today murli 2 february

TODAY MURLI 2 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 2 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 1 February 2019 :- Click Here

02/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become bodiless and remember the Father. Remain stable in your original religion and you will receive strength. You will remain happy and healthy and your battery will continue to become full.
Question: By knowing what it is that is fixed in the drama , how do you children remain constantly unshakeable?
Answer: You know that the bombs etc. that have been made will definitely be used. Only when destruction takes place will our new world come. This is eternally fixed in the drama. Everyone has to die. You have the happiness that you will shed your old bodies and take birth in a kingdom. You watch the drama as detached observers. There is no question of fluctuating. There is no need to cry.

Om shanti. The Father sits here and asks you children: Why was the original, eternal, deity religion called the Hindu religion? You should find the answer to that. At first, there was just the original, eternal, deity religion. Then, when they became vicious, they could no longer call themselves deities. So, instead of calling themselves deities of the original, eternal religion, they started to call themselves the original, eternal Hindus. They still kept the words ‘original and eternal’; they just changed the name “deities” and called themselves Hindus. At the time when those of Islam came from outside, they used the name of the Hindu religion. At first, there wasn’t even the name ‘Hindustan’. So, you should understand it as the original, eternal, Hindu deity religion. Generally, they are righteous souls. Not all of them are of the eternal religion. Those who come later would not be said to belong to the original and eternal religion. Amongst Hindus too, there must be some who come later. You should tell the original, eternal, Hindus that theirs was the original, eternal, deity religion. Say: You were the original, eternal, satopradhan beings and then, while taking rebirth, you became tamopradhan. You now have to become satopradhan once again by having the pilgrimage of remembrance. They will like this medicine. Baba is the Surgeon. You should give this medicine to those who like it. You should remind those who belonged to the original, eternal, deity religion of this, just as you children have now been reminded. Baba has explained how you have become tamopradhan from satopradhan. You now have to become satopradhan from tamopradhan. You children are becoming satopradhan through the pilgrimage of remembrance. Those who are the original, eternal, Hindus will become the real deities and they will also become those who worship the deities. In that too, those who are devotees of Shiva, Lakshmi and Narayan, Radhe and Krishna and Rama and Sita are devotees of the deities and belong to the deity clan. You have now remembered that those who were the sun dynasty then became the moon dynasty. Therefore, you should find those devotees. You should ask those who come here to understand to fill in a form. There should definitely be forms at the main centres for people to fill in. You would give the lesson from the beginning to whoever comes. Because they don’t know the Father, the first and main thing to explain to them is: You don’t know your Senior Father. Originally, you belong to the Father from beyond. You came here and now belong to a worldly father. You have forgotten your Father from beyond. The unlimited Father is the Creator of heaven. None of these innumerable religions exist there. So, everything should depend on the forms they fill in. Although some children explain very well, they don’t have any yoga at all. They don’t become bodiless or remember the Father. They are unable to stay in remembrance. Although they know that they explain very well and that they even open museums etc., they still have very little remembrance. It requires effort to consider yourself to be a soul and to continue to remember the Father. The Father gives you a warning. Do not think that you can convince others very well. What is the benefit of that? OK, so what if they have become spinners of the discus of self-realisation? Here, you have to become bodiless. While doing everything, consider yourself to be a soul. It is the soul that carries out all tasks through the body. Those who don’t know how to remember this or don’t even know how to think about these things are called buddhus. You are unable to remember the Father. You don’t have the strength to do service. How can a soul receive strength without having remembrance? How can his battery become full? Instead of moving along, that soul will come to a halt; he will have no power. It is said: Religion is might. Only when a soul remains stable in his original religion can he receive strength. There are many who don’t know how to remember the Father. You can tell this from their faces. They would remember everyone else but would be unable to have remembrance of the Father. Only by having yoga will you receive power. Only by having remembrance will there be a lot of happiness and health. Then, in your next birth, you will receive shining new bodies. When you souls become pure, you will receive pure bodies. It is said: This gold is 24 carat and so the jewellery made from it is also 24 carat. At this time, all are nine carat gold. Those who are satopradhan are said to be 24 carat gold and those who are sato are 22 carat gold. These things have to be understood very well. The Father explains to you: First of all, you have to ask them to fill in a form so that you can tell to what extent they respond to you and how much they have imbibed. Even then, it comes to: Do they stay on the pilgrimage of remembrance? Only by having the pilgrimage of remembrance do you become satopradhan from tamopradhan. Those are physical pilgrimages of devotion whereas this is the spiritual pilgrimage. Here, it is the soul that goes on pilgrimage, whereas in other pilgrimages both the spirit and the body go on pilgrimage. By remembering the Purifier Father, the soul receives that sparkle. If a student has to be shown that impressed, Baba sometimes enters someone. Both the Mother and Father help, sometimes in knowledge and sometimes in yoga. The Father is always bodiless. He has no awareness of the body. So, the Father can help you with the strength of both (knowledge and yoga). If there is no yoga, how can you receive that strength? It can be understood whether someone is yogi or gyani. Baba explains new things day by day about yoga. Previously, He didn’t explain this. Consider yourself to be a soul and remember the Father. Baba now uplifts you so powerfully that the relationship of brother and sister is removed and there is just the vision of brotherhood. We souls are brothers. This is very elevated vision. This effort has to continue till the end. When you become satopradhan, you will shed your bodies. Therefore, increase your efforts as much as possible. This is even easier for old people. We now definitely have to return home. Young ones would never have such thoughts. Old people are in the stage of retirement. It is understood that you now have to return home. So, you have to understand all of these aspects of knowledge. The tree continues to grow. As it grows, the whole tree becomes ready. Thorns are changed and a small new tree of flowers has to be created. It will become new and then become old again. At first, the tree is small and it then continues to grow. It grows and at the end it has thorns. At first there are flowers; the very name is heaven. Then, later, that fragrance and strength no longer remain. There is no fragrance in thorns. Ordinary flowers don’t have that much fragrance. The Father is the Master of the Garden and also the Boatman. He takes everyone’s boat across. The children who are wise and sensible are able to understand how He takes the boat across and where He takes you. Those who don’t understand don’t even make effort. It is numberwise. Some aeroplanes travel faster than sound. No one even knows how a soul flies. A soul flies even faster than a rocket. There is nothing as fast as a soul. They put such fuel in those rockets that they are able to fly fast. They have prepared so many armaments for destruction. They even carry bombs on the steamers and aeroplanes. At this time, they have made all the preparations in advance. They write in the newspapers: We cannot say that we will not use those bombs. They continue to say that it is possible that they will use those bombs. All of these preparations are being made. Destruction definitely has to take place. It is impossible for the bombs not to be used and for destruction not to take place. A new world is definitely needed for you. This is fixed in the drama. This is why you should have a lot of happiness. It is said: Death to the prey and happiness for the hunter. According to the drama everyone has to die. Because you children have the knowledge of the drama, you do not fluctuate but observe everything as detached observers. There is no need to cry. Everyone has to shed their body at their own time. You souls know that you will take your next birth in the kingdom. “I will become a prince.” The soul knows this and therefore sheds a body and takes another. Even a snake has a soul. It would say: I am shedding one skin and taking another; at some time even that will shed its body and become a baby snake again. Children do take birth. Everyone has to take rebirth. All of these things have to be churned. The main thing is to remember the Father with a lot of love. Just as children cling to their mother and father, in the same way, you souls also have to cling firmly to Father with your intellects’ yoga. You each have to check yourself as to what extent you are imbibing knowledge. There is the example of Narad. Devotees cannot become deities until they take knowledge. It is not just a question of marrying Lakshmi; it is a question of understanding. You children know that when you were satopradhan, you ruled over the world. You now have to remember the Father in order to become satopradhan again. You have been making effort every cycle to have real yoga in order to accumulate real power. Each one of you can understand to what extent you are able to explain to others and to what extent you are emerging out of body consciousness. I, the soul, leave one body and take another. I, the soul, work through this body. These are my organs. We are all actors playing our parts. This is a huge play in this unlimited drama. All the actors in this drama are numberwise. We can understand who the main actors are in this, who the firstsecond and third grade are. You children have come to know the beginning, the middle and the end of the drama from the Father. You receive the knowledge of creation from the Creator. The Creator comes and explains the secrets of Himself and His creation. This is His chariot which He has entered. You would therefore say that there are two souls in this one. It is a common thing to invoke a departed soul and offer that soul food when he comes. Previously, many used to come in this way and be asked questions. They have now become tamopradhan. Even now, some are able to tell you who they were in their previous birth. No one is able to tell you about the future; they can only tell you about the past. Not everyone can be trusted in this. Baba says: Sweet children, you now have to remain in silence. When you become strong in knowledge and yoga, you will become firm and solid. At the moment, many of you children are innocent. The deities who were the residents of Bharat were very solid. They were overflowing with wealth. Now, they are empty. They were solvent whereas you have become insolvent. You know what Bharat used to be and what it has now become. People will die of starvation because there will be no grain, water or anything. Some places will continue to be flooded and other places will not have a drop of water. At this time, there are clouds of sorrow. In the golden age, there will be clouds of happiness. Only you children understand this play. No one else knows this. It is very good to explain using the badge. One is a limited, physical father whereas that One is the unlimited Father from beyond. Only once, at this confluence age, does this Father give you the unlimited inheritance and create the new world. This is the iron  aged world and it will definitely become golden aged. You are now at the confluence. If your heart is clean, your desires are fulfilled. Ask yourself every day: Did I do anything bad? Did I have any vicious thoughts inside me about anyone? Did I remain in the intoxication of knowing who I am, or did I waste my time gossiping? The Father’s order is: Remember Me alone! If you do not have remembrance, you are disobeying the Father. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from

the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Stay in the intoxication of knowledge and yoga and keep your heart clean.Do not waste your time in waste thoughts or in gossiping.
  2. We souls are brothers; we now have to return home. Practise this very firmly. Become bodiless, stabilize yourself in your original religion and remember the Father.
Blessing: May you be a knowledgeable soul who uplifts those who defame you and one who finishes any thoughts of causing harm.
Even if someone defames you, causes you harm or insults you every day, let there not be any feelings of dislike for that one in your mind. To uplift those who defame you is the task of knowledgeable souls. You children insulted the Father for 63 births and the Father still looked at you with benevolent vision. So, follow the Father. The meaning of a knowledgeable soul is to have feelings of benevolence for everyone. Let there not be the slightest thought of causing any harm.
Slogan: Stabilize yourself in the stage of “Manmanabhav” and you will know the intentions in the minds of others.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 2 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 February 2019

To Read Murli 1 February 2019 :- Click Here
02-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – विदेही बन बाप को याद करो, स्वधर्म में टिको तो त़ाकत मिलेगी, खुशी और तन्दुरूस्ती रहेगी, बैटरी फुल होती जायेगी”
प्रश्नः- ड्रामा की किस नूँध को जानने के कारण तुम बच्चे सदा अचल रहते हो?
उत्तर:- तुम जानते हो यह बाम्ब्स आदि जो बने हैं, यह छूटने हैं जरूर। विनाश होगा तब तो हमारी नई दुनिया आयेगी। यह ड्रामा की अनादि नूँध है, मरना तो सबको है। तुम्हें खुशी है कि हम यह पुराना शरीर छोड़ राजाई में जन्म लेंगे। तुम ड्रामा को साक्षी हो देखते हो। इसमें हिलने की बात नहीं, रोने की कोई दरकार नहीं।

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं यह जो आदि सनातन देवी-देवता धर्म था उसको हिन्दू धर्म में क्यों लाया? कारण निकालना चाहिए। पहले तो आदि सनातन देवी-देवता धर्म ही था। फिर जब विकारी हुए तो अपने को देवता कह न सके। तो अपने को आदि सनातन देवी-देवता के बदले आदि सनातन हिन्दू कह दिया है। आदि सनातन अक्षर भी रखा है। सिर्फ देवता बदली कर हिन्दू रख दिया है। उस समय इस्लामी आये तो उन बाहर वालों ने आकर हिन्दू धर्म नाम रख दिया। पहले हिन्दुस्तान नाम भी नहीं था। तो आदि सनातन हिन्दू देवता धर्म वाले ही समझने चाहिए। वह अक्सर करके धर्मात्मा होते हैं। सभी सनातनी नहीं हैं, जो पीछे आये हैं उनको आदि सनातनी नहीं कहेंगे। हिन्दुओं में भी पीछे आने वाले होंगे। आदि सनातन हिन्दुओं को बताना चाहिए कि तुम्हारा आदि सनातन देवता धर्म था। तुम ही सतोप्रधान आदि सनातन थे फिर पुनर्जन्म लेते-लेते तमोप्रधान बने हो, अब फिर याद की यात्रा से सतोप्रधान बनो। उन्हों को यह दवाई अच्छी लगेगी। बाबा सर्जन है ना। जिन्हों को यह दवाई अच्छी लगती है उनको देनी चाहिए। जो आदि सनातन देवी-देवता धर्म के थे, उन्हों को स्मृति दिलानी चाहिए। जैसे तुम बच्चों को स्मृति आई है। बाबा ने समझाया है – कैसे तुम सतोप्रधान से तमोप्रधान बने हो? अब फिर तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है। तुम बच्चे सतोप्रधान बन रहे हो – याद की यात्रा से। जो आदि सनातन हिन्दू होंगे वही असुल देवी-देवता होंगे और वही देवताओं को पूजने वाले भी होंगे। उसमें भी जो शिव के या लक्ष्मी-नारायण, राधे-कृष्ण, सीता-राम आदि देवताओं के भक्त हैं, वह देवता घराने के हैं। अब स्मृति आई है – जो सूर्यवंशी हैं वही चन्द्रवंशी बनते हैं तो ऐसे-ऐसे भक्तों को ढूँढना चाहिए। फॉर्म उनसे भराना है जो समझने लिए आते हैं। मुख्य सेन्टर्स पर फॉर्म भराने के लिए जरूर होने चाहिए। जो भी आये उनको लेसन तो शुरू से देंगे। पहली मुख्य बात है जो बाप को नहीं जानते तो उनको समझाना पड़ता है। तुम अपने बड़े बाप को नहीं जानते हो। तुम असल में पारलौकिक बाप के हो। यहाँ आकर लौकिक के बने हो। तुम अपने पारलौकिक बाप को भूल जाते हो। बेहद का बाप है ही स्वर्ग का रचयिता। वहाँ यह अनेक धर्म होते नहीं। तो फॉर्म जो भरते उस पर ही सारा मदार होना चाहिए। कोई बच्चे भल समझाते बहुत अच्छा हैं परन्तु योग है नहीं। अशरीरी बन बाप को याद करें, वह है नहीं। याद में ठहर नहीं सकते। भल समझते हैं हम अच्छा समझाते हैं, म्युज़ियम आदि भी खोलते हैं परन्तु याद बहुत कम है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करते रहें, इसमें ही मेहनत है। बाप वारनिंग देते हैं। ऐसे मत समझो कि हम तो बहुत अच्छा कनविन्स कर सकते हैं। परन्तु इससे फायदा क्या? चलो, स्वदर्शन चक्रधारी बन गये परन्तु इसमें तो विदेही बनना है। कर्म करते अपने को आत्मा समझना है। आत्मा इस शरीर द्वारा कर्तव्य करती है – यह याद करना भी नहीं आता, ख्याल में नहीं आता, उनको कहेंगे बुद्धू। बाप को याद नहीं कर सकते! सर्विस करने की त़ाकत नहीं। याद बिगर आत्मा में त़ाकत कहाँ से आयेगी? बैटरी कैसे भरे? चलते-चलते खड़ी हो जायेगी, त़ाकत नहीं रहेगी।

कहा जाता है रिलीज़न इज़ माइट। आत्मा स्वधर्म में टिके, तब त़ाकत मिले। बहुत हैं जिनको बाप को याद करना आता नहीं। शक्ल से पता पड़ जाता है। और सब याद आयेगा, बाबा की याद ठहरेगी नहीं। योग से ही बल मिलेगा। याद से बड़ी खुशी और तन्दुरूस्ती रहेगी। फिर दूसरे जन्म में भी शरीर ऐसा तेजस्वी मिलेगा। आत्मा प्योर तो शरीर भी प्योर मिलेगा। कहेंगे यह 24 कैरेट गोल्ड है, तो 24 कैरेट जेवर है। इस समय सब 9 कैरेट बन गये हैं। सतोप्रधान को 24 कैरेट कहेंगे, सतो को 22, यह बड़ी समझने की बातें हैं। बाप समझाते हैं पहले तो फॉर्म भराना है तो पता पड़े कहाँ तक रेसपॉन्स करते हैं? कितनी धारणा की है? फिर यह भी आता है याद की यात्रा में रहते हैं? तमोप्रधान से सतोप्रधान याद की यात्रा से बनना है। वह हैं भक्ति की जिस्मानी यात्रायें, यह है रूहानी यात्रा। रूह यात्रा करती है। उसमें रूह और जिस्म दोनों ही यात्रा करते हैं। पतित-पावन बाप को याद करने से ही आत्मा में तेज आता है। कोई जिज्ञासू को जलवा आदि दिखाना है तो बाबा की प्रवेशता भी हो जाती है। माँ-बाप दोनों ही मदद करते हैं – कहीं नॉलेज की, कहीं योग की। बाप तो सदा विदेही है। शरीर का भान है ही नहीं। तो बाप दोनों त़ाकत की मदद दे सकते हैं। योग नहीं होगा तो त़ाकत मिलेगी कहाँ से? समझा जाता है यह योगी है या ज्ञानी है। योग के लिए दिन-प्रतिदिन नई-नई बातें भी समझाते हैं। आगे थोड़ेही यह समझाते थे। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। अब बाबा जोर से उठाते हैं, जिससे भाई-बहन का सम्बन्ध भी हट जाए, सिर्फ भाई-भाई की दृष्टि रह जाए। हम आत्मा भाई-भाई हैं। यह बहुत ऊंची दृष्टि है। अन्त तक यह पुरुषार्थ चलना है। जब सतोप्रधान बन जायेंगे तब यह शरीर छोड़ देंगे इसलिए जितना हो सके पुरुषार्थ को बढ़ाना है। बुढ़ों के लिए और ही सहज है। अब हमको वापिस जरूर जाना है। जवानों को कभी ऐसे ख्यालात नहीं आयेंगे। बुढ़े वानप्रस्थी रहते हैं। समझा जाता है अब वापिस जाना है। तो यह सब ज्ञान की बातें समझनी हैं। झाड़ की वृद्धि भी होती रहती है। वृद्धि होते-होते सारा झाड़ तैयार हो जायेगा। कांटों को बदलकर नया छोटा फूलों का झाड़ बनना है। नया बन फिर पुराना होना है। पहले झाड़ छोटा होगा फिर बढ़ता जायेगा। वृद्धि होते-होते पिछाड़ी में कांटे बन जाते हैं। पहले होते हैं फूल। नाम ही है स्वर्ग। फिर बाद में वह खुशबू, वह त़ाकत नहीं रहती है। कांटे में खुशबू नहीं होती। हल्के-हल्के फूलों में भी खुशबू नहीं होती। बाप बागवान भी है तो खिवैया भी है, सबकी नाव पार करते हैं। नाव पार कैसे करते हैं, कहाँ ले जाते हैं – यह भी जो सयाने बच्चे हैं, वह समझ सकते हैं। जो समझते नहीं, वह पुरुषार्थ भी नहीं करते। नम्बरवार तो होते हैं ना। कोई-कोई एरोप्लेन तो आवाज़ से भी तीखा जाता है। आत्मा कैसे भागती है – यह भी किसको पता नहीं है। आत्मा तो रॉकेट से भी तीखी जाती है। आत्मा जैसी तीखी और कोई चीज़ होती नहीं। उन रॉकेट आदि में ऐसी कोई चीज़ डालते हैं जो जल्दी उड़ा ले जाते हैं। विनाश के लिए कितना बारूद आदि तैयार करते हैं। स्टीमर, एरोप्लेन में भी बाम्ब्स ले जाते हैं। आजकल पूरी तैयारी रखते हैं। अखबारों में लिखते हैं, ऐसे नहीं कह सकते कि बाम्ब्स काम में नहीं लायेंगे। हो सकता है बाम्ब्स चला दें – ऐसे कहते रहते हैं। यह सब तैयारियां हो रही हैं। विनाश तो जरूर होना है। बाम्ब्स न छूटें, विनाश न हो – ऐसा हो नहीं सकता। तुम्हारे लिए नई दुनिया जरूर चाहिए। यह ड्रामा में नूँध है, इसलिए तुमको बहुत खुशी होनी चाहिए। मिरूआ मौत मलूका शिकार…… ड्रामा अनुसार सबको मरना ही है। तुम बच्चों को ड्रामा का ज्ञान होने के कारण तुम हिलते नहीं हो, साक्षी होकर देखते हो। रोने आदि की दरकार नहीं। समय पर शरीर तो छोड़ना ही होता है। तुम्हारी आत्मा जानती है हम दूसरा जन्म राजाई में लेंगे। मैं राजकुमार बनूँगा। आत्मा को पता है तब तो एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। सर्प में भी आत्मा है ना। कहेंगे हम एक खाल छोड़ दूसरी लेते हैं। कभी तो वह भी शरीर छोड़ेंगे, फिर बच्चा बनेंगे। बच्चे तो पैदा होते हैं ना। पुनर्जन्म तो सबको लेना है। यह सब विचार सागर मंथन करना होता है।

सबसे मुख्य बात है बाप को बहुत प्यार से याद करना है। जैसे बच्चे माँ-बाप को एकदम चटक जाते हैं, वैसे बहुत प्यार से बुद्धियोग द्वारा बाप को एकदम चटक जाना चाहिए। अपने को देखना भी है कि हम कितनी धारणा कर रहे हैं। (नारद का मिसाल) भक्त जब तक ज्ञान न उठायें तब तक देवता बन न सकें। यह सिर्फ लक्ष्मी को वरने की बात नहीं है। यह तो समझने की बात है। तुम बच्चे समझते हो जब हम सतोप्रधान थे तो विश्व पर राज्य करते थे। अब फिर सतोप्रधान बनने के लिए बाप को याद करना है। यह मेहनत कल्प-कल्प तुम यथा योग यथा शक्ति करते ही आये हो। हर एक समझ सकते हैं हम कहाँ तक किसको समझा सकते हैं? देह-अभिमान से हम कहाँ तक निकलते जा रहे हैं? मैं आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती हूँ। मैं आत्मा इनसे काम लेती हूँ, यह मेरे आरगन्स हैं। हम सब पार्टधारी हैं। इस ड्रामा में यह बेहद का बड़ा नाटक है। उसमें नम्बरवार सब एक्टर्स हैं। हम समझ सकते हैं – इसमें कौन-कौन मुख्य एक्टर्स हैं। फर्स्ट, सेकण्ड, थर्ड ग्रेड कौन-कौन हैं? तुम बच्चे बाप द्वारा ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त को जान गये हो। रचयिता द्वारा रचना की नॉलेज मिलती है। रचयिता ही आकर अपना और रचना का राज़ समझाते हैं। यह उनका रथ है, जिसमें प्रवेश कर आये हैं। कहेंगे तब तो दो आत्मायें हैं। यह भी कॉमन बात है। पित्र खिलाते हैं, तो आत्मा आती है ना। आगे बहुत आते थे, उनसे पूछते थे। अभी तो तमोप्रधान हो गये हैं। कोई-कोई अब भी बतलाते हैं – हम आगे जन्म में फलाना था। फ्युचर का कोई नहीं बताते। पिछाड़ी का सुनाते हैं। सब पर तो कोई विश्वास नहीं करते।

बाबा कहते हैं – मीठे बच्चे, अब तुमको शान्त में रहना है। तुम जितना-जितना ज्ञान-योग में मजबूत होंगे तो फिर पक्के सॉलिड हो जायेंगे। अभी तो बहुत बच्चे भोले हैं। भारतवासी देवी-देवतायें कितने सॉलिड थे। धन से भी भरपूर थे। अभी तो खाली हैं। वह सालवेन्ट, तुम इनसालवेन्ट। तुम खुद भी जानते हो भारत क्या था, अब क्या है। भूख मरना ही पड़ेगा। अनाज-पानी आदि कुछ नहीं मिलेगा। कहाँ बाढ़ होती रहेगी, तो कहाँ पानी की बूँद नहीं होगी। इस समय दु:ख के बादल हैं, सतयुग में सुख के बादल हैं। इस खेल को तुम बच्चों ने ही समझा है और किसको भी पता नहीं है। बैज़ पर भी समझाना बहुत अच्छा है। वह लौकिक हद का बाप, यह पारलौकिक बेहद का बाप। यह बाप एक ही बार संगम पर बेहद का वर्सा देते हैं। नई दुनिया बन जाती है। यह है आइरन एज फिर गोल्डन एज जरूर बननी है। तुम अभी संगम पर हो। दिल स़ाफ मुराद हासिल। रोज़ अपने से पूछो – खराब काम तो नहीं किया? किसके लिए अन्दर विकारी ख्यालात तो नहीं आये? अपनी मस्ती में रहे या झरमुई-झगमुई में टाइम गँवाया? बाप का फ़रमान है – मामेकम् याद करो। अगर याद नहीं करते तो ऩाफरमानबरदार हो जाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान-योग की मस्ती में रहना है, दिल स़ाफ रखनी है। झरमुई-झगमुई (व्यर्थ चिंतन) में अपना समय नहीं गँवाना है।

2) हम आत्मा भाई-भाई हैं, अब वापिस घर जाना है – यह अभ्यास पक्का करना है। विदेही बन स्वधर्म में स्थित हो बाप को याद करना है।

वरदान:- अकल्याण के संकल्प को समाप्त कर अपकारियों पर उपकार करने वाले ज्ञानी तू आत्मा भव
कोई रोज़ आपकी ग्लानी करे, अकल्याण करे, गाली दे – तो भी उसके प्रति मन में घृणा भाव न आये, अपकारी पर भी उपकार – यही ज्ञानी तू आत्मा का कर्तव्य है। जैसे आप बच्चों ने बाप को 63 जन्म गाली दी फिर भी बाप ने कल्याणकारी दृष्टि से देखा, तो फालो फादर। ज्ञानी तू आत्मा का अर्थ ही है सर्व के प्रति कल्याण की भावना। अकल्याण संकल्प मात्र भी नहीं हो।
स्लोगन:- मनमनाभव की स्थिति में स्थित रहो तो औरों के मन के भावों को जान जायेंगे।

TODAY MURLI 2 FEBRUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 2 February 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 1 February 2018 :- Click Here

02-02-2018
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, don’t be attracted to anything. Become complete beggar s in relation to everything, including your bodies. Continue to remember the land of Shiva and the land of Vishnu.
Question: In which aspect does the Father, the Lord of the Poor, make the poor children the same as Himself?
Answer: Baba says: Just as I am generous hearted and I take everything worth straws and give you the sovereignty, in the same way, although you children are poor, you must become generous hearted. Open a Godly University with just a little money. There is no expense in this. If even three or four people receive good fruit from it, it is great fortune for those who opened the centre. Simply remain obedient. Never defame the Satguru under the influence of lust or anger.

Om shanti. BapDada and Mama; there are two mothers: Grandmother and mother. This one is your senior mother, but Jagadamba has become the instrument to look after the children. Shiv Baba is the One with many forms. He plays with you and entertains you a great deal. There is a lot of celebration. When a couple get engaged, they have a celebration and, before the wedding ceremony, both wear torn clothes and have oil rubbed on them. That custom is taken from here. The Father explains to you children: Become complete beggars. If you don’t have anything, you will receive everything. Nothing should remain, not even your body. Connect your intellects in yoga to only the land of Shiva and the land of Vishnu. Let there be no attraction to anything else. You also definitely have to become pure. Look how much Meera is praised! She was not concerned about the opinion of society. She became so famous because of this purity. She didn’t even receive the nectar of knowledge. She just had love for Krishna. She renounced poison in order to go to the land of Krishna, just as a wife sacrifices herself on the funeral pyre of her husband. It wasn’t that, by remembering Krishna, Meera went to the land of Krishna. The land of Krishna didn’t exist at that time. Meera must have existed around five to seven hundred years ago. She was a very good devotee. That was why she must have taken birth to a good devotee. Her name continues to be remembered so much. That Meera was a devotee whereas all of you become Meeras of knowledge. You have come here to become sun-dynasty and moon-dynasty empresses. Although those who are uneducated will at first have to bow down to those who are educated, they will still become empresses. If someone forgets her childhood and let’s go of Baba’s hand, she can never become an empress. Instead, a lower status is claimed even among the subjects. She will go to Paradise but will claim a lower status. Baba has explained: You should ask those who do devotion what they want. Why do they do devotion of Krishna? They must definitely want to go to his kingdom, but how can they go there? Many people say that they want peace. However, the whole world is peaceless. What would be achieved by just one of you receiving peace? We can make you constantly happy for 21 births. The deities were constantly happy in this Bharat. That kingdom is now being established. Here, it is the kingdom of Maya and there cannot be peace. The place of peace is separate from the place of happiness. In the land of happiness, everyone is happy; not a single person is unhappy. Then, in the land of sorrow, not a single person is happy. As are the king and queen, so the subjects; all are unhappy. In the land of happiness, even animals don’t experience sorrow. The land of peace is separate; it is called the land of nirvana. They say that so-and-so went to the land of nirvana. However, no one has gone there. If someone went, what did he do before he went? Everyone is still unhappy. There is so much fighting and quarrelling. Some say: Hindus should leave from our country. Some say: So-and-so should be leave from our country. They are unable to tolerate one another. Now, even the Father sees that there are innumerable religions, and that they continue to fight. This is why all bodily religions are to be removed. The Father says: I will remove all the bodily religions from those of all religions. In the golden age, there is just the one deity religion. You children have all of this knowledge in your intellects. You should take a picture with you and go and explain to those who are in the stage of retirement. You should go to the temples. You should ask them: Shiva is shown in front of Shankar and so He must be higher than Shankar, must He not? If Shankar is God, then what is the need to keep a Shivalingam in front of him? Sannyasis call themselves those who have knowledge of the brahm element. They don’t know anything about Shiva. The element is a place of residence. They don’t believe that the brahm element and the great element (soul world) are one. OK, if they have knowledge of the brahm element, why do they call themselves Shiva? (They chant the mantra “I am brahm, I am Shiva”.) They believe that Shiva and the brahm element are one and the same. Brahm is a place of residence. People are very confused. You children now have to become very clever. You can even explain to sannyasis. Some of them who truly belong to the deity religion will also emerge. They will understand knowledge quickly. Those who were converted three or four births earlier will not emerge that quickly. Those who have been converted recently will emerge quickly. Baba has that attraction. The Father is the Magnet and souls are needles. The needles have now become rusty. How can a rusty needle go up above? Its wings are broken. Anything that is rusty is put in paraffin. Baba removes everyone’s rust with the nectar of knowledge. Then we will become real gold. From lords of stone, you are now becoming lords of divinity. Bharat was the land of divinity. Look how expensive gold has become nowadays! There, it will be very cheap. Bharat, that has now become the land of stone, will once again become the land of divinity. Our intellects continue to rotate this cycle. Only when your intellects rotate the cycle throughout the day will you become the kings and queens who rule the globe. No one in the world knows these things. You know that those who rule in the golden age take 84 births. Then, those who come in the silver age will definitely have fewer births. There is a vast difference between 84 births and 8.4 million births. The duration of the cycle would then also have to be that long so that they could take that many births. All of those things are lies. Always first give them a picture. You must never ask for money. It is your duty to give to them. If they want to give you something, they will give it voluntarily. If they ask you the price of something, tell them: Baba is the Lord of the Poor. This is distributed free to those who are poor, but wealthy ones can give as much as they want so that we can print more. We don’t use the money for our personal use. Whatever we receive is used to serve people. Only the wealthy would build pilgrim rest houses etc. Here, even the poor can open centres. There is no expense in this. For instance, some ask: Should I open a centre? Should I open this Godly University? Then, if even three or four receive good fruit from this Godly University, it is great fortune for those who opened the centre. You have to be generous hearted in this. Look how generous Baba is! He takes straws from you and gives you the sovereignty. Only worthy children can do Baba’s service. What would unworthy ones do? The Father would not give an inheritance to those who are unworthy. You have to reveal the Satguru. If you become lustful or angry, it means you have defamed the Satguru. You won’t then be able to claim a status. You have to be very cautious. The Father says: You have been receiving inheritances of poison from your fathers and husbands. Now, this Father and Husband from beyond is giving you the inheritance of nectar. You have to give the knowledge of the Creator and creation to those of all religions. He (Creator) resides in the land of peace. By remembering Him, you can claim the inheritance of peace. By claiming your inheritance, your sins will be absolved and you will go to Him. This knowledge is for those of all religions. These things are completely new. Scriptures belong to the path of devotion. To wander from door to door, to feed brahmin priests and to go on pilgrimages are all devotion. Here, your boat can go across with just this knowledge. There is no need to go anywhere else. Therefore, sweetest children, you are now going to heaven. Those who drink poison will definitely create obstacles because the people of the whole world are deceitful. Look, there is no purity in Bharat and so people continue to stumble around. They have so many upheavals and continue to strike. They cause so many problems for the Government. The Government tells them clearly: Where can we get money to cover all these expenses? Then, people say: You all enjoy yourselves and continue to accumulate money. What crime have we committed? We need more pay. They hold strikes and so business thereby comes to a standstill. All of this has to happen. Sometimes, you won’t be able to get vegetables; sometimes, you won’t be able to get milk. There will be conflict everywhere. After all these upheavals, there will be peace. Arjuna was given visions of destruction and the land of Vishnu. You too are now having those visions. Look, in some places, when they don’t have rain they create sacrificial fires. In some places, when there is a lot of upheaval they create a sacrificial fire for peace there. However, only the one God is peaceful. Only when He comes can He donate peace. That One alone is the Bestower. Look how beloved you children are! After many births you have come and met Baba at the end. So, now claim your full fortune! Children are called ‘tolput’ (as sweet as toli). Baba feeds you sweet toli. That is a physical sweet whereas this is a spiritual sweet that the spiritual Father gives. To remain soul conscious is a very high destination: it requires effort. Baba says: You have to remain soul conscious for eight hours. Then, you may work for your livelihood. Stay awake at night and you will be able to experience very good love. There is an income in that. O children, who are conquerors of sleep, remember Me, your Father, in every breath! Churn the ocean of knowledge! Your sins will be absolved to the extent that you stay in yoga, day and night. You will earn an income according to how much you churn the ocean of knowledge. However, there is a lot of service to do. If you ask Baba, Baba would say: Just sit there, continue to rest! There is no need to ask! Did Baba think about the opinion of society and people? He thought: I am receiving the sovereignty and so I should kick this aside. However, yes, each one has his own part. Each one’s karmic bondages are individual. If you have money, you can use that money in a worthwhile way for spiritual service. You children understand that there definitely are obstacles on this path of knowledge, because there is the question of purity. All of those who come to establish a religion definitely have to be pure. At this time, people are very dirty and impure. They create many obstacles; they even make false allegations. You mustn’t be afraid of those things. No matter what happens, you mustn’t become afraid. All of those allegations were also made 5000 years ago. There will be allegations made now too. They make up many false stories. When someone doesn’t receive a good response, he creates upheaval. Gradually, even sannyasis and saints etc. and those of all religions will come here. Everyone definitely has to take the Father’s knowledge. All of these pictures will go everywhere in the world. Never become angry and debate with anyone. Even though someone defames you, you mustn’t become angry. You children should become refreshed and do service. Day by day, the laws and regulations will continue to improve. The laws and regulations of the world will continue to become worse because the world is continuing to become tamopradhan. We are becoming satopradhan. Achcha. You children are Raj Rishis. You would say that you are now doing tapasya in order to go into the stage of retirement. No human being would have the wisdom to give such a response. Those people don’t even understand that the stage of retirement is, being beyond sound. You say that you are Raj Yogis and that you are doing tapasya in order to receive liberation-in-life. The One who is teaching you is the Supreme Father, the Supreme Soul from beyond the Ocean of Knowledge. If mothers sit and explain in this way, everyone will be amazed. Tell them: The Supreme Father, the Supreme Soul from beyond, is teaching us in order to enable us to claim a high status in the future. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Even if someone defames you, you mustn’t become angry. Never debate with anyone. Refresh yourself and then do service.
  2. Become a conqueror of sleep. Stay awake at night and remember the Father and churn knowledge. Practise remaining soul conscious.
Blessing: May you be a bestower of peace and spread rays of peace into the world as an incarnation of peace.
A tiny firefly gives the experience of its light from a distance. Similarly, enable souls of the world and souls who come into connection and relationship with you to feel that they are receiving the power of silence from you special souls. Let their intellects experience incarnations of peace coming to give them peace. On the basis of the rays of peace, enable all peaceless souls to be pulled to the sacred area of peace (Shanti-kund). Now experiment with this power of silence.
Slogan: Those who pay personal attention to themselves first have to become introspective and then become extroverted.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 2 FEBRUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 2 February 2018

To Read Murli 1 February 2018 :- Click Here
02-02-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – किसी भी चीज़ में आसक्ति नहीं रखनी है, देह सहित सबसे पूरा बेगर बनना है, शिवपुरी और विष्णुपुरी को याद करते रहना है।”
प्रश्नः- गरीब निवाज़ बाप गरीब बच्चों को भी किस बात में आप समान बना देते हैं?
उत्तर:- बाबा कहते जैसे मैं फ़राख दिल हूँ, कखपन ले तुम्हें बादशाही देता हूँ, ऐसे तुम बच्चे भल गरीब हो लेकिन फ़राख दिल बनो। थोड़े पैसे से भी यह गॉडली युनिवर्सिटी खोल दो, इसमें खर्चा कोई नहीं। 3-4 ने भी इस युनिवर्सिटी से अच्छा फल पा लिया तो खोलने वाले का अहो सौभाग्य। सिर्फ सपूत बनकर रहना। कभी काम, क्रोध के वश सतगुरू की निन्दा नहीं कराना।

ओम् शान्ति। बापदादा और मम्मा। मम्मायें दो होती हैं – दादी और माता। यह तुम्हारी बड़ी माँ है। परन्तु बच्चों को सम्भालने के लिए जगत अम्बा निमित्त बनी हुई है। शिवबाबा है बहुरूपी, वह बहुत खेलपाल भी करते हैं। स्वहेज़ होते हैं ना। जब सगाई होती है तो भी स्वहेज़ करते हैं और जब शादी का समय होता है तो दोनों फटे हुए कपड़े पहनते हैं, तेल लगाते हैं। यह रसम भी यहाँ की है। तुम बच्चों को भी बाप समझाते हैं कि पूरा बेगर बनना है। कुछ भी नहीं होगा तो सब कुछ मिल जायेगा। देह सहित कुछ भी न रहे। शिवपुरी, विष्णुपुरी तरफ ही बुद्धियोग लगाना है, और कोई भी चीज़ में आसक्ति न हो। पवित्र भी जरूर बनना है। देखो मीरा का कितना गायन है! लोकलाज खोई। सिर्फ इस पवित्रता के कारण कितना नाम निकला है। उनको तो ज्ञान अमृत भी नहीं मिला। सिर्फ कृष्ण से प्रीत थी। कृष्णपुरी में जाने के लिए विष को छोड़ा। जैसे स्त्री पति के पिछाड़ी सती बनती है ना। अब ऐसे तो नहीं मीरा याद करते-करते कोई कृष्णपुरी में गई। उस समय कृष्णपुरी तो है नहीं। मीरा को 5-7 सौ वर्ष हुए होंगे। भक्तिन बहुत अच्छी थी, इसलिए कोई अच्छे भक्त के घर जन्म लिया होगा। उनका नामाचार कितना चला आता है। वह तो मीरा भक्तिन थी। तुम सभी ज्ञान मीरायें बनती हो। तुम आये हो सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी महारानी बनने के लिए। भल पहले अनपढ़े, पढ़े के आगे भरी ढोते हैं परन्तु महारानी तो बनेंगे ना। अगर बचपन को भूल हाथ छोड़ दिया फिर तो कभी नहीं महारानी बनेंगी और ही प्रजा में भी कम पद पायेंगी। वैकुण्ठ में तो आयेंगे परन्तु कम पद। बाबा ने समझाया है – भक्ति करने वालों से पूछना चाहिए कि तुम क्या चाहते हो? कृष्ण की भक्ति क्यों करते हो? जरूर दिल होगी कि इनकी राजधानी में जायें। परन्तु वहाँ जायेंगे कैसे? बहुत मनुष्य कहते हैं हमको शान्ति चाहिए। परन्तु अशान्ति तो सारी दुनिया में है ना। तुम एक को शान्ति मिलने से क्या होगा, हम तुमको 21 जन्मों के लिए सदैव सुखी बना सकते हैं। देवतायें इस भारत में ही सदा सुखी थे। अब वह राजधानी स्थापन हो रही है। यहाँ तो है ही माया का राज्य, शान्ति मिल नहीं सकती। शान्ति के लिए अलग जगह है, सुख के लिए अलग जगह है। सुखधाम में सब सुखी होते हैं। कोई एक भी दु:खी नहीं रहता और दु:खधाम में फिर एक भी सुखी नहीं रहता। यथा राजा रानी तथा प्रजा सब दु:खी ही दु:खी हैं। सुखधाम में कभी जानवर भी दु:ख नहीं पाते। शान्ति की दुनिया ही अलग है, जिसको निर्वाणधाम कहते हैं। कहते हैं फलाना निर्वाणधाम गया। परन्तु गया कोई भी नहीं है। अगर खुद चला गया तो फिर क्या करके गया? सब दु:खी ही दु:खी हैं, कितने लड़ाई-झगड़े हैं। वह कहते हमारे देश से हिन्दू निकल जाएं, वह कहते फलाने निकल जायें। एक दो को सहन नहीं कर सकते। अब बाप भी देखते हैं अनेक धर्म हो गये हैं तो लड़ते रहते हैं, इसलिए सभी देह के धर्मों को निकाल देते हैं। बाप कहते हैं जो भी धर्म वाले हैं, सबको हम देह के धर्मों से निकाल देंगे। सतयुग में सिर्फ एक देवता धर्म रहता है। यह सब ज्ञान तुम बच्चों की बुद्धि में है। हाथ में चित्र उठाए जाकर वानप्रस्थियों को समझाना चाहिए। मन्दिरों में जाना चाहिए। उनसे पूछना चाहिए शंकर के आगे शिव दिखाते हैं तो जरूर वह शंकर से बड़ा हुआ ना। अगर शंकर भगवान का रूप है तो फिर उनके सामने शिवलिंग रखने की क्या दरकार है। सन्यासी अपने को ब्रह्म ज्ञानी, तत्व ज्ञानी कहलाते हैं। शिव का उनको पता भी नहीं है। तत्व तो रहने का स्थान है। वह फिर ब्रह्म और तत्व को भी एक नहीं मानते। अच्छा ब्रह्म ज्ञानी, तत्व ज्ञानी हैं फिर अपने को शिव क्यों कहलाते? वह तो समझते हैं शिव भी एक ही है, ब्रह्म भी एक ही है। अब ब्रह्म तो है ही रहने का स्थान। मनुष्य तो बहुत मूंझे हुए हैं। तुम बच्चों को अब होशियार होना है। तुम सन्यासियों को भी समझा सकते हो। उनसे भी कोई निकलेंगे जो असुल देवता धर्म के होंगे, वह झट ज्ञान को समझ लेंगे। कोई 3-4 जन्मों से कनवर्ट हुए होंगे तो इतना जल्दी नहीं निकलेंगे, ताजे गये होंगे तो झट निकलेंगे। बाबा में कशिश है ना। बाप है चुम्बक। आत्मायें हैं सुईयां। अब सुईयों पर कट (जंक) चढ़ी हुई है। कट वाली सुई ऊपर कैसे जाये। पंख टूटे हुए हैं। कट वाली चीज़ मिट्टी के तेल में डाली जाती है। बाबा भी इस ज्ञान अमृत से सबकी कट निकालते हैं। फिर हम सच्चा सोना बन जायेंगे। तुम अभी पत्थरनाथ से पारसनाथ बनते हो। भारत पारसपुरी था। अब देखो सोने का दाम कितना चढ़ गया है। फिर वहाँ बहुत सस्ता हो जायेगा। तो भारत जो अब पत्थरपुरी बना है वह फिर पारसपुरी बनेगा। हमारी बुद्धि में यह चक्र फिरता रहता है। सारा दिन चक्र बुद्धि में फिरेगा तब ही चक्रवर्ती राजा रानी बनेंगे। दुनिया में इन बातों को कोई भी नहीं जानते हैं। तुम जानते हो सतयुग में जो राज्य करते हैं, उन्हों के 84 जन्म होते हैं। फिर त्रेता वालों के जरूर कम होंगे। कहाँ 84 जन्म, कहाँ फिर 84 लाख कह देते हैं। फिर तो कल्प भी इतना लम्बा होना चाहिए, जो इतने जन्म हों। यह हैं सब गपोड़े। हमेशा पहले तो चित्र सामने दे देना चाहिए। पैसा तो तुम कभी नहीं मांगना। तुम्हारा काम है उनको देना। कुछ भी उनको देना होगा तो आपेही देंगे। कोई दाम पूछे तो बोलो बाबा तो गरीब-निवाज़ है। गरीबों के लिए फ्री बांटा जाता है। बाकी साहूकार जितना देंगे उतना हम और भी छपायेंगे। पैसा कोई हम अपने काम में थोड़ेही लगाते हैं। जो मिलता है जनता की सेवा के काम में लगाया जाता है। साहूकार ही तो धर्मशाला आदि बनायेंगे। यहाँ गरीब भी सेन्टर बना सकते हैं, इसमें खर्चा कुछ भी नहीं है। समझो कहते हैं कि हम सेन्टर खोलूँ अथवा यह गॉडली युनिवर्सिटी खोलूं। ऐसी गॉडली युनिवर्सिटी से 3-4 ने भी अच्छा फल पा लिया तो अहो सौभाग्य, उन खोलने वालों का। इसमें फ़राख दिल होना चाहिए। बाबा देखो कितना फ़राख दिल है। कखपन ले और बादशाही दे देते हैं। सपूत बच्चे ही बाबा की सर्विस कर सकते हैं। कपूत क्या करेंगे। कपूत को थोड़ेही बाप वर्सा देंगे। तुमको सतगुरू का शो करना है। काम अथवा क्रोध में आये तो गोया सतगुरू की निन्दा कराई, फिर पद पा नहीं सकेंगे। बहुत सम्भाल करनी चाहिए। बाप कहते हैं विष का वर्सा तो बाप से, पति से लेते आये हो। अब यह पारलौकिक बाप, पति अमृत का वर्सा तुमको देते हैं।

तुम सभी धर्म वालों को रचयिता और रचना की नॉलेज बता सकते हो। वह (रचयिता) तो रहते ही हैं शान्तिधाम में। उनको याद करने से तुम शान्ति का वर्सा ले सकते हो। वर्सा लेते-लेते विकर्म विनाश हो जायेंगे और तुम उनके पास चले जायेंगे। यह ज्ञान सभी धर्म वालों के लिए है। यह है बिल्कुल नई बात। शास्त्र तो हैं भक्ति मार्ग के। दर-दर धक्का खाना, ब्राह्मण खिलाना, तीर्थों पर जाना। यहाँ तो एक ही ज्ञान से बेड़ा पार हो जाता है और कहीं जाने की दरकार ही नहीं। तो मीठे-मीठे बच्चे अब तुम स्वर्ग में चलते हो। जो विष पीने वाले हैं वह विघ्न तो जरूर डालेंगे क्योंकि सारी दुनिया धुंधकारी है। देखो भारत में पवित्रता नहीं है तो धक्के खाते रहते हैं। हंगामें हैं, स्ट्राइक करते रहते हैं। गवर्मेन्ट का नाक में दम चढ़ा देते हैं। गवर्मेन्ट साफ कह देती है कि इतना खर्चा हम लावें कहाँ से? तो वह कहते हैं तुम लोग मौज उड़ाते हो। धन इकट्ठा करते रहते हो, हमने क्या गुनाह किया है। हमको तनख्वाह चाहिए। स्ट्राइक कर लेते हैं तो धंधा ठहर जाता है। यह सब होना ही है। कहाँ सब्जी नहीं मिलेगी, कहाँ दूध नहीं मिलेगा, जहाँ तहाँ खिटपिट है। यह सब हंगामा हो फिर शान्ति होगी। विनाश का और फिर विष्णुपुरी का साक्षात्कार तो अर्जुन को भी कराया था ना। तुमको भी अभी हो रहा है। देखो, कहाँ बरसात नहीं पड़ती है तो भी यज्ञ रचते हैं। कहाँ बहुत अशान्ति होती है तो पीस के लिए यज्ञ रचते हैं। परन्तु पीसफुल तो एक ही भगवान है। वह जब आये तो शान्ति का दान देवे। देने वाला तो वह एक ही है ना। देखो तुम कितने लाडले बच्चे हो। बहुत जन्मों के बाद अन्त में आकर मिले हो। तो अब पूरा सौभाग्य लो। बच्चों को टोलपुट (मीठे बच्चे) कहा जाता है, मिठाई खिलाई जाती है। वह होती है जिस्मानी मिठाई, यह है रूहानी मिठाई, जो रूहानी बाप देते हैं। देही-अभिमानी हो रहना – बड़ी भारी मंजिल है। इसमें मेहनत है। बाबा कहते हैं 8 घण्टा तो देही-अभिमानी बनो फिर भल शरीर निर्वाह अर्थ काम भी करो। रात को जागो तो बहुत अच्छी लगन रहेगी। कमाई है ना। हे नींद को जीतने वाले बच्चे, मुझ बाप को श्वांसो श्वांस याद करो। विचार सागर मंथन करो। रात-दिन जितना योग में रहेंगे उतना विकर्म विनाश होंगे और जितना ज्ञान सिमरण करेंगे उतनी कमाई होगी। बाकी तो सर्विस बहुत है। बाबा से पूछेंगे तो बाबा कहेंगे बैठे रहो, आराम करो, इसमें पूछने की दरकार नहीं है। बाबा ने लोक-लाज़ का कुछ ख्याल किया क्या? अरे बादशाही मिलती है तो इनको मारो ठोकर। बाकी हाँ, हर एक का अपना-अपना पार्ट है। हर एक का कर्मबन्धन अलग-अलग है। पैसे हैं तो अलौकिक सर्विस में पैसे को सफल करो। यह तो बच्चे समझते हो इस ज्ञान मार्ग में जरूर विघ्न पड़ते हैं क्योंकि पवित्रता का सवाल है। जो भी धर्म स्थापन करने आते हैं उन्हों को पवित्र जरूर बनाना पड़े। इस समय तो मनुष्य बहुत गन्दे हैं। विघ्न भी बहुत डालेंगे, झूठ कलंक भी लगायेंगे। इन बातों से डरना नहीं है। कुछ भी हो घबराना नहीं चाहिए। 5 हजार वर्ष पहले भी यह कलंक लगे थे। अब भी लगेंगे। झूठी-झूठी बनावटी बातें भी करेंगे। किसको रेसपान्ड ठीक न मिलने से भी हंगामा करते हैं। आहिस्ते-आहिस्ते सन्यासी उदासी आदि सब धर्म वाले आयेंगे। सबको बाप की नॉलेज जरूर लेनी है। यह चित्र भी सारी दुनिया में जाने हैं। कभी क्रोध में आकर वाद-विवाद नहीं करना है। भल जाए कोई निन्दा करे, गुस्से में कभी नहीं आना चाहिए। बच्चों को रिफ्रेश हो फिर सर्विस करनी है। दिन प्रतिदिन कायदे कानून भी सुधरते जायेंगे। दुनिया के कायदे कानून तो बिगड़ते जायेंगे क्योंकि वह तो तमोप्रधान बनती जाती है। हम तो सतोप्रधान बन रहे हैं। अच्छा।

तुम बच्चे हो राजऋषि। तुम कहेंगे हम अभी तपस्या कर रहे हैं – वानप्रस्थ में जाने के लिए। ऐसा जवाब देने का कोई मनुष्य को अक्ल नहीं है। वह तो वानप्रस्थ को समझते ही नहीं। तुम कहेंगे हम राजयोगी हैं। जीवनमुक्ति के लिए तपस्या कर रहे हैं। सिखलाने वाला है पारलौकिक परमपिता परमात्मा, ज्ञान का सागर। ऐसे-ऐसे माताएं बैठ समझायें तो सब वन्डर खायेंगे। बोलो, हमको पारलौकिक परमपिता परमात्मा पढ़ा रहे हैं। भविष्य ऊंच पद प्राप्त कराने के लिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार :-

1) भल कोई निन्दा करे, हमें गुस्से में नहीं आना है। किसी से भी वाद विवाद नहीं करना है। रिफ्रेश हो फिर सर्विस करनी है।

2) नींद को जीतने वाला बनना है। रात को जागकर भी बाप को याद करना है और ज्ञान का सिमरण करना है। देही-अभिमानी रहने की प्रैक्टिस करनी है।

वरदान:- शान्ति के अवतार बन विश्व में शान्ति की किरणें फैलाने वाले शान्ति देवा भव 
जैसे छोटा सा फायरफलाई (जुगनू) दूर से ही अपनी रोशनी का अनुभव कराता है। ऐसे विश्व की आत्माओं वा सम्बन्ध-सम्पर्क में आने वाली आत्माओं को महसूस हो कि शान्ति की किरणें इन विशेष आत्माओं द्वारा मिल रही हैं। बुद्धि द्वारा अनुभव करें कि शान्ति का अवतार शान्ति देने आ गये हैं। चारों ओर की अशान्त आत्मायें शान्ति की किरणों के आधार पर शान्ति कुण्ड की तरफ खिंची हुई आयें। इस शान्ति की शक्ति का अभी प्रयोग करो।
स्लोगन:- जिनका स्वयं पर व्यक्तिगत अटेन्शन है वे अन्तर्मुखी बनकर फिर बाह्यमुखता में आते हैं।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize