today murli 21 november

TODAY MURLI 21 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 21 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 20 November 2018 :- Click Here

21/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become pure and worthy of receiving liberation and salvation. Impure souls are not worthy of receiving liberation or salvation. The unlimited Father is making you worthy in an unlimited way.
Question: Whom would you call faithful to the Father? Say what their main signs are.
Answer: Those who fully follow the Father’s shrimat, who practise being bodiless and who stay in unadulterated remembrance are faithful to the Father. Only such worthy children are able to imbibe everything. They constantly continue to have thoughts of service. The vessels of their intellects continue to become pure. They can never divorce the Father.
Song: The heart says thanks to the One who has given it support!

Om shanti. Children say thanks, numberwise, according to their efforts. Not everyone says thanks to the same extent. Those souls who have very good faith in their intellects and who are engaged in the Father’s servic e wholeheartedly with a lot of love are the ones who say thanks from within: Baba, it is Your wonder. We didn’t know anything. We were not worthy of meeting You. That is true. Maya has made everyone unworthy. They don’t know who makes you worthy of heaven and who makes you worthy of hell. They believe that it is the Father who makes you worthy of both liberation and salvation. Otherwise, no one is worthy of that. They say of themselves that they are impure. This world is impure. Sages and holy men etc. don’t know the Father. The Father has now given you children His introduction. The law is that the Father Himself has to come to give His introduction. He has to come here and make you worthy and pure. If He were able to make you pure from where He is sitting up there, why would you become so unworthy? Among you children too, the faith you have in your intellects is numberwise according to the efforts you make. You should have the wisdom of knowing how to give the Father’s introduction. It is definitely said: Salutations to Shiva. He alone is the Mother and Father, the Highest on High. Brahma, Vishnu and Shankar are a creation. It must definitely have been the Father who created them. There would also be the Mother. God, the Father of All, is definitely One. Only the incorporeal One is called God. The Creator is always just the One. First of all, you have to give the introduction of Alpha. You also need to understand how to give the introduction in a tactfulway. God alone is the Ocean of Knowledge. He alone came and taught you Raja Yoga. Who is that God? First of all, give the recognition of Alpha. The Father is incorporeal and souls are also incorporeal. That incorporeal Father comes and gives you children the inheritance. He would have to explain through someone. How else did He make you into kings of kings? Who established the golden-aged kingdom? Who is the Creator of heaven? It would definitely be H eavenly God, the Father. It has to be the incorporeal One. First of all, you have to give the Father’s introduction. Krishna, Brahma, Vishnu and Shankar would not be called the Father ;they are created. If the residents of the subtle region are created and they too are a creation, then how could those of the corporeal world be called God? It is remembered: Salutations to the deities. The other is: Salutations to Shiva. This is the main thing. You wouldn’t repeatedly explain the same thing in an exhibition. Here, you have to explain to each one very well and inspire them to have faith. Whoever comes, first of all tell them: Come and we can give you a vision of the Father. You are to receive the inheritance from the Father. It is the Father, not Krishna, who taught you Raja Yoga in the Gita. The Father Himself is the God of the Gita. This is the number one thing. It is not that God Krishna speaks. It is said: God Rudra speaks. Or: God Somnath speaks. Or: God Shiva speaks. Every human being’s life story is individual; one cannot be the same as another’s. Whoever comes, first of all explain this aspect to them. This is the main thing to explain. This is the occupation of the Supreme Father, the Supreme Soul. That One is the Father and this one is a child. He is H eavenly God, the Father , whereas this one is the heavenly prince. You have to explain this very clearly. The main thing is the Gita, because all the other scriptures are based on that. It is said: The Bhagawad Gita is the jewel, the mother, of all scriptures. People ask: Do you believe in the Vedas and scriptures? Oh! everyone would definitely believe in the scripture of his own religion. They would not believe in all the scriptures. Yes, there definitely are all the scriptures but, before knowing the scriptures, the main thing is to first know the Father from whom you are to receive the inheritance. You don’t receive the inheritance from the scriptures. You receive the inheritance from the Father. They have made a book of the knowledge and the inheritance that the Father gave. First of all, you have to take up the Gita. Who is the God of the Gita? It is in that that Raja Yoga is mentioned. Raja Yoga would surely be for the new world. God would not come and make everyone impure. He has to create pure emperors. First of all, give the Father’s introduction and make them write: I truly have the faith that this is my Father. First of all, you have to explain: Salutations to Shiva. You are the Mother and You are the Father. The praise is of that Father. God has to come here to give the fruit of devotion. You have now understood what the fruit of devotion is. Only those who have done a lot of devotion will receive that fruit. These things are not mentioned in the scriptures. Among you too, you know this, numberwise, according to the efforts you make. It is explained that He is your unlimited Mother and Father. Jagadamba and Jagadpita are also remembered. Adam and Eve are understood to be human beings. They call Eve the mother. No one knows in the right way who Eve is. The Father sits here and explains. Yes, no one understands it instantly. A study takes time. By studying, they eventually become barristers There definitely is an aim and object ive. If you have to become deities, you first of all have to give the Father’s introduction. People sing: You are the Mother and Father. Then, they also say: O Purifier, come! So what is called the impure world and what is called the pure world? Will the iron age still remain for another 40,000 years? Achcha, the One who makes you pure is the one Father, is He not? It is God , the Father , who establishes heaven. It cannot be Krishna; he received the inheritance. That Shri Krishna is the prince of heaven whereas Shiv Baba is the Creator of heaven. That one is a creation, the first prince. You should make this clear and write it in big letters so that it will be easy for you to explain. They would then know about the Creator and the creation. Only the Creator is knowledgefull. He is the One who teaches you Raja Yoga. He is not a king. He teaches you Raja Yoga and makes you into kings of kings. God taught Raja Yoga and Shri Krishna attained the royal status. He lost it and he has to attain it again. This can be explained very well using the pictures. The Father’s occupation is definitely needed. By putting Shri Krishna’s name, Bharat becomes like a shell. By knowing Shiv Baba, Bharat becomes like a diamond. However, it first has to sit in your intellects that He is your Father. It is the Father who first of all created the new world of heaven. It is now the old world. Raja Yoga is mentioned in the Gita. People abroad also want to study Raja Yoga. They have studied it from the Gita. You now know it and you try to explain to others who the Father is. He is not omnipresent. If He were omnipresent, how would He teach us Raja Yoga? You should think a great deal about this mistake. Only those who remain engaged in service will continue to think about this. You will be able to imbibe knowledge when you follow the Father’s shrimat, when you become bodiless, remain “Manmanabhav”, become a faithful bride who remains faithful to the Father, that is, when you become a worthy child. The Father orders you: Continue to increase your remembrance as much as possible. By coming into body consciousness, neither do you remember Me nor does your intellect become pure. It is said that a golden vessel is needed to hold the milk of a lioness. Here, a vessel that is faithful to the Father is needed. There are very few who are unadulterated and faithful to the Father. Some don’t know anything at all; they are like little children. Although they are sitting here, they don’t understand anything. It is like getting children married in their childhood. The parents make them sit on their laps and get them married. They would be friends and they would have a lot of love and so the parents would quickly get their children married. So this is the same. They want to get engaged but they don’t understand anything. We belong to Mama and Baba and we have to claim our inheritance from Him. They don’t know anything. It is a wonder. They stay here for five or six years and then divorce the Father, the Husband. Maya harasses them so much. So, first of all, you have to say to them: Salutations to Shiva. He is also the Creator of Brahma, Vishnu and Shankar. Shiva is the Ocean of Knowledge. So, what should you do now? There is space next to the Trimurti and so you should write in that: The occupation s of Shiv Baba and Krishna are separate from each other. When you explain this thing first, their foreheads will open. This study is for the future. There is no other study like this one. You cannot receive these experiences from the scriptures. It is in your intellects that you are studying for the beginning of the golden age. We will finish school and take the final paper. We will go and rule there. Those who relate the Gita cannot explain such things. First of all, you have to know the Father. You have to claim your inheritance from the Father. The Father alone is Trikaldarshi. No human being in the world is trikaldarshi. In fact, those who are worthy of worship then become worshippers. You are the ones who have done devotion. No one else knows this. Those who have done devotion are number one; they are Brahma and the mouth-born creation of Brahma. This one is himself the one who becomes worthy of worship. He is the number one worthy-of-worship one and he then becomes the number one worshipper. Then he will become worthy of worship again. He is also the first one to receive the fruit of devotion. Brahmins study and then become deities. This is not written anywhere. Bhishampitamai etc. are now aware that it is someone else who inspires you to shoot arrows. They would definitely understand that there is some power. Even now, they say: There is some power who is teaching them. Baba sees: All of these are My children. He (Shiv Baba) would see everything with these eyes (Brahma). When they feed a departed spirit, that soul comes and sees: This one is so-and-so. When that person eats, his eyes would become like those of the soul who has been invoked. The soul takes a temporary loan. This only happens in Bharat. In ancient Bharat there is first of all Radhe and Krishna. The ones who give them birth are not considered to be as elevated; they passed to a lesser extent. Praise first of all begins with Krishna. Radhe and Krishna each come in their own kingdoms. The names of the children are greater than those of their parents. These are such wonderful matters! There is incognito happiness. The Father says: I only enter an ordinary body. He has to look after such a big group of mothers and so He has taken an ordinary body through whom the expenses can continue to be met. This is Shiv Baba’s bhandara (treasure-store). He is the Innocent Treasurer of the imperishable jewels of knowledge, and you are the adopted children who are also looked after. Only you children know this. When you first begin, start with: Lord Shiva speaks. He is the Creator of all. Then, ask: How can Krishna be called the Ocean of Knowledge or God, the Father? The writing should be so clear that it sits in their intellects very well when they read it. Some people take two to three years to understand this. God has to come and give the fruit of devotion. The Father created this sacrificial fire through Brahma. He taught Brahmins and made them into deities. You then had to come down. This is a very good explanation. First of all, you have to prove that Shri Krishna is the heavenly prince; he is not heavenly God the Father. People have become completely tamopradhan through the notion of omnipresence. They have forgotten the One who gave them their sovereignty. Baba gives the kingdom every cycle and we then forget Baba. It is so amazing! You should dance in happiness throughout the whole day. Baba is making us into the masters of the world! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Be faithful to the Father in an unadulterated way. Increase remembrance and make your intellect pure.
  2. Create ways to give the Father’s introduction in a tactful way. Churn the ocean of knowledge and prove who Alpha is. Let your intellect have faith and do service.
Blessing: May you be free from carelessness and become an example by wearing correct glasses for self-progress.
The children who simply check themselves with a broad (gross) head wear glasses of carelessness. All they can see is that whatever they do, it is a lot. “I am better than this one or that one; even the well-known souls have a few weaknesses.” However, those who check themselves with honest hearts wear correct glasses for self-progress, they simply see the Father and themselves, they do not see what a second or third person is doing. They simply have the concern of having to change themselves. They become example s for others.
Slogan: Finish the roots of all limitations and you will be able to have the intoxication of an unlimited sovereignty.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 21 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 November 2018

To Read Murli 20 November 2018 :- Click Here
21-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – पावन बन गति-सद्गति के लायक बनो। पतित आत्मा गति-सद्गति के लायक नहीं। बेहद का बाप तुम्हें बेहद का लायक बनाते हैं।
प्रश्नः- पिताव्रता किसे कहेंगे? उसकी मुख्य निशानी सुनाओ?
उत्तर:- पिताव्रता वह है जो बाप की श्रीमत पर पूरा चलते हैं, अशरीरी बनने का अभ्यास करते हैं, अव्यभिचारी याद में रहते हैं, ऐसे सपूत बच्चे ही हर बात की धारणा कर सकेंगे। उनके ख्यालात सर्विस के प्रति सदा चलते रहेंगे। उनका बुद्धि रूपी बर्तन पवित्र होता जाता है। वह कभी भी फ़ारकती नहीं दे सकते हैं।
गीत:- मुझको सहारा देने वाले…….. 

ओम् शान्ति। बच्चे शुक्रिया मानते हैं नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। सब एक जैसी शुक्रिया नहीं मानते, जो अच्छे निश्चयबुद्धि होंगे और जो बाप की सर्विस पर दिल व जान, सिक व प्रेम से उपस्थित हैं, वो ही अन्दर में शुक्रिया मानते हैं – बाबा कमाल है आपकी, हम तो कुछ नहीं जानते थे। हम तो लायक नहीं थे – आपसे मिलने के। सो तो बरोबर है, माया ने सबको न लायक बना दिया है। उनको पता ही नहीं है कि स्वर्ग का लायक कौन बनाता है और फिर नर्क का लायक कौन बनाते हैं? वह तो समझते हैं कि गति और सद्गति दोनों का लायक बनाते हैं बाप। नहीं तो वहाँ के लायक कोई हैं नहीं। खुद भी कहते हैं हम पतित हैं। यह दुनिया ही पतित है। साधू-सन्त आदि कोई भी बाप को नहीं जानते। अभी बाप ने तुम बच्चों को अपना परिचय दिया है। कायदा भी है बाप को ही आकर परिचय देना है। यहाँ ही आकर लायक बनाना है, पावन बनाना है। वहाँ बैठे अगर पावन बना सकते तो फिर इतने ना लायक बनते ही क्यों?

तुम बच्चों में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार ही निश्चयबुद्धि हैं। बाप का परिचय कैसे देना चाहिए – यह भी अक्ल होना चाहिए। शिवाए नम: भी जरूर है। वही मात-पिता ऊंच ते ऊंच है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर तो रचना हैं। उनको क्रियेट करने वाला जरूर बाप होगा, माँ भी होनी चाहिए। सबका गॉड फादर तो एक है जरूर। निराकार को ही गॉड कहा जाता है। क्रियेटर हमेशा एक ही होता है। पहले-पहले तो परिचय देना पड़े अल्फ का। यह युक्तियुक्त परिचय कैसे दिया जाए – वह भी समझना है। भगवान् ही ज्ञान का सागर है, उसने ही आकर राजयोग सिखाया। वह भगवान् कौन है? पहले अल्फ की पहचान देनी है। बाप भी निराकार है, आत्मा भी निराकार है। वह निराकार बाप आकर बच्चों को वर्सा देते हैं। किसी के द्वारा तो समझायेंगे ना। नहीं तो राजाओं का राजा कैसे बनाया? सतयुगी राज्य किसने स्थापन किया? हेविन का रचयिता कौन है? जरूर हेविनली गॉड फादर ही होगा। वह निराकार होना चाहिए। पहले-पहले फादर की पहचान देनी पड़ती है। कृष्ण को और ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को फादर नहीं कहेंगे। उनको तो रचा जाता है। जब सूक्ष्मवतन वालों को भी रचा जाता है, वह भी क्रियेशन है फिर स्थूल वतन वालों को भगवान् कैसे कहेंगे। गाया जाता है देवताए नम:, वह है शिवाए नम:, मुख्य है ही यह बात। अब प्रदर्शनी में तो घड़ी-घड़ी एक बात नहीं समझायेंगे। यह तो एक-एक को अच्छी रीति समझाना पड़े। निश्चय कराना पड़े। जो भी आये, उनको पहले यह बताना है कि आओ तो तुमको फादर का साक्षात्कार करायें। फादर से ही तुमको वर्सा मिलना है। फादर ने ही गीता में राजयोग सिखाया है। कृष्ण ने नहीं सिखाया। बाप ही गीता के भगवान् हैं। नम्बरवन बात है यह। कृष्ण भगवानुवाच नहीं है। रूद्र भगवानुवाच वा सोमनाथ, शिव भगवानुवाच कहा जाता है। हर एक मनुष्य की जीवन कहानी अपनी-अपनी है। एक न मिले दूसरे से। तो जो भी आये तो पहले-पहले इस बात पर समझाना है। मूल बात समझाने की यह है। परमपिता परमात्मा का आक्यूपेशन यह है। वह बाप है, यह बच्चा है। वह हेविनली गॉड फादर है, यह हेविनली प्रिन्स है। यह बिल्कुल क्लीयर कर समझाना है। मुख्य है गीता, उनके आधार पर ही और शास्त्र हैं। सर्वशास्त्रमई शिरोमणी भगवत गीता है। मनुष्य कहते हैं तुम शास्त्र, वेद आदि को मानते हो? अरे, हर एक अपने धर्म शास्त्र को मानेंगे। सभी शास्त्रों को थोड़ेही मानेंगे। हाँ, सब शास्त्र हैं जरूर। परन्तु शास्त्रों को जानने से भी पहले मुख्य बात है बाप को जानना, जिससे वर्सा मिलना है। वर्सा शास्त्रों से नहीं मिलेगा, वर्सा मिलता है बाप से। बाप जो नॉलेज देते हैं, वर्सा देते हैं, उसका पुस्तक बना हुआ है। पहले-पहले तो गीता को उठाना पड़े। गीता का भगवान् कौन है? उसमें ही राजयोग की बात आती है। राजयोग जरूर नई दुनिया के लिए ही होगा। भगवान् आकर पतित तो नहीं बनायेंगे। उनको तो पावन महाराजा बनाना है। पहले-पहले बाप का परिचय दे और यह लिखाओ – बरोबर मैं निश्चय करता हूँ यह हमारा बाप है। पहले-पहले समझाना है शिवाए नम:, तुम मात-पिता…….. महिमा भी उस बाप की ही है। भगवान् को भक्ति का फल भी यहाँ आकर देना है। भक्ति का फल क्या है, यह तुम समझ गये हो। जिसने बहुत भक्ति की है, उनको ही फल मिलेगा। यह बातें कोई शास्त्रों में नहीं हैं। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार जानते हैं। समझाया जाता है तुम्हारे बेहद के माँ-बाप वह हैं। जगत अम्बा, जगत पिता भी गाये जाते हैं। एडम और ईव तो मनुष्य को समझते हैं। ईव को मदर कह देते। राइट-वे में ईव कौन है, यह तो कोई नहीं जानते। बाप बैठ समझाते हैं। हाँ, कोई फट से तो नहीं समझ जायेगा। पढ़ाई में टाइम लगता है। पढ़ते-पढ़ते आकर बैरिस्टर बन जाते हैं। एम ऑबजेक्ट जरूर है, देवता बनना है तो पहले-पहले बाप का परिचय देना है। गाते भी हैं तुम मात-पिता…….. और दूसरा फिर कहते हैं पतित-पावन आओ। तो पतित दुनिया और पावन दुनिया किसको कहा जाता है, क्या कलियुग अभी 40 हजार वर्ष और रहेगा? अच्छा, भला पावन बनाने वाला तो वह एक बाप है ना। हेविन स्थापन करने वाला है गॉड फादर। कृष्ण तो हो न सके। वह तो वर्सा लिया हुआ है। वह श्रीकृष्ण है हेविन का प्रिन्स और शिवबाबा है हेविन का क्रियेटर। वह है क्रियेशन, फर्स्ट प्रिन्स। यह भी क्लीयर कर बड़े-बड़े अक्षरों में लिखना चाहिए तो तुमको समझाने में सहज होगा। रचयिता और रचना का मालूम पड़ जायेगा। क्रियेटर ही नॉलेजफुल है। वही राजयोग सिखलाते हैं। वह कोई राजा नहीं है, वह राजयोग सिखलाए राजाओं का राजा बनाते हैं। भगवान् ने राजयोग सिखाया है, श्रीकृष्ण ने राज्य पद पाया है, उसने ही गंवाया है, उसको ही फिर पाना है। चित्रों द्वारा बहुत अच्छा समझाया जा सकता है। बाप का आक्यूपेशन जरूर चाहिए। श्रीकृष्ण का नाम डालने से भारत कौड़ी जैसा बन गया है। शिवबाबा को जानने से भारत हीरे जैसा बनता है। परन्तु जब बुद्धि में बैठे कि यह हमारा बाप है। बाप ने ही पहले-पहले नई स्वर्ग की दुनिया रची। अभी तो पुरानी दुनिया है। गीता में है राजयोग। विलायत वाले भी चाहते हैं राजयोग सीखें। गीता से ही सीखे हैं। अभी तुम जान गये हो, कोशिश करते हो औरों को भी समझायें कि फादर कौन है? वह सर्वव्यापी नहीं है। अगर सर्वव्यापी है तो फिर राजयोग कैसे सिखलायेंगे? इस मिस्टेक पर खूब ख्याल चलना चाहिए। जो सर्विस पर तत्पर होंगे उनके ही ख्यालात चलेंगे। धारणा भी तब होगी जब बाप की श्रीमत पर चलेंगे, अशरीरी भव, मनमनाभव हो रहें, पतिव्रता वा पिताव्रता बनें अथवा सपूत बच्चा बनें।

बाप फ़रमान करते हैं जितना हो सके याद को बढ़ाते रहो। देह-अभिमान में आने से तुम याद नहीं करते, न बुद्धि पवित्र होती है। शेरनी के दूध के लिए कहते हैं सोने का बर्तन चाहिए। इसमें भी पिताव्रता बर्तन चाहिए। अव्यभिचारी पिताव्रता बहुत थोड़े हैं। कोई तो बिल्कुल जानते नहीं। जैसे छोटे बच्चे हैं। बैठे भल यहाँ हैं परन्तु कुछ भी समझते नहीं। जैसे बच्चे को छोटेपन में ही शादी करा देते हैं ना। गोद में बच्चा ले शादी कराई जाती है। एक-दो में दोस्त होते हैं। बहुत प्रेम होता है तो झट शादी करा देते हैं तो यह भी ऐसे है। सगाई कर ली है परन्तु समझते कुछ भी नहीं। हम मम्मा-बाबा के बने हैं, उनसे वर्सा लेना है। कुछ भी नहीं जानते। वन्डर है ना। 5-6 वर्ष रहकर भी फिर बाप को अथवा पति को फ़ारकती दे देते हैं। माया इतना तंग करती है।

तो पहले-पहले सुनाना चाहिए – शिवाए नम:। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर का भी रचयिता यह है। ज्ञान का सागर यह शिव है। तो अब क्या करना चाहिए? त्रिमूर्ति के बाजू में जगह पड़ी है, उस पर लिखना चाहिए कि शिवबाबा और कृष्ण दोनों के आक्यूपेशन ही अलग हैं। पहली बात यह जब समझाओ तब कपाट खुलें। और पढ़ाई है भविष्य के लिए। ऐसी पढ़ाई कोई होती नहीं। शास्त्रों से यह अनुभव नहीं हो सकता। तुम्हारी बुद्धि में है कि हम पढ़ते हैं सतयुग आदि के लिए। स्कूल पूरा होगा और हमारा फाइनल पेपर होगा। जाकर राज्य करेंगे। गीता सुनाने वाले ऐसी बातें समझा नहीं सकते। पहले तो बाप को जानना है। बाप से वर्सा लेना है। बाप ही त्रिकालदर्शी हैं, और कोई मनुष्य दुनिया में त्रिकालदर्शी नहीं। वास्तव में जो पूज्य हैं वही फिर पुजारी बनते हैं। भक्ति भी तुमने की है, और कोई नहीं जानते। जिन्होंने भक्ति की है वही पहले नम्बर में ब्रह्मा फिर ब्रह्मा मुख वंशावली हैं। आपेही पूज्य भी यह बनते हैं। पहले नम्बर में पूज्य ही फिर पहले नम्बर में पुजारी बनें हैं, फिर पूज्य बनेंगे। भक्ति का फल भी पहले उन्हें मिलेगा। ब्राह्मण ही पढ़कर फिर देवता बनते हैं – यह कहाँ लिखा हुआ नहीं है। भीष्म पितामह आदि को मालूम तो पड़ा है ना कि इन्हों से ज्ञान बाण मरवाने वाला कोई और है। यह समझेंगे जरूर कि कोई त़ाकत है। अभी भी कहते हैं कोई त़ाकत है जो इन्हों को सिखाती है।

बाबा देखते हैं यह सब मेरे बच्चे हैं। इन आंखों से ही देखेंगे। जैसे पित्र (श्राद्ध) खिलाते हैं तो आत्मा आती है और देखती है – यह फलाने हैं। खायेगा तो आंखे आदि उनके जैसी बन जायेंगी। टैप्रेरी लोन लेते हैं। यह भारत में ही होता है। प्राचीन भारत में पहले-पहले राधे-कृष्ण हुए। उन्हों को जन्म देने वाले ऊंच नहीं गिने जायेंगे। वह तो कम पास हुए हैं ना। महिमा शुरू होती है कृष्ण से। राधे कृष्ण दोनों अपनी-अपनी राजधानी में आते हैं। उन्हों के मां-बाप से बच्चे का नाम जास्ती है। कितनी वन्डरफुल बातें हैं। गुप्त खुशी रहती है। बाप कहते हैं मैं साधारण तन में ही आता हूँ। इतना माताओं का झुण्ड सम्भालना है इसलिए साधारण तन लिया है, जिससे खर्चा चलता रहा। शिवबाबा का भण्डारा है। भोला भण्डारी, अविनाशी ज्ञान रत्नों का भी है और फिर एडाप्टेड बच्चे हैं, उन्हों की भी सम्भाल होती आती है। यह तो बच्चे ही जाने।

पहले-पहले जब शुरू करो तो बोलो शिव भगवानुवाच – वह सबका रचयिता है फिर कृष्ण को ज्ञान सागर, गॉड फादर कैसे कह सकते? लिखत ऐसी क्लीयर हो जो पढ़ने से अच्छी रीति बुद्धि में बैठे। कोई-कोई को तो दो तीन वर्ष लगते हैं समझने में। भगवान् को आकर भक्ति का फल देना है। ब्रह्मा द्वारा बाप ने यज्ञ रचा। ब्राह्मणों को पढ़ाया, ब्राह्मण से देवता बनाया। फिर नीचे आना ही है। बड़ी अच्छी समझानी है। पहले यह सिद्धकर बताना है – श्रीकृष्ण हेविनली प्रिन्स है, हेविनली गॉड फादर नहीं। सर्वव्यापी के ज्ञान से बिल्कुल ही तमोप्रधान बन गये हैं। जिसने बादशाही दी, उनको भूल गये हैं। कल्प-कल्प बाबा राज्य देते हैं और हम फिर बाबा को भूल जाते हैं। बड़ा वन्डर लगता है। सारा दिन खुशी में नाचना चाहिए। बाबा हमको विश्व का मालिक बनाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अव्यभिचारी पिताव्रता हो रहना है। याद को बढ़ाते बुद्धि को पवित्र बनाना है।

2) बाप का युक्तियुक्त परिचय देने की विधि निकालनी है। विचार सागर मंथन कर अल्फ को सिद्ध करना है। निश्चयबुद्धि बन सेवा करनी है।

वरदान:- स्वउन्नति का यथार्थ चश्मा पहन एक्जैम्पुल बनने वाले अलबेलेपन से मुक्त भव
जो बच्चे स्वयं को सिर्फ विशाल दिमाग की नज़र से चेक करते हैं, उनका चश्मा अलबेलेपन का होता है, उन्हें यही दिखाई देता है कि जितना भी किया है उतना बहुत किया है। मैं इन-इन आत्माओं से अच्छा हूँ, थोड़ी बहुत कमी तो नामीग्रामी में भी है। लेकिन जो सच्ची दिल से स्वयं को चेक करते हैं उनका चश्मा यथार्थ स्वउन्नति का होने के कारण सिर्फ बाप और स्वयं को ही देखते, दूसरा, तीसरा क्या करता – यह नहीं देखते। मुझे बदलना है बस इसी धुन में रहते हैं, वह दूसरों के लिए एक्जैम्पल बन जाते हैं।
स्लोगन:- हदों को सर्व वंश सहित समाप्त कर दो तो बेहद की बादशाही का नशा रहेगा।

TODAY MURLI 21 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 21 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 20 November 2017 :- Click Here

21/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this eternal play is predestined. Each actor has his or her own individual part within it. No two actors’ parts can be the same. This is the wonder of nature.
Question: On the path of devotion, why is so much importance given to the water of the Ganges? Why do devotees love the water of the Ganges so much?
Answer: Because it is at this time that you children attain salvation through the water of knowledge (nectar). You love the knowledge through which you become the Ganges of knowledge. This is why devotees give so much respect to water. Vaishnavs always use the water of the Ganges. However, salvation isn’t attained through water. Salvation is received through knowledge. The Father, the Ocean of Knowledge, gives you the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. Water is not the way to purify the soul; you need the injection of knowledge and yoga for that which only the one Father has.
Song: I have come having awakened my fortune.

Om shanti. You sweetest children know that this is the path of knowledge through which salvation is received, that is, you receive your fortune of the kingdom of heaven. Therefore, whether you call it a pathshala (study place), a college or a university, it is the same thing. At a university, you receive a higher education whereas at other places you receive a standard education. All of them are study places. You study at a study place in order to be able to earn an income. You children know that this is your incognito education. The unlimited Father comes and teaches you souls. It is souls who study. If Krishna were God, your intellect’s yoga would be diverted to his picture and you would be pulled towards it. You wouldn’t be able to stay without having a picture of him. However, Krishna is not God. Because of having wrong understanding, people only remember Krishna. Remembrance of something physical is very easy. Remembrance of the spiritual requires effort. Some ask: Baba, how can we have remembrance? Whom should we remember? The picture of Krishna is sweet, but the Supreme Father, the Supreme Soul, is incorporeal. He Himself says: I sit in this old body and once again teach you children easy Raja Yoga and knowledge. It is very easy. You simply have to remember Baba. You do remember Shiv Baba, do you not? In Benares, they speak of Shiva at Kashi and then they say: He is Vishwanath Ganga (Lord of the World who brought the Ganges). They say: The Lord of the World brought the Ganges. It was not a question of the Ganges of water. It was the Ocean of Knowledge who brought the Ganges of knowledge. Therefore, you Ganges of knowledge should definitely remember the Father, the Ocean of Knowledge, who gives you knowledge. O Ganges of knowledge, if you consider yourselves to be the Ganges of knowledge, then remember the Ocean of Knowledge. Those who don’t consider themselves to be the Ganges of knowledge are not knowledgeable. You children know that the Ocean of Knowledge has given you the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. We now have to go and give everyone the nectar of knowledge. Some just take a drop whereas others take a full urn of it. Vaishnavs love Ganges water; they always use Ganges water. You, however, love this knowledge because you receive salvation through it. Shiv Baba gives this knowledge: You souls have to remember Me, your Father. You also now know your inheritance. Who is explaining this? The Supreme Father, the Supreme Soul. No one would have thought, or even dreamt, how they could claim their inheritance from God. You cannot receive this unlimited inheritance without the Supreme Father, the Supreme Soul. The Supreme Father means the Creator of all human beings. Therefore, He is the Father of creation. Only the incorporeal One is called the Supreme Father, the Supreme Soul. You cannot see Him with your physical eyes. On the path of devotion, He can be seen in a divine vision. Here, too, even though you haven’t had a vision of a soul, you still have the faith that you are a soul. You know that souls are imperishable. When a soul leaves a body, the body is of no use. Everyone knows that a soul leaves a body and takes another, but no one knows what a soul is. A soul is like a point; it is the subtlest of the subtle and resides in the centre of the forehead. A soul is absolutely tiny and it is the soul that does everything. If it weren’t for the soul, these physical organs wouldn’t function. A soul leaves a body, takes another and plays his part. Each one has his own individual part. No two parts can be the same. Actors are never the same. No one in this play can understand that each soul has his own part. All souls have the same form, but they have different bodies. This eternal play is predestined. Only those with broad and unlimited intellects are able to understand these things. You should be amazed at how a soul is like a point and how he has an imperishable part of 84 births recorded within him; it is never destroyed. This is called the wonder of nature. The soul himself says: I shed a body, take another and play my part. I become a detached observer and continue to watch the acts of all the actors of the whole world. I am once again receiving my inheritance of happiness from the Supreme Father, the Supreme Soul, for 21 births. I have been performing devotion for 2500 years (half the cycle) for this. Therefore, the devotees will definitely find God. You now know that you are the number one devotees and worshippers. In this drama, you are the ones who first enter the golden age to play your part s of deities. At this time you belong to the Brahmin clan. I, the soul, a mouth-born creation of Brahma, belong to the Brahmin religion. We are now studying so that we can be transferred from the Brahmin religion into the deity religion. The soul has received knowledge. Salvation takes place through knowledge. When salvation is to be received, everyone receives it. The Father says: I alone am the Bestower of Salvation for All. Human beings can never be gurus. You must always remain soul conscious. For instance, when someone has a child, you have to understand that they have had that child because of karmic accounts. If the child dies, he sheds that body and takes another; he just had that much karmic account which then ended. There is no need to mourn or cry about that. Just be a detached observer and watch the play. You children know that you take 84 births. In the golden age we were deities. At first you didn’t know anything. Brahma adopted many gurus, but he didn’t know anything either. He used to believe that there were 8.4 million births. You no longer say this. The Father explains: Sweetest, beloved, long-lost and now-found children, I alone come and grant you salvation. Devotees of all the religions definitely remember God in one form or another. They say: “Oh God, the Father!” “Oh Supreme Father, Supreme Soul,” but they don’t know God. They simply understand that the Supreme Father, the Supreme Soul, resides in the supreme abode, but how can we go there? We cannot go there. Even golden-aged deities cannot go there. They have to take 84 births. There, they have happiness and so they don’t think of going anywhere. They don’t even remember the Father. It is said: Everyone remembers God at a time of sorrow. The Father explains: I am making you into the masters of heaven. You will remain constantly happy there. They have given the cycle a duration of hundreds of thousands of years. That is a mistake. There is a lot of confusion on the path of devotion. To wander from door to door, to chant, to do tapasya, to go on pilgrimages, etc. are all the path of devotion. The path of devotion continues for half the cycle. This play is predestined. The Father says: All the children are controlled by the drama. Although I am the Creator, Director and Karankaravanhar, I too am bound by the drama. I cannot enter a body apart from this one body and at this one time. Some ask: Will He always enter the body of Dada and make him Brahma? Yes. Their first births were those of Lakshmi and Narayan. They are the ones who are then made into Adi Dev and Adi Devi. They have an image of Shiva in the Dilwala Temple. There are also Adi Dev and Adi Devi and the children there; all are sitting in tapasya. Above them, there is heaven. The complete memorial is there. While sitting here, you are establishing the deity tree. Those images are non-living, whereas you are sitting here in the living form. You are establishing heaven by following shrimat. Those who study well and teach others claim a high status. What effort would Lakshmi and Narayan have made? You are making effort to become deities once again. Therefore, the deities too must have made effort in their previous birth. Human beings reside in the land of death whereas deities reside in the land of immortality. Bharat was the land of immortality and it then became the land of death. It is now the confluence age and this is called the Kumbha Mela. This is the real mela of the kumbha; it is when souls meet the Supreme Soul. They have met many times and they will meet again many times. Some make effort and claim their full inheritance. Some go away. (example of the moths.) Many come here. You children have the faith that this is your BapDada. You are Brahma Kumars and Kumaris. Brahma too is a child of Shiva. You are adopted children. All are called children of the Father, but those who call themselves BKs are the Brahma Kumars and Kumaris who belong to the clan of Shiva. Shiv Baba is the Grandfather. He has one main child and then others are created through that one. You know that there are many of you mouth-born creation of Brahma; there will continue to be many more. It is Shiv Baba who is teaching you. Even the Brahma soul remembers Me. You too have to remember Me. If you remember the world cycle, you will become rulers of the globe. You are now becoming spinners of the discus of self-realisation. You remember these things, numberwise. It is remembered: Remember God and attain liberation-in-life. There is no sorrow there. This is the old world. This body is an old shoe. You repeatedly have to patch it up. They give the example of a snake. It sheds its old skin and takes a new, shiny one. So, this old skin of 84 births has completely decayed and become tamopradhan. The Father has now come and explains to you souls how you and your bodies can both become satopradhan: Sweetest children, constantly remember Me alone. The alloy mixed in you souls will be burnt away with the fire of remembrance and you will become satopradhan. Then, you souls will shed those old bodies and take other bodies. Only by having remembrance of the Father will your sins be absolved. On the path of devotion, they continue to remember God; they chant God’s name and worship Him; they bathe Him etc. Here, you don’t have to bathe Shiv Baba; He is bodiless. Have you ever seen anyone decorate Shiva by putting clothes on Him in a Shiva Temple? They decorate Krishna and Lakshmi and Narayan etc. so much. How would they decorate the incorporeal One? The Father says: Why did you worship Me, incorporeal Shiva? I must definitely have done something when I came. That is why you worship Me. You souls are incorporeal and I, too, am incorporeal. You take rebirth whereas I don’t take rebirth. I come and give you your inheritance of heaven for 21 births. Sannyasis renounce their homes and families and go away. You don’t have to renounce anything. Simply remain pure in this last birth and remember the Father, that’s all! It is by having remembrance that you souls will become clean and pure. It is the Lord of Divinity who makes souls golden from iron. Only you earn a true income. You may continue to earn that false income but together with that, also do this. You mustn’t commit sin. There is just the one Surgeon. Each one’s illness of karmic accounts is individual. If any of you were to ask the Father, He would quickly tell you what to do. It is only the one Father who takes you into the karmateet stage. These are the directions of the eternal Surgeon. Whatever bondage each of you has, you can come and ask Baba about it. Daughters buzz this knowledge to their husbands and bring them here with themselves. She explains to him: You cannot go to heaven without becoming pure. Everyone definitely has to die. This too is something to be understood. This is the end of the land of death. It is now the confluence. The land of immortality is being established. We now belong to the Father, that is, we have become Brahmins and will then become deities. Then we will become warriors, merchants and shudras. This mantra is so good; nevertheless you will forget it. If you don’t remain in yoga, how would the burden of sins of 63 births that is on your head, be burnt? Your sins are not going to be washed away with the water of the Ganges. Souls have accumulated sin. It is said: Sinful soul, charitable soul. So, you souls need the injection with which to become pure. Only the Purifier Father has that injection. No one else has that injection. This is why everyone calls out: O Purifier, come! Come and give us impure ones the injection of knowledge so that we become pure. You children have to go on this pilgrimage. While walking and moving around, always remain on this true pilgrimage. Remember the Father and the home and you will continue to accumulate an income. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Be a detached observer and watch the part of every actor. In order to claim your inheritance for 21 births from the Father, make full effort.
  2. In order to make the soul pure gold (clean and pure), become pure in this final birth and remember the Father. Earn a true income.
Blessing: May you become unshakeable and immovable and merge all the upheavals by having the awareness of being a master almighty authority.
Just as the occupation of your physical body stays emerged with you, similarly, let the occupation of your Brahmin life stay emerged with you and let there be the intoxication of this in your every deed. All upheavals will then be merged and you will remain constantly unshakeable and immovable. Let the awareness of being a master almighty authority constantly be emerged and no weakness will cause you any type of upheaval because you will be able to use every power at the right time. Such souls have controlling power and this is why their thoughts and deeds are the same.
Slogan: Instead of becoming afraid in delicate situations, learn a lesson from them and make yourself strong.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 21 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 20 November 2017 :- Click Here
21/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – यह अनादि खेल बना हुआ है, इसमें हर एक पार्टधारी का पार्ट अपना-अपना है, एक का पार्ट दूसरे से नहीं मिल सकता, यह भी कुदरत है”
प्रश्नः- भक्तिमार्ग में गंगाजल को इतना मान क्यों देते हैं? भक्तों की इतनी प्रीत गंगाजल से क्यों?
उत्तर:- क्योंकि तुम बच्चे अभी ज्ञान जल (अमृत) से सद्गति को पाते हो, तुम्हारी प्रीत ज्ञान से है, जिससे तुम ज्ञान गंगा बन जाते हो इसलिए भक्तों ने फिर पानी को इतना मान दिया है। वैष्णव लोग हमेशा गंगा जल ही काम में लाते हैं। परन्तु पानी से कोई सद्गति नहीं होती। सद्गति तो ज्ञान से होती है। ज्ञान सागर बाप तुम्हें सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान देते हैं। आत्मा को पावन बनाने का साधन पानी नहीं, उसके लिए तो ज्ञान और योग का इन्जेक्शन चाहिए जो एक बाप के पास ही है।
गीत:- तकदीर जगाकर आई हूँ…

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चे जानते हैं कि यह ज्ञान मार्ग है जिससे सद्गति होती है अथवा स्वर्ग का राज्य भाग्य मिलता है, इसलिए इनको पाठशाला कहो अथवा कॉलेज कहो, युनिवर्सिटी कहो बात एक ही है। युनिवर्सिटी में बड़ी विद्या, उनमें छोटी विद्या मिलती है। हैं तो सब पाठशालायें, पाठशाला में कमाई के लिए पढ़ते हैं। तुम बच्चे जानते हो हमारी यह गुप्त पढ़ाई है। बेहद का बाप आकर आत्माओं को पढ़ाते हैं। आत्मायें ही पढ़ती हैं। अगर कृष्ण भगवान होता तो तुम्हारा बुद्धियोग उनके चित्र की तरफ जाता, उनकी तरफ कशिश होती। उनके चित्र बिगर तुम रह नहीं सकते। परन्तु कृष्ण तो भगवान है नहीं। तो उल्टा समझने के कारण मनुष्यों को कृष्ण की ही याद रहती है। जिस्मानी याद तो बड़ी सहज है। रूहानी याद में मेहनत है। पूछते हैं बाबा कैसे याद करें? किसको याद करें? कृष्ण का चित्र तो स्वीट है, परमपिता परमात्मा तो निराकार है। वह खुद कहते हैं, मैं इस बुजुर्ग शरीर में बैठ तुम बच्चों को फिर से सहज राजयोग और ज्ञान सिखलाता हूँ। है बहुत सहज सिर्फ बाबा को याद करना है। शिवबाबा को याद तो करते हैं ना। बनारस में कहते हैं शिव काशी, फिर कहते हैं विश्वनाथ गंगा। विश्वनाथ ने गंगा लाई। अब पानी के गंगा की तो बात नहीं। ज्ञान सागर ने यह ज्ञान गंगायें लाई हैं। तो ज्ञान गंगाओं को जरूर ज्ञान देने वाले ज्ञान सागर बाप की याद रहनी चाहिए। हे ज्ञान गंगायें, अगर तुम अपने को ज्ञान गंगा समझती हो तो ज्ञान सागर को याद करो। जो अपने को ज्ञान गंगा नहीं समझते वह अज्ञानी ठहरे। तुम बच्चे जानते हो हमको ज्ञान सागर ने सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान दिया है। अब हमको फिर सबको जाकर ज्ञान अमृत देना है। फिर कोई अंचली लेते, कोई लोटा भरते। वैष्णव जो होते हैं उनकी गंगा जल से प्रीत रहती है। वह हमेशा गंगाजल काम में लाते हैं। तुम्हारी फिर इस ज्ञान से प्रीत है क्योंकि इस ज्ञान से तुम सद्गति को पाते हो। शिवबाबा ने यह ज्ञान दिया है कि तुम आत्मा मुझ बाप को याद करो। वर्से को भी तुम जान गये हो। यह कौन समझाते हैं? परमपिता परमात्मा। कब स्वप्न में भी किसको यह ख्याल नहीं आयेगा कि परमात्मा से वर्सा कैसे मिलता है। परमपिता परमात्मा के बिगर यह बेहद का वर्सा मिल न सके। परमपिता माना सभी मनुष्य मात्र का क्रियेटर। तो रचना का पिता हुआ ना। सिर्फ निराकार को ही परमपिता परम आत्मा कहा जाता है, उनको इन आंखों से देख नहीं सकते। भक्ति मार्ग में दिव्य दृष्टि से देखा जाता है। यहाँ भी तुमने आत्मा का साक्षात्कार नहीं किया है, फिर भी अपने को आत्मा निश्चय करते हो। जानते हो आत्मा अविनाशी है। आत्मा निकलने से शरीर कोई काम का नहीं रहता। यह तो सब जानते हैं आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। परन्तु आत्मा क्या चीज़ है, यह कोई को पता नहीं। आत्मा बिन्दी मिसल अति सूक्ष्म ते सूक्ष्म है, जो भ्रकुटी के बीच निवास करती है। बिल्कुल छोटी सी आत्मा है, वही सब कुछ करती है। आत्मा नहीं होती तो यह कर्मेन्द्रियाँ भी चल न सकें। आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेकर अपना पार्ट बजाती है। हर एक का पार्ट अपना-अपना है। एक न मिले दूसरे से। एक्टर कभी एक जैसे नहीं होते हैं। इस खेल को कोई भी समझ नहीं सकते हैं। हर एक आत्मा का अपना-अपना पार्ट है। आत्मायें सभी एक ही रूप की हैं। बाकी शरीर भिन्न-भिन्न हैं। यह अनादि खेल बना हुआ है। इन बातों को विशालबुद्धि ही समझ सकते हैं। वन्डर खाना चाहिए – आत्मा बिन्दी मिसल उनमें 84 जन्मों का पार्ट अविनाशी नूँधा हुआ है जो कभी विनाश नहीं होता, इसको कहा जाता है कुदरत। आत्मा खुद कहती है मैं एक शरीर छोड़ दूसरा पार्ट बजाता हूँ। हम साक्षी हो सारी सृष्टि के पार्टधारियों का एक्ट देखते हैं। हम परमपिता परमात्मा से अपना 21 जन्मों के सुख का वर्सा फिर से ले रहे हैं जिसके लिए हमने 2500 वर्ष (आधाकल्प) भक्ति की है। तो जरूर भक्तों को भगवान मिलना ही है। अब तुमको पता पड़ा है – नम्बरवन भक्त, पुजारी तुम ठहरे। इस ड्रामा में पहले-पहले सतयुग में तुम देवी-देवताओं का पार्ट बज़ाने आते हो। इस समय तुम ब्राह्मण वर्ण में हो। हम आत्मा ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण धर्म के हैं। अभी पढ़ते इसलिए हैं कि हम ब्राह्मण धर्म से बदल दैवी धर्म में जायें। आत्मा को ज्ञान मिला है। ज्ञान से सद्गति होती है। जब सद्गति मिलनी होती है तो सबको मिलती है। बाप कहते हैं मैं ही सर्व का सद्गति दाता हूँ। मनुष्य गुरू कब होता नहीं। हमेशा देही-अभिमानी रहना है। समझो किसको बच्चा है, तो समझना चाहिए यह कर्मो के हिसाब-किताब से बच्चा बना, मर गया तो बस एक शरीर छोड़ जाकर दूसरा लिया, हिसाब-किताब इतना ही था, पूरा किया, इसमें अ़फसोस करने वा रोने की बात ही नहीं। साक्षी हो खेल देखना है।

तुम बच्चे जानते हो हम 84 जन्म लेते हैं। सतयुग में हम देवी देवता थे। पहले तुम कुछ नहीं जानते थे। ब्रह्मा ने भी बहुत गुरू किये थे परन्तु इनको भी कुछ पता नहीं था। समझते थे 84 लाख जन्म होते हैं। अभी तुम ऐसे नहीं कहेंगे – बाप समझाते हैं मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चे हम ही आकर सबकी सद्गति करते हैं। सभी धर्म वाले भक्त भगवान को किस न किस प्रकार से याद जरूर करते हैं। कहते हैं – ओ गॉड फादर, हे परमपिता परमात्मा… परन्तु परमात्मा को जानते नहीं। सिर्फ इतना समझते हैं परमपिता परमात्मा परमधाम में रहते हैं। परन्तु हम वहाँ कैसे जायें, हम तो जा नहीं सकते। सतयुगी देवतायें भी नहीं जा सकते, उनको 84 जन्म लेने हैं। वहाँ सुख है, वहाँ ख्याल भी नहीं होता, कहाँ जाने का है। बाप को भी याद नहीं करते। कहते हैं दु:ख में सिमरण सब करें… बाप समझाते हैं हम तुमको स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। वहाँ तुम सदा सुखी रहेंगे। कल्प को लाखों वर्ष आयु दे दी है, यह है भूल। भक्ति में मुँझारा बहुत है। दर-दर धक्का खाना, जप तप तीर्थ आदि करना सब भक्ति मार्ग है। आधाकल्प भक्ति मार्ग चलता है, यह भी खेल बना हुआ है। बाप कहते हैं सब बच्चे ड्रामा के वश हैं। मैं भी भल क्रियेटर, डायरेक्टर, करनकरावनहार हूँ। परन्तु मैं भी ड्रामा के वश हूँ। सिवाए एक टाइम, एक शरीर के दूसरे कोई शरीर में आ नहीं सकता हूँ। कहते हैं सदैव दादा के तन में आयेगा और इनको ही ब्रह्मा बनायेगा? हाँ, पहले-पहले इनका ही जन्म लक्ष्मी-नारायण था ना फिर इनको ही आदि देव, आदि देवी बनायेंगे। इस देलवाड़ा मन्दिर में शिव का भी चित्र है। आदि देव, आदि देवी भी हैं, बच्चे भी हैं। सब तपस्या में बैठे हैं। ऊपर में स्वर्ग भी है, पूरा यादगार खड़ा है। तुम यहाँ बैठे-बैठे दैवी झाड की स्थापना कर रहे हो। वह है जड़ चित्र। यहाँ तुम चैतन्य में बैठे हो। तुम स्वर्ग की स्थापना कर रहे हो श्रीमत पर। जो अच्छी तरह पढ़ते पढ़ाते हैं वह ऊंच पद पाते हैं। लक्ष्मी-नारायण ने क्या पुरुषार्थ किया होगा। तुम भी पुरुषार्थ कर रहे हो फिर से देवता बनें तो जरूर देवताओं ने पिछले जन्म में पुरुषार्थ किया होगा? मनुष्य मृत्युलोक में रहते हैं, देवतायें अमरलोक में रहते हैं। भारत अमरलोक था, फिर मृत्युलोक हुआ है। अभी है संगम, इनको कुम्भ का मेला कहा जाता है। कुम्भ का सच्चा-सच्चा मेला यह है। आत्मा परमात्मा मिलते हैं। अनेक बार मिले होंगे, अनेक बार मिलने वाले हैं। कोई तो पुरुषार्थ कर पूरा वर्सा लेंगे। कोई फिर चले जायेंगे। (परवानों का मिसाल) आते तो बहुत हैं। तुम बच्चों को निश्चय है कि यह हमारा बापदादा है। हम ब्रह्माकुमार कुमारियाँ हैं। ब्रह्मा भी शिव का बच्चा है। हम धर्म के बच्चे हैं। बाप के बच्चे तो सब कहलाते हैं। परन्तु जो हम बी.के. कहलाते हैं तो गोया हम शिववंशी ब्रह्माकुमार कुमारियाँ हो गये। शिवबाबा है दादा, उनको मुख्य बालक एक है, एक से फिर दूसरे पैदा होते हैं।

तुम जानते हो हम ब्रह्मा मुख वंशावली ढेर हैं। ढेर होते जायेंगे, पढ़ाने वाला शिवबाबा है। ब्रह्मा की आत्मा भी मुझको याद करती है, तुम्हें भी याद करना है। सृष्टि चक्र को याद करेंगे तो चक्रवर्ती राजा बनेंगे। अभी तुम स्वदर्शन चक्रधारी बनते हो। तुम्हारे में भी नम्बरवार यह सिमरण करते हैं। गाया जाता है ना – सिमर-सिमर जीवनमुक्ति पाओ, वहाँ दु:ख होता नहीं। यह तो पुरानी दुनिया है। यह शरीर भी पुरानी जुत्ती है। घड़ी-घड़ी चत्तियाँ लगती रहती हैं। सर्प का मिसाल देते हैं ना। वह पुरानी खाल छोड़ नई ले लेते हैं। नई खाल चमकने लग पड़ती है। तो यह तुम्हारे 84 जन्मों की पुरानी खाल बिल्कुल जड़जड़ीभूत, तमोप्रधान है। अब तुम्हारी आत्मा और शरीर दोनों सतोप्रधान कैसे बनें, यह बाप आकर समझाते हैं। मीठे-मीठे बच्चे मामेकम् याद करो। इस याद रूपी अग्नि से जो तुम्हारे में खाद पड़ी है, वह जलकर भस्म हो जायेगी। तुम्हारी आत्मा सतोप्रधान बन जायेगी। फिर यह पुराना शरीर छोड़ आत्मा जाकर दूसरा शरीर लेगी। बाप की याद से ही विकर्म विनाश होंगे। भक्ति मार्ग में भी सिमरण करते हैं ना। नाम जपते हैं। पूजा करते हैं। उनको स्नान आदि कराते हैं। यहाँ तो शिवबाबा को स्नान आदि नहीं कराना है। वह तो अशरीरी है। शिव के मन्दिर में कभी शिव को कपड़ा आदि पहनाकर श्रृंगारते हैं क्या? कृष्ण को, लक्ष्मी-नारायण आदि को तो कितना श्रृंगारते हैं। निराकार का क्या श्रृंगार करेंगे! तो बाप कहते हैं तुम मुझ निराकार शिव की पूजा क्यों करते थे? जरूर कुछ मैं करके गया हूँ तब तो तुम पूजा आदि करते हो। तुम आत्मायें निराकार हो – मैं भी निराकार हूँ। तुम पुनर्जन्म लेते हो, मैं पुनर्जन्म नहीं लेता हूँ। मैं आकर तुमको स्वर्ग का, 21 जन्मों का वर्सा देता हूँ। सन्यासी आदि तो घरबार छोड़कर जाते हैं। तुमको तो कुछ छोड़ना नहीं है। सिर्फ यह अन्तिम जन्म पवित्र बन बाप को याद करो, बस। याद से ही तुम्हारी आत्मा कंचन हो जायेगी। आत्मा को लोहे से सोना पारसनाथ बना देते हैं।

तुम ही सच्ची-सच्ची कमाई करते हो। वह झूठी कमाई भी भल करते रहो, साथ-साथ यह भी करो। कोई भी पाप नहीं करना है। सर्जन तो एक है। हर एक के कर्मो के हिसाब की बीमारी अपनी है। बाप से कोई पूछे तो झट बतायेंगे कि ऐसे-ऐसे करो। एक बाप ही कर्मातीत अवस्था में ले जाने वाला है। यह है अविनाशी सर्जन की मत। हर एक के जो-जो बन्धन हैं, वह आकर पूछो। बच्चियाँ तो पति को भूँ-भूँ कर साथ में ले आती हैं। उनको समझाती हैं – पवित्र बनने बिगर तो स्वर्ग में जा नहीं सकेंगे। मरना तो सभी को है ही। यह भी समझ की बात है। मृत्युलोक का यह अन्त है। यह है संगम। अमरलोक की स्थापना हो रही है। अभी हम बाप का बनकर अर्थात् ब्राह्मण बनकर फिर देवता बनेंगे। फिर क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बनेंगे। यह मंत्र कितना अच्छा है फिर भी तुम भूल जायेंगे। योग में नहीं रहेंगे तो जो 63 जन्मों के पापों का बोझा सिर पर है वह कैसे भस्म होगा। गंगा के पानी से थोड़ेही पाप धुलेंगे। पाप आत्मा पर लगे हुए हैं। पापात्मा, पुण्यात्मा कहते हैं ना। तो तुम आत्माओं को पावन बनने का इन्जेक्शन चाहिए। वह इन्जेक्शन पतित-पावन बाप के ही पास है और कोई के पास यह इन्जेक्शन है नहीं इसलिए सब पुकारते हैं हे पतित-पावन आओ – आकर के हम पतितों को ज्ञान इन्जेक्शन दो तो हम पावन बनें। अब बच्चों को यात्रा पर तो चलना है ना। उठते-बैठते सदैव यात्रा पर रहो। बाप और घर को याद करो तो कमाई जमा होती रहेगी। अच्छा !

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) साक्षी हो हर एक पार्टधारी का पार्ट देखना है। बाप से 21 जन्मों का वर्सा लेने के लिए पूरा पुरुषार्थ करना है।

2) आत्मा को सच्चा सोना (कंचन) बनाने के लिए इस अन्तिम जन्म में पवित्र बन बाप को याद करना है। सच्ची कमाई करनी है।

वरदान:- मास्टर सर्वशक्तिमान् की स्मृति द्वारा सर्व हलचलों को मर्ज करने वाले अचल-अडोल भव 
जैसे शरीर का आक्यूपेशन इमर्ज रहता है, ऐसे ब्राह्मण जीवन का आक्यूपेशन इमर्ज रहे और उसका हर कर्म में नशा हो तो सर्व हलचलें मर्ज हो जायेंगी और आप सदा अचल-अडोल रहेंगे। मास्टर सर्व शक्तिमान् की स्मृति सदा इमर्ज है तो कोई भी कमजोरी हलचल में ला नहीं सकती क्योंकि वे हर शक्ति को समय पर कार्य में लगा सकते हैं, उनके पास कन्ट्रोलिंग पावर रहती है इसलिए संकल्प और कर्म दोनों समान होते हैं।
स्लोगन:- नाज़ुक परिस्थितियों में घबराने के बजाए उनसे पाठ पढ़कर स्वयं को परिपक्व बना लो।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize