today murli 16 june

TODAY MURLI 16 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 16 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 15 June 2018 :- Click Here

16/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, just as the Father gives happiness to everyone, in the same way, you children also have to become flowers and give happiness to everyone. Don’t prick anyone like thorns do. Always remain cheerful.
Question: When the Father meets you children, what does He ask you and with which sweet words does He ask you?
Answer: Sweetest, beloved, long-lost and now-found children, are you happy and content? These words of love only sound good when they emerge from Shiv Baba’s mouth. Shiv Baba asks you with love, “Children, are you happy and content?” because He knows that you are now on a battlefield. Maya becomes strong and comes to make you children move backwards. This is why Baba asks: Children, have you become conquerors of Maya? Do you always remember the powerful Master? Do you have that happiness?
Song: Mother, O mother, you are the Bestower of Fortune for all. 

Om shanti. God Shiva speaks. Shiva is not the name of a body. No one can call this one (Brahma) God. Brahma says: God Shiva speaks. The Father of Brahma is Shiva. The Father, the Creator, would definitely be the Resident of the incorporeal world, the Highest-on-High. Brahma, Vishnu and Shankar cannot be called the Highest on High. The Highest on High is the Father, the Creator. You children know that you have come here to claim your inheritance from the highest-on-high Father and that Father is the Creator of heaven. The Father is now sitting personally in front of you. So, the Mother and Father are needed. It is sung: You are the Mother and Father. Shiv Baba Himself says: I now enter this body and create the mouth-born creation. A creation cannot be created without a mother. So this Brahma is the mother. However, this mother cannot give sustenance. He has the form of a father, but the form of a mother is needed. This one (Brahma) is the grandmother. These very deep and entertaining things have to be understood. You children know that you are the mouth-born creation of Brahma. This is called an adoption. Those who are born through a womb cannot be called adopted. When someone says in words “You are mine”, that is a mouth-born creation. Similarly, you would say to a sannyasi, “You are my guru” and he would say, “You are my disciple.” Therefore, they are mouth-born followers. That is a creation of a mouth. They are not called a creation born through a womb. Baba now asks you: Who is the Father of Shankaracharya? Is it the one through whom he was born? Would that one be called the Father? No, the Father of Shankaracharya is the Supreme Father, the Supreme Soul. The new soul of Shankaracharya comes and enters another being in order to establish a religion. Just as the Supreme Father, the Supreme Soul, has entered this one, in the same way, the new soul of Shankaracharya entered another and created that mouth-born creation. Then that mouth-born creation continued and a religion was established through him, just as the Brahmin religion is established through Brahma. The Father explains everything to you. Shiv Baba does not say that souls are His mouth-born creation. Souls always exist. Shiv Baba comes and creates the creation through this Prajapita Brahma. Shiv Baba says through this mouth: You are Mine. Children say: Baba, You are mine. Only through Brahma can you become the children. Shiv Baba says: Children, just remember that you are going to receive your inheritance from Me, not from Brahma. You are not going to receive anything at all from him. The inheritance of the kingdom of heaven can only be received from Me. I am the Creator of heaven. I am called Heavenly Godthe Father. Prajapita Brahma cannot be called Heavenly God, the Father. He is called a master creator. So, that One is the Father. So what does the Father create? The creation of heaven. Through whom? The one main child is Brahma. Then there are His grandsons and granddaughters. One is the spiritual Father and the other is the physical father. How can the incorporeal spiritual Father come? He definitely needs a body. It isn’t that Shiv Baba will come floating on a leaf in the ocean, sucking His thumb. He needs a body. Brahmins, the mouth-born creation of Brahma, are remembered. Therefore, the Father of Brahma is also needed. The Father of Brahma is Shiva. This is why Shiv Baba says: You mustn’t remember Brahma or his daughter Saraswati. You are reminded of Shiv Baba through them. Saraswati, the mouth-born creation of Brahma became number one. A huge mela takes place for Jagadamba because she is pure and celibate from birth. Her name is glorified so much because of purity. The name ‘Jagadamba’ cannot be given to this Brahma. Jagadamba is definitely needed. So, how does the Father create creation? The Father Himself explains to you children. There are many children. They say: He (Krishna) abducted Rukmani and Satyabhama etc., that is, he made them belong to Him. They have mentioned many such names. There are some such true stories, which are like a pinch of salt in a sackful of flour. The great Mahabharat War is also remembered in the scriptures. That will be called the Third World War. These rehearsals will continue to take place. There is the First World War, the Second World War and then there is also the Third World War. You children know that this war will take place very forcefully. How else would death come? There is the destruction of the Yadava and Kaurava clans, but the Pandava clan remains. You belong to the Pandava clan and you are sitting here. The knowledge of the Gita is in your intellects. The Father sits here and explains to you the essence of all the scriptures. He grants you visions. It is because He has knowledge Himself that He is able to grant visions. I tell you the essence of all the Vedas and scriptures etc. that you have studied. Mine is the Bhagwad Gita, the most elevated jewel of all the scriptures. They sit and make a book of the Raja Yoga that I teach you. I came on to the battlefield and gave you children knowledge. I taught you Raja Yoga. This is the war against Maya. They have then shown a physical battlefield. They show biographies of the main important ones. It is also shown who the main ones among you are. Here, truly, the main one is Saraswati. There is also Brahma who established the sacrificial fire, and then those who established the branches are also loved, numberwise. It is said: Many have changed from thorns into buds and from buds into flowers through so-and-so. Those who imbibe well are called flowers. Those who cause one another sorrow are called thorns. It is the work of thorns to cause sorrow. Those thorns are non-living whereas these thorns are human thorns. Baba says: I make you into flowers. Flowers give a lot of happiness to one another. There, even animals give happiness to one another and this is why it is said: The lion and the lamb drink water together, that is, there is no sorrow there at all. You children now have to imbibe that stage. In the golden age you receive the reward. According to the drama, you continue to imbibe, numberwise, according to the effort you make, and you then also inspire others to imbibe. Nothing happens without making effort. The Father says: Simply remember Me. This Brahma cannot say that. This one says: You are to receive the inheritance from the Father. You do not receive it from your mother. Although he explains knowledge, you are to claim your inheritance from the One to whom you have to go. His soul (Brahma’s) also has to come to Me. He has to remember Me. Everything depends on remembrance. When you find Alpha, you find everything. Alpha means Allah, God. God means the Father. A child takes birth to a father. When children find the Father, it means they receive everything. They receive all of the Father’s property. They receive all the property in a second. As soon as you take birth, you become a master of the Father’s property in a second. This Father says: I make you the masters; I don’t become that. I am always karmateet. We have to go beyond karmic bondage and then be connected through the new relationships of karma and this is why we have to make effort. It is the Father who inspires you to make effort. These are wonderful matters. The Father sits here and explains: All the gurus etc. are human beings. I do not become a human being. I do not even have a body. Brahma, Vishnu and Shankar have subtle bodies. They are called deities. I am not called a deity. The Highest on High is called God. It is remembered: You are the Mother and the Father. Therefore, this one is the mother. The Father adopts you. He serves you mothers and this is why He is called Jagad Amba, the World Mother. Shiv Baba creates Brahmins through the mouth of Brahma. This one is a mouth-born creation. He makes this one His chariot and creates the creation. The mouth-born creation of Brahma are Brahmins. However, you cannot receive the inheritance from Brahma. What does Brahma have? Nothing at all! He renounced everything. Brahma is a beggar. He gave away everything including his body. Renounce all bodily religions. I am a soul, a child of the unlimited Father. This one’s soul says this. Baba also says: This one is my most special child. However, people are created through the mother. Therefore, Brahmins are created through the mouth of Brahma. All of you Brahmins are making effort. You Brahmins also have to become just as sweet. You have to give everyone happiness. The Father is so sweet! You have to become as sweet as He is. The Father says with a lot of love: Sweetest, beloved children. Look how Shiv Baba asks you with so much love: Children, are you happy and content? This Baba too asks you: You are never attacked by Maya, are you? Many storms of Maya will come. You mustn’t be defeated in boxing. The powerful Master is sitting here. Maya is no less. However, it isn’t that she will defeat everyone. You now understand who the strong ones are. Brahmaputra (Brahma) truly is the strongest one who conquers Maya. He is a male, and then there are you Ganges, numberwise. There are also many males. There is Jagdish, Sanjay; he has very good tact in explaining to others. This is a military. There are the Commander-in-Chief, the Major, the General etc. However, this spiritual Army is incognito. There is the comparison. They have wrongly compared the Kauravas to the Pandavas. The Father says: Now judge for yourselves! Follow My pure directions, ‘shrimat’. You have been following impure directions for birth after birth. These are pure directions. It is written in the scriptures that the sparrows swallowed the ocean. How can sparrows swallow an ocean? You daughters are the sparrows; you continue to chirp knowledge. You completely swallow the ocean of knowledge. You claim your inheritance from Him and take everything from Him. You don’t keep the kingdom etc. for the Father. You completely swallow everything. You take all the treasures from Him. You take all the jewels. Those sparrows were not physical birds. It was you sparrows who swallowed the ocean. They have mixed up the things of here with birds. He gives you jewels. There is a vast difference between the jewels of knowledge and the ocean of water that they have portrayed. This is the Ocean of Knowledge and the jewels of knowledge. You have heard the story of Rup and Basant. You know that Baba is Rup and that He gives you jewels through this one. No one can place any value on these. This is knowledge through which you earn a huge income. The Father gives you jewels through this mouth. The Father is Rup and also the form of light. He is the Ocean of Knowledge and so He would definitely speak knowledge to you. You too are the form of light. However, there is only one Ocean of Knowledge. He comes and teaches you Raja Yoga. First of all, He gives knowledge to Brahma and then to you children. He makes you children rup and basant. He only comes once to fill the aprons of you souls. You fill your aprons with the jewels of knowledge. Sages and holy men etc. say: Fill our aprons! What is there in those aprons of the path of devotion? Nothing at all! They continue to ask for something. This apron is of the intellect. You purify it with remembrance. The vessel has to be very pure. Knowledge is imbibed well in celibacy. Those are young children, whereas here, there are all – old and young. The vessel becomes pure through yoga and the lock on the intellect opens. You know which one of you children is the main one on the battlefield. It is Brahma. Mama, Saraswati, is in the second grade. This one’s name is very elevated. Her name has to be glorified. This Brahma is incognito. The name Mama is mentioned in the Shakti Army. Jagadamba is Saraswati, the daughter of Brahma. Who is this one’s Mama then? He tells you these deep things now. He would definitely have told you them in the previous cycle too, and this is why He says: I continue to tell you deep things. Many children will come. They will continue to grow in number till the end. There will definitely also be obstacles. However, the tree will definitely bear fruit. Some are kings of flowers. For instance, there is the form of Baba at the top of the rosary (tassel). You, too, are the same: rup. However, you are not basant. Baba, Rup Basant, has now come and also makes you the same as Himself. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do the service of changing thorns into flowers. Become rup and basant, the same as the Father.
  2. Follow the pure directions (shrimat) of the powerful Master and become a conqueror of Maya and a conqueror of the world. Never be defeated.
Blessing: May you be master knowledge-full and by knowing each one’s nature and sanskars remain safe instead of clashing with any one.
To make any situation big or small depends on your own intellect. Since you know one another’s nature and sanskars, then being knowledge -full ,you cannot clash with anyone’s nature or sanskars. When people are aware that there is a pit or a mountain somewhere, then, because of knowing that, they would not fall into it or crash into it, but would move aside. Similarly, when you move away, you make yourself safe. Do not move away from any work, but with the power of your own safety, also make others safe . This is what it means to step aside.
Slogan: In order to experience the flying stage, always remain aware of your fortune and the Bestower of Fortune.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 16 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 June 2018

To Read Murli 15 June 2018 :- Click Here
16-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – जैसे बाप सबको सुख देते हैं, ऐसे तुम बच्चे भी फूल बन सबको सुख दो, किसी को काँटा नहीं लगाओ, सदा हर्षित रहो”
प्रश्नः- बाप जब बच्चों से मिलते हैं तो कौन-सी बात और किन मीठे शब्दों में पूछते हैं?
उत्तर:- मीठे-मीठे लाडले सिकीलधे बच्चे – खुश मौज में हो? यह प्यार के बोल शिवबाबा के मुख से ही अच्छे लगते हैं। प्यार से शिवबाबा पूछते हैं – बच्चे, राजी खुशी हो? क्योंकि बाप जानते हैं बच्चे अभी युद्ध के मैदान में खड़े हैं। माया पहलवान बन बच्चों को पीछे हटाने आती है, इसलिए बाबा पूछते हैं कि – बच्चे, मायाजीत बने हो, सदा समर्थ उस्ताद याद रहता है? खुशी रहती है?
गीत:- माता ओ माता…. 

ओम् शान्ति। शिव भगवानुवाच। अब शिव कोई शरीर का नाम नहीं है। इन ब्रह्मा को कोई भगवान कह न सके। ब्रह्मा कहते हैं शिव भगवानुवाच। ब्रह्मा का बाप शिव है। रचयिता बाप जरूर मूलवतनवासी ऊंच ते ऊंच होगा। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को ऊंच ते ऊंच नहीं कहा जाता। ऊंच ते ऊंच एक क्रियेटर बाप ठहरा। बच्चे जानते हैं ऊंच ते ऊंच बाप से हम वर्सा लेने आये हैं। वह बाप स्वर्ग का रचयिता है। अब बाप सम्मुख बैठे हुए हैं। तो मात-पिता भी चाहिए। त्वमेव माताश्च पिता… गाया जाता है। अभी शिवबाबा स्वयं कहते हैं मैं इस तन में आकर मुख वंशावली रचता हूँ। वंशावली माता बिगर तो रच नहीं सकते। तो यह ब्रह्मा माता है। परन्तु यह माता पालना नहीं कर सकती है। यह तो पिता का रूप हो गया। माता का रूप चाहिए। यह दादा (ब्रह्मा) है। यह बड़ी गुह्य, रमणीक बातें समझने की हैं। यह तो बच्चे जानते हैं हम ब्रह्मा की मुख वंशावली हैं। इनको एडाप्शन कहा जाता है। कुख वंशावली को एडाप्शन नहीं कहेंगे। मुख से कहते हैं तुम मेरी हो। इनको मुख वंशावली कहा जाता है। जैसे सन्यासी होगा तो कहेंगे आप हमारे गुरू हो। वह कहते हैं तुम हमारे शिष्य हो। तो वह हो गये मुख के फालोअर्स। मुख की उत्पत्ति। कुख वंशावली नहीं कहेंगे। अब बाबा पूछते हैं कि शंकराचार्य का बाप कौन? क्या जिससे वह पैदा हुआ, उनको बाप कहेंगे? नहीं। शंकराचार्य का बाप परमपिता परमात्मा है। शंकराचार्य की नई सोल आकर प्रवेश करती है, धर्म स्थापन करने। जैसे परमपिता परमात्मा ने इनमें प्रवेश किया है, वैसे शंकराचार्य की नई सोल ने प्रवेश कर मुख वंशावली बनाई। फिर वह मुख वंशावली चलती है। उन द्वारा धर्म स्थापन होता है। जैसे ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण धर्म स्थापन होता है। बाप हर बात समझाते हैं। शिवबाबा ऐसे नहीं कहेंगे कि आत्मायें मेरी मुख वंशावली हैं। आत्मायें तो हैं ही हैं। शिवबाबा आते हैं, आकर इस प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा रचना रचते हैं। शिवबाबा इस मुख द्वारा कहते हैं – तुम मेरे हो। बच्चे फिर कहते हैं – बाबा, आप हमारे हो। ब्रह्मा द्वारा ही तुम बच्चे बन सकते हो। शिवबाबा कहते हैं – बच्चे, ख्याल रखना, वर्सा तुमको हमसे लेना है, ब्रह्मा से नहीं मिलना है। बिल्कुल नहीं मिलना है। स्वर्ग की राजधानी का वर्सा हमसे ही मिल सकता है। रचयिता स्वर्ग का मैं हूँ, मुझे हेविनली गॉड फादर कहा जाता है। प्रजापिता ब्रह्मा को हेविनली गॉड फादर नहीं कहेंगे। फिर इनको मास्टर क्रियेटर कहेंगे। वह हो गया बाप। क्या क्रियेट करते हैं? स्वर्ग की रचना। किस द्वारा? मुख्य एक बच्चा ब्रह्मा है। फिर हैं उनके पोत्रे पोत्रियाँ। एक है रूहानी बाप, दूसरा है जिस्मानी बाप। अब निराकारी रूहानी बाप आये कैसे? जरूर उनको शरीर चाहिए। ऐसे तो नहीं शिवबाबा सागर में पत्ते पर अंगूठा चूसकर आयेगा। शरीर तो चाहिए ना। गाया हुआ है ब्रह्मा के मुख वंशावली ब्राह्मण। तो ब्रह्मा का बाप चाहिए। ब्रह्मा का बाप है शिव। इसलिए शिवबाबा कहते हैं – तुमको ब्रह्मा अथवा ब्रह्मा की बेटी सरस्वती को याद नहीं करना है। इन्हों द्वारा तुमको शिवबाबा की याद मिलती है। ब्रह्मा मुख वंशावली में सरस्वती नम्बरवन चली गई। जगत अम्बा का बड़ा भारी मेला लगता है क्योंकि बाल ब्रह्मचारी पवित्र है। पवित्रता से कितना नाम बाला हो जाता है। जगत अम्बा का नाम इस (ब्रह्मा) को दे नहीं सकते। जगत अम्बा जरूर चाहिए। तो बाप कैसे रचना रचते हैं। बाप ही बच्चों को समझाते हैं। बच्चे बहुत हैं ना। कहते हैं रुकमणी, सत्यभामा आदि को भगाया अर्थात् अपना बनाया। ऐसे-ऐसे नाम बहुत डाल दिये हैं। थोड़ा बहुत आटे में नमक कोई ऐसी-ऐसी बातें हैं।

महाभारी महाभारत युद्ध भी शास्त्रों में गाई हुई है। फिर उनको कहते थर्ड वर्ल्ड वार। यह रिहर्सल होती रहेगी। फर्स्ट वर्ल्ड वार, सेकेण्ड वर्ल्ड वार, थर्ड वर्ल्ड वार भी है। अब बच्चे जानते हैं यह लड़ाई तो बहुत ज़ोर से लगेगी। नहीं तो मौत कैसे आयेगा। यादव कुल का विनाश, कौरव कुल का विनाश। बाकी पाण्डव कुल रह जाता है। तुम पाण्डव कुल वाले बैठे हो। तुम्हारी बुद्धि में गीता का ज्ञान है। बाप बैठ सब शास्त्रों का सार समझाते हैं। साक्षात्कार कराते हैं। खुद जानते हैं तब तो साक्षात्कार कराते हैं ना। जो भी शास्त्र-वेद आदि तुमने पढ़े है, मैं तुमको सबका सार सुनाता हूँ। मेरी है सर्व शास्त्रमई शिरोमणी भगवत गीता। जो मैं राजयोग सिखलाता हूँ उनका बैठकर किताब बनाते हैं। हमने तुम बच्चों को आकर युद्ध के मैदान में नॉलेज दी है। राजयोग सिखलाया है। युद्ध है माया की। उन्होंने फिर स्थूल युद्ध का मैदान दिखाया है। मुख्य जो बड़े होते हैं उनकी बायोग्राफी बताते हैं। तुम्हारे में भी मुख्य कौन-कौन हैं, वह भी बताते हैं। यहाँ बरोबर मुख्य है सरस्वती। ब्रह्मा भी है जिन्होंने यज्ञ की स्थापना की और फिर जिन्होंने शाखाओं की स्थापना की है उन्हों में भी नम्बरवार प्रिय लगते हैं। कहेंगे फलाने द्वारा बहुत ही काँटे से कली और कली से फूल बने हैं। जो अच्छी रीति धारण करते हैं उनको फूल कहा जाता है। काँटे उसको कहते हैं जो एक दो को दु:ख देते हैं। दु:ख देना काँटे का काम है। वह काँटे जड़ हैं। यह फिर हैं ह्यूमन काँटे। बाबा कहते हैं मैं तुमको फूल बनाता हूँ। फूल एक-दो को अथाह सुख देते हैं। वहाँ तो जानवर भी एक-दो को सुख देते इसलिए कहा जाता है शेर-बकरी इकट्ठे जल पीते हैं अर्थात् वहाँ दु:ख बिल्कुल नहीं होता। वह अवस्था अभी बच्चों को धारण करनी है। सतयुग में तो तुमको प्रालब्ध मिलती है। ड्रामा अनुसार नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार धारणा करते रहते हैं और फिर धारणा कराते हैं। पुरुषार्थ बिगर कुछ होता नहीं। बाप कहते हैं सिर्फ मुझे याद करो। यह ब्रह्मा तो ऐसे कह न सके। यह कहते हैं तुमको वर्सा बाप से मिलना है। माँ से मिलता नहीं। भल ज्ञान समझाते हैं परन्तु वर्सा उनसे मिलना है जिसके पास जाना है। उनकी आत्मा को भी मेरे पास आना है। मेरे को याद करना है। याद पर ही सारा मदार है। अल्फ मिला तो सब कुछ मिला। अल्फ अर्थात् अल्लाह, ईश्वर। ईश्वर अर्थात् बाप। बच्चा बाप के पास जन्म लेता है। बच्चों को बाप मिला गोया सब कुछ मिला। बाप की सारी प्रापर्टी मिली। सेकेण्ड में सारी प्रापर्टी मिल जाती है। जन्म लिया और सेकेण्ड में बाप की मिलकियत का मालिक बना। यह बाप कहते हैं मैं तुमको मालिक बनाता हूँ, मैं नहीं बनता हूँ। वह तो है सदैव कर्मातीत। हमको कर्मबन्धन से अतीत होकर फिर नये कर्म सम्बन्ध में जुटना है, इसलिए पुरुषार्थ करना है। पुरुषार्थ कराने वाला है बाप। यह वण्डरफुल बातें हैं। बाप बैठ समझाते हैं और सब गुरू लोग मनुष्य हैं। मनुष्य मैं नहीं बनता हूँ। मेरा तो शरीर ही नहीं है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को सूक्ष्म चोला है। उनको देवता कहते हैं, मुझे तो देवता नहीं कहते। ऊंच ते ऊंच भगवान ही कहेंगे। गाया जाता है त्वमेव माताश्च पिता त्वमेव… तो वही माता ठहरी। बाप एडाप्ट करते हैं। माताओं की सेवा करते हैं इसलिए इनका नाम जगत अम्बा पड़ा है। शिवबाबा ब्राह्मण-ब्राह्मणियाँ रचते हैं ब्रह्मा मुख द्वारा। यह है मुख वंशावली। इनको अपना रथ बनाकर रचना रचते हैं। ब्रह्मा के मुख वंशावली ब्राह्मण-ब्राह्मणियाँ ठहरे। परन्तु ब्रह्मा से तो वर्सा मिल न सके। ब्रह्मा के पास क्या है, कुछ भी नहीं। सब कुछ सन्यास कर दिया। ब्रह्मा तो बेगर है। देह सहित सब कुछ दे दिया। सर्व धर्मानि परित्यज… हम तो आत्मा हैं। बेहद बाप का बच्चा हूँ। यह इनकी आत्मा कहती है। बाबा भी कहते हैं – मेरा यह मुरब्बी बच्चा है। परन्तु प्रजा तो माता द्वारा रचते हैं। तो ब्रह्मा के मुख द्वारा ब्राह्मण-ब्राह्मणियाँ रचते हैं। तुम सब ब्राह्मण-ब्राह्मणियाँ पुरुषार्थ कर रहे हो। तुम ब्राह्मणों को भी इतना ही मीठा बनना है। सबको सुख देना है। बाप कितना मीठा है, ऐसा मीठा बनना है।

बाप बहुत प्यार से बोलते हैं – मीठे-मीठे लाडले बच्चे, शिवबाबा कैसे प्यार से बोलते हैं। बच्चे, राजी खुशी हो? यह बाबा भी पूछते हैं। कभी माया का वार तो नहीं होता है ना! तूफान तो माया के बहुत आयेंगे। बॉक्सिंग में हारना नहीं है। उस्ताद समर्थ बैठा है। माया भी कोई कम नहीं है। परन्तु ऐसे थोड़ेही है कि सबको हरायेगी। अभी तुम तो समझते हो – पहलवान कौन है? माया पर जीत पाने वाले, बरोबर ब्रह्मपुत्रा (ब्रह्मा) सबसे पहलवान है। है तो मेल। फिर नम्बरवार तुम गंगायें हो। फिर मेल्स भी बहुत हैं। जगदीश संजय है, उनको समझाने की टैक्ट बहुत अच्छी है। यह मिलेट्री है। कमाण्डर-इन-चीफ, मेजर, जनरल आदि सब हैं। परन्तु यह है गुप्त रूहानी सेना। भेंट तो है ना। उन्होंने कौरव-पाण्डवों की भेंट उल्टी कर दी है। अब बाप कहते हैं जज करो। मेरी सुमत “श्रीमत” पर चलो। जन्म-जन्मान्तर कुमत पर चलते हो। यह है सुमत। शास्त्रों में लिखा है चिड़ियाओं ने सागर को हप किया। अब चिड़ियायें थोड़े-ही सागर को हप कर सकती हैं। चिड़ियायें तुम बच्चियाँ हो। ज्ञान की भूँ-भूँ करती रहती हो। तुम ज्ञान सागर को पूरा ही हप कर लेती हो। उनसे वर्सा लेकर तुम सब कुछ ले लेती हो। बाप के लिए राजाई आदि कुछ नहीं रखती हो। पूरा हप कर लेती हो। पूरा खजाना ले लेती हो। सब रत्न तुम ले लेती हो। बाकी चिड़ियायें कोई पंछी थोड़ेही हो। तुम चिड़ियाओं ने सागर को हप किया है। कहाँ की बात कहाँ पंछियों से जाकर लगाई है। तुमको रत्न दे देते हैं। कहाँ ज्ञान रत्नों की बात, कहाँ पानी का सागर बैठ दिखाया है। है यह ज्ञान सागर, ज्ञान रत्न। रूप-बसन्त की भी कहानी सुनी है। तुम जानते हो रूप बाबा है, इस द्वारा आकर रत्न देते हैं। इनकी कोई वैल्यू नहीं रख सकते। यह नॉलेज है, जिससे बड़ी भारी कमाई होती है। बाप इस मुख द्वारा तुमको रत्न देते हैं। बाप रूप भी है, ज्योति स्वरूप भी है। ज्ञान का सागर है। जरूर ज्ञान ही सुनायेंगे। ज्योति स्वरूप तुम भी हो। परन्तु ज्ञान का सागर एक है। वह आकर राजयोग सिखलाते हैं। पहले ब्रह्मा को फिर तुम बच्चों को बैठ ज्ञान देते हैं। बच्चों को रूप-बसन्त बनाते हैं। तुम्हारी आत्मा की झोली एक ही बार आकर भरते हैं। ज्ञान-रत्नों की झोली तुम भरते हो। साधू आदि कहते हैं भर दो झोली। इस भक्ति मार्ग की झोली में क्या रखा है? कुछ भी नहीं। मांगते ही रहते हैं। यह है बुद्धि रूपी झोली। याद से पवित्र बनाते हैं। बर्तन बड़ा शुद्ध चाहिए। नॉलेज भी ब्रह्मचर्य में अच्छी धारण होती है। वह तो होते हैं छोटे बच्चे। यहाँ तो बूढ़े जवान सब हैं। योग से बर्तन शुद्ध होता है। बुद्धि का ताला खुलता है। तुम जानते हो हम बच्चों में युद्ध के मैदान में मुख्य कौन है? ब्रह्मा। सेकेण्ड ग्रेड में मम्मा सरस्वती। इनका नाम तो बहुत ऊंच है। नाम बाला करना है। यह ब्रह्मा तो गुप्त है। शक्ति सेना में नाम है मम्मा का। जगत अम्बा ब्रह्मा की बेटी सरस्वती। इनकी मम्मा फिर कौन? यह गुह्य बातें अब सुनाते हैं। जरूर कल्प पहले भी सुनाई हुई हैं तब तो कहते हैं – गुह्य बातें सुनाता रहता हूँ। बच्चे तो ढेर आयेंगे। पिछाड़ी तक वृद्धि को पाते रहेंगे। विघ्न भी जरूर पड़ेंगे। परन्तु झाड़ अवश्य फलीभूत होना है। कोई किंग ऑफ फ्लावर है। जैसे माला के ऊपर बाबा का रूप है, तुम भी ऐसे रूप वाले हो। सिर्फ तुम बसन्त नहीं हो। अब बाबा रूप-बसन्त आया है तुमको भी अपने समान बनाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) काँटे से फूल बनाने की सेवा करनी है, बाप समान रूप-बसन्त बनना है।

2) समर्थ उस्ताद की सुमत (श्रीमत) पर चल मायाजीत जगतजीत बनना है। कभी भी हार नहीं खानी है।

वरदान:- हर एक के स्वभाव-संस्कार को जान, टकराने के बजाए सेफ रहने वाले मा. नॉलेजफुल भव
कोई भी बात को छोटा या बड़ा करना – यह अपनी बुद्धि पर है। जबकि एक दो के स्वभाव-संस्कार को जान गये हो तो नॉलेजफुल कभी किसी के स्वभाव-संस्कार से टक्कर नहीं खा सकते। जैसे किसको पता है कि यहाँ खड्डा है वा पहाड़ है तो जानने वाला कभी टकरायेगा नहीं, किनारा कर लेगा। ऐसे आप भी किनारा करो अर्थात् अपने को सेफ रखो। किसी काम से किनारा नहीं करो लेकिन अपनी सेफ्टी की शक्ति से दूसरे को भी सेफ करना – यही किनारा करना है।
स्लोगन:- उड़ती कला का अनुभव करना है तो सदा भाग्य और भाग्य विधाता की स्मृति में रहो।

TODAY MURLI 16 June 2017 DAILY MURLI (English)

 

[wp_ad_camp_1]

 

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 15 June 2017 :- Click Here

16/06/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you should not debate too much with anyone. Just give the introduction of the Father to everyone.
Question: The unlimited Father has stepchildren as well as real children. Who are real children?
Answer: Those who follow Baba’s shrimat, who tie a true rakhi of purity, who have the faith that they will surely take the unlimited inheritance; children with such faith in the intellect are real children. Stepchildren are those who follow the dictates of their own minds; sometimes they have faith, sometimes doubt. They even break the promise they make. The duty of worthy children is to listen to and follow all of Baba’s directions. The first direction Baba gives is: Sweet children, now tie a true rakhi of purity and finish any impure attitude.
Song: Awaken o brides, awaken! The new age is about to come.

 

Om shanti. You children understood the meaning of the song. The new world is the new age, and the old world is the old age. The new world follows after the old world. The new world is created by only the Supreme Father, the Supreme Soul. So, whether you say ‘Ishwar’ or ‘Prabhu’, you definitely have to call Him by His name. If you just say Prabhu, with whom do you have yoga? Whom do you remember? Human beings say that He doesn’t have a name, form, place of abode or time. Oh! but His name ‘Shiva’ is well known in Bharat. The one for whom Shiv Ratri is celebrated is the one who is called the Father. It is only when you have the Father’s introduction that your intellect can have yoga with Him. It is pointless to debate too much with anyone. First of all, you have to give the introduction of the unlimited Father to everyone. Which human world does He create, and how and when? From the beginning of the golden age to the end of the iron age, you continue to meet worldly fathers, but it is always the Father from beyond who is remembered. He is the Father who resides in the supreme abode. Do not think that heaven is the supreme abode. The golden age is a place here. The supreme abode is where the Supreme Father, the Supreme Soul, and we souls reside. Since the Father of all souls is the Creator of the golden age, why do the children not have the kingdom of heaven? Yes, we definitely did have the sovereignty of the golden age at some time. There was a new world and a new age, but it is now the old world and the old age. The Father created heaven; it has now become hell. Who created hell and when was it created? Maya, Ravan, created hell. It is very easy to give this knowledge to the residents of Bharat, because it is the residents of Bharat who burn Ravan. However, they do not understand the meaning of that. All the devotees remember God, but, because of not knowing Him, they call Him omnipresent. They say that He is beyond name and form; they say that He is limitless, that you cannot reach the end of Him. This is why all humans have lost hope and become slack. They had to become slack. Only then can there be the time for Baba to come and create heaven. The Father says: I have now come again. The devotees definitely receive their reward from God. It is here that God has to come to give the reward, because all are impure. No one impure can go there which is why I have to come. People also invoke Me. The devotees need God. Now, what will they receive from God? Liberation and liberation-in-life. He will not give liberation-in-life to everyone. It is those who make effort that are the ones who will receive it. Will all the billions of souls receive the inheritance? When people come to you, tell them: The Father is the Creator of heaven. We are experienced. We do not search for God now. He comes at His own time. We searched very hard before but were not able to find Him. We went on pilgrimages, we did a lot of penance and chanting and searched a great deal but we did not find Him. He has to come at His own time from the supreme region. The deities of the original eternal religion have to take 84 births. The five castes are famous. Now there is the clan of shudras and there is the clan of Brahmins. You have to explain the different clans. The castes are shown in the variety-form image, but people do not know about the Brahmin clan. So the first introduction you should give is that the Father is the Creator of heaven and that you are the Brahma Kumars and Kumaris. It is only when the Father comes and creates Brahmins that you can then become deities. There is the name Prajapita (Father of People) Brahma. Brahmins are created through the mouth of Brahma. The Father of Brahma is Shiv Baba, and so you are the family of God. Just as there are the Kirpalani and Vaswani families, in the same way, yours is God’s family; you are His children. True Brahmins are those who have made a promise of purity. All are His children, but there are some among them who are real children and others who are stepchildren. The real ones have tied the rakhi of purity. There is also the festival of Rakhi. All of these things belong to the confluence age. Dashera (the burning of Ravan) is also a celebration of the confluence age. Diwali comes immediately after destruction; everyone’s light is ignited. In the iron age, everyone’s light is extinguished. The Father is also called the Master of the Garden and the Boatman. Neither Brahma,Vishnu nor Shankar can be called the Master of the Garden or the Boatman. The Father comes into His garden to look at His children. Some of them are roses, some are jasmine and some are lilies. Each one has the fragrance of knowledge. All of you are now becoming flowers from thorns; this is the forest of thorns. There is a lot of fighting and quarrelling because all are atheists, orphans. They do not have the Lord and Master, the One who can give them directions and make them into those who belong to the Lord and Master. No one knows the Lord and Master. Therefore, the Lord and Master definitely has to come. So the Father comes and makes you into those who belong to the Lord and Master. Human beings desire to have one religion, one kingdom, but there also has to be purity. There was one religion in the golden age, but it is now the land of sorrow. You have now been transferred to the Brahmin clan. You will then go into the deity clan and not come into this impure world. The land of Bharat is the highest. If the Gita had not been falsified, who would even ask about Bharat? They go to the temples of Shiva. They are temples to the unlimited Father because the Father is the only One who bestows salvation on all. He comes and makes orphans belong to the Lord and Master. No one except the Father can explain these things. All others are those who teach devotion. There, there is no question of knowledge. The Ocean of Knowledge, the One who grants salvation, is only one. Human beings cannot be gurus to grant salvation. They call those who teach skills “gurus”, but such gurus cannot bring salvation to the entire world. Even though they say that they receive peace from the sadhus etc., it is temporary. Sannyasis say that the happiness of heaven is like the droppings of a crow. Therefore, whatever peace is received from the sannyasis is also like the droppings of a crow. They cannot give liberation. The Bestower of Liberation and Liberation-in-Life is only the one Father. They all have a lot of love for Shri Krishna, but they do not know him fully. The Father says: In the golden age there was the land of Krishna and it is now the land of Kans (Devil). Baba now comes and once again creates the land of Krishna. Then, after half a cycle it becomes the kingdom of Ravan, hell. For half a cycle there is happiness, and for a half cycle there is sorrow. The time of happiness is greater, but the play of happiness and sorrow continues. It is called the world cycle or the play of victory and defeat. Sannyasis think that they can attain eternal liberation, but no one can attain that. No one understands the significance of this. No one except the Father can grant liberation or liberation in life. You are now establishing your own kingdom. Just look! There is nothing here but sorrow all around. We are now creating heaven with the Father’s help, and we will then become the masters and rule in heaven. All others will be sent to the land of liberation and they will come at their own time. Then, when they do come down, they will first have happiness and then sorrow. On the path of devotion, they rotate rosaries and do penance and chanting etc. People say that you should only remember the One, but you have to shed body consciousness for that. No one, however, sheds body consciousness. The Father says: Now, all have to return. The Father talks only to the children. Among the children, there are some who are real children and some who are stepchildren. Stepchildren are those who do not tie a rakhi of purity. Real children have the faith that they will definitely claim the inheritance. However, there are some who fail. Some are weak, some are strong; all are numberwise. Strong ones are those who bring their wives and children as well. A strong one will make others the same as himself; a stork and a swan cannot live together. It is a big responsibility for the Father; to make everyone pure is the Father’s task. This is why the Father says: Both wheels should go together. If the wife and husband go together, everything works out fine. Come; let us both tie the bond of purity together. We will definitely now become pure and take the inheritance from the Father. If you are the children of Brahma, you are brothers and sisters and there cannot be criminal assault. Godly law says that they cannot indulge in vice. Now the Father says: The attitude of drinking and giving poison should break. We will give each other the nectar of knowledge to imbibe. We will also claim the inheritance of heaven from the Father. The duty of worthy children is to obey the father. Those who don’t obey him are unworthy. A father would definitely hesitate before giving an inheritance to unworthy children. You are Brahmins, the ones who are becoming deities. So, you should make your wife drink the nectar of knowledge in the same way that a little child’s nose is held when giving him medicine. Ask your wife: Do you believe that your husband is your god and your guru? In that case, I will definitely bring you salvation. A husband can very soon make his wife equal to himself, but a wife cannot make her husband equal to herself as quickly, and this is why there is assault against innocent ones. Daughters have to endure lot of beating. Even the G overnment is not able to protect you. They say: We are not able to do anything. The Father says: Children, follow shrimat and you will become the masters of heaven. If you become unworthy you lose the inheritance. Children there take a limited inheritance from their father, whereas the worthy children here take the unlimited inheritance from the unlimited Father. Here, it is the land of sorrow. You should not wear any gold here, because you are beggars at this time. In the next birth, you will receive palaces of gold studded with jewels. You understand that you are now receiving the inheritance for 21 births from the Father. On the path of devotion, I only give you the return of your faith. People do not understand where the Krishna soul is or where the Guru Nanak soul is. You understand how everyone has become tamopradhan by taking birth and rebirth. All of that happens in the world cycle; all have to become tamopradhan. In the end, the Father comes and takes everyone back home. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You now have to tie the bond of purity. Shed body consciousness and transform impure attitudes.
  2. Follow Baba’s shrimat and become a worthy child. You have to imbibe the nectar of knowledge and also give it to others. Take in the fragrance of knowledge and become a fragrant flower.
Blessing: May you be holy swans who transform anything wasteful into powerful with your good wishes.
Holy swans are those who let go of the negative and imbibe the positive. See but do not see, hear but do not listen. “Negative” means wasteful matters. Do not listen to, perform or speak of wasteful things. Transform anything wasteful into powerful. For this, you need to have good wishes for every soul. Something wrong will be put right through your good wishes and so, no matter what someone is like, you just give that one good wishes. Good wishes will turn stone to water, the wasteful will be transformed into something powerful.
Slogan: In order to experience supersensuous joy, remain stable in the stage of an embodiment of peace.

*** Om Shanti ***

 

[wp_ad_camp_5]

 

Read Murli 13 June 2017 :- Click Here

Read Murli 14 June 2017 :- Click Here

DAILY MURLI BRAHMA KUMARIS 16 JUNE 2017 – BK MURLI HINDI

[wp_ad_camp_1]

 

Read Bk Murli 15 June 2017 :- Click Here

16/06/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें किसी से भी जास्ती डिबेट नहीं करनी है, सिर्फ बाप का परिचय सबको दो”
प्रश्नः- बेहद के बाप को मातेले बच्चे भी हैं तो सौतेले भी हैं, मातेले कौन?
उत्तर:- जो बाप की श्रीमत पर चलते हैं, पवित्रता की पक्की राखी बांधी हुई है। निश्चय है कि हम बेहद का वर्सा लेकर ही रहेंगे। ऐसे निश्चय बुद्धि बच्चे मातेले बच्चे हैं। और जो मनमत पर चलते, कभी निश्चय, कभी संशय, प्रतिज्ञा करके भी तोड़ देते हैं वह हैं सौतेले। सपूत बच्चों का काम है बाप की हर बात मानना। बाप पहली मत देते हैं मीठे बच्चे, अब प्रतिज्ञा की सच्ची राखी बांधो, विकारी वृत्ति को समाप्त करो।
गीत:- जाग सजनियां जाग..

 

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत का अर्थ तो समझ लिया। नई सृष्टि, नया युग और पुरानी सृष्टि, पुराना युग। पुरानी सृष्टि के बाद आती है नई सृष्टि। नई सृष्टि की रचना परमपिता परमात्मा ही करते हैं फिर उसको ईश्वर कहो वा प्रभु कहो। उनका नाम भी जरूर कहना पड़े। सिर्फ प्रभू कहने से योग किससे लगायें, किसको याद करें? मनुष्य तो कहते उसको नाम रूप देश काल है नहीं। अरे उनका शिव नाम तो भारत में बाला है, जिसकी शिवरात्रि मनाई जाती है, उनको बाप कहा जाता है। जब बाप का परिचय हो तब बाप से बुद्धियोग लगे। किसी से जास्ती डिबेट करना भी फालतू है। पहले-पहले बेहद के बाप का परिचय देना है। वह मनुष्य सृष्टि कैसे, कब और कौन सी रचते हैं। लौकिक बाप तो सतयुग से लेकर कलियुग के अन्त तक मिलता ही रहता है। परन्तु याद फिर भी पारलौकिक बाप को किया जाता है। वह है परमधाम में रहने वाला पिता। परमधाम कभी स्वर्ग को नहीं समझना। सतयुग तो यहाँ का धाम है। परमधाम है वह जहाँ परमपिता परमात्मा और आत्मायें निवास करती हैं। अब जबकि सभी आत्माओं का बाप स्वर्ग का रचयिता है तो फिर बच्चों को स्वर्ग की राजाई क्यों नहीं है? हाँ, स्वर्ग की बादशाही कोई समय थी जरूर। नई दुनिया नया युग था। अभी पुरानी दुनिया, पुराना युग है। बाप ने तो स्वर्ग रचा, अब नर्क बन गया है। नर्क किसने बनाया और कब बनाया? माया रावण ने नर्क बनाया? भारतवासियों को तो यह ज्ञान देना बहुत सहज है क्योंकि भारतवासी ही रावण को जलाते हैं, सिर्फ अर्थ नहीं समझते हैं। भगत सब भगवान को याद करते हैं। परन्तु उनका पता न होने के कारण कह देते कि वह सर्वव्यापी है। नाम रूप से न्यारा है, बेअन्त है। उनका अन्त नहीं पाया जाता है इसलिए सभी मनुष्य मात्र नाउम्मींद और ठण्डे हो गये हैं। ठण्डे भी होना ही है। तो उनके आने का, स्वर्ग रचने का टाइम भी हो। अब बाप कहते हैं कि मैं फिर से आया हूँ। भक्तों को भगवान से फल तो जरूर मिलता है। भगवान को यहाँ ही आकर फल देना है क्योंकि सब पतित हैं। वहाँ तो पतित जा न सकें इसलिए मुझे ही आना पड़े। मेरा आह्वान करते हैं। भक्तों को चाहिए भगवान। अब भगवान से क्या मिलेगा? मुक्ति जीवन मुक्ति। सबको नहीं देंगे, जो मेहनत करेंगे उन्हों को देंगे। इतनी करोड़ आत्मायें वर्सा पायेंगी क्या? जब कोई आवे तो बोलो बाप है स्वर्ग का रचयिता, हम अनुभवी हैं। हम अभी भगवान को ढूँढ़ नहीं सकते। उनको तो अपने टाइम पर आना है। हमने भी पहले बहुत तलाश की, परन्तु मिला नहीं। जप-तप, तीर्थ आदि किये, बहुत ढूँढा परन्तु मिला नहीं। उनको तो अपने समय पर परमधाम से आना है। आदि सनातन देवी-देवताओं को 84 जन्म भी लेना पड़े। 5 वर्ण भी मशहूर हैं। अभी है शूद्र वर्ण, उनके बाद ब्राह्मण वर्ण। वर्णों पर भी अच्छी रीति समझाना है। विराट रूप में भी वर्ण होते हैं। ब्राह्मणों का भी वर्ण है, उन्हों को पता नहीं है। तो पहले-पहले परिचय देना है कि बाप है स्वर्ग का रचयिता और हम हैं ब्रह्माकुमार कुमारियां। बाप आकर ब्राह्मण रचे तब तो हम देवता बनें। प्रजापिता ब्रह्मा नाम है। तो ब्रह्मा मुख द्वारा ब्राह्मण रचते हैं। ब्रह्मा का बाप है शिवबाबा। गोया यह ईश्वर का कुल है। जैसे कृपलानी कुल, वासवानी कुल होता है, वैसे इस समय तुम्हारा है ईश्वरीय कुल। तुम हो उनकी औलाद, जो सच्चे ब्राह्मण हैं, जिन्होंने पवित्रता की प्रतिज्ञा की है। भल बच्चे तो सभी हैं परन्तु उनमें भी कोई मातेले हैं, कोई सौतेले हैं। मातेले जो हैं उन्हों को तो पवित्रता की राखी बांधी हुई है। राखी बंधन का भी त्योहार है ना, सब इस संगमयुग की बातें हैं, दशहरा भी संगमयुग का है। विनाश के बाद फट से दीवाली आती है, सबकी ज्योत जग जाती है। कलियुग में सबकी ज्योत बुझी हुई है।

अब बाप को खिवैया बागवान भी कहते हैं। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को खिवैया वा बागवान नहीं कहेंगे। बाप आकर अपने बगीचे में अपने बच्चों को देखते हैं। उनमें कोई गुलाब है, कोई चम्पा, कोई लिली फ्लावर हैं। हर एक में ज्ञान की खुशबू है। तुम अब कांटे से फूल बन रहे हो। यह है कांटों का जंगल। कितना झगड़ा, मारामारी आदि है क्योंकि सब नास्तिक हैं, निधनके हैं। धनी है नहीं, जो उन्हों को मत दे और धनी का बनावे। धनी को कोई जानते नहीं। तो धनी को जरूर आना पड़े ना। तो बाप आकर धनका बनाते हैं। मनुष्य चाहते भी हैं कि एक धर्म, एक राज्य हो, पवित्रता भी हो। सतयुग में एक धर्म था ना। अब तो दु:खधाम है। अब तुम ब्राह्मण वर्ण में ट्रांसफर हुए हो फिर देवता वर्ण में जायेंगे। फिर इस पतित सृष्टि पर आयेंगे नहीं। भारत है सबसे ऊंच खण्ड। अगर गीता को खण्डन नहीं करते तो यह भारत कौन कहलावे। शिव के मन्दिर में जाते हैं ना। वह है बेहद के बाप का मन्दिर क्योंकि बाप ही सद्गति दाता है। निधणको (अनाथों) को आकर धनका बनाते हैं। यह बातें बाप के सिवाए और कोई समझा न सके। और वह सब हैं भक्ति सिखलाने वाले। वहाँ तो ज्ञान की बात है नहीं। ज्ञान सागर सद्गति दाता एक ही है। मनुष्य कब सद्गति के लिए गुरू बन न सकें। ऐसे तो कोई हुनर सिखलाने वाले को गुरू कह देते हैं। परन्तु वह गुरू सारी सृष्टि की सद्गति कर नहीं सकते। भल कहते हैं कि हमको साधू आदि से शान्ति मिलती है, परन्तु अल्पकाल के लिए। फिर सन्यासी कहते हैं कि स्वर्ग का सुख तो काग-विष्टा के समान है। फिर सन्यासियों द्वारा जो शान्ति मिली, वह भी काग-विष्टा के समान ही होगी। मुक्ति तो देते नहीं हैं ना। मुक्ति-जीवनमुक्ति दाता तो एक बाप ही है। श्रीकृष्ण से सभी का बहुत प्यार है, परन्तु उसको पूरा जानते नहीं हैं। अब बाप समझाते हैं कि सतयुग में कृष्णपुरी थी, अब तो कंसपुरी हो गई है। अब बाप आकर फिर कृष्णपुरी बनाते हैं। फिर आधाकल्प के बाद रावण राज्य नर्क बन जाता है। आधाकल्प है सुख, आधाकल्प है दु:ख। सुख का समय जास्ती है, परन्तु सुख-दु:ख का खेल तो चलता रहता है। इसको सृष्टि चक्र कहा जाता है वा हार जीत का खेल कहा जाता है। सन्यासी समझते हैं कि हम मोक्ष को पा लेंगे। परन्तु मोक्ष को कोई पा नहीं सकते। इस राज़ को कोई जानता नहीं है। मुक्ति और जीवनमुक्ति बाप के सिवाए कोई दे न सके। तुम अपनी राजधानी स्थापन कर रहे हो ना! यहाँ तो देखो दु:ख ही दु:ख है। अब हम बाप की मदद से स्वर्ग बना रहे हैं, फिर हम ही मालिक बन राज्य करेंगे और बाकी सबको मुक्तिधाम में भेज देंगे। वह फिर अपने समय पर आयेंगे। जब वह भी उतरेंगे तो पहले सुख में आयेंगे फिर दु:ख में। भक्ति मार्ग में जप तप माला आदि फेरते हैं ना। कहते भी हैं कि एक को याद करना चाहिए। इसमें देह-अभिमान को छोड़ना पड़े, परन्तु कोई छोड़ता नहीं है। बाप कहते हैं कि अब सभी को वापिस जाना है। बाप बच्चों से ही बात करते हैं। बच्चों में भी कोई सौतेले हैं, तो कोई मातेले हैं। सौतेले वह हैं जो पवित्रता की राखी नहीं बांधते हैं। मातेले को तो निश्चय है कि हम तो वर्सा लेकर ही छोड़ेंगे। बाकी कोई-कोई तो फेल होते हैं। कच्चे पक्के नम्बरवार तो होते हैं। पक्के जो होंगे वह स्त्री, बच्चों आदि सबको लेकर आयेंगे, आप समान बनायेंगे। हंस-बगुले तो इकट्ठे रह न सकें। बड़ी जिम्मेवारी है बाप के ऊपर। सबको पवित्र बनाना – यह बाप का काम है इसलिए बाप कहते हैं दोनों पहिया एक साथ चलो। स्त्री और पति साथ-साथ चलते तो गाड़ी ठीक चलती है। चलो हम दोनों पवित्रता का हथियाला बाँधते हैं। अब हम पवित्र बन बाप से वर्सा जरूर लेंगे। ब्रह्मा के बच्चे बने तो भाई-बहिन हो गये। फिर क्रिमिनल एसाल्ट हो न सके। विकार में तो जा न सकें। यह ईश्वरीय ला कहता है। अभी बाप कहते हैं कि विष पीने पिलाने की वृत्ति तोड़ देनी है। हम एक दो को ज्ञान अमृत पिलायेंगे। हम भी बाप से स्वर्ग का वर्सा लेंगे। सपूत बच्चों का काम है बाप का कहना मानना। जो नहीं मानते वह कपूत ही ठहरे। कपूत बच्चों को वर्सा देने में बाप जरूर आनाकानी करेंगे। तुम ब्राह्मण देवता बनने वाले हो, तो तुम्हें अपनी स्त्री को भी ज्ञान अमृत पिलाना चाहिए। जैसे छोटे बच्चों को नाक पकड़कर दवाई पिलाई जाती है। स्त्री को कहो कि तुम मानती हो कि यह पति तुम्हारा गुरू ईश्वर है? तो जरूर हम तुम्हारी सद्गति करेंगे ना! पुरुष तो झट स्त्री को आप समान बना सकता है। स्त्री, पुरुष को जल्दी नहीं बना सकेगी, इसलिए अबलाओं पर बहुत अत्याचार होते हैं। बच्चों को बहुत मार खानी पड़ती है। तुम्हारी रक्षा गवर्मेन्ट भी कर नहीं सकेगी। वह कहेगी कि हम तो कुछ नहीं कर सकते। बाप तो कहेंगे बच्चे श्रीमत पर चलो तो तुम स्वर्ग के मालिक बनेंगे। अगर कपूत बने तो वर्सा गंवा देंगे। वहाँ लौकिक बाप से बच्चे हद का वर्सा लेते हैं और यहाँ सपूत बच्चे बेहद के बाप से बेहद का वर्सा लेते हैं। इसको कहा जाता है दु:खधाम। यहाँ तो तुमको सोना भी नहीं पहनना है क्योंकि इस समय तुम बेगर हो। दूसरे जन्म में तुमको एकदम सोने के महल मिलते हैं। रतन जड़ित महल होंगे। तुम जानते हो कि हम अब बाप से 21 जन्म का वर्सा ले रहे हैं। भक्ति मार्ग में मैं सिर्फ भावना का फल देता हूँ। वह तो जानते नहीं कि श्रीकृष्ण की आत्मा कहाँ हैं। गुरू नानक की आत्मा कहाँ है। तुम जानते हो – अब वो सब पुनर्जन्म लेते-लेते तमोप्रधान बन गये हैं। वह भी सृष्टि चक्र के अन्दर ही हैं, सबको तमोप्रधान बनना ही है। अन्त में बाप आकर फिर सभी को वापिस ले जाते हैं। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार-

1) अब पवित्रता का हथियाला बांधना है। देह-अभिमान को छोड़ विकारी वृत्तियों को चेंज करना है।

2) बाप की श्रीमत पर चल सपूत बच्चा बनना है। ज्ञान अमृत पीना और पिलाना है। स्वयं में ज्ञान की खुशबू धारण कर खूशबूदार फूल बनना है।

वरदान:- शुभ भावना से व्यर्थ को समर्थ में परिवर्तन करने वाले होलीहंस भव
होलीहंस उसे कहा जाता – जो निगेटिव को छोड़ पाजिटिव को धारण करे। देखते हुए, सुनते हुए न देखे, न सुने। निगेटिव अर्थात् व्यर्थ बातें, व्यर्थ कर्म न सुने, न करे और न बोले। व्यर्थ को समर्थ में परिवर्तन कर दे। इसके लिए हर आत्मा के प्रति शुभ भावना चाहिए। शुभ भावना से उल्टी बात भी सुल्टी हो जाती है इसलिए कोई कैसा भी हो आप शुभ भावना दो। शुभ भावना पत्थर को भी पानी कर देगा, व्यर्थ समर्थ में बदल जायेगा।
स्लोगन:- अतीन्द्रिय सुख की अनुभूति करनी है तो शान्त स्वरूप स्थिति में स्थित रहो।

 

[wp_ad_camp_5]

 

 

Read Murli 14 June 2017 :- Click Here

Read Murli 13 June 2017 :- Click Here

 

Font Resize