today murli 14 February

TODAY MURLI 14 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 14 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 13 February 2019 :- Click Here

14/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, prove to the people of Bharat that Shiva Jayanti is the Gita Jayanti and that Shri Krishna Jayanti then takes place through the Gita.
Question: What is the main basis for the establishment of any religion? What task, which only the Father carries out, do the founders of religions not perform?
Answer: For the establishment of any religion, the power of purity is required. All religions are established on the basis of the power of purity. However, no founder of a religion can purify anyone because when the religions are established, it is the kingdom of Maya and they have all become impure. It is the duty of the Father alone to make impure ones pure. He alone gives the shrimat to become pure.
Song: Take us away from this world of sin to a place of rest and comfort!

Om shanti. You children have now understood what the world of sin is and what the world of charity is, that is, what the pure world is. In fact, this Bharat is the world of sin and Bharat itself then becomes the world of charity, heaven. Bharat itself was Paradise and Bharat has become the extreme depths of hell because they continue to burn on the pyre of lust. There, no one burns on the pyre of lust; there is no pyre of lust there. You would not say that there is the pyre of lust in the golden age. These matters have to be understood. First of all, a question arises. The Bharat that is impure and unhappy definitely was pure and happy. They even speak of the original, eternal Hindu religion, but who are called the original, eternal people? What does ‘original’ mean and what does ‘eternal’ mean? ‘Original’ means the golden age. Who existed in the golden age? Everyone knows that Lakshmi and Narayan existed then. Surely, they would have been the children of someone too that they became the masters of the golden age. They were the children of the Supreme Father, the Supreme Soul, who established the golden age. However, they don’t consider themselves to be His children at this time (in the iron age). If they were to consider themselves to be His children, they would know the Father, but they don’t know Him. The Hindu religion is not mentioned in the Gita. The name Bharat is mentioned in the Gita and those people are called those of the Hindu Mahasabha. The Shrimad Bhagawad Gita is the jewel, the mother, of all scriptures. They celebrate the Gita Jayanti and also Shiva Jayanti. You should know when it is Shiva Jayanti. Then, there is Krishna Jayanti. You children now know that after Shiva Jayanti, there is the Gita Jayanti. After the Gita Jayanti, there is Krishna Jayanti. It is only through the Gita Jayanti that the deity religion is established. The Gita Jayanti also has a connection with the Mahabharata and there are things about a battle mentioned in that. They show that there were three armies on the battlefield. They show the Yadavas, the Kauravas and the Pandavas. The Yadavas were those who invented the missiles. They drank alcohol and made the missiles emerge. You know that the missiles are now truly being invented. They are threatening one another, to destroy their own clan. They are all Christians ; the people of Europe are also the same Yadavas. So, that is their gathering. They were destroyed by them fighting amongst themselves. The whole of Europe was included in that. Those of Islam, the Buddhists and the Christians were all included in that. Here, there are the Kauravas and Pandavas. The Kauravas were also destroyed and the Pandavas gained victory. Now, the question arises: Who was the God of the Gita who taught easy Yoga and easy knowledge and made you into kings of kings, that is, who established the pure world? Did Shri Krishna come to do that? The Kauravas were in the iron age. How could Shri Krishna come at the time of the Kauravas and the Pandavas? They celebrate Shri Krishna Jayanti; he was 16 celestial degrees at the beginning of the golden age. After Shri Krishna, there was the jayanti of Rama who was 14 degrees. Krishna was the king of kings, that is, the prince of all princes. Even vicious princes worship Shri Krishna because they know that he was 16 celestial degrees full, the complete prince of the golden age and that they themselves are vicious. Surely, the princes would say this. There is now to be Shiva Jayanti. The biggest images of Him are in the temples. That is the temple of incorporeal Shiva. He alone is called the Supreme Father, the Supreme Soul. Brahma, Vishnu and Shankar are deities. Shiva Jayanti is only celebrated in Bharat. Shiva Jayanti is now about to come. You have to explain and prove that Shiva alone is called the Ocean of Knowledge, that is, it is the Supreme Father, the Supreme Soul, who makes the world pure. Gandhiji also used to sing this, but he didn’t mention Krishna’s name. So, the question now arises: Is it Shiva Jayanti which then brings the Gita Jayanti or is it Krishna Jayanti which then brings the Gita Jayanti? Krishna Jayanti would be said to be in the golden age. No one knows when it was the Jayanti of Shiva. Shiva is the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, and He created the world at the confluence age. In the golden age, it was the kingdom of Shri Krishna. So, surely, Shiva Jayanti would have been before that. The children who are the decoration of the Brahmin clan, those who are ready to do service , should take these things into their intellects and understand how to explain and prove to the people of Bharat that it is through Shiva Jayanti that there is the Gita Jayanti. Then, from the Gita, there is the Krishna Jayanti, that is, the jayanti of the king of kings. Krishna is a king of the pure world. That was the kingdom there. Shri Krishna did not take birth there and speak the Gita. There could not have been the Mahabharat War there in the golden age. That must definitely have taken place at the confluence age. You children have to explain these things very clearly. The Pandava and Kaurava gatherings are very well known. They show Shri Krishna as the head of the Pandavas. They believe that he taught easy Raj Yoga and easy knowledge. In fact, there is no question of a battle etc. The Pandavas, to whom the Supreme Father, the Supreme Soul, taught easy Raj Yoga, became victorious. They were the ones who became part of the sun and moon dynasties for 21 births. Therefore, first of all, explain to those of the Hindu Mahasabha. There are also other gatherings, such as the Lok Sabha, Rajya Sabha (different political parties). The Hindu Sabha is the main one. The three remembered armies were the Yadavas, the Kauravas and the Pandavas and they existed at the confluence age. The golden age is now being established. Preparations for the birth of Krishna are now being made. The Gita was definitely spoken at the confluence age, so whom should you now show at the confluence age? Krishna cannot come here now. Why would he leave the pure world and come into the impure world? In fact, Krishna doesn’t exist at this time. You know that he is now in his 84th birth. They think that Krishna is present everywhere, that he is omnipresent. The devotees of Krishna say that all are Krishna, that Krishna has adopted those forms. Those who belong to the path of Radhe say that Radhe is in everyone – I am Radhe and you are Radhe. Many dictates have emerged. Some say that God is omnipresent, some say that Krishna is omnipresent, some say that Radhe is omnipresent. The Father is now explaining to you children. That Father is the World Almighty Authority and so He is giving you children the authority to explain to all of those people. Explain to those of the Hindu Mahasabha. They would be able to understand these things; they consider themselves to be religiousminded. The Government doesn’t believe in any particular religion. They themselves are confused. Shiva, the Supreme Soul, is the incorporeal Ocean of Knowledge. No one else can be called the Ocean of Knowledge. Only when He personally comes here and gives you knowledge can the kingdom be established. Then the kingdom is established. He would come once again in person when you have lost your kingdom. So you have to prove that Shiva, the Supreme Soul, is the incorporeal Ocean of Knowledge and that it is Shiva Jayanti which brings the Gita Jayanti. You should make plays based on this so that the aspect of Krishna is removed from people’s intellects. Only the incorporeal Supreme Soul, Shiva, is called the Purifier. All the scriptures have been written by human beings and are based on human dictates. Baba doesn’t have any scriptures. The Father says: I personally come and make you children into princes from beggars, and then I depart. Only I can give you this knowledge personally. Although those people who relate the Gita recite it, God is not there personally in front of them. They say that the God of the Gita was personally there, that He created heaven and then departed. So, is it that people can become residents of heaven by listening to that Gita? When someone is dying, they read the Gita to him; they don’t read any other scripture. They believe that heaven was established through the Gita and that is why they only read the Gita. So, there should only be one Gita. All the other religions came later. No one else can say that they will become residents of heaven. They give people Ganges water to drink; they don’t give the water of the River Jamuna. Importance is given to only the water of the Ganges. Many Vaishnavas go there and bring back urns of that water. They say that by drinking a drop of that water mixed with ordinary water, all their illnesses end. In fact, it is the stream of the nectar of knowledge through which your sorrow is removed for 21 births. By them bathing in the living Ganges of knowledge, people can become residents of heaven. So the Ganges of knowledge would definitely have emerged at the end. There are rivers of water anyway. It isn’t that, by drinking water, anyone can become a deity. Here, if someone hears even a little knowledge, he claims a right to heaven. These are the Ganges of knowledge of Shiv Baba, the Ocean of Knowledge. The Ocean of Knowledge, the Bestower of the Knowledge of the Gita, is only the one Shiva, not Krishna. There is no one impure in the golden age to whom knowledge would be given. God sits here and explains all of these things. O Arjuna! Or, O Sanjay! The names have become famous. He was very clever at writing and so he became an instrument. Now, Shiva Jayanti is coming and so you should write this in big writing. Shiva is incorporeal. He is called the Ocean of Knowledge, the Blissful One. Krishna cannot be called knowledge-full or blissful. Only Shiva, the Supreme Soul, gives knowledge and has mercy. His knowledge is His mercy. A m aster has mercy and teaches you and you thereby become a barrister or an engineer. There is no need for bliss in the golden age. So, first of all, you have to prove whether it is Shiva Jayanti, the incorporeal Ocean of Knowledge, that brings the Gita Jayanti or whether it is the golden-aged corporeal Krishna Jayanti that brings the Gita Jayanti. You children have to prove this. You know that none of the messengers who come can make anyone pure. Because it has been the kingdom of Maya from the copper age, all have become impure. When people become distressed they say that they want to leave here. The religion that is established then grows. The religions are established with the power of purity and then they have to become impure. There are four main religions and expansion takes place through them; the branches and twigs emerge. When it is proved that it is Shiva Jayanti which brings the Gita Jayanti, all the other scriptures will be proved useless because they were written by human beings. In fact, the scripture of Bharat is just the one Gita. The most b eloved Father explains and makes it so easy for you. His directions are the most elevated of all. You now have to prove whether it is the incorporeal Ocean of Knowledge Jayanti that brings the Gita Jayanti or the golden-aged corporeal Shri Krishna Jayanti that brings the Gita Jayanti. You have to hold a big conference to do this. If this is proved, all the pandits will then come to you and take this aim. You have to do something at Shiva Jayanti. Explain to those of the Hindu Mahasabha. Theirs is a large organisation. In the golden age there is the original, eternal deity religion. There aren’t any other sabhas (gatherings) there. The sabhas exist at the confluence age. First of all, you have to prove that the original, eternal sabha is in fact the Brahmins or Pandavas. The Pandavas gained victory and then became residents of heaven. No one can say that the original, eternal deity sabha (religion) exists now. You would not say that it is a sabha of the deities. They have a sovereignty. Those sabhas existed at the confluence age of the cycle. One of those was the Pandavas Sabha which would also be called the original, eternal sabha of the Brahmins. No one knows this. There are no Brahmins with the name of Krishna. The topknot of Brahmins is named because of Brahma’s name. The sabha of you Brahmins would be in the name of Brahma. Someone wise is needed to explain all of these things. He needs to have the enlightenment of knowledge. Only incorporeal Shiva is the Bestower of the Knowledge of the Gita, the Bestower of the divine eye. Imbibe all of these things and then hold conferences. Those who feel that they can prove this should meet as a group. There is a sabha of m ajors and commanders on a battlefield. Here, a maharathi is called a commander. Baba is the Creator and Director. He is creating heaven and so He gives directions for this: Set up a mahasabha and then take up this topic. When it is proved who the God of the Gita is, everyone will understand that they should have yoga with Him. Baba says: I have come as the Guide. You should at least become worthy and able to fly! Maya has broken your wings. By having yoga, you souls will become pure and fly! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do the service of making everyone free from disease and residents of heaven with the nectar of knowledge. Human beings have to be made into deities. Become ‘master merciful’ like the Father.
  2. Become wise with the enlightenment of knowledge and prove at Shiva Jayanti that Shiva Jayanti is itself the Gita Jayanti, that it is only through the knowledge of the Gita that Shri Krishna takes birth.
Blessing: May you be a truly loving soul and stay free from all attractions by your heart remaining filled with the Father’s love.
The Father gives all the children equal love, but children take that love according to their own capacity. Those who take the Father’s love at the beginning of the day at amrit vela are not attracted by anyone else’s love because they have God’s love in their hearts. If they do not fill their hearts fully with love, then because of having some space in their hearts, Maya attracts them with different forms of love. Therefore, be truly loving and remain filled with God’s love.
Slogan: Those who fly beyond their bodies, the old world and the old relationships of bodies are said to be residents of Indraprasth.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 14 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 February 2019

To Read Murli 13 February 2019 :- Click Here
14-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – भारतवासियों को सिद्धकर बताओ कि शिव जयन्ती ही गीता जयन्ती है, गीता से फिर होती है श्रीकृष्ण जयन्ती”
प्रश्नः- किसी भी धर्म की स्थापना का मुख्य आधार क्या है? धर्म स्थापक कौन-सा कार्य नहीं करते जो बाप करते हैं?
उत्तर:- किसी भी धर्म की स्थापना के लिए पवित्रता का बल चाहिए। सभी धर्म पवित्रता के बल से स्थापन हुए। लेकिन कोई भी धर्म स्थापक किसी को पावन नहीं बनाते क्योंकि जब धर्म स्थापन होते हैं तब माया का राज्य है, सबको पतित बनना ही है। पतितों को पावन बनाना – यह बाप का ही काम है। वही पावन बनने की श्रीमत देते हैं।
गीत:- इस पाप की दुनिया से……..

ओम् शान्ति। अब बच्चों ने समझ लिया है कि पाप की दुनिया किसको और पुण्य की दुनिया अथवा पावन दुनिया किसको कहा जाता है। वास्तव में पाप की दुनिया यह भारत ही है और भारत ही फिर पुण्य की दुनिया स्वर्ग बनता है। भारत ही बहिश्त था, भारत ही दोज़क बना है क्योंकि काम चिता पर जलते रहते हैं। वहाँ काम चिता पर कोई जलता नहीं, वहाँ काम चिता है ही नहीं। ऐसे भी नहीं कहेंगे कि सतयुग में काम चिता है, यह समझने की बातें हैं ना। पहले-पहले प्रश्न उठता है भारत जो पतित-दु:खी है सो वही भारत पावन-सुखी था जरूर। कहते भी हैं आदि सनातन हिन्दू धर्म था। अब आदि सनातन किसको कहा जाता है? आदि माना क्या और सनातन माना क्या? आदि माना सतयुग। तो सतयुग में कौन थे? यह तो सबको मालूम है कि लक्ष्मी-नारायण थे। जरूर वे भी किसकी सन्तान होंगे जो फिर सतयुग के मालिक बनें। सतयुग स्थापन करने वाला था परमपिता परमात्मा, उनकी सन्तान थे। परन्तु इस समय अपने को उनकी सन्तान नहीं समझते। अगर सन्तान समझते तो बाप को जानते, बाप को तो जानते ही नहीं। अब हिन्दू धर्म तो गीता में है नहीं। गीता में तो भारत नाम पड़ा है वह कहलाते हैं हिन्दू महासभा। अब श्रीमत भगवत गीता है सर्वशास्त्रमई शिरोमणी। गीता जयन्ती भी मनाई जाती है, शिव जयन्ती भी मनाई जाती है। अब शिव जयन्ती कब हुई है – यह भी मालूम होना चाहिए। फिर है कृष्ण जयन्ती। अभी तुम बच्चे जान चुके हो कि शिव जयन्ती के बाद है गीता जयन्ती। गीता जयन्ती के बाद है कृष्ण जयन्ती। गीता जयन्ती से ही देवी-देवता धर्म की स्थापना होती है। फिर गीता जयन्ती के साथ महाभारत का भी कनेक्शन है। उसमें फिर आती है युद्ध की बात। दिखाते हैं युद्ध के मैदान में 3 सेनायें थी। यादव, कौरव और पाण्डव दिखाते हैं। यादव मूसल निकालते हैं। वहाँ शराब पिया और मूसल निकाले। तुम जानते हो अभी बरोबर मूसल भी निकल रहे हैं। वह भी अपने कुल का विनाश करने एक-दूसरे को धमकी दे रहे हैं। सब क्रिश्चियन लोग हैं। वही यूरोपवासी यादव ठहरे। तो एक है उन्हों की सभा। उनका विनाश हुआ, आपस में लड़ मरे। उसमें सारा यूरोप आ गया। उसमें इस्लामी, बौद्धी, क्रिश्चियन सब आ जाते हैं। यहाँ फिर है कौरव और पाण्डव। कौरव भी विनाश को प्राप्त हुए और विजय पाण्डवों की हुई। अब प्रश्न उठता है गीता का भगवान् कौन, जिसने सहज योग और सहज ज्ञान सिखलाकर राजाओं का राजा बनाया अथवा पावन दुनिया स्थापन की? क्या श्रीकृष्ण आया? कौरव तो कलियुग में थे। कौरव-पाण्डवों के समय श्रीकृष्ण कैसे आ सकता? श्रीकृष्ण जयन्ती मनाते हैं, सतयुग आदि में 16 कला। श्रीकृष्ण के बाद फिर त्रेता में 14 कला राम की। कृष्ण है राजाओं का राजा अथवा प्रिन्स का प्रिन्स। विकारी प्रिन्स लोग भी श्रीकृष्ण को पूजते हैं क्योंकि जानते हैं वह सतयुग का 16 कला सम्पूर्ण प्रिन्स था, हम विकारी हैं। जरूर प्रिन्स लोग भी ऐसे कहेंगे ना। अब फिर शिव जयन्ती भी है, मन्दिर भी बड़े से बड़ा उनका ही बना हुआ है। वह है निराकार शिव का मन्दिर। उनको ही परमपिता परमात्मा कहेंगे। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर भी देवता ही ठहरे।

शिव जयन्ती भारत में ही मनाई जाती है। अब देखो शिव जयन्ती आने वाली है। सिद्धकर समझाना है शिव को ही कहा जाता है ज्ञान का सागर अर्थात् सृष्टि को पावन करने वाला परमपिता परमात्मा। गांधी भी गाते थे, कृष्ण का नाम नहीं लेते थे। अब प्रश्न उठता है शिव जयन्ती सो गीता जयन्ती या कृष्ण जयन्ती सो गीता जयन्ती? अब कृष्ण जयन्ती तो सतयुग में कहेंगे। शिव की जयन्ती कब हुई थी – किसको पता नहीं। शिव तो है निराकार परमपिता परमात्मा, उसने सृष्टि रची संगम पर। सतयुग में था श्रीकृष्ण का राज्य। तो जरूर पहले शिव जयन्ती होगी। बच्चे जो ब्राह्मण कुल भूषण सर्विस में तत्पर रहते हैं उन्हों को यह बातें बुद्धि में लानी हैं कि भारतवासियों को कैसे सिद्धकर बतायें कि शिवजयन्ती सो गीता जयन्ती। फिर गीता से होती है कृष्ण जयन्ती अथवा राजाओं के राजा की जयन्ती। कृष्ण है पावन दुनिया का राजा। वहाँ तो है राजाई। वहाँ श्रीकृष्ण ने जन्म लेकर गीता तो गाई नहीं और सतयुग में महाभारत लड़ाई आदि तो हो नहीं सकती। वह जरूर संगम पर हुई होगी। तुम बच्चों को अच्छी तरह इन बातों पर समझाना है।

पाण्डव और कौरव सभा मशहूर है। पाण्डव पति दिखलाते हैं श्रीकृष्ण को। समझते हैं उसने सहज ज्ञान और सहज राजयोग सिखलाया। अब वास्तव में लड़ाई की तो कोई बात ही नहीं। विजय पाण्डवों की हुई है, जिन्हों को परमपिता परमात्मा ने सहज राजयोग सिखलाया। वही 21 जन्म सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी बन गये। तो पहले समझाना है, हिन्दू महासभा वालों को। सभायें तो और भी हैं – लोक सभा, राज्य सभा। यह हिन्दू सभा है मुख्य। जैसे 3 सेनायें गाई हुई हैं यादव, कौरव और पाण्डव… और यह हुए भी संगम पर। अभी सतयुग की स्थापना हो रही है। कृष्ण के जन्म की तैयारी हो रही है। गीता जरूर संगम पर ही गाई है। अब संगम पर किसको लायें? कृष्ण तो आ न सकें। उनको क्या पड़ी है जो पावन दुनिया छोड़ पतित दुनिया में आये और कृष्ण तो है भी नहीं। तुम जानते हो अब वह 84वें जन्म में है कई लोग फिर समझते हैं श्रीकृष्ण हाज़िराहज़ूर है, सर्वव्यापी है। कृष्ण के भक्त कहेंगे यह सब कृष्ण ही कृष्ण हैं। कृष्ण ने यह रूप धरे हैं। राधे पंथी होंगे वह फिर कहेंगे राधे ही राधे… हम भी राधे, तुम भी राधे। अनेक मतें निकल पड़ी हैं, कोई कहे ईश्वर सर्वव्यापी, कोई कहे कृष्ण सर्वव्यापी, कोई कहे राधे सर्वव्यापी। अब बाप तुम बच्चों को समझाते हैं। वह बाप वर्ल्ड ऑलमाइटी अथॉरिटी है तो अब तुम बच्चों को भी अथॉरिटी दे रहे हैं कि कैसे इन सबको समझायें। हिन्दू महासभा वालों को समझाओ, वह इन बातों को समझ सकेंगे। वह अपने को रिलीजस माइन्डेड मानते हैं। गवर्मेन्ट तो कोई धर्म को मानती नहीं। वह खुद ही मूंझ गये हैं। शिव परमात्मा है निराकार ज्ञान सागर और कोई को ज्ञान का सागर कह नहीं सकते। वह जब सम्मुख आकर ज्ञान दे, तब राजाई स्थापन हो। फिर तो बस राजाई स्थापन हो गई फिर सम्मुख तब आए जब राजाई गंवाओ। तो तुमको सिद्ध करना है शिव परमात्मा है निराकार ज्ञान सागर, शिव जयन्ती सो गीता जयन्ती। इस पर नाटक बनाने हैं, जो मनुष्यों की बुद्धि से कृष्ण की बात निकल जाये। निराकार शिव परमात्मा को ही पतित-पावन कहा जाता है। शास्त्र आदि जो भी बने हैं। वह सब मनुष्य मत पर, मनुष्यों ने बनाये हैं। बाबा का शास्त्र तो कोई है नहीं। बाप कहते हैं मैं सम्मुख आकर तुम बच्चों को बेगर टू प्रिन्स बनाता हूँ और फिर मैं चला जाता हूँ। यह नॉलेज मैं ही सम्मुख सुना सकता हूँ। वह गीता सुनाने वाले भल गीता सुनाते हैं परन्तु वहाँ भगवान् सम्मुख तो है नहीं। कहते हैं गीता का भगवान् सम्मुख था जो स्वर्ग बनाकर चला गया। तो क्या वह गीता सुनने से कोई मनुष्य स्वर्गवासी हो सकता है? मरने समय भी मनुष्यों को गीता सुनाते हैं और कोई शास्त्र नहीं सुनाते हैं। समझते हैं गीता से स्वर्ग की स्थापना हुई है इसलिए गीता ही सुनाते हैं। तो वह गीता एक होनी चाहिए ना। दूसरे धर्म सब पीछे आये हैं। और कोई कह नहीं सकते तुम स्वर्गवासी बनेंगे। फिर मनुष्यों को पिलाते भी गंगा जल है, जमुना जल नहीं पिलाते। गंगा जल का ही महत्व है। बहुत वैष्णव लोग जाते हैं, मटके भरकर ले आते हैं। फिर उनमें से बूंद-बूंद डालकर पीते रहते कि सब रोग मिट जायें। वास्तव में है यह ज्ञान अमृत की धारा जिससे 21 जन्म के दु:ख मिट जाते हैं। तुम चैतन्य ज्ञान गंगाओं में स्नान करने से मनुष्य स्वर्गवासी बन जाते हैं। तो जरूर पिछाड़ी में ज्ञान गंगायें निकली होंगी। वह पानी की नदियां तो हैं ही हैं। ऐसे थोड़ेही कोई पानी पीने से देवता बन जायेंगे। यहाँ कोई थोड़ा ही ज्ञान सुनते हैं तो स्वर्ग के हकदार बन जाते हैं। यह है ज्ञान के सागर शिवबाबा की ज्ञान गंगायें। ज्ञान सागर, गीता ज्ञान दाता एक शिव है, कृष्ण नहीं है। सतयुग में पतित कोई होता नहीं, जिसको ज्ञान दें। यह सब बातें भगवान् बैठ समझाते हैं। हे अर्जुन वा हे संजय…. नाम मशहूर हो गया है। लिखने में बहुत तीखा है, निमित्त बना हुआ है। अब शिवजयन्ती आती है तो उस पर बड़े-बड़े अक्षरों में लिखना है। शिव हो गया निराकार। उनको ज्ञान सागर, ब्लिसफुल कहा जाता है। कृष्ण को नॉलेजफुल, ब्लिसफुल नहीं कहेंगे। शिव परमात्मा ही नॉलेज देते हैं, रहम करते हैं। नॉलेज ही रहम है। मास्टर रहम कर पढ़ाते हैं तो बैरिस्टर, इन्जीनियर आदि बन जाते है। सतयुग में ब्लिस की दरकार नहीं। तो पहले-पहले सिद्ध करना है कि निराकार ज्ञान सागर शिवजयन्ती सो गीता जयन्ती वा सतयुगी साकार कृष्ण जयन्ती सो गीता जयन्ती। यह है तुम बच्चों को सिद्ध करना।

तुम जानते हो जो भी पैगम्बर आदि आते हैं वह पावन नहीं बनाते। द्वापर से माया का राज्य होने से सब पतित हो जाते हैं। फिर जब तंग होते हैं तो चाहते हैं हम जायें। जो धर्म स्थापन करते हैं वही फिर वृद्धि को पाते हैं। पवित्रता के बल से धर्म स्थापन करते हैं फिर अपवित्र बनना ही है। मुख्य हैं 4 धर्म, इनसे ही वृद्धि होती है। टाल-टालियाँ निकलती हैं। शिव जयन्ती, गीता जयन्ती सिद्ध होने से और सब शास्त्र उड़ जायेंगे क्योंकि वह हैं मनुष्यों के बनाये हुए। वास्तव में भारत का शास्त्र एक ही गीता है। मोस्ट बिलवेड बाप कितना सहज कर समझाते हैं। उनकी श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ मत है। अब तुमको यह सिद्ध करना है कि निराकार ज्ञान सागर जयन्ती सो गीता जयन्ती या सतयुगी साकार श्रीकृष्ण जयन्ती सो गीता जयन्ती? इनके लिए बड़ी कान्फ्रेन्स बुलानी पड़े। यह बात सिद्ध हो जाये तो फिर सब पण्डित तुमसे आकर यह लक्ष्य लेंगे। शिव जयन्ती पर कुछ तो करना है ना। हिन्दू महासभा वालों का समझाओ, उनकी बड़ी संस्था है। सतयुग में है आदि सनातन देवी-देवता धर्म। बाकी सभा आदि कोई नहीं। सभायें हैं संगम पर। पहले-पहले तो सिद्ध करना है कि वास्तव में आदि सनातन सभा है यह ब्राह्मणों की, पाण्डवों की। पाण्डवों ने ही विजय पाई जो फिर स्वर्गवासी हुए। अब तो कोई आदि सनातन देवी-देवताओं की सभा कह न सके। देवताओं की सभा नहीं कहेंगे, वह है सावरन्टी। कल्प के संगम पर यह सभायें थी। उनमें एक थी पाण्डव सभा, जिसको आदि सनातन ब्राह्मणों की सभा कहेंगे। यह कोई नही जानते। कृष्ण के नाम से ब्राह्मण हैं नहीं। ब्राह्मणों की चोटी ब्रह्मा के नाम से है। ब्रह्मा के नाम से तुम ब्राह्मण सभा कहेंगे। यह बातें समझाने वाला भी बुद्धिवान चाहिए। इसमें ज्ञान की पराकाष्ठा चाहिए। निराकार शिव ही गीता ज्ञान दाता दिव्य चक्षु विधाता है। यह सब धारण कर फिर कान्फ्रेंस बुलाते हैं, जो समझते हैं हम सिद्धकर बता सकेंगे उनको आपस में मिलना चाहिए। लड़ाई के मैदान में मेजर्स, कमान्डर्स आदि की सभा होती है। यहाँ कमान्डर महारथी को कहा जाता है। बाबा क्रियेटर, डायरेक्टर हैं, स्वर्ग की रचना करते हैं फिर डायरेक्शन देते हैं – महासभा बनाओ फिर इस बात को उठाओ। गीता का भगवान् सिद्ध होने से फिर सब समझेंगे कि उनसे योग लगाना चाहिए। बाबा कहते हैं मैं गाइड बनकर आया हूँ, तुम उड़ने लायक तो बनो। माया ने पंख तोड़ डाले हैं। योग लगाने से तुम्हारी आत्मा पवित्र हो जायेगी और उड़ेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान अमृत धारा से सबको निरोगी वा स्वर्गवासी बनाने की सेवा करनी है। मनुष्यों को देवता बनाना है। बाप समान मास्टर रहमदिल बनना है।

2) ज्ञान की पराकाष्ठा से बुद्धिवान बन शिवजयन्ती पर सिद्ध करना है कि शिव जयन्ती ही गीता जयन्ती है, गीता ज्ञान से ही श्रीकृष्ण का जन्म होता है।

वरदान:- बाप के स्नेह को दिल में धारण कर सर्व आकर्षणों से मुक्त रहने वाले सच्चे स्नेही भव
बाप सभी बच्चों को एक जैसा स्नेह देते हैं लेकिन बच्चे अपनी शक्ति अनुसार स्नेह को धारण करते हैं। जो अमृतवेले के आदि समय पर बाप के स्नेह को धारण कर लेते हैं, तो दिल में परमात्म स्नेह समाया होने के कारण और कोई स्नेह उन्हें आकर्षित नहीं करता। अगर दिल में पूरा स्नेह धारण नहीं करते तो दिल में जगह होने के कारण माया भिन्न-भिन्न रूप से अनेक स्नेह में आकर्षित कर लेती है इसलिए सच्चे स्नेही बन परमात्म प्यार से भरपूर रहो।
स्लोगन:- देह, देह की पुरानी दुनिया और सम्बन्धों से ऊपर उड़ने वाले ही इन्द्रप्रस्थ निवासी हैं।

TODAY MURLI 14 FEBRUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 14 February 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 13 February 2018 :- Click Here

14/02/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only by following the elevated directions of Shri Shri, the most elevated One, will you become Shri Narayan from an ordinary man. There is victory through faith.
Question: What speciality should the direct creation of God definitely have?
Answer: That of remaining constantly cheerful. The jewels of knowledge should constantly emerge through the mouths of God’s creation. Their behaviour has to be very royal. Their behaviour should not be such that it defames the Father’s name. To cry, fight and quarrel and to eat impure food are not the qualifications of God’s children. If those who have called themselves the children of God cry or do anything wrong, they lose the Father’s honour. This is why you children have to be very, very cautious. Constantly have Godly intoxication and remain cheerful.

Om shanti. The Father has to see the faces of the children. There is no sage or holy man here; it is BapDada and the children here. This is called the family of God. God means the Supreme Father. His child is Brahma and then there are you Brahma Kumars and Kumaris. He is the Father of the World. In fact, everyone in the world has three fathers. First is the incorporeal Father, second is Prajapita Brahma and the third one is a physical father. However, no one knows this. They make images etc., but they don’t know when He came. There is the image of Shiva and also the images of Brahma, Vishnu and Shankar but no one knows what part s they play or why their names are remembered. Although they have studied a great deal and hundreds of thousands of people go to listen to their lectures, it is as though they know nothing in front of you children. Everyone has a completely degraded intellect. Baba comes and cleans your intellects. You know everything. The Father is the Highest on High. He is now creating a new creation. A new creation is needed for the new world. Gandhiji too used to say that there has to be a new world and a new kingdom. Only in Bharat is there the one kingdom of the golden age. There is the kingdom of just the sun-dynasty Lakshmi and Narayan. Then there is the moon-dynasty kingdom and so the sun dynasty disappears. It is then called the moon-dynasty kingdom. Yes, they know that Lakshmi and Narayan existed previously, but it would still be called the kingdom of Rama and Sita. Therefore, Brahma is not the creator. Only the one Father is the Creator. Shiv Baba, the Creator, comes and tells you how He creates the new creation. I create you Brahmins through Brahma. Therefore, you surely have to receive the inheritance from the Father. If people were to understand even this tiny matter, it would be their great fortune for 21 births. They would never experience sorrow or even become widowed. None of them have this total intoxication in their intellect. It is very easy.

Song: I have come having awakened my fortune.

Om shanti. You have come to this pathshala. Whose pathshala? The pathshala of Shrimat Bhagawad. They have then named it the Gita. Shrimat is that of the most elevated Supreme Soul. He is giving His children elevated directions. Previously, you were following the devilish directions of Ravan. You are now receiving directions from God, the Father. I am not just your Father; I am your Father, your Teacher and also your Satguru. Those who belong to Me say: Shiv Baba, I have become Yours through the mouth of Brahma. They promise: I belong to You, I will remain Yours. Baba, too, says: You are Mine. Now follow My directions. By following shrimat you will become the elevated Lakshmi and Narayan. This is a guarantee. You were made Narayan from an ordinary man and Lakshmi from an ordinary woman in the previous cycle too. No human being can say this. No one would have the knowledge to say this. Only the Father says: My children, I teach you Raja Yoga and make you into the masters of heaven once again. The golden age is the world of Allah. God is called Allah. At this time, all are dangling upside-down. The eagle comes and attacks you. Here, Maya also attacks you. You continue to become unhappy. The Father now says: I am now taking you from this sorrow, from this ocean of poison, to the ocean of milk. There is no ocean of milk in reality. They say that Vishnu is lying in an ocean of milk in the subtle region. Those are simply words of praise. Now, I, the Ocean of Knowledge, am making you children into the masters of heaven. By sitting on the pyre of lust, you have been burnt and become ugly. I come and rain knowledge on you and you become beautiful. It is mentioned in a scripture that the children of King Sagara were burnt. They have made up many stories. The Father now says: Remove all of those things from your intellect. Now listen to Me. Those whose intellects have doubt are led to destruction. Now have faith in Me, because an intellect with faith will be victorious. You will become the beads of the rosary of victory. The significance of the rosary has also been explained to you; the rosary of victory is made of those who do good service. The beads that do the best service are placed ahead in the rosary of Rudra. They will then be ahead in the rosary of Vishnu. It is numberwise: first, there are the 108 and then add the rosary of 16,000. It isn’t that in the golden and silver ages there will just be 108 princes and princesses. As expansion takes place, the rosary becomes bigger. When the number of subjects grows, the number of princes and princesses would also surely grow. The Father says: If you don’t understand anything, then ask! O My beloved children, by knowing Me, you will know the world tree. This tree never becomes old. You know when the path of devotion begins. This is the kalpa tree. Kamdhenu is sitting beneath it. She must definitely have a father too. You are also now sitting beneath the tree and your new tree is to begin. Hundreds of thousands of subjects have been created and they will continue to be created. However, to become a king is a little difficult. In this, too, it is the ordinary and poor ones who go ahead. Baba says: I am the Lord of the Poor. Donations are given to the poor. I come and bless the stone intellects, the hunchbacks and the sinful souls. You sit and give knowledge to even sannyasis. No one can become a deity without becoming a Brahmin. Those who were in the deity clan have come into the Brahmin clan because only then can they go into the deity clan. Everyone sings, “You are the Mother and the Father”, but you have this relationship in a practical way. This is the new creation of Brahmins. The highest topknot is that of Brahmins. There is God, the Highest on High, and then the Godly community. Therefore, you should have so much intoxication of being the grandchildren of God, and the children of Prajapita. God’s children should always remain cheerful; they must never cry. Here, many who call themselves Brahma Kumars and Kumaris cry, especially the kumaris. Men don’t cry. Those who cry defame the Father’s name. They appear to be slaves of Maya. They don’t appear to be those who belong to Shiv Baba. Internally, Baba understands everything but, externally, He doesn’t show anything. Otherwise, they would fall even more. Baba says: Look after yourself. Those who defame the Satguru can never claim a high status. They have to understand that they would never claim the throne of the kingdom. You must always remain cheerful. Only when you remain cheerful here will you remain cheerful for 21 births. It is not a big thing to give a lecture. That is very easy. You have to become like Krishna. So, remain constantly cheerful now and let jewels of knowledge constantly emerge through your mouths. I, the soul, have received wealth from the Supreme Father, the Supreme Soul. Whatever I, the soul, have imbibed, I continue to donate that through my mouth. You need a stage just like Baba’s who has taken a body on loan and continues to donate. Although, superficially, Baba gives love to someone, He sees that that one’s behaviour is such that he will defame His name and so He is aware in His heart that that one will not be able to claim a status. Baba also receives complaints: This one is a child of God, so why is he or she crying? God’s honour would be lost here, would it not? Some cry and fight and eat impure food. If deities cried, that would be something else, but here, you are the direct children of God. So, what would be your destination? You mustn’t perform such wrong actions that you lose the Father’s honour. You need to be cautious in every respect. God is teaching you. At this time, there are as many opinions as there are human beings. No two people’s opinions are the same. The Father explains: You are sitting here to make your fortune the highest on high. No one, apart from God, can make your fortune elevated. There are Lakshmi and Narayan at the beginning of the golden-aged world. Only God creates that. How did He give that kingdom to Lakshmi and Narayan? No one knows how the king, queen and subjects were created. Baba explains: I come at the confluence age of the cycle and establish the kingdom of Lakshmi and Narayan. Baba says: I am giving you the tilak of the kingdom. If I, the Creator of heaven, didn’t give you the tilak of the kingdom, then who would? It is said: Tulsidas rubbed sandalwood… That applies to this time. In fact, Rama is Shiv Baba. It is not a question of rubbing sandalwood. Internally, remember the Father and your inheritance in your intellects. Forget the land of Maya. There is a lot of sorrow in that. This is the graveyard. Remember sweet Baba and the sweet land of happiness. This world is to end. Abroad, bombs etc. will be dropped and all the buildings will fall. Everyone has to die. All the rubbish has to be destroyed. Deities don’t live in rubbish. Before people invoke Lakshmi, they clean everything. Before Lakshmi and Narayan come, the whole world has to become clean and all the lands destroyed. Then the deities will come. They will come and build their palaces. Bombay wasn’t so large at that time; it was just a small village. Look what it has now become and so it will become like it was and the other lands will not remain. In the golden age, there aren’t any villages near salt water; they exist by the sweet rivers. Then, gradually, expansion takes place. Madras etc. didn’t exist. There, they live by the rivers in Vrindavan and Gokul etc. The palaces of Paradise are shown there. You know that you have come here to change from an ordinary man into Narayan. Don’t simply say humans into deities. There is the whole kingdom of deities. We have come to claim the kingdom. This is called Raja Yoga. This is not the yoga to become subjects. We will make effort and claim the sun-dynasty kingdom from the Father. Ask the children every day: Have you made any mistakes today? Did you cause sorrow for anyone? Did you do any disservice? Don’t become tired after doing just a little service. You should ask what they have been doing throughout the day. If you tell a lie, you fall. Nothing can remain hidden from Shiv Baba. Don’t think that no one is watching. Shiv Baba would quickly know everything. They would destroy themselves for nothing. You should speak the truth, for only then will you continue to dance in the golden age. Those who are truthful dance. You should remain very cheerful and happy. Just look at a husband and wife: one of them has the sovereignty of heaven in his or her fortune and the other one perhaps does not. Some have the fortune that both of them tie this bond of going and sitting on the pyre of knowledge together. You children know the biography of Mother Jagadamba. No one else will believe in the 84 births. They have portrayed her with many arms. So, people think that she is a deity, beyond birth and death. However, the image is that of a human being. No one can have so many arms. They have even portrayed Vishnu with four arms to show the family path. Here, human beings only have two arms. People have then shown Narayan with four arms and Lakshmi with two arms. In some places, they have shown Lakshmi with four arms. They have shown Narayan ugly and Lakshmi beautiful. They don’t know the reason for that at all. You now know that when the deity souls who were beautiful sat on the pyre of lust in the copper age they became ugly. The Father now comes and changes them from ugly and makes them beautiful. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remember sweet Baba and the sweet land of happiness. Remove this land of Maya from your intellect.
  2. Never become tired of service. In order to become part of the rosary of victory, serve tirelessly. Remain honest and truthful to Shiv Baba. Don’t make any mistakes. Don’t cause anyone sorrow.
Blessing: May you be an elevated soul out of multimillion and sacrifice yourself like a moth to the Flame.
You are a handful out of multimillions of the whole world and a few out of that handful of elevated souls. You have experienced and felt that you are those same elevated souls of the previous cycle, who sacrificed themselves to the Father, the Flame. You are not those who circle around, but you become moths and sacrifice ourselves. To sacrifice oneself means to die. So, you moths burn yourselves to death, do you not? To burn yourself means to belong to the Father; to burn means total transformation.
Slogan: To experience the pleasure of meeting Baba and having all attainments is the speciality of the confluence age.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 14 FEBRUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 February 2018

To Read Murli 13 February 2018 :- Click Here
14-02-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – श्री श्री की श्रेष्ठ मत पर चलने से ही तुम नर से श्री नारायण बनेंगे, निश्चय में ही विजय है”
प्रश्नः- ईश्वर की डायरेक्ट रचना में कौन सी विशेषता अवश्य होनी चाहिए?
उत्तर:- सदा हर्षित रहने की। ईश्वर की रचना के मुख से सदैव ज्ञान रत्न निकलते रहें। चलन बड़ी रॉयल चाहिए। बाप का नाम बदनाम करने वाली चलन न हो। रोना, लड़ना-झगड़ना, उल्टा सुल्टा खाना… यह ईश्वरीय सन्तान के लक्षण नहीं। ईश्वर की सन्तान कहलाने वाले अगर रोते हैं, कोई अकर्तव्य करते हैं, तो बाप की इज्जत गँवाते हैं इसलिए बच्चों को बहुत-बहुत सम्भाल करनी है। सदा ईश्वरीय नशे में हर्षितमुख रहना है।

ओम् शान्ति। बच्चों का मुखड़ा देखना पड़ता है। यह कोई साधू सन्त नहीं, बापदादा और बच्चे हैं। इसको कहा जाता है ईश्वरीय कुटुम्ब परिवार। ईश्वर यानी परमपिता, जिनका बच्चा है यह ब्रह्मा, फिर तुम हो ब्रह्माकुमार कुमारियां। वह है वर्ल्ड का फादर। यूँ सारी दुनिया के तीन फादर तो होते ही हैं। एक निराकार बाप, दूसरा प्रजापिता ब्रह्मा, तीसरा फिर लौकिक बाप। परन्तु यह किसी को भी पता नहीं है। चित्र आदि भी बनाते हैं लेकिन जानते नहीं कि यह कब आये थे? शिव का भी चित्र है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर का भी चित्र है। परन्तु वह क्या पार्ट बजाते हैं? उन्हों का नाम क्यों गाया जाता है…. यह कोई भी नहीं जानते। भल बहुत पढ़े हुए हैं, लाखों की संख्या लेक्चर सुनने जाती है। परन्तु तुम बच्चों के आगे जैसे कुछ भी नहीं जानते। बिल्कुल ही तुच्छ बुद्धि हैं। बाबा आकर तुमको स्वच्छ बुद्धि बनाते हैं। तुम सब कुछ जानते हो। ऊंच ते ऊंच बाप है। अब नई रचना रच रहे हैं। नई दुनिया में नई रचना चाहिए ना। गांधी जी भी कहते थे नई दुनिया, नया राज्य चाहिए। भारत ही है जिसमें एक राज्य सतयुग में होता है। सिर्फ सूर्यवंशी लक्ष्मी-नारायण का राज्य होता है फिर चन्द्रवंशी का राज्य होता है तो सूर्यवंशी प्राय:लोप हो जाता है। फिर कहा जाता है चन्द्रवंशी राज्य। हाँ, वह जानते हैं कि लक्ष्मी-नारायण हो करके गये हैं। परन्तु कहलायेगा राम-सीता का राज्य। तो ब्रह्मा कोई क्रियेटर नहीं है। रचयिता एक बाप है। शिवबाबा रचता आते हैं, आकर बतलाते हैं कि मैं कैसे नई रचना रच रहा हूँ। ब्रह्मा द्वारा तुम ब्राह्मणों को रच रहा हूँ। तो बाप से जरूर वर्सा मिलना चाहिए। यह थोड़ी सी बात भी कोई समझ जाए तो 21 जन्मों के लिए अहो सौभाग्य। कभी भी दु:खी वा विधवा नहीं होंगे। यह किसकी बुद्धि में पूरा नशा ही नहीं है। है बहुत सहज।

गीत:- तकदीर जगाकर आई हूँ…

ओम् शान्ति। तुम आते हो इस पाठशाला में, किसकी पाठशाला है? श्रीमत भगवत की पाठशाला। फिर उनका नाम गीता रख दिया है। श्रीमत श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ परमात्मा की है, वह अपने बच्चों को श्रेष्ठ मत दे रहे हैं। आगे तो तुम रावण की आसुरी मत पर चलते आये हो। अब ईश्वर बाप की मत मिलती है। मैं सिर्फ तुम्हारा बाप नहीं हूँ। तुम्हारा बाप भी हूँ, टीचर भी हूँ, सतगुरू भी हूँ। जो हमारे बनते हैं, कहते हैं शिवबाबा ब्रह्मा मुख द्वारा हम आपके बन गये। प्रतिज्ञा करते हैं मैं आपकी हूँ, आपकी ही रहूँगी। बाबा भी कहते हैं तुम हमारे हो। अब मेरी मत पर चलना। श्रीमत पर चलने से तुम सो श्रेष्ठ लक्ष्मी-नारायण बन जायेंगे। गैरन्टी है। कल्प पहले भी तुमको नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बनाया था। ऐसा कोई मनुष्य कह न सके। किसको कहने आयेगा नहीं। यह बाप ही कहते हैं मेरे बच्चे मैं तुमको राजयोग सिखलाकर फिर से स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ। सतयुग है अल्लाह की दुनिया। भगवती, भगवान को अल्लाह कहेंगे। इस समय सब उल्टे लटके हुए हैं। चील आकर टूँगा लगाती है ना। यहाँ भी माया टूँगा लगा देती है। दु:खी होते रहते हैं। अभी बाप कहते हैं तुमको इन दु:खों से, विषय सागर से क्षीर सागर में ले चलते हैं। अब क्षीरसागर तो कोई है नहीं। कह देते हैं विष्णु सूक्ष्मवतन में क्षीरसागर में रहते हैं। यह अक्षर महिमा के हैं। अब मैं ज्ञान सागर तुम बच्चों को स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ। तुम काम चिता पर बैठने से जलकर काले बन जाते हो, मैं आकर तुम पर ज्ञान वर्षा करता हूँ, जिससे तुम गोरे बन जाते हो। शास्त्रों में यह अक्षर हैं, सगर राजा के बच्चे जल मरे थे। बातें तो बहुत बना दी हैं। अभी बाप कहते हैं यह सब बातें बुद्धि से निकालो। अब मेरी सुनो। संशयबुद्धि विनश्यन्ती। अब मुझ पर निश्चय रखो तो निश्चयबुद्धि विजयन्ती। विजय माला के दाने बन जायेंगे। माला का राज़ भी समझाया है। जो अच्छी सर्विस करते हैं उनकी विजय माला बनती है। सबसे अच्छी सर्विस करने वाले दाने रूद्र माला में आगे जाते हैं। फिर विष्णु की माला में आगे जायेंगे। नम्बरवार 108, फिर 16000 की भी माला एड करो। ऐसे नहीं सतयुग त्रेता में सिर्फ 108 ही प्रिन्स-प्रिन्सेज होंगे। वृद्धि होते माला बढ़ती जाती है। प्रजा की वृद्धि होगी तो जरूर प्रिन्स-प्रिन्सेज की भी वृद्धि होगी। बाप कहते हैं कुछ भी नहीं समझो तो पूछो। हे मेरे लाडले बच्चे मुझे जानने से तुम सृष्टि झाड़ को जान जायेंगे। यह झाड़ कब पुराना नहीं होता है। भक्तिमार्ग कब शुरू होता है – यह तुम जानते हो। यह है कल्प वृक्ष। नीचे कामधेनु बैठी है। जरूर उनका बाप भी होगा। अभी तुम भी कल्प वृक्ष के तले में बैठे हो, फिर तुम्हारा नया झाड़ शुरू हो जायेगा। प्रजा तो लाखों की अन्दाज में बन गई और बनती जायेगी। बाकी राजा बनना यह जरा मुश्किल है। इसमें भी साधारण, गरीब उठते हैं।

बाबा कहते हैं गरीब-निवाज़ मैं हूँ। दान भी गरीब को किया जाता है। अहिल्यायें, कुब्जायें, पाप आत्मायें जो हैं, ऐसे-ऐसे को मैं आकर वरदान देता हूँ। तुम एकदम सन्यासियों को भी बैठ ज्ञान देंगे। ब्राह्मण बनने बिगर देवता कोई भी बन न सकें। जो देवता वर्ण के थे, वह ब्राह्मण वर्ण में आयें, तब फिर देवता वर्ण में जा सकें। तुम मात पिता… गाते तो सब हैं परन्तु अब तुम प्रैक्टिकल में हो। यह है ब्राह्मणों की नई रचना। ऊंच ते ऊंच चोटी ब्राह्मण, ऊंच ते ऊंच भगवान फिर ईश्वरीय सम्प्रदाय। तो तुमको इतना नशा रहना चाहिए। हम ईश्वर के पोत्रे-पोत्रियां प्रजापिता के बच्चे हैं। अब ईश्वर के बच्चे तो सदैव हर्षित रहने चाहिए। कभी रोना नहीं चाहिए। यहाँ बहुत ब्रह्माकुमार कुमारियां कहलाने वाले भी रोते हैं। खास कुमारियां। पुरुष रोते नहीं हैं। तो रोने वाले नाम बदनाम कर देते हैं। वह माया के मुरीद देखने में आते हैं। शिवबाबा के मुरीद नहीं देखने में आते। बाबा अन्दर में तो समझते हैं परन्तु बाहर से थोड़ेही दिखलायेंगे। नहीं तो और ही गिर पड़ें। बाबा कहते अपनी सम्भाल करो। सतगुरू की निन्दा कराने वाला कभी ठौर नहीं पायेगा। वह समझ लेवे हम राजगद्दी कभी नहीं पायेंगे। तुम्हें तो सदैव हर्षित रहना चाहिए। जब तुम यहाँ हर्षित रहेंगे तब 21 जन्म हर्षित रहेंगे। भाषण करना कोई बड़ी बात नहीं, वह तो बहुत सहज है। कृष्ण जैसा बनना है। तो अभी सदा हर्षितमुख रहो और मुख से रत्न निकलते रहें। मुझ आत्मा को परमपिता परमात्मा का धन मिला है, जो मुझ आत्मा में धारण होता है, सो मैं अपने मुख से दान करता जाता हूँ। जैसे बाबा शरीर का लोन ले दान करते रहते हैं, ऐसी अवस्था चाहिए। बाबा बाहर से भल प्यार देते हैं, परन्तु देखते हैं इनकी चलन बदनामी करने वाली है तो दिल में रहता है यह ठौर नहीं पा सकेंगे। बाबा को उल्हनें भी मिलते हैं ईश्वरीय सन्तान फिर रोते क्यों? आबरू (इज्जत) तो यहाँ ईश्वर की जायेगी ना। रोते हैं, झगड़ते हैं। उल्टा सुल्टा खाते हैं। देवतायें रोते तो भी और बात, यह तो डायरेक्ट ईश्वर की सन्तान रोते हैं तो क्या गति होगी! ऐसा अकर्तव्य कार्य नहीं होना चाहिए, जो बाप की आबरू गँवाओ। हर बात में सम्भाल चाहिए। तुमको ईश्वर पढ़ाते हैं।

इस समय तो जितने मनुष्य उतनी मतें हैं – एक न मिले दूसरे से। तो बाप समझाते हैं यहाँ तुम बैठे हो अपनी ऊंच ते ऊंच तकदीर बनाने। ऊंच तकदीर सिवाए परमात्मा के और कोई बना न सके। सतयुगी सृष्टि के आदि में हैं लक्ष्मी-नारायण। वह तो भगवान ही रचते हैं। उसने लक्ष्मी-नारायण को राज्य कैसे दिया? यथा राजा रानी तथा प्रजा कैसे हुई, यह कोई नहीं जानते। बाबा समझाते हैं कल्प के संगमयुग पर ही मैं आकर लक्ष्मी-नारायण का राज्य स्थापन करता हूँ। बाबा कहते हैं तुमको राजतिलक दे रहा हूँ। मैं स्वर्ग का रचयिता तुमको राजतिलक नहीं दूँगा तो कौन देगा? कहते हैं ना तुलसीदास चन्दन घिसें.. यह बात यहाँ की है। वास्तव में राम शिवबाबा है। चन्दन घिसने की बात नहीं है। अन्दर बुद्धि से बाप को और वर्से को याद करो। मायापुरी को भूलो, इनमें अथाह दु:ख हैं। यह कब्रिस्तान है। मीठे बाबा और मीठे सुखधाम को याद करो। यह दुनिया तो खत्म होनी है। विदेशों में तो बाम्ब्स आदि गिरायेंगे तो सब मकान गिर जायेंगे, सबको मरना है। किचड़पट्टी खलास होनी है। देवतायें किचड़पट्टी में नहीं रहते हैं। लक्ष्मी का आह्वान करते हैं तो सफाई आदि करते हैं ना। अब लक्ष्मी-नारायण आयेंगे तो सारी सृष्टि साफ हो जायेगी और सब खण्ड खत्म हो जायेंगे, फिर देवतायें आयेंगे। वह आकर अपने महल बनायेंगे। बाम्बे इतनी थी नहीं। गांवड़ा था। अब देखो क्या बन गया है तो फिर ऐसा होगा और खण्ड नहीं रहेंगे। सतयुग में खारे पानी पर गांव नहीं होते हैं। मीठी नदियों पर होते हैं। फिर धीरे-धीरे वृद्धि को पाते हैं। मद्रास आदि होते नहीं। वृन्दावन, गोकुल आदि नदियों पर रहते हैं, वैकुण्ठ के महल वहाँ दिखाते हैं। तुम जानते हो हम यहाँ आये हैं नर से नारायण बनने। सिर्फ मनुष्य से देवता भी नहीं कहो। देवताओं की तो राजधानी है ना। हम आये हैं राज्य लेने। इसको कहा ही जाता है राजयोग। यह कोई प्रजा योग नहीं है। हम पुरुषार्थ करके बाप से सूर्यवंशी राज्य लेंगे। बच्चों से रोज़ पूछना चाहिए कि कोई भूलचूक तो नहीं की? किसको दु:ख तो नहीं दिया? डिस-सर्विस तो नहीं की? थोड़ी सर्विस में थक नहीं जाना चाहिए। पूछना चाहिए सारा दिन क्या किया? झूठ बोलेंगे तो गिर पड़ेंगे। शिवबाबा से कुछ छिप न सके। ऐसा मत समझना – कौन देखता है? शिवबाबा तो झट जान जायेगा। मुफ्त अपनी सत्यानाश करेंगे। सच बताना चाहिए, तब ही सतयुग में नाच करते रहेंगे। सच तो बिठो नच.. खुशी में बहुत हर्षित मुख रहना चाहिए। देखो स्त्री पुरुष हैं। एक के सौभाग्य में स्वर्ग की बादशाही हो, दूसरे के भाग्य में नहीं भी हो सकती है। कोई का सौभाग्य है जो दोनों हथियाला बांधते, हम ज्ञान चिता पर बैठ इकट्ठे जायेंगे।

तुम बच्चे जगदम्बा माँ की बायोग्राफी को जानते हो और कोई 84 जन्म मानेंगे नहीं। उनको भुजायें बहुत दे दी हैं। तो मनुष्य समझेंगे यह तो देवता है, जन्म-मरण रहित है। अरे चित्र तो मनुष्य का है ना। इतनी बाहें तो होती नहीं। विष्णु को भी 4 भुजायें दिखाते हैं – प्रवृत्ति को सिद्ध करने के लिए। यहाँ तो दो भुजायें ही होती हैं। मनुष्यों ने फिर नारायण को 4 भुजा, लक्ष्मी को दो भुजायें दी हैं। कहाँ फिर लक्ष्मी को 4 भुजायें दी हैं। नारायण को सांवरा, लक्ष्मी को गोरा बना दिया है। कारण का कुछ भी पता नहीं पड़ता। तुम अभी जानते हो – देवतायें जो गोरे थे, द्वापर में आकर जब काम चिता पर बैठते हैं तो आत्मा काली बन जाती है। फिर बाप आकर उन्हें काले से गोरा बनाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार :-

1) मीठे बाबा और मीठे सुखधाम को याद करना है। इस मायापुरी को बुद्धि से भूल जाना है।

2) सर्विस में कभी थकना नहीं है। विजय माला में आने के लिए अथक हो सर्विस करनी है। शिवबाबा से सच्चा रहना है। कोई भूल-चूक नहीं करनी है। किसी को दु:ख नहीं देना है।

वरदान:- एक शमा के पीछे परवाने बन फिदा होने वाले कोटों में कोई श्रेष्ठ आत्मा भव 
सारे विश्व के अन्दर हम कोटों में कोई, कोई में भी कोई श्रेष्ठ आत्मायें हैं, जिन्होंने स्वयं अनुभव करके यह महसूस किया है, कि हम कल्प पहले वाली वही श्रेष्ठ आत्मायें हैं, जिन्होंने स्वयं को बाप शमा के पीछे फिदा किया है। हम चक्र लगाने वाले नहीं, परवाने बन फिदा होने वाले हैं। फिदा होना अर्थात् मर जाना। तो ऐसे जल मरने वाले परवाने हो ना! जलना ही बाप का बनना है, जलना अर्थात् सम्पूर्ण परिवर्तन होना।
स्लोगन:- बाबा के मिलन की और सर्व प्राप्तियों की मौज में रहना ही संगमयुग की विशेषता है।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize