today murli 21 august

TODAY MURLI 21 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 21 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 20 August 2018 :- Click Here

21/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet, beloved children, the Father has come to create the new world of heaven for you. Therefore, do not attach your hearts to this hell, but continue to forget it.
Question: In which form does the merciful Father have mercy for you children?
Answer: The Father says: In the form of the Father, I become as sweet as saccharine and give you children much more love than any human being could ever give you. I make you into the masters of the world of pure love. In the form of the Teacher, I give you such an education that you become queens of Paradise. This study is for becoming deities from human beings. These jewels of knowledge make you into the masters of the world.
Song: Who is the Mother and who is the Father?

Om shanti. The meaning of “Om shanti” has been explained to you children. The meaning of “Om” is: I am a soul. I, the soul, am a child of the incorporeal Supreme Soul. The father of the body is the one who gave it a birth. He is called the father who gives birth to this body, whereas Shiv Baba is the Father of souls. He is always the Father. Millions and billions of souls reside in the incorporeal world where they are constantly viceless. Impure souls cannot reside in the supreme abode. First of all, you have to make the aspect of being souls firm and that your Father is the Supreme Soul. In the relationship of souls, all are brothers. The father of this body is called the physical father. The Father of the soul is called the Father from beyond. He is the one Father of everyone. People call out: “O God the Father! O Purifier! Merciful One!” It is souls that call out to the Father. Souls along with their bodies are unhappy. Then, in the golden age, souls experience happiness in their bodies, which is why that is called the land of happiness, heaven. This is hell. It is sung that everyone remembers God at the time of sorrow…. They remember the Purifier. They understand that the Father, the Purifier, resides up above in the supreme abode. The Ganges cannot be the Purifier. The Ganges can be seen with your physical eyes. It is not possible to see the incorporeal Father or a soul. The Supreme Father, the Supreme Soul, who is the Bestower of Life and also the Bestower of Divine Insight, is called God , the Father, the Creator. Achcha, so where did the Mother come from? How can the Father create the world without the Mother? The M other is definitely needed. God, the Father, the Creator of the human world, is the Father of all. Since there is the Father, there must also be the Mother. The Father comes and explains: I am the incorporeal One. It is only when I come and get married that I can have children. However, I am not going to get married. Children have to be created without My getting married; therefore, I adopt you children. For instance, when a man wants an heir to leave his property to, but doesn’t have a wife, he would adopt someone; he himself becomes the mother and the father. Therefore, the unlimited Father says: I too am your Father. How I create children is a matter to be understood. The Father Himself comes and explains: I need a body. Therefore, I take the support of this one. You say that you are the children of God. Everyone is a child of God, but it is at this time that God appears personally in front of you children. He comes and adopts you. You understand that you have become Baba’s children. The Father is the Creator of heaven. He teaches you Raja Yoga in order to make you into the masters of heaven. He Himself sits here and explains: I am incorporeal God, the Father. How can the incorporeal One be the Creator of the human world? He adopts you children and He sits and explains to you: I am Shiva, the incorporeal One. You souls are also incorporeal. You go into the jail of a womb, whereas I do not go into the jail of a womb. For half the cycle, a womb is like a palace for you, and for the other half, it is like a jail, because for half a cycle Maya, Ravan makes you commit sin. Maya doesn’t exist in the golden age to make you impure and unhappy. I give you your inheritance of heaven for 21 births. The new world is called heaven. When a house grows old, you leave it and go to a new one. This world is also old. That is the new world, the golden age, the pure world. Therefore, the Father says: Beloved children, I am establishing heaven for you, and so why do you attach your hearts to this hell? Now, forget this hell. Remember Me, your Father, and heaven; continue to forget the old world. This is unlimited renunciation. Remove all your attachment from everything you see, including your old bodies. Just think that you have given everything to God. Your bodies, wealth, property and children are all to be destroyed. This is the same great Mahabharat War, through which the gates to liberation and liberation-in-life will be opened. It is called Haridwar (Gateway to God). Krishna is called Hari (Remover of Sorrow) and his gateway leads to Paradise. The Father comes and opens the gates to Paradise. No one impure can go there. This is why He purifies the impure and He liberates everyone from sorrow. No one else can liberate you. Only the Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. He says: I teach you Raja Yoga. I have come to give you constant happiness. I have brought Paradise on the palm of My hand for you. You become deities from human beings by studying Raja Yoga. The intellect also says that this is a matter to be understood. Consider this world to be old and that it is to become new again. Only the one Father is the Almighty Authority who, with His power, makes you into the masters of heaven. People want to have one kingdom, one Almighty Authority kingdom. That was there in the golden and silver ages, when there was the unshakeable, undivided, peaceful and happy kingdom of deities. There were no obstacles then. It was called the undivided kingdom. There was no other religion through which you could become unhappy. Just look, at present, although all the Christians belong to the one religion, there is a lot of conflict amongst them because this is the kingdom of Maya. Maya doesn’t exist in the golden age. Now they call out: O God , the Father , have mercy on us! Baba says: I have mercy on everyone. I liberate all of you children from sin, that is, I liberate you from this impure world. I take all of you souls back to the incorporeal world, but your bodies will be burnt here. Natural calamities have been remembered. You can see signs of them. There will definitely be famine. Now, the Father says: Remove your attachment from this dirty world. The unlimited Father is the Saccharine. He says: No one can love you as much as I love you. I am now making you into the masters of the pure world. You are now studying for the kingdom. Your aim and objective is in your intellects. No one new can understand anything until someone sits and explains to him. He has to sit over a period of one week and understand that he has to become a deity from a human being. This is why the Father is called the Magician. I make human beings into deities with the jewels of knowledge. He is also called the Jeweller, the Businessman and the Traveller. He comes and makes you into the emperors and empresses of heaven. He is such a beautiful Traveller. You were of no use. I now teach you and make you into the queens of Paradise. You understand that you are studying in order to become part of the sun and moon dynasties. The Supreme Soul is teaching you. What are you studying here? You would say: We are studying to become deities from human beings, because this world of human beings with devilish traits is to be destroyed. People even sing that they are virtueless, they have no virtue. Therefore, the merciful Father sits here and teaches you. People of all religions will accept the one incorporeal Father as God. Although human beings say: “God , the Father”, they don’t know who He is or where He comes. You now know that He comes into this old impure world, because He establishes the pure world. He makes this old world new. There is nothing but happiness in the new world. Baba says: I have to come every cycle in order to establish the new world. The intellect understands that, after the night, there is the day. There is the iron age in the cycle. After the iron age, the golden age will definitely come. You children are called spinners of the discus of self-realisation. The soul understands how he takes 84 births. No human being can grant salvation to another human being. It is I who come and explain to you. I enable you to become pure and gain victory over the world with the power of yoga. The Father is the Almighty Authority. You receive the unlimited inheritance from the Father. The earth, sky and sea etc. will all belong to you. Just look, here, they put boundaries in the sky and the water. They say that you mustn’t enter their waters. There, you rule over the whole world. Just imagine what heaven will be like! You cannot forget heaven. When someone dies, they say that he has gone to heaven but where is heaven? This must surely be hell. This is hell itself. All human beings are impure and unhappy. This is the kingdom of Ravan. They continue to burn his effigy but he doesn’t die. They make an effigy of Ravan 100 feet tall; they continue to increase its size. Day by day, they continue to make him taller, but they don’t understand anything. These things have to be understood. Just see, while the murli is being conducted, it is also being recorded on tape for the gopikas because they cannot live without the murli. Therefore, this arrangement has been made. Without the murli, they become desperate, because this murli is such that it makes your life as valuable as a diamond. Baba teaches you here and then this murli goes up to London and America etc. Children become very happy listening to it. It has been sung that the gopikas weren’t able to live without the murli. Only God, the Father , speaks this knowledge toyou. One main aspect has to be explained: That One is our unlimited Father from whom we receive our inheritance of heaven. The soul says: My Father is the Supreme Soul and He is teaching us souls. No one else can say, “I, the Supreme Soul, am teaching you souls”, or “I, the Supreme Soul, am knowledge-full”. Everything has been explained to you children very clearly, but not everyone’s intellect is the same. Some have satopradhan intellects, some sato intellects, some rajo intellects and some tamo intellects, and so what can the Teacher do? The Teacher would say that you didn’t pay full attention to your studies. God, the Father, is knowledge-full. Just as a teacher is knowledgefull and teaches students and makes them similar to himself, in the same way, it is only God, the Father , who has the knowledge of this world cycle. No one else has it. Only the Father teaches you this knowledge and makes you knowledge-full. The Father, the Highest on High is knowledgefull. His name is the highest and His abode is the highest. Brahma, Vishnu and Shankar are residents of the subtle region. Then, human beings are in the third grade. There are still grades amongst human beings. The grades of human beings in the golden age remain high. You go to the golden age ; the iron age will be destroyed. When it is the golden age, the silver age doesn’t exist, and when it is the copper age, the iron age doesn’t exist. All of these things have to be kept in your intellects, and this is why these pictures have been made. There are very few human beings in the golden age whereas there are countless human beings in the iron age. Children ask: Baba, when will destruction take place? Destruction will take place when this play comes to an end and everyone will then return home. Baba is the Guide to liberation and liberation-in-life. He resides in the supreme abode. You also reside there, but you come here to play your parts. The Father says: Children, you have to gain victory over Maya. There is no question of violence in this. There is no violence in the golden age. Only totally viceless deities exist there. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make your intellect have unlimited renunciation. Remove your attachment from all the old things you can see with your physical eyes, including your body, and remember the Father and heaven.
  2. Imbibe this study very well and make your intellect satopradhan. The murli is your study and so you have to pay a lot of attention to the murli.
Blessing: May you have the fortune of happiness by experiencing bliss and being constantly entertained in Brahmin life.
Children who have the fortune of happiness constantly swing in the swing of happiness and experience bliss and entertainment in Brahmin life. This swing of happiness will remain stable all the time when the two strings of remembrance and service are tight. If even one string is loose, the swing would shake and the person swinging on it would fall. So, let both the strings be tight and strong and you will continue to be entertained. Have the company of the Almighty Authority and the swing of happiness and what more fortune of happiness could you want?
Slogan: Those who have feelings of mercy and a compassionate vision for all are great souls.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 21 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 August 2018

To Read Murli 20 August 2018 :- Click Here
21-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे लाडले बच्चे – बाप आये हैं तुम्हारे लिए स्वर्ग की नई दुनिया स्थापन करने, इसलिए इस नर्क से दिल न लगाओ, इनको भूलते जाओ”
प्रश्नः- रहमदिल बाप तुम बच्चों पर किस रूप से कौन-सा रहम करते हैं?
उत्तर:- बाबा कहते हैं – मैं बाप रूप से मीठी सैक्रीन बन तुम बच्चों को इतना प्यार देता हूँ जो दुनिया में दूसरा कोई भी दे न सके। मैं तुम्हें पवित्र प्यार की दुनिया का मालिक बना देता हूँ। टीचर बन तुम्हें ऐसी पढ़ाई पढ़ाता हूँ जो तुम बहिश्त की बीबी बन जाते हो। यह पढ़ाई है मनुष्य से देवता बनने की। यह ज्ञान रत्न तुम्हें विश्व का मालिक बना देते हैं।
गीत:- कौन है माता, कौन है पिता. …..

ओम् शान्ति। बच्चों को ओम् शान्ति का अर्थ समझाया जाता है। ओम् का अर्थ है – आई एम आत्मा, मैं आत्मा निराकार परमात्मा की सन्तान हूँ। शरीर का फादर वह है, जिसने जन्म दिया है। उनको कहा जाता है शरीर को जन्म देने वाला फादर और शिवबाबा है आत्माओं का बाप। वह तो है ही है। ढेर के ढेर करोड़ों आत्मायें अपनी निराकारी दुनिया में रहती हैं। वहाँ सदैव निर्विकारी ही हैं, विकारी तो परमधाम में रह न सकें। पहले तो यह बात पक्की करनी पड़ेगी – मैं आत्मा, मेरा बाप परमात्मा। आत्मा के सम्बन्धी सब भाई-भाई हैं। इस शरीर के बाप को कहा जाता है लौकिक बाप। आत्मा के बाप को कहा जाता है पारलौकिक बाप। जो सभी का एक ही है। पुकारते भी हैं ना – “ओ गॉड फादर, ओ पतित पावन, रहमदिल।” यह आत्मा ने पुकारा बाप को। आत्मा इस शरीर के साथ दु:खी है। फिर सतयुग में आत्मा को शरीर के साथ सुख है, इसलिए उसका नाम ही है सुखधाम, स्वर्ग। यह है नर्क। गाया भी जाता है ना दु:ख में सिमरण सब करें. . . . याद करते हैं पतित-पावन को। समझते हैं – पतित-पावन बाप ऊपर परमधाम में रहता है। गंगा को पतित-पावनी नहीं कहेंगे। गंगा को तो इन आंखों से देखा जाता है। निराकार बाप को अथवा आत्मा को नहीं देखा जा सकता। परमपिता परमात्मा प्राण दाता, जो दिव्य चक्षु विधाता है, उनको कहा जाता है ओ गॉड फादर, क्रियेटर। अच्छा, फिर मदर कहाँ से आई? मदर बिगर बाप सृष्टि की रचना कैसे रचें? मदर तो जरूर चाहिए ना। गॉड फादर मनुष्य सृष्टि का रचयिता, वह है सबका बाप। फादर है तो मदर भी जरूर होगी। बाप आकर समझाते हैं मैं हूँ ही निराकार। मैं जब आऊं, शादी करुँ तब बच्चे होंगे। परन्तु शादी तो करनी नहीं है। बच्चे पैदा करने हैं – शादी बिगर। बच्चों को मैं एडाप्ट करता हूँ। समझो कोई को स्त्री नहीं है, चाहते हैं कि अपनी मिलकियत किसको देकर जाऊं, फिर धर्म के बच्चे बनाते हैं, एडाप्ट करते हैं तो माँ-बाप दोनों ठहरे ना। तो बेहद का बाप कहते हैं कि मैं भी फादर हूँ। मैं कैसे रचूँ? समझ की बात है ना। बाप खुद आकर समझाते हैं मुझे शरीर तो चाहिए ना। तो इनका आधार लेता हूँ। तुम कहते हो हम ईश्वर की सन्तान हैं। ईश्वर की सन्तान तो सब हैं, परन्तु इस समय बाप सम्मुख आया हुआ है। तुम बच्चों को गोद में लेते हैं। तुम समझते हो हम बाबा के बच्चे बने हैं। बाप है स्वर्ग का रचयिता। स्वर्ग का मालिक बनाने के लिए राजयोग सिखलाते हैं। खुद बैठ बतलाते हैं – मैं निराकार गॉड फादर हूँ। निराकार को मनुष्य सृष्टि का रचयिता कैसे कह सकते? तो बच्चों को एडाप्ट कर उन्हों को ही बैठ समझाते हैं कि मैं शिव निराकार हूँ। तुम भी निराकार आत्मायें हो। तुम गर्भ जेल में आते हो, मैं गर्भ जेल में नहीं आता हूँ। तुम्हारे लिए है आधा कल्प गर्भ महल, आधा कल्प है गर्भ जेल क्योंकि आधाकल्प माया रावण पाप कराती है। सतयुग में माया होती नहीं जो पतित दु:खी बनाये। मैं 21 जन्मों के लिए तुमको स्वर्ग का वर्सा देता हूँ। नई दुनिया स्वर्ग को कहा जाता है। मकान भी पुराना होता है तो पुराने को छोड़ नये में जाते हैं। यह भी पुरानी दुनिया है ना। वह है नई दुनिया गोल्डन एज, पावन दुनिया। तो बाप कहते हैं – लाडले बच्चे, मैं तुम्हारे लिए स्वर्ग स्थापन कर रहा हूँ, तुम फिर नर्क से दिल क्यों लगाते हो? अब नर्क को भूल जाओ। मुझ बाप और स्वर्ग को याद करो, पुरानी दुनिया को भूलते जाओ। यह है बेहद का सन्यास। पुरानी देह सहित जो कुछ भी देखते हो, उनका भी ममत्व छोड़ो। समझो, हम सब कुछ ईश्वर को देते हैं। यह शरीर, धन, दौलत, बच्चे आदि सब ख़त्म हो जाने वाले हैं। यह वही महाभारी महाभारत लड़ाई है, जिसके द्वारा मुक्ति-जीवनमुक्ति के गेट्स खुलने हैं। हरी का द्वार कहते हैं ना। हरी कहा जाता है कृष्ण को, उनका द्वार है बैकुण्ठ। बैकुण्ठ के गेट बाप आकर खोलते हैं। वहाँ कोई पतित जा नहीं सकता इसलिए पतित से पावन बनाते हैं, दु:ख से लिबरेट करते हैं। और कोई लिबरेट कर न सके। दु:ख हर्ता, सुख कर्ता बाप ही है। बाप कहते हैं – मैं तुमको राजयोग सिखाता हूँ। सदा के लिए सुख देने आया हूँ। मैं तुम्हारे लिए बैकुण्ठ हथेली पर लाया हूँ। तुम राजयोग सीखकर मनुष्य से देवता बनते हो। बुद्धि भी कहती है कि बरोबर समझ की बातें हैं। समझो, यह पुरानी दुनिया है फिर यह नई बनेगी। सर्वशक्तिमान एक ही बाप है जो अपनी शक्ति से स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। चाहते भी हैं एक राज्य हो, ऑलमाइटी अथॉरिटी राज्य हो। सो तो सतयुग-त्रेता में अटल, अखण्ड, सुख-शान्तिमय देवी-देवताओं की राजधानी थी, कोई विघ्न नहीं था। उनको अद्वैत राज्य कहा जाता है। दूसरा धर्म ही नहीं, जो दु:खी बनें। अभी देखो भल क्रिश्चियन एक ही धर्म के हैं तो भी उन्हों की आपस में बहुत लड़ाई होती है क्योंकि माया का राज्य है। सतयुग में माया होती नहीं। अभी कहते हैं – ओ गॉड फादर रहम करो। बाप कहते हैं – रहम तो सब पर करुँगा। सब बच्चों को पापों से मुक्त करता हूँ अर्थात् पतित दुनिया से लिबरेट करता हूँ। तुम सब आत्माओं को ले जाता हूँ निराकारी दुनिया में। बाकी शरीर तो भस्म हो जायेंगे। नैचुरल कैलेमिटीज गाई हुई है। आसार भी देख रहे हो। फैमन पड़ना जरूर है।

अब बाप कहते हैं इस छी-छी दुनिया से ममत्व तोड़ो। बेहद का बाप है पीन। कहते हैं मैं जो तुमको प्यार करता हूँ, सो कोई कर न सके। अभी तुमको पवित्र दुनिया का मालिक बनाता हूँ। राजाई के लिए तुम पढ़ रहे हो। एम ऑब्जेक्ट बुद्धि में है। नया तो कोई समझ न सके, जब तक कि कोई बैठ उनको समझावे। एक हफ्ता बैठ समझें कि मनुष्य से देवता बनना है इसलिए बाप को जादूगर कहा जाता है। ज्ञान रत्नों से मनुष्य को देवता बनाता हूँ। उनको रत्नागर, सौदागर, मुसाफिर भी कहते हैं। तुमको आकर स्वर्ग की महारानी-महाराजा बनाते हैं। मुसाफिर कितना हसीन है! तुम जो कोई काम के नहीं थे, अब तुमको पढ़ाकर बहिश्त की बीबी बनाता हूँ। तुम जानते हो हम सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी बनने के लिए पढ़ रहे हैं। परमात्मा पढ़ाते हैं। तुम यहाँ क्या पढ़ते हो? तुम कहेंगे मनुष्य से देवता बनने के लिए पढ़ रहे हैं क्योंकि यह आसुरी गुणों वाली मनुष्य सृष्टि विनाश होने वाली है। कहते भी हैं मुझ निर्गुण हारे में कोई गुण नाही। तो वही रहमदिल बाप बैठकर तुमको पढ़ाते हैं। सभी धर्मों वाले एक निराकार बाप को ही परमात्मा मानेंगे। मनुष्य भल गॉड फादर कहते हैं परन्तु जानते नहीं कि वह कौन है, कहाँ आते हैं? अभी तुम जानते हो वह पुरानी पतित दुनिया में आते हैं क्योंकि पावन दुनिया स्थापन करते हैं। पुरानी दुनिया को नई दुनिया बनाते हैं। नई दुनिया में तो सुख ही सुख है। बाबा कहते हैं नई दुनिया स्थापन करने कल्प-कल्प मुझे आना ही है। यह तो बुद्धि समझती है कि रात के बाद है दिन। फिर चक्र में कलियुग आता है। कलियुग के बाद फिर सतयुग जरूर होगा ना। तुम बच्चों को कहा ही जाता है स्वदर्शन चक्रधारी। आत्मा जानती है मैं 84 जन्म कैसे लेती हूँ। कोई मनुष्य, मनुष्य को सद्गति दे न सके। मैं ही आकर समझाता हूँ। हम तुमको पावन बनाते हैं, योगबल से तुम विश्व पर जीत पाते हो। बाप है सर्वशक्तिमान। बाप से तुमको बेहद का वर्सा मिलता है। आकाश, पृथ्वी, सागर आदि सब तुम्हारा हो जायेगा। यहाँ तो देखो आकाश पर भी हद, पानी पर भी हद लगी है ना। कहते हैं हमारे पानी के अन्दर तुम नहीं आओ। तुम तो वहाँ सारे विश्व पर राज्य करते हो ना। स्वर्ग तो फिर क्या! स्वर्ग को भूल नहीं सकते। मनुष्य जब मरते है तो कहते हैं स्वर्गवासी हुआ। परन्तु स्वर्ग है कहाँ? ज़रूर नर्क है ना। यह है ही हेल। सब मनुष्य दु:खी हैं, सब पतित हैं। यह राज्य ही रावण का है, जिसको जलाते रहते हैं परन्तु जलता ही नहीं है। रावण को एक सौ फुट लम्बा बनाते हैं और बढ़ाते रहते हैं। दिन-प्रतिदिन लम्बा करते रहते हैं परन्तु समझते नहीं हैं। यह समझ की बातें हैं।

यहाँ देखो मुरली चलती है तो फिर टेप में भरी जाती है क्योंकि गोपिकायें मुरली बिगर रह न सकें। तो यह प्रबन्ध है। मुरली बिगर तो तड़फते हैं क्योंकि यह मुरली है जीवन हीरे जैसा बनाने वाली। यहाँ बाबा पढ़ाते हैं, जो मुरली फिर लण्डन-अमेरिका तक जाती है। बच्चे सुनकर बहुत खुश होते हैं। गाया हुआ है गोपिकायें मुरली बिगर रह नहीं सकती थी। यह नॉलेज गॉड फादर ही सुनाते हैं। मुख्य एक बात समझानी है कि यह हमारा बेहद का बाप है, इनसे स्वर्ग का वर्सा मिलता है। आत्मा कहती है मेरा बाप परमात्मा है, वह आत्माओं को पढ़ा रहे हैं। ऐसा और कोई कह न सके कि मैं परमात्मा तुम आत्माओं को पढ़ाता हूँ। ऐसे भी नहीं कहेंगे कि मैं परम आत्मा नॉलेजफुल हूँ। तुम बच्चों को बहुत अच्छी रीति समझाया जाता है, परन्तु सबकी बुद्धि एकरस तो नहीं होती है। कोई की सतोप्रधान बुद्धि है, कोई की सतो, रजो, तमो…. इसमें टीचर क्या करेंगे? टीचर कहेंगे पढ़ाई पर पूरा अटेन्शन नहीं देते थे। गॉड फादर है नॉलेजफुल। जैसे टीचर नॉलेजफुल है, स्टूडेन्ट को पढ़ाते हैं, आप समान बनाते हैं, वैसे इस सृष्टि चक्र की नॉलेज गॉड फादर के पास ही है, और कोई नहीं जानते। बाप ही नॉलेज सिखलाए नॉलेजफुल बनाते हैं। बाप है नॉलेजफुल, सबसे ऊंच है। ऊंचा जिसका नाम है, ऊंचा ठांव है। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर है सूक्ष्मवतनवासी। थर्ड ग्रेट में हैं मनुष्य। मनुष्यों में भी ग्रेड है। सतयुग में मनुष्यों की ग्रेड बड़ी ऊंची रहती है। तुम गोल्डन एज में जाते हो। आइरन एज खत्म हो जायेगा। गोल्डन एज है तो सिल्वर एज नहीं, कॉपर एज है तो आइरन एज नहीं। यह सब बातें बुद्धि में रखनी है, इसलिए चित्र बनवाये हैं। सतयुग में बहुत थोड़े मनुष्य होते हैं। कलियुग में तो ढेर के ढेर मनुष्य हैं। पूछते हैं – बाबा, विनाश कब होगा? विनाश तब होगा जब नाटक पूरा होगा, सब चले जायेंगे। बाबा है मुक्ति जीवनमुक्ति का गाइड। वह रहते हैं परमधाम में। तुम भी वहाँ के रहने वाले हो, यहाँ आये हो पार्ट बजाने। बाप कहते हैं – बच्चे, तुम्हें माया पर जीत पानी है। इसमें हिंसा की कोई बात नहीं है। सतयुग में हिंसा होती नहीं। वहाँ हैं ही सम्पूर्ण निर्विकारी देवी-देवतायें। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धि से बेहद का सन्यास करना है। पुरानी देह सहित जो कुछ इन आंखों से दिखाई देता है उनसे ममत्व निकाल बाप और स्वर्ग को याद करना है।

2) पढ़ाई को अच्छी रीति धारण कर बुद्धि को सतोप्रधान बनाना है। मुरली ही पढ़ाई है। मुरली पर बहुत-बहुत ध्यान देना है।

वरदान:- ब्राह्मण जीवन में सदा आनंद वा मनोरंजन का अनुभव करने वाले खुशनसीब भव
खुशनसीब बच्चे सदा खुशी के झूले में झूलते ब्राह्मण जीवन में आनंद वा मनोरंजन का अनुभव करते हैं। यह खुशी का झूला सदा एकरस तब रहेगा जब याद और सेवा की दोनों रस्सियां टाइट हों। एक भी रस्सी ढीली होगी तो झूला हिलेगा और झूलने वाला गिरेगा इसलिए दोनों रस्सियां मजबूत हो तो मनोरंजन का अनुभव करते रहेंगे। सर्वशक्तिमान का साथ हो और खुशियों का झूला हो तो इस जैसी खुशनसीबी और क्या होगी।
स्लोगन:- सबके प्रति दया भाव और कृपा दृष्टि रखने वाले ही महान आत्मा हैं।

TODAY MURLI 21 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 21 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 20 August 2017 :- Click Here

21/08/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only when your intellects have knowledge will your remembrance of the Father remain permanent. Stay on the spiritual pilgrimage and enable others to stay on it with intellects filled with knowledge.
Question: God is the Bestower, so why is there the system of donating in the name of God?
Answer: Because they make God their Heir. They believe that God will give them the return of that in their next birth. To give in the name of God means to make Him your Child. On the path of devotion too, you make Him your Child, that is, you surrender everything of yours to Him. Therefore, in returnfor your surrendering yourself to Him this once, He surrenders Himself to you for 21 births. You bring shells to the Father and receive diamonds from Him in return. The example of Sudama is based on this.
Song: O traveller of the night, do not become weary! The destination of dawn is not far off.

Om shanti. You children must have understood that one line of this song. When the Father says ‘children’, you children should understand that the Father is sitting here and explaining to us souls. You have to become soul conscious. Everyone knows that there are the two things, the soul and the body, but they don’t understand that there would also be the Father of us souls. We souls are residents of the land beyond sound. These things don’t enter their intellects. The Father says: This knowledge completely vanishes. You know that this play is now about to end; you now have to return home. Impure souls cannot go back home. Not a single soul can go back home. This is the drama. When all the souls have come here, it is then that souls begin to return. You now know that the Father is teaching us the spiritual pilgrimage. He says: O souls, now stay on the pilgrimage of remembrance of the Father. You have been going on physical pilgrimages for birth after birth. It is now your spiritual pilgrimage. Once you go, you won’t come back to the land of death. When people go on pilgrimages, they come back. Those are physical pilgrimages of body consciousness. This pilgrimage is spiritual. No one, apart from the unlimited Father, can teach you this pilgrimage. You children have to follow shrimat. Everything depends on the pilgrimage of remembrance. However much children remember Me, it is when they have some knowledge that they will be able to stay in remembrance all the time. You also have the knowledge of the cycle of 84 births. Our 84 births are now coming to an end. This is the pilgrimage of the cycle of 84 births. It is called the pilgrimage of coming and going. Everyone continues to come and go. You take birth and then leave your bodies. This is called coming and going. You are now becoming free from the cycle of coming and going in the land of sorrow. This is the land of sorrow. Your births and deaths are now to take place in the land of immortality. You have come to the Lord of Immortality to make effort for this. All of you are Parvatis who are listening to the story of immortality from the Lord of Immortality who is always immortal. You are not always immortal; you enter the cycle of birth and death. At present, your cycle is in the period of hell. You are being liberated from this and your coming and going will then be in heaven. There, you won’t have any sorrow. This is your final birth. You will continue to see how destruction takes place. People beat their heads for war not to take place and so they say that they should dispose of all the bombs at sea. All of them continue to say this, but they don’t know that the time has now come to an end. You are now at the confluence age, whereas people of the world believe that the iron age is just beginning and that the confluence age will come after 40,000 years. That has emerged from the scriptures. The Father says: Whatever Vedas and scriptures you have been studying and whatever donations you have given and whatever charity you have performed for birth after birth, all of that is the path of devotion. You know that you first become Brahmins and then deities. The Brahmin clan is the most elevated. This is something practical. No one can go into the deity clan without first coming into the Brahmin clan. You have the faith that you are children of Brahma and that you are claiming your divine kingdom from Shiv Baba. You are now making effort. You also have to race. You have to study very well and then also teach others to make them worthy so that they too see the happiness of heaven. Everyone remembers the land of Krishna. They don’t rock Shri Rama in a cradle in his childhood. They love Shri Krishna a great deal, but that is with blind faith. They don’t understand anything. The Father has explained that, at this time, the whole world is tamopradhan and ugly. Bharat was very beautiful; it was the golden age. It is now in the iron age. You too are in the iron age and you now have to go to the golden age. The Father is doing the work of a goldsmith. The alloys of iron and copper mixed in you souls is now being removed. You souls and your bodies have both now become false. You now have to become real gold once again. When a lot of alloy is mixed into real gold, the ornaments made from it contain less gold. There is now very little gold remaining in you souls. The jewellery is also old; it would be said to be two carat gold. The Father sits here and gives you shrimat. Bharat truly was heaven. There were no other kingdoms of any other religion. You now have to make effort to go to that heaven again. However, Maya doesn’t allow you to do this. Maya opposes you a great deal. She defeats you a great deal on the battlefield. While moving along, some experience storms; they indulge in vice and make their faces completely ugly. The Father says: I am now making your faces beautiful. Don’t indulge in vice and make your faces ugly again. Make your stage pure by staying in yoga. As you become pure, all the alloy will be removed. This is why you have to stay in the furnace of yoga. Goldsmiths will understand these things very well. Alloy is removed from gold by putting it on a fire. Then you are left with a brick of real gold. The Father says: The more you continue to remember Me, the purer you will become. The Father gives you shrimat. What else would He do? Some say: Baba, have mercy! What mercy would the Father have? The Father says: Stay in remembrance and the alloy will be removed. So, are you going to stay in remembrance or ask for mercy and blessings? Here, each of you has to make your own individual effort. The Father says: Spiritual children, don’t become tired on this pilgrimage. Don’t forget the Father again and again. All the time you are in remembrance, it is as though you are in a furnace. If you are not in remembrance, you are not in a furnace. You then commit more sins; they continue to be added, through which you become ugly. You make effort to become beautiful and then you become ugly, which means that you were 50% ugly and that you then become 100% ugly. It is the vice of lust that has made you ugly. That is the pyre of lust and this is the pyre of knowledge. The main thing is vice. The quarrels at home take place because of this. It is explained to you kumaris that, because you are now pure, you are good. Everyone falls at the feet of kumaris because they are pure. All of you are Brahma Kumaris. It is only you Brahma Kumaris who make Bharat into heaven. Therefore, your memorial has continued on the path of devotion. Kumaris are given a lot of respect. There are Brahma Kumars too, but the majority is mothers. The Father Himself comes and says: Salutations to the mothers. You make the Father your Heir. Why do you donate in the name of God on the path of devotion? The Father gives to the children does He not, so why do you donate to God? You donate in the name of God; you donate in the name of Krishna. What is Krishna to you that you donate to him? There has to be some meaning to it. Krishna is not poor. In spite of that, they say: In the name of God. It cannot be in the name of Krishna; he is the prince of the golden age. The Father explains: I fulfil the desires of everyone. Krishna cannot fulfil desires. Those people consider Krishna to be God and surrender everything to him. In fact, it is I who give the fruit. Everything is explained about the things of the path of devotion. You give to Shiv Baba and so He is definitely the Child. He is the Child on the path of devotion and also the Child here. On the path of devotion you receive a return for a temporary period. It is now direct and this is why you receive the inheritance for 21 births. Here, you have to surrender yourself completely. You surrender yourself to Him once and He surrenders Himself to you for 21 births. You bring shells to the Father in order to receive diamonds from Him. Internally, you understand that you are putting a handful of rice in Shiv Baba’s bhandara (treasure-store). The example of Sudama refers to this time. What is Shiv Baba to you that you give to Him? If He is the Child, then you are greater than Him. You understand that if you give one, you can receive one thousand-fold. The Bestower who bestows is only that One. Sages don’t give you anything. I give to you even on the path of devotion. That is why Baba asks you: How many children do you have? Some are able to understand this whereas others aren’t. You know that you are now surrendering yourselves to Shiv Baba. Our bodies, minds and wealth all belong to Him. He will give us the inheritance for 21 births. The hearts of the wealthy ones shrink. Baba is called the Lord of the Poor. The Father says: You have to look after your household. You mustn’t think that you can sit here. Simply continue to follow shrimat. Constantly remember Me alone, that’s all! On the path of devotion, you used to sing: Mine is One alone and none other. So many things are being explained to you children. Not everyone has understanding to the same extent. They will emerge later. Then you will also have power. As soon as they hear you, they will quickly be able to grasp it. If there is the faith that the Father is making you into the masters of heaven for 21 births, they wouldn’t miss even a second. This Baba also relates his own experience. He was a jeweller. Look what happened to him while he was just sitting! He simply saw that he was receiving the sovereignty from Baba. He saw destruction and also the kingdom and so he said: Let me let go of this slavery. He had visions, but he had no knowledge. He was simply aware that he was to receive the sovereignty. When you see that the Father has come to give you the sovereignty of heaven, you should instantly catch hold of Him. “Baba, all of this is Yours. Let it be used for Your work”. Baba handed everything over to the mothers. He also created a committee of mothers and gave them everything. Baba used to get everything done. He understood that he was receiving the sovereignty for 21 births from Baba; so you too can now claim that. Baba let go of that slavery straightaway. He has been moving along very happily since he let go of all of that. I have established the deity religion many times. Baba would have established it through the Brahma Kumars and Kumaris many times. Since it is like that, why should you delay? We will definitely claim our inheritance for 21 births from Baba.

[wp_ad_camp_5]

 

Baba doesn’t make you renounce your home and family. You may also look after them very well, but simply remember the Father. Let there be the intoxication that you belong to Baba. Some write to Baba: Baba, so-and-so’s intellect has very great faith and he is very sensible. He explains to many. However, those whose intellects have faith don’t come to Me! If he hasn’t even met Baba and he dies, how would he receive his inheritance? Here, you have to be adopted by the Father. If you have faith and then leave your body without having made any effort, if you haven’t become golden aged from iron aged, you will take birth as common subjects. If you become a child and are very firm and then leave your body, you will become an heir. It doesn’t require effort to become an heir. Some claim the sun-dynasty kingdom and some will claim the status of the kingdom for one birth at the end from doing service. That is not real happiness. The happiness of the kingdom is at the beginning, because the degrees then continue to decrease. You children have to make effort and follow your mother and father. At least become worthy of sitting on the throne of Mama and Baba. Why should you have heart failure? Make effort and follow them. Become the masters of the sun-dynasty throne. At least come to heaven. Someone who fails will go into the moon dynasty; there is a reduction of 2 degrees by then. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Instead of asking the Father for blessings, remain engaged on the pilgrimage of remembrance. Never become tired on the spiritual pilgrimage.
  2. Make Shiv Baba your Heir and surrender yourself to Him completely. Follow the mother and father. Claim the happiness of the kingdom for 21 births.
Blessing: May you be one who has pure and positive thoughts for the self and transform the self instead of making remarks about others.
While moving along, some children make a very big mistake of becoming a judge of others and becoming lawyer for themselves. They would say: This one should not do this, that one should change, whereas for the self, they would say: This is absolutely right, only what I say is right. Instead of making a remark like that about others, become your own judge. Be one who only has pure and positive thoughts for the self and look at the self and transform the self for only then will world transformation take place.
Slogan: In order to remain constantly cheerful, observe every scene as a detached observer.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_3]

Read Bk Murli 19 August 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 21 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 21 August 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 20 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 21/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

 

21/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप की याद कायम तब रहेगी जब बुद्धि में ज्ञान होगा, ज्ञानयुक्त बुद्धि से रूहानी यात्रा करनी और करानी है”
प्रश्नः- ईश्वर दाता है फिर भी ईश्वर अर्थ दान करने की रसम क्यों चली आती है?
उत्तर:- क्योंकि ईश्वर को अपना वारिस बनाते हैं। समझते हैं इसका एवज़ा वह दूसरे जन्म में देगा। ईश्वर अर्थ देना माना उसे अपना बच्चा बना लेना। भक्ति मार्ग में भी बच्चा बनाते हो अर्थात् सब कुछ बलिहार करते हो इसलिए एक बार बलिहार जाने के रिटर्न में वह 21 जन्म बलिहार जाता है। तुम कौड़ी ले आते हो, बाप से हीरा ले लेते हो। इसी पर ही सुदामा का मिसाल है।
गीत:- रात के राही…

ओम् शान्ति। बच्चों ने इस गीत की एक लाइन से ही समझ लिया होगा। बाप जब बच्चे कहते हैं तो समझना चाहिए हम आत्माओं को बाप बैठ समझाते हैं। आत्म-अभिमानी बनना है। यह तो सब जानते ही हैं आत्मा और शरीर दो चीज़ें हैं। परन्तु यह नहीं समझते हैं कि हम आत्माओं का बाप भी होगा। हम आत्मायें निर्वाणधाम की रहने वाली हैं। यह बातें बुद्धि में आती नहीं हैं। बाप कहते हैं ना – यह ज्ञान बिल्कुल ही प्राय:लोप हो जाता है। तुम जानते हो अब यह नाटक पूरा होने वाला है। अब घर जाना है। अपवित्र पतित आत्मायें वापिस घर जा नहीं सकती। एक भी जा नहीं सकता, यह ड्रामा है। जब सभी आत्मायें यहाँ चली आती हैं फिर वापिस जाने लगती हैं। यह तो अभी तुम जानते हो कि बाप हमें रूहानी यात्रा सिखला रहे हैं। कहते हैं हे आत्मायें अब बाप को याद करने की यात्रा करनी है। जन्म-जन्मान्तर तुम जिस्मानी यात्रा करते आये हो। अभी तुम्हारी है यह रूहानी यात्रा। जाकर, फिर मृत्युलोक में वापिस आना नहीं है। मनुष्य जिस्मानी यात्रा पर जाते हैं तो फिर लौट आते हैं। वह है जिस्मानी देह-अभिमानी यात्रा। यह है रूहानी यात्रा। सिवाए बेहद के बाप के यह यात्रा कोई सिखला नहीं सकते। तुम बच्चों को श्रीमत पर चलना है। सारा मदार है याद की यात्रा पर, जो बच्चे जितना याद करते हैं, याद कायम उनकी रहेगी जिनको कुछ न कुछ ज्ञान है। 84 जन्मों के चक्र का भी ज्ञान है ना। अभी हमारे 84 जन्म पूरे हुए। यह है 84 जन्मों के चक्र की यात्रा, इनको कहा जाता है आवागमन की यात्रा। आवागमन तो सभी का होता रहता है। आना और जाना। जन्म लिया और छोड़ा, इसको आवागमन कहा जाता है। अभी तुम इस दु:खधाम के आवागमन के चक्र से छूटते जा रहे हो। यह है दु:खधाम, अभी तुम्हारा जन्म-मरण सब अमरलोक में होना है, जिसके लिए तुम पुरूषार्थ करने आये हो अमरनाथ के पास। तुम सब पार्वतियां हो, अमरकथा सुनती हो अमरनाथ से, जो सदैव अमर है। तुम सदैव अमर नहीं हो। तुम तो जन्म-मरण के चक्र में आते हो। अभी तुम्हारा चक्र नर्क में है, इससे तुमको छुड़ाकर आवागमन स्वर्ग में बनाते हैं। वहाँ तुमको कोई दु:ख नहीं होगा। यह है तुम्हारा अन्तिम जन्म। तुम देखते जायेंगे कैसे विनाश होता है। यह जो माथा मारते हैं – लड़ाई न हो या कहते हैं बाम्बस जाकर समुद्र में डाल दें। यह सब बिचारे कहते रहते हैं परन्तु यह नहीं जानते कि अब समय आकर पूरा हुआ है।

तुम अभी संगम पर हो और दुनिया वाले समझते हैं कि अभी तो अजुन कलियुग शुरू होता है, 40 हजार वर्ष बाद संगम आना है। यह भी बात निकली है शास्त्रों से। बाप कहते हैं तुम जो कुछ वेद शास्त्र आदि पढ़ते, दान पुण्य आदि जन्म-जन्मान्तर से करते आये हो – यह सब है भक्ति मार्ग। तुम जानते हो हम पहले ब्राह्मण फिर देवता बनते हैं। ब्राह्मण वर्ण है सबसे ऊंचा। यह तो प्रैक्टिकल बात है। ब्राह्मण बनने बिगर कोई देवता वर्ण में आ नहीं सकते। तुम निश्चय करते हो हम ब्रह्मा के बच्चे हैं, शिवबाबा से दैवी राज्य ले रहे हैं। अभी तुम्हारा पुरूषार्थ चलता है। रेस भी करनी पड़ती है। अच्छी रीति पढ़कर फिर दूसरों को भी पढ़ायें, लायक बनायें तो वह भी स्वर्ग के सुख देखें। कृष्णपुरी को तो सभी याद करते हैं। श्रीराम को छोटेपन में झूला आदि नहीं झुलाते हैं। श्रीकृष्ण को तो बहुत प्यार करते हैं, परन्तु अन्धश्रद्धा से। समझते तो कुछ भी नहीं हैं। बाप ने समझाया है इस समय यह सारी सृष्टि तमोप्रधान काली है। भारत बहुत सुन्दर, गोल्डन एज था। अब तो आइरन एज में है। तुम भी आइरन एज में हो, अब गोल्डन एज में जाना है। बाप सोनार का काम कर रहे हैं। तुम्हारी आत्मा में जो लोहे और तांबे की खाद पड़ी थी वह निकाली जाती है। अभी तुम्हारी आत्मा और शरीर दोनों झूठे बन गये हैं। अभी तुमको फिर से सच्चा सोना बनना है। सच्चे सोने में बहुत खाद मिलाने से एकदम मुलम्मा बन जाता है। तुम्हारी आत्मा में अभी बिल्कुल थोड़ा सोना जाकर रहा है। जेवर भी पुराना है, दो कैरेट सोना कहेंगे। तो बाप बैठकर श्रीमत देते हैं। भारत बरोबर स्वर्ग था और कोई धर्म का राज्य नहीं था फिर उस स्वर्ग में जाने का पुरूषार्थ करना है। परन्तु माया करने नहीं देती है। माया तुम्हारा बहुत सामना करती है। युद्ध के मैदान में तुमको बहुत हराती है। चलते-चलते कोई तूफान में आ जाते हैं, विकार में जाकर एकदम काला मुँह कर देते हैं। बाप कहते हैं अभी मैं तुम्हारा गोरा मुँह करता हूँ। तुम विकार में जाकर फिर काला मुँह मत करो। योग से अपनी अवस्था को शुद्ध बनाओ। शुद्ध होते-होते सारी खाद निकल जायेगी, इसलिए योग भट्ठी में रहना है। सोनार लोग इन बातों को तो अच्छी रीति समझेंगे। सोने की खाद निकलती है आग में डालने से। फिर सोने की सच्ची ढली बन जाती है। बाप कहते हैं जितना तुम मुझे याद करते रहेंगे उतना शुद्ध बनते जायेंगे। बाप तो श्रीमत देंगे और क्या करेंगे। कहते हैं बाबा कृपा करो। अब बाबा कृपा क्या करेंगे! बाप तो कहते हैं याद में रहो तो खाद निकल जायेगी। तो याद में रहना है वा कृपा आशीर्वाद मांगना है? इसमें तो हर एक को अपनी मेहनत करनी है।

बाप कहते हैं रूहानी बच्चे, इस यात्रा में थक मत जाओ। घड़ी-घड़ी बाप को भूलो मत। जितना याद में रहते हो उतना समय जैसे तुम भट्ठी में हो। याद नहीं करते हो तो भट्ठी में नहीं हो। फिर तुमसे और भी विकर्म बनते, एड होते जाते हैं, जिससे तुम काले बन जाते हो। मेहनत कर गोरे बन और फिर काले बनते हो तो गोया तुम वैसे 50 परसेन्ट काले थे, अभी फिर 100 परसेन्ट काले बन जाते हो। काम विकार ने ही तुमको काला किया है। वह है काम चिता, यह है ज्ञान चिता। मुख्य बात है काम की। घर में झगड़ा ही इस पर होता है। कुमारियों को भी समझाया जाता है कि अभी तुम पवित्र हो तो अच्छी हो ना। कुमारी को सब पांव पड़ते हैं क्योंकि पवित्र है। तुम सब ब्रह्माकुमारियां हो ना। तुम ब्रह्माकुमारियां ही भारत को स्वर्ग बनाती हो। तो तुम्हारा यादगार भक्ति मार्ग में चला आता है। कुमारियों को बहुत मान देते हैं। हैं तो ब्रह्माकुमार भी परन्तु माताओं की मैजारिटी है। बाप खुद आकर कहते हैं वन्दे मातरम्। तुम बाप को वारिस बनाते हो। भक्तिमार्ग में तुम ईश्वर को दान क्यों देते हो? बाप तो बच्चों को देते हैं ना। फिर ईश्वर को दान क्यों करते हो? ईश्वर अर्थ करते हैं। कृष्ण अर्थ करते हैं। कृष्ण तुम्हारा क्या लगता है जो तुम उनको देते हो? कोई अर्थ चाहिए ना। कृष्ण गरीब तो है नहीं। फिर भी कहते हैं ईश्वर अर्थ, कृष्ण अर्थ तो होता ही नहीं। वह तो सतयुग का प्रिन्स है। बाप समझाते हैं कि मैं सबकी मनोकामनायें पूरी करता हूँ। कृष्ण तो मनोकामनायें पूरी कर न सके। वह तो कृष्ण को ईश्वर समझ कृष्ण अर्पणम् कहते हैं। वास्तव में फल देने वाला मैं हूँ। भक्तिमार्ग की सब बातें समझाई जाती हैं। शिवबाबा को तुम देते हो तो जरूर बच्चा ठहरा ना। भक्तिमार्ग में भी बच्चा है, यहाँ भी बच्चा है। भक्तिमार्ग में अल्पकाल के लिए एवजा मिल जाता है। अभी तो है डायेरक्ट, इसलिए तुमको 21 जन्मों के लिए वर्सा मिलता है। यहाँ तो पूरा बलिहार जाना पड़े। तुम एक बार बलिहार जाते हो तो यह 21 बार बलिहार जाते हैं। तुम कौड़ी ले आते हो बाप से हीरा लेने लिए। अन्दर समझते हैं हम चावल मुट्ठी शिवबाबा के भण्डारे में डालते हैं। सुदामे की बात अभी की है। शिवबाबा तुम्हारा क्या लगता है जो तुम उनको देते हो? बच्चा है तो तुम बड़े ठहरे ना। समझते हो एक देवे तो लाख पावे। देने वाला दाता वह एक ही है। साधू लोग तुमको कुछ देते नहीं हैं। भक्तिमार्ग में भी मैं देता हूँ, इसलिए बाबा पूछते हैं तुमको कितने बच्चे हैं! फिर कोई को समझ में आता है, कोई को समझ में नहीं आता है। अभी तुम जानते हो हम शिवबाबा पर बलि चढ़ते हैं। हमारा तन-मन-धन सब उनका है। वह हमको 21 जन्मों के लिए वर्सा देंगे। साहूकारों का हृदय विदीर्ण होता है। बाबा का नाम ही है गरीब-निवाज़। बाप कहते हैं तुमको अपना गृहस्थ व्यवहार सम्भालना है। ऐसे नहीं कि तुम यहाँ बैठ जाओ, सिर्फ श्रीमत पर चलते रहो। मामेकम् याद करो, बस।

[wp_ad_camp_5]

 

भक्तिमार्ग में भी तुम गाते हो कि मेरा तो एक दूसरा न कोई। तुम बच्चों को कितनी बातें समझाई जाती हैं। सब तो एक जैसे समझ वाले हो नहीं सकते। पिछाड़ी में निकलेंगे। फिर तुम्हारे में बल भी होगा। सुनने से ही झट आकर पकड़ लेंगे। निश्चय हो कि बाप हमको 21 जन्मों के लिए स्वर्ग का मालिक बनाते हैं, तो एक सेकेण्ड भी न छोड़ें। यह बाबा अपना भी अनुभव सुनाते हैं ना। यह तो जौहरी था। बैठे बैठे क्या हो गया! बस, देखा बाबा द्वारा बादशाही मिलती है। विनाश भी देखा फिर राजाई भी देखी तो बोला बस, छोड़ो इस गुलामी को। साक्षात्कार हुआ, परन्तु ज्ञान नहीं था। बस मुझे बादशाही मिलती है। देखते हैं बाप स्वर्ग की बादशाही देने आये हैं तो फट से पकड़ना चाहिए ना। बाबा यह सब आपका है। आपके काम में लग गया। बाबा ने भी सब कुछ इन माताओं के हाथ में दे दिया। माताओं की कमेटी बनाई, उन्हों को दे दिया। बाबा ही सब कुछ कराते थे। समझा बाबा से 21 जन्मों के लिए बादशाही मिलती है, तो अब तुम भी लो ना। बाबा ने झट गुलामी छोड़ दी। जब से छोड़ा है तब से बड़ा खुशी में चलते आये हैं। यह तो अनेक बार हमने देवी-देवता धर्म स्थापन किया है। बाबा ने ब्रह्माकुमार कुमारियों द्वारा अनेक बार स्थापन किया होगा। जब ऐसी बात है तो देरी क्यों? बाबा से तो हम 21 जन्मों का वर्सा जरूर लेंगे। बाबा घर-बार तो नहीं छुड़ाते हैं। भल उनको भी अच्छी रीति सम्भालो, सिर्फ बाप को याद करना है। नशा रहना चाहिए कि हम बाबा के बने हैं। बाबा को लिखते हैं बाबा फलाना बहुत अच्छा निश्चयबुद्धि, समझदार है। बहुतों को समझाते हैं। परन्तु निश्चयबुद्धि हमारे पास तो आते नहीं। बाबा से मिले ही नहीं और मर जायें फिर बाबा से वर्सा कैसे मिलेगा। यहाँ तो बाप की गोद लेनी होती है ना। निश्चय हुआ और शरीर छोड़ दिया, मेहनत कुछ नहीं की। आइरन एज से गोल्डन एज न बने तो कामन प्रजा में जन्म ले लेंगे। अगर बच्चा बन अच्छी रीति पक्का होकर फिर शरीर छोड़े तो वारिस बन जाये। वारिस बनने में मेहनत थोड़ेही लगती है। कोई तो सूर्यवंशी राजाई पाते हैं, कोई तो सर्विस करते-करते पिछाड़ी में एक जन्म लिए करके राजाई की पाग पा लेंगे। वह कोई सुख थोड़ेही हुआ। राजाई का सुख तो पहले ही है फिर कलायें कम होती जाती हैं। बच्चों को तो पुरूषार्थ कर माँ बाप को फालो करना है। मम्मा बाबा की गद्दी पर बैठने के लायक तो बनो। हार्टफेल क्यों होना चाहिए! पुरूषार्थ कर फालो करो। सूर्यवंशी गद्दी का मालिक बनो। स्वर्ग में तो आओ ना। नापास होते हो तो चन्द्रवंशी में चले जाते हो, दो कला कम हो जाती हैं। अच्छा !

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से आशीर्वाद मांगने के बजाए याद की यात्रा में तत्पर रहना है। रूहानी यात्रा में कभी भी थकना नहीं है।

2) शिवबाबा को अपना वारिस बनाए उस पर पूरा-पूरा बलिहार जाना है। माँ बाप को फालो करना है। 21 जन्मों की राजाई का सुख लेना है।

वरदान:- दूसरों के लिए रिमार्क देने के बजाए स्व को परिवर्तन करने वाले स्वचिंतक भव 
कई बच्चे चलते-चलते यह बहुत बड़ी गलती करते हैं-जो दूसरों के जज बन जाते हैं और अपने वकील बन जाते हैं। कहेंगे इसको यह नहीं करना चाहिए, इनको बदलना चाहिए और अपने लिए कहेंगे-यह बात बिल्कुल सही है, मैं जो कहता हूँ वही राइट है..। अब दूसरों के लिए ऐसी रिमार्क देने के बजाए स्वयं के जज बनो। स्वचिंतक बन स्वयं को देखो और स्वयं को परिवर्तन करो तब विश्व परिवर्तन होगा।
स्लोगन:- सदा हर्षित रहना है तो हर दृश्य को साक्षी होकर देखो।

[wp_ad_camp_3]

 

To Read Murli 19 August 2017 :- Click Here

Font Resize