today murli 14 july

TODAY MURLI 14 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 14 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 13 July 2018 :- Click Here

14/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to claim your inheritance of liberation-in-life from the Father, become free from all the bondages of Maya. Only those who are liberated in life here can claim the status of liberation-in-life there.
Question: How is the seed of this knowledge imperishable?
Answer: The sun and moon dynasty kingdoms are established through this knowledge. The kingdom is very big. Even though souls who have taken knowledge might leave the path of knowledge in the middle, they still come back at the end because they too have to come into the kingdom. Those who have had even the slightest seed of knowledge sown in them will come; they cannot go anywhere else. This aspect proves knowledge to be imperishable.
Song: No one is unique like the Innocent Lord. 

Om shanti. You children are now sitting in front of the Innocent Lord, Praneshwar (the Bestower of Life), and you know very well that you are once again receiving your inheritance of heaven from the unlimited Master, the Innocent Lord. Your intellects go there. Truly, you go back to the Father’s home with the Father. The Father has come to collect you, just as a bridegroom comes to collect his bride. The one Bridegroom comes and makes all the brides beautiful. His name is the Purifier. However, children forget the Father. It is in the drama for them to forget. The Father comes and explains all the secrets to you. The status of you lucky stars is even higher than that of the Father. Just as the Father is the Master of Brahmand, in the same way you too are masters of Brahmand. You used to reside with Me, your Father. Then, you children definitely had to play your part s. You know that you have come to Trilokinath (Master of the Three Worlds) in order to become the Vaikunthnaths (lords of Paradise). The Father says: Children, at this time, you are the masters of the three worlds and I am also the Master of the Three Worlds. Then, when the golden age comes, you become the masters of it; I don’t become that. I come to liberate you souls from the sorrow of Ravan. You have received a lot of sorrow from Ravan. You children have understood the drama. It doesn’t have four ages; it has five ages. The four ages are long ages whereas the confluence age is a leap age. You children should be aware of this knowledge because you have become the children of the Ocean of Knowledge. He is praised on the path of devotion: You are the Ocean of Knowledge and the Ocean of Peace. This cannot be the praise of the lords of Paradise. They are said to be full of all virtues, 16 celestial degrees full. There is no one like that in this iron age and so, surely, someone must have come and made them like that. Therefore, only you become the masters of heaven. Brahma, Vishnu and Shankar, who are the deities of the subtle region, are also shown with partners in order to depict the family path. So heaven also exists here. From the Brahmin clan you will go into the deity clan and then into the warrior clan. Sensible children pay very good attention to their studies. On the path of ignorance, when they have a son, they believe that an heir has come. You too say “Mama, Baba” and so you are heirs. Gandhiji was called Bapuji. In fact, in Bharat, they call many “mother and father”. People call an elderly person “Pitaji” (father). They say that just for the sake of saying it. This one is the Bapuji of all anyway. The Father is Praneshwar, that is, God of all souls. When you say “Father” your hearts experience the happiness of the inheritance and you have that feeling. The feeling that you children have is also numberwise, according to your efforts. Truly, the unlimited Father comes and teaches you Raja Yoga. Brahma, Vishnu and Shankar cannot teach Raja Yoga. God speaks: Deities are human beings with divine virtues. “Parmeshwar” means God, the Father. In Bharat, they speak of the Supreme Father, the Supreme Soul, Supreme God, the Father, and so your intellects go up above because you know that the Father resides up above. You children now understand that you too are residents of that place. We are now sitting personally in front of that Praneshwar. The Father personally reminds you and you therefore have the faith that you are not sitting in front of a sage or great soul, but truly in front of the Mother and Father. Why do you belong to Him? In order to claim your inheritance for your future 21 births from the Mother and Father. If you don’t have faith, why are you sitting here? There has to be a reason. No one without recognition can sit in front of someone. In the world, people recognise one another: this one is a sannyasi, this one is a g overnor. Here, this Father is incognito, but you understand that the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Resident of the supreme abode. Then the question of omnipresence doesn’t arise. Souls remember “O God, the Father!” If they themselves are God, why do they call out? This is something that needs little understanding. However, Maya makes you such that you don’t understand at all. One can’t trust what people say. Maya makes their intellects doubtful. They call out: “O God, the Father!” and then they say that they are the Father. So, why do they call out? Only a child would say “Father“. You only have to remember One. You are now sitting in front of the Father in person. You know that you now belong to the Supreme Father, the Supreme Soul. You are claiming the inheritance from Him. You will now not forget Him. The Father says: Children, become bodiless! Become pure! I have come to take you back. People sing in front of the deities: I am without virtue, I have no virtues. They sing praise of the deities. They consider themselves to be degraded sinners. The world was definitely completely viceless at the beginning. That was called heaven, Shivalaya. It was heaven established by Shiv Baba. The people of Bharat know that heaven exists, but they have forgotten that Bharat was heaven and that the original eternal deities used to rule there. When someone dies, people say that he has gone to heaven. Heaven exists in the golden age; it cannot exist in the iron age. When people print in the papers that someone has gone to heaven, ask them where heaven is. They believe that that person went to God in the supreme abode and that that is heaven. Or, they say that he has gone to the land of nirvana or that he has merged into the light. There is so much difference in the terms they use. That is called the great element of brahm. This is the element of the sky. This cannot be called the great element. That is the great element of brahm, Brahmand, where we souls reside egg-shaped. The Father too resides there. That is called the supreme abode. However, no one can merge into the element of brahm. Many points are explained to you children because you are sitting in front of the Father. Devotees continue to look for God. You know who does the most devotion on the path of devotion. Definitely, those who were worthy of worship at the beginning then became the first worshippers, devotees. Only you children know this. It is sung: You are worthy of worship and you are worshippers. However, those people think that God, the Father, Himself, becomes worthy of worship and a worshipper. That is wrong. The Father comes and makes you children worthy of elevated praise. However, not everyone will receive the liberation-in-life of heaven. Liberation-in-life will be received when you become free from the bondages of Maya. “Liberation-in-life” means to be free from the bondages of Maya. It isn’t that everyone will come in the golden age. Only those who study Raja Yoga will come in the golden age. On the path of knowledge, you have to become free from so many bondages. Meera didn’t have that many bondages. She simply used to say that she wanted to meet Krishna and would therefore remain pure. You have to go to the land of Krishna. Meera was one of the main, important devotees. You are part of the rosary of victory which is the most elevated and worshipped. A rosary of devotees is not worshipped. The rosary of those who make Bharat into heaven is worshipped. Devotees worship the rosary of you children. First of all, there is the rosary of Rudra and then it becomes the rosary of Vishnu. No one knows who the rosary represents; they simply continue to turn its beads. You will now no longer turn the beads of the rosary of devotees. Devotees turn the beads of the rosary of you children. You know that your rosary of victory is being created. Then, we ourselves will become worshippers and turn the beads of a rosary. You rule the kingdom and you will then become the first ones to turn the beads of a rosary. Others will learn devotion from you. You make the world into heaven. The Father is teaching you Raja Yoga and it is named the Gita. There has to be a name for a religious scripture. Although the knowledge disappears, the scriptures will be created. They have made it into a scripture and called it “Shrimad Bhagawad Gita”. They wrote the Gita for the path of devotion. That Gita is not for the path of knowledge. They relate so many different types of Gita. They never say: I am teaching you Raja Yoga. They would say: God departed having taught Raja Yoga. Then they sit and study the scripture of that. We are now listening to that same Gita from God in person and becoming the masters of heaven. The Father says: I only come once to teach you children Raja Yoga and to make you into kings of kings. Until the Bestower of Salvation comes, there will definitely continue to be praise of the path of devotion. Those who came in the previous cycle will come and listen to this again. Many are yet to become this. The sun and moon dynasty-kingdoms are being established and, therefore, very many people will come. This is why knowledge is never destroyed. Wealthy subjects, ordinary subjects, maids and servants are all needed. Such a big kingdom is being established. People don’t know how the golden-aged kingdom is established. If they were to know this, they would tell you about it. They have forgotten the Father. Instead of writing “Incorporeal God Shiva speaks” they have written “God Krishna speaks”. Immediately after Shiva Jayanti, there is Krishna Jayanti. Krishna is the Lord of Paradise. This One sits here and makes you into lords of Paradise. They have then shown Krishna in the copper age. The thread of knowledge of Bharat is so entangled. You now have to imbibe this very well and become knowledgefull. You have to see with how many marks you pass. If you pass now, you will pass every cycle. You have to study while living at home with your family. Nowhere else do old men and women, husband and wife, daughter-in-law etc. all study together. They don’t even study the scriptures like that. They tell women that they mustn’t study the scriptures. Only men become pandits. Here, just see who is studying! It is a wonder of the variety of old women who come here. While living at home, you have to remain as pure as a lotus and study Raja Yoga. You have to become God f atherlystudents. This is called the Godly college of the Brahma Kumars and Kumaris. God is teaching through Brahma. Brahma didn’t emerge from the navel of Vishnu. It would be said to be the navel of the Supreme Father, the Supreme Soul. Shiv Baba is the Seed. Brahma, Vishnu and Shankar emerged from Him. The meaning of all three are different. You children now understand that Vishnu is always shown with Lakshmi: there is the Nar-Narayan Temple (ordinary human and Narayan), and so they have also made him four-armed. If they have Narayan, Lakshmi would surely also be with him. Nar (male) becomes Narayan and nari (woman) becomes Lakshmi. They show Nar-Narayan with four arms. They should show Narayan and Lakshmi separately with two arms each. Such an accurate temple should be built. However, people don’t understand anything from the Nar-Narayan Temple. Together with Nar-Narayan, they also show Lakshmi. Mahalakshmi is worshipped at Deepmala (festival of lights). Mothers are praised so much. There is great praise of Jagadamba. Amba is very sweet because she is a kumari. This one is a half kumar. There is a lot of praise of kumaris in Bharat. However, they don’t know the importance of that. Jagadamba is praised a lot; the Father isn’t praised as much. The Father has come and uplifted the mothers and so you should become courageous. One has to be courageous to ride a lion. There will be assaults, but now that you belong to the Father, you mustn’t let go of your religion, no matter what happens. Become pure and definitely claim a high status. Meera also became pure. The Father tells you kumaris: Say that you want to become pure and the masters of Paradise. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become true heirs, you have to become sensible. Imbibe the study very well and become knowledge-full. Become praiseworthy like the Father.
  2. In order to become the most elevated in the rosary of victory, continue to cut away the bondage of Maya. Become very, very brave and courageous and definitely become pure.
Blessing: May you be one with an elevated character and remain constantly powerful by finishing the burden of being disobedient in small ways.
You have the order to wake up at amrit vela and so you get up and sit down. However, you are unable to achieve success with that method because the silence of sleep becomes mixed with that sweet silence. 2) The Father’s order is: Do not cause sorrow for any soul and do not take any sorrow. So, you do not cause sorrow, but you do take sorrow. 3) You do not get angry but you do become bossy. Being disobedient in such small ways makes your mind heavy. Now, finish this and make your image of being one who is obedient. You will then be said to be a constantly powerful soul with an elevated character.
Slogan: Instead of asking for regard, give everyone regard and you will continue to receive regard from everyone.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 14 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 July 2018

To Read Murli 13 July 2018 :- Click Here
14-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप से जीवनमुक्ति का वर्सा प्राप्त करने के लिए माया के सर्व बन्धनों से मुक्त बनो, यहाँ के जीवनमुक्त ही वहाँ जीवन-मुक्ति पद पाते हैं”
प्रश्नः- इस ज्ञान का बीज अविनाशी है – कैसे?
उत्तर:- इस ज्ञान से सूर्यवंशी और चन्द्रवंशी राजधानी स्थापन होती है, वह राजधानी बहुत बड़ी है, जो आत्मायें एक बार भी ज्ञान ले लेती हैं, भल बीच में छोड़कर चली जायें, फिर वह अन्त में आ जायेंगी, क्योंकि उन्हें भी राजधानी में आना ही है। जिसमें थोड़ा भी ज्ञान का बीज पड़ा है, वह आ जायेगा। जा नहीं सकता। यह बात ही ज्ञान को अविनाशी सिद्ध करती है।
गीत:- भोलेनाथ से निराला…….. 

ओम् शान्ति। बच्चे अब अपने भोलानाथ प्राणेश्वर के सम्मुख बैठे हैं और अच्छी रीति जानते हैं कि इस बेहद के मालिक भोलानाथ से हमको फिर से स्वर्ग का वर्सा मिल रहा है। बुद्धि वहाँ चली जाती है, बरोबर बाप द्वारा ही हम बाप के घर जाते हैं। बाप बुलाने आये हैं, जैसे साजन सजनी को बुलाने आते हैं। एक साजन आकर सब सजनियों को गुल-गुल बनाते हैं। उनका नाम ही है – पतित-पावन। परन्तु बच्चे बाप को भूल जाते हैं। यह भूलना भी ड्रामा के अन्दर है। बाप आकर सभी राज़ समझाते हैं। तुम लक्की सितारों का मर्तबा बाप से भी ऊंच है। जैसे बाप ब्रह्माण्ड का मालिक है, वैसे तुम भी ब्रह्माण्ड के मालिक हो। तुम भी मुझ बाप के साथ रहने वाले थे। फिर तुम बच्चों को तो पार्ट बजाना ही होता है। तुम जानते हो हम वैकुण्ठनाथ बनने के लिए त्रिलोकीनाथ के पास आये हैं। बाप कहते हैं – बच्चे, तुम भी इस समय त्रिलोकीनाथ हो, तो मैं भी त्रिलोकीनाथ हूँ। फिर सतयुग आता है तो उसके नाथ तुम बनते हो, मैं नहीं बनता हूँ। मैं आता ही हूँ तुम्हारी आत्मा को रावण के दु:खों से छुड़ाने। रावण से तुम्हें बहुत दु:ख मिला है। ड्रामा को तो बच्चे समझ गये हैं। इनके चार युग नहीं, बल्कि पांच युग हैं। चार हैं बड़े, एक संगमयुग लीप युग है। यह नॉलेज भी बच्चों के ध्यान में होनी चाहिए क्योंकि ज्ञान सागर के तुम बच्चे बने हो। भक्ति मार्ग में उसकी महिमा की जाती है। तुम ज्ञान के सागर, शान्ति के सागर हो। यह महिमा फिर वैकुण्ठनाथ की नहीं होती। उनको फिर कहा जाता है – सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला……..। इस कलियुग में तो होते नहीं, तो जरूर कोई बनाने वाला आया होगा। तो स्वर्ग के मालिक सिर्फ तुम ही बनते हो। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर जो सूक्ष्मवतनवासी देवतायें हैं उनको भी युगल दिखाते हैं – प्रवृत्ति मार्ग दिखाने लिए। तो स्वर्ग भी यहाँ ही होता है। ब्राह्मण वर्ण से तुम देवता वर्ण में आयेंगे फिर क्षत्रिय वर्ण में आयेंगे।

सयाने बच्चे जो होते हैं वह अच्छी रीति पढ़ाई पर ध्यान देते हैं। अज्ञान काल में भी बच्चा होता है तो समझते हैं वारिस आया है। तुम भी मम्मा-बाबा कहते हो तो वारिस ठहरे ना। जैसे गाँधी को बापू जी कहते थे, यूँ तो भारत में मात-पिता बहुतों को कहते हैं। बुजुर्ग को पिता जी कहते हैं। सिर्फ कहने मात्र कह देते। यह तो सभी का बापू जी है ही। प्राणेश्वर अर्थात् सभी आत्माओं का ईश्वर बाप है। बाप कहने से वर्से की खुशी दिल में आती है। वह भासना आती है। तुम बच्चों को भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार भासना आती है। बरोबर बेहद का बाप आकर राजयोग सिखलाते हैं। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर तो राजयोग सिखला न सकें। भगवानुवाच है। देवी-देवतायें हैं दैवीगुण वाले मनुष्य। परमेश्वर माना गॉड फादर। भारत में भी कहते हैं – परमपिता परमात्मा, सुप्रीम गॉड फादर, तो बुद्धि ऊपर में चली जाती है क्योंकि जानते हैं – फादर ऊपर में रहते हैं। अभी तुम बच्चे समझते हो – हम भी वहाँ के रहने वाले हैं। अभी हम उस प्राणेश्वर के सम्मुख बैठे हैं। बाप सम्मुख याद दिलाते हैं तो निश्चय करते हो – बरोबर यह कोई साधू-महात्मा नहीं, हम मात-पिता के सम्मुख बैठे हैं। क्यों उनके बने हो? मात-पिता से भविष्य 21 जन्मों का वर्सा लेने। अगर निश्चय नहीं तो क्यों बैठे हो? कारण चाहिए। बिना पहचान कोई किसी के सम्मुख बैठ न सके। दुनिया में तो एक-दो की पहचान होती है – यह सन्यासी है, यह गवर्नर है…….। यहाँ यह बाप तो है गुप्त। जबकि समझते हैं परमपिता परमात्मा परमधाम का रहने वाला है। फिर उसमें सर्वव्यापी की बात उठती ही नहीं। आत्मा याद करती है – ओ गॉड फादर। खुद ही परमात्मा होते तो फिर पुकारते किसके लिए? बहुत थोड़ी समझने की बात है। परन्तु माया ऐसा बना देती है जो समझते ही नहीं। जो बात मुख से कहते उस पर फिर विश्वास नहीं करते। माया संशयबुद्धि बना देती है। पुकारते भी हैं – ओ गॉड फादर, फिर कह देते हम ही फादर हैं तब पुकारते क्यों हैं? फादर अक्षर तो बच्चा ही कहेगा। याद एक को ही करना है। अभी तुम सम्मुख बैठे हो। जानते हो हम परमपिता परमात्मा के बने हैं। उससे वर्सा लेते हैं। अब तो नहीं भूलेंगे ना।

बाप कहते हैं – बच्चे, अशरीरी बनो, पवित्र बनो। मैं तुमको लेने आया हूँ। देवताओं के आगे गाते भी हैं – मुझ निर्गुण हारे में कोई गुण नाही। देवताओं की महिमा गाते हैं, अपने को नीच पापी समझते हैं। जरूर पहले सम्पूर्ण निर्विकारी दुनिया थी। उसको स्वर्ग शिवालय कहा जाता था। शिवबाबा का स्थापन किया हुआ स्वर्ग। भारतवासी जानते भी हैं – स्वर्ग होता है। परन्तु भारत स्वर्ग था, आदि सनातन देवी-देवतायें राज्य करते थे – यह भूले हुए हैं। कोई मरता है तो कहते हैं स्वर्ग पधारा। स्वर्ग तो होता है सतयुग में। कलियुग में थोड़ेही होता है। जब अखबार में लिखते हैं – स्वर्ग पधारा तो तुम पूछो स्वर्ग होता कहाँ है? समझते हैं – परमधाम में परमात्मा के पास गया वही स्वर्ग है। या तो कहते निर्वाणधाम गया या फिर कहते ज्योति ज्योत समाया। अक्षरों का कितना फ़र्क है। उसको कहा जाता है-ब्रह्म महतत्व। यह है आकाश तत्व। इनको महतत्व नहीं कहेंगे। महतत्व वह है – ब्रह्म महतत्व, ब्रह्माण्ड, जहाँ हम आत्मायें अण्डे मिसल रहती हैं। बाप भी वहाँ रहते हैं। उसको परमधाम कहा जाता है। बाकी ब्रह्म में कोई लीन नहीं हो सकता। बच्चों को बहुत प्वाइंट्स समझाई जाती है, जबकि सम्मुख बैठे हो। भक्त तो भगवान को ढूँढते रहते हैं।

तुम जानते हो – भक्ति मार्ग में सबसे जास्ती भक्ति कौन करते हैं? जरूर जो पहले पूज्य थे, वही फिर पहले पुजारी भक्त बनते हैं। यह सिर्फ तुम बच्चे ही जानते हो। गाते भी हैं – आपेही पूज्य, आपेही पुजारी। परन्तु वह समझते हैं कि परमात्मा बाप खुद ही पूज्य-पुजारी बनते हैं। यह तो रांग है। बाप आकर बच्चों को ऊंच महिमा लायक बनाते हैं। परन्तु सभी को स्वर्ग की जीवनमुक्ति नहीं मिलेगी। जीवनमुक्ति तो मिलेगी तब, जब माया के बंधनों से मुक्त होंगे। जीवनमुक्त अर्थात् माया के बन्धन से मुक्त। ऐसे नहीं कि सभी सतयुग में आयेंगे। सतयुग में तो वही आयेंगे जो राजयोग सीखते हैं। ज्ञान मार्ग में कितने बंधनों से निकलना पड़ता है! मीरा को कोई इतने बंधन नहीं थे। वह सिर्फ कहती थी – कृष्ण से मिलना है इसलिए पवित्र बनूँगी। तुमको तो कृष्णपुरी में जाना है। वह मीरा थी भक्त शिरोमणी। तुम हो विजय माला शिरोमणी, जो विजयमाला पूजी जाती है। भक्तों की माला कोई पूजी नहीं जाती। जो भारत को स्वर्ग बनाते हैं उन्हों की माला पूजी जाती है। भक्त तुम बच्चों की माला को पूजते हैं। पहले है रूद्र माला, फिर विष्णु की माला बनती है। यह कोई नहीं जानते कि माला किसकी बनी हुई है। सिर्फ माला सिमरते रहते हैं। अभी तुम भक्तों की माला तो नहीं सिमरेंगे। भक्त तुम बच्चों की माला सिमरते हैं। तुम जानते हो – हमारी विजयमाला बन रही है। फिर हम ही खुद पुजारी बन माला फेरेंगे। तुम राज्य भी करते हो फिर जाकर सबसे पहले तुम ही माला फेरेंगे। तुम से ही फिर भक्ति और भी सीखेंगे। तुम विश्व को स्वर्ग बनाते हो।

बाप राजयोग सिखलाते हैं – जिसका नाम गीता रखा है। धर्मशास्त्र का नाम तो चाहिए ना। भल ज्ञान प्राय:लोप हो जाता है परन्तु शास्त्र तो बनेंगे ना। शास्त्र बनाए उसका नाम श्रीमत भगवत गीता रखा है। भक्ति मार्ग के लिए गीता बनाते हैं। वह गीता कोई ज्ञान मार्ग के लिए नहीं है। कितनी गीतायें सुनाते रहते हैं! ऐसे कभी नहीं कहते कि तुमको राजयोग सिखाते हैं। कहेंगे भगवान राजयोग सिखाकर गया था। फिर उसके शास्त्र बैठ पढ़ते हैं। अब भगवान द्वारा सम्मुख वही गीता सुनकर हम स्वर्ग के मालिक बनते हैं। बाप कहते हैं – मैं तुम बच्चों को एक ही बार राजयोग सिखलाए सो राजाओं का राजा बनाने आया हूँ। जब तक सद्गति देने वाला न आये तब तक भक्ति मार्ग की महिमा जरूर चलेगी। जो कल्प पहले आये होंगे वही आकर यह सुनेंगे। अजुन तो बहुत बनने वाले हैं। सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी राजधानी स्थापन हो रही है, तो कितने आयेंगे! इसलिए ज्ञान का विनाश नहीं होता है। साहूकार प्रजा, साधारण प्रजा, नौकर-चाकर आदि भी चाहिए ना। कितनी बड़ी राजधानी स्थापन होती है! मनुष्य थोड़ेही जानते हैं कि कैसे सतयुगी राजधानी स्थापन होती है, अगर यह जान जायें तो सुनायें। बाप को ही भूल गये हैं। निराकार शिव भगवानुवाच के बदले कृष्ण भगवानुवाच लिख दिया है। शिव जयन्ती के बाद फट से कृष्ण जयन्ती आती है। वह कृष्ण है वैकुण्ठनाथ। यह बैठ तुमको वैकुण्ठनाथ बनाते हैं। कृष्ण को फिर द्वापर में ले गये हैं। कितना भारत के ज्ञान का सूत मूँझा हुआ है!

अब अच्छी रीति धारण कर नॉलेजफुल बनना है। देखना है – हम कितने मार्क्स से पास होते हैं? अभी पास होंगे तो कल्प-कल्पान्तर होंगे। गृहस्थ व्यवहार में रहते पढ़ना है। ऐसे तो कहाँ भी होता नहीं जो बूढ़े-बुढ़ियां, स्त्री-पुरुष, बहू आदि सब आकर पढ़े। शास्त्र भी ऐसे नहीं पढ़ते। माताओं को तो कहते – तुमको शास्त्र पढ़ना नहीं है। पुरुष ही पण्डित बन पढ़ते हैं। यहाँ देखो कौन-कौन पढ़ते हैं! कैसी-कैसी बुढ़िया आती हैं! वन्डर है ना। गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान पवित्र रह राजयोग सीखना है। गॉड फादरली स्टूडेन्ट बनना है। इसका नाम ही है – ईश्वरीय ब्रह्माकुमार-कुमारियों का कॉलेज। ईश्वर ब्रह्मा द्वारा पढ़ा रहे हैं। ब्रह्मा कोई विष्णु की नाभी से थोड़ेही निकला है। यह तो परमपिता परमात्मा की नाभी ही कहेंगे। बीजरूप तो शिवबाबा है ना। उनसे ब्रह्मा, विष्णु, शंकर निकले। तीनों का अर्थ ही अलग-अलग है। अभी तुम बच्चे समझते हो – बरोबर विष्णु को हमेशा लक्ष्मी देते हैं। नर-नारायण का मन्दिर है तो उनको भी चतुर्भुज बनाते हैं। नारायण होगा तो उनके साथ लक्ष्मी जरूर होगी। नर – नारायण, नारी – लक्ष्मी। नर-नारायण को 4 भुजा देते हैं। नारायण को अलग, लक्ष्मी को अलग तो दो-दो भुजा देनी चाहिए। ऐसा कायदे अनुसार मन्दिर बनाना चाहिए। परन्तु बिचारे नर-नारायण के मन्दिर से कुछ भी समझते नहीं। नर-नारायण के साथ लक्ष्मी भी देते हैं। दीपमाला में महालक्ष्मी की पूजा करते हैं। माताओं की कितनी महिमा है! जगत अम्बा की बड़ी महिमा है। अम्बा बड़ी मीठी लगती है क्योंकि कुमारी है। यह अधर है। तो कुमारियों का भारत में मान बहुत है। परन्तु महत्व को जानते नहीं हैं। जगत अम्बा का बहुत मान है। बाप का इतना नहीं। बाप ने आकर माताओं को ऊंच उठाया है। तो बहादुर बनना चाहिए। शेर पर सवारी चाहिए। अत्याचार होंगे। परन्तु बाप के बने तो धरत परिये धर्म न छोड़िये। पवित्र बनकर ऊंच पद जरूर पाना है। मीरा भी पवित्र बनी ना। बाप कुमारियों को कहते हैं – बोलो, हम पवित्र बन वैकुण्ठ का मालिक बनना चाहती हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सच्चा वारिस बनने के लिए सयाना बनना है, पढ़ाई को अच्छी रीति धारण कर नॉलेजफुल बनना है। बाप समान महिमा योग्य बनना है।

2) विजय माला में शिरोमणी बनने के लिए माया के बंधनों को काटते जाना है। बहुत-बहुत बहादुर बन पवित्र जरूर बनना है।

वरदान:- छोटी-छोटी अवज्ञाओं के बोझ को समाप्त कर सदा समर्थ रहने वाले श्रेष्ठ चरित्रवान भव
जैसे अमृतवेले उठने की आज्ञा है तो उठकर बैठ जाते हैं लेकिन विधि से सिद्धि को प्राप्त नहीं करते, स्वीट साइलेन्स के साथ निद्रा की साइलेन्स मिक्स हो जाती है। 2-बाप की आज्ञा है किसी भी आत्मा को न दु:ख दो, न दु:ख लो, इसमें दु:ख देते नहीं हैं लेकिन ले लेते हैं। 3- क्रोध नहीं करते लेकिन रोब में आ जाते हैं, ऐसी छोटी-छोटी अवज्ञायें मन को भारी कर देती हैं। अब इन्हें समाप्त कर आज्ञाकारी चरित्र का चित्र बनाओ तब कहेंगे सदा समर्थ चरित्रवान आत्मा।
स्लोगन:- सम्मान मांगने के बजाए सबको सम्मान दो तो सबका सम्मान मिलता रहेगा।

TODAY MURLI 14 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 14 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 13 July 2017 :- Click Here

14/07/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to become an heir, always take care that you don’t perform any action against shrimat.
Question: The Father has two types of heir children. Who are they?
Answer: One type are the surrendered children who receive sustenance directly from the mother and Father; the philosophy of their karma is very deep. Others are those who live at home with their families and remain pure trustees. They definitely need to work hard to become full trustees. If they do become full trustees and they break their attachment away from everyone, they can claim a right to the full inheritance.
Song: Our pilgrimage is unique.

Om shanti. You sweetest children heard the song and you also understood the meaning of the song, numberwise, according to your efforts. You understood it but, nevertheless, Baba explains it in detail. No one else in the world knows it. There is a lot of praise of the Supreme Father, the Supreme Soul, who is the Purifier, but no one knows His praise accurately. Instead, they say that He is omnipresent. Then they even sing that He is the Purifier. There must surely only be One of Him who comes and purifies everything. Since they say to Him “O Purifier, come!” He cannot be called omnipresent. This doesn’t enter anyone’s intellect. Bharat was pure and it is now impure. You were the masters of the pure world and are now in the impure world. You know that Baba is once again making you into the masters of the pure world. The One who makes you into the masters has come again. This is your live pilgrimage and its memorials have continued on the path of devotion in the form of those pilgrimages. You children know that the worthy-of-worship deities who became worshippers have become Brahmins and will now once again become deities. Only the Father sits here and tells you the deep philosophy of action, neutral action and sinful action. In the future new world, your actions will be neutral. As are the king and queen, so the subjects. All the rest will be in the land of peace. This is a very easy thing to understand. Bharat was the land of happiness. They were completely viceless and their deity names are very well known. No other names are mentioned: the sun-dynasty Lakshmi and Narayan and then the moon-dynasty Rama and Sita. It is said to be their dynasty. No one else’s dynasty continues for that long. The Christian dynasty only continues for a short time. It isn’t their sovereignty at the beginning. After half their time, when the number of people in that religion has increased, the kingdom begins. Edward, George etc., continue to change. (1st, 2nd etc.) They keep changing at short intervals. This is the only dynasty that continues for 1250 years. There cannot be any change in this. Only the names of the sun and moon dynast ies continue. It is understood that there will be different names, forms, times and places. The dynasty continues for a long time; there isn’t any change. The Father sits here at this time and teaches you to perform good actions. You children mustn’t cause sorrow for anyone. You are all sitting here to study. Many also stay in their own homes. Even while living at home, you can become heirs. The philosophy of karma of the children who live here and are sustained by the mother and Father is also unique. Those who live outside and consider everything to belong to Baba and live as trustees also become heirs. Yes, they definitely do have difficulties. When all attachment is broken away from everyone and there is full faith, you surrender everything to Him. You become trustees of His property while alive. No one else dies alive in this way. It is only when they are about to die that they make someone a trustee. They surrendereverything here. Baba says: Children, live as trustees. On the path of devotion too you have been saying that God gave you everything. The Father says: Children, you are now sitting personally in front of the Father. You now have to remove your attachment from everything, including your own body, and from all the things you have been saying that God gave you. “When He comes, I will surrender myself to Him. I will hand over everything to Him.” He doesn’t have to build any property here. He doesn’t take anything. In fact, He gives. He says: Just be a trustee and continue to ask (how to use everything) because a mistake can take place at any time. It does take time to become a firm trustee. Baba knows that it will take time. Only by becoming a trustee can you become an heir. Even those who are living here become trustees. Baba says: I give you the sovereignty of heaven in return. You have to take your next birth in the land of immortality. Become a trustee and also remain cautious. Generally, it is the poor who become instruments to claim a high status; they become heirs. Some will become masters towards the end of the moon dynasty. Until then, they will continue to serve those who are their seniors. Even now, there are some who don’t make any progress at all. It is then understood that perhaps that person doesn’t have anything in his or her fortune. By doing service, they will attain some status towards the end. That is, if they still remain here! If they leave here, they would receive the lowest status of all among the subjects. There are many who are midgets; they don’t make any progress at all. They don’t understand anything at all. Only the Father sits here and explains to you the philosophy of action, sinful action and neutral action. If they don’t perform any good actions here, their sinful actions continue to increase. You would say that those are their part s in the drama. They too are required, so that they stay in the kingdom and continue to serve. The servants will then continue to make progress and will claim a kingdom towards the end. If you perform such actions while staying with God, a lot of punishment will be given and your status will also be low. That is why you are told not to perform such sinful actions. Otherwise, the sins will increase. If you don’t do service, but just continue to eat here and don’t even study, then just see what the deep philosophy of such karma will be! The Father is teaching you such actions that they enable you to claim the kingdom of heaven. You have to perform such actions according to shrimat. You can see the (result of) devilish actions. They become poor and as sinful as Ajamil. There are some like that here too. Some become emperors whereas others become maids and servants and claim some status at the end. There are such ones whom the Father knows very well. If, while living here, you don’t perform good actions, you don’t have that intoxication either. The Father sits here and explains to you the philosophy of karma. The Father says: I am the Lord of the Poor. I have to carry out establishment with the pennies of the poor. I am not the Lord of the Rich. Generally, it is the mothers who are poor; they don’t have anything in their possession; they are not even half-partners. Otherwise, it is only if a will is made that a half share goes to her. It is only the sons in the home who are heirs, although the Government has made different laws nowadays. You know that Bharat is now totally poor. Kumaris too are generally poor until they go to their in-laws’ home. She receives everything when a deal is made for vice. This is the vicious world. Viceless people never put their palms together and bow down to anyone. No one knows that those who were viceless are the ones who fall into vice. Devotees think that Krishna is present everywhere. God never dies and never takes rebirth. It is only now that you have knowledge. You know that Lakshmi and Narayan were the highest of all masters of heaven. Sita and Rama cannot be called the masters of heaven. You are enlightened about that at this time. The Father explains: Since you now receive salvation, you mustn’t perform any actions that bring about degradation. First of all, let go of body consciousness. The best action of all is to remember the Father and to remain soul conscious. Continue to check yourself: Did any vice enter me? There mustn’t even be greed. Since everything belongs to God, why should I have any greed? We only do that which the Father tells us to do. The Father feels each one’s pulse very carefully. He also looks at each one’s chart. Those who are very poor still try to save 15 to 20 rupees and give that to Baba. They make their future. The Father advises you: Keep some in your bank account. You can give five rupees and keep ten in the bank. So they receive shrimat. They even starve and still give something to Shiv Baba. Shiv Baba uses this to arrange for your stay. This Brahma Baba is Shiv Baba’s one and only son. Why would this one collect anything, since he has given everything to serve the mothers? He gave everything away. You daughters then receive the inheritance for 21 births. You know that the deities had a pure household religion. They have now become impure. Therefore, Baba explains: This one is also a trustee. He has made you mothers into trustees. You just look after all of this and all attachment is thereby broken.

[wp_ad_camp_3]

 

The Father has given you visions of how you become the masters of the world. You can also see the preparations for destruction. However, no one understands who it is who carries out destruction. There definitely must be someone who is inspiring all of this. They understand that destruction is going to take place. Therefore, God must definitely be here. However, what form would He be in? How could Krishna come? Although they have given many the form of Krishna, that is still artificial. Many take on a form of Krishna and deceive others. Some have faith in those non-living idols. Therefore, they have visions of that one; they go and cling to him, because Krishna is the most lovely child of heaven. He has a lot of attraction. You have to claim a huge inheritance from Baba. The Father sits here and explains to you about karma. If any of you ask Baba, He can instantly tell you that you don’t understand anything. The actions being performed are such that they are sinful. There is a lot of body consciousness. They continue to mention Shiv Baba’s name, but there are many such devotees of Shiv Baba. His devotees are sitting there in Kashi. They have this mantra: Shiv Kashi, Vishwanath Ganga (The Universal Lord of the Ganges). They don’t understand the meaning of that at all. They believe that the Ganges emerged through that one. This is why they go and sit on the banks of the Ganges. They believe that they will be liberated there. They continue to chant: Shiv Kashi, Shiv Kashi. They then show that Bhagirath (the Lucky Chariot) brought the Ganges. Will they become pure from impure through the Ganges? They call out to the Purifier. No one knows who He is or how He teaches easy Raja Yoga. You now know how you can remember Shiv Baba. Yours is the pilgrimage of remembrance. Your physical pilgrimages have now ended. Those pilgrimages are physical whereas this pilgrimage is spiritual. The Father continues to say: Children, remember your home. This is a dirty world and a dirty old body. I am your Father. I will take you back home. So many will die in this Mahabharat War. There are millions of human souls. Where would they go? They will then go and live in the section of their own religion like stars. That is called the incorporeal world. A world is where many people live. If they say that they will merge into the brahm element, that is not a world. It is said that the incorporeal world is where souls reside. They then have to come here to play their part s. This drama is imperishable; there is no annihilation. The population of human beings continues to grow from the golden age to the iron age. There will not be any other religions there. You have this knowledge here. This knowledge will not remain there, in the golden age. At this time, the Father is making you seers of the three aspects of time, the same as He. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. While alive, remove your attachment from everyone, including your body and live as a trustee. Perform elevated actions. Never cause anyone sorrow.
  2. Don’t have greed for anything. Look at your chart every day and see that you don’t have any vices. Renounce body consciousness and perform the elevated action of remembering the one Father.
Blessing: May you protect your mind and intellect from any negative influence and become a number one victorious soul by having the awareness of the word “point”.
The special influence of Maya at this time is to create negative intentions and feelings in the mind and to finish accurate realisation. Therefore, adopt a means for your own safety beforehand. The special means for this is just the one word “point”. When any thought, word or deed is wasteful, put a “point” (full stop) and you will become a number one victorious soul. Recognise the forms of Maya, recognise the season and keep yourself safe.
Slogan: Those who have received the fortune of doing elevated service at the confluence age are multimillion times fortunate.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 12 July 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 14 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 July 2017

July 2017 all murlis :- Click Here

To Read Murli 13 July 2017 :- Click Here

14/07/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – वारिस बनना है तो सदा खबरदारी रखो कि कोई भी काम श्रीमत के विरुद्ध न हो”
प्रश्नः- बाप के पास दो प्रकार के वारिस हैं कौन से?
उत्तर:- एक तो समर्पित बच्चे हैं जो माँ बाप की डायरेक्ट परवरिश ले रहे हैं, लेकिन उनके कर्मों की गुह्य गति है। दूसरे जो घर-गृहस्थ में रहते पवित्र और ट्रस्टी हैं, उन्हें सम्पूर्ण ट्रस्टी बनने में मेहनत जरूर लगती है लेकिन अगर पूरे ट्रस्टी बन जायें, सबसे ममत्व निकल जाये तो पूरे वर्से के अधिकारी बन सकते हैं।
गीत:- हमारे तीर्थ न्यारे हैं….

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चों ने गीत सुना, जिसका अर्थ भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार बच्चों ने जाना, समझा फिर भी बाबा विस्तार से समझाते हैं। दुनिया में और कोई नहीं जानते। परमपिता परमात्मा जो पतित-पावन हैं, उनकी महिमा बहुत है। परन्तु उनकी महिमा को कोई यथार्थ रीति से जानते नहीं। वह तो और ही सर्वव्यापी कह देते हैं। फिर गायन भी करते हैं पतित-पावन.. वह तो जरूर एक होगा ना, जो सबको आकर पावन बनाते हैं, इसलिए उनको सर्वव्यापी कह नहीं सकते। जबकि उनको कहते हैं पतित-पावन आओ। यह किसकी बुद्धि में नहीं आता। भारत पावन था, अभी पतित है। तुम पावन दुनिया के मालिक थे, अभी पतित दुनिया में हो। जानते हो हमको बाबा फिर से पावन दुनिया का मालिक बनाते हैं, जो मालिक बनाने वाले थे वही आये हुए हैं। यह है तुम्हारी चैतन्य यात्रा, जिसके यादगार फिर भक्ति मार्ग में वह यात्रा चली आती है। तुम बच्चे जानते हो कि अभी वही पूज्य देवी देवता जो पुजारी बने थे, वही ब्राह्मण बने हैं फिर सो देवता बनेंगे। बाप ही बैठ कर्म-अकर्म-विकर्म की गुह्य गति समझाते हैं। भविष्य नई दुनिया में तुम्हारे कर्म अकर्म होंगे। यथा राजा रानी तथा प्रजा… बाकी सब शान्तिधाम में थे। यह तो बड़ी सहज बात है कि भारत सुखधाम था। सम्पूर्ण निर्विकारी थे, जिन्हों का देवी-देवता नाम मशहूर है। दूसरा कोई नाम नहीं लेते हैं। लक्ष्मी-नारायण सूर्यवंशी फिर राम सीता चन्द्रवंशी थे। फिर उन्हों की डिनायस्टी कहा जाता है। इतनी और किसकी डिनायस्टी नहीं चलती है। क्रिश्चियन की भी थोड़ा समय चलती है, पहले बादशाही नहीं होती है। आधा समय के बाद जब प्रजा वृद्धि को पाती है तब राजाई चलती है। एडवर्ड, जार्ज आदि फिरते रहते हैं। थोड़े-थोड़े टाइम में फिर बदलते जाते हैं। यह एक ही डिनायस्टी है जो 1250 वर्ष चलती है, इसमें बदली सदली नहीं होती है। सूयवंशी, चन्द्रवंशी डिनायस्टी वालों का ही नाम चलता है। समझा जाता है कि भिन्न नाम, रूप, देश काल होंगे। लम्बी चौड़ी डिनायस्टी चलती है। चेंज नहीं होती है। इस समय तुम बच्चों को बाप बैठ अच्छा कर्म करना सिखलाते हैं। तुम बच्चे कभी किसको दु:ख नहीं दो। यहाँ तुम सब पढ़ने के लिए बैठे हो। अपने-अपने घर में भी बहुत रहते हैं। घर में रहते हुए भी वारिस बन सकते हैं। यहाँ जब तक माँ बाप परवरिश करते हैं। उन्हों की भी कर्मों की गति न्यारी है। बाकी जो बाहर रहते हैं, सब कुछ बाबा का समझ ट्रस्टी बनकर रहते हैं, वह भी जैसे वारिस हो गये। हाँ डिफीकल्टी जरूर होती है। जब सबसे ममत्व टूट जाए और पूरा निश्चय हो, हम सब कुछ उनके अर्पण करते हैं, जीते जी हम उनकी मिलकियत के ट्रस्टी हैं। ऐसे कोई जीते जी बनते नहीं हैं। जब मरने का समय होता है तब ट्रस्टी बनाकर जाते हैं। यहाँ सरेन्डर करते हैं। बाबा कहते हैं बच्चे ट्रस्टी होकर रहो। यह तो भक्ति मार्ग में भी कहते आये हो – भगवान ने सब कुछ दिया है। अभी बाप कहते हैं बच्चे यहाँ तुम सम्मुख बैठे हो। अब देह सहित जो भी तुम्हारा है – उनसे ममत्व निकालना है। जिसके लिए कहते आये हो सब कुछ ईश्वर का दिया हुआ है। जब वह आयेंगे तब उन पर वारी जायेंगे, उनके हवाले सब कुछ कर देंगे। यहाँ तो इनको जायदाद आदि बनानी नहीं है। यह कोई लेने वाला नहीं है, देने वाला है। कहते हैं ट्रस्टी बन पूछते रहना है क्योंकि भूल-चूक कभी भी हो सकती है। पक्का ट्रस्टी होने में टाइम तो लगता है। बाबा जानते हैं – टाइम लगेगा। ट्रस्टी होने से ही वारिस बनते हैं। यहाँ रहने वाले भी ट्रस्टी बनते हैं। बाबा कहते हैं मैं रिटर्न में बैकुण्ठ की बादशाही देता हूँ। तुम्हें दूसरा जन्म अमरलोक में लेना है। ट्रस्टी होकर फिर खबरदार भी रहना है। अक्सर करके गरीब ही निमित्त बनते हैं ऊंच पद पाने। वारिस बनते हैं, कोई फिर पिछाड़ी में चन्द्रवंशी में जाकर मालिक बनेंगे, तब तक बड़ों के आगे सर्विस करते रहेंगे। अब भी कई ऐसे हैं जो कभी उन्नति को नहीं पाते हैं। फिर समझा जाता है – उनकी तकदीर में शायद कुछ नहीं है। सर्विस करते-करते पिछाड़ी में कुछ पद पा लेंगे। सो भी रहेंगे तो। निकल गये तो प्रजा में भी कम से कम पद पायेंगे। बहुत हैं जो जामड़े (बौने) हैं। वृद्धि को पाते ही नहीं हैं। कुछ समझते ही नहीं हैं। कर्म विकर्म की गति बाप ही समझाते हैं। यहाँ कुछ भी अच्छे कर्म नहीं करते तो विकर्म वृद्धि को पाते जाते हैं। तुम भी कहेंगे यह तो ड्रामा का पार्ट हुआ ना। यह भी चाहिए जरूर। जो राजाई के अन्दर रहते नौकरी आदि करते रहेंगे। नौकर फिर उन्नति को पाते पिछाड़ी में राजाई पायेंगे। ईश्वर के पास रहते हुए ऐसे कर्म करते हैं तो फिर सजायें भी बहुत खाते हैं। पद भी नीच मिलता है इसलिए समझाया जाता है ऐसे-ऐसे विकर्म नहीं करो। नहीं तो वृद्धि को पाते रहेंगे। सर्विस कुछ करते नहीं, खाते रहते हैं, पढ़ते भी नहीं, यह कर्मों की गुह्य गति देखो कैसी है। बाप ऐसे कर्म सिखलाते हैं जो स्वर्ग की राजाई पा सकें। श्रीमत पर ऐसा कर्म करना है। आसुरी कर्म भी देखते हो। कितने गरीब फिर पापी अजामिल जैसे बन जाते हैं। यहाँ भी ऐसे बनते हैं। कोई तो बादशाह बनते फिर कोई दास दासी बन पिछाड़ी में कुछ पद पा लेते हैं। ऐसे भी हैं – बाप अच्छी तरह जानते हैं। यहाँ रहते भी अच्छा कर्म नहीं करते हैं तो नशा भी नहीं रहता है। कर्मों की गति बाप बैठ समझाते हैं।

[wp_ad_camp_3]

 

बाप कहते हैं मैं हूँ ही गरीब-निवाज़, मुझे गरीबों के पाई-पाई से स्थापना करनी है, मैं साहूकार निवाज़ तो नहीं हूँ। अक्सर करके मातायें गरीब होती हैं। उनके हाथ में कुछ भी नहीं रहता है। वह कोई हाफ पार्टनर नहीं हैं। नहीं तो विल करते तो आधा हिस्सा उन्हों का निकालते। घर के तो बच्चे ही वारिस होते हैं। भल गवर्मेन्ट ने आजकल कायदे निकाले हैं। अभी तुम जानते हो भारत बिल्कुल ही गरीब है। कुमारियां अक्सर करके गरीब होती हैं, जब तक ससुरघर जायें, विकार का सौदा हो तब मिले। यह है ही विशश वर्ल्ड। निर्विकारी कभी किसी के आगे हाथ नहीं जोड़ेंगे। यह किसको पता नहीं है जो निर्विकारी हैं वही फिर विकारों में गिरते हैं। भगत लोग तो समझते कि कृष्ण हाजिराहजूर है। भगवान कभी मरता नहीं है, पुनर्जन्म नहीं लेता। तुमको तो अभी ज्ञान है। जानते हो लक्ष्मी-नारायण सबसे ऊंच स्वर्ग के मालिक थे। सीता राम को स्वर्ग का मालिक नहीं कहेंगे। यह भी अभी रोशनी मिली है। तो बाप समझाते हैं जबकि अब सद्गति होती है तो दुर्गति का कोई भी कर्तव्य नहीं करना है। सबसे पहले तो देह-अभिमान छोड़ना है। सबसे अच्छा कर्म है एक बाप को याद करना, देही-अभिमानी हो रहना। अपनी जांच करते रहना है। कोई विकार तो नहीं आया। लोभ भी नहीं करना है। जबकि सब कुछ ईश्वर का है तो हम लोभ क्यों रखें। हमको जो बाप कहते हैं वह करते हैं। बाप तो हर एक बच्चे की रग अच्छी तरह देखते हैं ना। पोतामेल भी देखते हैं। कोई बहुत गरीब होते हैं तो कुछ न कुछ 15-20 रुपया बचाकर भी देते हैं। अपना भविष्य बनाते हैं। बाप राय भी देते हैं। थोड़ा बहुत फिर अपने बैंक में रखो 5 दो, 10 बैंक में रखो। तो श्रीमत मिली ना। पेट को पट्टी बांधकर भी शिवबाबा को देते हैं। शिवबाबा इन द्वारा ही तुम्हारे रहने करने के प्रबन्ध में लगाते हैं। यह ब्रह्मा बाबा भी शिवबाबा का अकेला बच्चा है। यह इकट्ठा क्यों करेगा। जबकि इसने ही अपना सब कुछ माताओं की सेवा में लगाया है। सब कुछ दे दिया। यह बच्चियां फिर 21 जन्मों के लिए वर्सा पाती हैं। तुम जानते हो हमारे देवी देवताओं का गृहस्थ धर्म पवित्र था। अभी तो पतित बन गये हो। तब बाबा समझाते हैं – यह भी ट्रस्टी हो गया ना। तुम माताओं को ट्रस्टी बना लिया। तुम यह सम्भालो, ममत्व टूट गया। बाप ने साक्षात्कार करा दिया कि तुम विश्व के मालिक बनते हो। विनाश की तैयारियां भी देख रहे हैं। परन्तु यह कोई नहीं समझते कि विनाश कराने वाला कौन है। कोई प्रेरक जरूर है। समझते भी हैं कि विनाश होने वाला है। जरूर भगवान भी होगा। परन्तु किस रूप में होगा? कृष्ण कैसे आये? भल कृष्ण का रूप बहुतों का बना देते हैं परन्तु वह तो आर्टीफीशियल हो जाता है। बहुत हैं जो कृष्ण का रूप बनाकर ठगते हैं। कोई का फिर जड़ मूर्ति में भाव बैठ जाता है। तो वैसे ही साक्षात्कार हो जाता है और फिर जाकर उनको चटकते हैं; क्योंकि कृष्ण है मोस्ट लवली बालक स्वर्ग का। उनमें कशिश बहुत है। बाबा से बहुत भारी वर्सा लेना होता है। बाप बैठ समझाते हैं कर्मों के ऊपर। बाबा से अगर कोई पूछते हैं तो बाबा झट बता सकते हैं – यह कुछ समझते ही नहीं। कर्म ऐसे करते हैं जो विकर्म ही होता है। देह-अभिमान बहुत रहता है। भल शिवबाबा कहते रहते हैं, ऐसे तो शिवबाबा के भगत बहुत हैं, काशी में भगत बैठे हैं। उन्हों का यह मंत्र है शिव काशी विश्वनाथ गंगा। अर्थ कुछ भी नहीं समझते हैं – समझते हैं गंगा इनसे निकली है इसलिए गंगा के कण्ठे पर जाकर बैठते हैं। समझते हैं हम वहाँ मुक्त हो जायेंगे। शिव काशी, शिव काशी उच्चारते हैं। फिर दिखाते हैं भागीरथ ने गंगा लाई। क्या गंगा द्वारा पतित से पावन हो जायेंगे। पतित-पावन को तो पुकारते हैं ना। वह कौन है – कैसे सहज राजयोग सिखाते हैं – यह कोई जानते नहीं। शिवबाबा को कैसे याद किया जाता है – यह भी तुम जानते हो। तुम्हारी है याद की यात्रा। तुम्हारी जिस्मानी यात्रा बन्द है। वह होती है जिस्मानी यात्रा, यह है रूहानी यात्रा। बाप कहते रहते हैं बच्चे घर को याद करो। यह छी-छी दुनिया, छी-छी पुराना शरीर है। मैं तुम्हारा बाप हूँ। तुमको वापिस ले जाऊंगा। इस महाभारत की लड़ाई में कितने खत्म होने वाले हैं। इतने करोड़ों मनुष्य हैं उनकी आत्मायें कहाँ जायेंगी। अपने-अपने धर्म के सेक्शन में स्टॉर मिसल जाकर रहेंगी। उसे कहा ही जाता है निराकारी दुनिया। वर्ल्ड उसको कहा जाता, जहाँ बहुत रहते हैं। अगर कहें ब्रह्म में लीन हो जाते हैं तो वर्ल्ड तो हुई नहीं। गाया जाता है निराकारी दुनिया, जिसमें आत्मायें रहती हैं, जिनको फिर पार्ट बजाने आना है। यह अविनाशी ड्रामा है। प्रलय तो कभी होती नहीं। सतयुग से कलियुग तक मनुष्यों की वृद्धि होती जाती है। वहाँ दूसरा कोई धर्म नहीं होगा। यहाँ तुमको नॉलेज का मालूम है। वहाँ सतयुग में नॉलेज नहीं रहती। इस समय तो बाप आप समान त्रिकालदर्शी बनाते हैं। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जीते जी देह सहित सबसे ममत्व निकाल ट्रस्टी बनकर रहना है। श्रेष्ठ कर्म करने हैं। कभी भी किसी को दु:ख नहीं देना है।

2) किसी भी चीज़ में लोभ नहीं रखना है। रोज़ अपना पोतामेल देखना है कि मेरे में कोई विकार तो नहीं हैं। देह-अभिमान छोड़ एक बाप को याद करने का श्रेष्ठ कर्म करना है।

वरदान:- एक “पाइंट” शब्द की स्मृति से मन-बुद्धि को निगेटिव के प्रभाव से बचाने वाले नम्बरवन विजयी भव 
वर्तमान समय विशेष माया का प्रभाव मन में निगेटिव भाव और भावना पैदा करने वा यथार्थ महसूसता को समाप्त करने का चल रहा है इसलिए पहले से ही सेफ्टी का साधन अपनाओ। इसका विशेष साधन है सिर्फ एक “पाइंट” शब्द। कोई भी संकल्प, बोल वा कर्म व्यर्थ है तो उसे पाइंट लगा दो तब नम्बरवन विजयी बन सकेंगे। माया के स्वरूपों को पहचानो, सीजन को पहचानो और स्वयं को सेफ कर लो।
स्लोगन:- संगम पर जिन्हें सेवा का श्रेष्ठ भाग्य प्राप्त है वही पदमापदम भाग्यवान हैं।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 12 July 2017 :- Click Here

 
Font Resize