today murli 14 october

TODAY MURLI 14 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 14 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 13 October 2018 :- Click Here

14/10/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
18/02/84

Brah min life is the invaluable life .

Today, the Ocean of Love has come to celebrate a meeting with the children who are always absorbed in love. Just as you remember the Father with love, in the same way, in order to give multi-million fold return to the loving children, the Father comes into the corporeal world to celebrate a meeting. The Father makes you children bodiless and incorporeal, the same as He is, and the children, with love, make the incorporeal and subtle fathers corporeal, the same as they are. This is the wonder of the children’s love. Seeing the wonder of the children’s love, BapDada is pleased. The Father sings songs of the children’s virtues, of how they are becoming equal to the Father by being constantly coloured by the Father’s company. BapDada calls such children who follow the Father obedient, faithful, trustworthy, true invaluable jewels. Compared to you children even physical diamonds and jewels are like dust. You are invaluable. Do you experience yourselves to be the victorious invaluable jewels of the garland around BapDada’s neck? Do you have such self-respect?

Double-foreign children have the intoxication and happiness that although they are very far away, BapDada has selected them from a faraway land and made them belong to Him. The world is looking for the Father whereas the Father has found you. Do you think of yourselves in this way? The world is calling out to Him to come here, and what song do all of you sing, numberwise? “I sit with You, I eat with You and I am constantly in your company.” There is such a big difference between calling out and being constantly in someone’s company. It is the difference of day and night, is it not? There is such a difference between souls who are thirsty for imperishable attainment even for a second and you souls who are embodiments of attainment. Those souls constantly sing songs whereas you are those who constantly sit in the Father’s lap. They are those who cry out and you are those who follow His directions at every step. They are thirsty for just a glimpse (vision) and you are those whom the Father has made an image that grants visions. Let them experience a bit more pain and sorrow and then see how they come in front of you thirsting for a second’s glimpse or a second’s drishti from all of you.

Now you invite them and call them. When the time comes, they will make a lot of effort to meet you for even a second: “Please let us meet you!” All of you will have the practical form of being an image that grants visions. Amongst you children too, you will recognise the importance of your elevated life and elevated attainment a lot more at such a time. Now, because of carelessness and being ordinary, you even forget your greatness and your speciality. However, when souls who lack attainment come in front of you thirsting for attainment, you will experience more who you are and who they are. At the moment, because you receive many treasures easily from BapDada, you sometimes consider your value and even the treasures to be ordinary. However, every elevated version, every second, and every breath of Brahmin life is so elevated. You will experience this a lot more as you progress further. Every second of Brahmin life creates not just a reward for one birth, but for birth after birth. A second gone means a reward for many births gone. You are the elevated souls with such an invaluable life. You are such special souls with an elevated fortune. Do you understand who you are? Baba has come to meet such elevated children. You double-foreign children constantly remember this, do you not? Or is it that you sometimes forget and sometimes remember? You have become embodiments of remembrance, have you not? Those who have become an embodiment can never forget. Don’t become those who have to remember, but become embodiments of remembrance. Achcha.

To those who constantly celebrate a meeting, to those who are constantly coloured by the Father’s company, to those who understand the importance of all attainments of the self and of time, to those who constantly follow the Father at every step; to such long-lost and now-found obedient children, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting new children who have come from Poland and other countries:

Do all of you consider yourselves to be fortunate? What fortune do you have? To come to this elevated land is the greatest fortune of all. This land is the land of the great pilgrimage. To have arrived here is fortune anyway. So what more will you now do? Stay in remembrance; constantly continue to increase the practice of remembrance. However much each of you learns, continue to increase that. If you constantly continue to maintain a relationship, then with that relationship you will continue to attain a great deal. Why? In today’s world, everyone wants both happiness and peace. So, both of these can be attained for all time through the practice of this Raja Yoga. If you want this attainment, this is the easy method. Don’t let go of it. Keep it with you. You will receive a lot of happiness. It will be as though you have received a mine of happiness, through which you will be able to distribute true happiness to others. Relate this to others and also show this path to others. There are so many souls in the world, but out of all of those souls, it is you few souls who have reached here. This is also a sign of great fortune. You have reached the shanti-kund (power house). Peace is essential for everyone. To be peaceful themselves and continue to give everyone peace is the speciality of humans. If there is no peace, what is the life of a human being? You have spiritual, imperishable peace. You can show yourself and many others the way to attain real peace. You will become charitable souls. It is such great charity to give peace to a peaceless soul. First of all, become full yourself and then you can become charitable souls with others. There is no other charity like this. You can show unhappy souls the sparkle of peace and happiness. Where there is deep love, the thought of the heart is fulfilled. Continue to move along as messengers who give the message that you have just received from the Father.

BapDada meeting servers:

The lottery of service makes you full for all time. By doing service, you become full of treasures for all time. All of you did number one service. All of you are those who claim the first prize , are you not? The first prize is to remain content and to make everyone content. So, what do you think? For the number of days that you did service, did you remain content for all of that time and also make others content or did some of you become upset? If you remained content and made others content, you are number one . To be victorious in every task means to be number one . This is success. Don’t allow yourselves to be disturbedand don’t disturb others. This is victory. Therefore, you are such victorious jewels for all time. Victory is the right of the confluence age because you are masteralmighty authorities.

True serviceable souls are those who constantly have spiritual vision, a spiritual attitude and, as spiritual roses, make all spirits happy. So, for however long you served, did you serve as a spiritual rose? There weren’t any thorns in between, were there? Did you always maintain spiritual awareness, that is, did you always stay in the stage of a spiritual rose? Just as you practised this here, in the same way, maintain such an elevated stage at your own places. Don’t come down, no matter what happens or what the atmosphere is like. Roses live amidst thorns and yet constantly continue to give fragrance; they don’t become thorns whilst living amidst thorns. In the same way, spiritual roses always stay beyond the influence of the atmosphere and remain loving and detached. When you get back, don’t write: What can I do? Maya came! You are going back as those who are constant conquerors of Maya, are you not? Don’t give Maya permission to come. Keep the door closed for all time. The double lock is remembrance and service. Maya cannot come where there is a double lock.

BapDada meeting Dadiji and other senior sisters:

Just as the Father constantly increases the zeal and enthusiasm of you children, in the same way, it is you children who follow the Father. BapDada is especially congratulating all of you teachers who have come from this land and abroad for service. Each one of you, consider yourself to have a right to love and remembrance personally by name and give yourself love in that way. If Baba were to sing each one’s praise individually, how many people’s praise could He sing? All of you have made a lot of effort. You have progressed well since last year and, in the future too, you will continue to progress the maximum for yourself and also in service. Do you understand? Don’t think that BapDada hasn’t spoken to you. He is speaking to all of you. Devotees are making effort to remember the Father’s name and are thinking that the Father’s name should remain on their lips, whereas whose name is on the Father’s lips? The names of you children are on the Father’s lips. Do you understand? Achcha.

Questions from double foreign brothers and sisters and BapDada’s answers:

Question: What is the new plan for this year’s service?

Answer: In order to bring time close, you first have to do the service of making the atmosphere powerful through your attitude. For this, pay special attentionto your attitude. Secondly, in order to serve others, especially make those souls emerge; who truly believe that the method for peace can only be found here. Let the sound emerge this year that, if there is to be peace, it will only be through this method. This is the only method. What the world needs is nothing else but this method. Let this atmosphere be created everywhere simultaneously. In Bharat or abroad, let the sparkle of peace be very visible way. Let everyone everywhere be touched and be attracted and say that if there is a right place, it is here. Just as the Government has the UNO, so that, when anything happens, everyone’s attention is drawn there, in the same way, whenever something happens and it creates peacelessness, let everyone’s attention be drawn to you as the souls who give the message of peace. Let them experience that this is the only place where they can remain safe from peacelessness and where they can seek refuge. Let this atmosphere be created this year. “The knowledge is good, your life is good, Raja Yoga is good.” Everyone says this, but now let the sound be heard that real attainment can be attained here, that the world will benefit at this place with this method. Do you understand? For this, especially advertisepeace: If anyone wants peace, you can find the method here. Have a Peace Week. Have a gathering for peace. Have yoga camps for giving them the experience of peace. Spread vibrations of peace in this way.

Creating students through service is very good. That expansion definitely has to happen. However, now, just as you have a variety of nationalities and souls of different religions, let there be souls of all different occupations at every place. Anyone who goes to a centre should be able to find someone of his own occupation at that centre who can share his experience, just as you have workshops here, sometimes with doctors, sometimes with lawyers etc. When people of different occupations speak of the one subject of peace on the basis of their own occupation, they enjoy that. So, in this way, let people of every occupationrelate their experience of peace to anyone who comes to the centre and this will have an impact on them. Let them experience that this is an easy method for people of all occupations. For instance, for some time now, there has been good advertising about this being the only method for those of all religions. Let there be this sound. So, now spread the sound in this way. This sound reaches those who are in contact with you and the students but, now, let there be a bit more attention paid to enable this sound to be spread in all directions. Only a few Brahmins have been created so far. The speed of becoming Brahmins numberwise cannot be said to be fast. There needs to be at least 900,000 now. At the beginning of the golden age you will rule over at least 900,000, will you not? There will be subjects in that number too, but only when they come into close contact with you now will they then become subjects. So, bearing this figure in mind, how fast should the speed be? As yet, the number is very small. What is the total number of those abroad? At the very least, the number of those abroad should be two to three hundred thousand. You are making very good effort. There isn’t anything wrong but, now, let the speed be a little faster. The speed will increase through the general atmosphere. Achcha.

Question: What is the way to create a very powerful atmosphere?

Answer: You yourself become powerful. For this, pay special attention to checking whether in every action from amrit vela onwards your stage is powerful or not. When you are busy serving others and making plans for service, there is sometimes a little lightness (slackness) in your own stage. This is why the atmosphere doesn’t become powerful. Service takes place, but the atmosphere doesn’t become powerful. For this you have to pay special attention to yourself. Karma and yoga; together with karma, there has to be a powerful stage: this balance is lacking a little. When you are just being busy in service, your own stage doesn’t remain powerful. Given the amount of time you give for service, and the extent to which you use your body, mind and wealth for service, you don’t receive the hundred-thousandfold return of one that you should be receiving. The reason for this is that there isn’t the balance of karma and yoga. Just as you make plans for service – you have leaflets printed, you have programmes on the TV and Radio – just as you use these external facilities, in the same way, first of all, have a special method to make the stage of your mind powerful. This attention is lacking. You then say that because you were busy, you missed out on this a little. There cannot then be double benefit.

Blessing: May you be a great renunciate who renounces the respect and status received through service and creates an imperishable fortune.
The practical fruit of the elevated actions that you perform and service that you children do is to be praised by everyone. A server receives a seat of elevated praise, he receives a seat of respect and status. Such a soul definitely receives this success. However, all of these forms of success are the steps of the journey and not the final destination. So, renounce this and become fortunate. This is known as being a great renunciate. The speciality of a great, incognito donor is to be a renunciate of even the renunciation.
Slogan: In order to be an angel, observe the part of every soul as a detached observer and give them sakaash.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 14 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 October 2018

To Read Murli 13 October 2018 :- Click Here
14-10-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 18-02-84 मधुबन

ब्राह्मण जीवन – अमूल्य जीवन

आज सदा स्नेह में समाये हुए स्नेही बच्चों से स्नेह के सागर मिलन मनाने आये हैं। जैसे स्नेह से बाप को याद करते हैं वैसे बाप भी स्नेही बच्चों को पदमगुणा रिटर्न देने के लिए, साकारी सृष्टि में मिलने के लिए आते हैं। बाप बच्चों को आप समान अशरीरी निराकार बनाते और बच्चे स्नेह से निराकारी और आकारी बाप को आप समान साकारी बना देते हैं। यह है बच्चों के स्नेह की कमाल। बच्चों के ऐसे स्नेह की कमाल देख बापदादा हर्षित होते हैं। बच्चों के गुणों के गीत गाते हैं कि कैसे सदा बाप के संग के रंग में बाप समान बनते जा रहे हैं। बापदादा ऐसे फालो फादर करने वाले बच्चों को आज्ञाकारी, वफादार, फरमानबरदार सच्चे-सच्चे अमूल्य रत्न कहते हैं। आप बच्चों के आगे यह स्थूल हीरे जवाहरात भी मिट्टी के समान हैं। इतने अमूल्य हो। ऐसे अपने को अनुभव करते हो कि बापदादा के गले की माला के विजयी अमूल्य रत्न मैं हूँ। ऐसा स्वमान रहता है?

डबल विदेशी बच्चों को नशा और खुशी रहती है कि हमें बापदादा ने इतना दूर होते हुए भी दूरदेश से चुनकर अपना बना लिया है। दुनिया बाप को ढूँढती और बाप ने हमें ढूँढा। ऐसे अपने को समझते हो? दुनिया पुकार रही है कि आ जाओ और आप सभी नम्बरवार क्या गीत गाते हो? तुम्हीं से बैठूँ, तुम्ही से खाऊं, तुम्हीं से सदा साथ रहूँ। कहाँ पुकार और कहाँ सदा साथ! रात दिन का अन्तर हो गया ना। कहाँ एक सेकण्ड की सच्ची अविनाशी प्राप्ति के प्यासी आत्मायें और कहाँ आप सभी प्राप्ति स्वरूप आत्मायें! वह गायन करने वाली और आप सभी बाप की गोदी में बैठने वाले। वह चिल्लाने वाली और आप हर कदम उनकी मत पर चलने वाले। वह दर्शन की प्यासी और आप बाप द्वारा स्वयं दर्शनीय मूर्त बन गये। थोड़ा सा दु:ख दर्द का अनुभव और बढ़ने दो फिर देखना आपके सेकण्ड के दर्शन, सेकण्ड की दृष्टि के लिए कितना प्यासे बन आपके सामने आते हैं।

अभी आप निमंत्रण देते हो, बुलाते हो। फिर आपसे सेकण्ड के मिलने के लिए बहुत मेहनत करेंगे कि हमें मिलने दो। ऐसा साक्षात साक्षात्कार स्वरूप आप सभी का होगा। ऐसे समय पर अपनी श्रेष्ठ जीवन और श्रेष्ठ प्राप्ति का महत्व आप बच्चों में से भी उस समय ज्यादा पहचानेंगे। अभी अलबेलेपन और साधारणता के कारण अपनी श्रेष्ठता और विशेषता को भूल भी जाते हो। लेकिन जब अप्राप्ति वाली आत्मायें प्राप्ति की प्यास से आपके सामने आयेंगी तब ज्यादा अनुभव करेंगे कि हम कौन और यह कौन! अभी बापदादा द्वारा सहज और बहुत खजाना मिलने के कारण कभी-कभी स्वयं की और खजाने की वैल्यू को साधारण समझ लेते हो – लेकिन एक-एक महावाक्य, एक-एक सेकण्ड, एक-एक ब्राह्मण जीवन का श्वास कितना श्रेष्ठ है। वह आगे चल ज्यादा अनुभव करेंगे। ब्राह्मण जीवन का हर सेकण्ड, एक जन्म नहीं लेकिन जन्म-जन्म की प्रालब्ध बनाने वाला है। सेकण्ड गया अर्थात् अनेक जन्मों की प्रालब्ध गई। ऐसी अमूल्य जीवन वाली श्रेष्ठ आत्मायें हो। ऐसी श्रेष्ठ तकदीरवान विशेष आत्मायें हो। समझा कौन हो? ऐसे श्रेष्ठ बच्चों से बाप मिलने आये हैं। डबल विदेशी बच्चों को यह सदा याद रहता है ना! वा कभी भूलता, कभी याद रहता है? याद स्वरूप बने हो ना! जो स्वरूप बन जाते हैं वह कभी भूल नहीं सकते। याद करने वाले नहीं याद स्वरूप बनना है। अच्छा!

ऐसे सदा मिलन मनाने वाले, सदा बाप के संग के रंग में रहने वाले, सदा स्वयं के समय के सर्व प्राप्ति के महत्व को जानने वाले, सदा हर कदम में फालो फादर करने वाले, ऐसे सिकीलधे सपूत बच्चों को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

पोलैण्ड तथा अन्य देशों से आये हुए नये-नये बच्चों से:- सभी अपने को भाग्यवान समझते हो, कौन सा भाग्य है? इस श्रेष्ठ भूमि पर आना – यही सबसे बड़ा भाग्य है। यह भूमि महान् तीर्थ की भूमि है। तो यहाँ पहुँचे यह तो भाग्य है ही। लेकिन अभी आगे क्या करेंगे? याद में रहना, याद के अभ्यास को सदा आगे बढ़ाते रहना। जो जितना भी सीखे उसको आगे बढ़ाते रहना। अगर सदा सम्बन्ध में रहते रहेंगे तो सम्बन्ध द्वारा बहुत प्राप्ति करते रहेंगे। क्यों? आज के विश्व में सभी को खुशी और शान्ति दोनों चाहिए। तो यह दोनों ही इस राजयोग के अभ्यास द्वारा सदा के लिए प्राप्त हो जायेंगी। यह प्राप्ति चाहते हो तो सहज साधन यह है, इसको छोड़ना नहीं। साथ रखना। बहुत खुशी मिलेगी। जैसे खुशी की खान मिल जायेगी, जिससे औरों को भी सच्ची खुशी बांट सकेंगे। औरों को भी सुनाना, औरों को भी यह रास्ता बताना। विश्व में इतनी आत्मायें हैं लेकिन उन आत्माओं में से आप थोड़ी आत्मायें यहाँ पहुँची हो। यह भी बहुत तकदीर की निशानी है। शान्ति कुण्ड में पहुँच गये। शान्ति तो सभी को आवश्यक है ना। स्वयं भी शान्त और सर्व को भी शान्ति देते रहें, यही मानव की विशेषता है। अगर शान्ति नहीं तो मानव जीवन ही क्या है। आत्मिक, अविनाशी शान्ति। स्वयं को और अनेकों को भी सच्ची शान्ति प्राप्त करने का रास्ता बता सकते हो। पुण्य आत्मा बन जायेंगे। किसी अशान्त आत्मा को शान्ति दे दो तो कितना बड़ा पुण्य है। स्वयं पहले भरपूर बनो फिर औरों के प्रति भी पुण्यात्मा बन सकते हो। इस जैसा पुण्य और कोई नहीं। दु:खी आत्माओं को सुख शान्ति की झलक दिखा सकते हो। जहाँ लगन है वहाँ दिल का संकल्प पूरा हो जाता है। अभी बाप द्वारा जो सन्देश मिला है वह सन्देश सुनाने वाले सन्देशी बनकर चलते रहो।

सेवाधारियों से:- सेवा की लाटरी भी सदाकाल के लिए सम्पन्न बना देती है। सेवा से सदाकाल के लिए खजाने से भरपूर हो जाते हैं। सभी ने नम्बरवन सेवा की। सब फर्स्ट प्राइज लेने वाले हो ना! फर्स्ट प्राइज़ है सन्तुष्ट रहना और सर्व को सन्तुष्ट करना। तो क्या समझते हो, जितने दिन सेवा की उतने दिन स्वयं भी सन्तुष्ट रहे और दूसरों को भी किया या कोई नाराज़ हुआ? सन्तुष्ट रहे और सन्तुष्ट किया तो नम्बरवन हो गये। हर कार्य में विजयी बनना अर्थात् नम्बरवन होना। यही सफलता है। न स्वयं डिस्टर्ब हो और न दूसरों को करो, यही विजय है। तो ऐसे सदा के विजयी रत्न। विजय संगमयुग का अधिकार है क्योंकि मास्टर सर्वशक्तिवान हो ना!

सच्चे सेवाधारी वह जो सदा रूहानी दृष्टि से, रूहानी वृत्ति से रूहे गुलाब बन रूहों को खुश करने वाले हों। तो जितना समय भी सेवा की उतना समय रूहानी गुलाब बन सेवा की? कोई बीच में कांटा तो नहीं आया। सदा ही रूहानी स्मृति में रहे अर्थात् रूहानी गुलाब स्थिति में रहे। जैसे यहाँ यह अभ्यास किया वैसे अपने-अपने स्थानों पर भी ऐसे ही श्रेष्ठ स्थिति में रहना। नीचे नहीं आना। कुछ भी हो, कैसा भी वायुमण्डल हो लेकिन जैसे गुलाब का पुष्प कांटों में रहते भी स्वयं सदा खुशबू देता, कांटों के साथ स्वयं कांटा नहीं बनता। ऐसे रूहानी गुलाब सदा वातावरण के प्रभाव से न्यारे और प्यारे। वहाँ जाकर यह नहीं लिखना कि क्या करें माया आ गई। सदा मायाजीत बनकर जा रहे हो ना। माया को आने की छुट्टी नहीं देना। दरवाजा सदा बन्द कर देना। डबल लाक है याद और सेवा, जहाँ डबल लाक है। वहाँ माया नहीं आ सकती है।

दादी जी तथा अन्य बड़ी बहनों से:- जैसे बाप सदा बच्चों का उमंग-उत्साह बढ़ाते रहते वैसे फालो फादर करने वाले बच्चे हैं। विशेष सभी टीचर्स को देश-विदेश से जो भी आई, सबको बापदादा सेवा की मुबारक देते हैं। हरेक अपने को नाम सहित बाप के याद और प्यार के अधिकारी समझकर अपने आपको ही प्यार कर लेना। एक-एक के गुण गायें तो कितने के गुण गायें। सभी ने बहुत मेहनत की है। अगले वर्ष से अभी उन्नति को प्राप्त किया है और आगे भी इससे ज्यादा से ज्यादा स्वयं और सेवा से उन्नति को पाते रहेंगे। समझा – ऐसे नहीं समझना कि हमको बापदादा ने नहीं कहा, सभी को कह रहे हैं। भक्त बाप का नाम लेने के लिए प्रयत्न करते रहते हैं, सोचते हैं बाप का नाम मुख पर रहे लेकिन बाप के मुख पर किसका नाम रहता? आप बच्चों का नाम बाप के मुख पर है, समझा। अच्छा।

डबल विदेशी भाई बहिनों के प्रश्न – बापदादा के उत्तर

प्रश्न:- इस वर्ष की सेवा के लिए नया प्लैन क्या है?

उत्तर:- समय को समीप लाने के लिए एक तो वृत्ति से वायुमण्डल को शक्तिशाली बनाने की सेवा करनी है। इसके लिए स्व की वृत्ति पर विशेष अटेन्शन देना है और दूसरा औरों की सेवा करने के लिए विशेष ऐसी आत्मायें निकालो जो समझें कि सचमुच शान्ति की विधि यहाँ से ही मिल सकती है। यह आवाज इस वर्ष में हो कि अगर शान्ति होगी तो इसी विधि से होगी। एक ही विधि है यह, जो विश्व को आवश्यकता है – वह इस विधि के सिवाए नहीं है। यह वातावरण चारों ओर इकट्ठा बनना चाहिए। भारत में चाहे विदेश में शान्ति की झलक प्रसिद्ध रूप में होनी चाहिए। चारों ओर से यह सभी को टच हो, आकर्षण हो कि यथार्थ स्थान है तो यही है। जैसे गवर्मेन्ट की तरफ से यू.एन.ओ. बनी हुई है तो जब भी कुछ होता है तो सभी का अटेन्शन उसी तरफ जाता है। ऐसे जब भी कोई अशान्ति का वातावरण हो तो सबका अटेन्शन शान्ति का सन्देश देने वाली यह आत्मायें हैं, इस तरफ जावे। अनुभव करें कि अशान्ति से बचने का यही एक स्थान है, जहाँ पनाह ली जा सकती है। इस वर्ष यह वायुमण्डल बनना चाहिए। ज्ञान अच्छा है, जीवन अच्छी है, राजयोग अच्छा है, यह तो सब कहते हैं लेकिन असली प्राप्ति यहाँ से ही होनी है, विश्व का कल्याण इसी स्थान और विधि से होना है, यह आवाज बुलन्द हो। समझा- इसके लिए विशेष शान्ति की एडवरटाइज करो, किसको शान्ति चाहिए तो यहाँ से विधि मिल सकती है। शान्ति सप्ताह रखो, शान्ति के समागम रखो, शान्ति अनुभूति के शिविर रखो, ऐसे शान्ति का वायब्रेशन फैलाओ।

सर्विस में जैसे स्टूडेन्ट बनाते हो वह तो बहुत अच्छा है, वह तो जरूर वृद्धि को प्राप्त करना ही है। लेकिन अभी हर वैरायटी के लोग जैसे काले गोरे भिन्न-भिन्न धर्म की आत्मायें हैं, वैसे भिन्न-भिन्न आक्यूपेशन वाले हर स्थान पर होने चाहिए। कोई कहाँ भी जावे तो हर आक्यूपेशन वाला अपनी रीति से उन्हें अनुभव सुनाये। जैसे यहाँ वर्कशाप रखाते हैं – कभी डाक्टर की, कभी वकील की तो भिन्न-भिन्न आक्यूपेशन वाले एक ही शान्ति की बात अपने आक्यूपेशन के आधार से बोलते हैं तो अच्छा लगता है। ऐसे कोई भी सेन्टर पर आवें तो हर आक्यूपेशन वाले अपना शान्ति का अनुभव सुनायें, इसका प्रभाव पड़ता है। सभी आक्यूपेशन वालों के लिए यह सहज विधि है, यह अनुभव हो। जैसे कुछ समय के अन्दर यह एडवरटाइज अच्छी हो गई है कि सब धर्म वालों के लिए यही एक विधि है, यह आवाज हो। इसी रीति से अभी आवाज फैलाओ। जो सम्पर्क में आते हैं या स्टूडेन्ट हैं उन्हों तक तो यह आवाज होता है लेकिन अभी थोड़ा और चारों ओर फैले इसका अभी और अटेन्शन। ब्राह्मण भी अभी बहुत थोड़े बने हैं। नम्बरवार ब्राह्मण बनने की जो यह गति है, उसको फास्ट नहीं कहेंगे ना। अभी तो कम से कम नौ लाख तो चाहिए। कम से कम सतयुग की आदि में नौ लाख के ऊपर तो राज्य करेंगे ना! उसमें प्रजा भी होगी लेकिन सम्पर्क में अच्छे आयेंगे तब तो प्रजा बनेंगे। तो इस हिसाब से गति कैसी होनी चाहिए! अभी तो संख्या बहुत कम है। अभी टोटल विदेश की संख्या कितनी होगी? कम से कम विदेश की संख्या दो-तीन लाख तो होनी चाहिए। मेहनत तो अच्छी कर रहे हो, ऐसी कोई बात नहीं है लेकिन थोड़ी स्पीड और तेज होनी चाहिए। स्पीट तेज होगी – जनरल वातावरण से। अच्छा।

प्रश्न:- ऐसा पावरफुल वातावरण बनाने की युक्ति क्या है?

उत्तर:- स्वयं पावरफुल बनो। उसके लिए अमृतवेले से लेकर हर कर्म में अपनी स्टेज शक्तिशाली है या नहीं, उसकी चेकिंग के ऊपर और थोड़ा विशेष अटेन्शन दो। दूसरों की सेवा में या सेवा के प्लैन्स में बिजी होने से अपनी स्थिति में कहाँ-कहाँ हल्कापन आ जाता है इसलिए यह वातावरण शक्तिशाली नहीं होता। सेवा होती है लेकिन वातावरण शक्तिशाली नहीं होता है। इसके लिए अपने ऊपर विशेष अटेन्शन रखना पड़े। कर्म और योग, कर्म के साथ शक्तिशाली स्टेज, इस बैलेन्स की थोड़ी कमी है। सिर्फ सेवा में बिजी होने के कारण स्व की स्थिति शक्तिशाली नहीं रहती। जितना समय सेवा में देते हो, जितना तन-मन-धन सेवा में लगाते हो, उसी प्रमाण एक का लाख गुणा जो मिलना चाहिए वह नहीं मिलता है। इसका कारण है, कर्म और योग का बैलेन्स नहीं है। जैसे सेवा के प्लैन बनाते हो, पर्चे छपाते हो, टी.वी., रेडियो में करना है। जैसे वह बाहर के साधन बनाते हो वैसे पहले अपनी मंसा शक्तिशाली बनाने का साधन विशेष होना चाहिए। यह अटेन्शन कम है। फिर कह देते हो, बिजी रहे इसलिए थोड़ा-सा मिस हो गया। फिर डबल फायदा नहीं हो सकता। अच्छा।

वरदान:- सेवा द्वारा प्राप्त मान मर्तबे का त्याग कर अविनाशी भाग्य बनाने वाले महात्यागी भव 
आप बच्चे जो श्रेष्ठ कर्म करते हो-इस श्रेष्ठ कर्म अथवा सेवा का प्रत्यक्षफल है-सर्व द्वारा महिमा होना। सेवाधारी को श्रेष्ठ गायन की सीट मिलती है। मान, मर्तबे की सीट मिलती है, यह सिद्धि अवश्य प्राप्त होती है। लेकिन यह सिद्धियां रास्ते की चट्टियाँ हैं, यह कोई फाइनल मंजिल नहीं है इसलिए इसके त्यागवान, भाग्यवान बनो, इसको ही कहा जाता है महात्यागी बनना। गुप्त महादानी की विशेषता ही है त्याग के भी त्यागी।
स्लोगन:- फरिश्ता बनना है तो साक्षी हो हर आत्मा का पार्ट देखो और सकाश दो।

TODAY MURLI 14 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

14/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, remember with great happiness the Father who makes your life like a diamond and the rust will be removed.
Question: Who will become beads of the rosary and what is the effort required for that?
Answer: Those who do not remember anything at the end will become beads of the rosary. Such children who reach their karmateet stage will become beads of the rosary. Those who are wealthy and have many factories etc. have to forget all of those. There should be no attachment to anyone and no consciousness of “mine”. Just consider everyone to be your brother (soul). There is only spiritual connection and no other connection. Only the children who maintain such spiritual connection and forget everything else can become beads of the rosary.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to the spiritual children. You definitely have the firm faith that we are souls, that we are the children of God, the Father. Therefore, all are brothers. The Father has given directions to the brothers: Remember Me, the Father, the Purifier. So, do you have remembrance, or does your intellect’s yoga wander elsewhere? Maya will definitely make it wander. Even against your conscious wish, your intellect will wander somewhere or other. Internally, you children should think that Baba has given you the knowledge of the world cycle and taught you the story of 84 births. The cycle of 84 births is now complete. We are returning home once again. We have become pure through the pilgrimage of remembrance and returned home innumerable times. It is now in your intellects that we are all brothers. There is no question of anything physical in this. Don’t remember the physical! Simply remember that we are souls and that we were pure and satopradhan. We have now become impure. Therefore, remember with great happiness the Father who makes your life like a diamond. By your doing this, the rust will be removed. The Father explains: Children, first consider yourselves to be souls. This too is knowledge (gyan). Then, remember the Father. This is vigyan, because souls have to go beyond knowledge into vigyan; they have to go to the home of peace. The original religion of souls is peace and their home is also one of peace. First, we have to go there. Baba has also come from there. However, human beings don’t know about these things. The Father from beyond sits here and personally explains to you: Children, according to the drama plan, I have come to you children from the supreme abode. Why have I come? To take you back. You have now become impure, vicious. You have been taking birth through vice for birth after birth. This is why you are called corrupt. The Father explains how we can become elevated from corrupt. Children, remember Me and you will become elevated and pure. You can do everything while having this remembrance. It is not that you can’t run your business. Some children ask the Father: Baba, who will become beads of the rosary? Children, those who reach their karmateet stage and who don’t remember anything else at the end will become beads of the rosary. Those who are very wealthy and have many factories, etc. have to forget all of those. You don’t have anything. You understand that we are the Father’s children, brothers. We don’t have attachment to anyone. There is nothing that is “mine”. There is only the connection of everyone being a brother and no other connection. This is called spiritual connection. Throughout this whole lifespan, only the body was remembered. No one remembered the soul. This too is predestined in the drama. Baba explains these things and enables you to make effort to become pure. Baba gives you children time. Simply remember Me for eight hours. That is limited service whereas this is service of the whole world. Surely, you would eat, drink, sleep and go around. No one is able to have remembrance the whole day. You are now definitely doing unlimited service. Just as the father churns the ocean of knowledge, so he teaches you children to churn in the same way. He is Karankaravanhar and teaches you by demonstrating this to you. By your continuing to make effort, your rosary of victory will be created. Whoever enters the golden and silver ages, they are victorious. Then all the actors come, numberwise , onto this stage to play their parts in this drama. Not everyone will come at the same time. The place of residence of all you actors is the world of brahm. You come from there and adopt bodies. All of these aspects are very easy. Only you children are able to remember them. Your home is the sweet home, the silence home. No one else knows about their home. They simply say that they will merge into the light, that just as bubbles emerge from the ocean and they merge back into it, so they will also merge into that light (brahm) in the same way. Then, they say: Wherever we look, there is only light (brahm). They consider brahm to be God. This is why the things you say don’t sit in their intellects. You consider them to be wrong, but they consider you to be wrong because they have their own religion. However, you understand that all souls will definitely return to the land of peace. All souls have received their own parts. This is called a wonder. You children now go into great depth about how tiny souls are and how they play their part s. Just as the Father, who is the Ocean of Knowledge, has this knowledge, so you children also have it; you are becoming ones with knowledge. They are ones with the knowledge of devotion, whereas you are ones with knowledge. Those with the knowledge of devotion are the ones who live in the night whereas to be those with knowledge means to be those who live in the day. For half a cycle, you live in the land of happiness and for half a cycle, you live in the land of sorrow. This is called being far-sighted. Your intellects now go very, very far. We souls are residents of the sweet home of Brahmand. The Father is the Seed of this human world tree because He is k nowledge-full. He has the knowledge of the tree. Now, in order to end the consciousness of bodies, you consider yourselves to be souls. Nothing else should be remembered. Become completely soul conscious: I am a soul, I am a soul and I have nothing that I, the soul, would have to remember. It is said, “Whatever you remember at the end will lead you to your destination.” If you have anything, you would definitely remember that. This is something to think about. If you have anything, if you have friends and relatives etc., you would definitely remember them. You have given everything you have to Shiv Baba. In that case, don’t consider anything to be yours. Why should you remember something if you have given it to Baba; you should forget it. If you remember it, it will harm you in the future. You now receive these new points. You don’t have anything old with you. Just as all the old things (that belonged to a dead person) are given to a brahmin priest (karnighor), in the same way, you also give everything you have. Therefore, you should not remember that. Simply remember: I am a brother (soul). I am Baba’s child; I don’t have anything. I don’t even have a body. Then, in the new world, everything you receive will be new. You will go there into palaces studded with diamonds. That is an aspect of the future. Baba asks: O children, what will you become? Children say: Baba we will become Narayan. This is an aspect of happiness. However, only when you don’t remember anything old will you become beads of the rosary. The rosary of 108 is that of kings. In the temples they keep a rosary of 16,108. Many will become beads of the rosary. The earlier you come, the more happiness you will receive. Those who come later do not receive as much happiness. They experience happiness for a shorter time and experience less sorrow. Baba says: Children, take care that you don’t remember anything at the end. You shouldn’t even remember anything you have surrendered. Baba says: Because I am the Lord of the Poor, I don’t take such things that, if they are not used, I would still have to give the return of them there. There are some who give something and then, when they leave for any reason, they ask for it back. Maya bites them. There are some who say: Whether you beat me or love me, this intoxicated one will never leave Your door or forget You. You children have come here in order to become Narayan from an ordinary human. You receive such a huge inheritance! Then, why do you say that you are giving something? Rather, you take. Who says that you have to give anything? If someone gives even one paisa, a palace will be created for him there. Just as Sudama gave a handful of rice, so children bring rice and lentils like Sudama did. They think they will receive a palace. The Father is very pleased with such children: Wah! Palaces will be created for them in the new world because they bring things with love and good feelings. Oh! It is such great fortune for such children! They will receive a very high status. Now, according to the drama plan , every step of Baba and you children is taking place exactly as it did in the previous cycles. There is fortune in your every step (kadam). They show a lotus (padam) flower at the feet of the deities. Surely, that must have a meaning. You now continue to earn an income of multimillions (padam) at every step. You have come to Baba to become multimillion times fortunate. You are very, very great and greatly fortunate, but, numberwise, according to your efforts. According to the dram a plan, your efforts take place as they do every cycle. It is as though the drama is making you make effort. God is also giving you directions according to the drama. Therefore, you are under the influence of the drama. What is the drama influenced by? Children, the drama is eternally preordained. No one can say when the drama was created; it continues to be performed. You receive number one directions from God in this drama. That is why it is said that God’s directions make you into deities, whereas the directions of human beings make you dirty. God’s directions make you into deities from human beings. After taking 21 births, you become human beings by following human beings’ directions. This is the Gita episode, the confluence age, when world transformation takes place. This should sit in the intellects of you children. You children have to become very sweet; you have to interact with love. The children who are sweet and peaceful will receive a high status. You have now received Godly intellects. You understand that you have become the children of the unlimited Father. You are claiming your inheritance from Baba. Therefore, you should experience infinite happiness. The Father says: Your status now is much higher than it is in the golden age. The Father only teaches you. God speaks: I am making you into kings of kings, those with a double crown. Therefore, you should be very happy with your fortune. Wah! Just look at the type of fortune Baba comes and creates for us! He makes our lives, which were like stone, into lives like diamonds! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to claim a high status, remain very peaceful and become sweet. Interact with everyone with love.
  2. You have to forget whatever you have surrendered to Baba; it should not be remembered. Never think that you are giving to Baba.
Blessing: May you be an easy effort-maker and constantly experience a powerful stage with the blessing of being an embodiment of remembrance.
Those who are embodiments of remembrance can be constantly powerful and victorious. They are called easy effort-makers. They remain constantly unshakeable in every situation. No matter what happens, even if they face the biggest mountain in their situations, if they face clouds of conflict in sanskars, even if matter tests them, they are like Angad and do not allow the feet of their minds and intellects to shake. Instead of bringing upheaval of the past into their awareness, they put a full stop. Carelessness can never come to such ones.
Slogan: In order to reach the stage of enlightenment of knowledge, make effort in an incognito way.

*** Om Shanti ***

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 14 OCTOBER 2017

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 13 October 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 14/10/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
14/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – हीरे जैसा जीवन बनाने वाले बाप को बहुत खुशी-खुशी से याद करो तो जंक निकल जायेगी”
प्रश्नः- माला का दाना कौन बनेंगे, उसका पुरुषार्थ क्या है?
उत्तर:- माला का दाना वही बनेंगे जिसे अन्त में कुछ भी याद न पड़े। ऐसे बच्चे जो कर्मातीत अवस्था को पायेंगे वही माला का दाना बनेंगे। कोई बहुत धनवान हैं, अनेक कारखाने आदि हैं… तो वह सब भूलना पड़े। किसी मे भी ममत्व न रहे। मेरा-मेरा न हो। बस यह भाई (आत्मा) है, यही रूहानी कनेक्शन है और कोई कनेक्शन नहीं। ऐसे रूहानी कनेक्शन रखने वाले, सब कुछ भूलने वाले बच्चे ही माला में आ सकते हैं।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को समझाते हैं, यह तो जरूर पक्का निश्चय हो गया होगा कि हम आत्मा हैं और परमात्मा बाप के बच्चे हैं, तो सभी ब्रदर्स ही हैं। ब्रदर्स को बाप ने डायरेक्शन दिया है कि मुझ पतित-पावन बाप को याद करो। तो याद करते हो या बुद्धि का योग कहाँ और जगह भटकता है? माया भटकायेगी जरूर, न चाहते हुए भी तुम्हारी बुद्धि कहाँ न कहाँ भागती रहेगी। बच्चों के अन्दर चलना चाहिए कि बाबा ने हमको सृष्टि चक्र का ज्ञान दिया है, 84 जन्मों की कहानी पढ़ाई है। यह 84 का चक्र पूरा हुआ है। हम फिर से घर जाते हैं, अनेक बार हम याद की यात्रा से पवित्र बन करके घर गये हैं। तुम्हारी बुद्धि में आता है कि हम सब भाई-भाई हैं, इसमें जिस्म की कोई बात ही नहीं है। तुम जिस्म को याद नहीं करो। सिर्फ हम आत्मा हैं – हम ही पावन, सतोप्रधान थे, अब पतित बने हैं तो हीरे जैसा जीवन बनाने वाले बाप को खुशी से याद करना है, जिससे जंक निकल जाये। तो बाप समझाते हैं बच्चे पहले-पहले अपने को आत्मा समझो, यह भी ज्ञान है फिर बाप को याद करो – यह है विज्ञान क्योंकि आत्मा को ज्ञान से परे विज्ञान में, शान्त घर में जाना है। आत्मा का स्वधर्म भी शान्त है और घर भी शान्त है। तो पहले हमको वहाँ पहुंचने का है। बाबा भी वहाँ से आये हुए हैं। परन्तु मनुष्यों को इन सब बातों का पता नहीं है।

यह पारलौकिक बाप सन्मुख बैठ करके समझाते हैं, बच्चों मैं परमधाम से तुम बच्चों के पास आया हुआ हूँ, ड्रामा के प्लैन अनुसार। क्यों आया हूँ? तुमको वापस ले जाने के लिये। अभी तुम पतित विकारी हो गये हो। जन्म-जन्मान्तर विकार से ही पैदा हुए हो इसलिए भ्रष्टाचारी कहा जाता है। तो हम भ्रष्टाचारी से श्रेष्ठाचारी कैसे बनें – यह बाप समझाते हैं, बच्चे मुझे याद करो तो पवित्र श्रेष्ठचारी बन जायेंगे। इस याद में तुम सबकुछ कर सकते हो। ऐसे नहीं कि धन्धाधोरी नहीं कर सकते हो।

बच्चे, बाप से पूछते हैं बाबा माला के दाने कौन बनेंगे? बच्चे, माला का दाना वही बनेंगे जो कर्मातीत अवस्था को पायेंगे। जिसको अन्त में कुछ भी याद न पड़े। कोई बहुत धनवान हैं, अनेक कारखाने आदि हैं… तो वह सब भूलना पड़े। तुम्हारे पास तो कुछ भी नहीं है। तुम जानते हो हम बाप के बच्चे हैं, भाई हैं। हमारा किसी में भी ममत्व नहीं है। मेरा-मेरा तो नहीं है ना! बस यह भाई है, यही कनेक्शन है और कोई कनेक्शन नहीं। इसे कहा जाता है रूहानी कनेक्शन। इतनी सारी आयु तो देह ही याद आई, आत्मा तो किसको याद ही नहीं आई। यह भी ड्रामा बना हुआ है, तो यह बातें बाप समझाते हैं और पावन बनने के लिए पुरुषार्थ कराते हैं। बाबा तुम बच्चों को टाइम तो देते हैं सिर्फ 8 घण्टा मुझे याद करो। वह है हद की सर्विस, यह है सारे वर्ल्ड की सर्विस। जरूर खायेंगे, पियेंगे, सोयेंगे, घूमेंगे…. सारा दिन तो कोई याद भी नहीं कर सकते। तुम बरोबर अभी बेहद की सर्विस करते हो। जैसे बाप विचार सागर मंथन करते हैं, ऐसे तुम बच्चों को भी मंथन करना सिखलाते हैं, करन-करावनहार है ना, तो तुमको करके ही सिखलाते हैं। पुरुषार्थ करते-करते तुम्हारी विजयी माला बन जायेगी। सतयुग त्रेता में जो भी आते हैं वह विजयी होते हैं। फिर सब एक्टर्स इस नाटक में पार्ट बजाने के लिए नम्बरवार आते हैं। सब इकट्ठे तो नहीं आ जायेंगे। तुम सभी एक्टर्स के रहने का स्थान ब्रह्म लोक है, वहाँ से यहाँ आ करके शरीर लेते हो। यह सब बातें बहुत सहज हैं, जो तुम बच्चों को ही याद रहती हैं। तुम्हारा घर स्वीट होम, साइलेन्स होम है। दूसरा कोई भी अपने घर को नहीं जानता है। वह तो कह देते हैं हम लीन हो जायेंगे। जैसे सागर से बुदबुदा निकलता है फिर उसी में समा जाता है, ऐसे हम भी उस ब्रह्म में लीन हो जाते हैं.. फिर कह देते हैं जहाँ देखो वहाँ ब्रह्म ही ब्रह्म है। वो ब्रह्म को ही ईश्वर समझते हैं इसलिए तुम्हारी बातें उनकी बुद्धि में बैठती नहीं हैं। तुम उनको उल्टा समझेंगे वो तुमको उल्टा समझेंगे क्योंकि उनका धर्म ही अपना है। परन्तु तुम जानते हो सभी आत्मायें शान्तिधाम में जरूर जायेंगी। बाकी हर एक आत्मा को अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है। इसको ही तो वन्डर कहते हैं। तुम बच्चे अभी कितनी महीनता में जाते हो, आत्मा कितनी छोटी है, कैसे पार्ट बजाती है। तो यह ज्ञान जैसे बाप के पास है, वह ज्ञान का सागर है, ऐसे तुम बच्चों के पास भी है, तुम अभी ऐसे ज्ञानवान बनते जाते हो। वह हैं भक्तिवान, तुम हो ज्ञानवान। भक्तिवान माना रात के रहने वाले और ज्ञानवान माना दिन के रहने वाले। आधाकल्प तुम सुखधाम में रहते हो, आधाकल्प दु:खधाम में रहते हो, इसको कहा जाता है दूरांदेशी, तुम्हारी बुद्धि अभी बहुत दूर-दूर जाती है – हम आत्मा स्वीट होम, ब्रह्माण्ड के रहने वाले हैं। बाप इस मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है, क्योंकि वह नॉलेजफुल है, उनको झाड़ की नॉलेज है। तुम अभी शरीर का भान मिटाने के लिये अपने को आत्मा समझते हो। दूसरी कोई भी चीज़ याद न आये। पूरा आत्म-अभिमानी बन जाना है। मैं आत्मा हूँ, मैं आत्मा हूँ, मेरे पास कुछ है ही नहीं जो आत्मा को याद पड़े। गाया जाता है अन्तकाल जो जो सिमरे, तो अगर कोई भी चीज़ होगी तो जरूर वह याद आयेगी। यह विचार करने की बात है। अगर कुछ भी है, कोई मित्र सम्बन्धी आदि भी हैं तो याद आयेगा जरूर। तुमने तो अपना सब कुछ शिवबाबा को दे दिया, फिर ऐसे नहीं समझो कि यह मेरी चीज़ है। जब बाबा को दे दिया फिर तुमको याद ही क्यों आये, तुम भूल जाओ। अगर वह याद पड़ता रहता है तो वो भी पिछाड़ी में नुकसान कर देगा। अभी तुमको यह सब नई-नई बातें मिलती हैं। पुरानी कोई भी चीज़ तुम्हारे पास नहीं है। जैसे पुरानी चीजें सब करनीघोर को दे देते हैं ना। ऐसे तुम भी अपना सब कुछ दे देते हो फिर याद नहीं आनी चाहिए। बस यही याद रहे कि मैं भाई (आत्मा) हूँ, बाबा का बच्चा हूँ, मेरे पास कुछ भी है ही नहीं। शरीर भी नहीं है। फिर नई दुनिया में सब नई चीज़ें मिलेंगी। वहाँ तो हीरे जवाहरात के महलों में जायेंगे। तो वह भविष्य की बात हुई। बाबा पूछते हैं बच्चे तुम क्या बनेंगे, तो बच्चे कहते हैं बाबा हम तो नारायण बनेंगे। यह तो खुशी की बात हुई ना। परन्तु अभी जब कोई भी पुरानी चीज़ याद न आये तब माला का दाना बनेंगे। 108 की माला तो राजाई की है। मन्दिरों में फिर 16108 की भी माला रखी होती है। तो माला के दाने बहुत ही बनेंगे। जितना जल्दी आयेंगे उतना सुख पायेंगे। जो पीछे आते हैं उन्होंने इतना सुख नहीं पाया है, उनके लिए थोड़ा टाइम सुख है तो दु:ख भी कम ही पायेंगे।

तो बाबा कहते हैं बच्चे यह ख्याल रखो कि पिछाड़ी में कुछ भी याद न आये। जो अर्पण किया हुआ है वह भी याद नहीं आना चाहिए। बाप कहते हैं मैं ऐसी कोई चीज़ नहीं लेता हूँ जो रह जावे और उसका वहाँ भरकर देना पड़े, क्योंकि मैं गरीबनिवाज़ हूँ। कई हैं जो देकरके फिर जब कोई कारण से भागन्ती हो जाते हैं तो मांगने लग पड़ते हैं। माया उनको एकदम डस लेती है। नहीं तो कहते हैं चाहे मारो चाहे प्यार करो, यह मस्ताना तुम्हारा दर कभी नहीं छोड़ेगा। कभी नहीं भूलेगा। तुम बच्चे यहाँ नर से नारायण बनने के लिये आये हो, तुम्हें कितना बड़ा वर्सा मिलता है, फिर यह क्यों कहते हो कि हम देते हैं। तुम तो लेते हो ना। कौन कहता है तुम कुछ दो। बाकी कोई एक पैसा भी देंगे तो वहाँ उनके लिए महल बन जायेगा। जैसे सुदामा ने चावल मुट्ठी दी। तो बच्चे सुदामा मिसल दाल चावल ले आते हैं, समझते हैं कि हमको महल मिल जायेंगे। ऐसे बच्चों पर बाप बहुत खुश होते हैं वाह! इनके नई दुनिया में महल बनने वाले हैं क्योंकि बहुत प्यार और सद्भावना से ले आते हैं। अहो भाग्य ऐसे बच्चों का, बहुत ऊंचा पद पायेंगे।

अभी ड्रामा के प्लैन अनुसार बाबा और तुम बच्चों की कदम-कदम वही चाल चलती है जो कल्प-कल्प चली है। तुम्हारे कदम-कदम में पदम हैं। देवताओं के पैर में पदम दिखाते हैं तो इसका भी कोई अर्थ होगा ना। अभी तुम्हारी पदमों की आमदनी होती रहती है। तुम बाबा के पास पदमापदमपति बनने के लिए आते हो। तो तुम इतने महान, महान, महान भाग्यशाली हो परन्तु उसमें भी फिर नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार हैं। तुम्हारा पुरुषार्थ कल्प-कल्प वही ड्रामा के प्लैन अनुसार चलता है, जैसेकि ड्रामा तुमको पुरुषार्थ कराता रहता है। ईश्वर भी ड्रामा के अनुसार तुम्हें मत देते हैं। तो ड्रामा के वश हुए ना। फिर यह ड्रामा किसके वश है? बच्चे, ड्रामा अनादि बना हुआ है, यह कोई नहीं कह सकता है कि ड्रामा कब बना? यह तो चलता ही रहता है। ड्रामा में नम्बरवन मत मिलती है ईश्वर की इसलिए उसको कहा जाता है – ईश्वरीय मत, जो तुम्हें देवता बनाती है और मनुष्य की मत छी-छी बनाती है। ईश्वरीय मत से तुम मनुष्य से देवता बनते हो। फिर 21 जन्मों के बाद मनुष्य मत पर मनुष्य बन जाते हो। अभी यह गीता का एपीसोड संगमयुग है जबकि दुनिया बदलती है। तो यह बच्चों की बुद्धि में होना चाहिए और बच्चों को बहुत-बहुत मीठा बनना चाहिए। प्यार से चलना होता है। जो बच्चे शान्त और मीठे हैं, उनका पद भी ऊंचा होगा। अभी तुम्हें ईश्वरीय बुद्धि मिली है, तुम समझते हो कि हम बेहद के बाबा की सन्तान बने हैं, बाबा से वर्सा ले रहे हैं। तो अथाह खुशी होनी चाहिए। बाप कहते हैं बच्चे स्वर्ग से भी यहाँ तुम्हारा बहुत-बहुत ऊंच पद है। बाप सिर्फ तुमको पढ़ाते हैं। भगवानुवाच, मैं तुमको डबल सिरताज राजाओं का राजा बनाता हूँ, तो अपनी तकदीर पर तुमको बहुत खुश रहना चाहिए। वाह! बाबा आ करके क्या हमारी तकदीर बनाते हैं, जो पत्थर जैसे जीवन को हीरे जैसा बना देते हैं! अच्छा !

मीठे मीठे सिकीलधे रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप व दादा का याद प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ऊंच पद पाने के लिए बहुत-बहुत शान्तचित रहना है, मीठा बनना है, सबके साथ प्यार से चलना है।

2) जो कुछ बाबा को अर्पण कर दिया, उसे भूल जाना है, उसकी याद भी न आये। कभी यह संकल्प भी न आये कि हम बाबा को देते हैं।

वरदान:- स्मृति स्वरूप के वरदान द्वारा सदा शक्तिशाली स्थिति का अनुभव करने वाले सहज पुरुषार्थी भव 
सदा शक्तिशाली, विजयी वही रह सकते हैं जो स्मृति स्वरूप हैं, उन्हें ही सहज पुरुषार्थी कहा जाता है। वे हर परिस्थिति में सदा अचल रहते हैं, भल कुछ भी हो जाए, परिस्थिति रूपी बड़े से बड़ा पहाड़ भी आ जाए, संस्कार टक्कर खाने के बादल भी आ जाएं, प्रकृति भी पेपर ले लेकिन अंगद समान मन-बुद्धि रूपी पांव को हिलने नहीं देते। बीती की हलचल को भी स्मृति में लाने के बजाए फुलस्टॉप लगा देते हैं। उनके पास कभी अलबेलापन नहीं आ सकता।
स्लोगन:- ज्ञान की पराकाष्ठा पर पहुंचना है तो गुप्त रूप से पुरुषार्थ करो।

 

[wp_ad_camp_5]

 

Font Resize