today murli 15 JANUARY

TODAY MURLI 15 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 15 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 14 January 2019 :- Click Here

15/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, just as Baba is a mountain of sweetness, so you children have to remember the sweet Father and the inheritance and also become most sweet.
Question: With which method do you make yourselves safe and make everything of yours safe too?
Answer: You say: Baba, I give You everything I have, including this body worth straws, and I will receive everything from You in the future (golden age). So, this is as though you have become safe. You put everything in Baba’s safe. This is Shiv Baba’s safety bank. You stay in Baba’s safe and become immortal. You also gain victory over death. You belong to Shiv Baba and so you become safe. However, you do have to make effort to claim a high status.

Om shanti. The Father asks you children: Do you see your most elevated, auspicious faces of the future? Do you see your most elevated, auspicious costumes? Do you understand that, in the future, you will go to the dynasty of the new, golden-aged world of Lakshmi and Narayan, that is, you will go to the land of happiness and you will become the most elevated beings? When students study, it remains in their intellects that they will become such-and-such. You too know that you will go into the dynasty of Vishnu; the dual-form of Vishnu is Lakshmi and Narayan. Your intellects are now alokik. These things do not turn around in the intellect of anyone else. Here, you know that you are sitting in the company of the true Father, Shiv Baba. The highest-on-high Father is teaching you. He is “most sweet est . You have to remember that sweetest Father with a lot of love because the Father says: Children, it is only by remembering Me that you will become the most elevated beings, and, by imbibing the jewels of knowledge, you will become multimillionaires for your future 21 births. It is as though the Father is giving you these blessings. The sweetest brides and sweetest, worthy children receive these blessings. The Father is pleased to see the sweetest children. You children know that you are all playing your own parts in this play. The unlimited Father is also playing His part of being personally in front of you in this unlimited drama. You sweet children of the sweet Father are personally able to see the s weetest Father. Souls see one another with the organs of the body. So, you are the sweet children. The Father knows that He has come to make you children very sweet. This Lakshmi and Narayan are most sweet. Their kingdom is also sweet. In fact, even their subjects are sweet. When you go to the temples you find them (idols) to be so sweet. You feel: As soon as the temple opens, we will have a glimpse of the sweet deities. Those who have a glimpse of them understand that they were the masters of sweet heaven. So many people go to a Shiva Temple because He is the sweetest of all. People praise that sweetest Shiv Baba a great deal. You children too have to become mostsweet. The “most sweetest  Father is personally sitting in front of you children. He is incognito. No one else can be as sweet as He is. It is as though the Father is a mountain of sweetness. Only the sweet Father comes into this bitter world and makes it sweet. You children know that sweetest Baba is making you the most sweet of all. He is making us exactly like He is. Whatever someone is like, he would make others the same as himself. So, in order to become such sweetbeings, you have to remember the sweet Father and the sweet inheritance. Baba repeatedly tells you children: Children, consider yourselves to be bodiless and remember Me and I promise that all your sorrow and suffering will be removed through this remembrance; you will become ever healthy and everwealthy. You will become most sweet. When you souls become sweet, you will also receive sweet bodies. You children should have the intoxication that you are the children of the most b eloved Father. Therefore, you have to follow Baba’s shrimat. The very sweetest Baba is making us very sweet. The m ost beloved Father says: Jewels should always emerge through your lips. No bitter stones should emerge through your lips. The sweeter you become, the more you will glorify the Father’s name. When you children follow the Father, everyone else will follow you. Baba is also your Teacher. So, the Teacher would definitely give teachings to you children. Children, every day, keep your chart of remembrance. Just as businessmen look at their accounts every night, so, you are businessmen who do such big business with the Father. The more you remember the Father, the more limitless happiness you will receive from the Father. You will become satopradhan. Check yourselves every day. Just as Narad was told to look at his face in the mirror to see whether he was worthy of marrying Lakshmi, so you too have to see whether you are worthy of becoming like them. Otherwise, check what defects you have because you children have to become perfect. The Father has come to make you perfect. So, you have to check yourselves honestly to see what weaknesses you have due to which you can understand that you wouldn’t be able to claim a high status. The Father continues to show you methods to chase away those evil spirits. The Father sits here and looks at all souls. When He sees the weaknesses of some, He gives them a current so that their obstacles are removed. The more you help the Father and continue to praise Him, the more the evil spirits will leave you and you will remain very happy. Therefore, check yourself fully: Throughout the day, did I cause anyone sorrow through my thoughts, words or deeds? You have to be a detached observer and check your behaviour. You can also see the behaviour of others, but you first have to look at yourself. When you look at others, you forget to look at yourself. Each one of you has to serve yourself. To serve others means to serve yourself. You do not do Shiv Baba’s service. Shiv Baba Himself has come on service. You Brahmin children are very valuable and are sitting in safety in Shiv Baba’s bank. You become immortal by being in Baba’s safe. You are gaining victory over death. Now that you belong to Shiv Baba, you have become safe. However, you have to make effort to claim a high status. No matter how much wealth and prosperity people in the world have, all of that will be destroyed; none of it will remain. You children now have nothing. You don’t even have those bodies of yours. You also have to give those to the Father. It is as though those who don’t have anything have everything. You made a deal with the unlimited Father for the future new world. You say: Baba, I am giving You everything I have, including this body worth straws, and I will receive everything from You there. So, it is as though you have become safe. It is as though everything is safe in Baba’s safe. You children should have so much happiness inside that there is now very little time left and that you will then go to your own kingdom. If anyone asks you, tell them: Wah! We are claiming our inheritance of unlimited happiness from the unlimited Father. We are becoming ever healthy and wealthy. All our desires are being fulfilled. The Father explains: Sweet children, now become soul conscious. If you explain with the power of yoga even a little to someone, the arrow will soon strike him. Those who are shot by the arrow become completely unconscious. First of all, they become unconscious and then they belong to Baba. They remember the Father with a lot of love and so the Father also feels that pull. Some don’t remember Him at all. Baba feels mercy. Nevertheless, He would say: Children, may you progress! Claim a number at the front. The higher the status you claim, the closer you will come and you will receive limitless happiness. Only the one Father is the Purifier. Therefore, you have to remember the one Father. Not just the one Father but, together with Him, you also have to remember the sweet home. Not just the sweet home, but you also want all the treasures and property and so you have to remember the sweet land of heaven. You definitely have to become pure. You children have to remain introverted as much as possible. Don’t speak too much. Remain in silence. The Father gives you children the teachings: Sweet children, don’t spread peacelessness. While living at home with your family, remain in a lot of peace. Remain introverted. Speak very sweetly. Don’t cause sorrow for anyone. Don’t become angry. If there is the evil spirit of anger, you won’t be able to stay in remembrance. The Father is so sweet and so He also explains to you children: Don’t let your intellects stumble. Don’t become extroverted. Be introverted. The Father is so lovely and pure. He is also making you children as pure as He is. The more you remember the Father, the lovelier you will become. The deities were so lovely that, even now, people continue to worship their non-living images. So, the Father says: Children, you have to become as lovely once again. You mustn’t remember any bodily beings or any objects at the end. Remember the Father with so much love that, while sitting in remembrance, tears of love continue to fall. Baba, o sweet Baba, I have received everything from You. Baba, You are making me so lovely. Souls become lovely. Just as the Father is extremely lovely and pure, so you too have to become just as pure. Remember the Father with a lot of love : Baba, no one but You should come in front of me. No one is as lovely as the Father. Each one of you becomes a lover of that Beloved. So, you have to remember that Beloved a great deal. Baba has told you that that physical lover and beloved don’t stay together; they see one another once, and that’s it! The Father says: Sweet children, constantly remember Me alone and your boat can go across. We have so much love for the sweet Father through whom we become like diamonds. Remember the Father with a lot of love. You should have goose pimples. Remove whatever defect s you have and become a pure diamond. If there is the slightest flaw, your value will be reduced. You have to make yourself into a valuable diamond. Remembrance of the Father should harass you. You should not forget Him, but remembrance should in fact also harass you. When you say, “Baba, Baba”, you should feel that coolness inside you. You receive such a huge inheritance from the Father. You children are now establishing your deity kingdom. Everyone is making effort. Those who make greater effort receive a greater reward; this is the law. Establishment is taking place, whether you call it a deity kingdom or a garden. Flowers in a garden are numberwise. Some gardens give very good fruit whereas others give less fruit. It is the same here. You are becoming as sweet and fragrant as you were in the previous cycle, numberwise, according to the effort you make. There are varie ties of flowers. You children have the faith that you are becoming the masters of heaven through the unlimited Father. There is a lot of happiness experienced in becoming the masters of heaven. So, the Father sits here and looks at you children. The Master’s vision is on the home. He sees what virtues and what defects each of you has. You children also know this. That is why Baba says: You yourselves should write down your weaknesses. No one has as yet become perfect, but yes, you do have to become that. You have become that every cycle. The Father explains: The main weakness is body consciousness. Body consciousness troubles you a lot. It doesn’t allow your stage to move forward. You also have to forget your bodies. You have to shed those old bodies and return home. You also have to imbibe divine virtues here before you go. You have to go and so you mustn’t have any flaws in you. You are becoming diamonds. You know what flaws you have. There are flaws in those physical diamonds too, but those flaws cannot be removed, because they are non-living. Those flaws have to be cut away. You are living diamonds. So, you have to remove completely whatever flaws you have and become flawless by the end. If you don’t removethe flaws, your value will be reduced. Because you are living, you can remove those flaws. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remain introverted and peaceful as much as possible and don’t speak too much. Don’t spread peacelessness. Speak very sweetly. Don’t cause anyone sorrow. Don’t become angry. Don’t become extroverted and thereby make your intellect stumble.
  2. In order to become perfect, check yourself honestly to see what weaknesses you have in you. Be a detached observer and check your behaviour. Create methods to chase away the evil spirits.
Blessing: May you be a constantly powerful soul and have sweet experiences with the power of realisation.
The power of realisation enables you to have very sweet experiences. Sometimes, experience yourself to be a jewel in the Father’s eyes, that is, experience yourself to be an elevated point merged in the Father’s eyes. Sometimes, be a jewel sparkling in the centre of the forehead. Sometimes, experience yourself to be Father Brahma’s co-operative right hand, Brahma’s arm. Sometimes, experience yourself to be an avyakt, angelic form. Increase this power of realisation and you will become powerful. Then, when you see even a small stain you will transform it.
Slogan: Continue to take blessings from everyone’s heart and your efforts will become easy.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

Just as Father Brahma especially practised the stage of the seed-form, that is, the powerful stage and gave sakaash to the whole world, follow the Father in the same way because that stage does the work of a light-house and a might-house. Just as the whole tree automatically receives water from the seed, in the same way, when you stabilise yourself in the stage of the seed-form, the world will automatically receive the water of light.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 15 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 January 2019

To Read Murli 14 January 2019 :- Click Here
15-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – जैसे बाबा स्वीट का पहाड़ है, ऐसे तुम बच्चों को भी स्वीट बाप और वर्से को याद कर मोस्ट स्वीट बनना है”
प्रश्नः- तुम अभी किस विधि से स्वयं को सेफ कर अपना सब कुछ सेफ कर लेते हो?
उत्तर:- तुम कहते हो बाबा देह सहित यह जो कुछ कखपन है हम अपना सब कुछ आपको देते हैं और आप से फिर वहाँ (भविष्य में) सब कुछ लेंगे। तो तुम जैसे सेफ हो गये। सभी कुछ बाबा की तिजोरी में सेफ कर देते हो। यह शिवबाबा की सेफ्टी बैंक है। तुम बाबा की सेफ में रहकर अमर बनते हो। तुम काल पर भी विजय पाते हो। शिवबाबा के बने तो सेफ हो गये। बाकी ऊंच पद पाने लिए पुरुषार्थ करना है।

ओम् शान्ति। बाप बच्चों से पूछते हैं मीठे बच्चे अपना भविष्य का पुरुषोत्तम मुख देखते हो? पुरुषोत्तम चोला देखते हो? समझ में आता है कि हम भविष्य नई सतयुगी दुनिया में इन (लक्ष्मी-नारायण) के वंशावली में जायेंगे अर्थात् सुखधाम में जायेंगे अथवा पुरुषोत्तम बनेंगे! स्टूडेन्ट जब पढ़ते हैं तो बुद्धि में रहता है ना कि मैं फलाना बनूँगा। तुम भी जानते हो हम विष्णु की डिनायस्टी में जायेंगे क्योंकि विष्णु के दो रूप हैं लक्ष्मी-नारायण। अभी तुम्हारी बुद्धि अलौकिक है, और कोई की बुद्धि में यह बातें रमण नहीं करेंगी। यहाँ तुम जानते हो हम सत बाबा, शिवबाबा के संग में बैठे हैं। ऊंच ते ऊंच बाप हमको पढ़ा रहे हैं। वह है मोस्ट स्वीटेस्ट। उस स्वीटेस्ट बाप को बहुत लव से याद करना है क्योंकि बाप कहते हैं बच्चों मुझे याद करने से तो तुम ऐसा पुरुषोत्तम बनेंगे और ज्ञान रत्नों को धारण करने से तुम भविष्य 21 जन्मों के लिए पदमा पदमपति बनेंगे। बाप जैसे वर देते हैं। वर मिलेगा मीठी-मीठी सजनी को अथवा मीठे-मीठे सपूत बच्चों को।

मीठे-मीठे बच्चों को देख बाप खुश होते हैं। बच्चे जानते हैं इस नाटक में सभी अपना-अपना पार्ट बजा रहे हैं। बेहद का बाप भी इस बेहद के ड्रामा में सम्मुख का पार्ट बजा रहे हैं। स्वीट बाप के तुम स्वीट बच्चों को स्वीटेस्ट बाप सम्मुख नज़र आता है। आत्मा ही इस शरीर के आरगन्स से एक दो को देखती है। तो तुम हो स्वीट चिल्ड्रेन। बाप जानते हैं मैं बच्चों को बहुत स्वीट बनाने आया हूँ। यह लक्ष्मी-नारायण मोस्ट स्वीट हैं ना। जैसे इनकी राजधानी स्वीट है, वैसे इनकी प्रजा भी स्वीट है। जब मन्दिर में जाते हैं तो इन्हों को कितना स्वीट देखते हैं। कहाँ मन्दिर खुले तो हम स्वीट देवताओं का दर्शन करें। दर्शन करने वाले समझते हैं यह स्वीट स्वर्ग के मालिक थे। शिव के मन्दिर में भी कितने ढेर मनुष्य जाते हैं क्योंकि वह बहुत स्वीटेस्ट ते स्वीटेस्ट हैं। उस स्वीटेस्ट शिवबाबा की बहुत महिमा करते हैं। तुम बच्चों को भी मोस्ट स्वीट बनना है। मोस्ट स्वीटेस्ट बाप तुम बच्चों के सम्मुख बैठे हैं क्योंकि इनकागनीटो है। इन जैसा स्वीट और कोई हो नहीं सकता। बाप जैसे स्वीट का पहाड़ है। स्वीट बाप ही आकर कड़ुई दुनिया को बदल स्वीट बनाते हैं। बच्चे जानते हैं स्वीटेस्ट बाबा हमको मोस्ट स्वीटेस्ट बना रहे हैं। हूबहू आप समान बनाते हैं। जो जैसा होगा वैसा बनायेगा ना। तो ऐसा स्वीटेस्ट बनने के लिए स्वीट बाप को और स्वीट वर्से को याद करना है।

बाबा बार-बार बच्चों को कहते हैं मीठे बच्चे अपने को अशरीरी समझ मुझे याद करो तो मैं प्रतिज्ञा करता हूँ याद से ही तुम्हारे सब कल कलेष मिट जायेंगे। तुम एवर हेल्दी, एवर वेल्दी बन जायेंगे। तुम मोस्ट स्वीट बन जायेंगे। आत्मा स्वीट बनेगी तो शरीर भी स्वीट मिलेगा। बच्चों को यह नशा रहना चाहिए मोस्ट बिलवेड बाप के हम बच्चे हैं तो हमको बाबा की श्रीमत पर चलना है। बहुत मीठा-मीठा बाबा हमको बहुत स्वीट बनाते हैं। मोस्ट बिलवेड बाप कहते हैं तुम्हारे मुख से सदैव रत्न निकलने चाहिए। कोई भी कड़ुवा पत्थर नहीं निकलना चाहिए। जितना स्वीट बनेंगे उतना बाप का नाम बाला करेंगे। तुम बच्चे बाप को फालो करो तो तुमको फिर और सभी फालो करेंगे।

बाबा तुम्हारा टीचर भी है ना। तो टीचर जरूर बच्चों को शिक्षा देंगे बच्चे, याद का रोज़ अपना चार्ट रखो। जैसे व्यापारी लोग रात को मुरादी सम्भालते हैं ना। तो तुम व्यापारी हो, बाप से कितना बड़ा व्यापार करते हो। जितना बाप को जास्ती याद करेंगे उतना बाप से अथाह सुख पायेंगे, सतोप्रधान बनेंगे। रोज़ अपने अन्दर जांच करनी है। जैसे नारद को कहा ना आइने में अपना मुंह देखो कि लक्ष्मी को वरने के लायक हूँ! तुमको भी देखना है हम ऐसा बनने लायक हैं! नहीं तो हमारे में क्या-क्या खामियाँ हैं, क्योंकि तुम बच्चों को परफेक्ट बनना है। बाप आये ही हैं परफेक्ट बनाने लिए। तो ईमानदारी से अपनी जाँच करनी है – हमारे में क्या-क्या खामी है? जिस कारण समझता हूँ कि ऊंच पद नहीं पा सकूँगा। इन भूतों को भगाने की युक्ति बाप बताते रहते हैं। बाप बैठ सभी आत्माओं को देखते हैं, किसकी खामी देखते हैं तो फिर उनको करेन्ट देते हैं कि इनका यह विघ्न निकल जाये। जितना बाप की मदद कर बाप की महिमा करते रहेंगे तो यह भूत भागते रहेंगे और तुमको बहुत खुशी होगी, इसलिए अपनी पूरी जाँच करनी है – सारे दिन में मन्सा, वाचा, कर्मणा किसी को दु:ख तो नहीं दिया? साक्षी हो अपनी चलन को देखना है, औरों की चलन को भी देख सकते हो परन्तु पहले अपने को देखना है। सिर्फ दूसरे को देखने से अपना भूल जायेंगे। हरेक को अपनी सर्विस करनी है। दूसरों की सर्विस करना माना अपनी सर्विस करना। तुम शिवबाबा की सर्विस नहीं करते हो। शिवबाबा तो सर्विस पर आये हैं ना।

तुम ब्राह्मण बच्चे बहुत-बहुत वैल्युबुल हो, जो शिवबाबा की बैंक में सेफ्टी में बैठे हो। तुम बाबा की सेफ में रहकर अमर बनते हो। तुम काल पर विजय पहन रहे हो। शिवबाबा के बने तो सेफ हो गये। बाकी ऊंच पद पाने लिए पुरुषार्थ करना है। दुनिया में मनुष्यों पास कितना भी धन-दौलत है परन्तु वह सभी खत्म हो जाना है। कुछ भी नहीं रहेगा। तुम बच्चों के पास तो अभी कुछ भी नहीं है। यह देह भी नहीं है। यह भी बाप को दे दो। तो जिनके पास कुछ नहीं है उनके पास जैसेकि सब कुछ है। तुमने बेहद के बाप से सौदा किया ही है भविष्य नई दुनिया के लिए। कहते हो बाबा देह सहित यह जो कुछ कखपन है सभी कुछ आपको देते हैं और आप से फिर वहाँ सभी कुछ लेंगे। तो तुम जैसे सेफ हो गये। सभी कुछ बाबा की तिजोरी में सेफ हो गया। तुम बच्चों के अन्दर में कितनी खुशी होनी चाहिए बाकी थोड़ा समय है फिर हम अपनी राजधानी में होंगे। तुमको कोई पूछे तो बोलो, वाह हम तो बेहद के बाप से बेहद सुख का वर्सा ले रहे हैं! एवर हेल्दी वेल्दी बनते हैं। हमारी सभी मनोकामनायें पूरी हो रही हैं।

बाप समझाते हैं मीठे बच्चों अब देही-अभिमानी बनो। योग की ताकत से तुम किसको थोड़ा भी समझायेंगे तो उनको झट तीर लग जायेगा। जिसको तीर लगता है तो एकदम घायल कर देते हैं। पहले घायल होते हैं फिर बाबा के बनते हैं। बाप को प्यार से याद करते हैं तो बाप को भी कशिश होती है। कई तो बिल्कुल ही याद नहीं करते। बाबा को तरस पड़ता है फिर भी कहेंगे बच्चे उन्नति को पाओ। आगे नम्बर में आओ। जितना ऊंच पद पायेंगे उतना नजदीक आयेंगे और उतना अथाह सुख पायेंगे। पतित-पावन तो एक ही बाप है, इसलिए एक बाप को याद करना है। सिर्फ एक बाप भी नहीं, साथ-साथ फिर स्वीट होम को भी याद करना है। सिर्फ स्वीटहोम को भी नहीं, माल-मिलकियत भी चाहिए इसलिए स्वर्गधाम को भी याद करना है। पवित्र जरूर बनना है। जितना हो सके बच्चों को अन्तर्मुख हो रहना है। जास्ती बोलो नहीं, शान्त में रहो। बाप बच्चों को शिक्षा देते हैं मीठे बच्चे अशान्ति नहीं फैलानी है। अपने घर-गृहस्थ में रहते भी बहुत शान्ति में रहो। अन्तर्मुख हो रहो। बहुत मीठा बोलो। कोई को दु:ख न दो। क्रोध न करो। क्रोध का भूत होगा तो याद में रह नहीं सकेंगे। बाप कितना मीठा है, तो बच्चों को भी समझाते हैं, बुद्धि को धक्का नहीं खिलाओ। बाह्यमुखी मत बनो, अन्तर्मुखी बनो।

बाप कितना लवली प्युअर है। तुम बच्चों को भी आप समान प्युअर बनाते हैं। तुम जितना बाप को याद करेंगे उतना अथाह लवली बनेंगे। देवतायें कितने लवली हैं, जो अभी तक भी उनके जड़-चित्रों को पूजते रहते हैं। तो बाप कहते हैं बच्चे तुम्हें फिर से ऐसा लवली बनना है। कोई भी देहधारी, कोई भी चीज़ पिछाड़ी को याद न आये। इतना लव से बाप को याद करना है, जो बस बैठे-बैठे प्रेम के ऑसू बहते रहें। बाबा, ओ मीठा बाबा आप से तो हमें सब कुछ मिल गया है। बाबा आप हमें कितना लवली बनाते हो। आत्मा लवली बनती है ना। जैसे बाप अति लवली प्युअर है, ऐसे प्युअर बनना है। बहुत लव से बाप को याद करना है। बाबा आपके सिवाए हमारे सामने दूसरा कोई न आये। बाप जैसा प्यारा कोई है नहीं। हरेक उस एक माशूक के आशिक बनते हैं। तो उस माशुक को बहुत याद करना है। बाबा ने बताया है वह जिस्मानी आशिक-माशुक कोई इकट्ठे नहीं रहते, एक बार देख लिया बस। तो बाप कहते हैं मीठे बच्चे, मामेकम् याद करो तो बेड़ा पार है। जिस मीठे बाप द्वारा हम हीरे जैसा बनते हैं ऐसे बाप के साथ हमारा कितना लव है। बहुत प्रेम से बाप को याद कर अन्दर रोमांच खड़े हो जाने चाहिए। जो भी डिफेक्ट्स हैं उनको निकाल प्युअर डायमण्ड बनना है। अगर थोड़ी भी कमी होगी तो वैल्यु कम हो जायेगी। अपने को बहुत वैल्युबुल हीरा बनाना है। बाप की याद सतानी चाहिए। भूलनी नहीं चाहिए बल्कि और ही याद सतानी चाहिए। बाबा-बाबा कह एकदम ठर जाना (शीतल हो जाना) चाहिए। बाप से वर्सा कितना भारी मिलता है।

तुम बच्चे अभी अपनी दैवी राजधानी स्थापन कर रहे हो, पुरुषार्थ तो सभी करते हैं। जो जास्ती पुरुषार्थ करते हैं वह जास्ती प्राईज़ पाते हैं। यह तो कायदा है। स्थापना हो रही है। इनको दैवी राजधानी कहो वा बगीचा कहो। बगीचे में भी नम्बरवार फूल होते हैं। कोई तो बड़ा फर्स्ट क्लास फल देते हैं, कोई हल्का फल देते हैं। यहाँ भी ऐसे है। कल्प पहले मुआफिक मीठे भी बन रहे हैं, खुशबूदार भी बन रहे हैं – नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। वैराइटी फूल हैं। बच्चों को यह निश्चय है बेहद के बाप द्वारा हम स्वर्ग के मालिक बन रहे हैं। स्वर्ग के मालिक बनने में खुशी बहुत होती है। तो बाप बैठ बच्चों को देखते हैं। घर के ऊपर धनी की नज़र रहती है ना। देखते हैं इनमें कौन-कौन से गुण हैं। कौन-कौन से अवगुण हैं। बच्चे भी जानते हैं, इसलिए बाबा कहते हैं अपनी खामियाँ आपेही लिखकर आओ। सम्पूर्ण तो कोई बना नहीं हैं, हाँ बनना है। कल्प-कल्प बने हैं। बाप समझाते हैं – खामी मुख्य है सारी देह-अभिमान की। देह-अभिमान बहुत तंग करता है। अवस्था को बढ़ने नहीं देता। इस देह को भी भूलना है। यह पुराना शरीर छोड़ जाना है। दैवीगुण भी यहाँ ही धारण कर जाना है। जाना है तो कोई भी फ्लो नहीं होना चाहिए। तुम हीरे बनते हो ना। क्या-क्या फ्लो है यह तो जानते हो। उस हीरे में भी फ्लो होते हैं परन्तु उनसे फ्लो को निकाल नहीं सकते हैं क्योंकि जड़ है ना। उनको फिर कट करना पड़ता है। तुम तो चैतन्य हीरे हो। तो जो भी फ्लो है उनको एकदम निकाल फ्लोलेस पिछाड़ी तक बनना है। अगर फ्लो नहीं निकालेंगे तो वैल्यु कम हो जायेगी। तुम चैतन्य होने कारण फ्लो को निकाल सकते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जितना हो सके अन्तर्मुख हो, शान्त में रहना है, जास्ती नहीं बोलना है। अशान्ति नहीं फैलानी है। बहुत मीठा बोलना है, कोई को दु:ख नहीं देना है, क्रोध नहीं करना है। बाह्य मुखी बन बुद्धि को धक्का नहीं खिलाना है।

2) परफेक्ट बनने के लिए ईमानदारी से अपनी जाँच करनी है कि हमारे में क्या-क्या खामी है? साक्षी हो अपनी चलन को देखना है। भूतों को भगाने की युक्ति रचनी है।

वरदान:- महसूसता की शक्ति द्वारा मीठे अनुभव करने वाले सदा शक्तिशाली आत्मा भव
यह महसूसता की शक्ति बहुत मीठे अनुभव कराती है – कभी अपने को बाप के नूरे रत्न आत्मा अर्थात् नयनों में समाई हुई श्रेष्ठ बिन्दू महसूस करो, कभी मस्तक पर चमकने वाली मस्तक मणी, कभी अपने को ब्रह्मा बाप के सहयोगी राइट हैण्ड, ब्रह्मा की भुजायें महसूस करो, कभी अव्यक्त फरिश्ता स्वरूप महसूस करो..इस महसूसता शक्ति को बढ़ाओ तो शक्तिशाली बन जायेंगे। फिर छोटा सा दाग भी स्पष्ट दिखाई देगा और उसे परिवर्तन कर लेंगे।
स्लोगन:- सर्व के दिल की दुआयें लेते चलो तो आपका पुरुषार्थ सहज हो जायेगा।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

जैसे ब्रह्मा बाप ने बीजरूप स्टेज अर्थात् पावरफुल स्टेज का विशेष अभ्यास करके पूरे विश्व को सकाश दी। ऐसे फालो फादर करो क्योंकि यह स्टेज लाइट हाउस, माइट हाउस का कार्य करती है। जैसे बीज द्वारा स्वत: ही सारे वृक्ष को पानी मिल जाता है, ऐसे जब बीजरूप स्टेज पर स्थित होंगे तो आटोमेटिकली विश्व को लाइट का पानी मिलेगा।

TODAY MURLI 15 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 15 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 14 January 2018 :- Click Here

15/01/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this is the confluence age when there is the meeting of souls with the Supreme Soul. The Satguru only comes once and gives you children true knowledge and teaches you to speak the truth.
Question: Which children’s stage remains first class?
Answer: Those whose intellects are aware that everything belongs to Baba. The stage of the children who follow shrimat at every step and who completely renounce everything remains first class. The journey is long and so you must continue to follow the elevated directions of the highest Father.
Question: Which children experience infinite happiness while listening to the murli?
Answer: Those who understand that they are listening to Shiv Baba’s murli and that Shiv Baba speaks this murli through the body of Brahma. Our most beloved Baba is speaking this to us to make us constantly happy and to change us from human beings into deities. If you have this awareness while listening to the murli you will experience happiness.
Song: Beloved, come and meet me.

Om shanti. That unhappy heart would only be in the land of sorrow. Happy living beings would be in the land of happiness. Only the One is remembered as the Beloved of all the devotees. He is called the Beloved (Pritam). It is when people experience sorrow that they remember Him. Who sits here and explains to you? The true Beloved, the true Father, the true Teacher and the true Satguru. The Beloved of all is that One, but no one knows when the Beloved comes. The Beloved Himself comes and tells His devotees, His children, that He only comes once, at the confluence age. Between My coming and My departure, it is called the confluence age. All souls come into birth and death many times. I only come once. I am the only Satguru, whereas there are many gurus. They cannot be called the Satguru because they do not speak the truth. They don’t know God, the Truth. Those who know the Truth would always speak the truth. That Satguru is the One who speaks the truth. He is the true Satguru. The true Father and the true Teacher Himself comes and tells you that He comes at the confluence age. My age is just the duration of time that I come here. I come and, having purified the impure, I go back. From the moment I take birth, I start teaching you Raja Yoga. Then, when I have finished teaching you, the impure world is destroyed and I go back. I only come for this length of time; that’s all. They have not mentioned a time in the scriptures. The Father Himself comes and tells you when Shiv Baba takes birth, for how long He stays in Bharat and that He comes at the confluence age. The beginning of the confluence age is the beginning of My coming, and the end of the confluence age is the end, when I depart. In between, I sit here and teach you Raja Yoga. The Father sits here Himself and tells you that He enters this one in his stage of retirement. I enter a foreign land and a foreign body and I am therefore the Guest. I am the Guest in this world of Ravan. The praise of this confluence age is very important and great. The Father comes to destroy the kingdom of Ravan and to establish the kingdom of Rama. They have written many tall stories in the scriptures. They have been continuing to burn Ravan. At this time it is as though the whole world is Lanka. Ceylon (Sri Lanka) by itself is not Lanka; the whole world is Ravan’s place of residence, that is, it is the cottage of sorrow. All are experiencing sorrow. The Father says: I come to make it into the cottage that is free from sorrow, that is, into heaven. No other religions exist in heaven. There was just the one religion there and it no longer exists. I am now teaching you Raja Yoga to make you into deities once again. Not everyone will study this. I only come in Bharat. It is only in Bharat that there is heaven. Christians also believe in heaven. They say: He left for the heavenly abode, that he went to God, the Father. However, they do not understand heavenHeaven is something separate. The Father explains when and how He comes. I come and make you trikaldarshi. No one else is trikaldarshi. I alone know the beginning, the middle and the end of the world. The iron age is now to be destroyed. The signs of that are visible. It is that same time of the confluence age. An accurate time cannot be given but yes, when the kingdom is completely established and children have reached their karmateet stage, this knowledge will end and the war will begin. I too will have completed My part of purification and will go back. It is in My part to establish the deity religion. The people of Bharat don’t know any of this. People now celebrate the birthday of Shiva and so He must definitely have performed some task. They then inserted Krishna’s name. It appears that this is a commonmistake they have made. It is not mentioned in the Shiva Purana or in any of the other scriptures that Shiv Baba comes and teaches Raja Yoga. In fact, each religion has its own individual scripture. There should also be a scripture of the deity religion, but they have become confused as to who the Creator of that is. The Father explains: I definitely have to create the Brahmin religion through Brahma. The mouth-born creation of Brahma are the Brahma Kumars and Kumaris. The names of many were changed and many of them ran away. Together with them leaving, others have replaced them. It was seen that there wasn’t any benefit in giving new names. They even forget those names. In fact, you have to have yoga with the Father. It is the body that is given a name. There is no name for the soul. The soul takes 84 births. In every birth, the name, form, place and time all change. No one in the drama receives the same part with the same form etc. that they once had at another time. That same part will be played again after 5000 years. It isn’t that Krishna can come again with that same name and form; no. You know that each soul sheds one body and takes another one and so the features cannot be the same as those of another. The featuresalso change according to the five elements. There are so many different features. However, all of them are fixed in the drama in advance. Nothing new is created. The night of Shiva is celebrated. Shiva definitely came. He is the Beloved of the whole world. Lakshmi and Narayan, Radhe and Krishna, Brahma and Vishnu – none of them is the Beloved. God, the Father, is the Beloved. The Father definitely gives the inheritance. This is why the Father is loved. The Father says: Remember Me because you have to receive your inheritance from Me. You children know that you will go and become sun-dynasty deities or moon-dynasty warriors according to how you studied. In fact, the religion of all the people of Bharat should be one but they have changed the name of ‘deity religion’ and given it the name ‘Hindu religion’ because they don’t have those divine virtues. The Father now sits here and inspires you to imbibe them. He says: Consider yourselves to be souls and become bodiless. You are not the Supreme Soul. The Supreme soul is only one: Shiva. He, the Beloved of All, only comes once, at the confluence age. This confluence age is very short. All religions are to be destroyed. Even the Brahmin clan will return home because they then have to be transferred to the deity clan. In fact, this is a study. A comparison is made: The vice of lust is poison and this knowledge is nectar. This is a study place for changing human beings into deities. The alloy that is mixed in souls has made them completely artificial. The Father comes and makes you become like diamonds. They speak of the Night of Shiva. Shiva came in the night but how did He come? In whose womb did He come? Or, whose body did He enter? He doesn’t enter a womb. He has to take a body on loan. He would definitely come and make hell into heaven. However, no one knows when or how He does this. Many people study the scriptures, but no one receives liberation or liberation-in-life. They have become even more tamopradhan. Everyone definitely has to become that. All human beings definitely have to be present on the stage. The Father comes at the end. Everyone sings His praise: Only You know your ways and means. Only You know what knowledge You have and how You grant salvation. So, He would definitely come to give shrimat, would He not? However, no one knows how He comes or in which body He comes. He Himself says: I have to enter an ordinary body. I definitely have to name him Brahma. How else would Brahmins be created? Where would Brahma come from? He would not come from up above; that one is the resident of the subtle region, the avyakt, perfect Brahma. He definitely has to come here in a corporeal form to create creation. We can tell you from experience. He comes for this length of time and then leaves. The Father says: I too am tied in the bondage of the drama. My part is to come here just once. Although many calamities continue to take place in the world and people call out to God so much at those times, I have to come at My own time and I come when it is the stage of retirement. This knowledge is very easy but it does take time to create that stage. This is why it is said that the destination is very high. The Father is knowledge-full, and so He definitely gave the knowledge to the children. That is why there is the praise: “Only You know Your ways and means.” The Father says: I come and only give you children the treasures of happiness and peace that I have. All the innocent mothers being assaulted etc. is fixed in the drama. It is only then that the urn of sin will become full. The same thing repeats every cycle. You know these things at this time and you will then forget them. This knowledge doesn’t exist in the golden age. If it did, it would continue from time immemorial. There, it is the reward you receive for the effort you make at this time. The souls who make effort here will exist there; it isn’t that there are other souls there who would need knowledge. You also know that scarcely a few will emerge. Many will say that this is very good. For instance, an important person from abroad may emerge and understand this, but, if he were to stay in a bhatthi, what would he understand? He would say: What you are saying is fine, but I cannot remain pure. However, so many here remain pure! Even those who are married and living together remain pure and so they receive a big prize. This is also a race. Those who win that race and come in the first number receive four or five hundred thousand. Here, you receive an entire kingdom for 21 births. Is this a small thing? This murli will go to all the children. They will also listen to it on the tape. They would say: Shiv Baba is speaking the murli through the body of Brahma. Or, if the daughters are speaking it, they would say that they are reading Shiv Baba’s murli. So, your intellects should go right up above; you should feel that happiness inside. Most beloved Baba is making us constantly happy and changing us from human beings into deities. So you should remember Him a great deal. However, Maya doesn’t allow you to stay in remembrance. There has to be complete renunciation: all of this belongs to Baba. There has to be this firstclass stage. There are many children who continue to take shrimat. There is definitely benefit through shrimat. The directions are elevated and the journey is long. Then you won’t come back to the land of death. The golden age is the land of immortality. The other day, Baba explained very clearly that you don’t die there. You shed your old costumes in happiness and take new ones. The example of the snake is for you. The example of the buzzing moth too is for you. The example of the tortoise also applies to you. The sannyasis have copied you. The example of the buzzing moth is good. The buzzing moths buzz the knowledge to the insects who live in the dirt and make them into angels of the land of angels. You now have to make very good effort. If you want to claim a high status or a good number, you have to make effort. You may do your business etc; you are allowed time for that. Nevertheless, you have a lot of time. You should check your chart of yoga because Maya causes many obstacles. Baba repeatedly tells you children: Sweetest children, no one should, even by mistake, divorce such a most beloved Father and Bridegroom. Let no one become such a great fool. However, Maya makes you that. As you progress further, you will see what condition Maya makes of those who surrendered themselves and did very good service and then stopped following shrimat. This is why Baba says: Don’t become such a great fool! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Give everyone the treasures of happiness and peace that you have received from the Father. Use this knowledge to make effort and make your stage strong.
  2. In order to imbibe divine virtues, renounce body consciousness, consider yourself to be a soul, become bodiless and remember the one Beloved.
Blessing: May you be a hero actor and consider yourself to be on the unlimited stage performing an elevated part.
All of you are sh o wpieces in the showcase of the world. You are on the biggest stage of all among many unlimited souls. Create each thought, speak every word and perform every act with the awareness: Souls of the world are watching us. When you have this awareness, all of your part will be elevated and you will become a hero actor. Everyone looks at you instrument souls with a desire for attaining something. Therefore, as the children of the Bestower, constantly continue to give and continue to fulfil everyone’s desires.
Slogan: When you have the power of truth within you, you will continue to receive happiness and power.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 15 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 January 2017

To Read Murli 14 January 2018 :- Click Here
15/01/18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – यही संगमयुग है जब आत्मा और परमात्मा का संगम (मेल) होता है, सतगुरू एक ही बार आकर बच्चों को सत्य ज्ञान दे, सत्य बोलना सिखाते हैं”
प्रश्नः- किन बच्चों की अवस्था बहुत फर्स्टक्लास रहती है?
उत्तर:- जिनकी बुद्धि में रहता यह सब कुछ बाबा का है। हर कदम श्रीमत लेने वाले, पूरा त्याग करने वाले बच्चों की अवस्था बहुत फर्स्ट क्लास रहती है। यात्रा लम्बी है इसलिए ऊंचे बाप की ऊंची मत लेते रहना है।
प्रश्नः- मुरली सुनते समय अपार सुख किन बच्चों को भासता है?
उत्तर:- जो समझते हैं हम शिवबाबा की मुरली सुन रहे हैं। यह मुरली शिवबाबा ने ब्रह्मा तन से सुनाई है। मोस्ट बिलवेड बाबा हमें सदा सुखी मनुष्य से देवता बनाने के लिए यह सुना रहे हैं। मुरली सुनते यह स्मृति रहे तो सुख भासेगा।
गीत:- प्रीतम आन मिलो…

ओम् शान्ति। यह दु:खिया जिया तो दु:खधाम में ही होता है। सुखी जीव आत्मायें सुखधाम में होती हैं। सभी भक्तों का प्रीतम एक है, जिसको ही याद किया जाता है। उनको प्रीतम कहा जाता है। याद करते हैं, जब दु:ख होता है। यह कौन बैठ समझाते हैं? सच्चा-सच्चा प्रीतम। सच्चा बाप, सच्चा टीचर, सच्चा सतगुरू… सभी का प्रीतम वह एक है। परन्तु प्रीतम आता कब है, यह कोई नहीं जानते हैं। प्रीतम खुद आकर अपने भक्तों को, अपने बच्चों को बताते हैं कि मैं आता ही हूँ सिर्फ संगमयुग पर एक बार। मेरा आना और जाना उसका जो बीच है उसको संगम कहा जाता है। और सभी आत्मायें तो बहुत बारी जन्म-मरण में आती हैं, मैं एक ही बार आता हूँ। मैं सतगुरू भी एक ही हूँ। बाकी गुरू तो अनेक हैं। उन्हों को सतगुरू नहीं कहेंगे क्योंकि वह कोई सत्य नहीं बोलते, वह सत परमात्मा को जानते ही नहीं। जो सत को जान जाते हैं वह हमेशा सत्य बोलते हैं। वह सतगुरू है ही सत बोलने वाला सच्चा सतगुरू। सच्चा बाप, सच्चा शिक्षक खुद आकर बताते हैं कि मैं संगमयुग पर आता हूँ। मेरी आयु इतनी ही है, जितना समय मैं आता हूँ। पतितों को पावन बनाकर ही जाता हूँ। जब से मेरा जन्म हुआ, तब से मैं सहज राजयोग सिखाना आरम्भ करता हूँ फिर जब सिखाकर पूरा करता हूँ तो पतित दुनिया विनाश को पाती है, और मैं चला जाता हूँ। बस मैं इतना ही समय आता हूँ। शास्त्रों में तो कोई टाइम है नहीं। शिवबाबा कब जन्म लेते हैं, कितना दिन भारत में रहते हैं, यह बाप स्वयं ही बैठ बताते हैं कि मैं आता ही हूँ संगम पर। संगमयुग की आदि, संगमयुग का अन्त गोया मेरे आने की आदि जाने की अन्त। बाकी मध्य में बैठ मैं राजयोग सिखाता हूँ। बाप खुद ही बैठ बताते हैं कि मैं इनकी ही वानप्रस्थ अवस्था में आता हूँ – पराये देश और पराये तन में, तो मेहमान हुआ ना। मैं इस रावण की दुनिया में मेहमान ठहरा। इस संगमयुग की महिमा बड़ी भारी जबरदस्त है। बाप आते ही हैं रावण राज्य का विनाश कर रामराज्य की स्थापना करने। शास्त्रों में दन्त कथायें बहुत लिख दी हैं। रावण को जलाते आते हैं। सारी सृष्टि इस समय जैसे लंका है। सिर्फ सीलान को लंका नहीं कहा जाता। यह सारी सृष्टि रावण के रहने का स्थान है वा शोकवाटिका है। सभी दु:खी हैं। बाप कहते हैं मैं इसको अशोकवाटिका अथवा हेविन बनाने आता हूँ। हेविन में सभी धर्म तो होते नहीं। वहाँ था एक ही धर्म, जो अभी नहीं है। अब फिर से देवता बनाने राजयोग सिखला रहा हूँ। सभी तो नहीं सीखेंगे। मैं भारत में ही आता हूँ। भारत में ही स्वर्ग होता है। क्रिश्चियन लोग भी हेविन को मानते हैं। कहते हैं लेफ्ट फार हेविनली अबोड। गॉड फादर के पास गया। बाकी हेविन को थोड़ेही समझते हैं। हेविन अलग चीज़ है। तो बाप समझाते हैं कि मैं कब और कैसे आता हूँ। आकर त्रिकालदर्शी बनाता हूँ। त्रिकालदर्शी और कोई होता नहीं। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को मैं ही जानता हूँ। अब कलियुग का विनाश होना है। आसार भी देखने में आ रहे हैं। समय वही संगम का है। एक्यूरेट टाइम कुछ नहीं कह सकते। बाकी हाँ राजधानी पूरी स्थापन हो जायेगी। बच्चे कर्मातीत अवस्था को पायेंगे तो ज्ञान खत्म हो जायेगा। लड़ाई आरम्भ हो जायेगी। मैं भी अपना पावन बनाने का पार्ट पूरा करके जाऊंगा। देवी-देवता धर्म स्थापन करना – यह मेरा ही पार्ट है। भारतवासी यह कुछ भी नहीं जानते। अब शिवरात्रि मनाते हैं तो जरूर शिवबाबा ने कोई कार्य किया होगा। उन्होंने फिर कृष्ण का नाम डाल दिया है। यह तो कामन भूल देखने में आती है। शिव पुराण आदि किसी शास्त्र में भी यह नहीं है कि शिवबाबा आकर राजयोग सिखाते हैं। वास्तव में हरेक धर्म का एक-एक शास्त्र है। देवता धर्म का भी एक शास्त्र होना चाहिए। परन्तु उसका रचयिता कौन! इसमें ही मूँझ गये हैं।

बाप समझाते हैं मुझे जरूर ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण धर्म रचना पड़े। ब्रह्मा मुख वंशावली ब्रह्माकुमार कुमारियां ठहरे। बहुतों के नाम बदली हुए, उनसे बहुत भागन्ती हो गये। साथ में रीप्लेस भी होते हैं। बाकी देखा गया नाम से कोई फायदा नहीं। वह तो भूल भी जाते हैं। वास्तव में तुमको योग लगाना है बाप से। नाम शरीर का मिलता है। आत्मा का तो नाम है नहीं। आत्मा 84 जन्म लेती है। हर जन्म में नाम रूप देश काल सब बदल जाता है। ड्रामा में कोई को भी जो एक बारी पार्ट मिला हुआ है, उसी रूप में फिर कभी पार्ट बजा न सके। वही पार्ट फिर 5 हजार वर्ष के बाद बजायेगी। ऐसे नहीं कृष्ण उसी नाम रूप से फिर कोई आ सकता है। नहीं। यह तो जानते हैं आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है तो फीचर आदि एक न मिले दूसरे से। 5 तत्वों के अनुसार फीचर्स बदलते जाते हैं। कितने फीचर्स हैं। परन्तु यह सब पहले से ही ड्रामा में नूँध है। नया कुछ नहीं बनता है। अब शिवरात्रि मनाई जाती है। जरूर शिव आया है। वही सारी दुनिया का प्रीतम है। लक्ष्मी-नारायण वा राधे कृष्ण वा ब्रह्मा विष्णु आदि कोई प्रीतम नहीं हैं। गॉड फादर ही प्रीतम है। बाप तो जरूर वर्सा देते हैं, इसलिए बाप प्यारा लगता है। बाप कहते हैं मुझे याद करो क्योंकि मेरे से तुमको वर्सा पाना है। बच्चे जानते हैं इस पढ़ाई अनुसार जाकर सूर्यवंशी देवता वा चन्द्रवंशी क्षत्रिय बनेंगे। वास्तव में सभी भारतवासियों का धर्म एक होना चाहिए। परन्तु देवता धर्म नाम बदल हिन्दू नाम रख दिया है क्योंकि वह दैवी गुण नहीं हैं। अब बाप बैठ धारण कराते हैं। कहते हैं अपने को आत्मा समझ अशरीरी हो जाओ। तुम कोई परमात्मा नहीं हो। परमात्मा तो एक शिव है। वह सभी का प्रीतम एक ही बार संगमयुग पर आते हैं। यह संगमयुग बहुत छोटा है। सभी धर्मों का विनाश होगा। ब्राह्मण कुल भी वापिस जायेगा क्योंकि उन्हों को फिर दैवी कुल में ट्रान्सफर होना है। वास्तव में यह पढ़ाई है। सिर्फ भेंट की जाती है। वह विषय विकार हैं जहर। यह ज्ञान है अमृत। यह तो मनुष्य को देवता बनाने की पाठशाला है। आत्मा में जो खाद पड़ी है, एकदम मुलम्मा बन गई है। उसको बाप आकर हीरे जैसा बनाते हैं। शिव रात्रि कहते हैं। रात्रि में शिव आया। परन्तु कैसे आया, किसके गर्भ में आया? या किस शरीर में प्रवेश किया? गर्भ में तो आते नहीं हैं। उनको शरीर का लोन लेना पड़ता है। वह जरूर आकरके नर्क को स्वर्ग बनायेंगे। परन्तु कब और कैसे आते हैं, यह किसको पता नहीं है। शास्त्र तो बहुत पढ़ते हैं परन्तु मुक्ति-जीवनमुक्ति तो किसको मिलती नहीं है और ही तमोप्रधान बन गये हैं। सो तो सभी को जरूर बनना है। सभी मनुष्यों को स्टेज पर जरूर हाज़िर होना है। बाप आते ही अन्त में हैं। उनकी ही सब महिमा गाते हैं कि तुम्हरी गति मत तुम ही जानो। तुम्हारे में क्या ज्ञान है, कैसे तुम सद्गति करते हो सो तो तुम ही जानो। तो वह श्रीमत देने आयेगा तो जरूर ना! परन्तु कैसे आते हैं, किस शरीर में आते हैं। वह कोई जानते नहीं। खुद कहते हैं साधारण तन में मुझे आना है। मुझे ब्रह्मा नाम भी जरूर रखना पड़े। नहीं तो ब्राह्मण कैसे पैदा हों! ब्रह्मा कहाँ से आये? ऊपर से तो नहीं आयेगा! वह है सूक्ष्मवतनवासी अव्यक्त, सम्पूर्ण ब्रह्मा। यहाँ तो जरूर व्यक्त में आकर रचना रचनी पड़े। हम अनुभव से बता सकते हैं। इतना समय आते और जाते हैं। बाप कहते हैं मैं भी ड्रामा में बांधा हुआ हूँ, और मेरा पार्ट भी सिर्फ एक बार आने का है। भल दुनिया में उपद्रव बहुत होते रहते हैं। उस समय कितना ईश्वर को पुकारते हैं। परन्तु मुझे तो अपने समय पर ही आना है और आता भी हूँ वानप्रस्थ अवस्था में। यह ज्ञान तो बड़ा सहज है। परन्तु अवस्था जमाने में मेहनत है, इसलिए कहेंगे मंजिल बड़ी ऊंची है। बाप नॉलेजफुल है तो जरूर उसने बच्चों को नॉलेज दी है तब तो उनका गायन है – तुम्हरी गत मत तुम ही जानो।

बाप कहते हैं मेरे पास जो सुख-शान्ति का खजाना है वह बच्चों को ही आकर देता हूँ। यह जो माताओं पर अत्याचार आदि होते हैं, यह भी ड्रामा में नूँध हैं, तब तो पाप का घड़ा भरेगा। कल्प-कल्प ऐसे ही रिपीट होता है। यह बातें भी तुम अभी जानते हो फिर भूल जायेंगे। यह ज्ञान सतयुग में होता नहीं। अगर होता तो परम्परा चलता। वहाँ तो प्रालब्ध है जो अभी के पुरुषार्थ से पाते हैं। यहाँ के पुरुषार्थ वाली आत्मायें वहाँ होती हैं, दूसरी आत्मायें वहाँ होती नहीं, जिनको ज्ञान की दरकार रहे। यह भी जानते हैं कोई विरला निकलेगा। बहुत अच्छा-अच्छा भी करेंगे। समझो विलायत वाला कोई बड़ा आदमी निकलता है, समझता है। परन्तु कहाँ भट्ठी में रहेंगे, क्या समझेंगे! कहेंगे बात तो ठीक है परन्तु पवित्र नहीं रह सकते, अरे इतने सब पवित्र रहते हैं। शादी कर इकट्ठे रहकर भी पवित्र रहते हैं तो उन्हों को इनाम भी बहुत मिलता है। यह भी रेस है। उस रेस में फर्स्ट नम्बर जाने से 4-5 लाख मिलेंगे। यहाँ तो 21 जन्मों के लिए पूरी राजाई मिलती है। कम बात है! यह मुरली तो सब बच्चों के पास जायेगी। टेप में भी सुनेंगे। कहेंगे शिवबाबा ब्रह्मा तन से मुरली सुना रहे हैं अथवा बच्चियां सुनायेंगी तो कहेंगी शिवबाबा की मुरली सुनाते हैं तो बुद्धि एकदम वहाँ जानी चाहिए। वह सुख अन्दर में भासना चाहिए। मोस्ट बिलवेड बाबा हमको सदा सुखी मनुष्य से देवता बनाते हैं, तो उनकी याद बहुत रहनी चाहिए। परन्तु माया याद को ठहरने नहीं देती। त्याग भी पूरा चाहिए। यह सब कुछ बाबा का है, यह अवस्था फर्स्टक्लास रहनी चाहिए। बहुत बच्चे हैं जो श्रीमत लेते रहते हैं। श्रीमत में जरूर कल्याण ही होगा। मत भी ऊंची है, यात्रा भी लम्बी है फिर तुम इस मृत्युलोक में नहीं आयेंगे। सतयुग है ही अमरलोक।

उस दिन बाबा ने बहुत अच्छी रीति समझाया कि वहाँ तुम मरते नहीं हो। खुशी से पुराना चोला बदल नया लेते हो। सर्प का मिसाल तुम्हारे लिए है। भ्रमरी का भी तुम्हारे ऊपर मिसाल है। कछुए का भी तुम्हारा मिसाल है। सन्यासियों ने तो कापी की है। भ्रमरी का मिसाल अच्छा है। विष्टा के कीड़े को ज्ञान की भूँ-भूँ कर परिस्तानी परीज़ादा बनाते हो। अभी पुरुषार्थ अच्छी तरह करना है। ऊंच पद अथवा अच्छा नम्बर लेना है तो मेहनत भी करनी है। भल धन्धा आदि भी करो वह टाइम छूट है। फिर भी टाइम बहुत मिलता है। अपना योग का चार्ट देखना चाहिए क्योंकि माया बहुत विघ्न डालती है।

बाबा बच्चों को बार-बार समझाते हैं मीठे बच्चे, भूले-चूके भी ऐसे मोस्ट बिलवेड बाप वा साजन को फारकती शल (कभी) कोई न देवे, इतना महामूर्ख कोई न बने। परन्तु माया बना देती है। अब आगे चलकर तुम देखेंगे जो कुर्बान जाते थे, बहुत अच्छी सर्विस करते थे उन्हों का भी माया क्या-क्या हाल कर देती है क्योंकि श्रीमत छोड़ देते हैं इसलिए बाबा कहते हैं ऐसा बड़े ते बड़ा महामूर्ख नहीं बनना। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप द्वारा जो सुख शान्ति का खजाना मिला है वह सबको देना है। ज्ञान से अपनी अवस्था जमाने की मेहनत करनी है।

2) दैवी गुण धारण करने के लिए देहभान को भूल अपने को आत्मा समझ अशरीरी बन एक प्रीतम को याद करना है।

वरदान:- स्वयं को बेहद की स्टेज पर समझ सदा श्रेष्ठ पार्ट बजाने वाले हीरो पार्टधारी भव 
आप सब विश्व के शोकेस में रहने वाले शोपीस हो, बेहद की अनेक आत्माओं के बीच बड़े ते बड़ी स्टेज पर हो। इसी स्मृति से हर संकल्प, बोल और कर्म करो कि विश्व की आत्मायें हमें देख रही हैं इससे हर पार्ट श्रेष्ठ होगा और हीरो पार्टधारी बन जायेंगे। सभी आप निमित्त आत्माओं से प्राप्ति की भावना रखते हैं तो सदा दाता के बच्चे देते रहो और सर्व की आशायें पूर्ण करते रहो।
स्लोगन:- सत्यता की शक्ति पास हो तो खुशी और शक्ति प्राप्त होती रहेगी।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize