today murli 13 JANUARY

TODAY MURLI 13 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 13 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 12 January 2019 :- Click Here

13/01/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
10/04/84

The basis of Brahmin life is God’s love.

Today, BapDada is looking at His loving, co-operative and easy yogi souls. All of you are yogi souls. It would be said that this is a gathering of yogis. All of you sitting here are yogi souls, that is, souls who are loved by God. Those who are loved by God are loved by the world. Do all of you constantly have the spiritual intoxication, spiritual pride and spiritual self-respect, that you are loved by the Supreme Soul, that you are those who are loved by God and who also become loved by the world? They just want a glimpse or drishti of a second or even half a second; this is what the devotees thirst for and they consider it to be a great thing. However, you have become worthy of God’s love. You are loved by God. This is such great fortune! What does each soul nowadays want from childhood till death? Even a child who doesn’t understand anything wants love in his life. They want money later, but they first want love. If they don’t have love they experience their life to be a life of hopelessness, a life without sweetness. However, all of you souls have received God’s love, you are loved by God. Is there anything greater than this? If there is love, there is the world, there is life. If there is no love, there is no life, there is no world. When you receive love, you receive the world. Do you experience this love to be your elevated fortune? The world is thirsty for this. They are thirsty for one drop of it and you children have received God’s love as your property. You are being sustained with this love from God, that is, you are moving forward in Brahmin life. Do you experience this? Do you remain merged in the Ocean of Love? Or do you just listen to it or know about it? That is, do you just stand on the shore and think about it and continue to observe it? Simply to hear or know about it means to stand on the shore. To accept and to merge into it means to become merged in the Ocean of Love. If, after being loved by God, you don’t experience becoming merged in the Ocean, being absorbed in the Ocean, then you are not those who attain something after belonging to God, but those who remain thirsty. Remaining thirsty, even after coming close – what would you say to that? Just think about who it is who has made you belong to Him! By whom are you loved? By whom are you being sustained? So, what will happen? Because of being constantly merged in love, you cannot be influenced by any problems or any type of upheaval. You will experience yourselves to be constant destroyers of obstacles, embodiments of solutions to all problems and conquerors of Maya.

Some of you children say that you are unable to remember the deep things of knowledge. However, remember the one thing which is that you are loved by God and that you have a right to God’s love. With this one awareness you will become constantly powerful. This is easy, is it not? If you forget even this, then you become trapped in a maze. Just this one thing will make you have a right to all attainments. Therefore, always remember and experience being loved by God and loved by everyone. Do you understand? This is easy, is it not? Achcha. You have now heard a lot; now adopt all of it. To adopt is to become equal. Do you understand?

To all the children who are worthy of God’s love, to all the elevated souls who are merged in love, to all the children who have a right to the sustenance of love, to the elevated souls who have spiritual pride and who stay in spiritual intoxication, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Avyakt BapDada meeting groups:

All of you are easy yogi souls, are you not? The remembrance of all relationships makes you an easy yogi. When you have a relationship, everything is easy. The awareness of being an easy yogi soul easily ends all problems because to be an easy yogi means constantly to experience the Father’s company. When you have the company of the Father, the Almighty Authority, when you have all the powers with you, problems are changed into a form of solutions. Whenever there is any problem, leave it to the Father and leave the problem alone! With your right of such a relationship, problems end. What can I do? No! The Father knows about the problem. I am detached and loved by God. Then all the burdens belong to the Father and you become light. When you yourself become light, all things also become light. When there is the slightest thought of them, you become heavy and the things also become heavy. Therefore, think: “I am light and I am detached”, and then everything will also be light. This is the method. You will attain success with this method. Even when past karmic accounts are being settled, you will not experience them to be a burden. If you observe everything as a detached observer, it is as though the past is ending and you are seeing everything as a detached observer with the power of the present. You are accumulating and also settling. With the power of accumulation, you have no burden of settling. Therefore, always remember the present. When one side becomes heavy, the other automatically becomes light. So, if the present is heavy, then the past would become light, would it not? Always keep the attainments of the present in your awareness and everything will become light. The way to make the account of the past light is to make the present powerful. The present is powerful anyway. Keep the attainments of the present in front of you and everything will become easy. The past will change from a crucifix to a thorn. There won’t be the questions: What is this? Why is it like this? No. It is the past. Why should you look at the past? Where there is love, obstacles don’t seem heavy. They seem like a game. Settle all your karmic accounts with the blessings of the happiness of the present and with medicine.

BapDada meeting teachers:

You are those who constantly experience success at every step, are you not? You are experienced souls, are you not? Experience is the greatest authority of all. Those who have the authority of experience are anyway successful at every step and in every task. To receive the chance to be an instrument for service is also a sign of speciality. Whatever chances you receive, continue to move forward with those. You are instruments who constantly move forward and also enable others to do so. The consciousness of being an instrument enables you to attain success. Always keep with you the speciality of being a humble instrument. This speciality will always make you special. The part of being an instrument also gives you a lift. To become an instrument for others means to become complete yourself. Continue to achieve success with determination. Success is guaranteed. When you have this determination, success will automatically go ahead of you.

You have received a golden chance from the moment of birth and so you have become the greatest of all chancellors, have you not? You have come with the fortune of being a server from childhood. You have come having awakened your fortune. You have become instruments to create the elevated fortune of so many souls. Therefore, always remember: Wah, the elevated line of my elevated fortune. You found the Father, you received service, you received a place of service and, together with service, you also found the elevated family of elevated souls. What have you not received? You have received the fortune of the kingdom, you have received everything. Always have this happiness. Constantly continue to make progress by using the right method. With the method of your being instruments, service will continue to grow.

BapDada meeting Kumars:

To be saved in kumar life is the greatest fortune of all. You have been saved from so many complications. “Kumars” means souls who are free from bondage. A kumar life is a life that is free from bondage. However, to remain free in kumar life means to take on a burden. BapDada’s direction for kumars is to do alokik service while living with the lokik family. Lokik service is the way to create contacts. Remain busy in this and you will be able to do alokik service. While living with your family, do alokik service and your intellect will not remain heavy. Do service by sharing your experience with everyone. Do lokik service while considering it to be a means of service, and those lokik facilities will give you many chances for service. Your aim is to do Godly service and those are the means. Do it with this understanding. “Kumars” means those who have courage. You can do whatever you want. This is why BapDada always advises you to attain success using the right method. “Kumars” means constant yogis because the world of kumars is the one Father. When the Father is your whole world, where else would your intellect go except to the world? Since everything is the One, there will be remembrance of the One. It is very easy to remember the One. You have become free from many. Everything is merged in the One. Constantly serve through your every act. In your drishti and your words, there is nothing but service. There is the enthusiasm to reveal the One you love. Let the Father and service remain with you at every step. Achcha.

The way to experience the karmateet and bodiless stage .

1) Become free from the body consciousness of any limited “mine, mine”.

2) Become free from selfish intentions in both lokik (worldly) and alokik (spiritual) actions and relationships.

3) Become free from the karmic accounts of the actions of your past births and from being influenced by any wasteful nature and sanskars due to the weakness of your present efforts.

4) If any adverse situation of service, the gathering or matter makes your original or elevated stage shake then that is not a stage of being free from bondage. Become free from even this bondage.

5) Let no type of illness of your old final body in this old world make your elevated stage fluctuate; become free from even this. It is destined for the illness to come, but for your stage to fluctuate – that is a sign of being trapped in a bondage. Have thoughts of the self, thoughts of knowledge and be a well-wisher. Become free from having thoughts about the illness of the body. This is said to be the karmateet stage.

Be a karma yogi and constantly be detached from any bondage of karma and always be loving to the Father: this is the karmateet and bodiless stage. To be karmateet does not mean to go beyond performing actions. Do not go beyond performing actions, but be detached from being trapped in any bondage of action. No matter how big a task may be, let it not feel like you are working, but as if you are playing a game. No matter what adverse situation arises, no matter if a soul comes in front of you to settle karmic accounts, even if any suffering of karma through the body continues to come in front of you, remain free from any limited desires, for this is the bodiless stage. While you have that body and are playing your part on the field of action with your physical senses, you cannot stay without performing actions for even a second. However, to remain beyond the bondage of action while performing action is the karmateet and bodiless stage. So, come into the relationship of karma through the physical senses, but do not get tied by any bondage of karma. Do not be influenced by any desire for some perishable fruit of karma. “Karmateet” means not be to influenced by karma, but to be a master, to be an authority and to have a relationship with your physical senses and make your physical senses act while you remain detached from temporary desires. You, the soul, the master, must not be dependent on actions, but as the authority, continue to have actions performed. Enable actions to be performed as the one performing actions. This is known as having a relationship of karma. A karmateet soul has a relationship, not a bondage.

“Karmateet” means to be beyond, that is, to be detached from the body, relations of the body, possessions connected with both lokik and alokik relationships and bondages. Though the word “relationship” is used, if there is any dependency in relation to the body or relationships of the body, then that becomes a bondage. In the karmateet stage, because of knowing the secrets of relationship of karma and bondage of karma, you always remain content in every situation. You would never get upset. Such a soul will be free from the bondage of any karmic account of his past births. Even if as a consequence of the karmic accounts of the past births, there is some illness of the body or even if the mind is in conflict with the sanskars of other souls, a karmateet soul would not be influenced by the suffering of karma, but would be a master and enable the account to be settled. To be a karma yogi and to settle the suffering of karma is the sign of becoming karmateet. With yoga, with a smile he would change the suffering of karma from being like a crucifix to a thorn and destroy it, that is, he would finish the suffering of karma. To be able to transform the suffering of karma with your stage of karma yoga is the karmateet stage.

Wasteful thoughts are the subtle strings of some bondage of karma. A karmateet soul would experience goodness even in something bad. Such a soul would say that whatever is happening is good. I am good, the Father is good and the drama is good. This thought works like scissors to cut the bondages. When the bondages are cut away you will become karmateet. In order to experience the bodiless stage, become free from the knowledge of desires. Such a soul who is free from any limited desires will be a kamdhenu, equal to the Father, who fulfils everyone’s desires. Just as all the Father’s treasure-stores are always full with treasures and there is no mention of any attainment that is missing, in the same way, always be full of all treasures like the Father. While playing your part in the world cycle, to remain free from the many spinnings of sorrow is the stage of liberation in life. In order to experience such a stage, be one who has all rights, one who is a master who makes all your physical senses act. Act and as soon as the deed is done, become detached. This is the practice of the bodiless stage. The original and eternal form of the soul is independence. The soul is the king, the master. Let there not be any bondage of the mind. If there is any bondage of the mind then this one bondage will bring many other bondages and so, become a self-sovereign, that is, become a king who is free from bondage. For this, let your brake be powerful. Only see what you want to see, and hear only what you want to hear. When you have such controlling powerthen you will be able to pass with honours in the end, that is, you will come into the first division.

Blessing: May you be a worthy of worship soul who easily adopts purity as your original and eternal special virtue.
The special basis for becoming worthy of worship is purity. The more you adopt all types of purity, you accordingly become worthy of worship in every way. Those who adopt purity as a special virtue, originally and eternally with discipline, are also the ones who are worshipped with discipline. Those who are in contact with souls who are gyani and agyani (without knowledge) who fulfil their relationships and connections properly while keeping their pure attitude, vision and vibrations , and whose purity is not broken even in their dreams, are the ones who are worshipped with discipline.
Slogan: While living in the gross world, serve as an avyakt angel and the task of world benefit will be accomplished at a fast speed.

 

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

If you have love for Father Brahma then become an angel, the same as the father. Let your angelic form of light always be visible in front of you, that you have to become like that. Let your future form also be visible. Now renounce this one and adopt that one. When you have such an experience then understand that you are close to perfection.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 13 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 January 2019

To Read Murli 12 January 2019 :- Click Here
13-01-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 10-04-84 मधुबन

प्रभु प्यार – ब्राह्मण जीवन का आधार

आज बापदादा अपने स्नेही, सहयोगी, सहजयोगी आत्माओं को देख रहे हैं। योगी आत्मायें तो सभी हैं। ऐसे ही कहेंगे कि यह योगियों की सभा है। सभी योगी तू आत्मायें अर्थात् प्रभु प्रिय आत्मायें बैठी हैं। जो प्रभु को प्रिय लगती हैं वह विश्व की प्रिय बनती ही हैं। सभी को यह रूहानी नशा, रूहानी रूहाब, रूहानी फखुर सदा रहता है कि हम परमात्म प्यारे, भगवान के प्यारे जगत के प्यारे बन गये? सिर्फ एक आधी घड़ी की नज़र वा दृष्टि पड़ जाए, भक्त लोग इसके प्यासे रहते हैं और इसी को महानता समझते हैं। लेकिन आप ईश्वरीय प्यार के पात्र बन गये। प्रभु प्यारे बन गये। यह कितना महान भाग्य है। आज हर आत्मा बचपन से मृत्यु तक क्या चाहती है? बेसमझ बच्चा भी जीवन में प्यार चाहता है। पैसा पीछे चाहता लेकिन पहले प्यार चाहता। प्यार नहीं तो जीवन, निराशा की जीवन अनुभव करते, बेरस अनुभव करते हैं। लेकिन आप सर्व आत्माओं को परमात्म प्यार मिला, परमात्मा के प्यारे बने, इससे बड़ी वस्तु और कुछ है? प्यार है तो जहान है, जान है। प्यार नहीं तो बेजान, बेजहान हैं। प्यार मिला अर्थात् जहान मिला। ऐसा प्यार श्रेष्ठ भाग्य अनुभव करते हो? दुनिया इसकी प्यासी है। एक बूँद की प्यासी है और आप बच्चों का यह प्रभु प्यार प्रापर्टी है। इसी प्रभु प्यार से पलते हो अर्थात् ब्राह्मण जीवन में आगे बढ़ते हो। ऐसा अनुभव करते हो? प्यार के सागर में लवलीन रहते हो? वा सिर्फ सुनते वा जानते हो? अर्थात् सागर के किनारे पर खड़े-खड़े सिर्फ सोचते और देखते रहते हो। सिर्फ सुनना और जानना, यह है किनारे पर खड़ा होना। मानना और समा जाना, यह है प्रेम के सागर में लवलीन होना। प्रभु के प्यारे बनकर भी सागर में समा जाना, लीन हो जाना यह अनुभव नहीं किया तो प्रभु प्यार के पात्र बन करके पाने वाले नहीं लेकिन प्यासे रह गये। पास आते भी प्यास रह जाना इसको क्या कहेंगे? सोचो, किसने अपना बनाया! किसके प्यारे बने! किसकी पालना में पल रहे हैं? तो क्या होगा? सदा स्नेह में समाये हुए होने कारण समस्यायें वा किसी भी प्रकार की हलचल का प्रभाव पड़ नहीं सकता। सदा विघ्न-विनाशक समाधान स्वरूप, मायाजीत अनुभव करेंगे।

कई बच्चे कहते हैं- ज्ञान की गुह्य बातें याद नहीं रहती। लेकिन एक बात यह याद रहती है कि मैं परमात्मा का प्यारा हूँ। परमात्म-प्यार का अधिकारी हूँ। इसी एक स्मृति से भी सदा समर्थ बन जायेंगे। यह तो सहज है ना। यह भी भूल जाता फिर तो भूल भुलैया में फँस गये। सिर्फ यह एक बात सर्व प्राप्ति के अधिकारी बनाने वाली है। तो सदैव यही याद रखो, अनुभव करो कि मैं प्रभु का प्यारा जग का प्यारा हूँ। समझा! यह तो सहज है ना। अच्छा – सुना तो बहुत है, अब समाना है। समाना ही समान बनना है। समझा!

सभी प्रभु प्यार के पात्र बच्चों को, सभी स्नेह में समाए हुए श्रेष्ठ आत्माओं को, सभी प्यार की पालना के अधिकारी बच्चों को, रूहानी फखुर में रहने वाली, रूहानी नशे में रहने वाली श्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

पार्टियों से अव्यक्त बापदादा की मुलाकात

1. सभी सहज योगी आत्मायें हो ना! सर्व सम्बन्ध से याद सहज योगी बना देती है। जहाँ सम्बन्ध है वहाँ सहज है। मैं सहजयोगी आत्मा हूँ, यह स्मृति सर्व समस्याओं को सहज ही समाप्त करा देती है क्योंकि सहजयोगी अर्थात् सदा बाप का साथ है। जहाँ सर्व शक्तिवान बाप साथ है, सर्व शक्तियाँ साथ हैं तो समस्या समाधान के रूप में बदल जायेगी। कोई भी समस्या बाप जाने, समस्या जाने। ऐसे सम्बन्ध के अधिकार से समस्या समाप्त हो जायेगी। मैं क्या करूँ! नहीं। बाप जाने, समस्या जाने। मैं न्यारा और बाप का प्यारा हूँ। तो सब बोझ बाप का हो जायेगा और आप हल्के हो जायेंगे। जब स्वयं हल्के बन जाते तो सब बातें भी हल्की हो जाती हैं। जरा भी सोच चलता तो भारी हो जाते और बातें भी भारी हो जाती इसलिए मैं हल्का हूँ, न्यारा हूँ तो सब बातें भी हल्की हैं। यही विधि है, इसी विधि से सिद्धि प्राप्त होगी। पिछला हिसाब-किताब चुक्तू होते हुए भी बोझ अनुभव नहीं होगा। ऐसे साक्षी होकर देखेंगे तो जैसे पिछला खत्म हो रहा है और वर्तमान की शक्ति से साक्षी हो देख रहे हैं। जमा भी हो रहा है और चुक्तू भी हो रहा है। जमा की शक्ति से चुक्तू का बोझ नहीं। तो सदा वर्तमान को याद रखो। जब एक तरफ भारी होता तो दूसरा स्वत: हल्का हो जाता। तो वर्तमान भारी है तो पिछला हल्का हो जायेगा ना। वर्तमान प्राप्ति का स्वरूप सदा स्मृति में रखो तो सब हल्का हो जायेगा। तो पिछले हिसाब को हल्का करने का साधन है – वर्तमान को शक्तिशाली बनाओ। वर्तमान है ही शक्तिशाली। वर्तमान की प्राप्ति को सामने रखेंगे तो सब सहज हो जायेगा। पिछला सूली से काँटा हो जायेगा। क्या है, क्यों है, नहीं। पिछला है। पिछले को क्या देखना। जहाँ लगन है वहाँ विघ्न भारी नहीं लगता। खेल लगता है। वर्तमान की खुशी की दुआ से और दवा से सब हिसाब-किताब चुक्तू करो।

टीचर्स से:- सदा हर कदम में सफलता अनुभव करने वाली हो ना। अनुभवी आत्मायें हो ना! अनुभव ही सबसे बड़ी अथॉरिटी है। अनुभव की अथॉरिटी वाले हर कदम में हर कार्य में सफल हैं ही। सेवा के निमित्त बनने का चांस मिलना भी एक विशेषता की निशानी है। जो चांस मिलता है, उसी को आगे बढ़ाते रहो। सदा निमित्त बन आगे बढ़ने और बढ़ाने वाली हैं। यह निमित्त भाव ही सफलता को प्राप्त कराता है। निमित्त और निर्माण की विशेषता को सदा साथ रखो। यही विशेषता सदा विशेष बनायेगी। निमित्त बनने का पार्ट स्वयं को भी लिफ्ट देता है। औरों के निमित्त बनना अर्थात् स्वयं सम्पन्न बनना। दृढ़ता से सफलता को प्राप्त करते चलो। सफलता ही है, इसी दृढ़ता से सफलता स्वयं आगे जायेगी।

जन्मते ही सेवाधारी बनने का गोल्डन चांस मिला है, तो बड़े ते बड़ी चांसलर बन गई ना। बचपन से ही सेवाधारी की तकदीर लेकर आई हो। तकदीर जगाकर आई हो। कितनी आत्माओं की श्रेष्ठ तकदीर बनाने के कर्तव्य के निमित्त बन गई। तो सदा याद रहे वाह मेरे श्रेष्ठ तकदीर की श्रेष्ठ लकीर। बाप मिला, सेवा मिली, सेवास्थान मिला और सेवा के साथ-साथ श्रेष्ठ आत्माओं का श्रेष्ठ परिवार मिला। क्या नहीं मिला। राज्य भाग्य सब मिल गया। यह खुशी सदा रहे। विधि द्वारा सदा वृद्धि को पाते रहो। निमित्त भाव की विधि से सेवा में वृद्धि होती रहेगी।

कुमारों से:- कुमार जीवन में बच जाना, यह सबसे बड़ा भाग्य है। कितने झंझटों से बच गये। कुमार अर्थात् बन्धनमुक्त आत्मायें। कुमार जीवन बन्धनमुक्त जीवन है। लेकिन कुमार जीवन में भी फ्री रहना माना बोझ उठाना। कुमारों के प्रति बापदादा का डायरेक्शन है लौकिक में रहते अलौकिक सेवा करनी है। लौकिक सेवा सम्पर्क बनाने का साधन है। इसमें बिजी रहो तो अलौकिक सेवा कर सकेंगे। लौकिक में रहते अलौकिक सेवा करो। तो बुद्धि भारी नहीं रहेगी। सबको अपना अनुभव सुनाकर सेवा करो। लौकिक सेवा, सेवा का साधन समझकर करो, तो लौकिक साधन बहुत सेवा का चांस दिलायेगा। लक्ष्य ईश्वरीय सेवा का है लेकिन यह साधन है। ऐसे समझकर करो। कुमार अर्थात् हिम्मत वाले। जो चाहे वह कर सकते हैं, इसलिए बापदादा सदा साधनों द्वारा सिद्धि को प्राप्त करने की राय देते हैं। कुमार अर्थात् निरन्तर योगी क्योंकि कुमारों का संसार ही एक बाप है। जब बाप ही संसार है तो संसार के सिवाए बुद्धि और कहाँ जायेगी। जब एक ही हो गया तो एक की ही याद रहेगी ना और एक को याद करना बहुत सहज है। अनेकों से तो छूट गये। एक में ही सब समाये हुए हैं! सदा हर कर्म से सेवा करनी है, दृष्टि से, मुख से सेवा ही सेवा। जिससे प्यार होता है उसे प्रत्यक्ष करने का उमंग होता है। हर कदम में बाप और सेवा सदा साथ रहे। अच्छा।

चुने हुए विशेष अव्यक्त महावाक्य – कर्मबन्धन मुक्त कर्मातीत, विदेही बनो

विदेही व कर्मातीत स्थिति का अनुभव करने के लिए

1) हद के मेरे-मेरे के देह-अभिमान से मुक्त बनो।

2) लौकिक और अलौकिक, कर्म और सम्बन्ध दोनों में स्वार्थ भाव से मुक्त बनो।

3) पिछले जन्मों के कर्मों के हिसाब-किताब वा वर्तमान पुरूषार्थ की कमजोरी के कारण किसी भी व्यर्थ स्वभाव-संस्कार के वश होने से मुक्त बनो।

4) यदि कोई भी सेवा की, संगठन की, प्रकृति की परिस्थिति स्वस्थिति को वा श्रेष्ठ स्थिति को डगमग करती है – तो यह भी बन्धनमुक्त स्थिति नहीं है, इस बन्धन से भी मुक्त बनो।

5) पुरानी दुनिया में पुराने अन्तिम शरीर में किसी भी प्रकार की व्याधि अपनी श्रेष्ठ स्थिति को हलचल में न लाये – इससे भी मुक्त बनो। व्याधि का आना, यह भावी है लेकिन स्थिति हिल जाना – यह बन्धनयुक्त की निशानी है। स्वचिन्तन, ज्ञान चिन्तन, शुभचिन्तक बनने का चिन्तन बदल शरीर की व्याधि का चिन्तन चलना – इससे मुक्त बनो – इसी को ही कर्मातीत स्थिति कहा जाता है।

कर्मयोगी बन कर्म के बन्धन से सदा न्यारे और सदा बाप के प्यारे बनो – यही कर्मातीत विदेही स्थिति है। कर्मातीत का अर्थ यह नहीं है कि कर्म से अतीत हो जाओ। कर्म से न्यारे नहीं, कर्म के बन्धन में फँसने से न्यारे बनो। कोई कितना भी बड़ा कार्य हो लेकिन ऐसे लगे जैसे काम नहीं कर रहे हैं लेकिन खेल कर रहे हैं। चाहे कोई भी परिस्थिति आ जाए, चाहे कोई आत्मा हिसाब-किताब चुक्तू करने वाली सामना करने भी आती रहे, चाहे शरीर का कर्मभोग सामना करने आता रहे लेकिन हद की कामना से मुक्त रहना ही विदेही स्थिति है। जब तक यह देह है, कर्मेन्द्रियों के साथ इस कर्मक्षेत्र पर पार्ट बजा रहे हो, तब तक कर्म के बिना सेकण्ड भी रह नहीं सकते लेकिन कर्म करते हुए कर्म के बन्धन से परे रहना यही कर्मातीत विदेही अवस्था है। तो कर्मेन्द्रियों द्वारा कर्म के सम्बन्ध में आना है, कर्म के बन्धन में नहीं बंधना है। कर्म के विनाशी फल की इच्छा के वशीभूत नहीं होना है। कर्मातीत अर्थात् कर्म के वश होने वाला नहीं लेकिन मालिक बन, अथॉरिटी बन कर्मेन्द्रियों के सम्बन्ध में आये, विनाशी कामना से न्यारा हो कर्मेन्द्रियों द्वारा कर्म कराये। आत्मा मालिक को कर्म अपने अधीन न करे लेकिन अधिकारी बन कर्म कराता रहे। कराने वाला बन कर्म कराना – इसको कहेंगे कर्म के सम्बन्ध में आना। कर्मातीत आत्मा सम्बन्ध में आती है, बन्धन में नहीं।

कर्मातीत अर्थात् देह, देह के सम्बन्ध, पदार्थ, लौकिक चाहे अलौकिक दोनों सम्बन्ध से, बन्धन से अतीत अर्थात् न्यारे। भल सम्बन्ध शब्द कहने में आता है – देह का सम्बन्ध, देह के सम्बन्धियों का सम्बन्ध, लेकिन देह में वा सम्बन्ध में अगर अधीनता है तो सम्बन्ध भी बन्धन बन जाता है। कर्मातीत अवस्था में कर्म सम्बन्ध और कर्म बन्धन के राज़ को जानने के कारण सदा हर बात में राज़ी रहेंगे। कभी नाराज़ नहीं होंगे। वे अपने पिछले कर्मों के हिसाब-किताब के बन्धन से भी मुक्त होंगे। चाहे पिछले कर्मों के हिसाब-किताब के फलस्वरूप तन का रोग हो, मन के संस्कार अन्य आत्माओं के संस्कारों से टक्कर भी खाते हों लेकिन कर्मातीत, कर्मभोग के वश न होकर मालिक बन चुक्तू करायेंगे। कर्मयोगी बन कर्मभोग चुक्तू करना – यह है कर्मातीत बनने की निशानी। योग से कर्मभोग को मुस्कराते हुए सूली से कांटा कर भस्म करना अर्थात् कर्मभोग को समाप्त करना। कर्मयोग की स्थिति से कर्मभोग को परिवर्तन कर देना – यही कर्मातीत स्थिति है।

व्यर्थ संकल्प ही कर्मबन्धन की सूक्ष्म रस्सियां हैं। कर्मातीत आत्मा बुराई में भी अच्छाई का अनुभव करती है। वह कहेगी – जो होता है वह अच्छा है, मैं भी अच्छा, बाप भी अच्छा, ड्रामा भी अच्छा। यह संकल्प बन्धन को काटने की कैंची का काम करता है। बन्धन कट गये तो कर्मातीत हो जायेंगे। विदेही स्थिति का अनुभव करने के लिए इच्छा मात्रम् अविद्या बनो। ऐसी हद की इच्छा मुक्त आत्मा सर्व की इच्छाओं को पूर्ण करने वाली बाप समान ‘कामधेनु’ होगी। जैसे बाप के सर्व भण्डारे, सर्व खजाने सदा भरपूर हैं, अप्राप्ति का नाम निशान नहीं है; ऐसे बाप समान सदा और सर्व खजानों से भरपूर बनो। सृष्टि चक्र के अन्दर पार्ट बजाते हुए अनेक दु:ख के चक्करों से मुक्त रहना – यही जीवनमुक्त स्थिति है। ऐसी स्थिति का अनुभव करने के लिए अधिकारी बन, मालिक बन सर्व कर्मेन्द्रियों से कर्म कराने वाले बनो। कर्म में आओ फिर कर्म पूरा होते न्यारे हो जाओ – यही है विदेही स्थिति का अभ्यास। आत्मा का आदि और अनादि स्वरूप स्वतंत्र है। आत्मा राजा है, मालिक है। मन का भी बन्धन न हो। अगर मन का भी बंधन है तो यह एक बंधन अनेक बन्धनों को ले आयेगा इसलिए स्वराज्य अधिकारी अर्थात् बन्धनमुक्त राजा बनो। इसके लिए ब्रेक पावरफुल रखो, जो देखना चाहो वही देखो, जो सुनना चाहो वही सुनो। इतनी कन्ट्रोलिंग पावर हो तब अन्त में पास विद ऑनर होंगे अर्थात् फर्स्ट डिवीजन में आ सकेंगे।

वरदान:- पवित्रता को आदि अनादि विशेष गुण के रूप में सहज अपनाने वाले पूज्य आत्मा भव 
पूजनीय बनने का विशेष आधार पवित्रता पर है। जितना सर्व प्रकार की पवित्रता को अपनाते हो उतना सर्व प्रकार से पूजनीय बनते हो। जो विधिपूर्वक आदि अनादि विशेष गुण के रूप से पवित्रता को अपनाते हैं वही विधिपूर्वक पूजे जाते हैं। जो ज्ञानी और अज्ञानी आत्माओं के सम्पर्क में आते पवित्र वृत्ति, दृष्टि, वायब्रेशन से यथार्थ सम्पर्क-सम्बन्ध निभाते हैं, स्वप्न में भी जिनकी पवित्रता खण्डित नहीं होती है – वही विधिपूर्वक पूज्य बनते हैं।
स्लोगन:- व्यक्त में रहते अव्यक्त फरिश्ता बनकर सेवा करो तो विश्व कल्याण का कार्य तीव्रगति से सम्पन्न हो।

 

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

ब्रह्मा बाप से प्यार है तो ब्रह्मा बाप समान फरिश्ता बनो। सदैव अपना लाइट का फरिश्ता स्वरूप सामने दिखाई दे कि ऐसा बनना है और भविष्य रूप भी दिखाई दे। अब यह छोड़ा और वह लिया। जब ऐसी अनुभूति हो तब समझो कि सम्पूर्णता के समीप हैं।

TODAY MURLI 13 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 13 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 12 January 2018 :- Click Here

13/01/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Bharat cannot become heaven without your purity. You have received the shrimat to become pure while living at home with your family. Fulfil your responsibilities to both sides.
Question: What system here is completely different from other spiritual gatherings and ashrams?
Answer: People go and live in those ashrams and believe that they have good company there and that there wouldn’t be the upheaval of the home and family. However, there isn’t any aim or objective there whereas, here, you have to die alive. You are not told to leave your home and family. You live at home and you drink the nectar of knowledge and do spiritual service. They don’t have this system at other spiritual gatherings.

Om shanti. The Father sits here and explains to you children because you children know that it is only the Father who explains to you here. This is why it doesn’t seem right to say repeatedly, “God Shiva speaks.” Those who relate the Gita would say: “God Krishna speaks.” However, he has been and gone. They say that Krishna spoke the Gita and that he taught Raja Yoga. You children understand that Shiv Baba is teaching you Raja Yoga here. There isn’t any other spiritual gathering where they teach Raja Yoga. The Father says: I make you into kings of kings. They would simply say: God Krishna speaks: Manmanabhav! When did he say it? They would say that he spoke it 5000 years ago, or some would say that he said it 3000 years before Christ. They don’t talk of 2000 years, because in the 1000 years in between, those of Islam and the Buddhists came. Therefore, this proves that 3000 years before Christ it became the golden age. We say that 5000 years ago God came and spoke the Gita and established the deity religion. Now, after 5000 years, He has to come again. This cycle is 5000 years. You children know that this Father is explaining through this one. There are many types of spiritual gathering where people go. Some go and live in an ashram. However, it would not be said of them that they went and took birth to the Mother and Father, or that they received an inheritance from them. No; they simply consider that company to be good, that there is no upheaval of the home and family there. However, there is no aim or objective there either. Here, you say that you have come to the Mother and Father. This is your birth in which you have died alive. Those people adopt children who come and settle in their home. There isn’t a system here to leave your parents’ home or your in-laws’ home and come and stay here. That would not be possible. Here, you have to become like a lotus while living at home with your family. Whether you are a kumari or anything else, you are told to live at home and come to drink the nectar of knowledge every day. Understand this knowledge and then explain to others. You have to fulfil your responsibility to both sides. You also have to live at home with your family. You have to fulfil your responsibility to both sides till the end. At the end, whether you live here or there, death will come to everyone. It is said: Rama went and Ravan went. Therefore, it doesn’t mean that everyone has to come and stay here. These people left their homes when they were harassed for poison. Kumaris also have to live at home. You have to serve your friends and relatives. There are many social workers. The Governmentcannot look after so many people. They all live at home with their families and also do one type of service or another. Here, you have to do spiritual service. You also have to live at home with your family. Yes, when those people cause a lot of distress because of vice, you can come and take refuge with God. Daughters are beaten a lot for vice. It isn’t like this anywhere else. Here, you have to remain pure. Even the Government wants purity. However, it is only God who has the power to enable you to stay at home and still remain pure. The time is such that even the Government doesn’t want many children to be born because there is a lot of poverty. Therefore, they want there to be purity in Bharat so that there are fewer children. The Father says: Children, become pure and you will become the masters of the pure world. They don’t have this in their intellects. Bharat was pure and it is now impure. All souls want to become pure. There is a lot of sorrow here. You children know that Bharat cannot become heaven without your purity. There is only sorrow in hell. Hell is not something else, like they show in the Garuda Purana, where human beings are choking in the river of poison. There isn’t a river like that where they experience punishment. Punishment is received in the jail of a womb. There is no jail of a womb in the golden age where punishment would be received. There is the palace of a womb there. At this time, the whole world is living hell where people are unhappy and diseased; they continue to cause sorrow for one another. None of this happens in heaven. The Father now explains to you: I am your unlimited Father. I am the Creator and I would therefore surely create the new world of heaven. I would create the original eternal deity religion for heaven. It is said: You are the Mother and Father. He teaches this Raja Yoga every cycle. He sits here and explains the secrets of all the Vedas and scriptures from the beginning, middle and end, through Brahma. He sits and explains to those who are completely uneducated. You used to say: O God, come! Impure ones cannot go there. Therefore, He definitely has to come here to purify you. He reminds you children that He taught you Raja Yoga in the previous cycle too. You are asked: Have you taken this knowledge previously? You say: Yes, I took this knowledge 5000 years ago. These are new things. The new age and new religion are being established once again. No one, apart from God, can establish this deity religion. Even Brahma, Vishnu and Shankar cannot establish it because those deities are themselves a creation. The Creator of heaven, the Mother and Father, Himself, is needed. You need a lot of happiness here. The Father says: I am the Creator. I also created you through the mouth of Brahma. I am the Seed of the human world. No matter how great a sage or holy man etc. someone may be, these words would not emerge through the mouth of anyone else. These are the words of the Gita. However, only the One who spoke them can speak them. No one else can say this. The only difference is that, instead of the incorporeal One, they have said that Krishna is God. The Father says: I am the Seed of the human world, the Resident of the supreme abode, the incorporeal Supreme Soul. You too can understand that no corporeal human being can call himself the Seed. Even Brahma, Vishnu and Shankar cannot say this. You know that it is Shiv Baba who creates everyone. I am establishing the deity religion. No one has the power to say this either, although they may have themselves called Krishna, Brahma or Shankar. Many even have themselves called an incarnation. However, all of those things are lies. When they come and listen to this here, they understand that there truly is the one Father and the one Incarnation. The Father says: I will take you back with Me. No one else even has the power to say this. Five thousand years ago, too, the God of the Gita, Shiv Baba, said this. The One who established the original eternal deity religion is now doing that again. It is remembered that souls went back like a swarm of mosquitoes. So, the Father comes and becomes the Guide and liberates everyone. It is now the end of the iron age. The golden age has to come after this. Therefore, He will definitely come, purify you and take you to the pure world. Some of these terms are in the Gita. They believed that a scripture was needed for that (Hindu) religion. So, they sat and created the Gita scripture. It is the jewel of all scriptures, the most elevated, the number one mother, but they have changed the name. In the copper age, they are not going to write about the acts that the Father carried out at this time. The same Gita will emerge again; that Gita is fixed in the drama. Just as the Father once again changes human beings into deities, in the same way, others will later sit and write the scriptures. There won’t be any scriptures in the golden age. The Father sits here and explains to you the secrets of the whole cycle. You understand that you have completed this cycle of 84 births. Only those of the original eternal deity religion take 84 births, the maximum number of births. It is later that the human population grows; they will not take this many births. The Father sits here and explains through the mouth of this Brahma. This Dada, whose body I have taken on loan, didn’t know his own births. This one is corporeal (vyakt), Prajapita Brahma. That one is subtle (avyakt Brahma). Both are the same. Through this knowledge, you too are becoming angels who are residents of the subtle region. The residents of the subtle region are called angels because they don’t have flesh and bones. Even Brahma, Vishnu and Shankar don’t have flesh and bones, so how are their pictures created? A picture of Shiva is also created, although He is a s tar. They create a form of that too. Brahma, Vishnu and Shankar are subtle. They cannot create the same form for Shankar as they do for human beings because he doesn’t have a body of flesh and bones. We create that physical form in order to explain. However, you can see that he too is subtle. Achcha.

13/07/68 – Night class

Human beings definitely need two things: one is peace and the other is happiness – peace in the world and peace for the self. Human beings desire happiness for the world and happiness for the self. Therefore, one has to ask: Since there is peace now, there must definitely have been peace at some time before. However, when and how that was or why there was peacelessness no one knows, because people are in complete darkness. You children know that you are showing a very good path to happiness and peace. They have happiness but when they hear that they also have to become pure, they move away a little. This vice is everyone’s enemy and it is also loved by everyone. People’s hearts shrink when they have to renounce it. It is called poison and yet people do not renounce it. You beat your heads so much and you are still defeated. Everything is a matter of purity. It is in this that many fail. When they see a kumari, they are attracted. Anger, greed and attachment do not have that attraction. Lust is the greatest enemy. To conquer it is a mahavir’s job. After body consciousness, lust comes first. It is this that you have to conquer. Impure, lustful people bow down to those who are pure. They say: I am vicious and you are viceless. They do not say that they are full of anger or greed. Everything is a matter of vice. People get married for vice. The parents have this concern. When they grow old, they give money, indulge in vice. If they didn’t indulge in vice, there would be quarrelling. You children have to explain that the deities were completely viceless. You have your aim and objective in front of you. You have to change from ordinary man into Narayan and become the kings of kings. The picture is in front of you. This is not called a satsang (spiritual gathering). They do not have a place to study or a satsang. The true satsang (Company of the Truth) with the One who is the Truth is when He personally teaches you Raja Yoga. You need to have the company of the Truth. He is the One who teaches the Gita which is Raja Yoga. The Father does not relate the Gita. People think that because this is called a Gita Pathshala, they should come and listen to the Gita; they have that pull. This is the true Gita Pathshala where you receive salvation, health, wealth and happiness in a second. So, ask them: Why have we written, “True Gita Pathshala”. It is common to write “Gita Pathshala”. When they read “true” they can be pulled to think that perhaps there is also a false one. So, you definitely have to write the word “true”. The pure world is called satyug, the golden age, and the impure world is called kaliyug, the iron age. They were pure in the golden age. You are taught how they became that. The Father teaches us through Brahma. How else would He teach us? Only those who understood these scriptures in the previous cycle will understand them. They are trapped in the bog of the path of devotion. There is a lot of splendour in devotion. That is nothing. Simply have the awareness: We now have to return home. We have to return having become pure. For this, you have to stay in remembrance. Can you not remember the Father who makes you into the masters of heaven? This is the main thing. Everyone says that there is effort in this. Children give good lectures, but if they were to explain while staying in yoga, it would have a good effect. You receive strength when you are in remembrance. By becoming satopradhan, you will become the masters of the satopradhan world. Would you say that remembrance is conducted meditation? It is wrong to say that you sat in conducted meditation for half an hour. The Father simply says: Stay in remembrance! There is no need to teach by sitting opposite you. You have to remember the unlimited Father with a lot of love because He gives you many treasures. The mercury of your happiness should increase with remembrance. You would then feel supersensuous happiness. The Father says: That life of yours is very valuable. You have to keep it healthy. The longer you live, the more treasures you will take. You will receive the full treasures when you have become satopradhan. You receive power through the murli. There is also power in the sword. When you have the power of remembrance, the sword will become sharp. There isn’t that much power in knowledge and this is why there isn’t that much effect. Baba then has to come to benefit that person (whoever comes in front of you). When your remembrance is filled with power, the arrow will then strike the scholars and teachers etc. This is why Baba says: Keep your chart. Some say that they remember Baba a lot, but that their mouths are unable to open (they are unable to speak). Stay in remembrance and your sins will be absolved. Achcha. Good night children!

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. While living at home, do spiritual service. Become pure and make others pure.
  2. While living in this living hell, you have to claim your inheritance of heaven from the unlimited Father. Don’t cause anyone sorrow.
Blessing: May you be a constantly powerful soul and finish the word “weakness” with the awareness of the one word “Baba”.
When you speak of any weakness, whether it is in your thoughts, words, sanskars or nature, you say, “My idea is this.” Or, “My sanskars are like this”. However, the Father’s sanskars and thoughts are “mine”. The sign of power is being equal to the Father. So, let the word “Baba” be natural in your thoughts, words and in everything and, while doing anything, let there be the awareness of Karavanhar (One who inspires). Then, no Maya, that is, weakness can come in front of Baba.
Slogan: Those who have the speciality of maturity achieve success in every task automatically.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 13 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 January 2017

To Read Murli 12 January 2018 :- Click Here
13/01/18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – पवित्रता बिना भारत स्वर्ग बन नहीं सकता, तुम्हें श्रीमत है घर गृहस्थ में रहते पवित्र बनो, दोनों तरफ तोड़ निभाओ”
प्रश्नः- दूसरे सतसंगों वा आश्रमों से यहाँ की कौन सी रसम बिल्कुल न्यारी है?
उत्तर:- उन आश्रमों में मनुष्य जाकर रहते हैं समझते हैं – संग अच्छा है, घर आदि का हंगामा नहीं है। एम-आब्जेक्ट कुछ नहीं। परन्तु यहाँ तो तुम मरजीवा बनते हो। तुम्हें घरबार नहीं छुड़ाया जाता। घर में रह तुम्हें ज्ञान अमृत पीना है, रूहानी सेवा करनी है। यह रसम उन सतसंगों में नहीं है।

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं क्योंकि बच्चे जानते हैं कि यहाँ बाप ही समझाते हैं इसलिए घड़ी-घड़ी शिव भगवानुवाच कहना भी अच्छा नहीं लगता। वह गीता सुनाने वाले कहेंगे – कृष्ण भगवानुवाच। वह तो होकर गये हैं। कहते हैं कृष्ण ने गीता सुनाई थी, राजयोग सिखाया था। यहाँ तो तुम बच्चे समझते हो शिवबाबा हमको राजयोग सिखला रहे हैं और कोई सतसंग नहीं जहाँ राजयोग सिखाते हो। बाप कहते हैं मैं तुमको राजाओं का राजा बनाता हूँ। वह तो सिर्फ कहेंगे कृष्ण भगवानुवाच मनमनाभव। कब कहा था? तो कहते हैं 5 हजार वर्ष पहले वा कोई कहते क्राइस्ट से 3 हजार वर्ष पहले। 2 हजार वर्ष नहीं कहते क्योंकि एक हजार वर्ष जो बीच में हैं उसमें इस्लामी, बौद्धी आये। तो क्राइस्ट से 3 हजार वर्ष पहले सतयुग सिद्ध हो जाता है। हम कहते हैं – आज से 5 हजार वर्ष पहले गीता सुनाने वाला भगवान आया था और आकर देवी-देवता धर्म स्थापन किया था। अब 5 हजार वर्ष बाद फिर से उनको आना पड़े। यह है 5 हजार वर्ष का पा। बच्चे जानते हैं कि यह बाप इस द्वारा समझा रहे हैं। दुनिया में तो अनेक प्रकार के सतसंग हैं जहाँ मनुष्य जाते हैं। कोई आश्रमों में जाकर रहते भी हैं तो उसको ऐसे नहीं कहेंगे कि मात-पिता पास जाए जन्म लिया वा उनसे कोई वर्सा मिलता है, नहीं। सिर्फ वह संग अच्छा समझते हैं। वहाँ घर आदि का कोई भी हंगामा नहीं होता। बाकी एम-आब्जेक्ट तो कुछ भी नहीं है। यहाँ तो तुम कहते हो हम मात-पिता के पास आये हैं। यह है तुम्हारा मरजीवा जन्म। वह लोग बच्चे को एडाप्ट करते हैं। तो वह जाकर उनका घर बसाता है। यहाँ वह रसम नहीं है कि पियरघर, ससुरघर को छोड़ यहाँ आकर बैठें। यह हो नहीं सकता। यहाँ तो गृहस्थ में रहते कमल फूल समान रहना है। कुमारी है वा कोई भी है उनको कहा जाता है घर में रह रोज़ ज्ञान अमृत पीने आओ। नॉलेज समझकर फिर औरों को समझाओ। दोनों तरफ तोड़ निभाओ। गृहस्थ व्यवहार में भी रहना है। अन्त तक दोनों तरफ निभाना है। अन्त में यहाँ रहें या वहाँ रहें, मौत तो सभी का आना है। कहते हैं – राम गयो, रावण गयो….. तो ऐसे नहीं कि सभी को यहाँ आकर रहना है। यह तो निकलते तब हैं जब विष के लिए उन्हों को सताया जाता है। कन्याओं को भी रहना घर में है। मित्र सम्बन्धियों की सर्विस करनी है। सोशल वर्कर तो बहुत हैं। गवर्मेन्ट इतने सबको तो अपने पास रख नहीं सकती। वह अपने गृहस्थ व्यवहार में रहते हैं। फिर कोई न कोई सेवा भी करते हैं। यहाँ तुमको रूहानी सेवा करनी है। गृहस्थ व्यवहार में भी रहना है। हाँ, जब विकार के लिए बहुत तंग करते हैं तो आकर ईश्वरीय शरण लेते हैं। यहाँ विष के कारण बच्चियां मार बहुत खाती हैं और कहाँ भी यह बात नहीं है। यहाँ तो पवित्र रहना पड़ता है। गवर्मेन्ट भी पवित्रता चाहती है। परन्तु गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र बनाने की ताकत ईश्वर में ही रहती है। समय ऐसा है जो गवर्मेन्ट भी चाहती है कि बच्चे जास्ती पैदा न हो क्योंकि गरीबी बहुत है। तो चाहते हैं भारत में पवित्रता हो, बच्चे कम हों।

बाप कहते हैं – बच्चे पवित्र बनो तो पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे। यह बात उन्हों की बुद्धि में नहीं है। भारत पवित्र था, अभी अपवित्र है। सभी आत्मायें खुद भी चाहती हैं कि पवित्र बनें। यहाँ दु:ख बहुत है। तुम बच्चे जानते हो कि पवित्रता बिगर भारत स्वर्ग हो नहीं सकता। नर्क में है ही दु:ख। अब नर्क तो और कोई चीज़ नहीं। जैसे गरुड़ पुराण में दिखाते हैं वैतरणी नदी है, जिसमें मनुष्य गोते खाते हैं। ऐसे तो कोई नदी है नहीं जहाँ सजायें खाते हो। सजायें तो गर्भ जेल में मिलती हैं। सतयुग में तो गर्भजेल होता नहीं, जहाँ सजायें मिलें। गर्भ महल होता है। इस समय सारी दुनिया जीती जागती नर्क है। जहाँ मनुष्य दु:खी, रोगी हैं। एक दो को दु:ख देते रहते हैं। स्वर्ग में यह कुछ होता नहीं। अब बाप समझाते हैं मैं तुम्हारा बेहद का बाप हूँ। मैं रचयिता हूँ, तो जरूर स्वर्ग नई दुनिया रचूँगा। स्वर्ग के लिए आदि सनातन देवी-देवता धर्म रचूँगा। कहते हैं – तुम मात-पिता.. कल्प-कल्प यह राजयोग सिखाया था। ब्रह्मा द्वारा बैठ सभी वेद शास्त्रों के आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझाते हैं। बिल्कुल अनपढ़ को बैठ पढ़ाते हैं। तुम कहते थे ना – हे भगवान आओ। पतित तो वहाँ जा न सकें। तो पावन बनाने लिए उनको जरूर यहाँ आना पड़े। तुम बच्चों को याद दिलाते हैं कि कल्प पहले भी तुमको राजयोग सिखाया था। पूछा जाता है कि आगे कभी यह नॉलेज ली है? तो कहते हैं – हाँ, 5 हजार वर्ष पहले हमने यह ज्ञान लिया था। यह बातें हैं नई। नया युग, नया धर्म फिर से स्थापन होता है। सिवाए ईश्वर के यह दैवी धर्म कोई स्थापन कर नहीं सकता। ब्रह्मा विष्णु शंकर भी नहीं कर सकते क्योंकि वह देवतायें स्वयं रचना हैं। स्वर्ग का रचयिता, मात-पिता चाहिए। तुमको सुख घनेरे भी यहाँ चाहिए। बाप कहते हैं रचता मैं भी हूँ। तुमको भी ब्रह्मा मुख द्वारा मैंने रचा है। मैं मनुष्य सृष्टि का बीजरूप हूँ। भल कोई कितना भी बड़ा साधू-सन्त आदि हो परन्तु किसके भी मुख से ऐसे नहीं निकलेगा। यह हैं गीता के अक्षर। परन्तु जिसने कहा है वही कह सकता है। दूसरा कोई कह न सके। सिर्फ फ़र्क यह है कि निराकार के बदले कृष्ण को भगवान कह देते हैं। बाप कहते हैं मैं मनुष्य सृष्टि का बीजरूप, परमधाम में रहने वाला निराकार परमात्मा हूँ। तुम भी समझ सकते हो। साकार मनुष्य तो अपने को बीजरूप कह न सकें। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर भी नहीं कह सकते। यह तो जानते हैं कि सबको रचने वाला शिवबाबा है। मैं दैवी धर्म की स्थापना कर रहा हूँ। ऐसे कहने की भी कोई में ताकत नहीं। भल अपने को कृष्ण कहलायें, ब्रह्मा कहलायें, शंकर कहलायें.. बहुत अपने को अवतार भी कहलाते हैं। परन्तु है सब झूठ। यहाँ आकर जब सुनेंगे तो समझेंगे बरोबर बाप तो एक है, अवतार भी एक है। वह कहते हैं मैं तुमको साथ ले जाऊंगा। ऐसे कहने की भी कोई में ताकत नहीं। 5 हजार वर्ष पहले भी गीता के भगवान शिवबाबा ने कहा था, जिसने ही आदि सनातन धर्म की स्थापना की थी, वही अब कर रहे हैं। गाया हुआ भी है मच्छरों सदृश्य आत्मायें गई। तो बाप गाइड बन सभी को आए लिबरेट करते हैं। अब कलियुग का अन्त है, उसके बाद सतयुग आना है तो जरूर आकर पवित्र बनाए पवित्र दुनिया में ले जायेगा। गीता में कुछ न कुछ अक्षर हैं। समझते हैं इस धर्म के लिए शास्त्र तो चाहिए ना। तो गीता शास्त्र बैठ बनाया है। सर्वशास्त्रमई शिरोमणी नम्बरवन माता, परन्तु नाम बदल दिया है। बाप जो इस समय एक्ट करते हैं वह थोड़ेही द्वापर में लिखेंगे। गीता फिर भी वही निकलेगी। ड्रामा में यही गीता नूँधी हुई है। जैसे बाप फिर से मनुष्य को देवता बनाते हैं वैसे शास्त्र भी बाद में कोई फिर से बैठ लिखेंगे। सतयुग में कोई शास्त्र नहीं होगा। बाप सारे चक्र का राज़ बैठ समझाते हैं। तुम समझते हो हमने यह 84 जन्मों का चक्र पूरा किया। आदि सनातन देवी-देवता धर्म वाले ही मैक्सीमम 84 जन्म लेते हैं। बाकी मनुष्यों की तो बाद में वृद्धि होती है। वह थोड़ेही इतने जन्म लेंगे? बाप इस ब्रह्मा मुख से बैठ समझाते हैं। यह जो दादा है, जिसका हमने तन लोन लिया है वह भी अपने जन्मों को नहीं जानते थे। यह है व्यक्त – प्रजापिता ब्रह्मा। वह है अव्यक्त। हैं तो दोनों एक। तुम भी इस ज्ञान से सूक्ष्मवतनवासी फरिश्ते बन रहे हो। सूक्ष्मवतनवासियों को फरिश्ता कहते हैं क्योंकि हड्डी मास नहीं है। ब्रह्मा विष्णु शंकर को भी हड्डी मास नहीं है, फिर उन्हों के चित्र कैसे बनाते हैं। शिव का भी चित्र बनाते हैं। है तो वह स्टॉर। उनका भी रूप बनाते हैं। ब्रह्मा विष्णु शंकर तो सूक्ष्म हैं। जैसे मनुष्यों का बनाते हैं वैसे शंकर का तो बना न सकें क्योंकि उनका हड्डी मास का शरीर तो है नहीं। हम तो समझाने लिए ऐसे स्थूल बनाते हैं। परन्तु तुम भी देखते हो कि वह सूक्ष्म है। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास – 13-7-68

मनुष्य दो चीज़ को जरूर चाहते हैं। एक है शान्ति, दूसरा सुख। विश्व में शान्ति वा अपने लिये शान्ति। विश्व पर सुख वा अपने लिये सुख की चाह रहती है मनुष्यों को। तो पूछना होता है अब शान्ति है तो जरूर कब शान्ति हुई होगी। परन्तु वह कब कैसे होती है, अशान्ति क्यों हुई, यह कोई को पता ही नहीं है क्योंकि घोर अंधियारे में हैं। तुम बच्चे जानते हो शान्ति और सुख के लिये तुम रास्ता बहुत अच्छा बताते हो। उन्हों को खुशी होती है। फिर जब सुनते हैं पावन भी बनना है तो ठण्डे पड़ जाते हैं। यह विकार है सभी का दुश्मन और फिर सभी का प्यारा है। इसको छोड़ने में हृदय विदीरण होता है। नाम भी है विष। फिर भी छोड़ते नहीं हैं। तुम कितना माथा मारते हो फिर भी हार खा लेते हैं। सारी पवित्रता की ही बात है। इनमें बहुत फेल होते हैं। कोई कन्या को देखा तो आकर्षण होती है। क्रोध वा लोभ वा मोह की आकर्षण नहीं होती है। काम महाशत्रु है। इन पर जीत पाना महावीर का काम है। देह-अभिमान के बाद पहले काम ही आता है। इन पर जीत पानी है। जो पवित्र हैं उनके आगे अपवित्र कामी मनुष्य नमन करते हैं। कहते हैं हम विकारी, आप निर्विकारी। ऐसे नहीं कहते हम क्रोधी लोभी…..। सारी बात विकार की है। शादी करते ही हैं विकार के लिये, यह फुरना रहता है माँ बाप को। बड़े हों तो पैसा भी देंगे, विकार में भी जायेंगे। विकार में न जाये तो झगड़ा मच जाये। तुम बच्चों को समझाना होता है यह (देवतायें) सम्पूर्ण निर्विकारी थे। तुम्हारे पास एमआब्जेक्ट सामने है। नर से नारायण राजाओं का भी राजा बनना है। चित्र सामने है। इसको सतसंग नहीं कहा जाता। पाठशाला, सत्संग तो वहाँ है नहीं। सच्चा सत्संग सच्चे साथ तब हो जब सम्मुख राजयोग सिखावे। सत का संग चाहिए। वही गीता अर्थात् राजयोग सिखलाते हैं। बाप कोई गीता सुनाते नहीं। मनुष्य समझते हैं नाम है गीता पाठशाला तो जाकर गीता सुने। इतनी कशिश होती है। यह सच्ची गीता पाठशाला है जहाँ एक सेकण्ड में सद्गति, हेल्थ, वेल्थ और हैपीनेस मिलती है। तो पूछे सच्ची गीता पाठशाला क्यों लिखते हो? सिर्फ गीता पाठशाला लिखना कामन हो जाता है। सच्ची अक्षर पढ़ने से खैंच हो सकती है। शायद झूठी भी तो है। तो सच्ची अक्षर जरूर लिखना पड़े। पावन दुनिया सतयुग को पतित दुनिया कलियुग को कहा जाता है। सतयुग में यह पावन थे। कैसे बने सो सिखलाते हैं। बाप ब्रह्मा द्वारा पढ़ाते हैं। नहीं तो पढ़ायेंगे कैसे। यह यात्रा समझेंगे वही जिन्होंने कल्प पहले समझा है। भक्ति मार्ग के दुबन में फँसे हुए हैं। भक्ति का भभका बहुत है। यह तो कुछ भी नहीं है। सिर्फ स्मृति में रखो- अभी वापस जाना है। पवित्र बनकर जाना है। इसके लिये याद में रहना है। बाप जो स्वर्ग का मालिक बनाते हैं उनको याद नहीं कर सकते! मुख्य बात यह है। सभी कहते हैं इसमें ही मेहनत है। बच्चे भाषण तो अच्छा करते हैं परन्तु योग में रहकर समझायें तो असर भी अच्छा होगा। याद में तुमको ताकत मिलती है। सतोप्रधान बनने से सतोप्रधान विश्व के मालिक बनेंगे। याद को नेष्ठा कहेंगे क्या! हम आधा घण्टा नेष्ठा में बैठे, यह रांग है। बाप सिर्फ कहते हैं याद में रहो। सामने बैठ सिखलाने की दरकार नहीं। बेहद बाप को बहुत लव से याद करना है क्योंकि बहुत खजाना देते हैं। याद से खुशी का पारा चढ़ना चाहिए। अतीन्द्रिय सुख फील होगा। बाप कहते हैं तुम्हारी यह लाईफ बहुत वैल्युबुल है, इनको तन्दुरुस्त रखना है। जितना जीयेंगे उतना खजाना लेंगे। खजाना पूरा तब मिलेगा जबकि हम सतोप्रधान बन जायेंगे। मुरली में भी बल होगा। तलवार में जौहर होता है ना। तुम्हारे में भी याद का जौहर पड़े तब तलवार तीखी हो। ज्ञान में इतना जौहर नहीं है इसलिये किसको असर नहीं होता है। फिर उनके कल्याण लिये बाबा को आना है। जब तुम याद में जौहर भरेंगे तो फिर विद्वान आचार्य आदि को अच्छा तीर लगेगा इसलिए बाबा कहते हैं चार्ट रखो। कई कहते हैं बाबा को बहुत याद करते हैं परन्तु मुख नहीं खुलता। तुम याद में रहो तो विकर्म विनाश होंगे। अच्छा – बच्चों को गुडनाईट।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) घर में रहते भी रूहानी सेवा करनी है। पवित्र बनना और बनाना है।

2) इस जीते जागते नर्क में रहते हुए भी बेहद के बाप से स्वर्ग का वर्सा लेना है। किसी को भी दु:ख नहीं देना है।

वरदान:- एक बाबा शब्द की स्मृति द्वारा कमजोरी शब्द को समाप्त करने वाले सदा समर्थ आत्मा भव 
जिस समय कोई कमजोरी वर्णन करते हो, चाहे संकल्प की, बोल की, चाहे संस्कार-स्वभाव की तो यही कहते हो कि मेरा विचार ऐसे कहता है, मेरा संस्कार ही ऐसा है। लेकिन जो बाप का संस्कार, संकल्प सो मेरा। समर्थ की निशानी ही है बाप समान। तो संकल्प, बोल, हर बात में बाबा शब्द नेचुरल हो और कर्म करते करावनहार की स्मृति हो तो बाबा के आगे माया अर्थात् कमजोरी आ नहीं सकती।
स्लोगन:- जिसके पास गम्भीरता की विशेषता है, उन्हें हर कार्य में स्वत: सिद्धि प्राप्त होती है।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize