today murli 19 july

TODAY MURLI 19 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 19 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 18 July 2018 :- Click Here

19/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this birth of yours is very precious because the Father Himself serves you at this time. He washes your clothes with Lux (Laksh-aim) soap.
Question: What question should you ask those who call Allah the Creator of the world?
Answer: Ask them: When Allah created the world, He would have needed a female too. So, who was the female for Allah? Since you say, “God, the Father” a mother is also needed. You children know this deep secret very well. The female for Allah is this Brahma. He is your senior mother. Human beings cannot understand this.
Song: Who created this play and hid Himself away? 

Om shanti. You children know that no human being can give the accurate meaning of this song. Even those who write plays don’t understand. They simply compose songs, just as scriptures are written. They don’t understand anything. You say that the Vedas are not religious scriptures. They are called scriptures, but not religious scriptures. There has to be some benefit in religious scriptures. However, they don’t even understand the meaning of religious scriptures. A scripture is something with which a religion is established by someone. Therefore, you should ask: To which religion do the scriptures of the Vedas and Upanishads belong? Who established that religion? No religion has emerged from them. The various religions have also been explained to you. The main part of the tree is the trunk, then there are the big branches and the other twigs that emerge. It has been explained to you children that the Gita, the religious scripture, the jewel of all scriptures, is the trunk. Beside the Gita, all the rest are the creation. Islam, Buddhism, Christianity etc. are all branches of the kalpa tree. In the Gita, it is written: The tree of the human world. So, the significance of the tree is now in your intellects. The main part is the trunk – the original eternal deity religion. This tree is compared to the banyan tree. That tree is very big. When the tree becomes old, its trunk decays but the branches and twigs remain. It is the same here. You children know that the trunk of this tree, which is the deity religion, no longer exists. If God has 24 incarnations, He cannot be omnipresent. If He incarnates, how could He be omnipresent like they say? This is something new. The tree is so big and it has no trunk. Not a single human being exists who could say that he belongs to the original eternal deity religion. They have taken the golden age back by hundreds of thousands of years. This has made so much difficulty. All human beings are unhappy. Who can be happy? The difference of happiness here being like the droppings of a crow and the great happiness there does not enter the intellects of sannyasis. They don’t know this. The Father tells you: I now once again take you into a lot of happiness. He plays His part at this time, does everything and then hides Himself away. In fact, everyone plays a part. Those of Islam, the Buddhists etc. will all hide; they will go up above. No one knows this either. This is only explained to human beings; this would not be told to animals. The human birth is said to be the most elevated of all. Which birth? It is said that the skin of human beings is of no use. Then it is said that the human birth is the highest. In fact, this birth of yours is the highest because the Father sits here and serves you. This life of the people of the world is the lowest. You know that, previously, you too were very dirty, impure human beings. Baba is now washing our clothes with the Lux (aim) soap of knowledge and He says: Now, remember your Father. No one in the world knows the Father. Only when they know the Father can they become His children. Only when they belong to Shiva and also to Brahma can they be called the grandchildren. There are two types of Brahmin. One is the mouth-born creation and the other is the physical creation. You are the mouth-born Brahma Kumars and Kumaris of Brahma. Who is the Father of Brahma? Shiv Baba. No one is His father. He is the One who is teaching you and He is also your Guru. He is now personally in front of you and then He will hide away. He purifies the impure world, establishes the deity religion and then takes everyone to the land of liberation. He gave you happiness for 21 births and so what more could you want? Baba makes you constantly happy anyway. However, you do have to make effort to claim a high status. The land of Krishna is called the land of happiness. People don’t show the childhood of Narayan. They show the marriage of Krishna. When he married Radhe, what were their names changed to? They don’t show this. People don’t know about Lakshmi and Narayan. No one knows their biography. You now understand this. Only a handful out of multimillions who have been around the full cycle will emerge. You know that those who perform devotion are the ones who first become worshippers from being worthy of worship. All are devotees. Human beings are like mustard seeds. You know that all the poor, helpless people are being ground in the mill of death. You children have now received very large intellects. It is very easy to keep the cycle of 84 births in your intellects. We are now Brahmins and will then become deities. Then we will have to take 84 births. The meaning of ‘hum so’ has also been explained to you children. ‘Hum so, so hum’ is only sung here. This expression doesn’t exist in other religions. They take ‘om’ to mean God. In fact ‘om’ means I, the soul. They wrongly say: A soul is the Supreme Soul. OK, what then? I am not the body. The Supreme Father, the Supreme Soul, cannot say: I, the soul, and this is My body. That Father says: It is right to say, I am a soul; I have taken this body on loan. This is not My shoe. I don’t have feet. My feet cannot be worshipped. Krishna has feet; I do not have feet. I am the incorporeal One. In fact, souls too are incorporeal, but they enter the cycle of 84 births. I do not have a body; I am bodiless. I tell you to become bodiless and remember Me. You know that Baba has come. What is His part? To make the impure world pure. The incorporeal One would definitely come in someone’s body. Because human beings don’t have knowledge, they have mentioned the name of the first prince,Shri Krishna. How could Shri Krishna come here? You have to understand this and then explain to others. People used to praise the Tagore Gita etc. so much. In fact, there is no praise of Krishna either. It was Shiv Baba who made Krishna. This is the last of the many births of Krishna. Baba says: How would I sit and speak through the body of a small child? A mature chariot is definitely needed. According to the drama, this chariot of Mine is fixed. It isn’t that I will take another chariot in the next cycle. Only through Brahma will establishment take place. In the previous cycle too, you Brahma Kumars and Kumaris claimed your inheritance through Brahma. The Father now says: Break away from everyone else and connect yourself to Me alone: mine is one Shiv Baba and none other. You are the Mother and Father… You are now personally in front of the One who is praised so much. Just think about it, who really created you? It is said: Allah created us. So, there must definitely be a female for Allah. Allah is incorporeal, so where did His female come from? You speak of God, the Father, and so the Father is always the Creator. If there is no mother, how could He be called the Father? It is only when He has a child that he is called the Father. No one knows who the female is for God, the Father. These are the deepest matters. There are both Adam and Bibi. If this (Brahma) is called Adam, Saraswati cannot be called Bibi. If she is Bibi, then who is her mother? These things have to be understood very clearly. The Father alone sits here and explains: In this way, Brahma is My wife. I create you children through his mouth. I enter the body of Brahma. Then, Jagadamba has become the instrument to look after them. Who are Adi Dev Brahma and Jagadamba Saraswati? Reason says that she is the daughter of Brahma. So, how was creation created? It was created through Brahma and so he is the senior mother. Then there are Mama and Baba, too, to look after you. Saraswati claims the first number. Jagadamba is praised so much. You have now understood that you have become Brahmins. We have come into God’s lap. In this too, there are two types: the real and the step. All are children of the one mother and so the question of real or step shouldn’t arise. However, why are ‘real’ and ‘step’ said here? It is said that the real children promise they will remain pure and claim their inheritance. Therefore, only those who are pure become the heirs who claim the throne. Stepchildren become subjects. Many will become real children, but they are also numberwise. Each of you will sit on the throne of the mother and father to the extent that you make effort. Mama and Baba sit on the throne, and so you too should receive the throne. However, you will become that numberwise. So, this is the pilgrimage of yoga. You have to remember Baba, spin the discus of self-realisation and make others similar to yourselves. You have to make effort to make others similar to yourselves. Daughters give the introduction and then bring them to the Father for Him to refresh them. Baba sees which ones will claim their full inheritance from the Father and remove their attachment from everyone else and connect themselves to the One. You know that Baba is the One who makes us into the masters of the world. The Father says: I will make you into the masters of heaven. Then, you can either become the sun dynasty or the moon dynasty. So, the Father does everything Himself and then He hides away. He doesn’t incarnate again and again. He doesn’t even have a body of His own. He only comes once. You repeatedly continue to shed your costumes and take others. I don’t enter rebirth. He explains so clearly. Previously, you didn’t have these things in your intellects. Just by chance, while I was sitting at home and moving along by myself, Baba entered me and I then became aware. Now, day by day, everything continues to sit in the intellect. Some say: I am Baba’s child of seven days; I am Baba’s child of two months. This knowledge can be received in a second. There are so many children. There aren’t as many children in any other spiritual gathering. Prajapita Brahma and Jagadamba are the son and daughter of the Father; they are not a male and female (a couple). How could a male and female create so many children? There is no question of them all being a physical creation. Those who belonged to the Mother and Father in the previous cycle and claimed their inheritance will continue to come. The sapling continues to be planted. This is a garden, is it not? The flowers of the deity religion don’t exist now. All the rest are like thorns, they prick. This is the world of thorns. The Father comes and changes thorns into buds and buds into flowers. By not following shrimat, you fall. Baba understands when someone has fallen into vice. You are now becoming pure from impure. Bapu Gandhiji also used to remember the Purifier. He desired the World Almighty Authority kingdom. Only the Father establishes that. You know that we now have to go from this land of Kans, the devil, to the land of Krishna. There was the golden age in Bharat. It used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan. It is a matter of 5000 years. Nothing is older than 5000 years. Nothing that is hundreds of thousands of years old would be able to last. Look, you old mothers have come from Gurgaon to the Mother and Father from whom you are to receive your inheritance. The Father is also pleased to see you old mothers. You also came 5000 years ago and claimed your inheritance. Everything depends on effort. You old mothers cannot take as much knowledge. This Dada is old but he studies very well. You understand that the young mother Sarawati also studies well. However, this one is the River Brahmaputra. He would definitely be studying more. This old Dada is the cleverest of all. That one is the daughter. It is very easy for those who are old. Continue to remember Baba: Oho! Shiv Baba, I surrender myself to You! You take us to the land of happiness. That’s all! Stay in such happiness and your boat will go across. Always think that Shiv Baba is explaining to you. Let go of this one. Always think that Shiv Baba is speaking to you. Because your intellect’s yoga goes to Shiv Baba, your sins will continue to be absolved. Mama also explains after listening to Shiv Baba. Always have remembrance of only Shiv Baba and your sins will continue to be absolved. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become a true heir seated on the throne, promise to become pure and become a real child. Break away from everyone else and connect yourself to the One.
  2. Serve to make others similar to yourself. Become a bud from a thorn and a flower from a bud and make others into flowers. Plant the sapling of the new tree.
Blessing: May you finish the consciousness of “I” and become an embodiment of success by saying “Baba, Baba” both verbally and in your mind in every situation.
You souls are instruments to increase zeal and enthusiasm in many other souls and so you cannot ever have the consciousness of “I”. Not that, “I did this”. No, Baba made you an instrument. Instead of “I”, let it be “my Baba”. Not, “I did this, I said this.” Baba made you do it, Baba did it. You will then become an embodiment of success. The more “Baba, Baba” emerges through your lips, the more you will be able to make many others belong to Baba. Let it emerge from everyone’s lips that you only have one Baba as your one concern in every situation.
Slogan: To use your body, mind and wealth in a worthwhile way at the confluence age and to increase your treasures is being sensible.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 19 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 July 2018

To Read Murli 18 July 2018 :- Click Here
19-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हारा यह जन्म बहुत ही अमूल्य है, क्योंकि बाप स्वयं इस समय तुम्हारी सेवा करते हैं, लक्ष्य सोप से तुम्हारे वस्त्र साफ करते हैं”
प्रश्नः- जो अल्लाह को सृष्टि का रचयिता कहते हैं उनसे कौन-सा प्रश्न पूछना चाहिए?
उत्तर:- उनसे पूछो – जब अल्लाह ने सृष्टि रची तो रचना के लिये उन्हें फीमेल चाहिये, भला अल्लाह की फीमेल कौन? गॉड फादर कहते हो तो जरूर मदर भी चाहिये ना। तुम बच्चे इस गुह्य राज़ को अच्छी तरह से जानते हो। अल्लाह की फीमेल है यह ब्रह्मा। यह है तुम्हारी बड़ी माँ। इस बात को मनुष्य समझ नहीं सकते।
गीत:- किसने यह सब खेल रचाया…….. 

ओम् शान्ति। बच्चे जानते हैं कोई भी मनुष्य इस गीत का यथार्थ अर्थ कर न सकें। नाटक बनाने वाले भी नहीं समझते। ऐसे ही गीत बना देते हैं, जैसे शास्त्र बना देते हैं। समझते कुछ नहीं। तुम वेदों के लिये कहते हो – यह धर्म शास्त्र नहीं हैं। शास्त्र कहेंगे लेकिन धर्म शास्त्र नहीं है। अब धर्म शास्त्र से तो कुछ फ़ायदा होना चाहिये। धर्म शास्त्र का अर्थ भी नहीं समझते हैं। शास्त्र अर्थात् जिससे कोई धर्म स्थापन होता है, किसी द्वारा। तो पूछना चाहिये – वेद-उपनिषद किस धर्म के शास्त्र हैं? वह धर्म किसने स्थापन किया? इनसे तो कोई धर्म ही नहीं निकलता है। कौन-कौन-से धर्म हैं – वह भी समझाया जाता है। जैसे झाड़ में मुख्य है थुर (तना)। फिर बड़ी डाल, फिर छोटी-छोटी टाल-टालियां निकलती हैं। तो बच्चों को समझाया जाता है – यह जो धर्म शास्त्र है सर्व शास्त्रमई शिरोमणी गीता, वह है थुर। उनके बाद बाकी सब ठहरे रचना। यह इस्लामी, बौद्धी, क्रिश्चियन आदि यह सब कल्प वृक्ष के टाल हैं। गीता में भी लिखा हुआ है – मनुष्य सृष्टि का झाड़ है। तो यह झाड़ का राज़ बुद्धि में अभी बैठा है। इसका मुख्य थुर है – आदि सनातन देवी-देवता धर्म। इस झाड़ की भेंट बड़ के झाड़ से की जाती है। वह बहुत बड़ा होता है। झाड़ जब पुराना होता है तो उनका थुर (तना) सड़ जाता है, बाकी टाल-टालियां रहती हैं। यह भी ऐसे ही है। बच्चे जानते हैं – इनका थुर जो देवी-देवता धर्म था वह अब है नहीं। परमात्मा 24 अवतार लेते हैं तो वह सर्वव्यापी हो नहीं सकते। जब अवतार लेते हैं तो उनको सर्वव्यापी कैसे कहेंगे? नई बात है ना। कितना बड़ा झाड़ है! थुर है ही नहीं! एक भी मनुष्य नहीं जो कहे हम आदि सनातन देवी-देवता धर्म के हैं।

सतयुग को लाखों वर्ष पिछाड़ी में ले जाते हैं। कितनी मुश्किलात की बात हो गई है! अब सभी मनुष्य दु:खी ही दु:खी हैं। सुखी कौन हो सकता है? सन्यासियों की बुद्धि में भी यह भेंट आयेंगी नहीं कि यहाँ काग विष्टा समान सुख है और अथाह दु:ख हैं। यह उन्हों को पता नहीं है। अब बाप बतलाते हैं – तुमको अथाह सुख में फिर ले जाता हूँ। इस समय अपना पार्ट बजाए सभी कुछ करके छिप जाते हैं। यूँ पार्ट तो सभी बजाते हैं। इस्लामी-बौद्धी आदि सब छिप जायेंगे, ऊपर चले जायेंगे। यह भी कोई नहीं जानते। मनुष्यों को ही समझाया जाता है। जानवर को तो नहीं बतायेंगे। मनुष्य का जन्म सबसे ऊंच गाया जाता है। वह कौन-सा? कहते भी हैं कि मनुष्य की तो चमड़ी भी काम में नहीं आती। फिर कहते हैं – मनुष्य का जन्म उत्तम है। वास्तव में तुम्हारा यह जन्म उत्तम है, जो बाप बैठ तुम्हारी सेवा करते हैं। दुनिया के मनुष्यों का यह जीवन बहुत कनिष्ट है। तुम जानते हो – हम भी पहले छी-छी मूत पलीती मनुष्य थे, अब बाबा हमारे इस वस्त्र को ज्ञान लक्ष्य सोप से साफ करते हैं और कहते हैं – अब अपने बाप को याद करो।

इस दुनिया में बाप को कोई भी नहीं जानते हैं। बाप को जानें तब तो बच्चे बनें। शिव के बनें, ब्रह्मा के बनें तब पौत्रे कहलायें। ब्राह्मण भी दो प्रकार के हैं – एक हैं मुख वंशावली, दूसरे हैं कुख वंशावली। तुम हो ब्रह्मा के मुख वंशावली ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ। ब्रह्मा का बाप कौन? शिवबाबा। उनका बाप तो कोई होता नहीं। तुमको पढ़ाने वाला भी वह है। तुम्हारा गुरू भी वह है। अभी सम्मुख बैठे हैं फिर छिप जायेंगे। पतित दुनिया को पावन बनाए, देवी-देवता धर्म की स्थापना कर और सबको मुक्तिधाम में ले जायेंगे। 21 जन्मों का सुख दे दिया फिर और क्या चाहिये! बाबा सदा सुखी तो बनाते हैं। बाकी ऊंच पद पाने लिये तो पुरुषार्थ करना पड़े।

कृष्णपुरी को सुखधाम कहा जाता है। नारायण का बचपन नहीं दिखाते हैं। कृष्ण का स्वयंवर दिखाते हैं। अगर राधे से स्वयंवर हुआ तो फिर उनका नाम क्या बदली हुआ, वह दिखाते नहीं। लक्ष्मी-नारायण का तो मनुष्यों को पता नहीं। उनके जीवन चरित्र को कोई जानते नहीं। तुम अभी समझ रहे हो। कोटों में कोई ही निकलेगा, जिसने पूरा चक्र लगाया होगा। तुम यह जानते हो – भक्ति वह करते जो पहले-पहले पूज्य से पुजारी बनते हैं। भक्त तो सभी हैं। सरसों के मुआफिक मनुष्य हैं। तुम जानते हो – अब बिचारे सभी मौत की चक्की में हैं। अब तुम बच्चों को बहुत बड़ी बुद्धि मिली है। 84 जन्मों का चक्र बुद्धि में रखना बड़ा सहज है। हम अभी ब्राह्मण हैं। सो फिर देवता बनेंगे फिर 84 जन्म लेने पड़ेंगे। हम सो का अर्थ भी बच्चों को समझाया है। हम सो, सो हम – यहाँ ही गाते हैं। और धर्मों में यह अक्षर ही नहीं। ओम् माना भगवान् समझ लेते हैं। वास्तव में ओम् अर्थात् अहम् आत्मा। वह फिर उल्टा कह देते – आत्मा सो परमात्मा। अच्छा, फिर क्या? हम शरीर तो हैं नहीं। परमपिता परमात्मा तो ऐसे कह न सके कि अहम् आत्मा मम शरीर। वह बाप कहते हैं – अहम् आत्मा तो बरोबर हैं। हमने यह शरीर लोन पर लिया है। यह हमारी जुत्ती नहीं है। हमारे पैर हैं नहीं। हमारे चरणों की पूजा हो नहीं सकती। कृष्ण के चरण हैं, हमारे तो हैं नहीं। मैं हूँ ही निराकार। यूँ तो आत्मा भी निराकार है। परन्तु वह 84 जन्मों में आती है। मेरा तो शरीर है नहीं। मैं अशरीरी हूँ। तुमको भी कहता हूँ – अशरीरी बनकर मुझे याद करो। तुम जानते हो – बाबा आया हुआ है। उनका क्या पार्ट है? पतित सृष्टि को पावन बनाना। निराकार तो जरूर कोई शरीर में आया होगा। मनुष्यों को पता न होने कारण उन्होंने फिर नाम लिख दिया है – फर्स्ट प्रिन्स श्री कृष्ण का। अब श्रीकृष्ण यहाँ कैसे आ सकता? यह समझकर फिर समझाना है।

टैगोर आदि गीता की कितनी महिमा करते थे! वास्तव में कृष्ण की भी महिमा नहीं है। कृष्ण को भी बनाने वाला शिवबाबा है। यह कृष्ण के बहुत जन्मों के अन्त का जन्म है। बाबा कहते हैं – छोटे बच्चे के तन में कैसे बैठ सुनायेंगे? जरूर अनुभवी रथ चाहिये। ड्रामा अनुसार हमारा यह रथ मुकरर है। ऐसे नहीं कि फिर दूसरे कल्प में और रथ लूँगा। ब्रह्मा द्वारा ही स्थापना करेंगे। कल्प पहले भी तुम ब्रह्माकुमार-कुमारियों ने ब्रह्मा द्वारा वर्सा लिया था। अब बाप कहते हैं – और संग तोड़ मुझ संग जोड़ो। मेरा तो एक शिवबाबा, दूसरा न कोई। तुम मात पिता…….. जिसकी इतनी महिमा है, अभी तुम उनके सम्मुख बैठे हो। विचार किया जाए – बरोबर हमको किसने रचा? कहते हैं – अल्लाह ने रचा। तो जरूर अल्लाह की कोई फीमेल भी होगी? अल्लाह तो निराकार है, उनकी फीमेल फिर कहाँ से आई? तुम गॉड फादर कहते हो तो फादर हमेशा रचता होता है। मदर ही न हो तो उनको फादर कैसे कहेंगे? बच्चा पैदा होता है तब ही फादर कहते हैं ना। यह किसको पता नहीं गॉड फादर की फीमेल कौन है? यह है सबसे गुह्य बातें। आदम बीबी दोनों हैं। आदम उनको कहेंगे तो फिर सरस्वती को बीबी नहीं कह सकते। वह बीबी हो तो फिर उनकी माँ कौन? यह बड़ी समझने की बातें हैं। बाप ही बैठ समझाते हैं। इस हिसाब से यह (ब्रह्मा) मेरी सजनी हुई। इसके मुख द्वारा रचता हूँ तुम बच्चों को। ब्रह्मा तन में प्रवेश करता हूँ। उन्हों को सम्भालने लिये फिर जगत अम्बा निमित्त बनी हुई है। आदि देव ब्रह्मा और जगत अम्बा सरस्वती यह कौन है? विवेक कहता है ब्रह्मा की बेटी है। तो रचना कैसे रची? ब्रह्मा द्वारा रचा तो यह है बड़ी माँ। फिर सम्भालने के लिये मम्मा भी है, बाबा भी है। पहले नम्बर में सरस्वती जाती है। जगत अम्बा की कितनी महिमा है! अब तुम समझ गये हो – हम सो ब्राह्मण बने हैं। हम ईश्वर की गोद में आये हैं। इसमें भी दो प्रकार के हैं – सगे और लगे। एक ही माता के बच्चे फिर सगे और लगे का तो सवाल ही नहीं उठता। यहाँ भला सगे और लगे क्यों कहा जाता है? कहते हैं जो सगे बनते हैं वो प्रतिज्ञा करते हैं – हम पवित्र बन वर्सा लेंगे। तो ऐसे पवित्र ही गद्दी-नशीन वारिस बनते हैं। लगे फिर प्रजा में चले जाते हैं। सगे भी बहुत बनेंगे फिर उनमें भी नम्बरवार होंगे। जितना जो पुरुषार्थ करेंगे वह माँ-बाप के तख्त पर बैठेंगे। मम्मा-बाबा तख्त पर बैठते हैं तो हमको भी तख्त मिलना चाहिये। परन्तु बनेंगे नम्बरवार। तो यह है योग की यात्रा। बाबा को याद करना है, स्वदर्शन चक्र फिराना है, आप समान बनाना है। मेहनत करनी पड़ती है आप समान बनाने में। बच्चियाँ परिचय देकर बाप के पास रिफ्रेश होने लिये ले आती हैं। बाबा देखते हैं – कौन-कौन बाप से पूरा वर्सा लेंगे, और सब तरफ से ममत्व मिटाये एक तरफ लगायेंगे? जानते हैं बाबा हमको विश्व का मालिक बनाने वाला है। बाप कहते हैं हम तुमको स्वर्ग का मालिक बनायेंगे। फिर चाहे सूर्यवंशी, चाहे चन्द्रवंशी बनो।

तो बाप अपने आप सब-कुछ कर रहे हैं। फिर छिप जायेंगे। घड़ी-घड़ी अवतार तो लेते नहीं हैं। उनको अपना शरीर ही नहीं है। वह एक ही बार आते हैं। तुम तो घड़ी-घड़ी एक चोला छोड़ दूसरा लेते रहते हो। मैं पुनर्जन्म में आता नहीं हूँ। कितना अच्छी रीति समझाते हैं। आगे यह बातें बुद्धि में नहीं थी। अनायास घर बैठे रास्ते जाते बाबा ने प्रवेश कर लिया फिर मालूम पड़ा। अब दिन-प्रतिदिन सब बातें बुद्धि में बैठती जाती हैं। कहते हैं ना हम 7 दिन का बच्चा हूँ, दो मास का बच्चा हूँ। यह ज्ञान तो सेकेण्ड में भी मिल सकता है। कितने बच्चे हैं! और कोई सतसंग नहीं होगा जहाँ इतने बच्चे हों। प्रजापिता ब्रह्मा और जगत अम्बा भी बाप के बेटे-बेटी हैं, न कि मेल-फीमेल। मेल-फीमेल इतने बच्चे कैसे पैदा करेंगे! कुख वंशावली की तो बात ही नहीं। जिन्होंने कल्प पहले मात-पिता का बनकर वर्सा पाया है, वही आते रहते हैं। कलम लगती रहती है। बगीचा है ना। अभी देवी-देवता धर्म के फूल तो हैं नहीं। बाकी सब जैसे कांटे हैं। चुभते हैं। यह कांटों की दुनिया है। बाप आकर कांटों से कली, कली से फूल बनाते हैं। श्रीमत पर नहीं चलते हैं तो फिर गिर पड़ते हैं। बाबा समझ जाते हैं – यह विकारों में गिर पड़ा। अभी तुम पतित से पावन बन रहे हो। बापू गांधी भी पतित-पावन को याद करते थे। चाहते थे – वर्ल्ड ऑलमाइटी अथॉरिटी का राज्य हो। सो तो बाप ही स्थापन करेंगे। तुम जानते हो – अब हमको इस कंसपुरी से कृष्णपुरी में जाना है। भारत में सतयुग था। लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। पांच हजार वर्ष की बात है। पांच हजार वर्ष से पुरानी चीज़ कोई होती नहीं। लाखों वर्ष की तो कोई चीज़ रह न सके। देखो, तुम बूढ़ी मातायें गुड़गांव से आई हो मात-पिता पास, जिनसे वर्सा मिलना है। बाप भी बुढ़ियों को देख खुश होते हैं। पांच हजार वर्ष पहले भी आकर वर्सा लिया था। सारा मदार पुरुषार्थ पर है। तुम बुढ़ियायें इतना ज्ञान उठा नहीं सकती। यह दादा बूढ़ा तो बहुत अच्छा पढ़ता है। तुम समझती हो – जवान सरस्वती माँ अच्छा पढ़ती है। अरे, यह तो ब्रह्मपुत्रा नदी है। यह तो जरूर जास्ती पढ़ते होंगे ना। यह बूढ़ा सबसे तीखा है। वह तो फिर भी बेटी हो गई। बुढ़ियों के लिये भी है बहुत सहज। बाबा को याद करते रहो। ओहो! शिवबाबा कुर्बान जाऊं, आप तो सुखधाम ले जाते हो! बस, ऐसे खुशी में रहो तो भी बेड़ा पार है। हमेशा समझो – शिवबाबा समझाते हैं। इनको छोड़ दो। ऐसे ही समझो शिवबाबा सुनाते हैं तो बुद्धियोग शिवबाबा पास जाने से विकर्म विनाश होंगे। मम्मा भी शिवबाबा से सुनकर सुनाती है। सदैव एक शिवबाबा की ही याद रहे तो विकर्म विनाश होते रहेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) गद्दी-नशीन पक्का वारिस बनने के लिये पवित्रता की प्रतिज्ञा कर सगा बच्चा बनना है, और संग तोड़ एक संग जोड़ना है।

2) आप समान बनाने की सेवा करनी है। कांटे से कली, कली से फूल बनना और बनाना है। नये झाड़ की कलम लगानी है।

वरदान:- हर बात में मुख से वा मन से बाबा-बाबा कह मैं पन को समाप्त करने वाले सफलता मूर्त भव
आप अनेक आत्माओं के उमंग-उत्साह को बढ़ाने के निमित्त बच्चे कभी भी मैं पन में नहीं आना। मैंने किया, नहीं। बाबा ने निमित्त बनाया। मैं के बजाए मेरा बाबा, मैने किया, मैने कहा, यह नहीं। बाबा ने कराया, बाबा ने किया तो सफलतामूर्त बन जायेंगे। जितना आपके मुख से बाबा-बाबा निकलेगा उतना अनेकों को बाबा का बना सकेंगे। सबके मुख से यही निकले कि इनकी तात और बात में बस बाबा ही है।
स्लोगन:- संगमयुग पर अपने तन-मन-धन को सफल करना और सर्व खजानों को बढ़ाना ही समझदारी है।

TODAY MURLI 19 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 19 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 18 July 2017 :- Click Here

19/07/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to uplift your equals. The Father has placed the urn of knowledge on you mothers and you mothers therefore have a huge responsibility.
Question: For which special task are you mothers the instruments? What responsibility do you have?
Answer: You are instruments to make the impure world pure, to make hell into heaven. The Father has placed the urn of knowledge on you mothers and you therefore have the responsibility of granting everyone salvation. You are the Shiv Shakti Army. You now have to benefit your equals. Save everyone from becoming impure. You also have to uplift the prostitutes.
Song: O traveller of the night, do not become weary. The destination of dawn is not far off.

Om shanti. You children heard a line of the song. We are now going towards our homeland, that is, we are now going to the land of happiness. You mothers have been made instruments to carry out establishment of the land of happiness. The urn of nectar of knowledge has been placed on you mothers. Just as a ceremony for the opening or the establishment of something is carried out, so too the Supreme Father, the Supreme Soul, is carrying out the opening of Paradise through you mothers. The urn is placed on you mothers. Therefore, you children now have to become alert. This is the Shakti Army. The Father gives the responsibility to you children. It isn’t that the Father has given those gurus the responsibility of granting everyone salvation. You now know that it is the task of the mothers to grant salvation. Salvation is received through knowledge. The mothers have received the urn of knowledge. It is shown that the urn is first placed on the World Mother. In the scriptures they have mentioned the name of Lakshmi. There is this difference. The urn has been placed on you mothers. The urn has been placed on Kali. There is praise of Kali. They have created many images. So the urn is now placed on you mothers because mothers who are your equals are now in a bad state. You are called Shiv Shaktis. You are the incognito army. Your intellects should have enthusiasm. You are establishing your self-sovereignty. The expression “Salutations to the mothers” has been remembered. The name of the land of Bharat is also remembered. They say: Victory to the mothers of Bharat, that is, victory to the mothers who live in Bharat. Victory to the mothers who are making the world into heaven. They have made a mistake and simply spoken of the mothers of Bharat. Baba is glorifying the name of you mothers. He inspires the carrying out of the opening ceremony of heaven. You say that Shiv Baba is making the world into heaven through you mothers. You shot arrows of knowledge at Bhishampitamai etc. The Father says: Don’t be afraid to shoot arrows of knowledge. You have to study and teach others. Your army become the instruments. You are masterknowledgefull. They have portrayed Saraswati with a sitar because she is the cleverest of all. The world doesn’t know this. You know that you are now becoming beautiful from ugly. They go to Kali. They call out to her, “Ma! Ma!” They cry so much, don’t even ask! Nothing happens though. There is a lot of praise of Kali in Calcutta. This Brahma is not a mother and this is why you mothers are given the urn. You are the army of mamas, all equals. You say: Baba, whatever I am and however I am, I am Yours. That One also says: Whatever you are, however you are, you are Mine. However, you have to follow shrimat. All of you are brides. All of you say that you belong to God. You are given the explanation that all of you are the children of Shiv Baba. You have to prove this. First of all, there is the praise of Shiva. He is the Highest on High. He alone is called God. Shiv Baba alone gives us the inheritance. He is the incorporeal Father of all souls. Therefore, you daughters now have to uplift your equals. All the responsibility is given to you mothers. The Father also says: Salutations to the mothers. Shiva is the Child and so He has to say “Salutations to the mothers”. That One salutes you and you then salute Him. It is a wonder ! This too is fixed in the drama. You know that Shiv Baba grants visions. Even while sitting at home, you can have visions of the one with a peacock-feathered crown. Everyone has a crown. This is a trademark that is used. They have given Krishna such a big crown. Otherwise, he doesn’t wear such a big crown. The Father sits here and gives you mothers a vision of your aim and objective. You will become a mother of a prince. Not everyone will become the mother of Krishna. There are many princes and princesses. To be a mother of a prince means to become an emperor or empress. Your aim and objective is so good. You will have a prince in your lap. You daughters have a lot of responsibility. There should be a big gathering of you. You should create a memorandum : We Shiv Shaktis are the mothers of Bharat. We made Bharat into heaven by following shrimat even in the previous cycle. Mothers, you have to be very clever. Nowadays, your equals are beaten a great deal for poison. Therefore, you should cry out to help them. Tell the Government: We make Bharat into heaven every cycle with the power of purity, but they are creating these obstacles in this. We want to remain pure. Together with them, some men too will say that purity truly is very good. People have birth control pills in order not to have children, but nothing is accomplished through that. The Father says: Become pure! The brothers are also helpers of you mothers. You daughters should become alert. You too have to show your sparkle. Tell the Government: God, the Father, says: Become pure. All are children of Shiv Baba. Therefore, they are all brothers. Then, because of being children of Prajapita Brahma, we are brothers and sisters. The new world is now being established. The children of Shiv Baba are also the children of Prajapita Brahma and they are brothers and sisters. They cannot exchange poison with one another. This is a tactic. The Father made you pure in the same way in the previous cycle too. We are now conquering Maya, Ravan. This Ravan is Bharat’s great enemy. You were defeated in everything because you were defeated by Ravan. Rama comes and enables you to gain victory over Ravan. However, even now, some have so much attachment to their husbands etc., don’t even ask! You mothers have now received the urn. You should explain that you are opening the gates to heaven. They have portrayed Lakshmi with an urn. However, Lakshmi is pure. What would she do with the urn of knowledge? The urn of knowledge is with the World Mother. The Supreme Father, the Supreme Soul, has now issued an ordinance: Lust is the greatest enemy. Those who conquer it will become elevated and become the masters of heaven.

[wp_ad_camp_3]

 

You children should have a lot of love for each other. This is like an army of the Brahma Kumars and Kumaris that has come together. No one knows where anyone is. Not all the children of all the centres can be invited here. Mothers have a lot of bondage. They also have to look after their children. Otherwise, the men would report them, but when the men go away, who in fact looks after the household then? You have to show them that those people teach hatha yoga and that we teach Raja Yoga. This is why we should receive salvation. Baba has told you: Also explain to prostitutes that they should now stop that dirty business. Tell them to become the gates to heaven. If you accomplish this task, your name will be glorified very much. You have to benefit them too. This confluence age is benevolent. You have to cry out a great deal for purity. Have mercy for these prostitutes. The Government too now employs them with one type of work or another. Explain in such a way that it is printed in the papers that the Brahma Kumars and Kumaris are giving knowledge to even prostitutes and liberating them from that dirty business, because lust is the greatest enemy. You become impure and dirty through that. This world is corrupt. The Father comes and uplifts the mothers. It is the duty of the brothers to become helpers. Those who make effort will claim a high status. You should have mercy for your equals. This place is called the brothel. The Father comes and makes it into the Shiva Temple. In fact, these are aspects of knowledge. The Father enters this body of a human being and gives this knowledge to you. You know that you are now changing from those in a graveyard into those who are in the land of angels. This is the lake of knowledge. You continue to dip yourself in knowledge, but there is no question of water etc. here. When they go on pilgrimages, they make a lot of effort etc. To go by foot carrying so much luggage requires a lot of hard work. You have now understood that Baba sits in a human body and bathes you in knowledge. However, there are no angels etc. It is Baba who is making you into angels of knowledge. These are such good things to be imbibed. If you daughters become alert, you can do a lot of work. You mothers have to go. Tell them: Wherever prostitutes are, create groups of them. Explain to their seniors. However, it shouldn’t be that, externally, you keep saying, “Mine is One alone and none other”, but that, internally, someone else keeps pulling you. That cannot work either. Become a true child of the Father. Where is that cheerfulness on your face? Oh! you are going to meet the unlimited Father, and so you should come running to meet Him in great happiness. “I will go and become a garland around Baba’s neck.” Don’t become tired. Your remembrance is a race. Those are physical races. This is your spiritual race. Your face should bloom with happiness. When a wife’s husband has been lost and then found, she frantically runs through the streets to meet him again. That One is the unlimited Husband of all husbands. What should you be afraid of? You should come running to meet the One from whom you receive the inheritance of heaven. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a true child of the Father. Make sure there isn’t one thing internally and something else externally. Go ahead in the spiritual race of remembrance. Become very cheerful and happy.
  2. Live with one another with a lot of love. Prepare a gathering of the Shiv Shakti Army and save your equals. Create methods to become pure and to make others pure.
Blessing: May you be a master almighty authority who uses all your powers at the right time according to your orders.
To be a master means to be able to experience all the powers in their practical form whenever you invoke them. At a time when you need a particular power, that power should be co-operative at that time. As soon as you order a power, it becomes present. Let it not be that you order the power to tolerate and the power to face appears instead. Such a soul would not be called a master almighty authority. Just as the powers of your body are in order, similarly, let the subtle powers also work according to your orders. Let there not be a difference of even a second.
Slogan: The basis of happiness is the power of contentment.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 17 July 2017 :- Click Here

 

 

Brahma kumaris murli 19 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 19 July 2017

July 2017 all murlis :- Click Here

To Read Murli 18 July 2017 :- Click Here

19/07/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हें अपने हमजिन्स का उद्धार करना है, बाप ने माताओं पर ज्ञान का कलष रखा है इसलिए माताओं पर बड़ी जवाबदारी है”
प्रश्नः- तुम मातायें किस विशेष कर्तव्य के निमित्त हो? तुम्हारे ऊपर कौन सी रेसपान्सबिल्टी है?
उत्तर:- तुम इस पतित दुनिया को पावन दुनिया, नर्क को स्वर्ग बनाने के निमित्त हो। बाप ने तुम माताओं पर ज्ञान का कलष रखा है इसलिए सबको सद्गति देने की रेसपान्सिबिल्टी तुम्हारे पर है। तुम हो शिव शक्ति सेना। तुम्हें अब अपने हमजिन्स का कल्याण करना है। सबको पतित बनने से बचाना है। वेश्याओं का भी उद्धार करना है।
गीत:- रात के राही….

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत की लाइन सुनी… अब चले वतन की ओर अर्थात् सुखधाम की ओर। सुखधाम की स्थापना अर्थ माताओं को ही रखा गया है। ज्ञान अमृत का कलष माताओं पर रखा है। जैसे ओपनिंग की सेरीमनी वा स्थापना की सेरीमनी की जाती है ना। तो परमपिता परमात्मा वैकुण्ठ की ओपनिंग कराते हैं माताओं द्वारा। कलष माताओं पर ही रखते हैं। तो अब बच्चियों को खड़ा होना है। शक्ति दल है ना। बच्चों पर बाप रेसपान्सिबिल्टी रखते हैं। ऐसे नहीं कि इन गुरूओं पर बाप ने कोई रेसपान्सिबिल्टी रखी है कि सबको सद्गति दो। अभी तुम जान गये हो कि सद्गति देना इन माताओं का काम है। सद्गति होती है ज्ञान से। ज्ञान का कलष माताओं को मिला है। पहले-पहले दिखाते हैं – कलष रखा जगत अम्बा पर। शास्त्रों में तो लक्ष्मी का नाम रख दिया है। यह फ़र्क पड़ गया है। कलष रखा है तुम माताओं पर। काली पर कलष रखा है। काली की महिमा है ना। चित्र तो अनेक बना दिये हैं। तो अब माताओं पर कलष रखा है क्योंकि इस समय तुम्हारी हमजिन्स माताओं की बुरी गति है। तुम शिव शक्तियाँ कहलाती हो। तुम हो गुप्त सेना। तुम्हारी बुद्धि में उमंग उठना चाहिए। तुम अपना स्वराज्य स्थापन कर रहे हो। वन्दे मातरम् भी गाया हुआ है। भारत खण्ड का नाम ही गाया जाता है। कहते हैं भारत माता की जय अर्थात् भारत में रहने वाली माताओं की जय। जो मातायें विश्व को स्वर्ग बनाती हैं, ऐसी माताओं की जय। वह फिर भूल कर सिर्फ कह देते हैं भारत माता। बाबा तुम माताओं का नाम बाला करते हैं। स्वर्ग की ओपनिंग सेरीमनी कराते हैं। तुम कहती हो शिवबाबा हम माताओं द्वारा विश्व को स्वर्ग बनाते हैं। भीष्म पितामह आदि को भी तुमने ज्ञान बाण मारे हैं। तो बाप कहते हैं ज्ञान बाण लगाने में डरो मत। पढ़ना है, पढ़ाना है। तुम सेना ही निमित्त बनी हुई हो। मास्टर नॉलेजफुल हो ना। सरस्वती को बड़ा बैन्जो दिया है क्योंकि वह सबसे तीखी है। दुनिया तो नहीं जानती। तुम जानते हो कि अब हम सांवरे से गोरे बनते हैं। काली के पास जायेंगे। वह तो माँ-माँ कह इतना रोते हैं जो बात मत पूछो। होता तो कुछ भी नहीं है। कलकत्ते में काली की बहुत महिमा है। अब यह ब्रह्मा तो माँ है नहीं इसलिए कलष फिर माताओं को मिलता है। तुम हो माँ की सेना हमजिन्स। तुम कहते हो बाबा जैसा हूँ, वैसा हूँ, आपका हूँ। यह भी कहते हैं जैसे हो वैसे हो मेरे हो, परन्तु श्रीमत पर चलना है। सजनियाँ तो सब हैं। सब कहेंगी हम ईश्वर के हैं। अब तुमको समझानी भी दी जाती है, शिवबाबा की सब सन्तान हैं। यह सिद्ध करना है। सबसे पहले-पहले है शिव की महिमा, ऊंच ते ऊंच वह है उनको ही भगवान कहेंगे। शिवबाबा ही वर्सा देते हैं। वह है निराकार, सभी आत्माओं का बाप। तो अब तुम बच्चियों को अपने हमजिन्स का उद्धार करना है। माताओं पर ही सारी रेसपान्सबिल्टी है। वन्दे मातरम् बाप भी कहते हैं, शिव बालक है तो वन्दे मातरम् करना पड़े ना। यह तुमको करते हैं, तुम उनको करती हो। वन्डर है ना। यह भी ड्रामा की नूँध है। तुम जानती हो शिवबाबा साक्षात्कार भी कराते हैं। घर बैठे भी मोर मुकुटधारी का साक्षात्कार होता है। तो मुकुट तो सबको होता है। यह एक ट्रेडमार्क रख दिया है। कृष्ण को इतना बड़ा मुकुट दे दिया है। नहीं तो इतने बड़े मुकुट पहनते नहीं हैं। बाप बैठ माताओं को एम आब्जेक्ट का साक्षात्कार कराते हैं। तुम प्रिन्स की माँ बनेंगी। कृष्ण की माँ तो सब नहीं बनेंगी। प्रिन्स प्रिन्सेज तो बहुत हैं ना। प्रिन्स की माँ अर्थात् महारानी महाराजा बनेंगे। तुम्हारा कितना अच्छा एम आब्जेक्ट है। तुम्हारी गोद में प्रिन्स होगा।

तो तुम बच्चियों पर बहुत जवाबदारी है। तुम्हारा बड़ा संगठन होना चाहिए। मेमोरण्डम बनाना चाहिए। हम शिव शक्ति भारत मातायें हैं। हमने भारत को कल्प पहले भी स्वर्ग बनाया है श्रीमत पर। माताओं को बहुत होशियार होना चाहिए। आजकल तुम्हारी हमजिन्स पर बहुत मार पड़ती है विष के लिए। तो रड़ी मारनी चाहिए। गवर्मेन्ट को कहना है – हम कल्प-कल्प भारत को पवित्रता के बल से स्वर्ग बनाते हैं, इसमें हमको यह विघ्न डालते हैं। हम पवित्र रहना चाहती हैं। साथ में यह पुरुष भी कहेंगे बरोबर पवित्रता अच्छी है। लोग दवाइयों आदि से बच्चा पैदा होना बन्द करते हैं। परन्तु इनसे तो कुछ भी नहीं होगा। बाप समझाते हैं पवित्र बनो। तुम माताओं के साथ मददगार गोप भी हैं। बच्चियों को खड़ा होना चाहिए। जलवा दिखाना चाहिए। गवर्मेन्ट को कहना चाहिए कि भगवान बाप कहते हैं पवित्र बनो। शिवबाबा के बच्चे तो सभी हैं, तो भाई-भाई हो गये। फिर प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान होने से भाई-बहन ठहरे। अब नई दुनिया स्थापन हो रही है। शिवबाबा की सन्तान प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे भाई-बहन, विष की लेन-देन कर न सकें। यह है युक्ति। कल्प पहले भी बाप ने ऐसे ही पवित्र बनाया था। हम माया रावण पर जीत पाते हैं। यह रावण ही भारत का बड़ा दुश्मन है। रावण से हारे हार है। राम आकर इन पर जीत पहनाते हैं। परन्तु अब तक कइयों का पति आदि में मोह ऐसा है जो बात मत पूछो। अभी तुम माताओं को कलष मिलता है। समझाना है कि हम तो स्वर्ग के द्वार खोलती हैं। उन्होंने कलष लक्ष्मी को दिखाया है। परन्तु लक्ष्मी तो है ही पवित्र। वह ज्ञान कलष रखकर क्या करेगी। ज्ञान का कलष है जगत अम्बा पर। अब परमपिता परमात्मा ने फरमान निकाला है कि काम महाशत्रु है, जो इन पर जीत पाये वही श्रेष्ठाचारी बन स्वर्ग के मालिक बनेंगे।

[wp_ad_camp_3]

 

तुम बच्चों का आपस में बहुत लव होना चाहिए। ब्रह्माकुमार कुमारियों की जैसे सेना इकट्ठी हो। कोई को तो पता भी नहीं है कौन-कौन कहाँ हैं। सभी सेन्टर्स के बच्चों को तो बुला भी नहीं सकते। माताओं को बन्धन बहुत है, बच्चों को भी सम्भालना है। नहीं तो पुरुष रिपोर्ट कर देते हैं। यूँ तो पुरुष चले जाते हैं तो घरबार कौन सम्भालता है? तुमको दिखाना है – वह तो हठयोग सिखलाते हैं, हम राजयोग सिखलाते हैं इसलिए हमको सैलवेशन मिलनी चाहिए। बाबा ने समझाया था कि तुम वेश्याओं को भी समझाओ कि यह गंदा धन्धा अब बन्द करो। तुम स्वर्ग का द्वार बनो। तुम यह काम करके दिखाओ तो तुम्हारा नाम बहुत बाला हो। उन्हों का भी कल्याण करना है। यह संगमयुग है ही कल्याणकारी, पवित्रता पर खूब रड़ी मारनी है। इन वेश्याओं पर रहम करना है। गवर्मेन्ट भी अब उन्हों को कुछ न कुछ काम में लगाती रहती है। तुम ऐसा समझाओ जो अखबार में भी पड़े कि ब्रह्माकुमार-कुमारियां तो वेश्याओं को भी नॉलेज दे इस गन्दे धन्धे से छुड़ाती हैं क्योंकि काम महाशत्रु है, इनसे तुम पतित गन्दे बनते हो। यह दुनिया ही भ्रष्टाचारी है ना। बाप आकर माताओं को उठाते हैं। गोपों का काम है मददगार बनना। जो मेहनत करेगा वह ऊंच पद पायेगा। अपने हमजिन्स पर रहम करना चाहिए, इनका नाम ही है वेश्यालय। बाप आकर शिवालय बनाते हैं। वास्तव में यह हैं ज्ञान की बातें। बाप इस मनुष्य तन में आकर तुमको ज्ञान सुनाते हैं। तुम जानते हो हम अब कब्रिस्तानी से परिस्तानी बन रहे हैं। यह है ज्ञान मान सरोवर। ज्ञान में गोता लगाते रहते हैं, बाकी पानी की बात नहीं है। तीर्थों पर जाते बहुत मेहनत आदि करते हैं। पैदल जाना, सामान आदि उठाना बहुत मेहनत होती है। अब तुम समझ गये हो – बाबा मनुष्य तन में बैठ ज्ञान स्नान कराते हैं। बाकी परियां आदि कोई नहीं हैं। तुमको ज्ञान परी बनाने वाला बाबा है। कितनी अच्छी-अच्छी बातें धारण करने की हैं। बच्चियां खड़ी हो जाएं तो बहुत काम कर सकती हैं। जाना तो तुम माताओं को है। बोलो, जहाँ भी वेश्यायें हैं उन्हों का संगठन बनाओ। बड़ों-बड़ों को समझाओ। परन्तु ऐसे भी नहीं बाहर से कहते रहो हमारा तो एक दूसरा न कोई और अन्दर में और कोई खींचता रहे। ऐसे भी काम न चल सके। बाप का सच्चा बच्चा बनना है। वह चेहरा खुश-मिजाज़ी का कहाँ? अरे बेहद के बाप से मिलने जाते हैं तो दौड़ते-दौड़ते आकर खुशी से मिलना चाहिए। हम तो जाकर बाबा की गोदी का हार बनें। थक नहीं जाना है। तुम्हारी याद ही दौड़ी है। वह जिस्मानी दौड़ी है। यह तुम्हारी रूहानी दौड़ी है। चेहरा खुशी में खिल जाना चाहिए। कोई का पति गुम हो जाए फिर आकर मिले तो स्त्री गलियों में दौड़ती-दौड़ती बावरी मिसल आकर मिलेगी। यह फिर बेहद का पतियों का पति है। उससे डरना क्या है! जिससे स्वर्ग का वर्सा मिलता है उससे तो भाग-भाग कर आए मिलना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) बाप का सच्चा बच्चा बनना है, अन्दर एक बाहर दूसरा न हो। याद की रूहानी दौड़ में आगे जाना है। खुश-मिजाज़ बनना है।

2) आपस में बहुत-बहुत प्यार से रहना है, शिव शक्ति सेना का संगठन तैयार कर अपनी हमजिन्स को बचाना है। पवित्र बनने और बनाने की युक्ति रचनी है।

वरदान:- सर्व शक्तियों को समय पर आर्डर प्रमाण कार्य में लगाने वाले मास्टर सर्वशक्तिमान् भव 
मास्टर का अर्थ है कि हर शक्ति जिस समय आह्वान करो वो शक्ति प्रैक्टिकल स्वरूप में अनुभव हो। जिस समय, जिस शक्ति की आवश्यकता हो, उस समय वो शक्ति सहयोगी बने। शक्ति को ऑर्डर किया और हाज़िर। ऐसे भी नहीं ऑर्डर करो सहनशक्ति को और आये सामना करने की शक्ति तो उसे मास्टर सर्वशक्तिमान् नहीं कहेंगे। जैसे शरीर की शक्तियां ऑर्डर में हैं ऐसे सूक्ष्म शक्तियां भी ऑर्डर प्रमाण कार्य करें, एक सेकण्ड का भी फर्क न पड़े।
स्लोगन:- प्रसन्नता का आधार सन्तुष्टता की शक्ति है।

 

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 17 July 2017 :- Click Here

To Read Murli 15 July 2017 :- Click Here

 
Font Resize