today murli 18 NOVEMBER

TODAY MURLI 18 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 18 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 17 November 2018 :- Click Here

18/11/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
04/04/84

The elevated period of the confluence age is the time

to draw the portrait of your elevated fortune.

Today, BapDada was seeing the moment of birth of the elevated life and the line of fortune of every elevated Brahmin soul. The moment of birth of every child is elevated because it is now the most auspicious elevated confluence age. All of you have taken elevated Brahmin birth at the elevated confluence age, that is, in the most elevated period. The moment of birth of all of you is elevated. The line of fortune, the fortune of all of you Brahmins, is elevated because you are the Shiv dynasty Brahma Kumars and Kumaris who belong to the elevated Father. The elevated Father, elevated birth, elevated inheritance, elevated family and elevated treasures: this line of fortune of all of you is elevated from birth. The period is elevated and, because of the attainment, the line of fortune is also elevated. All of you children have attained the same fortune from the one Father, there is no difference in this. Even though you attain the same fortune, why does it become numberwise? The Father is the same, the birth is the same, the inheritance is the same, the family is the same, the period is the same one of the confluence age, so why is there a number? All of you have received unlimited attainments, that is, unlimited fortune. So, why is there a difference? The difference is created in how you put the unlimited fortune into the picture of actions in your life, according to your capacity. Brahmin life means to paint a picture of your fortune, to put it into your life; to put it into every action. A fortunate one should experience fortune in every thought, every word and every deed, that is, fortune should be visible. A Brahmin means a fortunate soul, whose eyes, forehead and smile on the face give everyone the experience of elevated fortune at every step. This is known as drawing a picture of fortune. Draw the picture of your fortune with the pen of experience on the paper of actions. Make a line drawing of the portrait of your fortune. All of you are creating your portraits, but the portraits of some are complete, whereas the portraits of others still lack something or other. When you put this into your practical life, the line of the forehead means your thoughts, the line of the eyes means spiritual vision, the lines of the smile on your face means to be a constantly contented soul and an embodiment of all attainments. Contentment itself is the line of the smile. The lines of the hands mean the lines of elevated deeds. The lines of the feet mean the power to take every step according to shrimat. In this way, there is a difference in the way you draw the portrait of your fortune. In some, one thing is missing and in others, something else is missingWhen painting a physical painting, some don’t know how to paint eyes, some don’t know how to paint legs. Some don’t know how to paint a smile and so this makes a difference. To the extent that a portrait is perfect, to that extent it is valuable. The pictures of some earn them hundreds of thousands of rupees, whereas the pictures of others scarcely earn them a hundred rupees. So, what was it that made the difference? Perfection. In the same way, because you Brahmin souls are not perfect in all lines, because there isn’t perfection in one or two lines, you become numberwise.

Therefore, today, Baba was looking at the portraits of the fortunate children. Just as in a physical fortune, there are different types of fortune, in the same way, here, too, Baba saw many types of portraits of fortune. In every picture, the main features – the eyes and the forehead – increase the value of the portrait. Similarly, here, the power of the attitude of the mind and the power of spiritual vision of the eyes also have a lot of importance. These are the foundation of the picture. Do all of you look at your own picture? To what extent has your picture been completed? Have you painted such a portrait that the One who creates your fortune is visible in that portrait? Check every line. It becomes numberwise because of this. Do you understand?

The Bestower is One and He gives everyone the same, yet those creating the picture become numberwise in how they create it. Some become one of the special eight and a special beloved deity. Some become deities. Some become those who are happy simply observing other deities. You have seen your own picture, have you not? Achcha.

For a meeting in the corporeal form, the time and the number of people have to be considered, whereas with an avyakt meeting, there is no question of the time or the number of people. If you become experienced in avyakt meetings, you will constantly continue to have to unique experiences in avyakt meetings. BapDada is constantly obedient to all the children. This is why, although He is avyakt He has to come into the corporeal (vyakt) form. However, what do you have to become? You have to become avyakt, do you not? Or, do you want to come in the corporeal form? Become avyakt. By becoming avyakt, you will become incorporeal and go home with the Father. You have not yet reached the stage of going via. Through the angelic form, you will be able to become incorporeal and go back home. So, have you now become the angelic form? Have you completed the portrait of your fortune? Only a completed portrait is an angel. Achcha.

All you children who have come from all the different zones, BapDada is pleased to see each one of you with the speciality of each zone. Some of you may not know the language, but you are clever when it come to knowing the language of love and devotion. You don’t know anything else, but you do know the language of the murli. With their love and devotion, even those who are unable to understand anything are able to understand. Those from Bengal and Bihar constantly live in the weather of Spring (Bahar). They have constant Spring.

Punjab is such that it always makes everything fresh and green (makes everyone full). There is good harvest in Punjab. Hariyana is always full and green (hara bhara). Punjab and Hariyana are always full and green. Where there is greenery, that place is always said to be happy and content and an elevated place. Punjab and Hariyana are always full of happiness. This is why BapDada is pleased to see all of you. What is the speciality of Rajasthan? Rajasthan is very well known for its art. The pictures of Rajasthan are very valuable because there have been many kings there. Therefore, those from Rajasthan are the ones who will make the most valuable portraits of fortune. In the line of art, you are always elevated. What is the speciality of Gujarat? There is a lot of decoration of glass mirrors there. So, Gujarat is a mirror. It is a mirror in which the Father’s image can be seen. You look at your face in the mirror, don’t you? So, the mirror of Gujarat has the speciality of showing everyone the image of the Father and the image of an angel. The speciality of Gujarat is the mirror that will reveal the Father. Finally, little Tamil Nadu is still left. Smaller ones work wonders. They carry out huge tasks. What will those from Tamil Nadu do? There are many temples there. They play music in temples. The speciality of Tamil Nadu is to beat the drums and make a very loud sound of the Father’s revelation. You have a good speciality. Some play music even in their childhood. Even devotees play music with a lot of love. You children also play it with love. Now, each of your places has to put your own speciality into a practical form. Baba has now met those from all zones, has He not? Eventually, this is how the meetings will take place. The older children say: Why don’t you invite us? You create subjects and you also increase the number of subjects, and so the older ones have to give a chance to the newer ones. It is only then that the number can increase. If the older ones continue to move along in the same old way, what would happen to the newer ones? The older ones are bestowers who give and the newer ones are those who receive. Therefore, you have to give a chance to others. You have to become bestowers in this. There are many limitations in meeting through the corporeal form. In the avyakt meeting, there are no limitations. Some ask: What will happen when the number increases? The method of corporeal meetings will also change. When the number increases, you also have to donate something and perform some charity. Achcha.

To all the children from this land and abroad, in response to the sound of their loving hearts, songs of happiness and letters of news of their hearts, together with giving multi-million fold love and remembrance to all the children, BapDada is also giving a response to their letters. By having constant remembrance be one who receives the blessing of immortality and continue to move forward and also make others move forward. To all the children who maintain their zeal and enthusiasm, BapDada congratulates you for your own progress and for the progress of service. Congratulations! You are always with the Father. You are always complete and perfect. To the children who have received all such blessings, BapDada is once again giving you love and remembrance. Love, remembrance and namaste.

BapDada meeting groups:

Do you always consider yourselves to be souls who are complete, equal to the Father? Those who are complete will always continue to move forward. If there isn’t completion, you won’t be able to move forward. Therefore, as is the Father, so are the children. The Father is the Ocean and the children are masteroceans. Check every virtue. Just as the Father is the Ocean of Knowledge, so you are master oceans of knowledge. The Father is the Ocean of Love and so you are master oceans of love. Check your similarity in this way. Only then will you always be equal and complete like the Father and continue to move forward. Do you understand? Constantly continue to check yourself in this way. Always maintain the happiness that the One the world is searching for has made you belong to Him. Achcha.

Avyakt Elevated Versions – Become a World Benefactor

BapDada has made you children instruments for world service. You are the children who will reveal the Father to the whole world. Only the Father’s children can reveal Him. The Father is the Backbone. If the Father were not the Backbone, you would be on your own and soon get tired. Therefore, consider the Father to be the Backbone and keep busy serving the world through your thoughts, words, deeds with your body, mind and wealth and you will easily be able to conquer Maya.

At present, all the fruits and flowers on the tree have dried up because they only received temporary sustenance. Although everyone is still having to run the world and live their lives, they are all crying in their thoughts or words. No one lives a life of happiness any longer. Therefore, give wings of attainment to those who are moving along under desperate circumstances and enable them to fly. However, it is only when you yourself are in the flying stage that you can make others fly. In order to do this, remain stable in the unlimited stage of a world benefactor, like the Father. Tour the world and send currents of powerful rays to all souls. They show the picture of Shri Krishna sitting on the globe of the world. You too should sit above the globe of the world and by looking all the way round the whole world, you will automatically have toured everywhere. When you go to a very high place, you don’t need to tour around, because you are able to see everything from that high place. Similarly, when you remain stable in your elevated seed stage, in your stage of a world benefactor, the whole world seems like a small globe for you to tour around within a second.

You are the children of the Father of all souls, and all souls are your brothers. Therefore, let your thoughts dwell on your brothers and make your intellect broad and far-sighted. Do not waste time over trivial matters, but stabilise in an elevated stage and become an instrument for an unlimited task. O, world benefactor souls, constantly remain aware of the plan to benefit the world. Only when everyone’s speciality is used for world benefit will the unlimited task be accomplished. When you cook something but forget to put in all the ingredients – even if you miss out something as ordinary as salt or sugar – then, no matter how beautiful the dish may look, it won’t be worth eating. In the same way, each and every jewel is essential for the elevated task of world benefit. Everyone’s finger of co-operation is needed. The task of world transformation will only be accomplished with each one’s finger of co-operation.

BapDada’s desire is for the flag of peace and happiness to be constantly flying high over the whole world and for the flute of comfort to be constantly playing. Keep this aim and complete this unlimited task with everyone’s finger of co-operation. The special duty of each Brahmin is to become a master sun of knowledge and shine rays of all powers over whole world. So, each of you, become a world transformer who shines the rays of all powers over the world. The sun lights up the whole world with its rays, so you now become master suns of knowledge and spread the rays of all powers over the world. Only then will all souls receive the current of your powerful rays.

Deepmala is celebrated as a memorial of all of you lamps of the world who are imperishable. Even now, people are still turning the beads of your rosary, because of the time when you became those who dispelled darkness and brought light. So, constantly experience yourselves to be ignited lamps. No matter how many storms come, you must constantly remain in front of the Eternal Light like an ignited lamp that never flickers. The world bows down to such lamps and even the Father constantly stays with such lamps. Just as the Father is the constantly ignited Light, just as He is the eternal and immortal Light, so, you children too must constantly be immortal lights to serve the world by removing all the darkness from it. Souls of the world regard you ignited lamps with a lot of love. You are the living lamps who transform night into day. So many souls are wandering around in darkness and are desperate for some light. If the lights of you lamps are flickering, if your lights are ignited one moment and extinguished the next, what would the condition of wandering souls become? No one likes a light that goes on and off. Therefore, become a constantly ignited light and move along considering yourself to be a soul who is responsible for dispelling the darkness. Only then would you be called a world benefactor.

Let the attitude of all of you ancestor souls be such that it transforms the atmosphere of whole world. Let the whole lineage of you ancestor souls be reminded of their brotherhood by your vision. You ancestor souls have to remain aware of the Father and remind your whole lineage that the Father of all souls has now come. Let the elevated acts and elevated character of humility of you ancestor souls create pure hopes in your whole lineage. Everyone’s eyes are searching for you ancestor souls. So, now become those who always have unlimited awareness. Just as Baba’s praise is sung as, “The One who gives power to the weak”, so you too need to become powerful ones who give power to the weak ones in the Brahmin family and to all the souls of the world. Just as people beat drums to remove poverty, so, you too now remove their powerless state. Become such instruments and give all the souls of the world the Father’s help and courage.

Blessing: May your intellect have faith and you remain carefree and finish all worries in the fire of love.
The children whose intellects have faith remain carefree in all situations. All their worries have finished. The Father lifted them off the pyre of worry and sat them on His heart throne. You had love for the Father and, on the basis of this love, all your worries finished in the fire of love as though they never existed. There is no worry about the body, no worry about any waste in the mind and no worry about wealth, such as “What will happen?” With the power of knowledge you now know everything and so you have gone beyond all worries and your life has become carefree.
Slogan: Become so unshakeable and immovable that no type of problem can shake the foot of your intellect.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 18 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 November 2018

To Read Murli 17 November 2018 :- Click Here
18-11-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 04-04-84 मधुबन

संगमयुग की श्रेष्ठ वेला, श्रेष्ठ तकदीर की तस्वीर बनाने की वेला

आज बापदादा हरेक ब्राह्मण श्रेष्ठ आत्मा के श्रेष्ठ जीवन के जन्म की वेला, तकदीर की रेखा देख रहे थे। जन्म की वेला सभी बच्चों की श्रेष्ठ हैं क्योंकि अभी युग ही पुरुषोत्तम श्रेष्ठ है। श्रेष्ठ संगमयुग पर अर्थात् श्रेष्ठ वेला में सभी का श्रेष्ठ ब्राह्मण जन्म हुआ। जन्म, वेला सभी की श्रेष्ठ है। तकदीर की रेखा, तकदीर भी सभी ब्राह्मणों की श्रेष्ठ है क्योंकि श्रेष्ठ बाप के शिव वंशी ब्रह्माकुमार वा कुमारी हैं। तो श्रेष्ठ बाप, श्रेष्ठ जन्म, श्रेष्ठ वर्सा, श्रेष्ठ परिवार, श्रेष्ठ खजाने – यह तकदीर की लकीर जन्म से सभी की श्रेष्ठ है। वेला भी श्रेष्ठ और प्राप्ति के कारण तकदीर की लकीर भी श्रेष्ठ है। यह तकदीर सभी बच्चों को एक बाप द्वारा एक जैसी प्राप्त है, इसमें अन्तर नहीं है। फिर भी एक जैसी तकदीर प्राप्त होते भी नम्बरवार क्यों? बाप एक, जन्म एक, वर्सा एक, परिवार एक, वेला भी एक संगमयुग, फिर नम्बर क्यों? सर्व प्राप्ति अर्थात् तकदीर सभी को बेहद की मिली है। अन्तर क्या हुआ? बेहद की तकदीर को जीवन के कर्म की तस्वीर में लाना इसमें यथाशक्ति होने के कारण अन्तर पड़ जाता है। ब्राह्मण जीवन अर्थात् तकदीर को तस्वीर में लाना, जीवन में लाना। हर कर्म में लाना, हर संकल्प से, बोल से, कर्म से तकदीरवान को तकदीर अनुभव हो अर्थात् दिखाई दे। ब्राह्मण अर्थात् तकदीरवान आत्मा के नयन, मस्तक, मुख की मुस्कराहट हर कदम सभी को श्रेष्ठ तकदीर की अनुभूति करावे, इसको कहा जाता है तकदीर की तस्वीर बनाना। तकदीर को अनुभव की कलम से, कर्म के कागज की तस्वीर में लाना। तकदीर के तस्वीर की चित्र रेखा बनाना। तस्वीर तो सभी बना रहे हो लेकिन किसकी तस्वीर सम्पन्न है और किसकी तस्वीर कुछ न कुछ किसी बात में कम रह जाती है अर्थात् प्रैक्टिकल जीवन में लाने में किसकी मस्तक रेखा अर्थात् मन्सा, नयन रेखा अर्थात् रुहानी दृष्टि, मुख की मुस्कराहट की रेखा अर्थात् सदा सर्व प्राप्ति स्वरुप सन्तुष्ट आत्मा। सन्तुष्टता ही मुस्कराहट की रेखा है। हाथों की रेखा अर्थात् श्रेष्ठ कर्म की रेखा। पांव की रेखा अर्थात् हर कदम श्रीमत प्रमाण चलने की शक्ति। इसी प्रकार तकदीर की तस्वीर बनाने में किसका किसमें, किसका किसमें अन्तर पड़ जाता है। जैसे स्थूल तस्वीर भी बनाते हैं तो कोई को नैन नहीं बनाने आते, कोई को टांग नहीं बनाने आती। कोई मुस्कराहट नहीं बना सकते। तो फर्क पड़ जाता है ना। जितना सम्पन्न चित्र उतना मूल्यवान होता है। वो ही एक चित्र लाखों का मूल्य कमाता और कोई 100 भी कमाता। तो अन्तर किस बात का हुआ? सम्पन्नता का। ऐसे ही ब्राह्मण आत्मायें भी सर्व रेखाओं में सम्पन्न न होने कारण किसी एक रेखा, दो रेखा की सम्पूर्णता न होने कारण नम्बरवार हो जाते हैं।

तो आज तकदीरवान बच्चों की तस्वीर देख रहे थे। जैसे स्थूल तकदीर में भी भिन्न-भिन्न तकदीर होती है। वैसे यहाँ तकदीर की भिन्न-भिन्न तस्वीरें देखी। हर तस्वीर में मुख्य मस्तक और नयन तस्वीर की वैल्यु बढ़ाते हैं। वैसे यहाँ भी मंसा वृत्ति की शक्ति और नयन रुहानी दृष्टि की शक्ति, इसका ही महत्व होता है। यही तस्वीर का फाउन्डेशन है। सभी अपनी तस्वीर को देखो कि हमारी तस्वीर कितनी सम्पन्न बनी है। ऐसी तस्वीर बनी है जो तस्वीर में तकदीर बनाने वाला दिखाई दे। हर एक रेखा को चेक करो। इसी कारण नम्बर हो जाता है। समझा।

दाता एक है, देता भी एक जैसा है। लेकिन बनने वाले, बनने में नम्बरवार हो जाते। कोई अष्ट और ईष्ट देव बन जाते, कोई देव बन जाते। कोई देवों को देख-देख हर्षित होने वाले हो जाते। अपना चित्र देख लिया ना। अच्छा!

साकार रुप में मिलने में तो समय और संख्या को देखना पड़ता और अव्यक्त मिलन में समय और संख्या की बात नहीं है। अव्यक्त मिलन के अनुभवी बन जायेंगे तो अव्यक्त मिलन के विचित्र अनुभव सदा करते रहेंगे। बापदादा बच्चों के सदा आज्ञाकारी हैं इसलिए अव्यक्त होते भी व्यक्त में आना पड़ता है। लेकिन बनना क्या है? अव्यक्त बनना है ना या व्यक्त में आना है? अव्यक्त बनो। अव्यक्त बनने से बाप के साथ निराकार बन घर में चलेंगे। अभी वाया की स्टेज तक नहीं पहुँचे हो। फरिश्ता स्वरुप से निराकार बन घर जा सकेंगे। तो अभी फरिश्ता स्वरुप बने हो! तकदीर की तस्वीर सम्पन्न की है? सम्पन्न तस्वीर ही फरिश्ता है। अच्छा!

सभी आये हुए भिन्न-भिन्न ज़ोन के बच्चों को हर एक ज़ोन की विशेषता सहित बापदादा देख-देख हर्षित हो रहे हैं। कोई भाषा भले नहीं जानते लेकिन प्रेम और भावना की भाषा जानने में होशियार हैं और कुछ नहीं जानते लेकिन मुरली की भाषा जानते हैं। प्रेम और भावना से न समझने वाले भी समझ जाते हैं। बंगाल बिहार तो सदा बहारी मौसम में रहते। सदा बहार है।

पंजाब है ही सदा सभी को हराभरा करने वाला। पंजाब में खेती अच्छी होती है। हरियाणा तो है ही हरा भरा। पंजाब, हरियाणा सदा हरियाली से हरा भरा है। जहाँ हरियाली होती है उस स्थान को सदा कुशल, श्रेष्ठ स्थान कहा जाता है। पंजाब हरियाणा सदा खुशी में हरा भरा है इसलिए बापदादा भी देख-देख हर्षित होते हैं। राजस्थान की क्या विशेषता है? राजस्थान चित्र रेखा में प्रसिद्ध है। राजस्थान की तस्वीरें बहुत मूल्यवान होती हैं क्योंकि राज़े बहुत हुए हैं ना। तो राजस्थान तकदीर की तस्वीरें सबसे ज्यादा मूल्यवान बनाने वाले हैं। चित्रों की रेखा में सदा श्रेष्ठ हैं। गुजरात की क्या विशेषता है? वहाँ आइनों का श्रृंगार ज्यादा होता है। तो गुजरात दर्पण है। दर्पण कहो, आइना कहो, जिसमें बाप की मूर्त देखी जाए। आइने में शक्ल देखते हैं ना। तो गुजरात के दर्पण द्वारा बाप की तस्वीर फरिश्ता स्वरुप की तस्वीर सभी को दिखाने की विशेषता है। तो गुजरात की विशेषता है – बाप को प्रत्यक्ष करने वाले दर्पण। बाकी छोटा-सा तामिलनाडु रह गया। छोटा ही कमाल करता है। बड़ा कार्य करके दिखाता है। तामिलनाडु क्या करेंगे? वहाँ मन्दिर बहुत हैं। मन्दिरों में नाद बजाते हैं। तामिलनाडु की विशेषता है – नगाड़ा बजाए बाप की प्रत्यक्षता का आवाज बुलन्द करना। अच्छी विशेषता है। छोटे-पन में भी नाद बजाते हैं। भक्त लोग भी बड़े प्यार से नाद बजाते हैं और बच्चे भी प्यार से बजाते हैं। अब हरेक स्थान अपनी विशेषता को प्रत्यक्ष स्वरुप में लाओ। सभी ज़ोन वालों से मिल लिया ना! आखिर तो ऐसा ही मिलना होगा। पुराने बच्चे कहते हैं हमको क्यों नहीं बुलाते। प्रजा भी बनाते, बढ़ाते भी रहते। तो पुरानों को नये-नये को चांस देना पड़े तब तो संख्या बढ़े। पुराने भी पुरानी चाल से चलते रहें तो नयों का क्या होगा। पुराने हैं दाता देने वाले और नये हैं लेने वाले। तो चांस देना हैं इसमें दाता बनना पड़े। साकार मिलन में सब हद आ जाती हैं। अव्यक्त मिलन में कोई हद नहीं। कई कहते हैं संख्या बढ़ेगी फिर क्या होगा! साकार मिलन की विधि भी तो बदलेगी। जब संख्या बढ़ती है तो कुछ दान पुण्य भी करना होता है। अच्छा!

सभी देश विदेश के चारों ओर के स्नेही बच्चों के स्नेह के दिल के आवाज, खुशी के गीत और दिल के समाचार के पत्रों के रेसपान्ड में बापदादा सभी बच्चों को पदमगुणा यादप्यार के साथ रेसपान्ड दे रहे हैं कि सदा याद से अमर भर के वरदानी बन बढ़ते चलो और बढ़ाते चलो। सभी उमंग उत्साह में रहने वाले बच्चों को बापदादा स्व उन्न्ति और सेवा की उन्नति के लिए मुबारक दे रहे हैं। मुबारक हो। सदा साथ हो। सदा सम्पन्न और सम्पूर्ण हो, ऐसे सर्व वरदानी बच्चों को बापदादा फिर से यादप्यार दे रहे हैं। यादप्यार और नमस्ते।

पार्टियों से:- सदा स्वयं को बाप समान सम्पन्न आत्मा समझते हो! जो सम्पन्न है वह सदा आगे बढ़ते रहेंगे। सम्पन्नता नहीं तो आगे नहीं बढ़ सकते। तो जैसे बाप वैसे बच्चे। बाप सागर है बच्चे मास्टर सागर हैं। हर गुण को चेक करो-जैसे बाप ज्ञान का सागर है तो हम मास्टर ज्ञान सागर हैं। बाप प्रेम का सागर है तो हम मास्टर प्रेम के सागर हैं। ऐसे समानता को चेक करो तब बाप समान सम्पन्न बन सदा आगे बढ़ते जायेंगे। समझा-सदा ऐसी चेकिग करते चलो। सदा इसी खुशी में रहो कि जिसको विश्व ढूंढता है। उसने हमको अपना बनाया है। अच्छा।

अव्यक्त महावाक्य – विश्व कल्याणकारी बनो

बापदादा ने आप बच्चों को विश्व सेवा के लिए निमित्त बनाया है। विश्व के आगे बाप को दिखाने वाले आप बच्चे हो। बच्चों द्वारा ही बाप दिखाई देगा। बैकबोन तो बाप है ही। अगर बाप बैकबोन न बने तो आप अकेले थक जायेंगे इसलिए बाप को बैकबोन समझ विश्व कल्याण की सेवा में तन-मन-धन, मन्सा-वाचा-कर्मणा से बिजी रहो तो सहज ही मायाजीत बन जायेंगे।

वर्तमान समय सारे विश्व में अल्पकाल के प्राप्ति रुपी फल-फूल सूखे हुए हैं। सभी मन से, मुख से चिल्ला रहे हैं और कैसे भी मजबूरी से जीवन को, देश को चला रहे हैं। खुशी-खुशी से चलना समाप्त हो गया है। तो ऐसे मजबूरी से चलने वालों को प्राप्ति के पंख देकर उड़ाओ। लेकिन उड़ा तब सकेंगे जब स्वयं उड़ती कला में होंगे। इसके लिए बाप समान विश्व कल्याणकारी की बेहद की स्टेज पर स्थित हो विश्व की सर्व आत्माओं को सकाश दो, विश्व परिक्रमा लगाओ। जैसे चित्रों में दिखाते हैं ग्लोब के ऊपर श्रीकृष्ण बैठा हुआ है, ऐसे विश्व के ग्लोब पर बैठ चारों ओर नज़र घुमाओ तो आटोमेटिक विश्व का चक्र लग जायेगा। वैसे भी जब बहुत ऊंचे स्थान पर चले जाते हैं तो चक्कर लगाना नहीं पड़ता लेकिन एक स्थान पर रहते सारा दिखाई देता है। जो जब आप अपनी ऊंची स्टेज पर, बीजरुप स्टेज पर, विश्व कल्याणकारी स्थिति में स्थित होंगे तो सारा विश्व ऐसे दिखाई देगा जैसे छोटा बाल है। तो सेकण्ड में चक्कर लगाकर आयेंगे।

आप सर्व आत्माओं के पिता के बच्चे हो, सर्व आत्मायें आपके भाई हैं। तो अपने भाईयों के तरफ संकल्प की नज़र दौड़ाओ। विशाल बुद्धि, दूरांदेशी बनो। छोटी-छोटी बातों में अपना समय नहीं गँवाओ। ऊंची स्टेज पर स्थित हो अब विशाल कार्य के निमित्त बनो। हे विश्व कल्याणकारी आत्मायें – सदा विशाल कार्य का प्लान इमर्ज रखो। सर्व की विशेषताओं द्वारा ही विश्व कल्याण का बेहद कार्य सम्पन्न होना है। जैसे कोई स्थूल चीज़ भी बनाते हैं, तो उसमें अगर सब चीजें न डाली जाएं, साधारण मीठा या नमक भी न हो तो चाहे कितनी भी बढ़िया चीज़ बनाओ लेकिन वह खाने योग्य नहीं बन सकती। ऐसे ही विश्व के इतने श्रेष्ठ कार्य के लिए हरेक रत्न की आवश्यकता है। सबकी अंगुली चाहिए। हर एक की अंगुली से ही विश्व परिवर्तन का कार्य सम्पन्न होना है।

बापदादा की दिल है कि विश्व पर सदा के लिए सुख और शान्ति का झण्डा लहर जाए। सदा चैन की बांसुरी बजती रहे। इस लक्ष्य को लेकर सर्व के सहयोग की अंगुली से विशाल कार्य को सम्पन्न करो। आप ब्राह्मण बच्चों का अब विशेष कर्तव्य है – मास्टर ज्ञान सूर्य बन सारे विश्व को सर्वशक्तियों की किरणें देना। तो सभी विश्व कल्याणकारी बन विश्व को सर्वशक्तियों की किरणें दो। जैसे सूर्य अपनी किरणों द्वारा विश्व को रोशन करता है। ऐसे आप मास्टर ज्ञान सूर्य बन सर्वशक्तियों की किरणें विश्व में फैलाओ तब सर्व आत्माओं को आपकी सकाश मिले सकेगी।

आप विश्व के दीपक, अविनाशी दीपक हो जिसका यादगार दीपमाला मनाई जाती है। अभी तक आपकी माला सिमरण करते हैं क्योंकि अधंकार को रोशन करने वाले बने हो। तो स्वयं को ऐसे सदा जगे हुए दीपक अनुभव करो। कितने भी तूफान आयें लेकिन सदा एकरस, अखण्ड ज्योति के समान जगे हुए दीपक। ऐसे दीपकों को विश्व भी नमन करती है और बाप भी ऐसे दीपकों के साथ रहते हैं। जैसे बाप सदा जागती ज्योति है, अखण्ड ज्योति है, अमर ज्योति है, ऐसे आप बच्चे भी सदा अमरज्योति बनकर विश्व को अंधकार से निकालने की सेवा करो। विश्व की आत्मायें आप जगे हुए दीपकों की तरफ बहुत स्नेह से देख रही हैं। आप रात से दिन बनाने वाले चैतन्य दीपक हो। कितनी आत्मायें अधंकार में भटकती हुई रोशनी के लिए तड़फ रही हैं। अगर आप दीपकों की रोशनी टिमटिमाती रहेगी, अभी-अभी जगी, अभी-अभी बुझी तो भटकी हुई आत्माओं का क्या हाल होगा! बुझती-जगती हुई लाइट पसन्द नहीं करेंगे इसलिए जागती ज्योत बन अंधकार को मिटाने की जिम्मेवार आत्मा समझकर चलो तब कहेंगे विश्व कल्याणकारी।

आप पूर्वज आत्मायें हो, आप की वृत्ति विश्व के वातावरण को परिवर्तन करने वाली हो। आप पूर्वजों की दृष्टि सर्व वंशावली को ब्रदरहुड की स्मृति दिलाने वाली हो। आप पूर्वज बाप की स्मृति में रह सर्व वंशावली को स्मृति दिला दो कि सभी का बाप आ गया है। आप पूर्वजों के श्रेष्ठ कर्म वंशावली को श्रेष्ठ चरित्र अर्थात् चरित्र निर्माण की शुभ आशा उत्पन्न कर दें। सबकी नज़र आप पूर्वजों को ढूंढ रही है तो अब बेहद के स्मृति स्वरुप बनो। जैसे बाप की महिमा में गायन करते हैं-“निर्बल को बल देने वाला”। ऐसे आप सभी भी चाहे ब्राह्मण परिवार में, चाहे विश्व की आत्माओं में हर आत्मा को, निर्बल को बल देने वाले महाबलवान बनो। जैसे वह लोग नारा लगाते हैं गरीबी हटाओ, वैसे आप निर्बलता को हटाओ। ऐसे निमित्त बन विश्व की हर आत्मा को बाप से हिम्मत और मदद दिलाओ। अच्छा। ओम् शान्ति।

वरदान:- लगन की अग्नि में सब चिंताओं को समाप्त करने वाले निश्चयबुद्धि निश्चिंत भव 
जो बच्चे निश्चयबुद्धि हैं वह सभी बातों में निश्चिंत रहते हैं। चिंतायें सारी मिट गई। बाप ने चिंताओं की चिता से उठाकर दिलतख्त पर बिठा दिया। बाप से लगन लगी और लगन के आधार पर, लगन की अग्नि में सब चिंतायें समाप्त हो गई, जैसे थी ही नहीं। न तन की चिंता, न मन में कोई व्यर्थ चिंता और न धन की चिंता। क्या होगा……ज्ञान की शक्ति से सब जान गये इसलिए सब चिंताओं से परे निश्चिंत जीवन हो गई।
स्लोगन:- ऐसे अचल अडोल बनो जो किसी भी प्रकार की समस्या बुद्धि रुपी पांव को हिला न सके।

TODAY MURLI 18 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 18 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 17 November 2017 :- Click Here

18/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, don’t allow your intellects to hang on to bodily beings. Remember the one bodiless Father and also remind others of the Father.
Question: What main things do you need to pay attention to in order to make your life as elevated as a diamond?
Answer: 1. Prepare and eat your meals whilst being very yogyukt. 2. Remind one another of the Father and give the donation of life. 3. Don’t perform any sinful acts. 4. Protect yourself from the company of those who speak of useless matters. Don’t gossip. 5. Don’t let your intellect be attracted to bodily beings. Don’t hang on to bodily beings. 6. Continue to take advice from the eternal Surgeon at every step. Don’t hide your illness from the Surgeon.

Om shanti. Children, in whose remembrance are you sitting? (Shiv Baba) Remember Shiv Baba alone and no bodily beings. This bodily being is sitting in front of you, but you mustn’t even remember him. You simply have to remember the one bodiless One who doesn’t have a body of His own. This Mama, Baba and the special beloved, serviceable children all learn from Shiv Baba. Therefore, you have to remember Shiv Baba. Although some children go and explain to others, your intellects have to understand that Shiv Baba has taught them. Let your intellects have remembrance of only Shiv Baba and no bodily beings. If you remember this bodily being, that is common. The Father says: Never hang on to bodily beings. You have to remember the One who grants salvation to everyone. If you remember this corporeal being, that remembrance is fruitless. For instance, children remember their worldly father, but there is no benefit in that. If you remember a Brahmin teacher or think that a particular teacher should teach you, that too is fruitless. You mustn’t have remembrance of anyone else. Shiv Baba is teaching us. Shiv Baba is the Benefactor. Never surrender yourself to bodily beings. This Baba also tells you: Manmanabhav! If you remember bodily beings, you will go into degradation. The Father knows that the intellects of some are attached to Brahmin teachers, but that is wrong. There mustn’t be any attraction to bodily beings. Baba’s orders are: Constantly remember Me alone. Wake up early in the morning and remember Me. Bodily beings are said to be worldly. You mustn’t remember them. Remember Me, the incorporeal One, alone. Only the One is remembered: Salutations to Shiva. Shiva is bodiless. You have to claim your inheritance from the Father. Even this body is not His. The Father says: It is only because I don’t have a body of My own I teach you through this body. This is why I take his support. I taught you children easy Raja Yoga through this one in the previous cycle through which you became pure. It is My service to purify the impure. It is useless to ask for blessings or mercy. Those things continue on the path of devotion, not here. It isn’t that if someone falls ill, I would make that person well; that is not My business. People call out: Come and purify us impure ones! Take us from degradation into salvation! They sing this but they don’t know the meaning of it. There are devotees throughout the whole world. Whom do all of them remember? They remember the one Purifier Father. He is the Liberator and also the Guide of all the human beings of the whole world. It is only the Father who liberateseveryone from sorrow and takes them to the supreme abode. Therefore, you should follow the Father’s shrimat. Take advice at every step as to what you should do in certain circumstances. There is just the one Surgeon. This one (Brahma) is the place where the Surgeon stays and also the one through whom He speaks. No one else can give you directions such as this Surgeon does. You children mustn’t waste your time. Day by day, your lifespan is getting shorter. Destruction is just ahead. If you make any mistakes, there will have to be great repentance. By wasting your time in gossiping, you cause yourself a lot of damage. You have to save others. Human beings are unable to make others meet the Father. Instead, they divert them even further from the Father. At this time it is everyone’s stage of descent and so they would definitely give wrong directions. You children have now received knowledge and so you mustn’t perform any sinful acts. You mustn’t hide anything. You know that we have been committing sin for birth after birth. If, after belonging to the Father, you still continue to commit sin, what would others say? They would say: You say that God is teaching you and yet you continue to commit sin! If you commit sin and don’t tell Baba, that burden will not decrease. That habit will then become firm. You might think that no one can see you, but God sees everything. How else would someone receive punishment in the womb? Your conscience will then bite because you committed that sin. For instance, if someone indulges in vice and then sits here, the Father knows about that. Those who don’t understand this have very degraded intellects. They continue to commit sin and don’t tell Baba about it. Even this physical father knows some things, but children don’t tell him about them. The Father says: If you continue to commit sin, that continues to increase and then there will have to be one hundred-fold punishment. A thief continues to steal and so he can’t think of anything except stealing. He is called a jailbird. The Father explains to you children: If someone gossips with you about useless matters, instead of reminding you of the Father, consider that one to be your enemy. You mustn’t listen to or speak of useless matters. Continue to caution one another to remember Shiv Baba. Some even become angry, thinking: Why is so-and-so telling me this? However, it is your duty to remind others. Your sins will be absolved by having remembrance. Until you reach your karmateet stage, there will continue to be one mistake or another made through your thoughts, words or deeds. You will reach your karmateet stage at the end. In that too, only a few will pass with honours. Those who don’t do service will not reach that stage. Those who remain occupied in service remind one another of Baba. What is your relationship with the Supreme Father, the Supreme Soul? Baba gives his own example: When I sit down for meals or when I go for a bath, remind me to remember Shiv Baba. Although you yourself may not be staying in remembrance, you have to put Baba’s direction into practice. If you want to benefit yourself, then remind one another of Baba. There is a lot of praise of Brahma bhojan. The yoga of the Brahmins who prepare food has to be accurate, for only then will there be that strength in the food. You receive the donation of life by having remembrance. Make your life like a diamond. The easiest of all is to remember Me and to become pure. If you become impure, there will be one hundred-fold punishment. If you continue to remember Me, your Father, your sins will be absolved and I will also give you your inheritance. If you remember Me a little, you will receive a little inheritance. At the beginning and at the end of the Gita, it is written: Manmanabhav! You mustn’t remember bodily beings. If you remember Shiv Baba, you benefit; your sins are burnt away. Your sins are not absolved by bathing in the Ganges. Although they say that they have that bhavna (feeling), that bhavna is wrong. The Ganges is not the Purifier. Only the one Father is the Purifier. You mustn’t remember physical things. Remember Shiv Baba alone! The soul says: Oh God, the Father! Oh Supreme Father, Supreme Soul! The Father says: I have come to show you a very easy method: Remember Me! At the end, you will remember Me and you will then come to Me. There are the soul and the body. A human soul is said to be a sinful soul or a charitable soul. It isn’t said: Charitable Supreme Soul. It is souls that become impure and so they receive impure bodies. The Father speaks to souls. Souls are imperishable. The Father and the children are both imperishable. The Father says: O beloved, long-lost and now-found children, I only come once and make you pure. I make you soul conscious and say: May you be bodiless! Remember Me, the Father! That’s all. This is the pilgrimage of the soul. Those are physical pilgrimages. You know that souls now have to return home. Only in the fire of yoga will your sins of many births be cut away. You have to become Brahmins. If you don’t become this, you will claim a low status among the subjects. Even if they hear a little knowledge that is never destroyed. Those who study well and also teach others will claim a high status. The easiest thing of all is remembrance. Remember the Supreme Father, the Supreme Soul. The Highest on High is only the one God. Therefore, it is all right to sing songs of just Shiv Baba. Your intellects should be aware that Shiv Baba is speaking to you. The play is now coming to an end. All the actors now have to renounce the consciousness of their bodies and return home. By remembering the Father, your sins will be absolved. Then, the more you remember Him, the higher the status you will claim. For instance, they have a pillar (as a goal) to which they race and the one who reaches there first and returns wins. Your pillaris Shiv Baba and your race is the pilgrimage of remembrance. The more you remember Him, the sooner you will reach the pillar. You then have to go to heaven. You mustn’t become tired on this pilgrimage. The land of sorrow is now to end. We have to go to the land of peace and the land of happiness. Today, it is the land of sorrow and tomorrow it will be the land of happiness. Remind everyone of that Father. The Father has brought heaven for you on the palm of His hand and He says: Constantly remember Me alone and your boat will go across. You mustn’t waste your time. Even on the path of devotion you used to gossip a lot. When some people do devotion, they shout so loudly, calling out to God: Come and grant us salvation! The Father has now come and He tells you children to become pure. You may live together as a couple but check that a fire is not lit. If a fire takes place, your status would be destroyed. Once that fire has been lit, it will continue to be flare up again and again. This is why you have to protect yourself. A lot of practice is required to stay in yoga. No matter how much noise there may be during yoga – even if there are earthquakes or bombs are dropped – you mustn’t be afraid of those things. Just look what happens nowadays! You know that rivers of blood are going to flow in Bharat alone. When there was partition, rivers of blood flowed, did they not? Many calamities are yet to come. You will have to see how there will be death for the prey and happiness for the hunter. You are becoming angels. Those who are very good and serviceable will be able to stay at that time. You need to be very strong in this. Remember Shiv Baba. You will never again find a Father as sweet as Shiv Baba. You have to follow His directions. The main thing is to become pure. Those who indulge in vice are called impure. Deities are completely viceless. Here, all are those who indulge in vice. That is the Temple of Shiva ( The golden age) and this is the brothel (The iron age). You are now becoming viceless from vicious and you have to claim your fortune of the kingdom of heaven. The Father says: I have come to establish the pure world. I will make you into the masters of the pure world. Simply help Me by becoming pure. Give everyone the Father’s invitation. Five thousand years ago, when I spoke the Gita, I said: Constantly remember Me alone and you will become pure. If you spin the discus you become the kings and queens who rule the globe. You will receive health, wealth and happiness. You had everything in the golden age. The Father says: Remember Me, and you won’t be diseased for 21 births. If you continue to spin the discus of self-realisation you become rulers of the globe; I promise. God speaks. Baba just teaches you Alpha and beta, “Manmanabhav” and “Madhyajibhav”, that’s all! This study is so easy! Simply write it on your heart. Scarcely any businessmen study this art of business from the Master. You may do that business etc. You are not forbidden to do that. Achcha.

The sweetest, beloved, long-lost and now-found children who stay in remembrance of Alpha and beta and who also remind others; they are the ones who are loved. To such children, love, remembrance and good morning from the Mother and Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t become tired on the pilgrimage of remembrance. Continue to caution one another and remind them of the Father. Don’t waste your time. Neither gossip nor listen to gossip.
  2. In order to pass with honours, make no mistakes in your thoughts, words or deeds.
Blessing: May you become filled with all virtues and become number one by making virtues emerge with knowledge.
At the present time, amongst yourselves, there is a need to be a bestower of virtues through special actions. For this, along with knowledge, also make the virtues emerge. Have the thought: I always have to be an image of virtues and definitely perform the special task of making others images of virtues, and there will then be no time for seeing, hearing or doing anything wasteful. Instead of looking at others, follow Father Brahma and continue to donate virtues at every second and you will become an example who is filled with all virtues and makes others this and will become number one.
Slogan: To transform negative into positive with the power of silence is real service of the mind.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

Read Murli 17 November 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 18 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 17 November 2017 :- Click Here
18/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – अपनी बुद्धि किसी भी देहधारी में नहीं लटकानी है, एक विदेही बाप को याद करना है और दूसरों को भी बाप की ही याद दिलाना है
प्रश्नः- अपना जीवन हीरे जैसा श्रेष्ठ बनाने के लिए मुख्य किन बातों का अटेन्शन चाहिए?
उत्तर:- 1- भोजन बहुत योगयुक्त होकर बनाना और खाना है। 2- एक दो को बाप की याद दिलाकर जीयदान देना है। 3- कोई भी विकर्म नहीं करना है। 4- फालतू बात करने वालों के संग से अपनी सम्भाल करनी है, झरमुई-झगमुई नहीं करना है। 5- किसी भी देहधारी में अपनी बुद्धि की आसक्ति नहीं रखनी है, देहधारी में लटकना नहीं है। 6- कदम-कदम पर अविनाशी सर्जन से राय लेते रहना है। अपनी बीमारी सर्जन से नहीं छिपानी है।

ओम् शान्ति। बच्चे किसकी याद में बैठे हैं? (शिवबाबा की) शिवबाबा को ही याद करना है और कोई भी देहधारी को याद नहीं करना है। तुम्हारे सामने यह देहधारी बैठा हुआ है, इनको भी याद नहीं करना है। तुमको याद सिर्फ एक विदेही को करना है, जिसको अपनी देह नहीं है। यह मम्मा बाबा अथवा अनन्य सर्विसएबुल जो बच्चे हैं, वह सब सीखते हैं शिवबाबा द्वारा। तो याद भी शिवबाबा को ही करना है। भल कोई बच्चे जाकर किसको समझाते हैं तो भी बुद्धि में समझना है कि शिवबाबा ने इनको पढ़ाया है। बुद्धि में शिवबाबा की याद रहनी चाहिए न कि देहधारी की। अगर इस देहधारी को तुम याद करते हो, तो यह कॉमन हो जाता है। बाप कहते हैं कभी भी देहधारी में लटकना नहीं है। तुमको याद एक को करना है – जो सभी को सद्गति देने वाला है। अगर इस साकार को याद किया तो वह याद निष्फल है। जैसे लौकिक बाप को बच्चे याद करते हैं, उनसे कोई फ़ायदा नहीं होता। कोई ब्राह्मणी को याद किया कि हमको फलानी ब्राह्मणी पढ़ावे, तो निष्फल हुआ। कोई की भी याद नहीं रहनी चाहिए। हमको शिवबाबा पढ़ा रहे हैं, कल्याणकारी शिवबाबा है। देहधारी पर कभी बलिहार नहीं जाना होता है। यह बाबा भी तुमको कहते हैं मनमनाभव। देहधारी को याद किया तो दुर्गति को पायेंगे। बाप जानते हैं कोई-कोई की ब्राह्मणी के साथ बुद्धि जुट जाती है, यह राँग है। देहधारी में आसक्ति नहीं होनी चाहिए। बाबा का फरमान है मामेकम् याद करो। सुबह को उठकर मुझे याद करो। देहधारी को लौकिक कहा जायेगा। उनको याद नहीं करना है। एक मुझ निराकार को ही याद करो। गायन भी एक का ही है। शिवाए नम:, शिव है विदेही। वर्सा तुमको बाप से लेना है। यह देह भी उनकी नहीं है।

बाप कहते हैं इस शरीर द्वारा मैं सिर्फ तुमको पढ़ाता हूँ, क्योंकि मुझे अपना शरीर नहीं है इसलिए इनका आधार लेता हूँ। कल्प पहले इन द्वारा मैंने तुम बच्चों को सहज राजयोग सिखाया था, जिससे तुम पावन बने थे। मेरी सेवा ही यह है – पतितों को पावन बनाना। बाकी कृपा या आशीर्वाद मांगना फालतू है। यह बातें भक्तिमार्ग में चलती हैं, यहाँ नहीं हैं। ऐसे भी नहीं कोई बीमार हो जाए, मैं ठीक कर दूँ, यह मेरा धन्धा नहीं है। पुकारते हैं हम पतितों को आकर पावन बनाए दुर्गति से सद्गति में ले चलो। गाते हैं परन्तु अर्थ नहीं जानते। भगत तो सारी दुनिया में हैं, वह सब किसको याद करते हैं? एक पतित-पावन बाप को। सारी दुनिया के मनुष्यमात्र का वह लिबरेटर है, गाईड भी है। दु:ख से लिबरेट कर परमधाम में ले जाने वाला बाप ही है। तो बाप की श्रीमत पर चलना चाहिए। कदम-कदम पर राय लेनी चाहिए कि इस हालत में क्या करें? सर्जन तो एक ही है। यह (ब्रह्मा) सर्जन के रहने और बोलने की जगह है। इस सर्जन जैसी मत कोई और दे न सके। बच्चों को टाइम वेस्ट नहीं करना चाहिए। दिन प्रतिदिन आयु कमती होती जाती है। विनाश सामने खड़ा है – ग़फलत की तो बहुत पछताना पड़ेगा। झरमुई-झगमुई करने में टाइम गँवाने से तुम्हारा बहुत नुकसान होता है। तुमको औरों को बचाना है। मनुष्य तो एक दो को बाप से मिलाते नहीं और ही दूर करते हैं। इस समय सबकी उतरती कला है तो जरूर उल्टी मत देंगे। बच्चों को अब ज्ञान मिला है तो कोई भी विकर्म नहीं करना चाहिए। छिपाना नहीं चाहिए। यह तो तुम जानते हो हम जन्म-जन्मान्तर पाप करते ही आये हैं। बाप का बनकर अगर पाप करते होंगे तो और क्या कहेंगे। यह कहते हैं हमको परमात्मा पढ़ाते हैं और खुद पाप करते रहते हैं! पाप करके फिर न बताने से वह बोझा उतरता नहीं। आदत पक्की हो जाती है। समझते हैं हमको कोई देखता नहीं है। भगवान तो देखता है ना। नहीं तो सज़ा कैसे मिलती है – गर्भ में। दिल अन्दर खाता है कि हमसे यह पाप हुआ। समझो कोई विकार में जाकर फिर यहाँ आकर बैठते हैं। बाप को तो मालूम पड़ता है – बहुत ही तुच्छ बुद्धि हैं जो समझते नहीं, पाप करते रहते हैं, सुनाते नहीं। कई बातें साकार बाप भी जान लेते हैं, परन्तु बच्चे सुनाते नहीं हैं। बाप कहते हैं पाप करते रहेंगे तो वृद्धि होती रहेगी फिर सौगुणा दण्ड भोगना पड़ेगा। चोर चोरी करता रहता है, उनको चोरी बिगर कुछ सूझता ही नहीं है। उनको जेल बर्ड कहा जाता है। बाप बच्चों को समझाते हैं कि सिवाए बाप की याद दिलाने के और कोई झरमुई-झगमुई की फालतू बात करे तो समझो यह दुश्मन है। फालतू बातें न करनी है, न सुननी है। एक दो को सावधानी देते रहो कि शिवबाबा को याद करो। कोई को फिर गुस्सा भी लगता है कि फलाना मुझे क्यों कहता है? परन्तु तुम्हारा फ़र्ज है याद दिलाना। याद से विकर्म विनाश होंगे। जब तक कर्मातीत अवस्था नहीं आई है तो मन्सा-वाचा-कर्मणा कुछ न कुछ भूलें तो होती रहती हैं। कर्मातीत अवस्था पिछाड़ी में आयेगी। सो भी थोड़े पास विद ऑनर होंगे। जो सर्विस नहीं करते उनकी यह अवस्था आयेगी नहीं। सर्विस पर जो रहते हैं वह एक दो को याद कराते रहते हैं – परमपिता परमात्मा के साथ तुम्हारा क्या सम्बन्ध है? बाबा अपना मिसाल बताते हैं कि मैं भी भोजन पर बैठता हूँ, स्नान करता हूँ, तो मुझे भी याद दिलाओ कि शिवबाबा को याद करो। भल खुद याद न भी करे, परन्तु बाबा का डायरेक्शन अमल में लाना चाहिए। अगर अपना कल्याण करना चाहते हो तो याद दिलाओ एक दो को। ब्रह्मा भोजन की बहुत महिमा है। भोजन बनाने वाले ब्राह्मणों का योग ठीक चाहिए तब तो भोजन में ताकत आयेगी। याद से ही तुमको जीयदान मिलता है। अपना हीरे जैसा जीवन बनाना है। सहज ते सहज बात है मुझे याद करो, पवित्र बनो। पतित बनें तो सौगुणा दण्ड पड़ जायेगा। मुझ बाप को याद करते रहेंगे तो विकर्म भी विनाश होंगे और हम वर्सा भी देंगे। थोड़ा याद करेंगे तो वर्सा भी थोड़ा मिलेगा। गीता में भी आदि और अन्त में आता है मनमनाभव। कोई भी देहधारी की याद नहीं आनी चाहिए। शिवबाबा को याद करेंगे तो तुम्हारा कल्याण होगा। पाप दग्ध होंगे। गंगा में स्नान करने से कोई पाप विनाश नहीं होते हैं। भल कहते हैं भावना है परन्तु भावना ही राँग है। गंगा पतित-पावनी नहीं है। पतित-पावन एक बाप है। कोई भी स्थूल चीज़ को तुम्हें याद नहीं करना है। एक शिवबाबा को ही याद करना है।

आत्मा कहती है – हे गॉड फादर, हे परमपिता परमात्मा। बाप कहते हैं मैं आया हूँ तुमको बिल्कुल सहज उपाय बताता हूँ कि मुझे याद करो। अन्त में मेरी याद रहेगी तो तुम मेरे पास चले आयेंगे। जीव और आत्मा है ना। मनुष्य आत्मा को पाप आत्मा, पुण्य आत्मा कहा जाता है। पुण्य परमात्मा नहीं कहा जाता है। आत्मा ही पतित बनती है तो फिर शरीर भी पतित मिलता है। बाप आत्माओं से बात करते हैं। आत्मा अविनाशी है। बाप बच्चे दोनों अविनाशी हैं। बाप कहते हैं लाडले, सिकीलधे बच्चों, मैं एक ही बार आकर तुमको पावन बनाता हूँ। तुमको आत्म-अभिमानी बनाए कहता हूँ अशरीरी भव, मुझ बाप को याद करो। बस यह है आत्मा की यात्रा। वह होती है शारीरिक यात्रा। यहाँ तो तुम जानते हो कि आत्माओं को अब वापिस जाना है। योग अग्नि से ही तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप कटेंगे। तुम्हें ब्राह्मण बनना है। नहीं बनेंगे तो प्रजा में हल्का पद पायेंगे। कुछ न कुछ सुनते हैं तो उसका विनाश नहीं होगा। जो अच्छी तरह पढ़ेंगे पढ़ायेंगे वही ऊंच पद पायेंगे। सहज ते सहज बात है याद की। परमपिता परमात्मा को याद करना है। ऊंच ते ऊंच एक ही भगवान है – इसलिए गीत भी शिवबाबा का ही गाने से ठीक है। तुम्हारी बुद्धि वहाँ रहनी चाहिए कि शिवबाबा हमको सुनाते हैं। अभी नाटक पूरा होता है। हम सब एक्टर्स को अब शरीर का भान छोड़ वापिस घर जाना है। बाप को याद करने से विकर्म विनाश होंगे फिर जितना याद करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। जैसे एक पिल्लर बनाते हैं ना, जहाँ दौड़ी लगाए हाथ लगाते हैं फिर जो पहले पहुँचें। तुम्हारा पिल्लर शिवबाबा है। याद के यात्रा की दौड़ी है। जितना याद करेंगे उतना जल्दी पिल्लर तक पहुँचेंगे फिर आना है स्वर्ग में। इस यात्रा में थकना नहीं है। अब तो दु:खधाम खत्म हुआ। हमको तो सुखधाम, शान्तिधाम में जाना है। आज दु:खधाम है, कल सुखधाम होगा। अब यही बाप की याद सबको दिलाओ। बाप ने हथेली पर बहिश्त लाया है। कहते हैं मामेकम् याद करो तो बेड़ा पार हो जायेगा। टाइम वेस्ट मत करो। भक्ति में भी बहुत झरमुई-झगमुई की। भक्ति में कितनी रड़ियाँ मारते हैं कि भगवान हमारी सद्गति करने आओ। अब बाप आये हैं, समझाते हैं बच्चे पवित्र बनो। भल युगल इकट्ठे रहो, देखो आग तो नहीं लगती है? आग लगी तो पद भ्रष्ट हो पड़ेगा। एक बार आग लगी तो फिर लगती ही रहेगी, इसलिए अपने को सम्भालना भी है। योग में रहने की बड़ी प्रैक्टिस चाहिए। योग में भल कितना भी आवाज हो, अर्थक्वेक हो, बाम्ब गिरें, देखें क्या होता है। इन बातों से डरना नहीं है। यह तो जानते ही हैं कि रक्त की नदियाँ भारत में ही बहनी है। पार्टीशन में रक्त की नदियाँ बही ना। अजुन तो बहुत आफतें आनी हैं, तुमको देखना है, मिरूआ मौत मलूका शिकार। तुम फरिश्ते बन रहे हो। जो अच्छे सर्विसएबुल होंगे वही उस समय ठहर सकेंगे, इसमें बहुत मज़बूती चाहिए। शिवबाबा को याद करना है। शिवबाबा जैसा मीठा बाप फिर कभी नहीं मिल सकता। उनकी ही मत पर चलना है। मुख्य बात ही है पवित्र बनने की। पतित उनको कहा जाता, जो विकार में जाते हैं। देवतायें हैं ही सम्पूर्ण निर्विकारी। यहाँ तो सब हैं विकारी। वह है – शिवालय। यह है वैश्यालय। अब विकारी से निर्विकारी बन स्वर्ग का राज्य भाग्य लेना है। बाप कहते हैं मैं पावन दुनिया स्थापन करने आया हूँ। तुमको मैं पावन दुनिया का मालिक बनाऊंगा। सिर्फ पवित्र बनने की मदद करो, सबको बाप का निमंत्रण दो। पांच हजार वर्ष पहले भी जब मैंने गीता सुनाई थी तो कहा था मामेकम् याद करो तो पावन बनेंगे। चक्र को फिरायेंगे तो चक्रवर्ती राजा रानी बनेंगे। हेल्थ वेल्थ और हैपीनेस मिलेगी। सतयुग में सब कुछ था ना। बाप कहते हैं मेरे को याद करो तो कभी 21 जन्म रोगी नहीं बनेंगे। स्वदर्शन चक्र फिराते रहेंगे तो तुम चक्रवर्ती राजा बनेंगे। मैं प्रतिज्ञा करता हूँ – भगवानुवाच, बाबा सिर्फ अल्फ और बे पढ़ाते हैं। मनमनाभव और मध्याजी भव, बस। पढ़ाई भी कितनी सहज है। बस दिल पर यह लिख दो। कोई विरले व्यापारी इस धन्धे की युक्ति उस्ताद से लेते हैं। वह धन्धे आदि भल करो, मना थोड़ेही है।

अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चे जो खुद भी अल्फ और बे को याद करते और दूसरों को भी याद दिलाते हैं वही प्यारे लगते हैं। ऐसे बच्चों को मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) याद की यात्रा में थकना नहीं है, एक दो को सावधान करते बाप की याद दिलानी है। अपना टाइम वेस्ट नहीं करना है। झरमुई-झगमुई (परचिंतन) न करना है, न सुनना है।

2) पास विद ऑनर होने के लिए मन्सा-वाचा-कर्मणा कोई भी भूल नहीं करनी है।

वरदान:- ज्ञान के साथ-साथ गुणों को इमर्ज कर नम्बरवन बनने वाले सर्वगुण सम्पन्न भव 
वर्तमान समय आपस में विशेष कर्म द्वारा गुण दाता बनने की आवश्यकता है, इसलिए ज्ञान के साथ-साथ गुणों को इमर्ज करो। यही संकल्प करो कि मुझे सदा गुण मूर्त बन सबको गुण मूर्त बनाने का विशेष कर्तव्य करना ही है तो व्यर्थ देखने, सुनने वा करने की फुर्सत ही नहीं रहेगी। दूसरों को देखने के बजाए ब्रह्मा बाप को फालो करते हुए हर सेकण्ड गुणों का दान करते चलो तो सर्वगुण सम्पन्न बनने और बनाने का एक्जैम्पल बन नम्बरवन हो जायेंगे।
स्लोगन:- साइलेन्स की पावर द्वारा निगेटिव को पॉजिटिव में परिवर्तन करना ही मन्सा सेवा है।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 16 November 2017 :- Click Here

Font Resize