today murli 17 JANUARY

TODAY MURLI 17 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 17 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 16 January 2019 :- Click Here

17/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you should be amazed at how you have found such a sweet Father who has no desires and how He is such a great Bestower. He doesn’t have the slightest desire to receive anything.
Question: What wonderful part does the Father play? With which desire has the 100% altruistic Father come onto this earth?
Answer: Baba’s wonderful part is to teach us. He comes here just to do service. He sustains us. He gives us love and affection and says: Sweet children, do this. He gives us knowledge but doesn’t take anything. The 100% altruistic Father has the desire to go and show His children the path, give them the news of the beginning, the middle and the end of the world. The Father’s desire is for the children to become virtuous.

Om shanti. You sweetest, spiritual children have found the spiritual Father who doesn’t take anything. He doesn’t eat or drink anything. So, He has no hopes or desires. Human beings definitely have one desire or another. They want to become wealthy or become such-and-such. That One has no desire; He is Abhogta (beyond the effect of experience). You have heard that there was a sage who used to say that he didn’t eat or drink anything. It was as though he was copying. In the whole world, it is just the one Father who doesn’t take anything or do anything. Therefore, you children should think about whose children you are. How does the Father enter this one? He Himself doesn’t have any desire. He is incognito. Only you children know His whole biography. Among you too, there are few who understand this fully. It should enter your hearts that you have found the Father who doesn’t eat, drink or take anything. He doesn’t have any desires. There cannot be anyone like Him. Only the one incorporeal, highest-on-high God has been remembered; everyone remembers Him. He, your Father, is Abhogta, the Teacher is Abhogta and the Satguru is Abhogta. He doesn’t take anything. What would He do with it after taking it from you? That One is the wonderful Father. He doesn’t have the slightest desire for Himself. There is no human being like that. Human beings need everything, food and clothes etc. I don’t need anything. You call out to Me to come and make the impure ones pure. I am incorporeal. I do not take anything. I do not even have My own form (body). I simply enter this one. It is the soul in this one that eats and drinks. My soul doesn’t have any desires. I come here just for service. You have to think about how wonderful this play is. The one Father is loved by everyone. He doesn’t have any desires. He simply comes and teaches and sustains us. He gives us love and affection: Sweet children, do this! He gives you knowledge, but He doesn’t take anything. Only the Father is Karankaravanhar. If you were to give something to Shiv Baba, what would He do with it? Would He take toli and eat it? Shiv Baba doesn’t even have a body, so how would He take anything? And, look how much service He does! He gives you all very good directions and makes you beautiful. You children should be amazed about this. The Father is the Bestower anyway. The Bestower is so great. He doesn’t have any desires. Although Brahma is concerned that he has to look after so many children and feed them with whatever money comes in it is only for Shiv Baba. I sacrificed everything. I follow the Father’s shrimat and use everything Ihave in a worthwhile way and make my future, whereas the Father is 100% altruistic. He simply has the concern to go and show the path to everyone: I should go and give the news of the beginning, middle and end of the world. No one else knows it. Only you children know it. The Father teaches you in the form of the Teacher. He doesn’t take any fees from you. Whatever you take, you take that in Shiv Baba’s name. The return is received there. Does Baba have a desire to become Narayan from an ordinary man? The Father teaches you according to the drama. It isn’t that He has a desire to be seated on the highest throne, no. Everything depends on how you study and your divine virtues. You then also have to teach others. The Father sees that whatever act is enacted by this one according to the drama, it happened in the previous cycle. He sees that as the detached Observer. He also tells you children: See everything as detached observers. Look at yourself and see whether you are studying or not. Am I following shrimat or not? Am I doing service to make others the same as myself or not? The Father speaks by taking this one’s mouth on loan. A soul is living; a corpse cannot speak. He would definitely enter a living being. The Father is so altruistic. He doesn’t have any desires. A physical father would feel that when his children grow up, they would look after him. That One doesn’t have any desires. He knows what His part in the drama is like. I simply come to teach you. This too is fixed. People don’t know the drama at all. You children have the faith that the Father is teaching you. This Brahma is also studying. He would definitely be studying the best of all. He is also a very good helper of Shiv Baba. I don’t have any wealth. Only you children give wealth and also receive it. You give two handfuls and receive it in the future. Some don’t have anything and so they don’t give anything. Nevertheless, if someone studies well, he will receive a good status in the future. There are very few who remember that they are studying for the new world. If they remember this, that too is “Manmanabhav”. However, there are many who waste their time in worldly matters. They forget everything: What Baba is teaching, how He is teaching and how high the status is, that they have to claim. They continue to fight and quarrel among themselves and waste their time. Those who are to pass a high examination would never waste their time ; they would study well and follow shrimat. You have to follow shrimat. The Father says: You are disobedient. I give you shrimat to remember the Father and you forget. This would be called weakness. Maya catches hold of you by the nose, bites you and sits on your head. This is a battlefield. Maya gains victory over very good children so whose name is then defamed? Shiv Baba’s. It is remembered that those who defame the name of the Satguru cannot claim a high status. How could those who are defeated by Maya claim a high status? You should use your intellect for your own benefit and see how you can make effort to receive your inheritance from Baba. Become very good like the maharathis and show everyone the path. Baba shows you very easy methods for service. The Father says: You have been calling out to Me and I now tell you. Remember Me and you will become pure. There are the pictures of the pure world. This is the main thing. Here, you have an aim and objective. It isn’t that if you want to study to become a doctor you would have to remember a doctor or that if you want to become a barrister you would have to remember a barrister. The Father says: Simply remember Me alone. I am the One who will fulfil all your desires. Simply remember Me, no matter how much Maya disturbs you. There is still a battle between you. It isn’t that you will instantly gain victory over her. Up to now, not a single person has gained victory over Maya. By gaining victory, you will then become the masters of the world. People sing: I am a slave; I am Your slave. Here, you have to make Maya your slave. There, Maya will never cause you sorrow. Nowadays, the world is very dirty. They continue to cause sorrow for one another. Baba is so sweet and He doesn’t have any desires for Himself. You don’t remember such a Father! Some even say: I believe in Shiv Baba, not in Brahma Baba. However, both are together. You cannot make a bargain without the agent. This one is Baba’s chariot and his name is “The Lucky Chariot” (Bhagirath). You know that the number one, the highest of all, is this one. In a class, a monitor is given respect; he is given regard. This one is the number one beloved, long-lost and now-found child. There, all the kings have to have regard for this one (Shri Narayan). Only when you understand this would you have the sense to give him regard. Only when you learn to give him regardhere will you be able to give him regard there. Otherwise, what will you receive? You can’t even remember Shiv Baba. The Father says: Your boat will go across by having remembrance. He gives you the unlimited kingdom. You should remember such a Father so much. You should have so much love for Him inside you. Look how this one loves the Father so much. It is only when you have love that your vessel can become golden. Those whose vessels are golden will have first-class behaviour. According to the drama, the kingdom has to be established. All types are needed for that. The Father explains: Children, you should never become angry. You should understand that if you don’t do service, it means you are wasting your time. If someone doesn’t do service for Shiv Baba’s yagya, what would he receive? Only serviceable ones will be able to claim a high status. You should have an interest in bringing benefit for yourselves. If you don’t do this, you are destroying your status. When students are studying well, their teacher is pleased with them because he understands that they will glorify his name, and that he will receive a prize because of them. The father and teacher etc. would all be happy. Parents surrender themselves to good, worthy children who do very good service. So, the Father, too, is pleased when He hears this. The names of those who serve many would definitely be glorified. They are the ones who would be able to claim a high status. Day and night, their only concern is for service. They are not concerned about their food and drink. While explaining knowledge, their throats even dry up. It is only such beloved, long-lost and now-found children who will claim a high status. This is something for 21 births, and that, too, for cycle after cycle. When the result s are announced, it will be understood who did service and to how many they showed the path. It is also essential to reform one’s character. There are the names “maharathis”, “cavalry” and “infantry”. If you don’t do service, you should understand that you are part of the infantry. None of you should think that you will receive a high status because you helped with your wealth. That is a complete mistake. Everything depends on your service and how you study. The Father continues to explain to you children that you should study and claim a high status and not incur a loss for yourselves for every cycle. Baba sees when you are incurring a loss for yourself: This one doesn’t know anything, because he is just happy thinking that he will claim a number ahead in the rosary because he has given some money. Even if someone has given money but he hasn’t imbibed knowledge and doesn’t stay in yoga, of what use is that? If you don’t have mercy, then how are you following the Father? The Father has come to make you children beautiful. The Father surrenders Himself to those who make many others beautiful. There is also a lot of physical service to do. Baba praises the bhandari (one who looks after the kitchen) a great deal. She receives blessings from many. To the extent that they serve and give their bones in service, they are accordingly only benefiting themselves; they earn their own income. They serve with a lot of love from deep within their hearts. Those who cause conflict spoil their own fortune. Those who have greed will be harassed by it. All of you are in the stage of retirement. All of you have to go beyond sound. Each of you should ask yourself: How much service do I do throughout the whole day? Some children don’t feel happiness unless they are doing service. Some have bad omens over their intellects and over their study. Baba is teaching everyone to the same extent. Everyone’s intellect is different. Nevertheless, you should still make effort. Otherwise, your status will become like that for cycle after cycle. At the end, when the result s are announced, you will all have visions of everything. You will have visions and then be transferred. It also says in the scriptures that they repented a great deal at the end for having wasted a lot of time and for having been deceived a great deal for cycle after cycle. The Father continues to caution you. Shiv Baba has only the one desire, that the children study and claim a high status. He doesn’t have any other desires. There is nothing that is useful for Him. The Father explains: Children, become introverted. The whole world is extroverted. You become introverted. You also have to check your stage and make effort to reform yourselves. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a detached observer and look at your own part: Am I studying well and also teaching others or not? Am I doing service to make others the same as I am? Do not waste your time in worldly matters.
  2. Become introverted and reform yourself. Have an interest in bringing benefit to yourself. Remain busy in service. Definitely be merciful like the Father.
Blessing: May you receive the blessing of success by using everything in a worthwhile way and become an image that is blessed.
At the confluence age, you children have the inheritance and also the blessing: “Use everything in a worthwhile way and receive success!” To use everything in a worthwhile way is the seed and success is the fruit. If the seed is good, then it is impossible that you do not receive its fruit. Just as you tell others to use their time, thoughts and wealth in a worthwhile way, in the same way, check your list of all treasures and see which treasures were used in a worthwhile way and which were wasted. Continue to use everything in a worthwhile way and you will become full of all treasures and an image that is blessed.
Slogan: In order to receive God’s award, avoid anything wasteful or negative.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

Like Father Brahma, do not go into the expansion of anything, put a full stop to the expansion and merge that situation in the point. Become a point, put a full stop and merge yourself in the point and all the expansion and the web will become merged in one second and your time will be saved and you will be liberated from effort. You will become a point and be lost in love in the point.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 17 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 January 2019

To Read Murli 16 January 2019 :- Click Here
17-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें वन्डर खाना चाहिए कि हमें कैसा मीठा बाप मिला है जिसे कोई भी आश नहीं और दाता कितना जबरदस्त है, लेने की जरा भी तमन्ना नहीं।”
प्रश्नः- बाप का वन्डरफुल पार्ट कौन सा है? 100 प्रतिशत निष्कामी बाप किस कामना से सृष्टि पर आया है?
उत्तर:- बाबा का वन्डरफुल पार्ट है पढ़ाने का। वह सर्विस के लिए ही आते हैं। पालना करते हैं। पुचकार देकर कहते हैं मीठे बच्चे यह करो। ज्ञान सुनाते हैं, लेते कुछ नहीं। 100 प्रतिशत निष्कामी बाप को कामना हुई है मैं अपने बच्चों को जाकर रास्ता बताऊं। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का समाचार सुनाऊं। बच्चे गुणवान बनें… बाप की यही कामना है।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों को रूहानी बाप ऐसा मिला हुआ है जो कुछ लेता नहीं, कुछ खाता नहीं। कुछ पीता नहीं। तो उनको कोई आश वा उम्मीद नहीं है और मनुष्यों को कोई न कोई आश ज़रूर होती है। धनवान बनें, फलाना बनें। उनको कोई आश नहीं, वह अभोक्ता है। तुमने सुना था एक साधू कहता है मैं कुछ खाता पीता नहीं। यह तो जैसे कापी करते हैं। सारे विश्व में एक ही बाप है जो कुछ लेता करता नहीं। तो बच्चों को ख्याल करना चाहिए कि हम किसके बच्चे हैं। बाप कैसे आकर इनमें प्रवेश करते हैं। खुद की कोई तमन्ना नहीं। खुद तो गुप्त है। उनकी जीवन कहानी को तुम बच्चे ही जानते हो। तुम्हारे में भी थोड़े हैं जो पूरी रीति समझते हैं। दिल में आना चाहिए कि हमको ऐसा बाप मिला है जो न कुछ खाता, न पीता, न लेता। कुछ भी उनको दरकार नहीं। ऐसा तो कोई हो नहीं सकता। एक ही निराकार ऊंच ते ऊंच भगवान ही गाया हुआ है। उनको ही सब याद करते हैं। वह तुम्हारा बाप भी अभोक्ता, टीचर भी अभोक्ता तो सतगुरू भी अभोक्ता। कुछ भी लेते नहीं, लेकर वह क्या करेंगे! यह भी वन्डरफुल बाप है। अपने लिए जरा भी आश नहीं। ऐसा कोई मनुष्य होता नहीं। मनुष्य को तो खाना कपड़ा आदि सब चाहिए। मुझे कुछ नहीं चाहिए। मुझे तो बुलाते हैं कि आकर पतितों को पावन बनाओ। मैं हूँ निराकार, मैं कुछ नहीं लेता। मुझे तो अपना आकार ही नहीं। मैं सिर्फ इसमें प्रवेश करता हूँ। बाकी खाती पीती इनकी आत्मा है। मेरी आत्मा को कुछ भी आश नहीं। हम सर्विस के लिए ही आते हैं। सोच करना होता है, कैसा वन्डरफुल खेल है। एक बाप सबका प्यारा है। उनको ज़रा भी आश नहीं। सिर्फ आकर पढ़ाते हैं, पालना करते हैं, पुचकार देते हैं – मीठे बच्चे यह करो। ज्ञान सुनाते हैं, लेते कुछ भी नहीं। करनकरावनहार बाप ही है। समझो कुछ शिवबाबा को दिया। वह क्या करेंगे। टोली लेकर खायेंगे? शिवबाबा को शरीर ही नहीं। तो लेवे कैसे? और सर्विस देखो कितनी करते हैं। सबको अच्छी-अच्छी मत देकर गुल-गुल बनाते हैं। बच्चों को वन्डर खाना चाहिए। बाप तो है ही दाता। दाता भी कितना जबरदस्त और कोई तमन्ना नहीं। ब्रह्मा को भल फुरना है, इतने बच्चों की सम्भाल करनी है, खिलाना पिलाना है, पैसा जो भी आता है वह शिवबाबा के लिए ही आता है। हमने तो सब कुछ स्वाहा कर दिया। बाप की श्रीमत पर चल अपना सब कुछ सफल कर भविष्य बनाते हैं। बाप तो 100 परसेन्ट निष्कामी है। सिर्फ यही फुरना है कि सबको जाकर रास्ता बताऊं। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का समाचार सुनाऊं और तो कोई जानते नहीं। तुम बच्चे ही जानते हो। बाप टीचर के रूप में पढ़ाते हैं। फी आदि कुछ लेते नहीं। तुम शिवबाबा के नाम पर लेते हो। वहाँ रिटर्न में मिलता है। बाबा में यह तमन्ना है क्या कि हम नर से नारायण बनें? बाप तो ड्रामा अनुसार पढ़ाते हैं। ऐसा नहीं कि उनको आश है कि हम ऊंच ते ऊंच तख्तनशीन बनें। नहीं। सारा मदार है पढ़ाई पर, दैवी गुणों पर। और फिर औरों को भी पढ़ाना है। बाप देखते हैं ड्रामा अनुसार कल्प पहले मिसल इनकी जो एक्ट चलती है, साक्षी होकर देखते हैं। बच्चों को भी कहते हैं तुम साक्षी होकर देखो। अपने को भी देखो, हम पढ़ते हैं वा नहीं। श्रीमत पर चलते हैं वा नहीं। औरों को आप समान बनाने की हम सर्विस करते हैं वा नहीं। बाप तो इनके मुख का लोन लेकर बोलते हैं। आत्मा तो चैतन्य है ना। मुर्दे में तो बोल न सकें। ज़रूर चैतन्य में ही आयेंगे। तो बाप कितना निष्कामी है, कोई आश नहीं। लौकिक बाप तो समझते हैं बच्चे बड़े होंगे फिर मुझे खिलायेंगे। इनकी तो कोई तमन्ना नहीं। जानते हैं मेरा ड्रामा में पार्ट ही ऐसा है, सिर्फ आकर पढ़ाता हूँ। यह भी नूँध है। मनुष्य ड्रामा को बिल्कुल नहीं जानते।

तुम बच्चों को यह निश्चय है बाप ही हमको पढ़ाते हैं। यह ब्रह्मा भी पढ़ते हैं। ज़रूर यह सबसे अच्छा पढ़ते होंगे। यह भी अच्छा मददगार है – शिवबाबा का। हमारे पास तो कुछ धन है नहीं। बच्चे ही धन देते हैं और लेते हैं। दो मुट्ठी देते हैं और भविष्य में लेते हैं। कोई के पास कुछ है नहीं, तो कुछ देते नहीं। बाकी हाँ अच्छा पढ़ते हैं तो भविष्य में अच्छा पद पाते हैं, यह भी बहुत थोड़े हैं, जिनको याद रहता है कि हम नई दुनिया के लिए पढ़ रहे हैं। यह याद रहे तो भी मनमनाभव है। परन्तु बहुत हैं जो दुनियावी बातों में समय बरबाद करते हैं, बाबा क्या पढ़ाते हैं, कैसे पढ़ाते हैं, कितना ऊंच पद पाना है, यह सब कुछ भूल जाते हैं। आपस में ही लड़ते झगड़ते टाइम वेस्ट करते रहते हैं। जो बड़ा इम्तहान पास करते हैं, वह कभी अपना समय वेस्ट नहीं करते। अच्छी तरह पढ़ेंगे, श्रीमत पर चलेंगे। श्रीमत पर तो चलना पड़े ना। बाप कहते हैं तुम तो नाफरमानबरदार हो। श्रीमत देता हूँ, बाप को याद करो तो भूल जाते हो। यह तो कमजोरी कहेंगे। माया एकदम नाक से पकड़कर, डसकर सिर पर बैठ जाती है। यह युद्ध का मैदान है ना। अच्छे-अच्छे बच्चों पर माया जीत पा लेती है। फिर नाम किसका बदनाम होता है? शिवबाबा का। गायन भी है गुरू का निंदक ठौर न पाये। ऐसे माया से हराने वाले फिर ठौर कैसे पायेंगे। अपने कल्याण के लिए बुद्धि चलानी चाहिए कि हम कैसे पुरूषार्थ कर बाबा से वर्सा लूँ। अच्छे-अच्छे महारथियों जैसा बनकर सबको रास्ता बताऊं। बाबा सर्विस की युक्तियाँ तो बहुत सहज बतलाते हैं। बाप कहते हैं तुम मुझे बुलाते आये हो, अब मैं कहता हूँ कि मुझे याद करो तो पावन बन जायेंगे। पावन दुनिया के चित्र हैं ना। यह है मुख्य। यहाँ एम ऑबजेक्ट रखी जाती है। ऐसे नहीं कि डाक्टरी पढ़नी है तो डाक्टर को याद करना है। बैरिस्टरी पढ़नी है तो कोई बैरिस्टर को याद करना है। बाप कहते हैं सिर्फ मुझ एक को याद करो। बस मैं तुम्हारी सब मनोकामना पूर्ण करने वाला हूँ। तुम सिर्फ मुझे याद करो। भल माया तुमको कितना भी हैरान करे, फिर भी युद्ध है ना। ऐसे नहीं फट से जीत पा लेंगे। इस समय तक एक ने भी माया पर जीत नहीं पाई है, जीत पाने से फिर जगतजीत होने चाहिए। गाते हैं मैं गुलाम, मैं गुलाम तेरा..। यहाँ तो माया को गुलाम बनाना है। वहाँ माया कभी दु:ख नहीं देगी। आजकल तो दुनिया ही बड़ी गंदी है। एक दो को दु:ख देते ही रहते हैं। तो कितना मीठा बाबा है, जिसको अपने लिए कोई तमन्ना नहीं। ऐसे बाप को याद नहीं करते वा कोई कहे हम शिवबाबा को मानते हैं, ब्रह्मा बाबा को नहीं। परन्तु यह दोनों इकट्ठे हैं, बिगर दलाल सौदा हो न सके। बाबा का रथ है, इनका नाम ही है भाग्यशाली रथ। यह भी जानते हो सबसे नम्बरवन ऊंचा है यह। क्लास में मानीटर का भी मान होता है। रिगार्ड रखते हैं। नम्बरवन सिकीलधा बच्चा तो यह है ना। वहाँ भी सब राजाओं को इनका (श्री नारायण का) रिगार्ड रखना है। यह जब समझें तब रिगार्ड रखने का अक्ल आये। यहाँ जब रिगार्ड रखना सीखो तब वहाँ भी रखो। नहीं तो बाकी मिलेगा क्या? शिवबाबा को याद भी नहीं कर सकते। बाप कहते हैं याद से ही तुम्हारा बेड़ा पार होता है। बेहद की राजाई देते हैं। ऐसे बाप को कितना याद करना चाहिए। अन्दर में कितना लॅव होना चाहिए। इनका देखो बाप से कितना लॅव है। लॅव हो तब तो सोने का बर्तन बने, जिनका बर्तन सोने का होगा उनकी चलन बड़ी फर्स्टक्लास होगी। ड्रामा अनुसार राजधानी स्थापन होनी है। उनमें तो सब प्रकार के चाहिए।

बाप समझाते हैं बच्चे तुम्हें कभी भी गुस्सा नहीं आना चाहिए। समझना चाहिए हम अगर सर्विस नहीं करते तो गोया टाइम वेस्ट करते रहते हैं। शिवबाबा के यज्ञ की कोई सर्विस नहीं करेंगे तो मिलेगा क्या? सर्विसएबुल ही ऊंच पद पायेंगे। अपना कल्याण करने के लिए शौक रखना चाहिए। नहीं करते तो पद भ्रष्ट करते। स्टूडेन्ट अच्छा पढ़ते हैं तो टीचर भी खुश होगा, समझेंगे यह हमारा नाम बाला करेंगे। इनके कारण हमको इजाफा मिलेगा। बाप टीचर आदि सब खुश होंगे। अच्छे सपूत बच्चों पर माँ बाप भी कुर्बान जाते हैं, जो बहुत अच्छी सर्विस करते हैं, तो बाप भी सुनकर खुश होते हैं। जो बहुतों की सर्विस करते हैं, उनका ज़रूर नामाचार होगा। ऊंच पद भी वही पा सकेंगे। रात दिन उनको सर्विस का ही ओना रहता है। खान पान की परवाह नहीं रखते। समझाते-समझाते गला घुट जाता है। ऐसे सिकीलधे, सर्विसएबुल बच्चों को ही ऊंच पद पाना है। यह तो 21 जन्मों की बात है, सो भी कल्प-कल्पान्तर के लिए। जब रिज़ल्ट निकलेगी तब समझेंगे, किसने सर्विस की। कितनों को रास्ता बताया। कैरेक्टर्स को भी सुधारना ज़रूरी है। महारथी, घोड़ेसवार, प्यादे नाम तो है ना। सर्विस नहीं करते तो समझना चाहिए हम प्यादे हैं। ऐसा कोई न समझे कि हमने धन से मदद की है, इसलिए हमारा पद ऊंचा होगा। यह बिल्कुल भूल है। सारा मदार सर्विस और पढ़ाई पर है। बाप तो बहुत अच्छी रीति समझाते रहते हैं कि बच्चे पढ़कर ऊंचा पद पायें। कल्प-कल्प का अपने को घाटा न डालें। बाबा देखते हैं यह अपने को घाटा डाल रहे हैं, इनको पता नहीं पड़ता, इसमें ही खुश हो जाते हैं कि हमने पैसे दिये हैं इसलिए माला में नज़दीक आयेंगे। परन्तु भल पैसा दिया लेकिन नॉलेज नहीं धारण की, योग में नहीं रहे तो वह क्या काम के! अगर रहम नहीं करते तो बाकी बाप को क्या फालो करते हैं। बाप तो आये ही हैं बच्चों को गुल-गुल बनाने। जो बहुतों को गुल-गुल बनायेंगे उन पर बाप भी बलिहार जायेंगे। स्थूल सर्विस भी बहुत है। जैसे भण्डारी की बाबा बहुत महिमा करते हैं, उनको बहुतों की आशीर्वाद मिलती है। जो जितनी सर्विस करते हैं, वह अपना ही कल्याण करते हैं, अपनी हड्डियाँ सर्विस में देते हैं। अपनी ही कमाई करते हैं। बहुत हड्डी प्यार से सर्विस करते हैं। जो खिटपिट करते हैं, वह अपनी ही तकदीर खराब करते हैं, जिनमें लोभ होगा उन्हें वह सतायेगा। तुम सब वानप्रस्थी हो, सबको वाणी से परे जाना है। अपने से पूछना चाहिए सारे दिन में हम कितनी सर्विस करते हैं। कई बच्चों को तो सर्विस बिगर सुख नहीं आता। कोई-कोई को ग्रहचारी बैठती है – बुद्धि पर वा पढ़ाई पर। बाबा तो सबको एकरस पढ़ाते हैं, बुद्धि कोई की कैसी होती, कोई की कैसी होती है। फिर भी पुरूषार्थ तो करना चाहिए। नहीं तो कल्प-कल्पान्तर का पद ऐसा हो जायेगा। पिछाड़ी में जब रिज़ल्ट निकलेगी तो सब साक्षात्कार करेंगे। साक्षात्कार करके फिर ट्रॉन्सफर हो जायेंगे। शास्त्रों में भी है कि पिछाड़ी में बहुत पछताते हैं कि मुफ्त समय वेस्ट किया। कल्प-कल्पान्तर का बहुत धोखा खाया। बाप तो सावधान करते रहते हैं। शिवबाबा की तो यही तमन्ना है कि बच्चे पढ़कर ऊंच पद पायें और कोई अपनी तमन्ना नहीं है। उनके काम की भी कोई वस्तु नहीं है। बाप समझाते हैं बच्चे अन्तर्मुखी बनो। दुनिया तो सारी बाह्यमुखी है। तुम हो अन्तर्मुखी। अपनी अवस्था को देखना है और सुधारने का भी पुरूषार्थ करना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) साक्षी होकर स्वयं के पार्ट को देखो – हम अच्छी रीति पढ़कर दूसरों को पढ़ाते हैं या नहीं? आप समान बनाने की सेवा करते हैं? अपना समय दुनियावी बातों में बरबाद मत करो।

2) अन्तर्मुखी बन अपने आपको सुधारना है। अपने कल्याण का शौक रखना है। सर्विस में बिजी रहना है। बाप समान रहमदिल ज़रूर बनना है।

वरदान:- सफल करने की विधि से सफलता का वरदान प्राप्त करने वाले वरदानी मूर्त भव
संगमयुग पर आप बच्चों को वर्सा भी है तो वरदान भी है कि “सफल करो और सफलता पाओ”। सफल करना है बीज और सफलता है फल। अगर बीज अच्छा है तो फल नहीं मिले यह हो नहीं सकता। तो जैसे दूसरों को कहते हो कि समय, संकल्प, सम्पत्ति सब सफल करो। ऐसे अपने सर्व खजानों की लिस्ट को चेक करो कि कौन सा खजाना सफल हुआ और कौन सा व्यर्थ। सफल करते रहो तो सर्व खजानों से सम्पन्न वरदानी मूर्त बन जायेंगे।
स्लोगन:- परमात्म अवार्ड लेने के लिए व्यर्थ और निगेटिव को अवाइड करो।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

ब्रह्मा बाप समान किसी भी बात के विस्तार में न जाकर, विस्तार को बिन्दी लगाए बिन्दी में समा दो, बिन्दी बन जाओ, बिन्दी लगा दो, बिन्दी में समा जाओ तो सारा विस्तार, सारी जाल सेकण्ड में समा जायेगी और समय बच जायेगा, मेहनत से छूट जायेंगे। बिन्दी बन बिन्दी में लवलीन हो जायेंगे।

TODAY MURLI 17 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 17 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 16 January 2018 :- Click Here

17/01/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to become firm unlimited sannyasis. You shouldn’t have an attitude of greed for anything
Question: What is the best action you children perform through which you attain strength from the Father?
Answer: The best action of all is to surrender everything you have, that is, your mind, body and wealth, to the Father. When you surrender everything, the Father gives you so much strength in return that you are able to rule the world of eternal unbroken, constant peace and happiness.
Question: What service, which no human being can teach, has the Father taught you children?
Answer: Spiritual service.You inject souls with injection s of knowledge to cure them of the sickness of the vices. You are spiritual social workers. People can do physical service but they cannot give souls the injection of knowledge and make them constantly ignited lights. Only the Father teaches you children how to do this service.

Om shanti. God speaks: It has been explained that no human being can be called God. This is the human world, whereas Brahma, Vishnu and Shankar are in the subtle region. Shiv Baba is the imperishable Father of souls. The father of a perishable body is perishable. Everyone understands this. You can ask: Who is the father of your perishable body and who is the Father of the soul? You souls understands that you reside in the supreme abode (paramdham). Now, who made you children body conscious? The one who created your body. Now, who makes you soul conscious? The One who is the eternal Father of souls. ‘Eternal’ means the One who has no beginning, middle or end. If you say that souls and the Supreme Soul have a beginning, middle and end, it also raises a question about creation. He is called the eternal Soul, the eternal, Supreme Soul. A soul is called a soul. A soul definitely understands: I am a soul. The soul says: Do not make me, this soul, unhappy. I am a sinful soul. The soul says this. Souls will not use such words in heaven. It is at this time that souls are impure and become pure. It is impure souls who sing praise of pure souls. All human souls have to take rebirth. All of these aspects are new. The Father orders you: Remember Me while you are sitting and moving around. Previously, you were worshippers and you used to say: Shivay namah: (Salutations to Shiva). Now the Father says: You have bowed down many times as worshippers. Therefore, I am now making you into the masters who are worthy of being worshiped. Those who are worthy of worship don’t have to bow down. It is worshippers who bow or say namaste. “Namaste” means to bow or lower your head a little. You children do not need to bow to anyone, not to Lakshmi and Narayan, not to Vishnu, the deity, nor to Shankar, the deity. All of these expressions belong to the system of worship. You now have to become the masters of the whole world. You only have to remember the Father. They also say: He is the Almighty, the Death of all Deaths, the Immortal Image. He is the Creator of the world, the form of a point of light. At first, they used to praise Him a great deal. Then, they started saying that He is omnipresent and that He is also in cats and dogs. In this way, all the praise was finished. All human beings are at present sinful souls, so what praise could there be of animals? All of this applies to human beings. The soul says: I am a soul; this is my body. Just as a soul is a dot, so the Supreme Father, the Supreme Soul, is also a dot. He says: I enter an ordinary body in order to purify the impure. I come and become the obedient Servant of the children and servethem. I am the Spiritual Social Worker. I also teach you children how to do spiritual service. All others teach you how to do limited physical service. Yours is spiritual service. This is why it is remembered: The Satguru gave the ointment of knowledge and the darkness of ignorance was dispelled. Only He is the true Satguru. Only He is the Authority. He comes and injects all souls. The sickness of the vices is within the soul. No one else has this injection of knowledge. It is the soul, not the body that has become impure and needs to be injected. It has the bitter sickness of five vices. No one, except the Father, the Ocean of Knowledge, has this injection. The Father comes and speaks to souls: O souls, you were living lights. Then Maya cast a shadow over you. By casting this shadow, she gradually clouded your intellects. It is not a question of Yudhishthira or Dhritarashtra; this applies to Ravan. The Father says: I come in an ordinary manner. Scarcely any recognize Me. Shiv Jayanti is separate from Krishna Jayanti. You cannot compare Krishna to the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. This One is incorporeal and that one is corporeal. The Father says: I am incorporeal. They also sing praise of Me and call out: O Purifier, come once again and change Bharat into the golden age, the divine land of kings. The divine land of kings did exist at some point; it doesn’t exist now. Who will establish it again? The Supreme Father, the Supreme Soul, establishes the new world through Brahma. It is now the rule of impure people over people. It is called the graveyard. Maya has finished it. You now have to forget your bodies and all your bodily relations and remember Me, the Father. You have to perform actions for your livelihood, but you should also make effort to remember Me in whatever time you have. This One alone shows you the method. You will be able to remember Me most in the early morning hours of nectar because that time is pure and peaceful. Thieves do not steal anything at that time. Neither are sins committed, nor does anyone indulge in vice. Everything starts at the time of sleeping. That is called the totally tamopradhan night. The Father now says: Children, the past is the past. The play of the path of devotion has ended. It is now explained to you that this is your last birth. The question of how the world population will increase doesn’t arise. Expansion will continue to take place. Souls who are still up above have to come down. When all of them have come down, destruction will begin. Everyone then has to go back, numberwise. The Guide is always in the front. The Father is called the Liberator and the Purifier. Heaven is the pure world. No one except the Father can create it. You are now serving Bharat with your minds, bodies and wealth according to the Father’s shrimat. Gandhiji too wanted to do this, but he was unable to do so. The destiny of the drama is such. That is now the past. The land of impure kings had to end, and so even the name and any trace of it disappeared. There is no name or trace of their property either. People believe that Lakshmi and Narayan were the masters of heaven, but they don’t know who made them that. Surely, they must have received their inheritance from the Father, the Creator of heaven. No one else can give such a great inheritance. These aspects are not mentioned in any of the scriptures. It is mentioned in the Gita, but they have changed the name. They show that both the Pandavas and the Kauravas had a kingdom, but neither of them has a kingdom here. The Father is now establishing it again. The mercury of happiness of you children should rise. The play is now coming to an end and we are to go back. We are residents of the sweet home. They say that so-and-so attained nirvana, or that the light merged into the light or that he attained eternal liberation. The residents of Bharat find heaven sweet. They say: He has gone to heaven. The Father explains: No one attains eternal liberation. The Father is the Bestower of Liberation for all and so He would surely also bestow happiness on everyone. If one person sat in the land of nirvana and another suffered in sorrow, the Father would not be able to tolerate that. The Father is the Purifier. One is the pure land of liberation and the other is the pure land of liberation-in-life. Then, after the copper age, everyone becomes impure. All the five elements etc. become completely impure. Then the Father comes and purifies them. Your bodies there will be beautiful with pure elements. There is natural beauty ; they have natural attraction. There is so much attraction in Krishna. The name itself is heaven, and so what would you expect? God is praised a lot as the Immortal Image, but they have then put Him into pebbles and stones. No one knows the Father. Only when the Father comes can He explain. With a worldly father too, only after he has created children can they know about their father’s biography. How could children know their father’s biography without the father telling them? Now the Father says: If you want to marry Lakshmi or Narayan, you have to make effort. The destination is very high but the income is great. There was the pure family path in the golden age. There was the pure Rajasthan (Land of Kings) which has now become impure. All have become vicious. This is the devilish world in which there is lot of corruption. You need strength to rule. People do not have God’s strength. It is the rule of people over people. Those who make donations and perform charity and do good deeds take birth in a royal family. There is that strength of karma. You are now performing very elevated actions. You surrender everything (body, mind and wealth) to Shiv Baba, and so Shiv Baba also surrenders everything to you children. You take strength from Him and rule the kingdom of eternal, unbroken happiness and peace. People do not have any strength. You would not say that it was because someone donated wealth that he became an MLA. By donating wealth, he would take birth in a wealthy home. There is now no kingdom. Baba gives you so much strength now. You say: We are going to marry Narayan. We are becoming deities from human beings. All of these aspects are new. The story of Narad is of this time. The Ramayana etc. are also of this time. There are no scriptures in the golden and silver ages. All the scriptures are connected to the present time. If you look at the tree, you can see that all the cults and sects come later on. The main castes are those of the Brahmins, deities and warriors. The topknot of Brahmins is famous. The Brahmin caste, the highest of all, is not mentioned in the scriptures. They have omitted the Brahmins from the variety-form image of Vishnu. This is fixed in the drama. People of the world do not understand that they come down by doing devotion. They say: You can meet God by doing devotion. They call out to Him a great deal and remember Him when they are in sorrow. You have experienced this. There, there is no question of sorrow whereas here, there is anger in everyone; they keep insulting one another. Now that Shiva is your Father, you don’t say: Salutations to Shiva. By their saying that the Father is omnipresent, the idea of brotherhood disappears. In Bharat they say that the Hindus and the Chinese are brothers, that the Chinese and the Muslims are brothers and that all are brothers, children of the one Father. You understand that, at this time, you are the children of the one Father. The genealogical tree of Brahmins is being established once again. The deity religion emerges from this Brahmin religion. The warrior religion comes after the deity religion. The religion of Islam emerges after the warrior religion because it is a genealogical tree. Then the Buddhist and Christian religions emerge. A huge tree is created as expansion continues to takes place. This one is the unlimited genealogical tree whereas others are limited. The Father shows an easy method to those who are not able to imbibe these detailed aspects: Remember the Father and the inheritance and you will definitely go to heaven. However, if you want to claim a high status, you have to make effort for that. You children know that Shiv Baba is explaining to you and that this Baba also explains to you. That One is in your intellects and in mine. Although we have studied the scriptures etc. we know that we cannot meet God through any of them. The Father explains: Sweetest children, remember Shiv Baba and the inheritance. You should praise Baba in this way: Baba, You are very sweet! It is Your wonder! You children have won a Godly lottery. You now have to make effort for knowledge and yoga. You receive a very big prize in this and you should therefore make effort. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Wake up in the early morning hours of nectar, at the pure and peaceful time, and remember the Father. Practise forgetting everything including the consciousness of your body.
  2. Let the past be the past and give the help of purity to the Father in this last birth. Stay busy in the service of making Bharat into heaven with your body, mind and wealth.
Blessing: May you be an embodiment of remembrance and maintain your happiness and intoxication by keeping both your original and your final forms in front of you.
In order toshow the difference between Adi Dev Brahma and the first soul, Shri Krishna, they are shown together. Similarly, all of you also have to keep your Brahmin form and your deity form in front of you and see how you were such elevated souls at the beginning and are at the end. You attained the fortune of the kingdom for half the cycle and remained worthy of respect, worthy of worship, elevated souls. By maintaining this intoxication and happiness, you will become embodiments of remembrance.
Slogan: Those who have plenty of the wealth of knowledge experience fullness.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 17 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 17 January 2017

To Read Murli 16 January 2018 :- Click Here
17/01/18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हें बेहद का पक्का सन्यासी बनना है, किसी भी चीज़ में लोभ वृत्ति नहीं रखनी है”
प्रश्नः- बाप की ताकत प्राप्त करने के लिए तुम बच्चे सबसे अच्छा कर्म कौन सा करते हो?
उत्तर:- सबसे अच्छा कर्म है बाप पर अपना सब कुछ (तन-मन-धन सहित) अर्पण करना। जब तुम सब कुछ अर्पित करते हो तो बाप तुम्हें रिटर्न में इतनी ताकत देता, जिससे तुम सारे विश्व पर सुख-शान्ति का अटल अखण्ड राज्य कर सको।
प्रश्नः- बाप ने कौन सी सेवा बच्चों को सिखलाई है जो कोई मनुष्य नहीं सिखला सकता?
उत्तर:- रूहानी सेवा। तुम आत्माओं को विकारों की बीमारी से छुड़ाने के लिए ज्ञान का इंजेक्शन लगाते हो। तुम हो रूहानी सोशल वर्कर। मनुष्य जिस्मानी सेवा करते लेकिन ज्ञान इंजेक्शन देकर आत्मा को जागती-ज्योत नहीं बना सकते। यह सेवा बाप ही बच्चों को सिखलाते हैं।

ओम् शान्ति। भगवानुवाच – यह तो समझाया गया है कि मनुष्य को भगवान कभी भी नहीं कहा जा सकता। यह है मनुष्य सृष्टि और ब्रह्मा विष्णु शंकर हैं सूक्ष्मवतन में। शिवबाबा है आत्माओं का अविनाशी बाप। विनाशी शरीर का बाप तो विनाशी है। यह तो सब जानते हैं। पूछा जाता है कि तुम्हारे इस विनाशी शरीर का बाप कौन है? आत्मा का बाप कौन है? आत्मा जानती है – वह परमधाम में रहते हैं। अभी तुम बच्चों को देह-अभिमानी किसने बनाया? देह को रचने वाले ने। अब देही-अभिमानी कौन बनाता है? जो आत्माओं का अविनाशी बाप है। अविनाशी माना जिसका आदि-मध्य-अन्त नहीं है। अगर आत्मा का और परम आत्मा का आदि मध्य अन्त कहें तो फिर रचना का भी सवाल उठ जाए। उनको कहा जाता है अविनाशी आत्मा, अविनाशी परमात्मा। आत्मा का नाम आत्मा है। बरोबर आत्मा अपने को जानती है कि हम आत्मा हैं। मेरी आत्मा को दु:खी मत करो। मैं पापात्मा हूँ – यह आत्मा कहती है। स्वर्ग में कभी भी यह अक्षर आत्मायें नहीं कहेंगी। इस समय ही आत्मा पतित है, जो फिर पावन बनती है। पतित आत्मा ही पावन आत्मा की महिमा करती है। जो भी मनुष्यात्माएं हैं उनको पुनर्जन्म तो जरूर लेना ही है। यह सब बातें हैं नई। बाप फरमान करते हैं – उठते बैठते मुझे याद करो। आगे तुम पुजारी थे। शिवाए नम: कहते थे। अब बाप कहते हैं तुम पुजारियों ने नम: तो बहुत बारी किया। अब तुमको मालिक, पूज्य बनाता हूँ। पूज्य को कभी नम: नहीं करना पड़ता। पुजारी नम: अथवा नमस्ते कहते हैं। नमस्ते का अर्थ ही है नम: करना। कांध थोड़ा नीचे जरूर करेंगे। अब तुम बच्चों को नम: कहने की दरकार नहीं। न लक्ष्मी-नारायण नम:, न विष्णु देवताए नम:, न शंकर देवताए नम:। यह अक्षर ही पुजारीपन का है। अब तो तुमको सारी सृष्टि का मालिक बनना है। बाप को ही याद करना है। कहते भी हैं वह सर्व समर्थ है। कालों का काल, अकालमूर्त है। सृष्टि का रचयिता है। ज्योर्तिबिन्दु स्वरूप है। आगे उनकी बहुत महिमा करते थे, फिर कह देते थे सर्वव्यापी, कुत्ते बिल्ली में भी है तो सभी महिमा खत्म हो जाती। इस समय के सब मनुष्य ही पाप आत्मायें हैं तो फिर जानवरों की क्या महिमा होगी। मनुष्य की ही सारी बात है। आत्मा कहती है मैं आत्मा हूँ, यह मेरा शरीर है। जैसे आत्मा बिन्दु है वैसे परमपिता परमात्मा भी बिन्दु है। वह भी कहते मैं पतितों को पावन बनाने साधारण तन में आता हूँ। आकर बच्चों का ओबीडियेन्ट सर्वेन्ट बन सर्विस करता हूँ। मैं रूहानी सोशल वर्कर हूँ। तुम बच्चों को भी रूहानी सेवा करना सिखलाता हूँ। और सब जिस्मानी हद की सेवा करना सिखलाते हैं। तुम्हारी है रूहानी सेवा, तब कहा जाता है ज्ञान अंजन सतगुरू दिया… सच्चा सतगुरू वह एक ही है। वही अथॉरिटी है। सभी आत्माओं को आकर इन्जेक्शन लगाते हैं। आत्माओं में ही विकारों की बीमारी है। यह ज्ञान का इन्जेक्शन और कोई के पास होता नहीं। पतित आत्मा बनी है न कि शरीर, जिसको इन्जेक्शन लगायें। पाँच विकारों की कड़ी बीमारी है। इसके लिए इन्जेक्शन ज्ञान सागर बाप के सिवाए कोई के पास भी है नहीं। बाप आकर आत्माओं से बात करते हैं कि हे आत्मायें तुम जागती ज्योति थी, फिर माया ने परछाया डाला। डालते-डालते तुमको धुन्धकारी बुद्धि बना दिया है। बाकी कोई युद्धिष्ठिर व धृतराष्ट्र की बात नहीं है। यह रावण की बात है।

बाप कहते हैं – मैं आता ही हूँ साधारण रीति। मेरे को विरला ही कोई जान सकते हैं। शिव जयन्ती अलग है, कृष्ण जयन्ती अलग है। परमपिता परमात्मा शिव को कृष्ण से मिला नहीं सकते। वह निराकार, वह साकार। बाप कहते हैं मैं हूँ निराकार, मेरी महिमा भी गाते हैं – हे पतित-पावन आकर इस भारत को फिर से सतयुगी दैवी राजस्थान बनाओ। कोई समय दैवी राजस्थान था। अभी नहीं है। फिर कौन स्थापन करेगा? परमपिता परमात्मा ही ब्रह्मा द्वारा नई दुनिया स्थापन करते हैं। अभी है पतित प्रजा का प्रजा पर राज्य, इनका नाम ही है कब्रिस्तान। माया ने खत्म कर दिया है। अब तुमको देह सहित देह के सब सम्बन्धियों को भूल मुझ बाप को याद करना है। शरीर निर्वाह अर्थ कर्म भी भल करो। जो कुछ समय मिले तो मुझे याद करने का पुरुषार्थ करो। यह एक ही तुमको युक्ति बताते हैं। सबसे जास्ती मेरी याद तुमको अमृतवेले रहेगी क्योंकि वह शान्त, शुद्ध समय होता है। उस समय न चोर चोरी करते, न कोई पाप करते, न कोई विकार में जाते। सोने के टाइम सब शुरू करते हैं। उसको कहा जाता है घोर तमोप्रधान रात। अब बाप कहते हैं – बच्चे पास्ट इज़ पास्ट। भक्तिमार्ग का खेल पूरा हुआ, अब तुमको समझाया जाता है यह तुम्हारा अन्तिम जन्म है। यह प्रश्न उठ नहीं सकता कि सृष्टि की वृद्धि कैसे होगी। वृद्धि तो होती ही रहती है। जो आत्मायें ऊपर हैं, उनको नीचे आना ही है। जब सभी आ जायेंगे तब विनाश शुरू होगा। फिर नम्बरवार सबको जाना ही है। गाइड सबसे आगे होता है ना।

बाप को कहा जाता है लिबरेटर, पतित-पावन। पावन दुनिया है ही स्वर्ग। उनको बाप के सिवाए कोई बना न सके। अब तुम बाप की श्रीमत पर भारत की तन मन धन से सेवा करते हो। गाँधी जी चाहते थे, परन्तु कर न सके। ड्रामा की भावी ऐसी थी। जो पास्ट हुआ। पतित राजाओं का राज्य खत्म होना था तो उनका नाम-निशान खत्म हो गया। उन्हों की प्रापर्टी का भी नाम निशान नहीं है। खुद भी समझते थे लक्ष्मी-नारायण ही स्वर्ग के मालिक थे। परन्तु यह कोई नहीं जानते कि उन्हों को ऐसा किसने बनाया? जरूर स्वर्ग के रचयिता बाप से वर्सा मिला होगा और कोई इतना भारी वर्सा दे न सके। यह बातें कोई शास्त्रों में नहीं हैं। गीता में हैं परन्तु नाम बदल दिया है। कौरव और पाण्डव दोनों को राजाई दिखाते हैं। परन्तु यहाँ दोनों को राजाई नहीं है। अब बाप फिर स्थापना करते हैं। तुम बच्चों को खुशी का पारा चढ़ना चाहिए। अब नाटक पूरा होता है। हम अब जा रहे हैं। हम स्वीट होम में रहने वाले हैं। वो लोग कहते हैं फलाना पार निर्वाण गया वा ज्योति ज्योति में समाया अथवा मोक्ष को पाया। भारतवासियों को स्वर्ग मीठा लगता है, वह कहते हैं स्वर्ग पधारा। बाप समझाते हैं मोक्ष तो कोई पाता नहीं। सभी का सद्गति दाता बाप ही है, वह जरूर सबको सुख ही देगा। एक निर्वाणधाम में बैठे और एक दु:ख भोगे, यह बाप सहन कर नहीं सकते। बाप है पतित-पावन। एक है मुक्तिधाम पावन, दूसरा है जीवन मुक्तिधाम पावन। फिर द्वापर के बाद सभी पतित बन जाते हैं। पाँच तत्व आदि सब तमोप्रधान बन जाते हैं फिर बाप आकर पावन बनाते हैं फिर वहाँ पवित्र तत्वों से तुम्हारा शरीर गोरा बनता है। नेचुरल ब्युटी रहती है। उनमें कशिश रहती है। कृष्ण में कितनी कशिश है। नाम ही है स्वर्ग तो फिर क्या? परमात्मा की महिमा बहुत करते हैं, अकालमूर्त…. फिर उनको ठिक्कर भित्तर में ठोक दिया है। बाप को कोई भी जानते नहीं, जब बाप आये तब आकर समझाये। लौकिक बाप भी जब बच्चे रचे तब तो बाप की बॉयोग्राफी का उनको पता पड़े। बाप के बिगर बच्चों को बाप की बॉयोग्राफी का पता कैसे पड़े। अब बाप कहते हैं लक्ष्मी-नारायण को वरना है तो मेहनत करनी पड़े। जबरदस्त मंजिल है, बहुत भारी आमदनी है। सतयुग में पवित्र प्रवृति मार्ग था। पवित्र राजस्थान था सो अब अपवित्र हो गया है। सब विकारी बन गये हैं। यह है ही आसुरी दुनिया। बहुत करप्शन लगी हुई है। राजाई में तो ताकत चाहिए। ईश्वरीय ताकत तो है नहीं। प्रजा का प्रजा पर राज्य है, जो दान पुण्य अच्छे कर्म करते हैं उनको राजाई घर में जन्म मिलता है। वह कर्म की ताकत रहती है। अभी तुम तो बहुत ऊंचे कर्म करते हो। तुम अपना सब कुछ (तन-मन-धन) शिवबाबा को अर्पण करते हो, तो शिवबाबा को भी बच्चों के सामने सब कुछ अर्पण करना पड़े। तुम उनसे ताकत धारण कर सुख शान्ति का अखण्ड अटल राज्य करते हो। प्रजा में तो कुछ भी ताकत नहीं है। ऐसे नहीं कहेंगे कि धन दान किया तब एम.एल.ए. आदि बने। धन दान करने से धनवान घर में जन्म मिलता है। अभी तो राजाई कोई है नहीं। अब बाबा तुमको कितनी ताकत देते हैं। तुम कहते हो हम नारायण को वरेंगे। हम मनुष्य से देवता बन रहे हैं। यह हैं सब नई-नई बातें। नारद की बात अभी की है। रामायण आदि भी अभी के हैं। सतयुग त्रेता में कोई शास्त्र होता नहीं। सभी शास्त्रों का अभी से तैलुक है। झाड़ को देखेंगे मठ पंथ सब बाद में आते हैं। मुख्य है ब्राह्मण वर्ण, देवता वर्ण, क्षत्रिय वर्ण… ब्राह्मणों की चोटी मशहूर है। यह ब्राह्मण वर्ण सबसे ऊंचा है जिसका फिर शास्त्रों में वर्णन नहीं है। विराट रूप में भी ब्राह्मणों को उड़ा दिया है। ड्रामा में ऐसी नूँध है। दुनिया के लोग यह नहीं समझते कि भक्ति से नीचे उतरते हैं। कह देते हैं भक्ति से भगवान मिलता है। बहुत पुकारते हैं, दु:ख में सिमरण करते हैं। सो तो तुम अनुभवी हो। वहाँ दु:ख की बात नहीं, यहाँ सबमें क्रोध है, एक दो को गाली देते रहते हैं।

अभी तुम शिवाए नम: नहीं कहेंगे। शिव तो तुम्हारा बाप है ना। बाप को सर्वव्यापी कहने से ब्रदरहुड उड़ जाता है। भारत में कहते तो बहुत अच्छा हैं – हिन्दू चीनी भाई-भाई, चीनी मुस्लिम भाई-भाई। भाई-भाई तो हैं ना। एक बाप के बच्चे हैं। इस समय तुम जानते हो हम एक बाप के बच्चे हैं। यह ब्राह्मणों का सिजरा फिर से स्थापन हो रहा है। इस ब्राह्मण धर्म से देवी-देवता धर्म निकलता है। देवी-देवता धर्म से क्षत्रिय धर्म। क्षत्रिय से फिर इस्लामी धर्म निकलेगा… सिजरा है ना। फिर बौद्धी, क्रिश्चियन निकलेंगे। ऐसे वृद्धि होते-होते इतना बड़ा झाड हो गया है। यह है बेहद का सिजरा, वह होता है हद का। यह डीटेल की बातें जिसको धारण नहीं हो सकती, उनके लिए बाप सहज युक्ति बताते हैं कि बाप और वर्से को याद करो, तो स्वर्ग में जरूर आयेंगे। बाकी ऊंच पद प्राप्त करना है तो उसके लिए पुरुषार्थ करना है। यह तो तुम बच्चे जानते हो शिवबाबा भी तुमको समझाते हैं, यह बाबा भी समझाते हैं। वही हमारी तुम्हारी बुद्धि में है। भल हम शास्त्र आदि पढ़े हुए हैं परन्तु जानते हैं इन सबसे कोई भगवान नहीं मिलता। बाप समझाते हैं मीठे-मीठे बच्चे शिवबाबा को और वर्से को याद करते रहो। बाबा आप बहुत मीठे हो, कमाल है आपकी, ऐसे-ऐसे महिमा करनी चाहिए बाबा की। तुम बच्चों को ईश्वरीय लाटरी मिली है। अब मेहनत करनी है ज्ञान और योग की। इसमें जबरदस्त प्राइज़ मिलती है तो पुरुषार्थ करना चाहिए। अच्छा!

मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अमृतवेले के शुद्ध और शान्त समय में उठकर बाप को याद करना है। देह सहित सब कुछ भूलने का अभ्यास करना है।

2) पास्ट सो पास्ट कर इस अन्तिम जन्म में बाप को पवित्रता की मदद करनी है। तन-मन-धन से भारत को स्वर्ग बनाने की सेवा में लगना है।

वरदान:- अपने आदि और अन्त दोनों स्वरूप को सामने रख खुशी व नशे में रहने वाले स्मृति स्वरूप भव 
जैसे आदि देव ब्रह्मा और आदि आत्मा श्रीकृष्ण दोनों का अन्तर दिखाते भी साथ दिखाते हो। ऐसे आप सब अपना ब्राह्मण स्वरूप और देवता स्वरूप दोनों को सामने रखते हुए देखो कि आदि से अन्त तक हम कितनी श्रेष्ठ आत्मायें रही हैं। आधाकल्प राज्य भाग्य प्राप्त किया और आधाकल्प माननीय, पूज्यनीय श्रेष्ठ आत्मा बनें। तो इसी नशे और खुशी में रहने से स्मृति स्वरूप बन जायेंगे।
स्लोगन:- जिनके पास ज्ञान का अथाह धन है, उन्हें सम्पन्नता की अनुभूति होती है।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize