today murli 21 january

TODAY MURLI 21 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 21 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 20 January 2019 :- Click Here

21/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become spiritual teacher s, the same as the Father. Teach others what you have learnt from the Father. If you have imbibed knowledge, you can also explain it to anyone.
Question: In which aspect does Baba have unshakeable faith and in which you children also have to become unshakeable?
Answer: Baba has unshakeable faith in the drama. Baba says: Whatever has pas sed was in the drama. You will do whatever you did in the previous cycle. The d rama will not allow you to change anything. However, as yet, the children’s stage has not become like that. This is why they say: If it were like this, I would do that. If I had known about it, I would not have done that. Baba says: Do not remember the past. Make effort not to make the same mistake again in the future.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you children. The Father Himself says: No one knows when I come because I am incognito. No one can tell when a soul enters a womb. There cannot be a time or date for that. The time and date are given for the moment it comes out of the womb. Similarly, you cannot tell the time or date when Baba entered. You can’t tell when He entered the chariot. When Baba used to look at someone, they would become intoxicated and be lost in that stage. They would think that there was someone who had entered or that there was some power that had come. Where did the power come from? I didn’t do any special chanting or tapasya. That is called incognito; there is no time or date. You cannot say when the subtle region was established. The main thing is: Manmanabhav. The Father says: O souls, you called out to Me, your Father, to come and make you impure beings pure and to make the world pure. The Father explains: According to the drama plan, there definitely has to be a change when I come. Whatever has happened from the golden age onwards will repeat. The golden and silver ages will definitely repeat at every second that passes. The era also continues to pass by. They say that the golden age passed , but they didn’t see it. The Father has explained that you passed through that age. You are the ones who became separated from Me first. So, you should think about how you have taken 84 births and how you will have to take them again, identically, that is, how you will have to play your parts of happiness and sorrow. In the golden age, there is happiness. When a building grows old, the roof sometimes falls in, sometimes something happens somewhere else in the building. So, there is then the concern to repair it. When it has become very old, it is understood that that building is no longer fit to live in. You would not say this about the new world. You are now becoming worthy of going to the new world. Everything is at first new and it then becomes old. You children now think about this. No one else can even understand these things. They continue to relate the Gita and the Ramayana etc. and remain busy in that. You and I were also busy in that business. The Father has now made you so sensible. Baba says: Children, this old world is now to end. You now have to go to the new world. It isn’t that everyone will go there. It is not the law either that everyone can sit in the land of liberation because, otherwise, annihilation would take place. You know that this is the most auspicious, beneficial confluence age of the old world and the new world. Change now has to take place and you will then go to the land of peace. There is no question of even having any feeling of happiness there. It is remembered that there were obstacles in the sacrificial fire, and so there will continue to be obstacles. There will also be obstacles after a cycle. You have now become strong. This task of establishment and destruction is not a small thing. In what do you have obstacles? The Father says: Lust is the greatest enemy. It is because of this that there are assaults. There is the example of Draupadi. All the conflict is because of celibacy. You definitely had to become tamopradhan from satopradhan. You had to come down the ladder and the world definitely had to become old. Only you understand and churn all of these things. You have to study and also teach others. You have to become teacher s. It is definitely because you have knowledge in your intellects that you study and then become teacher s. Then the Government passesthose who study with the T eacher and become clever. The Father has made you into teacher s. What could the one Teacher do? All of you are spiritual teachers. So you should have this knowledge in your intellects. The knowledge of becoming a deity from a human being is very accurate. The more you remember the Father now, the more light you will continue to receive. People will continue to have visions. Only by having remembrance will you souls become pure and it will then be possible for others to have a vision. The Father, the Helper, is also here. The Father always helps the children. It is numberwise in a study. Each one of you can understand how much knowledge your intellect has imbibed. If you have imbibed knowledge, then demonstrate it by explaining to someone. This is wealth and if you don’t give others this wealth, no one would believe that you had any wealth. If you donate wealth, you will be called a great donor. Maharathis and mahavirs are the same; not all can be the same. So many people come to you. Would you sit and beat your head with each one? Those people hear many things through the newspapers and so they get heated. Then, when they come to you and hear knowledge from you, they realize what they have done by following the dictates of others and that this knowledge is very good. It takes time to put each one right. Here, too, it has taken so much effort. Nevertheless, there are some who are maharathis (elephant riders), some who are horse riders (cavalry) and others who are foot solders. These are their parts in the drama. You understand that, eventually, you will win. You will become whatever you became in the previous cycle. You children have to make effort. The Father advises you: Try to explain. First of all, go to Shiv Baba’s temple and do service there. You can ask: Who is this? Why do you pour water on that idol? You know this very well. There is a saying that a cook went to borrow some burning charcoal and stayed there and became the master. This example refers to you. You go there to awaken them. They send you invitations, and so when you receive such an invitation, you should be happy. Big titles are given in Kashi etc. There are so many temples on the path of devotion. That is also a type of business. When they find a good woman, they make her learn the Gita by heart and put her forward and then they take the income she receives. Otherwise, they would have nothing. Many people learn occult powers. You should go to such places. You children should never try to interpret the meaning of the scriptures. You have to go and give the Father’s introduction. The Bestower of Liberation and Liberation-in-Life is only One. You have to praise Him. He says: Consider yourself to be a soul and remember Me alone. However, ‘Manmanabhav’ doesn’t mean that you have to go and bathe in the Ganges. ‘Mamekam’ means: Remember Me alone. I promise you that I will liberate you from all your sins. Sin began at the time Ravan came. So you have to make a lot of effort to claim a high status. People beat their heads so much day and night to earn a position. This too is a study. There is no question of having any books here. You have the cycle of 84 births in your intellects. This is not a difficult thing. You are not told the detail s of every birth. Your 84 births have ended and you souls now have to return home. Souls that have become impure definitely have to be made pure again. Continue to tell everyone to remember the one Father constantly. Children say: Baba, I am unable to stay in yoga. Ah! but I am personally telling you to remember Me, and so why do you speak of yoga? It is because you speak of yoga that you forget Me. Who would not be able to remember their father? How do you remember your physical parents? That One is also your Mother and Father. This one is also studying. Saraswati too is studying. Only the one Father is teaching everyone. To the extent that you study, accordingly you can then explain to others. The Father says: Children, you cannot attain Me by reading the scriptures or by chanting or doing tapasya. What benefit is there in that? You still continue to come down the ladder. You don’t have any enemies. Nevertheless, you still definitely have to explain how sin and charity are accumulated. It was after the kingdom of Ravan began that you started to commit sin. There are even such children who are unable to explain what the new world is and what the old world is. The Father now says: Remember the unlimited Father. He alone is the Purifier. You don’t need to go anywhere. On the path of devotion, you would always go out of your home to worship elsewhere. The husband would tell his wife: You have a picture of Krishna at home too, so why are you going out there? What is the difference there? The husband was said to be her god and yet she wouldn’t even listen to him! On the path of devotion, they build temples very far away and high up so that people have that faith in them. You explain how people stumble around so much going to the temples. That is just a system they have created. They go to Shiva Kashi on pilgrimage, but there is no attainment through that. You now receive shrimat from the Father. You don’t have to go anywhere. In fact, God, the Husband of all husbands, is only the One. The One whom your husband, maternal and paternal uncles remember is God, the Husband of All, and God, the Father of All. He says to you: Constantly remember Me alone and your sins will be absolved. The light of each of you is now being ignited, and so people are able to see light in you. So, the names of you children should also be glorified. The Father glorifies the names of the children. Daughter Sudesh is very clever at explaining. She has made a lot of effort and has thereby gone ahead of the older ones. She can make more effort in this too and go ahead of others. Everything depends on effort. One shouldn’t have heart failure. Even if you come at the end, you can still attain liberation-in-life in a second. Day by day, many such ones will continue to emerge. You have a part of victory fixed for you in the drama . There will also be obstacles. There aren’t obstacles like this in any other spiritual gatherings. Here, there is upheaval because of the vices. It is remembered: Why should we renounce nectar and drink poison? The one deity religion is being established through knowledge. The kingdom of Ravan cannot exist in the golden age. The explanation is so clear. They have shown the kingdom of Ravan next to the kingdom of Rama. You also show the time period. This is the confluence age. The world is now changing. It is the one Father who inspires establishment, sustenance and destruction. This is very easy, but when they don’t imbibe it completely they remember everything else, and they forget knowledge and yoga. You are the children of God, the Highest on High. Day by day, you are becoming solvent. You receive wealth. The expenses are also paid for. Baba says: The pot will continue to become full. You will incur expense as you did in the previous cycle. The drama will not allow you to spend any more or less. Baba has unshakeable faith in the drama. Whatever has pas sed was in the drama. You shouldn’t say, “If it had been like this, I wouldn’t have done that.” That stage has not yet been developed. One thing or another continues to emerge through your lips. You then feel it. Baba says: Do not think about the past. Make effort in future not to make such mistakes again. This is why Baba says: Write your chart. There is a lot of benefit in that. Baba saw a person who was writing his whole life story because he thought his children would learn from it. Here, there is benefit in following shrimat. There cannot be falsehood here. There is the example of Narad. There is a lot of benefit in keeping a chart. Baba gives you orders and so you children should follow those orders. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Imbibe knowledge and explain it to others. Donate the wealth of knowledge and become a great donor. Do not debate the scriptures with anyone, but give the Father’s true introduction.
  2. You mustn’t think about things of the past. Make such effort that you do not make any mistakes again. Keep an honest chart.
Blessing: May you be fearless and become victorious and attract everyone by imbibing the authority of truth.
You children are elevated, powerful souls with the power of truth. You have received true knowledge, the true Father, true attainment, true remembrance, true virtues and true powers. When you have the intoxication of such great authority, this authority of truth will continue to attract every soul. Even in the land of falsehood, those who have the power of truth are victorious. The attainment of truth is happiness and fearlessness. Those who speak the truth are fearless; they can never have any fear.
Slogan: The means to transform the atmosphere are positive thoughts and a powerful attitude.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

Just as Father Brahma remained love-full in his every action, word, connection and relationship and was loving in his awareness and stage, in the same way, follow the Father. The lovelier you become, the more you will be able to remain merged in love and easily be able to make others equal to yourself and equal to the Father.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 21 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 January 2019

To Read Murli 20 January 2019 :- Click Here
21-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप समान रूहानी टीचर बनो। जो बाप से पढ़ा है वह दूसरों को भी पढ़ाओ, धारणा है तो किसको भी समझाकर दिखाओ।”
प्रश्नः- किस बात में बाबा को अटल निश्चय है? बच्चों को भी उसमें अटल बनना है?
उत्तर:- बाबा को ड्रामा पर अटल निश्चय है। बाबा कहेंगे जो पास्ट हुआ ड्रामा। कल्प पहले जो किया था वही करेंगे। ड्रामा तुम्हें ऊपर नीचे नहीं करने देगा। परन्तु अभी तक बच्चों की अवस्था ऐसी बनी नहीं है इसलिए मुख से निकलता – ऐसे होता तो ऐसा करते, पता होता तो यह नहीं करते.. बाबा कहते बीती को चितओ नहीं, आगे के लिए पुरूषार्थ करो कि ऐसी कोई भूल फिर से न हो।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को बैठ समझाते हैं। बाप खुद कहते हैं मैं जब आता हूँ तो किसको पता नहीं पड़ता क्योंकि मैं हूँ गुप्त। गर्भ में भी जब आत्मा प्रवेश करती है तो प्रवेश होने का मालूम थोड़ेही पड़ता है। तिथि तारीख निकल न सके। जब गर्भ से बाहर निकलती है तब वह तिथि तारीख निकलती है। तो बाबा की प्रवेशता की तिथि तारीख का भी पता नहीं लगता, कब प्रवेश किया, कब रथ में पधारे – कुछ पता नहीं पड़ता। कोई को देखते थे तो वह नशे में चले जाते थे। समझा कुछ प्रवेशता है या कुछ ताकत आई है। ताकत कहाँ से आई? मैंने खास कोई जप तप तो नहीं किया। इसको कहा जाता है गुप्त। तिथि तारीख कुछ नहीं। सूक्ष्मवतन की भी स्थापना कब होती है, यह कुछ नहीं कह सकते। मुख्य बात है मनमनाभव। बाप कहते हैं हे आत्मायें तुम मुझ अपने बाप को बुलाती हो कि आकर पतितों को पावन बनाओ, पावन दुनिया बनाओ। बाप समझाते हैं ड्रामा प्लैन अनुसार जब मुझे आना होता है तो चेन्ज जरूर होती है। सतयुग से लेकर जो कुछ पास हुआ सो फिर रिपीट करेंगे। सतयुग त्रेता फिर ज़रूर रिपीट करेंगे। सेकेण्ड-सेकेण्ड पास होता जाता है। संवत भी पास होता जाता है। कहते हैं सतयुग पास्ट हुआ। देखा तो नहीं। बाप ने समझाया है तुमने पास किया है। तुम ही पहले-पहले हमसे बिछुड़े हो। तो इस पर गौर करना है, कैसे हमने 84 जन्म लिये हैं जो फिर हूबहू लेने पड़ेंगे अर्थात् दु:ख और सुख का पार्ट बजाना पड़ेगा। सतयुग में होता है सुख, जब मकान पुराना होता है तो कहाँ से छत बहती है, कहाँ से कुछ होता रहता है। तो फुरना हो जाता है कि इसकी मरम्मत करनी है। जब बहुत पुराना हो जाता है तो समझा जाता है यह मकान रहने लायक नहीं है। नई दुनिया के लिए ऐसे नहीं कहेंगे। अब तुम नई दुनिया में चलने के लायक बनते हो। हर चीज़ पहले नई फिर पुरानी होती है।

अब तुम बच्चों को यह ख्याल में आता है और कोई तो इन बातों को समझ न सके। गीता रामायण आदि सुनाते रहते हैं, उसमें ही बिज़ी रहते हैं। तुम हम भी इन्हीं धन्धों में बिज़ी थे। अब बाप ने कितना समझदार बनाया है। बाबा कहते हैं बच्चे अब यह पुरानी दुनिया खत्म होने वाली है, अब नई दुनिया में चलना है। ऐसे भी नहीं सब चलेंगे। सब मुक्तिधाम में बैठ जायें यह भी कायदा नहीं है, प्रलय हो जाए। तुम जानते हो यह पुरानी दुनिया और नई दुनिया का बहुत ही कल्याणकारी संगमयुग है। अब चेन्ज होनी है फिर शान्तिधाम में जायेंगे। वहाँ सुख के भासना की भी कोई बात नहीं। गायन है यज्ञ में विघ्न पड़े सो तो पड़ते रहते हैं। कल्प के बाद भी पड़ते रहेंगे। तुम अब पक्के हो गये हो। यह स्थापना विनाश का कोई छोटा काम नहीं है। विघ्न किस बात में पड़ते हैं? बाप कहते हैं काम महाशत्रु है इस पर ही अत्याचार होते हैं। द्रोपदी की भी बात है ना। ब्रह्मचर्य पर ही सारी खिटपिट है। सतोप्रधान से तमोप्रधान बनना है ज़रूर। सीढ़ी उतरनी है, पुरानी दुनिया होनी है ज़रूर। इन सब बातों को तुम ही समझते हो और सिमरण भी करते हो और पढ़कर पढ़ाना भी है, टीचर बनना है। ज़रूर नॉलेज बुद्धि में है तब पढ़कर टीचर बनते हैं। फिर टीचर से जो सीखकर होशियार होते हैं तो गवर्मेन्ट उनको पास करती है। तुम भी टीचर हो। बाप ने तुमको टीचर बनाया है। एक टीचर क्या कर सकते हैं। तुम सब हो रूहानी टीचर। तो बुद्धि में नॉलेज होनी चाहिए। ज्ञान तो बिल्कुल एक्यूरेट है – मनुष्य से देवता बनने का।

अभी जितना तुम बच्चे बाप को याद करते हो तो लाइट आती रहती है। मनुष्यों को साक्षात्कार होता रहेगा क्योंकि आत्मा प्योर बनेगी ही याद से फिर किसको साक्षात्कार भी हो सकता है। बाप मददगार भी बैठा है, बाप हमेशा बच्चों का मददगार है। पढ़ाई में नम्बरवार हैं। हर एक अपनी बुद्धि से समझ सकते हैं मेरे में कितनी धारणा है। अगर धारणा है तो किसको समझाकर दिखाओ। यह है धन, धन देते नहीं तो कोई मानेंगे भी नहीं कि इनके पास धन है। धन दान करेंगे तो महादानी कहेंगे। महारथी, महावीर बात एक ही है। सब एक जैसे तो हो न सकें। तुम्हारे पास कितने आते हैं। एक-एक से बैठ माथा मारना होता है क्या? वो लोग अखबार द्वारा बहुत बातें सुनते हैं तो बहुत चमकते हैं। फिर जब तुम्हारे पास आकर सुनते हैं तो कहते हैं हमने परमत पर क्या किया, यहाँ तो बहुत अच्छा है। एक-एक को ठीक करने में मेहनत लगती है। यहाँ भी कितनी मेहनत लगी है। फिर भी कोई महारथी, कोई घोड़ेसवार, कोई प्यादा। यह ड्रामा में पार्ट है, यह तो समझते हो आखरीन जीत तुम्हारी होनी है, जो कल्प पहले बने थे वही बनेंगे। पुरूषार्थ तो बच्चों को करना ही है। बाप राय देते हैं समझाने की कोशिश करो। पहले तो शिवबाबा के मन्दिर में जाकर सर्विस करो। तुम पूछ सकते हो – यह कौन हैं? इस पर क्यों पानी चढ़ाते हैं? तुम अच्छी तरह जानते हो। कहते हैं गई टांडे पर (आग लेने) और मालिक होकर बैठ गई। यह दृष्टांत भी तुम्हारा ही है। तुम जाते हो जगाने के लिए। तुमको निमंत्रण देकर बुलाते हैं, तो ऐसा निमंत्रण आये तो खुशी होनी चाहिए। काशी आदि में बड़े-बड़े टाइटल देते हैं। भक्ति में कितने ढेर मन्दिर हैं, यह भी एक धन्धा है। कोई अच्छी स्त्री देखी तो उनको गीता कण्ठ कराए आगे कर देते हैं, फिर जो कमाई होती है वह मिल जाती है। है कुछ भी नहीं। रिद्धि सिद्धि बहुत सीखते हैं। ऐसे स्थानों पर जाना चाहिए। तुम बच्चों को कभी शास्त्रार्थ नहीं करना चाहिए। तुमको तो जाकर बाप का परिचय देना है। मुक्ति जीवनमुक्ति दाता एक है, उनकी महिमा करनी है। वह कहते हैं अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो। बाकी मनमनाभव का अर्थ यह नहीं है कि गंगा में जाकर स्नान करो। मामेकम् का अर्थ है मुझ एक को याद करो – मैं प्रतिज्ञा करता हूँ मैं तुमको सब पापों से मुक्त करूंगा। जब से रावण आया है तब से पाप शुरू हुए हैं। तो ऊंच पद पाने का बहुत पुरूषार्थ करना है। पोजीशन के लिए मनुष्य रात दिन कितना माथा मारते हैं, यह भी पढ़ाई है, इसमें कोई किताब आदि उठाने की बात नहीं है। 84 का चक्र तो बुद्धि में आ गया है। कोई बड़ी बात नहीं है। एक-एक जन्म की डीटेल थोड़ेही बताते हैं। 84 जन्म पूरे हुए अब हम आत्माओं को वापस घर जाना है। आत्मा जो पतित बनी है उनको पावन ज़रूर बनना है। सबको यही कहते रहो मामेकम् याद करो। बच्चे कहते हैं बाबा योग में नहीं रह सकते। अरे तुमको सम्मुख कह रहा हूँ – मुझे याद करो फिर योग अक्षर तुम क्यों कहते हो। योग कहने से ही तुम भूलते भी हो। बाप को याद कौन नहीं कर सकता। लौकिक माँ बाप को कैसे याद करते हो, यह भी माँ बाप हैं ना। यह भी पढ़ते हैं। सरस्वती भी पढ़ती है। पढ़ाने वाला एक बाप ही है। तुम जितना पढ़ते हो फिर औरों को समझाते हो। बाप कहते हैं बच्चे शास्त्र पढ़ने, जप तप करने से मुझे प्राप्त नहीं कर सकते हो, बाकी फायदा क्या है। सीढ़ी तो उतरते ही आते हो।

तुम्हारा कोई दुश्मन नहीं। फिर भी तुमको समझाना है ज़रूर कि पाप और पुण्य कैसे जमा होता है। रावण राज्य के बाद ही तुमने पाप करना शुरू किया है। ऐसे भी बच्चे हैं जिनको नई दुनिया, पुरानी दुनिया क्या है यह भी समझाने नहीं आता है। अब बाप कहते हैं कि बेहद के बाप को याद करो, वही पतित-पावन है। बाकी तुमको कहाँ भी जाने की ज़रूरत नहीं है। भक्ति मार्ग में सदैव पैर घर से बाहर निकलता था। पति स्त्री को कहते हैं कृष्ण का चित्र घर में भी है फिर बाहर क्यों जाती हो? क्या फ़र्क है? पति परमेश्वर है इसको भी नहीं मानते। भक्ति मार्ग में बहुत दूर-दूर ऊंचा मन्दिर बनाते हैं, जो मनुष्यों का भाव बैठे। तुम समझाते हो मन्दिरों में कितना धक्का खाते हैं। यह एक रसम पड़ी है। शिव काशी में तीर्थ करने जाते हैं परन्तु प्राप्ति कुछ भी नहीं। अब तुमको तो बाप की श्रीमत मिलती है। तुमको कहाँ भी जाना नहीं है। पतियों का पति परमेश्वर वास्तव में वह एक ही है। जिसको तुम्हारे पति, काके, मामे सब याद करते हैं वह है पति परमेश्वर अथवा पिता परमेश्वर। वह तुमको कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। तुम्हारी ज्योत अब जग रही है तो तुम्हारे से मनुष्यों को लाइट देखने में आती है। तो बच्चों का भी नाम बाला होना चाहिए। बाप बच्चों का नाम तो बाला करते हैं ना। सुदेश बच्ची समझाने में बड़ी तीखी है। पुरूषार्थ बहुत अच्छा किया है तो पुरानों से भी आगे गई है। इसमें भी जास्ती पुरूषार्थ कर आगे चली जायेगी। सारा मदार पुरूषार्थ पर है। हार्टफेल नहीं होना चाहिए। पिछाड़ी में आया तो भी सेकेण्ड में जीवनमुक्ति पा सकते हैं। दिनप्रतिदिन ऐसे बहुत निकलते रहेंगे। ड्रामा में तुम्हारा विजय का पार्ट तो है ही। विघ्न भी पड़ने हैं। और कोई सतसंगों में ऐसे विघ्न नहीं पड़ते हैं। यहाँ विकारों पर ही हंगामा होता है। गायन भी है अमृत छोड़ विष काहे को खाए। ज्ञान से एक देवी-देवता धर्म की स्थापना हो जाती है। सतयुग में रावण राज्य हो न सके। समझानी कितनी साफ है। राम राज्य के बाजू में ही रावण राज्य भी दिखाया है। तुम टाइम भी दिखाते हो। यह है संगम। दुनिया बदल रही है। स्थापना, पालना, विनाश कराने वाला एक बाप है। है बहुत सहज, परन्तु धारणा पूरी होती नहीं और सब बातें याद रहती हैं बाकी ज्ञान और योग भूल जाता है। तुम ऊंच ते ऊंच भगवान की सन्तान हो। दिन प्रतिदिन तुम सालवेन्ट होते जाते हो। धन मिलता है ना। खर्चा भी आता जाता है। बाबा कहते हैं हुण्डी भरती जायेगी। कल्प पहले मिसल ही तुम खर्चा करेंगे। कम ज्यादा ड्रामा करने नहीं देगा। ड्रामा पर बाबा का अटल निश्चय है। जो पास्ट हुआ ड्रामा। ऐसे नहीं कहना चाहिए ऐसा होता था, यह नहीं करते थे। अभी वह अवस्था आई नहीं है। कुछ न कुछ मुख से निकल जाता है, फिर फील होता है। बाबा कहते हैं बीती को चितओ नहीं, आगे के लिए पुरूषार्थ करो कि ऐसी भूल फिर न हो इसलिए बाबा कहते हैं चार्ट लिखो, इसमें बहुत कल्याण है। बाबा ने एक को देखा सारी जीवन कहानी लिख रहे थे, समझते हैं बच्चे सीखेंगे। यहाँ फिर श्रीमत पर चलने में ही कल्याण है। यहाँ झूठ भी चल न सके। नारद का मिसाल। चार्ट से फायदा बहुत है। बाबा फरमान करते हैं तो बच्चों को फरमान पर चलना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान धारण कर दूसरों को समझाना है। ज्ञान धन दान करके महादानी बनना है। किसी से भी शास्त्रार्थ न कर बाप का सत्य परिचय देना है।

2) तुम्हें बीती बातों का चिंतन नहीं करना है। ऐसा पुरूषार्थ करना है जो फिर कभी भूल न हो। अपना सच्चा-सच्चा चार्ट रखना है।

वरदान:- सत्यता की अथॉरिटी को धारण कर सर्व को आकर्षित करने वाले निर्भय और विजयी भव
आप बच्चे सत्यता की शक्तिशाली श्रेष्ठ आत्मायें हो। सत्य ज्ञान, सत्य बाप, सत्य प्राप्ति, सत्य याद, सत्य गुण, सत्य शक्तियां सब प्राप्त हैं। इतनी बड़ी अथॉरिटी का नशा रहे तो यह सत्यता की अथॉरिटी हर आत्मा को आकर्षित करती रहेगी। झूठखण्ड में भी ऐसी सत्यता की शक्ति वाले विजयी बनते हैं। सत्यता की प्राप्ति खुशी और निर्भयता है। सत्य बोलने वाला निर्भय होगा। उनको कभी भय नहीं हो सकता।
स्लोगन:- वायुमण्डल को परिवर्तन करने का साधन है -पॉजिटिव संकल्प और शक्तिशाली वृत्ति।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

जैसे बह्मा बाप हर कर्म में, वाणी में, सम्पर्क व सम्बन्ध में लवफुल रहे और स्मृति व स्थिति में लवलीन रहे, ऐसे फालो फादर करो। जितना लवली बनेंगे उतना लवलीन रह सकेंगे और औरों को भी सहज आप-समान व बाप-समान बना सकेंगे।

TODAY MURLI 21 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 21 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 20 January 2018 :- Click Here

21/01/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
21/04/83

To follow the codes of conduct of the confluence age is to become a most elevated being .

Today, BapDada is seeing the children who are the most elevated beings who follow all the highest codes of conduct. The codes of conduct of the confluence age make you into the most elevated beings. This is why you are called the most elevated beings who follow the highest codes of conduct. The easiest way to remain safe from tamoguni human souls and the tamoguni atmosphere and vibrations is to follow the codes of conduct. Those who stay within the line of the codes of conduct remain constantly free from having to labour. You have to labour when you step outside the line of the codes of conduct in your thoughts, words or action. You have received from BapDada the codes of conduct for every step. By taking every step according to the codes of conduct, you automatically become the elevated human beings who follow the highest codes of conduct. You know very well what a life based on the codes of conduct from amrit vela to night time looks like. To continue to move along according to these is to become the most elevated human beings. Since the very name is, “the most elevated”, it means you are higher than all ordinary human beings. So, check that the main thing of you elevated souls – your awareness – is elevated. When your awareness is elevated, your attitude, vision and stage are automatically elevated. Do you know what the line of the code of conduct of awareness is? “I am an elevated soul”, and, “All others are the souls of the one elevated Father”. The variety of souls play a variety of parts. Let this first lesson remain in your awareness in a natural way. Even when you look at a body, only see the soul. Let this powerful awareness be in a practical form at every second and you will then become an embodiment of awareness. Do not just repeat: “I am a soul and the other one is a soul”, but “I am definitely a soul and that one is also definitely a soul”. The code of conduct of this first awareness makes you constantly free from obstacles and you become an instrument to spread powerful vibrations of this elevated awareness. Then, through this, others also become free from obstacles.

The Pandava Army has come to celebrate a meeting. As well as having a meeting, also take back with you, the blessing of “May you be an embodiment of remembrance”, which is the foundation of the first code of conduct. This awareness brings you power. From all you have heard, what is the essence that you will take back with you? The essence is to be an embodiment of awareness. Constantly revise this blessing every morning at amrit vela. Before you perform any task, sit on the powerful seat of this blessing and then decide whether that task is wasteful or powerful. Then, act! After performing that action, check that the action remained powerful from beginning to end. Otherwise, although many children start the action in a powerful form, they are, however, unaware of how the action becomes wasteful or ordinary in the middle or at what point, from being powerful, they went in the direction of performing wasteful or ordinary actions. Then, at the end, they think that they didn’t do what they should have done. What is the result of that? To do something and then think about it is not a qualification of a soul who is a knower of the three aspects of time. Therefore, become an embodiment of awareness, that is, an embodiment of power in all three aspects of time. Do you understand what you have to take back with you? Never leave your seat of a powerful stage. This seat is the seat of a swan. The speciality of a swan is the power to discern. With the power to discern, you will constantly continue to move forward in the stage of being the most elevated human beings following the highest codes of conduct. Constantly keep with you this blessing of the seat and the Godly title of “the most elevated human beings who follow the highest codes of conduct”. Achcha, today, it is the day for just giving greetings because you are going on service. You are not going to your worldly homes but to your places of service. You are going amongst storks, but you are going for service. Don’t go there thinking that you are going because of your relationships of karmic accounts, but that it is a relationship of service. You are not there to settle karmic accounts, but you are there to fulfil the responsibility of service. It is not karmic bond, but a bond of service. Achcha.

To those who constantly finish what is wasteful and remain stable on the powerful seat of the stage of a swan, to those who make all three aspects of time of every action powerful with the awareness of being one who knows the three aspects of time, to those who constantly and naturally remain stable in the stage of soul consciousness, to such elevated souls who follow the highest codes of conduct, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting groups:

Do you constantly experience yourselves to be the most elevated fortunate souls? Those whose Father is the Bestower of Fortune would be so fortunate themselves! The Father is the Bestower of Fortune, and so what would He give you as an inheritance? He would definitely give you an elevated fortune, would He not? Always remember the Father, the Bestower of Fortune, and also your fortune. When you have your elevated fortune in your awareness, you would also have the zeal and enthusiasm to make others fortunate because you are the children of the Bestower. The Father, the Bestower of Fortune, distributed fortune through Brahma. So, what will you Brahmins do? Whatever is the task of Brahma is also the task of you Brahmins. Therefore, you are those who distribute such fortune. Those people distribute clothes, food and water, but only the children of the Bestower of Fortune can distribute elevated fortune. So, you are the elevated, fortunate souls who distribute fortune. Those who have attained fortune have attained everything. If today you give people clothes, they will lack food tomorrow. Then, if you give them food tomorrow, they will then lack water. For how long would you keep distributing one thing after another? They cannot become content and satisfied through that; but if you distribute fortune, then, where there is fortune, there is everything. In any case, when someone attains something, he says, “Wah my fortune!” Where there is fortune, everything is attained. So, you are those who donate elevated fortune. The awareness of being elevated, great donors and elevated, fortunate souls will constantly keep you in the flying stage. Where there is the awareness of elevated fortune, there will be the awareness of all attainments. Become generous-hearted in distributing this fortune. This is unending. When there is a little of something, one can be being miserly with it. However, this is unending and you must therefore continue to distribute it. Constantly continue to give. Let not a single day be missed in making a donation. Constant donors constantly keep all their treasure-stores open. They don’t stop making donations for even an hour. The duty of Brahmins is to take this knowledge and then to donate it. Remain constantly engrossed in this task.

2) Do you constantly experience yourselves to be confluence-aged souls who are as valuable as diamonds? All of you children are true diamonds, are you not? Diamonds are very valuable. Your Brahmin life too has so much value and this is why Brahmins are always shown on a peak. A peak means the highest place. In fact, deities are the highest, but you Brahmins are even higher than the deities. Do you have such intoxication? You have the knowledge that you belong to the Father and that the Father belongs to you, do you not? Always just remember this one thing. Constantly sing this song in your mind. “I have attained what I wanted to attain!” Singing songs physically, you would get tired after an hour. However, there is no tiredness in singing this song. By belonging to the Father, you become everything: you become dancers, singers, artists. You are creating the image of your angelic form practically. With the yoga of your intellects you paint such beautiful pictures. Therefore, you become everything you speak of. You are the greatest businessmen, the masters of mills. So, remain constantly aware of this occupation of yours. Sometimes, become masters of the mines and sometimes become artists. Sometimes become dancers. This knowledge is very entertaining, it is not dry. Some of you ask whether you should continue to listen to the same knowledge of the soul and the Supreme Soul every day. However, this is not dry knowledge of the soul and the Supreme Soul. It is very entertaining knowledge. Simply remember your new titles every day. I am a soul – but what type of soul am I? Sometimes, I am the soul of an artist, sometimes, the soul of a businessman. So, continue to move forward with such entertainment. The Father is entertaining, is He not? See how He sometimes becomes the Laundryman, sometimes the Creator of the World and sometimes the Obedient Servant. So, as is the Father, so are the children. Continue to churn knowledge in this way and remain cheerful.

According to the present time, there has to be a balance between the speed of the self and of service. Each of you should think about whether you are giving the return to the same extent as the service you have received. It is now the time to serve. As you progress further, it will be the right time to serve. However, at that time, there will be many adverse situations. In order to serve in those adverse situations, you need to practise serving from now. At that time, it will be difficult to come and go and you will have to do service through your mind to make others move forward. That will be the time to give, not for filling yourself. Therefore, check your stock in advance. Have you filled yourself with the stock of all powers? Remain constantly full of all the powers, all the virtues, all the treasures of knowledge and the power of remembrance. Let there be nothing lacking. Achcha.

BapDada gave greetings at amrit vela for the day of the Satguru on the 28 th April

Greetings for the day of the Seed of the Tree. Remain constantly embodiments of awareness and constantly experience the omens of Jupiter on the day of the Seed of the Tree. Now, all of you have made a firm promise, have you not? Once the group of kumars becomes ready, the sound will spread loudly. It will reach the Government, but only if you stay with Baba all the time. So, don’t create any complications. You have very good zeal, enthusiasm and courage. Where there is courage, you definitely receive help. What are you Shaktis thinking about? Even Shiva cannot exist without the Shaktis. If Shiva didn’t exist, there would be no Shaktis, and if there were no Shaktis, Shiva couldn’t exist either. What can the Father do without His arms? So, who are the first arms? “Wonderful me! It is me!” Achcha.

R emain c onstantly merged in God’s love (Elevated avyakt versions)

Become experienced in God’s love and by having this experience, you will become an easy yogi and continue to fly. God’s love is the means to make you fly. Those who are flying cannot be pulled by the earth’s gravity. No matter how attractive Maya’s form may be, that attraction cannot reach those who are in the flying stage. This string of God’s love pulls you from far, far away. This is such joy-giving love that those who become lost in this love for even a second forget all their many sorrows and begin to swing constantly in the swing of happiness. If someone gives you what you want in life, that is a sign of love. The Father has so much love for you children that He fulfils all your desires for happiness and peace in life. Not only does He give you happiness, but He makes you into the masters of the treasure of happiness. Along with this, He also gives you the pen with which to extend the line of your elevated fortune, so you can create as much fortune as you want. This is God’s love. For the children who remain constantly merged in God’s love, who are lost in God’s love, the sparkle, intoxication and rays of experience are so powerful that, it isn’t just that no problem comes to them – it cannot even raise its eyes to look at them! They do not have to labour in any way at any time. The Father has so much love for the children that He sustains them from amrit vela. The beginning of the day is so elevated! God Himself calls you to celebrate a meeting with Him. He has a conversation with you and fills you with power! The song of the Father’s love awakens you. He calls you and awakens you with so much love: Sweet children, lovely children, come! The practical form of this loving sustenance is the easy yogi life. Whoever you love, you only do what they like. The Father doesn’t like the children getting upset and this is why you must never say, “What can I do, the situation was like that and that was why I got upset”. Even if the situation is of one of getting upset, do not allow yourself to be upset. BapDada has so much love for the children that He considers each child to be ahead of Him. In the world too, whoever you love the most, you make that one move even ahead of yourself. This is a sign of love. So, BapDada also says: Let my children now not have any more weaknesses. All should now become complete, perfect and equal.

God’s love is a blissful swing: constantly swing in this joy-giving swing and remain merged in God’s love, and there will then be no adverse situations or any upheaval from Maya. God’s love is unending, unshakeable and there is so much of it that everyone can receive it. However, the way to receive God’s love is to be detached. To the extent that you are detached, you claim a right to God’s love accordingly. Souls who are merged in God’s love can never come under any limited influence; they remain lost in the unlimited attainments and you constantly receive the fragrance of spirituality from them. The sign of love is that whoever you love, you surrender everything to that one. The Father has so much love for you children that He writes such a long letter to you every day to give the response of love. He gives you love and remembrance and, as your Companion, He fulfils the responsibility of a companion. So, surrender all your weaknesses out of this love. The Father has love for you children and this is why He always says: Children, however you are, whatever you are like, you are Mine. Similarly, you also remain constantly merged in love and say from your heart, “Baba, whatever You are, You are everything for me”. Never be influenced by the kingdom of falsehood. You do not consciously have to remember the one you love, but you naturally remember that one. Simply have love in your heart, let it be real and selfless. When you say, “My Baba, lovely Baba”, then you cannot forget the One you love. You cannot ever receive selfless love from anyone except the Father; therefore, never remember Him for your selfish motives. Remain merged in selfless love.

Let your heart imbibe God’s love fully from the beginning of the day, from amrit vela. If you have God’s love, God’s power and God’s knowledge fully in your heart, you will then never have any attachment or love for anyone else. It is only in this one birth that you can receive God’s love. For 83 births you receive love from deity souls and ordinary souls. It is only now that you receive God’s love. Love from souls makes you lose the fortune of the kingdom, whereas God’s love enables you to receive the fortune of the kingdom. So, remain merged in the experiences of this love. When you have true love for the Father, the sign of that true love is to become equal and karmateet. Perform actions as a karavanhar (one who inspires) and inspire others too. Do not allow your physical organs to make you do anything, but have everything done through your physical senses. Never perform any actions under the influence of your mind, intellect or sanskars. Achcha.

Blessing: May you be an instrument, one who acts, and make the biggest of all tasks easy with the awareness of Karavanhar (One who inspires).
BapDada Himself becomes Karavanhar and carries out the biggest task of establishment through you instrument karanhar children. The Father and the children are combined in the term “Karankaravanhar”. It is the children’s hands and the Father’s task. It is only you children who have received the golden chance to extend your hands. However, the experience you have is that the One who is inspiring you makes you into instruments and enables you to do everything. In every action, He is your Companion as Karavanhar.
Slogan: A gyani soul is one who remains constantly happy instead of making requests.

 

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 21 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 January 2017

To Read Murli 20 January 2018 :- Click Here
21/01/18
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
21-04-83

संगमयुगी मर्यादाओं पर चलना ही पुरूषोत्तम बनना है

आज बापदादा सर्व मर्यादा पुरूषोत्तम बच्चों को देख रहे हैं। संगमयुग की मर्यादायें ही पुरूषोत्तम बनाती हैं इसलिए मर्यादा पुरूषोत्तम कहा जाता है। इन तमोगुणी मनुष्य आत्माओं और तमोगुणी प्रकृति के वायुमण्डल, वायब्रेशन से बचने का सहज साधन – यह मर्यादायें हैं। मर्यादाओं के अन्दर रहने वाले सदा मेहनत से बचे हुए हैं। मेहनत तब करनी पड़ती है जब मर्यादाओं की लकीर से संकल्प, बोल वा कर्म से बाहर निकल आते हैं। मर्यादायें हर कदम के लिए बापदादा द्वारा मिली हुई हैं – उसी प्रमाण पर कदम उठाने से स्वत: ही मर्यादा पुरुषोत्तम बन जाते हैं। अमृतवेले से लेकर रात तक मर्यादापूर्वक जीवन को अच्छी तरह से जानते हो! उसी प्रमाण चलना – यही पुरूषोत्तम बनना है। जब नाम ही पुरूषोत्तम है अर्थात् सर्व साधारण पुरूषों से उत्तम। तो चेक करो कि हम श्रेष्ठ आत्माओं की पहली मुख्य बात स्मृति उत्तम है? स्मृति उत्तम है तो वृत्ति और दृष्टि, स्थिति स्वत: ही श्रेष्ठ है। स्मृति के मर्यादा की लकीर जानते हो? मैं भी श्रेष्ठ आत्मा और सर्व भी एक श्रेष्ठ बाप की आत्मायें हैं! वैरायटी आत्मायें वैरायटी पार्ट बजाने वाली हैं। यह पहला पाठ नैचुरल रूप में स्मृति स्वरूप में रहे। देह को देखते भी आत्मा को देखें। यह समर्थ स्मृति हर सेकण्ड स्वरूप में आये, स्मृति स्वरूप हो जाएं। सिर्फ सिमरण में न हो कि मैं भी आत्मा, यह भी आत्मा। लेकिन मैं भी हूँ ही आत्मा, यह भी है ही आत्मा। इस पहली स्मृति की मर्यादा स्वयं को सदा निर्विघ्न बनाती और औरों को भी इस श्रेष्ठ स्मृति के समर्थ पन के वायब्रेशन फैलाने के निमित्त बन जाते हैं, जिससे और भी निर्विघ्न बन जाते हैं।

पाण्डव सेना मिलन मनाने तो आई लेकिन मिलन के साथ-साथ पहली मर्यादा के लकीर का फाउन्डेशन ‘स्मृति भव’ का वरदान भी सदा साथ ले जाना। ‘स्मृति भव’ ही समर्थ भव है। जो भी कुछ सुना उसका इसेन्स क्या ले जायेंगे? इसेन्स है ”स्मृति भव”। इसी वरदान को सदा अमृतवेले रिवाइज करना। हर कार्य करने के पहले इस वरदान के समर्थ स्थिति के आसन पर बैठ निर्णय कर व्यर्थ है वा समर्थ है, फिर कर्म में आना। कर्म करने के बाद फिर से चेक करो कि कर्म का आदिकाल और अन्तकाल तक समर्थ रहा? नहीं तो कई बच्चे कर्म के आदिकाल समय समर्थ स्वरूप से शुरू करते लेकिन मध्य में समर्थ के बीच व्यर्थ वा साधारण कर्म कैसे हो गया, समर्थ के बजाए व्यर्थ की लाइन में कैसे और किस समय गये, यह मालूम नहीं पड़ता। फिर अन्त में सोचते हैं कि जैसे करना था वैसे नहीं किया। लेकिन रिज़ल्ट क्या हुई! करके फिर सोचना यह त्रिकालदर्शी आत्माओं के लक्षण नहीं हैं इसलिए तीनों कालों में स्मृति भव वा समर्थ भव। समझा क्या ले जाना है। समर्थ स्थिति के आसन को कभी छोड़ना नहीं। यह आसन ही हंस आसन है। हंस की विशेषता, निर्णय शक्ति की विशेषता है। निर्णय शक्ति द्वारा सदा ही मर्यादा पुरूषोत्तम स्थिति में आगे बढ़ते जायेंगे। यह वरदान ‘आसन’ और यह ईश्वरीय टाइटिल ‘मर्यादा पुरूषोत्तम’ का सदा साथ रहे। अच्छा – आज तो सिर्फ बधाई देने का दिन है। सेवा पर जा रहे हैं तो बधाई का दिन है ना! लौकिक घर नहीं लेकिन सेवा स्थान पर जा रहे हैं। बगुलों के बीच भी जा रहे हो लेकिन सेवा अर्थ जा रहे हो। कर्म सम्बन्ध नहीं समझ के जाना लेकिन सेवा का सम्बन्ध है। कर्म सम्बन्ध चुक्तु करने नहीं बैठे हो लेकिन सेवा का सम्बन्ध निभाने के लिए बैठे हो। कर्मबन्धन नहीं, सेवा का बन्धन है। अच्छा –

सदा व्यर्थ को समाप्त कर समर्थ स्थिति के हंस आसन पर स्थिति रहने वाले, हर कर्म को त्रिकालदर्शी शक्ति से, तीनों काल समर्थ बनाने वाले, सदा स्वत: आत्मिक स्थिति में स्थित रहने वाले ऐसे मर्यादा पुरूषोत्तम श्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

पार्टियों के साथ अव्यक्त बापदादा की मुलाकात

1- सदा अपने को श्रेष्ठ भाग्यवान अनुभव करते हो? जिसका बाप ही भाग्य विधाता हो वह कितना न भाग्यवान होगा! भाग्यविधाता बाप है तो वह वर्से में क्या देगा? जरूर श्रेष्ठ भाग्य ही देगा ना! सदा भाग्यविधाता बाप और भाग्य दोनों ही याद रहें। जब अपना श्रेष्ठ भाग्य स्मृति में रहेगा तब औरों को भी भाग्यवान बनाने का उमंग-उत्साह रहेगा क्योंकि दाता के बच्चे हो। भाग्य विधाता बाप ने ब्रह्मा द्वारा भाग्य बांटा, तो आप ब्राह्मण भी क्या करेंगे? जो ब्रह्मा का काम, वह ब्राह्मणों का काम। तो ऐसे भाग्य बांटने वाले। वे लोग कपड़ा बांटेंगे, अनाज बाटेंगे, पानी बाटेंगे लेकिन श्रेष्ठ भाग्य तो भाग्य विधाता के बच्चे ही बाँट सकते। तो भाग्य बांटने वाली श्रेष्ठ भाग्यवान आत्मायें हो। जिसे भाग्य प्राप्त है उसे सब कुछ प्राप्त है। वैसे अगर आज किसी को कपड़ा देंगे तो कल अनाज की कमी पड़ जायेगी, कल अनाज देंगे तो पानी की कमी पड़ जायेगी। एक-एक चीज़ कहाँ तक बांटेंगे। उससे तृप्त नहीं हो सकते। लेकिन अगर भाग्य बांटा तो जहाँ भाग्य है वहाँ सब कुछ है। वैसे भी कोई को कुछ प्राप्त हो जाता है तो कहते हैं वाह मेरा भाग्य! जहाँ भाग्य है वहाँ सब प्राप्त है। तो आप सब श्रेष्ठ भाग्य का दान करने वाले हो। ऐसे श्रेष्ठ महादानी, श्रेष्ठ भाग्यवान। यही स्मृति सदा उड़ती कला में ले जायेगी। जहाँ श्रेष्ठ भाग्य की स्मृति होगी वहाँ सर्व प्राप्ति की स्मृति होगी। इस भाग्य बांटने में फ्राकदिल बनो। यह अखुट है। जब थोड़ी चीज़ होती है तो उसमें कन्जूसी की भावना आ सकती लेकिन यह अखुट है इसलिए बांटते जाओ। सदा देते रहो, एक दिन भी दान देने के सिवाए न हो। सदा के दानी सारा समय अपना खजाना खुला रखते हैं। एक घण्टा भी दान बन्द नहीं करते। ब्राह्मणों का काम ही है सदा विद्या लेना और विद्या का दान करना। तो इसी कार्य में सदा तत्पर रहो।

2- सदा अपने को संगमयुगी हीरे तुल्य आत्मायें अनुभव करते हो? आप सभी सच्चे हीरे हो ना! हीरे की बहुत वैल्यु होती है। आपके ब्राह्मण जीवन की कितनी वैल्यु है! इसीलिये ब्राह्मणों को सदा चोटी पर दिखाते हैं। चोटी अर्थात् ऊंचा स्थान। वैसे ऊंचे हैं देवता लेकिन देवताओं से भी ऊंचे तुम ब्राह्मण हो – ऐसा नशा रहता है? मैं बाप का, बाप मेरा – यही ज्ञान है ना! यही एक बात याद रखनी है। सदा मन में यही गीत चलता रहे ”जो पाना था वह पा लिया।” मुख का गीत तो एक घण्टा भी गायेंगे तो थक जायेंगे; लेकिन यह गीत गाने में थकावट नहीं होती। बाप का बनने से सब कुछ बन जाते हो, डांस करने वाले भी, गीत गाने वाले भी, चित्रकार भी, प्रैक्टिकल अपना फरिश्ते का चित्र बना रहे हो। बुद्धियोग द्वारा कितना अच्छा चित्र बना लेते हो। तो जो कहो वह सब कुछ हो। बड़े ते बड़े बिज़नेसमैन भी हो, मिलों के मालिक भी हो, तो सदा अपने इस आक्यूपेशन को स्मृति में रखो। कभी खान के मालिक बन जाओ तो कभी आर्टिस्ट बन जाओ, कभी डांस करने वाले बन जाओ… बहुत रमणीक ज्ञान है, सूखा नहीं है। कई कहते हैं क्या रोज़ वही आत्मा, परमात्मा का ज्ञान सुनते रहें, लेकिन यह आत्मा परमात्मा का सूखा ज्ञान नहीं है। बहुत रमणीक ज्ञान है, सिर्फ रोज़ अपना नया-नया टाइटिल याद रखो – मैं आत्मा तो हूँ लेकिन कौन सी आत्मा हूँ? कभी आर्टिस्ट की आत्मा हूँ, कभी बिजनेसमैन की आत्मा हूँ… तो ऐसे रमणीकता से आगे बढ़ते रहो। बाप भी रमणीक है ना। देखो, कभी धोबी बन जाता तो कभी विश्व का रचयिता, कभी ओबीडियन्ट सर्वेन्ट… तो जैसा बाप वैसे बच्चे… ऐसे ही इस रमणीक ज्ञान का सिमरण कर हर्षित रहो।

वर्तमान समय के प्रमाण स्वयं और सेवा दोनों की रफ्तार का बैलेन्स चाहिए। हरेक को सोचना चाहिए जितनी सेवा ली है उतना रिटर्न दे रहे हैं! अभी समय है सेवा करने का। जितना आगे बढ़ेंगे, सेवा के योग्य समय होता जायेगा लेकिन उस समय परिस्थितियाँ भी अनेक होंगी। उन परिस्थितियों में सेवा करने के लिए अभी से ही सेवा का अभ्यास चाहिए। उस समय आना जाना भी मुश्किल होगा। मन्सा द्वारा ही आगे बढ़ाने की सेवा करनी पड़ेगी। वह देने का समय होगा, स्वयं में भरने का नहीं इसलिए पहले से ही अपना स्टाक चेक करो कि सर्वशक्तियों का स्टाक भर लिया है? सर्वशक्तियाँ, सर्वगुण सर्व ज्ञान के खजाने, याद की शक्ति से सदा भरपूर। किसी भी चीज़ की कमी नहीं चाहिए।

28 तारीख अमृतवेले बापदादा ने सतगुरूवार की मुबारक दी:- वृक्षपति दिवस की मुबारक। वृक्षपति दिवस पर सदाकाल के लिए बृहस्पति की दशा कायम रहे, यही सदा स्मृति स्वरूप रहना। अब तो सभी ने वायदा पक्का किया है ना! कुमार ग्रुप तैयार हो गया तो आवाज बुलन्द फैल जायेगा। गवर्मेन्ट तक पहुँच जायेगा। लेकिन अविनाशी रहेंगे तो, गड़बड़ नहीं करना। उमंग-उत्साह, हिम्मत अच्छी है, जहाँ हिम्मत है वहाँ मदद तो है ही। शक्तियाँ क्या सोच रही हैं? शक्तियों के बिना तो शिव भी नहीं है। शिव नहीं तो शक्तियाँ नहीं, शक्तियाँ नहीं तो शिव भी नहीं। बाप भी भुजाओं के बिना क्या कर सकता! तो पहली भुजायें कौन? वाह रे मैं! अच्छा।

परमात्म प्यार में सदा लवलीन रहो (अव्यक्त महावाक्य – पर्सनल)

परमात्म-प्यार के अनुभवी बनो तो इसी अनुभव से सहजयोगी बन उड़ते रहेंगे। परमात्म-प्यार उड़ाने का साधन है। उड़ने वाले कभी धरनी की आकर्षण में आ नहीं सकते। माया का कितना भी आकर्षित रूप हो लेकिन वह आकर्षण उड़ती कला वालों के पास पहुँच नहीं सकती। यह परमात्म प्यार की डोर दूर-दूर से खींच कर ले आती है। यह ऐसा सुखदाई प्यार है जो इस प्यार में एक सेकण्ड भी खो जाते हैं उनके अनेक दु:ख भूल जाते हैं और सदा के लिए सुख के झूले में झूलने लगते हैं। जीवन में जो चाहिए अगर वह कोई दे देता है तो यही प्यार की निशानी होती है। तो बाप का आप बच्चों से इतना प्यार है जो जीवन के सुख-शान्ति की सब कामनायें पूर्ण कर देते हैं। बाप सुख ही नहीं देते लेकिन सुख के भण्डार का मालिक बना देते हैं। साथ-साथ श्रेष्ठ भाग्य की लकीर खींचने का कलम भी देते हैं, जितना चाहे उतना भाग्य बना सकते हो – यही परमात्म प्यार है। जो बच्चे परमात्म प्यार में सदा लवलीन, खोये हुए रहते हैं उनकी झलक और फ़लक, अनुभूति की किरणें इतनी शक्तिशाली होती हैं जो कोई भी समस्या समीप आना तो दूर लेकिन आंख उठाकर भी नहीं देख सकती। उन्हें कभी भी किसी भी प्रकार की मेहनत हो नहीं सकती । बाप का बच्चों से इतना प्यार है जो अमृतवेले से ही बच्चों की पालना करते हैं। दिन का आरम्भ ही कितना श्रेष्ठ होता है! स्वयं भगवन मिलन मनाने के लिये बुलाते हैं, रुहरिहान करते हैं, शक्तियाँ भरते हैं! बाप की मोहब्बत के गीत आपको उठाते हैं। कितना स्नेह से बुलाते हैं, उठाते हैं – मीठे बच्चे, प्यारे बच्चे, आओ…..। तो इस प्यार की पालना का प्रैक्टिकल स्वरूप है ‘सहज योगी जीवन’। जिससे प्यार होता है, उसको जो अच्छा लगता है वही किया जाता है। तो बाप को बच्चों का अपसेट होना अच्छा नहीं लगता इसलिए कभी भी यह नहीं कहो कि क्या करें, बात ही ऐसी थी इसलिए अपसेट हो गये… अगर बात अपसेट की आती भी है तो आप अपसेट स्थिति में नहीं आओ। बापदादा का बच्चों से इतना प्यार है जो समझते हैं हर एक बच्चा मेरे से भी आगे हो। दुनिया में भी जिससे ज्यादा प्यार होता है उसे अपने से भी आगे बढ़ाते हैं। यही प्यार की निशानी है। तो बापदादा भी कहते हैं मेरे बच्चों में अब कोई भी कमी नहीं रहे, सब सम्पूर्ण, सम्पन्न और समान बन जायें।

परमात्म प्यार आनंदमय झूला है, इस सुखदाई झूले में झूलते सदा परमात्म प्यार में लवलीन रहो तो कभी कोई परिस्थिति वा माया की हलचल आ नहीं सकती। परमात्म-प्यार अखुट है, अटल है, इतना है जो सर्व को प्राप्त हो सकता है। लेकिन परमात्म-प्यार प्राप्त करने की विधि है-न्यारा बनना। जो जितना न्यारा है उतना वह परमात्म प्यार का अधिकारी है। परमात्म प्यार में समाई हुई आत्मायें कभी भी हद के प्रभाव में नहीं आ सकती, सदा बेहद की प्राप्तियों में मगन रहती हैं। उनसे सदा रूहानियत की खुशबू आती है। प्यार की निशानी है-जिससे प्यार होता है उस पर सब न्यौछावर कर देते हैं। बाप का बच्चों से इतना प्यार है जो रोज़ प्यार का रेसपान्ड देने के लिए इतना बड़ा पत्र लिखते हैं। यादप्यार देते हैं और साथी बन सदा साथ निभाते हैं। तो इस प्यार में अपनी सब कमजोरियां कुर्बान कर दो। बच्चों से बाप का प्यार है इसलिए सदा कहते हैं बच्चे जो हो, जैसे हो-मेरे हो। ऐसे आप भी सदा प्यार में लवलीन रहो दिल से कहो बाबा जो हो वह सब आप ही हो। कभी असत्य के राज्य के प्रभाव में नहीं आओ। जो प्यारा होता है उसे याद किया नहीं जाता, उसकी याद स्वत: आती है। सिर्फ प्यार दिल का हो, सच्चा और नि:स्वार्थ हो। जब कहते हो मेरा बाबा, प्यारा बाबा-तो प्यारे को कभी भूल नहीं सकते। और नि:स्वार्थ प्यार सिवाए बाप के किसी आत्मा से मिल नहीं सकता इसलिए कभी मतलब से याद नहीं करो, नि:स्वार्थ प्यार में लवलीन रहो।

आदिकाल, अमृतवेले अपने दिल में परमात्म प्यार को सम्पूर्ण रूप से धारण कर लो। अगर दिल में परमात्म प्यार, परमात्म शक्तियाँ, परमात्म ज्ञान फुल होगा तो कभी और किसी भी तरफ लगाव या स्नेह जा नहीं सकता। ये परमात्म प्यार इस एक जन्म में ही प्राप्त होता है। 83 जन्म देव आत्मायें वा साधारण आत्माओं द्वारा प्यार मिला, अभी ही परमात्म प्यार मिलता है। वह आत्म प्यार राज्य-भाग्य गँवाता है और परमात्म प्यार राज्य-भाग्य दिलाता है। तो इस प्यार के अनुभूतियों में समाये रहो। बाप से सच्चा प्यार है तो प्यार की निशानी है-समान, कर्मातीत बनो। ‘करावनहार’ होकर कर्म करो, कराओ। कर्मेन्द्रियां आपसे नहीं करावें लेकिन आप कर्मेन्द्रियों से कराओ। कभी भी मन-बुद्धि वा संस्कारों के वश होकर कोई भी कर्म नहीं करो। अच्छा!

वरदान:- करावनहार की स्मृति द्वारा बड़े से बड़े कार्य को सहज करने वाले निमित्त करनहार भव 
बापदादा स्थापना का बड़े से बड़ा कार्य स्वयं करावनहार बन निमित्त करनहार बच्चों द्वारा करा रहे हैं। करन-करावनहार इस शब्द में बाप और बच्चे दोनों कम्बाइन्ड हैं। हाथ बच्चों का और काम बाप का। हाथ बढ़ाने का गोल्डन चांस बच्चों को ही मिला है। लेकिन अनुभव यहीं करते हो कि कराने वाला करा रहा है, निमित्त बनाए चला रहा है। हर कर्म में करावनहार के रूप में साथी है।
स्लोगन:- ज्ञानी तू आत्मा वह है जो अर्जी डालने के बजाए सदा राज़ी रहे।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize