today murli 19 october

TODAY MURLI 19 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 19 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 18 October 2018 :- Click Here

19/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, have all relationships with the Father and your bondages will end. Maya ties you in bondage whereas the Father liberates you from bondage.
Question: Who is said to be free from bondage? What is the way to become free from bondage?
Answer: “Free from bondage” means bodiless. Bodies or bodily relationships should not pull your intellects to them. There is bondage in body consciousness. Become soul conscious and all bondages will end. To die alive is to become free from bondage. It should remain in your intellects that it is now the final period and that the play is about to end. We are going to our Father’s home and so we will become free from bondage.
Song: Storms and hurricanes can do nothing to those whose Companion is God.

Om shanti. The Father sits here and explains to you children. There are so many children here and so the Father would surely be unlimited. The Father explains to you: It is said: Incorporeal Shiv Baba. Brahma is also called Baba. Vishnu and Shankar would not be called Baba. Shiva is always called Baba. The image of Shiva is separate from the image of Shankar. The song says: Salutations to Shiva. It is then said: You are the Mother and Father. It is easy to explain that only incorporeal Shiva can truly be called the Father. He is the Father of all souls. Shankar and Vishnu are not incorporeal. Shiva is called incorporeal. There are the images of all of them in the temples. There are so many images on the path of devotion. The highest-on-high image is of Shiv Baba. Then, there are the images of Brahma, Vishnu and Shankar. They each have a form. Jagadamba and Jagadpita also have forms. Lakshmi and Narayan too have corporeal forms whereas God alone is incorporeal. However, by calling Him just ‘God  , people have become confused. When you ask them what their relationship with God is, they would say that He is the Father. Therefore, you have to prove that He is God, the Father. The Father is the Creator and so the Mother is also needed. How can the Father create the world without the Mother? When will that Father come? Everyone calls out: O Purifier of the impure, come! The whole world is now impure. It is only when it is impure that He would come and purify it. This proves that the Father definitely has to come into the impure world but, according to the drama, no one is able to understand this. It is only when they don’t understand that the Father comes and explains. The Father sits here and explains to you children. Knowledge and devotion are only remembered in Bharat. Then they also speak of the day of Brahma and the night of Brahma. There is extreme darkness at night. It is remembered that when the Satguru gave the ointment of knowledge, all the darkness of ignorance was dispelled. Human beings have so much ignorance that they don’t even know the Father. There is no other ignorance such as this. Even after saying, “Supreme Father! O God, the Father!” , if they don’t know Him, there is no greater ignorance than this. When children say “Baba” and then say that they don’t know His occupation, name or form, they are called foolish, senseless ones. The mistake of the people of Bharat is that they call Him the Father and yet they don’t know Him. They sing: O God, the Father, come and purify the impure! Liberate us from sorrow! Remove our sorrow and give us happiness! The Father only comes once. You know this, numberwise. Some don’t understand that they are to claim their full inheritance from the Father. They don’t have the full introduction of the Father and they therefore ask: What can I do? I have bondages. If you know how to die alive, your bondages will end. When a person suddenly dies, he is liberated from his bondages. Now, everyone’s bondages are going to end. You have to become free from bondage, that is, bodiless while alive. The Father says: Forget the bondages of your body etc. Consider yourself to be a soul and remember Me, your Father. However, you feel it to be a bondage when you become body conscious. You then say: How can I become free? The Father says: You may live at home, but it should remain in your intellects that you have to return home. When a play is about to end, the actors become detached from the play. While playing their parts, their intellects are aware that a short time remains and that, after playing their parts , they will return home. You too have to keep it in your intellects that it is now the end. We are now going into divine relationships. While living in this old world, it should remain in your intellects that you are going to the Father. You sing: We will surrender ourselves to You. We will belong to You while we are alive. We will forget our bodies and all bodily relationships and have a relationship with You alone. Since you have that relationship, remember Him and love Him. Connect your intellects in yoga to the Father, your Beloved, and the rust you are covered with will be removed. Yoga has been remembered. All other yoga are physical; you have yoga with your maternal and paternal uncles and gurus etc. The Father says: Remove your yoga from all of them and remember Me alone. Have yoga with Me alone. Do not become body conscious. While acting through your bodies, have the faith that you are playing your parts. It is now the end of this old world and we now have to return home. You have to go beyond the body and all bodily relationships. Talk to yourselves in this way. You now have to go to the Father. Some have the bondage of a wife, some have the bondage of a husband and some have a bondage of someone else. Baba shows you many methods. Tell them: We have to become pure and definitely make Bharat pure. We become pure and serve through our bodies, minds and wealth. However, first of all, you have to become destroyers of attachment. If you are a destroyer of attachment, write a letter to the Government and they will also help you. Tell them: God speaks: Lust is the greatest enemy. We want to conquer it and become pure. The Father’s orders are: Become pure and you will become the masters of heaven. We have had visions of destruction and establishment. They are now causing obstacles to our becoming pure and beat us. We are doing true service of Bharat. Now, give us asylum. However, you have to be a true destroyer of attachment. Sannyasis leave their homes and families. Here, you have to live with your families and become destroyers of attachment. The path of the sannyasis is separate. Human beings say: While we live at home with our families, give us such knowledge that we can attain liberation and liberation-in-life just as King Janak did. You are now receiving that. Baba says: This one is My wife and I create people through his mouth. He says this through the mouth of Prajapita Brahma. Shiv Baba says to you: You are My grandchildren. This one then says: You become my children and then become Shiv Baba’s grandchildren. You receive the inheritance from Him. No human being can give you the inheritance of heaven. Only the Incorporeal gives you that. So, devotion is separate from knowledge. In devotion, they read the Vedas and scriptures, have sacrificial fires, do tapasya, make donations and perform charity. There is a lot of expense in that. All of that is the paraphernalia of the path of devotion. Devotion begins in the copper age. When deities go on to the path of sin and become impure, they can no longer have the name ‘deities’ because deities are completely viceless. When they go on to the path of sin, they become vicious. So, it would be said: Those of the deity religion became impure by going on to the path of sin. Impure ones cannot be called deities and this is why they are called Hindus. They have used the name ‘Arya’ (reformed ones) in the Vedas and scriptures. The name Arya refers to the land of Bharat. Now, where did that word come from? The word Arya doesn’t exist in the golden age. They say: Three thousand years before Christ, the deities in Bharat were very sensible and then, when those same deities became vicious in the copper age, they were called un-Arya (unreformed ones). Someone said ‘Arya’ and the name continued, just as one person said or wrote “God Shri Krishna speaks” and everyone began to believe that. Although they sing, “Salutations to Shiva” and “You are the Mother and Father”, they don’t know how He becomes the Mother and Father or when He creates creation. He must surely create it at the beginning of the world. When would be the beginning of the world? The golden age or the confluence age? The Father doesn’t come in the golden age. Lakshmi and Narayan come at the beginning of the golden age. Who made them into the masters of the golden age? He doesn’t even come in the iron age. This is the confluence age of the cycle. The Father says: I come at the confluence age of every cycle when all souls have become impure and the world has become old. The Father comes when the cycle of the drama comes to an end. You children have to be very clever and you also have to imbibe divine virtues. They are now holding a conference about the benefits of studying the Vedas and why one should study the Vedas. They won’t be able to come to any solution and they will then have the same type of conference next year. They sit down to solve something, but nothing is solved. Preparations for destruction continue to be made. They also continue to manufacture bombs. It is now the iron age. Only you children know these things. The things you say are unique. You know that human beings cannot grant liberation or salvation to human beings. The Purifier is remembered, so why do they not consider themselves to be impure? This is the impure world, the ocean of poison. Not everyone can become the Boatman. You children have not yet received that power to be able to explain fully. You have not yet become that clever. You don’t even have yoga. Even now, you continue to cry like little children. You are unable to tolerate the storms of Maya; there is a lot of body consciousness. You don’t become soul conscious. Baba repeatedly tells you: Consider yourselves to be souls. We now have to return home. All the actors are playing their own parts; they will shed their bodies and return home. You just have to observe as detached observers. Why do you have attachment to bodily relationships and your bodies? You don’t become bodiless, so your sins are not being absolved. If you continue to remember the Father, your mercury of happiness will rise. Shiv Baba is teaching us and then we will become deities and so there should be limitless happiness. You know that when the people of Bharat were in happiness, all the rest were in the land of nirvana, the land of peace. There are now so many millions of human beings. You are now making effort to attain liberation-in-life. All the rest will return home. The old world has to be made new. Only the Father would make it new. The sapling is being planted. This is the sapling of divine flowers. You are becoming flowers from thorns. When the garden is completely ready, this forest of thorns will be destroyed. It has to be set ablaze. We will then go to the garden of flowers. Why should you not follow Mama and Baba? It is remembered: Follow the Mother and Father. You know that Mama and Baba will become Lakshmi and Narayan. They are the ones who have taken 84 births. The same applies to you. Theirs parts are the main ones. It is written that the Father has come and is once again establishing the sun and moon dynasty sovereignties. It is explained to you so much and yet your body consciousness doesn’t break: “My husband, my child” Ah, but they are old relationships of the old world. “Mine is one Shiv Baba and none other.” It is very difficult to finish your attachment to all bodily beings. The Father understands when it appears to be very difficult for someone’s attachment to break. His or her face is seen to be like that. Kumaris become very good helpers. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remove your attachment from everything including your body and make full effort to become bodiless. Observe as a detached observer the part of every actor. Become free from bondage.
  2. Go beyond this old world. Talk to yourself: I now have to return home. It is now the end of the old world. My part has now come to an end.
Blessing: May you become free from all bondages and experience the flying stage with the awareness of being double light.
While walking and moving around have the awareness: I am an angel stable in the double  light stage. An angel means one who flies. Something that is light remains constantly up above; it doesn’t come down. For half the cycle, you have stayed down and now it is time to fly and so, check: Do I have any burdens or bondages? If a bondage or burden of your weak sanskars, waste thoughts and body consciousness continues for a long time, it will bring you down at the end. Therefore, become free from bondage and practise staying in the double  light stage.
Slogan: Only those who have accumulated the power of pure thoughts can serve through their minds.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 19 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 October 2018

To Read Murli 18 October 2018 :- Click Here
19-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप से सर्व सम्बन्ध रखो तो बन्धन ख़लास हो जायेंगे, माया बन्धन में बांधती और बाप बन्धनों से मुक्त कर देते हैं”
प्रश्नः- निर्बन्धन किसे कहा जाता है? निर्बन्धन बनने का उपाय क्या है?
उत्तर:- निर्बन्धन अर्थात् अशरीरी। देह सहित देह का कोई भी सम्बन्ध बुद्धि को अपनी तरफ न खींचे। देह-अभिमान में ही बन्धन है। देही-अभिमानी बनो तो सब बन्धन समाप्त हो जायेंगे। जीते जी मर जाना ही निर्बन्धन बनना है। बुद्धि में रहे अब अन्त का समय है, नाटक पूरा हुआ, हम बाप के पास जाते हैं तो निर्बन्धन बन जायेंगे।
गीत:- जिसका साथी है भगवान …….. 

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। अब इतने बच्चे हैं तो जरूर बेहद का बाप होगा। बाप समझाते हैं – कहते भी हैं निराकार शिवबाबा। ब्रह्मा को भी बाबा कहते हैं, विष्णु वा शंकर को बाबा नहीं कहेंगे। शिव को हमेशा बाबा कहते हैं। शिव का चित्र अलग, शंकर का चित्र अलग है। गीत भी है शिवाए नम:। फिर कहा जाता है तुम मात-पिता…….. यह भी समझाना बहुत सहज है कि बरोबर निराकार शिव को ही बाप कहते हैं। वह है सभी आत्माओं का बाप। शंकर वा विष्णु निराकार तो नहीं हैं। शिव को निराकार कहेंगे। मन्दिरों में उन सबके चित्र हैं। भक्ति मार्ग में कितने चित्र हैं। ऊंच ते ऊंच चित्र दिखाते हैं शिवबाबा का, फिर ब्रह्मा, विष्णु, शंकर का चित्र दिखाते हैं। उनका भी रूप है। जगत अम्बा, जगत पिता का भी रूप है। लक्ष्मी-नारायण का भी साकारी रूप है। बाकी एक ही भगवान् है निराकार। परन्तु उनको सिर्फ गॉड कहने से मनुष्य मूँझते हैं। पूछो – गॉड तुम्हारा क्या लगता है, कहेंगे फादर। तो यह सिद्ध कर बतलाना है गॉड फादर है। फादर रचता है तो मदर भी चाहिए। मदर बिगर फादर कैसे सृष्टि रचेंगे। वह फादर कब आयेंगे? सब बुलाते हैं – हे पतितों को पावन बनाने वाले आओ। अभी तो सारी दुनिया पतित है। पतित हो तब तो आकर पावन बनायेंगे ना। इससे सिद्ध होता है बाप को पतित दुनिया में आना जरूर है। परन्तु ड्रामा अनुसार यह किसी को भी समझ में नहीं आयेगा। न समझें तब तो बाप आकर समझाये। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। भारत में ही गाया जाता है ज्ञान और भक्ति, फिर कहते हैं ब्रह्मा का दिन और ब्रह्मा की रात। रात में घोर अन्धियारा होता है। गाया भी जाता है ज्ञान अंजन सतगुरू दिया, अज्ञान अंधेर विनाश। मनुष्यों में इतना तो अज्ञान है जो फादर को भी नहीं जानते। इन जैसा अज्ञान और कोई होता नहीं। परमपिता, ओ गॉड फादर अक्षर कहकर अगर उसको न जानें तो उन जैसा अज्ञान कोई नहीं। बच्चे बाबा कहें और फिर कहें हम उनके आक्यूपेशन, नाम, रूप आदि को नहीं जानते हैं तो उनको अनाड़ी कहा जाए ना। यही भारतवासियों की भूल है जो फादर कहते हुए फिर उनको जानते नहीं। गाते हैं – ओ गॉड फादर, आकर पतितों को पावन बनाओ, दु:ख से छुड़ाओ, दु:ख हरकर सुख दो। बाप एक ही बार आते हैं। यह तुम जानते हो नम्बरवार। कोई तो समझते नहीं कि हमको बाप से पूरा वर्सा लेना है।

बाप का पूरा परिचय नहीं इसलिए कहते हैं क्या करें, बन्धन है। जीते जी मरना आ जाए तो तुम्हारा बन्धन ख़लास हो जाए। मनुष्य अचानक मर जाते हैं तो बन्धन छूट जाते हैं। अभी तो सबके बन्धन छूटने वाले हैं। तुम्हें जीते जी निर्बन्धन अर्थात् अशरीरी बनना है। बाप कहते हैं इन शरीर के बन्धनों आदि को भूल जाओ। अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो। बाकी बन्धन तब लगता है जब तुम देह-अभिमानी बनते हो फिर कहते हो – कैसे छूटें? बाप कहते हैं भल गृहस्थ व्यवहार में रहो परन्तु बुद्धि में रहे – हमको वापिस जाना है। जैसे नाटक का जब अन्त होता है तो एक्टर्स नाटक से जैसे उपराम हो जाते हैं। पार्ट बजाते-बजाते बुद्धि में रहता है – बाकी थोड़ा टाइम है, यह पार्ट बजाकर फिर घर जायेंगे। तुमको भी यह बुद्धि में रखना है – अभी अन्त है, हम दैवी सम्बन्ध में जाते हैं। इस पुरानी दुनिया में रहते यह बुद्धि में रहना चाहिए कि हम बाप के पास जाते हैं। गाते भी हैं हम तुम पर बलिहार जायेंगे। जीते जी तुम्हारा बनेंगे। बाकी जो देह सहित देह के सम्बन्ध हैं उनको भूल हम आपके साथ ही सम्बन्ध रखेंगे। सम्बन्ध है तो याद करो, प्यार करो। बाप से अथवा अपने प्रीतम से बुद्धि का योग लगाओ। तो तुम पर जो जंक लगी है वह उतर जायेगी। योग तो गाया हुआ है ना। और सब जिस्मानी योग हैं – मामा, चाचा, काका, गुरू गोसाई आदि सबसे योग रखते हैं। बाप कहते हैं इन सबसे योग हटाए मुझ एक को याद करो। योग मुझ एक के साथ लगाओ। देह-अभिमान में नहीं आओ। देह से कर्म करते हुए भी यह निश्चय करो कि हम पार्ट बजा रहे हैं। इस पुरानी दुनिया का अब अन्त है, अभी हमको वापिस जाना है, देह सहित देह के सब सम्बन्धों से उपराम होना है। ऐसे-ऐसे अपने साथ बातें करनी है। अब तो बाप के पास जाना है। किसी को स्त्री का बन्धन है, किसी को पति का बन्धन है, किसी को कोई का बन्धन है। बाबा तो युक्तियां बहुत बतलाते हैं। बोल दो – हमको पवित्र बन भारत को पवित्र जरूर बनाना है। हम पवित्र बन तन-मन-धन से सेवा करते हैं। परन्तु पहले नष्टोमोहा चाहिए। मोह नष्ट हो तो गवर्मेन्ट को चिट्ठी लिखो, तो वह भी तुमको सहयोग देंगे। भगवानुवाच – काम महाशत्रु है, हम उन पर जीत पाकर पवित्र रहना चाहते हैं। बाप का फ़रमान है पवित्र बनो तो स्वर्ग का मालिक बनोगे। हमको विनाश और स्थापना का साक्षात्कार हुआ है, अभी पवित्र बनने में हमको यह विघ्न डालते हैं, मारते हैं। मैं तो भारत की सच्ची सेवा में हूँ। अब मुझे एशलम दो। परन्तु पक्का नष्टोमोहा चाहिए। सन्यासी तो घरबार छोड़ जाते हैं। यहाँ तो साथ रहते नष्टोमोहा बनना है। सन्यासियों का मार्ग अलग है। मनुष्य कहते भी हैं कि गृहस्थ व्यवहार में रहते हमको ऐसा ज्ञान दो जो हम राजा जनक मुआफिक मुक्ति, जीवन-मुक्ति को पा लें। वही तो अब तुमको मिलता है ना।

बाबा कहते हैं यह मेरी वन्नी (युगल) है, इनके मुख से मैं प्रजा रचता हूँ। प्रजापिता ब्रह्मा के मुख द्वारा ही कहते हैं। शिवबाबा तुमको कहते हैं तुम मेरे पोत्रे हो। यह फिर कहते तुम मेरे बच्चे बन शिवबाबा के पोत्रे बनते हो। वर्सा उनसे मिलता है। स्वर्ग का वर्सा कोई मनुष्य दे न सके। निराकार ही देते हैं। तो भक्ति अलग चीज़ है और ज्ञान अलग है। भक्ति में तो वेद-शास्त्र पढ़ते, यज्ञ-तप, दान-पुण्य आदि करते बहुत खर्चा होता है, यह है सारी भक्ति की सामग्री। भक्ति शुरू होती है द्वापर से। देवी-देवता जब वाम मार्ग में आकर पतित बनते हैं तो फिर देवी-देवता नाम कहला न सके क्योंकि देवतायें तो सम्पूर्ण निर्विकारी थे। वाम मार्ग में जाने से विकारी बन जाते हैं। तो कहेंगे देवता धर्म वाले वाम मार्ग में आकर पतित बने हैं। पतित को देवता कह नहीं सकते, इसलिए फिर हिन्दू नाम रखा है। वेदों-शास्त्रों में आर्य नाम रख दिया है। आर्य नाम इस भारतखण्ड के लिए है। अभी यह अक्षर आया कहाँ से? सतयुग में तो आर्य अक्षर है नहीं। कहते भी हैं क्राइस्ट से 3 हजार वर्ष पहले भारत में देवी-देवता बड़े समझदार थे फिर वही देवता जब द्वापर में विकारी बनते हैं तो अन-आर्य कहा जाता है। एक ने आर्य कहा तो बस, नाम चल पड़ता। जैसे एक ने कृष्ण भगवानुवाच कहा अथवा लिखा तो बस, वह मानने लग पड़ते। गाते भल हैं शिवाए नम:, तुम मात-पिता……..परन्तु वह कैसे मात-पिता बनते हैं, कब रचना रचते हैं यह नहीं जानते। जरूर सृष्टि के आदि में रचते होंगे। अब सृष्टि का आदि किसको कहा जाए? सतयुग को या संगमयुग को? सतयुग में तो बाप आते नहीं हैं। सतयुग आदि में तो आते हैं लक्ष्मी-नारायण। उन्हों को सतयुग का मालिक किसने बनाया? कलियुग में भी नहीं आते। यह है कल्प का संगमयुग। बाप कहते हैं मैं हर कल्प के संगमयुगे आता हूँ जबकि सब आत्मायें पतित बन जाती हैं अथवा सृष्टि पुरानी हो जाती है। ड्रामा का चक्र पूरा हो तब तो बाप आयेंगे ना। तुम बच्चों में बड़ी होशियारी चाहिए, धारणा चाहिए। अब कान्फ्रेन्स करते हैं कि वेद पढ़ने से फ़ायदा क्या होता है? वेद पढ़ना चाहिए तो क्यों? फैंसला कुछ भी कर नहीं सकेंगे। फिर वही कान्फ्रेन्स दूसरे वर्ष करेंगे। फैंसला करने बैठते हैं परन्तु होता कुछ भी नहीं है। विनाश की तैयारियां भी होती रहती हैं। बाम्ब्स बनाते रहते। अभी है ही कलियुग। यह बातें तुम बच्चे ही जानते हो। तुम्हारी बातें ही निराली हैं। तुम जानते हो मनुष्य, मनुष्य को गति-सद्गति दे न सके। गाते भी हैं पतित-पावन, तो अपने को पतित क्यों नहीं समझते? यह है पतित दुनिया, विषय सागर। सब थोड़ेही खिवैया बन सकते हैं।

अभी तुम बच्चों में वह ताकत आई नहीं है जो पूरा समझा सको। अभी तुम इतना होशियार नहीं बने हो। योग भी नहीं है। अब तक छोटे बच्चों मुआफिक रोते रहते हैं। माया के तूफान में ठहर नहीं सकते हैं। देह-अभिमान बहुत है। देही-अभिमानी बनते नहीं। बाबा तो बार-बार कहते हैं – अपने को आत्मा समझो। अभी हमको वापिस जाना है। सभी एक्टर्स जो अपना-अपना पार्ट बजाते हैं। सब शरीर छोड़कर वापिस घर जायेंगे। तुम साक्षी होकर देखो। देहधारी सम्बन्धों में, देह में मोह क्यों रखते हो? विदेही बनते नहीं। फिर विकर्म विनाश नहीं होते। बाप को याद करते रहें तो खुशी का पारा चढ़े। हमको शिवबाबा पढ़ाते हैं फिर हम देवी-देवता बनेंगे तो अपार खुशी होनी चाहिए ना।

तुम जानते हो भारतवासी जब सुख में थे तो बाकी सब मनुष्य निर्वाणधाम, शान्तिधाम में थे। अभी तो कितने करोड़ों मनुष्य हैं। अभी तुम पुरुषार्थ कर रहे हो, जीवनमुक्ति पाने का। बाकी सब वापिस चले जायेंगे। पुरानी दुनिया बदल नई दुनिया बननी है। नया तो बाप ही बनायेगा। सैपलिंग लग रही है। यह है दैवी फूलों का सैपलिंग। कांटे से तुम फूल बनते हो। बगीचा पूरा तैयार हो जायेगा तो यह कांटों का जंगल ख़त्म हो जायेगा। इनको आग लगनी है। फिर हम फूलों के बगीचे में चले जायेंगे। क्यों न मम्मा-बाबा को फालो करें। गाया हुआ है फालो फादर-मदर। जानते हो यह मम्मा-बाबा, लक्ष्मी-नारायण बनेंगे। इन्होंने ही 84 जन्म बिताये हैं। तुम्हारा भी ऐसे ही है। इनका मुख्य पार्ट है। लिखा भी जाता है बाप आकर सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी स्वराज्य फिर से स्थापन कर रहे हैं। कितना समझाया जाता है, तो भी देह-अभिमान टूटता नहीं है। मेरा पति, मेरा बच्चा….. अरे, यह तो पुरानी दुनिया के पुराने सम्बन्ध हैं ना। मेरा तो एक शिवबाबा दूसरा न कोई। सभी देहधारियों से ममत्व मिट जाना बड़ा मुश्किल होता है। बाप समझ जाते हैं, इनका ममत्व मिटना मुश्किल दिखता है। शक्ल ही ऐसे देखने में आती है। कुमारियां अच्छी मददगार बनती हैं।

अच्छा, मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) देह सहित सबसे मोह निकाल विदेही बनने का पूरा पुरुषार्थ करना है। हर एक्टर का पार्ट साक्षी हो देखना है। बन्धन-मुक्त बनना है।

2) इस पुरानी दुनिया से उपराम होना है, अपने आपसे बातें करनी है कि हमें तो अब वापस जाना है। अब पुरानी दुनिया के अन्त का समय है, हमारा पार्ट पूरा हुआ।

वरदान:- डबल लाइट स्थिति द्वारा उड़ती कला का अनुभव करने वाले सर्व बन्धनमुक्त भव
चलते फिरते यही स्मृति रहे कि मैं डबल लाइट स्थिति में रहने वाला फरिश्ता हूँ। फरिश्ता अर्थात् उड़ने वाला, लाइट चीज़ सदा ऊपर जाती है, नीचे नहीं आती। आधाकल्प तो नीचे रहे अब उड़ने का समय है इसलिए चेक करो कि कोई भी बोझ वा बंधन तो नहीं है? अपने कमजोर संस्कार का, व्यर्थ संकल्प का, देहभान का बन्धन वा बोझ बहुत समय चलता रहा तो अन्त में नीचे ले आयेगा, इसलिए बन्धनमुक्त बन डबल लाइट स्थिति में रहने का अभ्यास करो।
स्लोगन:- मन्सा सेवा वही कर सकते जिनके पास शुद्ध संकल्पों की शक्ति जमा है।

TODAY MURLI 19 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 19 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 17 October 2017 :- Click Here

19/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become the Father’s helpers and inspire everyone to make effort for the new world. Just as you have become knowledge-full,continue to make others the same.
Question: What awareness must you children now have? What is the wonder of this awareness?
Answer: You children have to maintain the awareness of the knowledge that you have received of the Seed and the tree. The wonder of this awareness is that, by having it, you become rulers of the globe. The Father reminds you children of the awareness: Children, now remember that you have been performing devotion for half the cycle. I have now come to give you the fruit of your devotion. You are once again becoming the masters of Paradise. Just as the Father is sweet, so His knowledge is also sweet. By remembering this knowledge you will attain happiness.
Song: Awaken o brides, awaken! The new age is about to dawn.

Om shanti. You sweetest children heard the song. Today it is Deepmala (Diwali – Festival of Lights).

The new age is called Deepmala. Deepmala is not celebrated in the golden age because the lights of all the souls there are ignited. You children know that you are making effort to claim your fortune of the kingdom in the new world by following shrimat. You have now become trikaldarshi. Those who know the past, present and future are called trikaldarshi. You now have knowledge of all three aspects of time. Therefore, you also have to explain this to others. You yourselves change from thorns into flowers and you also have to make others that. By knowing the history and geography of the past, you can know what is going to happen in the future. By knowing the future, you can know the past and the present. This is called being knowledge-full. The past was the iron age, the present is the confluence age and the golden and silver ages are to come in the future. So, you children know this cycle and you are making effort to go to the new world and, having become Baba’s helpers, you are also engaged in inspiring others to make effort. The Father is long-lost and now-found and you are also long-lost and now-found because we have met again after 5000 years. Therefore, the Father has come to decorate you brides and take you to the new world. You children have in your intellects the knowledge from the top, the incorporeal world, and the subtle region. You children know how and when every founder of a religion comes from up above to establish their religion. The Father has made you knowledge-full. He is called the most Beloved. He is the sweetest of all. You know how sweet He is. His praise is limitless and so the praise of the inheritance you receive from Him is also limitless. The very name is swarg, heavenParadise, bahist. The Supreme Soul is called God, the Father, the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. So, how much shouldHeberemembered? However, according to the drama, you don’t remember Him. This song is so good! You should definitely have three to four records(of this type of song) in your home. These songs also remind you of the Father. It is only you Brahmins who know that the new deity world sovereignty is being established, that is, souls are receiving their kingdom once again. You don’t say that the inheritance you receive from your physical father is received from God. You know that you claimed the kingdom from the Father and that you then lost it. You are now once again claiming it. In the golden age you were beautiful, but you have now become ugly. “Shyam-Sundar” is remembered. You were ugly and you have now found the Satguru to make you beautiful. Now, the Satguru and Govinda (Krishna) are both in front of you. It is said: Guru, it is your greatness. You are now becoming Krishna. It is the greatness of you children that you are becoming like that once again. Those people say that Krishna used to graze cows. They say of Brahma that he had a cowshed. There is neither a cowshed of Krishna nor of Brahma. The cowshed is that of Shiv Baba. You children now understand the significance of the festivals. You know that Deepmala takes place in the golden age. Lights remain ignited there. Your Deepmala lasts for 21 births. You celebrate it here every year. Today, you celebrate it and tomorrow the light is extinguished. If you celebrated anything in the golden age, it would be the coronation. On that day, you light many fireworks etc. Here, you light fireworks worth only a few pennies through which several accidents take place. There, they have a big coronation. Here, when someone receives a kingdom, they celebrate it every year. However, there is no happiness in this kingdom. This is the corrupt world whereas that is the elevated world. The Father says: Look how sensible I make you! The Father is called Trilokinath. He doesn’t become the Master of the Three Worlds. He only has the knowledgeof it. He makes you into the masters of Paradise. You should experience so much happiness. You performed devotion for half the cycle and you have now found the Father. The Father now reminds you and says: Remember, remember. Remember whom? The Father and the knowledge of the Father’s creation, the Seed and the tree. By having this awareness you become rulers of the globe. Look at the wonder of your awareness and what it makes you from what you were! This is called spiritual knowledge. The Father of souls is speaking this knowledge to you. They have put Krishna’s name in the Gita, but it is the Father who gives you knowledge and makes you even higher than Himself. You become the masters of Paradise. When those students are studying, their intellects are aware that they are becoming barristers. You know that you will become princes from beggars. You will then become emperors. The Father, as the Teacher, is now teaching you. In the world, a child would stay with his father for five years and then go to his teacher and then, in his old age, adopt a guru. Here, as soon as you belong to the Father, He gives you teachings as the Teacher and, in order to grant you salvation, He takes you back with Him. Those gurus don’t take you back with them. They themselves don’t go into liberation. They take you on pilgrimages. You are guides and they are also guides. However, those pilgrimages are only worth pebbles and stones. You have this knowledge. You should have happiness. This is a student life and so why should you forget it? However, Maya doesn’t let you have that happiness. Maya doesn’t leave you alone because your karmateet stage will be created at the end. It is said: Embodiment of remembrance. Remember God and experience happiness. There is no suffering there. That is called liberation-in-life. Just as the Father is sweet, similarly, His knowledge is also sweet. Baba’s praise is infinite, that is, you cannot reach the end of it. This is said on the path of devotion. You cannot say this because you have received all the knowledge. You have to become very sweet. Look at yourself and check that you don’t have any vices. Check that you are not looking at the defects of others. Have very sweet drishti. Baba has so many children. He looks at all of them very sweetly. You also have to have such vision. People don’t know what the relationship between Radhe and Krishna and Lakshmi and Narayan is and this is why they have made those pictures. In their childhood they are Radhe and Krishna and, after their marriage, they become Lakshmi and Narayan. The Father comes and reminds you: Children, you were deities. Children say: We truly were that. It is said: Salutations to the Brahmins who are to become deities. Brahmin priests say this but they don’t know that three religions – Brahmin, deity and warrior – are established. The Fathers of the Brahmins are Brahma and Shiv Baba. The Father comes here in an ordinary form. This chariot is fixed; he is the lucky chariot. On the day of Deepawali, people invoke Lakshmi and ask her for wealth. Previously, you too used to ask for it. You are now becoming Lakshmi and Narayan. Here, people continue to beg all the time. They cry out: Give me a child! Give me wealth! In the golden age, you don’t ask for anything in that way. Shiv Baba makes all the treasure-stores of you children full. The Father creates heaven. He wouldn’t create hell. Baba has now come into hell to make us into the residents of heaven. Everyone is impure and they don’t know that they are residents of hell. Those who were the residents of heaven have now become residents of hell and are now becoming residents of heaven once again. The immortal throne of Shiv Baba is this Brahma in whom the Immortal Image, the Supreme Soul, enters and sits. A soul itself is an immortal image. The throne of a soul is the forehead. They have a symbol of this, that is, they apply a tilak on the forehead. Nowadays, they even apply a tilak on a bull. Therefore, this forehead is the throne of both Brahma and Shiv Baba. I come and give you knowledge. I am K nowledge-full. I don’t know what is in the heart of each one. I am not a thought reader. Yes, you can say that I am the Master of hearts because the heart is said to be the soul. So, I am the Master of souls; I am not the Master of bodies. Sages say that they are the masters. I am the Master of imperishable souls because I Myself am imperishable. You become the masters of perishable things because you shed perishable bodies and take others. You go to Paradise because that is what you are studying for. It is said: You have to drink this nectar for as long as you live. When you have completed your study, you will automatically shed your bodies. It is said that God had the thought to go and create a world. At the appropriate time, He will have the thought to act and He will come to play His part. The Father says: Just as you play your parts, so I play My part. However, I don’t enter the cycle of birth and death. This is why there is so much praise of Me. There is also praise of Paradise. Sannyasis don’t know anything about the happiness of the golden age. They will never attain the happiness of that place. They have heard that Kans, the devil, existed there in the golden age. Therefore, they believe that there wasn’t any happiness there either. So, they tell others that happiness is like the droppings of a crow. They tell them that and make them adopt renunciation. You children receive the happiness of heaven. This is your final birth. Everyone is to die. I have come to take everyone back and so will you remain seated here? I will take everyone back like a swarm of insects. Therefore, you should make effort in the same way as Mama and Baba do and claim your status. You are the mouth-born creation of Brahma. The number of deities in the golden and silver ages will be the number of those who become the mouth-born creation of Brahma at this time. So, according to the law, you have the mother and father and someone is also appointed to look after you. New children will continue to come and the study will continue. There will continue to be growth till the end. Everyone has to be looked after very well. He is the Master of the Garden. All of you who live at the centres are gardeners. Gardeners should look after the saplings. If a gardener isn’t good, how would he look after saplings? The Master of the Garden is pleased to see the gardeners who create beautiful gardens. Then the Master of the Garden would go to look at the gardens to see who has created big, beautiful gardens. You too know who the good gardeners are. Those who are good gardeners even receive a prize. The salaries of you gardeners continue to increase. You children have to remember your destination because you now have to return home, which is why you have to remember your home. You cannot go to the land of peace without having remembrance. Otherwise, there will be a lot of punishment experienced and you won’t be able to claim a good status. At this time, those of you who go to the subtle region go there for service. Baba does number one service and Mama is the second number because Mama has to claim the second number. Therefore, you children have to follow Mama and Baba. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become very sweet like the Father. Look at everyone very sweetly. Don’t look at the defects of anyone.
  2. Maintain the happiness of your Godly student life. You have to study every day for as long as you live.
Blessing: May you be a lamp of the clan and celebrate the true Deepawali by igniting the lamp of BapDada’s hopes.
Four types of lamps have been remembered: 1) The physical clay lamp that dispels darkness and brings light. 2) The lamp of the soul. 3) The lamp of the clan. 4) The lamp of hope. For many births you have been igniting clay lamps. Now, let the lamp of the soul be constantly lit. Do not perform any such action that the lamp of the clan extinguishes. Let there be no such activity that the lamp of BapDada’s hopes becomes extinguished. Therefore, now become such a lamp of the clan that you ignite the lamp of BapDada’s hopes and celebrate the true Deepawali.
Slogan: Purity is the main foundation of Brahmin life. Even if the world falls down, do not let go of your religion.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Murli 17 October 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 19 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 18 October 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 19/10/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
[Web-Dorado_Zoom]
19/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप के मददगार बन सबको नई दुनिया का पुरूषार्थ कराओ – जैसे खुद नॉलेजफुल बने हो, ऐसे औरों को भी बनाते रहो”
प्रश्नः- तुम बच्चों को अभी किस स्मृति में रहना है? स्मृति की कमाल क्या है?
उत्तर:- तुम्हें अभी बीज और झाड़ की जो नॉलेज मिली है, उस नॉलेज की स्मृति में रहना है। इस स्मृति से तुम चक्रवर्ती राजा बन जाते हो – यही है स्मृति की कमाल। बाप बच्चों को स्मृति दिलाते हैं – बच्चे स्मृति आई तुमने आधाकल्प बहुत भक्ति की है। अब मैं तुम्हें भक्ति का फल देने आया हूँ। तुम फिर से वैकुण्ठ का मालिक बनते हो। जैसे बाप मीठा है – ऐसे बाप की नॉलेज भी मीठी है, जिसका सिमरण कर सिमर-सिमर सुख पाना है।
गीत:- जाग सजनियाँ जाग….

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चों ने गीत सुना। आज दीपमाला है। दीपमाला कहा जाता है नये युग को। सतयुग में कोई दीपमाला नहीं मनाई जाती क्योंकि वहाँ सभी की आत्मा रूपी ज्योति जगी हुई होती है। बच्चे जानते हैं कि हम नई दुनिया में राज्य भाग्य लेने का पुरूषार्थ कर रहे हैं – श्रीमत पर। तुम अभी त्रिकालदर्शी बने हो। त्रिकालदर्शी कहा जाता है पास्ट, प्रजेन्ट, फ्यूचर को जानने वाले को। तुमको अब तीनों कालों की नॉलेज है। तो तुमको औरों को भी समझाना है। खुद भी कांटों से फूल बनते हो। औरों को भी बनाना है। पास्ट की हिस्ट्री-जॉग्राफी को जानने से फ्यूचर क्या होने वाला है, वह भी जान जाते हो। फ्यूचर को जानने से पास्ट, प्रेजन्ट को भी जान जाते हो – इसको कहा जाता है नॉलेजफुल। पास्ट था कलियुग, प्रेजन्ट है संगमयुग, फिर फ्युचर सतयुग त्रेता को आना है। तो तुम बच्चों ने इस चक्र को जान लिया है और नई दुनिया में जाने के लिए पुरूषार्थ कर रहे हो और औरों को भी पुरूषार्थ कराने में लगे हुए हो, बाबा के मददगार बन। बाप है सिकीलधा और तुम भी सिकीलधे हो क्योंकि पाँच हजार वर्ष के बाद मिले हो। तो बाप आया है सजनियों को श्रृगांर कर नई दुनिया में ले जाने। बच्चों की बुद्धि में ऊपर से लेकर मूलवतन, सूक्ष्मवतन की नॉलेज है। बच्चे जानते हैं कि कौन-कौन धर्म स्थापक कब और कैसे ऊपर से आकर धर्म स्थापन करते हैं। बाप ने तुमको नॉलेजफुल बनाया है। उसको मोस्ट बिलवेड कहा जाता है। मीठे ते मीठा है। तुम जानते हो कितना मीठा है। उसकी महिमा अपरमअपार है तो उनके वर्से की महिमा भी अपरमअपार है। नाम ही है स्वर्ग, हेविन, पैराडाइज, बहिश्त। परमात्मा को कहते हैं गॉड फादर, दु:ख हर्ता सुख कर्ता। तो उनको कितना याद करना चाहिए। परन्तु ड्रामा अनुसार याद नहीं आता। यह गीत कितना अच्छा है। घर में 3-4 रिकार्ड जरूर हों। यह रिकार्ड भी बाप की याद दिलाते हैं। ब्राह्मण ही जानते हैं कि नई दैवी दुनिया स्वराज्य अर्थात् आत्मा को अब राज्य मिल रहा है। लौकिक बाप द्वारा जो वर्सा मिलता है वह यह नहीं कहते कि परमात्मा द्वारा मिला है। तुम जानते हो बाप से राज्य लिया फिर गॅवाया। अब फिर ले रहे हैं। सतयुग में गोरे थे फिर काले बने। गाते भी हैं श्याम सुन्दर। श्याम था – अब सुन्दर बनने के लिए सतगुरू मिला है। अब सतगुरू और गोविन्द दोनों खड़े हैं। फिर कहते हैं बलिहारी गुरू आपकी… तुम कृष्ण बन रहे हो। बलिहारी तुम बच्चों की जो तुम ऐसा बन रहे हो। वह तो कह देते कृष्ण गऊ चराते थे। फिर ब्रह्मा के लिए भी कहते उनकी गऊशाला थी। तो गऊशाला न है कृष्ण की, न ब्रह्मा की। गऊशाला शिवबाबा की है।

अभी तुम बच्चे त्योहारों का रहस्य भी समझते हो। तुम जानते हो कि दीपमाला होती है सतयुग में। वहाँ ज्योति जगी रहती है। तुम्हारी 21 जन्म दीपमाला है। यहाँ वर्ष-वर्ष मनाते हैं। आज मनाते, कल दीवा बुझ जाता। अगर सतयुग में मनायेंगे तो भी कारोनेशन, उस दिन आतशबाजी जलाते हैं। यहाँ तो पाई पैसे की आतशबाजी खेलते हैं, जिससे कई एक्सीडेन्ट हो जाते हैं। वहाँ तो बड़ी कारोनेशन होती है। यहाँ राजाई मिलती है तो वर्ष-वर्ष मनाते हैं। परन्तु इस राजाई में सुख नहीं। यह है भ्रष्टाचारी दुनिया, वह थी श्रेष्ठाचारी दुनिया। बाप कहते हैं देखो तुमको कितना समझदार बनाते हैं। बाप को कहा जाता है त्रिलोकीनाथ। त्रिलोकी के मालिक नहीं बनते। उनमें नॉलेज है। तुमको वैकुण्ठ का मालिक बनाते हैं। तुमको कितनी खुशी होनी चाहिए। आधाकल्प तुमने भक्ति की, अब बाप मिला है। बाप अब स्मृति दिलाते हैं – कहते हैं, सिमरो, सिमरो… किसको? बाप को और बाप के रचना की नॉलेज को। बीज और झाड़ को। इस स्मृति से तुम चक्रवर्ती राजा बन जाते हो। देखा स्मृति की कमाल, क्या से क्या बनाती है। इसको कहा जाता है प्रीचुअल नॉलेज। आत्मा का जो बाप है वह नॉलेज सुनाते हैं। गीता में कृष्ण का नाम डाल दिया है। परन्तु बाप तुमको नॉलेज दे अपने से भी ऊंचा बनाते हैं। तुम वैकुण्ठ के मालिक बनते हो। जैसे वह पढ़ाई पढ़ते हैं तो बुद्धि में रहता है कि हम बैरिस्टर बनेंगे। तुम जानते हो हम बेगर से प्रिन्स बनेंगे। फिर महाराजा बनेंगे। अब बाप टीचर रूप से पढ़ा रहे हैं। लौकिक में बच्चा 5 वर्ष बाप के पास रहता है फिर टीचर के पास जाता है, बुढ़ापे में फिर गुरू करते हैं। यहाँ तो बाप के बने और बाप, टीचर रूप में शिक्षा देते हैं और सद्गति के लिए साथ ले जाते हैं। वह गुरू साथ नहीं ले जाते। खुद ही मुक्ति में नहीं जाते। वह यात्रा में ले जाते हैं, तुम भी पण्डे वह भी पण्डे। परन्तु वह ठिक्कर ठोबर की यात्रा है। यह ज्ञान तुमको है। तुमको खुशी रहनी चाहिए। यह स्टूडेन्ट लाइफ है तो भूलना क्यों चाहिए। परन्तु माया वह खुशी रहने नहीं देती है क्योंकि कर्मातीत अवस्था अन्त में आयेगी। कहा है ना स्मृतिलब्धा। सिमर-सिमर सुख पाओ, वहाँ क्लेष होता नहीं। कहा जाता है जीवनमुक्ति। जैसे बाप मीठा है वैसे बाप की नॉलेज मीठी है। बाबा की महिमा अपरमअपार है अर्थात् पार नहीं पाया जाता है। यह भक्ति में कहा जाता है। तुम यह नहीं कह सकते हो क्योंकि तुमको सारी नॉलेज मिली हुई है। तुमको बहुत मीठा बनना है। अपने को देखो कि मेरे में कोई विकार तो नहीं है? किसी का अवगुण तो नहीं देखते? बहुत मीठी दृष्टि रखनी है। बाबा के कितने बच्चे हैं। सब पर मीठी दृष्टि है ना। तुमको भी ऐसी रखनी है। मनुष्य यह नहीं जानते कि राधे कृष्ण, लक्ष्मी-नारायण का क्या सम्बन्ध है इसलिए चित्र भी बनाया है। छोटेपन में राधे कृष्ण स्वयंवर के बाद लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। बाप आकर स्मृति दिला रहे हैं कि बच्चे तुम देवता थे। बच्चे कहते बरोबर थे। कहते हैं ब्राह्मण देवी-देवताए नम:, ब्राह्मण लोग कहते हैं परन्तु जानते नहीं कि ब्राह्मण, देवता, क्षत्रिय तीन धर्म स्थापन करते हैं। तो ब्राह्मणों का बाप है – ब्रह्मा और शिव। बाप साधारण रूप में आते हैं। यह रथ मुकरर है, भाग्यशाली रथ।

मनुष्य दीपावली के दिन लक्ष्मी से पैसे मांगने के लिए आवाह्न करते हैं। पहले तुम भी मांगते थे। अब तुम लक्ष्मी-नारायण बन रहे हो। यहाँ पर तो भीख ही भीख मांगते हैं। चिल्लाते हैं, पुत्र दो, धन दो। सतयुग में ऐसे नहीं मांगते। शिवबाबा बच्चों के सब भण्डारे भरपूर कर देते हैं। बाप तो स्वर्ग रचेंगे – नर्क थोड़ेही रचेंगे। अभी नर्क में बाबा आया है स्वर्गवासी बनाने। सभी पतित हैं, यह नहीं जानते कि हम नर्कवासी हैं। जो स्वर्गवासी थे, अब वह नर्कवासी बने हैं। अब फिर स्वर्गवासी बन रहे हैं। शिवबाबा का अकालतख्त यह ब्रह्मा है, जिसमें अकालमूर्त परमात्मा आकर बैठते हैं। आत्मा भी अकालमूर्त है। आत्मा का तख्त यह भ्रकुटी है। निशानी भी है जो मस्तक में तिलक देते हैं, आजकल बैल को भी तिलक देते हैं। तो यह भ्रकुटी ब्रह्मा और शिवबाबा दोनों का तख्त है। तो मैं आकर नॉलेज देता हूँ, नॉलेजफुल हूँ। मैं कोई सभी के दिलों को नहीं जानता हूँ, थाट रीडर नहीं हूँ। हाँ दिल का मालिक कह सकते हो क्योंकि दिल कहा जाता है आत्मा को। तो मै आत्मा का मालिक हूँ, शरीर का मालिक नही हूँ। ऐसा साधू लोग कहते हैं ना – मैं मालिक। तो मैं आविनाशी आत्मा का मालिक हूँ क्योंकि मैं खुद अविनाशी हूँ। तुम विनाशी चीज़ के मालिक बनते हो क्योंकि तुम एक विनाशी शरीर छोड़ दूसरा लेते हो। तुम अभी वैकुण्ठ में जाते हो, इसलिए पढ़ाई पढ़ रहे हो। कहते हैं ना – जब तक जीना है तब तक पीना है। जब पढ़ाई पूरी होगी तब यह शरीर ही छूट जायेगा। कहते हैं कि परमात्मा को संकल्प उठा सृष्टि रचने जाऊं। जब समय होगा तब ही एक्ट करने का विचार आयेगा और आकर पार्ट बजायेगा। बाप कहते हैं – जैसे तुम पार्ट बजाते हो, वैसे मैं भी बजाता हूँ। बाकी मैं जन्म-मरण में नहीं आता हूँ इसलिए मेरी कितनी महिमा है। वैकुण्ठ की भी महिमा है। सन्यासियों को सतयुग के सुख का मालूम नहीं है। वहाँ का सुख उन्हों को मिलना ही नहीं है। सतयुग के लिए भी उन्होंने सुना है ना कि कंस थे। तो समझते हैं वहाँ भी सुख नहीं था। तो औरों को भी ऐसे सुनाते कि काग विष्टा समान सुख है। तो ऐसे सुनाकर औरों को सन्यास कराते हैं। तुम बच्चे तो स्वर्ग के सुख पाते हो। यह तो अन्तिम जन्म है। मरेंगे भी सभी। मैं आया ही हूँ लेने लिए तो क्या तुम यहाँ ही बैठे रहेंगे। मच्छरों सदृश्य सबको ले जाऊंगा। तो मम्मा बाबा सदृश्य पुरूषार्थ कर पद ले लेना चाहिए। ब्रह्मा मुख वंशावली हो ना। जितने सतयुग, त्रेतायुग में देवतायें होंगे उतने ही अब ब्रह्मा मुख वंशावली बनने हैं। तो कायदे अनुसार मात-पिता भी है फिर किसको मुकरर किया जाता है सम्भाल के लिए। नये-नये बच्चे तो आते रहेंगे, पढ़ाई चलती रहेगी। पिछाड़ी तक वृद्धि को पाते रहेंगे। परवरिश बहुत अच्छी करनी चाहिए। वह है बागवान। तुम जो सेन्टर पर रहते हो वह हुए माली। माली को तो पौधों की सम्भाल करनी चाहिए। जो माली ही ठीक नहीं होगा तो वह पौधों की क्या सम्भाल करेगा। जो माली अच्छा-अच्छा बगीचा बनाते हैं, तो बागवान देख बहुत खुश होते हैं। फिर बागवान जाते हैं देखने कि किस-किस ने बड़ा अच्छा बगीचा बनाया है। तुम भी जानते हो कि कौन-कौन अच्छे माली हैं। जो अच्छे-अच्छे माली हैं उनको इनाम भी मिलता है। तुम मालियों की पघार (तनखा) बढ़ती जाती है।

अभी तुम बच्चों को अपनी मंजिल को याद करना है क्योंकि तुम्हें अभी वापिस घर जाना है तो घर को याद करना पड़े। सिवाए याद के शान्तिधाम नहीं जा सकते। नहीं तो मोचरा (सज़ा) बहुत खाना पड़ेगा, पद भी अच्छा पा नहीं सकेंगे। इस समय जो सूक्ष्मवतन में जाते हैं, सर्विस अर्थ जाते हैं। पहले नम्बर में बाबा सर्विस करते हैं, सेकेण्ड नम्बर में मम्मा क्योंकि मम्मा को सेकेण्ड नम्बर में आना है। तो तुम बच्चों को भी मम्मा बाबा को फालो करना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप समान बहुत मीठा बनना है। सबको मीठी दृष्टि से देखना है। किसी का भी अवगुण नहीं देखना है।

2) गॉडली स्टूडेन्ट लाइफ की खुशी में रहना है। जब तक जीना है पढ़ाई रोज़ पढ़नी है।

वरदान:- बापदादा की आशाओं का दीप जगाकर सच्ची दीपावली मनाने वाले कुल दीपक भव 
चार प्रकार के दीपक गाये हुए हैं:1- अंधियारे को मिटाकर रोशनी करने वाला मिट्टी का स्थूल दीपक 2- आत्मा रूपी दीपक, 3- कुल का दीपक और चौथा आशाओं का दीपक। मिट्टी के दीपक तो कई जन्म जगाये हैं। अब आत्मा रूपी दीपक सदा जगा रहे। ऐसा कोई भी कर्म न हो जो कुल का दीपक बुझ जाये, ऐसी कोई चलन न हो जो बापदादा की आशाओं का दीपक बुझ जाये। तो अब ऐसे कुल दीपक बन बापदादा की आशाओं का दीप जगाते हुए सच्ची दीपावली मनाओ।
स्लोगन:- पवित्रता ही ब्राह्मण जीवन का मुख्य फाउन्डेशन है, धरत परिये धर्म न छोड़िये।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 17 October 2017 :- Click Here

Font Resize