today murli 14 november

TODAY MURLI 14 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 14 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 13 November 2018 :- Click Here

14/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, body consciousness makes you cry. Become soul conscious and you will be able to make the right effort; there will be honesty in your hearts and you will be able to follow the Father completely.
Question: When can your stage become fearless and constant in adverse situations and calamities?
Answer: When you have full faith in the knowledge of the drama. When any calamity comes in front of you, it is said that it is fixed in the drama ; you overcame it in the previous cycle too. There is no need to be afraid of anything in this. However, you children have to become mahavirs. Those who are the Father’s full helpers and are His worthy children, those who are seated on His heart-throne, are the ones who are always able to remain stable. Their stage remains constant.
Song: O Traveller from the faraway land, take me with You. 

Om shanti. When it is the time of destruction, some people are definitely saved. Some from Rama’s army and some from Ravan’s army are definitely saved. The army of Ravan cry out. One is that they weren’t able to go with him and, second, there are many difficulties at the end because there is a lot of distress. Among you children too, those who are especially loved are the ones who are worthy to watch destruction. They are the ones with courage. For example, it is shown of Angad that he remained completely stable. No one, apart from you children, can watch destruction. There is so much distress. It will be just as when someone is being operated on and some people can’t stand there and watch it. You will continue to see all of that in front of you. There will continue to be cries of distress. Those who are good, specially loved Baba’s worthy helpers are seated on the Father’s heart throne. There wasn’t just one Hanuman. The whole rosary is of Hanuman and the mahavirs. There is the rosary of Rudraksh. The rosary of God Rudra is called the rosary of Rudra. A Rudraksh bead is very valuable. Amongst Rudraksh beads, some are real and others are artificial. The same type of rosary can be bought for either a hundred rupees or two rupees. It is the same with everything. The Father makes you become like diamonds and, in comparison to that, everyone else is artificial. In front of God, the Truth, everyone else is false and not worth a penny. There is a saying: Darkness cannot remain hidden in front of the sun. That One is the Sun of Knowledge. Ignorance cannot remain hidden in front of Him. You are receiving the truth from the true Father. You know that whatever people say about God, the Father, the Truth, it is all lies. You now explain that the God of the Gita is Shiva and not Shri Krishna, the deity with divine virtues. It is now the confluence age and then there will definitely be the golden age. The Shri Krishna soul is now receiving knowledge. People think that he gives knowledge; there is so much difference! That One is the Father and this one is the child. They have made the Father completely disappear and have inserted the name of the child. As you progress further, the truth will eventually emerge. This is the first and foremost thing. Why have people considered God to be omnipresent? Because they have inserted Krishna’s name in the Gita. You know these things. Shri Krishna and the deity souls have completed their 84 births. It is sung: Souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. We are the first ones to become separated. The rest of the souls stay with Baba up there. No one understands the meaning of this. Among you, too, there are scarcely any who are able to explain these things accurately. It is body consciousness that makes you cry a great deal. Only those who are soul conscious will make very good effort and they are also able to imbibe everything very well. This is why it is said: Follow the Father. The Father also comes to act. Both are the Father. You cannot tell which Father is saying something because both Bap and Dada are in this body. You have to follow the One who comes to act. The Father explains: Children, become soul conscious! Many very good children are body conscious because they don’t remember the Father. Those who are not yogis are unable to imbibe anything. Honesty is required here. You have to follow Him fully. Whatever you hear, imbibe it and then continue to explain to others. You have to remain fearless. You have to remain firm on the drama. When any calamities come, it is understood that they are fixed in the drama. You overcame difficulties before. All of you are mahavirs, are you not? Your name is glorified. Eight are very good mahavirs and then there are 108 a little less than them, and then 16,000 a little less than them. You definitely have to become that. This kingdom was also established in the previous cycle, and so it has to happen now. Many develop doubts and then leave. If they had faith, they would not divorce such a Father. Sometimes, even when someone is forced to drink the nectar of knowledge, as you make little children do, they don’t drink it. The Father gives you the milk of knowledge to drink and, in spite of that, you don’t drink it. You turn your face completely away and so you become completely useless. You then say: I don’t want anything from the Mother and Father. I am unable to follow shrimat. In that case, how will you become elevated? Shrimat is from God. So you should also write this slogan: The Incorporeal, the Ocean of Knowledge, the Purifier, God Shiva, the Teacher, speaks: Mothers are the gateway to heaven. These pointsshould enter your intellects for you to explain. All students would definitely be numberwise. They are playing their parts in the drama. We remember Him at the time of sorrow. The Father lives in the faraway land. We souls remember Him. Everyone remembers Him at the time of sorrow but not a single person remembers Him in happiness. It is now the world of sorrow, is it not? It is very easy to explain this. First of all, you have to explain that the Father is the One who establishes heaven, and so why should we not receive the sovereignty of heaven? You know that not everyone will receive the inheritance. If everyone were to come to heaven, there would be no hell. How could there then be expansion? It is remembered that Bharat is the imperishable land, that is, it is the birthplace of the eternal Father. Bharat itself was heaven. We say with happiness: There was heaven 5000 years ago. There definitely are the pictures of the masters of heaven. They say that 3000 years before Christ , Bharat used to be heaven. The sun and moon dynasties definitely existed in Bharat. There are also their images. It is so easy! This knowledge works on your intellects. The soul of Baba had this knowledge in Him and so He made us souls imbibe it. He alone is the k nowledge -full One. He says: I teach you Raja Yoga through this Prajapita Brahma and he then becomes the king of kings. This knowledge will then disappear. You are now once again receiving knowledge. You children now have to issue a challenge. Very good, firstclass intellects are needed for this. Baba never keeps anything first class for himself. He would say: All of these buildings that have been built are for the children to live in. Otherwise, where would the children come and stay? One day, all the buildings will belong to us. There is going to be a huge crowd of devotees on God’s doorstep. They have made many into God. In practic e, that One is the only One. You understand how much of a crowd there will be. There is a lot of blind faith in the world. When fairs take place, there is such a crowd there. Sometimes, they even fight among themselves. So many people die in such big crowds; a lot of damage is caused. So, this discus of self-realisation is very good. You should also definitely write down these slogans. At the end, everyone has to bow down in front of the mothers. They make such pictures of the Shaktis! The Father is having the ammunition of knowledge made for you children. He says: Prove this! This is easy. Devotees remember God; sages make spiritual endeavour in order to meet God. God is called the Father. We are truly His children. They speak of a brotherhood, that Hindus and Chinese are brothers. So, their Father would be One, would he not? In the physical form, they are brothers and sisters, and so there cannot be vicious vision. This is the way to remain pure. The Father also says: Lust is the great enemy. However, you have to understand this. The one main thing is: God is the Father of all. The Father is the One who establishes heaven and so you surely have to receive the inheritance from the Father. You had the inheritance and you then lost it. This is a play about happiness and sorrow. This has to be explained very well. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Imbibe honesty and follow every act of the Father. Drink the nectar of knowledge and also inspire others to drink it. Become fearless.
  2. With the awareness of you children of God being brothers, make your vision and attitude pure.
Blessing: May you have faith in the intellect and be a victorious jewel by keeping your specialities in front of you and thereby happily move constantly forward.
Keep all your specialities, not your weaknesses, in front of you and you will have faith in yourself. Do not think about your weaknesses too much and you will continue to move forward happily. Have the faith that the Father is the Almighty Authority, and so those who hold onto His hand will definitely go across. Those who constantly have such faith in the intellect become victorious jewels. Let there be faith in the self, faith in the Father and full faith in every scene of the drama while you observe and you will become victorious.
Slogan: Maintain the royalty of purity and you will become detached from limited attractions.

*** Om Shanti ***

Contd.

Sweet elevated versions of Mateshwari.

The expanse of tamoguni Maya

There are the three words, “satoguni, rajoguni and tamoguni” and it is essential to understand them accurately. People believe that these three qualities co-exist at the same time, but what does your conscience say? Do these three qualities co-exist at the same time or does each of the three qualities have a part in separate ages? This conscience says that these three do not co-exist at the same time. When it is the golden age (satyug), everything is satoguni, when it is the copper age, everything is then rajoguni and when it is the iron age, everything is then tamoguni. When it is the time for sato, rajo and tamo do not exist. When it is the time for rajo, there cannot then be satogun. People simply believe that all these three virtues have continued to exist at the same time. It is an absolute mistake to say that. They believe that when a person is telling the truth and is not committing any sin, he is satoguni. However, one’s conscience says that when we speak of being satoguni, then satogun means complete happiness, that is, the whole world is satoguni. However, you cannot say that those who speak the truth are satoguni and that those who tell lies are iron-aged and tamoguni and that the world has continued to move along in this way. Now, when we speak of the golden age, then that means that the whole world is satoguni and satopradhan. Yes, there was a point in time when it was such a golden age and the whole world was satoguni. That golden age does not exist now. It is now the iron-aged world, that is, there is the tamopradhan kingdom over the whole world. How can there be anything satoguni in this tamopradhan era? Now, there is extreme darkness which is called the night of Brahma. The golden age is the day of Brahma and the iron age is the night of Brahma, and so we cannot combine the two. Achcha.

BRAHMA KUMARIS MURLI 14 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 November 2018

To Read Murli 13 November 2018 :- Click Here
14-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – देह-अभिमान है रुलाने वाला, देही-अभिमानी बनो तो पुरुषार्थ ठीक होगा, दिल में सच्चाई रहेगी, बाप को पूरा फालो कर सकेंगे”
प्रश्नः- किसी भी परिस्थिति वा आपदा में स्थिति निर्भय वा एकरस कब रह सकती है?
उत्तर:- जब ड्रामा के ज्ञान में पूरा-पूरा निश्चय हो। कोई भी आफत सामने आई तो कहेंगे यह ड्रामा में थी। कल्प पहले भी इसे पार किया था, इसमें डरने की बात ही नहीं। परन्तु बच्चों को महावीर बनना है। जो बाप के पूरे मददगार सपूत बच्चे हैं, बाप की दिल पर चढ़े हुए हैं, ऐसे बच्चे ही सदा स्थिर रहते, अवस्था एकरस रहती है।
गीत:- ओ दूर के मुसाफिर…….. 

ओम् शान्ति। जब विनाश का समय होता है तो कुछ बच तो जाते ही हैं, राम की सेना या रावण की सेना दोनों से बचते जरूर हैं। तो रावण की सेना चिल्लाती है। एक तो हम साथ नहीं गये और फिर पिछाड़ी में बहुत तकलीफ होती है क्योंकि त्राहि-त्राहि बहुत होती है। तुम बच्चों में भी अनन्य जो हैं वही लायक होंगे विनाश देखने के। वही हिम्मत वाले होंगे। जैसे अंगद के लिए बतलाते हैं कि वह स्थिर रहा ना। विनाश सिवाए तुम बच्चों के और कोई देख न सके। त्राहि-त्राहि ऐसी होती है, जैसे आपरेशन होने के समय कोई खड़े नहीं हो सकते हैं। यह तुम सामने देखते रहेंगे। हाहाकार होता रहेगा। जो अच्छे अनन्य बच्चे, बाबा के मददगार सपूत बच्चे हैं, वह दिल पर चढ़े हुए हैं। हनूमान कोई एक नहीं था। सब हनूमान, महावीरों की ही माला है। रुद्राक्ष माला होती है ना। रुद्र भगवान् की भी जो माला है उसका नाम ही है रुद्र माला। रुद्राक्ष एक बहुत कीमती बीज होता है। रुद्राक्ष में भी कोई रीयल, कोई आर्टीफिशल होते हैं, वही माला 100 रूपये की भी मिलेगी, वही माला दो रूपये की भी मिलेगी। हरेक चीज़ ऐसे है। बाप हीरे जैसा बनाते हैं, उसकी भेंट में सब आर्टीफीशल ठहरे। सच परमात्मा के आगे सब झूठे वर्थ नाट ए पेनी हैं। एक कहावत है ना – सूर्य के आगे अन्धेरा कभी छिप नही सकता। अब यह है ज्ञान सूर्य, उनके आगे अज्ञान कभी छिप नहीं सकता। तुमको सच्चे बाप द्वारा सच मिल रहा है। तुम जानते हो सच्चे ईश्वर बाप के लिए मनुष्य जो बोलते हैं वह झूठ बोलते हैं।

अभी तुम समझाते हो गीता का भगवान् शिव है, न कि दैवी गुणों वाला देवता श्रीकृष्ण। अभी है संगमयुग, फिर सतयुग जरूर होगा। श्रीकृष्ण की आत्मा अभी ज्ञान ले रही है। मनुष्य फिर समझते हैं ज्ञान दे रही है। कितना फ़र्क हो गया है। वह बाप, वह बच्चा। बाप को एकदम गुम कर दिया है और बच्चे का नाम डाल दिया है। आगे चलकर आखिर सच निकल पड़ेगा। पहली मुख्य बात है ही इस पर। सर्वव्यापी क्यों समझा है? क्योंकि गीता में कृष्ण का नाम डाल दिया है। इन बातों को तुम जानते हो। श्रीकृष्ण अथवा देवी-देवताओं की जो आत्मायें हैं उन्होंने 84 जन्म पूरे लिए हैं। गाया भी जाता है आत्मा परमात्मा अलग रहे बहुकाल….. हम ही सबसे पहले बिछुड़े हैं। बाकी सब आत्मायें तो बाबा के साथ वहाँ रहती हैं। इसका अर्थ कोई नहीं समझते। तुम्हारे में भी कोई बिरले हैं जो यथार्थ रीति समझा सकते हैं। देह-अभिमान ही बहुत रुलाता है। देही-अभिमानी ही ठीक पुरुषार्थ करेंगे तो धारणा भी अच्छी रीति हो सकती है इसलिए कहा जाता है फालो फादर। एक्ट में भी फादर आते हैं। फादर तो दोनों हो जाते हैं। यह कौन-सा फादर कहते हैं, सो तुमको थोड़ेही पता पड़ता है क्योंकि बापदादा दोनों इस शरीर में हैं। एक जो एक्ट में आते हैं, उसे फालो किया जाता है। बाप समझाते हैं – बच्चे, देही-अभिमानी बनो। बहुत अच्छे बच्चे भी देह-अभिमानी हैं क्योंकि बाबा को याद नहीं करते। जो योगी नहीं, वह धारणा नहीं कर सकते। यहाँ तो सच्चाई चाहिए। पूरा फालो करना चाहिए। जो सुनते हो वह धारण कर समझाते रहो। निर्भय रहना है। ड्रामा पर खड़े रहना है। कोई भी आफतें आदि आती हैं तो समझते हैं यह ड्रामा में है। तकल़ीफ पास तो की है ना। तुम सब महावीर हो ना। तुम्हारा नाम बाला है। 8 बहुत अच्छे महावीर हैं, 108 उनसे कम हैं, 16 हजार उनसे कम। बनना तो जरूर है। यह बादशाही कल्प पहले भी स्थापन हुई है सो होनी है। बहुत संशय में आकर छोड़ भी देते हैं। निश्चय हो तो ऐसे बाप को फ़ारकती थोड़ेही दे सकते हैं। जोर करके ज्ञान अमृत पिलाया जाता है तो भी पीते नहीं, जैसे छोटा बच्चा होता है ना। बाप ज्ञान दूध पिलाते हैं तो भी पीते नहीं हैं, एकदम मुँह फेर लेते हैं तो बिल्कुल निकम्मे बन जाते हैं। कह देते हैं हमको मात-पिता से कुछ भी नहीं चाहिए, मैं श्रीमत पर नहीं चल सकता हूँ तो श्रेष्ठ फिर कैसे बनेंगे? भगवान् की है श्रीमत। तो यह भी एक स्लोगन लिख देना चाहिए कि निराकार ज्ञान सागर पतित-पावन भगवान् शिवाचार्य वाच – माता स्वर्ग का द्वार है। समझाने के लिए बुद्धि में प्वाइंट्स आनी चाहिए। स्टूडेंट जरूर सब नम्बरवार होंगे। ड्रामा में वही अपना-अपना पार्ट बजा रहे हैं। दु:ख में हम उनको याद करते हैं। दूर देश में बाप रहते हैं, उनको हम आत्मायें याद करती हैं। दु:ख में सिमरण सब करें, सुख में एक भी नहीं करते हैं। अभी तो दु:ख की दुनिया है ना। यह समझाना बहुत सहज है। पहले-पहले तो समझाना है कि बाप है स्वर्ग की स्थापना करने वाला, तो क्यों नहीं हमको स्वर्ग की बादशाही मिलनी चाहिए। यह भी जानते हैं सब तो वर्सा नहीं पायेंगे। सब स्वर्ग में आ जायें तो फिर नर्क हो ही नहीं। वृद्धि कैसे हो?

यह तो गाया हुआ है – भारत अविनाशी खण्ड अर्थात् अविनाशी बाप का बर्थ प्लेस है। भारत ही स्वर्ग था। हम खुशी से बोलते हैं – 5 हजार वर्ष पहले स्वर्ग था। बरोबर स्वर्ग के मालिकों के चित्र तो हैं ना। कहते भी हैं क्राइस्ट से 3 हजार वर्ष पहले भारत हेविन था। जरूर भारत में ही सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी थे। चित्र भी उनके हैं। कितना सहज है। बुद्धि में यह नॉलेज चलती है। बाबा की आत्मा में यह नॉलेज थी तो हम आत्माओं को भी धारणा कराई है। वह है ही नॉलेजफुल। फिर कहते भी हैं कि इस प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा राजयोग सिखलाता हूँ जिससे वह राजाओं का राजा बन जाते हैं। फिर यह नॉलेज प्राय: लोप हो जायेगी। अब ज्ञान फिर से तुमको मिल रहा है। तो अब तुम बच्चों को चैलेन्ज देनी है। इसमें बड़ी अच्छी फर्स्टक्लास बुद्धि चाहिए। बाबा अपने पास कभी भी ऊंची वस्तु नहीं रखते। कहेंगे इतने मकान आदि बनाये हैं, वह भी बच्चों के रहने के लिए बनाये हैं। नहीं तो बच्चे कहाँ आकर रहेंगे। एक दिन तो सब मकान अपने हाथ आ जायेंगे। भगवान् के दर पर भक्तों की भीड़ तो होनी ही है ना। उन्हों ने तो बहुत भगवान् बना दिये हैं। प्रैक्टिकल में तो यह है ना। तुम समझते हो कितनी भीड़ होगी। दुनिया में तो बहुत अन्धश्रधा है। मेले लगते हैं तो कितनी भीड़ हो जाती है। कभी-कभी तो आपस में लड़ पड़ते हैं। भीड़ में फिर कितने मर पड़ते हैं। बहुत नुकसान हो जाता है। तो यह स्वदर्शन चक्र बहुत अच्छा है। स्लोगन भी जरूर लिख देना चाहिए। पिछाड़ी में माताओं के आगे सभी को झुकना है। शक्तियों के ऐसे चित्र बनाते हैं। बाप बच्चों के लिए ज्ञान बारूद बनवाते हैं। कहते हैं सिद्ध करो। वह तो सहज है। भक्त भगवान् को याद करते हैं, साधू साधना करते हैं – भगवान् से मिलने लिए। गॉड को फादर कहा जाता है। बरोबर हम उनकी सन्तान ठहरे। ब्रदरहुड कहते हैं ना। चीनी-हिन्दू भाई-भाई हैं। तो बाप एक हुआ ना। जिस्मानी रूप में फिर बहन-भाई हो जाते हैं, विकारी दृष्टि हो न सके। यह युक्ति है पवित्र रहने की। बाप भी कहते हैं – काम महाशत्रु है। परन्तु जब कोई समझे। मुख्य एक बात है – भगवान् सबका बाप है। बाप स्वर्ग की स्थापना करने वाला है तो जरूर बाप से वर्सा मिलना चाहिए। वर्सा था, अब गँवाया है। यह सुख-दु:ख का खेल है। यह अच्छी रीति से समझाना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सच्चाई को धारण कर बाप की हर एक्ट को फालो करना है। ज्ञान अमृत पीना और पिलाना है। निर्भय बनना है।

2) हम भगवान् के बच्चे आपस में भाई-भाई हैं – इस स्मृति से अपनी दृष्टि-वृत्ति को पवित्र बनाना है।

वरदान:- विशेषताओं को सामने रख सदा खुशी-खुशी से आगे बढ़ने वाले निश्चयबुद्धि विजयी रत्न भव
अपनी जो भी विशेषतायें हैं, उनको सामने रखो, कमजोरियों को नहीं तो अपने आपमें फेथ रहेगा। कमजोरी की बात को ज्यादा नहीं सोचो तो फिर खुशी में आगे बढ़ते जायेंगे। यह निश्चय रखो कि बाप सर्वशक्तिमान है तो उसका हाथ पकड़ने वाले पार पहुंचे कि पहुंचे। ऐसे सदा निश्चयबुद्धि विजयी रत्न बनते हैं। अपने आपमें निश्चय, बाप में निश्चय और ड्रामा की हर सीन को देखते हुए उसमें भी पूरा निश्चय हो तब विजयी बनेंगे।
स्लोगन:- प्युरिटी की रायॅल्टी में रहो तो हद की आकर्षणों से न्यारे हो जायेंगे।

मातेश्वरी जी के मधुर महावाक्य

“तमोगुणी माया का विस्तार”

सतोगुणी, रजोगुणी, तमोगुणी यह तीन शब्द कहते हैं इसको यथार्थ समझना जरुरी है। मनुष्य समझते हैं यह तीनों गुण इकट्ठे चलते रहते हैं, परन्तु विवेक क्या कहता है – क्या यह तीनों गुण इकट्ठे चले आते हैं वा तीनों गुणों का पार्ट अलग-अलग युग में होता है? विवेक तो ऐसे ही कहता है कि यह तीनों गुण इकट्ठे नहीं चलते जब सतयुग है तो सतोगुण है, द्वापर है तो रजोगुण है और कलियुग है तो तमोगुण है। जब सतो है तो तमो रजो नहीं, जब रजो है तो फिर सतोगुण नहीं है। यह मनुष्य तो ऐसे ही समझकर बैठे हैं कि यह तीनों गुण इकट्ठे चलते आते हैं। यह बात कहना सरासर भूल है, वो समझते हैं जब मनुष्य सच बोलते हैं, पाप कर्म नहीं करते हैं तो वो सतोगुणी होते हैं परन्तु विवेक कहता है जब हम कहते हैं सतोगुण, तो इस सतोगुण का मतलब है सम्पूर्ण सुख गोया सारी सृष्टि सतोगुणी है। बाकी ऐसे नहीं कहेंगे कि जो सच बोलता है वो सतोगुणी है और जो झूठ बोलता है वो कलियुगी तमोगुणी है, ऐसे ही दुनिया चलती आती है। अब जब हम सतयुग कहते हैं तो इसका मतलब है सारी सृष्टि पर सतोगुण सतोप्रधान चाहिए। हाँ, कोई समय ऐसा सतयुग था जहाँ सारा संसार सतोगुणी था। अब वो सतयुग नहीं है, अभी तो है कलियुगी दुनिया गोया सारी सृष्टि पर तमोप्रधानता का राज्य है। इस तमोगुणी समय पर फिर सतोगुण कहाँ से आया! अब है घोर अन्धियारा जिसको ब्रह्मा की रात कहते हैं। ब्रह्मा का दिन है सतयुग और ब्रह्मा की रात है कलियुग, तो हम दोनों को मिला नहीं सकते। अच्छा। ओम् शान्ति।

TODAY MURLI 14 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 14 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 13 November 2017 :- Click Here

14/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are on a spiritual pilgrimage. You don’t have to return to this land of death. Your aim is to change from human beings into deities and also make others that.
Question: What are the signs of those who become 16 celestial degrees full?
Answer: 1) They fill their aprons with the jewels of knowledge very well and also fill the aprons of others. They donate the jewels of knowledge and elevate their status. 2) They are strong mahavirs. Maya cannot shake them even slightly. They continue to move along while being constant and unshakeable from the beginning to the end.
Question: What is the way to become free from sin and become a charitable soul?
Answer: Tell the Father your story of this final birth and take advice from Him. Together with that, remember the Father and also continue to donate the jewels of knowledge and you will become a charitable soul.
Song: No one is unique like the Innocent Lord.

Om shanti. Baba has explained to you the meaning of “Om”. The Father also says: Om shanti. Om shanti. The form of a soul and his aim is peace. The religion of souls is peace. Baba also gives you His own introduction. As is the introduction of the Supreme Father, the Supreme Soul, so the introduction of souls. People give such a long meaning of the word “Om”. They say that “Om” means God; there is also praise of the Innocent Lord. Shankar is not called the Innocent Lord because Shankar doesn’t tell you the secrets of the beginning, the middle and the end. It is only the Innocent Lord who tells you. The Innocent Lord gives you the inheritance. Shankar doesn’t give you the inheritance. It isn’t that Shankar gives you peace; no. In order to give us peace, He has to come into a corporeal form and explain to us. Shankar doesn’t come into a corporeal form. It is only the Innocent Lord who gives you peace, happiness, prosperity and a long life. Because the Father is imperishable, everything He gives you is imperishable. He also gives you the imperishable inheritance. The drama is also said to be imperishable. It is now that limited dramas and plays are created. This is the imperishable drama; it is an unlimited play. Physical plays are those of human beings; those continue to repeat. For instance, they have created a play about the killing of Kans. They will show that same play again. This unlimited dramabegins with the golden age. It will end at the end of the iron age and then it will repeat. It is said that the world repeats. Which world? Truly, the golden-aged world that used to exist is now to be repeated. After half the cycle, the history and geography of the old world repeat. The new world is called the day and the old world is called the night. The Father explains all of these things. He is the Ocean of Knowledge. You have to take knowledge from the beginning to the end; you have to study. That study continues for 15 to 20 years. This is a very important examination. The aim here is to change from human beings into deities. You have to burn away all the sins on your heads. For this, Baba has taught you the spiritual pilgrimage from where you will not return to this land of death. You have been on many physical pilgrimages for birth after birth. You children now know the beginning and also the middle. So many big things happen in the middle period: the kingdom of Ravan begins, the path of devotion begins, people begin to become corrupt. It takes half the cycle to become completely impure. The kingdom of Maya begins in the copper age. So, devotion and the kingdom of Ravan are the two things that make you fall. You will find God after doing devotion. The Father says: You do the most devotion. You are the ones who take knowledge. When there is the confluence of knowledge and devotion, you need to have disinterest. You renounce the five vices. Theirs is hatha yoga. It was Shankaracharya who taught them. They study many types of yoga. They leave their homes and families and have yoga with the brahm element. They are called gyanis who have knowledge of the elements, or yogis who have yoga with the elements. They give knowledge of the elements. You understand that the cycle has to turn and that you have to play your parts. In front of those people, these things are just like beating drums in front of monkeys. This dance of knowledge is performed to change human beings who are like monkeys into those who are worthy of being in a temple. They have referred to the dance of knowledge as the drums (of Shankar). They also say that Rama took an army of monkeys. Baba explains that all of you were monkeys. Shiv Baba beats the drums of knowledge and changes you from monkeys into those who are worthy of being in a temple. Those people believe that Ravan’s kingdom was in Lanka. The Father says: The whole world is in the middle of the ocean. At this time there is Ravan’s kingdom over the whole world. Those people relate limited things whereas the Father explains unlimited secrets to you. The whole world is trapped in Ravan’s chains. Because of the vices, the whole world is said to be impure. Impure ones call out: O Purifier, come and purify us! It is souls that have to become pure and return home. You know that we are all brothers and sisters, children of the one Father. Therefore, Prajapita Brahma is also definitely needed. Shiv Baba says: You incorporeal souls belong to the clan of Shiva. In the corporeal form, you become brothers and sisters. In the incorporeal form, you are all brothers. Then, Prajapita Brahma comes here in the corporeal form. Therefore, you are made into brothers and sisters. Spiritually, you are brothers and physically, you are brothers and sisters. So, have the faith that you are the Prajapita Brahma Kumars and Kumaris who belong to the clan of Shiva. You have to claim your inheritance from the Father. The Father is also called the eternal Surgeon. Each one’s karmic bondages are separate. The Father comes and explains to you the philosophy of action, neutral action and sinful action. Each one has to tell his or her own life story. You know that you become impure from the copper age onwards. This is now your final birth. Whatever sins you have committed have continued to accumulate. We now have to accumulate charity. How can the sins of so many births be cut away and how can we become charitable souls? The Father says: Remember Me, and your sins will be cut away. You also have to donate jewels of knowledge. Those who donate a great deal will claim a high status. No one donates in the same way as Bharat does. From where do they receive it? The unlimited Father is the greatest Philanthropist. The Father comes and gives you the donation of life. He fills your aprons and makes you content. It depends on you children as to whether you fill your aprons more or less. You fill your aprons, numberwise. There are so many Brahmins and so many centres. They will continue to grow in number. The genealogical tree of Shiv Baba is imperishable. This is the corporeal genealogical tree which is created here. According to the drama, you have to change from shudras into Brahmins. It is not possible for you not to become this. According to the drama, the same number are to become this. They are the ones who become the deities of the golden age. The tree continues to grow. Very many trees shed their leaves. Some become such strong mahavirs that Maya cannot shake them. They remain constant and unshakeable. “Constant” means that they continue to move along from the beginning to the end. You children are also called mahavirs. You have to become unshakeable and stable. None of you can say that you have become 16 celestial degrees full; no. You definitely have to become that. What are the signs of those who become 16 celestial degrees full? They fill their aprons very well and also fill the aprons of others. According to the drama, whatever knowledge they imbibed in the previous cycle, they will do that again. They observe everything as detached observers. You definitely have to make effort. You cannot receive a reward without making effort. All those human beings who make effort are inspired by human beings. It was human beings who created the scriptures. You are now receiving shrimat from the Supreme Father, the Supreme Soul. God is the Highest on High. His place of residence is the highest on high. The Father has come to make you into the masters of the land of happiness and the land of peace. He takes everyone to the land of peace. He is such a great, unlimited Guide. He is the only One, but there are many guides who take you on physical pilgrimages. There are many guides at those kumbha melas. This is the real kumbha mela, but there is just the one Guide. You are the Pandava Army. Those people have shown the five Pandavas. In fact, the praise is yours. This is the Shakti Army. It is said: Salutations to the mothers. The main thing is Bharat. This One is the Mother and Father of All. He purifies everyone. Not everyone believes in Krishna. Because Krishna’s name was inserted in the Gita, people don’t consider Bharat to be such an elevated pilgrimage place. The Father says: Look at what the condition of human beings has become by studying the Gita! The Father gives everyone an inheritance. There is plenty of knowledge. Even if you made the ocean into ink, the knowledge would still be unlimited; there cannot be an end to it. In the Gita, instead of saying “Salutations to Shiva” they have put Krishna’s name. You now have to become sticks for the blind. You have to give the Father’s introduction and explain who the Highest on High is: the Supreme Father, the Supreme Soul. From whom will you receive the inheritance? From Him. You also received your inheritance through Brahma in the previous cycle when establishment took place. You definitely have to go around the castes. You become Brahmins from shudras. A sacrificial fire is created by brahmin priests. You are true Brahmins whereas those brahmins are false brahmins. God speaks: I teach you children Raja Yoga. Here, it is God who is teaching whereas there, human beings teach human beings. First of all, give everyone the Father’s introduction: What is your relationship with the Supreme Father, the Supreme Soul? No matter how much you explain, they still say that God is omnipresent; they are those with stone intellects. Oh! but we are asking you about a relationship! Can you have a relationship with someone who is omnipresent? Continue to hold exhibitions and there will continue to be expansion. You will continue to receive many votes. Baba continues to write: Write to the religious leaders and invite them. You then also have to keep full guard. If you prove these two or three things, all their business would grow slack. Therefore, you children have to increase service with great force. Many understand all of this, but, as soon as they go outside, everything is finished. It is difficult for them to understand the world cycle. Write a letter to those who sign their names: You filled in this form and then you went back to sleep. Why? Effort is required, but whatever efforts children have made according to the drama, that is fine. Whatever is fixed in the drama is repeated. However much service had to increase and however many Brahmins had to be created, that many became Brahmins. There will continue to be growth. Some will recognise the Father in a second. Some will recognise Him after seven days, some will take a month. Some will become slack while moving along. Then they will become alert with the life-giving herb. You children know that you are responsible for making Bharat into heaven by following shrimat. You have to make others into residents of heaven by following shrimat. This is a play. You are now going to Shivalaya. At first you were residents of heaven and then, after you took so many births, Ravan began to make you into residents of hell. You have now become complete residents of hell and poverty-stricken. Baba says: You children become the spinners of the discus of self-realisation; you cut off Ravan’s head. You conquer Ravan, the enemy. Ravan is a foreigner. It used to be our kingdom of Rama. The whole world has now been defeated by Ravan. This is the cottage of sorrow. The golden age is the cottage free from sorrow. They have a hotel here called the Ashoka Hotel, just as sannyasis have given themselves the name Shiva. The rosaries of Shiva and Vishnu are very well known. A rosary of Brahmins cannot be created. There cannot even be a rosary of Krishna. This is the rosary of Rudra, of souls. The rosary of Vishnu is of the family path. People say: Make us pure like them. Your aim and objective is in front of you. You are becoming beautiful from ugly. You are kicking the old world away. The Krishna soul was beautiful and this is why the globe of heaven is shown on his palm. They have shown ugly images of Krishna, Narayan and Shiva. They don’t even know Shiva, the Creator of all. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Give the donation of life to human beings, in the same way that the Father does. Take the donation from the unlimited Father and donate to others. Definitely become a great donor.
  2. Become a spinner of the discus of self-realisation and cut Ravan’s head off. Become one who has unlimited disinterest and renounce the vices.
Blessing: May you be a hero actor and play your accurate part in the drama by considering problems to be a game.
Not a single act of a hero actoris ordinary and every part he plays is accurate. No matter how many problems there are, what the circumstances are, you are not dependent on anyone. Be one who has a right and overcome problems in such a way that it is as though you overcome them as in a game. There is always happiness in a game, no matter what type of game it is. Even if, externally, you have a part of crying, you are aware internally that all of it is an unlimited game. By your considering it to be a game, great problems will become light.
Slogan: Those who remain constantly happy are worthy of being praised.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_1]

Read Murli 12 November 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 14 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 13 November 2017 :- Click Here
14/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम रूहानी यात्रा पर हो, तुम्हें वापिस इस मृत्युलोक में नहीं आना है, तुम्हारा उद्देश्य है मनुष्य से देवता बनना और बनाना”
प्रश्नः- 16 कला सम्पूर्ण बनने वालों की निशानी क्या होगी?
उत्तर:- वह अपनी झोली ज्ञान रत्नों से अच्छी तरह से भरकर दूसरों की भी भरेंगे। ज्ञान रत्नों का दान कर अपना मर्तबा ऊंच बनायेंगे। 2- वह पक्के महावीर होंगे, उन्हें माया जरा भी हिला नहीं सकती। वह अखण्ड-अचल शुरू से अन्त तक चलते रहेंगे ।
प्रश्नः- पापों से मुक्त हो पुण्य आत्मा बनने की युक्ति क्या है?
उत्तर:- इस अन्तिम जन्म की कहानी बाप को सुनाकर राय लो। साथ-साथ बाप को याद करते ज्ञान रत्नों का दान करते रहो तो पुण्य आत्मा बन जायेंगे।
गीत:- भोलेनाथ से निराला…

ओम् शान्ति। बाबा ने ओम् का अर्थ समझाया है। बाप भी कहते हैं – ओम् शान्ति। ओम् शान्ति। आत्मा का अपना स्वरूप वा लक्ष्य शान्ति है। आत्मा का धर्म शान्त है। बाबा भी अपना परिचय देते हैं। जैसे परमपिता परमात्मा का परिचय वैसे आत्माओं का। मनुष्य ओम् का अर्थ कितना लम्बा करते हैं। ओम् अर्थात् भगवान भी कह देते हैं। भोलानाथ की भी महिमा है। भोलानाथ शंकर को नहीं कहेंगे क्योकि शंकर आदि-मध्य-अन्त का राज़ नहीं समझाते हैं। वह तो भोलानाथ ही बताते हैं। भोलानाथ वर्सा देते हैं – शंकर वर्सा नहीं देते। ऐसे भी नहीं शंकर कोई शान्ति देते हैं। नहीं। शान्ति देने लिए भी साकार में आकर समझाना पड़े। शंकर तो साकार में आते नहीं। भोलानाथ ही शान्ति, सुख, सम्पत्ति, बड़ी आयु भी देते हैं। हर चीज़ अविनाशी देते हैं क्योंकि अविनाशी बाप है, वर्सा भी अविनाशी देते हैं। ड्रामा को भी अविनाशी कहा जाता है। हद के ड्रामा वा नाटक तो अभी बने हैं। यह तो अनादि ड्रामा है। यह बेहद का नाटक है। स्थूल नाटक मनुष्यों के होते हैं। वह रिपीट होते हैं। जैसे कंस वध का खेल बनाया है फिर वही खेल दिखायेंगे। यह बेहद का ड्रामा सतयुग से शुरू होता है। कलियुग अन्त तक खलास हो फिर रिपीट होता है। वर्ल्ड रिपीट कहा जाता है। कौन सी वर्ल्ड? बरोबर सतयुगी वर्ल्ड जो थी वह अब रिपीट होनी है। आधाकल्प के बाद पुरानी वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होती है। नई को दिन, पुरानी को रात कहा जाता है। यह सब बातें बाप समझाते हैं। वह है ज्ञान सागर। शुरू से लेकर अन्त तक ज्ञान लेना है। पढ़ना है। वह पढ़ाई 15-20 वर्ष चलती है। यह बड़ा भारी इम्तहान है, इनका उद्देश्य है मनुष्य से देवता बनना। जो भी सिर पर पाप हैं उनको जलाना है। इसके लिए बाबा ने रूहानी यात्रा सिखलाई है। जहाँ से वापिस इस मृत्युलोक में नहीं आना है। जिस्मानी यात्रा तो जन्म-जन्मान्तर बहुत की, तुम बच्चों ने आदि को भी जाना है, मध्य को भी जाना है। मध्य में कितनी बड़ी-बड़ी बातें होती हैं। रावण राज्य शुरू होता है। भक्ति मार्ग शुरू होता है। मनुष्य भ्रष्टाचारी बनने शुरू होते हैं। सम्पूर्ण भ्रष्टाचारी बनने में आधाकल्प लगता है। माया का राज्य द्वापर से शुरू होता है। तो भक्ति और रावण राज्य दोनों नाम गिरने के हैं। भक्ति के बाद भगवान मिलेगा। बाप कहते हैं तुम सबसे जास्ती भक्ति करते हो। फिर ज्ञान भी तुम ही लेते हो। ज्ञान और भक्ति के संगम पर तुमको वैराग्य चाहिए। तुम सन्यास करते हो 5 विकारों का। उनको सिखलाने वाला शंकराचार्य है, उनका है हठ योग। अनेक प्रकार के योग सीखते हैं। घरबार छोड़ ब्रह्म के साथ योग रखते हैं। उनको तत्व ज्ञानी, तत्व योगी कहते हैं। ज्ञान देते भी हैं तत्व का। समझते हैं चक्र फिरना है, हमको पार्ट बजाना है। यह बातें उनके आगे ऐसे हैं जैसे बन्दर के आगे डमरू बजायें। अब बन्दर मिसल मनुष्यों को मन्दिर लायक बनाने के लिए यह ज्ञान डांस करते हैं, ज्ञान डांस को उन्होंने डमरू नाम रख दिया है। और कहते हैं राम ने बन्दर सेना ली। बाबा समझाते हैं तुम सब बन्दर थे। शिवबाबा ज्ञान डमरू बजाए बन्दर से मन्दिर बनाते हैं। वह समझते हैं लंका में रावण का राज्य था। बाप कहते हैं सारी दुनिया सागर के बीच खड़ी है। इस समय सारी दुनिया में रावण राज्य है। वह हद की बातें सुनाते हैं। बाप तो बेहद का राज़ समझाते हैं। सारी दुनिया रावण की जंजीरों में फॅसी हुई है। सारी दुनिया को विकारों के कारण पतित कहा जाता है। पतित पुकारते हैं कि हे पतित-पावन आओ, आकर हमको पावन बनाओ। आत्मा को ही पावन बन वापिस घर जाना है।

तुम जानते हो एक बाप के बच्चे हम भाई बहन ठहरे। तो जरूर प्रजापिता ब्रह्मा भी चाहिए। शिवबाबा कहते हैं कि तुम निराकार आत्मायें शिव वंशी हो फिर साकार में भाई बहन बनते हो। निराकार में सब भाई-भाई हो। फिर प्रजापिता ब्रह्मा साकार में आते हैं तो तुमको भाई बहन बनाते हैं। रूहानी रीति से भाई-भाई जिस्मानी रीति से भाई बहन हो। तो यह निश्चय रखना है कि हम शिववंशी प्रजापिता ब्रह्माकुमार कुमारियाँ हैं। वर्सा पाना है बाप से। बाप को अविनाशी सर्जन भी कहा जाता है। हर एक का कर्मबन्धन अलग-अलग है। बाप आकर कर्म, अकर्म और विकर्म की गति समझाते हैं। हर एक को अपनी-अपनी जीवन कहानी सुनानी होती है। यह तो जानते हो द्वापर से लेकर तुम पतित बनते हो। अब यह तुम्हारा अन्तिम जन्म है, जो कुछ पाप किये हैं वह सब कुछ जमा होते आये हैं। अब हमको पुण्य जमा करने हैं। इतने जन्म के पाप कैसे कटें और हम पुण्य आत्मा कैसे बनें? बाप कहते हैं – मुझे याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे और ज्ञान रत्नों का दान करना है। जो बहुत दान करेंगे वह ऊंच मर्तबा पायेंगे। भारत जैसा दान कोई करता नहीं। अब उनको मिलता कहाँ से है? बेहद का बाप सबसे बड़ा फ्लैन्थ्रोफिस्ट है। बाप आकर जीयदान देते हैं। झोली भरकर तृप्त कर देते हैं। अपनी झोली कम वा जास्ती भरना वह तो बच्चों के ऊपर है। नम्बरवार झोली भरते हैं। कितने ब्राह्मण ब्राह्मणियाँ हैं। कितने सेन्टर्स हैं। वृद्धि को पाते जायेंगे। शिवबाबा का सिज़रा है अविनाशी। यह फिर साकार सिजरा बनता है। ड्रामा अनुसार शूद्र से ब्राह्मण बनना ही है। तुम नहीं बनो – यह नहीं हो सकता। ड्रामा अनुसार इतने बनने हैं जितने ड्रामा अनुसार बने थे, वही सतयुग के देवता बनते हैं। झाड वृद्धि को पाता रहता है। कितने झड़ भी जाते हैं। कोई तो ऐसे पक्के महावीर बनते हैं जो माया उनको हिला न सके। वह अखण्ड अचल रहते हैं। अखण्ड अर्थात् शुरू से लेकर चलते आते हैं। महावीर भी तुम बच्चों को कहा जाता है। अचल स्थिर बनना है, ऐसा कोई कह न सके कि हम 16 कला बन गये हैं। नहीं। बनना जरूर है। 16 कला सम्पूर्ण बनने की निशानी क्या है? जो अच्छी रीति अपनी झोली भरकर औरों की भरते हैं। ड्रामा अनुसार कल्प पहले जिसने ज्ञान की धारणा की है, सो करेंगे। हम साक्षी होकर देखते हैं। पुरुषार्थ तो जरूर करना पड़े। पुरुषार्थ के बिगर प्रालब्ध नहीं मिल सकती। वह सब मनुष्य, मनुष्य के द्वारा पुरुषार्थ करते हैं। शास्त्र भी मनुष्यों ने बनाये हैं। अब तुमको परमपिता परमात्मा की श्रीमत मिलती है। ऊंचे ते ऊंचा है भगवान। ऊंचे ते ऊंचा उनका ठाँव है। बाप आया है सुखधाम, शान्तिधाम का मालिक बनाने। सबको शान्तिधाम ले जाते हैं। कितना बड़ा बेहद का पण्डा है। वह एक है, बाकी जिस्मानी यात्रा पर ले जाने वाले तो अनेक पण्डे हैं। कुम्भ के मेले पर ढेर पण्डे होते हैं। यह सच्चा-सच्चा कुम्भ का मेला है। परन्तु पण्डा एक ही है। तुम हो पाण्डव सेना। उन्होने तो 5 पाण्डव दिखाये हैं। वास्तव में गायन इनका है। यह है शक्ति सेना, वन्दे मातरम्। मुख्य है भारत। यह सबका माता-पिता है, सबको पावन बनाते हैं। कृष्ण को तो सब नहीं मानते। कृष्ण का नाम गीता में डालने के कारण भारत को इतना ऊंच तीर्थ समझते नहीं हैं। बाप कहते हैं गीता पढ़ते-पढ़ते मनुष्यों की क्या हालत हो गई है। बाप तो सबको वर्सा देते हैं। ज्ञान तो अथाह है। सागर को स्याही बनाओ तो भी बेअन्त, अन्त नहीं पाया जाता। गीता में शिवाए नम: के बदले कृष्ण का नाम डाल दिया है। अब तुमको अन्धों की लाठी बनना है। बाप का परिचय देना है कि ऊंचे ते ऊंच कौन है? परमपिता परमात्मा। वर्सा किससे मिलेगा? उनसे। कल्प पहले भी ब्रह्मा द्वारा वर्सा लिया था। स्थापना हुई थी। वर्णों को जरूर फिरना है। तुम शूद्र से ब्राह्मण बनते हो। ब्राह्मणों द्वारा यज्ञ रचा जाता है। तुम हो सच्चे ब्राह्मण, वह हैं झूठे ब्राह्मण। भगवानुवाच – मैं तुम बच्चों को राजयोग सिखलाता हूँ। यहाँ तुमको भगवान पढ़ाते हैं। वहाँ मनुष्य, मनुष्य को पढ़ाते हैं। सबको पहले बाप का परिचय देना है। परमपिता परमात्मा से आपका क्या सम्बन्ध है? कितना भी समझाओ फिर भी कह देते हैं परमात्मा सर्वव्यापी है। पत्थरबुद्धि हैं। अरे हम सम्बन्ध पूछते हैं, सर्वव्यापी का सम्बन्ध होता है क्या? प्रदर्शनी करते जाओ तो वृद्धि होती जायेगी। तुमको बहुत वोट्स मिलती जायेंगी। बाबा लिखते रहते हैं – धर्म के नेताओं आदि को निमंत्रण देना है। फिर पहरा भी पूरा रखना है। अगर तुमने यह दो तीन बातें सिद्ध कर दी तो उन सबका धन्धा ही ठण्डा हो जायेगा।

तो बच्चों को सर्विस जोर-शोर से बढ़ानी है। बहुत समझते भी हैं। परन्तु बाहर निकले और खलास। सृष्टि चक्र को समझ ले वह मुश्किल हैं। ऐसे-ऐसे जो सही कर जाते हैं उनको फिर चिट्ठी लिखनी चाहिए कि तुम फार्म भरकर फिर सो गये क्यों? मेहनत चाहिए परन्तु ड्रामा अनुसार जो बच्चों ने मेहनत की है वह ठीक है। ड्रामा में जो था सो रिपीट हुआ। जितनी सर्विस बढ़नी थी, जितने ब्राह्मण बनने थे उतने बने हैं। वृद्धि होती जायेगी। कोई सेकेण्ड में बाप को पहचानेंगे। कोई 7 दिन में, कोई एक मास में, कोई चलते-चलते ठण्डे हो पड़ते हैं। फिर संजीवनी बूटी से खड़े हो जाते हैं। बच्चे जानते हैं – श्रीमत पर हम भारत को स्वर्ग बनाने के रेसपान्सिबुल बने हुऐ हैं। श्रीमत से स्वर्गवासी बनाना है। यह खेल है। अब तुम शिवालय में चलते हो। पहले तुम स्वर्गवासी थे फिर इतने जन्मों के बाद रावण ने नर्कवासी बनाना शुरू किया। अब पूरे नर्कवासी, कंगाल बन गये हैं।

बाबा कहते हैं तुम बच्चे स्वदर्शन चक्रधारी बनते हो। रावण का सिर काटते हो। रावण दुश्मन पर जीत पाते हो। रावण फारेनर है। हमारा रामराज्य था। अब सारी दुनिया ने रावण से हराया है। यह शोक वाटिका है। सतयुग अशोक वाटिका है। यहां अशोका होटल नाम रखा है। जैसे सन्यासियों ने शिव नाम रखा है। शिव और विष्णु की माला मशहूर है। ब्राह्मणों की माला बन न सके। कृष्ण की भी माला बन न सके। यह है रुद्र माला। विष्णु की माला प्रवृत्ति मार्ग की है। मनुष्य कहेंगे इन जैसा पावन बनाओ। एम आबॅजेक्ट सामने खड़ा है। तुम श्याम से सुन्दर बन रहे हो। पुरानी दुनिया को लात मारते हो। कृष्ण की आत्मा गौरी थी, इसलिए स्वर्ग का गोला उनके हाथ में दे दिया है। कृष्ण, नारायण, शिव को भी काला कर दिया है। जो शिव सर्व का रचयिता है, उसे भी जानते नहीं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते ।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप समान मनुष्य आत्माओं को जीयदान देना है। बेहद के बाप से दान लेकर दूसरों को देना है। महादानी जरूर बनना है।

2) स्वदर्शन चक्रधारी बन रावण का सिर काटना है। बेहद का वैरागी बन विकारों का सन्यास करना है।

वरदान:- ड्रामा में समस्याओं को खेल समझ एक्यूरेट पार्ट बजाने वाले हीरो पार्टधारी भव 
हीरो पार्टधारी उसे कहा जाता – जिसकी कोई भी एक्ट साधारण न हो, हर पार्ट एक्यूरेट हो। कितनी भी समस्यायें हो, कैसी भी परिस्थितियां हों किसी के भी अधीन नहीं, अधिकारी बन समस्याओं को ऐसे पार करें जैसे खेल-खेल में पार कर रहे हैं। खेल में सदा खुशी रहती है, चाहे कैसा भी खेल हो, बाहर से रोने का भी पार्ट हो लेकिन अन्दर रहे कि यह सब बेहद का खेल है। खेल समझने से बड़ी समस्या भी हल्की बन जायेगी।
स्लोगन:- जो सदा प्रसन्न रहते हैं वही प्रशन्सा के पात्र हैं।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 12 November 2017 :- Click Here

Font Resize