today murli 14 JANUARY

TODAY MURLI 14 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 14 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 13 January 2019 :- Click Here

14/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to become completely pure. Therefore, don’t cause anyone sorrow. Do not perform any sinful actions through your physical organs. Always continue to follow the Father’s orders.
Question: What is the way to change from a stone to a philosopher’s stone? Which illness becomes an obstacle in this?
Answer: In order to change from a stone to a philosopher’s stone, you need to have the intoxication of becoming Narayan and your body consciousness has to be broken. It is this body consciousness that is the most severe illness. Until you become soul conscious, you cannot become a philosopher’s stone. Only those who become a philosopher’s stone become the Father’s helpers. Only doing s ervice will make your intellect golden. For this, you need to pay full attention to the study.

Om shanti. The spiritual Father cautions you spiritual children: Children, consider yourselves to be confluence aged. You cannot consider yourselves to be golden aged. Only you Brahmins consider yourselves to be confluence aged. All others would consider themselves to be iron aged. There is a lot of difference between the golden age and the iron age, between the residents of heaven and the residents of hell. You are neither residents of heaven nor residents of hell. You are residents of the most auspicious confluence age. Only you Brahmins know this confluence age; no one else knows it. Even though you know it, you forget it. Now, how can you explain to people? They are trapped by the chains of Ravan. The kingdom of Rama doesn’t exist now. They continue to burn effigies of Ravan which proves that this is the kingdom of Ravan. You understand, numberwise, what the kingdom of Rama is and what the kingdom of Ravan is. The Father comes at the confluence age and so heaven and hell are compared with each other at this time. Those who reside in the iron age are called the residents of hell and those who reside in the golden age are called the residents of heaven. Those who are residents of heaven are called pure and those who are residents of hell are called impure. Everything of yours is unique. So you now know this most auspicious confluence age. You understand that you are Brahmins. The picture of the clans is very good. You can explain using that picture. You should show the contrast so that people are able to understand that they are impure, poverty-stricken residents of hell. You should write: This is now the old, iron-aged world. Heaven, the golden age, is the new world. Are you residents of hell or residents of heaven? Are you deities or devils? None of them would say that they are residents of heaven. Some think that they are sitting in heaven. Oh! this is hell! Where is heaven, the golden age? This is the kingdom of Ravan and this is why people burn an effigy of Ravan. Those people have so many answers. There is so much debate about God being omnipresent. You children very clearly ask: Is this the new world or the old world? You have to show such a clear contrast. Very good brains are needed for this. You should write tactfully so that people ask themselves: Am I a resident of heaven or of hell? Is this the old world or the new world? Is this the kingdom of Rama or the kingdom of Ravan? Are we residents of the old, iron-aged world or of the new world? You should write this in Hindi and then translate it into English and Gujarati. Let people ask themselves: Where am I a resident of? When a person dies, people say that he has gone to heaven, but heaven doesn’t exist now. It is now the iron age. So, surely, rebirth will also be here. The golden age is called heaven, so how could anyone go there now? All of these are things that have to be churned. The contrast should be shown very clearly. Write, “God speaks: Each one of you should ask yourself: Am I a resident of the golden-aged kingdom of Rama or a resident of the iron-aged kingdom of Ravan?” You Brahmins are residents of the confluence age, but no one knows you. You are completely different from everyone else. You know the golden and iron ages accurately. Only you can ask: Are you vicious, corrupt beings or viceless, elevated beings? You can write a book on this. You have to write new things through which people can understand that God is not omnipresent. Seeing what you have written, they will come inside to ask you about it themselves. Everyone would call this the iron age. No one can call this the golden aged deity kingdom. Is this hell or heaven? Write such a first-class article that people can understand that they truly are impure residents of the iron age and that they don’t have any divine virtues. There cannot be anyone golden aged in the iron age. Churn the ocean of knowledge in this way and write these things. Anyone who takes the initiative is Arjuna. Arjuna’s name is mentioned in the Gita. Baba says: Everything in the Gita is like a pinch of salt in a sackful of flour. There is so much difference between sugar and salt. Sugar is sweet and salt is salty. By writing in the Gita, “God Krishna speaks”, they have made the Gita salty. People are trapped so much in that bog. The poor ones don’t know the secrets of knowledge. God speaks knowledge to only you. No one else knows it. Knowledge is very easy, but some forget that God is teaching them; they even forget the T eacher. Otherwise, students would never forget their teacher. They repeatedly say: Baba, I forget You. Baba says: Maya is no less. You have become body conscious and are committing a lot of sins. There isn’t a single day when you don’t commit any sins. The main sin you commit is that you forget the Father’s orders. The Father orders you: Manmanabhav! Consider yourself to be a soul. You don’t obey this order and so you will surely perform sinful acts. There are many sins committed. The Father’s order is very easy and very difficult. No matter how much you beat your heads, you still forget because there has been body consciousness for half the cycle. Some are unable to sit in accurate remembrance for even five minutes. If you stayed in remembrance throughout the whole day, you would reach your karmateet stage. The Father has explained: This requires effort. You study a worldly study very well. You have so much practice of studying history and geography. However, you have no practice of the pilgrimage of remembrance at all. To consider yourself to be a soul and to remember the Father is something new. The conscience says: We should remember such a Father very well. You take little time to eat a piece of bread, but that, too, is in remembrance of Baba. The more you stay in remembrance, the purer you will become. There are many children who have sufficient money for them to live on the interest. Simply continue to remember the Father and eat a piece of bread, that’s all! However, Maya doesn’t allow you to stay in remembrance. However much effort each of you made in the previous cycle, you will make the same effort now. This takes time. It is not possible for someone to race ahead quickly and reach there. Here, you have two fathers. The unlimited Father doesn’t have a body of His own. He enters this one and speaks to you. Therefore, you should follow the Father’s shrimat. The Father gives you children this shrimat: Forget your bodies and all bodily religions and consider yourselves to be souls. You came here pure and then, while taking 84 births, you, the souls, became impure. You now have to follow shrimat in order to become pure. Only then will the Father guarantee that your sins will be cut away and that you will become pure souls. Then, you will receive a pure body there. Those who belong to this clan will listen to you and begin to think about these things. They would say: What you are saying is right. If you want to become pure, don’t cause anyone sorrow. Become pure in your thoughts, words and deeds. Storms will come to your mind. You are claiming the unlimited sovereignty. Whether you tell the truth or not, the Father Himself says: Many sinful thoughts of Maya will come, but you mustn’t perform any sinful acts through the physical organs. You mustn’t commit any sin through the physical organs. So, you should write these contrasting things very clearly. Krishna takes the full 84 births whereas Shiva doesn’t take rebirth. That one is a deity, full of all virtues, and this One is the Father. You have seen how they have made such big images of the Pandavas. This indicates that they had such big, broad and unlimited intellects. They had big intellects but those people then portrayed them with big bodies. No one else can have such a broad and unlimited intellect as you. You have Godly intellects. On the path of devotion, they make such big pictures and waste their money. They have made so many Vedas, scriptures and Upanishads and incurred so much expense. The Father says: You have been wasting so much money. The unlimited Father is now complaining. You feel that Baba gave you a lot of wealth. He taught you Raja Yoga and made you into kings of kings. Some study a worldly study and become a barrister etc. and then earn a huge income. This is why it is said: Knowledge is a source of income . This Godly study is also a source of incomethrough which you receive the unlimited sovereignty. There is no knowledge in the Bhagawad or the Ramayana etc. There is no aim or objective etc. The knowledge-full Father sits here and explains to you children. This is a completely new study; and, who is teaching you? God! He is teaching you to make you into the masters of the new world. Lakshmi and Narayan claimed a high status through this study. There is a vast difference between the king and the subjects. If someone’s fortune opens, his boat can go across. Students can understand whether they are studying and whether they are then able to teach others or not. You should pay full attention to the study. Because of having stone intellects, they don’t understand anything. You have to become those with golden intellects. Only those who stay in service will be able to make them golden. You can also explain knowledge to someone by using the badge : Claim the unlimited inheritance from the unlimited Father. Bharat was heaven; it is a matter of only yesterday. There is so much difference between something being 5000 years and something being hundreds of thousands of years. When you explain to them, they don’t understand anything, because it is as though they have completely stone intellects. This badge is like the Gita for you – it includes the whole study. People only remember the Gita of the path of devotion. Through the Gita that you hear from the Father, you receive salvation for 21 births. You are the ones who started the study of the Gita in the beginning. You are the ones who started worshipping. You now have to make effort and liberate poor people from the chains of the path of devotion. Continue to explain to someone or other and one or two will emerge from them. If five or six people come together, you should try to get them to fill in forms individually and explain to them individually. Otherwise, if even one person among them is not that good, he would spoil the others. You must definitely get each one of them to fill in a form separately. They should not even be able to see one another’s form s. Then they would understand. You need to have all these tactics because only then can you become successful. The Father is also the Businessman. Those who are clever will do good business. The Father brings so much profit. If a group comes at the same time, tell them to fill in the forms individually. If they are all religious minded, get them to sit together and ask them: Have you studied the Gita? Do you believe in the deities? Baba has said that you should only give this knowledge to the devotees. My devotees and the devotees of the deities will quickly understand. To change a stone into a philosopher’s stone is not like going to your aunty’s home! Body consciousness is the most severe, the most dirty illness of all. Until your body consciousness is broken, it is difficult to reform yourself. For this, you need to have the full intoxication of becoming Narayan. We came here bodiless and we now have to return bodiless. What is there here? The Father has said: Remember Me. This requires effort. The destination is very high. You can tell from their behaviour which ones will become good helpers, as they did in the previous cycle. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remain pure in your thoughts, words and deeds. Be cautious that you don’t perform any sinful acts through your physical organs. In order to make yourself the soul pure you definitely have to stay in remembrance.
  2. In order to be liberated from the severe illness of body consciousness, maintain the intoxication of becoming Narayan. Practise: I came bodiless and I now have to return home bodiless.
Blessing: May you be liberated from all sins with the power of realisation and not try to be clever with the cleverest Father.
Some children try to be clever with the cleverest Father of all in order to prove their work and make their names appear good. They do have realisation at that time, but that realisation does not have any power and so transformation does not take place. Some understand that it is not right, but they then think that their names should not be spoilt and so they kill their own consciences. This too is accumulated in the account of sin. Therefore, stop being so clever and transform yourself and be liberated from your sins with the realisation of a true heart.
Slogan: To be free from all the different bondages in this life is the stage of being liberated in life.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

An angelic life is a life that is free from bondage. Though there is the bondage of service, it is so fast that no matter how much you do, while doing all of that you are constantly free. You are loving to the extent that you are detached. Let there always be the experience of the stage of freedom because you are not dependent on your body or your karma.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 14 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 January 2019

To Read Murli 13 January 2019 :- Click Here
14-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें सम्पूर्ण पावन बनना है इसलिए कभी किसको दु:ख नहीं दो, कर्मेन्द्रियों से कोई विकर्म न हो, सदा बाप के फरमान पर चलते रहो।”
प्रश्नः- पत्थर से पारस बनने की युक्ति क्या है? कौन सी बीमारी इसमें विघ्न रूप बनती है?
उत्तर:- पत्थर से पारस बनने के लिए पूरा नारायणी नशा चाहिए। देह-अभिमान टूटा हुआ हो। यह देह-अभिमान ही कड़े ते कड़ी बीमारी है। जब तक देही-अभिमानी नहीं तब तक पारस नहीं बन सकते। पारस बनने वाले ही बाप के मददगार बन सकते हैं। 2. सर्विस भी तुम्हारी बुद्धि को सोने का बना देगी। इसके लिए पढ़ाई पर पूरा अटेन्शन चाहिए।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप सावधानी देते हैं कि बच्चे अपने को संगमयुगी समझो। सतयुगी तो नहीं समझेंगे। तुम ब्राह्मण ही अपने को संगमयुगी समझेंगे। और तो सभी अपने को कलियुगी समझेंगे। बहुत फ़र्क है – सतयुग और कलियुग, स्वर्गवासी वा नर्कवासी। तुम तो न स्वर्गवासी हो, न नर्कवासी। तुम हो पुरूषोत्तम संगमवासी। इस संगमयुग को तुम ब्राह्मण ही जानते हो और कोई नहीं जानते। तुम भल जानते भी हो परन्तु भूल जाते हो। अब मनुष्यों को कैसे समझायें। वे तो रावण की जंजीरों में फँसे हुए हैं। रामराज्य तो है नहीं। रावण को जलाते रहते हैं, इससे सिद्ध है कि रावण राज्य है। रामराज्य क्या है और रावणराज्य क्या है, यह भी तुम समझते हो – नम्बरवार। बाप आते हैं संगमयुग पर तो यह भेंट भी अभी की जाती है – सतयुग और कलियुग की। कलियुग में रहने वालों को नर्कवासी, सतयुग में रहने वालों को स्वर्गवासी कहा जाता है। स्वर्गवासी को पावन, नर्कवासी को पतित कहा जाता है। तुम्हारी तो बात ही निराली है। तो तुम इस पुरूषोत्तम संगमयुग को जानते हो। तुम समझते हो हम ब्राह्मण हैं। वर्णो वाला चित्र भी बहुत अच्छा है। इस पर भी तुम समझा सकते हो। कान्ट्रास्ट बताना चाहिए, जो मनुष्य अपने को नर्कवासी पतित कंगाल समझें। लिखना चाहिए अब यह पुरानी कलियुगी दुनिया है। सतयुग स्वर्ग नई दुनिया है। तुम नर्कवासी हो या स्वर्गवासी? तुम देवता हो या असुर? ऐसे तो कोई नहीं कहेंगे कि हम स्वर्गवासी हैं। कई ऐसे समझते हैं हम तो स्वर्ग में बैठे हैं। अरे यह तो नर्क है ना। सतयुग है कहाँ। यह रावणराज्य है, तब तो रावण को जलाते हैं। उन्हों के पास भी कितने जवाब होते हैं। सर्वव्यापी पर भी कितनी डिबेट करते हैं। तुम बच्चे तो एकदम क्लीयर पूछते हो – अब नई दुनिया है या पुरानी दुनिया। ऐसा क्लीयर कान्ट्रास्ट बताना है, इसमें बहुत ब्रेन चाहिए। ऐसा युक्ति से लिखना चाहिए जो मनुष्य अपने से पूछें कि मैं नर्कवासी हूँ या स्वर्गवासी? यह पुरानी दुनिया है या नई दुनिया है? यह रामराज्य है या रावण राज्य? हम पुरानी कलियुगी दुनिया के रहवासी हैं या नई दुनिया के वासी हैं? हिन्दी में लिखकर फिर अंग्रेजी, गुजराती में ट्रांसलेट करें। तो मनुष्य अपने से पूछें कि हम कहाँ के रहवासी हैं। कोई शरीर छोड़ते हैं तो कहते हैं स्वर्ग पधारा लेकिन स्वर्ग अभी है कहाँ? अभी तो कलियुग है। जरूर पुनर्जन्म भी यहाँ ही लेंगे ना। स्वर्ग तो सतयुग को कहा जाता है, वहाँ अभी कैसे जायेंगे। यह सब विचार सागर मंथन करने की बातें हैं। ऐसे क्लीयर कान्ट्रास्ट हो, उसमें लिख दो भगवानुवाच – हर एक अपने से पूछे मैं सतयुगी रामराज्य निवासी हूँ या कलियुगी रावण राज्य का निवासी हूँ? तुम ब्राह्मण हो संगमवासी, तुमको तो कोई जानते ही नहीं। तुम हो सबसे न्यारे। तुम सतयुग कलियुग को यथार्थ जानते हो। तुम ही पूछ सकते हो कि तुम विकारी भ्रष्टाचारी हो या निर्विकारी श्रेष्ठाचारी हो? यह तुम्हारा किताब भी बन सकता है। नई-नई बातें निकालनी पड़े ना, जिससे मनुष्य समझें कि ईश्वर सर्वव्यापी नहीं हैं। तुम्हारी यह लिखत देख आपेही अन्दर से पूछेंगे। इसको आइरन एज तो सब कहेंगे। सतयुगी डीटी राज्य तो इनको कोई कह न सके। यह हेल है या हेविन। ऐसी फर्स्ट-क्लास लिखत लिखो कि मनुष्य अपने को समझ जाएं कि हम बरोबर नर्कवासी पतित हैं। हमारे में दैवीगुण तो हैं नहीं। कलियुग में सतयुगी कोई हो न सके। ऐसे विचार सागर मंथन कर लिखना चाहिए। जो ओटे सो अर्जुन… गीता में अर्जुन का नाम दिया है।

बाबा कहते हैं यह जो गीता है उसमें आटे में लून (नमक) है। लून और चीनी में कितना फ़र्क है….वह मीठा वह खारा। कृष्ण भगवानुवाच लिखकर गीता ही खारी कर दी है। मनुष्य कितना दलदल में फँस पड़ते हैं। बिचारों को ज्ञान के राज़ का भी पता नहीं है, ज्ञान भगवान तुमको ही सुनाते हैं और किसको पता ही नहीं। नॉलेज तो बहुत सहज है। परन्तु भगवान पढ़ाते हैं यह भूल जाते हैं। टीचर को ही भूल जाते हैं। नहीं तो स्टूडेन्ट कभी टीचर को भूलते नहीं हैं। घड़ी-घड़ी कहते हैं बाबा हम आपको भूल जाते हैं। बाबा कहते हैं, माया कम नहीं है। तुम देह-अभिमानी बन पड़ते हो। बहुत विकर्म बन जाते हैं। ऐसा कोई खाली दिन नहीं जो विकर्म न होते हों। एक मुख्य विकर्म यह करते हो जो बाप के फरमान को ही भूल जाते हो। बाप फरमान करते हैं मनमनाभव, अपने को आत्मा समझो। यह फरमान मानते नहीं हैं तो जरूर विकर्म ही होगा। बहुत पाप हो जाते हैं। बाप का फरमान बहुत सहज भी है तो बहुत कड़ा है। कितना भी माथा मारे फिर भी भूल जायेंगे क्योंकि आधाकल्प का देह-अभिमान है ना। 5 मिनट भी यथार्थ रीति याद में बैठ नहीं सकते। अगर सारा दिन याद में रहें फिर तो कर्मातीत अवस्था हो जाए। बाप ने समझाया है इसमें मेहनत है। तुम वह जिस्मानी पढ़ाई तो अच्छी रीति पढ़ते हो। हिस्ट्री-जॉग्राफी पढ़ने की कितनी प्रैक्टिस है। परन्तु याद की यात्रा का बिल्कुल ही अभ्यास नहीं। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना – यह है नई बात। विवेक कहता है ऐसे बाप को तो अच्छी रीति याद करना चाहिए। थोड़ा टाइम निकाल रोटी टुक्कड़ खाते हैं, वह भी बाबा की याद में। जितना याद में रहेंगे उतना पावन बनेंगे। ऐसे बहुत बच्चे हैं, जिनके पास इतने पैसे हैं जो ब्याज मिलता रहे। बाप को याद करते रोटी टुक्कड़ खाते रहें, बस। परन्तु माया याद करने नहीं देती। कल्प पहले जिसने जितना पुरूषार्थ किया है उतना ही करेंगे। टाइम लगता है। कोई जल्दी दौड़ी लगाकर पहुँच जायें यह हो न सके। इसमें तो दो बाप हैं। बेहद के बाप को अपना शरीर है नहीं। वह इनमें प्रवेश होकर बात करते हैं। तो बाप की श्रीमत पर चलना चाहिए। बाप बच्चों को यह श्रीमत देते हैं कि देह सहित सब धर्म छोड़ अपने को आत्मा समझो। तुम पवित्र आये थे। 84 जन्म लेते-लेते तुम्हारी आत्मा पतित बनी है। अब पावन बनने के लिए श्रीमत पर चलो, तब बाप गैरन्टी करते हैं तुम्हारे पाप कट जायेंगे, तुम्हारी आत्मा कंचन बन जायेगी, फिर वहाँ देह भी कंचन मिलेगी। जो इस कुल का होगा वह तुम्हारी बातें सुनकर सोच में पड़ जायेगा, कहेगा तुम्हारी बात तो ठीक है। पावन बनना है तो किसको दु:ख नहीं देना है। मन्सा, वाचा, कर्मणा पवित्र बनना है। मन्सा में तूफान आयेंगे। तुम बेहद की बादशाही लेते हो ना, तुम भल सच बताओ वा न बताओ परन्तु बाप खुद कहते हैं – माया के बहुत विकल्प आयेंगे, परन्तु कर्मेन्द्रियों से कभी विकर्म नहीं करना। कर्मेन्द्रियों से कोई पाप नहीं करना है।

तो यह कान्ट्रास्ट की बातें अच्छी रीति लिखनी चाहिए। कृष्ण पूरे 84 जन्म लेते हैं और शिव पुनर्जन्म नहीं लेते। वह सर्वगुण सम्पन्न देवता है, यह तो है ही बाप। तुमने देखा है पाण्डवों के चित्र कितने बड़े-बड़े बनाये हैं। इसका मतलब है कि वह इतनी बड़ी विशाल बुद्धि वाले थे। बुद्धि बड़ी थी, उन्होंने फिर शरीर को बड़ा बना दिया है। तुम्हारी जैसी विशाल बुद्धि और कोई की हो न सके। तुम्हारी है ईश्वरीय बुद्धि। भक्ति में कितने बड़े-बड़े चित्र बनाकर पैसे बरबाद करते हैं। कितने वेद, शास्त्र, उपनिषद बनाए कितना खर्चा किया। बाप कहते हैं तुम कितने पैसे गंवाते आये हो। बेहद का बाप उल्हना देते हैं। तुम फील करते हो बाबा ने पैसे बहुत दिये। राजयोग सिखलाकर राजाओं का राजा बनाया। वह जिस्मानी पढ़ाई पढ़कर बैरिस्टर आदि बनते हैं, फिर उससे कमाई होती है इसलिए कहा जाता है नॉलेज सोर्स आफ इनकम है। यह ईश्वरीय पढ़ाई भी सोर्स आफ इनकम है, जिससे बेहद की बादशाही मिलती है। भागवत, रामायण आदि में कोई नॉलेज नहीं है। एम आबजेक्ट ही कुछ नहीं। बाप जो नॉलेजफुल है वह बैठ तुम बच्चों को समझाते हैं। यह है बिल्कुल नई पढ़ाई। वह भी कौन पढ़ाते हैं? भगवान। नई दुनिया का मालिक बनाने के लिए पढ़ाते हैं। इन लक्ष्मी-नारायण ने यह पढ़ाई से ऊंच पद पाया है। कहाँ राजाई, कहाँ प्रजा। कोई की तकदीर खुल जाए तो बेड़ा पार है। स्टूडेन्ट समझ सकते हैं कि हम पढ़ते हैं और फिर पढ़ा सकते हैं वा नहीं। पढ़ाई पर पूरा अटेन्शन रखना चाहिए। पत्थरबुद्धि होने के कारण कुछ भी समझते नहीं हैं। तुमको बनना है सोने की बुद्धि। वह उन्हों की बनेगी जो सर्विस में रहेंगे। बैज पर भी किसको समझा सकते हो। बेहद के बाप से बेहद का वर्सा लो। भारत स्वर्ग था ना। कल की बात है। कहाँ 5 हजार वर्ष की बात, कहाँ लाखों वर्ष की बात। कितना फ़र्क है। तुम समझाते हो तो भी समझते नहीं हैं जैसे बिल्कुल ही पत्थरबुद्धि हैं। यह बैज ही तुम्हारे लिए जैसे एक गीता है, इसमें सारी पढ़ाई है। मनुष्यों को तो भक्ति मार्ग की गीता ही याद रहती है। अभी तुम जो बाप द्वारा गीता सुनते हो उससे तुम 21 जन्म के लिए सद्गति को पाते हो। शुरू शुरू में तुमने ही गीता पढ़ी है। पूजा भी तुमने ही शुरू की है। अब पुरूषार्थ कर गरीबों को भक्ति मार्ग की जंजीरों से छुड़ाना है। कोई न कोई को समझाते रहो। उसमें से एक दो निकलेंगे। अगर 5-6 इकट्ठे आते हैं तो कोशिश कर अलग-अलग फार्म भराए अलग-अलग समझाना चाहिए। नहीं तो उन्हों में एक भी ऐसा होगा तो औरों को खराब कर देगा। फार्म तो जरूर अलग भराओ। एक दो का देखें भी नहीं, तो वह समझ सकेंगे। यह सब युक्तियां चाहिए तब तुम सक्सेसफुल होते जायेंगे।

बाप भी व्यापारी है, जो होशियार होंगे वह अच्छा व्यापार करेंगे। बाप कितना फायदे में ले जाते हैं। झुण्ड इकट्ठा आये तो बोलो फार्म अलग-अलग भरना है। अगर सब रिलीजस माइन्ड हो तो इक्ट्ठा बिठाकर पूछना चाहिए। गीता पढ़ी है? देवताओं को मानते हो? बाबा ने कहा है भक्तों को ही सुनाना है। हमारे भक्त और देवताओं के भक्त वह जल्दी समझेंगे। पत्थर को पारस बनाना कोई मासी का घर नहीं है। देह-अभिमान कड़े ते कड़ी बहुत गन्दी बीमारी है। जब तक देह-अभिमान नहीं टूटा है तब तक सुधरना बड़ा मुश्किल है। इसमें तो पूरा नारायणी नशा चाहिए। हम अशरीरी आये, अशरीरी बनकर जाना है। यहाँ क्या रखा है। बाप ने कहा है मुझे याद करो। इसमें ही मेहनत है, बड़ी मंजिल है। चलन से मालूम पड़ता है यह अच्छे मददगार बनेंगे कल्प पहले मिसल। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) मन्सा, वाचा, कर्मणा पवित्र रहना है। कर्मेन्द्रियों से कोई विकर्म न हो – इसकी सम्भाल करनी है। आत्मा को कंचन बनाने के लिए याद में जरूर रहना है।

2) देह-अभिमान की कड़ी बीमारी से छूटने के लिए नारायणी नशे में रहना है। अभ्यास करो हम अशरीरी आये थे, अब अशरीरी बनकर वापस जाना है।

वरदान:- चतुरसुजान बाप से चतुराई करने के बजाए महसूसता की शक्ति द्वारा सर्व पापों से मुक्त भव
कई बच्चे चतुरसुजान बाप से भी चतुराई करते हैं – अपना काम सिद्ध करने के लिए अपना नाम अच्छा करने के लिए उस समय महसूस कर लेते हैं लेकिन उस महसूसता में शक्ति नहीं होती इसलिए परिवर्तन नहीं होता। कई हैं जो समझते हैं यह ठीक नहीं है लेकिन सोचते हैं कहीं नाम खराब न हो इसलिए अपने विवेक का खून करते हैं, यह भी पाप के खाते में जमा होता है इसलिए चतुराई को छोड़ सच्चे दिल की महसूसता से स्वयं को परिवर्तन कर पापों से मुक्त बनो।
स्लोगन:- जीवन में रहते भिन्न-भिन्न बंधनों से मुक्त रहना ही जीवनमुक्त स्थिति है।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

फरिश्ता जीवन बन्धनमुक्त जीवन है भल सेवा का बन्धन है, लेकिन इतना फास्ट गति है जो जितना भी करे, उतना करते हुए भी सदा फ्री हैं, जितना ही प्यारा, उतना ही न्यारा। सदा ही स्वतंत्रता की स्थिति का अनुभव हो क्योंकि शरीर और कर्म के अधीन नहीं हैं।

TODAY MURLI 14 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 14 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 13 January 2018 :- Click Here

14/01/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
19/04/83

You r eceiv e all attainments by eating Godly fruit of the confluence age.

Today, BapDada has come into the gathering of the children to give His loving children the return of that love, to celebrate a meeting, to give the instant visible fruit of His love and the elevated fruit for those devotional feelings of love. In devotion too, as devotees, you had love and bhavna, but in the form of devotees, you performed bhakti, but you had no shakti (power). You had love, but you had no recognition or elevated relationship. You had feelings of love, but they were filled with temporary desires. You still have love and bhavna, but you now have love on the basis of a close relationship. You have pure elevated feelings (bhavna) with the power of being those who have all rights and also of being authorit ies of experience. The feelings of being a beggar have changed, the relationship has changed and you now have the faith and intoxication of being ones who have all rights. Such constantly elevated souls have attained instant visible fruit. Are all of you souls those who have experienced receiving instant visible fruit? Have you tasted the instant visible fruit? You will receive other fruit in the golden age too, and you have already eaten many fruits of the iron age. However, if you don’t eat Godly fruit, the instant visible fruit, now, at the confluence age, you won’t be able to eat it throughout the whole cycle. BapDada is asking all of you children: Have you eaten Godly fruit, the imperishable fruit, the fruit filled with the sweetness of all powers, all virtues and the love of all relationships? Have all of you eaten this or have some of you been left out? This fruit is God’s magic: when you eat this fruit, you change from iron not just into gold, but into something greater, a diamond. With this fruit, whatever you think of, you can attain. It is imperishable fruit, imperishable attainment. Those who eat this instant visible fruit are constantly healthy and free from any illness of Maya. You have received the immortal fruit of being constantly far away from sorrow, peacelessness and all obstacles. As soon as you belong to the Father, you attain this most elevated fruit.

Today, BapDada is pleased to see the special Pandava Army that has come. Along with this, there is always a party and a picnic with Brahma Baba’s equals. So, today, you are having a picnic with this Godly fruit. Even Lakshmi and Narayan will not have such a picnic. This is a unique picnic of Father Brahma and the Brahmins. Father Brahma is happy to see his equals. However, you have to be real equals. Those who follow the father at every step are equal companions, that is, they are equal. You are such equals, are you not? Or, are you thinking about what you are going to do and how you are going to do it? Are you those who think about it or those who make others equal? Are you those who make a bargain in a second or those who still want more time to think about it? Have you come having made a deal or have you come to make a deal? Who has received permission? Did all of you fill in your forms? Or, have you come having sweet-talked your younger teachers? You tell very sweet stories in this way. The stories of the cleanliness of your mind and also your cleverness reach BapDada. You have to come here having made a deal according to the disciplines. However, some still come to Madhuban to make a deal. Instead of having made a deal before coming here, they come here to make a deal and this is why BapDada, while seeing the quantity, is looking at the quality. The speciality of quantity is its own and the speciality of quality is its own: both are needed. A bouquet is beautiful because of the varieties of flowers of various colours. If there are no leaves, the bouquet would not look good. Therefore, all of you are the decoration of BapDada’s home. The word “Baba” emerges from everyone’s lips. Children are the decoration of the home. Even now, look how beautifully decorated this hall of Om Shanti Bhavan is because of you children. So, the decorations of the home, the decorations of the Father, remain constantly sparkling. Now, transform quantity into quality. Do you understand? Today was just the day of a meeting but, nevertheless, Father Brahma likes all of you equals, and this is why he had a picnic with you. Achcha.

To those who have all rights to Godly fruit, to those who, like Father Brahma, constantly make a deal in a second, to those who are karma yogis in every action, to those who follow Father Brahma, to the special souls who are equal to the Father, to the children of quantity and quality everywhere, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Avyakt BapDada meeting Adhar (Half) Kumars:

Do you constantly experience yourselves to be a handful out of multi millions in the whole world? Whenever you hear the words, “A few out of a handful and a handful out of multimillions”, do you each consider yourself to be one of those? Since the part repeats identically every cycle, then all of you would have special roles in that part that is repeated every cycle, would you not? Let there be such firm faith. Those who constantly have faith in their intellects remain carefree in every respect. The sign of having faith is of being carefree. All worries have now ended. The Father has saved you from the pyre of worries. He lifted you off the pyre of worries and seated you on the heart-throne. You have developed love for the Father and, on the basis of that love, all your worries ended in the fire of love in such a way that it is as though they never existed. They ended in a second. Do you experience yourselves to be souls who have positive thoughts in this way? You don’t ever have any worries, do you? No worries of the body, no wasteful worries in the mind and no worries about money, because all you want is to eat daal and roti and sing the Father’s praise. You will definitely receive daal and roti. So there are no worries about money, there’s no distress in the mind and no worry about the suffering of karma through your bodies because you know that this is the final birth and that these are the final moments. Everything has to be settled at this time and this is why you constantly have positive thoughts. You don’t have any worries about what is to happen. You now know everything with the power of knowledge. Since you now know everything, the question about what is to happen has ended. You have the knowledge that whatever will happen will be the best of all. So, constantly be those with positive thoughts and, with faith in your intellects, remain constantly beyond all worries and also be carefree souls. This is the life to lead. If you are not carefree in your life, what kind of life would it be? Do you experience your life to be so elevated? You don’t have any worries about your family, do you? Every soul is settling or creating his own karmic accounts. Therefore, why should you worry about anything? There are no worries. At first you were burning on the pyre. The Father has now sprinkled nectar and made you die alive from the burning pyre. He has revived you. It is said that God brought the dead back to life. The Father gave you nectar and made you immortal. You were like corpses and look what you have now become! From corpses you have now become great. Previously, you had no life and so it would be said that you were like corpses. Also look at the language you used! People who don’t have knowledge would say: Die! Or, they would say: It would be better if I were dead! You have now died alive and become special souls. You have this happiness, do you not? Instead of burning on the pyre you have become immortal. This is not a small thing. Previously, you used to hear that God brought the dead back to life, but you didn’t understand how He did it. You now understand that you yourselves have come back to life. Therefore, constantly maintain that intoxication and happiness.

BapDada meeting a group of teachers: What is the speciality of servers? A server means that, as soon as you open your eyes, you experience being constantly with the Father and having a stage equal to the Father’s. You are the special servers who know the importance of amrit vela. The praise of special servers is that they know the special time of blessings and experience special blessings. If there isn’t this experience, you are ordinary servers, not special. If you want to become a special server, you can do so by claiming this special right. Those who are aware of the importance of amrit vela, of their thoughts, time and service and of everything else are special servers. So, understand the importance of this and become great. Know the importance of this, become great and also make others aware of the importance of this, give them an experience of it and help them become great. Achcha. Om shanti.

Personal avyakt elevated versions :

Use everything in a worthwhile way and become an image of success.

Based on his faith and spiritual intoxication, Father Brahma came to know his fixed destiny and used (surrendered) everything of his in a worthwhile way in a second; he did not keep anything for himself, but used everything in a worthwhile way. You saw the practical proof of it: even on his last day, he served with his body by writing letters and spoke elevated versions. Even on the last day, he used his time, thoughts and body in a worthwhile way. To use something in a worthwhile way means to use it for something elevated. Those who use everything in a worthwhile way like this automatically achieve success. The special basis of attaining success is to use your every second, every breath and every treasure in a worthwhile way. Whatever you want to achieve success in – your thoughts, words, deeds, relationships and connections – continue to use them in a worthwhile way for yourself and for other souls. Do not let anything go to waste, and you will automatically continue to experience the happiness of that success because to use something in a worthwhile way means to become an image of success at the present time and to accumulate for the future.

In order to achieve success in service, you need a carefree stage and to have the intention of surrendering. Do not let the consciousness of “mine” be mixed in service even slightly. Do not worry about anything because those who worry waste their time and energy: they lose their energy and also the task. That is, whatever task you worry about, that task would be spoilt. Secondly, the means of constantly being an image of success is to have one strength and one Support. Faith makes you constantly carefree and whatever task those who have a carefree stage embark upon, they will definitely be successful in that. For instance, Father Brahma achieved success in every task by having determination. Determination became the basis of success. F ollow the f ather in the same way. Use every treasure, virtue and power and they will continue to increase. Use a method of saving and accumulating and the account of waste will automatically be transformed and everything will be used in a worthwhile way. Donate all the treasures you have received from the Father. Never, even by mistake in your dreams should you consider God’s gift to be yours. To have the consciousness of “mine” – ‘this is my virtue, this is my power’ – means to lose that treasure. Use your Godly sanskars in a worthwhile way and wasteful sanskars will automatically go away. Do not keep the Godly sanskars in the locker of your intellect; use them and let them be used in a worthwhile way. To use something in a worthwhile way means to save and increase it. Use everything in a worthwhile way with your mind, with your words, in your relationships and connections, in your deeds, your elevated company and your very powerful attitude. To use everything in a worthwhile way is the key to success. You have the elevated treasures of time and thoughts, so use these with the method of “greater glorification with less expenditure” and use everything in a worthwhile way. Let there be less expenditure of thoughts and yet greater attainment. What ordinary people are able to achieve successfully after thinking for two to four minutes, you can do that in one or two seconds. Similarly, with your words and deeds, let there be less expenditure and greater success for only then will people sing the wonder of you. So, whatever property you have – time, thoughts, breath, body, mind and wealth – use all of these in a worthwhile way. Neither waste them nor keep them for a time of need. Use your wealth of knowledge, wealth of powers and virtues in a worthwhile way by becoming detached from the consciousness of “mine” at every moment and you will continue to accumulate. To use everything in a worthwhile way means to experience multi-million fold success.

In this Brahmin life:

Those who use their time in a worthwhile way, claim a right to the fortune of the kingdom for the full time as a result of using their time in a worthwhile way.

Blessing: May you be a double  light angel who remains constantly light by transforming “mine” into “Yours”.
While walking and moving around, always have the awareness, “I am an angel”. Remain constantly aware of what the form, words and deeds of an angel are, because since you now belong to the Father, you have made everything “mine” into “Yours”. Therefore, you have become light (angels). In order to fulfil this aim, simply remember one expression: “Everything belongs to the Father, nothing is mine.” Wherever you used to use the word “mine”, now say “Yours” and you will not feel any burden but will constantly fly in the flying stage.
Slogan: Wear the garland (haar) of surrendering (balihaar) yourself to the Father and you will not be defeated (haar – defeat) by Maya.

 

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 14 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 January 2017

To Read Murli 13 January 2018 :- Click Here
14-01-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 19-04-83 मधुबन

संगमयुग का प्रभु फल खाने से सर्व प्राप्तियाँ

आज बापदादा अपने सर्व स्नेही बच्चों को स्नेह का रिटर्न देने, मिलन मनाने, स्नेह का प्रत्यक्षफल, स्नेह की भावना का श्रेष्ठ फल देने के लिए बच्चों के संगठन में आये हैं। भक्ति में भी स्नेह और भावना भक्त-आत्मा के रूप में रही। तो भक्त रूप में भक्ति थी लेकिन शक्ति नहीं थी। स्नेह था लेकिन पहचान वा सम्बन्ध श्रेष्ठ नहीं था। भावना थी लेकिन अल्पकाल की कामना भरी भावना थी। अभी भी स्नेह और भावना है लेकिन समीप सम्बन्ध के आधार पर स्नेह है। अधिकारीपन के शक्ति की, अनुभव के अथॉरिटी की श्रेष्ठ भावना है। भिखारीपन की भावना बदल, सम्बन्ध बदल अधिकारीपन का निश्चय और नशा चढ़ गया। ऐसे सदा श्रेष्ठ आत्माओं को प्रत्यक्षफल प्राप्त हुआ है। सभी प्रत्यक्षफल के अनुभवी आत्मायें हो? प्रत्यक्षफल खाकर देखा है? और फल तो सतयुग में भी मिलेंगे और अब कलियुग के भी बहुत फल खाये। लेकिन संगमयुग का प्रभु फल, प्रत्यक्ष फल अगर अब नहीं खाया तो सारे कल्प में नहीं खा सकते। बापदादा सभी बच्चों से पूछते हैं – प्रभु फल, अविनाशी फल, सर्व शक्तियां, सर्वगुण, सर्व सम्बन्ध के स्नेह के रस वाला फल खाया है? सभी ने खाया है या कोई रह गया है? यह ईश्वरीय जादू का फल है। जिस फल खाने से लोहे से पारस से भी ज्यादा हीरा बन जाते हो। इस फल से जो संकल्प करो वह प्राप्त कर सकते हो। अविनाशी फल, अविनाशी प्राप्ति। ऐसे प्रत्यक्ष फल खाने वाले सदा ही माया के रोग से तन्दरूस्त रहते हैं। दु:ख, अशान्ति से, सर्व विघ्नों से सदा दूर रहने का अमर फल मिल गया है! बाप का बनना और ऐसे श्रेष्ठ फल प्राप्त होना।

आज बापदादा आये हुए विशेष पाण्डव सेना को देख हर्षित तो हो ही रहे हैं। साथ-साथ ब्रह्मा बाप के हमजिन्स से सदा पार्टी की जाती, पिकनिक मनाई जाती। तो आज इस प्रभु फल की पिकनिक मना रहे हैं। लक्ष्मी-नारायण भी ऐसी पिकनिक नहीं करेंगे। ब्रह्मा बाप और ब्राह्मणों की यह अलौकिक पिकनिक है। ब्रह्मा बाप हमजिन्स को देख हर्षित होते हैं। लेकिन हमजिन्स ही बनना। हर कदम में फालो फादर करने वाले समान साथी अर्थात् हमजिन्स। ऐसे हमजिन्स हो ना वा अभी सोच रहे हो क्या करें, कैसे करें। सोचने वाले हो वा समान बनाने वाले हो? सेकण्ड में सौदा करने वाले हो वा अभी भी सोचने का समय चाहिए? सौदा करके आये हो वा सौदा करने आये हो? परमीशन किसको मिली है, सभी ने फार्म भरे थे? वा छोटी-छोटी ब्राह्मणियों को बातें बताके पहुँच गये हो? ऐसे बहुत मीठी-मीठी बातें बताते हैं। बापदादा के पास सभी के मन के सफाई की और चतुराई की दोनों बातें पहुँचती हैं। नियम प्रमाण सौदा करके आना है। लेकिन मधुबन में कई सौदा करने वाले भी आ जाते हैं। करके आने वाले के बजाए यहाँ आकर सौदा करते हैं इसलिए बापदादा क्वान्टिटी में क्वालिटी को देख रहे हैं। क्वान्टिटी की विशेषता अपनी है, क्वालिटी की विशेषता अपनी है। चाहिए दोनों ही। गुलदस्ते में वैरायटी रंग रूप वाले फूलों से सजावट होती है। पत्ते भी नहीं होंगे तो गुलदस्ता नहीं शोभेगा। तो बापदादा के घर के श्रृंगार तो सभी हुए, सभी के मुख से बाबा शब्द तो निकलता ही है। बच्चे घर का श्रृंगार होते हैं। अभी भी देखो यह ओम् शान्ति भवन का हाल आप सबके आने से सज गया है ना। तो घर के श्रृंगार, बाप के श्रृंगार सदा चमकते रहो। क्वान्टिटी से क्वालिटी में परिवर्तन हो जाओ। समझा – आज तो सिर्फ मिलने का दिन था फिर भी ब्रह्मा बाप को हमजिन्स पसन्द आ गये, इसलिए पिकनिक की। अच्छा।

सदा प्रभु फल खाने के अधिकारी, सदा ब्रह्मा बाप समान सेकण्ड में सौदा करने वाले, हर कर्म में कर्म योगी, ब्रह्मा बाप को फालो करने वाले, ऐसे बाप समान विशेष आत्माओं को, चारों ओर के क्वालिटी और क्वान्टिटी वाले बच्चों को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

पार्टियों के साथ अव्यक्त बापदादा की मुलाकत (अधरकुमारों से)

1- सदा अपने को विश्व के अन्दर कोटो में से कोई हम हैं – ऐसे अनुभव करते हो? जब भी यह बात सुनते हो – कोटों से कोई, कोई में भी कोई तो वह स्वयं को समझते हो? जब हूबहू पार्ट रिपीट होता है तो उस रिपीट हुए पार्ट में हर कल्प आप लोग ही विशेष होंगे ना! ऐसे अटल विश्वास रहे। सदा निश्चय बुद्धि सभी बातों में निश्चिन्त रहते हैं। निश्चय की निशानी है निश्चिन्त। चिन्तायें सारी मिट गई। बाप ने चिंताओं की चिता से बचा लिया ना! चिंताओं की चिता से उठाकर दिलतख्त पर बिठा दिया। बाप से लगन लगी और लगन के आधार पर लगन की अग्नि में चिन्तायें सब ऐसे समाप्त हो गई जैसे थी ही नहीं। एक सेकेण्ड में समाप्त हो गई ना! ऐसे अपने को शुभचिन्तक आत्मायें अनुभव करते हो! कभी चिंता तो नहीं रहती! न तन की चिंता, न मन में कोई व्यर्थ चिंता और न धन की चिंता क्योंकि दाल रोटी तो खाना है और बाप के गुण गाना है। दाल रोटी तो मिलनी ही है। तो न धन की चिंता, न मन की परेशानी और न तन के कर्मभोग की भी चिंता क्योंकि जानते हैं यह अन्तिम जन्म और अन्त का समय है, इसमें सब चुक्तु होना है इसलिए सदा शुभचिन्तक। क्या होगा! कोई चिंता नहीं। ज्ञान की शक्ति से सब जान गये। जब सब कुछ जान गये तो क्या होगा, यह क्वेश्चन खत्म – क्योंकि ज्ञान है जो होगा वह अच्छे ते अच्छा होगा। तो सदा शुभचिन्तक, सदा चिन्ताओं से परे निश्चय बुद्धि, निश्चिन्त आत्मायें, यही तो जीवन है। अगर जीवन में निश्चिन्त नहीं तो वह जीवन ही क्या है! ऐसी श्रेष्ठ जीवन अनुभव कर रहे हो? परिवार की भी चिन्ता तो नहीं है? हरेक आत्मा अपना हिसाब किताब चुक्तु भी कर रही है और बना भी रही है, इसमें हम क्या चिंता करें। कोई चिंता नहीं। पहले चिता पर जल रहे थे, अभी बाप ने अमृत डाल जलती चिता से मरजीवा बना दिया। जिंदा कर दिया। जैसे कहते हैं मरे हुए को जिंदा कर दिया। तो बाप ने अमृत पिलाया और अमर बना दिया। मरे हुए मुर्दे के समान थे और अब देखो क्या बन गये! मुर्दे से महान बन गये। पहले कोई जान नहीं थी तो मुर्दे समान ही कहेंगे ना। भाषा भी क्या बोलते थे, अज्ञानी लोग भाषा में बोलते हैं – मर जाओ ना। या कहेंगे हम मर जाएं तो बहुत अच्छा। अब तो मरजीवा हो गये, विशेष आत्मायें बन गये। यही खुशी है ना। जलती हुई चिता से अमर हो गये – यह कोई कम बात है! पहले सुनते थे भगवान मुर्दे को भी जिंदा करता है, लेकिन कैसे करता, यह नहीं समझते थे। अभी समझते हो हम ही जिंदा हो गये तो सदा नशे और खुशी में रहो।

टीचर्स के साथ:- सेवाधारियों की विशेषता क्या है? सेवाधारी अर्थात् आंख खुले और सदा बाप के साथ बाप के समान स्थिति का अनुभव करे। अमृतवेले के महत्व को जानने वाले विशेष सेवाधारी। विशेष सेवाधारी की महिमा ह़ै जो विशेष वरदान के समय को जानें और विशेष वरदानों का अनुभव करें। अगर अनुभव नहीं तो साधारण सेवाधारी हुए, विशेष नहीं। विशेष सेवाधारी बनना है तो यह विशेष अधिकार लेकर विशेष बन सकते हो। जिसको अमृतवेले का, संकल्प का, समय का और सेवा का महत्व है ऐसे सर्व महत्व को जानने वाले विशेष सेवाधारी होते हैं। तो इस महत्व को जान महान बनना है। इसी महत्व को जान स्वयं भी महान बनो और औरों को भी महत्व बतलाकर, अनुभव कराकर महान बनाओ। अच्छा – ओम् शान्ति।

अव्यक्त महावाक्य पर्सनल

सफल करो और सफलता मूर्त बनो

जैसे ब्रह्मा बाप ने निश्चय के आधार पर, रूहानी नशे के आधार पर निश्चित भावी के ज्ञाता बन सेकेण्ड में सब कुछ सफल कर दिया; अपने लिए नहीं रखा, सफल किया। जिसका प्रत्यक्ष सबूत देखा कि अन्तिम दिन तक तन से पत्र-व्यवहार द्वारा सेवा की, मुख से महावाक्य उच्चारण किये। अन्तिम दिन भी समय, संकल्प, शरीर को सफल किया। तो सफल करने का अर्थ ही है-श्रेष्ठ तरफ लगाना। ऐसे जो सफल करते हैं उन्हें सफलता स्वत: प्राप्त होती है। सफलता प्राप्त करने का विशेष आधार ही है-हर सेकेण्ड, हर श्वांस, हर खजाने को सफल करना। संकल्प, बोल, कर्म, सम्बन्ध-सम्पर्क जिसमें भी सफलता अनुभव करने चाहते हो तो स्व के प्रति चाहे अन्य आत्माओं के प्रति सफल करते जाओ। व्यर्थ न जाने दो तो ऑटोमेटिकली सफलता के खुशी की अनुभूति करते रहेंगे क्योंकि सफल करना अर्थात् वर्तमान के लिए सफलता मूर्त बनना और भविष्य के लिए जमा करना।

सेवा में सफलता प्राप्त करने के लिए समर्पण भाव और बेफिक्र स्थिति चाहिए। सेवा में जरा भी मेरेपन का भाव मिक्स न हो। कोई भी बात का फिक्र न हो क्योंकि फिक्र करने वाला समय भी गंवाता, इनर्जी भी व्यर्थ जाती और काम भी गंवा देता है। वह जिस काम के लिए फिक्र करता वह काम ही बिगड़ जाता है। दूसरा – सदा सफलता मूर्त बनने का साधन है-एक बल एक भरोसा। निश्चय सदा ही निश्चिंत बनाता है और निश्चिंत स्थिति वाला जो भी कार्य करेगा उसमें सफल जरूर होगा। जैसे ब्रह्मा बाप ने दृढ़ संकल्प से हर कार्य में सफलता प्राप्त की, दृढ़ता सफलता का आधार बना। ऐसे फालो फादर करो। हर खजाने को, गुणों को, शक्तियों को कार्य में लगाओ तो बढ़ते जायेंगे। बचत की विधि, जमा करने की विधि को अपनाओ तो व्यर्थ का खाता स्वत: ही परिवर्तन हो सफल हो जायेगा। बाप द्वारा जो भी खजाने मिले हैं उनका दान करो, कभी भी स्वप्न में भी गलती से प्रभू देन को अपना नहीं समझना। मेरा यह गुण है, मेरी शक्ति है-यह मेरापन आना अर्थात् खजानों को गंवाना। अपने ईश्वरीय संस्कारों को भी सफल करो तो व्यर्थ संस्कार स्वत: ही चले जायेंगे। ईश्वरीय संस्कारों को बुद्धि के लॉकर में नहीं रखो। कार्य में लगाओ, सफल करो। सफल करना माना बचाना या बढ़ाना। मंसा से सफल करो, वाणी से सफल करो, सम्बन्ध-सम्पर्क से, कर्म से, अपने श्रेष्ठ संग से, अपने अति शक्तिशाली वृत्ति से सफल करो। सफल करना ही सफलता की चाबी है। आपके पास समय और संकल्प रूपी जो श्रेष्ठ खजाने हैं, इन्हें ”कम खर्च बाला नशीन” की विधि द्वारा सफल करो। संकल्प का खर्च कम हो लेकिन प्राप्ति ज्यादा हो। जो साधारण व्यक्ति दो चार मिनट संकल्प चलाने के बाद, सोचने के बाद सफलता या प्राप्ति कर सकता है वह आप एक दो सेकेण्ड में कर सकते हो। ऐसे ही वाणी और कर्म, कम खर्चा और सफलता ज्यादा हो तब ही कमाल गाई जायेगी। तो आपके पास जो भी प्रापर्टी है, समय, संकल्प, श्वांस, तन-मन-धन सब सफल करो, व्यर्थ नहीं गंवाओ, न आइवेल के लिए सम्भालकर रखो। ज्ञान धन, शक्तियों का धन, गुणों का धन हर समय मैं पन से न्यारे बन सफल करो तो जमा होता जायेगा। सफल करना अर्थात् पदमगुणा सफलता का अनुभव करना।

इस ब्राह्मण जीवन में –

* जो समय को सफल करते हैं वह समय की सफलता के फलस्वरूप राज्य-भाग्य का फुल समय राज्य-अधिकारी बनते हैं।

* जो श्वांस सफल करते हैं, वह अनेक जन्म सदा स्वस्थ रहते हैं। कभी चलते-चलते श्वांस बन्द नहीं होगा, हार्ट फेल नहीं होगा।

* जो ज्ञान का खजाना सफल करते हैं, वह ऐसा समझदार बन जाते हैं जो भविष्य में अनेक वजीरों की राय नहीं लेनी पड़ती, स्वयं ही समझदार बन राज्य-भाग्य चलाते हैं।

* जो सर्व शक्तियों का खजाना सफल करते हैं अर्थात् उन्हें कार्य में लगाते हैं वह सर्व शक्ति सम्पन्न बन जाते हैं। उनके भविष्य राज्य में कोई शक्ति की कमी नहीं होती। सर्व शक्तियां स्वत: ही अखण्ड, अटल, निर्विघ्न कार्य की सफलता का अनुभव कराती हैं।

* जो सर्व गुणों का खजाना सफल करते हैं, वह ऐसे गुणमूर्त बनते हैं जो आज लास्ट समय में भी उनके जड़ चित्र का गायन ‘सर्व गुण सम्पन्न देवता’ के रूप में होता है।

* जो स्थूल धन का खजाना सफल करते हैं वह 21 जन्मों के लिए मालामाल रहते हैं। तो सफल करो और सफलता मूर्त बनो। अच्छा।

वरदान:- मेरे को तेरे में परिवर्तन कर सदा हल्का रहने वाले डबल लाइट फरिश्ता भव 
चलते-फिरते सदा यही स्मृति में रहे कि हम हैं ही फरिश्ते। फरिश्तों का स्वरूप क्या, बोल क्या, कर्म क्या…वह सदा स्मृति में रहें क्योंकि जब बाप के बन गये, सब कुछ मेरा सो तेरा कर दिया तो हल्के (फरिश्ते) बन गये। इस लक्ष्य को सदा सम्पन्न करने के लिए एक ही शब्द याद रहे – सब बाप का है, मेरा कुछ नहीं। जहाँ मेरा आये वहाँ तेरा कह दो, फिर कोई बोझ फील नहीं होगा, सदा उड़ती कला में उड़ते रहेंगे।
स्लोगन:- बाप के ऊपर बलिहार जाने का हार पहन लो तो माया से हार नहीं होगी।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize