखलाते हैं। किसके लिए राजयोग सिखलाते हैं? क्या भारत को राजाई देते हैं? नहीं, सिर्फ भारत की बात नहीं। तुम बच्चों को सारे विश्व का मालिक बनाने के लिए राजयोग सिखलाते हैं। यह एम आब्जेक्ट क्लीयर है। भल राजाई कोई टुकड़े पर करेंगे, विश्व में तो नहीं करेंगे परन्तु कहने में आता है विश्व का मालिक।

तुम बच्चे जानते हो नई दुनिया के लिए हम तकदीर बनाकर आये हैं। सारी विश्व नई बन जाती है। कैपीटल भारत है। तुम्हारे नये विश्व में भी कैपीटल देहली होगी। उनका नाम गाया हुआ है परिस्तान। तुम हो ज्ञान परियां। ज्ञान सागर में गोता खाकर मनुष्य से बदल स्वर्ग की परियां बन जाते हो। यह मान सरोवर है ना। कहते हैं वहाँ स्नान करने से मनुष्य परी बन जाते हैं। तुम यहाँ आये हो स्वर्ग की परियां बनने के लिए। तुम बादशाही लेते हो। तुम्हारे पास जेवर आदि ढेर होंगे। तुम कहेंगे हम राजयोग सीखते हैं, जिससे हम भविष्य में महाराजा महारानी बनेंगे। परन्तु अगर श्रीमत पर अच्छी रीति चलेंगे तो। ऐसे मत समझना कि प्रजा में जाने वाले को परी कहेंगे, नहीं। श्रीमत पर दैवीगुण धारण करने हैं। लौकिक बाप का बच्चों में मोह होता है तो कहते हैं बच्चों को ऊंच पढ़ाऊं। यह बाप भी कहते हैं इन्हों को एकदम स्वर्ग की परी बना दूँ। श्रीमत पर जितना चलेंगे उतना श्रेष्ठ बनेंगे। कोई भी तकलीफ नहीं है। साहूकारों को सुनने की फुर्सत नहीं मिलती, सिर्फ गरीबों को फुर्सत मिलती है। तुम्हारे जितनी फुर्सत किसको नहीं है, जिनको लफड़े ज्यादा हैं, उनका योग लग नहीं सकता।

आज बाबा बच्ची से पूछ रहा था कि तुम जानती हो कि हम किसके रथ की सेवा कर रहे हैं। घोड़े की सम्भाल करने वाला समझेगा कि हम फलाने साहेब के घोड़े की सम्भाल कर रहे हैं। तुम भी जानते हो यह किसका रथ है। अगर शिवबाबा को याद कर तुम इस रथ की सेवा करो तो तुम बहुतों से अच्छा पद पा सकती हो। यह हुआ रथ, याद तो शिवबाबा को करना है। यह भी याद रहे तो बेड़ा पार हो सकता है। बाबा कहाँ के लिए राजयोग सिखलाते हैं? भविष्य नई दुनिया के लिए, और सिखाते हैं संगम पर। कृष्ण कैसे राजयोग सिखायेंगे? वह तो सतयुगी राजाई में था, परन्तु वह राजाई किसने स्थापन की? बाप ने। प्राचीन देवी-देवताओं को ऐसा किसने बनाया? किसने राजयोग सिखाया? वह कृष्ण का नाम लेते हैं। बाप कहते हैं मैं तुम बच्चों को अभी सिखला रहा हूँ। तुम तकदीर जगाकर आये हो, भविष्य नई दुनिया में ऊंच पद पाने के लिए। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो पवित्र दुनिया का मालिक बनो और कोई उपाय नहीं। एक तरफ याद करते हैं पतित-पावन आओ। दूसरे तरफ नदियों को कहते हैं पतित-पावनी… कितनी भूल है, बात छोटी है परन्तु मनुष्यों की आंख खोलनी है। बाप जब आते हैं आकर समझाते हैं कि पतित-पावन मैं हूँ। मैं ही तुमको ज्ञान स्नान कराए पावन बनाता हूँ। यह पतित दुनिया है। सन्यासी अनेक प्रकार के योग सिखलाते हैं। परन्तु राजयोग तो एक ही सिखलाने वाला मैं हूँ। परमपिता परमात्मा को ही पतित-पावन कहते हैं। उनको कितना याद करना चाहिए, फिर मैनर्स भी अच्छे चाहिए। हम 16 कला सम्पूर्ण बनते हैं। खान-पान शुद्ध होना चाहिए। कोई झट धारण करते हैं। गाया हुआ है सेकेण्ड में जीवनमुक्ति। एक जनक थोड़ेही होगा। मिसाल एक का दिया जाता है। द्रोपदी एक थोड़ेही होगी, सबकी लाज़ रखते हैं। स्त्री पुरुष दोनों को पतित होने से बचाते हैं। गीता में कृष्ण का नाम लिख दिया है। इस समय तुम बच्चे जो कुछ भी करते हो, भक्ति में यादगार बनता है। शिवबाबा का कितना बड़ा मन्दिर है। जो सर्विस करते हैं, उनका नामाचार निकलता है। तुम्हारा देलवाड़ा मन्दिर एक्यूरेट यादगार है। नीचे तपस्या कर रहे हो ऊपर राजाई के चित्र खड़े हैं। अभी तुम बाप से योग लगा रहे हो, स्वर्ग का मालिक बनने के लिए। स्वर्ग को भी याद करते हो। कोई मरता है कहते हैं स्वर्ग पधारा, परन्तु स्वर्ग है कहाँ, यह किसको मालूम नहीं। समझते हैं भारत स्वर्ग था फिर ऊपर कह देते हैं। बाप समझाते हैं सेकेण्ड में जीवनमुक्ति गाई हुई है। फिर भी कहते हैं ज्ञान का सागर है। जंगल को कलम बनाओ, सागर को स्याही बनाओ.. तो भी खुटता नहीं, पिछाड़ी तक चलेगा। तो मेहनत की जाती है ना। सेकेण्ड की बात भी ठीक है। बाप को जाना तो बाप का वर्सा है जीवनमुक्ति। साथ-साथ यह समझाया जाता है तो चक्र कैसे फिरता है, धर्म कैसे स्थापन होते हैं। कितनी बातें हैं समझाने की। साथ में बाबा को याद करो, वर्से को याद करो। तुम याद करते हो, निश्चय भी करते हो – हम विश्व की बादशाही ले रहे हैं। फिर क्यों भूल जाते हो? बाबा कहते हैं जितना याद करेंगे, उतने विकर्म विनाश होंगे, इसमें टाइम लगता है, जब तक कर्मातीत अवस्था हो जाये। कर्मातीत अवस्था हो गई फिर तो तुम यहाँ रह नहीं सकते हो। बच्चों को वर्षों से समझाते रहते हैं – बात है बिल्कुल सहज। अल्फ और बे, चक्र का राज़ भी बाबा समझाते हैं। बुद्धि में पूरा राज़ आता है तो फिर औरों को भी समझाना पड़ता है। सारा झाड़ बुद्धि में आ जाता है। बाप से सहज ते सहज वर्सा लेना है। कहते हैं बाबा योग नहीं लगता। माया विकर्म करा देती है। बाप समझाते हैं बच्चे अगर विकर्म कर लिया फिर तो बहुत पुरुषार्थ करना पड़ेगा। माया देह-अभिमान में लाकर उल्टा काम करा लेती है। बाप कहते बच्चे मेरा बनकर कोई भी विकर्म नहीं करो। तुमने प्रतिज्ञा की है – मेरा तो एक शिवबाबा, दूसरा न कोई। जैसे कन्या की जब सगाई होती है तो पति के साथ कितना लव हो जाता है। तो बेहद के बाप से कितना लव होना चाहिए। तुम्हारा कितना गुप्त लव है। वह है जिस्मानी, यह है रूहानी। उनकी प्रैक्टिस पड़ गई है। यह तुम घड़ी-घड़ी भूल जाते हो क्योंकि नई बात है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। तुम हो खुदाई खिदमतगार। तुम हो रूहानी सेवाधारी। तुम लड़ाई के मैदान में खड़े हो। बाबा उस्ताद भी खड़ा है। कहते हैं माया के साथ पूरी युद्ध करो, जो यह 5 विकार प्रवेश ही न करें। लिखते हैं बाबा यह भूत आ गया। बाबा कहते हैं इन भूतों को भगाते रहो। यह तो अन्त तक आयेंगे और ही ज़ोर से तूफान आयेंगे। अज्ञान में भी कभी नहीं आये होंगे वह भी आयेंगे। तुम कहेंगे वानप्रस्थ में थे, कभी ख्याल भी नहीं आता था। ज्ञान में आने से काम का नशा आ गया। स्वप्न भी आते रहते हैं, यह क्या? यह वन्डरफुल ज्ञान है। कोई मूँझकर छोड़ भी जाते हैं। बाबा बता देता है – तूफान बहुत आयेंगे। जितना पहलवान बनेंगे माया खुद पछाड़ेगी, इसलिए महावीर बन स्थेरियम रहना है। बाबा की याद में रहना है। कर्म में नहीं आना है। कर्म में आने से विकर्म बन जाता है। बहुत पुरुषार्थ करना है, खराब आदतें निकालनी हैं। अविनाशी सर्जन जानते हैं, यह बाबा भी जानते हैं। माया के अनेक प्रकार के विघ्न पड़ते हैं। यहाँ बहुत शुद्ध बनना है। चाहते हो हम सूर्यवंशी बनें तो लायक बनना पड़े। यह है राजयोग, प्रजा योग नहीं है। तो पुरुषार्थ कर राजाई लेनी चाहिए। तुम युक्ति से गुप्त रीति से कहाँ भी जा सकते हो। बोलो – हमको बताओ हम किसको याद करें, जो हम दु:ख से छूट जायें? भला कहते हैं – भारत का प्राचीन योग, वह क्या है? आप हमको राजयोग सिखला सकते हो जो हम राजा बनें? ऐसी-ऐसी बातें करते ज्ञान में ले आना चाहिए। तुम ऐसी पहलवानी दिखाओ जो एक ही बात से उनकी बुद्धि ढीली हो जाए। युक्ति वाले चाहिए, तब बाबा पूछते हैं इतने सर्विसएबुल बने हो? बहुत सम्भाल रखनी पड़ती है। दुनिया इस समय बहुत गंदी है। यह भी एक कहानी है। द्रोपदी के पिछाड़ी कीचक लगे… इसलिए बाबा कहते हैं बहुत खबरदार रहना है। मूल बात है राजयोग की। किसको भी यह समझाओ कि राजयोग सिखलाया बाप ने, नाम डाला है बच्चे का। दूसरी यह बात सिद्ध करो कि कृष्ण भगवान बिल्कुल नहीं है। गीता का भगवान शिव है, जिससे स्वर्ग का वर्सा मिलता है। समझाने की युक्ति चाहिए।

तुम्हारी सर्विस है रूहानी। वह सोशल सर्विस भी जिस्मानी करते हैं। वह है जिस्मानी सोसायटी। यह है रूहानी सोसायटी। रूह को इन्जेक्शन लगता है तब कहते हैं ज्ञान अंजन सतगुरू दिया…. अब आत्मा की ज्योत बुझी हुई है। मनुष्य जब मरते हैं तो दीवा जलाते हैं। समझते हैं आत्मा अन्धेरे में जायेगी। बरोबर बेहद का अन्धियारा है। आधाकल्प घृत नहीं पड़ा है। आत्मा की ज्योति बुझ गई है। अब ज्ञान का घृत पड़ने से रोशनी हो जाती है। अब बाप बच्चों को कहते हैं कि मामेकम् याद करो। यह कृष्ण तो नहीं कह सकते। हम आत्मा भाई-भाई हैं, बाप से वर्सा ले रहे हैं। अच्छा हम कितना समय याद में रहते हैं – यह चार्ट रखना अच्छा है। प्रैक्टिस करते-करते फिर वह अवस्था पक्की हो जायेगी। यह युक्ति अच्छी है, सर्विस भी करते रहो। चार्ट भी रखो, फिर उन्नति को पाते रहेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कोई भी भूत अन्दर प्रवेश न हो, इसकी सम्भाल रखनी है। कभी भी माया के तूफानों में मूँझना नहीं है। खराब आदतें निकाल देनी है।

2) याद का चार्ट रखना है, साथ-साथ रूहानी सेवाधारी बन रूहों को ज्ञान का इन्जेक्शन लगाना है।

वरदान:- अपनी जीवन को हीरे समान वैल्युबुल बनाने वाले स्मृति और विस्मृति के चक्कर से मुक्त भव 
यह संगमयुग स्मृति का युग है और कलियुग विस्मृति का युग है। अगर अपने श्रेष्ठ पार्ट, श्रेष्ठ भाग्य की सदा स्मृति है तो हीरे समान वैल्युबुल हो और अगर विस्मृति है तो पत्थर हो। यह स्मृति और विस्मृति का खेल है। संगमयुग के रहवासी कभी कलियुग में चक्कर लगाने जा नहीं सकते। अगर थोड़ा भी बुद्धि गई तो चक्कर में फंस जायेंगे क्योंकि कलियुग में बहुत रौनक है लेकिन वह रौनक धोखा देने वाली है।
स्लोगन:- अपनी कर्मेन्द्रियों को लॉ और आर्डर प्रमाण चलाने वाले ही सच्चे राजयोगी हैं।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize