today murli 18 december

TODAY MURLI 18 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 18 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 17 December 2018 :- Click Here

18/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the births of you Brahmins are even more elevated and beneficial than those of the deities because only you Brahmins become the Father’s helpers.
Question: How do you children help Baba at this time? What prize does the Father give to His helper children?
Answer: Baba is establishing the kingdom of purity and peace and we are helping Him with purity. We are looking after the sacrificial fire that Baba has created, and so Baba would definitely give us a prize. It is only at the confluence age that we receive a very big prize. We now become trikaldarshi, those who know the beginning, middle and end of the world and we become seated on a throne in the future. This is the prize.
Song: As the Father, Mother, Support, Lord and Friend, You are the Protector for everyone!

Om shanti. Whose praise is this? This is the praise of the supremely beloved, Supreme Father, the Supreme Soul, whose name is Shiva. His name is the highest of all and His place of residence is also the highest of all. The meaning of the Supreme Father, the Supreme Soul, is that He is the highest soul of all. No one else can be called the Supreme Father, the Supreme Soul. His praise is limitless. It is said that there is so much praise of Him that you cannot reach the end of it. Even the rishis and munis used to say that you cannot reach His end. They have been saying: Neither this nor that (Neti neti). Now, Baba Himself has come and given His own introduction. Why? There should be Baba’s introduction, should there not? So, how can children receive His introduction? No one else can give His introduction until He Himself comes onto this earth. When Father shows son , son then shows Father. The Father explains: My part too is fixed. I alone have to come and make the impure ones pure. Because this is the kingdom of Ravan, sages and holy men continue to sing: The Purifier is Rama who belongs to Sita. Come! Ravan is no less. Who made the whole world tamopradhan and impure? Ravan. Then, powerful Rama comes to make it pure. For half the cycle there is the kingdom of Rama and for half the cycle the kingdom of Ravan continues. No one knows who Ravan is. They continue to burn his effigy every year. In spite of that, the kingdom of Ravan still continues; he doesn’t get burnt. People say that if God is all-powerful, why does He allow Ravan to rule? The Father explains: This is a play of victory and defeat, of hell and heaven. The whole play is based on Bharat. This drama is predestined. It isn’t that because the Supreme Father is the Almighty Authority He would come before the end of the play or that He could stop the play half-way through. The Father says: I come when the whole world has become impure. That is why people celebrate Shiv Ratri. They also say: Salutations to Shiva. They say: Salutations to the deities Brahma, Vishnu and Shankar. However, they would say to Shiva: Salutations to the Supreme Soul. Is Shiva like they have shown in the temples to Babulnath and Somnath? Does the Supreme Father, the Supreme Soul, have such a large form? Or, is it that souls have a tiny form and the Father has a large form? There would be this question, would there not? Just as, here, a small one is called a child and a senior is called a father, is it that, in the same way, the Supreme Father, the Supreme Soul, is bigger and we souls are smaller? No. The Father explains: Children, you sing My praise. You say that the praise of the Supreme Soul is limitless. He is the Seed of the human world tree. Therefore, the Father would be called the Seed, would He not? He is the Creator. All the rest – the Vedas, Upanishads, Gita, sacrificial fires, tapasya, donations and charity etc. – are the paraphernalia of devotion. They have their own time. There is half the cycle for devotion and half the cycle for knowledge. Devotion is the night of Brahma and knowledge is the day of Brahma. Shiv Baba explains to you. He doesn’t have a body of His own. He says: I once again teach you Raja Yoga in order to give you your fortune of the kingdom. The night of Brahma is now coming to an end. That same time of defamation of religion has now come. Whom do they defame the most? The Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. It is written: Whenever there is extreme irreligiousness, I come. It isn’t that I gave knowledge in Sanskrit in the previous cycle. It is the same language. When there is defamation in Bharat of the One who establishes the deity religion, when they put Me into pebbles and stones, I come. They have defamed so much the One who makes Bharat into heaven and impure ones pure. You children know that Bharat is the oldest land of all and that it is never destroyed. The kingdom of Lakshmi and Narayan also exists here in the golden age. It was the Creator of heaven who gave them that kingdom. Now that same Bharat is impure and this is why I have come once again. This is why they sing His praise: Salutations to Shiva. In this unlimited drama, the part of every soul is fixed and it continues to repeat. Some extract small parts of it and make limited drama s. We are now Brahmins and will then become deities. This is God’s clan. This is the end of your 84th birth. At this time, you have knowledge of all four clans. This is why the Brahmin clan is the highest of all. However, it is the deities who are praised and worshipped. There is also the Brahma Temple, but no one knows that God enters this one and makes Bharat into heaven. Since establishment is taking place, destruction must also take place and this is why it is said: The flames of destruction emerged from the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. That same Father now explains to you children: Sweet children, this is now your final birth. I have come once again to give you your inheritance of heaven. It is your right, but I will give the prize of heaven to those who follow My shrimat. Others too receive peace prize s etc., but the Father gives all of you the prize of heaven. He says: I do not take it. I inspire the establishment of it to take place through you, and so I would give it to you. You are the grandchildren of Shiv Baba, the children of Brahma. Only Prajapita Brahma would adopt so many children. This Brahmin birth is your highest birth. This is the benevolent birth. The births of deities and shudras are not benevolent. This is your most benevolent birth because you become the Father’s helpers and establish peace and purityin the world. Those people who give prizes do not know this. They give them to Americans etc. The Father says: I give a prize to those who become My helpers. When there is purity in the world, there is also peace and prosperity. This is the brothel. The golden age is Shivalaya, the temple. Shiv Baba established it. Sages and sannyasis are hatha yogis. They cannot teach easy Raja Yoga to those who follow the household religion, even if they were to read the Gita and the Mahabharata a thousand times. That One is everyone’s Baba. He says to those of all religions: Connect your intellects in yoga to Me alone. I too am a tiny point. I am not that big. As is a soul, so the Supreme Soul. Each soul resides here in the centre of the forehead. If it were so big, how could it reside in the centre of the forehead? I am like a soul. It is just that I am also beyond birth and death. I am ever pure whereas all the rest of the souls come into birth and death. They become impure from pure and pure from impure. The Father has once again created this sacrificial fire of Rudra to make impure ones pure. After this, there won’t be any sacrificial fires in the golden age. Then, from the copper age they, will continue to create many types of sacrificial fire. This sacrificial fire of Rudra is only created once in the whole cycle. The offering of everyone is put into it. Then, no other sacrificial fires will be created. Sacrificial fires are created when there are calamities. When there is no rain or there is some other calamity, they create a sacrificial fire. There are no calamities in the golden and silver ages. At this time, there are many types of calamity. This is why the greatest Merchant, Shiv Baba, has had this sacrificial fire created, and so He grants you a vision in advance of how all the offerings will be put into the fire, how destruction is to take place and how the old world is to become a graveyard. So then, why should you attach your heart to this old world? This is why you children have unlimited renunciation of the old world. Those sannyasis simply renounce their homes and families. You mustn’t renounce your homes and families. While looking after your homes and families, you have to break your attachment away from them. All of them are already dead. Why should you attach your hearts to them? This is the world of corpses. This is why it is said: Remember the land of angels. Why do you remember the graveyard? Baba has become the Agent and He connects your intellects in yoga to Him. They say: Souls and the Supreme Soul remained separated for a long time. This praise also belongs to Him. Iron-aged gurus cannot be called the Purifier. They cannot grant salvation. Yes, they can relate scriptures and perform rituals. Shiv Baba doesn’t have a teacher or guru. Baba says: I have come to give you the inheritance of heaven. Then, you may become part of the sun dynasty or the moon dynasty. How do you become that? Is it through war? No; neither Lakshmi and Narayan nor Rama and Sita claimed their kingdom through war. They battled with Maya at this time. You are incognito warriors. This is why no one knows you, the Shakti Army. You become the masters of the whole world with the power of yoga. You lost the kingdom of the world and you are now claiming it back once again. It is the Father who gives you that prize. Those who now become the Father’s helpers are the ones who will receive the prize of peace and prosperity for half the cycle. Those who remain bodiless and remember the Father, who spin the discus of self-realisation, who remember the land of peace, their sweet home and their sweet kingdom and become pure, Baba calls helpers. It is so easy! I, the soul, am a star. My Father, the Supreme Soul, is also a star. He is not as big as that but how can a s tar be worshipped? Therefore, they have made Him large so that they can worship Him. It is the Father who is worshipped first and then others are later worshipped. Lakshmi and Narayan are worshipped so much but who was it who made them become like that? The Bestower of Salvation for All is the one Father. The greatness is of that One. His birthday is worth diamonds whereas the birthday s of the rest are worth shells. Salutations to Shiva. This is His sacrificial fire. It has been created through you Brahmins. He says: I will give this much fruit to those who help Me establish purity and peace. He has had this sacrificial fire created through you Brahmins and so He would definitely give you alms. He has created such a big sacrificial fire. No other sacrificial fire continues for this long. He says: For however long someone helps Me, I will give them a prize accordingly. I am the One who gives everyone a prize. I do not take anything. I give you everything. Those who do something will receive the return of it. If you do little, you will end up among the subjects. Those who helped Gandhiji then became the President or a Minister etc. That is happiness for a temporary period. The Father gives you all the knowledge of the beginning, the middle and the end and makes you trikaldarshi, the same as He is. He says: By knowing My biography, you will come to know everything. Sannyasis cannot give this knowledge. What inheritance would you receive from them? They would give a throne to only one, so what would the rest receive? Baba gives all of you a throne. He does such altruistic service, and yet you have put Me into pebbles and stones and have defamed Me so much! This drama is predestined. When you have become like shells, I then make you become like diamonds. I have made Bharat into heaven countless times, and then Maya turned it into hell. If you now want attainment, then become the Father’s helpers and claim the real prize. It is purity first in this. Baba also praises sannyasis. They too are good because they remain pure. They support Bharat and prevent it from becoming degraded. There is no telling what would have become of it otherwise. However, Bharat now has to be made into heaven, and so you definitely have to live at home with your families and remain pure. Both Bap and Dada explain to you children. Shiv Baba also gives you children advice through this old shoe. He cannot take a new one. He doesn’t enter a mother’s womb. He comes into the impure world and enters an impure body. There is extreme darkness in this iron age. He has to make extreme darkness into total light. Achcha.

To the sweetest beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remove this unlimited world from your heart and break your attachments. Don’t attach your heart to it.
  2. Become a helper of the Father and, in order to claim a prize : 1. Remain bodiless. 2. Become pure. 3. Spin the discus of self-realisation. 4. Remember your sweet home and your sweet kingdom.
Blessing: May you be ever happy and experience happiness in the garden of the flowers of divine virtues in your life.
To be constantly in a state of happiness means to be full and complete. Previously, your life was in a jungle of thorns and you have now come into the happiness of flowers. The flowers of divine virtues are constantly in the garden of your life, and so whoever comes into contact with you will continue to receive the fragrance from the flowers of divine virtues and will be happy on seeing this happiness. They will experience power. This happiness makes others powerful and brings them into happiness and this is why you say that you are ever happy.
Slogan: master almighty authority is one who plays with the bubbles of Maya instead of being afraid of them.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 18 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 December 2018

To Read Murli 17 December 2018 :- Click Here
18-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – देवताओं से भी उत्तम कल्याणकारी जन्म तुम ब्राह्मणों का है क्योंकि तुम ब्राह्मण ही बाप के मददगार बनते हो”
प्रश्नः- अभी तुम बच्चे बाबा को कौन-सी मदद करते हो? मददगार बच्चों को बाप क्या प्राइज़ देते हैं?
उत्तर:- बाबा प्योरिटी पीस का राज्य स्थापन कर रहे हैं, हम उन्हें प्योरिटी की मदद करते हैं। बाबा ने जो यज्ञ रचा है उसकी हम सम्भाल करते हैं तो जरूर बाबा हमें प्राइज़ देगा। संगम पर भी हमें बहुत बड़ी प्राइज़ मिलती है, हम सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानने वाले त्रिकालदर्शी बन जाते हैं और भविष्य में गद्दी नशीन बन जाते हैं, यही प्राइज़ है।
गीत:- पितु मात सहायक स्वामी सखा……..

ओम् शान्ति। यह किसकी महिमा है? यह है परमप्रिय परमपिता परमात्मा जिनका नाम शिव है, उनकी महिमा। उनका ऊंच ते ऊंच नाम भी है तो ऊंचे ते ऊंचा धाम भी है। परमपिता परम आत्मा का भी अर्थ है – सबसे ऊंचे ते ऊंची आत्मा। और किसको भी परमपिता परमात्मा नहीं कहा जाता। उसकी महिमा अपरम्पार है। ऐसे कहते हैं कि इतनी तो महिमा है जो उसका पार नहीं पा सकते। ऋषि-मुनि भी ऐसे कहते थे कि उसका पार नहीं पा सकते। वो भी नेती-नेती कहते आये हैं। अब बाबा स्वयं आकर अपना परिचय देते हैं। क्यों? बाबा का परिचय तो होना चाहिए ना। तो बच्चों को परिचय मिले कैसे? जब तक वह इस भूमि पर न आये तब तक और कोई उनका परिचय दे न सके। जब फादर शोज़ सन, तब सन शोज़ फादर। बाप समझाते हैं मेरा भी पार्ट नूंधा हुआ है। मुझे ही आकर पतितों को पावन करना है। साधू-सन्त भी गाते रहते हैं – पतित-पावन सीताराम आओ क्योंकि रावण का राज्य है, रावण कोई कम नहीं है। सारी दुनिया को तमोप्रधान पतित किसने बनाया? रावण ने। फिर पावन बनाने वाला समर्थ राम है ना। आधाकल्प राम राज्य है तो आधाकल्प रावण का भी राज्य चलता है। रावण क्या है, यह कोई नहीं जानते। वर्ष-वर्ष जलाते रहते हैं। तो भी रावण का राज्य चलता रहता है। जलता थोड़ेही है। मनुष्य कहते हैं परमात्मा समर्थ है, तो रावण को राज्य करने क्यों देते हैं। बाप समझाते हैं यह नाटक है हार जीत का, हेल और हेविन का। भारत पर ही सारा खेल बना हुआ है। यही बना बनाया ड्रामा है। ऐसे नहीं परमपिता सर्वशक्तिमान् है तो खेल पूरा होने के पहले ही आयेगा या आधे में खेल को बन्द कर सकता है। बाप कहते हैं जब सारी दुनिया पतित हो जाती है तब मैं आता हूँ इसलिए शिवरात्रि भी मनाते हैं। शिवाए नम: भी कहते हैं। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को फिर भी देवता नम: कहेंगे। शिव को परमात्मा नम: कहेंगे। शिव क्या ऐसा ही है जैसा बबुलनाथ में या सोमनाथ के मन्दिर में है? क्या परमपिता परमात्मा का इतना बड़ा रूप है? वा आत्मा का छोटा, बाप का बड़ा है? क्वेश्चन आयेगा ना? जैसे यहाँ छोटे को बच्चा, बड़े को बाप कहा जाता है, वैसे परमपिता परमात्मा अन्य आत्माओं से बड़ा है और हम आत्मायें छोटी हैं? नहीं। बाप समझाते हैं – बच्चे, मेरी महिमा गाते हो, कहते हो परमात्मा की महिमा अपरमपार है। मनुष्य सृष्टि का बीज है, तो पिता को बीज कहेंगे ना। वह क्रियेटर है। बाकी जो इतने वेद, उपनिषद, गीता, यज्ञ, तप, दान, पुण्य…. यह सब है भक्ति की सामग्री। इनका भी अपना टाइम है। आधा कल्प भक्ति का, आधा कल्प ज्ञान का। भक्ति है ब्रह्मा की रात, ज्ञान है ब्रह्मा का दिन। यह शिवबाबा तुमको समझाते हैं, इनको अपना तन तो है नहीं। कहते हैं मैं तुमको फिर से राजयोग सिखलाता हूँ राज्य-भाग्य दिलाने लिए। अब ब्रह्मा की रात पूरी होती है, वही धर्म ग्लानि का समय आ पहुँचा है। सबसे जास्ती ग्लानी किसकी करते हैं? परमपिता परमात्मा शिव की। लिखा है ना यदा यदाहि…….. ऐसे नहीं, मैंने कल्प पहले कोई संस्कृत में ज्ञान दिया है। भाषा तो यही है। तो जब भारत में देवी-देवता धर्म स्थापन करने वाले की ग्लानी होती है, मुझे ठिक्कर-भित्तर में ठोक देते हैं, तब मैं आता हूँ। जो भारत को स्वर्ग बनाते हैं, पतितों को पावन बनाते हैं, उसकी कितनी ग्लानी की है।

तुम बच्चे जानते हो भारत है सबसे पुराना खण्ड, जो कभी विनाश नहीं होता है। सतयुग में लक्ष्मी-नारायण का राज्य भी यहाँ ही होता है। यह राज्य भी स्वर्ग के रचयिता ने दिया है। अब तो वही भारत पतित है तब फिर मैं आता हूँ, तब तो उनकी महिमा गाते हैं शिवाए नम:। इस बेहद के ड्रामा में हर एक आत्मा का पार्ट नूंधा हुआ है, जो रिपीट होता है। जिससे ही कोई टुकड़ा निकाल हद का ड्रामा बनाते हैं। अभी हम ब्राह्मण हैं फिर देवता बनेंगे। यह है ईश्वरीय वर्ण। यह है तुम्हारा 84वें जन्म का भी अन्त। इसमें चारों वर्णों का तुमको ज्ञान है इसलिए ब्राह्मण वर्ण सबसे ऊंच है। परन्तु महिमा व पूजा देवताओं की होती है। ब्रह्मा का मन्दिर भी है परन्तु कोई को पता नहीं कि इसमें परमात्मा आकर भारत को स्वर्ग बनाते हैं। जब स्थापना हो रही है तो विनाश भी चाहिए इसलिए कहते हैं कि रूद्र ज्ञान यज्ञ से विनाश ज्वाला निकली।

अब वही बाप बच्चों को समझा रहे हैं – मीठे बच्चे, अब यह तुम्हारा अन्तिम जन्म है मैं तुमको फिर से स्वर्ग का वर्सा देने आया हूँ। तुम्हारा हक है, परन्तु जो मेरी श्रीमत पर चलेंगे उनको मैं स्वर्ग की प्राइज़ दूँगा। उन्हें भी पीस प्राइज़ आदि मिलती है। परन्तु बाप तो तुम सबको स्वर्ग की प्राइज़ देते हैं। कहते हैं मैं नहीं लूंगा। मैं तुम्हारे द्वारा स्थापना कराता हूँ तो तुमको ही दूंगा। तुम हो शिवबाबा के पोत्रे, ब्रह्मा के बच्चे। इतने बच्चे तो प्रजापिता ब्रह्मा ही एडाप्ट करते होंगे ना। यह ब्राह्मण जन्म तुम्हारा सबसे उत्तम है। यह कल्याणकारी जन्म है। देवताओं का जन्म या शूद्रों का जन्म कल्याणकारी नहीं है। यह तुम्हारा जन्म बहुत कल्याणकारी है क्योंकि बाप का मददगार बन सृष्टि पर प्योरिटी, पीस स्थापन करते हो। वह इनाम देने वाले थोड़ेही जानते हैं। वो तो कोई अमेरिकन आदि को दे देते हैं। बाप फिर कहते हैं जो मेरे मददगार बनेंगे मैं उनको प्राइज़ दूंगा। प्योरिटी है तो सृष्टि में पीस, प्रासपर्टी भी है। यह तो वेश्यालय है। सतयुग है शिवालय। शिवबाबा ने स्थापन किया है। साधू सन्यासी हैं हठयोगी, गृहस्थ धर्म वालों को सहज राजयोग तो सिखा नहीं सकते। भल हजार बार गीता महाभारत पढ़ें। यह तो सबका बाबा है। सभी धर्म वालों को कहते हैं कि अपना बुद्धियोग एक मेरे से लगाओ। मैं भी छोटा-सा बिन्दू हूँ, इतना बड़ा नहीं हूँ। जैसी आत्मा वैसा ही मैं परमात्मा हूँ। आत्मा भी यहाँ भ्रकुटी के बीच में रहती है। इतनी बड़ी होती तो यहाँ कैसे बैठ सकती। मैं भी आत्मा जैसा ही हूँ। सिर्फ मैं जन्म-मरण रहित सदा पावन हूँ और आत्मायें जन्म-मरण में आती हैं। पावन से पतित और पतित से पावन होती हैं। अब फिर से पतितों को पावन बनाने के लिए बाप ने यह रूद्र यज्ञ रचा है। इसके बाद सतयुग में कोई यज्ञ नहीं होता। फिर द्वापर से अनेक प्रकार के यज्ञ रचते रहते हैं। यह रूद्र ज्ञान यज्ञ सारे कल्प में एक ही बार रचा जाता है, इसमें सबकी आहुति पड़ जाती है। फिर कोई यज्ञ नहीं रचा जाता। यज्ञ रचते तब हैं जब कोई आफतें आती हैं। बरसात नहीं पड़ती है वा अन्य कोई आफतें आती हैं तो यज्ञ करते हैं। सतयुग-त्रेता में तो कोई आफतें आती नहीं। इस समय अनेक प्रकार की आफतें आती हैं इसलिए सबसे बड़े सेठ शिवबाबा ने यज्ञ रचवाया है तो पहले से ही साक्षात्कार कराते हैं। कैसे सब आहुति पड़नी है, कैसे विनाश होना है, पुरानी दुनिया कब्रिस्तान बननी है। तो फिर इस पुरानी दुनिया से क्या दिल लगानी है इसलिए तुम बच्चे बेहद पुरानी दुनिया का सन्यास करते हो। वह सन्यासी तो सिर्फ घरबार का सन्यास करते हैं। तुमको तो घरबार नहीं छोड़ना है। यहाँ गृहस्थ व्यवहार सम्भालते भी इससे सिर्फ ममत्व तोड़ना है। यह सब मरे पड़े हैं, इनसे क्या दिल लगाना। यह तो मुर्दों की दुनिया है, इसलिए कहते हैं कि परिस्तान को याद करो, कब्रिस्तान को क्यों याद करते हो।

बाबा भी दलाल बन तुम्हारी बुद्धि का योग अपने साथ लगाते हैं। कहते हैं ना आत्मा-परमात्मा अलग रहे बहुकाल…… यह महिमा भी उनकी है। कलियुगी गुरू को पतित-पावन कह नहीं सकते। वह सद्गति तो कर नहीं सकते। हाँ शास्त्र सुनाते हैं, क्रिया-कर्म कराते हैं। शिवबाबा का कोई टीचर, गुरू नहीं। बाबा तो कहते मैं तो तुमको स्वर्ग का वर्सा देने आया हूँ। फिर सूर्यवंशी बनो, चाहे चन्द्रवंशी बनो। वह कैसे बनते हैं, लड़ाई से? नहीं। न लक्ष्मी-नारायण ने लड़ाई से राज्य लिया, न राम-सीता ने। इन्होंने इस समय माया से लड़ाई की है। तुम इनकागनीटो वारियर्स हो इसलिए तुम शक्ति सेना को कोई जानते नहीं। तुम योगबल से सारे विश्व के मालिक बनते हो। तुमने ही विश्व का राज्य गंवाया है फिर तुम ही पा रहे हो। तुमको प्राइज़ देने वाला बाप है। अब जो बाप के मददगार बनेंगे उनको ही आधाकल्प के लिए पीस, प्रासपर्टी की प्राइज़ मिलेगी। बाबा मददगार उन्हें कहते हैं जो अशरीरी होकर बाप को याद करते हैं, स्वदर्शन चक्र फिराते हैं, शान्तिधाम, स्वीट होम और स्वीट राजधानी को याद कर पवित्र बनते हैं। कितना सहज है। हम आत्मा भी स्टार हैं। हमारा बाप परमात्मा भी स्टार है। वह इतना कोई बड़ा नहीं है परन्तु स्टार की पूजा कैसे हो इसलिए पूजा के लिए इतना बड़ा बना दिया है। पूजा तो पहले बाप की होती है, पीछे दूसरों की होती है। लक्ष्मी-नारायण की कितनी पूजा होती है। परन्तु उनको ऐसा बनाने वाला कौन? सबका सद्गति दाता बाप। बलिहारी उस एक की है ना। उनकी जयन्ती (बर्थ) डायमन्ड तुल्य है। बाकी सबके बर्थ कौड़ी तुल्य हैं। शिवाए नम: – यह उनका यज्ञ है, तुम ब्राह्मणों से रचवाया है। कहते हैं जो मुझे प्योरिटी पीस स्थापन करने में मदद करेंगे उनको इतना फल दूंगा। ब्राह्मणों से यज्ञ रचवाया है तो दक्षिणा तो देंगे ना। इतना बड़ा यज्ञ रचा है। और कोई भी यज्ञ इतना समय नहीं चलता है। कहते हैं जो जितना मुझे मदद करेंगे उतनी प्राइज़ दूंगा। सबको प्राइज़ देने वाला मैं हूँ। मैं कुछ नहीं लेता हूँ, सब तुमको देता हूँ। अब जो करेगा सो पायेगा। थोड़ा करेगा तो प्रजा में चला जायेगा। गांधी को भी जिन्होंने मदद की तो प्रेज़ीडेंट, मिनिस्टर आदि बने ना। यह तो है अल्पकाल का सुख। बाप तो तुमको सारे आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान दे आप समान त्रिकालदर्शी बनाते हैं। कहते हैं मेरी बायोग्राफी को जानने से तुम सब कुछ जान जायेंगे। सन्यासी थोड़ेही यह ज्ञान दे सकते हैं। उनसे वर्सा क्या मिलेगा। वह तो गद्दी भी एक को देंगे। बाकी को क्या मिलता है? बाबा तो तुम सबको गद्दी देते हैं। कितनी निष्काम सेवा करते हैं और तुमने तो मुझे ठिक्कर-भित्तर में डाल कितनी ग्लानी की है। यह भी ड्रामा बना हुआ है। जब कौड़ी जैसे बन जाते हो तब तुमको हीरे जैसा बनाता हूँ। मैंने तो अनगिनत बार भारत को स्वर्ग बनाया है फिर माया ने नर्क बनाया है। अब अगर प्राप्ति करनी है तो बाप के मददगार बन सच्ची प्राइज़ ले लो। इसमें प्योरिटी फर्स्ट है।

बाबा सन्यासियों की भी महिमा करते हैं – वह भी अच्छे हैं, जो पवित्र रहते हैं। यह भी भारत को थामते (गिरने से बचाते) हैं। नहीं तो पता नहीं क्या हो जाता। परन्तु अब तो भारत को स्वर्ग बनाना है तो जरूर घर गृहस्थ में रहते पवित्र बनना पड़े। बाप-दादा दोनों बच्चों को समझाते हैं। शिवबाबा भी इस पुरानी जुत्ती द्वारा बच्चों को राय देते हैं। नई ले नहीं सकते। माता के गर्भ में तो आते नहीं। पतित दुनिया, पतित शरीर में ही आते हैं, इस कलियुग में है घोर अन्धियारा। घोर अन्धियारे को ही सोझरा बनाना है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस बेहद की दुनिया का दिल से सन्यास कर अपना ममत्व मिटा देना है, इससे दिल नहीं लगानी है।

2) बाप का मददगार बन प्राइज़ लेने के लिए – 1. अशरीरी बनना है, 2. पवित्र रहना है, 3. स्वदर्शन चक्र फिराना है, 4. स्वीट होम और स्वीट राजधानी को याद करना है।

वरदान:- जीवन में दिव्यगुणों के फूलों की फुलवाड़ी द्वारा खुशहाली का अनुभव करने वाले एवरहैप्पी भव
सदा खुशहाल अर्थात् भरपूर, सम्पन्न। पहले कांटों के जंगल में जीवन थी अभी फूलों की खुशहाली में आ गये। सदा जीवन में दिव्यगुणों के फूलों की फुलवाड़ी लगी हुई है, इसलिए जो भी आपके सम्पर्क में आयेगा उसे दिव्यगुणों के फूलों की खुशबू आती रहेगी और खुशहाली देख करके खुश होंगे, शक्ति का अनुभव करेंगे। खुशहाली औरों को भी शक्तिशाली बनाती और खुशी में लाती है इसलिए आप कहते हो कि हम एवरहैप्पी हैं।
स्लोगन:- मास्टर सर्वाशक्तिमान् वह हैं जो माया के बुदबुदों से डरने के बजाए उनसे खेलने वाले हैं।

TODAY MURLI 18 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 18 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 18 December 2017 :- Click Here

18/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are studying a very high study with the unlimited Father. It is in your intellects that you are the students of the Purifier, God ,the Father , and that you are studying for the new world.
Question: Which children receive a prize from the spiritual Government ?
Answer: Those who make the effort to make many others equal to themselves. Those who give the proof of service are given a very big prize by the spiritual Government. They claim a right to an elevated status for the future 21 births.

Om shanti. The Father says to the children: You sweet, sweet children are studying this study with Me. This study is for the new world. No one else can say that they are studying for the new world. The better you study, the more your reward for 21 births accumulates. You are studying the unlimited study with the unlimited Father. This is a very elevated, unlimited study. All the rest are studying studies worth a few pennies. The more effort you make in this unlimited study, the higher the status you will claim. These things should always remain in your intellects: We are the students of the Purifier, God the Father, and we are studying for the new world. Therefore, you should make such good effort to study: We will first go to the Father and then, according to how we individually study, we will go and claim a status in the new world. That is a worldly study whereas this is the parlokik (spiritual) study, that is, it is the study for the world beyond. This is the old, impure world. You know that you are changing from residents of hell into residents of heaven. You should repeatedly remember this because only then will happiness rise in your intellects. When children go to weddings etc. they forget. You must never forget the study. In fact, you should be even happier that you are becoming the masters of heaven for the future 21 births. Those who make many others equal to themselves will definitely claim a high status. These secrets cannot sit in the intellect of anyone else. Sense is required for doing service. There are different departments. Baba even says to those who create slides that the slides should be of one size and that they should be compatible with any projector. The first slide should be: What is your relationship with the Supreme Father, the Supreme Soul? They would then understand that the Supreme Father, the Supreme Soul is their Father. What inheritance you will get from Him? Then show that you receive a sun-dynasty status through Trimurti Brahma. You are also making effort for the new world. You are now at the confluence age and are creating the pure world. Your intellects have now remembered that 5000 years ago we truly become deities and that we then lost our kingdom. All the kingdoms that they claim now are limited matters. Yours is an unlimited battle. According to shrimat, you are now battling with Ravan, the five vices. You know that the part s of victory and defeat are fixed in the drama. The drama cycle turns every 5000 years. Therefore, you children have to follow shrimat, according to whatever directions each of you receives. Some children say that they are able to understand but unable to explain to others. That is like saying that you haven’t understood anything. You will claim a status according to how much you yourself have understood. Let the discus of self-realisation continue to spin in your intellects. You become spinners of the discus of self-realisation. If you don’t make others equal to yourselves, you are not serviceable. Therefore, you should make full effort. You also have to teach others. Brahmin teachers have to make effort with everyone. It is only when teachers make a lot of effort that they receive a prize. You receive a prize from a very great Government. You have to give the proof of service. You mustn’t make mistakes. Here, you study all the subjects in the one class. You know that in the future you will go and become deities. Destruction definitely has to take place. Just as you built the buildings of heaven in the previous cycle, so you will do the same again. The drama also helps. There, they build huge palaces and huge thrones. Here, there aren’t such big palaces of gold and silver. There, the diamonds and jewels will be like stones. There are so many diamonds and jewels in devotion, so what wouldn’t they have at the beginning of the golden age? Wealthy people decorate the idols of Radhe and Krishna and Lakshmi and Narayan etc. so much. They decorate them with gold jewellery. Baba remembers a merchant who said that he was building a temple to Lakshmi and Narayan and that he wanted new jewellery for those idols. At that time, everything was very cheap. Therefore, what would it be in the golden age? There were many treasures on the path of devotion which were looted by everyone. You children now know everything. This is a very elevated study. You also have to teach it to young children. Together with a worldly education, this education should also be given. Continue to remind others of Shiv Baba. Explain the pictures. Also benefit your children. Shiv Baba is the Creator of heaven. If you remember Shiv Baba, you become the masters of heaven. The imperishable knowledge is never destroyed. When others are given even a little of this knowledge they will come into the kingdom. In the golden age it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. Where did it then go? We are explaining to you, which means that we will make you into masters of that heaven. By you teaching it to them, they will learn. You have to make effort. You mustn’t waste time in useless matters. By making mistakes you will have to repent a great deal. A father earns wealth and then leaves it to the children. Now, everyone is to be destroyed. Even now, there continues to be so much fighting and battling and death continues to take place. This is nothing. There will be destruction in the region of tens of millions. Everything will be burnt and finished. It has to become a graveyard and it will then become the land of angels. The graveyard is big whereas the land of angels will be small. Those of Islam speak of how everyone will be buried. Khuda (God) comes and awakens everyone and then takes everyone back. At this time, all souls exist in one form or another. The bodies are in the graveyard, but the souls go and take other bodies. At this time, Maya has put everyone in the graveyard; all are dead. Everyone is to be destroyed and you must therefore not attach your heart to anyone. You must attach your heart to only the One. Eventually, all your attachment will finish. You have to remember the one Father, that is all! You understand that you are studying this study with the Purifier Father for your future 21 births. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Seed of the World, He is Living. The soul is also living. Until a soul enters a body, the body is non-living, but the soul is living. The soul has now received knowledge. Each soul has his own part recorded in himself. Each one’s act is individual. The drama is wonderful. It is said to be the wonder of nature. Such a huge part is recorded in such a tiny soul! The Supreme Spirit sits here and explains to you these spiritual matters which are all fixed in the drama. He also takes you on a tour. He continues to give you visions of everything which is fixed in the drama. Although the play is eternally predestined, human beings do not know that it is eternal. You know everything. Whatever happens, after a second, it becomes the past. You understand that whatever becomes the past was in the drama. The Father has explained to you what parts there were from the golden age onwards. The world does not know these things. The Father says: I am giving you the knowledge that I have in My intellect. I make you equal to Myself. You know that the whole world is corrupt. You now first have to become pure and then make others pure. Apart from you, no one can make anyone pure. You now have to follow the Father’s shrimat and imbibe divine virtues. You have to speak very sweetly. No bitter words should emerge from your lips. Have mercy on everyone. You can teach everyone the versions of God: “Manmanabhav”. They don’t know who God is or when He spoke the Gita. You now understand that God’s versions are: Become bodiless. Renounce all the bodily religions: I belong to Islam, I am a Parsi: who says this? All souls are brothers, children of the one Father. Souls explain to their brothers that the Father says: Constantly remember Me alone and you will go to the land of liberation. Everyone is to go to the land of nirvana. You have to remember these two words and explain them. The God of everyone is One. It cannot be Krishna. The Father says: Now renounce all the religions of the body and constantly remember Me alone. A soul takes support of matter and plays a part here. It is said of Christ, that he is now in the form of a beggar. Everyone’s shoe (body) is now old. Christ too must definitely have taken rebirth; he would now be in his last birth. The Father comes and awakens even these messengers.It is only the one Father who purifies the impure. Everyone definitely has to come down while taking rebirth. It is now the end of the iron age. As you progress further, people will accept this. The sound will emerge that the Father has come. God’s name is mentioned in the great war, but they changed the name. Destruction and establishment are the tasks of God alone. The Father Himself comes and opens the gates to heaven. You call out to Him: Baba, come! Come and open the gates to Paradise! The Father comes and opens the gates through you. Your name is glorified as the Shiv Shakti Army. Why are you called Pandavas? Because you are spiritual guides and you show everyone the path to heaven. The Father sits here and explains the essence of all the scriptures. Only those who understood these things in the previous cycle will do so again. We souls are guides and we will take everyone to the land of peace and then they have to go to the land of happiness. The land of sorrow has to be destroyed. There is the great Mahabharat War for that. You have all the detail in your intellects. “Manmanabhav, madhyajibhav” – the total knowledge is included in this. Just as Baba is k nowledge-full, so you children also become the same. Baba just keeps with Himself the key to divine vision. Instead of this, I make you into the masters of the world. I do not become that. There is this difference. The part of divine vision is also useful for you. God gives the return of your faith and devotion in the form of chick peas. Baba has explained how so many melas take place to Jagadamba. There aren’t so many melas to Lakshmi. There is so much difference! People place a picture of Lakshmi in their treasure-box with the hope that they will receive wealth. On the path of devotion, you receive chick peas whereas in knowledge, you receive diamonds. People simply ask for wealth from Lakshmi. They would not ask her for a child or for good health. People go to Jagadamba with all their desires. You now understand that you were worthy of worship and have now become worshippers and that you will then become worthy of worship. You children have now been enlightened with knowledge. You have become so unique. When the Satguru gives the ointment of knowledge, all the darkness is dispelled. You now know the beginning, the middle and the end of the drama. It has entered your intellects how you should value this study so much! You have been studying those studies for birth after birth and what did you receive? Chick peas. By studying this study for one birth, you receive diamonds and jewels. It is the duty of you children to make effort. What can the Teacher do if you don’t study? It is not a question of mercy here. The whole kingdom of the deities is being established at the confluence age. You are having your sins absolved with the power of yoga and with the power of knowledge, that is, through knowledge you are becoming so elevated. By bathing in the Ocean of Knowledge and in the rivers of knowledge you receive salvation. You children continue to receive methods with which to explain to others. According to the drama plan, Baba continues to explain to you the things He explained in the previous cycle. Children continue to come here, numberwise. The Brahmin clan has to grow. You children have to become great donors. Continue to explain something or other to anyone who comes. You also have to blow the conch shell. You cannot imbibe as much at home as you can imbibe here. Madhuban has been praised in the scriptures as the place where the flute (murli) is played. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Have a lot of value for this study. You mustn’t ask the Father for mercy etc. Continue to accumulate the powers of knowledge and yoga.
  2. Be merciful. Never let bitter words emerge through your lips. Always speak sweetly. Definitely do the service of making others equal to yourself.
Blessing: May you be a master bestower of happiness who becomes an embodiment of happiness and gives everyone happiness.
To be aconfluence-aged Brahmin means to have no name or trace of sorrow because the children of the Bestower of Happiness are masterbestowers of happiness. How can those who are master bestowers of happiness and embodiments of happiness experience sorrow themselves? They have stepped away in their intellects from the land of sorrow. They themselves are embodiments of happiness, and so they constantly give happiness to others. Just as the Father constantly gives happiness to every soul, so whatever is the Father’s task is also the task of the children. Even if someone is causing sorrow, you cannot cause sorrow. Your slogan is: Do not cause sorrow, do not accept sorrow.
Slogan: Imbibe the balance of being cheerful and mature (serious) and remain in a constant and stable stage.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 18 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 18 December 2017

To Read Murli 17 December 2017 :- Click Here
18/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बेहद के बाप से तुम बहुत ऊंची पढ़ाई पढ़ रहे हो, बुद्धि में है पतित-पावन गॉड फादर के हम स्टूडेन्ट हैं, नई दुनिया के लिए पढ़ रहे हैं”
प्रश्नः- रूहानी गवर्मेन्ट से इज़ाफा किन बच्चों को मिलता है?
उत्तर:- जो बहुतों को आप समान बनाने की मेहनत करते हैं। सर्विस का सबूत निकालते हैं उन्हें रूहानी गवर्मेन्ट बहुत बड़ा इज़ाफा देती है। वह भविष्य 21 जन्मों के लिए ऊंच पद के अधिकारी बनते हैं।

ओम् शान्ति। बाप कहते हैं बच्चों को कि मेरे द्वारा तुम मीठे-मीठे बच्चे पढ़ाई पढ़ रहे हो। यह पढ़ाई है ही नई दुनिया के लिए और कोई ऐसा कह न सके कि हम नई दुनिया के लिए पढ़ रहे हैं। जितना अच्छी रीति पढ़ेंगे उतनी प्रालब्ध 21 जन्मों के लिए तुम्हारी जमा हो जायेगी। बेहद के बाप से बेहद की पढ़ाई पढ़ रहे हैं। यह बेहद की बहुत ऊंची पढ़ाई है। बाकी तो सब पाई-पैसे की पढ़ाई है। तो इस बेहद की पढ़ाई में जितना तुम पुरुषार्थ करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। तुम्हारी बुद्धि में सदैव यह बातें रहनी चाहिए कि हम पतित-पावन गॉड फादर के स्टूडेन्ट हैं और नई दुनिया के लिए पढ़ रहे हैं तो तुमको कितना अच्छा पुरुषार्थ करना चाहिए कि हम पढ़कर पहले बाबुल के पास जायेंगे फिर अपनी-अपनी पढ़ाई अनुसार जाकर नई दुनिया में पद पायेंगे। वह है लौकिक पढ़ाई, यह है पारलौकिक पढ़ाई अर्थात् परलोक के लिए पढ़ाई। यह तो पुराना पतित लोक है। तुम जानते हो हम नर्कवासी से स्वर्गवासी बन रहे हैं। यह घड़ी-घड़ी याद पड़ना चाहिए तब तुम्हारे दिमाग में खुशी चढ़ेगी। शादी आदि में जाने से बहुत बच्चे भूल जाते हैं। पढ़ाई कभी भूलना नहीं चाहिए और ही खुशी रहनी चाहिए। हम भविष्य 21 जन्मों के लिए स्वर्ग के मालिक बनते हैं। जो अच्छी तरह बहुतों को आप समान बनाते हैं, वह फिर जरूर ऊंच पद पायेंगे। यह राज़ और कोई की बुद्धि में बैठ न सके। सर्विस करने का भी अक्ल होता है। डिपार्टमेंट अलग-अलग होती हैं। स्लाइड बनाने वालों को भी बाबा कहते हैं कि स्लाइड एक ही साइज़ में हो जो कोई भी प्रोजेक्टर में चल सके। पहले-पहले स्लाइड हो परमपिता परमात्मा से तुम्हारा क्या सम्बन्ध है? तो वह समझ जायें कि परमपिता परमात्मा हमारा बाप है। उनसे वर्सा क्या मिलता है? फिर दिखाना है त्रिमूर्ति ब्रह्मा द्वारा हमको यह सूर्यवंशी पद मिलता है। तुम भी पुरुषार्थ कर रहे हो नई दुनिया के लिए। अभी तुम हो संगम पर, पावन दुनिया बनाते हो। तुम्हारी बुद्धि में अब स्मृति आ गई है। बरोबर हम 5 हजार वर्ष पहले देवी-देवता थे। फिर राज्य गँवाया। बाकी यह राजाई आदि लेते हैं। वह सब हद की बातें हैं। तुम्हारी है बेहद की लड़ाई, श्रीमत पर तुम 5 विकार रूपी रावण के साथ लड़ते हो। तुम जानते हो ड्रामा में हार जीत का पार्ट है। हर 5 हजार वर्ष के बाद यह ड्रामा का चक्र फिरता है। तो अब तुम बच्चों को श्रीमत पर चलना पड़े, जिसको जो डायरेक्शन मिले। बच्चे कहते हैं हम समझते हैं परन्तु किसको समझा नहीं सकते। यह तो ऐसे हुआ जैसे समझा नहीं है। जितना खुद समझा हुआ है उतना ही पद पायेंगे। बुद्धि में स्वदर्शन चक्र फिरता ही रहे। स्वदर्शन चक्रधारी तुम बनते हो। दूसरे को अगर आप समान नहीं बनाया तो सर्विसएबुल नहीं ठहरे, इसलिए पूरा पुरुषार्थ करना चाहिए। औरों को भी सिखाना है। ब्राह्मणियों को हर एक के ऊपर मेहनत करनी है। टीचर्स बहुत मेहनत करती हैं तब तो इज़ाफा मिलता है। तुमको तो बहुत बड़ी गवर्मेंन्ट से इज़ाफा मिलता है। सर्विस का सबूत निकालना है। ग़फलत नहीं करनी चाहिए। यहाँ एक क्लास में हर प्रकार की पढ़ाई होती है। तुम जानते हो हम भविष्य में जाकर देवी-देवता बनेंगे। विनाश भी जरूर होना है। जैसे कल्प पहले स्वर्ग में मकान आदि बनाये थे वही फिर बनायेंगे। ड्रामा मदद करते हैं। वहाँ तो बड़े-बड़े महल बड़े-बड़े तख्त बनाते हैं। यहाँ थोड़ेही इतने बड़े महल सोने-चाँदी आदि के हैं। वहाँ तो हीरे-जवाहरात पत्थरों के मिसल होंगे। भक्ति में ही इतने हीरे-जवाहरात होते हैं तो सतयुग आदि में क्या नहीं होगा। भल करके साहूकार लोग यहाँ राधे-कृष्ण अथवा लक्ष्मी-नारायण आदि को सजाते हैं। सोने के जेवर आदि पहनाते हैं। बाबा को याद है – एक सेठ था उसने बोला लक्ष्मी-नारायण का मन्दिर बनाता हूँ, उसके लिए नये जेवर बनाने हैं। उस समय तो बहुत सस्ताई थी। तो सतयुग में क्या होगा। भक्ति मार्ग में बहुत माल थे, जो सब लूटकर ले गये। अब तुम बच्चों को सारा मालूम पड़ गया है। यह पढ़ाई है बहुत ऊंची। छोटे-छोटे बच्चों को भी सिखलाना चाहिए। राजविद्या के साथ यह भी विद्या देते रहो। शिवबाबा की याद दिलाते रहो। चित्रों पर समझाओ। बच्चों का भी कल्याण करो। शिवबाबा स्वर्ग का रचयिता है। तुम शिवबाबा को याद करेंगे तो स्वर्ग के मालिक बनेंगे। अविनाशी ज्ञान का विनाश तो होता नहीं है। थोड़ा भी सुनाने से राजधानी में आ जायेंगे। सतयुग में लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। वह फिर कहाँ गया? हम तुमको समझाते हैं गोया तुमको उस स्वर्ग के मालिक बना देंगे। सिखाने से सीख जायेंगे, मेहनत करनी है। फालतू बातों में टाइम वेस्ट नहीं करना चाहिए। ग़फलत करने से बहुत पछतायेंगे। बाप धन कमाकर बच्चों को देकर जाते हैं। अभी तो सबका विनाश होना है। अभी भी कितने लड़ाई-झगड़े मौत आदि होते रहते हैं। यह कुछ नहीं है। अभी करोड़ों की अन्दाज़ में विनाश होगा, सब जल मर खत्म हो जाने हैं। कब्रिस्तान बनना है तब फिर परिस्तान बनेगा। कब्रिस्तान तो बड़ा है परिस्तान तो छोटा होगा। मुसलमान भी कहते हैं सब कब्रदाखिल हैं। खुदा आकर सबको जगाते हैं और वापिस ले जाते हैं। इस समय सब आत्मायें कोई न कोई रूप में हैं। कब्र में शरीर पड़ा है, बाकी आत्मा जाकर दूसरा शरीर लेती है। इस समय माया ने सबको कब्रदाखिल कर रखा है। सब मरे पड़े हैं। खत्म होने वाले हैं इसलिए किसी से दिल नहीं लगानी है। दिल लगानी है एक के साथ। आखरीन में तुम्हारा सबसे ममत्व मिट जायेगा। एक बाप को याद करना है बस। तुम समझते हो हम यह पढ़ाई भविष्य 21 जन्मों के लिए पतित-पावन बाप के द्वारा पढ़ रहे हैं। परमपिता परमात्मा मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है, चैतन्य है। आत्मा भी चैतन्य है। जब तक आत्मा शरीर में न आये तो शरीर जड़ है। आत्मा ही चैतन्य है। अभी आत्मा को ज्ञान मिला है। हर एक आत्मा में अपना-अपना पार्ट नूँधा हुआ है। हर एक की एक्ट अपनी-अपनी है। वन्डरफुल ड्रामा है, इसको कुदरत कहा जाता है। इतनी छोटी सी आत्मा में कितना पार्ट नूँधा हुआ है। यह रूहानी बातें जो सुप्रीम रूह बैठ तुमको समझाते हैं। सैर कराते हैं, यह भी ड्रामा बना हुआ है, जो ड्रामा में नूँध है, उसका साक्षात्कार कराते रहते हैं। भल खेल पहले से ही अनादि बना हुआ है परन्तु मनुष्य नहीं जानते यह अनादि है। तुम तो सब कुछ जानते हो। जो कुछ होता है, एक सेकण्ड के बाद वह पास्ट हो जायेगा। जो पास्ट हो जाता है, तुम समझते हो यह ड्रामा में था। बाप ने समझाया है – सतयुग से लेकर क्या-क्या पार्ट हुआ है। यह बातें दुनिया नहीं जानती। बाप कहते हैं मेरी बुद्धि में जो नॉलेज है, वह तुमको दे रहा हूँ। तुमको भी आप समान बनाता हूँ। यह तो जानते हो सारी दुनिया भ्रष्टाचारी है। अब पहले-पहले पावन बनना और बनाना है। तुम्हारे सिवाए कोई पवित्र बना न सके।

अब बाप की श्रीमत पर चल दैवीगुण धारण करने हैं। बहुत मीठा बोलना है। कोई भी कड़ुआ बोल न निकले। सब पर रहम करना है। तुम सबको सिखला सकते हो – भगवानुवाच मनमनाभव। उनको यह पता नहीं है कि भगवान कौन है और उसने कब गीता सुनाई। तुम अभी समझते हो भगवानुवाच – अशरीरी बनो। देह के सब धर्म, मैं मुसलमान हूँ, पारसी हूँ, यह सब छोड़ दो। यह कौन कहते हैं? आत्मायें तो सभी आपस में भाई-भाई हैं। एक बाप के बच्चे हैं। आत्मायें अपने भाईयों को समझाती हैं कि बाप कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम मुक्तिधाम में जायेंगे। सब निर्वाणधाम जाने वाले हैं। दो अक्षर भी याद कर समझाना चाहिए। भगवान सबका एक है। कृष्ण तो हो न सके। अब बाप कहते हैं देह के सभी धर्म त्याग मामेकम् याद करो। आत्मा प्रकृति का आधार लेकर यहाँ पार्ट बजाती है। क्राइस्ट के लिए भी कहते हैं कि अभी वह बेगर है। सभी की पुरानी जुत्ती है। क्राइस्ट ने भी जरूर पुनर्जन्म लिया होगा। अभी तो लास्ट जन्म में होगा। इन मैसेन्जर्स को भी बाप ही आकर जगाते हैं। पतितों को पावन बनाने वाला एक ही बाप है। सभी को पुनर्जन्म लेते-लेते नीचे आना ही है। अभी कलियुग का अन्त है। आगे चलकर यह भी मानेंगे। आवाज निकलेगा कि बाप आया हुआ है। महाभारी लड़ाई में भगवान का नाम है ना। परन्तु नाम बदली कर दिया है। विनाश और स्थापना यह तो भगवान का ही काम है। बाप ही आकर स्वर्ग के द्वार खोलेंगे। तुम बुलाते हो बाबा आओ, आकर वैकुण्ठ का द्वार खोलो। तुम्हारे द्वारा बाप आकर द्वार खोलते हैं। तुम्हारा नाम बाला है – शिव शक्ति सेना। तुमको पाण्डव क्यों कहते हैं क्योंकि तुम रूहानी पण्डे हो, स्वर्ग का रास्ता बताते हो। बाप बैठ सभी शास्त्रों का सार बताते हैं। इन बातों को समझेंगे वही जिन्होंने कल्प पहले समझा है। हम आत्मायें पण्डे हैं सबको शान्तिधाम में ले जायेंगे फिर सुखधाम में आना है। दु:खधाम का विनाश होना है – इसके लिए यह महाभारत लड़ाई है। तुम्हारी बुद्धि में सारी डिटेल है। मनमनाभव, मध्याजीभव इनमें सारा ज्ञान आ जाता है। जैसे बाबा नॉलेजफुल है, तुम बच्चे भी बनते हो। सिर्फ दिव्य दृष्टि की चाबी मैं अपने पास रखता हूँ। इसके बदले फिर तुमको विश्व का मालिक बनाता हूँ। मैं नहीं बनता हूँ। यह फ़र्क रहता है। दिव्य दृष्टि का पार्ट भी तुम्हारे काम में आता है। भावना के भूगरे (चने) दे देते हैं। बाबा ने समझाया है – जगत अम्बा का कितना मेला लगता है। लक्ष्मी का इतना मेला नहीं लगता। कितना फ़र्क है। लक्ष्मी के चित्र को तिजोरी में रखते हैं कि धन मिलेगा। भक्ति मार्ग में मिलते हैं भूगरे (चने) ज्ञान में मिलते हैं हीरे। लक्ष्मी से सिर्फ धन मांगते हैं। उनको ऐसे नहीं कहेंगे कि बच्चा दो, तन्दरूस्ती दो। जगत अम्बा के पास सब आशायें ले जाते हैं।

अभी तुम समझते हो हम पूज्य थे, अब पुजारी बने हैं फिर पूज्य बनते हैं। ज्ञान से रोशनी मिल गई है बच्चों को। तुम कितने निराले बन गये हो। ज्ञान अंजन सतगुरू दिया… तुम ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त को जान गये हो। बुद्धि में आ गया है तो तुमको इस पढ़ाई का कितना कदर रहना चाहिए। वह पढ़ाई तुम जन्म-जन्मान्तर पढ़ते आये हो, मिलता क्या है? भूगरे (चने)। यह पढ़ाई एक जन्म पढ़ने से तुमको हीरे-जवाहरात मिलते हैं। अब पुरुषार्थ करना तो तुम बच्चों का काम है। नहीं पढ़ते हैं तो इसमें टीचर क्या करेंगे? कृपा की तो यहाँ बात ही नहीं। संगम पर देवताओं की सारी राजधानी स्थापन हो रही है। योगबल से तुम अपने विकर्मों का विनाश करते हो और ज्ञान बल अर्थात् नॉलेज से तुम कितना ऊंच बनते हो। ज्ञान सागर और ज्ञान नदियों द्वारा स्नान करने से सद्गति होती है। बच्चों को समझाने की युक्तियाँ मिलती रहती हैं। ड्रामा प्लैन अनुसार जो कल्प पहले समझाया है वही समझाते रहते हैं। बच्चे भी नम्बरवार आते रहते हैं। ब्राह्मण कुल की वृद्धि होनी ही है। तुम बच्चों को महादानी बनना है। जो कोई आये उनको कुछ न कुछ समझाते रहो। शंखध्वनि करनी है। यहाँ जितनी तुम धारणा कर सकते हो उतनी घर में नहीं होती। शास्त्रों में भी मधुबन का गायन है वहाँ मुरली बजती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पढ़ाई का बहुत कदर रखना है। बाप से कृपा आदि नहीं मांगनी है। ज्ञान और योगबल जमा करना है।

2) रहमदिल बनना है। मुख से कभी कड़ुवे बोल नहीं बोलने हैं। सदा मीठा बोलना है। आप समान बनाने की सेवा जरूर करनी है।

वरदान:- सुख स्वरूप बन सबको सुख देने वाले मास्टर सुखदाता भव
संगमयुगी ब्राह्मण अर्थात् दुख का नाम-निशान नहीं क्योंकि सुखदाता के बच्चे मास्टर सुखदाता हो। जो मास्टर सुखदाता, सुख स्वरूप हैं वह स्वयं दुख में कैसे आ सकते हैं। बुद्धि से दुखधाम का किनारा कर लिया। वे स्वयं तो सुख स्वरूप रहते ही हैं लेकिन औरों को भी सदा सुख देते हैं। जैसे बाप हर आत्मा को सदा सुख देते हैं ऐसे जो बाप का कार्य वो बच्चों का कार्य। कोई दुख दे रहा है तो भी आप दु:ख नहीं दे सकते, आपका स्लोगन है ”ना दु:ख दो, ना दु:ख लो।”

स्लोगन:- हर्षित और गम्भीर बनने के बैलेन्स को धारण कर एकरस स्थिति में स्थित रहो।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize