today murli 15 december

TODAY MURLI 15 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 15 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 14 December 2018 :- Click Here

15/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to serve through your royal behaviour and make your intellects refined by following shrimat. You also have to give r egard to the mothers.
Question: Which task is only the one Father’s and not that of any human being?
Answer: To establish peace in the whole world is the Father’s task. No matter how many peace conferences etc. people have, there cannot be peace. When the Father, the Ocean of Peace, makes you children promise to remain pure, peace then become established. Only in the pure world is there peace. When you children explain this aspect very tactfully and with great pomp, the Father’s name will be glorified.
Song: I am a small child and You are the Almighty Authority!

Om shanti. This song is sung on the path of devotion because, on the one side, there is the influence of devotion and on the other side, there is the influence of knowledge. There is the difference of day and night between devotion and knowledge. What is the difference? This is very easy. Devotion is the night and knowledge is the day. In devotion, there is sorrow. When devotees become unhappy, they call out to God. God then has to come to remove the sorrow of those who are unhappy. So, you ask the Father: Is there a mistake in the drama? The Father says: Yes, the big mistake is that you forget Me. Who makes you forget? Maya, Ravan. The Father sits here and explains: Children, this play is predestined. Heaven and hell exist in Bharat. It is only in Bharat that people say when someone dies that he has become a resident of Paradise. They don’t know when heaven or Paradise exists. When it is heaven, human beings surely take rebirth in heaven. It is now hell and so, until heaven is established, they would surely take rebirth in hell. People don’t know these things. One is the Godly community, that is, the community of Rama, and the other is the community of Ravan. In the golden and silver ages, there is the community of Rama. They don’t have any sorrow; they live in the cottage that is free from sorrow. Then, after half the cycle, the kingdom of Ravan begins. The Father is now once again establishing the original, eternal, deity religion. That is the most elevated religion. There are all religions. They are holding a conference of the religions. Those of all the innumerable religions come to Bharat and hold conferences. However, what conferences would the people of Bharat who don’t believe in religion have? In fact, the ancient religion of Bharat is the original, eternal, deity religion. There is no such thing as the Hindu religion. The highest of all is the deity religion. The law says that those of the most elevated religion should be made to sit on the gaddi. Who should be made to sit in front? Sometimes, they even quarrel over this (the seat). There was once a fight over this at the Kumbh mela. One group said that they should go first and another group said that they should go first. They quarrelled over this. You children should now explain at this conference which religion is the highest of all. They don’t know that. The Father tells you that the original eternal religion was the deity religion which disappeared and that they therefore began to call themselves Hindus. Those who live in China would not say that their religion is Chinese. They make whomever they regard as the most important person the principal one and make him sit on the gaddi. According to the law, not that many can come to the conference. Only religious heads are invited. Many then argue about things. There is no one to give them advice. You are the ones who belong to the highest-on-high deity religion. You are now establishing the deity religion. Only you can say that the head of Bharat’s main religion, which is the mother and father of all religions, should be made the main person for this conference. He should be the one seated on the main chair. All the rest are below him. So the intellects of the main children should work on this. God sits and explains to Arjuna. That one is Sanjay. Arjuna is a charioteer. The Father is the One riding in the chariot, but people think that He changed His form, entered the body of Krishna and gave knowledge. However, it was not like that. There is now also Prajapita. This can be explained very clearly using the picture of the Trimurti. You definitely need the image of Shiv Baba above the Trimurti. That is the creation of the subtle region. You children understand that Vishnu is the sustainer. Prajapita Brahma is the one who establishes. Therefore, his picture is also needed. This is something to be understood. It enters your intellects that there is definitely Prajapita Brahma. Vishnu is also needed. The one through whom He establishes will also be the one through whom He sustains. He carries out establishment through Brahma. Together with Brahma, there is also Saraswati and many children. In fact, this one is also becoming pure from impure. So, the head of the conferenceshould be Jagadamba, the head of the original eternal deity religion, because there is a lot of regard for the mothers. A very big mela takes place for Jagadamba. She is the daughter of Jagadpita. The original eternal deity religion is now being established. The Gita episode is being repeated ; that is, the same Mahabharat War is in front of us. The Father says: I come every cycle at the confluence age of the cycle to make the corrupt world elevated. Jagadamba has been remembered as the Goddess of K nowledge. Together with her, there are also the Ganges of knowledge. You can ask them: Whom did you receive this knowledge from? Knowledge-full God, the Father , is only One. How is He able to give you knowledge? He definitely has to take a body. So, He speaks through the lotus mouth of Brahma. These mothers will sit there and explain. At the conference, they should know what the greatest religion is. No one believes that we belong to the original eternal deity religion. The Father says: When this religion has disappeared, I come and establish it once again. The deity religion doesn’t exist now. The other three religions are continuing to grow. So, surely, the deity religion has to be established once again. Then, none of those religions will remain. The Father comes to establish the original eternal deity religion. Only you daughters can tell them how peace is established. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Peace. So, He would surely establish peace. He is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Happiness. People sing: O Purifier, come! Come and make Bharat into the pure kingdom of Rama. He alone will make it peaceful. This is the task of the Father alone. You claim an elevated status by following His directions. The Father says: Those who belong to Me and who study Raja Yoga and make a promise for purity, by saying: Baba, I will become pure and claim the inheritance for 21 births, will become the masters. They will become pure from impure. Lakshmi and Narayan are pure beings, the most elevated of all. The pure world is now being established once again. You are holding a conference for peace, but human beings will not bring about peace. That is the task of the Father, the Ocean of Peace. Eminent people attend conferences. Many become delegates and so they have to be advised. Father shows son. The grandchildren of Shiv Baba and the children of Brahma are goddesses of knowledgeGod gave them knowledge. Human beings study the knowledge of the scriptures. If you explain with such pomp, they will enjoy themselves a great deal. You definitely have to create a method. On the one side is their conference and on the other side is your conference with a lot of pomp. The pictures too are very clear and people will understand very quickly from them. Their occupation s are different and that One’s occupation is different. It isn’t that all are the same; no. The parts of all the religions are different. They get together and carry on working for peace. They say: Religion is might. However, who is the one who has the most power? He is the One who comes and establishes the foremost deity religion. Only you children know this. Day by day, you children continue to receive points. You should also have the powerto explain them. A yogi would have very good power. Baba says: I only love gyani souls. This doesn’t mean that He doesn’t love yogi souls. Those who are gyani would surely also be yogi. You have yoga with the Supreme Father, the Supreme Soul. Without yoga, there cannot be dharna. Those who don’t have yoga don’t have dharna either because they have a lot of body consciousness. The Father explains: You have to change your devilish intellects into divine intellects. It is God, the Father, who makes those with stone intellects into those with divine intellects. Ravan comes and makes you into those with stone intellects. Their name is the devilish community. They say in front of the deity idols: I have no virtues. I am lustful, a cheat. You mothers can explain very well. You have to have that much enthusiasm and courage to share knowledge. You have to explain such things in the big gatherings. Mama is the Goddess of Knowledge. Brahma is never called the God of Knowledge. Saraswati’s name is remembered. Whatever someone’s name is, that name is kept. The name of the mothers has to be glorified. Some brothers have a lot of body consciousness. They think: Are we Brahma Kumars not gods of knowledge? Oh! but Brahma himself does not call himself the G od of K nowledge. The mothers have to be given a lot of regard. It is these mothers who will change your lives. They are the ones who change human beings into deities. There are mothers and also kumaris. No one understands the secret of “half-kumari”. Although they are married, they are Brahma Kumaris. These things are so wonderful! Those who are to claim the inheritance from the Father do understand this, but what would those who don’t have it in their fortune understand? Status is definitely numberwise. There, some will be maids and servants whereas others will be subjects; subjects too are needed. The human world will continue to expand and so subjects will also continue to increase. Those who consider themselves to be the main ones should remain ready for when such conferences take place. Those who don’t have knowledge are like young ones; they don’t have that much of an intellect (wisdom). Although they may be older physically, they don’t have that much of an intellect; they are still young. The intellects of some are very good. Everything depends on the intellect. Even young ones go ahead. Some have a lot of sweetness in their way of explaining. They speak in a very royal manner. It would be understood that that one is a refined child. One is still revealed through one’s behaviour. The behaviour of you children should be very royal. You shouldn’t perform any “unroyal  task. Those who defame the name cannot claim a high status. When some of you defame Shiv Baba’s name, the Father also has the right to tell you. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Night class:

You children now understand that you are embodied souls who are sitting personally in front of the Supreme Father, the Supreme Soul. This is called an auspicious meeting. It is remembered: “God Vishnu is the one who brings auspicious omens.” There are now the auspicious omens of the meeting. God gives you the inheritance of the Vishnu clan. This is why He is called God Vishnu, the one who brings auspicious omens. The meeting, when the Father meets you living human beings, is very beautiful. You also understand that you have now become the children of God in order to claim the inheritance from God. You children know that, after receiving the inheritance from God, you receive the inheritance of deities, that is, you take rebirth in heaven. Therefore, the mercury of happiness of you children should remain high. There is no one as happy or as fortunate as you children. There cannot be anyone in the world as fortunate as the Brahmin clan. The Vishnu clan is the second number. That is the lap of the deities. You now have God’s lap which is higher. The Dilwala Temple is the temple of God’s lap. Similarly, there is also the Amba Temple. That temple doesn’t give as much of a vision of the confluence age. The Dilwala Temple gives a vision of the confluence age. Other human beings cannot have as much understanding as you children have. Even the deities don’t have the understanding that you Brahmins have. You are the confluence-aged Brahmins. Those people sing praise of the Brahmins of the confluence age. It is said: Brahmins then become deities. Salutations to such Brahmins! It is only Brahmins who do the service of changing hell into heaven. Baba says namaste to such children (Brahmins). Achcha. Good night.

Essence for dharna:

  1. In order to be loved by God, become gyani and yogi. Don’t be body conscious.
  2. Have the enthusiasm and courage to speak knowledge. Show (reveal) the Father through your behaviour. Speak with great sweetness.
Blessing: May you be an intense effort-maker who uses the powers of the mind and speech accurately and powerfully.
Intense effort-makers, that is, the children who are going to go into the first division use the power of thought and the power of speech accurately and powerfully. They are not loose in this. They always remember the slogan: Speak less, speak gently speak sweetly. Their every word is yogyukt and yuktiyukt. They only speak words which are necessary and do not waste their energy in speaking wasteful words or words of expansion. They always stay in solitude.
Slogan: A complete destroyer of attachment is one who even renounces any right to the consciousness of “mine”.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 15 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 December 2018

To Read Murli 14 December 2018 :- Click Here
15-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – अपनी रॉयल चलन से सेवा करनी है, श्रीमत पर बुद्धि को रिफाइन बनाना है, माताओं का रिगॉर्ड रखना है”
प्रश्नः- कौन-सा कर्तव्य एक बाप का है, किसी मनुष्य का नहीं?
उत्तर:- सारे विश्व में पीस स्थापन करना, यह कर्तव्य बाप का है। मनुष्य भल कितनी भी कान्फ्रेन्स आदि करते रहें पीस हो नहीं सकती। शान्ति का सागर बाप जब बच्चों से पवित्रता की प्रतिज्ञा कराते हैं तब पीस स्थापन होती है। पवित्र दुनिया में ही शान्ति है। तुम बच्चे यह बात सबको बड़ी युक्ति से और भभके से समझाओ तब बाप का नाम बाला हो।
गीत:- मैं एक नन्हा सा बच्चा हूँ…….. 

ओम् शान्ति। यह गीत तो भक्ति मार्ग का गाया हुआ है क्योंकि एक तरफ भक्ति का प्रभाव है दूसरे तरफ अब ज्ञान का प्रभाव है। भक्ति और ज्ञान में रात-दिन का फ़र्क है। कौन-सा फ़र्क है? यह तो बहुत सहज है। भक्ति है रात और ज्ञान है दिन। भक्ति में है दु:ख, जब भक्त दु:खी होते हैं तो भगवान् को पुकारते हैं। फिर भगवान् को आना पड़ता है दु:खियों का दु:ख दूर करने। फिर बाप से पूछा जाता है – ड्रामा में क्या कोई भूल है? बाप कहते हैं – हाँ, बड़ी भूल है, जो तुम मुझे भूल जाते हो। कौन भुलाते हैं? माया रावण। बाप बैठ समझाते हैं – बच्चे, यह खेल बना हुआ है। स्वर्ग और नर्क होता तो भारत में ही है। भारत में ही कोई मरता है तो कहते हैं बैकुण्ठवासी हुआ। यह तो जानते नहीं कि स्वर्ग अथवा बैकुण्ठ कब होता है? जब स्वर्ग होता है तो मनुष्य पुनर्जन्म जरूर स्वर्ग में ही लेंगे। अभी तो है ही नर्क तो पुनर्जन्म भी जरूर नर्क में ही लेंगे, जब तक स्वर्ग की स्थापना हो। मनुष्य यह बातें नहीं जानते हैं। एक है ईश्वरीय अथवा राम सम्प्रदाय, दूसरा है रावण सम्प्रदाय। सतयुग-त्रेता में है राम सम्प्रदाय, उनको कोई दु:ख नहीं है। अशोक वाटिका में रहते हैं। फिर आधाकल्प बाद रावण राज्य शुरू होता है। अब बाप फिर से आदि सनातन देवी-देवता धर्म स्थापन करते हैं। वह है सबसे सर्वोत्तम धर्म। धर्म तो सब हैं ना। धर्मों की कान्फ्रेन्स होती है। भारत में अनेक धर्म वाले आते हैं, कान्फ्रेन्स करते हैं। अब जो भारतवासी धर्म को मानने वाले ही नहीं, वह कान्फ्रेन्स क्या करेंगे? वास्तव में भारत का प्राचीन धर्म तो है ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म। हिन्दू धर्म तो है नहीं। सबसे ऊंच है देवी-देवता धर्म। अब कायदा कहता है सबसे ऊंच ते ऊंच धर्म वाले को गद्दी पर बिठाना चाहिए। सबसे आगे किसको बिठायें? इस पर भी कभी उन्हों का झगड़ा लग पड़ता है। जैसे एक बार कुम्भ के मेले में झगड़ा हो गया था। वह कहे पहले हमारी सवारी चले, वह कहे पहले हमारी। लड़ पड़े थे। तो अब इस कान्फ्रेन्स में बच्चों को यह समझाना है कि ऊंच ते ऊंच कौन-सा धर्म है? वह तो जानते नहीं। बाप कहते हैं आदि सनातन है ही देवी-देवता धर्म। जो अब प्राय: लोप हो गया है और अपने को हिन्दू कहलाने लग पड़े हैं। अब चीन में रहने वाले अपना धर्म चीन तो नहीं कहेंगे, वो लोग तो जिसको नामीग्रामी देखते हैं उनको मुख्य करके बिठा देते हैं। कायदे अनुसार कान्फ्रेन्स में बहुत तो आ नहीं सकते। सिर्फ रिलीजन के हेड्स को ही निमंत्रण दिया जाता है। बहुतों से फिर बहुत बोलचाल हो जाता है। अब उन्हों को राय देने वाला तो कोई है नहीं। तुम हो ऊंच ते ऊंच देवी-देवता धर्म वाले। अब देवता धर्म की स्थापना कर रहे हो। तुम ही बता सकते हो भारत का जो मुख्य धर्म है, जो सब धर्मों का माई-बाप है उनके हेड को इस कान्फ्रेन्स में मुख्य बनाना चाहिए। गद्दी नशीन उनको करना चाहिए। बाकी तो सब हैं उनके नीचे। तो मुख्य बच्चे जो हैं उनकी बुद्धि चलनी चाहिए।

भगवान् अर्जुन को बैठ समझाते हैं। संजय यह है। अर्जुन तो है रथी। उनमें रथवान है बाप, वह समझते हैं रूप बदलकर कृष्ण के तन में आकर ज्ञान दिया है। परन्तु ऐसे तो है नहीं। अब प्रजापिता भी है, त्रिमूर्ति के ऊपर बहुत अच्छी रीति समझाया जा सकता है। त्रिमूर्ति के ऊपर शिवबाबा का चित्र जरूर चाहिए। वह है सूक्ष्मवतन की रचना। बच्चे समझते हैं यह विष्णु है पालनकर्ता। प्रजापिता ब्रह्मा है स्थापन कर्ता। तो उनका भी चित्र चाहिए। यह बड़ी समझ की बात है। बुद्धि में रहता है प्रजापिता ब्रह्मा जरूर है। विष्णु भी तो चाहिए। जिससे स्थापना करायेंगे उससे ही पालना भी करायेंगे। स्थापना कराते हैं ब्रह्मा से। ब्रह्मा के साथ सरस्वती आदि बहुत बच्चे हैं। वास्तव में यह भी पतित से पावन बन रहे हैं। तो कान्फ्रेन्स में आदि सनातन देवी-देवता धर्म की हेड जगदम्बा होनी चाहिए क्योंकि माताओं का बहुत मान है। जगत अम्बा का मेला बड़ा भारी लगता है। वह है जगत पिता की बेटी। अब आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना हो रही है। गीता एपीसोड रिपीट हो रहा है। यह वही महाभारत की लड़ाई सामने खड़ी है। बाप भी कहते हैं मैं कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुग पर आता हूँ, भ्रष्टाचारी दुनिया को श्रेष्ठाचारी बनाने। जगत अम्बा गॉडेज ऑफ नॉलेज गाई हुई है। उनके साथ ज्ञान गंगायें भी हैं। उनसे पूछ सकते हैं कि उनको यह नॉलेज कहाँ से मिली हुई है! नॉलेजफुल गॉड फादर तो एक ही है, वह नॉलेज कैसे दे? जरूर उनको शरीर लेना पड़े। तो ब्रह्मा मुख कमल से सुनाते हैं। ये मातायें बैठ समझायेंगी। कान्फ्रेन्स में उन्हों को यह मालूम होना चाहिए ना कि बड़ा धर्म कौन-सा है? यह तो कोई समझते ही नहीं कि हम आदि सनातन देवी-देवता धर्म के हैं। बाप कहते हैं यह धर्म जब प्राय: लोप हो जाता है तो मैं आकर फिर स्थापन करता हूँ। अभी देवता धर्म है नहीं। बाकी 3 धर्मों की वृद्धि होती जा रही है। तो जरूर देवी-देवता धर्म फिर से स्थापन करना पड़े। फिर यह सब धर्म रहेंगे ही नहीं। बाप आते ही हैं आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना करने। तुम बच्चियां ही बता सकती हो कि पीस कैसे स्थापन हो सकती है? शान्ति का सागर तो है ही परमपिता परमात्मा। तो पीस जरूर वही स्थापन करेंगे। ज्ञान का सागर, सुख का सागर वही है। गाते भी हैं पतित-पावन आओ, आकर के भारत को पावन रामराज्य बनाओ। पीसफुल तो वही बनायेंगे। यह बाप का ही कर्तव्य है। तुम उनकी मत पर चलने से श्रेष्ठ पद पाते हो। बाप कहते हैं जो मेरे बनेंगे, राजयोग सीखेंगे और पवित्रता की प्रतिज्ञा करेंगे कि बाबा हम पवित्र बन 21 जन्मों का वर्सा लेंगे वही मालिक बनेंगे, पतित से पावन बनेंगे। पावन हैं लक्ष्मी-नारायण सबसे ऊंच। फिर अभी पावन दुनिया की स्थापना हो रही है। तुम पीस के लिए कान्फ्रेन्स कर रहे हो परन्तु मनुष्य थोड़ेही पीस करेंगे। यह तो शान्ति के सागर बाप का काम है। कान्फ्रेन्स में बड़े आदमी आते हैं, बहुत मेम्बर्स बनते हैं तो उन्हों को राय भी देनी पड़े। फादर शोज़ सन। शिवबाबा के पोत्रे ब्रह्मा के बच्चे हैं गॉडेज ऑफ नॉलेज। उनको गॉड ने नॉलेज दी है। मनुष्य तो शास्त्रों की नॉलेज पढ़ते हैं। ऐसे भभके से समझाओ तो बड़ा मजा हो। युक्ति जरूर रचनी पड़ती है। एक तरफ उन्हों की कान्फ्रेन्स हो और दूसरे तरफ फिर तुम्हारी भी भभके से कान्फ्रेन्स हो। चित्र भी क्लीयर हैं, जिनसे झट समझ जायेंगे। उनका आक्यूपेशन अलग है, उनका अलग है। ऐसे थोड़ेही सब एक ही एक हैं। नहीं। सभी धर्मों का पार्ट अलग-अलग है। शान्ति के लिए मिल करके कार्य करते हैं, कहते हैं रिलीजन इज़ माइट। परन्तु सबसे ताकत वाला कौन? वही आकरके पहला नम्बर देवी-देवता धर्म की स्थापना करते हैं। यह तुम बच्चे ही जानते हो। दिन-प्रतिदिन तुम बच्चों को प्वाइन्ट्स मिलती रहती हैं। समझाने की पॉवर भी है। योगी की पॉवर अच्छी होगी। बाबा कहते ज्ञानी तू आत्मा ही मुझे प्रिय हैं। ऐसे नहीं कि योगी प्रिय नहीं हैं। जो ज्ञानी होंगे वह योगी भी जरूर होंगे। योग परमपिता परमात्मा के साथ रखते हैं। योग बिगर धारणा नहीं होगी। जिनका योग नहीं है तो धारणा भी नहीं है क्योंकि देह-अभिमान बहुत है। बाप तो समझाते हैं – आसुरी बुद्धि को दैवी बुद्धि बनाना है। पत्थरबुद्धि को पारस बुद्धि बनाने वाला बाप ईश्वर है। रावण आकरके पत्थरबुद्धि बनाते हैं। उन्हों का नाम ही है आसुरी सम्प्रदाय। देवताओं के आगे कहते हैं हमारे में कोई गुण नाही, हम कामी कपटी हैं। तुम मातायें अच्छी रीति समझा सकती हो। मुरली चलाने का इतना हौंसला चाहिए। बड़ी-बड़ी सभाओं में ऐसी-ऐसी बातें करनी पड़े। मम्मा है गॉडेज ऑफ नॉलेज। ब्रह्मा को कभी गॉड ऑफ नॉलेज नहीं कहा जाता है। सरस्वती का नाम गाया हुआ है। जिसका जो नाम है वही रखते हैं। माताओं का नाम बाला करना है। कई गोपों को बहुत देह-अभिमान है। समझते हैं हम ब्रह्माकुमार गॉड आफ नॉलेज नहीं हैं क्या! अरे, खुद ब्रह्मा ही अपने को गॉड आफ नॉलेज नहीं कहते। माताओं का बहुत रिगॉर्ड रखना पड़े। यह मातायें ही जीवन पलटाने वाली हैं। मनुष्य से देवता बनाने वाली हैं। मातायें भी हैं, कन्यायें भी हैं। अधर कुमारी का राज़ तो कोई समझते नहीं हैं। भल शादी की हुई है तो भी ब्रह्माकुमारियां हैं। यह बड़ी वन्डरफुल बातें हैं। जिन्हों को बाप से वर्सा लेना है वह समझते हैं। बाकी जिनकी तकदीर में नहीं है वह क्या समझेंगे, नम्बरवार दर्जे जरूर हैं। वहाँ भी कोई दास-दासियां होंगे, कोई प्रजा होंगे। प्रजा भी चाहिए। मनुष्य सृष्टि वृद्धि को पाती रहेगी तो प्रजा भी वृद्धि को पाती रहेगी। तो ऐसी-ऐसी कान्फ्रेन्स जो होती हैं उसके लिए जो अपने को मुख्य समझते हैं उनको तैयार रहना चाहिए। जिनमें ज्ञान नहीं है वह जैसे छोटे ठहरे। इतनी बुद्धि नहीं। देखने में भल बड़े हैं परन्तु बुद्धि नहीं है, वह छोटे हैं। कोई-कोई की बुद्धि बड़ी अच्छी है। सारा मदार बुद्धि पर है। छोटे-छोटे भी तीखे चले जाते हैं। कोई की समझानी में बड़ा मिठास होता है। बातचीत बड़ी रायॅल करते हैं। समझेंगे यह रिफाइन बच्चे हैं। चलन से भी शो होता है ना। बच्चों की चलन बहुत रायॅल होनी चाहिए। कोई अनरॉयल काम नहीं करना चाहिए। नाम बदनाम करने वाले ऊंच पद पा नहीं सकते। शिवबाबा का नाम बदनाम करते हैं तो बाप का भी हक है समझाने का। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास –

अब तुम बच्चे समझते हो कि हम जीव आत्मायें परमपिता परमात्मा के सम्मुख बैठे हैं। इसको ही मंगल मिलन कहा जाता है। गाया जाता है ना – ‘मंगलम् भगवान् विष्णु’। अभी मंगल है ना, मिलन का। भगवान् वर्सा देते हैं विष्णु कुल का, इसलिए उनको ‘मंगलम् भगवान् विष्णु’ कहा जाता है। जब बाप मिलते हैं जीव आत्माओं से, वह मिलन बड़ा सुन्दर है। तुम भी समझते हो अभी हम ईश्वरीय बच्चे बने हैं, ईश्वर से अपना वर्सा लेने लिए। बच्चे जानते हैं ईश्वर के वर्से बाद दैवी वर्सा मिलता है अर्थात् स्वर्ग में पुनर्जन्म मिलता है। तो तुम बच्चों को खुशी का पारा चढ़ा रहना चाहिए। तुम जैसा खुशनसीब वा सौभाग्यशाली तो कोई नहीं। दुनिया में सिवाए ब्राह्मण कुल के और कोई भी भाग्यशाली हो नहीं सकता। विष्णु कुल सेकेण्ड नम्बर में हो गया। वह दैवी गोद हो जाती। अभी ईश्वरीय गोद है। यह तो ऊंच ठहरे ना। देलवाड़ा मन्दिर ईश्वरीय गोद का मन्दिर है। जैसे अम्बा के भी मन्दिर हैं, वह इतना संगमयुग का साक्षात्कार नहीं कराते हैं, यह देलवाड़ा मन्दिर संगमयुग का साक्षात्कार कराता है। बच्चों को जितनी समझ है उतना और कोई मनुष्य मात्र को हो न सके। जितना तुम ब्राह्मणों को समझ है, उतनी देवताओं को भी नहीं। तुम संगमयुगी ब्राह्मण हो। वह संगमयुगी ब्राह्मणों की महिमा करते हैं। कहते हैं ब्राह्मण सो देवता बनते हैं। ऐसे ब्राह्मणों को नम:। ब्राह्मण ही नर्क को स्वर्ग बनाने की सर्विस करते हैं, ऐसे बच्चों (ब्राह्मणों) को नमस्ते करते हैं। अच्छा! गुडनाइट।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप का प्रिय बनने के लिए ज्ञानी और योगी बनना है। देह-अभिमान में नहीं आना है।

2) मुरली चलाने का हौंसला रखना है। अपनी चलन से बाप का शो करना है। बातचीत बड़े मिठास से करनी है।

वरदान:- मन्सा और वाचा की शक्ति को यथार्थ और समर्थ रूप से कार्य में लगाने वाले तीव्र पुरुषार्थी भव
स्लोगन:- तीव्र पुरुषार्थी अर्थात् फर्स्ट डिवीजन में आने वाले बच्चे संकल्प शक्ति और वाणी की शक्ति को यथार्थ और समर्थ रीति से कार्य में लगाते हैं। वे इसमें लूज़ नहीं होते। उन्हें यह स्लोगन सदा याद रहता कि कम बोलो, धीरे बोलो और मधुर बोलो। उनका हर बोल योगयुक्त, युक्तियुक्त होता। वे आवश्यक बोल ही बोलते, व्यर्थ बोल, विस्तार के बोल बोलकर अपनी एनर्जी समाप्त नहीं करते। वे सदा एकान्तप्रिय रहते हैं।

स्लोगन:- सम्पूर्ण नष्टोमोहा वह है जो मेरे पन के अधिकार का भी त्याग कर दे।

TODAY MURLI 15 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 15 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 14 December 2017 :- Click Here

15/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to celebrate the festival of Shiv Jayanti with a lot of pomp and splendour. This is a day of great happiness for you. Give everyone the Father’s introduction.
Question: Which children harm themselves very much? When do they incur a loss?
Answer: The children who stop studying while moving along cause themselves great harm. Every day, Baba gives so many diamonds and jewels and tells you so many deep points. If you don’t study regularly , you incur a loss. You would fail, lose your elevated sovereignty of heaven and destroy your status.
Song: O traveller of the night, do not become weary! The destination of dawn is not far off.

Om shanti. This night and day is for human beings. There isn’t night and day for Shiv Baba. It is for you children; it is for human beings. The night of Brahma and the day of Brahma are remembered. The saying is not, ‘The night of Shiva and the day of Shiva’. It would not be said about just Brahma alone; it isn’t the night of just one; it is remembered as the night of Brahmins. You know that it is now the end of the path of devotion. Together with that, it is also the end of extreme darkness. The Father says: I come when it is the night of Brahma. You have now begun to start moving towards the dawn. When you come and become the children of Brahma you are called Brahmins. After the night of Brahmins comes to an end, the day of the deities begins. Brahmins then become deities. A very big change takes place through this yagya. The old world changes and becomes new. The iron age is the old age and the golden age is the new age. Then the silver age is 25% old and the copper age is 50% old. The name of the age also changes. Everyone would call the iron age the old world. The Father is called Ishwar (God). He establishes the Godly kingdom. The Father says: I come at the confluence age of every cycle. It takes time. In fact, it is a matter of a second but it does take time for your sins to be absolved because there are the sins of half the cycle on your heads. The Father creates heaven and so you children will become the masters of heaven. However, it takes time to remove the burden of sin from your heads. You have to have yoga. You definitely have to consider yourselves to be souls. Previously, when you said “Baba”, you remembered your physical fathers. Now, when you say “Baba”, your intellects go upwards. It wouldn’t be in the intellect of anyone else in the world that we souls are the children of the spiritual Father. All three, our Father, Teacher and Guru, are spiritual. We have to remember Him. That is an old body and so why should you decorate it? However, internally, you understand that you are now in the stage of simplicity. You are about to go to your in-laws’ home in the new world. Nothing will remain at the end. We will then become the masters of the world. At this time it is as though the whole world is in exile. What does it have to offer? Nothing at all! When it was your in-laws’ home, there were palaces studded with diamonds and jewels; there were a lot of riches. You now have to go from your parents’ home to your in-laws’ home. Whom have you now come to? You would say that you have come to BapDada. The Father has entered Dada. Dada is a resident of this place. So Bap and Dada are combined. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Purifier. When He related knowledge, if His soul had been in Krishna, then Krishna would be called “BapDada”. However, it doesn’t seem right to call Krishna “BapDada”. Only Brahma is remembered as the Father of Humanity (Prajapita). The Father has explained that this is a cycle of 5000 years. When you children hold an exhibition, you should also write this: We showed you this exhibition 5000 years ago and also explained to you how you can claim your inheritance of heaven from the unlimited Father. We are once again celebrating Trimurti Shiva Jayanti exactly as we did 5000 years ago. You definitely have to write these words. Baba is giving these directions and you have to follow them. You have to make preparations for Shiva Jayanti. When people see new things they will be amazed. You should have a lot of splendour. We are celebrating Trimurti Shiva Jayanti. We are going to take a holiday for this. The holiday for Shiva Jayanti is official. Some have a holiday and others don’t. This is a very big day for you, just as Christians celebrate Christmas. They celebrate with a lot of happiness. You should now celebrate with happiness. Tell everyone that we are claiming our inheritance from the unlimited Father. Those who know this will celebrate in happiness. They will meet among themselves at the centres. Not everyone can come here. We are celebrating the birthday. There cannot be death for Shiv Baba. Just as Shiv Baba has come, so He will go away. The knowledge is to be completed, the war will begin; that’s all! That One doesn’t have a body of His own. You children have to consider yourselves to be souls and become completely soul conscious. This requires effort. You are soul conscious in the golden age. There will be no untimely death there. Here, death comes while you are just sitting somewhere; you have heart failure. They would then say that that is God’s will. However, that is not God’s will. You would say that it is the destiny of the drama , that, such was his part in the drama. It is now the iron age and the new world will be the golden age. The palaces of the golden age will be decorated with so many diamonds. There will be plenty of wealth there. However, there cannot be a full description of it. When there are earthquakes etc. everything breaks up and goes down below. So you have to use your intellects and think about all of these things. This is food for the intellect. Your intellects have now gone up above. By knowing the Creator you also know the creation. You have the secrets of the whole world in your intellects. God is the Highest on High in the drama. Then there are Brahma, Vishnu and Shankar. We can tell you the occupation of all these three and what their parts are. Such a big mela takes place for Jagadamba. What is the relationship between Jagadamba and Jagadpita? No one knows this because it is an incognito thing. This one sitting here is the mother; that one was adopted. This is why the pictures are made of that one. That one is called Jagadamba. She is Saraswati, the daughter of Brahma. Although she is given the title “Mother”, she is a daughter. She used to sign her name Brahma Kumari Saraswati. You used to call her Mama. It doesn’t seem right to call Brahma ‘Mother’. A very refined intellect is needed to understand and explain all of these things. These are deep matters. Whoever’s temple you go to, you would instantly know their occupation. When you go to the temple of Guru Nanak you would instantly be able to tell them when he will come again. Those people don’t know anything because they have elongated the duration of the cycle. You can speak about this. The Father says: Look how I am teaching you! Look how I come! This doesn’t refer to Krishna. People continue to study the Gita. Some remember the 18 chapters and they are praised so much. If one of them relates even one slokha (verse), people sing his praise and say that there is no other soul as great as him. Nowadays, there is also a lot of occult power; they perform a lot of black magic. There is a lot of cheating in the world. The Father gives you such easy teachings, but it all depends on those who study them. The Teacher teaches the same to everyone, but if some don’t study, they fail. This definitely has to happen. A whole kingdom is to be established. You bathe in knowledge, take a dip in knowledge and then become angels of the land of angels, that is, you become the masters of heaven. There is the difference of day and night. There, because the elements are satopradhan, the bodies are created accurately (perfectly). There is natural beauty there. That is the land established by God. Now, it is the devilish land. There is a lot of difference between heaven and hell. The secrets of the beginning, the middle and the end of the drama are now in your intellects, numberwise, according to your efforts. The Father says: Make very good effort. The daughters tour around to the new places. If there are good mothers etc. there, then service has to be established there. If some don’t go to a centre, they are causing themselves a loss. If some don’t go to study, you should write to them: You are not studying and because of this, there will be great loss for you. Day by day, many deep points emerge. These are diamonds and jewels. If you don’t study you would fail. You would lose the sovereignty of such an elevated heaven. You should hear the murli every day. If you leave such a Father, remember that you will fail and then cry a great deal. There will be tears of blood. You must never stop studying. Baba looks at the register and sees how many come regularly. Those who don’t come should be cautioned. Shrimat says: If you don’t study, your status will be destroyed. There will be a loss. Write to them in this way, because only then will you be able to uplift your school (centre) very well. Let it not be that if some don’t come, you just forget about them. A teacher would be concerned that if many of his students don’t pass , he would lose his honour. Baba writes that there isn’t very much servicehappening at your centre. Perhaps you just continue to sleep all the time. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t decorate that old body. Live simply and make preparations to go to your new home.
  2. Bathe in knowledge every day. Never miss the study.
Blessing: May you be a conqueror of Maya and a conqueror of the world and gain victory over Maya’s power with the power of knowledge and the power of yoga.
In the world, there is the power of science, the power of government and the power of devotion, whereas you have the power of knowledge and the power of yoga. These are the greatest powers of all. The power of yoga enables you to gain constant victory over Maya. In front of this power, the power of Maya is nothing. Souls who are conquerors of Maya cannot be defeated even in their dreams. Their dreams too are powerful. Let there always be this awareness: We souls who have the power of yoga are constantly victorious and will always remain victorious.
Slogan: To remain free from any bondage of karma while performing actions is to be an angel.

*** Om Shanti ***

S weet, elevated versions of Mateshwari

Song: Show the path to those who have no sight, dear God! Since people sing the song, “show the path to the blind”, it means that it is only God who can show the path. This is why people call out to God, and when they say, “Show us the path, Prabhu”, it is surely God Himself who has to come into a corporeal form from His incorporeal form to show us the path. Only then can He show us the path in a physical way. He cannot show us the path without coming here. Those people who are confused have to be shown the path and this is why they say to God, “Show the path to those who are blind.” He is then also called the Boatman, that is, He will take us across the world that is made of the five elements to the other side, beyond the five elements, to the sixth element of great light. So, it is only when God comes from that side to this side that He can take us there. So, God has to come from His land; this is why He is called the Boatman. He takes us boats (souls) across. He will take across those who have yoga with Him, whereas those who are left will experience punishment from Dharamraj and then be liberated.

2) Let us go from the world of thorns to the shade of flowers. This can only be sung to God. When people are extremely unhappy, they remember God. “God, take us away from this world of thorns to the shade of flowers.” This proves that there is definitely another world. All human beings know that the present world is filled with thorns because of which people experience sorrow and peacelessness. Therefore, they remember the world of flowers. So, there definitely must be that world too, of which there are the sanskars in souls. We know that sorrow and peacelessness are the karmic accounts of the bondage of karma. All human beings, from kings to beggars, are completely trapped in these accounts, and this is why God Himself says: The present world is the iron age. It has been created due to the bondage of karma from the world before that which was the golden age and called the world of flowers. That world is free from any bondage of karma; it is the kingdom of deities who are liberated in life but they do not exist now. When we say, “Liberated in life”, it does not mean that we were free from the body. They did not have any awareness of the body, but even while in their bodies, they had no sorrow, that is, there was no business of any bondage of karma there. They would take birth, then depart and would experience happiness from the beginning through the middle to the end. So, “liberated in life” means to be karmateet while alive. This whole world is trapped in the five vices. It means that the five vices fully reside here, but people do not have that sufficient strength to be able to conquer these five evil spirits. So, this is when God Himself comes and liberates us from the five evil spirits and enables us to attain the future reward of the deity status. Achcha.

 

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 15 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 December 2017

To Read Murli 14 December 2017 :- Click Here
15/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हें शिव जयन्ति का त्योहार बड़ी धूमधाम से मनाना है। यह तुम्हारे लिए बहुत बड़ा खुशी का दिन है, सबको बाप का परिचय देना है”
प्रश्नः- कौन से बच्चे अपना बहुत बड़ा नुकसान करते हैं? घाटा कब पड़ता है?
उत्तर:- जो बच्चे चलते-चलते पढ़ाई छोड़ देते हैं, वे अपना बहुत बड़ा नुकसान करते हैं। बाबा रोज़ इतने हीरे रत्न देते हैं, गुह्य पाइंटस सुनाते हैं, अगर कोई रेगुलर नहीं सुनते हैं तो घाटा पड़ जाता है। नापास हो जाते हैं, स्वर्ग की ऊंची बादशाही गंवा देते हैं। पद भ्रष्ट हो जाता है।
गीत:- रात के राही थक मत जाना……

ओम् शान्ति। यह रात और दिन मनुष्यों के लिए हैं। शिवबाबा के लिए रात और दिन नहीं है। यह तुम बच्चों के लिए है, मनुष्यों के लिए है। ब्रह्मा की रात ब्रह्मा का दिन गाया जाता है। शिव का दिन, शिव की रात ऐसे कभी नहीं कहा जाता है। सिर्फ एक ब्रह्मा भी नहीं कहा जायेगा। एक की रात नहीं होती है। गाया जाता है ब्राह्मणों की रात। तुम जानते हो अभी है भक्ति मार्ग का अन्त, साथ-साथ घोर अन्धियारे का भी अन्त है। बाप कहते हैं – मैं आता ही तब हूँ जबकि ब्रह्मा की रात होती है। तुम अभी सवेरे के लिए चलने लग पड़े हो। जब तुम ब्रह्मा की सन्तान आकर बनते हो तब तुमको ब्राह्मण कहा जाता है। ब्राह्मणों की रात पूरी हो फिर देवताओं का दिन शुरू होता है। ब्राह्मण जाकर देवता बनेंगे। इस यज्ञ से बहुत बड़ी बदली होती है। पुरानी दुनिया बदलकर नई होती है। कलियुग है पुराना युग, सतयुग है नया युग। फिर त्रेता 25 प्रतिशत पुराना, द्वापर 50 प्रतिशत पुराना। युग का नाम ही बदल जाता है। कलियुग को सब पुरानी दुनिया कहेंगे। ईश्वर कहा जाता है बाप को, जो ईश्वरीय राज्य स्थापन करते हैं। बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प संगमयुग में आता हूँ। टाइम तो लगता है ना। यूँ तो है एक सेकण्ड की बात, परन्तु विकर्म विनाश होने में समय लगता है क्योंकि आधाकल्प के पाप सिर पर हैं। बाप स्वर्ग रचता है तो तुम बच्चे भी स्वर्ग के मालिक तो बनेंगे। परन्तु सिर पर जो पापों का बोझा है उनको उतारने में टाइम लगता है। योग लगाना पड़ता है। अपने को आत्मा जरूर समझना है। आगे जब बाबा कहते थे तो जिस्मानी बाप याद आता था। अभी बाबा कहने से बुद्धि ऊपर चली जाती है। दुनिया में और किसकी बुद्धि में यह नहीं होगा कि हम आत्मा रूहानी बाप की सन्तान हैं। हमारा बाप टीचर गुरू तीनों ही रूहानी हैं। याद भी उनको करते हैं। यह है पुराना शरीर, इनको क्या श्रृंगार करना है। परन्तु अन्दर में समझते हैं अभी हम वनवाह में हैं। ससुरघर नई दुनिया में जाने वाले हैं। पिछाड़ी में कुछ भी नहीं रहता है। फिर हम जाकर विश्व के मालिक बनते हैं। इस समय सारी दुनिया जैसे वनवाह में है, इसमें रखा ही क्या है, कुछ भी नहीं। जब ससुरघर था तो हीरे-जवाहरों के महल थे। माल-ठाल थे। अभी फिर पियरघर से ससुरघर जाना है। अभी तुम किसके पास आये हो? कहेंगे बापदादा के पास। बाप ने दादा में प्रवेश किया है, दादा तो है ही यहाँ का रहवासी। तो बापदादा दोनों कम्बाइण्ड हैं। परमपिता परमात्मा पतित-पावन है। उनकी आत्मा अगर कृष्ण में होती, वह ज्ञान सुनाती तो कृष्ण को भी बापदादा कहा जाता। परन्तु कृष्ण को बापदादा कहना शोभता ही नहीं। ब्रह्मा ही प्रजापिता गाया हुआ है। बाप ने समझाया है यह 5 हजार वर्ष का चक्र है। तुम बच्चे प्रदर्शनी जब दिखाते हो तो उनमें यह भी लिखो कि आज से 5 हजार वर्ष पहले भी हमने यह प्रदर्शनी दिखाई थी और समझाया था कि बेहद बाप से स्वर्ग का वर्सा कैसे लिया जाता है। आज से 5 हजार वर्ष पहले मुआफिक फिर से हम त्रिमूर्ति शिव जयन्ति मनाते हैं। यह अक्षर जरूर डालना पड़े। यह बाबा डायरेक्शन दे रहे हैं, उस पर चलना है। शिव जयन्ति की तैयारी करनी है। नई-नई बात देख मनुष्य वन्डर खायेंगे। अच्छा भभका करना चाहिए। हम त्रिमूर्ति शिव की जयन्ति मनाते हैं। छुट्टी करते हैं। शिव जयन्ति की छुट्टी आफीशियल है। कोई करते हैं, कोई नहीं करते हैं। तुम्हारा यह बहुत बड़ा दिन है। जैसे क्रिश्चियन लोग क्रिसमस मनाते हैं। बहुत खुशी मनाते हैं। अब तुमको यह खुशी मनानी चाहिए। सबको बताना है कि हम बेहद के बाप से वर्सा ले रहे हैं। जो जानते हैं वही खुशी मनायेंगे। सेन्टर्स में आपस में मिलेंगे। यहाँ तो सब आ न सकें। हम मनाते हैं जन्मदिन। शिवबाबा का मृत्यु तो हो न सके। जैसे शिवबाबा आया है वैसे चले जायेंगे। ज्ञान पूरा हो गया। लड़ाई शुरू हो गई। बस। इनको अपना शरीर तो है नहीं। तुम बच्चों को अपने को आत्मा समझ पूरा देही-अभिमानी बनना है, इसमें मेहनत लगती है। सतयुग में तो आत्म-अभिमानी हैं। वहाँ अकाले मृत्यु नहीं होगा। यहाँ बैठे-बैठे काल आ जाता है, हार्टफेल हो जाता है। कहेंगे ईश्वर की भावी। परन्तु ईश्वर की भावी नहीं है। तुम कहेंगे ड्रामा की भावी। ड्रामा में इनका पार्ट ऐसा था। अभी तो है ही आइरन एज़, नई दुनिया गोल्डन एज़ थी। सतयुग के महल कितने हीरों से सजाये हुए होंगे। अकीचार धन होगा। परन्तु उनका पूरा वृतान्त नहीं है। कुछ अर्थक्वेक आदि होती है तो टूट-फूट पड़ती, नीचे चली जाती है तो इन बातों का बुद्धि से काम लेना है। यह खाना बुद्धि के लिए है। तुम्हारी बुद्धि ऊपर चली गई है। रचता को जानने से रचना को भी जानते हैं। सारे सृष्टि का राज़ बुद्धि में है। ड्रामा में ऊंचे ते ऊंचा है भगवान। फिर ब्रह्मा-विष्णु-शंकर हम इन तीनों का आक्यूपेशन बता सकते हैं। क्या-क्या पार्ट है? जगत-अम्बा का कितना बड़ा मेला लगता है। जगत-अम्बा, जगत-पिता का आपस में क्या सम्बन्ध है? यह कोई नहीं जानते क्योंकि यह गुप्त बात है। माँ तो यह बैठी है, वह थी एडाप्ट की हुई इसलिए चित्र उनके बने हैं। उनको जगत-अम्बा कहा जाता है। ब्रह्मा की बेटी सरस्वती। भल माँ का टाइटिल दिया है परन्तु थी तो बेटी। सही करती थी ब्रह्माकुमारी सरस्वती। तुम उनको मम्मा कहते थे। ब्रह्मा को माँ कहना शोभता नहीं। यह समझने और समझाने में बड़ी रिफाईन बुद्धि चाहिए। यह गुह्य बातें हैं। तुम किसके भी मन्दिर में जायेंगे तो झट उनका आक्यूपेशन जान लेंगे। गुरूनानक के मन्दिर में जायेंगे तो झट बता देंगे कि वह फिर कब आयेंगे? उन लोगों को कुछ पता नहीं क्योंकि कल्प की आयु लम्बी कर दी है। तुम वर्णन कर सकते हो। बाप कहते हैं देखो मैं तुमको कैसे पढ़ाता हूँ? आता कैसे हूँ? कृष्ण की तो बात ही नहीं। गीता का पाठ करते रहते हैं, कोई 18 अध्याय याद करते हैं तो उनकी कितनी महिमा हो जाती है। एक श्लोक सुनायेंगे तो कहेंगे वाह! वाह! इन जैसे महात्मा तो कोई नहीं। आजकल तो रिद्धि-सिद्धि भी बहुत है। जादू का खेल बहुत दिखाते हैं। दुनिया में ठगी बहुत है। बाप तुमको कितना सहज समझाते हैं परन्तु पढ़ने वालों पर मदार है। टीचर तो एकरस पढ़ाते हैं कोई नहीं पढ़ेंगे तो नापास होंगे। यह भी होना जरूर है। सारी राजधानी स्थापन होनी है। तुम यह ज्ञान-स्नान कर, ज्ञान का गोता लगाए परिस्तान की परी अर्थात् स्वर्ग के मालिक बन जाते हो। रात-दिन का फ़र्क है। वहाँ तत्व भी सतोप्रधान होने से शरीर भी एक्यूरेट बनता है। नेचुरल ब्युटी रहती है। वह है ईश्वर की स्थापन की हुई भूमि। अभी आसुरी भूमि है। स्वर्ग, नर्क में बहुत फर्क है। अभी तुम्हारी बुद्धि में ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त का राज़ बैठा हुआ है, नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार।

बाप कहते हैं – अच्छी रीति पुरुषार्थ करो। बच्चियां नये-नये स्थान पर चक्र लगाने जाती हैं। अगर अच्छी मातायें आदि हैं तो सर्विस को जमाना पड़े। सेन्टर पर अगर कोई नहीं आते हैं तो अपना नुकसान करते हैं। कोई पढ़ने के लिए नहीं आते हैं तो उनको फिर लिखना चाहिए। तुम पढ़ते नहीं हो इससे तुमको बहुत घाटा पड़ जायेगा। रोज़-रोज़ बहुत गुह्य प्वाइंट्स निकलती हैं। यह हैं हीरे रत्न, तुम पढ़ेंगे नहीं तो नापास हो जायेंगे। इतनी ऊंची स्वर्ग की बादशाही गँवा देंगे। मुरली तो रोज़ सुननी चाहिए। ऐसे बाप को छोड़ दिया तो याद रखना, नापास हो जायेंगे, फिर बहुत रोयेंगे। खून के ऑसू बहायेंगे। पढ़ाई तो कभी नहीं छोड़नी चाहिए। बाबा रजिस्टर देखते हैं। कितने रेगुलर आते हैं। न आने वालों को फिर सावधान करना चाहिए। श्रीमत कहती है – पढ़ेंगे नहीं तो पद भ्रष्ट हो जायेंगे। बहुत घाटा पड़ जायेगा। ऐसे लिखा-पढ़ी करो – तब तुम स्कूल को अच्छी तरह उठा सकेंगे। ऐसे नहीं कोई नहीं आया तो छोड़ दिया। टीचर को ओना रहता है कि हमारे स्टूडेन्ट जास्ती नहीं पास होंगे तो इज्जत जायेगी। बाबा लिखते भी हैं तुम्हारे सेन्टर पर सर्विस कम चलती है, शायद तुम सोते रहते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बादादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस पुराने शरीर का श्रृंगार नहीं करना है। वनवाह में रह नये घर में चलने की तैयारी करनी है।

2) ज्ञान स्नान रोज़ करना है। कभी भी पढ़ाई मिस नहीं करनी है।

वरदान:- ज्ञान और योग के बल द्वारा माया की शक्ति पर विजय प्राप्त करने वाले मायाजीत, जगतजीत भव 
दुनिया में साइन्स का भी बल है, राज्य का भी बल है और भक्ति का भी बल है लेकिन आपके पास है ज्ञान बल और योग बल। यह सबसे श्रेष्ठ बल है। यह योगबल माया पर सदा के लिए विजयी बनाता है। इस बल के आगे माया की शक्ति कुछ भी नहीं है। मायाजीत आत्मायें कभी स्वप्न में भी हार नहीं खा सकती। उनके स्वप्न भी शक्तिशाली होंगे। तो सदा यह स्मृति रहे कि हम योगबल वाली आत्मायें सदा विजयी हैं और विजयी रहेंगे।
स्लोगन:- कर्म करते कर्म के बन्धनों से मुक्त रहना ही फरिश्ता बनना है।

मातेश्वरी जी के मधुर महावाक्य

गीत:- नयनहीन को राह दिखाओ प्रभु ... अब यह जो मनुष्य गीत गाते हैं नयनहीन को राह बताओ, तो गोया राह दिखाने वाला एक ही परमात्मा ठहरा, तभी तो परमात्मा को बुलाते हैं और जिस समय कहते हैं प्रभु राह बताओ तो जरुर मनुष्यों को राह दिखाने के लिये खुद परमात्मा को निराकार रूप से साकार रूप में अवश्य आना पड़ेगा, तभी तो स्थूल में राह बतायेगा, आने बिगर राह तो बता नहीं सकेंगे। अब मनुष्य जो मूंझे हुए हैं, उन मूंझे हुए को राह चाहिए इसलिए परमात्मा को कहते हैं नयनहीन को राह बताओ प्रभु… इसको ही फिर खिवैया भी कहा जाता है, जो उस पार अथवा इन 5 तत्वों की जो बनी हुई सृष्टि है इससे पार कर उस पार अर्थात् 5 तत्वों से पार जो छट्ठा तत्व अखण्ड ज्योति महतत्व है उसमें ले चलेगा। तो परमात्मा भी जब उस पार से इस पार आवे तभी तो ले चलेगा। तो परमात्मा को भी अपने धाम से आना पड़ता है, तभी तो परमात्मा को खिवैया कहते हैं। वही हम बोट को (आत्मा रूपी नांव को) पार ले चलता है। अब जो परमात्मा के साथ योग रखता है उनको साथ ले जायेगा। बाकी जो बच जायेंगे वे धर्मराज की सजायें खाकर बाद में मुक्त होते हैं।

2) कांटों की दुनिया से ले चलो फूलों की छांव में, अब यह बुलावा सिर्फ परमात्मा के लिये कर रहे हैं। जब मनुष्य अति दु:खी होते हैं तो परमात्मा को याद करते हैं, परमात्मा इस कांटों की दुनिया से ले चल फूलों की छांव में, इससे सिद्ध है कि जरूर वो भी कोई दुनिया है। अब यह तो सभी मनुष्य जानते हैं कि अब का जो संसार है वो कांटों से भरा हुआ है। जिस कारण मनुष्य दु:ख और अशान्ति को प्राप्त कर रहे हैं और याद फिर फूलों की दुनिया को करते हैं। तो जरूर वो भी कोई दुनिया होगी जिस दुनिया के संस्कार आत्मा में भरे हुए हैं। अब यह तो हम जानते हैं कि दु:ख अशान्ति यह सब कर्मबन्धन का हिसाब किताब है। राजा से लेकर रंक तक हर एक मनुष्य मात्र इस हिसाब में पूरे जकड़े हुए हैं इसलिए परमात्मा तो खुद कहता है अब का संसार कलियुग है, तो वो सारा कर्मबन्धन का बना हुआ है और आगे का संसार सतयुग था जिसको फूलों की दुनिया कहते हैं। अब वो है कर्मबन्धन से रहित जीवनमुक्त देवी देवताओं का राज्य, जो अब नहीं है। अब यह जो हम जीवनमुक्त कहते हैं, तो इसका मतलब यह नहीं कि हम कोई देह से मुक्त थे, उन्हों को कोई देह का भान नहीं था, मगर वो देह में होते हुए भी दु:ख को प्राप्त नहीं करते थे, गोया वहाँ कोई भी कर्मबन्धन का मामला नहीं है। वो जीवन लेते, जीवन छोड़ते आदि मध्य अन्त सुख को प्राप्त करते थे। तो जीवनमुक्ति का मतलब है जीवन होते कर्मातीत, अब यह सारी दुनिया 5 विकारों में पूरी जकड़ी हुई है, मानो 5 विकारों का पूरा पूरा वास है, परन्तु मनुष्य में इतनी ताकत नहीं है जो इन 5 भूतों को जीत सके, तब ही परमात्मा खुद आकर हमें 5 भूतों से छुड़ाते हैं और भविष्य प्रालब्ध देवी देवता पद प्राप्त कराते हैं। अच्छा – ओम् शान्ति।

 

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize