today murli 18 july

TODAY MURLI 18 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 18 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 17 July 2018 :- Click Here

18/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, remember the Father. This remembrance is the donation of yoga to the world. The world will become pure through this and your boat will go across.
Question: Which children are looked after by BapDada Himself in the final moments?
Answer: 1) The children who remain engaged in the service of changing thorns into flowers over a long period of time and who are full helpers of the Father are looked after by the Father Himself in the final moments. Baba says: I will show My helpful children wonderful scenes and scenery and entertain them a great deal. They will see a lot of happiness at the end and continue to have visions.
2) Only the children who have made firm the lesson of belonging to the one Father and none other, will receive the Father’s help.
Song: O Beloved, come and meet me! 

Om shanti. The Beloved and the lovers: the Beloved is One and the lovers are many. All the lovers are calling out to the one God. Innumerable devotees are calling out to Him. What for? For happiness. A kumari calls out to her beloved: Come and meet me. What for? For happiness. An engagement takes place for happiness. However, you children know that, since this is now the kingdom of Ravan, you cannot receive happiness from a beloved. There cannot be happiness in the kingdom of Ravan. All lovers are in the cottage of sorrow and this is why they are calling out. No one calls out in the cottage that is free from sorrow. Since there isn’t any sorrow or suffering, why would anyone call out? The Beloved is remembered by those in sorrow, whereas after you lovers find the Beloved you are freed from remembering Him for half the cycle. You now know that only the one Supreme Father, the Supreme Soul, is the sweetest and most lovely Beloved. He is the highest and most elevated of all. Here, no human being can call himself the most elevated of all. Although they say that God is omnipresent and say “Shivohum”, they are more elevated than one another, are they not? Among the sages, some sages lie down flat as a sign of respect in front of the more elevated sages. However, only the one Supreme Father, the Supreme Soul, has been remembered as the highest Beloved of all. All remember Him and that is definitely for happiness. When there is a lot of sorrow, the lovers remember Him a great deal. You children haven’t as yet experienced that much sorrow. A lot more sorrow is yet to come. Whomever you call out to would surely come. The Father also comes. By belonging to the Father, you receive the inheritance of happiness in a second. You children should have the faith that you have come into the lap of the Father, and so you have received liberation-in-life in a second. When a child is born, he is taken into the lap and then there is the faith that that one is an heir. This One is the unlimited Father. You now recognise Him very clearly. There is no difficulty in recognising Him. There are many children. It is remembered that son shows Father. There is no need for anyone to say anything. There are so many Brahma Kumars and Kumaris. No one, apart from God, has as many children. Krishna is a human being with divine virtues. Human beings cannot have as many children. You know that you are the children of Shiv Baba. You can say that no human being has this many children. There are so many Brahma Kumars and Kumaris. There is praise of Prajapita Brahma. People remember the Trikaldarshi Supreme Soul. Only God can have so many children. So, only when that incorporeal One comes in a corporeal form can He adopt you. How could He adopt you if He didn’t have a body? You have come into God’s lap. You know that He alone is the Beloved. He is the sweetest and loveliest One of all. The One whom you love is called the Beloved. We know that our highest-on-high Beloved is that One from whom we lovers receive lots of happiness of heaven. We are personally sitting in front of Him. On the path of devotion, they sing that, by taking the name of Rama, people are able to go across. This is why they say “Rama, Rama!” a great deal, just as they consider the River Ganges to be the Purifier. People go there and light a deepak (small earthenware lamp) on a leaf. Just as they have shown Krishna floating on a leaf in the ocean sucking his thumb, those people light a deepak and place it on a leaf. A soul is also a deepak (light). Human beings don’t have full knowledge. For them, it has become a custom. They light a deepak and say that the soul goes across. The Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Boatman. He takes you across the ocean of poison. Those people have heard this and created a custom. The Father ignites the deepaks of souls. All of these things are symbolic. The soul has to shed this body and go across to the supreme abode. You know that souls are to go across the ocean of ignorance to the other side. The Father alone is the Boatman. The Ganges cannot be given the name ‘Boatman’. The Boatman and the Bridegroom are needed together. He takes so many along with Him to the other side. They have given Him many different names. However, it isn’t that He sits you in a boat or a steamer and takes you across. You children know how you stay on the pilgrimage of remembrance. There is no need to say “Rama, Rama!” with your lips. Human beings tell you to say: Rama, Rama. They believe that they are donating that name. The Father donates imperishable jewels of knowledge to you. He says: Sweetest, beloved souls, remember Me, your Father. This remembrance of the Father is the donation of yoga to the world. Remember Shiv Baba. In fact, they call the Supreme Father, the Supreme Soul, Rama, but then they say “King Rama is the Lord of the Raghu clan.” You children now know the drama. You know all about who came from the time of heaven and how they will come again. Whatever happened is all fixed in the drama. When bhog etc. is offered, that too is fixed in the drama ; it is nothing new. You watch as detached observers. Each one is an actor. You know that everyone will play their part s and return home in happiness. When someone dies, people say that that person has become a resident of heaven. You know that you are making effort to become residents of heaven. People go and live at Kashi. They go and sit on the banks of the River Ganges. They have a Shiva Temple there and stay in constant remembrance of Him. They praise the River Ganges and also Shiva. No one goes to sacrifice himself in the River Ganges. Truly, the Purifier is Shiva alone. This is a secret. There is the Shiva Temple there. Previously, they used to sacrifice themselves to Shiva in a particular well. You can give knowledge to those in Benares very well. Tell them: You are sitting here and there are the banks of the River Ganges and there is also the Shiva Temple. So, why do you surrender yourselves to Shiva? Is Shiva the Purifier or is the Ganges? In fact, Shiva alone is the Purifier. People sacrifice themselves to God alone. God would not sacrifice Himself to God; that is not possible. It is not that I am God and you are God. God would not become impure that He would go to bathe in the Ganges. You can quickly disprove the idea of omnipresence. You have to prove that the Purifier is Shiva. Points are given to you children to explain. It is very easy and very good to explain at Kashi. There is the Shiva Temple there and so He must definitely have come at some point. Shiva is always called Baba. He never receives a body of His own. In fact, many children have the name ‘Shiva’. Hundreds of thousands would also have the name ‘Krishna’. However, that Krishna existed in the golden age. Devotees of Krishna would pick up an idol of Krishna and worship that. They would not worship a human being. Therefore, this proves that Krishna exists in the golden age. Human beings don’t know who Radhe and Krishna were or when they ruled their kingdom. The Father sits here and explains this to you. You are spinners of the discus of self-realisation. No one can explain how Vishnu was given the name ‘Spinner of the discus of self-realisation’ or what he did. The Father is incorporeal. No one knows when Vishnu took all the ornaments in his hands. We understand that all of this is fixed in the drama. Those who created the pictures on the path of devotion will do the same again. All of this is a predestined play. The path of devotion continues for half the cycle and the path of knowledge continues for half the cycle. You understand these things. You must be enjoying yourselves. You are true lovers. Those beloveds are false; there is a difference between something real and something false: a false beloved and the real Beloved. A wife calls her husband ‘Love’. You now know that we lovers have found such a sweet Beloved. He is called the Beloved and also the Father. The Father also has love. You at least receive the inheritance from the Father. Lovers don’t receive an inheritance from their beloveds. Instead of considering yourself to be a lover, consider yourself to be a child and you will get a taste of the inheritance. Shiva is always called Baba. Shiv Baba is never called ‘Shiva Husband’. You mustn’t chant the name of Shiva now. Simply remember Baba. When children come, they are asked: When did you belong to God? Until someone becomes a child, he cannot receive the inheritance. He is the Mother and Father and so you have to meet Him personally. If you have faith but you die without meeting Him, you can’t receive the inheritance. There are many who don’t receive the inheritance; they become subjects. The Father says: When you have the faith that that One is that same Mother and Father, you have to come personally in front of Him. Then, you have to serve others and make them similar to yourselves. You have to create subjects and also your heirs. That will not happen by sitting at home. You have to make effort. Some children don’t churn the ocean of knowledge about these things. The Krishna-leela (divine activities of Krishna) are very well known. The divine activities take place in the golden age. They cannot take place here. They simply continue to copy them. You children can understand what will exist in heaven and what the palaces there will be like. Don’t even ask about the things there! Your mouths begin to water! The Father only gives happiness. You don’t invoke the Father for sorrow. There is a lot of sorrow in the world. In a family, if a daughter-in-law happens to be very troublesome, she turns the family upside-down. Baba has seen many such families. There is now very little time left. Belong to the Father and He will help! If someone doesn’t become an heir, how could he or she receive help from the One who gives the inheritance? The Father says: Don’t be afraid. Wealthy people are afraid. This Father is the Bestower. You used to give to the poor in My name on the path of devotion and you also used to receive a birth according to that. Now, I tell you directly: Belong to Me and I will give you your fortune of the kingdom. Shiv Baba doesn’t need to build buildings etc. People ask you: Since all the buildings etc. are to be destroyed, why are you having so many houses built? OK, but where would we then stay? Children who come at the end also have to come and live here. You will see a lot of scenes and scenery at the end and remain in a lot of happiness. As the time comes close, you will continue to have many visions through Baba. Those who remain helpers will experience a lot of happiness at the end. At the time of sorrow, they will experience a lot of happiness. That happiness is wonderful. You lived comfortably in Pakistan too. Baba used to give you visions of how marriages take place in Paradise and how the kingdom of Lakshmi and Narayan is run. You will see a great deal if you continue to help Shiv Baba in changing thorns into flowers. It is said: When a child maintains courage, the Father helps. You should remember such a Beloved a great deal. The world doesn’t know this. There are so many children and so they must definitely have the Mother and Father from whom they receive a lot of happiness. This praise is not of worldly parents. You can see in a practical way how there are so many children. God, the Father, is the Creator. When He creates you, He adopts you. Through whom? This creation is mouth-born. It is very easy to explain this. You now come into God’s lap and you will then go into the laps of deities. Then you will go into the laps of devils. We go to the land of peace and the land of happiness by being in God’s lap. By being in the laps of devils, we go to the land of sorrow. Remember this mantra very well. Gopikas in bondage call out. Therefore, one effort or another has to be made for them. Baba would not be able to go to the little villages. Baba comes and meets the children in the big cities. He has to go there. It has been explained to you how you have to surrender yourselves. King Janak surrendered himself and was then told to look after everything as a trustee. You definitely have to sustain your creation. Consider yourselves to be souls, trustees. Maya, Ravan, causes sorrow and this is why there is no temple to Ravan. However, they do create effigies. Ravan has caused you a lot of sorrow. To the extent that Ravan has caused sorrow, accordingly they burn just as big an effigy of him every year. Shiv Baba has given you happiness and His temple is therefore very grand. There cannot be a temple to Ravan who causes sorrow. They totally destroy him so that nothing of his is visible. Shiv Baba’s temple is visible. He is worshipped so much. In fact, only one Shiv Baba, and none other, is ever worthy of worship. You then become worshippers from being worthy of worship. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Stay in remembrance of the Father and remind everyone of Baba. Continue to make this donation. Surrender yourself to the Father and look after everything as a trustee.
  2. Watch as a detached observer the part of every actor. Constantly maintain the awareness that you are completing your part and returning home in happiness.
Blessing: May you be a carefree emperor who is free from all worries because you can see the line of elevated fortune on your forehead.
The sovereignty of being carefree is the most elevated sovereignty of all sovereignties. If someone wears a crown and sits on a throne but constantly worries, then, is that a throne or worry? God, the Bestower of Fortune, has drawn the line of elevated fortune on your forehead and so you have become a carefree emperor. So, constantly see the line of elevated fortune on your forehead: Wah my elevated Godly fortune! Keep this spiritual intoxication and all worries will finish.
Slogan: To invoke souls with the power of concentration and do spiritual service is true service.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 18 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 July 2018

To Read Murli 17 July 2018 :- Click Here
18-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम बाप को याद करो, यही याद विश्व के लिए योगदान है, इसी से विश्व पावन बनेगा, बेड़ा पार हो जायेगा”
प्रश्नः- किन बच्चों की सम्भाल अन्त समय में स्वयं बापदादा करते हैं?
उत्तर:- जो बच्चे बहुत समय से कांटों को फूल बनाने की सर्विस में तत्पर रहते हैं। बाप के पूरे-पूरे मददगार हैं, ऐसे बच्चों की अन्त समय में बाप स्वयं सम्भाल करते हैं। बाबा कहते – मैं अपने मददगार बच्चों को वन्डरफुल सीन-सीनरियां दिखलाकर खूब बहलाऊंगा। वह अन्त में बहुत सुख देखेंगे। साक्षात्कार करते रहेंगे। 2- जिन्हें ”एक बाप दूसरा न कोई” यह पाठ पक्का है, ऐसे बच्चों को ही बाप की मदद मिलती है।
गीत:- प्रीतम आन मिलो…….. 

ओम् शान्ति। प्रीतम और प्रीतमायें। प्रीतम एक है और प्रीतमायें अनेक हैं। प्रीतमायें बुला रही हैं एक भगवान् को। अनेक भक्त बुला रहे हैं, किसलिए? सुख के लिए। कन्या बुलाती है प्रीतम आन मिलो। किसलिए? सुख के लिए। सगाई होती है सुख के लिए। परन्तु अब बच्चे जान गये हैं जबकि रावण राज्य है तो प्रीतम से कोई सुख मिल नहीं सकता। रावण राज्य में सुख हो न सके। प्रीतमायें सब शोकवाटिका में हैं तब तो बुलाती हैं। अशोक वाटिका में तो कोई बुलाते नहीं। कोई दु:ख वा शोक नहीं तो बुलायेंगे क्यों? दु:ख में ही प्रीतम को याद करते हैं फिर प्रीतम मिल जाता है तो आधाकल्प प्रीतमायें याद करने से छूट जाती हैं। अभी तुम जानते हो – सबसे मीठा, सबसे प्यारा प्रीतम है ही एक परमपिता परमात्मा, सबसे ऊंचा सबसे श्रेष्ठ। यहाँ कोई मनुष्य अपने को श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ कह न सके। भल कहते हैं ईश्वर सर्वव्यापी है, शिवोहम् परन्तु एक-दो से श्रेष्ठ तो होते ही हैं ना। साधू लोगों में जो ऊंच होते हैं उनको और साधू लोग दण्डवत प्रणाम करते हैं। परन्तु सबसे ऊंच ते ऊंच एक ही प्रीतम परमपिता परमात्मा गाया हुआ है। सब उनको याद करते हैं – जरूर सुख के लिए। जब बहुत दु:ख होता है तो बहुत प्रीतमायें याद करती हैं। अभी बच्चों को इतना दु:ख का अनुभव नहीं है। अजुन तो बहुत दु:ख आने वाला है। जिसको बुलाया जाता है वह आयेंगे तो जरूर ना। तो बाप भी आते हैं। बाप का बनने से एक सेकेण्ड में सुख का वर्सा मिल जाता है। बच्चों को निश्चय होना चाहिए – हमने बाप की गोद ली है तो सेकेण्ड में जीवनमुक्ति मिली है। बच्चा पैदा होता है तो गोद में आ जाता है फिर निश्चय हो जाता है कि यह वारिस है। यह भी बेहद का बाप है। अब अच्छी रीति इनको पहचान लेते हैं। पहचान में कोई तकलीफ नहीं है। बच्चे बहुत हैं, गाया जाता है सन शोज़ फादर। तो किसको कहने की दरकार नहीं। ढेर के ढेर ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं। इतने ढेर बच्चे सिवाए ईश्वर के और किसको होते नहीं। कृष्ण तो दैवीगुणों वाला मनुष्य है। मनुष्य को इतने बच्चे हो नहीं सकते। तुम जानते हो हम शिवबाबा के बच्चे हैं। तुम कह सकते हो कोई भी मनुष्य को इतने बच्चे होते नहीं। कितने ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं। गायन तो है ना प्रजापिता ब्रह्मा का। याद करते हैं त्रिकालदर्शी परमात्मा को। भगवान् को ही इतने बच्चे हो सकते हैं। तो वह निराकार जब साकार में आये तब तो एडाप्ट करे। शरीर न हो तो गोद कैसे ले? तुम ईश्वर की गोद में आये हो। जानते हो वही प्रीतम है। सबसे मीठा, सबसे प्यारा है। प्यार करने वाले को प्रीतम कहा जाता है। तुम जानते हो – हमारा ऊंचे ते ऊंचा प्रीतम वह है जिससे हम प्रीतमाओं को स्वर्ग के सुख घनेरे मिलते हैं। उनके सम्मुख बैठे हैं। भक्ति-मार्ग में गाते भी हैं – राम का नाम लेने से मनुष्य पार हो जाते हैं इसलिए राम-राम बहुत कहते हैं। जैसे गंगा नदी को पतित-पावनी समझते हैं। मनुष्य वहाँ जाकर पत्ते पर दीवा जलाते हैं। जैसे कृष्ण को पत्ते पर सागर में अंगूठा चूसता हुआ दिखाते हैं। यह फिर दीवा जगाकर पत्ते पर रखते हैं। आत्मा भी दीपक है। मनुष्यों को तो पूरा ज्ञान नहीं है। उन्हों के लिए तो जैसे एक रस्म हो गई है। दीवा जगाकर कहते हैं – आत्मा पार हो जाती है। परमपिता परमात्मा को तो खिवैया कहा जाता है। विषय सागर से पार ले जाते हैं। उन्होंने अक्षर सुनकर एक रस्म बना दी है। बाप आत्मा का दीवा जगाते हैं। यह सब निशानियां हैं। आत्मा को ही यह शरीर छोड़ जाना पड़ता है – उस पार परमधाम में। तुम जानते हो – आत्मा अज्ञान सागर से उस पार जा रही है। खिवैया तो बाप ही है। गंगा जी को खिवैया अक्षर नहीं दिया जा सकता। खिवैया अथवा साजन तो साथ-साथ चाहिए। कितनों को साथ में उस पार ले जाते हैं, भिन्न-भिन्न नाम रख दिये हैं। बाकी बोट में वा स्टीमर में बिठाए कोई ले नहीं जाते हैं। तुम बच्चे जानते हो कैसे याद की यात्रा में रहते हैं। इसमें कुछ मुख से राम-राम कहने की दरकार नहीं। मनुष्य तो कहते हैं राम-राम कहो। समझते हैं हम यह नाम दान करते हैं। बाप फिर दान देते हैं – अविनाशी ज्ञान रत्नों का। कहते हैं मीठी-मीठी लाडली आत्मायें मुझ बाप को याद करो। यही बाप की याद विश्व के लिए योगदान है। शिवबाबा को याद करो। वास्तव में राम भी परमपिता परमात्मा को कहते हैं परन्तु फिर रघुपति राघो राजा राम कह देते हैं। तुम बच्चों ने अब ड्रामा को जाना है। स्वर्ग से लेकर के तुमको सब मालूम है कौन-कौन आया है? कैसे फिर आयेंगे? जो कुछ होता आया है वह सब ड्रामा में नूँध है। यह भोग आदि लगाया जाता है – यह सब ड्रामा में नूँध है। नई कोई बात नहीं। तुम साक्षी हो देखते हो। हरेक एक्टर है। जानते हैं वह अपना पार्ट बजाए वापिस जाते हैं खुशी से।

मनुष्य कहते हैं मरा तो स्वर्गवासी हुआ। तुम जानते हो हम स्वर्गवासी बनने के लिए पुरुषार्थ करते हैं। मनुष्य काशीवास करते हैं ना। गंगा जी के किनारे पर बैठते हैं। शिव का तो मन्दिर है। शिव की याद में सदैव रहते हैं। गंगा की भी महिमा करते हैं। शिव की भी महिमा करते हैं। गंगा में कोई काशी कलवट नहीं खाते। बरोबर पतित-पावन तो शिव ही है। यह भेद हैं। शिव का मन्दिर है। आगे एक कुएं में शिव पर बलि चढ़ते थे। तुम बनारस वालों को अच्छी रीति ज्ञान दे सकते हो। बोलो – तुम यहाँ बैठे हो, गंगा का कण्ठा भी है। शिव का मन्दिर भी है। फिर तुम शिव पर बलि क्यों चढ़ते हो? शिव पतित-पावन है वा गंगा? वास्तव में पतित-पावन तो शिव ही है। भगवान के पास ही बलि चढ़ते हैं। भगवान्, भगवान् पर बलि थोड़ेही चढ़ेंगे। यह तो हो नही सकता। ऐसे नहीं हम भी भगवान्, तुम भी भगवान्। भगवान् पतित थोड़ेही हो सकता है जो गंगा पर स्नान करने जाते हो। सर्वव्यापी के ज्ञान को तुम झट उड़ा सकते हो। पतित-पावन शिव है – यह सिद्धकर बताना है। बच्चों को प्वाइन्ट दी जाती हैं समझाने लिए। काशी में समझाना सबसे सहज और अच्छा है। शिव का मन्दिर है तो जरूर कभी आया है। शिव को हमेशा बाबा कहा जाता है। उनको अपना शरीर कभी मिलता नहीं। ऐसे तो शिव नाम बहुत बच्चों के हैं। अथवा कृष्ण भी लाखों के नाम होंगे। परन्तु वह कृष्ण तो सतयुग में था ना। कृष्ण के भक्त कृष्ण की मूर्ति उठाए पूजा करेंगे। मनुष्य की तो नहीं करेंगे। तो सिद्ध होता है कृष्ण सतयुग में होता है। मनुष्यों को पता नहीं हैं – राधे-कृष्ण कौन हैं? उन्होंने कब राजाई की है? यह बाप बैठ समझाते हैं।

तुम हो स्वदर्शन चक्रधारी। विष्णु के ऊपर यह स्वदर्शन चक्रधारी नाम कैसे पड़ा, क्या किया – यह तो कोई समझा नहीं सकते हैं। बाप तो है निराकार। विष्णु को इतने हथियार कहाँ से आये – कोई जानते नहीं हैं। हम समझते हैं यह सब ड्रामा में नूँध है। भक्ति मार्ग में भी जिन्होंने चित्र बनवाये हैं वही बनायेंगे। सब बना-बनाया खेल है। आधाकल्प भक्ति आधाकल्प ज्ञान मार्ग चलता है। इन बातों को तुम जानते हो। तुमको ही मज़ा आता होगा। जो सच्ची-सच्ची प्रीतमायें हैं, वह प्रीतम तो झूठा है, झूठी और सच्ची चीज़ में फ़र्क तो है ना। झूठा प्रीतम और सच्चा प्रीतम। पत्नि, पति को प्यारा कहती है ना। अभी तुम जानते हो – हम प्रीतमाओं को कैसा मीठा प्रीतम मिला है। उनको प्रीतम भी कहते हैं तो बाप भी कहते हैं। बाप का भी प्यार होता है। बाप से फिर भी वर्सा मिलता है। प्रीतम से प्रीतमाओं को कोई वर्सा नहीं मिलता। अपने को प्रीतमा समझने से भी, बच्चा समझने से वर्से की टेस्ट आती है। शिव को हमेशा बाबा कहते हैं। शिवबाबा को शिवपति कभी नहीं कहेंगे। अभी तुमको कोई शिव का नाम नहीं जपना है। सिर्फ बाबा को याद करो। बच्चे आते हैं तो पूछा जाता है – कब ईश्वर के बने? बच्चा जब तक न बनें तब तक वर्सा मिल न सके। मात-पिता है तो सम्मुख मिलना है। निश्चय किया, मिले नहीं और मर गया तो वर्सा नहीं मिल सकता। ऐसे बहुत हैं जो वर्सा नहीं पाते। प्रजा में चले जाते हैं। बाप कहते हैं निश्चय हो गया यह वही मात-पिता है तो सम्मुख आना पड़े। फिर सर्विस कर आपसमान बनाना है। प्रजा बनानी है और फिर अपना वारिस भी बनाना है। घर बैठे तो नहीं होगा, मेहनत करनी है। इन बातों पर बच्चे विचार सागर मंथन नहीं करते। कृष्ण लीला मशहूर है। लीला तो सतयुग में होती है। यहाँ थोड़ेही हो सकती। यह तो कॉपी करते रहते हैं। स्वर्ग में क्या-क्या होगा, कैसे महल होंगे – यह तो बच्चे महसूस कर सकते हैं। वहाँ की तो बात मत पूछो। मुख पानी होता है। बाप सुख ही देते हैं। दु:ख के लिए बाप का आह्वान थोड़ेही करते है। दुनिया में बड़ा दु:ख है। एक घर में अगर बहू छटेली आ जाती है तो घर को डांवाडोल कर देती है। ऐसे बहुत घर बाबा के देखे हुए हैं। अभी समय बहुत थोड़ा है। बाप के बनो तब बाबा मदद दे। वारिस ही नहीं बनते तो वर्सा देने वाले की मदद कैसे मिले? बाप कहते हैं डरो मत। साहूकार लोग तो डरते हैं। यह बाप तो दाता है। भक्ति मार्ग में भी तुम मेरे अर्थ गरीबों को देते थे। उस अनुसार जन्म मिलता था। अब डायरेक्ट कहता हूँ – हमारा बनो तो तुमको राज्य-भाग्य दूँगा। शिवबाबा को तो कुछ मकान आदि बनाना नहीं है। तुमसे पूछते हैं जबकि सब खलास हो जाना है तो फिर यह मकान आदि क्यों बनाते हो? अरे, तब रहे कहाँ? पिछाड़ी में भी आकर बच्चों को रहना है। तुम पिछाड़ी में बहुत सीन-सीनरियां देखेंगे। बहुत खुशी में रहेंगे। जितना नजदीक समय आता जायेगा, बाबा द्वारा बहुत साक्षात्कार होते रहेंगे। जो मददगार हो जायेंगे वह पिछाड़ी में बहुत सुख देखेंगे। दु:ख के समय बहुत सुख देखेंगे। वह वन्डरफुल सुख हैं। पाकिस्तान में भी तुम मौज में बैठे थे। वैकुण्ठ में कैसे स्वयंवर होते हैं, लक्ष्मी-नारायण का कैसे राज्य चलता है – सब बाबा साक्षात्कार कराते थे। तुम बहुत देखेंगे अगर शिवबाबा की मत पर कांटों को फूल बनाने में मदद करते रहेंगे, तो कहा जाता है – हिम्मते मर्दा मददे खुदा। ऐसे प्रीतम को तो बहुत याद करना चाहिए। दुनिया थोड़ेही जानती है। इतने ढेर बच्चे हैं तो जरूर उनका मात-पिता होगा ना – जिससे सुख घनेरे मिलते हैं। यह महिमा कोई लौकिक माँ-बाप की थोड़ेही है। तुम प्रैक्टिकल देखते हो कितने ढेर बच्चे हैं। क्रियेटर गॉड फादर है। क्रियेट करेंगे तो एडाप्ट करेंगे ना। किस द्वारा? यह है मुख वंशावली। समझाना बहुत सहज है। अभी ईश्वर की गोद लेते हो फिर दैवी गोद मिलेगी। फिर आसुरी। इस ईश्वरीय गोद से हम शान्तिधाम, सुखधाम जाते हैं। आसुरी गोद से दु:खधाम जाते हैं। यह मंत्र याद कर लो। बांधेली गोपिकायें पुकारती हैं। तो उन्हों के लिए कोई न कोई प्रयत्न करना पड़ता है। बाबा छोटे-छोटे गांव में तो जा नहीं सकेंगे। बड़े गांव में आकर मिलते हैं। जाना तो पड़ता ही है। समझाया जाता है बलिहार भी कैसे जाना है। राजा जनक बलि चढ़ा फिर कहा गया अब ट्रस्टी हो सम्भालो। रचना की पालना तो तुमको जरूर करनी है। तुम अपने को आत्मा ट्रस्टी समझो। माया रावण दु:ख देने वाली है इसलिए रावण का कोई मन्दिर नहीं है। बाकी बुत बना देते हैं। रावण ने बहुत दु:ख दिया है। जितना दु:ख दिया है उतना ही वर्ष-वर्ष उनको जलाते रहते हैं। शिवबाबा ने सुख दिया है, तो उनका मन्दिर बड़ा आलीशान है। रावण दु:ख देने वाले का मन्दिर हो ही नहीं सकता। उसको तो खत्म कर देते हैं। जो कुछ देखने में ही नहीं आता। शिवबाबा का मन्दिर तो देखने में आता है। कितनी पूजा होती है। वास्तव में एवर पूज्य है ही एक शिवबाबा, दूसरा न कोई। तुम फिर पूज्य से पुजारी बनते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप की याद में रहना है और सबको याद दिलाना है, यही दान करते रहना है। बाप पर बलि चढ़कर फिर ट्रस्टी हो सम्भालना है।

2) साक्षी हो हरेक एक्टर का पार्ट देखना है। हम पार्ट पूरा कर खुशी से वापस जा रहे हैं – इस स्मृति में सदा रहना है।

वरदान:- अपने मस्तक पर श्रेष्ठ भाग्य की लकीर देखते हुए सर्व चिंताओं से मुक्त बेफिक्र बादशाह भव
बेफिक्र रहने की बादशाही सब बादशाहियों से श्रेष्ठ है। अगर कोई ताज पहनकर तख्त पर बैठ जाए और फिकर करता रहे तो यह तख्त हुआ या चिंता? भाग्य विधाता भगवान ने आपके मस्तक पर श्रेष्ठ भाग्य की लकीर खींच दी, बेफिक्र बादशाह हो गये। तो सदा अपने मस्तक पर श्रेष्ठ भाग्य की लकीर देखते रहो – वाह मेरा श्रेष्ठ ईश्वरीय भाग्य, इसी फ़खुर में रहो तो सब फिकरातें (चिंतायें) समाप्त हो जायेंगी।
स्लोगन:- एकाग्रता की शक्ति द्वारा रूहों का आवाह्न कर रूहानी सेवा करना ही सच्ची सेवा है।

TODAY MURLI 18 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 18 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 17 July 2017 :- Click Here

18/07/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you now have to remove devilish defects and imbibe Godly virtues. Claim self-sovereignty for 21 births from the Father.
Question: Which of the Father’s acts should also be your acts?
Answer: The Father’s act is to teach everyone knowledge and yoga. You children must also perform this act. You have to purify the impure. Your business is to do spiritual service. Some children leave their bodies but then take new bodies and carry on with this effort. Day by day, your service will continue to increase.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. It is right to play this song here because this is the praise of Shiv Baba, the Highest on High. It is not Rudra Baba, it is Shiv Baba. Although it is the same whether you say Shiv Baba or Rudra Baba, it still sounds good to say Shiv Baba. You are also sitting here having adopted bodies. The Father is explaining through Brahma, otherwise how could Shiv Baba speak? He is the Living Being, the Truth and the Ocean of Knowledge. Surely, He would only speak knowledge. To introduce Himself is also knowledge. He gives the knowledge of the beginning, the middle and the end of creation, that is, He gives the explanation. That is called knowledge too. To explain to someone, especially to explain about God, means to give knowledge. God introduces Himself. In English, it is said: Father shows son. The Father comes and introduces Himself and gives the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. The rishis and munis used to say that they did not know the Creator or His creation. Now that the Father has explained, it is understood that no one else can give this knowledge, the knowledge through which human beings claim the highest status. Surely, the highest status is that of deities. You children now understand that constant, unshakeable purity, peace, happiness and prosperity are your Godly birthright. You are claiming that once again. The land of happiness is the Godly birthright and the land of sorrow is the devilish birthright. Through Ravan we become impure. Souls receive the inheritance of impurity from Ravan. Then, only the one Supreme Father, the Supreme Soul, Rama, purifies the impure ones. No one knows that Ravan is Bharat’s old enemy for half the cycle. People desire the kingdom of Rama, which means that this is the kingdom of Ravan. However, they do not consider themselves to be impure. The devilish community is now changing into the community of deities. You come here in order to remove devilish defects and to imbibe Godly qualities. The Father alone is the One who inspires you to imbibe Godly virtues. You now understand that you have come here once again to claim your birthright of self-sovereignty for 21 births from the unlimited Father. You are sitting here to claim the self-sovereignty of the sun dynasty and the moon dynasty. You have claimed this self-sovereignty cycle after cycle. You lose it and then you claim it again. It should remain in your intellects that you are now claiming your inheritance from the Father. The children who are claiming the inheritance have to remember the Father. It should enter your intellects that you are sitting face to face with the Mother and the Father in order to claim the inheritance. He is speaking to us through the mouth of Brahma. Those who take Baba’s lap are definitely called Brahmins. This is the sacrificial fire of knowledge, and then, whether you call it a sacrificial fire or whether you call it a school, it is the same thing. When people create a sacrificial fire, they also create a school where they study scriptures etc: the Gita is on one side, the Vedas and scriptures are on another side, and they also study the Ramayana on another side. Those who want to listen to the Ramayana go in one direction and those who want to listen to the Gita go in the other direction. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra in which everything is to be sacrificed. It is now the end of the world and so this is the end of all sacrificial fires. There is only one sacrificial fire of knowledge. All the other various types of sacrificial fires are material sacrificial fires. There, they put into it barley, sesame seeds etc. This is the unlimited sacrificial fire into which everything is sacrificed and then the new creation takes place once again. There, there is nothing that causes sorrow. Here, there is so much sorrow. Illnesses etc. are increasing so much; there are various sorrows and diseases. All of this is fixed in the drama. There are as many types of sorrow as there are human beings. This is called the land of sorrow, the cottage of sorrow. People experience sorrow because this is the kingdom of Ravan. There is no Ravan in the kingdom of Rama. For half a cycle, it is the land of happiness and for the other half, it is the land of sorrow. The incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, is called Rama. Firstly, there is the rosary of Rudra, the rosary of incorporeal souls, and then the corporeal rosary of Vishnu is created, that is, the rosary of the kingdom; they rule the kingdom numberwise. You children have to understand this clearly and also explain to others. As time passes, the knowledge will become short (er). Baba is creating methods in order for you to be able to explain in short. People will become disinterested at the time of destruction. They will then understand that this is definitely that great Mahabharat War. Surely, God must be incorporeal; it cannot be Krishna. Only the incorporeal One is called the Purifier and the Bestower of Salvation for All. This title cannot be given to anyone else. Baba has also explained that the pure deities will never set foot in this impure world. You ask for money from Lakshmi, but where would Lakshmi get money from? Here, Mama receives money from the father (Brahma). There, too, the father will be the companion. Here, Brahma is with Saraswati, and there, too, both definitely have to be together. There has to be some sign of that. Wealth definitely comes from somewhere. This is why there is the worship of Mahalakshmi. They show her with four arms but not as many legs. Ravan is shown with ten faces but not so many legs. So this proves that there cannot be such human beings; it is like that in order to be able to explain. When someone’s husband dies, that soul is invited, but how can he come? He enters the body of a brahmin priest; he is invoked. These customs and systems are fixed in the drama. Then what happens? That soul comes. Souls are invited for you to feed them, but here, the Father Himself comes and feeds you children. The business of you children now is to do service. Some even make effort after having left the body, that is, they continue to make effort in their next birth. Your business is to change impure ones into pure ones. As you go further, you will see how service increases. This also happened a cycle ago; it is the same reel. You children understand that whatever happens, it happens as it did in the previous cycle. The Father also performs the same act of teaching knowledge and yoga, the act which was performed a cycle ago; it cannot be even slightly different. This is the drama. We souls come down here from our home. We adopt human bodies and play our part s. You must explain fully the 84 births as well as the cycle of the drama. No one else knows this. Previously, we did not understand either. You are those who understood a cycle ago and are now understanding once again. You have now understood the significance of the Creator and the beginning, the middle and the end of His creation. It should remain in your intellects that the Father is the Highest on High; He is the one who gives the inheritance and then there are Brahma, Vishnu and Shankar. Establishment takes place through Brahma. He is the one who then becomes the master of the land of Vishnu and sustains it. Whether you call it the land of Vishnu or the land of Lakshmi and Narayan, it is the same thing. You understand that you are claiming the inheritance of the sun and moon dynasties for 21 births from the Father. The Father says: Children, you belonged to Me. I sent you to play your part s. That too is fixed in the drama. No one is told to do anything. You understand that those who make effort well will go to the land of happiness, numberwise. You remember the land of happiness. You understand that this is the land of sorrow; no one else knows about this. It is in the intellects of you children that this is the land of sorrow. You claim your inheritance from the Father, the One who establishes the land of happiness. We have become Baba’s while alive. When a child is adopted by a king, he understands that he belongs to the king. In the beginning, it is a lokik relationship and later, too, it is still a lokik relationship. Here, it becomes alokik and then parlokik. You understand that you belong to Rama, whereas all others belong to the clan of Ravan. They are on one side and you are on the other. The soul understands that he has truly completed 84 births. I, the soul, shed one body and take a new one. You are making effort inspired by the Father, the Purifier, the Ocean of Knowledge, the Bestower of Salvation for All. He teaches you through Brahma. It is the soul that studies. The soul is filled with the sanskars of a barrister etc. The soul speaks through the sense organs. You make a lot of effort to become soul conscious. The Father gives advice: The time of amrit vela is very well known. At that time, consider yourselves to be souls and remember the Father so that the rust on you souls is removed. Alloy has been mixed into souls. Pure jewellery is made out of pure gold. There is rust on souls, so they receive bodies accordingly. This is why you are put in an orb (of light). However, this is a question of using the intellect. You sit in remembrance of the Father. There is no other difficulty. It is as though a child is remembering his father. That is the unlimited Father. Other souls remember the body. Now, you souls remember your Father.

[wp_ad_camp_3]

 

The Father says: I am the unlimited Father, so, surely, I must give the unlimited happiness. I also gave this a cycle ago. Bharat was definitely the master of the world. There were no enemies. You are now becoming the masters of the land of happiness. You became so senseless! You were worthy of heaven and have now become worthy of hell. The Father has come once again to make you worthy of heaven. There is the birth of incorporeal Shiva as well as the birth of the Gita. People truly believe that when Shiv Baba comes, there will be the versions of God, and so there will also be the birth of the Gita. He comes once again and introduces Himself. The Gita is created from what He spoke when He came. You children know what Ravan is. This kingdom of Ravan is now to be destroyed. Death is standing ahead. This world was transformed a cycle ago as well. Everything is explained so clearly. It takes effort. While staying in your household, live as pure as a lotus flower and take this course at the same timeAsk the teacher. This course is very easy. Stay in your household, remember Me and understand the beginning, the middle and the end of creation. A few who listen for seven days emerge. Feel the pulse of every person. It is seen that some have deep love: they are desperate to listen to Baba’s knowledge personally and you can tell this from their faces and their vibrations. Because their pulse is not felt properly, many good ones leave. They say: What can we do? We don’t have time for seven days. Some say: Grant us a vision! Firstly, tell them to come and understand. Ask them: Whom have you come to? What relationship do you have with the Supreme Father, the Supreme Soul? You too are Brahma Kumars and Kumaris. You are the grandchildren of Shiva, so you are the children of Brahma. The Father is the Creator of heaven, so He must give the inheritance. He must teach Raja Yoga. You must explain to them and then make them write it down. Some understand very well within a day. Many clever ones who will gallop ahead will emerge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Awaken at amrit vela and remember the Father with a lot of love and make effort to be soul conscious. Remove the rust of vices with the power of remembrance.
  2. Whilst staying in your household, take the course to become like a lotus flower. Feel each one’s pulse and see their keenness and then give knowledge.
Blessing: May you be an incognito effort-maker who remains constantly content and makes others content when forming connections and relationships with them.
The confluence age is the age of contentment. If you do not remain content at the confluence age, then when would you remain content? Therefore, neither let there be any type of conflict within yourself nor let there be any type of conflict in your connections with others. A garland is created when one bead comes into contact with another bead. Therefore, when you remain constantly content and you make others content when in relationship and connection with them, you will then become the beads of the garland. To be in a family means to remain constantly content and make others content.
Slogan: Those who renounce even a trace of their old nature and sanskars are full renunciates.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

 

Brahma kumaris murli 18 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 July 2017

July 2017 all murlis :- Click Here

To Read Murli 17 July 2017 :- Click Here

18/07/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें अब आसुरी अवगुण निकाल ईश्वरीय गुण धारण करने हैं, बाप से अपना 21 जन्मों का स्वराज्य लेना है”
प्रश्नः- बाप की कौन सी एक्ट चलती है जो तुम बच्चों की भी होनी चाहिए?
उत्तर:- बाप की एक्ट है सभी को ज्ञान और योग सिखलाने की। यही एक्ट तुम बच्चों को भी करनी है। पतितों को पावन बनाना है। तुम्हारा धन्धा ही है रूहानी सर्विस करना। कोई-कोई बच्चे शरीर छोड़कर जाते हैं फिर नया शरीर ले यही मेहनत करते हैं। दिन-प्रतिदिन तुम्हारी सर्विस बढ़ती जायेगी।
गीत:- ओम् नमो शिवाए…

ओम् शान्ति। यह गीत यहाँ शोभता है, क्योंकि यह ऊंचे ते ऊंचे शिवबाबा की महिमा है। रूद्र बाबा नहीं, शिवबाबा। शिव वा रूद्र बाबा सही है। फिर भी शिवबाबा कहना अच्छा लगता है। तुम भी शरीर ले बैठे हो। बाप ब्रह्मा द्वारा समझा रहे हैं। नहीं तो शिवबाबा बोल कैसे सके। वह चैतन्य है, सत है, ज्ञान का सागर है। जरूर ज्ञान ही सुनायेंगे। अपना परिचय देना यह भी ज्ञान हुआ। फिर रचना के आदि मध्य अन्त का ज्ञान अर्थात् समझानी देते हैं, इसको भी ज्ञान कहा जाता है। किसको समझाना यह ज्ञान देना है। सो भी ईश्वर के लिए समझाना ज्ञान है। सो तो ईश्वर ही खुद परिचय देते हैं। अंग्रेजी में कहते भी हैं फादर शोज़ सन। बाप आकर अपना और सृष्टि के आदि मध्य अन्त का परिचय देते हैं। ऋषि मुनि आदि सब कहते थे हम रचयिता और रचना को नहीं जानते हैं। अभी बाप ने समझाया है तो समझा जाता है यह ज्ञान कोई दे नहीं सकते हैं। जिस ज्ञान से मनुष्य ऊंच ते ऊंच पद पाते हैं। जरूर ऊंच ते ऊंच पद है ही देवी देवताओं का। अब तुम बच्चे जानते हो अखण्ड, अटल, पवित्रता, सुख-शान्ति-सम्पत्ति ही हमारा ईश्वरीय जन्म सिद्ध अधिकार है, जो फिर से ले रहे हैं। ईश्वरीय जन्म सिद्ध अधिकार सुखधाम और आसुरी जन्म सिद्ध अधिकार यह दु:खधाम है। रावण द्वारा हम पतित बनते हैं। रावण से वर्सा मिलता ही है पतित बनने का। फिर पतित से पावन एक परमात्मा राम ही बनाते हैं। यह किसको पता नहीं है कि रावण आधाकल्प का पुराना दुश्मन है भारत का। कहते हैं रामराज्य चाहिए अर्थात् यह रावण राज्य है। परन्तु अपने को पतित अथवा रावण समझते नहीं हैं। अब यह आसुरी सम्प्रदाय बदल दैवी सम्प्रदाय बन रही है। तुम यहाँ आते ही हो आसुरी अवगुणों को निकाल ईश्वरीय गुण धारण करने। ईश्वरीय गुण धारण कराने वाला बाप ही है।

तुम जानते हो अब हम आये हैं बेहद के बाप से अपना फिर से जन्म सिद्ध अधिकार 21 जन्मों का स्वराज्य लेने। यहाँ बैठे ही हैं सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी स्वराज्य प्राप्त करने। जो स्वराज्य तुम कल्प-कल्प प्राप्त करते आये हो। गंवाते हो फिर पाते हो। यह तो बुद्धि में रहना चाहिए ना। अब हम बाप से वर्सा लेते हैं। वर्सा लेने वाले बच्चों को बाप को याद करना पड़े ना। यह तो बुद्धि में आना चाहिए – हम मात-पिता के सम्मुख बैठे हैं, वर्सा लेने के लिए। वह ब्रह्मा मुख से हमको सुनाते हैं। जो गोद लेते हैं वह जरूर ब्राह्मण कहलायेंगे। यह ज्ञान यज्ञ है फिर यज्ञ कहो वा पाठशाला कहो, एक ही बात है। जब रूद्र यज्ञ रचते हैं तो पाठशाला भी बना देते हैं। एक तरफ वेद शास्त्र आदि, एक तरफ गीता, एक तरफ रामायण आदि रखते हैं। जिनको रामायण सुनना है वह उनके तरफ जाकर सुने, जिसको गीता सुनना हो वह उनके पास जाकर सुने। यह रूद्र ज्ञान यज्ञ है, जिसमें सब कुछ स्वाहा होना है। सृष्टि का अन्त है तो सभी यज्ञों का भी अन्त है। ज्ञान यज्ञ तो एक ही है। बाकी जो अनेक प्रकार के यज्ञ हैं – वह हैं मैटेरियल यज्ञ। जिसमें जौं-तिल आदि सामग्री पड़ती है। यह है बेहद का यज्ञ इसमें यह सब स्वाहा हो जायेगा। फिर से नई पैदाइस होती है। वहाँ दु:ख देने वाली चीज़ कोई होती नहीं। यहाँ तो कितना दु:ख है। बीमारियां आदि कितनी वृद्धि को पा रही हैं। भिन्न-भिन्न प्रकार के दु:ख रोग निकलते जाते हैं। ड्रामा में यह सब नूंध है। जैसे मनुष्य वैसे किसम-किसम के दु:ख निकलते जाते हैं। इसको कहा ही जाता है दु:खधाम, शोक वाटिका। मनुष्य दु:खी हैं क्योंकि रावण राज्य है। रामराज्य में रावण होता ही नहीं। आधाकल्प है सुखधाम, आधाकल्प है दु:खधाम। राम निराकार परमपिता परमात्मा को कहते हैं। एक है रूद्र माला निराकारी आत्माओं की और फिर विष्णु की माला बनती है साकारी। वह तो राजाई की है। फिर वहाँ नम्बरवार राज्य करते हैं। यह तुम बच्चों को अच्छी रीति समझना और समझाना है। जितना-जितना समय बीतता जायेगा उतना-उतना ज्ञान शार्ट होता जायेगा। इतना शार्ट में समझाने के लिए बाबा युक्तियां रच रहे हैं। विनाश के समय मनुष्यों को वैराग्य आयेगा। फिर समझेंगे कि बरोबर यह वही महाभारी महाभारत की लड़ाई है। जरूर निराकार भगवान भी होगा, कृष्ण तो हो नहीं सकता। निराकार को ही सर्व का पतित-पावन, सर्व का सद्गति दाता कहा जाता है। यह टाइटिल कोई को दे नहीं सकते।

बाबा ने यह भी समझाया है पवित्र देवतायें कभी अपवित्र दुनिया में पैर नहीं रख सकते। तुम लक्ष्मी से धन माँगते हो परन्तु लक्ष्मी कहाँ से लायेगी? यहाँ भी मम्मा, बाप से धन लेती है। वहाँ भी बाप साथी होगा। यहाँ सरस्वती साथ ब्रह्मा है। वहाँ भी दोनों जरूर चाहिए। निशानी चाहिए। कहाँ से धन मिलता जरूर है, इसलिए महालक्ष्मी की पूजा होती है। उनको 4 भुजायें देते हैं। टांगे तो इतनी देते नहीं। रावण को 10 मुख देते हैं। टांगे तो नहीं देते हैं। तो सिद्ध होता है, ऐसे मनुष्य होते नहीं हैं। यह है समझाने के लिए। जब कोई का पति मरता है तो उनकी आत्मा को इनवाइट किया जाता है, परन्तु आये कैसे? ब्राह्मण के तन में आती है। बुलवाया जाता है। यह रसम-रिवाज ड्रामा में नूँधी हुई है। फिर जो होता है, वहाँ आत्मायें आती हैं। आत्मा को बुलाकर उनको खिलाते हैं। यहाँ बाप तो खुद आकर तुम बच्चों को खिलाते हैं। तो अब तुम बच्चों का धन्धा ही यह सर्विस का हुआ। शरीर छोड़कर फिर कहाँ जन्म ले फिर मेहनत करते हैं। तुम्हारा है ही पतितों को पावन बनाने का धन्धा। तुम आगे चल देखेंगे कैसे सर्विस बढ़ती है। कल्प पहले भी ऐसे हुआ था, वही रील है। तुम बच्चे जानते हो जो कुछ होता है कल्प पहले मुआ]िफक। बाप भी ज्ञान और योग सिखलाने की वही एक्ट करते हैं, जो कल्प पहले की है। इसमें ज़रा भी फ़र्क नहीं पड़ सकता है। यह ड्रामा है ना। हम आत्मायें घर से आती हैं। मनुष्य तन धारण कर पार्ट बजाती हैं। 84 जन्मों को और ड्रामा के चक्र को पूरा समझाना है। और कोई जानते नहीं हैं, हम खुद ही नहीं जानते थे। तुमने ही कल्प पहले जाना था, अब फिर से जान रहे हो। रचयिता और रचना के आदि मध्य अन्त का राज़ अब समझा है। तुम्हारी बुद्धि में यह रहना है, ऊंच ते ऊंच बाप है, वही वर्सा देते हैं। फिर है ब्रह्मा विष्णु शंकर। ब्रह्मा द्वारा स्थापना होती है फिर वही पालना करते हैं, विष्णुपुरी के मालिक बन। विष्णुपुरी कहो वा लक्ष्मी-नारायण की पुरी कहो, बात एक ही है। तुम जानते हो हम सूर्यवंशी चन्द्रवंशी वर्सा बाप से ले रहे हैं, 21 जन्मों के लिए। बाप कहते हैं बच्चे तुम हमारे थे, हमने तुमको भेजा पार्ट बजाने। यह भी ड्रामा में नूँध है। कोई कहा नहीं जाता है। यह भी तुम समझते हो जो अच्छी रीति पुरुषार्थ करेंगे वह फिर नम्बरवार सुखधाम में आयेंगे। तुम याद करते हो सुखधाम को। जानते हो यह दु:खधाम है और कोई को पता नहीं है। तुम बच्चों की बुद्धि में आता है कि यह दु:खधाम है। तुम सुखधाम स्थापन करने वाले बाप से वर्सा पा रहे हो। हम जीते जी उनके बने हैं। राजा की गोद लेते हैं तो समझते हैं ना – हम उनके हैं। पहले भी लौकिक फिर दूसरा भी लौकिक ही सम्बन्ध रहता है। यहाँ अलौकिक फिर पारलौकिक हो जाता है। तुम जानते हो अभी हम राम के बने हैं। बाकी तो सब रावण कुल के हैं। एक तरफ वह दूसरे तरफ हम हैं। आत्मा समझती है बरोबर मैंने 84 जन्म पूरे किये हैं। मैं आत्मा एक पुराना शरीर छोड़ दूसरा नया लेती हूँ। पुरुषार्थ कर रहे हैं -ज्ञान सागर पतित-पावन सद्गति दाता बाप द्वारा। वह इस ब्रह्मा द्वारा पढ़ाते हैं। पढ़ती आत्मा है। आत्मा में ही बैरिस्टरी आदि के संस्कार रहते हैं ना। आत्मा बोलती है, आरगन्स द्वारा।

[wp_ad_camp_3]

 

तुमको आत्म-अभिमानी बनने में बड़ी मेहनत लगती है। बाप राय देते हैं – अमृतवेले का समय मशहूर है। उसी समय अपने को आत्मा समझ बाप को याद करते रहो तो तुम्हारी आत्मा पर जो कट लगी हुई है वह साफ होगी। आत्मा में खाद पड़ती है। प्योर सोने का प्योर जेवर होता है। आत्मा पर कट लगी हुई है। फिर शरीर भी ऐसा मिलता है इसलिए तुमको कार्ब में डाला जाता है। परन्तु इसमें सारा बुद्धि का काम है। बाप की याद में बैठे हैं और कोई तकलीफ की बात नहीं। जैसे बच्चा बाप को याद करता है। यह है बेहद का बाप। वह आत्मा शरीर को याद करती है। अब तुम आत्मा अपने बाप को याद करती हो। बाप कहते हैं मैं बेहद का बाप हूँ तो जरूर बेहद का सुख दूँगा। कल्प पहले दिया था। बरोबर भारत विश्व का मालिक था। दुश्मन आदि कोई नहीं था। अभी तुम सुखधाम के मालिक बन रहे हो। कितने बेसमझ बन पड़े थे। जो तुम स्वर्ग के लायक थे, अब नर्क के लायक बन पड़े हो। फिर स्वर्ग के लायक बनाने बाप आये हैं। निराकार शिव की जयन्ती होती और गीता जयन्ती भी होती है। बरोबर मानते हैं। शिवबाबा जब आते हैं तब भगवानुवाच होता है। तो फिर से गीता जयन्ती होती है, फिर से आकर परिचय देगा ना। आकर जो सुनाया वह फिर गीता बनी।

यह भी तुम बच्चे जानते हो कि रावण किसको कहा जाता है। अब इस रावण राज्य का विनाश होना है। मौत सामने खड़ा है। कल्प पहले भी यह दुनिया बदली थी। कितनी अच्छी रीति समझाया जाता है। मेहनत है, घर गृहस्थ में रहते कमल फूल समान पवित्र रह फिर साथ में यह कोर्स उठाओ। टीचर से पूछो। कोर्स तो बड़ा सहज है। घर में रहते मुझे याद कर रचना के आदि मध्य अन्त को जानो। 7 रोज़ समझने वाले भी कोई निकलते हैं। हर एक मनुष्य की रग देखी जाती है। देखा जाता है इनकी लगन बहुत अच्छी है। तड़फते हैं, हम बाबा का ज्ञान तो सम्मुख सुनें। उनकी शक्ल वातावरण से समझ सकते हो। रग को पूरा न समझने के कारण अच्छे-अच्छे भी चले जाते हैं। कहते हैं 7 रोज़ टाइम नहीं है, क्या करें! कोई कहते हैं दर्शन कराओ। बोलो – पहले आकर समझो। किसके पास आये हो? परमपिता परमात्मा से तुम्हारा क्या सम्बन्ध है?

ब्रह्माकुमार कुमारी तो तुम भी ठहरे ना। शिवबाबा के पोत्रे सो ब्रह्मा के बच्चे हो गये। बाप स्वर्ग का रचयिता है। तो जरूर वर्सा देता होगा। राजयोग सिखलाता होगा। समझाकर फिर लिखा लेना चाहिए। एक दिन में भी कोई अच्छा समझ सकता है। ऐसे तीखे निकलेंगे जो बहुत गैलप करेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) अमृतवेले उठ बाप को प्यार से याद कर आत्म-अभिमानी बनने की मेहनत करनी है। याद के बल से विकारों की कट उतारनी है।

2) घर गृहस्थ में रहते कमल फूल समान बनने का कोर्स उठाना है। हर एक की रग अथवा लगन देखकर ज्ञान देना है।

वरदान:- सम्पर्क सम्बन्ध में आते सदा सन्तुष्ट रहने और सन्तुष्ट करने वाले गुप्त पुरूषार्थी भव 
संगमयुग सन्तुष्टता का युग है, यदि संगम पर सन्तुष्ट नहीं रहेंगे तो कब रहेंगे, इसलिए न स्वयं में किसी भी प्रकार की खिटखिट हो न दूसरों के साथ सम्पर्क में आने में खिटखिट हो। माला बनती ही तब है जब दाना, दाने के सम्पर्क में आता है इसलिए सम्बन्ध-सम्पर्क में सदा सन्तुष्ट रहना और सन्तुष्ट करना, तब माला के मणके बनेंगे। परिवार का अर्थ ही है सदा सन्तुष्ट रहने और सन्तुष्ट करने वाले।
स्लोगन:- पुराने स्वभाव-संस्कार के वंश का भी त्याग करने वाले ही सर्वंश त्यागी हैं।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 13 July 2017 :- Click Here

Font Resize