today murli 20 september

TODAY MURLI 20 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 20 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 19 September 2018 :- Click Here

20/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, one drop of knowledge is to consider yourself to be a soul and to remember the Father. With this one drop, you can attain liberation and liberation-in-life.
Question: In which effort is progress for oneself and others merged?
Answer: 1) The effort to stay in remembrance. It is in this that progress for oneself and others is merged. When you children sit in remembrance, it is as though you are giving others a donation of peace. 2) Stop talking of body conscious and worldly things and speak of spiritual things and you will continue to make progress. You have to show (reveal) the Father. To the extent that you reveal the Father and show everyone the path to peace and happiness, to that extent you will receive a reward.
Song: You are the Ocean of Love. We thirst for one drop.

Om shanti. People have been singing this on the path of devotion. People have been praising Him. Praise is of the Supreme Father, the Supreme Soul. Just as there are many types of praise and festivals on the path of devotion, so there is this praise too. This cannot be praise of any human being, sage or holy man. They sing: You are the Ocean of Knowledge. If we receive even one drop of knowledge, we will go away from here. Where will they go? To the land of liberation or liberation-in-life. They continue to praise Him but people don’t know His praise. You know it, numberwise, according to the effort you make. The significance of the two fathers has also been explained to you. One is your physical father and it is called body consciousness when you remember him. A soul remembers the father who gave him a body and he forgets his spiritual Father. This is the mistake. In fact, they haven’t forgotten, but the mistake they have made is saying that each soul is the Supreme Soul. They even say that they are living, embodied souls. “Do not distress my soul!” It is the soul that is distressed. A soul receives punishment in the jail of a womb and so he experiences sorrow while in a body. A soul feels that he is receiving sorrow when he is given a vision in the physical form. It has been explained to you children: First of all, practise: I am a soul. When you become body conscious, you remember your relatives: This one is my paternal uncle and this one is my maternal uncle. When you don’t have a body, you don’t have any relatives. This knowledge is of the soul. You wouldn’t call anyone Great Supreme Soul. After someone has died, the soul of that person is invoked. It wouldn’t be said that the Supreme Soul of such-and-such a person is invoked. Under no circumstances would any human being be called the Supreme Soul nor does the Supreme Soul enter into the cycle of birth and death. The Supreme Soul is beyond birth and death. Souls continue to take rebirth. You have understood that, first of all, there are the souls of the deities. The 84 births are only remembered in Bharat. You children know that the Ocean of Knowledge is now sitting personally in front of you. Only the Purifier is called the Ocean of Knowledge. Only the Father is called Gyaneshwar (God of Knowledge). Ishwar (God) has the knowledge of the beginning, middle and end of the world. God alone creates the world and this is how He has knowledge of creation. He is called the Creator and so the world He created definitely does exist; this is why He is called that. A creator is called a father. Brothers and sisters cannot be called a creator. It is always a father who is a creator. You children know that the Father is personally sitting in front of you. Someone may be sitting abroad and he would say that he is far away from his father, but he would still remember him, would he not? You too have to remember Him, but when you see your lokik relatives, you forget the parlokik Father and this is why Baba says: While sitting, standing and moving around, practise remembering the Father. I, the soul, am walking with this body. You have knowledge of the soul. You know that souls and the Supreme Soul remained separated for a long time; it is not said that the Supreme Souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. It is said: Souls and the Supreme Soul. The Father is now sitting personally in front of you children. They say: Just one drop from You is enough. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Father of us souls. That is all. This is called knowledge. No one else would have the courage to say: I am the Father of all of you souls. He alone is called the Ocean of Knowledge and the Purifier. No one else would know how to say this. The Father Himself says: I am your Father. Truly, that great war is just ahead. There are the Yadavas, the Kauravas and the Pandavas. Everything depends on how you explain all of this. It is difficult for anyone to understand just by looking at the pictures unless a teacher explains them to him. Teachers explain at school: This is India and this is London. Nothing would enter anyone’s intellect without an explanation. When the name is written on a map, there is just the name, so one cannot understand where it is or who rules there. Here, too, everything has to be understood. Nowadays, there first of all has to be some splendour, so that people will come when they see that display. Very good people are needed to explain there (at exhibitions). Only children would explain that this one is Jagadamba, the one who fulfils everyone’s desires. They have shown Kamdhenu sitting under the tree. Therefore, many would come to meet her. There is Jagadpita (World Father) and so there must also be the World Mother. However, that one is called Jagadamba because the urn is given to you mothers. Jagadamba has been remembered as the main one, and then there is also her army. When you children hold exhibitions, very good children are needed to explain there. Baba has said: The main thing is to give the Father’s introduction. First of all, explain that there are two fathers: one is your lokik father and the other is your parlokik Father. You have been receiving a limited inheritance from your lokik father for birth after birth. Now claim the unlimited inheritance. A lot of time has gone by, a little remains. There is a huge burden of sins on your heads. Your sins can only be absolved by having yoga. This is not like going to your aunty’s home! As yet, one karmic account or another still remains and this is why you have to suffer for your past actions. It takes so much effort. If you come late, how many of your sins would you be able to have absolved? This is a difficulty, is it not? You have to beat the drums so that no one can complain later. You can say: We used to beat the drums and have it printed in the newspapers. As far as possible, everyone should receive an invitation. Make effort to claim the unlimited inheritance from the unlimited Father. Distribute lots of invitation letters. The maximum service can take place in Delhi. Delhi is the capital of the whole of Bharat. The agents of all the newspapers live there. You also have to make this announcement in the newspapers: You have been claiming your inheritance from your lokik fathers for birth after birth. Now claim your inheritance from the parlokik Father. Come and claim from the Father the inheritance of the Paradise you have been remembering. Have it printed in all the newspapers: Bharat is the birthplace of Shiv Baba. There is only the one Father who will uplift everyone. The greatest pilgrimage place is that of the Supreme Father, the Supreme Soul, the Purifier. However, no one knows this. Christ, Abraham, Buddha etc. have all been taking rebirth and are now in their final births. Christians themselves say that Christ exists here in some form. They also believe in the tree. Otherwise, where else do all of these souls come from? There are definitely sections where they come from. History will then definitely repeat. This tree is something very good, but children value it numberwise. Children hold exhibitions to explain to other people. You don’t have to have an art show. In an art gallery they have useless pictures and they call it art. They paint many different pictures of deities with slim waists. There, the deities have natural beauty. At this time even the five elements are tamopradhan. In the golden age the five elements are satopradhan. The beautiful Krishna and the ugly Krishna have been remembered. There, you don’t need to do anything to your body. Here, you have to do so many things for your body in order to look after it. There, even when someone becomes old, he would have all his teeth. If someone’s tooth were to be broken, he would be disfigured. There, they remain absolutely first class, 16 degrees full. There are no handicapped or crippled people there. Here, just look how babies are born handicapped or crippled. You are becoming the masters of such a land of angels. The one Traveller comes and takes you to the land of angels. You travellers become impure while playing your parts here and souls become ugly. The Father is ever beautiful. He never has alloy mixed in Him. I am real gold and this is why people call out to Me. They call out to the One who is ever pure: Baba, come. Come and make us equal to You. You would not become ever pure, but everyone does have to go into the satopradhan stage. However, it is numberwise in that too. There are various actors in a play. Those who play the hero and heroine receive a lot of money. Now, the Government makes raids on everyone’s money. It is said: Some people’s wealth will remain buried in the ground and some people’s wealth will be looted by the Government. Only that which is used in the name of the Lord will be used in a worthwhile way, because the Lord has come to establish heaven. Only the wealth of those who become the Father’s helpers will remain safe. You will have plenty of wealth there. There will be so much gold and so much diamond jewellery. However, you are not concerned about that at all. No one is going to loot you there. You will receive new mines of diamonds and gold. The diamonds will be lying there like stones. You are going to receive all of that. Just as palaces of brick are built, similarly, you will continue to build palaces of gold. Even the wealthy subjects will build golden palaces. Those who are full donors will have them built with real gold. Baba continues to tell you everything. He doesn’t tell you to starve to death. You have to look after your children etc. It is a creator’s duty to look after everyone and not make them unhappy. You mustn’t starve anyone to death. Be merciful. People are so unhappy. You know that when there is to be famine, so many will suffer. They will cry out in distress and then there will be the cries of victory. All souls will receive happiness. The Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. There are two types of happiness: One is to reside in the land of peace and the other is to reside in the land of happiness. There is everything – purity, peace and happiness – in the land of happiness. The Father says: I come every cycle. My part is at the time when people are very unhappy. This is why My name is, the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness, the Bestower of Peace to All and the Bestower of Happiness to All. You know that, together with Baba, you donate peace to everyone. The more you stay in remembrance, the more donations you will continue to give others. You give them knowledge for happiness. Therefore, you children have to reveal your Mother and Father. The more you reveal them and show the path of happiness and peace to many, the more reward you will receive. Baba tells you so many new things of the new world. He gives you visions of the old world and the new world. He will give you even more visions, but only to those who are real, strong children. The Lord is pleased with an honest heart. You will see a great deal. Just as you were shown them in the beginning, so you will be shown them at the end. So many programmes used to be given to you and you were also given visions. You were decorated so beautifully; you were given crowns etc. You will be shown them once again in different ways. It is said: Happiness to the hunter and death for the prey. At the time of partition, it was death for the prey. You weren’t concerned about anything. It was as though you had died alive. Baba says: Children, make full effort. Make effort: I am a soul. Continue to speak of spiritual things with one another. All worldly things, body-conscious things, have to end. Those who were amazed and then ran away will not see any of these things. You have seen the past and you will also see new things. Make effort. The Father loves the sweetest children a great deal. Lovely children receive a lot of love. Those who do good service receive love and also a status. Don’t forget: The incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching us souls and making us into heirs of heaven. You have to have divine virtues. Previously, everyone had devilish traits. Baba is now sitting personally in front of you. There is love for the One from whom you receive the inheritance, not for the agent. The agent is just in between. Your bargain is made with that One. Therefore, remember the Father. Continue to renounce body consciousness. Mine is only one Shiv Baba. No other bodily being should be remembered. Baba has entered an old boot. I have taken it on loan. Baba would have spoken these words in the previous cycle. He is also saying them now. These things were explained to you on this day and I am now explaining them to you again. Such a good, broad and unlimited intellect is required. Lakshmi and Narayan became number one. They would definitely have created a good reward. This is the God f atherly Salvation Army to give the salvation of liberation and liberation-in-life to the whole world. Rama is the Bestower of Salvation for All. The whole world has to go into liberation. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Together with the Father, donate peace to the whole world. Become a remover of sorrow and a bestower of happiness, the same as the Father.
  2. Have full love for the one Father. Don’t speak of body-conscious things among yourselves. Only speak of spiritual things.
Blessing: May you be an easy yogi (sahaj yogi) and, instead of being one who is separated (viyogi), become a co-operative soul (sahyogi) who makes preparations instead of waiting.
Some children wait. They think: if this one lets go, I will become free; if this one stops this conflict, I will become free. However, it doesn’t work like that. These obstacles or test papers of Maya are definitely going to come in one form or another from time to time. So, do not wait and think “When this person lets me pass”, or, “When this situation passes by”… no. I have to pass through them. Make such preparations. Constantly move along, holding onto the finger of shrimat. Become co-operative and so an easy yogi. It should not be that you are sometimes co-operative and sometimes separated.
Slogan: To increase the zeal and enthusiasm of many souls with your zeal and enthusiasm is true service.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 20 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 September 2018

To Read Murli 19 September 2018 :- Click Here
20-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – ज्ञान की एक बूंद है अपने को आत्मा समझो और बाप को याद करो, इसी एक बूंद से मुक्ति-जीवनमुक्ति प्राप्त हो सकती है”
प्रश्नः- किस पुरुषार्थ में अपनी और दूसरों की उन्नति समाई हुई है?
उत्तर:- 1- याद में रहने का पुरुषार्थ करो, इसमें ही अपनी और दूसरों की उन्नति समाई हुई है। तुम बच्चे जब याद में बैठते हो तो जैसे दूसरों को शान्ति का दान देते हो। 2- आपस में देह-अभिमान की जिस्मानी बातें छोड़ रूहानी बातें करो तो उन्नति होती रहेगी। तुम्हें बाप का शो करना है। जितना शो करेंगे सबको शान्ति और सुख का मार्ग बतायेंगे, उतना इज़ाफा (इनाम) मिलेगा।
गीत:- तू प्यार का सागर है……

ओम् शान्ति। यह भक्ति मार्ग में गाते आये हैं। महिमा करते आये हैं। महिमा है परमपिता परमात्मा की। जैसे भक्ति मार्ग में अनेक प्रकार के गायन होते हैं, उत्सव मनाते हैं वह भी गायन है। कोई भी मनुष्य साधू-सन्त आदि का गायन नहीं हो सकता। गाते हैं वह ज्ञान का सागर है। एक भी बूंद मिले तो हम यहाँ से चले जायेंगे। कहाँ जायेंगे? मुक्ति वा जीवनमुक्तिधाम। महिमा होती रहती है परन्तु उनकी महिमा को जानते नहीं हैं। तुम जानते हो सो भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। दो बाप का राज़ भी समझाया गया है – एक है लौकिक बाप, उनकी याद आने से उसको देह-अभिमान कहा जायेगा। आत्मा को देह देने वाला बाप याद आता है। आत्मा अपने रूहानी बाप को भूल जाती है। यही भूल है। यूं तो कोई भूले हुए नहीं हैं परन्तु कह देते हैं आत्मा ही परमात्मा है, यही भूल है। यह भी कहते हैं कि हम जीव आत्मा हैं। मेरी आत्मा को तंग नहीं करो। तंग तो आत्मा होती है ना। आत्मा को गर्भजेल में सजा मिलती है तो उनको शरीर में दु:ख भासता है। साक्षात्कार भी स्थूल रूप का करायेंगे, तब वह फील करते हैं, हमको दु:ख मिल रहा है। बच्चों को समझाया है पहले-पहले प्रैक्टिस करो हम आत्मा हैं। देह-अभिमानी बनने से संबंध याद आता है – यह चाचा है, मामा है…..। शरीर नहीं है तो कोई भी संबंध नहीं है। आत्मा का ही ज्ञान है। कोई को महान् परमात्मा थोड़ेही कहा जाता है। कोई मर जाता है तो उनकी आत्मा को बुलाया जाता है। ऐसे नहीं कहेंगे कि इनके परमात्मा को बुलाया जाता है। कोई भी हालत में उनको परमात्मा नहीं कहा जाता। न परमात्मा जन्म-मरण में आते हैं। परमात्मा जन्म-मरण रहित है। आत्मा तो पुनर्जन्म लेती रहती है। यह भी समझ गये हैं कि पहले-पहले आत्मा है देवी-देवताओं की, 84 जन्म भी भारत में गाये जाते हैं। अब बच्चे जानते हैं ज्ञान सागर सम्मुख बैठे हैं। पतित-पावन को ही ज्ञान सागर कहेंगे। बाप को ही कहा जाता है ज्ञानेश्वर। ईश्वर में ज्ञान है सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का। ईश्वर ही सृष्टि को रचते हैं इसलिए उनको रचना का ज्ञान है। रचता कहते हैं तो जरूर रची हुई सृष्टि है, तब तो कहते हैं ना। रचता को बाप कहा जाता है। बहन-भाई को रचता नहीं कहेंगे। रचता हमेशा बाप को कहा जाता है। बच्चे जानते हैं हमारे सम्मुख बाप बैठे हैं। भल विलायत में कोई बैठे होंगे, कहेंगे बाप से हम दूर हैं परन्तु याद तो करेंगे ना। तुमको भी याद करना है, परन्तु लौकिक संबंध को देख पारलौकिक बाप को भूल जाते हैं इसलिए बाबा कहते हैं उठते-बैठते बाप को याद करने की प्रैक्टिस करो। मैं आत्मा इस शरीर से चलती हूँ। आत्मा का ज्ञान तो तुमको है। यह जानते हो आत्मायें और परमात्मा अलग रहे बहुकाल। ऐसे नहीं कहा जाता परमात्मायें और परमात्मा अलग रहे बहुकाल…..। आत्मा और परमात्मा कहा जाता है।

अभी बाप बच्चों के सम्मुख बैठे हैं। कहते हैं आपकी एक बूँद भी बहुत है। परमपिता परमात्मा हम आत्माओं का बाप है। बस, इसको ज्ञान कहा जाता है। ऐसे और कोई को भी कहने की हिम्मत नहीं आयेगी कि तुम सब आत्माओं का मैं बाप हूँ, जिसको ही ज्ञान सागर पतित-पावन कहते हैं। यह कहने कोई को आयेगा नहीं। बाप ही कहते हैं मैं तुम्हारा बाप हूँ। बरोबर, अब महाभारी लड़ाई भी सामने खड़ी है, यादव, कौरव, पाण्डव भी हैं। यह सारा समझाने पर मदार है। चित्र देखने से कोई समझ जाये सो मुश्किल है, जब तक टीचर न समझाये। स्कूल में भी टीचर समझाते हैं ना – यह इन्डिया है, यह लन्दन है। बिगर समझाने बुद्धि में आ न सके। अगर नक्शे में नाम पढ़े तो भी सिर्फ नाम कह सकेंगे। लेकिन कहाँ है, कौन राज्य करते हैं, कुछ भी समझ नहीं सकेंगे। यहाँ भी हर बात समझने की होती है। आजकल तो पहले भभका चाहिए, शो देखकर ही आयेंगे। अब वहाँ समझाने वाले बड़े अच्छे चाहिए। बच्चे ही समझायेंगे कि यह जगत अम्बा है, सबकी मनोकामनायें सिद्ध करने वाली है। झाड़ के नीचे दिखाते हैं – कामधेनु बैठी है। तो उनसे मिलने लिए भी आयेंगे। जगत पिता है तो जरूर जगत की माँ भी होगी, परन्तु जगत अम्बा इनको कहते हैं क्योंकि कलष माताओं को दिया जाता है। मुख्य जगदम्बा गाई हुई है फिर उनकी सेना भी है।

तुम बच्चे एग्जीवीशन करते हो तो उसमें समझाने के लिए बड़े अच्छे-अच्छे बच्चे चाहिए। बाबा ने समझाया है मुख्य बात है बाप के परिचय की। पहले-पहले समझाओ दो बाप हैं। एक है तुम्हारा लौकिक बाप, दूसरा है पारलौकिक बाप। लौकिक बाप से तो जन्म-जन्मान्तर हद का वर्सा लेते आये, अब बेहद का वर्सा लो। बहुत गई थोड़ी रही….. विकर्मों का बोझा सिर पर बहुत है। योग से ही विकर्म विनाश हो सकते हैं। मासी का घर नहीं। अजुन कुछ न कुछ हिसाब-किताब रहा हुआ है तब तो भोगना पड़ता है ना। कितनी मेहनत लगती है। अगर देरी से आयेंगे तो कितना विकर्म विनाश कर सकेंगे। मुश्किलात है ना। यह तो तुम ढिंढोरा पिटवा दो जो कोई फिर उल्हना न देवे। तुम कह सकेंगे हम तो ढिंढोरा पिटवाते, अ़खबार में डलवाते थे। जितना हो सके निमंत्रण तो सभी को मिलना चाहिए। बेहद के बाप से बेहद का वर्सा लेने का पुरुषार्थ करो। खूब निमंत्रण पत्र बांटो। सबसे जास्ती सर्विस देहली में हो सकती है। देहली है सारे भारत की गद्दी, वहाँ सभी अखबारों के एजेन्ट्स रहते हैं। अ़खबार द्वारा भी इतला करना है। लौकिक बाप से तो जन्म-जन्मान्तर वर्सा लेते आये, अभी फिर पारलौकिक बाप से वर्सा लो। जिस वैकुण्ठ को याद करते हो उसका वर्सा बाप से आकर लो। सभी अखबारों में डालते जाओ – शिवबाबा का बर्थ प्लेस है भारत। सभी का उद्धार करने वाला एक ही बाप है। तो सबसे बड़ा तीर्थ परमपिता परमात्मा पतित-पावन का हुआ ना, परन्तु यह किसको पता नहीं है। क्राइस्ट, इब्राहिम, बुद्ध आदि सभी पुनर्जन्म लेते-लेते अभी अन्तिम जन्म में हैं। क्रिश्चियन लोग खुद भी कहते हैं क्राइस्ट यहाँ ही किसी जन्म में है। क्रिश्चियन लोग भी झाड़ को मानते हैं। नहीं तो इतनी आत्मायें कहाँ से आती हैं। जरूर सेक्शन हैं जहाँ से आते हैं। हिस्ट्री फिर रिपीट जरूर होगी। यह झाड़ बड़ी अच्छी चीज़ है परन्तु इनकी वैल्यु बच्चों के पास नम्बरवार है।

बच्चे दूसरों को समझाने के लिए प्रदर्शनी आदि करते हैं। इसमें कोई आर्ट का शो नहीं करना है। आर्ट गैलरी में तो व्यर्थ के चित्र रखते हैं। समझते हैं यह आर्ट है। देवताओं की पतली कमर आदि के किस्म-किस्म के चित्र बनाते हैं। वहाँ देवताओं की तो नेचुरल ब्युटी रहती है। इस समय तो 5 तत्व भी तमोप्रधान हैं। सतयुग में 5 तत्व भी सतोप्रधान होते हैं। कृष्ण गोरा और कृष्ण सांवरा गाया हुआ है। वहाँ शरीर की मरम्मत नहीं होती। यहाँ तो देखो कितनी मरम्मत करनी पड़ती है। वहाँ तो भल बूढ़ा हो जाए तो भी दांत आदि सभी साबुत रहते हैं। दांत टूट जाएं तो डिसफिगर हो जाएं। वहाँ तो एकदम फर्स्ट क्लास 16 कला सम्पूर्ण रहते हैं। लूले-लंगड़े होते नहीं। यहाँ तो देखो कैसे लूले-लंगड़े जन्म लेते हैं। तो तुम ऐसे परिस्तान के मालिक बन रहे हो। एक ही मुसाफिर आकर परिस्तान में ले जाते हैं। तुम मुसाफिर यहाँ पार्ट बजाते-बजाते पतित बन जाते हो, आत्मा काली हो जाती है। बाप तो एवर हुसैन है, उनमें कभी खाद नहीं पड़ती है। मैं तो सच्चा सोना हूँ इसलिए मुझे बुलाते हैं। एवर पावन को ही बुलाते हैं – बाबा आओ, हमको भी आप समान बनाओ। तुम एवर पावन तो नहीं बनेंगे। बाकी सतोप्रधान में तो सबको आना है, परन्तु उनमें भी नम्बरवार हैं। नाटक में एक्टर्स भिन्न-भिन्न होते हैं ना। कोई हीरो-हीरोइन होते हैं तो उनको पैसे भी बहुत मिलते हैं। अभी तो गवर्मेन्ट सबके पैसे पकड़ती रहती है। कहा जाता है – किनकी दबी रहेगी धूल में, किनकी राजा खाए, सफली होगी वह जो खर्चे नाम धनी के……. क्योंकि धनी आया हुआ है स्वर्ग की स्थापना करने। जो बाप के मददगार बनेंगे उन्हों का ही सेफ रहेगा। तुमको तो वहाँ ढेर की ढेर मिलकियत होगी। कितना सोना हीरे जवाहर आदि होंगे! परन्तु तुमको उसकी कोई भी परवाह नहीं रहती है। तुमको कोई लूटेंगे थोड़ेही। हीरे-सोने आदि की खानियां सब तुमको नई-नई मिलेंगी। पत्थरों मुआफिक हीरे पड़े होंगे। सब तुमको मिल जाना है। जैसे ईटों के महल बनते हैं वहाँ सोने के महल बनाते रहेंगे। धनवान प्रजा भी सोने के महल बनायेगी। जो पूरे दानी बनते हैं वह भी सोने के बनाते हैं। बाबा सब बातें बतलाते रहते हैं। ऐसे भी नहीं कहते तुम भूख मरो। बच्चों आदि को भी सम्भालना है। रचता का फ़र्ज है सम्भाल करना, दु:खी नहीं करना है। भूख नहीं मारना है। रहमदिल बनना है। मनुष्य कितने दु:खी हैं, जानते हो फैमन पड़ेगा तो बहुत दु:खी होंगे। त्राहि-त्राहि करेंगे, फिर जयजयकार होगी। सब आत्माओं को सुख मिल जायेगा। बाप है ही दु:ख हर्ता, सुख कर्ता। सुख हैं दो – एक शान्तिधाम में रहना और दूसरा सुखधाम में रहना। सुखधाम में पवित्रता, सुख, शान्ति सब है। बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प आता हूँ। जब मनुष्य बहुत दु:खी हो जाते हैं, मेरा पार्ट ही उस समय का है इसलिए मेरा नाम ही है दु:ख हर्ता, सुख कर्ता, सर्व का शान्ति दाता, सुखदाता।

तुम जानते हो हम बाबा के साथ सबको शान्ति का दान देते हैं। जितना याद में रहेंगे उतना औरों को दान देते रहेंगे। फिर नॉलेज देते हैं सुख के लिए। तो बच्चों को मात-पिता का शो करना है। जितना शो करेंगे, सुख शान्ति का मार्ग बहुतों को बतायेंगे तो इज़ाफा मिलेगा। बाबा तुमको कितना सब नई दुनिया की नई-नई बातें सुनाते हैं। पुरानी दुनिया और नई दुनिया दोनों का साक्षात्कार कराते हैं। और ही जास्ती तुमको साक्षात्कार करायेंगे, परन्तु उनको जो बाबा के पक्के सच्चे बच्चे होंगे। सच्चे दिल पर साहेब राज़ी होता है। तुम बहुत कुछ देखेंगे जैसे शुरू में भी दिखाया था फिर अन्त में दिखायेंगे। कितने प्रोग्राम आते थे, साक्षात्कार कराते थे। कितनी सजावट, ताज आदि पहनाते थे फिर से भिन्न-भिन्न प्रकार के दिखायेंगे। मिरूआ मौत मलूका शिकार। उसी समय पार्टीशन में भी मिरूआ मौत था ना। तुमको कोई परवाह नहीं थी। तुम तो जैसे जीते जी मर गये। तो बाबा कहते हैं – बच्चे, पूरी मेहनत करो, पुरुषार्थ करो, हम आत्मा हैं। एक-दो से भी रूहानी बातें करते रहो। जिस्मानी देह-अभिमान की बातें खत्म। जो आश्चर्यवत् भागन्ती हो जायेंगे वह यह सब नहीं देखेंगे। पास्ट भी तुमने देखा और जो नया होगा वह भी तुम देखेंगे, मेहनत करो। मीठे-मीठे बच्चों को बाप बहुत प्यार करते हैं। प्यारे बच्चों को बहुत प्यार मिलता है। जो अच्छी सर्विस करेंगे उनको प्यार भी मिलेगा, पद भी मिलेगा। भूलो नहीं, हम आत्माओं को निराकार परमपिता परमात्मा शिक्षा दे रहे हैं, स्वर्ग का वारिस बना रहे हैं। दैवी गुणवान बनना है। आगे तो सबमें आसुरी गुण थे। अब बाबा सम्मुख बैठे हैं, जिससे वर्सा मिलता है, उनसे लॅव रहता है, दलाल से नहीं। दलाल तो बीच में हुआ। सौदा तुमको उनसे मिलता है। तो बाप को याद करो। देह-अभिमान को छोड़ते जाओ। मेरा तो एक बाबा, दूसरा कोई भी देहधारी याद न आये। यह तो बाबा पुरानी बूट में आये हैं। मैंने यह लोन लिया है। कल्प पहले भी यह अक्षर कहे होंगे। अब भी कह रहे हैं। आज के ही दिन तुमको यह समझाया था फिर समझा रहा हूँ। कितनी अच्छी विशाल बुद्धि चाहिए। लक्ष्मी-नारायण नम्बरवन बने हैं, जरूर अच्छी प्रालब्ध बनाई होगी। यह गॉड फादरली सैलवेशन आर्मी है, सारी दुनिया को मुक्ति-जीवनमुक्ति की सैलवेशन देने वाली। सर्व का सद्गति दाता राम। गति में तो जाना ही है सारी दुनिया को। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप के साथ सारे विश्व को शान्ति का दान देना है। बाप समान दु:ख हर्ता सुख कर्ता बनना है।

2) एक बाप से पूरा लॅव रखना है। आपस में देह-अभिमान की बातें नहीं करनी है। रूहानी बातें ही करनी है।

वरदान:- इन्तजार को छोड़ इन्तजाम करने वाले वियोगी के बजाए सहयोगी सो सहजयोगी भव
कई बच्चे इन्तजार करते हैं कि यह छोड़ें तो छूटूं, यह टकराव छोड़ें तो छूटूं-लेकिन ऐसा नहीं होता। यह तो माया के विघ्न वा पढ़ाई में पेपर समय प्रति समय भिन्न-भिन्न रूपों से आने ही हैं। तो यह इन्तजार नहीं करो कि फलाना व्यक्ति पास करे, फलानी परिस्थिति पास करे.. नहीं, मुझे पास करना है। ऐसा इन्तजाम करो। सदा श्रीमत की अंगुली के आधार पर चलते, सहयोगी सो सहजयोगी बनो। कभी सहयोगी कभी वियोगी नहीं।
स्लोगन:- अपने उमंग-उत्साह द्वारा अनेक आत्माओं का उत्साह बढ़ाना – यह सच्ची सेवा है।

TODAY MURLI 20 SEPTEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 20 SEPTEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 19 September 2017 :- Click Here

20/09/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, at this time everyone’s fortune is spoilt because everyone is impure. You now have to follow shrimat and awaken everyone’s fortune. Show everyone the way to become pure.
Question: What very bad activity causes a lot of damage?
Answer: To throw stones at one another, that is, to speak bitterly to someone and hurt that person in that way is very bad; it causes a lot of damage. You children now have to become rup and basant and imbibe good manners. Only imperishable jewels of knowledge should constantly emerge from your mouths. Make the soul beautiful with remembrance and donate the jewels of knowledge that the Father gives you. Speak very sweet words. Move away from those who speak bitter words.
Song: No one is unique like the Innocent Lord.

Om shanti. Fathers are always innocent. One is a limited father and the other is the unlimited Father. There are worldly fathers and the Father from beyond this world. Everyone knows their worldly father. You Brahmins know both your worldly fathers and your Father from beyond. A worldly father is also innocent. He creates children, looks after them, works hard and then gives them everything. He sometimes even tells lies in earning money; he accumulates it so that he can leave it to his grandchildren. A father has a lot of love for his children. A child begins to say “Baba, Baba” in his childhood. The word ‘Babul’ (father) is very sweet. You children now know the unlimited Father. The unlimited Father has worked wonders. He gives you so much unlimited knowledge. A worldly father cannot explain that to you. Although he gives you wealth etc. he cannot put right that which has been spoilt. It is only God, the Innocent Lord, who puts right that which has been spoilt. Every cycle He is the One who puts right that which has been spoilt and He is the One to give salvation and liberation to all. No worldly father, teacher or guru can make you into the masters of the unlimited. No one else knows the unlimited Father or has the knowledge of the beginning, the middle and the end of creation. Among you children, too, how the unlimited cycle turns is in your intellects, numberwise, according to your efforts. You children know that this drama is predestined. It is this that inspires us to make effort. We will definitely make effort. Whatever effort each of you made in the previous cycle according to shrimat, you are doing exactly the same now in order to reform everything of yours. You can see that all brothers and sisters are engaged in the effort of putting everything right. The people of Bharat call out: O Purifier, O the One who reforms everything that has gone wrong, come! It is Ravan that has made everything go wrong. Through this, you have become corrupt in your religion and actions. You children have now come to know all of this from the Father. The human world, which is also called the kalpa tree, is very well known. The secret of this is now in your intellects. When people see your pictures and how you have made the kalpa tree with a duration of 5000 years, they say that all of that is your imagination. We explain this very well. They too compare the kalpa tree to a banyan tree. They also say that there used to be the original eternal deity religion which has now disappeared. According to the drama, all the other religions exist now. The main world history and geography of heaven that are remembered have to repeat. The best history and geography is of heaven. Everyone says: We want the kingdom of Rama where there is no name or trace of sorrow. It is now Ravan’s kingdom but none of them understands that they are Ravan. These things are in the intellects of you children. Human beings don’t know anything at all. How the One who puts everything right comes and how He reforms everything! Impure ones are said to be those who have become spoilt. How your intellects and your fortune were spoilt is now in your intellects. Their customs and systems are those of Ravan, whereas your customs and systems are those of Rama. It isn’t the Rama of the silver age; he didn’t speak the Gita. Nowadays, they relate the Ramayana etc. abroad too. Some wear saffron robes and go and live in huts. You children don’t have to stay in huts. Can there be a school in a hut? It is religious beggars who live there. This is your study. However, it is a new Government and this is why no one can understand who you are. If you explain to one Minister, another one would say that you are buddhus. These things are completely new. Baba continues to explain to you. You also have to continue to make corrections. You definitely have to write ‘Prajapita Brahma’ in front of Brahma Kumars and Kumaris. By your writing the word ‘Prajapita’, he is proved to be the father. We ask the question: “What is your relationship with Prajapita Brahma?” This is because many people have the name Brahma; even some females have the name Brahma. No one has the name Prajapita, and this is why it is essential to have the name Prajapita. They speak of Prajapita and Adi Dev, but they don’t understand the meaning of Adi Dev. Prajapita would definitely exist here. Adi Dev is then that Brahma (the subtle one). Adi means the first one. Prajapita Brahma’s daughter is Saraswati. He cannot have a daughter in the subtle region. The creator is here. Only those who have broad and unlimited intellects are able to imbibe these things. Together with imbibing, you should also have good manners so that anyone who sees you becomes happy. The words that you speak are called jewels. The Father is Rup and Basant. He makes souls beautiful. Souls have now become ugly and they have to be made beautiful with yoga. You children are now becoming rup and basant. Only the imperishable jewels of knowledge should always emerge from your mouth. You children should have very sweet manners. Only jewels should always emerge from your mouth. There are many who continue to throw stones. The Father gives you jewels of knowledge. This is the business of you children. It is a very bad act to throw stones at one another. They only cause themselves harm. The Father is the Ocean of Knowledge. It has been explained to you how subtle His form is. Those people say that He is a lingam (oval shaped). First of all, give the Father’s introduction. Let them think that He is an oval-shaped light. Explain the deep things later. Then, later, ask them what the form of a soul is. Everyone says that a soul sparkles in the centre of the forehead, and so it would definitely be small. A big lingam wouldn’t even be able to sit there; there would be a bump there. First of all, make the relationship of the Father and child sit in their intellects. He is the unlimited Father. Where does Brahma come from? The Father comes and adopts this one, that is, He enters him. Your adoption is separate from his adoption. The Father enters this one. The Father says: This one is My wife. I have adopted him. I enter him and tell you: You are My mouth-born creation. I have created you through the mouth of Brahma. I don’t have a mouth of My own. How would Shiva say: You are My mouth-born creation? It is explained to you so well. The Father says: All of you souls are My children; you are brothers and sisters. This should enter your intellects. The Father is the Creator of heaven. So, why shouldn’t we receive the kingdom of heaven? Not everyone can go to heaven. The Father says: I grant salvation to everyone. You go into liberation and then come down, numberwise, to play your part s. Everyone receives liberation. Everyone can be liberated from the sorrow of Maya. You will then have to come down, numberwise, to play your part s. You are the first ones to go into liberation-in-life because you study Raja Yoga. Those who studied in the previous cycle are the ones who will come and study according to the drama. The drama is in front of you. There are now innumerable religions. There was just the one religion in the golden age. Who established the sun and moon dynasty religions? No one knows this. You know that only the Supreme Father, the Supreme Soul, establishes the Brahmin, deity and warrior religions. It truly is only the one Father who puts right that which has gone wrong. In the golden age you won’t call out: One who puts right that which has gone wrong, come! Here, your fortune has been ruined. There are the omens of Rahu. The highest omens are those of Jupiter. There are now the omens of Rahu. The whole world is eclipsed by the omens of Rahu. The whole world has become ugly. The golden-aged world was gradually eclipsed and the degrees continued to decrease and it has now become the iron-aged world. The Father now says: Make a donation and the eclipse will be removed. You have to conquer Maya, Ravan with the power of yoga. Vices are donated so that the omens are removed and you become full of all virtues. This is a matter of the unlimited. There are now no degrees remaining in souls and this is why they receive such tamopradhan bodies. Gold is measured by carats: 14 carat, 18 carat and now there are no carats in human beings; they have no sense at all. The Father says: I made you so sensible! I sent you to heaven. Then, by taking 84 births, look what you have become! You have been around the cycle so many times. You claim the kingdom every cycle and then lose it. While you are taking rebirth, there is expansion of everything. The intellects of you children should be very intoxicated. The kingdom is now being established. The garden of flowers is established at the confluence age. Only you Brahmins know the confluence age. Here, you children receive jewels. Then, when you go outside, you begin to throw stones. Maya hurts you a great deal. Such souls are called sinful souls. The Father says: Donate the imperishable jewels of knowledge. By throwing stones at one another your intellects have become complete stone. Your intellects are now becoming golden from iron. So, why then do you throw stones? If anyone tells you wrong things, consider that person to be your enemy. Never keep the company of or listen to such ones. Many people defame others. Some have the habit of defaming others. Such ones never say anything good about anyone that could benefit him. Baba always says: Continue to donate jewels of knowledge. Tell others what Baba tells you. You children will surely receive the return of service. You have to benefit yourself. Don’t defame anyone. You children have a huge responsibility. The Father has come to change you from thorns into flowers, and so this is also the business of you children. The Father is teaching you this business. Therefore, this is a factory for changing human beings into deities, thorns into flowers. Your knowledge is the material with which you change from humans into deities. So you should study this art. Continue to put right that which has gone wrong. Make those with stone intellects into those with divine intellects. This is your Godly missionary (mission) just as Christians have mission ary ; they convert others into Christians. Your Godly mission ary is to purify impure beings. People remember the Purifier. Therefore, He must definitely have come. He must have started a mission ary and that was how impure ones became pure. Ravan’s mission ary is to make pure ones impure whereas Rama’s mission ary is to make impure ones pure. The main thing is yoga. Why would you not remember BapDada from whom you receive the inheritance of the sovereignty of heaven? You have been remembering bodily beings for the whole cycle and you now have to remember the bodiless One, the One without an image. The One who doesn’t have an image definitely has to come here. It is remembered that the Brahmin, deity and warrior religions were established through Brahma. This is straightforward. Brahmins don’t have anyone else. You know that Shiv Baba is your Teacher and also your Satguru. There is just the one Satguru. He is also the Guru of Brahma. He wouldn’t be called the Guru of Vishnu. He became the Guru of Brahma and made him into the deity Vishnu. How could He be the Guru of Shankar? Shankar doesn’t become impure. He has no need of a guru. Brahma takes 84 births. You cannot say that there are 84 births of Vishnu or Shankar. These are such good points to imbibe and to inspire others to imbibe. Only those who imbibe them and enable others to imbibe them can receive a high status. If you don’t imbibe anything, your status becomes low. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Never keep the company of those who defame you. Don’t defame others or listen to others who do so. In order to make your intellect divine, donate jewels of knowledge through your mouth.
  2. With the material of knowledge, do the service of changing human beings into deities and thorns into flowers. Only do the business of benefiting yourself and others.
Blessing: May you be a world transformer who transforms impure intentions and feelings of all souls.
A rose uses foul-smelling manure and becomes a fragrant flower. In the same way, you elevated world transformer souls have to transform impure, wasteful and ordinary feelings and intentions into greatness; you have to change impure feelings and intentions into pure feelings and intentions and you will then easily and automatically develop the qualifications for an avyakt angel, the same as Father Brahma. It is in this way that the beads of the rosary will come close.
Slogan: Be an embodiment of experience and the sparkle of being fortunate will be visible on your face.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 18 September 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 20 SEPTEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 September 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 19 September 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 20/09/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
[Web-Dorado_Zoom]
20/09/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – इस समय सभी की तकदीर बिगड़ी हुई है, क्योंकि सब पतित हैं, तुम्हें अब श्रीमत पर सबकी तकदीर जगानी है, पावन बनने की युक्ति बतानी है”
प्रश्नः- सबसे खराब चाल कौन सी है, जिससे बहुत नुकसान होता है?
उत्तर:- एक दो को पत्थर मारना अर्थात् कडुवे बोल बोलकर जख्मी कर देना – यह है सबसे खराब चाल़ इससे बहुत नुकसान होता है। तुम बच्चों को अब रूप-बसन्त बनना है। अच्छे मैनर्स धारण करने हैं। तुम्हारे मुख से सदैव अविनाशी ज्ञान रत्न निकलने चाहिए। आत्मा को भी याद से रूपवान बनाना है और बाप, जो ज्ञान रत्न देते हैं, उनका दान करना है। बहुत मीठे बोल बोलने हैं। कड़ुवे बोल बोलने वाले से किनारा कर लेना है।
गीत:- भोलेनाथ से निराला…

ओम् शान्ति। बाप हमेशा भोले होते हैं। एक होता है हद का बाप, दूसरा होता है बेहद का बाप। बाप तो होते ही हैं – एक लौकिक और दूसरा पारलौकिक। लौकिक बाप को तो सब जानते ही हैं। तुम ब्राह्मण लौकिक बाप और पारलौकिक बाप दोनों को जानते हो। लौकिक बाप भी भोले ही हैं। बच्चे पैदा कर, उनकी सम्भाल कर, मेहनत कर फिर सब बच्चे को दे देते हैं। झूठ आदि बोल करके कमाते हैं कि पिछाड़ी में पुत्र पोत्रे के लिए छोड़ जायें। बाप का बच्चों पर बहुत प्यार होता है। छोटेपन में ही बच्चा बाबा-बाबा कहने लग पड़ता है। बाबुल अक्षर बहुत मीठा है। अब तुम बच्चों ने बेहद के बाप को भी जाना है। बेहद के बाप ने तो कमाल की है। कितनी बेहद की नॉलेज सुनाते हैं। लौकिक बाप तो समझा न सकें। भल धन आदि देते हैं परन्तु बिगड़ी को तो वह बना न सकें। बिगड़ी को बनाने वाला भगवान भोलानाथ ही है। वह कल्प-कल्प सर्व की बिगड़ी को बनाने वाला… सर्व को गति सद्गति देने वाला है। लौकिक बाप टीचर गुरू हमको बेहद का मालिक नहीं बना सकते। बेहद बाप को जानना और रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानना, यह और कोई जानते ही नहीं। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार बच्चों की बुद्धि में है कि यह बेहद का चक्र कैसे फिरता है? बच्चे जानते हैं यह बना बनाया ड्रामा है। वही हमें पुरूषार्थ कराते हैं। हम पुरूषार्थ जरूर करेंगे। कल्प-कल्प जैसे श्रीमत पर पुरूषार्थ किया था, वैसे हर एक कर रहे हैं – अपनी बिगड़ी को बनाने। देखते हैं कि बहनें और भाई सब बिगड़ी को बनाने के पुरूषार्थ में लगे हुए हैं। भारतवासी पुकारते भी हैं कि हे बिगड़ी को बनाने वाले, हे पतित-पावन आओ। रावण ने बिगाड़ा है, जिससे ही धर्म भ्रष्ट, कर्म भ्रष्ट बन पड़े हैं। अब तुम बच्चों ने यह सब बाप द्वारा जाना है। मनुष्य सृष्टि जिसका नाम कल्प वृक्ष है, यह बहुत नामीग्रामी है। जिसका राज़ भी बुद्धि में बैठ गया है। मनुष्य लोग जब तुम्हारे चित्र देखते हैं तो कहते हैं कि यह तो कल्पना है – जो 5 हजार वर्ष का कल्प वृक्ष बनाया है। हम तो इस पर बहुत अच्छी रीति समझाते हैं। कल्प वृक्ष जिसका बनेन ट्री के साथ भी मुकाबला करते हैं। समझाते हैं आदि सनातन देवी-देवता धर्म था, अब वह प्राय:लोप है। ड्रामा प्लैन अनुसार और सब धर्म हैं। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी जो मुख्य स्वर्ग की गाई जाती है, उनको फिर से रिपीट होना है। अच्छी हिस्ट्री-जॉग्राफी है ही स्वर्ग की। सब कहते भी हैं – हमको रामराज्य चाहिए, जिसमें दु:ख का नाम-निशान न हो। अब तो रावण राज्य है परन्तु यह कोई नहीं समझते कि हम ही रावण हैं। यह बातें तुम बच्चों की बुद्धि में हैं। मनुष्यों को तो कुछ भी पता नहीं। बिगड़ी को बनाने वाला कैसे आते हैं, कैसे बिगड़ी को बनाते हैं! पतित को कहेंगे बिगड़े हुए। हमारी बुद्धि अथवा तकदीर कैसे बिगड़ी हुई थी। यह अब तुम्हारी बुद्धि में है। उन्हों की रसम-रिवाज ही रावण की है। तुम्हारी रसम-रिवाज है राम की। राम कोई वह त्रेता वाला नही। उसने गीता नहीं सुनाई थी। आजकल विलायत में भी रामायण आदि सुनाते हैं। कोई-कोई तो गेरू कफनी पहन कुटियाओं में जाकर रहते हैं। अब तुम बच्चों को कोई कुटिया आदि में नहीं रहना है। कुटिया में कब पाठशाला होती है क्या? वहाँ तो फकीर लोग रहते हैं। तुम्हारी तो पढ़ाई है। परन्तु यह है नई गवर्मेन्ट इसलिए कोई समझ न सके कि तुम कौन हो। एक मिनिस्टर को समझाओ तो दूसरा कहेंगे तुम बूद्धू हो। यह है बिल्कुल नई बातें। बाबा समझाते रहते हैं। करेक्शन भी करते जाओ। ब्रह्माकुमार कुमारियों के आगे प्रजापिता ब्रह्मा जरूर लिखना चाहिए। प्रजापिता कहने से बाप सिद्ध हो जाता है। हम प्रश्न ही पूछते हैं कि प्रजापिता ब्रह्मा से क्या सम्बन्ध है? क्योंकि ब्रह्मा नाम तो बहुतों के हैं। कोई फीमेल का नाम भी ब्रह्मा है। प्रजापिता नाम तो किसका होता नहीं, इसलिए प्रजापिता अक्षर बहुत जरूरी है। प्रजापिता आदि देव कहते हैं। परन्तु आदि देव का अर्थ नहीं समझते। प्रजापिता तो जरूर यहाँ ही होगा ना। आदि देव फिर वह ब्रह्मा (सूक्ष्म) हो जाता है। आदि अर्थात् शुरूआत का। प्रजापिता ब्रह्मा को फिर बेटी है सरस्वती। सूक्ष्मवतन में तो बेटी हो न सके। रचयिता तो यहाँ है ना। इन गुह्य बातों को विशालबुद्धि वाले ही धारण कर सकते हैं। धारणा के साथ मैनर्स भी चाहिए। जो कोई भी देख खुश हो। तुम्हारा बोल जो निकलता है उनको रत्न कहा जाता है। बाप रूप-बसन्त है। आत्मा को रूपवान बनाते हैं। अब तो आत्मा काली कुरूप है, उनको योग से रूपवान बनाना है।

तुम बच्चे अभी रूप-बसन्त बनते हो। मुख से सदैव अविनाशी ज्ञान रत्न निकलते हैं। बच्चों के मैनर्स बहुत मीठे होने चाहिए। मुख से हमेशा रत्न ही निकलने चाहिए। बहुत हैं जो पत्थर ही मारते हैं। बाप ज्ञान रत्न देते हैं। तुम बच्चों का भी यही धन्धा है। एक दो को पत्थर मारना – यह तो बड़ी खराब चाल है। अपना नुकसान कर देते हैं। बाप है ज्ञान का सागर। उसका रूप भी समझाया है कि कितना सूक्ष्म है। वह तो लिंग कह देते हैं। पहले तो बाप का परिचय देना है। भल वह ज्योर्तिलिंगम ही समझें। डीप बात बाद में समझानी होती है। फिर पूछना होता है आत्मा का रूप क्या है? यह तो सब कहते हैं भृकुटी के बीच में चमकती है। तो जरूर छोटी ही होगी। बड़ा लिंग तो यहाँ बैठ भी न सके। गोला निकल आये। पहले तो बाप और बच्चे का सम्बन्ध बुद्धि में बिठाना चाहिए। वह तो है बेहद का बाप। अब ब्रह्मा कहाँ से आता है? बाप आकर इनको एडाप्ट करते हैं अर्थात् इसमें प्रवेश करते हैं। तुम्हारी एडाप्शन अलग है, इनकी अलग है। बाप इसमें प्रवेश करते हैं। बाप कहते हैं यह मेरी स्त्री है, मैंने एडाप्ट किया है। मैं इनमें प्रवेश हो कहता हूँ तुम हमारी मुख वंशावली हो। मैंने तुमको ब्रह्मा मुख से रचा है। मुझे तो अपना मुख है नहीं। शिव कैसे कहेंगे मेरी मुख वंशावली। कितना अच्छी रीति समझाया जाता है। बाप कहते हैं तुम सब आत्मायें मेरे बच्चे हो। भाई-बहन हो। बुद्धि में यह आना चाहिए। बाप स्वर्ग रचने वाला है। तो हमको स्वर्ग की राजाई क्यों नहीं मिलनी चाहिए। स्वर्ग में तो सब नहीं जा सकते। बाप कहते हैं सर्व की सद्गति करता हूँ। तुम मुक्ति में जाकर फिर पार्ट बजाने आते हो नम्बरवार। मुक्ति सबको मिलती है। माया के दु:ख से सब छूट सकते हैं। फिर नम्बरवार आना होगा पार्ट बजाने। जीवनमुक्ति में पहले-पहले तुम जाते हो, क्योंकि तुम राजयोग सीखते हो ना। जिन्होंने कल्प पहले आकर सीखा है वही आकर सीखेंगे – ड्रामा अनुसार। ड्रामा सामने खड़ा है ना। अभी तो अनेक धर्म हैं। सतयुग में एक धर्म था। सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी धर्म किसने स्थापन किया? यह कोई नहीं जानते। तुम जानते हो परमपिता परमात्मा ही ब्राह्मण, देवता, क्षत्रिय धर्म स्थापन करते हैं। बिगड़ी को सुधारने वाला बरोबर एक बाप ही है। सतयुग में तो बुलायेंगे नहीं कि बिगड़ी को बनाने वाले आओ। यहाँ तकदीर बिगड़ी हुई है। राहू की दशा बैठी हुई है। ऊंच ते ऊंच ब्रहस्पति की दशा थी। अब आकर राहू की दशा बैठी है। सारे विश्व पर राहू का ग्रहण लगा हुआ है। सारी दुनिया काली बन गई है। गोल्डन एजेड वर्ल्ड को ग्रहण लगते-लगते कला कम होते-होते आखरीन आइरन एजेड वर्ल्ड बन जाता है। अब बाप कहते हैं कि दे दान तो छूटे ग्रहण। योगबल से माया रावण को जीतना है। विकारों का दान दिया जाता है तो ग्रहण छूट जाता है। हम सर्वगुण सम्पन्न… बन जाते हैं। बेहद की बात हुई ना। अभी आत्मा में कोई कला नहीं रही है इसलिए शरीर भी ऐसे तमोप्रधान मिलते हैं। जैसे सोने में कैरेट होती है ना। 14 कैरेट 18 कैरेट, अभी तो मनुष्यों में कोई कैरेट नहीं रही है। कुछ भी अक्ल नहीं है। बाप कहते हैं मैंने तुमको कितना समझदार बनाया था। तुमको स्वर्ग में भेजा था फिर तुम 84 जन्म लेते-लेते क्या बन पड़े हो। अनेक बार यह चक्र लगाया है। कल्प-कल्प राज्य लेते हो फिर गँवाते हो। पुनर्जन्म लेने से वृद्धि तो सबकी होती रहती है। बच्चों को बुद्धि में बहुत नशा चढ़ना चाहिए। अब राजधानी स्थापन हो रही है। फूलों का बगीचा स्थापन होता है संगम पर। संगम को तुम ब्राह्मण ही जानते हो। यहाँ तुम बच्चों को रत्न मिलते हैं। फिर बाहर जाने से पत्थर मारने लग पड़ते हैं। माया जख्मी कर देती है। उनको कहेंगे पाप आत्मा। बाप कहते हैं अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान करो। एक दो को तुम पत्थर मारते-मारते एकदम पत्थरबुद्धि बन पड़े हो। अब तुम्हारी बुद्धि लोहा से सोना जैसी बन रही है। फिर तुम पत्थर क्यों मारते हो! अगर कोई उल्टी बातें सुनाये तो समझो यह हमारा दुश्मन है। ऐसे का संग कभी नहीं करना, न सुनना। निंदा आदि एक दो की तो बहुत सुनायेंगे। कोई-कोई में निंदा करने की आदत होती है। तो वह कब अच्छी बात नहीं सुनायेंगे, जिससे कल्याण हो। बाबा हमेशा समझाते हैं कि ज्ञान रत्न दान करते रहो। बाबा जो सुनाते हैं वह औरों को सुनाओ। सर्विस का उजूरा तो बच्चों को मिलना ही है। आपेही अपना कल्याण करना है। किसकी ग्लानी नहीं करनी है। तुम बच्चों पर बड़ी रेसपान्सिबिलिटी है। बाप काँटों से फूल बनाने आये हैं तो बच्चों का भी यही धन्धा है। बाप यह धन्धा सिखलाते हैं। तो यह मनुष्य को देवता, काँटों को फूल बनाने की फैक्ट्री हुई ना। तुम्हारा ज्ञान मटेरियल है जिससे तुम मनुष्य से देवता बनते हो। तो वह हुनर सीखना चाहिए ना। बिगड़ी को बनाते रहो। पत्थर-बुद्धि को पारसबुद्धि बनाओ।

यह तुम्हारी गॉडली मिशनरी है। जैसे क्रिश्चियन की मशीनरी है। वह औरों को क्रिश्चियन बनाते हैं। तुम्हारी ईश्वरीय मिशनरी है पतितों को पावन बनाने की। पतित-पावन गाते हैं तो जरूर आया होगा। मिशनरी जारी की होगी, तब तो पतित से पावन बनें। रावण की मशीनरी है पावन को पतित बनाना। राम की मशीनरी है पतितों को पावन बनाना। मुख्य है ही योग। बापदादा जिससे स्वर्ग की बादशाही का वर्सा मिलता है उनको याद भला क्यों नहीं करेंगे। सारा कल्प तो देहधारी को याद किया है। अब याद करना है – विदेही को, विचित्र को। जिनका कोई चित्र नहीं, उनको आना जरूर पड़ता है। गाया भी जाता है ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण देवता क्षत्रिय धर्म की स्थापना। यह तो सीधी बात है। ब्राह्मणों का दूसरा कोई है भी नहीं। तुम जानते हो शिवबाबा हमारा टीचर भी है, सतगुरू भी है। सतगुरू तो एक ही है। ब्रह्मा का भी वह गुरू हो गया। विष्णु का गुरू नहीं कहेंगे। ब्रह्मा का गुरू बन उनको विष्णु देवता बनाया है। शंकर का भी गुरू कैसे हो सकता। शंकर तो पतित बनता ही नहीं। उनको गुरू की क्या दरकार है। ब्रह्मा तो 84 जन्म लेते हैं। विष्णु वा शंकर के 84 जन्म नहीं कहेंगे। कितनी अच्छी धारण करने और कराने की बातें हैं। जो धारण करते और कराते हैं वही ऊंच पद पाते हैं। धारणा नहीं करेंगे तो पद भी कम हो जायेगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) निंदा करने वाले का संग कभी भी नहीं करना है। न ग्लानी करनी है, न सुननी है। बुद्धि को पारस बनाने के लिए मुख से ज्ञान रत्नों का दान करना है।

2) ज्ञान मटेरियल से मनुष्यों को देवता, काँटों को फूल बनाने की सेवा करनी है। अपना और सर्व का कल्याण करने का ही धन्धा करना है।

वरदान:- सर्व आत्माओं के अशुभ भाव और भावना का परिवर्तन करने वाले विश्व परिवर्तक भव 
जैसे गुलाब का पुष्प बदबू की खाद से खुशबू धारण कर खुशबूदार गुलाब बन जाता है। ऐसे आप विश्व परिवर्तक श्रेष्ठ आत्मायें अशुभ, व्यर्थ, साधारण भावना और भाव को श्रेष्ठता में, अशुभ भाव आर भावना को शुभ भाव और भावना में परिवर्तन करो, तब ब्रह्मा बाप समान अव्यक्त फरिश्ता बनने के लक्षण सहज और स्वत: आयेंगे। इसी से माला का दाना, दाने के समीप आयेगा।
स्लोगन:- अनुभवी स्वरूप बनो तो चेहरे से खुशनसीबी की झलक दिखाई देगी।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 18 September 2017 :- Click Here

Font Resize