today murli 15 september

TODAY MURLI 15 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 15 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 14 September 2018 :- Click Here

15/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Death of all Deaths has come to take you back home. Therefore, finish your burden of sin with remembrance. Remove attachment from your body.
Question: The Father hears the call of the devotees when they begin to become unhappy instead of being happy. Which call is this?
Answer: When devotees experience sorrow, they call out: O God, take me away from this world of sorrow! There is no need for me to be in this impure world. However, when the Father answers this call and comes to take them away, they cry. They say to the doctor: Give me such medicine that I become healthy.
Song: The Resident of the faraway land has come to the foreign land.

Om shanti. The Father resides in the faraway land and you children also reside there. Now, why has that Father come here? Why do people remember the Father: “O God, come! Come and take us back home!”? It is souls that call out: Take me back home to the land of liberation. This is like calling out to the Death of all Deaths. On the path of devotion, people don’t know whom they are calling out to. They call out: Liberate us from all relationships of this impure world and take us back home. We don’t want to stay here. However, when the soul of someone leaves his body, they experience so much sorrow and cry out in distress. On the one hand, they call out to Baba: Come and take us away from here and liberate us from this body, but then, when He does liberate them, they cry out in distress. They call out in this way on the path of devotion, but they don’t understand anything. There is the story of Savitri, the wife of Satyavan. He (the Messenger of Death) came to take the soul of just one (her husband), so Savitri did not allow him to be taken away. When a human soul is about to leave the body, the soul doesn’t want to leave because of having so much attachment to the body. They say to the doctor: Give me such medicine that I become healthy. I don’t want to leave my body. However, at the same time, they say: O God, come! Come and take us back home with You. This is such a wonderfulaspect. You are now to return home in happiness. Human beings of this world have a lot attachment to their friends and relatives. Baba asks: Shall I free you from your friends and relatives etc.? I will take you back with Me, but you have to stop remembering all your relatives. If, at the end, you remember your children etc., the birth you take will be according to that. Baba says: I will separate you souls from your bodies and take you back home. You will not then remember your friends or relatives at that time, will you? At the end, you only have to remember the one Father. You do not have to come back here to take rebirth. Therefore, continue to forget everyone including your own body and remember Me, the Father, alone. I cannot take you back until you become pure. I have now come to take you souls back. However, there is a huge burden of sin on you. Baba is speaking to souls. The Father has come from the supreme abode into this foreign land. Although He establishes His world of heaven, He Himself does not go there. Here, you call out in sorrow. I only have to come once in order to take all souls back home. Whether you come happily or unhappily, you all definitely have to return. The unlimited Father, the Death of all Deaths, takes all souls back home again which means that He comes to destroy all human beings. When a woman’s husband dies, she cries so much. Now, you say: Take us away from here; we don’t want anything. However, you impure ones cannot be taken back home. Therefore, I have come to make you pure. Only when you consider yourselves to be bodiless and forget your bodies and all your bodily relations can you become pure. When you remember the Father alone, your sins will then be absolved. I show you many good methods every cycle. You know that all of these bodies will turn to ashes. When it is Holika, the thread doesn’t burn. Similarly, the soul is never burnt. However, this haystack will be set on fire. All the bodies will burn and turn to ashes and all the souls will become pure again. In order for you souls to become pure, you constantly have to make effort to remain soul conscious. Even while having a body, you have to consider yourself to be a soul and have yoga with the Father, just as sannyasis have yoga with the brahm element. They say that they will merge into the element of light. Their intellects’ yoga is linked to the element of light. It is not that they leave their bodies. They think that, by having yoga with the brahm element, they will merge into it. This is why we call them those who have knowledge of the brahm element. They have knowledge of the element, but you souls have the knowledge that you reside in the element of light. They believe that they will merge into that element of light. If they were to say that they would go and reside there, at least that would be correct. A soul cannot merge into it. They give the example of a bubble merging into the ocean, but that is wrong. It is not a question of merging into the light. An imperishable soul contains a whole part which can never be destroyed. Sannyasis renounce the vices, but none of them can return home; they continue to take rebirth here. Expansion continues to take place. Everyone has to pass through the stages of sato, rajo and tamo. All of this is fixed in the drama. Now, just look how so many varieties of illness are emerging. Previously, there were not that many diseases. All of this is fixed in the drama. You children know that Baba has now come to take all souls back home. You say: Baba take us back home. Everyone is to receive liberation and liberation-in-life, but not everyone can go to the golden age. Everyone has to come into their own religion again and at their own time. You know that such-and-such a religion comes at such-and-such a time. Baba has also come exactly as He did in the previous cycle and He will also take all the souls back home as He did before. The earth will receive so much fertilizer. Fertilizer will be needed for the new world. This is why all human beings and animals etc. will be destroyed and turned into fertilizer. Then the earth in the golden age will produce very good fruit. You children have also had visions of that. You children understand that Baba is the Death of all Deaths. Everyone says: Baba, we will go with You happily. Take us back. We are experiencing a great deal of sorrow here. This is the world that causes sorrow. In the land of sorrow, people continue to cause sorrow for one another. There is limitless sorrow here, and so I have come to take you to the land of happiness. Now just remember the One and you will be able to claim your inheritance from Him. Otherwise, you will not be able to claim your full inheritance of the kingdom, but will become part of the subjects. The Father comes and gives you the happiness of a kingdom. No other founder of a religion establishes a kingdom. This kingdom is being established in an incognito way. No one knows how the kingdom of Lakshmi and Narayan of the golden age was established. Where did deities with human forms come from if there were devils in the iron age? There was never a war between the devils and the deities. There was no question of a war or of using the sword of lust. In that case, why have they shown a war taking place? They are all confused. The world is the same; only the time changes. This is the unlimited day and the unlimited night. The golden and silver ages are called the day. There are no battles there. Then, how do they receive such a kingdom? There is no kingdom in the iron age. You say: Baba, Your task of establishment is so wonderful. You make so many children happy. Yes, but each one of you can claim a high status according to the effort you make. You know that the Supreme Father, the Supreme Soul, comes every 5000 years. Even though some call Him “Prabhu” or “God”, He is still the Father. It is good to say “Father”. God is our Father. There is no pleasure in simply saying “God”. When they say “God”, they consider Him to be omnipresent, whereas by calling Him “Father”, they do not consider Him to be omnipresent. You souls are now listening. You understand that your Baba has come and that He is making you pure with yoga. Therefore, you have to remember the Father, the Teacher and the Satguru. You children have that feeling by staying here personally in front of Baba. We are souls and we are playing our parts through our bodies. Baba has come to take us back. We are making effort to have yoga with Baba. While remembering Baba, we will return to Baba. There are some very elevated sannyasis who leave their bodies while simply sitting. They believe: I, the soul, will go and merge into the brahm element. Everyone makes effort to attain moksha (eternal liberation) or mukti (liberation). Everyone wants eternal liberation or liberation because there is so much sorrow in the world. They do not know that the cycle of the world has to turn and that each one’s part definitely has to be imperishable. Your intellects should be like a genie. In the story of the genie, he says: Give me some work to do, or I will eat you. Therefore, he was given the task of climbing up and down a ladder. The Father also tells you: Connect your intellects’ in yoga to Me; otherwise, Maya, the genie, will eat you. Maya is like a genie; she doesn’t allow you to have yoga. Maya eats even good, strong, courageous and powerful ones raw. You know that Baba has come to teach you. He says: Children, I have now come personally in front of you. Now remember Me; otherwise, Maya, the genie, will eat you. This task is given to you for your own benefit so that you become the masters of the world. Consider yourselves to be souls and renounce all consciousness of your bodies. To be a sannyasi means to renounce everything including your body, but you do have to consider yourself to be a soul. You understand that Baba is making you into deities with this knowledge and the power of yoga. A kingdom is being established. This is Raja Yoga. These things are not mentioned in the scriptures. What happened to the Pandavas after they studied Raja Yoga? Did they just melt away on the mountains? In that case, how can you tell how the kingdom was established? Now, only you understand these things. Baba says: Now remember Me; become trustee s and follow My shrimat. Continue to take advice for every situation. If your children want to get married, there is no objection. Each one’s account is separate. Whatever the child is like, his account is seen and advice is given accordingly. Some say that they want to get their children married. By all means, you can get them married. If you have money, you can also build a house; there is no objection to that. Build homes, get your children married and settle all your accounts. It is now understood who can claim a good status. It is very difficult. You need a far-sighted intellect for this. It is no small matter to claim a kingdom. Complete all your business of settling your outstanding debts with your children. First of all, at least settle any outstanding debts and any accounts you may have with others. This too is something to be understood. Kumaris don’t have any burden. Creatorshave to accomplish all the tasks. Only then can Baba make them His heirs. Maya will knock you very hard, but you also understand that Baba is very sweet. He has come to purify you all and take you back home. You need to have a great deal of love for such a Father. He is very sweet. There is limitless happiness in the golden age. This is why everyone remembers it. When someone dies, they say that he has gone to heaven. It is such a sweet name. Whatever happened in the past was later glorified on the path of devotion. These things do not happen in the golden and silver ages. So Baba has given you the task of a genie: Consider yourself to be a soul and remember the Father; otherwise, Maya, the genie, will eat you. You have to have remembrance. Have the faith that you are a soul and remember the Father. Yes, you still have to act for the livelihood of your body. You have to work eight hours a day for the livelihood of your body because you are karma yogis, but you still have to make effort. You also have to take out eight hours for making your own effort. Just think: I now belong to Baba. This body is old; you have to break all attachment to it. If, after staying in remembrance and trying to remove your attachment, some attachment still remains at the end, you will not be able to claim any fortune of the kingdom. It takes effort to become a master of the world. Baba has now come to liberate you from this land of sorrow and take you back. This is why He is called the Liberator, the Guide and the Purifier. He is the Guide (to show you the path). You have to explain that the Father has to come to create the kingdom of Rama and destroy the kingdom of Ravan. He alone is the One who establishes peace. Those who become His helpers receive a peace prize. Only the One who establishes peace can give you a peaceful kingdom. He is the most beloved Baba who gives us the inheritance every cycle. The more you follow shrimat, the more elevated you will become. You understand that you are being made into Shri Lakshmi and Shri Narayan by Shri Shri (doubly-elevated One). The sun and moon dynasty kingdoms of 21 births are now being created. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become far-sighted and settle all your karmic bondage accounts. If you have any debts in your karmic accounts, settle them and become light and you will become an heir.
  2. Become a karma yogi and work for your livelihood. Together with that, use eight hours a day for your own effort. Definitely put an end to the attachment you have for anyone.
Blessing: May you stay in solitude and find a solution to all problems by remaining stable in your eternal form.
Your original religion, your pure actions, your original form and your original land are all of peace. The special power of the confluence age is the power of silence. Your eternal characteristic is to be an embodiment of peace and to give everyone peace. The solution to all problems of the world is merged in this power of silence. A soul who is an embodiment of peace stays in solitude and remain constantly concentrated. With this concentration, you can develop the powers to discern and to decide and this is the easy solution to all problems in your interaction with others and in everything that you do for God.
Slogan: To give the experience of peace with the power of your vision, attitude and awareness is to be a great donor.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 15 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 September 2018

To Read Murli 14 September 2018 :- Click Here
15-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – कालों का काल आया है तुम सबको वापिस ले जाने, इसलिए याद से विकर्मों का बोझा ख़त्म करो, अपनी देह से मोह निकाल दो”
प्रश्नः- भक्तों की कौन-सी पुकार जब बाप सुन लेते हैं तो भक्त खुश होने के बजाए दु:खी होने लगते हैं?
उत्तर:- भक्तों पर जब दु:ख आता है तब कहते हैं – हे भगवान्, मुझे इस दु:ख की दुनिया से ले चलो, मेरी इस पतित दुनिया में दरकार नहीं लेकिन जब बाप पुकार सुनकर ले जाने के लिए आते हैं, तब रोते हैं। डॉक्टर को कहते हैं ऐसी दवाई दो जो हम तन्दरूस्त हो जाएं।
गीत:- दूरदेश का रहने वाला….. 

ओम् शान्ति। दूरदेश में बाप भी रहते हैं और तुम बच्चे भी रहते हो। अब यह बाप यहाँ क्यों आया है? बाप को क्यों याद करते हैं – हे भगवान् आओ, आकरके हमको वापिस ले जाओ? यह आत्मा कहती है अपने घर मुक्तिधाम ले जाओ। यह तो जैसे कालों के काल को पुकारते हैं। भक्ति मार्ग में समझ नहीं है हम किसको पुकारते हैं कि हमको इस पतित दुनिया के सम्बन्ध से छुड़ाकर साथ ले चलो, हमको यहाँ रहने की दरकार नहीं है और फिर कोई की आत्मा जब शरीर छोड़ती है तो कितने दु:खी होते हैं, रोते पीटते हैं। एक तरफ तो बुलाते हैं – बाबा, आकरके हमको यहाँ से ले जाओ, इस शरीर से मुक्त करो। परन्तु जब मुक्त करते हैं तो रोते-चिल्लाते हैं। भक्ति मार्ग में पुकारते हैं परन्तु समझते नहीं हैं। सावित्री सत्यवान की कहानी है। वह तो एक की आत्मा को ले जा रहे थे, परन्तु सावित्री ले जाने नहीं दे रही थी। मनुष्य जब शरीर छोड़ते हैं तो शरीर में मोह होने के कारण आत्मा छोड़ना नहीं चाहती। डॉक्टर को कहते हैं ऐसी दवाई दो जो हम तन्दरुस्त हो जाएं। शरीर को हम छोड़ना नहीं चाहते। साथ में फिर कहते – भगवान् आओ, आकर हमको साथ ले जाओ। वन्डरफुल बात है ना। अभी तुम खुशी से चलते हो। मनुष्यों का तो दुनिया में मित्र-सम्बन्धियों आदि में मोह है। अब पूछते हैं – क्या तुमको मित्र-सम्बन्धियों आदि से छुड़ाऊं? ले तो जाऊं फिर तुम इन सम्बन्धियों की याद छोड़ो। अन्तकाल अगर बच्चों आदि को सिमरेंगे तो फिर ऐसा जन्म मिल जायेगा। बाबा कहते हैं तुम आत्माओं को इस शरीर से अलग कर मैं ले जाऊंगा फिर तुमको मित्र-सम्बन्धियों आदि की याद तो नहीं पड़ेगी? पिछाड़ी में एक बाप को ही याद करना है। पुनर्जन्म में तो फिर यहाँ आना नहीं है इसलिए देह सहित सबको भूलते जाओ। मुझ एक बाप को याद करो। जब तक तुम पवित्र नहीं बनेंगे तब तक तुमको ले नहीं जा सकता हूँ। अब मैं तुम आत्माओं को लेने आया हूँ परन्तु तुम्हारे ऊपर विकर्मों का बहुत बोझा है। यह आत्माओं से बात कर रहे हैं। बाप परमधाम से आये हैं, पराये देश में। अपना देश स्वर्ग जो स्थापन करते हैं, उसमें तो उनको आना नहीं है। यहाँ तुम दु:खी होकर बुलाते हो मुझे तो एक ही समय आकर सभी आत्माओं को वापिस ले जाना है। चाहे खुशी से चलो, चाहे नाराजगी से चलो। चलना है जरूर। बेहद का बाप कालों का काल आत्माओं को वापिस ले जाते हैं। गोया सभी मनुष्यों का विनाश करने आते हैं। पति-पत्नि होते हैं, पत्नि का पति मर जाए तो कितना रोती है। अभी कहते हैं हमको ले चलो, हमें कुछ नहीं चाहिए। परन्तु तुम पतितों को ले नहीं जा सकते इसलिए पावन बनाने आया हूँ। पावन तब बनेंगे जब अपने को अशरीरी समझेंगे। देह सहित देह के सब सम्बन्ध भूलेंगे। मुझ एक बाप को याद करेंगे, तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। युक्ति तो बहुत अच्छी बतलाता हूँ – कल्प-कल्प। तुम जानते हो यह सब शरीर ख़ाक हो जायेंगे। होलिका होती है तो उसमें धागा जलता नहीं है तो आत्मा भी जलती नहीं। बाकी इस भंभोर को आग लगनी है। सभी शरीर जलकर खाक हो जायेंगे और आत्मा शुद्ध हो जायेगी।

आत्माओं को शुद्ध बनने के लिए निरन्तर देही-अभिमानी बनने का पुरुषार्थ करना है। देह होते भी अपने को आत्मा समझ बाप के साथ योग लगाना है। जैसे सन्यासी लोग ब्रह्म अथवा तत्व से योग लगाते हैं, कहते हैं हम तत्व में लीन हो जायेंगे। तत्व से बुद्धियोग लग जाता है। ऐसे नहीं कि शरीर छोड़ देते हैं। समझते हैं तत्व से अथवा ब्रह्म से हम योग लगाते-लगाते ब्रह्म में लीन हो जायेंगे इसलिए हम उनको ब्रह्म ज्ञानी, तत्व ज्ञानी कहते हैं। तत्व का ज्ञान है। तुमको ज्ञान है हम आत्मायें तत्व में रहती हैं। वह समझते हैं हम उस तत्व में लीन हो जायेंगे। अगर कहें हम जाकर वहाँ रहेंगे, तो भी ठीक है। आत्मा लीन तो होती नहीं है। बुदबुदे का मिसाल देते हैं लेकिन वह तो रांग है। ज्योति में लीन होने की बात ही नहीं। अविनाशी आत्मा में सारा पार्ट भरा हुआ है जो कभी विनाश हो नहीं सकता। सन्यासी विकारों का सन्यास करते हैं, बाकी वापिस तो कोई जाते नहीं, यहाँ ही पुनर्जन्म लेते रहते हैं। वृद्धि होती जाती है। सबको सतो, रजो, तमो से पास होना ही है। ड्रामा में यह सब नूंध है। अभी तो देखो बीमारियां भी कितनी अनेक प्रकार की निकली हैं, पहले इतनी नहीं थी। ड्रामा में यह सारी नूंध है। तुम बच्चे जानते हो – बाबा आया ही है सब आत्माओं को वापिस ले जाने। कहते हैं – बाबा, हमको वापिस ले चलो। मुक्ति-जीवनमुक्ति तो सबको मिलनी है। परन्तु सब सतयुग में तो नहीं आ सकते। जो-जो जिस समय आते हैं, उसी समय उस धर्म में ही फिर आना पड़ेगा। तुम जानते हो फलाने-फलाने धर्म, फलाने टाइम पर आते हैं। बाबा भी कल्प पहले मुआफिक आया हुआ है, इतनी सब आत्माओं को वापिस ले जायेंगे। इस धरनी को कितनी खाद मिलनी है। नई दुनिया को भी खाद चाहिए ना। तो सब मनुष्य, जानवर आदि ख़त्म हो खाद बन जायेंगे फिर सतयुग में कितना अच्छा फल देते हैं, जो तुम बच्चों ने साक्षात्कार भी किया है।

तुम बच्चे जानते हो – बाबा कालों का काल है। सब कहते हैं – बाबा, हम खुशी से आपके साथ चलते हैं, हमको ले चलो। हमको यहाँ बहुत दु:ख है। यह है ही दु:ख देने वाली दुनिया। दु:खधाम में एक-दो को दु:ख देते रहते हैं। अपार दु:ख हैं, अब तुमको सुख में ले जाने आया हूँ। अब एक को याद करेंगे तो वर्सा पा सकेंगे। नहीं तो राजाई का वर्सा पूरा पा नहीं सकेंगे, फिर प्रजा में चले जायेंगे। बाप आकर राजाई का सुख देते हैं, और कोई भी धर्म स्थापक राजधानी स्थापन नहीं करते हैं। यह तो राजधानी स्थापन कर रहे हैं गुप्त वेष में। कोई को पता नहीं है कि सतयुग में लक्ष्मी-नारायण की राजधानी कैसे स्थापन हुई? शरीरधारी देवतायें कहाँ से आये? जबकि कलियुग में असुर थे। असुरों और देवताओं की लड़ाई तो चली नहीं है। न लड़ाई की बात है, न विकार की कटारी चलती है। फिर क्यों दिखाते हैं लड़ाई लगी? मूंझ गये हैं। सृष्टि तो वही है सिर्फ समय बदलता है। यह है बेहद का दिन, बेहद की रात। सतयुग-त्रेता को दिन कहा जाता है, वहाँ तो लड़ाई होती नहीं। परन्तु वह राजधानी उन्हों को कैसे मिली? कलियुग में तो राजधानी है नहीं। कहते हैं – बाबा, वन्डरफुल है आपकी स्थापना का कर्तव्य! इतने बच्चों को सुखी बनाते हो। बाकी हाँ, अपने-अपने पुरुषार्थ अनुसार ऊंच पद पा सकते हैं। तुम जानते हो 5 हजार वर्ष बाद परमपिता परमात्मा आते हैं। भल करके कोई प्रभू, कोई गॉड कहते हैं, पिता तो है ना। पिता कहना कितना अच्छा है। ईश्वर हमारा पिता है। सिर्फ प्रभू कहने से इतना मजा नहीं आयेगा। गॉड कहने से सर्वव्यापी समझ लेते हैं। फादर कहा जाए तो सर्वव्यापी कह न सकें। अब तुम आत्मायें सुन रही हो। समझती हो हमारा बाबा आया हुआ है, हमको योग से पवित्र बना रहे हैं। तो बाप, टीचर, सतगुरू को याद करना पड़े। यहाँ बच्चों को भासना आती है सम्मुख रहने से। हम तो आत्मा हैं, इस शरीर से पार्ट बजाते हैं। बाबा हमको लेने आये हैं। हम पुरुषार्थ करते हैं बाबा से योग लगायें। बाबा को याद करते-करते बाबा के पास चले जायेंगे। कोई सन्यासी जो बहुत उत्तम होते हैं तो वह भी ऐसे बैठे-बैठे शरीर छोड़ देते हैं। समझते हैं हम आत्मा जाकर ब्रह्म में लीन हो जायेंगी। सभी मोक्ष अथवा मुक्ति के लिए ही पुरुषार्थ करते हैं क्योंकि संसार में बहुत दु:ख है, इसलिए मोक्ष अथवा मुक्ति चाहते हैं। उन्हों को यह मालूम नहीं रहता कि दुनिया का चक्र फिरना है। हमारा पार्ट जरूर अविनाशी होना चाहिए।

तुम्हारी बुद्धि जिन्न मिसल होनी चाहिए। जिन्न की कहानी कहते हैं ना, बोला – हमको काम दो, नहीं तो खा जायेंगे। फिर उसको काम दिया – सीढ़ी चढ़ो और उतरो। तुमको भी बाप कहते हैं मेरे साथ बुद्धियोग लगाओ, नहीं तो माया जिन्न खा जायेगी। माया है जिन्न, योग लगाने नहीं देती है। अच्छे-अच्छे पहलवान बहादुर को भी माया कच्चा खा जाती है। तुम जानते हो – बाबा सिखलाने आया हुआ है। कहते हैं – बच्चे, अब सम्मुख आया हूँ, मुझे अब याद करो, नहीं तो माया जिन्न खा जायेगी। यह काम दिया जाता है तुम्हारे ही कल्याण के लिए। तुम विश्व के मालिक बन जायेंगे। अपने को आत्मा समझ शरीर का भान छोड़ देना है। सन्यासी माना देह सहित सब सन्यास। बाकी अपने को आत्मा समझना है। तुम जानते हो ज्ञान और योगबल से बाबा हमको सो देवी-देवता बनाते हैं। राजाई स्थापन हो रही है। यह राजयोग है। यह बातें शास्त्रों में नहीं हैं। पाण्डव इतना राजयोग सीखे फिर क्या हुआ? बस, जाकर पहाड़ पर गल मरे? फिर कैसे पता पड़े कि राजाई कैसे स्थापन हुई? अब इन बातों को तुम समझ सकते हो। बाबा कहते हैं अब मुझे याद करो और ट्रस्टी बनकर श्रीमत पर चलो। हर बात में राय लेते रहो। बच्चों आदि की शादी करानी है, मना थोड़ेही करते हैं। हर एक का हिसाब-किताब अलग है। जैसे-जैसे जो बच्चे हैं उनका हिसाब देख राय दी जाती है। कहेंगे बच्चों को शादी करानी है भल करो। पैसा तुम्हारे पास है तो मकान भल बनाओ। मना नहीं है। मकान आदि बनाए बच्चों की शादी आदि कराकर हिसाब चुक्तू करो।

अभी समझते हैं कौन अच्छा पद पा सकते हैं। कितना डिफीकल्ट है। इसमें बड़ी दूरांदेश बुद्धि चाहिए। राजाई पानी है – कम बात थोड़ेही है! जब तक काम ख़लास हो जाए, बच्चों आदि का हिसाब चुक्तू कर छुट्टी करो। कोई से हिसाब है, कर्जा है वह तो पहले उतारो। यह भी समझने की बात है। कन्याओं को कोई बोझा नहीं होता है। क्रियेटर को सब काम ख़लास करना है। फिर बाबा वारिस बना सके। माया भी अच्छी रीति खटकायेगी। परन्तु तुम यह भी समझते हो बाबा तो बहुत मीठा है। सबको पवित्र बनाए वापिस ले जाने आये हैं। ऐसे बाप में तो बहुत लॅव होना चाहिए। मीठी चीज़ है ना। सतयुग में अपार सुख हैं इसलिए स्वर्ग को सब याद करते हैं। कोई मरता है तो कहते हैं स्वर्ग पधारा। कितना मीठा नाम है! जो पास्ट हो जाता है उसका फिर भक्ति मार्ग में नाम बाला रहता है। सतयुग-त्रेता में तो यह बातें नहीं होती। तो बाबा ने जिन्न का काम दे दिया है – अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो, नहीं तो माया रूपी जिन्न तुमको खा जायेगा। याद करना पड़े। आत्मा निश्चय कर बाप को याद करना है। हाँ, शरीर निर्वाह अर्थ कर्म तो करना ही है। 8 घण्टा तो शरीर निर्वाह के लिए चाहिए क्योंकि तुम कर्मयोगी हो। फिर तुम पुरुषार्थ करो। 8 घण्टा अपने पुरुषार्थ के लिए भी निकालो। अपने को ऐसे समझो – बस, हम बाबा के बन गये। यह शरीर तो पुराना है, इससे ममत्व मिट जाना है। मिटते-मिटते, याद करते-करते अगर किसका ममत्व रह गया तो राज्य भाग्य पा नहीं सकेंगे। विश्व का मालिक बनने में मेहनत चाहिए।

बाबा आया है दु:खधाम से लिबरेट कर ले जाने इसलिए उनको लिबरेटर और गाइड, पतित-पावन कहते हैं। पण्डा भी है। समझाना है रावण राज्य का विनाश और रामराज्य की स्थापना करने बाप को आना पड़ता है। वही शान्ति की स्थापना करते हैं, उनके जो मददगार बनते हैं उनको पीस प्राइज़ मिलती है। पीस स्थापन करने वाला ही पीसफुल राज्य देते हैं। वही मोस्ट बिलवेड बाबा है जो हमको कल्प-कल्प वर्सा देते हैं, जितना श्रीमत पर चलेंगे तो श्रेष्ठ बनेंगे। तुम जानते हो श्री श्री से हम श्री लक्ष्मी, श्री नारायण बनते हैं। 21 जन्मों के लिए सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी राजधानी स्थापन हो रही है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) दूरांदेशी बन कर्मबन्धन को समाप्त करना है। कोई भी हिसाब-किताब वा कर्जा है तो उसे उतार हल्का बन वारिस बन जाना है।

2) कर्मयोगी बन कर्म भी करना है, साथ-साथ 8 घण्टा स्व के पुरुषार्थ में देना है। सभी से ममत्व जरूर मिटाना है।

वरदान:- अपने अनादि स्वरूप में स्थित रह सर्व समस्याओं का हल करने वाले एकान्तवासी भव
आत्मा का स्वधर्म, सुकर्म, स्व स्वरूप और स्वदेश शान्त है। संगमयुग की विशेष शक्ति साइलेन्स की शक्ति है। आपका अनादि लक्षण है शान्त स्वरूप रहना और सर्व को शान्ति देना। इसी साइलेन्स की शक्ति में विश्व की सर्व समस्याओं का हल समाया हुआ है। शान्त स्वरूप आत्मा एकान्तवासी होने के कारण सदा एकाग्र रहती है और एकाग्रता से परखने वा निर्णय करने की शक्ति प्राप्त होती है जो व्यवहार वा परमार्थ दोनों की सर्व समस्याओं का सहज समाधान है।
स्लोगन:- अपनी दृष्टि, वृत्ति और स्मृति की शक्ति से शान्ति का अनुभव कराना ही महादानी बनना है।

TODAY MURLI 15 SEPTEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 15 SEPTEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 14 September 2017 :- Click Here

15/09/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the spiritual Father has created this sacrificial fire of the knowledge of Rudra. You Brahmins are protectors of this sacrificial fire. You are becoming praiseworthy, but you cannot be worshipped.
Question: What will the stage of you children be when you have been completely enlightened with knowledge?
Answer: At that time your stage will remain unshakeable and immovable. No type of storm of Maya will shake you; you will have reached your karmateet stage. Because you don’t yet have complete enlightenment of knowledge, you have storms and dreams of Maya etc. This is a battlefield. New desires will emerge but you mustn’t be afraid of them. Take shrimat from the Father and continue to move forward.
Song: Having found You, I have found everything. The earth and sky all belong to me.

Om shanti. You children have heard this song many times. Now, stabilize yourselves in its meaning. Hold on to the aim of now claiming your unlimited inheritance from the unlimited Father, the One whom we have been remembering for half the cycle. Ravan snatches away your inheritance, but people of the world do not know this; only you children know this. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra; it doesn’t belong to a human being. Even Prajapita did not create this sacrificial fire. This is the sacrificial fire of Rudra. The Ocean of Knowledge, that is, Shiva, created this sacrificial fire. Various types of sacrificial fire are created. They say Daksh Prajapati creates them. There is no Daksh Prajapati. Brahma is Prajapita (Father of Humanity). Where did the name ‘Daksh Prajapati’ come from? The Father sits here and explains: That has been created wrongly. Many tall stories have been written in the scriptures. Now the Father says: Forget all the things you have been listening to and listen to that which I tell you. There would only be one Prajapita. All the sacrificial fires that those people create are material sacrificial fires. This is the spiritual sacrificial fire created by the spiritual Father in which Brahmins are required. Those brahmin priests are a physical creation whereas you are the mouth-born creation. Those who are born through the mouth can never be worshippers. You are becoming worthy of worship, whereas they are worshippers. You become praiseworthy but cannot be worshipped now. It is wrong to worship bodily beings. Only the deities of the golden age are pure. Hindus have the custom of telling a wife that her husband is her god, her guru, her everything. So she would wash the feet of her husband and drink the water. Nowadays, that custom no longer exists. In a civil marriage, they do not use the words, “Your husband is your guru and god” etc. All of that is deceit, which is why they have created the picture of Lakshmi massaging the feet of Narayan. They think that she used to do those things and that a Hindu wife should therefore also do that. Can a half partner be made to do such things? There are many varieties of people, and so they create pictures of whatever customs they see. How could it be possible for Lakshmi to massage the feet of Narayan there? The Father says: I come and massage the feet of Draupadi. However, they have shown the form of Krishna. All of those are useless stories. There, Rama does not have four brothers. There, they only have one son. So, where did the four children come from? The Father says: I explain the essence of all those scriptures to you. Those things are explained to you children so that you can explain them to others. The Father says: The oath they all take is false. They say that Krishna spoke the Gita. People hold the Gita in their hand and say: I recognize God to be present everywhere and I will tell the truth. They do not say: I recognize GodKrishna to be everywhere. Only of God do they say this. Now remove this aspect of Krishna being the God of the Gita from your intellects. Because they take false oaths, they have no strength left. Only the one Dharmraj is accurate; He is the true Supreme Judge. In the golden age, there are no judges etc. because such things don’t happen there. All of you will go there after settling your karmic accounts. Then you will start again at the beginning and go through the stages of satopradhan, sato, rajo and tamo. Everything you see definitely changes from new to old. The world also changes from new to old. This is an old world, but how old it is no one knows. Everything is always divided equally into four. There are also four ages. The world is new at first, then it becomes a quarter old, then half old and then completely old. It becomes ready to fall totally apart. The duration of this cycle is 5000 years. You have now reached the end of it. During your final birth you claim your inheritance from the Father for 21 births. You take 21 births in the golden and silver ages. Then, why do you take 63 births in the copper and iron ages? Because, when souls become impure, the lifespan of the bodies is reduced. For half a cycle, the lifespan is long. You are now studying yoga. You children haven’t come here to study yoga or remembrance; you come here to listen to the murli personally. You love the murlis very much. You can have yoga wherever you sit. When the time of a student’s examination is close, wherever he is sitting, only the things of the examination will be going around in his intellect. Here, you are studying and having yoga simultaneously. You also have to remember the One who is teaching you. The Father says: Remember Me alone! By mistake they have inserted Krishna’s name. Sannyasis etc. don’t remember Krishna. So, who said “Manmanabhav?” The brahm element cannot say this. The Father takes the support of this mouth and says: Children, remember Me alone! How could Krishna say this? It isn’t possible for the Krishna soul to enter someone else’s body and say this. All of these points have to be imbibed by the intellect and then explained to others. The people of the Congress Party used to speak so loudly and their leader was Bapuji (Gandhi). That one was a physical father, whereas this is the spiritual Father. Gandhi cannot be everyone’s father. Shiv Baba is everyone’s Father. Brahma is also a father, but it is only you who know this at this time. The whole world will not recognize this because they have no understanding of it. Here, we call incorporeal Shiv Baba ‘Bapu’. He is the Father of all. He explains so many points to the children: sometimes about the soul, sometimes about the Supreme Soul and sometimes about the scriptures. There are countless scriptures in Bharat. People of other religions only have one scripture. Here, there are innumerable scriptures. F ollowers just say “true, true” to everything they hear. They don’t have any aim or objective. For instance, there is the path of Radhaswami. They have given the name “Radha Swami”, but the swami (lord) of Radhe is Krishna. In fact, the form of Krishna is not as the people of Bharat recognize it. Radhe is a kumari and Krishna is a kumar. Therefore, how could Krishna be called lord? It is only after their marriage, when they become Lakshmi and Narayan, that he would be called lord. In childhood, they play together, so he is not a true lord. There are many who even break their engagement. Now, they show Lakshmi and Narayan, but what was the name of Narayan’s father? They cannot tell you that. They show Krishna’s mother and father. The mother and father of Krishna were different from Radhe’s. Krishna came from one place and Radhe from another. They have confused every aspect of the golden age. What were the names of the fathers of Lakshmi and Narayan? Where did Narayan take birth? No one knows that Radhe and Krishna later become Lakshmi and Narayan. The Father says: There is so much paraphernalia on the path of devotion. On the path of knowledge, only the Seed has to be understood. When you have knowledge of the Seed, the whole tree enters your intellect. You understand that God, who is the Highest on High, lives in the supreme abode together with all the souls. Only Brahma, Vishnu and Shankar reside in the subtle region. Brahma and Vishnu take rebirth but Shankar doesn’t. Just as Shiv Baba is subtle, so too is Shankar. Therefore, they have combined Shiva and Shankar. However, in reality, they are separate. Shiv Baba inspires establishment through Brahma, sustenance through Vishnu and destruction through Shankar. Brahma becomes Vishnu. Saraswati and Brahma become Lakshmi and Narayan. This applies to you as well because you too belong to the deity clan. The Father explains all the secrets, but those who imbibe them are numberwise. Whatever effort each one made to claim a status, that same effort is being made now. A reward cannot be created without effort being made. It is understood from someone’s effort how much effort that individual made a cycle ago as well. At present, you are studying. The rosaries of Rudra and Vishnu are remembered, but there is no rosary of Brahmins because you are all effort-makers. Today, you are moving along well but, tomorrow, Maya boxes with you. When the rosary of Rudra has been created, you will be transferred. Brahmins are effort-makers. Today they are moving along well but, tomorrow, they fall and so a rosary cannot be created. Previously, Baba used to create a rosary, but those who were in the third or fourth place are no longer here. This is a battlefield. If you don’t understand something, ask about it because you also have to explain to others. Those who are weak become confused. Brahmins are also numberwise. Some even ask: Baba has explained that many storms of Maya will come, and so how can we gain victory over them? If a teacher has not experienced this, how could she explain? The Father explains that storms and dreams of Maya will come until you have gained complete enlightenment through knowledge and have reached your karmateet stage. At this time many storms will come. An elderly person will become young, and more and more new desires will be created. You say that you never had those thoughts before. It is only now that you have come onto the battlefield. Herbalists say that the sickness will erupt with their medicine. Baba is experienced; he tells you everything. You must not be afraid of this. Some say: I don’t know what has happened since I came into knowledge; devotion was better than this! Baba says: By all means, go and do devotion. These storms will not come to you there! Baba explains everything. The intellects of those who listen to this every day are able to imbibe these things. The main thing is to put this knowledge into practice. Then you may go anywhere; you will continue to receive murlis. They cannot forbid you to read murlis in the military. The military would not be told not to study the Bible or the Granth etc.; they study everything. They even have their temples. So you can receive murlis anywhere. You have also been given an aim. The main thing is to give the Father’s introduction. First of all, have the faith that the One who is teaching us is the knowledge-full One, God the Father. They will then understand the other things. No one knows how God , the Father , comes and teaches. It has also been written that God speaks and that His name is Shiva. He is the Supreme Soul. Param means supreme. Everyone resides in the supreme abode (Paramdham). Someone among the souls has to play the supreme part. He is called the Creator, the Director and the Principal Actor. He is the Creator and Karankaravanhar. Nevertheless, He also plays a part. He enters this one and plays such a huge part that Bharat becomes heaven. Highest-on-high Shiv Baba came, but what did He do when He came? They don’t understand anything. They have made the lifespan of the cycle very long. The Father says: I have to come at the end of the iron age and the beginning of the golden age. It was the kingdom of Lakshmi and Narayan in the golden age; the world was pure. We were pure and we then became impure. How the stages of ascent and decent take place is now in your intellects. The Father says: Children, continue to give the Father’s introduction to everyone. Since the Father is the Creator of heaven, we should definitely receive the kingdom of heaven. Bharat had this but it no longer exists. This is why God has to come. Bharat is the birthplace of Shiv Baba. He came and made you into the residents of heaven. You have now forgotten this. This is a game of forgetting and not forgetting. By forgetting this knowledge , you go into the stage of descent. The stage of ascent is liberation-in-life in a second. For how long did you live in bondage? These things are not written in the scriptures. There is the story of Janak. The Father says: Forget everything you have studied. I am your Father, Teacher and Satguru. I give you the inheritance for 21 births. In spite of that, oh Maya! You bury My children in the graveyard! Shiv Baba makes you into residents of the land of angels, but, because many children do not follow shrimat accurately, Maya deceives them. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Definitely study the murli every day. Don’t be afraid of the storms of Maya. In order to be saved from any kind of deceit, continue to take shrimat.
  2. This study and yoga are together. Therefore, remember the Father, the One who teaches you. Have faith in the intellect and make others the same. Give the Father’s introduction to everyone.
Blessing: May you be filled with success by making accurate decisions with cleanliness of the mind and intellect.
Success in any task is achieved when the intellect makes the right decision at the right time. However, the power to decide only works when the mind and intellect are clean and there is no rubbish in them. This is why you have to burn the rubbish with the fire of yoga and clean the intellect. Any type of weakness is rubbish. Any slight waste thought is rubbish. Only when this rubbish is destroyed will you be able to remain carefree. Then, with a clean intellect, you will achieve success in every task.
Slogan: Let elevated and pure thoughts remain constantly emerged and all waste will automatically become merged.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 13 September 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 15 SEPTEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 September 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 14 September 2017 :- Click Here
15/09/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – रूहानी बाप ने यह रूद्र ज्ञान यज्ञ रचा है, इस यज्ञ के रक्षक तुम ब्राह्मण हो, तुम गायन लायक बनते हो, लेकिन अपनी पूजा नहीं करा सकते हो”
प्रश्नः- तुम बच्चों में जब ज्ञान की पराकाष्ठा हो जायेगी, तो उस समय की स्थिति क्या होगी?
उत्तर:- उस समय तुम्हारी स्थिति अचल, अडोल होगी। किसी भी प्रकार के माया के तूफान हिला नहीं सकेंगे। तुम्हारी कर्मातीत अवस्था हो जायेगी। अभी तक ज्ञान की पूरी पराकाष्ठा न होने के कारण माया के तूफान, स्वप्न आदि आते हैं। यह युद्ध का मैदान है, नई-नई आशायें प्रगट हो जायेंगी। परन्तु तुम्हें इनसे डरना नहीं है। बाप से श्रीमत ले आगे बढ़ते रहना है।
गीत:- तुम्हें पाके हमने जहाँ …

ओम् शान्ति। गीत तो बच्चों ने बहुत बार सुने हैं, अब उनके अर्थ में टिकना है। लक्ष्य को पकड़ लिया है कि अभी हम बेहद के बाप से बेहद का वर्सा ले रहे हैं, जिसको आधाकल्प से याद किया है। रावण वर्सा छीनते हैं। दुनिया वाले इस बात को नहीं जानते, तुम बच्चे जानते हो। यह रूद्र ज्ञान यज्ञ है, कोई मनुष्य का नहीं, प्रजापिता ने यह यज्ञ नहीं रचा है। यह रूद्र यज्ञ है। ज्ञान सागर अथवा शिव ने यह यज्ञ रचा है। यज्ञ तो अनेक प्रकार के रचते हैं ना। जैसे दक्ष प्रजापति कहते हैं। अब दक्ष प्रजापति तो है नहीं। ब्रह्मा है प्रजापिता, दक्ष प्रजापति अक्षर नाम कहाँ से आया? बाप बैठ समझाते हैं – यह रांग बनाया हुआ है। शास्त्रों में भी लम्बी चौड़ी कथायें लिख दी हैं। अब बाप कहते हैं जो भी सुनते आये हो – सब भूलो। मैं जो तुमको सुनाता हूँ वह सुनो। प्रजापिता तो एक ही होगा ना। जो भी यज्ञ रचते हैं वह सब हैं मटेरियल यज्ञ। यह है रूहानी बाप का रूहानी यज्ञ, इसमें भी ब्राह्मण चाहिए। वह ब्राह्मण तो हैं कुख वंशावली। तुम हो मुख वंशावली। मुख वंशावली कब पुजारी हो न सकें। तुम पूज्य बनते हो, वह हैं पुजारी। तुम गायन लायक बनते हो। तुम्हारी पूजा अभी नहीं हो सकती। अगर देहधारी की पूजा करते हैं तो यह रांग है। पवित्र हैं ही सतयुग में देवतायें। हिन्दुओं की रसमरिवाज है जो स्त्री को कहा जाता है पति ही तुम्हारा गुरू ईश्वर सब कुछ है। तो पति के चरण धोकर पीती है। आजकल तो वह रिवाज नहीं है। सिविल मैरेज में यह अक्षर नहीं निकालते हैं कि पति तुम्हारा गुरु ईश्वर आदि है। यह सब है ठगी, इसलिए चित्र भी ऐसा बनाया है कि लक्ष्मी, नारायण के पाँव दबा रही है। समझते हैं वह भी यह सब करती थी। हिन्दू नारी को यह करना चाहिए। हाफ पार्टनर से यह धन्धा कराया जाता है क्या? किसम-किसम के होते हैं। तो जो रसम देखते हैं वह चित्र बना देते हैं। अब वहाँ ऐसे थोड़ेही हो सकता जो लक्ष्मी बैठ पांव दबाये। बाप कहते हैं – मैं द्रोपदी के आकर पांव दबाता हूँ। उन्होंने फिर कृष्ण का रूप दे दिया है। यह सब हैं व्यर्थ बातें। वहाँ राम को तो 4 भाई होते नहीं। वहाँ बच्चा भी तो एक होता है। चार बच्चे कहाँ से आये! बाप कहते हैं मैं तुमको इन सब शास्त्रों का सार बताता हूँ। यह बातें तुम बच्चों को समझाई जाती हैं। तुम समझा सकते हो, बाप कहते हैं तुम जो यह कसम उठवाते हो वह झूठा उठवाते हो। अब कहते हैं गीता कृष्ण ने गाई। हाथ में गीता उठाते हैं फिर कहते ईश्वर को हाज़िर-नाज़िर जान सच बोलना। कृष्ण भगवान को हाज़िर-नाज़िर जान, यह नहीं कहते। ईश्वर के लिए ही कहते हैं। तो कृष्ण गीता का भगवान है – यह अभी बुद्धि से निकाल दो। झूठा कसम होने के कारण उनमें ताकत नहीं रही है। एक्यूरेट है एक धर्मराज। सुप्रीम जज वही सच्चा है। सतयुग में तो जज आदि होते नहीं क्योंकि वहाँ कोई ऐसी बात नहीं होती। सब हिसाब-किताब चुक्तू कर वहाँ चले जायेंगे। फिर नये सिर सतोप्रधान सतो रजो तमो में आयेंगे। हर एक वस्तु जो तुम देखते हो नई से पुरानी जरूर होती है। दुनिया भी नई से पुरानी होती है। यह पुरानी दुनिया है। परन्तु कितने तक पुरानी है यह किसको पता नहीं है। सदैव चार भागों में बांटा जाता है। यह भी 4 युग हैं। पहले नया फिर चौथा पुराना फिर आधा पुराना फिर सारा पुराना हो जाता है। बिल्कुल ही टूटने के लायक हो जाता है। इस कल्प की आयु 5 हजार वर्ष है। अभी तुम हो अन्त में। अन्तिम जन्म में तुम बाप से वर्सा पाते हो – 21 जन्मों के लिए। सतयुग त्रेता में 21 जन्म, द्वापर कलियुग में 63 जन्म क्यों होते हैं? क्योंकि पतित बनने से आयु कम हो जाती है। आधाकल्प आयु बड़ी होती है। अभी तुम योग सीखते हो। तुम बच्चे यहाँ योग वा याद सीखने के लिए नहीं आये हो। यहाँ तुम आते हो सम्मुख मुरली सुनने। मुरली तो बहुत प्यारी लगती है। योग तो तुम कहाँ भी बैठकर कर सकते हो। स्टूडेन्ट के इम्तहान का जब टाइम होता है तो कहाँ भी होंगे बुद्धि में इम्तहान की ही बातें घूमती रहेंगी। यहाँ तुम्हारी पढ़ाई और योग इकट्ठे हैं। पढ़ाने वाले को भी याद करना पड़े। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। भूल से कृष्ण का नाम डाल दिया है। सन्यासी आदि तो कृष्ण को याद करते नहीं हैं। बाकी किसने कहा मनमनाभव? तत्व वा ब्रह्म तो नहीं कह सकता। बाप इस मुख का आधार लेकर कहते हैं – बच्चे मामेकम् याद करो। कृष्ण कैसे कहेगा! कृष्ण की आत्मा किसमें प्रवेश हो कहे वह भी नही हो सकता। यह सब प्वाइंट्स बुद्धि में धारण करनी होती है, फिर समझाना होता है। कांग्रेसी लोग कितना आवाज से बोलते थे। उन्हों का लीडर था – बापू जी। वह था जिस्मानी बापू जी। यह है फिर रूहानी बाप। सभी का बाप तो गांधी जी हो न सके। शिवबाबा तो सबका बाप है ना। ब्रह्मा भी बाप है जरूर। परन्तु इस समय सिर्फ तुम जानते हो। सारी दुनिया तो नहीं मानेंगी क्योंकि समझते नहीं। यहाँ हम बापू निराकार शिवबाबा को कहते हैं। वह सभी का बाप है। बच्चों को कितनी प्वाइंट्स समझाते हैं। कभी आत्मा पर, कभी परमात्मा पर, कभी शास्त्रों पर। ढेर के ढेर भारत में शास्त्र हैं और धर्म वालों का तो एक ही शास्त्र होता है। यहाँ तो अनेक शास्त्र हैं। फालोअर्स भी जो कुछ सुनते सत-सत करते रहते हैं। एम-आबजेक्ट कुछ भी नहीं। जैसे राधा स्वामी पंथ है – अब नाम ता रखा है राधा-स्वामी। राधे का स्वामी तो कृष्ण है। वास्तव में जिस रूप से भारतवासी कृष्ण को समझते हैं, वैसे है नहीं। राधे तो कुमारी है। कृष्ण कुमार है। फिर कृष्ण का स्वामी कैसे कहेंगे! जब स्वयंवर बाद लक्ष्मी-नारायण बनें तब स्वामी कहा जाए। छोटेपन में तो आपस में खेलपाल करते हैं। तो वह कोई पक्का स्वामी थोड़ेही हुआ। बहुत हैं जो सगाई को भी तोड़ देते हैं। अब लक्ष्मी-नारायण तो दिखाते हैं, परन्तु नारायण के बाप का नाम क्या है? कभी बता न सकें। अब कृष्ण के मॉ बाप दिखाते हैं। राधे और कृष्ण दोनों के मॉ बाप अलग-अलग हैं। राधे और जगह की थी कृष्ण फिर और जगह का था। सतयुग की बातों का सारा अगड़ग-बगड़म कर दिया है। लक्ष्मी-नारायण के माँ बाप का नाम कहाँ। नारायण का बर्थ कहाँ। यह कोई भी नहीं जानते कि राधे कृष्ण ही फिर लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। बाप कहते हैं भक्ति मार्ग की कितनी बड़ी सामग्री है। ज्ञान में तो सिर्फ बीज को जानना होता है। बीज के ज्ञान से सारा झाड़ बुद्धि में आ जाता है। तुम जानते हो ऊंच ते ऊंच भगवान है जो परमधाम में रहते हैं। वहाँ तो सभी आत्मायें रहती हैं। सूक्ष्मवतन में तो हैं सिर्फ ब्रह्मा-विष्णु-शंकर। ब्रह्मा और विष्णु तो पुनर्जन्म में आते हैं, बाकी शंकर नहीं आता। जैसे शिवबाबा सूक्ष्म है वैसे शंकर भी सूक्ष्म है तो उन्होंने फिर शिव शंकर को इकट्ठा कर दिया है। परन्तु हैं तो अलग-अलग ना। शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा स्थापना, विष्णु द्वारा पालना फिर शंकर द्वारा विनाश कराते हैं। ब्रह्मा सो विष्णु हो जाता है। ब्रह्मा-सरस्वती सो लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। ततत्वम् तुम भी देवता घराने के हो ना। तो बाप तुम्हें सब राज़ समझाते रहते हैं। बाकी धारणा करने वाले नम्बरवार हैं, जिसने जो पद कल्प पहले पाया था – वही पुरुषार्थ चल रहा है। पुरूषार्थ बिगर प्रालब्ध बन न सके। पुरूषार्थ से समझा जाता है कल्प पहले भी इसने इतना किया था। अभी तुम्हारी पढ़ाई चल रही है। रुद्र माला विष्णु की माला गाई जाती है। बाकी ब्राह्मणों की माला है नहीं क्योंकि पुरुषार्थी हैं। आज अच्छा चलते हैं, कल माया का घूसा लग पड़ता है। रुद्र माला बनने से फिर ट्रांसफर हो जायेगी। ब्राह्मण तो पुरुषार्थी हैं। आज अच्छे चलते हैं तो कल गिर पड़ते हैं। तो माला बन न सके। आगे माला बनती थी फिर 3-4 नम्बर में आने वाले आज हैं नहीं। यह युद्ध का मैदान है ना। कुछ भी बात समझ में न आये तो पूछो क्योंकि तुमको औरों को भी समझाना है। कच्चे जो हैं वह मूँझ पड़ते हैं। ब्राह्मणों में भी नम्बरवार हैं। कोई-कोई तो पूछते भी हैं कि बाबा ने समझाया है – माया के तूफान बहुत आयेंगे, तो हम उन पर कैसे विजयी बनें? अनुभवी टीचर न हो तो कैसे समझा सकेगी?

बाप समझाते हैं यह माया के तूफान, स्वप्न आदि सब आयेंगे। जब तक ज्ञान की पूरी प्राकाष्ठा आ जाए, कर्मातीत अवस्था हो – इस समय तो बहुत आयेंगे। बूढ़ों को और ही जवान बना देंगे। नई-नई आशायें प्रगट करेंगे। तुम कहेंगे आगे तो कभी ऐसे ख्याल भी नहीं आते थे। अरे युद्ध के मैदान में तो तुम अभी आये हो। वैद्य लोग कहते हैं कि इस दवाई से बीमारी सारी बाहर निकलेगी। तो बाबा अनुभवी है। सब कुछ बतलाते रहते हैं, इससे जरा भी डरना नहीं है। कहते हैं ज्ञान में आने से तो पता नहीं क्या हो गया है, इससे तो भक्ति अच्छी। बाबा तो कहते हैं भल जाओ भक्ति में। वहाँ तुमको यह तूफान नहीं आयेंगे। बाबा तो सब बातें समझाते हैं। रोज़ सुनने वालों की बुद्धि में पूरी धारणा होगी। मुख्य है ही नॉलेज से काम, फिर भल कहाँ भी जाओ। मुरली तुमको मिलती रहेगी, मुरली पढ़ने की मिलेट्री में भी मना नहीं हो सकती। मिलेट्री को ऐसे थोड़ेही कहेंगे कि बाइबल वा ग्रंथ आदि नहीं पढ़ो, सब पढ़ते हैं। उन्हों के मन्दिर भी होते हैं। तो मुरली कहाँ भी मिल सकती है। फिर भी तो लक्ष्य मिला हुआ है ना। मुख्य बात ही है बाप का परिचय देना। पहले तो निश्चय बैठे कि हमको पढ़ाने वाला नॉलेजफुल गॉड फादर है तब और बातों को समझ सकेंगे। गॉड फादर कैसे आकर पढ़ाते हैं, यह किसको पता नहीं है। लिखा हुआ भी है भगवानुवाच। उनका नाम शिव है। परम आत्मा है ना। परम अर्थात् सुप्रीम। परमधाम में तो सब रहते हैं। आत्माओं में भी सुप्रीम पार्ट तो किसका होगा ना। उनको क्रियेटर, डायरेक्टर, मुख्य एक्टर कहा जाता है। वह है रचयिता, करनकरावनहार, फिर पार्टधारी भी है। इसमें आकर कितना पार्ट बजाते हैं, जिससे भारत स्वर्ग बनता है। ऊंच ते ऊंच बाप शिवबाबा आया, क्या आकर किया? कुछ भी नहीं जानते। कल्प की आयु ही लम्बी कर दी है। बाप कहते हैं मुझे आना ही है कलियुग अन्त और सतयुग आदि में। सतयुग में लक्ष्मी-नारायण का राज्य था, पावन दुनिया थी। हम सो पावन फिर हम सो पतित। चढ़ती कला उतरती कला कैसे होती है। अभी यह सब तुम्हारी बुद्धि में है।

बाप कहते हैं बच्चे, सबको बाप का परिचय देते रहो। बाप जब स्वर्ग का रचयिता है तो जरूर हमको स्वर्ग की बादशाही मिलनी चाहिए। भारत को थी, अब नहीं है, इसलिए भगवान को आना ही पड़ता है। भारत ही शिवबाबा का बर्थप्लेस है। आकर तुमको स्वर्गवासी बनाया था। अब तुम भूल गये हो। भूल और अभुल का यह खेल है। इस नॉलेज को भूलने से फिर उतरती कला होती है। एक सेकेण्ड में जीवनमुक्ति चढ़ती कला। जीवनबंध में कितना समय लगा, यह बातें शास्त्रों में थोड़ेही हैं। जनक की बात है ना। बाप कहते हैं जो भी कुछ पढ़ा है सब भूल जाओ। बाप, टीचर, सतगुरू मैं ही हूँ – 21 जन्मों का तुमको वर्सा देता हूँ। फिर भी अहो मम माया तुम कब्रिस्तानी बना देती हो। शिवबाबा परिस्तानी बनाते हैं, माया बहुत बच्चों को धोखा देती है क्योंकि श्रीमत पर ठीक रीति नहीं चलते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) मुरली रोज़ जरूर पढ़नी है। माया के तूफानों से डरना नहीं है। किसी भी प्रकार के धोखे से बचने के लिए श्रीमत लेते रहना है।

2) पढ़ाई और योग दोनों इकट्ठा हैं इसलिए पढ़ाने वाले बाप को याद करना है। निश्चय बुद्धि बनना और बनाना है। बाप का ही परिचय सबको देना है।

वरदान:- मन-बुद्धि की स्वच्छता द्वारा यथार्थ निर्णय करने वाले सफलता सम्पन्न भव 
किसी भी कार्य में सफलता तब प्राप्त होती है जब समय पर बुद्धि यथार्थ निर्णय देती है। लेकिन निर्णय शक्ति काम तब करती है जब मन-बुद्धि स्वच्छ हो, कोई भी किचड़ा न हो इसलिए योग अग्नि द्वारा किचड़े को खत्म कर बुद्धि को स्वच्छ बनाओ। किसी भी प्रकार की कमजोरी – यह गन्दगी है। जरा सा व्यर्थ संकल्प भी किचड़ा है, जब यह किचड़ा समाप्त हो तब बेफिक्र रहेंगे और स्वच्छ बुद्धि होने से हर कार्य में सफलता प्राप्त होगी।
स्लोगन:- सदा श्रेष्ठ और शुद्ध संकल्प इमर्ज रहें तो व्यर्थ स्वत: मर्ज हो जायेंगे।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 13 September 2017 :- Click Here

Font Resize