today murli 15 February

TODAY MURLI 15 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 15 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 14 February 2019 :- Click Here

15/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, forget whatever you have studied up to now. Go right back to your childhood, for only then will you be able to pass this spiritual study.
Question: What are the signs of the children who have received divine intellects?
Answer: While seeing this old world with their physical eyes, they don’t see it. It is always in their intellects that this old world is now about to end, that bodies are old and tamopradhan and that souls too are tamopradhan, so why should we have love for them? The Father’s heart is connected to the children who have such divine intellects. Only such children can stay in constant remembrance of the Father and can also go ahead in service.

Om shanti. The spiritual Father explains to the sweetest, spiritual children. Limited sannyasis renounce their homes and families because they believe that they will merge into the brahm element, and that is why they believe they should renounce their attraction to the world. That is what they continue to practise. They go and stay in solitude. They are hatha yogis with knowledge of the elements. They believe that they will merge into the brahm element. That is why they renounce their homes and families and end their attachment to them; they have disinterest. However, that attachment is not broken instantly; they continue to remember their wives and children etc. Here, you have to forget everything with an intellect of knowledge. Nothing is easily forgotten. You now have this unlimited renunciation. All the sannyasis have remembrance too, but their intellects believe that they will merge into the brahm element and that they therefore shouldn’t have any consciousness of the body. That is the path of hatha yoga. They believe that they will shed their bodies and merge into the brahm element. They don’t know how they can go to the land of peace. You now know that you have to go to your home. When people used to come from abroad, they understood that they had to come via Bombay. You children also now have firm faith. Many people say that your purity is good, that your knowledge is good and that your organization is good. The mothers work very hard because they explain tirelessly. They use their bodies, minds and wealth and this is why they are liked. However, those people would never have any thought of practising this themselves. Scarcely any emerge. Even the Father says that only a handful out of multimillions emerges, that is, the ones who come to you. However, this old world is going to end. You know that the Father has now come. Whether you have a vision or not, the conscience says that the unlimited Father has come. You also know that there is just the one Father. That parlokik Father is the Ocean of Knowledge. A physical father would never be called the Ocean of Knowledge. It is the Father who comes and gives you children His introduction. You know that this old world is now to end. We have completed the cycle of 84 births. We are now making effort to go back to the land of happiness via the land of peace. We definitely have to go to the land of peace. We then have to come back from there. People are confused by these things. When someone dies, people think that he has gone to Vaikunth (Paradise), but, where is Paradise? Only the people of Bharat know the name of Paradise. Those of other religions don’t know it. They have just heard the name and seen pictures of it. They have seen many temples of the deities, just like the Dilwala Temple. It was built at a cost of hundreds of thousands and millions of rupees. They continue to build them. Deities are called Vaishnavs; they belong to the dynasty of Vishnu. They are pure anyway. The golden age is called the pure world whereas this is the impure world. The comforts of the golden age don’t exist here. Here, all the grain etc., everything, has become tamopradhan. Its taste is also tamopradhan. When daughters go into trance, they come back, saying that they drank subiras (mango juice) and that it was very delicious. Here, too, when people eat food cooked by you, they say that it is very tasty because you make it well. Everyone eats to their heart’s content. It isn’t that it is tasty because you prepare it while in yoga; no. That is just practice. Some cook very well. There, everything is satopradhan and this is why it has a lot of strength. When it becomes tamopradhan, its strength is reduced, and then there are diseases and sorrow etc. from that. The very name is the land of sorrow. There is no question of sorrow in the land of happiness. We are going to a place where there is so much happiness that it is called the happiness of heaven. You simply have to become pure, and that is also for just this birth. Don’t think about the future. At least become pure now! First of all, think about who it is that is telling you this. You have to give the introduction of the unlimited Father. You receive the inheritance of happiness from the unlimited Father. Even your physical fathers remember the parlokik Father and their intellects go up above. You children, whose intellects have firm faith, feel inside you that you are going to be in this world for only a few more days. This body is like a shell. The soul has also become like a shell. This is called disinterest. You children now know the drama. The part of the path of devotion has to continue. All are engaged in devotion. There is no need to dislike it. Sannyasis make people dislike it. They all become unhappy at home. They don’t make themselves happy by going away. No one can go back into liberation. None of those who have come have been able to go back. All are here. Not a single person has gone to the land of nirvana or the brahm element. They think that so-and-so merged into the brahm element. All of that is in the scriptures of the path of devotion. The Father says: Whatever there is in all of those scriptures, that is the path of devotion. You children are now receiving knowledge and this is why there is no need for you to study anything. However, there are some who have the habit of reading novels etc. They don’t have full knowledge; they are called cockerel-gyani. They go to sleep at night reading novels, and so what would be their state? Here, the Father says: Forget everything you have studied. Engage yourself in this spiritual study. It is God who is teaching you this and through it you will become deities for 21 births. You have to forget everything you have studied so far. Go right back to your childhood. Consider yourselves to be souls. Although you see everything with those eyes, see but don’t see. You have received divine intellects and divine eyes and so you understand that this whole world is old, that it is now to end. Everything here is to turn into a graveyard, and so why should you attach your hearts to it? You now have to become those who belong to the land of angels. You are now sitting between the graveyard (kabristan) and the land of angels (paristhan). The land of angels is now being created. You are now sitting in the old world, but your intellects’ yoga has now gone there. You are making effort for the new world. You are now sitting in the middle in order to become the most elevated human beings. No one knows about this most auspicious confluence age. They don’t even understand the meaning of the auspicious month of charity or the auspicious year. The most auspicious confluence age has a very short duration. If you join a university later, you have to make a lot of effort. Remembrance is hardly able to stay in some; Maya continues to cause obstacles. The Father explains: This old world is going to end. Although the Father is sitting here and you are seeing everything, your intellects are aware that all of this is going to end. Nothing will remain. This is the old world and you have disinterest in it. All bodily beings are also old. Bodies are old and tamopradhan and souls are tamopradhan. What should we do seeing such things? None of this will remain, so we have no love for them. The Father’s heart is touched by the children who remember the Father very well and who do service. However, all are children anyway. There are so many children; not everyone will see Him. They don’t even know Prajapita Brahma. They have heard the name Prajapita Brahma, but they don’t know what they would receive from him. There is the temple to Brahma; they have portrayed him with a beard. However, no one remembers him because you do not receive the inheritance from him. Souls receive an inheritance from their physical fathers and from the parlokik Father. No one even knows Prajapita Brahma. This is wonderful. Being a father who doesn’t give you an inheritance, he must be alokik, must he not? There is a limited inheritance and the unlimited inheritance. There is no other inheritance in between. Although he is called Prajapita, there is no inheritance from him. This alokik father also receives his inheritance from the parlokik Father and so how could he give the inheritance? The parlokik Father gives it through him. He is the chariot. Why should you remember him? He himself has to remember that Father. Those people think that you consider Brahma to be God. Tell them: We don’t receive the inheritance from him; we receive the inheritance from Shiv Baba. This one is the agent in between. He too is a student like us. There is no question of fear. The Father says: At this time, the whole world is tamopradhan. You have to become satopradhan with the power of yoga. You receive a limited inheritance from your physical father. You now have to connect your intellects to the unlimited. The Father says: You are not going to receive anything from anyone except the one Father, not even from the deities. At this time, all are tamopradhan. You receive an inheritance from your physical fathers anyway. So, what do you want from this Lakshmi and Narayan? Those people think that they are immortal and that they never die, that they never become tamopradhan. However, you know that those who were satopradhan then went into the tamopradhan stage. Shri Krishna is considered to be even more elevated than Lakshmi and Narayan because they are a married couple. Krishna is pure from birth and this is why there is a lot of praise of Krishna. They rock Krishna in a cradle. They also celebrate the birthday of Krishna. Why do they not celebrate the birthdays of Lakshmi and Narayan? Because of not having knowledge, they have shown Krishna in the copper age. They say that the knowledge of the Gita was given in the copper age. It is so difficult to explain to anyone! They say that knowledge has continued from time immemorial. However, from when is it time immemorial? No one knows this. They don’t even know when they began worshipping and this is why they say that they don’t know the Creator or the beginning, middle and end of the world. Because of saying that the duration of the cycle is hundreds of thousands of years, they speak of time immemorial; they don’t know the time or date at all. They don’t celebrate the birthdays of Lakshmi or Narayan. That is called the darkness of ignorance. There are some of you, too, who don’t understand these things accurately. This is why it is said: Elephant riders, horse riders and infantry. The alligator ate the elephant. The alligator is big and he completely swallows you, just as a snake swallows a frog. Why is God called the Master of the Garden, the Gardener and the Boatman? You understand that at this time. The Father comes and takes you across the ocean of poison. He takes you across and this is why you say: Take my boat across. You now know how you go across. Baba is taking us to the ocean of milk. There is no question of pain or sorrow there. You hear this and tell others that the Boatman who takes our boat across tells us: Children, consider yourselves to be souls. Previously, you were in the ocean of milk and you have now reached the ocean of poison. At first, you were deities. Heaven is the wonder of the world. The spiritual wonder of the whole world is heaven. Just hearing its name, you become happy. You stay in heaven. Here, they show the seven wonders. They call the Taj Mahal a wonder, but no one can live there. You are becoming the masters of the wonder of the world. The Father makes such a wonderful Paradise for you to live in. You become multimillionaires for 21 births. So, you children should be so happy that you are going across to the other side. You children must have gone to heaven many times. You continue to go around this cycle. You should make such effort that you go into the new world first. You would not feel like going to an old house. Baba emphasizes that you to have to make effort to go to the new world. Baba is making us into the masters of the wonder of the world. So, why would we not remember such a Father? You have to make a lot of effort. See this world but don’t see it. The Father says: Although I see everything, I have the knowledge that I am the Traveller for only a few days. Similarly, you too have come here just to play your parts Therefore, remove your attachment from it. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Always remain busy in the spiritual study. Do not instil any bad habits like reading novels etc. Forget whatever you have studied up to now and remember the Father.
  2. Live in this old world considering yourself to be a guest. Do not have any love for it. See it but don’t see it.
Blessing: May you be a hero actor with all rights and overcome all problems as though you are playing games.
No matter what the situations or the problems are, do not be controlled by the problems, but have all rights and overcome the problems in such a way as when you play games. Externally, you may have a part of crying, but you should feel inside all of it to be a game which is called the dramaand that we are hero actors in this drama. Hero actors means those who play accurate part s. Therefore, consider any big problem to be a game and make it light, do not have any burdens.
Slogan: Constantly churn knowledge and you will always remain cheerful and be saved from Maya’s attractions.

*** Om Shanti ***

 

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 15 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 February 2019

To Read Murli 14 February 2019 :- Click Here
15-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अब तक जो कुछ पढ़ा है वह सब भूल जाओ, एकदम बचपन में चले जाओ तब इस रूहानी पढ़ाई में पास हो सकेंगे”
प्रश्नः- जिन बच्चों को दिव्य बुद्धि मिली है, उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- वे बच्चे इस पुरानी दुनिया को इन ऑखों से देखते हुए भी नहीं देखेंगे। उनकी बुद्धि में सदा रहता है कि यह पुरानी दुनिया ख़त्म हुई कि हुई। यह शरीर भी पुराना तमोप्रधान है तो आत्मा भी तमोप्रधान है, इनसे क्या प्रीत करें। ऐसे दिव्य बुद्धि वाले बच्चों से ही बाप की भी दिल लगती है। ऐसे बच्चे ही बाप की याद में निरन्तर रह सकते हैं। सेवा में भी आगे जा सकते हैं।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों को रूहानी बाप समझाते हैं। जैसे हद के सन्यासी हैं, वह घरबार छोड़ देते हैं क्योंकि वह समझते हैं हम ब्रह्म में लीन हो जायेंगे, इसलिए दुनिया से आसक्ति छोड़नी चाहिए। अभ्यास भी ऐसे करते होंगे। जाकर एकान्त में रहते हैं। वह हैं हठयोगी, तत्व ज्ञानी। समझते हैं ब्रह्म में लीन हो जायेंगे इसलिए ममत्व मिटाने के लिए घरबार को छोड़ देते हैं। वैराग्य आ जाता है। परन्तु फट से ममत्व नहीं मिटता। स्त्री, बच्चे आदि याद आते रहते हैं। यहाँ तो तुमको ज्ञान की बुद्धि से सब-कुछ भुलाना होता है। कोई भी चीज जल्दी नहीं भूलती। अभी तुम यह बेहद का सन्यास करते हो। याद तो सब सन्यासियों को भी रहती है। परन्तु बुद्धि से समझते हैं हमको ब्रह्म में लीन होना है, इसलिए हमको देह भान नहीं रखना है। वह है हठयोग मार्ग। समझते हैं हम यह शरीर छोड़ ब्रह्म में लीन हो जायेंगे। उनको यह पता ही नहीं कि हम शान्तिधाम में कैसे जा सकते। तुम अब जानते हो हमको अपने घर जाना है। जैसे विलायत से आते हैं तो समझते हैं हमको बाम्बे जाना है वाया….। अभी तुम बच्चों को भी पक्का निश्चय है। बहुत कहते हैं इनकी पवित्रता अच्छी है, ज्ञान अच्छा है, संस्था अच्छी है। मातायें मेहनत अच्छी करती हैं क्योंकि अथक हो समझाती हैं। अपना तन-मन-धन लगाती हैं इसलिए अच्छी लगती हैं। परन्तु हम भी ऐसा अभ्यास करें, यह ख्याल भी नहीं आयेगा। कोई विरला निकलता है। वह तो बाप भी कहते हैं कोटों में कोई अर्थात् जो तुम्हारे पास आते हैं, उनमें से कोई निकलता है। बाकी यह पुरानी दुनिया ख़त्म होने वाली है। तुम जानते हो अब बाप आया हुआ है। साक्षात्कार हो न हो, विवेक कहता है बेहद का बाप आये हैं। यह भी तुम जानते हो बाप एक है, वही पारलौकिक बाप ज्ञान का सागर है। लौकिक को कभी ज्ञान का सागर नहीं कहेंगे। यह भी बाप ही आकर तुम बच्चों को अपना परिचय देते हैं। तुम जानते हो अब पुरानी दुनिया ख़त्म होने वाली है। हमने 84 जन्मों का चक्र पूरा किया। अभी हम पुरुषार्थ करते हैं वापिस सुखधाम जाने का वाया शान्तिधाम। शान्तिधाम तो जरूर जाना है। वहाँ से फिर यहाँ वापिस आना है। मनुष्य तो इन बातों में मूँझे हुए हैं। कोई मरता है तो समझते हैं वैकुण्ठ गया। परन्तु वैकुण्ठ है कहाँ? यह वैकुण्ठ का नाम तो भारतवासी ही जानते हैं और धर्म वाले जानते ही नहीं। सिर्फ नाम सुना है, चित्र देखे हैं। देवताओं के मन्दिर आदि बहुत देखे हैं। जैसे यह देलवाड़ा मन्दिर है। लाखों-करोड़ों रूपया खर्चा करके बनाया है, बनाते ही रहते हैं। देवी-देवताओं को वैष्णव कहेंगे। वे विष्णु की वंशावली हैं। वो तो हैं ही पवित्र। सतयुग को कहा जाता है पावन दुनिया। यह है पतित दुनिया। सतयुग के वैभव आदि यहाँ होते नहीं। यहाँ तो अनाज आदि सब तमोप्रधान बन जाते हैं। स्वाद भी तमोप्रधान। बच्चियाँ ध्यान में जाती हैं, कहती हैं हम शूबीरस पीकर आई। बहुत स्वाद था। यहाँ भी तुम्हारे हाथ का खाते हैं तो कहते हैं बहुत स्वाद है क्योंकि तुम अच्छी रीति बनाती हो। सब दिल भरकर के खाते हैं। ऐसे नहीं, तुम योग में रहकर बनाते हो तब स्वादिष्ट होता है! नहीं, यह भी प्रैक्टिस होती है। कोई बहुत अच्छा भोजन बनाते हैं। वहाँ तो हर चीज सतोप्रधान होती है, इसलिए बहुत त़ाकत रहती है। तमोप्रधान होने से त़ाकत कम हो जाती है, फिर उनसे बीमारियाँ दु:ख आदि भी होता रहता है। नाम ही है दु:खधाम। सुखधाम में दु:ख की बात ही नहीं। हम इतने सुख में जाते हैं, जिसको स्वर्ग का सुख कहा जाता है। सिर्फ तुमको पवित्र बनना है, सो भी इस जन्म के लिए। पीछे का ख्याल मत करो, अभी तो तुम पवित्र बनो। पहले तो विचार करो – कहते कौन हैं! बेहद के बाप का परिचय देना पड़े। बेहद के बाप से सुख का वर्सा मिलता है। लौकिक बाप भी पारलौकिक बाप को याद करते हैं। बुद्धि ऊपर चली जाती है। तुम बच्चे जो निश्चयबुद्धि पक्के हो, उन्हों के अन्दर रहेगा कि इस दुनिया में हम बाकी थोड़े दिन हैं। यह तो कौड़ी मिसल शरीर है। आत्मा भी कौड़ी मिसल बन पड़ी है, इसको वैराग्य कहा जाता है।

अभी तुम बच्चे ड्रामा को जान चुके हो। भक्ति मार्ग का पार्ट चलना ही है। सब भक्ति में हैं, ऩफरत की दरकार नहीं। सन्यासी खुद ऩफरत दिलाते हैं। घर में सब दु:खी हो जाते हैं, वह खुद अपने को जाकर थोड़ा सुखी करते हैं। वापिस मुक्ति में कोई जा नहीं सकते। जो भी कोई आये हैं, वापिस कोई भी गया नहीं है। सब यहाँ ही हैं। एक भी निर्वाणधाम वा ब्रह्म में नहीं गया है। वह समझते हैं फलाना ब्रह्म में लीन हो गया। यह सब भक्ति मार्ग के शास्त्रों में है। बाप कहते हैं इन शास्त्रों आदि में जो कुछ है, सब भक्तिमार्ग है। तुम बच्चों को अभी ज्ञान मिल रहा है इसलिए तुम्हें कुछ भी पढ़ने की दरकार नहीं है। परन्तु कोई-कोई ऐसे हैं जिनमें फिर नॉविल्स आदि पढ़ने की आदत है। ज्ञान तो पूरा है नहीं। उन्हें कहा जाता है कुक्कड़ ज्ञानी। रात को नॉविल पढ़कर नींद करते हैं तो उनकी गति क्या होगी? यहाँ तो बाप कहते हैं जो कुछ पढ़े हो सब भूल जाओ। इस रूहानी पढ़ाई में लग जाओ। यह तो भगवान् पढ़ाते हैं, जिससे तुम देवता बन जायेंगे, 21जन्मों के लिए। बाकी जो कुछ पढ़े हो वह सब भुलाना पड़े। एकदम बचपन में चले जाओ। अपने को आत्मा समझो। भल इन ऑखों से देखते हो परन्तु देखते भी नहीं देखो। तुम्हें दिव्य दृष्टि, दिव्य बुद्धि मिली है तो समझते हो यह सारी पुरानी दुनिया है। यह ख़त्म हो जानी है। यह सब कब्रिस्तानी हैं, उनसे क्या दिल लगायेंगे। अभी परिस्तानी बनना है। तुम अब कब्रिस्तान और परिस्तान के बीच में बैठे हो। परिस्तान अभी बन रहा है। अभी बैठे हैं पुरानी दुनिया में। परन्तु बीच में बुद्धि का योग वहाँ चला गया है। तुम पुरुषार्थ ही नई दुनिया के लिए कर रहे हो। अभी बीच में बैठे हो, पुरुषोत्तम बनने के लिए। इस पुरुषोत्तम संगमयुग का भी किसको पता नहीं है। पुरुषोत्तम मास, पुरुषोत्तम वर्ष का भी अर्थ नहीं समझते। पुरुषोत्तम संगमयुग को टाइम बहुत थोड़ा मिला हुआ है। देरी से युनिवर्सिटी में आयेंगे तो बहुत मेहनत करनी पड़ेगी। याद बहुत मुश्किल ठहरती है, माया विघ्न डालती रहती है। तो बाप समझाते हैं यह पुरानी दुनिया ख़त्म होने वाली है। बाप भल यहाँ बैठे हैं, देखते हैं परन्तु बुद्धि में है यह सब ख़त्म होने वाला है। कुछ भी रहेगा नहीं। यह तो पुरानी दुनिया है, इनसे वैराग्य हो जाता है। शरीरधारी भी सब पुराने हैं। शरीर पुराना तमोप्रधान है तो आत्मा भी तमोप्रधान है। ऐसी चीज़ को हम देखकर क्या करें। यह तो कुछ भी रहना नहीं है, उनसे प्रीत नहीं। बच्चों में भी बाप की दिल उनसे लगती है जो बाप को अच्छी रीति याद करते हैं और सर्विस करते हैं। बाकी बच्चे तो सब हैं। कितने ढेर बच्चे हैं। सब तो कभी देखेंगे भी नहीं। प्रजापिता ब्रह्मा को तो जानते ही नहीं हैं। प्रजापिता ब्रह्मा का नाम तो सुना है परन्तु उनसे क्या मिलता है – यह कुछ भी पता नहीं है। ब्रह्मा का मन्दिर है, दाढ़ी वाला दिखाया है। परन्तु उनको कोई याद नहीं करता है क्योंकि उनसे वर्सा मिलना नहीं है। आत्माओं को वर्सा मिलता है एक लौकिक बाप से, दूसरा पारलौकिक बाप से। प्रजापिता ब्रह्मा को तो कोई जानते ही नहीं। यह है वन्डरफुल। बाप होकर वर्सा न दे तो अलौकिक ठहरा ना। वर्सा होता ही है हद का और बेहद का। बीच में वर्सा होता नहीं। भल प्रजापिता कहते हैं परन्तु वर्सा कुछ भी नहीं। इस अलौकिक बाप को भी वर्सा पारलौकिक से मिलता है तो यह फिर देंगे कैसे! पारलौकिक बाप इनके थ्रू देता है। यह है रथ। इनको क्या याद करना है। इनको खुद भी उस बाप को याद करना पड़ता है। वह लोग समझते हैं यह ब्रह्मा को ही परमात्मा समझते हैं। परन्तु हमको वर्सा इनसे नहीं मिलता है, वर्सा तो शिवबाबा से मिलता है। यह तो बीच में दलाल रूप है। यह भी हमारे जैसा स्टूडेण्ट है। डरने की कोई बात नहीं।

बाप कहते हैं इस समय सारी दुनिया तमोप्रधान है। तुमको योगबल से सतोप्रधान बनना है। लौकिक बाप से हद का वर्सा मिलता है। तुमको अब बुद्धि लगानी है बेहद में। बाप कहते हैं सिवाए बाप से और किससे भी कुछ मिलना नहीं है, फिर भल देवतायें क्यों न हों। इस समय तो सब तमोप्रधान हैं। लौकिक बाप से वर्सा तो मिलता ही है। बाकी इन लक्ष्मी-नारायण से तुम क्या चाहते हो? वह लोग तो समझते हैं यह अमर हैं, कभी मरते नहीं हैं। तमोप्रधान बनते नहीं हैं। लेकिन तुम जानते हो जो सतोप्रधान थे वही तमोप्रधान में आते हैं। श्री कृष्ण को लक्ष्मी-नारायण से भी ऊंच समझते हैं क्योंकि वे फिर भी शादी किये हुए हैं। कृष्ण तो जन्म से ही पवित्र है इसलिए कृष्ण की बहुत महिमा है। झूला भी कृष्ण को झुलाते हैं। जयन्ती भी कृष्ण की मनाते हैं। लक्ष्मी-नारायण की क्यों नहीं मनाते हैं? ज्ञान न होने के कारण कृष्ण को द्वापर में ले गये हैं। कहते हैं गीता ज्ञान द्वापर युग में दिया है। कितना कठिन है किसको समझाना! कह देते हैं ज्ञान तो परम्परा से चला आ रहा है। परन्तु परम्परा भी कब से? यह कोई नहीं जानते। पूजा कब से शुरू हुई यह भी नहीं जानते हैं इसलिए कह देते रचता और सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को नहीं जानते हैं। कल्प की आयु लाखों वर्ष कहने से परम्परा कह देते हैं। तिथि-तारीख कुछ भी नहीं जानते। लक्ष्मी-नारायण का भी जन्म दिन नहीं मनाते। इसको कहा जाता है अज्ञान अंधियारा। तुम्हारे में भी कोई यथार्थ रीति इन बातों को जानते नहीं। तब तो कहा जाता है – महारथी, घोड़ेसवार और प्यादे। गज को ग्राह ने खाया। ग्राह बड़े होते हैं, एकदम हप कर लेते हैं। जैसे सर्प मेढ़क को हप करते हैं।

भगवान् को बागवान, माली, खिवैया क्यों कहते हैं? यह भी तुम अभी समझते हो। बाप आकर विषय सागर से पार ले जाते हैं, तब तो कहते हैं नैया मेरी पार लगा दो। तुमको भी अभी पता पड़ा है कि हम कैसे पार जा रहे हैं। बाबा हमको क्षीर सागर में ले जाते हैं। वहाँ दु:ख-दर्द की बात नहीं। तुम सुनकर औरों को भी कहते हो कि नैया को पार करने वाला खिवैया कहते हैं – हे बच्चे, तुम सब अपने को आत्मा समझो। तुम पहले क्षीरसागर में थे, अब विषय सागर में आ पहुँचे हो। पहले तुम देवता थे। स्वर्ग है वण्डर ऑफ वर्ल्ड। सारी दुनिया में रूहानी वण्डर है स्वर्ग। नाम सुनकर ही खुशी होती है। हेविन में तुम रहते हो। यहाँ 7 वण्डर्स दिखाते हैं। ताजमहल को भी वण्डर कहते हैं परन्तु उसमें रहने का थोड़ेही है। तुम तो वण्डर ऑफ वर्ल्ड का मालिक बनते हो। तुम्हारे रहने के लिए बाप ने कितना वण्डरफुल वैकुण्ठ बनाया है, 21 जन्मों के लिए पद्मापद्मपति बनते हो। तो तुम बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए। हम उस पार जा रहे हैं। अनेक बार तुम बच्चे स्वर्ग में गये होंगे। यह चक्र तुम लगाते ही रहते हो। पुरुषार्थ ऐसा करना चाहिए जो नई दुनिया में हम पहले-पहले आयें। पुराने मकान में जाने की दिल थोड़ेही होती है। बाबा ज़ोर देते हैं पुरुषार्थ कर नई दुनिया में जाओ। बाबा हमें वण्डर ऑफ वर्ल्ड का मालिक बनाते हैं। तो ऐसे बाप को हम क्यों नहीं याद करेंगे। बहुत मेहनत करनी है। इसको देखते भी नहीं देखो। बाप कहते हैं भल मैं देखता हूँ, परन्तु मेरे में ज्ञान है – मैं थोड़े रोज़ का मुसाफिर हूँ। वैसे तुम भी यहाँ पार्ट बजाने आये हो इसलिए इससे ममत्व निकाल दो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) रूहानी पढ़ाई में सदा बिजी रहना है। कभी भी नॉवेल्स आदि पढ़ने की गंदी आदत नहीं डालनी है, अब तक जो कुछ पढ़ा है उसे भूल बाप को याद करना है।

2) इस पुरानी दुनिया में स्वयं को मेहमान समझकर रहना है। इससे प्रीत नहीं रखनी है, देखते भी नहीं देखना है।

वरदान:- अधिकारी बन समस्याओं को खेल-खेल में पार करने वाले हीरो पार्टधारी भव
चाहे कैसी भी परिस्थितियां हों, समस्यायें हों लेकिन समस्याओं के अधीन नहीं, अधिकारी बन समस्याओं को ऐसे पार कर लो जैसे खेल-खेल में पार कर रहे हैं। चाहे बाहर से रोने का भी पार्ट हो लेकिन अन्दर हो कि यह सब खेल है – जिसको कहते हैं ड्रामा और ड्रामा के हम हीरो पार्ट-धारी हैं। हीरो पार्टधारी अर्थात् एक्यूरेट पार्ट बजाने वाले इसलिए कड़ी समस्या को भी खेल समझ हल्का बना दो, कोई भी बोझ न हो।
स्लोगन:- सदा ज्ञान के सिमरण में रहो तो सदा हर्षित रहेंगे, माया की आकर्षण से बच जायेंगे।

TODAY MURLI 15 FEBRUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 15 February 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 14 February 2018 :- Click Here

15/02/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to serve the unlimited world and to make hell into heaven. Only the Father does this service every cycle.
Question: Which system of the confluence age is completely different from the rest of the cycle?
Answer: Throughout the whole cycle, children say “Namaste” to the Father. I am now on service of you long-lost-and-now-found, beloved children and so you children are senior to Me. The Father comes to the children after a cycle to cleanse the whole world of all the rubbish and to change hell into heaven. No one else can be incorporeal and egoless in the same way as the Father. The Father massages the feet of His tired children.

Om shanti. As soon as the Father comes, should He first say “Namaste” to the children or should the children say “Namaste” to the Father? (The children should say namaste to the Father.) No. The Father has to say “Namaste” first. The customs and systems of the confluence age are unique. The Father Himself says: I, the Father of all of you, have come to serve you. Therefore, you children are senior to Me. In the world, children say “Namaste” to their father. Here, the Father says “Namaste” to you children. He is remembered as the incorporeal and egoless One and so that also has to be shown. People bow down at the feet of sannyasis; they even kiss their feet. They don’t understand anything. The Father comes to meet the children after a cycle. You are the long-lost-and-now-found, special children and this is why He says: Sweet children, you are tired. He even massaged the feet of Draupadi, and so He is the Servant. Who said: Salutations to the mothers? The Father. You children understand that the Father has come on unlimited service of the whole world. There is so much rubbish in the world. This is hell. Therefore, the Father has to come to change hell into heaven. He comes with a lot of love and enthusiasm. He knows that He has to come to serve you children. He comes on service every cycle. When He comes, you children understand that the Father has come to serve you. While sitting here, He serves everyone. It isn’t that He would go to everyone. People don’t know the meaning of “omnipresence”. The benevolent Bestower of the whole world is One. Human beings cannot serve in the same way as He does. His service is unlimited.

Song: Awaken o brides! Awaken! The new age is about to come.

Om shanti. The song is so good: the new age and the old age. You have to explain the ages. The ages are for the people of Bharat. They hear from people of Bharat that the golden and silver ages existed in the past because they themselves come in the copper age. So, they hear from others that the deities used to rule over the ancient land of Bharat. There used to be the original eternal deity religion. That doesn’t exist now. It is remembered that He carries out establishment through Brahma and sustenance through Vishnu. He doesn’t do that Himself, but He carries it out through others. Therefore, this is His praise. In fact, He first has to create the creation of the subtle region because He is the Creator. Everyone says of the Gita that it is the jewel of all scriptures, that it is the mother of all scriptures. However, they don’t know the name of God or who God is. Vyas etc., who created the scriptures inserted Krishna’s name. The Gita is the mother and father of the deity religion. All the rest came after it. So this is the ancient one. Achcha. When did God speak the Gita? All the religions must definitely have existed at that time. In fact, the one Gita is the main one for all religions. Those of all religions should believe in it, but they don’t. Those of Islam and the Christians are very strict in their religions. They only believe in their own religious scriptures. When they come to know that the Gita is the ancient scripture, they ask for it to be brought (from India), but they don’t know when God spoke the Gita. Chimiyananda said that the God of the Gita spoke the Gita 3500 years before Christ. However, that religion didn’t even exist 3500 years ago so how could that be the scripture of all religions? All religions exist at this time. The Father has come to grant salvation to all religions through the Gita. The Gita was spoken by the Father. They have made it difficult by mentioning the name of the child instead of the Father’s. This doesn’t tell them when to celebrate Shiv Ratri. Shiv Jayanti and Krishna Jayanti come at approximately the same time. When Shiv Jayanti ends, Krishna takes birth. It is never said, “The sacrificial fire of the knowledge of Shri Krishna.” They say: The sacrificial fire of the knowledge of Rudra. The flames of destruction emerged from that. You are truly seeing that. The original eternal deity religion is once again being established. Other religions will not exist then. Krishna will also come when none of the other religions exist. This too is a matter of understanding. There used to be the kingdom of sun-dynasty deities in the golden age, and so there must definitely have been few people then. All the rest of the souls were residing in the land of liberation. Everyone has to meet God. They would salute the Father, would they not? The Father comes once again and salutes the children, and the children then salute the Father. The Father has come in the living form at this time. Then, all souls will definitely meet the Father there. Everyone definitely has to meet God. Where will they meet Him? They cannot meet Him here, because only a handful out of multimillions and only a few of that handful, will come. Therefore, where and when would all the devotees meet Him? They will meet Him in the place where they separated from Him. The residence of God is the supreme abode (paramdham). The Father says: I take all the children back to the supreme abode after liberating them from sorrow. This is only His task. There are now innumerable languages. If the Sanskrit language were to be used, how would so many people be able to understand? Nowadays, people recite the Gita in Sanskrit. Many people sing the Gita very well in Sanskrit. None of the hunchbacks, stone intellects and innocent ones etc. know Sanskrit. Hindi is a commonlanguage. Hindi is used a lot more. God too speaks in Hindi. Those people show the different chapters of the Gita. How could you make chapters of this? The murli has continued from the beginning. The Father has to come to make the impure world pure. Heavenly God, the Father, would surely create heaven. He wouldn’t create hell. Ravan establishes hell and the Father establishes heaven. His right name is Shiva. “Shiva” means a point. A soul is a point. What is a star? It is so tiny! It isn’t that when souls go up above, they become big. They just show a symbol of it in the centre of the forehead. It is said that a wonderful star sparkles in the centre of the forehead. Therefore, it would surely only be a tiny soul that could live in the forehead. As is a soul, so the Supreme Soul. However, the wonder is that every tiny soul has his part of all his births recorded in him. That part is never erased; it continues for ever. This is such a deep thing. Did Baba tell you these things earlier? Earlier, He said that a soul has the form of a lingam, that it is thumb shaped. If Baba had told you this earlier, you wouldn’t have been able to understand it. It has now sat in your intellects. Everyone speaks of a star and they even have visions of a star. What do you want a vision of? The new world. The Father creates the new world of heaven. He sends everyone there. He Himself only comes here once. People now ask for peace because everyone is going to go into peace. They say that happiness is like the droppings of a crow. It says in the Gita that, through Raja Yoga, you become the king of kings. How could those who say that happiness is like the droppings of a crow receive a kingdom? This is a matter of the family path. Sannyasis cannot take up the Gita. The Father says: There are two types of renunciation. In fact, even among the sannyasis, there are many types. Here, there is just the one type of renunciation. You children renounce the old world. While living at home with your families, you have to live like a lotus. Ask these people how it is possible to live like this. There are many who live like this. This is not the work of sannyasis. Why else would they leave their households? Charity begins at home. First of all, they should teach their wives. Shiv Baba also says: I first of all explain to My wife (sakar Brahma). Charity begins at home. This is the living home of Shiv Baba. First of all, this wife learns and then all the adopted children learn from him, numberwise. These are very deep matters. The principal scripture of all is the Gita. However, no one takes inspirations from the Gita. He has to come here. There are also His memorials; there are many temples to Shiva. He Himself says: I enter the body of the ordinary Brahma. He does not know his own births. It is not a matter of just one. All of you sitting here are the mouth-born creation of Brahma. It is not a question of explaining to just one. No; you Brahmins have been created through the mouth of Brahma. Therefore, He only explains to you Brahmins. A sacrificial fire is always looked after by brahmin priests. The people who relate the Gita don’t have brahmin priests and this is why those are not sacrificial fires. This is a huge sacrificial fire. This is the unlimited sacrificial fire of the unlimited Father. The pots have been on the fire for a long time. The bhandara is still continuing. When will it end? When the whole kingdom has been established. The Father says: I will take you back with Me. Then I will send you to play your part s, numberwise. No one else can say: I am your Guide and I will take you back. He purifies all the impure human beings and takes them back. Pure souls will then begin to come down at their own time to establish their own religions. There are now innumerable religions but the one religion doesn’t exist now. Then, for half the cycle, there won’t be any scriptures. Out of all the religions and all the scriptures, the Gita is the main scripture because it is through this that everyone receives liberation and salvation. Therefore, you should explain that the people of Bharat receive salvation and that everyone else receives liberation. Among the people of Bharat, those who separated from the supreme abode first are the ones who will take knowledge first. They will be the first ones to go back. Then, everyone has to come down, numberwise. Everyone has to go through the stages of sato, rajo and tamo. The duration of the cycle has now come to an end and all souls are present here. The Father too has come. Each one has to play his own part. Not all actors in a play come onto the stage at the same time; they all come at their own time. The Father has explained to you how they all come down, numberwise. The secret of the castes has also been explained to you. The topknot is Brahmins, but who created Brahmins? Shudras wouldn’t create them. Above the topknot is Brahma, the father of the Brahmins. The Father of Brahma is Shiv Baba. Therefore, you are the mouth-born creation of Brahma, the dynasty of Shiva. You Brahmins will then become deities. The account of the castes has to be explained. Advice is given to you children. You know that not everyone is clever to the same extent. If a scholar or pundit debates with a new teacher, she wouldn’t be able to explain. Therefore, she should say: I am still new. Come at such-and-such a time and my senior sister will explain to you. There are others who are cleverer than I. All are numberwise in a class. You should not become body conscious. Otherwise, you will lose Baba’s honour. They would then say that the BKs are not able to explain fully. Therefore, you should let go of body consciousness and refer them to others. Baba also says: I will ask up above. Pundits would spoil your head a lot. Therefore, you should tell them: Forgive me, but I am still studying. Come tomorrow and my senior brother or sister will explain to you. There are elephant riders, horse riders and infantry. Some are even riding lions. A lion is the fiercest of all. It lives alone in a jungle. Elephants always live in a herd. If an elephant is alone someone would even kill it. A lion is very fierce. Shaktis are shown riding lions. Your mission also has to go outside (abroad). However, Baba is looking to see who will take the initiative. You have to explain to people who it was that established the ancient deity religion. Many speak of gods and goddesses. They believe that gods and goddesses are different from God. Lakshmi and Narayan are called a god and goddess. However, that is against the law. They are deities. If you called Lakshmi and Narayan a god and goddess, you would then also have to call Brahma, Vishnu and Shankar gods. Understanding is required. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Renounce body consciousness and keep your elders in front of you. Become egoless like the Father.
  2. 2. Charity begins at home. First of all, make your family like a lotus. While living at home, forget the old world from your intellect.
Blessing: May you be a destroyer of obstacles who imbibes the knowledge of the three aspects of time and the three worlds and thereby becomes wise.
Those who are knowledge-full of the three aspects of time and the three worlds are said to be wise, that is, they are called Ganesh (God of Knowledge). “Ganesh” means a destroyer of obstacles. Such souls cannot become obstacles in any situation. Even if someone becomes an obstacle, you become a destroyer of obstacles and, by doing so, your obstacles will finish. Souls who are destroyers of obstacles transform the environment and the atmosphere, they do not just speak about it.
Slogan: To give the experience of truth and manners through your behaviour and face is greatness.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 15 FEBRUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 February 2018

To Read Murli 14 February 2018 :- Click Here
15-02-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप आया है बेहद सृष्टि की सेवा पर, नर्क को स्वर्ग बनाना – यह सेवा कल्प-कल्प बाप ही करते हैं”
प्रश्नः- संगम की कौन सी रसम सारे कल्प से न्यारी है?
उत्तर:- सारे कल्प में बच्चे बाप को नमस्ते करते हैं, मैं तुम सिकीलधे बच्चों की सेवा पर उपस्थित हुआ हूँ तो तुम बच्चे बड़े ठहरे ना। बाप कल्प के बाद बच्चों के पास आते हैं, सारी सृष्टि के किचड़े को साफ कर नर्क को स्वर्ग बनाने। बाप जैसा निराकारी, निरहंकारी और कोई हो नहीं सकता। बाप अपने थके हुए बच्चों के पांव दबाते हैं।

ओम् शान्ति। आने से ही पहले-पहले बाप बच्चों को नमस्ते करें या बच्चे बाप को नमस्ते करें? (बच्चे बाप को नमस्ते करें) नहीं, पहले बाप को नमस्ते करना पड़े। संगमयुग की रसम-रिवाज ही सबसे न्यारी है। बाप खुद कहते हैं मैं तुम सबका बाप तुम्हारी सर्विस में आकर उपस्थित हुआ हूँ। तो जरूर बच्चे बड़े ठहरे ना। दुनिया में तो बच्चे बाप को नमस्ते करते हैं। यहाँ बाप नमस्ते करते हैं बच्चों को। गाया भी हुआ है निराकारी, निरहंकारी तो वह भी दिखलाना पड़े ना। वह तो सन्यासियों के चरणों में झुकते हैं। चरणों को चूमते हैं। समझते कुछ भी नहीं। बाप आते ही हैं बच्चों से मिलने – कल्प के बाद। बहुत सिकीलधे बच्चे हैं, इसलिए कहते हैं – मीठे बच्चे थके हो। द्रोपदी के भी पांव दबाये हैं ना। तो सर्वेन्ट हुआ ना। वन्दे मातरम् किसने उच्चारा है? बाप ने। बच्चे समझते हैं बाप आया हुआ है सारी सृष्टि की बेहद सेवा पर। सृष्टि पर कितना किचड़ा है। यह है ही नर्क तो बाप को आना पड़ता है, नर्क को स्वर्ग बनाने – बहुत उकीर (प्यार-उमंग) से आते हैं। जानते हैं मुझे बच्चों की सेवा में आना है। कल्प-कल्प सेवा पर उपस्थित होना है। जब वह खुद आते हैं तब बच्चे समझते हैं बाप हमारी सेवा में उपस्थित हुए हैं। यहाँ बैठे सभी की सेवा हो जाती है। ऐसे नहीं सबके पास जाता होगा। सर्वव्यापी का अर्थ भी नहीं जानते। सारी सृष्टि का कल्याणकारी दाता तो एक है ना। उनकी भेंट में मनुष्य कोई सेवा कर न सकें। उनकी है बेहद की सेवा।

गीत:- जाग सजनियां जाग…

ओम् शान्ति। देखो कितना अच्छा गीत है। नव युग और पुराना युग…. युगों पर भी समझाना चाहिए। युग भारतवासियों के लिए ही हैं। भारतवासियों से वह सुनते हैं कि सतयुग, त्रेता होकर गये हैं क्योंकि वह तो आते हैं द्वापर में। तो औरों से सुनते हैं प्राचीन खण्ड भारत था, उसमें देवी-देवतायें राज्य करते थे। आदि सनातन देवी-देवता धर्म था, अभी नहीं है। गाया जाता है ब्रह्मा द्वारा स्थापना, विष्णु द्वारा पालना कराते हैं। करते नहीं हैं, कराते हैं। तो यह है उनकी महिमा। वास्तव में उनको पहले रचना रचनी है सूक्ष्मवतन की क्योंकि क्रियेटर है। गीता के लिए तो सब कहते हैं सर्व शास्त्रमई शिरोमणी श्रीमद् भगवत गीता। परन्तु भगवान का नाम नहीं जानते, कौन सा भगवान? व्यास आदि शास्त्र बनाने वालों ने कृष्ण का नाम डाल दिया है। गीता तो देवी-देवता धर्म की माई बाप है। बाकी सब बाद में आये। तो यह हुई प्राचीन। अच्छा भगवान ने गीता कब सुनाई? जरूर सभी धर्म होने चाहिए। सभी धर्मों के लिए वास्तव में एक गीता है मुख्य। सब धर्म वालों को मानना चाहिए। परन्तु मानते कहाँ हैं। मुसलमान, क्रिश्चियन आदि बड़े कट्टर हैं। वह अपने धर्म शास्त्र को ही मानते हैं। जब मालूम पड़ता है कि गीता प्राचीन है तब मंगाते हैं। परन्तु यह तो जानते नहीं कि भगवान ने गीता कब सुनाई? चिन्मयानंद कहते हैं 3500 वर्ष बिफोर क्राइस्ट, गीता के भगवान ने गीता सुनाई। अब 3500 वर्ष पहले तो यह धर्म थे ही नहीं। फिर सभी धर्मों का वह शास्त्र कैसे हो सकता। इस समय तो सभी धर्म हैं। सभी धर्मों की गीता द्वारा सद्गति करने बाप आया हुआ है। गीता बाप की उच्चारी हुई है। उसमें बाप के बदले बच्चे का नाम डाल मुश्किलात कर दी है। इससे सिद्ध नहीं होता कि शिवरात्रि कब मनाये? शिव जयन्ती और कृष्ण जयन्ती लगभग हो जाती। शिव जयन्ती समाप्त होती और कृष्ण का जन्म हो जाता। कभी भी श्रीकृष्ण ज्ञान यज्ञ नहीं गाया जाता। रूद्र ज्ञान यज्ञ गाया जाता है, उनसे ही विनाश ज्वाला प्रज्जवलित हुई। सो तो बरोबर देख रहे हो। आदि सनातन देवी-देवता धर्म की फिर से स्थापना हो रही है। फिर और धर्म रहेंगे नहीं। कृष्ण भी तब आये जबकि सभी धर्म न हो। यह भी समझ की बात है ना। सतयुग में सूर्यवंशी देवी-देवताओं का राज्य था तो जरूर थोड़े मनुष्य होंगे। बाकी सब आत्मायें मुक्तिधाम में रहती हैं। भगवान से तो सबको मिलना होता है ना। बाप को सलाम तो करेंगे ना। बाप भी फिर से आकर सलाम करते हैं बच्चों को। बच्चे फिर बाप को करते हैं। इस समय बाप चैतन्य में आया हुआ है। फिर वहाँ सभी आत्मायें बाप से मिलेगी जरूर। सबको भगवान से मिलना जरूर है। कहाँ मिले? यहाँ तो मिल न सकें क्योंकि कोटों में कोई, कोई में भी कोई ही आयेंगे। तो सब भक्त कब और कहाँ मिलेंगे? जहाँ से भगवान से बिछुड़े हैं, वहाँ ही जाकर मिलेंगे। भगवान का निवास स्थान है ही परमधाम। बाप कहते हैं मैं सभी बच्चों को परमधाम ले जाता हूँ – दु:ख से लिबरेट कर। यह काम उनका ही है। अभी तो देखो अनेक भाषायें हैं। अगर संस्कृत भाषा शुरू करें तो इतने यह सब कैसे समझें। आजकल गीता संस्कृत में कण्ठ करा देते हैं। बहुत अच्छी गीता गाते हैं संस्कृत में। अब अहिल्यायें, कुब्जायें, अबलायें… संस्कृत कहाँ जानती। हिन्दी भाषा तो कॉमन है। हिन्दी का प्रचार जास्ती है। भगवान भी हिन्दी में सुना रहे हैं। वह तो गीता के अध्याय बतलाते हैं, इनके अध्याय कैसे बना सकेंगे। यह तो शुरू से लेकर मुरली चलती रहती है। बाप को आना ही है पतित सृष्टि को पावन बनाने। हेविनली गॉड फादर तो जरूर स्वर्ग ही क्रियेट करेगा। नर्क थोड़ेही रचेगा, नर्क की स्थापना रावण करते हैं। स्वर्ग की स्थापना बाप करते, उनका राइट नाम शिव ही है। शिव अर्थात् बिन्दी। आत्मा ही बिन्दी है ना। स्टार क्या है? कितना छोटा है? ऐसे थोड़ेही आत्मायें ऊपर जायेंगी तो बड़ी हो जायेंगी। यह तो भ्रकुटी के बीच में निशानी दिखाते हैं। कहते भी हैं भ्रकुटी के बीच में चमकता है अजब सितारा। तो जरूर भ्रकुटी में इतनी छोटी आत्मा ही रह सकेगी। तो जैसे आत्मा है वैसे परमात्मा। परन्तु वन्डर यह है जो हर एक इतनी छोटी आत्मा में सभी जन्मों का पार्ट भरा हुआ है। जो कभी घिसता नहीं है, फार एवर चलता रहेगा। कितनी गुह्य बातें हैं। आगे कब यह बातें सुनाई थी क्या? आगे तो कहते थे लिंग रूप है, अंगुष्ठाकार है। पहले ही अगर यह बातें सुनाते तो तुम समझ नहीं सकते। अभी बुद्धि में बैठता है। स्टार तो सब कहेंगे। साक्षात्कार भी स्टार का होता है। तुमको साक्षात्कार किस चीज़ का चाहिए? नई दुनिया का। नई दुनिया स्वर्ग रचते हैं बाप। वही सबको भेज देंगे। खुद एक ही बार आते हैं। अब मनुष्य मांगते हैं शान्ति क्योंकि सभी शान्ति में ही जाने वाले हैं। कहते हैं सुख काग विष्टा समान है। गीता में तो है राजयोग…. जिससे राजाओं का राजा बनते हैं। जो कहते हैं सुख काग विष्टा समान है तो उनको राजाई कैसे मिले। यह तो प्रवृत्ति मार्ग की बात है। सन्यासी तो गीता को भी उठा न सके। बाप कहते हैं सन्यास दो प्रकार के हैं। यूँ तो सन्यासियों में भी बहुत प्रकार के हैं। यहाँ तो एक ही प्रकार का सन्यास है। तुम बच्चे पुरानी दुनिया का सन्यास करते हो। गृहस्थ व्यवहार में रहते, कमल फूल समान रहना है। कैसे रहते हैं, सो इन्हों से पूछो। बहुत हैं जो ऐसे रहते हैं। सन्यासियों का यह काम नहीं है। नहीं तो खुद क्यों घरबार छोड़ते। चैरिटी बिगन्स एट होम। पहले-पहले तो स्त्री को सिखलायें। शिवबाबा भी कहते हैं पहले-पहले मैं अपनी स्त्री (साकार ब्रह्मा) को समझाता हूँ ना। चैरिटी बिगन्स एट होम। शिवबाबा का यह चैतन्य होम है। पहले-पहले यह स्त्री सीखती फिर उनसे एडाप्टेड चिल्ड्रेन नम्बरवार सीख रहे हैं। यह बड़ी गुह्य बातें हैं। सभी शास्त्रों में मुख्य शास्त्र है गीता। परन्तु गीता शास्त्र से कोई प्रेरणा नहीं करते हैं। वह तो यहाँ आते हैं, यादगार भी हैं। शिव के अनेक मन्दिर हैं। खुद कहते हैं मैं साधारण ब्रह्मा तन में आता हूँ। यह अपने जन्मों को नहीं जानते। एक की बात तो है नहीं। सभी ब्रह्मा मुख वंशावली बैठे हैं। सिर्फ इस एक को ही बाप समझाये, परन्तु नहीं। ब्रह्मा मुख द्वारा तुम ब्राह्मण रचे गये सो तो ब्राह्मणों को ही समझाते हैं। यज्ञ हमेशा ब्राह्मणों द्वारा ही चलता है। उन गीता सुनाने वालों के पास ब्राह्मण हैं नहीं, इसलिए वह यज्ञ भी नहीं ठहरा। यह तो बड़ा भारी यज्ञ है। बेहद के बाप का बेहद का यज्ञ है। कब से डेगियां चढ़ती आई हैं। अभी तक भण्डारा चलता ही रहता है। समाप्त कब होगा? जब सारी राजधानी स्थापन हो जायेगी। बाप कहते हैं तुमको वापिस ले जायेंगे। फिर नम्बरवार पार्ट बजाने भेज देंगे। ऐसे और तो कोई कह न सके कि हम तुम्हारा पण्डा हूँ, तुमको ले जाऊंगा। जो भी पतित मनुष्य हैं, सबको पावन बनाकर ले जाते हैं। फिर अपने-अपने धर्म स्थापन करने समय पावन आत्मायें आना शुरू करती हैं। अनेक धर्म अभी हैं। बाकी एक धर्म नहीं है, फिर आधाकल्प कोई शास्त्र नहीं रहता। तो गीता सब धर्मो की, सब शास्त्रों की शिरोमणी है क्योंकि इससे ही सबकी गति सद्गति होती है। तो समझाना चाहिए – सद्गति है भारतवासियों की, बाकी गति तो सबकी होती है। भारतवासियों में भी ज्ञान वह लेते हैं जो पहले-पहले परमात्मा से अलग हुए हैं, वही पहले ज्ञान लेंगे। वही फिर पहले-पहले जाना शुरू करेंगे। नम्बरवार फिर सबको आना है। सतो रजो तमो से तो सबको पार करना है। अभी कल्प की आयु पूरी हुई है। सभी आत्मायें हाजिर हैं। बाप भी आ गया है। हरेक को अपना पार्ट बजाना है। नाटक में सभी एक्टर्स इकट्ठे तो नहीं आते, अपने-अपने टाइम पर आते हैं। बाप ने समझाया है नम्बरवार कैसे आते हैं। वर्णों का राज़ भी समझाया है। चोटी तो ब्राह्मणों की है। परन्तु ब्राह्मणों को भी रचने वाला कौन है? शूद्र तो नहीं रचेंगे। चोटी के ऊपर फिर ब्राह्मणों का बाप ब्रह्मा। ब्रह्मा का बाप फिर है शिवबाबा। तो तुम हो शिव वंशी ब्रह्मा मुख वंशावली। तुम ब्राह्मण फिर सो देवता बनेंगे। वर्णों का हिसाब समझाना है। बच्चों को राय भी दी जाती है। यह तो जानते हैं सब एक जैसे होशियार तो नहीं हैं। कोई नये के आगे विद्वान पण्डित आदि डिबेट करेंगे तो वह समझा नहीं सकेंगे। तो कह देना चाहिए कि मैं नई हूँ। आप फलाने टाइम पर आना फिर हमारे से बड़े आपको आकर समझायेंगे, मेरे से तीखे और हैं। क्लास में नम्बरवार होते हैं ना। देह-अभिमान में नहीं आना चाहिए। नहीं तो आबरू (इज्जत) चली जाती है। कहते हैं बी.के. तो पूरा समझा नहीं सकते, इसलिए देह-अभिमान छोड़ रेफर करना चाहिए और तरफ। बाबा भी कहते हैं ना हम ऊपर से पूछेंगे। पण्डित लोग तो बड़ा माथा खराब करेंगे। तो उनको कहना चाहिए – मैं सीख रही हूँ, माफ करिये। आप कल आना तो हमारे बड़े भाई-बहिनें आपको समझायेंगे। महारथी, घोड़ेसवार, प्यादे तो हैं ना। किन्हों की शेर पर सवारी भी है। शेर सबसे तीखा होता है। जंगल में अकेला रहता है। हाथी हमेशा झुण्ड में रहता है। अकेला होगा तो कोई मार भी दे। शेर तीखा होता है। शक्तियों की भी शेर पर सवारी है।

तुम्हारी मिशन भी बाहर निकलनी है। परन्तु बाबा देखते हैं पान का बीड़ा उठाने वाला कौन है? प्राचीन देवता धर्म किसने स्थापन किया – वह सिद्ध कर बताना है। बहुत तो गॉड गॉडेज भी कहते हैं। वह समझते हैं गॉड-गॉडेज अलग हैं, ईश्वर अलग है। लक्ष्मी-नारायण को भगवान भगवती कहते हैं। परन्तु लॉ के विरुद्ध है। वह तो हैं देवी-देवतायें। अगर लक्ष्मी-नारायण को भगवान भगवती कहते तो ब्रह्मा विष्णु शंकर को पहले भगवान कहना पड़े। समझ भी चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) देह-अभिमान छोड़ अपने से बड़ों को आगे करना है। बाप समान निरहंकारी बनना है।

2) चैरिटी बिगेन्स एट होम… पहले अपने गृहस्थ व्यवहार को कमल फूल समान बनाना है। घर में रहते हुए बुद्धि से पुरानी दुनिया का सन्यास करना है।

वरदान:- तीनों कालों, तीनों लोकों की नॉलेज को धारण कर बुद्धिवान बनने वाले विघ्न-विनाशक भव 
जो तीनों कालों और तीनों लोकों के नॉलेजफुल हैं उन्हें ही बुद्धिवान अर्थात् गणेश कहा जाता है। गणेश अर्थात् विघ्न-विनाशक। वह किसी भी परिस्थिति में विघ्न रूप नहीं बन सकते। यदि कोई विघ्न रूप बनें भी तो आप विघ्न-विनाशक बन जाओ, इससे विघ्न खत्म हो जायेंगे। विघ्न-विनाशक आत्मायें वातावरण, वायुमण्डल को भी परिवर्तन कर देती हैं, उसका वर्णन नहीं करती।
स्लोगन:- अपने चलन और चेहरे से सत्यता की सभ्यता का अनुभव कराना ही श्रेष्ठता है।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize