today murli 16 september

TODAY MURLI 16 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 16 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 15 September 2018 :- Click Here

16/09/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
16/01/84

Self-sovereignty is your birthright .

Today, BapDada is seeing the gathering of those who have a right to the kingdom. Throughout the whole cycle, it is only at this confluence age that the biggest gathering of those who have a right to the kingdom takes place. BapDada is seeing the gathering of Brahmin children from all over the world. All of you who have a right to the kingdom are set on the seat of your perfect stage, numberwise. Look how you are all sitting like carefree emperors with the spiritual intoxication of your self-sovereignty! The jewel sparkling in the centre of each one’s forehead looks so beautiful. Baba is seeing on each one’s head a crown of light that is sparkling numberwise. All of you have a crown, but you are numberwise. Because remembrance of BapDada is merged in each one’s eyes, the light of remembrance is spreading everywhere through your eyes. BapDada is very pleased to see such a beautifully decorated gathering. Wah! My children who have a right to the kingdom, wah! All of you have received this self-sovereignty, the kingdom of those who have conquered Maya, as your birthright. The children of the Creator of the world automatically have a right to self-sovereignty. Self-sovereignty has been the birthright of all of you many times over, not just now. However, do you remember your rights that you attained many times in the past? You do remember them, do you not? You have attained the kingdom of the world many times through self-sovereignty. You are double sovereigns. You have self-sovereignty, and also the kingdom of the world. Self-sovereignty makes you into Raja Yogis who have a right to the kingdom for all time. Self-sovereignty makes you into one with the third eye, a knower of the three aspects of time and knowledgeable of the three worlds, that is, a master of the three worlds. Self-sovereignty makes you into a soul who is one of the souls selected out of millions of souls and a special soul among those selected few. Self-sovereignty puts you in the garland around the Father’s neck. It makes you part of the rosary of which devotees turn the beads. Self-sovereignty seats you on the Father’s heart-throne. Self-sovereignty makes you into masters of all the treasures of attainments. It makes you firm, unshakeable and constant and enables you to attain all rights. You are such elevated souls who have a right to self-sovereignty, are you not?

You now know very well the answer to the riddle “Who am I?” do you not? The rosary of the title “Who am I?” is so long. Continue to remember this and turn each bead. There will be so much happiness. Become aware of your own rosary and you will experience so much intoxication. Do you have such intoxication? Double foreigners would have double intoxication, would they not? You have imperishable intoxication, do you not? Can anyone reduce this intoxication of yours? In front of the Almighty Authority, what other authority is there? It is just that you fall asleep in the deep sleep of carelessness and so Maya steals the key of your authority, that is, your awareness. Some sleep in such a way that they are not aware of anything. This sleep of carelessness sometimes deceives you so that you feel that you are not sleeping, but are awake. However, even when something gets stolen, you are not aware of it. In fact, there is no other authority in front of the constantly ignited light of the Almighty Authority. No authority can shake you even in your dreams. You are such sovereigns who have a right to the kingdom. Do you understand? Achcha.

Today, Baba has come into the gathering to celebrate a meeting. Just as children are waiting for their turn to meet Baba, in the same way, the Father also invokes the meeting with you children. The loveliest work that the Father has to do is to meet you children, whether it is in the subtle form or the corporeal form. The most important task in the Father’s daily schedule is to meet the long-lost and now-found loving children, to decorate them, to sustain them, to make them similar to Himself and make them instruments in front of the world. This is His work. This is what He is always busy doing. He inspires scientists, but that too is for you children. Even when He gives devotees the fruit of their love and devotion, he keeps you children in front. None of them knows the Point; they only know the deities. He reveals “Himself” to only you children even before the devotees. He takes everyone else into liberation, and that too is in order to give you children a happy and peaceful kingdom. Achcha.

To those who constantly have a right to self-sovereignty, to those who remain constantly stable in a firm, constant, unshakeable stage, to those who constantly remain in spiritual intoxication eternally, to those who have a right to the double kingdom, to the lights of the eyes who are merged in BapDada’s eyes, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Dadiji just arrived back in Madhuban from a tour of Madras, Bangalore, Mysore and Calcutta. Seeing Dadiji, BapDada said:

Service of multimillions is merged in your every step. You became the ruler of the globe, went on a tour and created your memorial places. How many pilgrimage places did you create? For mahavir children, to tour around means to create their memorial. Every tour has its own speciality. In this tour too, there was the speciality of fulfilling the desires of many souls. To fulfil the desires of their hearts means to become a bestower of blessings. You became a bestower of blessings and also a great donor. According to the drama, whatever programmes are created are filled with significance. The significance make you fly. Achcha.

BapDada meeting Dadi Janki:

You give everyone the donation of a name. What is the donation of a name? What is your name? To give the donation of a name means to be a trustee and to give a blessing. What would everyone remember as soon as they mention your name? Liberation-in-life in a second and to become a trustee. This is the speciality of your name. Therefore, even if you donate a name, anyone’s boat can go across. The Father just now praised your speciality of being a trustee. This is the memorial. He must have been given that word “Janak”. There are two stories of the one Janak. One Janak is the one who became bodiless in a second, and the second Janak became a trustee in a second. “Not mine, but Yours.” They also show the Janak of the silver age. However, you are the Janak who belongs to the Father, not the one who is Sita’s father. Conduct a class on why there is significance in giving the donation of a name. One is able to go across even with the boat of just a name. Even if you don’t understand anything else, even if you just say, “Shiv Baba, Shiv Baba”, you can receive a gate pass to heaven. Achcha.

BapDada meeting a group from Australia:

BapDada has deep love for the residents of Australia. Why? What is the speciality of Australia? The speciality of Australia is the good method you have of maintaining courage in yourselves and becoming servers and opening centres everywhere. The Father is especially pleased to see children who have courage. The speciality of London is that everyone there continues to receive special sustenance from many experienced jewels, but Australia doesn’t have the chanceto receive so much sustenance. Nevertheless, you have been standing on your own feet and bringing about good growth and success in service. All of you have a keen interest in having remembrance and doing service. You have a great interest in having remembrance and this is why you are moving forward and will continue to do so. The majority of you are free from obstacles. Some good children have left, but they still continue to remember the Father even now. Therefore, constantly have good wishes for them too and definitely bring them close to the Father once again. You have such enthusiasm, do you not? Of course some fruit of a tree would fall; this is nothing new. Therefore, make yourself and others so strong that you become embodiments of success. All of you in this group that has come are strong, are you not? Maya will not catch hold of you, will she? If there is a weakness, remove it and become complete before you leave Madhuban. Take the blessing with you from Madhuban of being immortal. Keep such a blessing with you at all times and also revive others with this blessing. BapDada is proud of the double-foreign children. You are proud of the Father, too, are you not? You do have the intoxication that, out of the whole world, you are the ones who have recognised the Father, do you not? Eternally maintain this intoxication and happiness. BapDada has now taken everyone’s photograph. Baba will then show you the photograph – that you had come here. Move along whilst being knowledgefull of Maya. Those who are knowledge-full are never deceived because when you know when and how Maya comes, you remain constantly safe. You know when Maya comes, do you not? When you step away from the Father and are alone, Maya comes. When you remain constantly combined, Maya will never come. The speciality of Australia is that it is mostly the Pandava Army who is responsible. Elsewhere, the majority is Shaktis. The Pandavas there have performed wonders. “Pandavas” means those who are always with the Father of the Pandavas (Pandava-Pati). You have maintained great courage. BapDada is congratulating you children for your service. Now simply keep the blessing of being immortal with you always. Achcha.

BapDada meeting a group from Brazil:

BapDada knows that loving souls remain merged in the Ocean of Love. No matter how far away you live physically, the children who are constantly loving are always personally in front of BapDada. Your love enables you to overcome all obstacles and helps you to come close to the Father. This is why BapDada is congratulating you children. BapDada knows how you have transformed so much effort into love and have reached here. This is why BapDada constantly massages you children with His hands of love. Parents constantly massage their much-loved children with a lot of love. BapDada sees the stars of fortune of you children. You are sparkling stars. No matter what the condition of the country is, the children of the Father will always remain safe because of the fact that they stay in the Father’s love. You always have BapDada’s canopy of protection over you. You are such beloved, long-lost and now-found children. Children have garlanded BapDada with garlands of many letters. In return, BapDada is giving all of those children love and remembrance. Tell everyone: Just as you have written letters and given your news with so much love, so Baba accepted them with just as much love. And, of course, children who remain courageous definitely receive the Father’s help and He always will help them. He received a rosary and even now, BapDada is turning the beads of the rosary in remembrance.

BapDada knows that, although you may be far away physically, in your minds you are residents of Madhuban. Because of being constantly “Manmanabhav” in your minds, you are close to the Father and in front of Him. BapDada is seeing personally in front of Him such children who remain close and in front of Baba and is giving each one personal love and remembrance and is giving all the long-lost and now-found children the blessing of becoming elevated and moving forward in the service of making others elevated. All of you should accept love and remembrance, personally, by name. Achcha.

Blessing: May you be a master bestower of peace and with the power of silence attract everyone.
Just as you have learned the art of serving through words, similarly, now shoot the arrow of peace. With this power of silence, you can make greenery appear even on sand. No matter how hard a mountain may be, you can make water come out of it. Put this great power of silence into a practical form through your thoughts, words and deeds and you will become a master bestower of peace. Then the rays of peace will attract all souls of the world to the experience of peace and you will become magnets of peace.
Slogan: Observe the fast of the stage of soul consciousness and attitudes will be transformed.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 16 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 September 2018

To Read Murli 15 September 2018 :- Click Here
16-09-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 16-01-84 मधुबन

‘स्वराज्य’ – आपका बर्थ राईट है।

आज बापदादा राज्य अधिकारी सभा देख रहे हैं। सारे कल्प में बड़े ते बड़ी राज्य अधिकारी सभा इस संगमयुग पर ही लगती है। बापदादा सारे विश्व के ब्राह्मण बच्चों की सभा देख रहे हैं। सभी राज्य अधिकारी नम्बरवार अपने सम्पूर्ण स्थिति की सीट पर सेट हो स्वराज्य के रूहानी नशे में कैसे बेफिकर बादशाह बन बैठे हुए हैं। हर एक के मस्तक के बीच चमकती हुई मणि कितनी सुन्दर सज रही है। सभी के सिर पर नम्बरवार चमकता हुआ लाइट का ताज देख रहे हैं। ताजधारी तो सब हैं लेकिन नम्बरवार हैं। सभी के नयनों में बापदादा की याद समाई हुई होने कारण नयनों से याद का प्रकाश चारों ओर फैल रहा है। ऐसी सजी-सजाई सभा देख बापदादा हर्षित हो रहे हैं। वाह मेरे राज्य अधिकारी बच्चे वाह! यह स्वराज्य, मायाजीत का राज्य सभी को जन्म सिद्ध अधिकार में मिला है। विश्व रचता के बच्चे स्वराज्य अधिकारी स्वत: ही हैं। स्वराज्य आप सभी का अनेक बार का बर्थ राइट है। अब का नहीं लेकिन बहुत पुराना अनेक बार प्राप्त किया हुआ अधिकार याद है। याद है ना! अनेक बार स्वराज्य द्वारा विश्व का राज्य प्राप्त किया है। डबल राज्य अधिकारी हो। स्वराज्य और विश्व का राज्य। स्वराज्य सदा के लिए राजयोगी सो राज्य अधिकारी बना देता है। स्वराज्य त्रिनेत्री, त्रिकालदर्शी, तीनों लोकों के नॉलेजफुल अर्थात् त्रिलोकीनाथ बना देता है। स्वराज्य सारे विश्व में कोटों में कोई, कोई में भी कोई विशेष आत्मा बना देता है। स्वराज्य बाप के गले का हार बना देता है। भक्तों के सिमरण की माला बना देता है। स्वराज्य बाप के तख्तनशीन बना देता है। स्वराज्य सर्व प्राप्तियों के खजाने का मालिक बना देता है। अटल, अचल, अखण्ड सर्व अधिकार प्राप्त करा देता है। ऐसे स्वराज्य अधिकारी श्रेष्ठ आत्मायें हो ना!

”मैं कौन” यह पहेली अच्छी तरह से जान ली है ना! मैं कौन, इस टाइटल्स की माला कितनी बड़ी है! याद करते जाओ और एक-एक मणके को चलाते जाओ। कितनी खुशी होगी। अपनी माला स्मृति में लाओ तो कितना नशा रहेगा। ऐस नशा रहता है? डबल विदेशियों को डबल नशा होगा ना। अविनाशी नशा है ना! इस नशे को कोई कम कर सकता है क्या! आलमाइटी अथॉरिटी के आगे और कौन-सी अथॉरिटी है! सिर्फ अलबेलेपन की गहरी नींद में सो जाते हो तो आपके अथॉरिटी की चाबी अर्थात् स्मृति माया चोरी कर लेती है। कई ऐसे नींद में सोते हैं जो पता नहीं पड़ता है। यह अलबेलेपन की नींद कभी-कभी धोखा भी दे देती है और फिर अनुभव ऐसे करते कि मैं सोया हुआ ही नहीं हूँ, जाग रहा हूँ। लेकिन चोरी हो जाती है, वह पता नहीं पड़ता है। वैसे जागती ज्योत आलमाइटी अथॉरिटी के आगे कोई अथॉरिटी है ही नहीं। स्वप्न में भी कोई अथॉरिटी हिला नहीं सकती। ऐसे राज्य अधिकारी हो। समझा। अच्छा-

आज तो मिलन महफिल में आये हैं। जैसे बच्चे इन्तजार करते हैं अपने मिलने के टर्न का। वैसे बाप भी बच्चों से मिलने का आह्वान करते हैं। बाप को सभी से प्यारे ते प्यारा काम है ही बच्चों से मिलने का। चाहे अव्यक्त रूप में, चाहे व्यक्त रूप में। बाप की दिनचर्या का विशेष कार्य सिकीलधे स्नेही बच्चों से मिलने का है। उन्हों को सजाने, पालना करने, समान बनाए विश्व के आगे निमित्त बनाना, यही कार्य है। इसी में बिज़ी रहते हैं। साइन्स वालों को प्रेरते हैं, वह भी बच्चों के लिए। भक्तों को भावना का फल देते हैं तो भी बच्चों को ही आगे करते हैं। बिन्दू को तो कोई जानता नहीं। देवी-देवताओं को ही जानते हैं। भक्तों के आगे भी बच्चों को ही प्रत्यक्ष करते हैं। सबको मुक्ति में ले जाते हैं तो भी आप बच्चों को सुख-शान्तिमय राज्य देने के लिए। अच्छा।

ऐसे सदा के स्वराज्य अधिकारी, सदा अटल अखण्ड, अचल स्थिति में स्थित रहने वाले, सदा रुहानी नशे में अविनाशी रहने वाले, डबल राज्य अधिकारी, बापदादा के नयनों में समाये हुए नूरे रत्नों को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

दादी जी मद्रास, बैंगलूर, मैसूर तथा कलकत्ता का चक्र लगाकर मधुबन पहुँची हैं, दादी जी को देख बापदादा बोले:-

कदमों में पदमों की सेवा समाई हुई है। चक्रवर्ती बन चक्र लगाए अपने यादगार स्थान बना लिए। कितने तीर्थ बने! महावीर बच्चों का चक्र लगाना माना यादगार बनना। हर चक्र में अपनी-अपनी विशेषता होती है। इस चक्र में भी कई आत्माओं के दिलों की आशा पूर्ण करने की विशेषता रही। यह दिल की आशा पूर्ण करना अर्थात् वरदानी बनना। वरदानी भी बनी और महादानी भी बनी। ड्रामा अनुसार जो प्रोग्राम बनता है उसमें कई राज़ भरे हुए होते हैं। राज़ उड़ाके ले जाते हैं। अच्छा-

जानकी दादी से:- आप सभी को नाम का दान देती हो! नाम का दान क्या है? आपका नाम क्या है! नाम का दान देना अर्थात् ट्रस्टी बनकर वरदान देना। आपका नाम लेते ही सबको क्या याद आयेगा? सेकण्ड में जीवन मुक्ति। ट्रस्टी बनना। यह आपके नाम की विशेषता है इसलिए नामदान भी दे दो तो किसका भी बेड़ा पार हो जायेगा। बाप ने अभी आपके ट्रस्टीपन की विशेषता का गायन किया है, वही यादगार है। वही जनक अक्षर उनको मिल गया होगा। एक ही जनक की दो कहानियां हैं। एक जनक जो सेकण्ड में विदेही बन गया। दूसरा जनक जो सेकण्ड में ट्रस्टी बन गया। मेरा नहीं तेरा। त्रेता वाला जनक भी दिखाते हैं। लेकिन आप तो बाप की जनक हो, सीता वाली नहीं। नाम दान का महत्व क्यों हैं, इस पर क्लास कराना। नाम की नईया द्वारा भी पार हो जाते हैं। और कुछ समझ में न भी आये लेकिन शिवबाबा, शिवबाबा भी कहा तो स्वर्ग की गेट पास तो मिल जाती है। अच्छा।

आस्ट्रेलिया पार्टी से:- बापदादा को आस्ट्रेलिया निवासी अति प्रिय हैं, क्यों? आस्ट्रेलिया की विशेषता क्या है? आस्ट्रेलिया की विशेषता है जो स्वयं में हिम्मत रख चारों ओर सेवाधारी बन सेवा स्थान खोलने की विधि अच्छी है। जहाँ हिम्मत है वहाँ बाप हिम्मत वाले बच्चों को देख विशेष खुश होते हैं। लण्डन की भी विशेषता है वहाँ विशेष पालना अनेक अनुभवी रत्नों द्वारा मिलती रहती है और आस्ट्रेलिया को इतनी पालना का चांस नहीं मिलता है। लेकिन फिर भी अपने पांव पर खड़े होकर सेवा में वृद्धि और सफलता अच्छी कर रहे हैं। सभी याद और सेवा के शौक में अच्छे रहते हैं। याद में अच्छी रुचि रखते हैं इसलिए आगे बढ़ रहे हैं और बढ़ते रहेंगे। मैजारिटी निर्विघ्न हैं। कुछ अच्छे-अच्छे बच्चे चले भी गये हैं। लेकिन फिर भी बाप को अभी भी याद करते रहते हैं इसलिए उन्हों के प्रति भी सदा शुभ भावना रख उन्हों को भी फिर से बाप के समीप जरूर लाना है। ऐसा उमंग आता है ना। थोड़ा बहुत वृक्ष से फल तो गिरते ही हैं, नई बात नहीं है इसलिए अभी स्वयं को और दूसरों को ऐसा पक्का बनाओ जो भी सफलता स्वरूप बनें। यह ग्रुप जो आया है, वह पक्का है ना। माया तो नहीं पकड़ेगी। अगर कोई कमजोरी हो भी तो यहाँ मधुबन में सम्पन्न होकर ही जाना। मधुबन से अमर भव का वरदान लेकर जाना। ऐसा वरदान सदा अपने साथ रखना और दूसरों को भी इसी वरदान से सुरजीत करना। बापदादा को डबल विदेशी बच्चों पर नाज़ हैं। आपको भी बाप पर नाज़ है ना! आपको भी यह नशा है ना कि सारे विश्व में से हमने बाप को पहचाना। सदा इसी नशे और खुशी में अविनाशी रहो। अभी बापदादा ने सभी का फोटो निकाल लिया है। फिर फोटो दिखायेंगे कि देखो आप आये थे। माया के भी नॉलेजफुल बनकर चलो। नॉलेजफुल कभी भी धोखा नहीं खाते क्योंकि माया कब आती और कैसे आती, इसकी नॉलेज होने कारण सदा सेफ रहते हैं। मालूम है ना कि माया कब आती है? जब बाप से किनारा कर अकेले बनते हो तब माया आती है। सदा कम्बाइन्ड रहने से माया कभी नहीं आयेगी। आस्ट्रेलिया की विशेषता है जो अधिकतर पाण्डव सेना जिम्मेवार है। नहीं तो मैजारिटी शक्तियां होती हैं। यहाँ पाण्डवों ने कमाल की है। पाण्डव अर्थात् पाण्डव पति के सदा साथ रहने वाले। हिम्मत अच्छी की है, बापदादा बच्चों की सेवा पर मुबारक देते हैं। अभी सिर्फ अविनाशी भव का वरदान सदा साथ रखना। अच्छा।

ब्राजील:- बापदादा जानते हैं कि स्नेही आत्मायें स्नेह के सागर में समाई हुई रहती हैं। कितना भी शरीर से दूर रहते हैं लेकिन सदा स्नेही बच्चे बापदादा के सम्मुख हैं। लगन सभी विघ्नों को पार कराते हुए बाप के समीप पहुँचाने में मददगार बनती हैं, इसीलिए बापदादा बच्चों को मुबारक दे रहे हैं। बापदादा जानते हैं कि कितनी मेहनत को मुहब्बत में परिवर्तन कर यहाँ तक पहुँचते हैं इसीलिए स्नेह के हाथों से बापदादा बच्चों को सदा दबाते रहते हैं। जो अति स्नेही बच्चे होते हैं उनकी माँ-बाप सदैव मालिश करते हैं ना प्यार से। बापदादा बच्चों के तकदीर के सितारे को देखते हैं। चमकते हुए सितारे हो। देश की हालत क्या भी हो लेकिन बाप के बच्चे सदा बाप के स्नेह में रहने के कारण सेफ रहेंगे। बापदादा की छत्रछाया सदा साथ है। ऐसे लाडले सिकीलधे हो। बच्चों ने अनेक पत्रों की माला बापदादा के गले में डाली, सभी बच्चों को इसके रिटर्न में बापदादा याद प्यार दे रहे हैं। सबको कहना कि जितने प्यार से पत्र लिखे हैं, समाचार दिये हैं, उतने ही स्नेह से उसे स्वीकार किया और हिम्मते बच्चे मददे बाप सदा ही है और सदा ही रहेगा। माला मिली और माला के मणकों की माला अभी भी बापदादा सिमरण कर रहे हैं।

बापदादा जानते हैं कि तन से भल दूर हैं लेकिन मन से मधुबन निवासी हैं। मन से सदा मनमनाभव होने के कारण बाप के समीप और सम्मुख हैं। ऐसे समीप और सम्मुख रहने वाले बच्चों को बापदादा सम्मुख देख नाम सहित हरेक को याद-प्यार दे रहे हैं और सदा श्रेष्ठ बन श्रेष्ठ बनाने की सेवा में आगे बढ़ते रहो, यह वरदान सभी सिकीलधे बच्चों को दे रहे हैं। सभी अपने नाम सहित याद-प्यार स्वीकार करें। अच्छा।

वरदान:- शान्ति की शक्ति द्वारा सर्व को आकर्षित करने वाले मास्टर शान्ति देवा भव 
जैसे वाणी द्वारा सेवा करने का तरीका आ गया है ऐसे अब शान्ति का तीर चलाओ, इस शान्ति की शक्ति द्वारा रेत में भी हरियाली कर सकते हो। कितना भी कड़ा पहाड़ हो उसमें भी पानी निकाल सकते हो। इस शान्ति की महान शक्ति को संकल्प, बोल और कर्म में प्रैक्टिकल लाओ तो मास्टर शान्ति देवा बन जायेंगे। फिर शान्ति की किरणें विश्व की सर्व आत्माओं को शान्ति के अनुभूति की तरफ आकर्षित करेंगी और आप शान्ति के चुम्बक बन जायेंगे।
स्लोगन:- आत्म-अभिमानी स्थिति का व्रत धारण कर लो तो वृत्तियाँ परिवर्तन हो जायेंगी।

 

सूचना:- आज मास का तीसरा रविवार है सभी भाई बहिनें सायं 6.30 से 7.30 बजे तक विशेष संगठित रूप से विश्व में शान्ति और शक्ति के वायब्रेशन फैलाने की सेवा करें। यही स्वमान स्मृति में रहे कि मैं विश्व के अंधकार को समाप्त करने वाली मास्टर ज्ञान सूर्य आत्मा हूँ।

TODAY MURLI 16 SEPTEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 16 SEPTEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 15 September 2017 :- Click Here

16/09/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, never come into conflict with anyone and stop studying. By stopping this study you will end up in the stomach of Maya, the alligator.
Question: Because this is not a common satsang, which aspect does the Father repeatedly have to caution you children about?
Answer: 1. This satsang is not like the satsangs of the world. Here, you receive instructions to become pure, but Maya creates obstacles in the way of your becoming pure. This is why the Father repeatedly has to caution you: Children, whatever happens, don’t ever stop studying due the influence of happiness or sorrow or praise or defamation.
2.Don’t consider yourself to be clever and defame others. Maya is very mischievous. If you sulk with the Father and stop studying, Maya scalps you and you experience bad omens. Therefore, continue to take shrimat. Never make comments about the advice that BapDada gives you.
Song: To live in Your lane and to die in Your lane.

Om shanti. You children understand and say: Now that we belong to You, this old world has to be destroyed. This is Ravan’s unlimited Lanka (island) which has to be destroyed. They show Lanka as Ceylon, but that is totally false. Ceylon is an island in the ocean. The unlimited Father explains that the whole world is in the ocean; the ocean is all around it. They have shown Vasco de Gama going around the world and discovering that water was all around the land. Therefore, this is an unlimited island. Ravan’s kingdom is over the unlimited island. This is the unlimited Lanka; it is not just Ceylon. This is that period now. So many tall stories have been written in the scriptures. We also used to think that it was perhaps like that; we had no other thoughts! You would only wonder about this if you were to think about it. Intellects were completely locked up. The locks on your intellects have now opened. Human beings think that God took an army of monkeys and that they built a bridge with stones and set everything on fire. They have written so many things. It is at this time that the whole world is to be set ablaze. Bharat is the imperishable birthplace of the imperishable Father. This is why it is called an imperishable land. It is now in your intellects that Bharat is definitely the ancient and imperishable land. All the other lands that exist now are to finish in the flames of destruction. The flames of destruction are to be ignited from this sacrificial fire. The war begins from here. These are just small rehearsals. It is in your intellects that Ravan’s kingdom is over the whole world. It is now at its end and the kingdom of Rama is to begin. These things cannot enter the intellect of anyone else. Only we few Brahmins know and understand that the whole world is to end and that we will become the garland around Baba’s neck and then go to the new world. The history and geography of the worldrepeat identically. This cycle is very good. At the moment, it is the end of the iron age and the beginning of the golden age and all the religions are definitely here. History must repeat, that is, the golden age will definitely come after the iron age, just as night follows day and day follows night. It is impossible for night not to come. The Father comes and explains all of these significant aspects. It also has to be understood how we are actors and how we take 84 births. It is not a question of 8.4 million births. The duration of the cycle is only 5000 years. Those people tell you that it is not written like this in the scriptures, that this is your imagination. Due to not knowing these things, they are bound to say that. People continue to study the scriptures, but they can’t be blamed. Baba says: Those stories from the scriptures and those novels will not exist in the golden age. There, Bharat will have become the land of absolute truth. The land of Bharat is the greatest pilgrimage place of all. The Somnath Temple here is magnificent. Such a temple cannot be built anywhere else. These temples etc. will be created again. When will they be created again? They will be created again when the path of devotion begins again. No one else can build them. You can even tell at what time they were built: Devotion began at such and such a time. Lakshmi and Narayan are the first ones to become worshippers. They will only have a single crown at that time. Then, they will build the Somnath Temple to Shiv Baba. Mahmud Guznavi will also come again and loot it. Only the Father explains all of these things to you children. It is said that when God comes, He gives so much knowledge of the Gita that, if the whole ocean were to turn to ink and all the forests into pens, they would still not be able to write all of the knowledge. Yet they have created such a small Gita! It is even possible to get a Gita in a locket, because it is something very valuable. They have so much love for the Gita. Baba even put one in a very small gold box and gave it as a present. You children now understand that the Ocean of Knowledge continues to give limitless knowledge and will continue to do so until the end. Is it possible to collect all of these murlis together? These are not things to keep. At least the scriptures are useful on the path of devotion! Of what use will all that you write be? On the one hand, you produce two to four thousand murlis, whereas they produce the Gita by the millions in all languages. There is great respect for the Gita, the jewel of all the scriptures. So many people study the Gita and scriptures etc. The Father explains: The knowledge that you receive is completely new; no scripture of it could have been written. How does God teach Raja Yoga? Only you Brahmins now understand this. There are very few among you who maintain the intoxication of this knowledge. Today, they have this intoxication and tomorrow, it is forgotten. When the Father is forgotten, knowledge is also forgotten. If you divorce the Father, everything comes to an end. If, after belonging to the Father, you indulge in vice, your throat chokes, you would not be able to say anything. Those who used to spread knowledge very well are no longer here. They had some conflict with a Brahma Kumar or Kumari, and they then became upset with Baba, saying that Baba didn’t tell that person or didn’t do this until, finally, they sulked and left the study. This is why the Father says: If you want to see a great fool, you can see one here. Some even write: Baba, I am Yours; I will always claim the inheritance of imperishable happiness from You. However, they then divorce Baba! There were some very good daughters, but they are not here today. It is a wonder! They have gone into the stomach of Maya, the alligator, and are not able speak any knowledge. They cannot speak imperishable knowledge. Then they begin to comment on the advice that BapDada gives. A lot is explained to them: Now reform yourself. Only in that is there benefit. However, they do not reform themselves. Many good children have left and gone away. Even now, there are many children who are just standing on the side. Even after writing a promise in blood, they leave. You children should follow the Father’s shrimat completely and claim your full inheritance from the Father. The Father continues to explain: No matter what happens – praise or defamation, happiness or sorrow – don’t stop studying. If some defame others, it is because they don’t have knowledge in their intellects. They don’t even understand whether this one is a junior brother or a senior brother. Only the Father knows this. You mustn’t consider yourself to be so clever and simply praise yourself. Maya is very mischievous. She scalps those who are body conscious. Baba continues to caution you children: If you don’t follow shrimat, Maya can attack you from all sides. This is not a common satsang. You sit and explain with so much patience how the cycle of this world rotates and how you have become spinners of the discus of self-realization. The Father says: You, the decoration of the Brahmin clan, are spinners of the discus of self-realization. You are known as those with the conch shell, the discus, the mace and the lotus. People say to Baba: You have applied the praise of the deities to your children. The Father says: You are the ones who are spinners of the discus of self-realization, the ones who are to become as pure as a lotus and the ones with a mace. The Father sits here and explains this. What would the world know? They even say that the Bestower of Salvation for All is only One. They also sing that when the Satguru gives the ointment of knowledge, the darkness of ignorance is dispelled, that is, the night of Brahma comes to an end. When the Sun of Knowledge rises, the night of Brahma ends and the day begins. The Supreme Father, the Supreme Soul, comes and gives new knowledge through Brahma. Previously, you didn’t understand anything; you did not know the soul or the Supreme Soul, the Creator or the creation. You became those with completely impure intellects. What had you been made into? You were the masters of heaven. Now that you have taken 84 births, the end has to come. It is now your stage of ascent. The Father says: Remember Me alone and you will become the masters of the world. Common sense says that the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Creator of heaven, and so why are we not in heaven? It doesn’t enter people’s intellects that God created the new world of heaven where deities ruled the kingdom. Five thousand years ago, there was heaven and God has come once again to establish heaven. If these things sit well in people’s intellects, they are very fortunate. Maya is such that she doesn’t allow you to make effort at all. She grabs hold of you by your nose, punches you and makes you totally unconscious. This is boxing. Baba says: Maya makes souls fall in a second. They become liberated in life in a second and also enter a life of bondage in a second. The soul divorces Baba and everything is destroyed. When there is faith, the soul claims the kingdom, but when doubts come, it is all over. This is a very wonderful play. Baba says: Awaken early in the morning and churn the ocean of knowledge, because you don’t have any other time during the day. The atmosphere at night is bad. People also perform devotion early in the morning. You children know that Baba used to wake up at one or two am and write a murli and you would study that and take class. Then Baba would listen to how you spoke the murli. All of this is the wonder of Shiv Baba. So many good children have left; they are not here today. Maya completely cursed them. The Father is giving the inheritance. Therefore, you children should make full effort and claim your inheritance. You can clearly understand for yourselves and the Father also understands when you let go of the Father’s hand. Then, everyone would say: You have left the Brahma Kumaris! You, who had the faith that you were claiming the unlimited inheritance! So, what has now happened that you don’t even listen to the murli? It means that you can’t be remembering the Father either! Then that remembrance etc. also disappears. Such degradation should not come to any child. The Father understands that such and such a child has become very bad. Many good children are spoilt by bad company. Baba says that only first-class children can become beads of the rosary of victory. Many children write: Baba, I will definitely become a bead of your rosary. Baba then says: If you do, it’s a very great fortune. Baba also understands everything from your behaviour. Children’s faithfulness and trustworthiness are proved through service. Become very sweet. When you listen personally, you have disinterest and you feel: I will never do something like this again; I will only do this (what the Father says). However, when the soul leaves here, that’s it: it’s all over; everything is forgotten. These are such wonderful things! Baba thinks day and night that a huge image of the cycle should be shown through a projector so that it can be read very clearly from a distance. It should be shown very clearly on walls. Each slide of the pictures should also be so large that anyone can read it. Two large images of the cycle should also be visible. The path of devotion begins from this place. First of all, devotion is unadulterated and later it becomes adulterated. This Brahma is the worthy son of Shiv Baba. If anyone were to ask Brahma a question, would he not be able to give an answer? Shiv Baba may know, but I too can explain. Baba has made him His right hand because he must have understood something. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Awaken early in the morning and churn the ocean of knowledge. Don’t ever let your intellect develop doubt or stop studying due to the influence of bad company.
  2. In order to become a bead of the rosary, be faithful and trustworthy. Let your activity be royal. Become extremely sweet.
Blessing: May you be constantly powerful and finish all waste by the method of keeping the intellect busy.
Only those who use the method of keeping their intellects busy become constantly powerful and strong. The easy way to finish all waste and to become powerful is to remain constantly busy. Therefore, just as you make your daily timetable every morning, so also make a timetable to keep your intellect busy: At this time, I will finish all waste with this powerful thought. If you remain busy, Maya will turn back from a distance.
Slogan: In order to forget the world of sorrow, remain constantly lost in love for God.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 14 September 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 16 SEPTEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 September 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 15 September 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 16/09/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
16/09/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – कभी मदभेद में आकर पढ़ाई मत छोड़ो, पढ़ाई छोड़ने से माया अजगर के पेट में चले जायेंगे”
प्रश्नः- यह कॉमन सतसंग न होने के कारण बाप को किन बातों में बच्चों को बार-बार सावधान करना पड़ता है?
उत्तर:- यह दुनिया के सतसंगों की तरह सतसंग नहीं, यहाँ तो पावन बनने की शिक्षा मिलती है। पावन बनने में माया के विघ्न पड़ते हैं इसलिए बाप को बार-बार सावधान करना पड़ता है। बच्चे कभी, कुछ भी हो – तुम सुख-दु:ख, निंदा-स्तुति सुनते पढ़ाई को कभी नहीं छोड़ना। 2- अपने को मिया मिट्ठू समझ किसी की ग्लानी मत करना। माया बड़ी चंचल है। अगर बाप से रूठकर पढ़ाई छोड़ी तो माया माथा मूड लेगी। गृहचारी बैठ जायेगी, इसलिए श्रीमत लेते रहना। बापदादा की राय में कभी टीका-टिप्पणी नहीं करना।
गीत:- मरना तेरी गली में…

ओम् शान्ति। यह तो बच्चे जानते हैं, कहते हैं जब हम आपके बने हैं यह पुरानी दुनिया तो खत्म होनी ही है। यह बेहद के रावण की लंका है जो विनाश होनी है। वह जो सिलान में लंका दिखाते हैं वह तो बात ही बिल्कुल झूठी है। सीलान एक टापू (बेट) है – समुद्र के बीच में। बेहद का बाप समझाते हैं कि यह सारी दुनिया है समुद्र के ऊपर, आलराउन्ड समुद्र है। दिखाते हैं ना – वास्कोडिगामा ने आलराउन्ड चक्र लगाया तो गोया धरती पानी के ऊपर ठहरी हुई है। बेट हो गया ना। यह बेहद की खाड़ी है। रावण का राज्य सारे बेहद के आइलैण्ड पर है। यह बेहद की लंका है। सिर्फ सिलान नहीं है। वह समय तो अब है ना। यह तो शास्त्रों में कितने गपोड़े लगाये हैं। हम भी समझते थे, शायद ऐसा हुआ होगा। कुछ भी ख्याल नहीं चलता था। विचार करें तब तो ख्याल चले ना। बुद्धि बिल्कुल लॉकप थी। अब बुद्धि का ताला खुला है। मनुष्य तो समझते हैं बन्दर सेना ली, उन्होंने पत्थर उठाये, पुल बनाई, आग लगाई….. क्या-क्या बातें बैठ बनाई हैं। आग तो इस समय सारी दुनिया को लगती है। यह भारत अविनाशी बाप की अविनाशी जन्म भूमि है, इसलिए इनको अविनाशी खण्ड कहा जाता है। बरोबर भारत प्राचीन था, अब तुम्हारी बुद्धि में बैठा है – बरोबर भारत अविनाशी खण्ड है। बाकी जो इस समय खण्ड हैं वह सब खत्म हो जायेंगे, विनाश ज्वाला में। यह विनाश ज्वाला इस यज्ञ से प्रज्वलित हुई है। लड़ाई शुरू यहाँ से ही हुई है। अभी तो यह छोटी-छोटी रिहर्सल है। तुम्हारी बुद्धि में है कि सारी दुनिया में ही रावणराज्य है। इसका अब अन्त है और राम राज्य की आदि है। यह बातें और किसकी बुद्धि में आ न सकें। तुम थोड़े से ही ब्राह्मण जानते हो। समझते भी हो कि अभी यह सारी दुनिया खत्म हो जायेगी। हम बाप के गले का हार बन जायेंगे, फिर नई दुनिया में आयेंगे। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी हूबहू रिपीट होती है। कितना अच्छा यह चक्र है। कलियुग अन्त और सतयुग आदि, इस समय सभी धर्म भी जरूर हैं। हिस्ट्री मस्ट रिपीट, यानी कलियुग के बाद सतयुग जरूर होना है। जैसे दिन के बाद रात, रात के बाद दिन जरूर आता है। ऐसे हो न सके कि रात न आये। बाप सब राज़ आकरके समझाते हैं। हम एक्टर 84 जन्म कैसे लेते हैं वह भी तो जानना चाहिए। 84 लाख जन्म की तो बात ही नहीं है। कल्प की आयु ही 5 हजार वर्ष है। वो लोग तो तुमको कहते हैं कि शास्त्रों में तो ऐसा है नहीं, यह तो तुम्हारी कल्पना है। न जानने के कारण तो ऐसे ही कहेंगे ना। शास्त्र तो पढ़ते रहते हैं, उनका कोई दोष तो है नहीं। बाबा कहते हैं सतयुग में यह शास्त्र, कहानियाँ, नॉविल्स आदि तो होंगी नहीं। वहाँ तो भारत बिल्कुल सचखण्ड बन जाता है। भारत खण्ड सबसे बड़े ते बड़ा तीर्थ है। यहाँ सोमनाथ का मन्दिर कितना भारी है। ऐसा मन्दिर कब, कहाँ भी बन नहीं सकता। फिर भी यह मन्दिर आदि बनेंगे। कब बनेंगे? जब भक्तिमार्ग शुरू होगा तब बनाते हैं और कोई तो बना न सके। तुम संवत भी बता सकते हो। आज से फलाने टाइम से भक्ति शुरू होगी। पहले लक्ष्मी-नारायण ही पुजारी बनेंगे, सिंगल ताज होगा। शिवबाबा का सोमनाथ मन्दिर बनायेंगे। फिर से मुहम्मद गजनवी आदि आकर लूटेंगे। यह बातें तुम बच्चों को बाप ही बैठ समझाते हैं। कहते भी हैं भगवान आया – गीता का ज्ञान इतना तो सुनाया जो सारा सागर स्याही बनाओ, सारा जंगल कलम बनाओ तो भी लिख न सके और उन्होंने गीता फिर कितनी छोटी बना दी है। गीता लाकेट में भी होती है। वैल्युबुल चीज़ है ना। इतना लव गीता पर रहता है। बाबा ने इतनी छोटी सोनी डिब्बी में डाल प्रेजन्ट भी दी है। अब तुम बच्चे समझते हो कि ज्ञान का सागर अथाह ज्ञान देते हैं और अन्त तक देते ही रहेंगे। हम यह मुरली इक्ट्ठी कर सकेंगे क्या? यह रखने की चीज़ ही नहीं है। शास्त्र आदि तो फिर भी भक्ति मार्ग के काम में आते हैं। हम जो लिखते हैं वह फिर क्या काम में आयेंगे! कहाँ तो हमारी 2-4 हजार मुरलियां, कहाँ उन्हों की करोड़ों के अन्दाज में गीतायें बनती हैं सब भाषाओं में। सर्वशास्त्र मई शिरोमणी गीता का बहुत मान है। गीता शास्त्र आदि कितने पढ़ते होंगे। बाप समझाते हैं – यह ज्ञान जो तुमको मिलता है यह बिल्कुल ही नया है। इसका पुस्तक तो है नहीं। भगवान राजयोग कैसे सिखाते हैं। यह अब तुम ब्राह्मण ही जानते हो। तुम्हारे में भी इस ज्ञान के नशे में रहने वाले बहुत थोड़े हैं। आज उस नशे में रहते हैं, कल भूल जाते हैं। बाप को भूल जाते हैं तो ज्ञान को भी भूल जाते हैं। बाप को फारकती दी तो खलास। बाप का बनकर अगर विकार में गये तो गला घुट जायेगा, कुछ भी बोल नहीं सकेंगे। जो बहुत अच्छा-अच्छा प्रचार करते थे वह आज हैं नहीं। कोई ब्रह्माकुमार कुमारी का आपस में मतभेद हुआ तो बाप से भी रूठ जाते हैं कि बाबा इनको समझाते नहीं, यह नहीं करते। आखरीन रूठकर पढ़ाई ही छोड़ देते हैं इसलिए बाप कहते हैं कि महामूर्ख देखना हो तो यहाँ देखो। लिखकर भी देते हैं कि बाबा मैं आपका हूँ। आप से हम सदा सुख का वर्सा अविनाशी लेंगे। फिर फारकती दे देते। डायओर्स दे देते हैं। अच्छी-अच्छी बच्चियां थी आज वह हैं नहीं, तो वन्डर है ना, माया अजगर के पेट में चले गये। फिर मुख से कुछ कह न सकें। यह अविनाशी ज्ञान सुना न सकें। फिर बापदादा की राय पर भी टीका-टिप्पणी करने लग पड़ते हैं। बहुत समझाया जाता है कि कुछ सुधर जाओ, इसमें ही कल्याण है। परन्तु सुधरते नहीं। बहुत अच्छे-अच्छे बच्चे चले गये। अभी भी बहुत ऐसे बच्चे हैं जो किनारे पर खड़े हैं। ब्लड से प्रतिज्ञा लिखकर भी छोड़ देते हैं। बच्चों को तो बाप की पूरी श्रीमत पर चल बाप से पूरा वर्सा लेना चाहिए।

बाप समझाते रहते हैं – कुछ भी हो दु:ख-सुख, स्तुति-निंदा आदि कोई करे तुम पढ़ाई को तो ना छोड़ो। कोई किसकी निंदा भी करते हैं क्योंकि बुद्धि में तो ज्ञान है नही। जानते नहीं हैं कि यह छोटा भाई है वा बड़ा। यह तो बाप ही जाने। अपने मुँह मिया मिट्ठू नहीं बनना है। माया बड़ी चंचल है। देह-अभिमान वालों का माथा ही एकदम मूड लेती है। बाबा बच्चों को खबरदार करते रहते हैं। कहाँ न कहाँ माया वार करती रहेगी – अगर श्रीमत पर नहीं चलेंगे तो। यह कोई कॉमन सतसंग थोड़ेही है।

तुम कितना धीरज (धैर्यता) से बैठ समझाते हो। यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है। कैसे तुम स्वदर्शन चक्रधारी बने हो। बाप कहते हैं ब्राह्मण कुल भूषण स्वदर्शन चक्रधारी। शंख, पा, गदा, पदमधारी – तुमको कहते हैं। वह कहेंगे क्या देवताओं की महिमा अपने बच्चों को दे रखी है। बाप कहते हैं हे स्वदर्शन चक्रधारी, हे कमल फूल समान पवित्र बनने वाले, हे गदाधारी – यह बाप ही समझाते हैं। दुनिया क्या जाने। कहते भी हैं सर्व का सद्गति दाता एक है। गाते भी हैं ज्ञान अंजन सतगुरू दिया…अर्थात् ब्रह्मा की रात खत्म होती है। ज्ञान सूर्य प्रगटा, ब्रह्मा की रात पूरी होती फिर दिन शुरू हो जाता है। परमपिता परमात्मा ब्रह्मा द्वारा नया ज्ञान देते हैं। आगे तो तुम कुछ भी नहीं जानते थे। न आत्मा को, न परमात्मा को, न रचता को और न रचना को जानते थे। बिल्कुल ही तुच्छबुद्धि बन पड़े थे। तुमको क्या बनाया था! तुम स्वर्ग के मालिक थे ना। फिर 84 जन्म लेते-लेते अन्त तो आयेगा ना। अब तुम्हारी चढ़ती कला है। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम विश्व के मालिक बन जायेंगे। विवेक भी कहता है कि परमपिता परमात्मा है स्वर्ग का रचयिता, तो हम स्वर्ग में क्यों नहीं हैं! मनुष्यों की बुद्धि में नहीं आता कि भगवान ने तो नई सृष्टि स्वर्ग रचा, जहाँ देवी-देवता राज्य करते थे। 5 हजार वर्ष पहले स्वर्ग था। अब फिर भगवान आये हैं स्वर्ग की स्थापना करने। यह बातें बुद्धि में अच्छी रीति बैठ जाएं तो भी अहो सौभाग्य। माया ऐसी है जो बिल्कुल ही पुरूषार्थ करने नहीं देती। नाक से पकड़ घूंसा मार एकदम बेहोश कर देती है। बॉक्सिंग है ना। बाबा कहते हैं माया एक सेकेण्ड में गिरा देती है। सेकेण्ड में जीवनमुक्ति से सेकेण्ड में जीवनबंध बन पड़ते हैं। फारकती दे देते हैं, खलास। निश्चय हुआ – यह बादशाही लो। संशय हुआ खलास। बड़ा वन्डरफुल खेल है। बाबा कहते हैं अमृतवेले उठ विचार सागर मंथन करो और तो टाइम सारे दिन में मिलता नहीं है। रात को तो वायुमण्डल खराब रहता है। भक्ति भी सवेरे उठकर करते हैं। तुम बच्चों को मालूम है कि बाबा एक दो बजे उठकर मुरली लिखते थे, जो तुम पढ़कर फिर क्लास कराते थे। फिर बाबा बैठ सुनते थे कि देखें कैसे मुरली चलाते हैं। यह सब तो शिवबाबा का ही कमाल था। कितने अच्छे-अच्छे बच्चे थे, चले गये। आज हैं नहीं। माया ने एकदम श्रापित कर दिया। बाप तो वर्सा दे रहे हैं। तो बच्चों को पूरा पुरूषार्थ कर वर्सा लेना चाहिए। अच्छी रीति खुद भी समझते हैं। बाप भी समझते हैं। बाप का हाथ छोड़ देते हैं। सब कहेंगे तुमने बी.के. को छोड़ दिया है। तुमको तो निश्चय था ना कि हम बेहद का वर्सा पा रहे हैं फिर क्या हुआ जो मुरली भी नहीं सुनते हो। फिर तो बाप को भी नहीं याद करते होंगे। फिर वह याद आदि सब उड़ जाती है। ऐसी दुर्गति शल किसी बच्चे की न हो। बाप तो समझ सकते हैं ना – यह बच्चा बड़ा खराब हो गया है। अच्छे-अच्छे बच्चे भी संगदोष में खराब हो पड़ते हैं। बाबा कहते हैं कि फर्स्टक्लास बच्चे ही विजय माला के मणके बन सकते हैं। कई बच्चे लिखते हैं कि बाबा हम आपकी माला का मणका जरूर बनेंगे। बाबा तो कहते हैं तुम बनो – अहो सौभाग्य। बाप भी चलन से समझ जायेंगे। सर्विस से ही बच्चों की व़फादारी, फरमानबरदारी सिद्ध होती है। अति मीठा बनना चाहिए। सम्मुख सुनने से वैराग्य आता है। ऐसा फिर कभी नहीं करेंगे, यह करेंगे। यहाँ से बाहर निकला बस खलास। सब भूल जाते हैं। कितनी वन्डरफुल बातें हैं।

बाबा के तो दिन-रात ख्यालात चलते रहते हैं। प्रोजेक्टर में गोला इतना बड़ा दिखाई पड़ना चाहिए जो मनुष्य दूर से ही एकदम अच्छी रीति पढ़ सकें। बड़ी दीवारों पर इतना बड़ा दिखाई पड़े। क्लीयर हो। एक-एक चित्र स्लाइड से इतना बड़ा दिखाई पड़े जो सामने कोई भी पढ़ सके। दो गोले भी इतने बड़े दिखाई पड़े। यहाँ से भक्ति मार्ग शुरू होता है। पहले होती है – अव्यभिचारी भक्ति, फिर है व्यभिचारी भक्ति।

यह ब्रह्मा है शिवबाबा का सपूत बच्चा। ब्रह्मा से अगर कोई सवाल पूछे तो क्या जवाब नहीं दे सकते हैं? भल शिवबाबा तो जानते हैं परन्तु मैं भी तो समझा सकता हूँ ना। बाबा ने राइटहैण्ड बनाया है। कुछ तो समझा होगा ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अमृतवेले उठ विचार सागर मंथन करना है। कभी भी संशयबुद्धि बन, संगदोष में आकर पढ़ाई नहीं छोड़नी है।

2) माला का मणका बनने के लिए व़फादार, फरमानबरदार बनना है। अपनी चलन रॉयल रखनी है। बहुत-बहुत मीठा बनना है।

वरदान:- बुद्धि को बिज़ी रखने की विधि द्वारा व्यर्थ को समाप्त करने वाले सदा समर्थ भव 
सदा समर्थ अर्थात् शक्तिशाली वही बनता है जो बुद्धि को बिज़ी रखने की विधि को अपनाता है। व्यर्थ को समाप्त कर समर्थ बनने का सहज साधन ही है – सदा बिज़ी रहना इसलिए रोज़ सवेरे जैसे स्थूल दिनचर्या बनाते हो ऐसे अपनी बुद्धि को बिज़ी रखने का टाइम-टेबल बनाओ कि इस समय बुद्धि में इस समर्थ संकल्प से व्यर्थ को खत्म करेंगे। बिज़ी रहेंगे तो माया दूर से ही वापस चली जायेगी।
स्लोगन:- दु:खों की दुनिया को भूलना है तो परमात्म प्यार में सदा खोये रहो।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 14 September 2017 :- Click Here

Font Resize