today murli 21 june

TODAY MURLI 21 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 21 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 20 June 2018 :- Click Here

21/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, don’t forget your Godly childhood and thereby lose your highest-on-high inheritance. If you pass fully you will receive a kingdom in the sun dynasty.
Question: Why do none of the souls in the golden and silver ages have to repent for their actions?
Answer: Because all the souls who go into the golden and silver ages experience their reward of the confluence age. They learn such actions from the Father at the confluence age that they don’t have to repent for their actions for 21 births. The Father is now teaching you souls such actions that you become karmateet. You won’t then have to experience sorrow for any actions.
Song: Do not forget the days of your childhood. 

Om shanti. You children heard the sweet song. The unlimited Father explains to you children. The one who is Shri Shri, that is, the most elevated One, is called the Supreme Father, the Supreme Soul. People say: God Shiva speaks; or: God Rudra speaks. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, is called Rudra. So, the Supreme Father, the Supreme Soul, is explaining to His children through this body. No other human being, sage or holy man would say: You are a soul. Your Supreme Father is speaking through this lotus mouth. They call it Gaumukh. It is not a question of water. The Father is the Ocean of Knowledge. There is the rosary of 108 Shri Shri Rudra or Shiva. Therefore, first of all, have the strong faith that Baba is teaching you souls. The soul carries sanskars. It is the soul that studies through the organs. The soul himself says: I shed a body and take another with a different name, form, place and time. When I take rebirth in the golden age, the name and form change. The soul says this. When I am in the golden age, rebirth is also in the golden age. The Father explains: This means that when you are in heaven, you take rebirth there and your name and form continue to change. Incorporeal Shiv Baba, the Father, enters this chariot and explains to you: Children, you have now become My children. You are experiencing a lot of happiness now. We are claiming our inheritance from the unlimited Father through this Brahma. The soul says: I play the part of a barrister or a doctor through this body. I, the soul, was bodiless and then I entered a womb and adopted a body. The Father says: I do not enter a womb. We would not say that the Supreme Father, the Supreme Soul, sheds a body and takes another; no. You take another body. This one (Dada) takes another body. This soul has taken the full 84 births. This soul did not know his births. The soul now knows his 84 births. The soul says: I took birth in the sun dynasty and the soul continued to take rebirth. Then he took birth in the moon dynasty and, while taking rebirth, the soul went through the golden, silver, copper and iron ages. The soul says: I remembered the Father a lot in the copper age. We also worshipped the lingam image of the Supreme Father, the Supreme Soul. I, the soul, was a master in the golden age. I did not worship anyone there. There is no devotion in heaven. For half the cycle, I performed devotion. We have now once again come personally in front of the Father. All of you have now come personally in front of the incorporeal Father through the corporeal one. The Father says: Do not forget your Godly birth. You say: Baba, this is very difficult. What is difficult? I am the Father of you souls. I have come to make you pure from impure. You are studying in order to rule a kingdom in heaven. I, the Supreme Father, the Supreme Soul, have sanskars of knowledge. This is why I am called the Ocean of Knowledge, the Seed of the human world. He Himself says: I truly am the Creator. I reside in the supreme abode. Only once, when I have to teach you, do I come here. I come and make the impure world pure. Definitely, only impure ones remember Me. The pure ones of the golden age will not remember Me. No one would say: Come and make us souls impure; no. It is Maya who has made you impure and this is why you say: Make us pure. However, they don’t know when I come. I only come at the confluence age. I don’t come at any other time. I have now come. You sweet children have been adopted by Me. You know that Baba is once again teaching you ancient Raja Yoga through which Bharat becomes pure. This is the school of incorporeal God. Incorporeal Baba says: I enter this body. This Brahma is your senior Mama. That Mama, Saraswati, Jagadamba, is the daughter of Brahma. The senior Mama cannot sustain you and this is why Jagadamba has been appointed. This one’s body (Brahma’s) cannot be called Jagadamba. That One is the Mother and Father. This Brahma is also a mother. An inheritance cannot be received from a mother. An inheritance would be received from a father. You are the mouth-born creation of this mother Brahma. The Father says: Children, after belonging to Me and making effort to claim the sovereignty of heaven, don’t be defeated in the war with Maya. Don’t run away. Don’t forget this Godly childhood. If you forget it, you will have to cry. So BK Saraswati, whom you call Jagadamba, has become an instrument to sustain you. How could this one (Brahma) sustain you? The urn is first of all given to this one. First, this one’s ears hear everything, and then Jagadamba is also there to look after you. The Father says: I have now come at the confluence age to take all of you back. Just as there is the month of charity, which is called the most auspicious month, in the same way, this is the most auspicious age when you become the most elevated human beings of all. “Purshottam” means the most elevated human beings of all. Who are they? How did that Shri Lakshmi and Narayan become the most elevated man and woman of all and through whom? The Father says: Through Me. My name is also Shri Shri, the most elevated of all. I make you human beings become like Shri Narayan. I purify the impure through which you become like Lakshmi and Narayan, the most elevated man and woman. The Father says: Children, continue to forget your bodies and all bodily relationships. Have yoga with Me alone. You say: We have become the Father’s children. We will become the masters of the heaven that the Father establishes. The Father says: Constantly remember Me alone. This is the pilgrimage of souls or the pilgrimage of intellects. It is the soul that has to imbibe everything. The body is non-living. It becomes living when a soul enters it. The Father explains: Beloved children, the destination of this remembrance is very far. People go on pilgrimages and come back again. They never indulge in vice while on a pilgrimage. They may have greed or become angry, but they would definitely remain pure. Then, when they return home, they become impure. At this time, the soul of everyone is false and everyone’s body is also false. All the souls who have come from the kingdom of Lakshmi and Narayan are impure at this time. There is unlimited happiness, peace and purity in the golden age. In the iron age, none of the three exists; there is sorrow and peacelessness in every home. In some homes, there is so much peacelessness that it is like hell; they fight and quarrel among themselves a great deal. Therefore, the Father says: Do not forget this childhood. If you forget it, you will lose your highest-on-high inheritance. If you forget it and divorce Baba, you will attain a very low status. If you follow shrimat, you will become elevated like Shri Lakshmi and Narayan. Sita and Rama come in the silver age. Two degrees have been reduced by then and this is why they have been given the symbol of warriors. It isn’t that there is a war between Rama and Ravan there. Those who conquer Maya go into the deity religion and those who are unable to conquer Maya and fail are called warriors. They will go into the dynasty of Rama and Sita. There are the full 100 marks for those who sit on the number one sun-dynasty throne. If there are a few less marks, you will reach the second number. If you have less than 33% marks, you enter the kingdom later. When the sun dynasty comes to an end, there is the moon dynasty. Those of the sun dynasty then become those of the moon dynasty. The sun-dynasty kingdom then becomes the past. You also have to understand the drama. After the golden age, there is the silver age; you change from satopradhan to the sato stage. Alloy continues to be mixed in. First of all, you are golden, then silver and then copper. You souls now have alloy mixed in you. The lights of souls have been extinguished and the intellects have become stone. The Father is now once again making your intellects divine. He says: O souls, while walking and moving around and carrying out any task, remember the Father. You have to help the Pandava Government for eight hours. You have now come from the devilish clan into the Godly clan. Therefore, if you go back into the devilish clan again, that is, if you remember it again, your sins will not be absolved. All the effort is required for this. Otherwise, you will have to cry and repent a great deal at the end. If a burden of sin remains, the tribunal will sit for you. You will then be given visions: This is what you did in such-and-such a birth. When someone sacrifices himself at Kashi, he is given a vision and then punished. Here, too, you are given visions and Dharamraj would then say: Look, the Father was teaching you through this body of Brahma. He taught you so much, but, in spite of that, you committed these sins. You are not only given a vision of the sins of this birth, but the sins of birth after birth. It takes a lot of time: it is as though you experience punishment for many births and you will then repent and cry a great deal. However, what can be done at that time? This is why I tell you in advance: If you defame My name, there will have to be a lot of punishment. Therefore, children, don’t become those who defame Me, your Satguru. Otherwise, there will be punishment and your status will also be reduced. Your true Baba, the true Teacher and the Satguru is just the One. The Father says: This child Brahma remembers Me a lot. He also imbibes knowledge. This one and Mama pass as number one and then become Lakshmi and Narayan. Their dynasty is created. When everyone is making effort, you too should make effort like Mama and Baba and become the masters of their throne. You too should follow the mother and father and be seated on the future throne. No one is able to know the knowledge of the Creator or creation. Those people say: It is infinite. We do not know. They are atheists. Because of not knowing, the people of Bharat, that is, all the children, are experiencing sorrow. They continue to fight and quarrel over water and land. It is said: This is the fruit of your actions of the past. You are now studying with the Father in order to perform such actions that you will never have to repent for your actions for 21 births. He enables you to reach your full karmateet stage. God speaks: O children, after belonging to Me, your Father and Bridegroom, never divorce Me. You should never even have any thought of divorcing Me. There, a wife would not even think of divorcing her husband. A child would never divorce his father. Nowadays, they do this a lot. In the golden age, they never divorce anyone, because you experience the reward there of the effort you make at this time. This is why there is no question of any sorrow or divorce. This pilgrimage of remembrance, the spiritual pilgrimage, is to go to the Supreme Father, the Supreme Soul. The incorporeal Father sits here and speaks to you incorporeal souls through this mouth. So, this is Gaumukh. He is the senior mother. You are the mouth-born creation. The jewels of knowledge emerge through him. How would water emerge from the mouth of a cow? Baba gives you the imperishable jewels of knowledge through this mouth. Each jewel is worth hundreds of thousands of rupees. It is up to you how much you imbibe. The main thing is “Manmanabhav”. This one jewel is the main one. The unlimited Father says: When you remember Me, I am bound to give you the inheritance of unlimited happiness. For as long as you have a body, continue to remember Me and I will give you the sovereignty of heaven because you become obedient and faithful. To the extent that you stay in remembrance, so you purify the world accordingly. Only by having remembrance are your sins absolved. Maya makes you children repeatedly forget. This is why you are cautioned: Never forget the Father. I have come to take you back. The play will repeat from the golden age. I will not become the Master of the golden age. I give you the kingdom of heaven. I will then go and sit in retirement for half the cycle. Then, for half the cycle, no one remembers Me. Everyone remembers Me in sorrow; no one remembers Me in happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Definitely help the Pandava Government for eight hours. Stay in remembrance and do the service of purifying the world.
  2. Never perform any wrong actions and thereby cause defamation of the Satguru. Make effort like Mama and Baba and claim the sun-dynasty kingdom.
Blessing: May you have all rights and finish dependency by experiencing your right of Him belonging to you.
To make the Father belong to you means to experience your right. Where there is a right, you do not have any dependency on the self; there is no dependency on relationships and connections, there is no dependency on matter or adverse situations. When all of these types of dependency finish, you become one with all rights. Those who know the Father and have made Him belong to themselves by knowing Him are great and have all rights.
Slogan: To harmonise your sanskars and virtues with everyone as you move along is the speciality of special souls.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 21 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 June 2018

To Read Murli 20 June 2018 :- Click Here
21-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ईश्वरीय बचपन को भूल ऊंचे ते ऊंचा वर्सा गँवा नहीं देना, फुल पास होंगे तो सूर्यवंशी घराने में राज्य मिलेगा”
प्रश्नः- सतयुग और त्रेता में किसी भी आत्मा को अपने कर्म नहीं कूटने पड़ते – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि सतयुग-त्रेता में जो भी आत्मायें आती हैं वह संगम की ही प्रालब्ध भोगती हैं, उन्होंने संगम पर बाप द्वारा ऐसे कर्म सीखे हैं तो 21 जन्म तक उन्हें कोई कर्म कूटना न पड़े। अभी बाप ऐसे कर्म सिखलाते हैं जिससे आत्मा कर्मातीत बन जाती है। फिर किसी भी कर्म का फल दु:ख नहीं भोगना पड़ता है।
गीत:- बचपन के दिन भुला न देना… 

ओम् शान्ति। बच्चों ने मीठा-मीठा गीत सुना। बेहद का बाप बच्चों प्रति समझा रहे हैं। परमपिता परमात्मा उसको ही कहा जाता है जो श्री श्री यानी श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ है। कहते भी हैं शिव भगवानुवाच अथवा रुद्र भगवानुवाच। रुद्र परमपिता परमात्मा को ही कहा जाता है। तो परमपिता परमात्मा इस शरीर द्वारा अपने बच्चों को समझा रहे हैं। ऐसे और कोई मनुष्य, साधू, सन्त आदि नहीं कहेंगे कि तुम आत्मा हो। तुम्हारा परमपिता इस मुख कमल से बोल रहा है। कहते हैं गऊमुख। अब पानी की तो कोई बात नहीं। बाप है ज्ञान का सागर। श्री श्री 108 रुद्र माला वा शिव माला है ना। तो पहले-पहले यह पक्का निश्चय करो कि बाबा हम आत्माओं को पढ़ाते हैं। आत्मा ही संस्कार ले जाती है। आत्मा ही पढ़ती है, आरगन्स द्वारा। आत्मा खुद कहती है – मैं एक शरीर छोड़ दूसरा लेती हूँ। भिन्न-भिन्न नाम, रूप, देश, काल….. सतयुग में पुनर्जन्म लेता हूँ तो नाम-रूप बदल जाता है। यह आत्मा बोलती है। सतयुग में हूँ तो पुनर्जन्म भी सतयुग में होता है अथवा बाप समझाते हैं तुम स्वर्ग में हो तो पुनर्जन्म वहाँ लेते हो फिर नाम-रूप बदलता जाता है।

बाप निराकार शिवबाबा इस रथ में आकर समझा रहे हैं – बच्चे, अब तुम हमारे बच्चे बने हो। तुमको बहुत खुशी चढ़ी हुई है। हम बेहद के बाप से वर्सा ले रहे हैं इस ब्रह्मा द्वारा। आत्मा कहती है – मैं इस शरीर द्वारा बैरिस्टरी अथवा डाक्टरी का पार्ट बजाती हूँ। हम आत्मा अशरीरी थी फिर गर्भ में आकर शरीर धारण किया है। बाप कहते हैं मैं तो गर्भ में नहीं आता हूँ। हम ऐसे नहीं कहेंगे कि परमपिता परमात्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हैं। नहीं, तुम लेते हो। यह (दादा) लेता है। इस आत्मा ने 84 जन्म पूरे लिए हैं। यह आत्मा अपने जन्मों को नहीं जानती थी। अब 84 जन्मों को जाना है। आत्मा ही कहती है – मैंने सूर्यवंशी घराने में जन्म लिया। फिर पुनर्जन्म लेते आये। फिर चन्द्रवंशी घराने में जन्म लिया। फिर पुनर्जन्म लेते-लेते सतयुग, त्रेता, द्वापर, कलियुग में आये। आत्मा कहती है द्वापर में हमने बाप को बहुत याद किया। परमपिता परमात्मा के लिंग रूप की पूजा भी की। मैं आत्मा सतयुग में मालिक थी, वहाँ किसकी पूजा नहीं करती थी। स्वर्ग में भक्ति होती नहीं। आधा-कल्प भक्ति की। अब फिर बाप के सम्मुख आये हैं। अभी तुम सब निराकार बाप के सम्मुख आये हो साकार द्वारा। बाप कहते हैं यह ईश्वरीय जन्म भूल नहीं जाना। कहते हैं – बाबा, यह तो बड़ा मुश्किल है। अरे, मुश्किल क्या बात है। तुम आत्माओं का बाप मैं हूँ। मैं आया हूँ तुमको पतित से पावन बनाने। तुम स्वर्ग की बादशाही करने लिए पढ़ते हो। ज्ञान के संस्कार मुझ परमपिता परमात्मा में हैं इसलिए मुझे ज्ञान सागर, मनुष्य सृष्टि का बीजरूप कहते हैं। खुद कहते हैं – बरोबर, मैं रचयिता हूँ। मैं परमधाम में रहता हूँ। मैं यहाँ एक ही बार आता हूँ जबकि मुझे पढ़ाना होता है। पतित सृष्टि को आकर पावन बनाता हूँ। जरूर पतित ही याद करेंगे। सतयुग में पावन तो याद नहीं करेंगे। ऐसे तो कोई नहीं कहेंगे कि आकर हम आत्माओं को पतित बनाओ। नहीं, पतित माया ने बनाया है, तब कहते हैं पावन बनाओ। परन्तु उन्हों को यह पता नहीं है कि मैं कब आता हूँ। मैं आता ही हूँ संगम पर। और कोई समय नहीं आता हूँ। अभी आया हूँ। तुम मीठे बच्चों ने हमारी गोद ली है। जानते हो बाबा फिर से प्राचीन राजयोग सिखलाते हैं, जिससे भारत पावन बनता है। यह है निराकार, ईश्वर की पाठशाला। निराकार बाबा कहते हैं – मैं इस तन में आता हूँ। यह ब्रह्मा तुम्हारी बड़ी मम्मा है। वह मम्मा सरस्वती जगत अम्बा है – ब्रह्मा की बेटी। बड़ी मम्मा पालना तो नहीं कर सकती, इसलिए वह जगदम्बा मुकरर रखी है। इसके (ब्रह्मा के) शरीर को जगत अम्बा नहीं कहेंगे। यह मात-पिता है। यह ब्रह्मा माता भी है। वर्सा माता से नहीं मिल सकता। वर्सा फिर भी बाप से मिलेगा। इस ब्रह्मा माता के तुम मुख वंशावली हो। बाप कहते हैं – बच्चे, मेरा बनकर तुम स्वर्ग की बादशाही लेने लिए पुरुषार्थ करते-करते फिर कहाँ माया की युद्ध में हार नहीं जाना। भाग नही जाना। यह ईश्वरीय बचपन भुलाना नहीं। अगर भुलाया तो रोना पड़ेगा। तो बी0के0 सरस्वती जिसको जगत अम्बा कहते हैं – वह पालना करने निमित्त बनी हुई है। यह (ब्रह्मा) पालना कैसे कर सके। कलष पहले-पहले इनको मिलता है। पहले इनके कान सुनते हैं, फिर जगदम्बा है सम्भालने के लिए। अब बाप कहते हैं मैं संगम युग पर आया हूँ, तुमको वापिस ले जाने। जैसे धर्माऊ मास, जिसको पुरुषोत्तम मास कहते हैं ना। वैसे यह भी पुरुषोत्तम युग है। जहाँ उत्तम से उत्तम पुरुष बनना होता है। पुरुषोत्तम माना उत्तम ते उत्तम पुरुष कौन है? यह श्री लक्ष्मी-नारायण, यह नर-नारी ऊंच ते ऊंच कैसे और किस द्वारा बने? बाप कहते हैं मेरे द्वारा। मेरा नाम भी है श्री श्री श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ। ऐसा श्री नारायण जैसा मनुष्य मैं बनाता हूँ। पतितों को पावन बनाता हूँ। जिससे फिर ऐसे लक्ष्मी-नारायण पुरुषोत्तम और पुरुषोत्तमनी बनते हैं। बाप कहते हैं – बच्चे, देह सहित देह के जो भी सम्बन्ध हैं सबको भूलते जाओ। मुझ एक के साथ योग लगाओ। तुम कहते हो हम बाप के बच्चे बने हैं। बाप के स्थापन किये हुए स्वर्ग के हम मालिक बनेंगे। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। यह है आत्मा की अथवा बुद्धि की यात्रा। धारणा सब आत्मा को करनी है। शरीर तो जड़ है। आत्मा की प्रवेशता से यह चैतन्य बनता है।

तो बाप समझाते हैं – लाडले बच्चे, यह याद की मंजिल बड़ी लम्बी है। तीर्थों पर तो मनुष्य चक्र लगाकर लौट आते हैं। तीर्थों पर तो कभी विकार में नहीं जाते हैं। क्रोध, लोभ आदि हो जाये, परन्तु पवित्र जरूर रहेंगे। फिर घर में लौट आते हैं तो अपवित्र बन पड़ते हैं। इस समय सबकी आत्मा भी झूठी तो शरीर भी झूठे हैं। लक्ष्मी-नारायण की राजधानी से लेकर जो भी आत्मायें आती गई हैं इस समय सब पतित हैं। सतयुग में बेहद का सुख, शान्ति, पवित्रता रहती है। कलियुग में तीनों नहीं है। घर-घर में दु:ख-अशान्ति है। कोई-कोई घर में तो इतनी अशान्ति होती है जैसे नर्क। आपस में बहुत लड़ते-झगड़ते रहते है। तो बाप कहते हैं – यह बचपन भुलाना नहीं। अगर भूले तो ऊंच ते ऊंच वर्सा गँवा देंगे। भुला दिया, फारकती दे दी तो अधम गति को पायेंगे। अगर श्रीमत पर चलेंगे तो श्रेष्ठ श्री लक्ष्मी-नारायण बनेंगे। सीता-राम त्रेता में आ जाते हैं। दो कला कम हो गई इसलिए उनको क्षत्रियपन की निशानी दे दी है। ऐसे नहीं, वहाँ कोई राम-रावण की लड़ाई लगी। जो माया पर जीत पहनते हैं वह देवता वर्ण में जाते हैं और जो माया पर जीत नहीं पहन सकेंगे, नापास होंगे उनको क्षत्रिय कहेंगे। वह राम-सीता के घराने में चले जायेंगे। पूरे मार्क्स हैं 100, सूर्यवंशी नम्बरवन जो गद्दी पर बैठेंगे। थोड़े कम मार्क्स होंगे तो सेकेण्ड नम्बर,33 प्रतिशत मार्क्स के नीचे आ जाते हैं तो राज्य पीछे मिलता है। सूर्यवंशी का पूरा हो फिर चन्द्रवंशी का चलता है। सूर्यवंशी फिर चन्द्रवंशी बन जाते हैं। सूर्यवंशी राजधानी पास्ट हो गई। ड्रामा को भी समझना है। सतयुग के बाद त्रेता, सतोप्रधान से सतो हो जाते हैं। खाद पड़ती जाती है। पहले गोल्डन फिर सिलवर, कॉपर….. अब तुम्हारी आत्मा में खाद पड़ी हुई है। आत्मा की ज्योति उझाई हुई है। पत्थर बुद्धि बन पड़े हैं, बाप फिर पारस बुद्धि बनाते हैं। कहते हैं – हे आत्मायें, चलते-फिरते कोई भी कार्य करते बाप को याद करो। आठ घण्टा तो पाण्डव गवर्मेन्ट को मदद करो। अभी तुम आसुरी कुल से ईश्वरीय कुल में आये हो फिर अगर आसुरी कुल में गये अथवा उनको याद किया तो विकर्म विनाश नहीं होंगे। मेहनत सारी इसमें है। नहीं तो अन्त में बहुत रोना पछताना पड़ेगा। पापों का बोझा रह जाता है तो फिर तुम्हारे लिए ट्रिब्युनल बैठती है। साक्षात्कार कराते हैं – तुमने फलाने जन्म में यह किया। काशी कलवट में भी साक्षात्कार कराके सजा देते हैं। यहाँ भी साक्षात्कार कराए धर्मराज कहेंगे – देखो, बाप तुमको इस ब्रह्मा तन से पढ़ाता था, तुमको इतना सिखलाया फिर भी तुमने यह-यह पाप किये, न सिर्फ इस जन्म के परन्तु जन्म-जन्मान्तर के पापों का साक्षात्कार करायेंगे। टाइम बहुत लगता है। जैसे कि बहुत जन्म सजा खा रहा हूँ फिर बहुत पछतायेंगे, रोयेंगे। परन्तु हो क्या सकेगा? इसलिए पहले से बता देता हूँ। नाम बदनाम किया तो बहुत सजा खानी पड़ेगी इसलिए बच्चे, मुझ अपने सतगुरू के निन्दक मत बनना। नहीं तो सजायें भी खायेंगे और पद भी कम हो जायेगा।

तुम्हारा सत बाबा, सत टीचर, सतगुरू एक ही है। अब बाप कहते हैं यह ब्रह्मा बच्चा हमको बहुत याद करता है। ज्ञान भी धारण करते हैं। यह और मम्मा नम्बरवन पास हो फिर लक्ष्मी-नारायण बनते हैं, इनकी डिनायस्टी बनती है। जब सब पुरुषार्थ करते हैं तो हम भी मम्मा-बाबा के मिसल मेहनत कर उनके तख्त के मालिक बनें, मात-पिता को फालो करें और भविष्य तख्त नशीन बनें। यह रचयिता और रचना की नॉलेज कोई जान नहीं सकते। वह तो बेअन्त कह देते हैं – हम नहीं जानते हैं, नास्तिक हैं। न जानने के कारण ही भारतवासी अथवा सब बच्चे दु:खी हुए हैं। लड़ते-झगड़ते रहते हैं – पानी के लिए, जमीन के लिए….. कहा भी जाता है – यह पास्ट जन्मों के कर्मों का फल है। अभी बाप से तुम ऐसे कर्म सीखते हो जो तुमको 21 जन्म कभी कर्म कूटना नहीं पड़ेगा। एकदम कर्मातीत अवस्था में पहुँचा देते हैं। भगवानुवाच – हे बच्चे, मुझ बाप के अथवा मुझ साजन के बनकर फिर कभी फारकती मत देना। फारकती देने का कभी संकल्प भी नहीं आना चाहिए। वहाँ कभी स्त्री पति को डायवोर्स देने का संकल्प भी नहीं करेगी। बच्चा कभी बाप को फारकती नहीं देगा। आजकल तो बहुत देते हैं। सतयुग में कभी फारकती नहीं देते हैं क्योंकि वहाँ तुम अभी के पुरुषार्थ की प्रालब्ध भोगते हो इसलिए कोई दु:ख का अथवा फारकती का प्रश्न ही नहीं।

यह याद की यात्रा है – परमपिता परमात्मा के पास जाने की रूहानी यात्रा। निराकार बाप निराकार आत्माओं से बात करते है इस मुख द्वारा। तो यह गऊ मुख हुआ ना। बड़ी माँ है। तुम हो मुख वंशावली। उनसे ज्ञान रत्न निकलते हैं। बाकी गऊ के मुख से जल कैसे निकलेगा? बाबा इस मुख द्वारा अविनाशी ज्ञान रत्न देते हैं। एक-एक रत्न लाखों रूपयों का है। जितना तुम धारण करेंगे…..। मुख्य है ही मन्मनाभव। यह एक रत्न ही मुख्य है। बेहद का बाप कहते हैं मुझे याद करने से मैं बेहद सुख का वर्सा देने लिए बाँधा हुआ हूँ। जब तक शरीर है मुझे याद करते रहो तो तुमको स्वर्ग की बादशाही देंगे क्योंकि तुम आज्ञाकारी, व़फादार बनते हो। जितना जो याद में रहते हैं उतना दुनिया को पवित्र बनाते हैं। याद से ही विकर्म विनाश होते हैं। बच्चों को माया घड़ी-घड़ी भुला देती है इसलिए खबरदार करते हैं। कभी बाप को भुला नहीं देना। मैं तुमको लेने आया हूँ। सतयुग से फिर नाटक रिपीट होगा। मैं सतयुग का मालिक नहीं बनूँगा। तुमको स्वर्ग की राजाई देता हूँ। मैं फिर आधा-कल्प वानप्रस्थ में बैठ जाऊंगा। फिर आधा-कल्प मुझे कोई याद नहीं करते। दु:ख में सभी याद करते हैं। सुख में करे न कोई….. अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) 8 घण्टा पाण्डव गवर्मेन्ट की मदद जरूर करनी है। याद में रह विश्व को पावन बनाने की सेवा करनी है।

2) कभी कोई उल्टा कर्म करके सतगुरू की निन्दा नहीं करानी है। मम्मा-बाबा जैसा पुरुषार्थ कर सूर्यवंशी राजाई लेनी है।

वरदान:- अपने पन के अधिकार की अनुभूति द्वारा अधीनता को समाप्त करने वाले सर्व अधिकारी भव
बाप को अपना बनाना अर्थात् अपना अधिकार अनुभव होना। जहाँ अधिकार है वहाँ न तो स्व के प्रति अधीनता है, न सम्बन्ध-सम्पर्क में आने की अधीनता है, न प्रकृति और परिस्थितियों में आने की अधीनता है। जब इन सब प्रकारों की अधीनता समाप्त हो जाती है तब सर्व अधिकारी बन जाते। जिन्होंने भी बाप को जाना और जानकर अपना बनाया वही महान हैं और अधिकारी हैं।
स्लोगन:- अपने संस्कार वा गुणों को सर्व के साथ मिलाकर चलना – यही विशेष आत्माओं की विशेषता है।

TODAY MURLI 21 June 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 21 June 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 20 June 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_5]

 

 

21/06/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this is a play about the graveyard (kabristhan) and the land of fairies (Paristhan). At this time it is the graveyard and later it will become Paristhan. Your heart should not be attached to this graveyard.
Question: By knowing what one thing will human beings have all their doubts removed?
Answer: If they come to know who the Father is and how He comes, all their doubts will be removed. Until they know the Father, their doubts cannot end. By your intellects having faith, you become part of the rosary of victory, but there has to be full faith in everything within a second.
Song: Leave Your throne of the sky and come down to this earth!

 

Om shanti. The Father sits here and explains to you children. This is the unlimited, spiritual Father. All souls definitely change their form: they come from the incorporeal world into corporeal forms to play their parts on the field of action. Children say: Baba, change Your form just as we do. Surely, He would adopt a corporeal form to give knowledge; He would take on the form of a human body. You children also understand that you were incorporeal and that you then became corporeal; it is definitely like this. That is the incorporeal world. The Father sits here and speaks. He says: You do not know the story of your 84 births. I enter this one and explain to him. He did not know this. Krishna was the prince of the golden age, but this One has to come into the impure world, in an impure body. Krishna was beautiful, but no one knows how he became ugly. They say that he was bitten by a snake; in fact, it was a question of the five vices. By sitting on the pyre of lust, you become ugly. Krishna is called shyam sundar (the ugly and beautiful one). I do not have a body that I would become ugly and then beautiful; I am ever pure. I come at the confluence of every cycle, when it is the end of the iron age and the beginning of the golden age. I have to come to establish heaven. The golden age is the land of happiness and the iron age is the land of sorrow. At this time, all human beings are impure. You cannot say that the government of Lakshmi and Narayan, the emperor and empress of the golden age, is corrupt. Here, all are impure. When Bharat was heaven, there was the kingdom of deities. At that time, there was only one religion and everyone was completely pure and elevated. Here, corrupt ones worship the elevated ones. Sannyasis become pure, and so impure ones bow their heads in front of them. Householders do not follow the sannyasis; they just say: I am a follower of such and such a sannyasi. However, it is only when those people truly follow that they can be called followers. If you become a sannyasi yourself, you could then be called a follower. Householders become their ‘followers’ but they do not remain pure. Neither do the sannyasis explain this to them, nor do they themselves understand that they are not truly following the sannyasis. Here, you have to follow the mother and father fully. It is said: Follow the mother and father. Break your intellect’s yoga away from all bodily beings and have a connection with only Me, your Father; then you will come to the Father and you will then go into the golden age. You are all-rounders; you take 84 births. You understand that your all-round part s continue from the beginning to the end and from the end to the beginning. The part s of those of other religions do not continue from the beginning to the end. The original, eternal religion is only of deities. At first, there was the sun dynasty. You now understand that you go around the cycle of 84 births, but those who come later on cannot be allrounders. This is something to be understood. No one except the Father can explain this. First, there is deityism. The kingdom of the sun and moon dynasties continues for half the cycle. The confluence age now is very short. This is called ‘sangam’ (confluence), and also ‘kumbh’ (the meeting). Everyone remembers Him: O Supreme Father, Supreme Soul, come and make us pure from impure. They wander around a great deal in order to meet the Father. They keep holding sacrificial fires, doing tapasya, giving donations and performing charitable acts, etc., but there is no benefit in any of that. You have now become free from wandering. Those are the rituals of devotion and these are the rituals of knowledge. The path of devotion continues for half a cycle. This is the path of knowledge and you are told at this time to have disinterest in the old world. Therefore, yours is unlimited disinterest because you know that this whole world is to become a graveyard. At this time it is the graveyard and it will afterwards become the land of fairies. This is a play about kabristan and Paristhan. The Father establishes the land of fairies which everyone remembers. No one remembers Ravan. By understanding the first main point, all their doubts finish. Until they first recognise the Father, they will remain those whose intellects have doubt. Those whose intellects have doubt are the ones who are led to destruction. Definitely, He is the Father of us souls. He gives the unlimited inheritance. It is only by having faith that we can be threaded in the rosary of victory. There should be faith in every word within a second. Since you say “Baba,” there should be full faith. The Incorporeal is called the Father. In fact, they also called Gandhi “Bapuji” (father), but here, the Bapuji of the world is needed. He is God , the Father of the world. God, the Father of the world, must be very great; you receive the kingdom of the world from Him. The kingdom of Vishnu is established through Brahma. You also understand that you were the masters of the world. You were deities, you then became those who belonged to the moon dynasty, then the warrior dynasty and then the shudra dynasty. Only you children understand all of these things. The Father says: There will be many obstacles in this sacrificial fire of knowledge of Mine. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. The fire of destruction is ignited from this sacrificial fire. The whole of the old world will be destroyed and the one deity religion will be established. The Father is explaining to you and telling you the truth. He is telling you the true story of becoming Narayan from an ordinary human. Only now do you hear this story; it has not continued since the beginning of time. The Father says: You have now completed 84 births. Then, there will be your kingdom in the new world. This is the knowledge of Raja Yoga. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, has the knowledge of easy Raja Yoga. It is also called Raja Yoga of ancient Bharat. The iron age was definitely transformed into the golden age. Destruction had also begun; that was a question of missiles. There is no question of battles in the golden or silver age; they take place later on. The final war will be with missiles. Earlier, they used to fight with swords, then they started to fire guns, then cannon were invented and now there are bombs. How else could the whole world be destroyed? Along with those, there are also natural calamities. There is torrential rain and famine etc. Those are all natural calamities. For instance, earthquakes are called natural calamities. What can anyone do about them? Now, if people had taken insurance out, who would pay whom? All will die; no one will receive anything. You now have to insure everything with the Father. They insure on the path of devotion too, but they only receive a short-lived return. Here, you insure directly. Someone who insures everything receives a sovereignty. Baba gives his own example: he gave everything, he insured everything fully with the Father, and so he receives the full sovereignty. However, the rest of this world will be destroyed. This is the land of death. The wealth of some will remain buried in the mud, while the governments will take away that of others. When there is a fire somewhere, or if any disasters arise, looters come and steal many things. It is now the time of the end. This is why you now have to remember the Father and give help. At this time, all are impure, so no one can establish a pure world. This is the Father’s task. They call out to the Father: Come from the incorporeal world, come and adopt a form. The Father says: I have come into the corporeal world and adopted a form, but I do not always remain in this one; you cannot ride all day! They show someone riding a bull. They have also shown the fortunate chariot of a human being. Now is this right, or is that right? They show a cowshed and also a Gaumukh (cow’s mouth). They portray someone riding a bull and knowledge being given through a cow’s mouth. This is the nectar of knowledge emerging and it too has a meaning. There is even a temple to Gaumukh. Many go to see that temple. They believe that nectar is dripping from the cow’s mouth and that they should go and drink that. There are seven hundred steps down to get there. In fact, this one is the greatest Gaumukh. They also make a lot of effort to go to Amarnath, although there is nothing there. They are all cheats. They have shown Shankar relating a story to Parvati, but Parvati was not so degraded that he would have had to sit and relate religious stories to her. People also spend a lot of money building temples etc. The Father says: By spending so much of your money, you have wasted all the money. You were once so solvent, and you have now become insolvent. However, I have now come to make you solvent again. You children understand that you have come to the Father to take your inheritance. The Father is now giving you this inheritance. Bharat is the birthplace of the Supreme Father, the Supreme Soul, and so this is the greatest pilgrimage place. The Father comes and purifies all the impure ones. If the Father’s name were in the Gita, all would come here and offer flowers. No one except the Father can bring salvation. Bharat is the greatest pilgrimage place but no one knows this. Otherwise, just as the Father’s praise is limitless, so there is also the praise of Bharat. It is Bharat that becomes hell and heaven. The limitless praise is of heaven, whereas the limitless defamation is of hell. You children are now becoming the masters of the land of truth. You have come here to take the unlimited inheritance from Baba. The Father says: Manmanabhav! Remove your intellect’s yoga from everyone else and remember Me alone. You will become pure by having remembrance. You have to take the inheritance by imbibing knowledge. Everyone receives the inheritance of liberation-in-life, but only those who study Raja Yoga receive the inheritance of heaven as well. Everyone will receive salvation. He will take everyone back home. The Father says: I am the Death of all Deaths. There is the temple to Mahakal too, (the Great Death). The Father explains: At the end, when the glorification takes place, people will understand that it truly is the unlimited Father who tells you all of this. If someone were to relate a story now (at a religious gathering) and say that the God of the Gita is not Krishna but Shiva”, everyone would say that that one has been influenced by the Brahma Kumaris. This indicates that it is not yet their time. They will understand later; if they were to believe everything now, their whole business would finish. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Break all other connections and follow the mother and father fully. Your intellect should have unlimited disinterest in this old world. You have to forget it.
  2. It is now the time of the end and everything is to be destroyed. Therefore, before the very end, insure everything you have and claim a right to the full future sovereignty.
Blessing: With the constant company of the Truth, may you finish all weaknesses and be an easy yogi and an easy gyani soul.
Any weakness comes when you have stepped away from the company of the Truth and are influenced by other company. This is why it is said on the path of devotion: Constantly keep the company of the Truth. The company of the Truth means constantly to stay in the Father’s company. For all of you, it is easy to have the company of the true Father because you have a close relationship with Him. So, constantly stay in the company of the Truth, be an easy yogi and an easy gyani soul and finish all weaknesses.
Slogan: To remain constantly happy, renounce any desire to hear your own praise.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

 

Read Bk Murli 19 June 2017 :- Click Here

Read Murli 17 June 2017 :- Click Here

 

Brahma kumaris murli 21 June 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 June 2017

To Read Murli 20 June 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_5]

 

 

21/06/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – यह खेल है कब्रिस्तान और परिस्तान का, इस समय कब्रिस्तान है फिर परिस्तान बनेगा – तुम्हें इस कब्रिस्तान से दिल नहीं लगानी है”
प्रश्नः- मनुष्य कौन सी एक बात को जान लें तो सब संशय दूर हो जायेंगे?
उत्तर:- बाप कौन है, वह कैसे आते हैं – यह बात जान लें तो सब संशय दूर हो जायेंगे। जब तक बाप को नहीं जाना तब तक संशय मिट नहीं सकते। निश्चयबुद्धि बनने से विजय माला में आ जायेंगे लेकिन एक-एक बात में सेकण्ड में पूरा निश्चय होना चाहिए।
गीत:- छोड़ भी दे आकाश सिंहासन…

 

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। यह है बेहद का रूहानी बाप। आत्मायें सभी रूप तो जरूर बदलती हैं। निराकार से साकार में आते हैं पार्ट बजाने, कर्मक्षेत्र पर। बच्चे कहते हैं बाबा आप भी हमारे मुआफिक रूप बदलो। जरूर साकार रूप धारण करके ही तो ज्ञान देंगे ना। मनुष्य का ही रूप लेंगे ना! बच्चे भी जानते हैं हम निराकार हैं फिर साकार बनते हैं। बरोबर है भी ऐसे। वह है निराकारी दुनिया। यह बाप बैठ सुनाते हैं। कहते हैं तुम अपने 84 जन्मों की कहानी को नहीं जानते हो। मैं इनमें प्रवेश कर इनको समझा रहा हूँ, यह तो नहीं जानते हैं ना। कृष्ण तो सतयुग का प्रिन्स है, इनको आना पड़ता है पतित दुनिया, पतित शरीर में। कृष्ण गोरा था, फिर काला कैसे हुआ? यह कोई जानते नहीं। कहते हैं सर्प ने डसा। वास्तव में यह है 5 विकारों की बात। काम-चिता पर बैठने से काले बन जाते हैं। श्याम-सुन्दर कृष्ण को ही कहते हैं। मेरा तो शरीर ही नहीं है – जो गोरा वा सांवरा बने। मैं तो एवर पावन हूँ। मैं कल्प-कल्प संगम पर आता हूँ, जब कलियुग का अन्त, सतयुग का आदि होता है। मुझे ही आकर स्वर्ग की स्थापना करनी है। सतयुग है सुखधाम। कलियुग है दु:खधाम। इस समय मनुष्य मात्र सब पतित हैं। सतयुग के लक्ष्मी-नारायण, महाराजा-महारानी की गवर्मेन्ट को भ्रष्टाचारी तो नहीं कहेंगे। यहाँ सब हैं पतित। भारत स्वर्ग था तो देवी-देवताओं का राज्य था। एक ही धर्म था। सम्पूर्ण पावन, श्रेष्ठाचारी थे। भ्रष्टाचारी, श्रेष्ठाचारियों की पूजा करते हैं। सन्यासी पवित्र बनते हैं तो अपवित्र उनको माथा टेकते हैं। सन्यासी को गृहस्थी फालो तो कुछ करते नहीं, सिर्फ कह देते हैं मैं फलाने सन्यासी का फालोअर्स हूँ। सो तो जब फालो करो। तुम भी सन्यासी बन जाओ तब कहेंगे फालोअर, गृहस्थी फालोअर्स बनते हैं परन्तु वह पवित्र तो बनते नहीं। न सन्यासी उनको समझाते हैं, न वह खुद समझते हैं कि हम फालो तो करते नहीं हैं। यहाँ तो पूरा फालो करना है – मात-पिता को। गाया जाता है फालो फादर-मदर, और संग बुद्धियोग तोड़ना है, सभी देहधारियों से तोड़ मुझ एक बाप से जोड़ो तो बाप के पास पहुँच जायेंगे, फिर सतयुग में आ जायेंगे। तुम आलराउन्डर हो। 84 जन्म लेते हो। आदि से अन्त तक, अन्त से आदि तक तुम जानते हो हमारा आलराउन्ड पार्ट चलता है। दूसरे धर्म वालों का आदि से अन्त तक पार्ट नहीं चलता है। आदि सनातन है ही एक देवी-देवता धर्म। पहले-पहले सूर्यवंशी थे।

अब तुम जानते हो हम आलराउन्ड 84 जन्मों का चक्कर लगाते हैं। बाद में आने वाले तो आलराउन्डर हो न सकें। यह समझ की बात है ना। बाप के सिवाए कोई समझा न सके। पहले-पहले है ही डिटीज्म। आधाकल्प सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी राज्य चलता है। अभी तो यह बहुत छोटा सा युग है, इनको ही संगम कहते हैं, कुम्भ भी कहते हैं। उनको ही याद करते हैं – हे परमपिता परमात्मा आकर हम पतितों को पावन बनाओ। बाप से मिलने लिए कितना भटकते रहते हैं। यज्ञ-तप, दान-पुण्य आदि करते रहते हैं। फायदा कुछ भी नहीं होता है। अब तुम भटकने से छूट गये हो। वह है भक्ति काण्ड। यह है ज्ञान काण्ड। भक्ति मार्ग आधाकल्प चलता है। यह है ज्ञान मार्ग। इस समय तुमको पुरानी दुनिया से वैराग्य दिलाते हैं इसलिए तुम्हारा यह है बेहद का वैराग्य क्योंकि तुम जानते हो यह सारी दुनिया कब्रिस्तान होनी है। इस समय कब्रिस्तान है फिर परिस्तान बनेगा। यह खेल है कब्रिस्तान, परिस्तान का। बाप परिस्तान स्थापन करते हैं, जिसको याद करते हैं। रावण को कोई याद नहीं करते हैं। मुख्य एक बात समझने से फिर सब संशय मिट जायेंगे, जब तक पहले बाप को नहीं जाना है तो संशय बुद्धि ही रहेंगे। संशयबुद्धि विनश्यन्ती.. बरोबर हम सब आत्माओं का वह बाप है, वही बेहद का वर्सा देते हैं। निश्चय से ही विजय माला में पिरो सकते हैं। एक-एक अक्षर में सेकण्ड में निश्चय होना चाहिए। बाबा कहते हैं तो पूरा निश्चय होना चाहिए ना। बाप निराकार को कहा जाता है। ऐसे तो गांधी को भी बापू जी कहते थे। परन्तु यहाँ तो वर्ल्ड का बापू जी चाहिए ना। वह तो है ही वर्ल्ड का गॉड फादर। वर्ल्ड का गॉड फादर वह तो बहुत बड़ा हुआ ना। उनसे वर्ल्ड की बादशाही मिलती है। ब्रह्मा द्वारा स्थापना होती है, विष्णु के राज्य की। तुम जानते हो हम ही विश्व के मालिक थे। हम सो देवी-देवता थे फिर चन्द्रवंशी, वैश्यवंशी, शूद्रवंशी बनें। इन सब बातों को तुम बच्चे ही समझते हो। बाप कहते भी हैं इस मेरे ज्ञान यज्ञ में विघ्न बहुत पड़ेंगे। यह है रूद्र ज्ञान यज्ञ, इससे विनाश ज्वाला प्रज्जवलित होती है। इसमें सारी पुरानी दुनिया खत्म हो, एक देवता धर्म की स्थापना हो जायेगी। तुमको समझाने वाला बाप है, वह सच बोलते हैं, नर से नारायण बनने की सत्य कथा सुनाते हैं। यह कथा तुम अभी ही सुनते हो। यह कोई परम्परा नहीं चलती है।

अब बाप कहते हैं तुमने 84 जन्म पूरे किये हैं। अब फिर नई दुनिया में तुम्हारा राज्य होगा। यह है राजयोग का ज्ञान। सहज राजयोग की नॉलेज एक परमपिता परमात्मा के पास ही है, जिसको प्राचीन भारत का राजयोग कहते हैं। बरोबर कलियुग को सतयुग बनाया था। विनाश भी शुरू हुआ था, मूसलों की ही बात है। सतयुग त्रेता में तो कोई लड़ाई होती नहीं, बाद में शुरू होती है। यह मूसलों की है लास्ट लड़ाई। आगे तलवार से लड़ते थे, फिर बन्दूक बाजी चलाई। फिर तोप निकाली, अब बाम्ब्स निकाले हैं, नहीं तो सारी दुनिया का विनाश कैसे हो। फिर उनके साथ नेचुरल कैलेमिटीज़ भी है। मूसलधार बरसात, फैमन, यह है नेचुरल कैलेमिटीज़। समझो अर्थक्वेक होती है, उसको कहते हैं नेचुरल कैलेमिटीज़। उसमें कोई क्या कर सकते हैं। कोई ने अपना इन्श्योरेंस भी किया हो तो कौन और किसको देगा। सब मर जायेंगे, किसको कुछ भी मिलेगा नहीं। अभी तुम्हें फिर इनश्योर करना है बाप के पास। इनश्योर भक्ति में भी करते हैं, परन्तु वह आधाकल्प का रिटर्न मिलता है। यह तो तुम डायरेक्ट इनश्योर करते हो। कोई सब कुछ इनश्योर करेगा तो उनको बादशाही मिल जायेगी। जैसे बाबा अपना बतलाते हैं – सब कुछ दे दिया। बाबा पास फुल इनश्योर कर लिया तो फुल बादशाही मिलती है। बाकी तो यह दुनिया ही खत्म हो जाती है। यह है मृत्युलोक। किनकी दबी रहेगी धूल में, किनकी राजा खाए… जब कहाँ आग लगती है वा कोई आफत आती है तो चोर लोग लूटते हैं। यह समय ही अन्त का है, इसलिए अब बाप को याद करना है। मदद करनी है।

इस समय सब पतित हैं, वह पावन दुनिया स्थापन कर न सकें। यह तो बाप का ही काम है। बाप को ही बुलाते हैं, निराकारी दुनिया से आओ, आकर रूप धरो। तो बाप कहते हैं मैं साकार में आया हूँ, रूप धरा है। परन्तु हमेशा इसमें नहीं रह सकता हूँ। सवारी कोई सारा दिन थोड़ेही होती है। बैल की सवारी दिखाते हैं। भाग्यशाली रथ मनुष्य का दिखाते हैं। अब यह राइट है या वह? गऊशाला दिखाते हैं ना। गऊमुख भी दिखाया है। बैल पर सवारी और फिर गऊमुख से नॉलेज देते हैं। यह ज्ञान अमृत निकलता है। अर्थ है ना। गऊमुख का मन्दिर भी है। बहुत लोग जाते हैं तो समझते हैं गऊ के मुख से अमृत टपकता है। वह जाकर पीना है। 700 सीढ़ियां हैं। सबसे बड़ा गऊमुख तो यह है। अमरनाथ पर कितनी मेहनत कर जाते हैं। वहाँ है कुछ भी नहीं। सब ठगी है, दिखाते हैं शंकर ने पार्वती को कथा सुनाई। अब क्या पार्वती की दुर्गति हुई, जो उनको कथा बैठ सुनाई? मनुष्य मन्दिर आदि बनाने में कितना खर्चा करते हैं। बाप कहते हैं खर्चा करते-करते तुमने सब पैसे गंवा दिये हैं। तुम कितने सालवेन्ट थे, अब इनसाल्वेन्ट बन गये हो फिर मैं आकर सालवेन्ट बनाता हूँ। तुम जानते हो बाप से हम वर्सा लेने आये हैं। तुम बच्चों को दे रहे हैं। भारत है परमपिता परमात्मा का बर्थ प्लेस। तो सबसे बड़ा तीर्थ हुआ ना। फिर सर्व पतितों को पावन भी बाप ही बनाते हैं। गीता में अगर बाप का नाम होता तो सभी यहाँ आकर फूल चढ़ाते। बाप के सिवाए सभी को सद्गति कौन दे सकता। भारत ही सबसे बड़े से बड़ा तीर्थ है, परन्तु कोई को मालूम नहीं है। नहीं तो जैसे बाप की महिमा अपरमपार है वैसे भारत की भी महिमा है। हेल और हेविन भारत बनता है। अपरमअपार महिमा है ही हेविन की। अपरमअपार निंदा फिर हेल की करेंगे।

तुम बच्चे सचखण्ड के मालिक बनते हो। यहाँ आये हो बाबा से बेहद का वर्सा लेने। बाप कहते हैं मनमनाभव और सबसे बुद्धियोग हटाए मामेकम् याद करो। याद से ही पवित्र बनेंगे। नॉलेज से वर्सा लेना है, जीवनमुक्ति का वर्सा तो सबको मिलता है परन्तु स्वर्ग का वर्सा राजयोग सीखने वाले ही पाते हैं। सद्गति तो सबकी होनी है ना, सबको वापस ले जायेंगे। बाप कहते हैं मैं कालों का काल हूँ। महाकाल का भी मन्दिर है। बाप ने समझाया है अन्त में प्रत्यक्षता होगी तब समझेंगे कि बरोबर इन्हों को बतलाने वाला बेहद का बाप ही है। कथा सुनाने वाले अगर अब कहें गीता का भगवान कृष्ण नहीं, शिव है तो सब कहेंगे इनको भी बी.के. का भूत लगा है इसलिए इन्हों का अभी टाइम नहीं है। पिछाड़ी को मानेंगे। अभी मान लेवें तो उन्हों की सारी ग्राहकी चली जाए। अच्छा –

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) और सब संग तोड़ मात-पिता को पूरा-पूरा फालो करना है। इस पुरानी दुनिया से बेहद का वैराग्य रख इसे भूल जाना है।

2) यह अन्त का समय है, सब खत्म होने के पहले अपने पास जो कुछ है, उसे इनश्योर कर भविष्य में फुल बादशाही का अधिकार लेना है।

वरदान:- सदा सत के संग द्वारा कमजोरियों को समाप्त करने वाले सहज योगी, सहज ज्ञानी भव
कोई भी कमजोरी तब आती है जब सत के संग से किनारा हो जाता है और दूसरा संग लग जाता है इसलिए भक्ति में कहते हैं सदा सतसंग में रहो। सतसंग अर्थात् सदा सत बाप के संग में रहना। आप सबके लिए सत बाप का संग अति सहज है क्योंकि समीप का संबंध है। तो सदा सतसंग में रह कमजोरियों को समाप्त करने वाले सहज योगी, सहज ज्ञानी बनो।
स्लोगन:- सदा प्रसन्न रहना है तो प्रशंसा सुनने की इच्छा का त्याग कर दो।

 

[wp_ad_camp_1]

 

To Read Murli 19 June 2017 :- Click Here

Read Murli 18 June 2017 :- Click Here

 

 

Font Resize