today murli 21 december

TODAY MURLI 21 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 21 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 20 December 2018 :- Click Here

21/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, do not delay in performing an auspicious task. Save your brothers and sisters from stumbling. Buzz knowledge to them and make them equal to yourselves.
Question: By which tragedy taking place has Bharat become like a shell?
Answer: The biggest tragedy is that people have forgotten the Lord of the Gita and called the child who takes birth through the knowledge of the Gita, the Lord. Because of misunderstanding this, everyone has turned away from the Father; Bharat has become like a shell. You children are now listening to the true Gita personally from the Father and it is with the knowledge of this Gita that the deity religion is being established. You become equal to Shri Krishna.
Song: Who created this play and hid Himself away?

Om shanti. The children who are the decoration of the Brahmin clan have understood that they truly had limitless happiness in heaven. We were very happy. We living beings were very intoxicated in heaven. What happened then? Colourful Maya came and clung to us. It is because of the vices that this is called hell; this whole world is hell. The example of the buzzing moth is given. The work of buzzing moths (bramaris) and the Brahmin teachers (Brahmanis) is the same. The example of the buzzing moth is based on you. The buzzing moth takes an insect, makes a home and puts the insect in that. This too is hell. All are like insects. However, not all insects belong to the deity clan. Whatever religion they belong to, they are all insects who are residents of hell. Who are the insects of the deity religion? How can you tell that these are the Brahmins of the clan of Brahma who sit and buzz knowledge? Only those who belong to the deity religion will be able to stay here. Those who don’t belong to this clan will not be able to stay here. All are insects, residents of hell. Even sannyasis say that this happiness of hell is like the droppings of a crow. They don’t know that there is limitless happiness in heaven. Here, there is 5% happiness and 95% sorrow. Therefore, this would not be called heaven. There is no question of sorrow in heaven. Here, there are innumerable scriptures, innumerable religions and innumerable directions. In heaven, there is the one undivided direction of the deities. There is just the one religion there. You are Brahmins. You buzz knowledge and then those who belong to this religion will stay here. There are many types. Some believe in nature, some believe in science and some say that this world is just imagination. Such conversations only take place here, not in the golden age. The unlimited Father sits here and explains to His children through the lotus mouth of Prajapita Brahma: You were with Me and you now have to come back to Me. The question of scriptures doesn’t arise in this. When Christ and Buddha come, they too relate something. There is no question of their scripture at that time. Did Christ study the Bible? The question of the Bible doesn’t arise at that time. The Father says: Children, look at your condition! Look at the condition Maya, Ravan, has made you! You understand that you are the devilish community of Ravan. They burn effigies of Ravan, but he doesn’t burn. When will the burning of Ravan end? People don’t know this. You are the Godly deity community; you are My children. I have come once again to teach you children Raja Yoga. There are innumerable religions. It takes so much effort to remove them from those. Where did the Gita come from? Where did the signs of the original, eternal, deity religion, which the rishis and munis sat and created and of which you have been hearing even now, come from? Who sung the Vedas? Who is the Father of the Vedas? The Father says: I am the God of the Gita. Shiv Baba created the Mother Gita and Krishna took birth through that. Radhe etc. are all included with him. First of all, there are Brahmins. You children have the faith that that One is our most beloved Father to whom everyone says: O G od, the Father ! Have mercy! Devotees call out: How can we be liberated from sorrow? If God is omnipresent, there is no need to call out. The main aspect is that of the Gita. People create so many sacrificial fires etc. You should now have such leaflets printed. Everything is so meaningless now. Wherever you look, they continue to write the Gita. They don’t know at all who created the Gita, who sung it, when it was sung or who made it. They don’t even have the accurate introduction of Shri Krishna. They simply say: Wherever I look, I only see the omnipresent Shri Krishna everywhere. Devotees of Radhe would say that they only see omnipresent Radhe, that Radhe is everywhere. If they were to say this of just the one incorporeal Supreme Soul, that would be OK. Why do they say that all are omnipresent? They even say that Ganesh is omnipresent. In just the one city of Mathura, someone would say that Krishna is omnipresent and someone else would say that Radhe is omnipresent. There is so much confusion. No two opinions are the same. In the one home, the guru of the father would be different from the guru of the child. In fact, gurus are adopted by those in the age of retirement. The Father says: I too have come in this one’s stage of retirement. In the world, the greater the guru, the more intoxication he has. Adi Dev has also been given the name, Mahavir. They even call Hanuman; Mahavir. You Shaktis are mahavirs. In the Dilwala Temple, the Shaktis are shown riding lions and the Pandavas are shown riding elephants. The temple has been built with great significance. It is your identical memorial. You would not be in existence at that time for your picture to be used. The temples were created in the copper age, and so where could your pictures have come from? You do service at this time. All of those things refer to the present time. They created the scriptures later. If we were not to mention the name of the Gita, they would say: We don’t know which new religion this is. This requires so much effort. Those people simply establish a religion in this world. The Father is preparing you for the new world. The Father says: No one else can carry out the task that I do. I have to make all the impure ones pure. I now have to give a warning to you children. So many calamities have taken place in Bharat and this is why Bharat has become like a shell. The Father gave birth to Krishna through the mother Gita, whereas those people have made Krishna the Lord of the Gita. The Lord of the Gita is, in fact, Shiva. He gave birth to Krishna through the Gita. All of you are Sanjays and the One giving you this knowledge is Shiv Baba. Who is the Creator of the ancient deity religion? Wisdom is required to write all of these things. We are taking birth through the Gita. Mama will become Radhe and this one will become Krishna. These are incognito matters. No one can understand the birth of Brahmins. The matter is between Krishna and the Supreme Soul. Brahma, Krishna and Shiv Baba: these are all deep things. Very wise people are needed to understand these things. The intellects of those who have full yoga will continue to become like a philosopher’s stone. This cannot stay in a wandering intellect. Baba is giving you children such elevated knowledge. Students also use their intellects. So, now sit and write this. One mustn’t delay in carrying out an auspicious task. We children of the Ocean should save our brothers and sisters. The poor ones are continually stumbling. They would say: Since the BKs proclaim this so loudly, there must be something in it. Have hundreds of thousands of leaflets printed and distribute them at the Gita pathshalas. Bharat is the imperishable land and the most elevated pilgrimage place. People have forgotten the pilgrimage place of the Father who grants salvation to all, and so His name has to be glorified again. Only Shiva is worthy of being offered flowers. All the rest are useless. There are many Gita pathshalas. You can change your costume and go there. Then let them think that you must be a BK. No one else could ask such questions. Achcha, you understand that Shiv Baba sits in the body of Brahma and explains all of these things. The Baba who makes you into masters of heaven has now come here. Until you become Brahmins, you cannot become deities. The Brahmin clan is even more elevated than the deity clan. All souls are becoming pure. You will then take rebirth in the new world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Night C lass: 12/01/69

You children are sitting in remembrance of the one Father. To stay in remembrance of the One is called unadulterated remembrance. If, while sitting here, you remember anyone else, that is called adulterated remembrance. To eat, drink and live at home with someone while remembering someone else is cheating. Devotion too is unadulterated while you worship Shiv Baba alone, whereas to remember others is adulterated devotion. You children have now received knowledge. The one Father performs such wonders. He makes us into the masters of the world. So, we should remember that One alone. Mine is One alone. However, children say that they forget to remember Shiv Baba. Wonderful! On the path of devotion, you used to say that you would worship the One alone. He alone is the Purifier. No one else can be called the Purifier. Only the One is called this. He alone is the Highest on High. There is now no question of devotion. You children have knowledge. You have to remember the Ocean of Knowledge. On the path of devotion, they say: When You come, we will remember You alone. Therefore, you should remember those things. Each one of you should ask yourself: Do I remember the one Father or do I remember many friends and relatives? You have to attach your heart to the one Father. If your heart goes to anyone else, it becomes adulterated remembrance. The Father says: Children, constantly remember Me alone. Then you will have deity relatives there. In the new world, you will have all new relations. Therefore, you have to check: Whom do I remember? The Father says: Remember Me, the parlokik Father. I alone am the Purifier. Try to remove your intellects’ yoga from everyone else and remember the Father. The more you remember Him, the more your sins will be cut away. It isn’t that however much I remember Baba, He will remember me to the same extent. The Father doesn’t have to cut away any sins! You are now sitting here in order to become pure. Shiv Baba is also here. He doesn’t have a body of His own; He has taken this one on loan. You have promised the Father: Baba, when You come, we will belong to You and become the masters of the new world. Continue to ask your heart. You know that the link of your intellects’ yoga repeatedly breaks away from the Father. The Father knows that the linkwill be broken and that you will then remember Him and that the link will then break again. Children make effort, numberwise. If you stay in remembrance very well, you can come into this dynasty. Continue to check yourself. Keep a diary ; where did my intellect’s yoga go throughout the day? Then the Father will explain to you. The mind and intellect of the soul run everywhere. The Father says: When they run everywhere, there is a loss experienced. There is a lot of profit in remembering Me. There is only a loss in everything else. You have to remember the one main One. You have to be cautious with yourself. There is profit at every step; there is loss at every step. For 84 births, you remembered bodily beings and experienced nothing but loss. Day by day, 5000 years have gone by and there has been a loss all the time. Now stay in remembrance of the Father and experience profit. You have to churn the ocean of knowledge in this way and extract the jewels of knowledge. Stay in remembrance of the Father with concentration. Some children are worried about earning shells. Maya makes them think of their business etc. Wealthy ones have many thoughts. What can Baba do? Baba had such a good business. He didn’t need to stumble around. When a businessman came, Baba would ask him: Are you a businessman or an agent? While doing your business, you have to connect your intellect in yoga to the Father. The iron age is now ending and the golden age is coming. Impure ones will not go to the golden age. The more you remember Baba, the purer you will become. Through purity, there can be good dharna. Impure ones can neither stay in remembrance nor have dharna. According to their fortune, some find time and make effort, whereas others don’t have any time at all. They don’t remember Baba at all. However much effort they made in the previous cycle, that is what they will do now. Each one of you has to make effort for yourself. In earlier days, when there was a loss in business, they would say: It is the will of God! Now you say: It is the drama ! Whatever happened in the previous cycle will happen again. It isn’t that you have four hours of remembrance now, and so you will have more remembrance in the next cycle; no. You are given the teaching: If you make good effort now, you will make good effort every cycle. Therefore, check where your intellect goes. In wrestling, they have to be very careful. Achcha.

Spiritual BapDada says: Love, remembrance and good night to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become wise, make your intellect like a philosopher’s stone with remembrance. Don’t allow your intellect to wander here and there. Only think about the things that the Father tells you.
  2. Become a buzzing moth and do the service of making the insects who are residents of hell into deities. Do not delay in carrying out an auspicious task. Save your brothers and sisters.
Blessing: May you have a right to the tilak of a future kingdom by having the tilak of the imperishable “suhaag” (being wed) and fortune.
At the confluence age you receive the tilak of the “suhaag” of the Deity of all deities and of the fortune of being a child of the Supreme Soul, God. If the tilak of “suhaag” and fortune is imperishable, Maya cannot erase it. Therefore, someone who wears a tilak of “suhaag” and fortune here claims a right to the tilak of a future kingdom. There is the festival of the royal tilak in every birth. Along with the king celebrating the day for receiving a tilak, this day of receiving the tilak is also celebrated by the royal family.
Slogan: Remain constantly merged in the love of One and this love will finish all effort.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 21 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 December 2018

To Read Murli 20 December 2018 :- Click Here
21-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – शुभ कार्य में देरी नहीं करनी है, अपने भाई बहिनों को ठोकर खाने से बचाना है, भूं-भूं कर आप समान बनाना है”
प्रश्नः- किस बात का अनर्थ होने से भारत कौड़ी मिसल बन गया है?
उत्तर:- सबसे बड़ा अनर्थ हुआ है जो गीता के स्वामी को भूल, गीता ज्ञान से जन्म लेने वाले बच्चे को स्वामी कह दिया है। इसी एक अनर्थ के कारण सभी बाप से बेमुख हो गये हैं। भारत कौड़ी तुल्य बन गया है। अब तुम बच्चे बाप से सम्मुख में सच्ची गीता सुन रहे हो जिस गीता ज्ञान से ही देवी-देवता धर्म स्थापन होता है, तुम श्रीकृष्ण के समान बनते हो।
गीत:- किसने यह सब खेल रचाया…….. 

ओम् शान्ति। ब्राह्मण कुल भूषण बच्चे समझ गये हैं कि बरोबर हमको स्वर्ग में बहुत अपरमपार सुख थे, हम बहुत खुशी में थे, हम जीव आत्मायें स्वर्ग में बहुत मस्ती में थे फिर क्या हुआ? रंग रूप की माया आकर चटकी। विकारों के कारण ही इसको नर्क कहा जाता है। नर्क तो सारा है। अब यह जो भ्रमरी का मिसाल देते हैं, भ्रमरी और ब्राह्मणी दोनों का काम एक है। भ्रमरी का मिसाल तुम्हारे ऊपर है। भ्रमरी कीड़े ले जाती है। घर बनाकर उसमें कीड़े डाल देती है। यह भी नर्क है। सब कीड़े हैं। परन्तु सब कीड़े देवी-देवता धर्म वाले नहीं हैं। जो भी धर्म वाले हैं सब नर्कवासी कीड़े हैं। अब देवी-देवता धर्म के कीड़े कौन हैं, यह कैसे पता पड़े कि यह ब्रह्मा वंशी ब्राह्मणियां हैं जो बैठ भूं-भूं करती हैं। जो देवता धर्म के होंगे वही ठहर सकेंगे। जो नहीं होंगे, ठहरेंगे नहीं। नर्कवासी कीड़े तो सभी हैं। सन्यासी भी यही कहते हैं कि नर्क का यह सुख काग विष्टा समान है। उनको यह पता नहीं कि स्वर्ग में अथाह सुख हैं। यहाँ पर 5 परसेन्ट सुख और 95 परसेन्ट दु:ख है। तो इसको कोई स्वर्ग नहीं कहा जायेगा। स्वर्ग में तो दु:ख की बात नहीं रहती। यहाँ तो अनेक शास्त्र, अनेक धर्म तथा अनेक मतें हो गई हैं। स्वर्ग में तो एक ही अद्वेत देवता मत है। एक ही धर्म है। तो तुम हो ब्राह्मणियां। तुम भूं-भूं करती हो फिर जो इस धर्म के हैं वह ठहर जाते हैं। अनेक प्रकार के हैं। कोई नेचर को मानते, कोई साइन्स को, कोई कहते यह सृष्टि कल्पना मात्र है। ऐसी वार्तालाप यहाँ ही चलती है, सतयुग में नहीं चलती। यह बेहद का बाप प्रजापिता ब्रह्मा के मुख कमल से अपने बच्चों को बैठ समझाते हैं कि तुम मेरे पास थे, अब फिर मेरे पास आना है। इसमें शास्त्रों की तो बात नहीं उठती। क्राइस्ट तथा बुद्ध आते हैं, वह भी आकर सुनाते हैं, उस समय तो शास्त्र का प्रश्न उठ न सके। क्राइस्ट बाइबिल पढ़ता था क्या? बाइबिल का प्रश्न ही नहीं उठता। बाप कहते हैं – बच्चे, तुम अपनी हालत तो देखो। माया रावण ने तुम्हारी कैसी हालत कर दी है! समझते भी हैं कि हम आसुरी रावण सम्प्रदाय हैं। रावण को जलाते हैं परन्तु जलता नहीं। रावण का जलना बन्द कब होगा? यह मनुष्यों को पता नहीं है। तुम हो ईश्वरीय दैवी सम्प्रदाय। तुम बच्चे हो हमारे, अब मैं फिर आया हूँ तुम बच्चों को राजयोग सिखलाने। अनेक धर्म हैं। उनमें से निकालने में कितनी मेहनत लगती है। गीता भी कहाँ से आई? आदि सनातन धर्म जो था उनकी निशानियां कहाँ से निकली? जो फिर ऋषि-मुनियों ने बैठ बनाई, जो अब तक सुनते आये हैं। वेद किसने गाये? वेदों का बाप कौन है? बाप कहते हैं कि गीता का भगवान् मैं हूँ। गीता माता रची शिवबाबा ने, उससे जन्म लिया कृष्ण ने। उनके साथ राधे आदि सब आ जाते हैं। पहले हैं ही ब्राह्मण।

तुम बच्चों को निश्चय है कि वह हमारा मोस्ट बीलव्ड बाप है – जिसको सब कहते हैं ओ गॉड फादर रहम करो। भक्त पुकारते हैं कि कैसे दु:ख से छूटें। अगर भगवान् सर्वव्यापी हो तो फिर पुकारने की बात ही नहीं। मुख्य है गीता की बात, कितने यज्ञ आदि रचते हैं। अब तुम ऐसे पर्चे छपाओ। अब कितना अनर्थ हो गया है। जहाँ-तहाँ देखो गीता लिखते रहते हैं। गीता किसने रची, किसने गाई, कब गाई, किसने बनाई, कुछ भी पता नहीं है। श्रीकृष्ण का भी यथार्थ परिचय नहीं है। बस, कह देते जिधर देखो सर्वव्यापी कृष्ण ही कृष्ण है। राधे के भक्त राधे के लिए कहेंगे सर्वव्यापी राधे ही राधे है। एक निराकार परमात्मा को ही कहें तो भी ठीक। सबको क्यों सर्वव्यापी कर दिया है। गणेश के लिए भी कहेंगे सर्वव्यापी। एक ही मथुरा शहर में कोई कहेंगे श्रीकृष्ण सर्वव्यापी है, कोई कहेंगे राधे सर्वव्यापी है। कितनी मूंझ हो गई है। एक की मत न मिले दूसरे से। एक ही घर में बाप का गुरू अलग तो बच्चे का गुरू अलग। वास्तव में गुरू किया जाता है वानप्रस्थ में। बाप कहते हैं मैं भी आया हूँ इनकी वानप्रस्थ अवस्था में। दुनिया में तो जितना जो बड़ा गुरू होता है उनको उतना नशा रहता है। आदि देव को महावीर भी नाम दिया है। हनूमान को भी महावीर कहते हैं। महावीर तो तुम शक्तियां हो। देलवाड़ा मन्दिर में शक्तियों की शेर पर सवारी है और पाण्डवों की हाथियों पर। मन्दिर बड़ा युक्ति से बना हुआ है। हूबहू तुम्हारा यादगार है। तुम तो उस समय होंगे नहीं जो तुम्हारा चित्र दें। मन्दिर तो द्वापर में बने हैं तो तुम्हारे चित्र कहाँ से आयेंगे। सर्विस तो तुम अभी कर रहे हो। बातें सब अभी की हैं। उन्होंने बाद में शास्त्र बनाये हैं। हम अगर गीता का नाम न लें तो मनुष्य समझेंगे – पता नहीं, यह कौन-सा नया धर्म है? कितनी मेहनत लगती है। वह इस दुनिया में सिर्फ धर्म स्थापन करते हैं। तुमको तो नई दुनिया के लिए बाप तैयार करते हैं।

बाप कहते हैं मेरे जैसा कर्तव्य कोई कर न सके। सब पतितों को पावन बनाना पड़ता है। अब तुम बच्चों को वारनिंग देनी पड़े। भारत में कितना अनर्थ हो गया है जिस कारण ही भारत कौड़ी तुल्य बना है। बाप ने गीता माता द्वारा कृष्ण को जन्म दिया, उन्होंने फिर कृष्ण को गीता का स्वामी बना दिया है। गीता का स्वामी तो शिव है, उसने गीता से कृष्ण को जन्म दिया । तुम सब संजय हो, सुनाने वाला एक शिवबाबा है। प्राचीन देवी-देवता धर्म का रचने वाला कौन? यह सब लिखने में बुद्धि चाहिए। गीता से हम जन्म ले रहे हैं। मम्मा राधे और यह फिर कृष्ण बनेगा। यह गुप्त बातें हैं ना। ब्राह्मणों का जन्म कोई समझ न सके। बात ही है कृष्ण और परमात्मा की। ब्रह्मा, कृष्ण और शिवबाबा – यह सब बातें गुह्य हैं ना। इन बातों को समझने वाला बड़ा बुद्धिवान चाहिए। जिनका योग पूरा होगा, उनकी बुद्धि पारस बनती जायेगी। भटकने वाले की बुद्धि में यह ठहर न सके। बाबा तुम बच्चों को कितनी ऊंची नॉलेज दे रहे हैं। विद्यार्थी अपनी बुद्धि भी चलाते हैं ना। तो अभी बैठकर लिखो। शुभ कार्य में देरी नहीं करनी चाहिए। हम सागर के बच्चे अपने भाई-बहनों को बचायें। बिचारे ठोकर खाते रहते हैं। कहेंगे बी.के. इतनी रड़ियां मारती हैं, कुछ तो बात होगी। लाखों पर्चे छपवाकर गीता पाठशालाओं आदि में बांटो। भारत अविनाशी खण्ड है और सर्वोत्तम तीर्थ है। जो बाप सबको सद्गति देते हैं उनके तीर्थ स्थान को गुम कर दिया है तो फिर उनका नाम निकालना पड़े। फूल चढ़ाने लायक एक शिव ही है। बाकी तो सब व्यर्थ हैं। गीता पाठशालायें बहुत हैं। तुम वेष बदलकर वहाँ जाओ। फिर भल समझें यह बी.के.होंगी। ऐसे प्रश्न कोई पूछ न सके। अच्छा –

तुम समझते हो कि शिवबाबा ब्रह्मा तन से बैठ यह बातें समझाते हैं। जो बाबा स्वर्ग का मालिक बनाने वाला है, वह अभी आया हुआ है। जब तक ब्राह्मण न बनें तब तक देवता बन न सकें। ब्राह्मण कुल देवताओं से भी ऊंच है। सबकी आत्मा पावन हो रही है। तुम फिर नई दुनिया में पुनर्जन्म लेंगे। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास 12.1.69

तुम बच्चे एक बाप की याद में बैठे हो, एक की याद में रहना इसे कहेंगे अव्यभिचारी याद। अगर यहाँ बैठे भी दूसरे कोई की याद आती है तो व्यभिचारी याद कहेंगे। खाना पीना, रहना एक घर में, याद दूसरे को करना यह तो ठगी हो गई। भक्ति भी जब तक एक शिवबाबा की करते हैं तब तक अव्यभिचारी भक्ति हुई फिर औरों को याद करना यह व्यभिचारी भक्ति हो जाता है। अभी तुम बच्चों को ज्ञान मिला है, एक बाप कितनी कमाल करते हैं! हमको विश्व का मालिक बनाते हैं। तो उस एक को ही याद करना चाहिए। मेरा तो एक। परन्तु बच्चे कहते हैं शिवबाबा की याद भूल जाती है। वाह! भक्ति मार्ग में तो तुम कहते थे हम एक की ही भक्ति करेंगे। वही पतित-पावन है, और तो कोई को पतित-पावन नहीं कहा जाता। एक को ही कहा जाता है। वही ऊंच ते ऊंच है। अभी तो भक्ति की बात ही नहीं। बच्चों को ज्ञान है। ज्ञान सागर को याद करना है। भक्ति मार्ग में कहते हैं आप आयेंगे तो हम आपको ही याद करेंगे। तो यह बातें याद करनी चाहिए। हरेक अपने से पूछे हम एक बाप को याद करते हैं या अनेक मित्र, सम्बन्धियों आदि को याद करते हैं? एक बाप से ही दिल लगानी है। अगर दिल और तरफ गई तो याद व्यभिचारी हो जाती है। बाप कहते हैं बच्चे मामेकम् याद करो। फिर वहाँ तुम्हें दैवी सम्बन्धी मिलेंगे। नई दुनिया में सभी नये मिलेंगे। तो अपनी जांच रखनी है कि हम किसको याद करते हैं? बाप कहते हैं तुम मुझ पारलौकिक बाप को याद करो। मैं ही पतित-पावन हूँ, कोशिश कर और तरफ से बुद्धियोग हटाकर बाप को याद करना है। जितना याद करेंगे उतना ही पाप कटेंगे। ऐसा नहीं कि जितना हम याद करेंगे उतना बाबा भी याद करेंगे। बाप को कोई पाप थोड़ेही काटने है। अभी तुम यहाँ बैठे हो पावन बनने लिए। शिवबाबा भी यहाँ है। उन्हें अपना शरीर तो है नहीं, लोन लिया हुआ है। तुम्हारी बाप से प्रतिज्ञा की हुई है – बाबा आप आयेंगे तो हम आपके बन नई दुनिया के मालिक बनेंगे। अपने दिल से पूछते रहो। यह तो जानते हो बुद्धि-योग की लिंक घड़ी-घड़ी बाप से टूट जाती है। बाप जानते हैं लिंक टूटेगी, फिर याद करेंगे, फिर टूटेगी। बच्चे नम्बरवार तो पुरूषार्थ करते ही हैं। अच्छी रीति याद में रहे तो इस डिनायस्टी में आ जायेंगे। अपनी जांच करते रहो, डायरी रखो। सारे दिन में हमारा बुद्धियोग कहाँ-कहाँ गया? तो फिर बाप समझायेंगे। आत्मा में जो मन, बुद्धि है वह भागती है। बाप कहते हैं भागने से घाटा पड़ जायेगा। मुझे याद करने से बहुत फायदा है, बाकी तो नुकसान ही नुकसान है। याद करना है मुख्य एक को। अपने ऊपर खबरदारी रखनी है, कदम-कदम पर फायदा, कदम-कदम पर घाटा। 84 जन्म देहधारियों को याद कर घाटा ही पाया। एक-एक दिन होकर 5000 वर्ष बीत गये, घाटा ही हुआ, अभी बाप की याद में रह फायदा करना है।

ऐसे विचार सागर मंथन कर ज्ञान रत्न निकालने हैं, बाप की याद में एकाग्रचित हो लगना है। कई बच्चों को कौड़ियां कमाने की चिंता रहती है। माया धंधे आदि के विचार ले आती है। धनवान को तो बहुत विचार आते हैं। बाबा क्या करे। बाबा का कितना अच्छा धंधा था, धक्के आदि खाने की दरकार ही नहीं थी। कोई व्यापारी आता था तो मैं पूछता था पहले यह तो बताओ व्यापारी हो या एजेन्ट हो? (हिस्ट्री) तुम्हें धन्धा आदि करते बुद्धि का योग बाप से रखना है। अभी कलियुग पूरा हो सतयुग आता है। पतित तो सतयुग में जायेंगे ही नहीं। जितना याद करेंगे उतना ही पवित्र बनेंगे। प्युरिटी से धारणा अच्छी होगी। पतित न याद कर सकेंगे, न धारणा होगी। कोई को तकदीर अनुसार समय मिलता है, पुरूषार्थ करते हैं, कोई को समय ही नहीं मिलता, याद ही नहीं करते। जिसने जितनी कोशिश कल्प पहले की है उतनी करते हैं। हरेक को अपने से मेहनत करनी है। कमाई में घाटा पड़ता था तो आगे कहते थे ईश्वर की इच्छा। अभी कहते हैं ड्रामा। जो कल्प पहले हुआ है वह होगा। ऐसे नहीं अभी 4 घण्टा याद करते हो तो दूसरे कल्प में जास्ती करेंगे। नहीं। शिक्षा दी जाती है। अभी पुरूषार्थ करेंगे तो कल्प-कल्प अच्छा पुरूषार्थ होगा। तो जांच करो बुद्धि कहाँ-कहाँ जाती है। मलयुद्ध में बड़ी खबरदारी रखते हैं। अच्छा – रूहानी बच्चों को रूहानी बापदादा का याद-प्यार गुडनाइट।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धिवान बनने के लिए याद से अपनी बुद्धि को पारस बनाना है। बुद्धि इधर-उधर भटकानी नहीं है। बाप जो सुनाते हैं उस पर ही विचार करना है।

2) भ्रमरी बन भूं-भूं कर नर्कवासी बने हुए कीड़ों को देवी-देवता बनाने की सेवा करनी है। शुभ कार्य में देरी नहीं करनी है। अपने भाई-बहिनों को बचाना है।

वरदान:- अविनाशी सुहाग और भाग्य के तिलकधारी सो भविष्य के राज्य तिलकधारी भव
संगमयुग पर देवों के देव के सुहाग और परमात्म वा ईश्वरीय सन्तान के भाग्य का तिलक प्राप्त होता है। यदि यह सुहाग और भाग्य का तिलक अविनाशी है, माया इस तिलक को मिटाती नहीं है तो यहाँ के सुहाग और भाग्य के तिलकधारी सो भविष्य के राज्य तिलकधारी बनते हैं। हर जन्म में राज्य तिलक का उत्सव होता है। राजा के साथ रॉयल फैमिली का भी तिलक दिवस मनाया जाता है।
स्लोगन:- सदा एक के स्नेह में समाये रहो, तो यह मुहब्बत मेहनत को समाप्त कर देगी।

TODAY MURLI 21 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 21 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 20 December 2017 :- Click Here

21/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, never stop studying because of sulking with one another. To stop studying means to leave the Father.
Question: What is the reason for service not growing?
Answer: When there is a difference of opinion among you, service doesn’t grow. Some children stop studying because of a difference of opinion. Baba cautions you: Children, don’t have any conflict with one another. Don’t listen to gossip. Listen to only the one Father. Give your news to the Father and He will give you directions to become 16 celestial degrees full.
Question: What is the first and main reason why you stop studying?
Answer: The sickness of name and form. When you become trapped in the name and form of a bodily being, you don’t feel like studying. Maya defeats you in this respect. This is a very big obstacle.

Om shanti. You children sitting here have the faith in your hearts that the unlimited Father has come and that He is giving us the unlimited inheritance. You are personally sitting in front of Him. You know that He is the Father of all souls. He explains to you through this body. He explains to you in the same way every cycle and gives you your inheritance. No one else can give you this knowledge. Baba explains: You mustn’t ever remember bodily beings. The five elements are called evil spirits. Therefore, you mustn’t remember bodies made of the five elements. Although Maya causes many obstacles, you mustn’t be defeated. Let this remain in your intellects: I belong to one Baba and none other. You shouldn’t even love the body of this Baba. If you love anyone’s body, you get stuck to it. Baba knows that males have such deep friendship with one another that they become trapped in each other’s name and form. They have so much love for one another that they even forget Shiv Baba. Even two kumaris have so much love for one another that it is as though they are lovers. No matter how much knowledge you explain to them, Maya doesn’t leave them alone because they oppose God’s directions. Although they take knowledge, their stage continues to fluctuate. The sins that should be burnt away with yoga don’t burn. There are many like that but Baba doesn’t mention any names. Secondly, Baba says: You must never stop studying. Although you may not get on with a Brahmin teacher and your heart is distanced, you must definitely continue to study. Continue to give Baba your news. Eventually, Baba will end the difference of opinion. Because of some difference of opinion, many children ruin everything for themselves and stop studying. You mustn’t stop studying under any circumstances. Many fall in this way. Baba cautions you: Children, you mustn’t listen to gossip from anyone. Listen to only the one Father. There are many children who have the illness of body consciousness and die through this disease. Children are given the order: Constantly remember the Father and continue to praise Him alone. Shiv Baba alone makes the iron-aged impure world pure and elevated. Baba is concerned for the children, that perhaps Maya will kill the children or make them ill. When children don’t send their news, I understand that they have been slapped very hard by Maya. This is why everything is explained in the murli. If they don’t have it in their fortune, they become engaged in their own business. Some become trapped in the name and form of one another in such a way that it is as though they are lovers and beloved. Then, they don’t even remember Mama or Baba. They continue to remember each other. It is Maya who creates all these obstacles. If they don’t have it in their fortune, no matter how much Baba tells them not to speak of wasteful things, they still continue to do so. On the path of ignorance some write their biographies. We don’t have to write our biographies. We mustn’t remember anyone except Baba. When Nehru died, people remembered him so much! If you also remember in the same way, what is the difference between them and you? A lot of understanding is required on the path of knowledge. Until you have yoga with Shiv Baba, the locks on your intellects will not open. You are then unable to do service and your status is destroyed. This is why Baba continues to caution you, that if there is any difference of opinion, write to Baba about it. Not everyone has become 16 celestial degrees full. Some are still weak; they would be making mistakes. Sensible children would instantly write their news. When some see that another person has anger in her, their hearts are removed from that person and then they stay at home. Sometimes, a Brahmin teacher also tells them: You mustn’t come to this centre. You have to give service news to Baba. Baba would be pleased that the children are giving Him their service news: Baba, today I explained to so-and-so and asked him what his relationship with the Supreme Father, the Supreme Soul, is. Baba gives you the inheritance of heaven. He also gave it 5000 years ago. The picture of Lakshmi and Narayan is placed here. Baba continues to explain that if any of you see that there is disservice taking place due to a particular reason, you should immediately give that news to Baba. Not everyone has become complete. You children have to explain everything. The Father says: I reveal Myself to the children. How could I be personally in front of many children who don’t even know Me? I tell the children: Sweet children, follow shrimat, make effort and make your lives elevated. You are going to become the masters of the whole world. The more you remember Me, the higher the status you will receive. There is no question of expense in this. This is just an education. Those who have it in their fortune become very strong. Maya is such that even those who were here for six to eight years are no longer here. They are not sulking with the Father but with their Brahmin teacher. Baba is sitting here. If you sulk with Shiv Baba, you leave Him. How would you be able to listen to the murli without Baba? Secondly, when someone has a part of trance, they sometimes say, “Mama came in so-and-so”, or “Baba came in so-and-so”. That too is Maya. You have to move along very cautiously. You have to understand from the way a person speaks. Some have the evil spirit of Maya in them and then they say: Shiv Baba has come and is speaking the murli. It is Maya who creates all of those obstacles. Many become traitors. Many deceive Baba in this way. You have to protect yourself from all of those things. You have to pay full attention to the study. Otherwise, Maya will distress you a great deal. Many storms will come. Herbalists say that the sickness will first erupt but you mustn’t be afraid. Baba explains that, while you are moving along, Maya pokes you in such a way that she makes you forget Baba. She will try hard to defeat you. Your battle is with Ravan, the five vices. The more you remember Baba, the more your sins will be absolved. Those who conquer Maya will conquer the world. However, this is not a question of a physical war. Only when you have the power of yoga can you receive the sovereignty of the world. At this time, there is the power of yoga and also physical power. If both Christians were to come together, they could become the masters of the world; they have that much power. However, that isn’t the law. There is the story of the two cats that were fighting. Look how Krishna is portrayed holding the globe in his hands! Your remembrance should remain all the time. You mustn’t stop studying for any reason. There will definitely be obstacles. Maya is such that she scalps you or gives you heart failure. Therefore, the Father says: Forget everything else and constantly remember Me alone. By remembering the Seed, you will also remember the tree. While living at home with your family, take this course. Devotees wake up early in the morning and perform their worship. At Kashi they have made small alcoves. Each one sits in an alcove and chants, “Vishwanath Ganga” (The Lord of the World who brings the Ganges), but they don’t know anything; they simply say that God is omnipresent. They call themselves those who have yoga with the elements and the brahm element. This Baba is experienced in everything. That One sits in this one’s chariot and says: Renounce all of that. They have made everything into toys. They have made toys of Vishnu, Shankar, Krishna and they sit and worship them. They don’t know any one of them and yet they spend a lot of money worshipping them. They make stone idols and decorate them. The wealthy even put jewellery on idols. You know that whatever they do with that deep love on the path of devotion, I give them the fruit of that. In their next birth, they become good devotees. If someone donates wealth, he takes birth in a wealthy family. If someone donates a great deal, he takes birth in a royal family. Nevertheless, there isn’t happiness for the whole time in this world. This is why sannyasis don’t believe in happiness. They believe it is like the droppings of a crow. Therefore, how could they teach you Raja Yoga? No one, apart from the unlimited Father, can make you into a master of the whole world. The Father is now personally explaining to you children. I have come once again to teach you Raja Yoga. I have entered Krishna at the end of his 84th birth and named him Brahma. I definitely need Brahma and also Prajapita Brahma whom I can enter in order to come here. How else could I come here? This is the chariot that is fixed for Me. I enter him every cycle. It is written that establishment takes place through Brahma. Of what? Of the land of Vishnu. You are now making Bharat into the land of Vishnu. Others don’t understand that the Supreme Father, the Supreme Soul, has a part. They celebrate the birthday of Krishna. It is the Father who changes hell into heaven. Those who become Brahmins and make full effort will become deities from Brahmins. It is remembered that the Supreme Father, the Supreme Soul, establishes three religions: Brahmin, sun dynasty and moon dynasty. There, for two ages, there is just one religion; there is no other religion. However, look how many religions there are in the other two ages! You children should pay full attention to the study. Otherwise, you will have to cry a great deal: the T ribunal will sit for everyone. They will show you: These are the sins you committed. That is why I tell you a great deal not to commit any sin but to become a charitable soul. If you commit sin, you accumulate one hundred fold punishment. If, after belonging to Me, you indulge in vice or if you disobey the Father’s shrimat, a lot of punishment will be accumulated for you. That punishment is very severe. The Father says: I am the Resident of the supreme abode. I come here into this old world and give you your inheritance. In spite of that, you continue to defame My name. This is why it is said that those who defame the Satguru cannot claim a high status in the sun-dynasty clan; they fall. They make a vow: I will live as Your obedient child. They even write this in blood. They even promise the Supreme Father, the Supreme Soul, that they will become His children and claim their full inheritance from Him. However, Maya is such that they are no longer here today. If, after making a promise, you become impure, you become deceived a great deal. That is disobeying God, is it not? Baba continues to explain everything through signals. Maya will distress you a great deal. Otherwise, why would there be a battle? To become a master of the world is no small matter! You mustn’t make mistakes. You mustn’t stop studying at all. Take advice from Baba and then He is responsible. People make so much effort to study. They work very hard at the time of their examinations. As you make further progress and you see that that time is very close, you will also busy yourself in studying day and night. That time is now going to come very soon. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t speak about wasteful things with each other. You must never come into any conflict of opinion. Never stop studying under any circumstances.
  2. Never disobey Baba. After making a promise, keep it firm forever. Always have an interest in doing service.
Blessing: May you be constantly carefree and stay in limitless happiness with the awareness of your unlimited rights.
In today’s world, even when people receive their customary rights, they claim them with so much effort, whereas you have received all rights without making any effort. To become a child means to claim a right. When you say, “mine”, you claim a right. So, this is a wonder of oneself, the elevated soul. Stay in the happiness of this unlimited right. This imperishable right is fixed and when something is fixed, you remain carefree.
Slogan: Fly at a fast speed with everyone’s blessings and you will easily cross the mountain of problems.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 21 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 December 2017

To Read Murli 20 December 2017 :- Click Here
21/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – आपस में रूठकर कभी पढ़ाई को मत छोड़ना, पढ़ाई छोड़ना माना बाप को छोड़ देना”
प्रश्नः- सर्विस की वृद्धि न होने का कारण क्या है?
उत्तर:- जब आपस में मतभेद होता है तब सर्विस वृद्धि को नहीं पाती। कोई-कोई बच्चे मतभेद में आकर पढ़ाई छोड़ देते हैं। बाबा सावधान करते हैं बच्चे मतभेद में नहीं आओ, कभी झरमुई झगमुई की बातें नहीं सुनो, एक बाप की सुनो, बाप को समाचार दो तो बाबा तुम्हें 16 कला सम्पूर्ण बनने की मत देंगे।
प्रश्नः- पढ़ाई छोड़ने का पहला मुख्य कारण कौन सा बनता है?
उत्तर:- नाम-रूप की बीमारी। जब किसी देहधारी के नाम रूप में फँसते हैं तो पढ़ाई में दिल नहीं लगती। माया इसी बात से हरा देती है – यही बहुत बड़ा विघ्न है।

ओम् शान्ति। बच्चे बैठे हैं दिल में निश्चय है कि बेहद का बाप आया हुआ है, बेहद का वर्सा देते हैं। तुम सम्मुख बैठे हो। जानते हो वह सब आत्माओं का बाप है। इस शरीर द्वारा समझा रहे हैं। कल्प-कल्प ऐसे ही समझाते हैं और वर्सा देते हैं, और कोई यह ज्ञान दे नहीं सकते। बाबा समझाते हैं कभी भी किसी देहधारी को याद नहीं करना, 5 तत्वों के शरीर को बुत कहा जाता है। तो तुम्हें 5 तत्वों के शरीर को याद नहीं करना है। भल माया बहुत विघ्न डालती है परन्तु हारना नहीं है। बुद्धि में रहे मेरा तो एक बाबा दूसरा न कोई। इस बाबा के शरीर के साथ भी तुम्हारा लव नहीं होना चाहिए। कोई भी शरीर के साथ लव रखा तो अटक जायेंगे। बाबा जानते हैं बहुत मेल्स की भी आपस में ऐसी दोस्ती हो जाती है, जो एक दो के नाम रूप में फँस मरते हैं। इतनी प्रीत लग जाती है जो शिवबाबा को भूल जाते हैं। दो कन्याओं (फीमेल्स) का भी आपस में इतना लव हो जाता है जैसे आशिक होते हैं। उनको कितनी भी ज्ञान की समझानी दो परन्तु माया छोड़ती नहीं है क्योंकि ईश्वरीय मत के विरुद्ध चलते हैं। भल ज्ञान भी उठा लेवे परन्तु अवस्था डगमग रहती है। योग से जो विकर्म विनाश हों, वह होते नहीं। ऐसे-ऐसे बहुत हैं, बाबा नाम नहीं लेते।

दूसरी बात – बाबा समझाते हैं कभी भी पढ़ाई नहीं छोड़ना। भल ब्राह्मणी से नहीं बनती हैं, दिल हट जाती है परन्तु पढ़ाई जरूर पढ़नी है। बाबा को समाचार देते रहना है। आखिर बाबा मतभेद मिटा देंगे। मतभेद के कारण बहुत बच्चे अपना खाना खराब कर देते हैं, (रजिस्टर पर दाग लगा देते हैं), पढ़ाई छोड़ देते हैं। पढ़ाई कोई भी हालत में छोड़नी नहीं चाहिए। ऐसे बहुत गिर पड़ते हैं। बाबा सावधान करते हैं बच्चे तुमको कोई से भी झरमुई-झगमुई की बातें नहीं सुननी हैं। एक बाप की ही सुननी है। बहुत बच्चे हैं जो देह-अभिमान की बीमारी में रोगी हो मरते हैं। बच्चों को फरमान है – हमेशा बाप को याद करते, उनकी ही महिमा करते रहो। शिवबाबा ही कलियुगी पतित दुनिया को पावन श्रेष्ठाचारी बनाते हैं। बाबा को बच्चों का ख्याल रहता है कि माया कहाँ बच्चों को मार न डाले वा बीमार न कर दे। बच्चे अगर समाचार नहीं देते तो समझ जाता हूँ कि माया का जोर से थप्पड़ लगा है, इसलिए मुरली में समझाया जाता है। तकदीर में नहीं है तो अपने ही धन्धे में लग जाते हैं। कोई तो एक दो के नाम रूप में ऐसे फँसते हैं जैसे आशिक माशुक बने हैं। फिर मम्मा बाबा को भी याद नहीं करते। एक दो को याद करते रहते हैं। यह सब विघ्न माया डालती है। कोई की तकदीर में नहीं है तो कितना भी बाबा समझाये, वाह्यात बातें न करो फिर भी करते रहते हैं। कोई अज्ञान में जीवन कहानी लिखते हैं। हमको थोड़ेही जीवन कहानी आदि बनानी है। हमको बाबा के सिवाए किसको याद नहीं करना हैं। नेहरू मरा तो उनको कितना याद करते हैं। तुम भी ऐसे याद करो तो बाकी तुम्हारे और उनमें फ़र्क क्या रहा। ज्ञान मार्ग में बड़ी समझ चाहिए। जब तक शिवबाबा से योग नहीं तो बुद्धि का ताला नहीं खुलता। सर्विस नहीं कर सकते, पद भ्रष्ट कर लेते हैं इसलिए बाबा सावधान करते हैं कि कोई भी मतभेद हो तो बाबा को लिखो। सभी 16 कला सम्पूर्ण तो नहीं बने हैं। कोई कच्चे भी हैं, भूलें करते होंगे। सेन्सीबुल बच्चे जो हैं, फट से समाचार लिखेंगे। कोई देखते हैं कि फलाने में अभी तक क्रोध है तो उनसे दिल हट जाती है फिर घर बैठ जाते हैं। कोई ब्राह्मणी भी कह देती है कि तुम इस सेन्टर पर मत आओ।

बाबा को सर्विस समाचार देना चाहिए। बाबा खुश होगा कि बच्चा सर्विस समाचार देता है। बाबा आज फलाने को समझाया कि परमपिता परमात्मा से तुम्हारा क्या सम्बन्ध है? बाबा स्वर्ग का वर्सा देते हैं। 5 हजार वर्ष पहले भी दिया था। यह लक्ष्मी-नारायण के चित्र खड़े हैं। बाबा समझाते रहते हैं कभी कोई देखे कि इस कारण डिससर्विस होती है तो फौरन समाचार देना है। सब सम्पूर्ण तो नहीं बने हैं। बच्चों को सब कुछ समझाना होता है।

बाप कहते हैं मैं बच्चों के आगे प्रत्यक्ष होता हूँ। बहुत बच्चे जो मुझे जानते ही नहीं, उनके सम्मुख कैसे हूँगा। बच्चों को कहता हूँ-मीठे बच्चे श्रीमत पर चल अपना पुरुषार्थ कर जीवन ऊंच बनाओ। तुम सारे विश्व के मालिक बनने वाले हो। जितना जास्ती मुझे याद करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे, इसमें खर्चे की कोई बात नहीं, सिर्फ एज्यूकेशन है। जिसकी तकदीर में है वह पक्के हो जाते हैं। माया ऐसी है जो 6-8 वर्ष वाले भी देखो आज हैं नहीं। बाप से नहीं रूठते हैं परन्तु ब्राह्मणियों से रूठते हैं। बाबा तो यहाँ बैठा है। शिवबाबा से रूठा तो खत्म हो जायेंगे। बाबा के सिवाए मुरली कैसे सुन सकेंगे।

दूसरी बात जो कभी ध्यान का पार्ट चलता है फलानी में मम्मा आई, बाबा आया – यह भी माया है। बहुत खबरदारी से चलना है। बात कैसे करते हैं, उससे समझ जाना है। कोई-कोई में माया का भूत आ जाता है फिर कहते हैं शिवबाबा आया, मुरली चलाते हैं – यह सब माया विघ्न डालती है। बहुत ट्रेटर निकल जाते हैं। बहुत धोखा देते हैं। इन सब बातों से बहुत सम्भाल करनी है। पढ़ाई पर पूरा ध्यान देना है। नहीं तो माया बहुत हैरान करेगी। तूफान बहुत आयेंगे। जैसे वैद्य लोग कहते हैं कि बीमारी बाहर निकलेगी, डरना नहीं। बाबा समझाते हैं माया चलते-चलते ऐसी अंगूरी लगायेगी जो बाबा को भुला देगी। हराने की बहुत कोशिश करेगी। युद्ध है ही 5 विकारों रूपी रावण से। जितना बाबा को याद करेंगे तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। माया जीते जगत जीत भी बनेंगे। बाकी स्थूल लड़ाई की कोई बात नहीं। योगबल से ही विश्व की राजाई मिल सकती है। इस समय योगबल भी है, बाहुबल भी है। यह क्रिश्चियन दोनों मिल जायें तो विश्व के मालिक बन सकते हैं। इतनी ताकत इन्हों में है, परन्तु लाँ नहीं है। एक कहानी भी है दो बिल्लों की। कृष्ण को भी देखो कैसे हाथ में गोला दिखाया है। तो तुम्हारी याद कायम रहनी चाहिए। कोई भी कारण से पढ़ाई नहीं छोड़नी चाहिए। विघ्न तो जरूर पड़ेंगे। माया ऐसी है जो माथा मूड लेती है, हार्टफेल कर देती है इसलिए बाप कहते हैं और सब बातों को छोड़ मामेकम् याद करो। बीज को याद करने से झाड भी याद आ जायेगा। गृहस्थ व्यवहार में रहते यह कोर्स उठाओ। भगत लोग सवेरे उठकर भक्ति करते हैं। काशी में कोठियां बनी हुई हैं। हर एक कोठी में बैठ विश्वनाथ गंगा कहते हैं, जानते कुछ नहीं। ईश्वर सर्वव्यापी कह देते हैं। अपने को तत्व योगी, ब्रह्म योगी कहलाते हैं। यह बाबा सब बातों का अनुभवी है। इनके रथ में बैठ कहते हैं इन सबको छोड़ो, बाकी तो सब खिलौने बना दिये हैं। विष्णु का, शंकर का, कृष्ण का खिलौना बनाए बैठ पूजा करते हैं। जानते किसको नहीं, पूजा में बहुत खर्चा करते हैं। पत्थर की मूर्ति बनाए उसको श्रृंगारते हैं। साहूकार तो जेवर भी पहनाते हैं। यह तो तुम जानते हो भक्ति में जो कुछ भावना से करते हैं, उसका फल कुछ न कुछ हम दे देते हैं। दूसरे जन्म में अच्छा भगत बन जाते हैं। कोई धन दान करते हैं तो धनवान के घर में, बहुत दान करते हैं तो राजाई घर में जन्म मिलता है। फिर भी इस दुनिया में सदा के लिए सुख तो है नहीं इसलिए सन्यासी इस सुख को मानते नहीं। काग विष्ठा के समान समझते हैं। तो वह राजयोग कैसे सिखलायेंगे। सारे विश्व का मालिक तो बेहद के बाप सिवाए कोई बना न सके। अब बाप तुम बच्चों को सम्मुख समझा रहे हैं, मैं फिर से आया हूँ तुमको राजयोग सिखलाने। कृष्ण के 84 जन्मों के अन्त में मैंने प्रवेश किया है, इनका नाम ब्रह्मा रखा है। मुझे ब्रह्मा जरूर चाहिए तो प्रजापिता ब्रह्मा भी चाहिए। जिसमें प्रवेश करके आऊं, नहीं तो कैसे आऊं? यह मेरा रथ मुकरर है। कल्प-कल्प इसमें ही आता हूँ। लिखा भी हुआ है ब्रह्मा द्वारा स्थापना। किसकी? विष्णुपुरी की। अभी तुम भारत को विष्णुपुरी बना रहे हो। दूसरे कोई इस बात को समझते नहीं कि परमपिता परमात्मा का पार्ट है, कृष्ण जयन्ती मनाते हैं, नर्क को स्वर्ग बनाने वाला बाप है ना। जो ब्राह्मण बन पूरा पुरुषार्थ करेंगे वो ब्राह्मण से देवता बनेंगे, गायन है कि परमपिता परमात्मा 3 धर्म, ब्राह्मण, सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी धर्म स्थापन करते हैं। वहाँ दो युगों में एक ही धर्म है और कोई धर्म है नहीं। बाकी दो युगों में देखो कितने धर्म हैं।

बच्चों को पढ़ाई पर पूरा ध्यान देना चाहिए। नहीं तो बहुत रोना पड़ेगा। सबके लिए ट्रिब्युनल बैठेगी। बतायेंगे कि तुमने यह-यह पाप किया इसलिए हम तुमको बहुत समझाता हूँ कि पाप नहीं करना, पुण्य आत्मा बनना। पाप करेंगे तो सौगुणा सज़ा के निमित्त बनेंगे। मेरे बनकर विकार में गये, बाप के श्रीमत की अवज्ञा की तो तुम्हारे पर बहुत सजा आयेगी। वह सजायें भी बहुत कड़ी होती हैं। बाप कहते हैं मैं परमधाम का रहने वाला हूँ। यहाँ पुरानी दुनिया में आकर तुमको वर्सा देता हूँ। फिर भी तुम नाम बदनाम करते हो, तब तो कहा हुआ है सतगुरू का निदंक सूर्यवंशी घराने में ठौर न पाये। गिर पड़ते हैं, बहुत कसम उठाते हैं। हम आपके सपूत बच्चे होकर रहेंगे। ब्लड से भी लिखते हैं। परमपिता परमात्मा से प्रतिज्ञा भी करते हैं कि बच्चा बन आपसे पूरा वर्सा लूँगा। परन्तु माया ऐसी है – वह आज हैं नहीं। प्रतिज्ञा कर फिर अपवित्र बना तो बहुत धोखा खायेगा। ईश्वर की अवज्ञा हुई ना। बाबा इशारे में सब समझाते रहते हैं। माया बहुत हैरान करेगी। नहीं तो युद्ध काहे की। विश्व का मालिक बनना, कम बात नहीं है। ग़फलत नहीं करनी है। पढ़ाई बिल्कुल नहीं छोड़नी है। बाबा से राय लो फिर जवाबदार बाबा हो जायेगा। पढ़ाई में मनुष्य कितनी मेहनत करते हैं। इम्तहान के टाइम बहुत मेहनत करते हैं। तुम भी आगे चल जब समय नजदीक देखेंगे तो रात दिन पढ़ाई में लग जायेंगे। अब वह समय जल्दी आने वाला है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) आपस में वाह्यात (व्यर्थ) बातें नहीं करनी है। कभी भी मतभेद में नहीं आना है, पढ़ाई किसी भी हालत में नहीं छोड़नी है।

2) बाबा की अवज्ञा कभी नहीं करनी है। प्रतिज्ञा कर उस पर कायम रहना है। सर्विस का सदा शौक रखना है।

वरदान:- बेहद के अधिकार की स्मृति द्वारा अपार खुशी में रहने वाले सदा निश्चिंत भव 
आजकल दुनिया में किसी को रिवाजी अधिकार भी मिलता है तो कितनी मेहनत करके अधिकार लेते हैं आपको तो बिना मेहनत के अधिकार मिल गया। बच्चा बनना अर्थात् अधिकार लेना। मेरा माना और अधिकार मिला। तो वाह मैं श्रेष्ठ अधिकारी आत्मा! इसी बेहद के अधिकार की खुशी में रहो। यह अविनाशी अधिकार निश्चित ही है और जहाँ निश्चित होता है वहाँ निश्चिन्त रहते हैं।
स्लोगन:- सर्व की दुआओं से तीव्रगति की उड़ान भरो तो समस्याओं के पहाड़ को सहज ही क्रास कर लेंगे।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize