today murli 2 june 2017

TODAY MURLI 2 June 2017 DAILY MURLI (English)

[wp_ad_camp_1]

To Read Hindi Murli :- Click Here

Read Murli 1/06/2017 :- Click Here

02/06/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to claim the full reward of 21 births, sacrifice yourselves completely to the Father, not by half measure. To sacrifice oneself means to belong to the Father.
Question: In order to understand which deep aspect do you need an unlimited intellect?
Answer: This is a predestined unlimited drama. Whatever has passed is the drama. This drama is now coming to an end. We will return home and then our part s will begin afresh once again. An unlimited intellect is needed to understand this deep aspect. Only the unlimited Father gives the knowledge of the unlimited creation.
Question: What is it that makes people cry out in distress whereas you children are happy about it?
Answer: Ignorant people cry out at even a little bit of sickness, whereas you children become happy because you understand that it is an old karmic account being settled.
Song: You spent the night sleeping and the day eating!

 

Om shanti. In fact, it is not necessary to say “Om shanti”, but something or other has to be said to the children; an introduction has to be given. These days, there are many people who keep chanting, “Om shanti, om shanti”, but they don’t understand its meaning. Om shanti – the original religion of myself, the soul, is peace. This is all right, but then they also say: Om Shivohum (I, the soul, am Shiva). That is wrong. In fact, there is no need for those songs etc. There are many things in the world today that please the ears. There is no benefit in any of the things that please the ears. It is only now that you develop a taste for just one thing in your mind. The Father personally sits in front of you children and explains: You have done a great deal of devotion and the night of devotion is now coming to an end and the dawn is coming. A lot of importance is given to the dawn. You should remember the Father at the time of dawn. People do a lot of devotion at the time of dawn. They also turn the beads of a rosary. This system of the path of devotion has continued. The Father says: Children, this play is coming to an end and the cycle will now repeat. There will be no need for devotion there. Those people say that one meets God after having performed devotion. Everyone remembers God because they are experiencing sorrow. When people have any difficulty or illness, they remember God. Only devotees remember God. There is no devotion in the golden and the silver ages. Otherwise, that would also become the cult of devotion. First, there is devotion, then knowledge and then disinterest. After devotion, it is the day once again; the new world is called the day. The words devotion, knowledge and disinterest are accurate. Disinterest in what? Disinterest in the old world and old relations etc. People desire to go to Baba, to the land of liberation. After performing devotion we will definitely meet God. Only the devotees will meet God, the Father. It is God’s task to give salvation to the devotees. You do not need to do anything other than simply to recognise the Father. The Father is the Seed of the human world tree. It is called the inverted tree. It is very easy to understand how the tree emerges from the Seed. You now understand that studying those scriptures such as the Vedas, scriptures, the Granth etc. and doing penance and tapasya etc. belong to the path of devotion. That is not the true path to meet God. Only God shows the true path to liberation and liberation-in-life. You understand that the drama is about to be completed. Whatever has passed is the drama. A broad unlimited intellect is needed to understand this. Only the unlimited Master gives the unlimited knowledge of the beginning, the middle and the end of the entire world. He is called the Creator, the God of Knowledge (Gyaneshwar). Gyaneshwar means God who has knowledge. This is called spiritual knowl edge, God fa therly knowledge. You have become Godf atherly students. Definitely, God speaks: I teach you Raja Yoga. Therefore, God is also the Teacher. You are students as well as children. Children receive the inheritance from the Grandfather. This is a very easy matter. If a child is not worthy, his father throws him out. Those who are good helpers in business etc. receive their share as well. You children also have a right to the property of the Grandfather. He is incorporeal. You children understand that you are claiming your inheritance from your Grandfather. He is the One who establishes heaven. He is k nowledge-full. Brahma, Vishnu and Shankar are not called the Purifier; they are deities. They are not known as bestowers of salvation. There is only the One who does that and everyone remembers that One. Because they do not know the Father, they say that God is in everyone. If people have a vision, they think it was Hanuman who gave them the vision. They say that God is omnipresent. If you have faith in anything, you receive a vision. However, here, it is a question of studying. The Father says: I come and teach you children. You can see how He teaches: He teaches in an ordinary way, just as other teachers teach. A barrister will make someone a barrister like himself. You understand who made Bharat into heaven and where the deities of the sun dynasty, who lived in Bharat, came from. People do not know that at all. It is now the confluence. You are standing at the confluence; no one else is at the confluence. The meeting of the confluence is so beautiful! You children have come to meet your Father. This meeting is very beneficial. There is no attainment through the other kumbh melas etc. The confluence is said to be the true meeting of kumbh. It is said that souls and the Supreme Soul were separated for a long time, and that, afterwards, a beautiful meeting took place. This time is very beautiful. The time of the confluence is so beneficial because it is only at this time that there is benefit for everyone. The Father comes and teaches everyone. He is incorporeal, a s tar, but an oval image has been kept in order to explain. They would not understand anything simply by a point. You can explain that a soul is a star and that the Father is also a s tar. As is a soul, so the Supreme Father, the Supreme Soul; there is no difference. You souls are numberwise. There is so much knowledge in the intellects of some, whereas there is just a little knowledge in the intellects of others. You now understand how we souls experience 84 births. Each one has to suffer for his own karmic accounts. When a person becomes ill, it means he is settling his own accounts. Do not have the thought: We are Godly children, so why are we suffering? The Father has explained that these are the sins of innumerable births. Although someone may be a kumari, and a kumari would not have committed any sin now, the karmic accounts of innumerable births have to be settled. Baba has explained that if you do not speak about the sins committed during this birth, they continue to increase. If you tell Baba about them, they do not increase. Bharat was the most pure; now Bharat is the most impure. So, they also need to make a lot of effort. Those who do a lot of service understand that they will claim a high number. If any karmic accounts still remain, there will have to be suffering. This suffering can be settled in happiness. If something happens to ignorant people, they start crying out. Here, you settle it in happiness. We were pure and we later became most impure. We have received these costumes to play our part s. It is now in your intellects that you have become most impure. You have to make a great deal of effort. You should not be surprised at someone else’s sickness. Just look how Krishna’s name is remembered as “The ugly and beautiful one”. Yet those who created the pictures do not understand. Sometimes, they show Radhe as fair and Krishna as dark blue. They understand that Radhe is a kumari, and so they give her respect. They wonder how she could be ugly. You understand all of these things. Those who belonged to the deity religion now consider themselves to be Hindus. You uplift your clan on the basis of shrimat. You have to purify the entire clan. You have to salvage them and uplift them. So you are the S alvation A rmy. The Father alone takes you away from degradation and into salvation. He is the one who is praised as the Creator, the Director and also the principal Actor. How is He an actor? The Purifier Father comes into an impure world and makes everyone pure, so He is the main Actor, is He not? Brahma, Vishnu and Shankar are not called Karankaravanhar. You can now say from experience that Baba, who is called Karankaravanhar, is playing His part at this time. He would play His part at the confluence age. No one knows Him. People start to fall after they become 14 degrees. Gradually, the degrees decrease. The degrees decrease a little in every birth. We have to take eight births in the golden age. According to the drama, the degrees decrease in every birth. It is now the time to ascend. When we have climbed up fully, we will again gradually descend. You children know that the kingdom is now being established. All varieties are needed in a kingdom. Those who follow shrimat well claim a high status, but even they need to ask for advice. Only when you give your full account to Baba can Baba then advise you. Do not think that Baba knows everything. He knows the beginning, the middle and the end of the world, but He would not sit and know what is in each one’s heart. He is k nowledge-full. Baba says: I know the beginning, the middle and the end, and this is why I am able to tell you: This is how you fall and then this is how you ascend. This is the part of Bharat. Everyone performs devotion. Those who perform the maximum devotion should receive salvation first. They were worthy of worship, and they took 84 births. They are the ones who performed devotion, numberwise. You may have led a good life now, but there are still the sins of previous births. Only through the power of remembrance can they be cut away. Remembrance is difficult. Baba says to you: If you sit in remembrance, your bodies become free from disease. You receive the inheritance of peace, happiness and purity from Baba. You also receive a body free from disease as well as a long lifespan simply by having remembrance. Through knowledge you become trikaldarshi. No one understands the meaning of being trikaldarshi. There are many people with occult powers. Even while sitting here, they see the Parliament of London. However, there is no benefit in such occult powers. Some also receive visions, not with their physical eyes, but through divine vision. At this time, everyone is ugly. You sacrifice yourselves, that is, you belong to the Father. Baba too sacrificed himself completely. Those who sacrifice themselves by half measure only receive half. Baba sacrificed himself; he sacrificed everything he had. All those who sacrifice themselves receive attainment for 21 births. This is not a question of suicide. Someone who commits suicide is known as a great sinner. If a soul kills his own body, it is not good. A person might cut the throat of someone else, but this means to cut your own throat. This is why someone who commits suicide is known as a great sinner. The Father explains everything so clearly to the sweetest children. You understand that I come cycle after cycle at the confluence age to this kumbha mela. This is that same Mother and Father. Children say: Baba, You are our everything. Baba also says: O children, you souls belong to Me. You children know that Shiv Baba has come as He did a cycle ago. He is decorating those who have taken the full 84 births. You souls understand that Baba is knowledge-full and the Purifier. He is now giving us total knowledge. He alone is the Ocean of Knowledge. Here, there is nothing of the scriptures. Here, you have to forget everything including your body and consider yourself to be a soul. Since you belong to the one Father, you must forget everything else. You must break your intellect’s yoga away from all others and connect it to the One. It is also sung: We will only connect ourselves to You. Baba, we will sacrifice ourselves completely. The Father says: I too sacrifice Myself to you. Sweet children, I make you into the masters of the kingdom of the whole world. I am altruistic. People might say that they are doing selfless service, but they still receive the fruit. The Father does altruistic service; only you understand this. When souls say that they do altruistic service, where did they learn that? You know that only Baba does altruistic service. He only comes at the confluence of the cycles and He is now personally sitting in front of you. The Father Himself says: I am incorporeal. How can I give you this inheritance? How can I tell you the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world? There isn’t any question of inspiration in this. People celebrate the birth of Shiva, so I do come. I come into Bharat. He tells us the praise of Bharat. Bharat was very great and completely pure. Now, it is once again becoming that. The Father has so much love for the children. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for d harna:

1. Bring benefit to your clan on the basis of shrimat. Make your entire clan pure. Give your true account to the Father.

2. With the power of remembrance, make your body free from disease. Sacrifice yourself completely to the Father. Break your intellect’s yoga away from all others and connect it to the One.

Blessing: May you be strong and tireless and constantly fly and enable others to fly with your wings of zeal and enthusiasm.
You souls are instruments to enable many souls to fly and so let your wings of zeal and enthusiasm be strong. Remain constantly aware that you BKs are responsible for world benefit and laziness and carelessness will then automatically finish; you will never get tired. Those who have zeal and enthusiasm are tireless. They increase the zeal and enthusiasm of others with through their faces and activity.
Slogan: Let yourself be coloured with the colour of the Father’s company and all defects will easily be transformed.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

Read Murli 31/05/2017 :- Click Here

Read Murli 30/05/2017 :- Click Here

Daily Murli Brahma Kumaris 2 June 2017 – Bk Murli Hindi

[wp_ad_camp_1]

 

Read Murli 3 June 2017 :- Click Here

Read Murli 1/06/2017 :- Click Here

02/06/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – 21 जन्मों की पूरी प्रालब्ध लेने के लिए बाप पर पूरा-पूरा बलि चढ़ो, अधूरा नहीं, बलि चढ़ना अर्थात् बाप का बन जाना”
प्रश्नः- किस गुह्य बात को समझने के लिए बेहद की बुद्धि चाहिए?
उत्तर:- यह बेहद का बना बनाया ड्रामा है, जो पास्ट हुआ वो ड्रामा। अब यह ड्रामा पूरा होता है, हम घर जायेंगे, फिर नये सिर पार्ट शुरू होगा.. यह गुह्य बातें समझने के लिए बेहद की बुद्धि चाहिए। बेहद रचना का ज्ञान बेहद का बाप ही देते हैं।
प्रश्नः- मनुष्य किस बात में हाय-हाय कर रड़ी मारते हैं और तुम बच्चे खुश होते हो?
उत्तर:- अज्ञानी मनुष्य थोड़ी सी बीमारी आने पर रड़ी मारते, तुम बच्चे खुश होते क्योंकि समझते हो यह भी पुराना हिसाब-किताब चुक्तू हो रहा है।
गीत:- तूने रात गंवाई सोके….

 

ओम् शान्ति। वास्तव में ओम् शान्ति कहने की भी जरूरत नहीं है। परन्तु कुछ न कुछ बच्चों को समझाना ही होता है, परिचय देना होता है। आजकल बहुत हैं जो ओम् शान्ति – ओम् शान्ति जपते रहते हैं। अर्थ तो समझते नहीं। ओम् शान्ति, हम आत्मा का स्वधर्म शान्त है। यह तो ठीक है परन्तु फिर ओम् शिवोहम् भी कह दिया है, वह फिर रांग हो गया। वास्तव में इन गीतों आदि की भी जरूरत नहीं है। दुनिया में आजकल कनरस बहुत है। इन सभी कनरस में फायदा कुछ नहीं है। मनरस तो अभी ही आता है एक बात का। बाप बच्चों को सन्मुख बैठ समझाते हैं, कहते हैं तुमने भक्ति तो बहुत की, अब भक्ति की रात पूरी हो प्रभात हो रही है। प्रभात का बहुत महत्व है। प्रभात के समय बाप को याद करना है। प्रभात के समय भक्ति भी बहुत करते हैं। माला भी जपते हैं। यह भक्ति मार्ग की रसम चली आती है। बाप कहते हैं बच्चे यह नाटक पूरा होता है, फिर चक्र रिपीट होता है। वहाँ तो भक्ति की दरकार नहीं। खुद ही कहते हैं भक्ति के बाद भगवान मिलता है। भगवान को याद करते हैं क्योकि दु:खी हैं। जब कोई आफत आती है वा बीमार पड़ते हैं तो भगवान को याद करते हैं, भक्त ही भगवान को याद करते हैं। सतयुग त्रेता में भक्ति होती नहीं। नहीं तो सारा भक्ति कल्ट हो जाए। भक्ति, ज्ञान और बाद में है वैराग्य। भक्ति के बाद फिर है दिन। दिन कहा जाता है नई दुनिया को। भक्ति, ज्ञान, वैराग्य अक्षर ठीक है। वैराग्य किसका? पुरानी दुनिया, पुराने सम्बन्ध आदि से वैराग्य। चाहते हैं हम मुक्तिधाम में बाबा के पास जावें। भक्ति के बाद हमको भगवान जरूर मिलना है। भक्तों को ही भगवान बाप मिलता है। भक्तों को सद्गति देना भगवान का ही काम है। और कुछ करना नहीं है सिर्फ बाप को पहचानना है। बाप है इस मनुष्य सृष्टि झाड़ का बीज, इसको उल्टा झाड़ कहते हैं। बीज से झाड़ कैसे निकलता है, यह तो बड़ा सहज है। अभी तुम जानते हो – यह वेद शास्त्र, ग्रंथ आदि पढ़ना, जप तप करना यह सब भक्ति मार्ग है। यह कोई भगवान को पाने का सच्चा मार्ग नहीं है। सच्चा मार्ग तो भगवान ही दिखलाते हैं – मुक्ति जीवनमुक्ति का। तुम जानते हो अब ड्रामा पूरा होता है, जो पास्ट हुआ सो ड्रामा। इस समझने में बड़ी बेहद की बुद्धि चाहिए। बेहद का मालिक ही सारे सृष्टि के आदि मध्य अन्त का, बेहद का ज्ञान देते हैं। उसको कहा जाता है ज्ञानेश्वर, रचयिता। ज्ञानेश्वर अर्थात् ईश्वर में ज्ञान है, इसको कहते हैं रूहानी प्रीचुअल नॉलेज। गॉड फादरली नॉलेज। तुम भी गॉड फादरली स्टूडेन्ट बने हो। बरोबर भगवानुवाच – तुमको राजयोग सिखलाता हूँ तो भगवान टीचर भी ठहरा। तुम स्टूडेन्ट भी हो, बच्चे भी हो। बच्चों को दादे से वर्सा मिलता है। यह तो बड़ी सहज बात है। बच्चा अगर लायक नहीं है तो बाप लात मारकर निकाल देते हैं, धन्धे आदि में जो अच्छे मददगार होते हैं उनका ही हिस्सा लगता है। तो तुम बच्चों का भी दादे की मिलकियत पर हक है। वह है निराकार। बच्चे जानते हैं हम अपने दादे से वर्सा ले रहे हैं। वही स्वर्ग की स्थापना करते हैं। नॉलेजफुल है। ब्रह्मा विष्णु शंकर को पतित-पावन नहीं कहेगे। वह तो देवतायें हैं। उनको सद्गति दाता नहीं कहेंगे। वह एक ही है। याद भी सभी एक को ही करते हैं। बाप का पता न होने कारण कह देते हैं कि सबमें परमात्मा है। अगर कोई को साक्षात्कार हो जाता है तो समझते हैं हनूमान ने दर्शन कराया। भगवान तो सर्वव्यापी है। कोई भी चीज़ में भावना रखो तो साक्षात्कार हो जाता है। यहाँ तो पढ़ाई की बात है। बाप कहते हैं मैं बच्चों को आकर पढ़ाता हूँ। तुम देखते भी हो कैसे पढ़ाते हैं, जैसे और टीचर होते हैं बिल्कुल साधारण रीति पढ़ाते हैं। बैरिस्टर होगा तो आप समान बैरिस्टर बनायेगा। यह तो तुम ही जानते हो कि इस भारत को स्वर्ग किसने बनाया? और भारत में रहने वाले सूर्यवंशी देवी-देवतायें कहाँ से आये? मनुष्यों को बिल्कुल पता नहीं है। अभी है संगम। तुम संगम पर खड़े हो, दूसरा कोई संगम पर नहीं है। यह संगम का मेला देखो कैसा है। बच्चे आये हैं बाप से मिलने। यह मेला ही कल्याणकारी है। बाकी और जो भी कुम्भ के मेले आदि लगते हैं, उनसे कोई प्राप्ति नहीं। सच्चा-सच्चा कुम्भ का मेला कहा जाता है संगम को। गाते हैं आत्मा परमात्मा अलग रहे बहुकाल फिर सुन्दर सुहावना मेला कर दिया है। यह समय कितना अच्छा है। यह संगम का समय कितना कल्याणकारी है क्योंकि इस समय ही सबका कल्याण होता है। बाप आकर सबको पढ़ाते हैं, वह है निराकार, स्टार। लिंग रूप रखा है समझाने के लिए। बिन्दी रखने से कुछ समझ न सकें। तुम समझा सकते हो आत्मा एक स्टार है। बाप भी स्टार है। जैसे आत्मा वैसे परमपिता परमात्मा। फ़र्क नहीं है। तुम्हारी आत्मायें भी नम्बरवार हैं। कोई की बुद्धि में कितनी नॉलेज भरी हुई है, कोई की बुद्धि में कितनी। अभी तुम समझते हो हम आत्मायें कैसे 84 जन्म भोगते हैं। हर एक को अपना हिसाब-किताब भोगना ही पड़ेगा। कोई बीमार पड़ते हैं, हिसाब चुक्तू करना है। ऐसे नहीं ईश्वरीय सन्तान को यह भोगना क्यों होती है! बाप ने समझाया है बच्चे जन्म-जन्मान्तर के पाप हैं। भल कुमारी है, कुमारी से क्या पाप हुआ होगा? परन्तु यह तो अनेक जन्मों का हिसाब-किताब चुक्तू होना है ना। बाबा ने समझाया है इस जन्म में भी किये हुए पाप अगर सुनायेंगे नहीं तो अन्दर वृद्धि को पाते रहेंगे। बतला देने से फिर वह वृद्धि नहीं होगी। सबसे नम्बरवन भारत पावन था, अब भारत सबसे पतित है। तो उन्हों को मेहनत भी जास्ती करनी पड़ती है। जो सर्विस बहुत करते हैं, समझ सकते हैं हम ऊंच नम्बर में जाऊंगा। कुछ हिसाब-किताब रहा हुआ होगा तो भोगना पड़ेगा। वह भोगना भी खुशी से भोगी जाती है। अज्ञानी मनुष्यों को तो कुछ होता है तो एकदम हाय-हाय कर रड़ी मारने लग पड़ते हैं। यहाँ तो खुशी से भोगना है। हम ही पावन थे फिर हम ही सबसे पतित बनते हैं। यह चोला पार्ट बजाने के लिए हमको ऐसा मिला है। अभी बुद्धि में आया है, हम सबसे जास्ती पतित बने हैं। बड़ी मेहनत करनी पड़ती है। आश्चर्य नहीं खाना चाहिए कि फलाने को यह बीमारी क्यों! अरे देखो कृष्ण का भी नाम गाया हुआ है सांवरा, गोरा। चित्र बनाने वाले तो समझते नहीं। वह तो राधे को गोरा कृष्ण को सांवरा दिखाते हैं। समझते हैं राधे कुमारी है तो उनका मान रखते हैं। समझते हैं वह कैसे काली होगी। इन बातों को तुम समझते हो। जो देवता कुल के थे वह अब अपने को हिन्दू धर्म के समझ रहे हैं।

तुम श्रीमत पर अपने कुल का उद्धार करते हो। सारे कुल को पावन बनाना है, सैलवेज़ कर ऊपर ले आना है। तुम सैलवेशन आर्मी हो ना। बाप ही दुगर्ति से निकाल सद्गति करते हैं, वही क्रियेटर, डायरेक्टर, मुख्य एक्टर गाया हुआ है। एक्टर कैसे है, पतित-पावन बाप आकर पतित दुनिया में सभी को पावन बनाते हैं, तो मुख्य हुआ ना। ब्रह्मा विष्णु शंकर को कोई करनकरावनहार नहीं कहेंगे। अभी तुम अनुभव से कह सकते हो – बाबा जिसको करनकरावनहार कहते हैं वह इस समय पार्ट बजाते हैं। वह पार्ट बजायेंगे भी संगम पर। उनको कोई जानते नहीं। मनुष्य 14 कला से फिर नीचे गिरते हैं। आहिस्ते-आहिस्ते कला कम होती जाती है। हर जन्म में कुछ न कुछ कला कम होती है। सतयुग में 8 जन्म लेने पड़ते हैं। एक-एक जन्म ड्रामा अनुसार कुछ न कुछ कला कम होती है। अभी है चढ़ने की बारी। जब पूरे चढ़ जायेंगे फिर धीरे-धीरे उतरेंगे। बच्चे जानते हैं अभी यह राजधानी स्थापन हो रही है। राजधानी में तो हर प्रकार के चाहिए। जो अच्छी रीति श्रीमत पर चलते हैं वह ऊंच पद पाते हैं, सो भी जब पूछे ना! बाबा को अपना पूरा पोतामेल भी भेजें, तब बाबा राय दे सकते हैं। ऐसे नहीं बाबा तो सब कुछ जानते हैं। वह तो सारी दुनिया के आदि मध्य अन्त को जानते हैं। एक-एक की दिल को तो नहीं बैठ जानेंगे, वह नॉलेजफुल है। बाबा कहते हैं मैं आदि मध्य अन्त को जानता हूँ, तब तो बताता हूँ कि तुम ऐसे-ऐसे गिरते हो। फिर ऐसे चढ़ते हो। यह पार्ट भारत का है। भक्ति तो सब करते हैं। जो सबसे जास्ती भक्ति करते हैं उनको पहले सद्गति मिलनी चाहिए। पूज्य थे फिर 84 जन्म भी उन्होंने लिए। भक्ति भी उन्होंने की है नम्बरवार। भल इस समय जन्म मिला है परन्तु आगे जन्म के पाप तो हैं ना। वह कटते हैं याद के बल से। याद ही डिफीकल्ट है। तुम्हारे लिए बाबा कहते हैं तुम याद में बैठो तो निरोगी बनेंगे। बाबा से वर्सा मिलता है – सुख, शान्ति, पवित्रता का। निरोगी काया या बड़ी आयु भी मिलती है सिर्फ याद से। नॉलेज से तुम त्रिकालदर्शी बनते हो। त्रिकालदर्शी का अर्थ भी कोई नहीं जानते। रिद्धि सिद्धि वाले भी बहुत होते हैं। यहाँ बैठे भी लण्डन की पार्लियामेन्ट आदि देखते रहेंगे। परन्तु इस रिद्धि-सिद्धि से फायदा कुछ भी नहीं। दीदार भी होते हैं दिव्य दृष्टि से, इन नयनों से नहीं। इस समय सब सांवरे हैं। तुम बलि चढ़ते हो अर्थात् बाप का बनते हो। बाबा भी बलि चढ़ा पूरा, जो अधूरे बलि चढ़ते हैं तो मिलता भी अधूरा है। बाबा भी बलि चढ़ा ना। जो कुछ था बलि चढ़ा दिया। जो इतने सब बलि चढ़ते हैं, उनको 21 जन्मों के लिए प्राप्ति होती है, इसमें जीवघात की बात नहीं। जीवघाती को महापापी कहा जाता है। आत्मा अपने शरीर का घात करे, यह तो अच्छा नहीं है। मनुष्य दूसरे का गला काट लेते हैं, ये अपना काट लेते हैं इसलिए जीव घाती, महापापी कहा जाता है।

बाप मीठे-मीठे बच्चों को कितना अच्छी रीति समझाते हैं। तुम जानते हो कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुगे इस कुम्भ के मेले में आते हैं। यह वही मात-पिता है। कहते हैं बाबा आप ही हमारे सब कुछ हो। बाबा भी कहते हैं हे बच्चे तुम आत्मायें हमारे हो। तुम बच्चे जानते हो शिवबाबा आया हुआ है कल्प पहले मुआफिक। जिन्होंने पूरे 84 जन्म लिये हैं उन्हों को श्रृंगार कर रहे हैं। तुम्हारी आत्मा जानती है बाबा नॉलेजफुल पतित-पावन है। वह हमको अभी सारी नॉलेज देते हैं। वही ज्ञान का सागर है, इसमें शास्त्रों की कोई बात नहीं। यहाँ तो देह सहित सब कुछ भूल अपने को आत्मा समझना है। एक बाप के बने हो तो और सब भूल जाना है। और संग बुद्धियोग तोड़ एक संग जोड़ना है। गाते भी हैं हम तुम्हारे संग ही जोड़ेंगे। बाबा हम पूरे बलिहार जायेंगे। बाप भी कहते हैं हम तुम्हारे पर बलिहार जाते हैं। मीठे बच्चे सारे विश्व की राजाई का तुमको मालिक बनाता हूँ, मैं तो निष्कामी हूँ। मनुष्य भल कहते हैं निष्काम सेवा करते हैं परन्तु फल तो मिलता है ना। बाप निष्काम सेवा करते हैं, यह भी तुम जानते हो। आत्मा जो कहती है हम निष्काम सेवा करते हैं, यह कहाँ से सीखे हैं! तुम जानते हो निष्काम सेवा बाबा ही करते हैं। आते ही कल्प के संगमयुग पर हैं। अभी भी तुम्हारे सम्मुख बैठे हैं। बाप खुद कहते हैं मैं तो हूँ निराकार। मैं तुमको यह वर्सा कैसे दूँ? सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान कैसे सुनाऊं? इसमें प्रेरणा की बात ही नहीं। शिव जयन्ती मनाते हैं तो जरूर आता हूँ ना। मैं आता हूँ भारत में। भारत की महिमा सुनाते हैं। भारत तो बिल्कुल महान पवित्र था, अब फिर से बन रहा है। बाप का कितना बच्चों पर लव है।

अच्छा-मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) श्रीमत पर अपने कुल का उद्धार करना है। सारे कुल को पावन बनाना है। बाप को अपना सच्चा-सच्चा पोतामेल देना है।

2) याद के बल से अपनी काया को निरोगी बनाना है। बाप पर पूरा-पूरा बलिहार जाना है। बुद्धियोग और संग तोड़ एक संग जोड़ना है।

वरदान:- सदा उमंग-उत्साह के पंखों द्वारा उड़ने और उड़ाने वाले मजबूत और अथक भव
आप आत्मायें अनेक आत्माओं को उड़ाने के निमित्त हो इसलिए उमंग-उत्साह के पंख मजबूत हों। सदा इसी स्मृति में रहो कि हम ब्राह्मण (बी.के.) विश्व कल्याण के जवाबदार हैं तो आलस्य और अलबेलापन स्वत: समाप्त हो जायेगा। कभी भी थकेंगे नहीं, जिसमें उमंग-उत्साह होता है वह अथक होते हैं। वह अपने चेहरे और चलन से सदा औरों का भी उमंग-उत्साह बढ़ाते हैं।
स्लोगन:- बाप के संग का रंग लगा हुआ हो तो सब बुराईयां सहज ही परिवर्तन हो जायेंगी।

[wp_ad_camp_5]

Read Murli 31/05/2017 :- Click Here

Read Murli 30/05/2017 :- Click Here

 

Font Resize