today murli 20 december

TODAY MURLI 20 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 20 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 19 December 2018 :- Click Here

20/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, stop being confused by questions and remain “Manmanabhav”. Remember the Father and the inheritance. Become pure and make others pure.
Question: Why can Shiv Baba not let you children worship Him?
Answer: Baba says: I am the most obedient Servant of you children. You children are My masters. I salute you children. The Father is egoless. Children have to become equal to the Father. How can I let you children worship Me? I don’t even have feet which you could wash. You have to become God’s helpers and serve the world.
Song: This is a story of the battle of the weak and the powerful, of the lamp and the storms.

Om shanti. Incorporeal God Shiva speaks. Shiv Baba is incorporeal and the souls who say, “Shiv Baba”, are in fact also incorporeal. They are residents of the incorporeal world. You have become corporeal in order to play your parts here. All of us have feet. Even Krishna has feet. They worship the feet. Shiv Baba says: I am obedient. I don’t have feet that I would make you wash and worship them. Sannyasis have their feet washed. Householders go and wash their (the sannyasis) feet. It is human beings who have feet. Shiv Baba doesn’t have feet that you would have to worship His feet. That is the paraphernalia of worship. The Father says: I am the Ocean of Knowledge. How could I allow My children to wash My feet? The Father says: Salutations to the mothers! What should the mothers then say? Yes, they should stand up and say: Shiv Baba, namaste, just as others say: Salaam Aleikum (salutations). However, in that too, the Father has to say “Namaste” first. He says: I am most obedient. I am the unlimited Servant. He is incorporeal and so egoless. There is no question of worshipping. How can I let the most beloved children, who become the masters of the property, worship Me? Yes, little children bow down at the feet of their father because the father is senior. However, the father is in fact also the servant of the children. Baba knows that Maya troubles you children a lot. It is a very severe part. A lot of limitless sorrow is yet to come. All of this is a matter of the unlimited. It is only then that the unlimited Father comes. The Father says: I alone am the Bestower. No one else can be called the Bestower. Everyone asks the Father for things. Even sages ask for liberation. The householders of Bharat ask God for liberation-in-life. So the Bestower is One. It is remembered: The Bestower of Salvation for all is One. If the sages themselves are making spiritual endeavour, how can they grant liberation or salvation to others? The Proprietor of both the land of liberation and the land of liberation-in-life is the one Father. He only comes once and at His own time. All others continue to enter birth and death. That One only comes once when the kingdom of Ravan has to end. He cannot come before that. It is not in His part of the drama. So the Father says: You have now received recognition of Me from Me. Because people don’t know Me, they have called Me omnipresent. It is now the kingdom of Ravan. It is only the people of Bharat who continue to burn an effigy of Ravan. So this proves that the kingdom of Ravan exists in Bharat and that the kingdom of Rama also exists in Bharat. Only the One who establishes the kingdom of Rama explains how it is now the kingdom of Ravan. Who explains this? Incorporeal God Shiva speaks. Souls would not be called Shiva. All souls are saligrams. Only the One is called Shiva. There are many saligrams. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. When those brahmins create sacrificial fires, they create a big Shivalingam and many small saligrams and worship them. The goddesses are worshipped year after year, whereas they create them (saligrams) of clay every day and worship them. There is great respect for Rudra. They don’t know who the saligrams are. You, the Shiv Shakti Army, make impure ones pure. Shiva is worshipped, but what about the saligrams? So many people create a sacrificial fire of Rudra and worship the saligrams. You children also made effort together with Shiv Baba. You are Shiv Baba’s helpers. You are called God’s helpers. The incorporeal One, Himself, would surely enter someone’s body. In heaven, there is no need for any help. Shiv Baba says: Look, these children are My helpers. They are numberwise. Not everyone can be worshipped. This sacrificial fire only takes place in Bharat. Only the Father explains these secrets. Those brahmins and merchants don’t know this. In fact, this is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. You children become pure and make Bharat into heaven. This is a big hospital where we become ever healthy through yoga. The Father says: Remember Me! Body consciousness is the number one vice that breaks your yoga. It is when you become body conscious and forget the Father that the other vices also come. It takes a lot of effort to have this yoga constantly. People consider Krishna to be God and worship him. However, he is not the Purifier that his feet would be worshipped. Shiva doesn’t have any feet at all. He comes and becomes the Servant of the mothers and says: Remember the Father and heaven and you will then rule a kingdom for 21 births. Twenty one generations are remembered. They are not remembered in other religions. None of those of the other religions receive a sovereignty in heaven for 21 births. This drama is also predestined. Those of the deity religion who have become mixed with other religions will emerge again. The happiness of heaven is limitless. There is very good happiness in the new world, in a new building. As soon as it becomes a little old, there are some flaws in it, and so it has to be repaired. Therefore, just as the Father’s praise is limitless, so the praise of heaven is also limitless. You are making effort to become the masters of heaven. No one else can make you into the masters of heaven. You children know that the scenes of destruction are very painful. You should claim your inheritance from the Father before that. The Father says: Now belong to Me, that is, come into God’s lap. Shiv Baba is great, and so you have a lot of attainment. The happiness of heaven is limitless. As soon as you hear its name, your mouth begins to water. They say: so-and-so has gone to heaven. Everyone loves heaven. This is hell and no one can go to heaven until the golden age comes. The Father explains: This Jagadamba goes to heaven and becomes the Empress Lakshmi, and then the children also become this (receive a status) numberwise. Mama and Baba make more effort. Even the children will rule there. It would not be just Lakshmi and Narayan who rule there. So the Father comes and changes you from human beings into deities; He teaches you. They say that Krishna makes you that (into deities). However, Krishna has been shown in the copper age. Deities don’t exist in the copper age. Sannyasis cannot say that they show you the path to heaven. God is needed for that. They say: The gates to liberation and liberation-in-life will open at the end of the iron age. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. I am Shiva, Rudra, and all are saligrams. All of you are bodily beings. I have taken a body on loan. All of you are Brahmins. No one except Brahmins can have this knowledge. Shudras can’t have it. The deities of the golden age had divine intellects; the Father is now making you become like them. Sannyasis cannot make the intellect of anyone divine. Although they themselves are pure, they still fall ill. In heaven, no one would ever fall ill. There, there is limitless happiness and this is why the Father says: Make full effort. This is a race . This is a race to be threaded in the rosary of Rudra. We souls have to race in yoga. The more yoga you have, the more it will be understood that you are running fast and that your sins will continue to be absolved. While walking, sitting and moving around, you are on a pilgrimage. The pilgrimage of your intellects’ yoga is very good. You say: Why would we not remain pure in order to attain the limitless happiness of such a heaven? Maya cannot shake us. You have to make a promise. This is your final birth and everyone has to die, and so why not claim your inheritance from the Father? Baba has so many children. There is Prajapita and so He must definitely have created a new creation. The new creation is of Brahmins. Brahmins are spiritual social workers. Deities experience the reward. You are serving Bharat and this is why you alone become the masters of heaven. By serving Bharat, you serve everyone. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Shiva, not Krishna, is called Rudra. Krishna is a prince of the golden age. Those sacrificial fires etc. will not exist there. This is now the kingdom of Ravan and it has to end, so you will never create an effigy of Ravan. The Father Himself comes and liberates you from those chains. He even liberated this Brahma from the chains. Look what everyone’s condition has become by reading the scriptures! So, the Father says: Now, remember Me. You don’t have the courage to remember the Father. Some don’t remain pure and continue to ask useless questions. Therefore, the Father says: Manmanabhav! If you become confused about something, then put it aside. Become “Manmanabhav”. Don’t think that you have to stop studying because you didn’t receive a response to your question. Some say: You have God here and so why don’t you give a response? The Father says: You are only concerned with the Father and the inheritance. You also have to remember the cycle. Those people also show the Trimurti and the cycle. They write: “Victory for Truth”, but they don’t understand the meaning of that. You can explain to them: When you remember Shiv Baba, you would also remember Brahma, Vishnu and Shankar, the residents of the subtle region, and by spinning the discus of self-realisation you will become victorious. Victory means to gain victory over Maya. This is a matter of such great understanding. Here, the law is that storks cannot sit in a gathering of swans. The BKs who make everyone into angels of heaven have a huge responsibility. When someone comes, first of all, ask him: Do you know the Father of souls? Those who ask the question must surely know. Sannyasis would never ask such questions. They don’t know. You should ask: Do you know the unlimited Father? First of all, become engaged to Him. This is the business of Brahmins. The Father says: O souls, have yoga with Me because you have to come to Me. The golden-aged deities have remained separated for a long time and so they are the ones to receive knowledge first. Lakshmi and Narayan have completed their 84 births and so they are the ones who should receive knowledge first. The father of the tree of the human world is Brahma and the Father of souls is Shiva. So, they are Bap and Dada and you are His grandchildren. You receive knowledge from Him. The Father says: Only when I enter hell do I create heaven. God Shiva speaks: Lakshmi and Narayan are not trikaldarshi. They don’t have the knowledge of the Creator or of creation and so how could this knowledge have existed from time immemorial? Some think that you simply keep saying that death is about to come, and yet nothing happens. There is an example of this. A small boy kept saying that a lion had come, but no lion ever came. Eventually, one day, a lion did come and ate all the sheep. All of those stories refer to the present time. One day, death will eat everyone. What will you be able to do then? This is such a big sacrificial fire of God. No one except God can create such a big sacrificial fire. If you call yourself a Brahmin, a mouth-born creation of Brahma, and don’t become pure, you die. You have to make a promise to Shiv Baba. Sweet Baba, Baba who is making me into a master of heaven, I am Yours, and I will remain Yours until the end. If you divorce such a Father or Bridegroom, you won’t be able to become an emperor or empress. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a true helper of God and help the Father with your purity in making Bharat into heaven. Become a spiritual social worker.
  2. Don’t stop studying due to being confused by any type of question. Put aside the questions and remember the Father and the inheritance.
Blessing: May you be crowned with the crown of the kingdom of the world by being crowned with the crown of responsibility for world transformation through self-transformation.
Just as you all consider yourselves to have a right over the Father and over your attainments, in the same way, be crowned with the responsibility of self-transformation and world-transformation. You will then have a right to be crowned with the crown of the kingdom of the world. The present is the basis for the future. Check and look into the mirror of knowledge as to whether in your Brahmin life you have the double crown of purity and the study and service. If any crown is incomplete here, you will claim a right to a small crown there.
Slogan: Remain constantly under within the canopy of BapDada’s protection and you will become a destroyer of obstacles.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 20 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 December 2018

To Read Murli 19 December 2018 :- Click Here
20-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – प्रश्नों में मूझंना छोड़ मनमनाभव रहो, बाप और वर्से को याद करो, पवित्र बनो और बनाओ”
प्रश्नः- शिवबाबा तुम बच्चों से अपनी पूजा नहीं करवा सकते हैं, क्यों?
उत्तर:- बाबा कहते – मैं तुम बच्चों का मोस्ट ओबीडियन्ट सर्वेन्ट हूँ। तुम बच्चे मेरे मालिक हो। मैं तो तुम बच्चों को नमस्ते करता हूँ। बाप है निरहंकारी। बच्चों को भी बाप समान बनना है। मैं तुम बच्चों से अपनी पूजा कैसे कराऊंगा। मेरे पैर भी नहीं हैं, जिसको तुम धुलाई करो। तुम्हें तो खुदाई खिदमतगार बन विश्व की सेवा करनी है।
गीत:- निर्बल से लड़ाई बलवान की….. 

ओम् शान्ति। निराकार शिव भगवानुवाच। शिवबाबा निराकार है और आत्मायें जो शिवबाबा कहती हैं वह भी असुल में निराकार हैं। निराकारी दुनिया में रहने वाले हैं। यहाँ पार्ट बजाने के लिए साकार बने हैं। अब हम सबको तो पैर हैं। कृष्ण को भी पांव हैं। पैर पूजते हैं ना। शिवबाबा कहते हैं मैं तो हूँ ओबीडियन्ट, मेरे पैर हैं नहीं जो तुमसे पैर धुलाऊं वा पूजा कराऊं। सन्यासी पैर धुलाते हैं ना। गृहस्थी लोग जाकर उनके पैर धोते हैं। पैर तो मनुष्यों के हैं। शिवबाबा को पैर ही नहीं हैं, जो तुमको पैर की पूजा करनी पड़े। यह है पूजा की सामग्री। बाप कहते हैं मैं तो ज्ञान का सागर हूँ। मैं अपने बच्चों से कैसे पैर धुलाऊंगा? बाप तो कहते हैं वन्दे मातरम्। माताओं को फिर क्या कहना है? हाँ, खड़े होकर कहेंगे शिवबाबा नमस्ते। जैसे सलाम मालेकम् कहते हैं ना। सो भी बाप को पहले नमस्ते करना पड़ता है। कहते हैं आई एम मोस्ट ओबीडियन्ट। बेहद का सर्वेन्ट हूँ। निराकार और निरहंकारी कितना है। पूजा की तो बात ही नहीं। मोस्ट बिलवेड चिल्ड्रेन, जो मिलकियत के मालिक बनते हैं, उनसे कैसे पूजा करायेंगे? हाँ, छोटे बच्चे बाप के पांव पड़ते हैं क्योंकि बाप बड़ा है। परन्तु वास्तव में तो बाप बच्चों का भी सर्वेन्ट है। जानते हैं कि बच्चों को माया बहुत तंग करती है। बहुत कड़ा पार्ट है। बहुत अपार दु:ख अजुन आने वाले हैं। यह सारी बेहद की बात है, तब ही बेहद का बाप आते हैं। बाप कहते हैं दाता मैं एक ही हूँ, अन्य किसी को भी दाता नहीं कह सकते। बाप से सब मांगते हैं। साधू लोग भी मुक्ति मांगते हैं। भारत के गृहस्थी लोग भगवान् से जीवनमुक्ति मांगते हैं। तो दाता एक हो गया। गाया भी हुआ है – सर्व का सद्गति दाता एक। साधू लोग जब खुद ही साधना करते हैं तो औरों को फिर गति-सद्गति कैसे दे सकते हैं? मुक्तिधाम और जीवनमुक्तिधाम दोनों का प्रोपराइटर एक ही बाप है। वह अपने समय पर आते हैं एक ही बार। और सभी जन्म-मरण में आते रहते हैं। यह एक ही बार आते हैं जबकि रावण का राज्य खत्म होना होता है। उसके पहले आ नहीं सकते। ड्रामा में पार्ट ही नहीं है। तो बाप कहते हैं तुमने मेरे द्वारा मुझे अब पहचाना है। मनुष्य नहीं जानते तो सर्वव्यापी कह दिया है।

अभी तो है रावण राज्य। भारतवासी ही रावण को जलाते रहते हैं। तो सिद्ध है रावण राज्य भारत में है, रामराज्य भी भारत में हैं। यह बातें रामराज्य स्थापन करने वाला ही समझाते हैं कि कैसे अब रावण राज्य है। यह कौन समझाते हैं? निराकार शिव भगवानुवाच। आत्मा को शिव नहीं कहेंगे। आत्मायें हैं सब सालिग्राम। शिव एक को ही कहा जाता है। सालिग्राम तो अनेक होते हैं। यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ। वह ब्राह्मण लोग जो यज्ञ रचते हैं, उसमें एक बड़ा शिवलिंग और छोटे-छोटे सालिग्राम बनाकर पूजा करते हैं। देवियों आदि की पूजा तो वर्ष-वर्ष होती है। यह तो रोज़ मिट्टी के बनाते हैं और पूजा करते हैं। रुद्र का बड़ा मान होता है। सालिग्राम कौन है, वह तो जानते नहीं। तुम शिवशक्ति सेना पतितों को पावन बनाती हो। शिव की पूजा तो होती है। सालिग्राम कहाँ जायें? तो बहुत मनुष्य रुद्र यज्ञ रच सालिग्रामों की पूजा करते हैं। शिवबाबा के साथ बच्चों ने भी मेहनत की है। शिवबाबा के मददगार हैं। उन्हों को कहा जाता है खुदाई खिदमगार। खुद निराकार भी जरूर कोई शरीर में आयेंगे ना। स्वर्ग में तो खिदमत की दरकार नहीं। शिवबाबा कहते हैं देखो यह मेरे खिदमतगार बच्चे हैं। नम्बरवार तो हैं ना। सबकी पूजा तो कर न सकें। यह यज्ञ भी भारत में ही होते हैं। यह राज़ बाप ही समझाते हैं। वह ब्राह्मण लोग वा सेठ लोग थोड़ेही जानते हैं। वास्तव में यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ। बच्चे पवित्र बन भारत को स्वर्ग बनाते हैं। यह बड़ी हॉस्पिटल है, जहाँ योग द्वारा हम एवरहेल्दी बनते हैं। बाप कहते हैं मुझे याद करो। देह-अहंकार पहला नम्बर विकार है जो योग तोड़ता है। बॉडीकान्सेस होते हो, बाप को भूलते हो तब ही फिर और विकार आ जाते हैं। यह योग निरन्तर लगाना बड़ी मेहनत है। मनुष्य कृष्ण को भगवान् समझ उनकी पूजा करते हैं। परन्तु वह पतित-पावन तो है नहीं, जो उनके पैर पूजे जायें। शिव तो है ही बिगर पांव। वह तो आकर माताओं का सर्वेंन्ट बनते हैं और कहते हैं बाप और स्वर्ग को याद करो तो फिर तुम 21 जन्म राज्य करेंगे। 21 पीढ़ी गाई हुई हैं। और धर्मों में नहीं गायी जाती। किसी भी धर्म वाले को 21 जन्म स्वर्ग की बादशाही नहीं मिलती है। यह भी ड्रामा बना हुआ है। देवता धर्म वाले जो और धर्मो में मिक्स हो गये हैं वह फिर निकल आयेंगे। स्वर्ग के सुख तो अपरमपार हैं। नई दुनिया, नये मकान में अच्छा सुख होता है। थोड़ा पुराना होने में कुछ न कुछ दाग हो जाते हैं फिर रिपेयर किया जाता है। तो जैसे बाप की महिमा अपरमपार है वैसे स्वर्ग की महिमा भी अपरमपार है, जिसका मालिक बनने का तुम पुरुषार्थ कर रहे हो। और कोई स्वर्ग का मालिक बना न सके।

तुम बच्चे जानते हो विनाश की सीन बड़ी दर्दनाक है। उनके पहले बाप से वर्सा ले लेना चाहिए। बाप कहते हैं अब मेरे बनो अर्थात् ईश्वरीय गोद लो। शिवबाबा बड़ा है ना। तो तुमको प्राप्ति बहुत है। स्वर्ग के सुख अपरमपार हैं। नाम सुनते ही मुख पानी होता है। कहते भी हैं फलाना स्वर्ग पधारा। स्वर्ग प्यारा लगता है ना। यह तो है ही नर्क, जब तक सतयुग न हो तब तक स्वर्ग में कोई जा न सके। बाप समझाते हैं यह जगदम्बा जाकर फिर स्वर्ग की महारानी लक्ष्मी बनती है फिर बच्चे भी नम्बरवार बनते हैं। मम्मा-बाबा जास्ती पुरुषार्थ करते हैं। राज्य तो वहाँ बच्चे भी करेंगे ना। सिर्फ लक्ष्मी-नारायण तो नहीं करेंगे। तो बाप आकर मनुष्य से देवता बनाते हैं, पढ़ाते हैं। अगर कहते कृष्ण बनाते हैं तो फिर कृष्ण को तो ले गये हैं द्वापर में। द्वापर में तो देवता होते नहीं। सन्यासी कह न सकें कि हम स्वर्ग जाने के लिए रास्ता बताते हैं। उसके लिए तो भगवान् चाहिए। कहते हैं मुक्ति-जीवनमुक्ति के द्वार कलियुग के अन्त में खुलेंगे। यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ। मैं हूँ शिव, रुद्र और यह हैं सालिग्राम। यह सब शरीरधारी हैं। मैंने शरीर का लोन लिया हुआ है। यह सब ब्राह्मण हैं। ब्राह्मण बिगर यह ज्ञान कोई में होता नहीं। शूद्रों में भी नहीं है। सतयुग में देवी-देवतायें तो पारसबुद्धि थे, जो बाप ही अब बनाते हैं। सन्यासी किसको पारसबुद्धि बना न सकें। भल खुद पवित्र हैं फिर भी बीमार हो पड़ते हैं। स्वर्ग में कभी बीमार नहीं पड़ेंगे। वहाँ तो अपार सुख हैं इसलिए बाप कहते हैं पूरा पुरुषार्थ करो। रेस होती है ना। यह है रुद्र माला में पिरोने की रेस। अहम् आत्मा को दौड़ी लगानी है योग की। जितना योग लगायेंगे तो समझेंगे यह तीखा दौड़ रहा है। उनके विकर्म विनाश होते जायेंगे। तुम उठते-बैठते, चलते-फिरते यात्रा पर हो। बुद्धियोग की यह बहुत अच्छी यात्रा है। तुम कहते हो ऐसे स्वर्ग के अपरमपार सुख पाने के लिये पवित्र क्यों नहीं रहेंगे। हमको माया हिला नहीं सकती। प्रतिज्ञा करनी होती है। अन्तिम जन्म है, मरना तो है ही, तो क्यों नहीं बाप से वर्सा ले लेवें। कितने बाबा के बच्चे हैं। प्रजापिता है, तो जरूर नई रचना रचते हैं। नई रचना होती है ब्राह्मणों की। ब्राह्मण हैं रूहानी सोशल वर्कर। देवता तो प्रालब्ध भोगते हैं। तुम भारत की सर्विस करते हो इसलिए तुम ही स्वर्ग के मालिक बनते हो। भारत की सर्विस करने में सबकी सर्विस हो जाती है। तो यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ। रुद्र शिव को कहा जाता है, न कि कृष्ण को। कृष्ण तो सतयुग का प्रिन्स है। वहाँ यह यज्ञ आदि होंगे नहीं। अभी है रावण राज्य। यह खलास होना है। फिर कभी रावण बनायेंगे ही नहीं। बाप ही आकर इन जंजीरों से छुड़ाते हैं। इस ब्रह्मा को भी जंजीरों से छुड़ाया ना। शास्त्र पढ़ते-पढ़ते क्या हालत हुई है! तो बाप कहते हैं अब मुझे याद करो। बाप को याद करने की हिम्मत नहीं है। पवित्र रहते नहीं, फालतू प्रश्न पूछते रहते हैं। तो बाप कहते हैं मनमनाभव। अगर किसी बात में मूंझते हो तो उसको छोड़ दो, मनमनाभव। ऐसे नहीं कि प्रश्न का रेसपॉन्स नहीं मिला तो पढ़ना ही छोड़ दो। कहते हैं भगवान् है तो रेसपॉन्स क्यों नहीं देते? बाप कहते हैं तुम्हारा काम है बाप और वर्से से। चक्र को भी याद करना पड़े। वह भी त्रिमूर्ति और चक्र दिखाते हैं। लिखते हैं – ”सत्य मेव जयते” परन्तु अर्थ नहीं समझते। तुम समझा सकते हो – शिवबाबा को याद किया तो सूक्ष्मवतन वासी ब्रह्मा-विष्णु-शंकर भी याद आयेंगे और स्वदर्शन चक्र को याद करने से विजयन्ति हो जायेंगे। ‘जयते’ माना माया पर जीत पहनेंगे। कितनी समझ की बात है। यहाँ कायदे हैं – हंसों की सभा में बगुले बैठ न सकें। बी.के. जो स्वर्ग की परी बनाती हैं, उन पर बड़ी रेसपॉन्सिबिलिटी है। पहले जब कोई आते हैं तो उनसे हमेशा यह पूछो – आत्मा के बाप को जानते हो? प्रश्न जो पूछते हैं तो जरूर जानते होंगे। सन्यासी आदि ऐसे कभी नहीं पूछेंगे। वह तो जानते ही नहीं। तुम तो प्रश्न पूछेंगे – बेहद के बाप को जानते हो? पहले तो सगाई करो। ब्राह्मणों का धन्धा ही यह है। बाप कहते हैं – हे आत्मायें, मेरे साथ योग लगाओ क्योंकि मेरे पास आना है। सतयुगी देवी-देवतायें बहुतकाल से अलग रहे हैं तो पहले-पहले ज्ञान भी उनको ही मिलेगा। लक्ष्मी-नारायण ने 84 जन्म पूरे किये हैं तो उनको ही पहले ज्ञान मिलना चाहिए।

मनुष्य सृष्टि का जो झाड़ है, उसका पिता है ब्रह्मा और आत्मा का पिता है शिव। तो बाप और दादा है ना। तुम हो उनके पोत्रे। उनसे तुमको ज्ञान मिलता है। बाप कहते हैं मैं जब नर्क में आऊं तब तो स्वर्ग रचूं। शिव भगवानुवाच – लक्ष्मी-नारायण त्रिकालदर्शी नहीं हैं। उनको यह रचता-रचना का ज्ञान है नहीं, तो परम्परा कैसे चले? कई समझते हैं यह तो सिर्फ कहते रहते हैं – मौत आया कि आया। होता तो कुछ नहीं है। इस पर एक मिसाल भी है ना – उसने कहा शेर आया, शेर आया, परन्तु शेर आया नहीं। आखिर एक दिन शेर आ गया, बकरियाँ सब खा गया। यह बातें सब यहाँ की हैं। एक दिन काल खा जायेगा, फिर क्या करेंगे? भगवान् का कितना भारी यज्ञ है। परमात्मा के सिवाए तो इतना बड़ा यज्ञ कोई रच न सके। ब्रह्मा वंशी ब्राह्मण कहलाकर पवित्र न बना तो यह मरा। शिवबाबा से प्रतिज्ञा करनी होती है। मीठा बाबा, स्वर्ग का मालिक बनाने वाला बाबा मैं तो आपका हूँ, अन्त तक आपका होकर रहूँगा। ऐसे बाप को अथवा साजन को फारकती दी तो महाराजा-महारानी बन नहीं सकेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सच्चा खुदाई खिदमतगार बन भारत को स्वर्ग बनाने में बाप को पवित्रता की मदद करनी है, रूहानी सोशल वर्कर बनना है।

2) किसी भी प्रकार के प्रश्नों मे मूंझकर पढ़ाई नहीं छोड़नी है। प्रश्नों को छोड़ बाप और वर्से को याद करना है।

वरदान:- स्व परिवर्तन और विश्व परिवर्तन की जिम्मेवारी के ताजधारी सो विश्व राज्य के ताजधारी भव
जैसे बाप के ऊपर, प्राप्ति के ऊपर हर एक अपना अधिकार समझते हो, ऐसे स्व परिवर्तन और विश्व परिवर्तन दोनों के जिम्मेवारी के ताजधारी बनो तब विश्व राज्य के ताज अधिकारी बनेंगे। वर्तमान ही भविष्य का आधार है। चेक करो और नॉलेज के दर्पण में देखो कि ब्राह्मण जीवन में पवित्रता का, पढ़ाई और सेवा का डबल ताज है? यदि यहाँ कोई भी ताज अधूरा है तो वहाँ भी छोटे से ताज के अधिकारी बनेंगे।
स्लोगन:- सदा बापदादा की छत्रछाया के अन्दर रहो तो विघ्न-विनाशक बन जायेंगे।

TODAY MURLI 20 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 20 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 19 December 2017 :- Click Here

20/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come from the faraway land to establish both a religion and a kingdom. When the deity religion exists, it is the kingdom of deities. There is no other religion or kingdom at that time.
Question: In the golden age, all are charitable souls; there are no sinful souls. What indicates that?
Answer: No one there suffers for his or her actions in the form of illness. Illnesses etc. here prove that souls are experiencing punishment for their sins in the form of suffering for their karma. That is called the karmic accounts of the past.
Question: Which of the Father’s signals can only far-sighted children understand?
Answer: The Father signals: Children, while sitting here, race with your intellects’ yoga and remember the Father. If you remember Him with love, you will become a garland around the Father’s neck. Your tears of love become beads of the rosary.
Song: At last the day for which we had been waiting has come.

Om shanti. You children heard the song and understood the meaning of it. Bharat is very big. The whole of Bharat cannot be taught. This is a study. Collegeswill continue to open. This is the unlimited Father’s university. It is called the Pandava Government. A sovereignty is called a g overnment. You children now know that the sovereignty is being established. Religion plus sovereignty is religiopolitical. The deity religion is also being established. None of those of other religions establish a kingdom; they simply establish a religion. Baba says: I am establishing the original eternal deity religion and kingdom. This is why it is called religiopolitical. You children have to become those with very far-sighted intellects. The Father has come from the faraway land. In fact, all souls come from the faraway land. You too have come from the faraway land. The souls of those who come to establish a new religion come from far away. They are founders of a religion whereas that One is called the One who establishes a religion and a sovereignty. There was sovereignty in Bharat. There were the emperor and empress: Emperor Shri Narayan and Empress Shri Lakshmi. You children would say that you are now following shrimat. All of us people of Bharat have been calling out to Baba: Come and change the old world and make it into a new world of happiness. There is a difference between an old home and a new home. You only keep your new home in your intellect. Nowadays, they build very fashionable houses. They continue to think: We should build such-and-such houses. You know that we are establishing our religion and kingdom. We will build palaces in heaven studded with diamonds and jewels. Those of other religions don’t understand that Christ came to establish Christianity; they don’t understand it at that time. It is only when it has grown that they call it the Christian religion. There is no name or trace of those of Islam or any other religion (at that time). Your signs continue from the beginning until now: there are images of Lakshmi and Narayan. You know that it used to be their kingdom in the golden age. There, you won’t have the knowledge of whose kingdom it was in the past or whose kingdom it will be in the future. At that time, you only know the present. You now know the past, present and future. First of all, there was our religion and then other religions came. Only at the confluence age does the Father sit here and explain. You have now become trikaldarshi. In the golden age you won’t be trikaldarshi. There, you will continue to rule the kingdom. There will be no name or trace of any other religion. You will continue to rule the kingdom with pleasure. You now know the whole cycle. People know that there truly used to be the deity religion but they don’t know how it was established or for how long it continued. You know this. You ruled in the golden age for this many births and then you took this many births in the silver age. They should also know about this. You children know that the unlimited Father truly is teaching us. You know that this is the end of the last of the many births of the Krishna soul. I have come and entered him. He definitely has to be named Brahma. Brahma becomes Vishnu and Vishnu becomes Brahma. This knowledge of the Trimurti is very simple. This is incorporeal Father Shiva and this is the inheritance you receive from Him. How did you receive your inheritance from the incorporeal One? Through Prajapita Brahma, you are changing from Brahmins into deities. Then, after 84 births, those same deities will become Brahmins. You should keep this cycle in your intellects. We are Brahmins, children of Brahma, and we are also the children of Rudra (Shiva). We souls are incorporeal children. We remember the Father. It is very easy to explain using these pictures: We are doing tapasya and we will then go to the golden age. It should remain in your intellects that we are changing from human beings into deities. Then we will become emperors of the deity religion and rule the kingdom. Only by having yoga will your sins be absolved. If you continue to commit sin even now, what will you become? When people go on a pilgrimage, they don’t commit sin; they definitely remain pure. They believe that they are going to the deities. People always first bathe before going to a temple. Why do they bathe first? Firstly, because they indulge in vice and, secondly, they have also been to the latrine. Therefore, they first become clean and then go to have a glimpse of the deities. They never become impure while on a pilgrimage. They go on the pilgrimage of four places while remaining pure. Therefore, purity is the main thing. If deities had also been impure, what would be the difference? Deities are pure and we are impure. You know that Baba has adopted you through Brahma. In fact, all of you souls are My children, but how would I teach you? How would I teach you Raja Yoga? How would I make you sweetest children into the masters of heaven? You know that Baba is establishing the new world. Therefore, God would definitely make the children worthy of that and give them the inheritance. When would He make you worthy? At the confluence age. The Father says: I come at the confluence age. This Brahmin religion in between is something different. In the iron age there is the shudra religion. In the golden age there is the deity religion. This is the Brahmin religion. You belong to the Brahmin religion. This confluence age is very short. You now know the whole cycle. You have become far-sighted. You know that this is Baba’s chariot. This is also called Nandigan (a bull). He would not ride the bull the whole day. A soul sits in a body all day long. If he were to become separated, the body would not remain. Baba can come and go as He pleases because His soul is His own. He says: I do not remain constantly in this one; I can come and go in a second. No one else can be as fast a rocket as I am. Nowadays, they have invented so many rockets and aeroplanes etc. However, the soul is the fastest. Remember the Father and He will come. If, according to his karmic accounts, a soul has to take birth in London, he would go and enter a womb there in a second. So, it is the soul that runs the fastest. Souls cannot go back to their home now because they no longer have that strength; they have become weak. They are unable to fly. There is a huge burden of sin on souls. If the burden were on the bodies, they would be purified with fire, but alloy is mixed in souls. So, it is souls that carry their karmic accounts with themselves. This is why it is said that that is the suffering of his past. A soul carries his sanskars with himself. Some are crippled from birth and so it is said that they must have performed such actions in their past. There are the actions of many births that have to be settled through suffering. In the golden age there are only charitable souls. These things do not exist there. Here, all are sinful souls. If sannyasis were to become paralysed, it would be said that that is the suffering of their karma. Oh! but why does even someone who is a great soul like a ‘Shri Shri 108 Jagadguru’ have that illness? It would be said that that is the suffering of his karma. It would not be said of the deities. When a guru dies, his followers would definitely feel sorrow. When children have a lot of love for their father, they cry. When a wife loves her husband a great deal and he dies, she weeps. If the husband had made her suffer she wouldn’t weep. If there is no attachment, she would understand that that was destiny. You love the Father a great deal. At the end, Baba will go away and you will say: Oh! Baba who gave us so much happiness has gone away. At the end there will be many left behind. You have a lot of love for Father. At the end, Baba will go away and you will say, “Baba went away after giving us the kingdom.” You will shed tears of love, not of sorrow. Here, too, children come and meet the Father after a long time, and so they have tears of love. Those tears of love will then become beads of the rosary. Our efforts are for becoming the garland around Baba’s neck. This is why we continue to remember Baba. Baba’s order is: Continue to stay on the pilgrimage of remembrance. When there is a race, they are told to run to a goal, touch it and come back. That is numberwise. Here, too, those who remember Baba more and race ahead will go to heaven first and rule the kingdom. All of you souls are racing with your intellects’ yoga. You are sitting here and racing there. We are Shiv Baba’s children. Baba gives us a signal: Remember Me. Become far-sighted. You have come here from the faraway land. This foreign land is now to be destroyed. At this time you are in Ravan’s land. This is Ravan’s land. You will then go to the unlimited Father’s land. There, it is the kingdom of Rama. The Father establishes the kingdom of Rama. Then, half way through, the kingdom of Ravan is fixed according to the drama. Only you children know all of these things. That is why, when you ask them questions, no one is able to answer them. If they were to say that the Father of souls is God, the Father, what inheritance should you then receive from Him? This is the impure world. The Father did not create the impure world. It is very easy to explain to anyone. You have to show them the pictures. The picture of the Trimurti is very good. There isn’t such an accurate picture of Trimurti Shiva anywhere else. They show Brahma with a beard. They don’t show Vishnu or Shankar with a beard because they consider them to be deities. Brahma is Prajapita, the Father of People. Some have shown him in one way and others have shown him in another way. You children now have all of these things in your intellects. These things don’t enter the intellect of anyone else. It is as though they are crazy. Why do they burn an effigy of Ravan? They don’t know anything. Who is Ravan? When did He come? They say that they have been burning his effigy eternally. You understand that he has been an enemy for half the cycle. There are so many dictates in the world. They have kept the name of whoever explained something. Some kept the name, “Mahavir”. They have shown Hanuman (monkey god) as Mahavir. Why have they kept the name, “Adi Dev Mahavir”? There are Mahavir, Mahavirni (female Mahavir) and you children sitting in the temple. They are the ones who conquered Maya and this is why they are called mahavirs. You too have come by chance to your own place. That is your memorial. That is the non-living one. Nevertheless, you definitely have to put up pictures until they come to the living one and understand. You can explain the secrets of the Dilwala Temple very well. You had studied this for that is why that memorial has been created on the path of devotion. It requires a lot of effort to establish your kingdom. You also have to take the insults because you have to become Kalangidhar (form of Krishna who was defamed and took defamation). All of you now take insults. I have been defamed the most. They even insult Prajapita Brahma. All the friends and relatives become upset. They would not insult Vishnu or Shankar. The Father says: I take the insults. You have become My children and so you also have to take your share of that. Otherwise, this one was occupied in his own business. There was no question of insults. I am the One who is insulted the most. People have forgotten their religion and karma. Baba explains so much. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become far-sighted. Have your sins absolved with the pilgrimage of remembrance. Never perform sinful actions while on the pilgrimage.
  2. Become a mahavir and conquer Maya. Don’t be afraid of defamation. Become Kalangidhar.
Blessing: May you be an embodiment of success who achieves success in your words and deeds with the seed of thoughts.
The thoughts that you have in your intellect are the seeds whereas the words and deeds are the expansion of those seeds. If you check your thoughts, that is, the seeds, while remaining stable in the trikaldarshi stage and make them powerful, you will then experience easy success automatically in your words and deeds. If the seeds are not powerful, your words and deeds will not then have the power to be successful. You definitely did become embodiments of success in the living form for this is why other souls attain success through your non-living images.
Slogan: Burn the rubbish of waste in the fire of yoga and your intellect will become clean.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 20 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 20 December 2017

To Read Murli 19 December 2017 :- Click Here
20/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – दूरदेश से बाप आये हैं धर्म और राज्य दोनों की स्थापना करने, जब देवता धर्म है तो राजाई भी देवताओं की है, दूसरा धर्म वा राज्य नहीं”
प्रश्नः- सतयुग में सब पुण्य आत्मायें हैं, कोई पाप आत्मा नहीं, उसकी निशानी क्या है?
उत्तर:- वहाँ कोई कर्मभोग (बीमारी) आदि नहीं होता है। यहाँ बीमारियाँ आदि सिद्ध करती हैं कि आत्मायें पापों की सज़ा कर्मभोग के रूप में भोग रही हैं, जिसे ही पास्ट का हिसाब-किताब कहा जाता है।
प्रश्नः- बाप के किस इशारे को दूरादेशी बच्चे ही समझ सकते हैं?
उत्तर:- बाप इशारा करते हैं – बच्चे तुम बुद्धियोग की दौड़ी लगाओ। यहाँ बैठे बाप को याद करो। प्यार से याद करेंगे तो तुम बाप के गले का हार बन जायेंगे। तुम्हारे प्रेम के ऑसू माला का दाना बन जाते हैं।
गीत:- आखिर वह दिन आया आज…..

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। गीत का अर्थ समझा। भारत तो बहुत बड़ा है। सारे भारत को नहीं पढ़ाया जा सकता है। यह तो पढ़ाई है – कॉलेज खुलते जायेंगे। यह हुई बेहद के बाप की युनिवर्सिटी। इनको कहा जाता है – पाण्डव गवर्मेन्ट। गवर्मेन्ट कहा जाता है सावरन्टी को। अब तुम बच्चे जानते हो – सावरन्टी स्थापन हो रही है। धर्म पलस सावरन्टी। रिलीजो पोलीटिकल… देवी-देवता धर्म भी स्थापन हो रहा है और कोई भी धर्म वाले राजाई नहीं स्थापन करते। वह सिर्फ धर्म स्थापन करते हैं। बाबा कहते हैं मैं आदि सनातन धर्म और राजाई स्थापन कर रहा हूँ, इसलिए रिलीजो पोलीटिकल कहा जाता है। बच्चों को बहुत दूरादेश बुद्धि बनना चाहिए। बाप दूरदेश से आये हुए हैं। यूँ दूरदेश से तो सब आत्मायें आती हैं। तुम भी दूरदेश से आये हो। नया धर्म जो स्थापन करने आते हैं – उनकी आत्मायें दूर से आती हैं। वह है धर्म स्थापक और इसको कहा जाता है धर्म और सावरन्टी स्थापक। भारत में सावरन्टी थी। महाराजा-महारानी थे। महाराजा श्री नारायण, महारानी श्री लक्ष्मी। तो अब तुम बच्चे कहेंगे हम श्रीमत पर चल रहे हैं। बाबा, जिसको हम सब भारतवासी पुकारते आये हैं कि आओ – आकर पुरानी दुनिया को बदल नई सुख की दुनिया स्थापन करो। पुराने घर और नये घर में अन्तर तो होता है ना। बुद्धि में नया मकान ही याद रहता है। आजकल तो मकान बहुत फैशनबुल बनते हैं। ख्याल करते रहते हैं – ऐसा-ऐसा मकान बनायें। तुम जानते हो हम अपना धर्म और राजाई स्थापन कर रहे हैं। स्वर्ग में हम हीरे-जवाहरों के महल बनायेंगे। दूसरे धर्म वाले ऐसे नहीं समझते। जैसे क्राइस्ट क्रिश्चियन धर्म स्थापन करने आया, यह उस समय नहीं समझते, जब वृद्धि होती है तब नाम रखते हैं क्रिश्चियन धर्म। इस्लामी आदि धर्म कोई भी निशानी वा नाम नहीं रहता। तुम्हारी निशानी शुरू से लेकर अभी तक चलती रहती है। लक्ष्मी-नारायण के चित्र हैं – यह भी जानते हो तो इन्हों का राज्य सतयुग में था। तुमको यह ज्ञान वहाँ नहीं होगा कि पास्ट में किसकी राजधानी थी, फ्यूचर में किसकी राजधानी होगी। सिर्फ प्रेजेन्ट को जानते हैं, बस। अभी तुम पास्ट, प्रेजेन्ट, फ्युचर को जानते हो। पहले-पहले हमारा धर्म था, फिर यह धर्म आये हैं। संगम पर ही बाप बैठ समझाते हैं। अभी तुम त्रिकालदर्शी बन गये हो। सतयुग में त्रिकालदर्शी नहीं होंगे। वहाँ तो राजाई करते रहेंगे और धर्मों का नाम-निशान नहीं रहेगा। अपनी मौज में राजाई करते रहेंगे।

अभी तुम सारे चक्र को जानते हो। मनुष्य यह तो नहीं जानते हैं कि बरोबर देवी-देवता धर्म था। परन्तु वह कैसे स्थापन हुआ, कितना समय चला – यह नहीं जानते हैं। तुम जानते हो सतयुग में इतने जन्म राज्य किया फिर त्रेता में इतने जन्म लिये। इन्हों को भी जानना पड़ेगा। बच्चे जानते हैं बरोबर बेहद का बाप हमको पढ़ाते हैं। तुम जानते हो कृष्ण की आत्मा का यह बहुत जन्मों के अन्त का जन्म है, इनमें ही आकर प्रवेश किया है। इनका नाम ब्रह्मा जरूर चाहिए। ब्रह्मा सो विष्णु, विष्णु सो ब्रह्मा। यह त्रिमूति की नॉलेज बहुत सिम्पुल है। यह निराकार बाप शिव, इनसे यह वर्सा मिलता है। निराकार से वर्सा कैसे मिला – यह प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण सो देवता बन रहे हैं। फिर वही देवतायें 84 जन्मों के बाद ब्राह्मण बनते हैं। यह चक्र बुद्धि में रहना चाहिए। हम सो ब्राह्मण, ब्रह्मा के बच्चे सो रूद्र (शिव) के बच्चे। हम आत्मायें निराकारी बच्चे हैं। बाप को याद करते हैं। इन चित्रों पर समझाना बहुत सहज है। तपस्या कर रहे हैं फिर सतयुग में आयेंगे। तुम्हारी बुद्धि में रहना चाहिए – हम मनुष्य से देवता बन रहे हैं। फिर देवता धर्म का बादशाह बन राज्य करेंगे। योग से ही तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। अगर अभी भी पाप करते रहेंगे तो क्या बनेंगे। यात्रा पर जब जाते हैं तो पाप नहीं करते हैं। पवित्र भी जरूर रहते हैं। समझते हैं देवताओं के पास जाते हैं। मन्दिर में भी हमेशा स्नान करके जाते हैं। स्नान क्यों करते हैं? एक तो विकार में जाते हैं, दूसरा लेट्रीन में जाते हैं। फिर स्वच्छ बनकर देवताओं का दर्शन करने जाते हैं। यात्रा पर कब पतित नहीं बनते। 4 धामों की परिक्रमा पावन होकर देते हैं। तो पवित्रता है मुख्य। देवतायें भी अगर पतित होते तो फ़र्क क्या रहा। देवतायें पावन हैं, हम पतित हैं। तुम जानते हो बाबा ने हमको ब्रह्मा द्वारा गोद लिया है। यूँ तो तुम सब आत्मायें हमारे बच्चे हो, परन्तु तुमको पढ़ाऊं कैसे? राजयोग कैसे सिखलाऊं? तुम मीठे-मीठे बच्चों को स्वर्ग का मालिक कैसे बनाऊं? तुम जानते हो बाबा नई दुनिया स्थापन करते हैं। तो भगवान जरूर बच्चों को लायक बनाकर वर्सा देंगे। कहाँ लायक बनायेंगे? संगमयुग में। बाप कहते हैं, मैं संगम पर आता हूँ। यह बीच का ब्राह्मण धर्म ही अलग हो जाता है। कलियुग में है शूद्र धर्म। सतयुग में है देवता धर्म। यह है ब्राह्मण धर्म। तुम ब्राह्मण धर्म के हो। यह संगमयुग बहुत छोटा है। अभी तुम सारे चक्र को जान गये हो। दूरादेशी बन गये हो।

तुम जानते हो यह बाबा का रथ है, इनको नंदीगण भी कहते हैं। सारा दिन सवारी थोड़ेही होती है। आत्मा शरीर पर सारा दिन सवारी करती है। अलग हो जाए तो शरीर न रहे। बाबा तो आ-जा सकता है क्योंकि उनकी अपनी आत्मा है। तो मैं इनमें सदैव नहीं रहता हूँ, सेकण्ड में आ-जा सकता हूँ। मेरे जैसा तीखा राकेट कोई हो नहीं सकता। आजकल राकेट, एरोप्लेन आदि कितनी चीज़ें बनाई हैं। परन्तु सबसे तीखी आत्मा है। तुम बाप को याद करो – यह आया। आत्मा को हिसाब-किताब अनुसार लण्डन में जन्म लेना होगा तो सेकण्ड में वहाँ जाकर गर्भ में प्रवेश करेगी। तो सबसे तीखी दौड़ी पहनने वाली आत्मा है। अभी आत्मा अपने घर में जा नहीं सकती क्योंकि वह ताकत ही नहीं रही है। कमजोर हो गई है, उड़ नहीं सकती। आत्मा पर पापों का बोझ बहुत है, शरीर पर अगर बोझा होता तो आग से पवित्र हो जाता, परन्तु आत्मा में ही खाद पड़ती है। तो आत्मा ही साथ में हिसाब-किताब ले जाती है इसलिए कहा जाता है – पास्ट का कर्मभोग है। आत्मा संस्कार साथ में ले जाती है। कोई जन्म से लंगड़ा होता है तो कहा जाता है पास्ट में ऐसे कर्म किये हैं। जन्म-जन्मान्तर के कर्म हैं जो भोगने पड़ते हैं। सतयुग में है ही पुण्य आत्मा। वहाँ यह बातें होती नहीं। यहाँ हैं सब पाप आत्मायें। सन्यासियों को भी अर्धांग (लकवा) हो जाए तो कहेंगे कर्मभोग। अरे महात्मा श्री श्री 108 जगतगुरू को फिर यह बीमारी क्यों? कहेंगे कर्मभोग। देवताओं के लिए ऐसे नहीं कहेंगे। गुरू मरेगा तो फालोअर्स को जरूर अ़फसोस होगा। बाप पर भी जास्ती लव होता है तो रोते हैं। स्त्री का पति से जास्ती लव होगा तो रोयेगी। पति दु:खी करने वाला होगा तो नहीं रोयेगी। मोह नहीं होगा तो समझेगी भावी। तुम्हारा भी बाप के साथ बहुत लव है। पिछाड़ी में बाबा चला जायेगा – तुम कहेंगे ओहो! बाबा चला गया, जिसने इतना सुख दिया! पिछाड़ी में बहुत रहते हैं। बाप से बहुत लव रहता है। तुम कहेंगे बाबा हमको राजाई देकर चला गया। प्रेम के ऑसू आयेंगे, दु:ख के नहीं। यहाँ भी बच्चे बहुत समय के बाद आकर बाप से मिलते हैं तो प्रेम के ऑसू आते हैं। यह प्रेम के ऑसू फिर माला का दाना बन जायेंगे। हमारा पुरुषार्थ ही है कि हम बाबा के गले का हार बनें, इसलिए बाबा को याद करते रहते हैं।

बाबा का फरमान है – याद की यात्रा करते रहो। जैसे दौड़ाया जाता है फलाने स्थान को हाथ लगाकर आओ, फिर नम्बरवार होता है। यहाँ भी जितना बाबा को जास्ती याद करेंगे, जो पहले दौड़ी लगाकर जायेंगे वही फिर पहले स्वर्ग में लौट आकर राज्य करेंगे। तुम सब आत्मायें बुद्धि के योग से दौड़ रही हो। यहाँ बैठे हुए वहाँ दौड़ रही हो। हम शिवबाबा के बच्चे हैं। बाबा ईशारा करते हैं – मुझे याद करो, दूरादेशी बनो। तुम दूरदेश से आये हो। अब यह पराया देश विनाश हो जायेगा। इस समय तुम रावण के देश में हो, यह धरनी रावण की है। फिर तुम बेहद के बाप की धरनी पर आयेंगे। वहाँ है रामराज्य। रामराज्य बाप स्थापन करते हैं। फिर आधा में रावण राज्य ड्रामा अनुसार नूँधा हुआ है। यह सब बातें तुम बच्चे ही जानते हो इसलिए तुम प्रश्न पूछते हो, कोई नहीं बता सकेगा। अगर कहे आत्मा का फादर, गॉड फादर है। अच्छा – तुमको उनसे क्या वर्सा मिलना चाहिए? यह है पतित दुनिया। बाप ने पतित दुनिया तो नहीं रची है ना। कोई को भी समझाना बहुत सहज है। चित्र दिखाना पड़े। त्रिमूति का चित्र कितना अच्छा है। ऐसा कायदे अनुसार त्रिमूति शिव का चित्र कहाँ है नहीं। ब्रह्मा को दाढ़ी दिखाते हैं। विष्णु और शंकर को नहीं दिखाते हैं। उनको देवता समझते हैं। ब्रह्मा तो प्रजापिता है। कोई ने कैसे, कोई ने कैसे बनाया है। अभी तुम बच्चों की बुद्धि में यह सब बातें हैं, और कोई की बुद्धि में नहीं आता है। जैसे बांवरे हैं। रावण को क्यों जलाते हैं – कुछ पता ही नहीं। रावण है कौन? कब से आया? कह देते हैं अनादि काल से जलाते हैं। तुम समझते हो – यह आधाकल्प का दुश्मन है। दुनिया में अनेक मतें हैं, जिसने जो समझाया वह नाम रख दिया। कोई ने महावीर नाम डाल दिया। अब महावीर तो हनूमान को दिखाते हैं। यहाँ आदि देव महावीर नाम क्यों रखा है? मन्दिर में महावीर, महावीरनी और तुम बच्चे बैठे हो। उन्होंने माया पर जीत पाई है इसलिए महावीर कहा जाता है। तुम भी अनायास ही अपनी जगह पर आकर बैठे हो। वह तुम्हारा यादगार है। वह है जड़। फिर भी चित्र जरूर लगाना पड़े, जब तक चैतन्य के पास आकर समझें। देलवाड़ा मन्दिर का राज़ बहुत अच्छा समझा सकते हो। यह पढ़कर गये हैं तब भक्ति मार्ग में यह यादगार बने हैं। तुम्हारी राजधानी स्थापन करने में बड़ी मेहनत लगती है। गालियाँ भी खानी पड़ती हैं क्योंकि कलंगीधर बनना है। अभी तुम सब गाली खाते हो। सबसे जास्ती ग्लानि मेरी की है। फिर प्रजापिता ब्रह्मा को भी गाली देते हैं। मित्र सम्बन्धी आदि सब बिगड़ पड़ते हैं। विष्णु वा शंकर को थोड़ेही गाली देंगे। बाप कहते हैं – मैं गाली खाता हूँ। तुम बच्चे बने हो तो तुमको भी हिस्सा लेना पड़ता है। नहीं तो यह अपने धन्धे में था, गाली की बात ही नहीं। सबसे जास्ती गाली मुझे देते हैं। अपना धर्म-कर्म भूल गये हैं। कितना समझाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) दूरादेशी बनना है। याद की यात्रा से विकर्मों का विनाश करना है। यात्रा पर कोई भी पाप कर्म नहीं करने हैं।

2) महावीर बन माया पर जीत पानी है। ग्लानि से डरना नहीं है, कलंगीधर बनना है।

वरदान:- संकल्प रूपी बीज द्वारा वाणी और कर्म में सिद्धि प्राप्त करने वाले सिद्धि स्वरूप भव 
बुद्धि में जो संकल्प आते हैं, वह संकल्प हैं बीज। वाचा और कर्मणा बीज का विस्तार है। अगर संकल्प अर्थात् बीज को त्रिकालदर्शी स्थिति में स्थित होकर चेक करो, शक्तिशाली बनाओ तो वाणी और कर्म में स्वत: ही सहज सफलता है ही। यदि बीज शक्तिशाली नहीं होता तो वाणी और कर्म में भी सिद्धि की शक्ति नहीं रहती। जरूर चैतन्य में सिद्धि स्वरूप बने हो तब तो जड़ चित्रों द्वारा भी और आत्मायें सिद्धि प्राप्त करती हैं।
स्लोगन:- योग अग्नि से व्यर्थ के किचड़े को जला दो तो बुद्धि स्वच्छ बन जायेगी।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize