today murli 18 october

TODAY MURLI 18 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 18 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 17 October 2018 :- Click Here

18/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, have the faith that you are souls and that those are your bodies. There is no question of visions in this. Even if people were to have a vision of a soul, they wouldn’t be able to understand it.
Question: By following which shrimat of the Father will you be liberated from being punished in the jail of a womb?
Answer: The Father’s shrimat is: Children, become conquerors of attachment. Belong to the one Father and none other. Simply remember Me and don’t perform any sinful acts and you will be liberated from being punished in the jail of a womb. You have been jailbird s here for birth after birth. The Father has now come to liberate you from that punishment. There is no jail of the womb in the golden age.

Om shanti. The spiritual Father explains to you spiritual children what a soul is and who the Supreme Soul, his Father, is. He explains this once again because this is an impure world. Those who are impure are always senseless. The pure world is the sensible world. Bharat was the pure world, that is, it was the kingdom of deities; it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. They were very wealthy and happy, but the people of Bharat don’t understand these things. They don’t know the Father, the Supreme Father, the Creator. It is only human beings who would know this; animals would not know this. They even remember: O Supreme Father, Supreme Soul! He is the parlokik Father. The soul remembers his Supreme Father, the Supreme Soul. It is a physical father who gives birth to this body whereas that Supreme Father, the Supreme Soul, is the parlokik Father, the Father of souls. People worship Lakshmi and Narayan. They understand that they existed in the golden age and that Rama and Sita were in the silver age. The Father comes here and explains: Children, you have been remembering Me, your parlokik Father, for birth after birth. God, the Father, would definitely be the incorporeal One. We souls are also incorporeal. We became corporeal after coming here. This very small matter doesn’t enter anyone’s intellect. That unlimited Father of yours is the Creator. You call out: You are the Mother and Father. We belong to You and so we become the masters of heaven. Then we forget You and become the masters of hell. That Father now sits here and explains through this one: I am the Creator and this is My creation. I am explaining its secrets to you. This one also understands. No one has seen a soul, so why do they say “I am a soul”? You understand that you souls shed bodies and take others. It is said: A great soul, a charitable soul. You have the faith: I am a soul and this is my body. The body is perishable whereas the imperishable soul is a child of that Supreme Father, the Supreme Soul. This is such an easy matter, but good, sensible ones are unable to understand. Maya has locked your intellects. You can’t have a vision of yourself, the soul. It is the soul that takes many births. His father changes in every birth. Why do you not have the faith that you are a soul? You ask to have a vision of a soul. For so many births, did you tell anyone that you should have a vision of a soul? Some people do have a vision of a soul, but they are unable to understand. You don’t know the Father. No one, apart from the unlimited Father, can grant souls a vision of God. They say: Oh God! So He is the Father, is He not? You have two fathers: one is a perishable father who gives birth to a perishable body. The other is the imperishable Father of imperishable souls. You sing: You are the Mother and Father. You remember Him and so He must surely have come, must He not? Jagadamba and Jagadpita are sitting here; they are studying Raja Yoga. There was the kingdom of Lakshmi and Narayan in Paradise. They too existed in Bharat. People believe that heaven is somewhere up above, but the memorials of Lakshmi and Narayan are here and so they must surely have ruled their kingdom here. The Dilwala Temple is the memorial of your present time. You are Raja Yogis. You half-kumaris and kumaris are sitting here and the memorial of this is created on the path of devotion. The name ‘Dilwala’ also has a meaning. Who is the One who conquers your hearts? This Adi Dev and Adi Devi are studying Raja Yoga. They too would remember that incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul. He is the Highest on High, the Ocean of Knowledge. He sits in the body of this Adi Dev and explains to all you children. They don’t know anything about when this temple was built, why it was built or whose memorial it is. They mention the names of so many goddesses: Kali, Durga, Anapurna (Goddess of food). Who would be the Goddess Anapurna (who provides food) for the whole world? Do you know which goddesses fulfil people’s need for food? Bharat was heaven; there were plenty of material comforts there. Until only 80 to 90 years ago, you could still get 85 lbs of grain for 10 to 12 annas (3/4 of a rupee). So everything would have been so cheap before that. In the golden age, grain etc. are very good and cheap. However, no one understands even this. The Father comes here and teaches you souls. Souls listen through their physical senses. The soul has received these eyes with which to see and ears with which to hear. The Father says: I, the Incorporeal, also take support of the body of this one. I am always called Shiva. People have given Me many names – Rudra, Shiva, Somnath – but My one and only name is Shiva. Devotees have been remembering God and saying: Salutations to Shiva. It is now 2,500 years since they came into existence. On the path of devotion, there was at first unadulterated worship. You have now put Me into the pebbles and stones. It is now the end of that devotion. I have come to take everyone back home. This old world is to end. Bombs have been manufactured and so everyone will be destroyed in a short time. In the golden age, there are so few people: there are only 900,000. Where will all the rest go? There will be wars and earthquakes etc. Destruction definitely has to take place. This one is Prajapita. There are so many Brahma Kumars and Kumaris. Who is the Father of Brahma? Incorporeal Shiva. You are His grandsons and granddaughters. You are claiming your inheritance from Shiv Baba. So you have to remember Him alone. It is by having remembrance that your burden of sins will be removed. You know that this is the vicious impure world. The golden age is the viceless world. There is no poison (vice) there. According to the system, everyone only has one son. There is never untimely death there; it is the land of happiness. Here, there is so much sorrow. However, no one knows these things. They relate the Gita. The versions of God are the Shrimad Bhagawad Gita. Achcha, who is God? They say that it is Shri Krishna. Ah, but he is a young child, so how could he teach Raja Yoga? At that time, the world is not impure. The One who teaches Raja Yoga for salvation has to exist here. In the Gita, it is written: The sacrificial fire of the knowledge of the Gita of Rudra. There is no sacrificial fire of the knowledge of the Gita of Krishna. This sacrificial fire has been continuing for so many years. When will it end? When the whole world is sacrificed into it. At the end of a sacrificial fire, they sacrifice everything into it. This sacrificial fire will continue till the end. This old world is going to end. The Father says: I am the Death of all Deaths. I have come to take everyone back home. I am teaching you so that you become the masters of heaven. You know that, at this time, all human beings are constantly unfortunate. In the golden age, you were constantly fortunate. Explain this difference to everyone. When people come here, they understand very well, but as soon as they return home, everything is finished. Similarly, they make a promise in the jail of a womb that they won’t commit any more sin. Then, as soon as they come out, they begin to commit sin again: they are jailbirds. At this time all human beings are jailbirds. They repeatedly enter the jail of a womb and experience punishment. The Father says: I am now liberating you from becoming jailbird s of the womb. In the golden age, a womb is not called a jail. I have come to liberate you from that punishment. Now remember Me. Don’t commit any sin. Become conquerors of attachment. People sing: Mine is One alone and none other. They are not referring to Krishna. Krishna took 84 births and has now come and become Brahma. Then he is the one who will become Krishna again. This is why He has entered this body. This drama is predestined. God is now establishing the sun and moon dynasties. He is creating your reward for the future. You are now making effort and creating your reward for many births through the unlimited Father, who is the Creator of heaven. These matters have to be understood. Each actor has his own part in the drama. Why should we weep and wail about this? We remember that one Father while alive. We are not even concerned about these bodies. When we shed these old bodies, we will go to Baba. At this time, you serve Bharat so much. Your names are remembered as Anapurna, Durga, Kali etc. There isn’t really any Kali with a fearsome form or Ganesh with an elephant’s trunk; human beings are human beings. The Father now explains to you: I am making you children become like Lakshmi and Narayan. Have the faith that you are claiming your inheritance from Baba and then, in the future, you will become princes and princesses. No one knows the Father who is the Creator of heaven. They have even forgotten Jagadamba. The ones whose temples have been built are now sitting here in the living form. After the iron age, there has to be the golden age. People ask when destruction will take place. However, first of all, study and become clever. The Mahabharat War definitely took place and it was only after that, that the gates to heaven opened. So, the gates to heaven are now being opened through these mothers. They sing: Salutations to the mothers. It is pure ones who are praised. There are two types of mother. One type is physical social workers and the other is spiritual social workers. This is your spiritual pilgrimage. You know that we will shed our bodies and go back home. God speaks: Manmanabhav! Remember Me, your Father. Krishna, the child, would not say this. He has his own father. No one understands the meaning of “Manmanabhav!” The Father says: Remember Me and your sins will be absolved and you will receive wings with which to fly. You are now changing from those with stone intellects into those with divine intellects. The Creator, the Father of all, is only One. There are also the temples to Adi Dev and Adi Devi. You, their children, are studying Raja Yoga here. It is here that you did tapasya and so your memorials are in front of you. How did Lakshmi and Narayan receive their kingdom? That is their temple. You are Raj Rishis. You are now making effort to attain your kingdom or attain your fortune of the kingdom of Bharat once again. You are establishing the kingdom of heaven in Bharat. You are serving Bharat with your own bodies, minds and wealth. You are liberating everyone from the impure kingdom of Ravan by following the Father’s shrimat. The Father is the Liberator, the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. He inspires the destruction of the old world in order to remove your sorrow. He enables you to conquer your enemy so that you can become conquerors of Maya and conquerors of the world. You claim the kingdom every cycle and then lose it. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra Shiva through which the flames of destruction emerge. All of them will be destroyed and you will become constantly happy. Sorrow begins in the copper age. The Father says: I come and change the residents of hell into residents of heaven. The iron age is the brothel and the golden age is Shivalaya. You are being made into the masters of heaven by the unlimited Father and so your mercury of this happiness should rise. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remember the Father for as long as you live and claim your right to the inheritance. Don’t be concerned about anything.
  2. Do the service of making Bharat into heaven by using your body, mind and wealth according to shrimat and show everyone the way to be liberated from Ravan.
Blessing: With your form of unlimited remembrance, may you finish all limited situations and be an image of experience.
You elevated souls are the trunk that has a close relationship and a direct connection with the Seed and the main two leaves, the Trimurti. Remain stable in this elevated stage, become an unlimited embodiment of remembrance and all limited, wasteful things will finish. Come back to your unlimited form of maturity and you will constantly be an image of experience. Constantly keep in your awareness your occupation of being an unlimited ancestor. The duty of you ancestors is to be an immortal light who show the destination to the souls who are wandering in the darkness.
Slogan: Instead of being confused by any situation, experiencing pleasure is being an intoxicated yogi.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 18 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 October 2018

To Read Murli 17 October 2018 :- Click Here
18-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – निश्चय करो कि हम आत्मा हैं, यह हमारा शरीर है, इसमें साक्षात्कार की कोई बात नहीं, आत्मा का साक्षात्कार भी हो तो समझ नहीं सकेंगे”
प्रश्नः- बाप की किस श्रीमत पर चलने से गर्भजेल की सजाओं से छूट सकते हैं?
उत्तर:- बाप की श्रीमत है – बच्चे नष्टोमोहा बनो, एक बाप दूसरा न कोई, तुम सिर्फ मुझे याद करो और कोई भी पाप कर्म न करो तो गर्भजेल की सजाओं से छूट जायेंगे। यहाँ तुम जन्म-जन्मान्तर जेल बर्ड बनते आये, अब बाप आये हैं उन सजाओं से बचाने। सतयुग में गर्भ जेल होता नहीं।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को समझाते हैं – आत्मा क्या है और उनका बाप परमात्मा कौन है? इसे फिर से समझाते हैं क्योंकि यह तो है पतित दुनिया। पतित हमेशा बेसमझ होते हैं। पावन दुनिया समझदार होती है। भारत पावन दुनिया अर्थात् देवी-देवताओं का राज्य था, इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। बड़े धनवान, सुखी थे परन्तु भारतवासी इन बातों को समझते नहीं। बाप, परमपिता अथवा रचता को ही नहीं जानते। मनुष्य ही जान सकते हैं, जानवर तो नहीं जानेंगे ना। याद भी करते हैं – हे परमपिता परमात्मा। वह पारलौकिक फादर है। आत्मा याद करती है अपने परमपिता परमात्मा को। इस शरीर को जन्म देने वाला तो लौकिक फादर है और वह परमपिता परमात्मा है पारलौकिक फादर, आत्माओं का बाप। मनुष्य लक्ष्मी-नारायण की पूजा करते हैं, समझते भी हैं यह सतयुग में थे और राम-सीता त्रेता में थे। बाप आकर समझाते हैं – बच्चे, तुम मुझ पारलौकिक बाप को जन्म-जन्मान्तर याद करते आये हो। गॉड फादर तो जरूर निराकार हुआ ना। हमारी आत्मा भी निराकार है ना। यहाँ आकर साकार बनी है। यह थोड़ी-सी बात भी कोई की बुद्धि में नहीं आती। वह तुम्हारा बेहद का बाप रचयिता है। पुकारते हैं तुम मात-पिता…….. आपके हम बनते हैं तो हम स्वर्ग के मालिक बनते हैं फिर आपको भूलने से नर्क के मालिक बन जाते हैं। अभी वह बाप इन द्वारा बैठ समझाते हैं – मैं रचयिता हूँ, यह मेरी रचना है, जिसका राज़ तुमको समझाता हूँ। यह भी समझ जाते हैं। आत्मा को किसी ने भी देखा नहीं है फिर क्यों कहते हैं अहम् आत्मा? यह तो समझते हैं ना – अहम् आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती हूँ। महान् आत्मा, पुण्य आत्मा कहते हैं ना। निश्चय करते हैं – हम आत्मा हैं, यह हमारा शरीर है। शरीर विनाशी है, आत्मा अविनाशी है। उस परमपिता परमात्मा की सन्तान है। कितनी सहज बात है। परन्तु अच्छे-अच्छे बुद्धिवान समझ नहीं सकते। माया ने बुद्धि को ताला लगा दिया है। तुमको अपनी आत्मा का ही साक्षात्कार नहीं होता है। आत्मा ही अनेक जन्म लेती है ना। हर जन्म में बाप बदलता जाता है। तुम अपने को आत्मा निश्चय क्यों नहीं करते हो? कहते हैं आत्मा का साक्षात्कार हो। अरे, इतने जन्म कोई को बोला था क्या कि आत्मा का साक्षात्कार हो? कोई-कोई को आत्मा का साक्षात्कार होता भी है परन्तु समझ नहीं सकते। बाप को तुम जानते नहीं। बेहद के बाप बिगर आत्माओं को परमात्मा का साक्षात्कार भी कोई करा नहीं सकता। कहते हैं – हे भगवान्, तो बाप हुआ ना। तुमको दो बाप हैं – एक तो है विनाशी शरीर को जन्म देने वाला विनाशी बाप, दूसरा है अविनाशी आत्माओं का अविनाशी बाप। तुम गाते हो – तुम मात पिता…….. उनको याद करते हो तो जरूर वह आया होगा ना। जगत अम्बा और जगत पिता बैठे हैं, राजयोग सीख रहे हैं। वैकुण्ठ में लक्ष्मी-नारायण का राज्य था, वह भी भारत में ही थे ना। मनुष्य समझते हैं ऊपर कहाँ स्वर्ग होगा। अरे, लक्ष्मी-नारायण का यहाँ यादगार है, जरूर यहाँ ही राज्य किया होगा। यह देलवाड़ा मन्दिर तुम्हारा अभी का यादगार बना हुआ है। तुम राजयोगी हो। अधरकुमार, कुमार कुमारियां सब यहाँ बैठे हो, उनका यादगार फिर भक्ति में बनता है। देलवाड़ा नाम का भी कोई अर्थ होगा ना। दिल लेने वाला कौन है? यह आदि देव और आदि देवी भी राजयोग सीख रहे हैं। यह भी याद करेंगे उस निराकार परमपिता परमात्मा को। वह है ऊंच ते ऊंच ज्ञान सागर। इस आदि देव के शरीर में बैठ सब बच्चों को समझाते हैं। यह मन्दिर कब बना, क्यों बना, किन्हों का यह यादगार है? कुछ भी जानते नहीं। देवियों आदि के कितने नाम लेते हैं। काली, दुर्गा, अन्नपूर्णा… अब सारे विश्व की अन्नपूर्णा कौन होगी? कौन-सी देवियाँ अन्न की पूर्ति करती हैं, तुम जानते हो? भारत स्वर्ग था, वहाँ तो अथाह वैभव रहते हैं जबकि अभी ही 80-90 वर्ष पहले 10-12 आने मण अनाज मिलता था तो उससे पहले कितनी सस्ताई होगी। सतयुग में तो अनाज आदि बहुत सस्ता अच्छा होता है। परन्तु यह भी कोई समझते नहीं। बाप आकर तुम आत्माओं को पढ़ाते हैं। आत्मा इन कर्मेन्द्रियों से सुनती है। आत्मा को यह आंखे मिली हैं देखने के लिए, कान मिले हैं सुनने के लिए। बाप कहते हैं मैं निराकार भी इस शरीर का आधार लेता हूँ। मुझे सदैव शिव ही कहते हैं। मनुष्यों ने बहुत नाम रखे हैं – रूद्र, शिव, सोमनाथ…….. परन्तु मेरा एक ही नाम शिव है। शिवाए नम:, भक्त भगवान् को याद करते आये हैं। उनको 2500 वर्ष हुए हैं। भक्ति मार्ग में पहले अव्यभिचारी भक्ति थी। अभी तो तुमने ठिक्कर-भित्तर में डाल दिया है। अभी इस भक्ति का अन्त हैं। सबको वापिस ले जाने मैं आया हूँ। यह पुरानी दुनिया ख़त्म होनी है। बाम्ब्स बने हुए हैं तो कितने में सब ख़लास हो जायेंगे। सतयुग में कितने थोड़े सिर्फ 9 लाख होंगे। बाकी इतने सब कहाँ जायेंगे? यह लड़ाई अर्थक्वेक आदि होगी। विनाश तो जरूर होना है।

यह है प्रजापिता, कितने ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं। ब्रह्मा का बाप कौन है? निराकार शिव। हम उनके पोत्रे-पोत्रियां हैं। शिवबाबा से हम वर्सा लेते हैं। तो उनको ही याद करना है। याद से ही पापों का बोझा उतरेगा। तुम जानते हो यह है ही विशश, पतित दुनिया। सतयुग है वाइसलेस दुनिया। वहाँ विष (विकार) होता नहीं। कायदे अनुसार एक ही बच्चा होता है। कभी अकाले मृत्यु नहीं होती है। है ही सुखधाम। यहाँ तो कितना दु:ख है। परन्तु यह बातें कोई भी जानते नहीं। गीता सुनाते हैं, श्रीमत भगवत गीता, भगवानुवाच। अच्छा, भगवान् कौन है? कह देते श्रीकृष्ण। अरे, वह तो छोटा बच्चा है, वह कैसे राजयोग सिखलायेगा? उस समय पतित दुनिया थोड़ेही है। सद्गति के लिए राजयोग सिखलाने वाला तो यहाँ चाहिए। गीता में लिखा हुआ भी है रूद्र गीता ज्ञान यज्ञ। कृष्ण गीता ज्ञान यज्ञ तो है नहीं। यह ज्ञान यज्ञ कितने वर्षों से चलता आ रहा है, इनकी समाप्ति कब होगी? जब सारी सृष्टि इसमें स्वाहा होगी। यज्ञ जब समाप्त होता है तो उसमें सब कुछ स्वाहा करते हैं ना। यह यज्ञ भी अन्त तक चलता रहेगा। यह पुरानी दुनिया ख़त्म होने वाली है। बाप कहते हैं मैं कालों का काल हूँ, सबको लेने लिए आया हूँ। तुमको पढ़ा रहा हूँ कि तुम स्वर्ग के मालिक बनो। तुम जानते हो इस समय सभी मनुष्यमात्र हैं सदा दुर्भाग्यशाली, सतयुग में थे सदा सौभाग्यशाली – यह फ़र्क सबको समझाना है। यहाँ आते हैं तो अच्छी रीति समझते हैं फिर घर जाते हैं तो सब ख़लास हो जाता। जैसे गर्भजेल में अंजाम (वायदा) कर आते हैं – हम पाप नहीं करेंगे। बाहर निकलते हैं तो फिर पाप करने लग पड़ते हैं। जेल बर्ड होते हैं ना। इस समय जो भी मनुष्य मात्र हैं सब जेल बर्ड हैं। घड़ी-घड़ी गर्भजेल में जाकर सजायें खाते हैं। बाप कहते हैं – अभी तुमको गर्भजेल बर्ड बनने से छुड़ाते हैं। सतयुग में गर्भ को जेल नहीं कहेंगे। तुमको इन सजाओं से बचाने आया हूँ। अब मुझे याद करो, कोई भी पाप नहीं करो, नष्टोमोहा बनो। गाते हैं मेरा तो एक दूसरा न कोई…….. यह कोई कृष्ण की बात नहीं है। कृष्ण तो 84 जन्म ले अब आकर ब्रह्मा बना है फिर वही कृष्ण बनना है, इसलिए इस शरीर में ही प्रवेश किया है। यह बना बनाया ड्रामा है। अभी भगवान् यह सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी राजधानी स्थापन कर रहे हैं। तुम्हारी भविष्य के लिए प्रालब्ध बनाते हैं। अभी तुम पुरुषार्थ कर अनेक जन्मों की प्रालब्ध बना रहे हो बेहद के बाप द्वारा, जो बाप स्वर्ग का रचयिता है। यह बातें समझने की हैं। ड्रामा में हर एक एक्टर का अपना-अपना पार्ट है। इसमें हम क्यों रोयें पीटें? हम जीते जी उस एक बाप को याद करते हैं। इस शरीर की भी हमको परवाह नहीं है। यह पुराना शरीर छूटे और हम बाबा के पास जायें। इस समय तुम भारत की कितनी सेवा करते हो। तुम्हारे ही नाम गाये हुए हैं – अन्नपूर्णा, दुर्गा, काली आदि-आदि। बाकी काली कोई ऐसी भयानक शक्ल वाली वा गणेश सूँढ़ वाला थोड़ेही होता है। मनुष्य तो मनुष्य ही होते हैं। अब बाप समझाते हैं मैं तुम बच्चों को इन लक्ष्मी-नारायण जैसा बना रहा हूँ। तुम निश्चय करो हम बाबा से वर्सा ले रहे हैं फिर भविष्य में जाकर प्रिन्स-प्रिन्सेज बनेंगे। बाप जो स्वर्ग का रचयिता है, उनको कोई भी नहीं जानते। जगदम्बा को भी भूल गये हैं। जिसका मन्दिर बना हुआ है – अभी वह चैतन्य में बैठे हैं। कलियुग के बाद फिर सतयुग होना है। विनाश के लिए मनुष्य पूछते हैं। अरे, पहले तुम पढ़कर होशियार तो हो जाओ। महाभारत लड़ाई तो बरोबर हुई थी, जिसके बाद ही स्वर्ग के द्वार खुले थे। तो अब इन माताओं द्वारा स्वर्ग के द्वार खुल रहे हैं। वन्दे मातरम् गाते हैं ना। पावन की ही वन्दना की जाती है। मातायें दो प्रकार की हैं – एक हैं जिस्मानी सोशल वर्कर, दूसरी हैं रूहानी सोशल वर्कर। तुम्हारी है यह रूहानी यात्रा। तुम जानते हो हम यह शरीर छोड़ वापस जाने वाले हैं। भगवानुवाच – मनमनाभव। मुझ अपने बाप को याद करो। कृष्ण बच्चा तो ऐसे नहीं कहेंगे ना। उनको तो अपना बाप है। मनमनाभव का अर्थ कोई भी नहीं जानते। यह तो बाप कहते हैं मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे और उड़ने के पंख मिल जायेंगे। अभी तुम पत्थरबुद्धि से पारसबुद्धि बनते हो। रचता बाप तो सबका एक ही है। आदि देव और आदि देवी के मन्दिर भी हैं। तुम उनके बच्चे यहाँ राजयोग सीख रहे हो। यहाँ ही तुमने तपस्या की थी, तुम्हारा यादगार सामने खड़ा है। लक्ष्मी-नारायण आदि को राजाई कैसे मिली, उनका यह मन्दिर है। तुम हो राजऋषि। राजाई प्राप्त करने वा भारत का फिर से राज्य-भाग्य पाने लिए तुम पुरुषार्थ कर रहे हो। तुम भारत में स्वर्ग की राजाई स्थापन करते हो, अपने तन-मन-धन से सेवा करके। बाप की श्रीमत द्वारा तुम पतित रावण राज्य से सबको लिबरेट करते हो। बाप है लिबरेटर, दु:ख हर्ता, सुख कर्ता। तुम्हारे दु:ख हरने के लिए पुरानी दुनिया का विनाश कराते हैं। तुमको दुश्मन पर विजय पहनाते हैं, तो तुम मायाजीत-जगतजीत बनेंगे। तुम कल्प-कल्प राज्य लेते हो और फिर गवाँते हो। यह है रूद्र शिव का ज्ञान यज्ञ, जिससे यह विनाश ज्वाला निकली है। वह सब विनाश हो जायेंगे और तुम सदा सुखी बन जायेंगे। दु:ख शुरू होता है द्वापर से। बाप कहते हैं – मैं आकर नर्कवासियों को स्वर्गवासी बनाता हूँ। कलियुग है वेश्यालय, सतयुग है शिवालय। तुम बेहद के बाप से स्वर्ग के मालिक बनते हो तो यह खुशी का पारा चढ़ना चाहिए ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जीते जी बाप को याद कर वर्से का अधिकार लेना है, किसी भी बात की परवाह नहीं करनी है।

2) श्रीमत पर अपने तन-मन-धन से भारत को स्वर्ग बनाने की सेवा करनी है और सबको रावण से लिबरेट होने की युक्ति बतानी है।

वरदान:- बेहद के स्मृति स्वरूप द्वारा हद की बातों को समाप्त करने वाले अनुभवी मूर्त भव
आप श्रेष्ठ आत्मायें डायरेक्ट बीज और मुख्य दो पत्ते, त्रिमूर्ति के साथ समीप संबंध वाले तना हो। इसी ऊंची स्टेज पर स्थित रहो, बेहद के स्मृति स्वरूप बनो तो हद की व्यर्थ बातें समाप्त हो जायेंगी। अपने बेहद के बुजुर्गपन में आओ तो सदा सर्व अनुभवीमूर्त हो जायेंगे। जो बेहद के पूर्वजपन का आक्यूपेशन है, उसको सदा स्मृति में रखो। आप पूर्वजों का काम है अमर ज्योति बन अंधकार में भटकती हुई आत्माओं को ठिकाने पर लगाना।
स्लोगन:- किसी भी बात में मूंझने के बजाए मौज का अनुभव करना ही मस्त योगी बनना है।

TODAY MURLI 18 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 18 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 17 October 2017 :- Click Here

18/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have now received divine visions. You know that this old world is to end. Therefore, remove your attachment from it. Surrender yourself fully.
Question: What are the signs of the children who have fully surrendered themselves to the eternal Father?
Answer: They do not waste their money on useless things. On the path of devotion, people set off so many fireworks at Diwali; they celebrate in temporary happiness. You know that all of that is a waste of time, a waste of money and a waste of energy. Here, you don’t celebrate with such happiness because you are in fact in simplicity. You have to go from this world of thorns to the world of flowers.
Song: Having found You, we have found the whole world: the earth, the sky and the sea all belong to us.

Om shanti. You sweetest children understand the meaning of the song. You children have now attained the Father. The Father is helping you to conquer the five vices, that is, to conquer Maya and to become conquerors of the world. “Jagad” (world) is the whole world. You children know that you are going to become the masters of the whole world. When will you become the masters? When Ravan’s kingdom ends. They continue to burn Ravan’s effigy every year because the Father comes at the confluence age and ignites the lamps of you souls and makes you into the masters of the golden age. After Dashera, on the day of Deepawali, people wear good, new clothes. Generally, they also go to the temples of Lakshmi and Narayan, Radhe and Krishna and the goddesses. However, they don’t know the goddesses or Lakshmi and Narayan. The goddesses are the Shiv Shaktis, the Brahmins. They show weapons in the hands of the goddesses. In fact, goddesses don’t have weapons; they are incognito. You conquer Ravan and your happiness becomes permanent for half the cycle. You do not celebrate in happiness now. This is not Deepmala because today you ignite lamps and tomorrow they become extinguished. People continue to celebrate Dashera every year. You Brahmins no longer light lamps in your homes. People light lamps and have lights etc. in temples. They don’t know what Deepmala and Dashera are. At that time, the whole of Bharat becomes new. To light lamps etc. is all the path of devotion. They waste so much money on the path of devotion. On that day they have so many fireworks. They continue to waste their time, waste their money and waste their energy. This is the forest of thorns in which everyone has grown wild. You too were like that before and you didn’t understand anything. In the golden age you won’t have any unnecessary expenditure. Here, there is a lot of unnecessary expenditure. By making donations and performing charity, you receive the fruit of that for a temporary period. You know that you have surrendered yourselves to the eternal Father and so everything of yours becomes imperishable. You shed your old bodies and take new ones. You children have heard the story of the king who conquered attachment. That story is not about the golden age because there is no untimely death there. They just made up a story as an example. At that time, all are destroyers of attachment, conquerors of attachment. You have to remove your attachment from the old world, including your body, because you are going to the new world. Would anyone have attachment to the old world? This is called unlimited renunciation. Baba doesn’t tell you to remove your attachment from only bodies, but from whatever you see with your eyes; forget all of that because you have received divine visions of how everything is now to end. The old world is already destroyed and the new world will be created. Shiv Baba is giving us the kingdom. Shiv Baba’s name is always Shiva because He doesn’t have a body of His own. Brahma, Vishnu and Shankar have their own bodies. They are up above. The Lord of Immortality is telling you the story of immortality in order to take you to the land of immortality. You children are now becoming flowers. It requires effort to change thorns into flowers. Here, all are thorns: they continue to prick one another, don’t even ask! The Father says: You mustn’t prick anyone now. You mustn’t use the sword of lust. The violence of lust causes sorrow from its beginning, through the middle to the end. If you beat someone, you could even kill that person. Here, you have continued to be unhappy for birth after birth. The Father says: You must not now use the sword of lust. You are now celebrating Dashera and then it will be Deepawali. In the golden age you won’t celebrate Deepawali. There, Lakshmi herself rules the kingdom and so people won’t worship her there. The people who live in the temples don’t know the biograph ies of the deities. You children know them. You children are rup and basant. The Father says: I too have adopted a body, but My way of adopting it is different. At this time we don’t have the happiness of Deepawali because we are in simplicity. From our Parent’s home, we are going to go to our in-laws’ home. Baba sent a message that you should wear clothes with 108 patches on them to break your body consciousness. At this time, you are going from the world of thorns to the world of flowers. It is said that those who learn to read and write will become the masters. The Father says: I make you into Narayan from an ordinary human. Therefore, you have to make elevated effort. Since I am teaching you, why do you spoil your status? Why do you not follow the mother and father? Baba has given you visions of how those who study well come into the dynasty. You know that you are studying to become residents of heaven. People believe that when a person dies he becomes a resident of heaven. You know that Baba comes and takes you to heaven and then Ravan makes you into residents of hell. People say that the Hindus and Chinese are brothers and yet they continue to cause one another sorrow. You know that you are receiving a lot of happiness from the mother and Father. Then, your degrees gradually continue to decrease. It is said: There is benefit for everyone due to the stage of ascent. Therefore, everyone benefits now: some come out of hell and become residents of heaven and some become residents of the land of peace and so that is their benefit. In the golden age there isn’t anything that causes sorrow. The furniture of the wealthy is very beautiful. There are no animals there that cause sorrow because the furniture also has to be good. That is called heaven. There is a play about Allah, Aladdin and the magic lamp. As soon as he rubbed it, he received a kingdom. So, Allah, the Father, establishes the first religion, that is, He establishes the original eternal deity religion. The Father makes you into the masters of Vaikunth (heaven) in a second. Baba gives you visions of the original religion. You children should not ask to have visions. Baba has said that He loves the knowledgeable souls more than those who go into trance. Maya interferes in trance. Maya doesn’t interfere in knowledge. The Father gives visions to those who do intense devotion. Here, you don’t do any intense devotion. The young daughters have visions. Here, it is said that if you have the habit of going into trance you won’t be able to study. In the beginning, so many used to have programmes for going into trance. However, they are not here today. Knowledgeable souls cannot have doubts about anything. When there are doubts and you stop studying, it means you leave the Father. The sun-dynasty deity kingdom is now being established. Other founders of religions don’t establish a kingdom. For them, it becomes their kingdom when their religion grows. You are now becoming the masters of the world. When a new person comes, ask him what his relationship is with the Supreme Father, the Supreme Soul. He would say that He is the Father. Baba establishes heaven and Ravan makes it into hell. People worship the One who created heaven and burn an effigy of the one who made it into hell because people in hell are burning on the pyre of lust. Therefore, out of anger, they burn an effigy of Ravan. However, Ravan doesn’t get burnt. They simply say that that has continued from time immemorial, but they don’t know the meaning of ‘time immemorial’. They burn an effigy of an enemy. Why do people burn Ravan? Because Ravan burns you. You burn Ravan, but people don’t know anything. In the golden age, they are completely viceless and so they won’t burn Ravan there. That is called the viceless world. We are claiming our inheritance from the Father in order to become residents of Paradise. It is Ravan who curses you. Who is called Ravan? There are the five vices of women and the five vices of men. These vices don’t exist in the golden age. Sannyasis come later. The deity religion doesn’t exist now. It is being established once again. The rosary of 108 is being created and so subjects are also needed. There was one king of Jaipur, but there were many subjects. The rosary is now being created. Therefore, subjects are also needed. Those who become the children and then leave become ordinary subjects. People say that they want liberation-in-life while living at home with their families. There wouldn’t be just one who is liberated in life. The whole dynasty has to be that. In the Ashtavakra Gita it is written that liberation-in-life was received in a second , but how was it received? They don’t know this. The original, eternal, deity religion is one that gives a lot of happiness. Since you are receiving a kingdom, why should you not follow shrimat? Why should you not become like a lotus? You are Brahmins, are you not? Therefore, you have the conch shell, the discus, the mace and the lotus flower. At Deepmala people wear new clothes and go to the temples for just the one day. They don’t wear new clothes on Krishna’s birthday but they do wear new clothes on Deepawali; they have everything new. On that day, shopkeepers end their old accounts and start new ones. You are also now ending your old accounts and starting new ones. The Father enables you to profit and Ravan makes you incur a loss. How will there be profit? Manmanabhav! Madhyajibhav! Vishnu is in the middle. “Madhyajibhav” means the Father establishes the land of Vishnu through Brahma. Therefore, the old world is destroyed. So, Shiv Baba comes at the end of the iron age and then it is the beginning of the golden age. It is written that establishment takes place through Brahma. Brahma is the Father of Humanity. So, whose children are you? Are you the children of Shiva or Brahma? You say: You are the mother and Father. You truly do have the mother and Father in a practical way at this time. You are studying and claiming your inheritance and then Ravan comes and makes you unhappy. Sorrow increases gradually. This iron age is the ocean of poison whereas the golden age is the ocean of milk. Vishnu is shown in an ocean of milk. You truly know about Dashera and Deepawali. What would those people know about these things? We have understood the secrets. You know that you were in heaven yesterday and that you are now in hell. Tomorrow, you will be in heaven again. Why is “tomorrow” said? Because after the night comes the day. When someone comes here, ask him or her whose ashram this is. Have you heard the name Prajapita Brahma? There are so many Brahma Kumars and Kumaris and so Brahma is the father. Only from the Father do you receive the inheritance. The Father says: Remember Me, and you will become madhyajibhav. The Father doesn’t forbid you to do business. Baba says: You may do your business but remember Baba because you are to receive the inheritance from Him. This is an incentive. There aren’t any incentives anywhere else. In schools, too, they have incentives. This is why it is said that student life is the best. This is an unlimited study. You know the unlimited history and geography. Go to schools and tell them what the unlimited history and geography are. Tell them: You are teaching limited history and geography. We will tell you the unlimited history and geography of Lakshmi and Narayan and how they attained their status. As you progress further, you will receive invitations from colleges. This is the Godly world university and He is the spiritual Father. He gives you souls spiritualknowledge. The Incorporeal comes into the corporeal and speaks this knowledge to you. There is no question of Krishna in this. They don’t understand anything. Everything has been tangled up. People want to become free, but fighting continues to increase. They say that they want freedom. You receive true freedom from being troubled by Ravan. The people of Bharat believe that they received freedom from the Christians, but where is that freedom? You receive freedom, the independent kingdom. You heard in the song that since you have found the Father, the earth, the sky and the sea all belong to you. There are no limits to that. Achcha.

To the sweetest children who have met Me again after 5000 years, to the children who are to claim the inheritance, love, remembrance and good morningfrom the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Follow the mother and father fully and claim a high status through the study. Don’t have any interest in this world. Remain in simplicity.
  2. Whatever you see with those eyes, see it but don’t see it. Become complete destroyers of attachment. Don’t waste anything at the confluence age.
Blessing: May you be an image of tapasya who becomes equal to BapDada in return for His love.
According to the circumstances of time, in order to have self-progress, to serve at a fast speed, and to give a return for BapDada’s love, there is a great need to do tapasya at the present time. The children have love for the Father but, in return for their love, BapDada wants to see the children become equal to Him. In order to become equal, become an image of tapasya. For this, step away from all sides and become one with unlimited disinterest. Do not make the shores your support.
Slogan: Cool down and become cool yogis who take others beyond with your cool drishti.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Murli 16 October 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 18 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 17 October 2017 :- Click Here
18/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – अभी तुम्हें दिव्य दृष्टि मिली है – तुम जानते हो यह पुरानी दुनिया खत्म होनी है, इसलिए इससे ममत्व मिटा देना है, पूरा-पूरा बलि चढ़ना है”
प्रश्नः- जो अविनाशी बाप पर पूरा बलि चढ़े हुए बच्चे हैं उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- वह अपना पैसा आदि फालतू खर्च नहीं करेंगे। भक्ति मार्ग में दीपावली आदि पर कितना बारूद जलाते हैं। अल्पकाल की खुशी मनाते हैं। तुम जानते हो यह सब वेस्ट ऑफ टाइम, वेस्ट आफ मनी, वेस्ट आफ एनर्जी है। यहाँ तुम्हें ऐसी खुशियाँ नहीं मनानी हैं क्योंकि तुम तो वनवास में हो। तुम्हें इन कांटों की दुनिया से फूलों की दुनिया में जाना है।
गीत:- तुम्हें पाके हमने……

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चों ने गीत का अर्थ समझा। अब तुम बच्चों ने बाप को पाया है, तुमको बाप मदद देते हैं। 5 विकारों को जीतने की अर्थात् माया पर जीत पहन जगतजीत बनने की। जगत सारी दुनिया को कहा जाता है। बच्चे जानते हैं हम सारे जगत के मालिक बनने वाले हैं। मालिक कब बनेंगे? जब रावणराज्य पूरा हो जायेगा। रावण को वर्ष-वर्ष जलाते हैं क्योंकि संगमयुग पर बाप आकर आत्मा का दीवा जगाए सतयुग का मालिक बनाते हैं। दशहरे के बाद दीपावली के दिन मनुष्य बहुत अच्छे-अच्छे कपड़े पहनते हैं। अक्सर करके लक्ष्मी-नारायण, राधे कृष्ण और देवियों के मन्दिर में जाते हैं। परन्तु देवियों को और लक्ष्मी-नारायण को जानते नहीं। देवियाँ हैं शिव शक्तियाँ, ब्राह्मणियाँ। देवियों के हाथ में अस्त्र शस्त्र दिखाते हैं। वास्तव में देवियों के हाथ में कोई अस्त्र शस्त्र हैं नहीं। वे तो गुप्त हैं। रावण पर जीत पाते हैं तो तुम्हारी आधाकल्प के लिए खुशियाँ कायम हो जाती हैं। अभी तुम खुशियाँ नहीं मनायेंगे। यह कोई दीपमाला थोड़ेही है क्योंकि यह तो आज दीवे जलाते, कल बुझ जाते हैं। दशहरा भी हर वर्ष मनाते रहते हैं। तुम ब्राह्मण कोई अपने घरों में दीपक नहीं जलाते हो। मन्दिरों आदि में तो दीपक, बिजलियाँ आदि जलाते हैं। मनुष्य नहीं जानते कि दीप माला, दशहरा क्या है। उस समय सारा भारत ही नया होता है। दीपक आदि जगाना, यह सब भक्ति मार्ग है। भक्ति मार्ग में कितने पैसे वेस्ट करते हैं। उस दिन बारूद कितना जलाते हैं। वेस्ट ऑफ टाइम, वेस्ट आफ मनी, वेस्ट ऑफ एनर्जी करते रहते हैं। यह है फारेस्ट आफ थार्नस। (कांटों का जंगल) सब जंगली बन गये हैं। तुम भी पहले ऐसे थे, कुछ भी नहीं समझते थे। सतयुग में फ़जूल (व्यर्थ) खर्चा नहीं करेंगे। यहाँ तो फ़जूल खर्चा बहुत है। दान पुण्य करने से भी अल्पकाल का फल मिलता है। तुम जानते हो हम अविनाशी बाप पर बलि चढ़े हैं तो हमारा सब कुछ अविनाशी बन जाता है। पुराना शरीर छोड़ नया ले लेते हैं। तुम बच्चों ने मोह जीत राजा की कथा तो सुनी है ना। यह कहानी सतयुग के लिए नहीं हैं क्योंकि वहाँ अकाले मृत्यु नहीं होता। यह सिर्फ मिसाल देने के लिए कहानी बनाई है कि उस समय सब नष्टोमोहा, मोहजीत रहते हैं। शरीर सहित पुरानी दुनिया से ममत्व मिटाना है क्योंकि तुम नई दुनिया में जा रहे हो। पुरानी दुनिया के साथ किसका ममत्व होता है क्या? इसको बेहद का सन्यास कहा जाता है। सिर्फ बाबा यह नहीं कहते कि देह से ममत्व मिटाओ। परन्तु जो भी इन ऑखों से देखते हो सबको भूलो क्योंकि अब दिव्य दृष्टि मिली है कि सब खत्म होना है। पुरानी दुनिया विनाश हुई पड़ी है और नया विश्व बनेगा। शिवबाबा हमको राज्य देते हैं। शिवबाबा का नाम सदैव शिव है क्योंकि उनको अपना शरीर तो है नहीं। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को भी अपना शरीर है। वह है ऊपर। अमरनाथ अमर बनाने की कथा सुनाते हैं। अमरलोक में ले जाने लिए। तुम बच्चे अभी फूल बन रहे हो। कांटों को फूल बनाने में मेहनत तो लगती है। यहाँ तो सब कांटे हैं। एक दूसरे को कांटा लगाते रहते हैं, बात मत पूछो। तो बाप कहते हैं तुम्हें अब किसी को कांटा नहीं लगाना है। काम कटारी नहीं चलाना है। यह काम की हिंसा आदि-मध्य-अन्त दु:ख देती है। वैसे तो किसको मारो तो जान से खत्म हो जाते हैं। यहाँ तो जन्म-जन्मान्तर दु:खी होते रहते हैं। बाप कहते अभी तुम्हें काम कटारी नहीं चलाना है।

अभी तुम दशहरा मना रहे हो फिर दीपावली हो जाती है। सतयुग में दीपावली नहीं मनायेंगे। वहाँ लक्ष्मी स्वयं राज्य करती है, फिर उसकी बैठ पूजा नहीं करेंगे। मनुष्य जो मन्दिरों में रहते हैं वह देवताओं की बायोग्राफी को नहीं जानते। तुम बच्चे जानते हो। तुम बच्चे हो रूप-बसन्त। बाप कहते हैं मैने भी शरीर धारण किया है। परन्तु मेरा धारण करने का तरीका अलग है। अभी हमको दीपावली की खुशी नहीं होती क्योंकि हम वनवास में हैं। हम पियरघर से ससुराल घर जाते हैं। बाबा ने कहला भेजा था, 108 चत्ती वाला कपड़ा पहनो तो देह-अभिमान टूट जाए। इस समय तुम कांटों की दुनिया से फूलों की दुनिया में जा रहे हो। कहते हैं पढ़ेंगे लिखेंगे होंगे नवाब। बाप कहते हैं मैं तुमको नर से नारायण बनाता हूँ। तो पुरुषार्थ ऊंच करना है। जब मैं पढ़ाता हूँ तो क्यों पद खराब करते हो? मात-पिता को क्यों नहीं फालो करते हो? बाबा ने साक्षात्कार कराया है कि जो अच्छी तरह पढ़ेंगे वह डिनायस्टी में आयेंगे। तुम जानते हो हम पढ़ते हैं स्वर्गवासी बनने के लिए। लोग समझते हैं मनुष्य मरते हैं तो स्वर्गवासी होते हैं। तुम जानते हो कि बाबा ही आकर स्वर्ग में ले जाते हैं और रावण फिर नर्कवासी बना देते हैं। मनुष्य कहते हैं हिन्दू चीनी भाई-भाई, फिर एक दो को दु:ख देते रहते हैं। तुम जानते हो मात-पिता से सुख घनेरे मिल रहे हैं। फिर घीरे-धीरे कला कमती होती जाती है। कहते हैं चढ़ती कला सर्व का भला… तो अभी सबका भला होता है। कोई नर्क से निकल स्वर्गवासी बनते, कोई शान्तिधाम निवासी बनते हैं तो भला हो गया। सतयुग में कोई दु:ख देने वाली चीज़ होती नहीं। बड़े आदमियों का फर्नीचर भी बढ़िया होता है। वहाँ दु:खदाई जानवर आदि होते नहीं क्योंकि फर्नीचर अच्छा चाहिए। उसको हेविन कहा जाता है। अल्लाह अवलदीन का खेल है, ठका करने से राजाई मिलती है। तो अल्लाह बाप अवलदीन अर्थात् आदि सनातन देवी-देवता धर्म स्थापन करते हैं। तो बाप सेकेण्ड में वैकुण्ठ का मालिक बना देते हैं। बाबा अवलदीन का साक्षात्कार कराते हैं। ऐसे नहीं बच्चे कहें साक्षात्कार में जायें। बाबा ने कहा है ध्यानी से ज्ञानी मुझे प्रिय हैं। ध्यान में माया प्रवेश करती है। ज्ञान में माया नहीं आती। जो नौंधा भक्ति करते हैं उनको बाप साक्षात्कार कराते हैं। यहाँ कोई नौंधा भक्ति नहीं की जाती है। छोटी-छोटी बच्चियों को साक्षात्कार हो जाता है। यहाँ तो कहा जाता है अगर ध्यान की आदत पड़ गई तो पढ़ाई नहीं पढ़ सकते। शुरू में कितना ध्यान के प्रोग्राम ले आते थे। परन्तु आज हैं नहीं। ज्ञानी तू आत्मा को किसी बात में संशय नहीं आता, संशय आया पढ़ाई छोड़ी गोया बाप को छोड़ा। अब सूर्यवंशी देवी-देवताओं की राजधानी स्थापन हो रही है। और धर्म स्थापक कोई राजधानी स्थापन नहीं करते, वह तो जब धर्म की वृद्धि हो जाती है तब राजाई चलती है। तो तुम अब विश्व का मालिक बन रहे हो। कोई नया आये तो पूछो परमपिता परमात्मा से तुम्हारा क्या सम्बन्ध है? कहेंगे बाबा है। बाबा स्वर्ग स्थापन करते हैं और रावण नर्क बनाते हैं, जिसने स्वर्ग बनाया उसकी पूजा करते हैं, जिसने नर्क बनाया उसको जलाते हैं क्योंकि नर्क में मनुष्य काम चिता पर जलते हैं, तो गुस्से में आकर रावण को जलाते हैं। परन्तु रावण जलता नहीं। सिर्फ कहते हैं परम्परा से चला आता है। परन्तु परम्परा का अर्थ नहीं जानते। दुश्मन की एफीज़ी जलाते हैं। रावण को भला क्यों जलाते हो? क्योंकि रावण तुमको जलाते हैं। तुम रावण को जलाते हो, परन्तु मनुष्य कुछ भी नहीं जानते। सतयुग में तो सम्पूर्ण निर्विकारी होते हैं तो वहाँ रावण को नहीं जलाते हैं। उसको कहा जाता है वाइसलेस वर्ल्ड, हम पैराडाइज़ वासी बनने के लिए बाप से स्वर्ग का वर्सा ले रहे हैं। श्राप देने वाला है रावण। रावण किसको कहा जाता है? 5 विकार स्त्री के 5 विकार पुरुष के। सतयुग में यह विकार नहीं थे। सन्यासी तो बाद में आते हैं। अभी तो देवता धर्म है नहीं। वह फिर से स्थापन हो रहा है। 108 की माला बन रही है तो प्रजा भी तो चाहिए ना। जयपुर का राजा एक था, प्रजा कितनी थी। अभी माला तो बनती है, प्रजा भी चाहिए। जो यहाँ बच्चे बनकर फिर चले जाते हैं, वह हल्की प्रजा में चले जाते हैं। कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहते जीवनमुक्ति चाहिए। जीवनमुक्त तो एक नहीं होंगे। पूरा घराना चाहिए। अष्टापा गीता में लिखा है सेकेण्ड में जीवनमुक्ति मिली। लेकिन कैसे मिली? वह नहीं जानते। आदि सनातन देवी-देवता धर्म बहुत सुख देने वाला है। जबकि राजाई मिल रही है तो फिर हम क्यों न श्रीमत पर चलें! क्यों न कमल फूल समान बनें! तुम ब्राह्मण हो ना। तो शंख, पा, गदा, पदम तुम्हारे पास हैं।

मनुष्य दीपमाला पर सिर्फ एक दिन नया कपड़ा पहनते हैं, मन्दिरों में जाते हैं। कृष्ण जन्माष्टमी पर नये कपड़े नहीं पहनते, दीपावली के दिन नये कपड़े पहनते हैं, एवरीथिंग न्यु। उस दिन दुकानदार अपना पुराना खाता खत्म कर नया खाता शुरू करते हैं। तुम भी अब पुराना खाता खत्म कर नया शुरू कर रहे हो। बाप फायदा कराते हैं, रावण घाटा कराते हैं। फायदा कैसे होगा? मनमनाभव, मध्याजीभव। विष्णु मध्य में है ना। मध्याजीभव माना बाप ब्रह्मा द्वारा विष्णु पुरी स्थापन करते हैं। तो पुरानी दुनिया विनाश हो जाती है। तो शिवबाबा कलियुग के अन्त में आते हैं फिर सतयुग की आदि होती है। लिखा भी है कि ब्रह्मा द्वारा स्थापना। ब्रह्मा तो प्रजापिता है ना। तो तुम किसके बच्चे हो? शिव के हो या ब्रह्मा के बच्चे हो? कहते भी हैं तुम मात-पिता…. बरोबर प्रैक्टिकल में मात-पिता अब हैं। पढ़ाई पढ़कर फिर वर्सा पा रहे हो फिर रावण आकर दु:खी बनाते हैं। दु:ख भी धीरे-धीरे बढ़ता है। विषय सागर यह कलियुग है। सतयुग है क्षीरसागर। विष्णु को क्षीरसागर में दिखाते हैं। तुम जानते हो बरोबर – वह क्या जाने दशहरे, दीपावली को….. हम तो राज़ को समझ गये हैं। जानते हो कल हम स्वर्ग में थे, अब नर्क में हैं। फिर कल स्वर्ग में होंगे। कल क्यों कहते हैं? क्योंकि रात के बाद दिन आता है। कोई आये तो पूछो यह आश्रम किसका है? नाम सुना है प्रजापिता ब्रह्मा? इतने ब्रह्माकुमार कुमारियाँ हैं तो ब्रह्मा बाप हुआ। बाप से वर्सा ही मिलेगा। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो मध्याजी भव। बाप धन्धे की मना नहीं करते। बाबा कहते हैं कि धन्धा भल करो। परन्तु बाबा को याद करो क्योंकि उनसे वर्सा मिलता है। यह भीती है ना, और जगह भीती नहीं होती। स्कूल में भी भीती होती है, तभी कहते हैं कि स्टूडेन्ट लाइफ इज़ दी बेस्ट। यह बेहद की पढ़ाई है। बेहद की हिस्ट्री-जॉग्राफी को तुम जानते हो। स्कूलों में जाकर बताओ कि बेहद की हिस्ट्री-जॉग्राफी क्या है। उनको कहना है कि आप तो हद की हिस्ट्री-जॉग्राफी पढ़ाते हो। हम आपको लक्ष्मी-नारायण की बेहद की हिस्ट्री-जॉग्राफी बतायें कि लक्ष्मी-नारायण ने यह पद कैसे पाया। आगे चल तुमको कॉलेजों में भी निमंत्रण मिलेंगे। यह है ईश्वरीय विश्व विद्यालय। वह है प्रीचुअल फादर। तो रूहों को प्रीचुअल नॉलेज देते हैं। निराकार साकार में आकर सुनाते हैं। कृष्ण की तो इसमें कोई बात नहीं है। किसी बात को समझते नहीं हैं। सूत मूँझा हुआ है। स्वतंत्र होने चाहते हैं परन्तु झगड़ा बढ़ता ही जाता है। कहते हैं फ्रीडम चाहिए। सच्ची-सच्ची फ्रीडम तुमको मिलती है रावण से। भारतवासी समझते हैं कि हमने क्रिश्चियन से फ्रीडम पाई, परन्तु फ्रीडम है कहाँ? फ्रीडम तुमको मिलती है, इंडिपिडेंट राजाई। गीत सुना ना कि तुम मिले तो धरती, आसमान, सागर सब हमारा हो जाता है। उसमें हदें हैं नहीं। अच्छा!

मीठे-मीठे पाँच हजार वर्ष बाद फिर से मिले हुए, वर्सा पाने वाले बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) मात-पिता को पूरा फालो कर पढ़ाई में ऊंच पद पाना है। इस दुनिया में कोई भी शौक नहीं रखना है। वनवास में रहना है।

2) इन ऑखों से जो कुछ दिखाई देता है उसे देखते हुए भी नहीं देखना है। पूरा नष्टोमोहा बनना है। संगम पर कुछ भी वेस्ट नहीं करना है।

वरदान:- बापदादा के स्नेह के रिटर्न में समान बनने वाले तपस्वीमूर्त भव 
समय की परिस्थितियों के प्रमाण, स्व की उन्नति वा तीव्रगति से सेवा करने तथा बापदादा के स्नेह का रिटर्न देने के लिए वर्तमान समय तपस्या की अति आवश्यकता है। बाप से बच्चों का प्यार है लेकिन बापदादा प्यार के रिटर्न स्वरूप में बच्चों को अपने समान देखना चाहते हैं। समान बनने के लिए तपस्वीमूर्त बनो। इसके लिए चारों ओर के किनारे छोड़ बेहद के वैरागी बनो। किनारों को सहारा नहीं बनाओ।
स्लोगन:- शीतल बन दूसरों को शीतल दृष्टि से निहाल करने वाले शीतल योगी बनो।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 16 October 2017 :- Click Here

 

Font Resize