today murli 17 november

TODAY MURLI 17 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 17 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 16 November 2018 :- Click Here

17/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you children of Brahma are brothers and sisters. Your attitude should be very clean and pure.
Question: Which children’s explanations leave a very good impression?
Answer: Those who live at home with their families and remain as pure as a lotus flower. When such experienced children explain this knowledge to others, it makes a very good impression on them, because to be married and yet not have any impure attitude is a very high destination. You children have to remain extremely cautious about this.
Song: Our pilgrimage is unique.

Om shanti. The Father sits here and explains to you children because only you children know the Father. Children are children. All of you children are Brahma Kumars and Kumaris. You know that Brahma Kumars and Kumaris are brothers and sisters; you are all children of the one father. Therefore, you have to explain that, in reality , we souls are brothers and sisters. All (souls) are brothers. Here, you understand that you are the children of the one Grandfather and father: you are the grandchildren of Shiv Baba and the children of Brahma. This one’s wife also says that she is a Brahma Kumari. Therefore, her relationship also becomes that. A physical brother and sister do not have impure vision for one another. Nowadays, everyone has become dirty, because this world has become dirty. You children understand that you are now Brahma Kumars and Kumaris. You have become adopted children through Brahma; therefore, you are brothers and sisters. You have to explain that there are two types of renunciation. Renunciation means to remain pure, to renounce the five vices. Those others are hatha yogi sannyasis; their department is separate. They break all ties with those on the family path. They are called hatha yogi sannyasis, renunciates of action. It has been explained to you children that, while living at home with your families, you have to renounce the consciousness of your bodies and bodily relations and remember the Father. They leave their homes and businesses. They do not keep any connections with their maternal uncles or paternal uncles. They believe that there is only one thing for them, that one thing alone must be remembered and that their light will merge into that light, that they have to return to the land of nirvana. Their department is separate and their costumes are also separate. They say that women are the gateway to hell, that fire and cotton wool cannot stay together, that only by living separately can they protect themselves. According to the drama, their religion is separate. Shankaracharya created that religion. He taught hatha yoga and the renunciation of action, not Raja Yoga. You understand that the drama is predestined. This is also numberwise; not everyone can be 100% sensible. It is said that some are 100% sensible and some are 100% non-sensible. This will happen. You understand that since you say “Mama and Baba” you are brothers and sisters. The law says that there should not be any dirty attitude. A brother and sister can never marry. If there is something going on at home between a brother and sister, and their father sees that their activity is dirty, he would be very concerned. Where have they come from that they cause so much damage? He would scold them a great deal. Previously, everyone would be very cautious about these things. Now everyone is 100% tamopradhan. The force of Maya is very strong. Maya just fights the children of the Supreme Father, the Supreme Soul. The Father says: These are My children. I am taking them to heaven. Maya says: No, these children are mine! I am going to take them to hell. Here, you are in the hands of the Father, Dharamraj. Those who live at home with their families and remain pure should explain very clearly to others how they remain pure while living together. The Father is inspiring you to carry out the task that the hatha yogi sannyasis cannot. Sannyasis cannot teach Raja Yoga. Vivekananda wrote a book with the title “Raja Yoga”. However, sannyasis belong to the path of isolation and cannot teach Raja Yoga. When those of you who remain pure while living at home explain knowledge to others, your arrow will strike the target very well. Baba read in the newspapers that there is a conference being held in Delhi about trees. You should ask them that, as well as being concerned about those wild trees, whether they are ever concerned about the genealogical tree, as to how the human world tree emerged and how it is sustained. As yet, the intellects of you children have not become that broad: you do not pay that much attention. There is one sickness or another. Even in a physical home, a brother and sister never have dirty thoughts about one another. Here, all of you are children of the one Father; you are brothers and sisters, Brahma Kumars and Kumaris. If dirty thoughts do come, what would be said about them? They would be considered to be a thousand times dirtier than those who live in hell. You children have a great responsibility. Those who live at home with their families have to make a great deal of effort to remain pure. No one in the world knows these aspects. The Father comes to purify you. Therefore, you children definitely make a promise and tie a rakhi. Great effort is needed for this. To get married and yet remain pure is a very steep destination. The intellect should not be pulled even slightly. When people get married, they become impure. The Father comes and saves you from being stripped. The story of Draupadi has been written in the scriptures. There is definitely some significance in those things too. All of those scriptures etc. are fixed in the drama. Everything that passes in the drama is predestined and it definitely has to repeat. The path of knowledge and the path of devotion are both fixed. Your intellects have now become very broad. As is the intellect of the unlimited Father, so should be the intellects of the special children who follow shrimat. There are countless children. Who knows how many more there will be? Until they become Brahmins, they cannot claim their inheritance. You now belong to the clan of Brahma and you will later belong to the sun dynasty, that is, to the Vishnu dynasty. You now belong to the clan of Shiva. Shiva is Dada (Grandfather) and Brahma is Baba. There is only the one Father of Humanity of all the people. People understand that there has to be the Seed of the human world tree, and that there has to be a human being who comes first, whom they call the ‘New Man . Who would the ‘New Man’ be? It must be Brahma. Brahma and Saraswati are considered to be the new ones. A broad intellect is needed to understand this. It is soul s that say: God the Father ! O Supreme God the Father ! It is souls who say this, and so He must be the Creator of all, the Highest on High. Then, down here in this human world, who would be considered to be the highest? The Father of Humanity. Anyone can understand that Brahma is the main one in this human world tree. Shiva is the Father of souls and Brahma can be called the creator of human beings. However, under whose directions does he accomplish this? The Father says: I adopt Brahma. So, where would the new Brahma come from? I enter the body of this one during the final birth of his many births and name him Prajapita Brahma. You now understand that you are definitely the children of Brahma. We are taking knowledge from Shiv Baba. We have come to receive purity, happiness, peace, health and wealth from the Father. We used to be constantly happy in Bharat. Now, we are no longer that. The Father is once again giving us that inheritance. You children understand that purity is first. On whom is a rakhi tied? Those who have become impure make a promise that they will definitely remain pure. The Father explains that this destination is very high. It should first be explained to a married couple about how we live in the consciousness of being brothers and sisters. Yes, it does take time to make this stage firm. Children write that many storms of Maya come. Therefore, it is good if those children who live at home and remain pure give lectures, because this is something new. This is self-sovereign yoga. There is also renunciation in this. While living at home with your family, you want to receive liberation-in-life, that is, salvation. Here, there is bondage-in-life. Your status is that of self-sovereignty. The self wants sovereignty. He doesn’t have sovereignty now. The soul says: I was a king, I was a queen, and now I have become vicious and poverty-stricken. I have no virtues. It is the soul that says this. Therefore, you have to consider yourself to be a soul, a child of the Supreme Father, the Supreme Soul. We souls are brothers, so there should be a great deal of love between us. We are making the whole world lovely. In the kingdom of Rama, the lion and the lamb used to drink water from the same pool; no one ever used to fight. So, how much love should there be between you children? This stage will be reached gradually. Many fight a lot. They fight in Parliament; they even throw chairs at one another! That is a devilish gathering. This is your Godly gathering and so how much intoxication should you have? However, this is a school. In a school, some go ahead in their studies and some fall behind. This school is wonderful . There, the teachers and the schools are separate, whereas here, there is one schooland one Teacher. The Soul adopts a body and teaches. He teaches souls. We souls are studying through our bodies. You have to become soul conscious to this extent. We are souls and that One is the Supreme Soul. This should race around in your intellects throughout the whole day. It is due to body consciousness that you make mistakes. The Father says to you again and again: May you be soul conscious! By becoming body conscious, you are attacked by Maya. This climb is very steep. You have to churn the ocean of knowledge so much! It is at night that you can churn the ocean of knowledge. By churning the ocean of knowledge in this way, you will gradually become like the Father. You children have to keep the whole of this knowledge in your intellects. Stay at home with your families and study Raja Yoga. It is all the work of the intellects, it is the intellect that imbibes these things. There is a lot of effort involved for those who live at home with their families. Nowadays, because of being tamopradhan, people have become very dirty. Maya has destroyed everyone. She has chewed everyone up and completely swallowed them. The Father comes and removes you from the stomach of Maya, the alligator. It is very difficult to remove you from there. Those who live at home with their families have to show their sparkle. You should explain: Ours is Raja Yoga. Why are we called Brahma Kumars and Kumaris? You have to understand and explain this riddle and tell them: In fact, you too are Brahma Kumars and Kumaris. Prajapita Brahma creates the new world. The new world is created through the New Man. In fact, the first child of the golden age should be called the new one. This is an aspect of great happiness. There, bugles of happiness will be played. There, souls and bodies both remain pure. Baba has now entered this one’s body. This new man is not pure. He (Baba) sits in this old one and makes him new. He makes old things new. Now, who can be called the new man? Should Brahma be called this? The intellect works on this. They don’t understand who Adam and Eve are. The new man is Shri Krishna and later he becomes the old man Brahma. I am now once again making this old man Brahma into that new man. A new man is needed for the new world. Where would he come from? The new man is the prince of the golden age. He is known as the beautiful one. This one is ugly; he is not a new man. The same Shri Krishna who takes 84 births is now in his final birth and has been adopted by Baba. He makes old things new. These are such deep things to understand. The new become old and the old become new. The ugly one becomes beautiful and then the beautiful one becomes ugly. The one who is the oldest of all is now becoming the newest of all. You understand that Baba rejuvenates you and makes you new. These aspects have to be understood. You also have to create your own stage. Kumars and kumaris are pure anyway. However, those who live at home with their families have to live like a lotus flower and also become spinners of the discus of self-realization. The clan of Vishnu does not have the knowledge of being trikaldarshi. The old man is trikaldarshi. These are such tricky aspects. It is the old man who takes knowledgeand becomes the new man. The Father sits here and explains: That is hatha yoga and this is Raja Yoga. Raja Yoga means to claim the kingdom of heaven. Sannyasis say that happiness is like the droppings of a crow; they dislike it. The Father says: Women are the gateway to heaven. I place the urn of knowledge on you mothers. So, first of all, explain “Salutations to Shiva” and “God Shiva speaks”. This sound should be very loud.Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. We souls are brothers. With this faith, live together with a lot of love for one another by observing this promise of purity. Make everyone lovely.
  2. By making your intellect broad, understand the deep significance of this knowledge. Churn the ocean of knowledge. In order to be protected from any attack of Maya, practise remaining soul conscious.
Blessing: May you be knowledge-full and cure yourself by giving yourself the pills and injection of happiness.
Brahmin children can treat their own illnesses. The nourishment of happiness is a medicine that can cure you in seconds. Just as when doctors give you a powerful injection, you are instantly transformed, so, when Brahmins give themselves pills or an injection of happiness, the form of their illness changes. The light and might of knowledge helps a lot to make your body function. When any illness comes, it is a means to give the intellect some rest.
Slogan: Those who attain all success with concentration of the mind become embodiments of success.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 17 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 November 2018

To Read Murli 16 November 2018 :- Click Here
17-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम ब्रह्मा की सन्तान आपस में भाई-बहन हो, तुम्हारी वृत्ति बहुत शुद्ध पवित्र होनी चाहिए”
प्रश्नः- किन बच्चों के समझाने का प्रभाव बहुत अच्छा पड़ सकता है?
उत्तर:- जो गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान पवित्र रहते हैं। ऐसे अनुभवी बच्चे किसी को भी समझायें तो उनके समझाने का बहुत अच्छा प्रभाव पड़ सकता है क्योंकि शादी करके भी अपवित्र वृत्ति न जाये – यह बहुत बड़ी मंज़िल है। इसमें बच्चों को बहुत-बहुत खबरदार भी रहना है।
गीत:- हमारे तीर्थ न्यारे हैं……..

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं क्योंकि बच्चे ही बाप को जानते हैं। बच्चे तो सब बच्चे ही हैं, सब बच्चे ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं, वह जानते हैं ब्रह्माकुमार-कुमारियां हुए बहन-भाई। सब एक बाप के बच्चे हैं तो रीयल्टी में समझाना है कि हम आत्मायें भाई-बहन हैं। सब ब्रदर्स हैं। यहाँ तो तुम जानते हो हम एक ही ग्रैन्ड फादर और फादर के बच्चे हैं। शिवबाबा के पोत्रे, ब्रह्मा के बच्चे हैं। समझो इनकी लौकिक स्त्री है, उसने भी कहा हम ब्रह्माकुमारी हैं तो उसका भी नाता वह हो जाता। जैसे लौकिक बहन-भाई हों, उसमें कोई गन्दी दृष्टि नहीं जाती है, आजकल तो सब गन्दे बन पड़ते हैं क्योंकि दुनिया ही डर्टी है। तुम बच्चे अभी समझते हो हम ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं। ब्रह्मा द्वारा एडाप्टेड चिल्ड्रेन बने हैं तो बहन-भाई हैं। समझाना पड़े, सन्यास भी दो प्रकार के हैं। सन्यास अर्थात् पवित्र रहना, 5 विकारों को छोड़ना। वह है हठयोग सन्यासी, उनकी डिपार्टमेंट ही अलग है। प्रवृत्ति मार्ग वालों का कनेक्शन ही छोड़ जाते हैं, उनका नाम ही है हठयोग कर्म सन्यासी। तुम बच्चों को समझाया जाता है गृहस्थ व्यवहार में रहते देह सहित देह के सब सम्बन्ध त्याग बाप को याद करना है। वो तो घरबार छोड़ देते हैं। मामा, चाचा, काका कोई नहीं रहता। समझते हैं बाकी है एक, उनको ही याद करना है, वा ज्योति ज्योत समाना है। निर्वाणधाम जाना है। उनकी डिपार्टमेंट ही अलग है, पहरवाइस अलग है। वह तो कह देते स्त्री नर्क का द्वार है, आग कपूस इक्कट्ठे रह नहीं सकते। अलग होने से ही हम बच सकते हैं। ड्रामा अनुसार उनका धर्म ही अलग है। वह स्थापना शंकराचार्य की है, वह सिखलाते हैं हठयोग, कर्म सन्यास, न कि राजयोग। तुम जानते हो ड्रामा बना हुआ है सो भी नम्बरवार। 100 परसेन्ट सेन्सीबुल सबको तो नहीं कहेंगे। तो भी कहेंगे कोई 100 परसेन्ट सेन्सीबुल हैं, कोई 100 परसेन्ट नानसेन्सीबुल हैं। यह तो होगा। तुम जानते हो हम कहते हैं मम्मा-बाबा तो आपस में बहन-भाई हो गये। गन्दी वृत्ति होनी नहीं चाहिए, लॉ ऐसा कहता है। बहन-भाई की आपस में कभी शादी हो न सके। बहन-भाई का अगर घर में कुछ भी होता है, बाप देखते हैं इनकी चलन गन्दी है तो बड़ा फिक्र रहता है। यह कहाँ से पैदा हुए, कितना नुकसान करते हैं, बहुत उसको डांटते हैं। आगे इन बातों की परहेज रहती थी। अभी तो 100 परसेन्ट तमोप्रधान हैं, माया का प्रभाव बरोबर जोर है। परमपिता परमात्मा के बच्चों से तो माया की एकदम लड़ाई होती है। बाप कहते हैं – यह हमारे बच्चे हैं, हम इन्हों को स्वर्ग में ले जाता हूँ। माया कहती है – नहीं, यह हमारे बच्चे हैं, हम इनको नर्क में ले जाती हूँ। यहाँ तो धर्मराज बाप के हाथ में हैं। तो जो गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए पवित्र रहते हैं उन्हें औरों को बहुत अच्छी रीति समझाना है कि हम कैसे इक्कट्ठे रहते हुए पवित्र रहते हैं। जो काम हठयोगी सन्यासी भी न कर सके सो बाप करा रहे हैं। सन्यासी कभी राजयोग सिखला न सकें। विवेकानंद की किताब पर बाहर से नाम लिखा है राजयोग। परन्तु सन्यासी जो निवृत्ति मार्ग वाले हैं वह राजयोग सिखला न सकें। तुम जो गृहस्थ व्यवहार में रहते और पवित्र रहते हो, वह समझायेंगे तो उसका तीर अच्छा लगेगा। बाबा ने अखबार में देखा था, देहली में झाड़ों के बारे में कुछ कान्फ्रेन्स होती है। उसके ऊपर भी कैसे समझायें कि तुम इन जंगली झाड़ों आदि का तो ख्याल करते हो परन्तु इस जिनालॉजिकल ट्री का कभी ख्याल किया है कि इस मनुष्य सृष्टि की कैसे उत्पत्ति, पालना होती है।

बच्चों की इतनी विशालबुद्धि बनी नहीं है। इतना अटेन्शन नहीं है। कोई न कोई बीमारी लगी हुई है। लौकिक घर में भी बहन-भाई के कभी गन्दे ख्यालात नहीं होते। यहाँ तो तुम सब एक बाप के बच्चे हो बहन-भाई, ब्रह्माकुमार-कुमारियां। अगर गन्दे ख्यालात आयें तो उनको क्या कहेंगे? वह, जो नर्क में रहते हैं, उनसे भी हजार गुणा गन्दे गिने जायेंगे। बच्चों पर बहुत रेसपान्सिबिलिटी है। जो गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए पवित्र रहते हैं, बड़ी मेहनत उनके लिए है। दुनिया इन बातों को नहीं जानती। बाप आते हैं पावन बनाने तो जरूर बच्चे प्रतिज्ञा करेंगे, राखी बांधी हुई है। इसमें बड़ी मेहनत है। शादी कर और पवित्र रहे, बड़ी भारी मंज़िल है। जरा भी बुद्धि नहीं जानी चाहिए। शादी हो जाती है तो विकारी हो जाते हैं। बाप आकर नंगन होने से बचाते हैं। द्रोपदी की भी शास्त्रों में बात है। इन बातों में कुछ रहस्य तो है ना। यह शास्त्र आदि सब ड्रामा में नूंध हैं – जो कुछ पास्ट होता आया है, वह ड्रामा में नूंध है, उसको रिपीट जरूर करना है। ज्ञान मार्ग और भक्ति मार्ग की भी नूंध है। तुम्हारी बुद्धि अब बहुत विशाल हो गई है। जैसे बेहद बाप की बुद्धि वैसे मुरब्बी बच्चों की, जो श्रीमत पर चलते हैं। ढेर बच्चे हैं। पता नहीं, अजुन कितने बच्चे होंगे। जब तक ब्राह्मण-ब्राह्मणी न बनें तब तक वर्सा पा नहीं सकते। अब तुम ब्रह्मावंशी ही फिर जाकर सूर्यवंशी अथवा विष्णुवंशी बनेंगे। अभी हो शिव वंशी। शिव है दादा (ग्रैन्ड फादर), ब्रह्मा है बाबा। प्रजापिता तो एक हुआ ना, सारी प्रजा का। जानते भी हैं जो मनुष्य सृष्टि का झाड़ है, उसका भी बीज होगा। इसमें पहला मनुष्य भी होगा, जिसको न्यु मैन कहते हैं। न्यु मैन कौन होगा? ब्रह्मा ही होगा। ब्रह्मा और सरस्वती – वह न्यु गिने जायेंगे। इसमें बड़ी बुद्धि चाहिए। सोल ही कहती है ओ गॉड फादर, ओ सुप्रीम गॉड फादर। आत्मा कहती है ना, तो वह सबका रचयिता है। ऊंच ते ऊंच वह हुआ। फिर आओ मनुष्य सृष्टि पर। उनमें ऊंच किसको रखें? प्रजापिता। यह तो कोई भी समझ सकते हैं कि मनुष्य सृष्टि का जो झाड़ है, उसमें ब्रह्मा हो गया मुख्य। शिव तो है आत्माओं का बाप, ब्रह्मा को रचता कह सकते हैं मनुष्यों का। परन्तु किसकी मत पर करते हैं? बाप कहते हैं मैं ही ब्रह्मा को एडाप्ट करता हूँ। नया ब्रह्मा फिर कहाँ से आयेगा? बहुत जन्मों के अन्त के जन्म में मैं इसमें प्रवेश करता हूँ। इनका नाम प्रजापिता ब्रह्मा रखता हूँ। अभी तुम जानते हो हम बरोबर ब्रह्मा के बच्चे हैं। शिवबाबा से नॉलेज ले रहे हैं। हम बाप से पवित्रता, सुख, शान्ति, हेल्थ, वेल्थ लेने आये हैं। भारत में हम ही सदा सुखी थे। अभी नहीं हैं। फिर बाप वह वर्सा दे रहे हैं। बच्चे जानते हैं फर्स्ट है पवित्रता। राखी किसको बांधी जाती है? जो अपवित्र बनते हैं वह प्रतिज्ञा करते हैं हम पवित्र रहेंगे। बाप समझाते हैं यह मंज़िल बड़ी भारी है। पहले से ही जो युगल हैं उनको समझाना पड़े – हम कैसे भाई-बहन हो रहते हैं। हाँ, अवस्था जमाने में टाइम लगता है। बच्चे लिखते भी हैं माया के तूफान बहुत आते हैं। तो गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र रहने वाले बच्चे भाषण करें तो अच्छा है क्योंकि यह है नई बात। यह है ही स्व-राजयोग। इसमें भी सन्यास है। गृहस्थ व्यवहार में रहते हम जीवनमुक्ति अर्थात् सद्गति पायें। यह तो जीवनबन्ध है। तुम्हारा है स्वराज्य पद। स्व को राज्य चाहिए। अब उनको राज्य नहीं है। आत्मा कहती है हम राजा थे, हम रानी थे, अब हम विकारी कंगाल बने हैं, हमारे में कोई गुण नहीं हैं। यह आत्मा कहती है ना। तो अपने को आत्मा, परमपिता परमात्मा की सन्तान समझना है। हम आत्मा भाई-भाई हैं, आपस में बहुत लव होना चाहिए। हम सारी दुनिया को लवली बनाते हैं। रामराज्य में तो शेर बकरी भी इक्कट्ठे जल पीते थे, कभी लड़ाई नहीं करते थे तो तुम बच्चों में कितना लव होना चाहिए। यह अवस्था धीरे-धीरे आयेगी। लड़ते तो बहुत हैं ना। पार्लियामेंट में भी लड़ते हैं तो एक-दो को कुर्सी उठाकर मारने लग पड़ते हैं। वह तो है आसुरी सभा। तुम्हारी यह है ईश्वरीय सभा तो कितना नशा होना चाहिए। परन्तु यह स्कूल है। पढ़ाई में कोई तो ऊंच चले जाते हैं, कोई ढीले पड़ जाते हैं। यह स्कूल भी वन्डरफुल है, वहाँ तो स्कूल टीचर अलग-अलग होते हैं, यहाँ स्कूल टीचर एक, स्कूल एक है। आत्मा शरीर धारण कर टीच करती है। आत्मा को सिखलाते हैं। हम आत्मा, शरीर द्वारा पढ़ते हैं। इतना आत्म-अभिमानी बनना है। हम आत्मायें हैं, वह परमात्मा है। यह बुद्धि में सारा दिन दौड़ाना है। देह-अभिमान से ही भूलें हो जाती हैं। बाप बार-बार कहते हैं देही-अभिमानी भव। देह-अभिमान में आने से माया का वार होगा। चढ़ाई बहुत बड़ी है। कितना विचार सागर मंथन करना होता है। रात को ही विचार सागर मंथन हो सकता है। ऐसे विचार सागर मंथन करते-करते बाप जैसा बनते जायेंगे।

तुम बच्चों को सारा ज्ञान बुद्धि में रखना है। गृहस्थ व्यवहार में रहकर राजयोग सीखना है। सारा बुद्धि का काम है। बुद्धि में धारणा होती है। गृहस्थियों को तो बहुत मेहनत है। आजकल तो तमोप्रधान होने कारण बहुत गन्दे होते हैं। माया ने सबको खत्म कर दिया है। चबाकर एकदम खा ही जाती है। बाप आते हैं माया अजगर के पेट से निकालने। निकालना बड़ा मुश्किल होता है। जो गृहस्थ व्यवहार में रहते हैं उनको जलवा दिखाना है। समझाना है हमारा राजयोग है। हम ब्रह्माकुमार-कुमारियां क्यों कहते हैं? इस पहेली को समझना, समझाना है। वास्तव में बी.के. तो तुम भी हो। प्रजापिता ब्रह्मा तो नई सृष्टि रचते हैं। न्यु मैन द्वारा नई सृष्टि बनाते हैं। वास्तव में तो सतयुग का पहला बच्चा जो होता है उनको ही न्यु कहेंगे। कितनी खुशी की बात है। वहाँ तो खुशी के बाजे गाजे बजेंगे। वहाँ तो आत्मा और शरीर दोनों पवित्र रहते हैं। यहाँ तो इसमें अभी बाबा ने प्रवेश किया है। यह न्यु मैन कोई पवित्र नहीं है, पुराने में बैठ इनको न्यु बनाते हैं। पुरानी चीज़ को नया बनाते हैं। अब न्यु मैन किसको कहें? क्या ब्रह्मा को कहें? बुद्धि का काम चलता है। वह थोड़ेही समझते हैं – एडम ईव कौन हैं? न्यु मैन है श्रीकृष्ण, वही फिर पुराना मैन ब्रह्मा। फिर पुराना मैन ब्रह्मा को न्यु मैन बनाता हूँ। न्यु वर्ल्ड का न्यु मैन चाहिए। वह कहाँ से आये? न्यु मैन तो सतयुग का प्रिन्स है। उनको ही गोरा कहते हैं। यह है सांवरा, यह न्यु मैन नहीं। वही श्रीकृष्ण 84 जन्म लेते-लेते अब पिछाड़ी के जन्म में है, जिसको फिर बाबा एडाप्ट करते हैं। पुराने को नया बनाते हैं, कितनी गूढ़ बाते हैं समझने की। न्यु सो ओल्ड, ओल्ड सो न्यु। श्याम सो सुन्दर, सुन्दर सो श्याम। जो पुराने ते पुराना है वही नये ते नया बन रहे हैं। तुम जानते हो हमको बाबा रिज्युवनेट कर नये ते नया बनाते हैं। यह बड़ी समझने की बातें हैं। और अपनी अवस्था भी बनानी है। कुमार-कुमारी तो हैं ही पवित्र। बाकी हम गृहस्थ में रहते कमल फूल समान बनते हैं, स्वदर्शन चक्रधारी बनते हैं। विष्णुवंशी को त्रिकालदर्शीपने का नॉलेज नहीं है। पुराने मैन त्रिकालदर्शी हैं। कितनी अटपटी बातें हैं। ओल्ड मैन ही नॉलेज लेकर न्यु मैन बनते हैं। बाप बैठ समझाते हैं वह हठयोग है, यह राजयोग है। राजयोग माना ही स्वर्ग की बादशाही। सन्यासी तो कहते सुख काग विष्टा समान है। नफरत करते हैं। बाप कहते हैं नारी ही स्वर्ग का द्वार है। माताओं पर कलष रखता हूँ। तो पहले-पहले समझाओ शिवाए नम:, भगवानुवाच। आवाज बुलन्द निकलना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) हम आत्मा भाई-भाई हैं, इस निश्चय से पवित्रता के व्रत को पालन करते हुए आपस में बहुत प्यार से रहना है। सबको लवली बनाना है।

2) विशाल बुद्धि बन ज्ञान के गुह्य रहस्यों को समझना है, विचार सागर मंथन करना है। माया के वार से बचने के लिए देही-अभिमानी हो रहने का अभ्यास करना है।

वरदान:- खुशी की गोली वा इन्जेक्शन द्वारा स्वयं की दवाई स्वयं करने वाले नॉलेजफुल भव
ब्राह्मण बच्चे अपने बीमारी की दवाई स्वयं ही कर सकते हैं। खुशी की खुराक सेकण्ड में असर करने वाली दवाई है। जैसे डाक्टर्स पावरफुल इन्जेक्शन लगा देते हैं तो चेंज हो जाते। ऐसे ब्राह्मण स्वयं ही स्वयं को खुशी की गोली दे देते वा खुशी का इन्जेक्शन लगा देते तो बीमारी का रूप बदल जाता। नॉलेज की लाइट माइट शरीर को भी चलाने में बहुत मदद देती है। कोई भी बीमारी आती है तो यह भी बुद्धि को रेस्ट देने का साधन है।
स्लोगन:- जो मन की एकाग्रता द्वारा सर्व सिद्धियां प्राप्त कर लेते हैं वही सिद्धि स्वरूप बनते हैं।

TODAY MURLI 17 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 17 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 17 November 2017 :- Click Here

17/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, have broad intellects and do the service of making the whole world into the land of happiness from the land of sorrow and pure from impure. Save your time; do not waste it.
Question: Who is healthy and who is unhealthy on the path of knowledge?
Answer: Those who churn the ocean of knowledge and experience it to be a form of entertainment in their lives are healthy. Those who cannot churn the ocean of knowledge are unhealthy. When a cow eats grass, it chews it all day; their mouth continues to work. If the mouth is not working, it would be understood that the cow is ill. It is the same here.

Om shanti. You sweetest, beloved, long-lost and now-found children come to the unlimited Father in order to be refreshed because you children know that they will receive the sovereignty of the unlimited world from the unlimited Father. You should never forget this. If you children constantly remember this you can experience limitless happiness. Repeatedly continue to look at the badges that Baba has had made while you are walking and moving around. Oho! Through God’s shrimat, we are becoming this! Look at the badge and continue to say, “Baba, Baba!” and there will be constant remembrance. We are becoming this (Lakshmi and Narayan) through the Father. So, you should follow the Father’s shrimat, should you not? Sweet children, you should have very broad and unlimited intellects. Only continue to have thoughts of only service throughout the day. Baba wants those children who cannot stay without doing service. You children have to surround the whole world, that is, you have to make the impure world pure. You have to make the whole world of sorrow into the land of happiness. A teacher enjoys teaching good students. Together with being students, you have also become elevated teachers. The better the teacher is, the more she will make others the same as herself; she will never get tired. There is great happiness experienced in doing Godly service. You receive the Father’s help. This is a huge, unlimited business. It is you business people who become wealthy; you are the ones who are excited with this path of knowledge. The Father too is the unlimited Businessman. The deal is first class. However, you have to have a lot of courage in this. New children can go ahead of the older ones in their efforts. Each one’s fortune is individual and each one has to make individual effort. You have to check yourself fully. Those who carry out such checking remain engaged in making effort day and night. They would say: Why should we waste our time? As much as possible, save your time. Some make a firm promise to themselves that they will never forget the Father and that they will definitely claim a scholarship. Such children then also receive help. You will see such new effort-making children and you will continue to have visions. At the end you will see again what happened in the beginning. The closer you come, the more you will continue to dance in happiness. On the other side, there will continue to be unnecessary bloodshed. The Godly race of you children is now taking place. As you continue to race ahead, the scenes of the new world will continue to come closer and your happiness will continue to rise. Those who cannot see the scenes close to them will not experience that happiness. Now, there should be disinterest in the iron-aged world and a lot of love for the new golden-aged world. If you remember Shiv Baba, you will also remember your inheritance of heaven. If you remember your inheritance of heaven, you will also remember Shiv Baba. You children know that you are now to go to heaven; your feet are towards hell and your head is towards heaven. It is now the stage of retirement of all, young and old. Baba is always intoxicated: Oho! I will now go and become this little child Krishna. Daughters continue to send gifts in advancefor that one. The gopikas who have full faith are the ones who send gifts. They experience supersensuous happiness. We too will become the deities of the land of immortality. We became that in the previous cycle and we then took 84 rebirths. If you remember this somersault, then that, too, is your great fortune. Constantly stay in limitless happiness. You are winning a huge lottery. We attained our fortune of the kingdom 5000 years ago and we will receive it tomorrow too; it is fixed in the drama. We will take birth in the same way as we did in the previous cycle. We will have those same parents. The one who was the father of Krishna will be the same one. Those who churn the ocean of knowledge in this way throughout the day will remain very much entertained. If someone does not churn the ocean of knowledge, it means he is unhealthy. When a cow eats grass, it chews it all day long and their mouth continues to work. If their mouth doesn’t work, it is understood that the cow is ill. It is the same here. Both the unlimited Father and Dada have a lot of love for you sweetest children. They teach you with so much love. They make you beautiful from ugly. The mercury of happiness of you children should rise. Your mercury will rise by having remembrance. The Father does lovely service with a lot of love every cycle. He makes everyone, including the five elements, pure. This is such huge, unlimited service. The Father continues to give you children teachings with a lot of love because it is the Father’s and the Teacher’s duty to reform the children. The Father gives shrimat through which you become elevated. The more you remember with love, the more elevated you will become. You also have to write in your chart whether you are following shrimat or following the dictates of your own mind. Only by following shrimat will you become accurate. The more love your intellect has for the Father, the more incognito happiness you will experience and you will become elevated. Ask your heart: Do I have that unlimited happiness? Do I have that much love for the Father? To have love means to remember Him. It is only by having remembrance that you will become ever healthy and ever wealthy. You have to make effort not to remember anyone else. Remember Shiv Baba alone. Spin the discus of self-realisation when you leave your body. Belong to one Shiv Baba and none other. This is the final mantra, that is, the mantra that disciplines the mind; it is the mantra with which to conquer Ravan. The Father explains: Sweet children, you have remained body conscious for so long, now practise becoming soul conscious. To transform your vision is a sign of having faith in the intellect. Forget all your bodily relations and consider yourself to be a Godly student. Let there be the vision of brotherhood, of soul consciousness for only then will the vision of brother and sister, of being a Brahma Kumar or Kumari become firm. Wake up early in the morning and remember the Father. If you fall asleep, there will be a loss in your income. Wake up at amrit vela and have a sweet heart-to-heart conversation with Baba. Baba, You have changed me completely from what I was. Baba, it is Your wonder! Baba, You give us plenty of treasures and make us into the masters of the world. Baba, I can never forget You. While eating and doing everything, I will only remember You. By making such a promise, your remembrance will become firm. Most beloved Baba is knowledge-full and also blissful. From our being number one impure, He makes us number one pure. Simply bubble up in remembrance of sweet Baba. As Baba remembers this, he experiences a lot of happiness within. Oho! I will become Vishnu from Brahma! Then, after 84 births, I will become Brahma again. Then, Baba will make me into Vishnu. Then, after half the cycle, Ravan will make me impure. This is such a wonderful drama! By remembering these things you will always remain cheerful. Shiv Baba is making me so worthy! Wah fortune! wah! While having such thoughts, become those who are completely intoxicated. Wah! I am becoming a master of heaven! Do not become happy simply thinking that you are doing very good service. First of all, continue to do your incognito service of remembrance. Practise becoming bodiless. It is only through this that you will benefit. As you develop this practice, you will repeatedly become bodiless. Today, Baba is specially emphasizing this. Those who practise this will be able to reach their karmateet stage and claim a high status. While sitting in this stage and remembering the Father, you will return home. Day by day you should increase your chart of remembrance. Check to see to what percentage you have become satopradhan from tamopradhan. Do I cause anyone sorrow? My intellect is not trapped in any bodily being, is it? To how many people do I give the Father’s message? If you keep such a chart, there will be a lot of progress. Achcha.

Second murli:

Today, you children are told about thoughts, sinful thoughts and being free from thoughts, that is, about action, neutral action and sinful action. While you are here you will definitely have thoughts. No human being can stay for even a moment without having a thought. Thoughts will arise here, they will arise in the golden age and they will also arise on the path of ignorance. However, when you come into knowledge, thoughts are not then thoughts, because you have become instruments for God’s service. The thoughts that arise for the yagya are not thoughts, for they are neutral thoughts. The other useless thoughts that you have, that is, thoughts of the iron-aged world and about iron-aged friends and relatives are said to be sinful thoughts through which sins are committed and through sinful actions sorrow is experienced. The thoughts that you have for the yagya or for Godly service are said to be neutral thoughts. You may have pure thoughts for service. Look, Baba is sitting here in order to look after you children. So, the mother and father would definitely have thoughts about this service, but these thoughts are not just thoughts. Sins are not committed through these thoughts. However, if someone has any vicious thoughts for any relations there are then definitely sins committed through those. Baba says: You may serve your friends and relatives, but with alokik and spiritual vision. There shouldn’t be any strings of attachment. Fulfil your responsibility while being free from any attraction. However, those who are here, while being in karmic relationships and not able to become free from them, should nevertheless not let go of the Father’s hand. If you hold on to His hand, you will definitely claim one status or another. Each one of you knows what vice you have inside you. If someone has even one vice, then he is definitely body conscious. Those who do not have any vices are soul conscious. If someone has any vice, he will definitely experience punishment and those who are free from vices will become free from punishment. For instance, some children do not have any lust, anger, greed or attachment and they are able to do very good service. Their stage is filled with gyan and vigyan (knowledge and yoga). All of you would vote on that. Just as I know, so all of you also know that everyone will vote for those who are good. Now have this faith. Those who have any vices are not able to do service. Those who are “vice-proof” will be able to do service and make others the same as themselves. This is why you need to look after yourself very well. You need to have full victory over the vices. You need to have full victory over sinful thoughts. Thoughts for God would be classified as neutral thoughts. In fact, neutral thoughts would be referred to as the stage when you do not have any thoughts. You will be beyond sorrow and happiness at the end when you settle your karmic accounts and return home. There, you have the stage of being beyond happiness and sorrow as you do not have any thoughts then. At that time, your stage is of being beyond action and neutral action, that is, your stage is of being free from action. Here, you will definitely have thoughts because you have become instruments to purify the whole world. So, you will definitely have pure thoughts for that. Because you have pure thoughts in the golden age, thoughts are not just thoughts and the actions you perform are not just actions, but they are said to be neutral actions. Do you understand? It is only the Father who explains to you the philosophy of action, neutral action and sinful action. It is only the one Father who frees you from performing sinful actions. He is teaching you now, at the confluence age, and this is why you children have to be very cautious about yourselves. Also continue to look at your karmic accounts. You have come here to settle your karmic accounts. It should not be that you come here and continue to create further karmic accounts so that you have to experience punishment. The punishment in the jail of a womb is not a small thing! Because of this, you have to make a lot of effort. This destination is very high and this is why you have to move along with great caution. You definitely have to conquer sinful thoughts. To what extent have you gained victory over sinful thoughts? To what extent are you able to stay in the stage of being free from thoughts, that is, in the stage of being beyond happiness and sorrow? All of you can know this for yourselves. If you are not able to understand yourself, you can ask Baba because you are His heirs and so He can tell you. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Wake up at amrit vela and have a sweet conversation with Baba. Then, while eating and doing your work, stay in remembrance of Baba. Forget the relations of the body, consider yourself to be a soul and make your vision of brotherhood firm.
  2. Gain victory over your sinful thoughts and remain in the detached stage of being free from any thoughts of happiness or sorrow. Systematically sacrifice the vices and become yogyukt.
Blessing: May you be a confluence-aged angel who is to become a deity and who eats and serves others the “prabhu prasad” (food offered to God) of divine virtues.
Divine virtues are the most elevated prabhu prasad. Share this prasad a lot. Just as you give physical toli as a sign of love for one another, similarly, serve this toli of divine virtues to others. Whichever power a particular soul needs, donate that power with your mind, that is, with your pure attitude and vibrations; with your actions, become an image of virtues and give your co-operation to souls to imbibe virtues. The aim of the confluence age of becoming an angel who becomes a deity will easily be revealed in you all with this method.
Slogan: Constantly maintaining zeal and enthusiasm is the breath of Brahmin life.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

Read Murli 16 November 2017 :- Click Here

 

BRAHMA KUMARIS MURLI 17 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 16 November 2017 :- Click Here
17/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे विशाल बुद्धि बन पूरे विश्व को दु:खधाम से सुखधाम, पतित से पावन बनाने की सेवा करनी है, अपना टाइम सेफ करना है, व्यर्थ नहीं गंवाना है”
प्रश्नः- इस ज्ञान मार्ग में हेल्दी कौन हैं और अनहेल्दी कौन है?
उत्तर:- हेल्दी वह है जो विचार सागर मंथन करते जीवन में रमणीकता का अनुभव करता है और अनहेल्दी वह है जिसका विचार सागर मंथन नहीं चलता। जैसे गऊ भोजन खाती है तो सारा दिन उगारती रहती है, मुख चलता रहता है। मुख न चले तो समझा जाता है बीमार है, यह भी ऐसे है।

ओम शान्ति। मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चे बेहद के बाप पास आते ही हैं रिफ्रेश होने लिए क्योंकि बच्चे जानते हैं बेहद के बाप से बेहद विश्व की बादशाही मिलती है। यह कभी भूलना नहीं चाहिए। यह सदैव याद रहे तो भी बच्चों को अपार खुशी रहे। बाबा ने यह बैज जो बनवाये हैं, इसे चलते-फिरते घड़ी-घड़ी देखते रहो। ओहो! भगवान की श्रीमत से हम यह बन रहे हैं। बस बैज़ को देख बाबा, बाबा करते रहो। तो सदैव स्मृति रहेगी। हम बाप द्वारा यह (लक्ष्मी-नारायण) बनते हैं। तो बाप की श्रीमत पर चलना चाहिए ना। मीठे बच्चों की बड़ी विशाल बुद्धि चाहिए। सारा दिन सर्विस के ही ख्यालात चलते रहें। बाबा को तो वह बच्चे चाहिए जो सर्विस बिगर रह न सकें। तुम बच्चों को सारे विश्व पर घेराव डालना है अर्थात् पतित दुनिया को पावन बनाना है। सारे विश्व को दु:खधाम से सुखधाम बनाना है। अच्छे स्टूडेन्टस को देख टीचर को भी पढ़ाने में मज़ा आता है। तुम तो अभी स्टूडेन्ट के साथ-साथ बहुत ऊंच टीचर बने हो। जितना अच्छा टीचर, उतना बहुतों को आपसमान बनायेंगे। कभी थकेंगे नहीं। ईश्वरीय सर्विस में बहुत खुशी रहती है। बाप की मदद मिलती है। यह बड़ा बेहद का व्यापार भी है – व्यापारी लोग ही धनवान बनते हैं। वह इस ज्ञान मार्ग में भी जास्ती उछलते हैं। बाप भी बेहद का व्यापारी है ना। सौदा बड़ा फर्स्टक्लास है, परन्तु इसमें बड़ा साहस धारण करना पड़ता है। नये-नये बच्चे पुरानों से भी पुरुषार्थ में आगे जा सकते हैं। हर एक की इन्डीविज्युअल (व्यक्तिगत) तकदीर है, तो पुरुषार्थ भी हर एक को इन्डीविज्युअल करना है। अपनी पूरी चेकिंग करनी चाहिए। ऐसी चेकिंग करने वाले एकदम रात दिन पुरुषार्थ में लग जायेंगे। कहेंगे हम अपना टाइम वेस्ट क्यों करें, जितना हो सके टाइम सेफ करें। अपने से पक्का प्रण कर देते हैं, हम बाप को कभी नहीं भूलेंगे। स्कालरशिप लेकर ही छोड़ेंगे। ऐसे बच्चों को फिर मदद भी मिलती है। ऐसे भी नये-नये पुरुषार्थी बच्चे तुम देखेंगे, साक्षात्कार करते रहेंगे। जैसे शुरू में हुआ वही फिर पिछाड़ी में देखेंगे। जितना नज़दीक होते जायेंगे उतना खुशी में नाचते रहेंगे। उधर खूने नाहेक खेल भी चलता रहेगा।

तुम बच्चों की ईश्वरीय रेस चल रही है। जितना आगे दौड़ते जायेंगे उतना नई दुनिया के नज़ारे भी नज़दीक आते जायेंगे। खुशी बढ़ती जायेगी। जिनको नज़ारे नजदीक नहीं दिखाई पड़ते उनको खुशी भी नहीं होगी। अभी तो कलियुगी दुनिया से वैराग्य और सतयुगी नई दुनिया से बहुत प्यार होना चाहिए। शिवबाबा याद रहेगा तो स्वर्ग का वर्सा भी याद रहेगा। स्वर्ग का वर्सा याद रहेगा तो शिवबाबा भी याद रहेगा। तुम बच्चे जानते हो अभी हम स्वर्ग तरफ जा रहे हैं, पाँव नर्क तरफ हैं, सिर स्वर्ग तरफ है। अभी तो छोटे-बड़े सबकी वानप्रस्थ अवस्था है। बाबा को सदैव यह नशा रहता है ओहो! हम जाकर यह बाल (मिचनू) कृष्ण बनूँगा। जिसके लिए बच्चियां इनएडवान्स सौगातें भी भेजती रहती हैं। जिन्हों को पूरा निश्चय है वही गोपिकायें सौगातें भेजती हैं, उन्हें अतीन्द्रिय सुख की भासना आती है। हम ही अमरलोक में देवता बनेंगे। कल्प पहले भी हम ही बने थे फिर हमने 84 पुनर्जन्म लिए हैं। यह बाजोली याद रहे तो भी अहो सौभाग्य – सदैव अथाह खुशी में रहो। बड़ी लाटरी मिल रही है। 5000 वर्ष पहले भी हमने राज्यभाग्य पाया था फिर कल पायेंगे। ड्रामा में नूँध है। जैसे कल्प पहले जन्म लिया था वैसे ही लेंगे। वही हमारे माँ-बाप होंगे। जो कृष्ण का बाप था वही फिर बनेगा। ऐसे-ऐसे जो सारा दिन विचार सागर मंथन करते रहेंगे तो वो बहुत रमणीकता में रहेंगे। विचार सागर मंथन नहीं करते तो गोया अनहेल्दी हैं। गऊ भोजन खाती है तो सारा दिन उगारती रहती है, मुख चलता ही रहता है। मुख न चले तो समझा जाता है बीमार है, यह भी ऐसे है।

बेहद के बाप और दादा दोनों का मीठे-मीठे बच्चों से बहुत लव है, कितना लव से पढ़ाते हैं। काले से गोरा बनाते हैं। तो बच्चों को भी खुशी का पारा चढ़ना चाहिए। पारा चढ़ेगा याद की यात्रा से। बाप कल्प-कल्प बहुत प्यार से लवली सर्विस करते हैं। 5 तत्वों सहित सबको पावन बनाते हैं। कितनी बड़ी बेहद की सेवा है। बाप बहुत प्यार से बच्चों को शिक्षा भी देते रहते क्योंकि बच्चों को सुधारना बाप वा टीचर का ही काम है। बाप की है श्रीमत, जिससे ही श्रेष्ठ बनेंगे। जितना प्यार से याद करेंगे उतना श्रेष्ठ बनेंगे। यह भी चार्ट में लिखना चाहिए हम श्रीमत पर चलते हैं वा अपनी मत पर चलते हैं। श्रीमत पर चलने से ही तुम एक्यूरेट बनेंगे। जितनी बाप से प्रीति बुद्धि होगी उतनी गुप्त खुशी रहेगी और ऊंच बनेंगे। अपनी दिल से पूछना है इतनी अपार खुशी हमको है! बाप को इतना प्यार करते हैं! प्यार करना माना ही याद करना है। याद से ही एवरहेल्दी, एवरवेल्दी बनेंगे। पुरुषार्थ करना होता है और किसी की भी याद न आये। एक शिवबाबा की ही याद हो, स्वदर्शन चक्र फिरता रहे तब प्राण तन से निकले। एक शिवबाबा दूसरा न कोई। यही अन्तिम मंत्र है अथवा वशीकरण मंत्र, रावण पर जीत पाने का मंत्र है।

बाप समझाते हैं मीठे बच्चे इतना समय तुम देह-अभिमान में रहे हो अब देही-अभिमानी बनने की प्रैक्टिस करो। दृष्टि का परिवर्तन होना ही निश्चयबुद्धि की निशानी है। सब देह के सम्बन्धों को भूल अपने को गॉडली स्टूडेन्ट समझो, आत्मा भाई-भाई की दृष्टि हो जाए, तब ही ब्रह्माकुमार ब्रह्माकुमारी भाई-बहन की दृष्टि पक्की हो जायेगी। सवेरे-सवेरे उठकर बाप को याद करो – नींद आ गई तो कमाई में घाटा पड़ जायेगा। अमृतवेले उठकर बाबा से मीठी मीठी रुहरिहान करो। बाबा आपने हमको क्या से क्या बना दिया, बाबा कमाल है आपकी। बाबा आप हमें अथाह खजाना देते हो, विश्व का मालिक बनाते हो! बाबा हम आपको कभी भूल नहीं सकते। भोजन खाते, कामकाज करते बाबा आपको ही याद करेंगे। ऐसे-ऐसे प्रतिज्ञा करते-करते फिर याद पक्की हो जायेगी। मोस्ट बिलवेड बाबा नॉलेजफुल भी है, ब्लिसफुल भी है। नम्बरवन पतित से हमको नम्बरवन पावन बनाते हैं। बस मीठे-मीठे बाबा की याद में गदगद होना चाहिए। बाबा को यह सुमिरण कर बहुत अन्दर में खुशी होती है। ओहो! मैं ब्रह्मा सो विष्णु बनूँगा! फिर 84 जन्मों बाद ब्रह्मा बनूँगा! फिर बाबा हमको विष्णु बनायेगा। फिर आधाकल्प बाद रावण पतित बनायेगा! कितना वन्डरफुल ड्रामा है! यह सुमिरण कर सदैव हर्षित रहता हूँ! शिवबाबा कितना लायक बनाते हैं। वाह तकदीर वाह! ऐसे-ऐसे विचार करते एकदम मस्ताना हो जाना चाहिए। वाह! हम स्वर्ग के मालिक बनते हैं! बाकी हम बहुत अच्छी सर्विस करते हैं, इसमें ही सिर्फ खुश नहीं होना है। पहले गुप्त सर्विस अपनी यह (याद की) करते रहो। अशरीरी बनने करा अभ्यास करना है, इससे ही तुम्हारा कल्याण होना है। अभ्यास पड़ जाने से फिर घड़ी-घड़ी तुम अशरीरी हो जायेंगे। आज बाबा खास इस पर ज़ोर दे रहे हैं, जो यह अभ्यास करेंगे वही कर्मातीत अवस्था को पा सकेंगे और ऊंच पद पायेंगे। इसी अवस्था में बैठे-बैठे बाप को याद करते घर चल जायें। दिन-प्रतिदिन याद का चार्ट बढ़ाना चाहिए। देखना है तमोप्रधान से सतोप्रधान कितने परसेन्ट बनें हैं? किसको दु:ख तो नहीं देते हैं? किसी देहधारी में बुद्धि फंसी हुई तो नहीं है? बाप का सन्देश कितनों को देते हैं? ऐसा चार्ट रखो तो बहुत उन्नति होती रहेगी। अच्छा।

दूसरी मुरली :

आज तुम बच्चों को संकल्प, विकल्प नि:संकल्प अथवा कर्म, अकर्म और विकर्म पर समझाया जाता है। जब तक तुम यहाँ हो तब तक तुम्हारे संकल्प जरूर चलेंगे। संकल्प धारण किए बिना कोई मनुष्य एक क्षण भी रह नहीं सकता है। अब यह संकल्प यहाँ भी चलेंगे, सतयुग में भी चलेंगे और अज्ञानकाल में भी चलते हैं, परन्तु ज्ञान में आने से संकल्प संकल्प नहीं, क्योंकि तुम परमात्मा की सेवा अर्थ निमित्त बने हो, तो जो यज्ञ अर्थ संकल्प चलता वह संकल्प संकल्प नहीं, वह निरसंकल्प ही है। बाकी जो फालतू संकल्प चलते हैं अर्थात् कलियुगी संसार और कलियुगी मित्र सम्बन्धियों के प्रति चलते हैं वह विकल्प कहे जाते हैं जिससे ही विकर्म बनते हैं और विकर्मों से दु:ख प्राप्त होता है। बाकी जो यज्ञ प्रति अथवा ईश्वरीय सेवा प्रति संकल्प चलता है वो गोया निरसंकल्प हो गया। शुद्ध संकल्प सर्विस प्रति भले चले। देखो बाबा यहाँ बैठा है तुम बच्चों को सम्भालने अर्थ। तो इस सर्विस करने अर्थ माँ बाप का संकल्प जरूर चलता है परन्तु यह संकल्प संकल्प नहीं,, इससे विकर्म नहीं बनता है, परन्तु यदि किसी का विकारी सम्बन्ध प्रति संकल्प चलता है तो उनका विकर्म अवश्य ही बनता है। बाबा तुमको कहता है कि मित्र-सम्बन्धियों की सर्विस भले करो परन्तु अलौकिक ईश्वरीय दृष्टि से। वह मोह की रग नहीं आनी चाहिए। अनासक्त होकर अपनी फर्जअदाई निभाओ। परन्तु जो कोई यहाँ होते हुए, कर्म सम्बन्ध में होते हुए उनसे मुक्त नहीं हो सकता तो भी उसे बाप का हाथ नहीं छोड़ना चाहिए। हाथ पकड़ा होगा तो कुछ न कुछ पद प्राप्त कर लेंगे। अब यह तो हरेक अपने को जानते हैं कि मेरे में कौन-सा विकार है! अगर किसी में एक भी विकार है तो वह देह-अभिमानी जरूर ठहरा, जिसमें विकार नहीं वह ठहरा देही-अभिमानी। किसी में कोई भी विकार है तो वह सजायें जरूर खायेंगे और जो विकारों से रहित है वे सज़ाओं से मुक्त हो जायेंगे। जैसे देखो कोई-कोई बच्चे हैं जिनमें न काम है, न क्रोध है, न लोभ है, न मोह है वो सर्विस बहुत अच्छी कर सकते हैं। अब उन्हों की बहुत ज्ञान विज्ञानमय अवस्था है, वह तो तुम सब भी वोट देंगे। अब यह तो जैसे मैं जानता हूँ वैसे तुम सब जानते हो अच्छे को सब अच्छा वोट देंगे। अब यह निश्चय करना जिनमें कुछ विकार हैं वो सर्विस नहीं कर सकेंगे। जो विकार प्रूफ हैं वो सर्विस कर औरों को आप समान बना सकेंगे इसलिये अपने ऊपर बहुत ही सम्भाल चाहिए। विकारों पर पूर्ण जीत चाहिए। विकल्प पर पूर्ण जीत चाहिए। ईश्वर अर्थ संकल्प को निरसंकल्प रखा जायेगा।

वास्तव में निरसंकल्पता उसी को कहा जाता है जो संकल्प चले ही नहीं, दु:ख सुख से न्यारा हो जाए वह तो अन्त में जब तुम हिसाब-किताब चुक्तू कर चले जाते हो, वहाँ दु:ख सुख से न्यारी अवस्था में तब कोई संकल्प नहीं चलता। उस समय कर्म अकर्म दोनों से परे अकर्मी अवस्था में रहते हो।

यहाँ तुम्हारा संकल्प जरूर चलेगा क्योंकि तुम सारी दुनिया को शुद्ध बनाने अर्थ निमित्त बने हो। तो उसके लिये तुम्हारे शुद्ध संकल्प जरूर चलेंगे। सतयुग में शुद्ध संकल्प चलने कारण संकल्प संकल्प नहीं, कर्म करते, कर्म नहीं होता, उसे अकर्म कहा जाता है। समझा। अब यह कर्म, अकर्म और विकर्म की गति तो बाप ही समझाते हैं। विकर्मों से छुड़ाने वाला तो एक बाप ही है जो इस संगम पर तुमको पढ़ा रहे हैं इसलिये बच्चे अपने ऊपर बहुत ही सावधानी रखो। अपने हिसाब-किताब को भी देखते रहो। तुम यहाँ आये हो हिसाब-किताब चुक्तू करने। ऐसा तो नहीं यहाँ आए हिसाब-किताब बनाते जाओ जो सज़ा खानी पड़े। यह गर्भजेल की सज़ा कोई कम नहीं है। इस कारण बहुत ही पुरुषार्थ करना है। यह मंजिल बहुत भारी है इसलिये सावधानी से चलना चाहिए। विकल्पों के ऊपर जीत पानी है जरूर। अब कितने तक तुमने विकल्पों पर जीत पाई है, कितने तक इस निरसंकल्प अर्थात् दु:ख सुख से न्यारी अवस्था में रहते हो, यह तुम अपने को जान सकते हो। जो खुद को न समझ सकें वो बाबा से पूछ सकते हैं क्योंकि तुम तो उनके वारिस हो तो वह बता सकते हैं। अच्छा !

मीठे मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात पिता बापदादा का याद प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अमृतवेले उठ बाबा से मीठी-मीठी रूहरिहान करनी है, फिर भोजन खाते, कामकाज करते बाबा की याद में रहना है, देह के संबंधों को भूल आत्मा भाई-भाई हूँ, यह दृष्टि पक्की करनी है।

2) विकल्पों पर जीत प्राप्त कर दु:ख सुख से न्यारी निरसंकल्प अवस्था में रहना है। कायदेसिर सभी विकारों की आहुति दे योगयुक्त बनना है।

वरदान:- दिव्य गुणों रूपी प्रभू प्रसाद खाने और खिलाने वाले संगमयुगी फरिश्ता सो देवता भव 
दिव्य गुण सबसे श्रेष्ठ प्रभू प्रसाद है। इस प्रसाद को खूब बांटों, जैसे एक दो में स्नेह की निशानी स्थूल टोली खिलाते हो, ऐसे ये गुणों की टोली खिलाओ। जिस आत्मा को जिस शक्ति की आवश्यकता है उसे अपनी मन्सा अर्थात् शुद्ध वृत्ति, वायब्रेशन द्वारा शक्तियों का दान दो और कर्म द्वारा गुण मूर्त बन, गुण धारण करने में सहयोग दो। तो इसी विधि से संगमयुग का जो लक्ष्य है ”फरिश्ता सो देवता” यह सहज सर्व में प्रत्यक्ष दिखाई देगा।
स्लोगन:- सदा उमंग-उत्साह में रहना – यही ब्राह्मण जीवन का सांस है।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 15 November 2017 :- Click Here

Font Resize