today murli 13 February

TODAY MURLI 13 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 13 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 12 February 2019 :- Click Here

13/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, always have thoughts of remembrance of the Father and churn the ocean of knowledgeand new points will continue to emerge and you will remain happy
Question: Whose wonder is the greatest in this drama and why?
Answer: 1. The greatest wonder is that of Shiva Baba because He makes you into angels in a second. He teaches you such a study that you become deities from human beings. No one in the world, only the Father, can teach you this study. 2. It is the Father’s task to give you the third eye of knowledge and take you from darkness into the light and save you from stumbling. No one else can perform such a wonderful task.

Om shanti. The spiritual Father explains every day to you children and you children listen while considering yourselves to be souls. Just as the Father is incognito, so the knowledge too is incognito. No one is able to understand what a soul is or what the Supreme Father, the Supreme Soul, is. You children should have the firm habit of considering yourselves to be souls. The Father is speaking knowledge to us souls. You have to use your intellect to understand this and then act. However, you still have to do your business etc. If someone calls you, it would surely be by your name. You have a name and form; that is why you are able to speak. You can do anything, but you simply have to make it firm that you are souls. The entire praise is of the incorporeal One. If there is praise of corporeal deities, it is because the Father made them praiseworthy. They were praiseworthy and the Father is again making them praiseworthy. This is why there is praise of the incorporeal One. If you think about it, there is so much praise of the Father and He does so much service. He is all powerful; He can do anything. We praise Him very little. There is a lot of praise of Him. Even Muslims say: God Allah commanded this. Now, in front of whom did He give this command? He gives this command in front of the children who become deities from human beings. God Allah would have given this command to someone. It is to you children that He explains. No one else has this knowledge. You children now know that this knowledge will disappear. Buddhists also say that and Christians too say that but no one knows what command He gave. The Father is explaining Alpha and beta to you. Souls cannot forget remembrance of the Father. Souls are imperishable and remembrance is also imperishable. The Father too is imperishable. They say: Allah said this. However, who is He and what did He say? They don’t know that at all. They have said that God Allah is in the pebbles and stones, and so how could they know Him? They pray on the path of devotion. You now know that whoever comes, they have to pass through the stages of sato, rajo and tamo. When Christ and Buddha come, everyone has to come down after them. There is no question of ascending. The Father comes and enables everyone to ascend. The Bestower of Salvation for all is One. No one else comes to grant salvation. Just think: If Christ came, to whom would he sit and explain? You need a very good intellect to understand these things. You should create new methods. You have to make effort and extract jewels. Therefore, Baba says: Churn the ocean of knowledge and write down points. Then read them to see what’s been missed out. Whatever part Baba has, that will continue. The Father is speaking the same knowledge as He did in the previous cycle. You children know that those who belong to a religion will come down after whoever comes to establish that religion. How would they enable others to ascend? They have to come down the ladder. First, there is happiness, then, sorrow. This play is made in a very fine way. It is necessary to churn the ocean of knowledge. They do not come to grant salvation to anyone. They come in order to establish a religion. There is only one Ocean of Knowledge; no one else has knowledge. The play of happiness and sorrow within this drama applies to everyone. You have more happiness than sorrow. Since you play parts in the drama, there must definitely be happiness. The Father would not create sorrow. The Father gives happiness to everyone. At that time there is peace in the whole world. There cannot be peace in the land of sorrow. You will only receive peace when you go back to the land of peace. The Father sits here and explains: Never forget that you are with Baba. Baba has come to make us into deities from devils. When the deities are living in salvation, the rest of the souls remain in the soul world. The greatest wonder in this drama is that of the unlimited Father, the One who makes you into angels. You become angels through this study. People on the path of devotion, don’t understand anything; they continue to rotate a rosary. Some remember Hanuman, some remember others. What is the benefit of remembering them? Baba said “maharathi” and they have shown someone riding an elephant. The Father explains all of these things. When an eminent person goes somewhere, he is treated with so much splendour. You would not do that for anyone else. You know that, at this time, the whole tree has reached its state of decay. All are born through poison. You should now have the feeling that there is no question of poison in the golden age. The Father says: I make you into multimillionaires. Sudama too became a multimillionaire. You all do everything for yourselves. The Father says: You become so elevated through this study. Everyone listens to that Gita and studies it. This one also used to study it but when the Father sat and spoke knowledge, he became wonderstruck. He attained salvation through the Father’s Gita. What did human beings sit and create? They say: God Allah said this. However they don’t understand who Allah is. If even those who belong to the deity religion don’t know God, how could those who come later know? The Gita, the jewel of all the scriptures, has been made wrong . So, what is there in the other scriptures? The things that the Father spoke to us children have disappeared. You are now listening to the Father and becoming deities. We all have to settle the accounts of this old world and we souls will then become pure. Whatever accounts we have to settle will be settled. We are the first ones to go and the first ones to come. All the rest will settle their accounts by having to endure punishment. Don’t go too much into those aspects. First enable everyone to have the faith that the Father is the Bestower of Salvation for all. Only the one Father is the Teacherand the Satguru. He is bodiless. How much knowledge there is contained within that soul! He is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Happiness. There is so much praise of Him. He too is a soul. That soul comes and enters a body. No soul, other than the Supreme Father, the Supreme Soul, can be praised. They all praise bodily beings. That one is the Supreme Soul. No soul without a body apart from the incorporeal Father can be praised. The sanskars of knowledge are within the soul. How many sanskars of knowledge are within the Father? He is the Ocean of Love, the Ocean of Knowledge. Can this praise belong to a soul? This praise cannot be of any human being nor can it be of Krishna. He is the first number prince. The Father has the entire knowledge and He gives it to us children as our inheritance. This is why He is praised. The birth of Shiva is as valuable as a diamond. What do the founders of religions do when they come? For example, when Christ came, there were no Christians. What knowledge could he give to anyone? At the most, he would say: Behave well! Many other human beings continue to say that but no one can give the knowledge of how to attain salvation. They have all received their own individual parts. They have to pass through the stages of sato, rajo and tamo. How could a Christian church be built when he first comes? It is only when there are many of them and devotion begins that a church is built. A lot of money is required to build a church. Money is also required for wars. Therefore, the Father explains that this is the human world tree. Can a tree be hundreds of thousands of years old? That would be uncountable. The Father says: O children, you became so senseless! You are now becoming sensible. You will come and be ready to rule the kingdom at the start. They come alone and the number of them grows later. The deities are the foundation of the tree and then three tubes emerge from them. Then small sects later emerge. There is growth and later they are praised. However, there is no benefit. Everyone has to come down. You are now receiving the entire knowledge. They say: God is k nowledge-fu l l , but no one knows what knowledge that is. You are now receiving knowledge. The Lucky Chariot is definitely needed. Only when the Father enters this ordinary body does this one become lucky. In the golden age, all are multimillion times lucky. You are now receiving the third eye of knowledge through which you become Lakshmi and Narayan. You only receive knowledge once. People stumble along in the darkness on the path of devotion. Knowledge is the day. There is no stumbling in the day. The Father says: By all means, open a Gita Pathshala in your home. There are many who say: We cannot run it and so they give their space to others. That too is good. There should be a lot of s ilence here. This is the holiest of holy class es where you can sit and remember the Father peacefully. We now want to go the land of silence. Therefore, remember the Father with a lot of love. In the golden age, you attain peace and happiness for 21 births. The unlimited Father is the One who gives you the unlimited inheritance. Therefore, you should follow such a Father. You should not have arrogance; it will make you fall. You need to have a lot of patience; no stubbornness (physical force). Body consciousness is called force. You have to become very sweet. Deities are so sweet,; they have a lot of attraction. The Father is making you become like them. Therefore, you should remember such a Father so much. So you children should remember this again and again and remain cheerful. This one has the faith that, after leaving his body, he will become that (Narayan). You should first look at the picture of your aim and objective. Those who teach are physical teachers. Here, it is the incorporeal Father, the One who teaches souls, who is teaching you. You will remain happy simply by thinking about this. This one has the intoxication of how he becomes Vishnu from Brahma and how Vishnu becomes Brahma. You listen to these wonderful things, imbibe them and then relate them to others. The Father makes you all into the masters of the world, but it can be understood who will become worthy of ruling the kingdom. It is the Father’s duty to uplift the children. The Father makes you all into the masters of the world. The Father says: I do not become the Master of the world. The Father sits here and speaks knowledge through this one’s mouth. They speak of the voice from the ether (akashvani – radio), but they don’t understand the meaning of that. True akashvani is when the Father comes from up above and speaks through this Gaumukh (Cow’s mouth). Words emerge through this mouth. Children are very sweet. They say: Baba, give us toli today. Baba says: Children, you will get lots of toli. Good children would say that they are children as well as servant s. Baba feels very happy on seeing the children. You children know that very little time remains. So many bombs have been made. Would they just be thrown away like that? Whatever happened in the previous cycle, that is what will happen again. They think that there should be peace in the world. However, that cannot be possible. It is you who establish peace in the world. It is you who receive the prize of the kingdom of the world, and it is the Father who gives it to you. You claim the kingdom of the world through the power of yoga. Through physical power, there is destruction of the world. You gain victory through the power of silence. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Let your stage be that of a lot of patience. Follow the Father. Never show arrogance about anything. Become as sweet as the deities.
  2. In order to remain constantly cheerful, continue to churn knowledge. Churn the ocean of knowledge. Remain engaged in service with the awareness that you are God’s children as well as His servants.
Blessing: May you be a special soul who constantly stays in spiritual pleasure by considering every moment to be the final moment.
The confluence age is the age to stay in spiritual pleasure and so you must continue to experience spiritual pleasure at every moment. Never become confused about any situation or any test because this is the time of untimely death. If, instead of being in pleasure, you become confused for even a short time and that happens to be your final moment, what would then be the final moments? This is why you are taught the lesson of being ever ready. Any second can be deceptive and so you must consider yourself to be a special soul and create every thought, speak every word and perform every act while constantly staying in spiritual pleasure.
Slogan: In order to become unshakeable, finish anything wasteful or impure.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 13 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 February 2019

To Read Murli 12 February 2019 :- Click Here
13-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – सदा बाप की याद का चिंतन और ज्ञान का विचार सागर मंथन करो तो नई-नई प्वाइंट्स निकलती रहेंगी, खुशी में रहेंगे”
प्रश्नः- इस ड्रामा में सबसे बड़े से बड़ी कमाल किसकी है और क्यों?
उत्तर:- 1- सबसे बड़ी कमाल है शिवबाबा की क्योंकि वह तुम्हें सेकण्ड में परीज़ादा बना देते हैं। ऐसी पढ़ाई पढ़ाते हैं जिससे तुम मनुष्य से देवता बन जाते हो। दुनिया में ऐसी पढ़ाई बाप के सिवाए और कोई पढ़ा नहीं सकता। 2- ज्ञान का तीसरा नेत्र दे अन्धियारे से रोशनी में ले आना, ठोकर खाने से बचा देना, यह बाप का काम है इसलिए उन जैसी कमाल का वन्डरफुल कार्य कोई कर नहीं सकता।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रोज़-रोज़ बच्चों को समझाते हैं और बच्चे अपने को आत्मा समझ बाप से सुनते हैं। जैसे बाप गुप्त है वैसे ज्ञान भी गुप्त है, किसको भी समझ में नहीं आता है कि आत्मा क्या है, परमपिता परमात्मा क्या है। तुम बच्चों की पक्की आदत पड़ जानी चाहिए कि हम आत्मा हैं। बाप हम आत्माओं को सुनाते हैं। यह बुद्धि से समझना है और एक्ट में आना है। बाकी धन्धा आदि तो करना ही है। कोई बुलायेंगे तो जरूर नाम से बुलायेंगे। नाम रूप है तब तो बोल सकते हैं। कुछ भी कर सकते हैं। सिर्फ यह पक्का करना है कि हम आत्मा हैं। महिमा सारी निराकार की है। अगर साकार में देवताओं की महिमा है तो उन्हों को भी महिमा लायक बाप ने बनाया है। महिमा लायक थे, अब फिर बाप महिमा लायक बना रहे हैं इसलिए निराकार की ही महिमा है। विचार किया जाता है, बाप की कितनी महिमा है और कितनी उनकी सर्विस है। वह समर्थ है, वह सब-कुछ कर सकते हैं। हम तो बहुत थोड़ी महिमा करते हैं। महिमा तो उनकी बहुत है। मुसलमान लोग भी कहते हैं अल्लाह मिया ने ऐसे फ़रमाया। अब फ़रमाया किसके आगे? बच्चों के आगे फ़रमाते हैं, जो तुम मनुष्य से देवता बनते हो। अल्लाह मिया ने किसके प्रति तो फ़रमाया होगा ना। तुम बच्चों को ही समझाते हैं, जिसका कोई को पता ही नहीं। अभी तुमको पता पड़ा है फिर यह नॉलेज ही गुम हो जायेगी। बौद्धी भी ऐसे कहेंगे, क्रिश्चियन भी ऐसे कहेंगे। परन्तु क्या फ़रमाया था, यह किसको पता ही नहीं। बाप तुम बच्चों को अल्फ और बे समझा रहे हैं। आत्मा को बाप की याद भूल नहीं सकती। आत्मा अविनाशी है तो याद भी अविनाशी रहती है। बाप भी अविनाशी है। गाते हैं अल्लाह मिया ने ऐसे कहा था परन्तु वह कौन हैं, क्या कहते थे – यह कुछ भी नहीं जानते। अल्लाह मिया को ठिक्कर-भित्तर में कह दिया है तो जानेंगे फिर क्या? भक्ति मार्ग में प्रार्थना करते हैं। अब तुम समझते हो जो भी आते हैं, उनको सतो, रजो, तमो में आना ही है। क्राइस्ट बौद्ध जो आते हैं, उनके पीछे सबको उतरना है। चढ़ने की बात नहीं। बाप ही आकर सबको चढ़ाते हैं। सर्व का सद्गति दाता एक है। और कोई सद्गति करने नहीं आते। समझो क्राइस्ट आया, किसको बैठ समझायेंगे। इन बातों को समझने लिए अच्छी बुद्धि चाहिए। नई-नई युक्तियां निकालनी चाहिए। मेहनत करनी है, रत्न निकालना है इसलिए बाबा कहते हैं विचार सागर मंथन करके लिखो, फिर पढ़ो कि क्या-क्या मिस हुआ? बाबा का जो पार्ट है, वह चलता रहेगा। बाप कल्प पहले वाली नॉलेज सुनाते हैं। यह बच्चे जानते हैं कि जो धर्म स्थापन करने आते हैं उनके पीछे उनके धर्म वालों को भी नीचे उतरना है। वह किसको चढ़ायेंगे कैसे? सीढ़ी नीचे उतरनी ही है। पहले सुख, पीछे दु:ख। यह नाटक बड़ा फाइन बना हुआ है। विचार सागर मंथन करने की जरूरत है, वह कोई की सद्गति करने नहीं आते। वह आते हैं धर्म स्थापन करने। ज्ञान का सागर एक है और कोई में ज्ञान नहीं है। ड्रामा में दु:ख-सुख का खेल तो सभी के लिए है। दु:ख से भी सुख जास्ती है। ड्रामा में पार्ट बजाते हैं तो जरूर सुख होना चाहिए। बाप दु:ख थोड़ेही स्थापन करेंगे। बाप तो सबको सुख देते हैं। विश्व में शान्ति हो जाती है। दु:खधाम में तो शान्ति हो न सके। शान्ति तब मिलनी है जब वापिस शान्तिधाम में जायेंगे।

बाप बैठ समझाते हैं। यह कभी भूलना नहीं चाहिए कि हम बाबा के साथ हैं, बाबा आया हुआ है असुर से देवता बनाने। यह देवतायें सद्गति में रहते हैं तो बाकी सब आत्मायें मूलवतन में रहती हैं। ड्रामा में सबसे बड़ी कमाल है बेहद के बाप की, जो तुमको परीज़ादा बनाते हैं। पढ़ाई से तुम परी बनते हो। भक्ति मार्ग में समझते कुछ भी नहीं, माला फेरते रहते हैं। कोई हनुमान को, कोई किसको याद करते हैं, उनको याद करने से फायदा क्या? बाबा ने कहा है ‘महारथी’, तो उन्होंने बैठ हाथी पर सवारी दिखा दी है। यह सब बातें बाप ही समझाते हैं। बड़े-बड़े आदमी कहाँ जाते हैं तो कितनी आजयान (आवभगत) करते हैं। तुम और किसको आजयान नहीं देंगे। तुम जानते हो इस समय सारा झाड़ जड़ जड़ीभूत है। विष की पैदाइस है। तुमको अब फीलिंग आनी चाहिए कि सतयुग में विष की बात नहीं। बाप कहते हैं मैं तुमको पद्मापद्मपति बनाता हूँ। सुदामा पद्मापद्मपति बना ना। सब अपने लिए ही करते हैं। बाप कहते हैं इस पढ़ाई से तुम कितने ऊंच बनते हो। वह गीता सब सुनते, पढ़ते हैं। यह भी पढ़ता था परन्तु जब बाप ने बैठ सुनाया तो वन्डर खाया। बाप की गीता से सद्गति हुई। यह मनुष्यों ने क्या बैठ बनाया है। कहते हैं अल्लाह मिया ने ऐसे कहा। परन्तु समझते कुछ भी नहीं – अल्लाह कौन? देवी-देवता धर्म वाले ही भगवान् को नहीं जानते हैं तो जो पीछे आते हैं वह क्या जानें। सर्व शास्त्र मई शिरोमणी गीता ही रांग कर दी है तो बाकी फिर शास्त्रों में क्या होगा? बाप ने जो हम बच्चों को सुनाया वह प्राय: लोप हो गया। अब तुम बाप से सुनकर देवता बन रहे हो। पुरानी दुनिया का हिसाब तो सबको चुक्तू करना है फिर आत्मा पवित्र बन जाती है। उनका भी कुछ हिसाब-किताब होगा तो वह चुक्तू होगा। हम ही पहले-पहले जाते हैं फिर पहले-पहले आते हैं। बाकी सब सजायें खाकर हिसाब-किताब चुक्तू करेंगे। इन बातों में जास्ती न जाओ। पहले तो निश्चय कराओ कि सबका सद्गति दाता बाप है। टीचर गुरू भी वह एक ही बाप है। वह है अशरीरी। उस आत्मा में कितना ज्ञान है। ज्ञान का सागर, सुख का सागर है। कितनी उनकी महिमा है। है वह भी आत्मा। आत्मा ही आकर शरीर में प्रवेश करती है। सिवाए परमपिता परमात्मा के तो कोई आत्मा की महिमा कर नहीं सकते। और सब शरीरधारियों की महिमा करेंगे। यह है सुप्रीम आत्मा। बिगर शरीर आत्मा की महिमा सिवाए एक निराकार बाप के कोई की हो नहीं सकती। आत्मा में ही ज्ञान के संस्कार हैं। बाप में कितने ज्ञान के संस्कार हैं। प्यार का सागर, ज्ञान का सागर…. क्या यह आत्मा की महिमा है? कोई मनुष्य की यह महिमा हो न सके। कृष्ण की हो न सके। वह तो पहला नम्बर प्रिन्स है। बाप में सारी नॉलेज है जो आकर बच्चों को वर्सा देते हैं इसलिए महिमा गाई जाती है। शिव जयन्ती हीरे तुल्य है। धर्म स्थापक आते हैं, क्या करते हैं? समझो क्राइस्ट आया, उस समय क्रिश्चियन तो हैं नहीं। किसको क्या नॉलेज देंगे? करके कहेंगे अच्छी चलन चलो। यह तो बहुत मनुष्य समझाते रहते हैं। बाकी सद्गति की नॉलेज कोई दे न सके। उनको अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है। सतो, रजो, तमो में आना ही है। आने से ही क्रिश्चियन की चर्च कैसे बनेंगी। जब बहुत होंगे, भक्ति शुरू होगी तब चर्च बनायेंगे। उसमें बहुत पैसे चाहिए। लड़ाई में भी पैसे चाहिए। तो बाप समझाते हैं यह मनुष्य सृष्टि झाड़ है। झाड़ कभी लाखों वर्ष का होता है क्या? हिसाब नहीं बनता। बाप कहते हैं – हे बच्चे, तुम कितने बेसमझ बन गये थे। अभी तुम समझदार बनते हो। पहले से ही तैयार होकर आते हो, राज्य करने। वह तो अकेले आते हैं फिर बाद में वृद्धि होती है। झाड़ का फाउन्डेशन देवी-देवता, उनसे फिर 3 ट्यूब निकलती हैं। फिर छोटे-छोटे मठ-पंथ आते हैं। वृद्धि होती है फिर उनकी कुछ महिमा हो जाती है। परन्तु फायदा कुछ भी नहीं। सबको नीचे आना ही है। तुमको अभी सारी नॉलेज मिल रही है। कहते हैं गॉड इज नॉलेजफुल। परन्तु नॉलेज क्या है-यह किसको मालूम नहीं है। तुमको अभी नॉलेज मिल रही है। भाग्यशाली रथ तो जरूर चाहिए। बाप साधारण तन में आते हैं तब यह भाग्यशाली बनते हैं। सतयुग में सब पद्मापद्म भाग्यशाली हैं। अब तुमको ज्ञान का तीसरा नेत्र मिलता है, जिससे तुम लक्ष्मी-नारायण जैसे बनते हो। ज्ञान तो एक ही बार मिलता है। भक्ति में तो धक्के खाते हैं। अन्धियारा है। ज्ञान है दिन, दिन में धक्के नहीं खाते। बाप कहते हैं भल घर में गीता पाठशाला खोलो। बहुत ऐसे हैं जो कहते हैं हम तो नहीं उठाते, दूसरों के लिए जगह देते हैं। यह भी अच्छा।

यहाँ बहुत साइलेन्स होनी चाहिए। यह है होलीएस्ट ऑफ होली क्लास। जहाँ शान्ति में तुम बाप को याद करते हो। हमको अब शान्तिधाम जाना है, इसलिए बाप को बहुत प्यार से याद करना है। सतयुग में 21 जन्म के लिए तुम सुख-शान्ति दोनों पाते हो। बेहद का बाप है बेहद का वर्सा देने वाला। तो ऐसे बाप को फालो करना चाहिए। अहंकार नहीं आना चाहिए, वह गिरा देता है। बहुत धैर्यवत अवस्था चाहिए। हठ नहीं। देह-अभिमान को हठ कहा जाता है। बहुत मीठा बनना है। देवतायें कितने मीठे हैं, कितनी कशिश होती है। बाप तुमको ऐसा बनाते हैं। तो ऐसे बाप को कितना याद करना चाहिए। तो बच्चों को यह बातें बार-बार सिमरण कर हर्षित होना चाहिए। इनको तो निश्चय है कि हम शरीर छोड़ यह (लक्ष्मी-नारायण) बनेंगे। एम ऑब्जेक्ट का चित्र पहले-पहले देखना चाहिए। वह तो पढ़ाने वाले देहधारी टीचर होते हैं। यहाँ पढ़ाने वाला निराकार बाप है, जो आत्माओं को पढ़ाते हैं। यह चिंतन करने से ही खुशी होती है। इनको यह नशा रहता होगा कि ब्रह्मा सो विष्णु, विष्णु सो ब्रह्मा कैसे बनते हैं। यह वन्डरफुल बातें तुम ही सुनकर धारण कर फिर सुनाते हो। बाप तो सबको विश्व का मालिक बनाते हैं। बाकी यह समझ सकते हैं कि राजाई के लायक कौन-कौन बनेंगे। बाप का फ़र्ज है बच्चों को ऊंचा उठाना। बाप सबको विश्व का मालिक बनाते हैं। बाप कहते हैं मैं विश्व का मालिक नहीं बनता हूँ। बाप इस मुख द्वारा बैठ नॉलेज सुनाते हैं। आकाशवाणी कहते हैं परन्तु अर्थ नहीं समझते। सच्ची आकाशवाणी तो यह है जो बाप ऊपर से आकर इस गऊमुख द्वारा सुनाते हैं। इस मुख द्वारा वाणी निकलती है।

बच्चे बहुत मीठे होते हैं। कहते हैं बाबा आज टोली खिलाओ। झझी (बहुत) टोली बच्चे। अच्छे बच्चे कहेंगे हम बच्चे भी हैं तो हम सर्वेन्ट भी हैं। बाबा को बहुत खुशी होती है बच्चों को देखकर। बच्चे जानते हैं समय बहुत थोड़ा है। इतने जो बाम्ब्स बनाये हैं, वह ऐसे ही फेंक देंगे क्या? जो कल्प पहले हुआ था सो फिर भी होगा। समझते हैं विश्व में शान्ति हो। परन्तु ऐसे तो हो न सके। विश्व में शान्ति तुम स्थापन करते हो। तुमको ही विश्व के बादशाही की प्राइज़ मिलती है। देने वाला है बाप। योगबल से तुम विश्व की बादशाही लेते हो। शारीरिक बल से विश्व का विनाश होता है। साइलेन्स से तुम विजय पाते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपनी अवस्था बहुत धैर्यवत बनानी है। बाप को फालो करना है। किसी भी बात में अंहकार नहीं दिखाना है। देवताओं जैसा मीठा बनना है।

2) सदा हर्षित रहने के लिए ज्ञान का सिमरण करते रहो। विचार सागर मंथन करो। हम भगवान् के बच्चे भी हैं तो सर्वेन्ट भी हैं – इसी स्मृति से सेवा पर तत्पर रहो।

वरदान:- हर घड़ी को अन्तिम घड़ी समझ सदा रूहानी मौज में रहने वाली विशेष आत्मा भव
संगमयुग रूहानी मौजों में रहने का युग है इसलिए हर घड़ी रूहानी मौज का अनुभव करते रहो, कभी किसी भी परिस्थिति या परीक्षा में मूंझना नहीं क्योंकि यह समय अकाले मृत्यु का है। थोड़ा समय भी अगर मौज के बजाए मूंझ गये और उसी समय अन्तिम घड़ी आ जाए तो अन्त मती सो गति क्या होगी इसलिए एवररेडी का पाठ पढ़ाया जाता है। एक सेकण्ड भी धोखा देने वाला हो सकता है इसलिए स्वयं को विशेष आत्मा समझकर हर संकल्प, बोल और कर्म करो और सदा रूहानी मौज में रहो।
स्लोगन:- अचल बनना है तो व्यर्थ और अशुभ को समाप्त करो।

TODAY MURLI 13 FEBRUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 13 February 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 12 February 2018 :- Click Here

13/02/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this is now your final birth. The play is coming to an end and you therefore have to become pure and return home. Then this history will repeat from the golden age.
Question: Which wonder can only you children perform while looking after your home and family?
Answer: While looking after your homes and families and living in the old world, you have to break your attachment to everyone. Forget all the old things including your bodies. This is the wonder of you children. This is called satopradhan renunciation. Only the Father teaches you this. You children promise that you will stay pure in this final birth. This purity will then remain all the time for 21 births. No one else can perform such a wonder.
Song: You are the Mother and You are the Father.

Om shanti. The meaning of “Om shanti” has been explained to you children very easily. Everything is easy. You attain a kingdom easily. For where? For the golden age. That is called liberation-in-life. The evil spirits of Ravan do not exist there. When someone has the evil spirit of anger, it is said: You have the evil spirit of anger in you. OK, it is been explained to you children that the meaning of ‘Om’ is: I am a soul and this is my body. A soul, a charioteer, is sitting in every chariot, a body. This chariot functions with the strength of a soul. A soul repeatedly has to shed a body and take another. You children know that Bharat is now the land of sorrow. Half a cycle ago, it was the land of happiness. There used to be the Almighty Government because it was the Almighty Authority who established the kingdom of deities in Bharat. There was one religion there. Five thousand years ago, it truly became the kingdom of Lakshmi and Narayan there. It was definitely the Father who established that kingdom. They received their inheritance from the Father. Those souls have been around the cycle of 84 births. Only the people of Bharat go through these clans. It is now the shudra clan. After the shudra clan, there is the most elevated Brahmin clan. “Brahmin clan” means that you are the mouth-born creation of Brahma. Prajapita Brahma must definitely have adopted children. You children know that Bharat was worthy of worship and that it has now become a worshipper. The Father is ever worthy of worship. He definitely comes to purify the impure. The golden age is the pure world. There won’t be the name of the Ganges, the Purifier, in the golden age because that is the pure world anyway and all souls there are charitable souls; no sinful souls. Then, in the iron age, there are no charitable souls; all are sinful souls. Those who are pure are said to be charitable souls. It is only in Bharat that people donate a great deal and also perform a lot of charity. At this time, when the Father comes, you surrender yourselves to Him. Sannyasis leave their homes and families and go away. Here, you say: Baba, all of this is Yours. You gave us a lot of wealth in the golden age and then Maya made us worth shells. Now, even these souls have become impure: impure in body, mind and wealth. Souls first of all remain pure and then they become impure while playing their part s. Human beings definitely have to go through the stages of golden, silver, copper, iron . Having gone around the cycle, the jewellery has become tamopradhan and false. All souls continue to tell lies about God because they have been taught that God is omnipresent. They sing: You are the Mother and Father. They also sing this praise in front of the Lakshmi and Narayan idols. However, they only have their one son and one daughter. The children have the same happiness as the kings and queens. Everyone has a lot of happiness. You are now in your last and 84th birth. There is a lot of sorrow. The Father says: I am once again teaching you Raja Yoga. The Father explains to you children: The charioteer, the soul, is sitting in this chariot. This charioteer was at first 16 celestial degrees full. Now, he has no degrees. They even sing: I am without virtue, I have no virtues. Have mercy! That is: Have mercy on me! No one has any virtues now. Everyone is very unhappy and impure and this is why they go to the Ganges to become pure. They don’t do this in the golden age. It is the same river, but it would be said that everything is tamopradhan at this time. In the golden age, all the rivers are very pure and clean. No rubbish is thrown into the rivers there. Here, there is so much rubbish thrown into them. All the rubbish then flows into the ocean. This cannot happen in the golden age; it isn’t the law. Everything remains pure there. The Father explains: This is now the final birth of everyone. The play is coming to an end. The limit of this play is 5000 years. Incorporeal Shiv Baba is explaining to you. He is the incorporeal One, the highest of all, the Resident of the supreme abode (paramdham). We have all come from the supreme abode. It is now the end of the iron age and the drama is coming to an endand history is to repeat again. All the scriptures and the Gita that people have been studying were written in the copper age. This knowledge disappears. No one can teach you Raja Yoga. Religious books are created as their memorials. They themselves take rebirth but the books remain as their memorials. The deity religion is established at the confluence age. The Father comes and sits in this chariot. It is not a question of a horse chariot. He enters this chariot, this ordinary old body. He is the Charioteer. It is remembered that He created Brahmins through Brahma. You are mouth-born Brahmins. All of you children say that you are BKs, the mouth-born creation of Brahma. This Brahma too is adopted. The Father Himself says: I become the Charioteer of this chariot. I give him knowledge. I begin with him and I give the urn to the mothers. This one is also a mother. This one becomes this first and then you do. That One is present in this one, but in front of whom does He speak? He sits here and speaks to you souls. There isn’t a scholar etc. who would sit and speak to souls in this way and say that he is their father. You souls are incorporeal. I too am incorporeal. I, the Ocean of Knowledge, am the Creator of heaven. I do not create hell. It is Maya, Ravan, who creates hell. The Father says: I am the Creator and so I would surely create heaven. You people of Bharat were residents of heaven, and you have now become residents of hell. It was Ravan who made you into residents of hell because souls follow the dictates of Ravan. At this time, you souls are following the shrimat of Rama, Shiv Baba, Shri Shri. The Father explains: Everyone’s part has now come to an end. All souls will come together. When all souls have come down here, destruction will start and souls will begin to go back. There are now innumerable religions in Bharat. Just the one original eternal deity religion doesn’t exist. None of them call themselves deities. Praise of the deities is sung: Full of all virtues. Then, they say of themselves: I am a degraded sinner. Those who were satopradhan and worthy of worship become tamopradhan worshippers. The kingdom of Ravan begins with the copper age. The kingdom of Rama is the day of Brahma and the kingdom of Ravan is the night of Brahma. So, when should the Father come? He would come when the night of Brahma is to end. Only when He enters the body of this Brahma would there then be you Brahmins created through Brahma. He teaches Raja Yoga to you Brahmins. The Father says: You mustn’t remember the pictures of any subtle, corporeal or incorporeal beings. You are given an aim. People remember others when they see their pictures. Baba says: Stop looking at pictures! That is the path of devotion. You souls now have to come to Me once again. There is a huge burden of sin on your heads. It isn’t that the sins of every birth are finished in the jail of a womb. Some are finished and some still remain. I have now come as the Guide. At this time, all souls follow the dictates of Maya. To say that God is omnipresent is a dictate of Maya. Sometimes they say that God is omnipresent and sometimes they say that He takes 24 incarnations. The Father says: I am not omnipresent. I am the Purifier, the Creator of heaven. My business is to change hell into heaven. Gandhiji wanted there to be the kingdom of Rama. Now they say that they want an almighty kingdom and one religion. In heaven there was one religion and one kingdom. There were no partitions there. The Father says: I do not become the Master of the Universe. I make you that. Then Ravan comes and snatches the kingdom away from you. Everyone is now tamopradhan and has a stone intellect. In the golden age, everyone has a divine intellect. The Father explains that the Charioteer is sitting here. It is the soul that speaks and this one’s soul also listens. He says: Children, do not look at anything with an image. Constantly remember Me alone. Connect your intellects in yoga to Me up above. Remember the place that you have to go to, the one Father and none other. He is the true Emperor, the One who speaks the truth to you. Therefore, you mustn’t remember anyone’s picture. You mustn’t even have yoga with this picture of Shiva because Shiva is not like that. Just as we are souls, so is the Supreme Soul. Baba says: Just as a soul resides in the centre of the forehead, in the same way, I take a little space and sit next to this soul. I become the Charioteer and sit here and give this one knowledge. His soul didn’t have knowledge; he was impure. Just as this one’s soul, the charioteer, speaks through the body, in the same way, I too speak through these organs. How else would I explain? Brahma is definitely needed in order to create Brahmins. This Brahma will then become Narayan. You Brahmins are now the children of Brahma. Then, you will go into the clan of the sun-dynasty Shri Narayan. It has been explained to you children that all of those scriptures etc. belong to the path of devotion, that the same ones will be written again and that people become tamopradhan by reading them. The golden age changed into the silver age, the silver age changed into the copper age and then the iron age. Only when you become impure does the Purifier come and purify you. Scriptures cannot purify anyone. People have now become completely poverty-stricken. They continue to fight and quarrel with one another; they are worse than monkeys. Monkeys have the five vices in them very strongly. No one else has arrogance of the body as strongly as monkeys. Monkeys have all the vices such as lust, anger, greed, attachment to such an extent, don’t even ask! When a monkey’s baby dies, the mother won’t let go of its bones. It is the same with people too nowadays. When people lose their child, they continue to cry for six to eight months. In the golden age, neither is there untimely death nor does anyone weep or wail. There are no devils there. At this time the Father speaks to you children. You can look after your homes and families and, while doing that, perform such wonders the sannyasis cannot perform. Only God teaches this satopradhan renunciation. He says: This old world is now to end and you must therefore finish your attachment to it. Everyone has to go back. Forget all the old things, including your bodies. Give those five vices to Me. If you become impure, you won’t be able to go to the pure world. Promise the Father that you will remain pure in this final birth and purity will then remain all the time. You have been choking in the vices for 63 births and have become completely dirty. You have forgotten your dharma and karma. You say that yours is the Hindu religion. The Father says: You have become senseless! Why? Because you don’t understand that Bharat was heaven and that you yourselves were deities. I taught you Raja Yoga. You then say that Krishna is the Father of all and the Creator of heaven. The Father is incorporeal, the Father of all souls. You then say of Him that He is omnipresent! You insult your Father! You have mixed up Shiva with Shankar. There has been so much defamation. Shiva is the Supreme Soul. He says: I come to establish the deity religion. Then the dual-form of Vishnu – Lakshmi and Narayan – will rule the kingdom. Only the one Satguru establishes the land of truth. He is the Charioteer in this chariot. This one is called Nandigan (the bull) and Bhagirath too (the lucky chariot). He (Shiva) says to you Arjunas: I have entered this chariot on the battlefield to make you into conquerors of Maya. In the golden age, neither does Ravan exist, nor is his effigy burnt. People now continue to burn his effigy. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t remember any pictures. Keep the Father without an image in your intellect. Connect your intellects in yoga up above.
  2. You have to return home and you must therefore remove your attachment from all the old things including your body. Become completely pure.
Blessing: May you be a spiritual server who remains ever ready to finish or harmonise sanskars.
Just as you always remain ever ready for physical service and you go to wherever you are called, similarly, let your mind remain ever ready to be able to imbibe whatever thought you have. Whatever you think, do it at that moment. Spiritual servers are ever ready to fulfil the responsibility of spiritual relationships and connections. It doesn’t take them time to finish or harmonise sanskars. As are the Father’s sanskars, so are your sanskars. To harmonise your sanskars is the biggest dance.
Slogan: To experience and enable others to experience the royalty of purity is a sign of a royal soul.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 13 FEBRUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 February 2018

To Read Murli 12 February 2018 :- Click Here
13-02-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – अभी यह तुम्हारा अन्तिम जन्म है, खेल पूरा होता है इसलिए पावन बन घर जाना है, फिर सतयुग से हिस्ट्री रिपीट होगी”
प्रश्नः- घरबार सम्भालते हुए कौन सी कमाल तुम बच्चे ही कर सकते हो?
उत्तर:- घरबार सम्भालते, पुरानी दुनिया में रहते सभी से ममत्व मिटा देना। देह सहित जो भी पुरानी चीजें हैं उन्हें भूल जाना… यह है तुम बच्चों की कमाल, इसे ही सतोप्रधान सन्यास कहा जाता है, जो बाप ही तुम्हें सिखलाते हैं। तुम बच्चे इस अन्तिम जन्म में पवित्र रहने की प्रतिज्ञा करते हो फिर 21 जन्म के लिए यह पवित्रता कायम हो जाती है। ऐसी कमाल और कोई कर नहीं सकता।
गीत:- तुम्हीं हो माता पिता…

ओम् शान्ति। बच्चों को ओम् शान्ति का अर्थ बिल्कुल सहज समझाया जाता है। हर एक बात सहज है। सहज राजाई प्राप्त करते हैं। कहाँ के लिए? सतयुग के लिए। उनको जीवनमुक्ति कहा जाता है। वहाँ रावण के यह भूत होते नहीं। कोई को क्रोध आता है तो कहा जाता है तुम्हारे में यह भूत है। अच्छा बच्चों को समझाया है ओम् का अर्थ है मैं आत्मा फिर मेरा शरीर। हर एक के शरीर रूपी रथ में आत्मा रथी बैठी हुई है। आत्मा की ताकत से यह रथ चलता है। आत्मा को यह शरीर घड़ी-घड़ी लेना और छोड़ना पड़ता है। यह तो बच्चे जानते हैं भारत अभी दु:खधाम है। आधाकल्प पहले सुखधाम था। आलमाइटी गवर्मेन्ट थी क्योंकि आलमाइटी अथॉरिटी ने भारत में देवताओं के राज्य की स्थापना की। वहाँ एक धर्म था। आज से 5 हजार वर्ष पहले बरोबर लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। वह राज्य स्थापन करने वाला जरूर बाप होगा। बाप से उनको वर्सा मिला हुआ है। उन्हों की आत्मा ने 84 जन्मों का चक्र लगाया है, भारतवासी ही इन वर्णों में आते हैं। अभी हैं शूद्र वर्ण में। शूद्र वर्ण के बाद सर्वोत्तम ब्राह्मण वर्ण आता है। ब्राह्मण वर्ण माना ब्रह्मा के मुख वंशावली हैं। प्रजापिता ब्रह्मा के जरूर एडाप्टेड बच्चे होंगे। बच्चे जानते हैं कि भारत पूज्य था, अब पुजारी है। बाप तो सदैव पूज्य है। वह आते जरूर हैं – पतितों को पावन बनाने। सतयुग है पावन दुनिया। सतयुग में पतित-पावनी गंगा, यह नाम ही नहीं होगा क्योंकि वह है ही पावन दुनिया। सभी पुण्य आत्मायें हैं। नो पापात्मा। कलियुग में फिर नो पुण्यात्मा। सब पाप आत्मायें हैं। पुण्य आत्मा पवित्र को कहा जाता है। भारत में ही बहुत दान-पुण्य करते हैं। इस समय जब बाप आते हैं तो उनके ऊपर बलि चढ़ते हैं। सन्यासी तो घरबार छोड़ जाते हैं। यहाँ तो कहते हैं बाबा यह सब कुछ आपका है। आपने सतयुग में हमें अथाह धन दिया था। फिर माया ने कौड़ी जैसा बना दिया है। अब यह आत्मा भी पतित हो गई है। तन-मन-धन सब पतित है। आत्मा पहले-पहले पवित्र रहती है फिर पार्ट बजाते-बजाते पतित बन जाती है। गोल्डन, सिल्वर… इन स्टेज़ेस में मनुष्य को आना है जरूर। सारा चक्र लगाकर पिछाड़ी में तमोप्रधान झूठा जेवर बनना है। सब आत्मायें ईश्वर के लिए झूठ बोलती रहती हैं क्योंकि उनको सिखाया गया है, ईश्वर सर्वव्यापी है। गाते भी हैं तुम मात-पिता… लक्ष्मी-नारायण के आगे भी जाकर यह महिमा करते हैं। परन्तु उनको तो अपना एक बच्चा एक बच्ची होता है। जैसा सुख राजा रानी को वैसा सुख बच्चों को रहता है। सबको सुख घनेरे हैं। अभी तो वह 84 वें अन्तिम जन्म में हैं। दु:ख घनेरे हैं।

बाप कहते हैं अब फिर से तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। बच्चों को समझाया है कि इस रथ में रथी आत्मा बैठा हुआ है। यह रथी पहले 16 कला सम्पूर्ण था। अब नो कला। कहते भी हैं – मुझ निर्गुण हारे में अब कोई गुण नाही। आपेही तरस परोई… अर्थात् रहम करो। कोई में भी गुण नहीं हैं। बिल्कुल दु:खी, पतित हैं तब तो गंगा में पावन होने जाते हैं। सतयुग में नहीं जाते। नदी तो वही है ना। बाकी हाँ, ऐसे कहेंगे इस समय हर चीज़ तमोप्रधान है। सतयुग में नदियां भी बड़ी साफ स्वच्छ होंगी। नदियों में किचड़ा कुछ भी नहीं पड़ता। यहाँ तो देखो किचड़ा पड़ता रहता है। सागर में सारा गंद जाता है। सतयुग में ऐसा हो नहीं सकता। लॉ नहीं है। सब चीजें पवित्र रहती हैं। तो बाप समझाते हैं अभी सबका यह अन्तिम जन्म है। खेल पूरा होता है। इस खेल की लिमिट ही है 5 हजार वर्ष। यह निराकार शिवबाबा समझाते हैं। वह है निराकार सबसे ऊंच परमधाम में रहने वाला। परमधाम से तो हम सब आये हैं। अभी कलियुग अन्त में ड्रामा पूरा हो फिर से हिस्ट्री रिपीट होती है। मनुष्य जो भी गीता आदि शास्त्र पढ़ते आये हैं, वह बनते हैं द्वापर में। यह ज्ञान तो प्राय:लोप हो जाता है। कोई राजयोग सिखला न सके। उन्हों के यादगार लिए पुस्तक बनाते हैं। वह खुद तो पुनर्जन्म में आने लगे। उनके यादगार पुस्तक रहने लगे। अब देवी-देवता धर्म की स्थापना होती है संगम पर। बाप आकर इस रथ में विराजमान होते हैं। घोड़े गाड़ी की बात नहीं है। इस रथ में, साधारण बूढ़े तन में प्रवेश करते हैं। वह है रथी। गाया भी जाता है ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण रचे। यह हैं मुख वंशावली ब्राह्मण। सब बच्चे कहते हैं हम ब्रह्मा की मुख वंशावली बी.के. हैं। यह ब्रह्मा भी एडाप्ट किया हुआ है। बाप खुद कहते हैं मैं इस रथ का रथी बनता हूँ, इसको ज्ञान देता हूँ। शुरू इनसे करता हूँ। कलष देता हूँ माताओं को। माता तो यह भी ठहरी ना। पहले-पहले यह बनते हैं फिर तुम। इनमें तो वह विराजमान हैं, परन्तु सामने किसको सुनायें। फिर आत्माओं से बैठ बात करते हैं। और कोई विद्वान आदि नहीं होगा जो ऐसे आत्माओं से बैठ बात करे कि मैं तुम्हारा बाप हूँ। तुम आत्मायें निराकार हो। मैं भी निराकार हूँ। मैं ज्ञान सागर स्वर्ग का रचयिता हूँ। मैं नर्क नहीं रचता हूँ। यह तो रावण माया नर्क बनाती है। बाप कहते हैं मैं तो हूँ ही रचयिता तो जरूर स्वर्ग ही बनाऊंगा। तुम भारतवासी, स्वर्गवासी थे अब नर्कवासी बने हो। नर्कवासी बनाया रावण ने क्योंकि आत्मा रावण की मत पर चलती है। इस समय तुम आत्मायें राम शिवबाबा, श्री-श्री की श्रीमत पर चलते हो।

बाप समझाते हैं अब सबका पार्ट पूरा हुआ है, सब आत्मायें इकट्ठी होंगी। जब सब आ जायेंगे तब फिर जाना शुरू होगा। फिर विनाश शुरू हो जायेगा। भारत में अब अनेक धर्म हैं। सिर्फ एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म है नहीं। कोई भी अपने को देवता नहीं कहते। देवताओं की महिमा भी गाई है सर्वगुण सम्पन्न….. फिर अपने को कहेंगे हम नींच पापी.. जो सतोप्रधान पूज्य थे, वह तमोप्रधान पुजारी बन पड़ते हैं। द्वापर से रावण का राज्य शुरू होता है। रामराज्य है ब्रह्मा का दिन, रावण राज्य है ब्रह्मा की रात। अब बाप कब आये? जब ब्रह्मा की रात पूरी हो तब तो आये ना। और इसी ब्रह्मा के तन में आये तब तो ब्रह्मा से ब्राह्मण पैदा हों। उन ब्राह्मणों को राजयोग सिखलाते हैं। बाप कहते हैं जो भी आकारी वा साकारी या निराकारी चित्र हों उनको तुम्हें याद नहीं करना है। तुमको तो लक्ष्य दिया जाता है, मनुष्य तो चित्र देख याद करते हैं। बाबा कहते हैं चित्रों को देखना बन्द करो। यह है भक्तिमार्ग। अभी तो तुम आत्माओं को वापिस मेरे पास आना है। पापों का बोझा सिर पर बहुत है। ऐसे नहीं, गर्भ जेल में हर जन्म के पाप खत्म हो जाते हैं। कुछ खत्म हो जाते हैं, कुछ रहते हैं। अब मैं पण्डा बनकर आया हूँ। इस समय सब आत्मायें माया की मत पर चलती हैं। परमात्मा सर्वव्यापी कहना यह माया की मत है। कभी कहते सर्वव्यापी है, कभी कहते 24 अवतार लेते हैं। बाप कहते हैं मैं सर्वव्यापी कहाँ हूँ। मैं तो हूँ ही पतित-पावन, स्वर्ग का रचयिता। मेरा धंधा ही है नर्क को स्वर्ग बनाना। गांधी चाहते थे – रामराज्य हो। अभी कहते हैं – आलमाइटी राज्य हो। वन रिलीजन हो। स्वर्ग में तो है ही एक धर्म, एक राज्य। वहाँ कोई पार्टीशन नहीं था। बाप कहते हैं मैं युनिवर्स का मालिक नहीं बनता हूँ। तुमको बनाता हूँ। फिर रावण आकर तुमसे राज्य छीनता है। अभी हैं सब तमोप्रधान, पत्थरबुद्धि। सतयुग में हैं पारसबुद्धि। यह बाप समझाते हैं, रथी बैठे हैं। आत्मा ही बात करती है तो इनकी आत्मा भी सुनती है। कहते हैं बच्चे कोई भी चित्र को नहीं देखो। मामेकम् याद करो, बुद्धियोग ऊपर लटकाओ। जहाँ जाना है उनको ही याद करना है। एक बाप बस दूसरा न कोई। वही सच्चा पातशाह है, सच सुनाने वाला। तो तुम्हें कोई भी चित्रों का सिमरण नहीं करना है। यह शिव का जो चित्र है उनका भी ध्यान नहीं करना है क्योंकि शिव ऐसा तो है नहीं। जैसे हम आत्मा हैं वैसे वह परम आत्मा है। जैसे आत्मा भ्रकुटी के बीच में रहती है वैसे बाबा भी कहते थोड़ी जगह आत्मा के बाजू में ले बैठ जाता हूँ। रथी बन इनको बैठ ज्ञान देता हूँ। इनकी आत्मा में ज्ञान नहीं था, पतित थी। जैसे इनकी आत्मा रथी बोलती है शरीर से। वैसे मैं भी इन आरगन्स से बोलता हूँ। नहीं तो कैसे समझाऊं। ब्राह्मण रचने लिए ब्रह्मा जरूर चाहिए। जो ब्रह्मा फिर नारायण बनेगा। अभी तुम ब्रह्मा की औलाद हो। फिर सूर्यवंशी श्री नारायण के घराने में आ जायेंगे। बच्चों को समझाया है यह शास्त्र आदि सब भक्तिमार्ग के हैं, फिर भी यही बनेंगे। जो पढ़ते-पढ़ते तमोप्रधान बन जाते हैं। सतयुग से त्रेता हुआ। त्रेता से द्वापर, कलियुग हुआ। पतित बनें तब तो पतित-पावन आकर पावन बनायेंगे ना। शास्त्र किसको पावन बना न सकें। अभी तो बिल्कुल ही कंगाल बन पड़े हैं। लड़ते झगड़ते रहते हैं। बन्दर से भी बदतर हैं। बन्दर में 5 विकार बहुत कड़े होते हैं। देह अहंकार भी बन्दर जैसा और कोई में नहीं होता है। काम, क्रोध, लोभ, मोह सब विकार बन्दर में ऐसे होते हैं, बात मत पूछो। बच्चा मरेगा तो उनकी हड्डियों को भी छोड़ेंगे नहीं। मनुष्य भी आजकल ऐसे हैं। बच्चा मरा तो 6-8 मास रोते रहेंगे। सतयुग में तो अकाले मृत्यु होता नहीं। न कोई रोते पीटते। वहाँ कोई शैतान होते नहीं। बाप इस समय बच्चों से बात कर रहे हैं। भल घरबार भी सम्भालो, उसमें रहते हुए ऐसे कमाल कर दिखाओ, जो सन्यासी कर न सकें। यह सतोप्रधान सन्यास परमात्मा ही सिखलाते हैं। कहते हैं यह पुरानी दुनिया अब खत्म होती है, इसलिए इनसे ममत्व मिटाओ। सबको वापिस आना है। देह सहित जो भी पुरानी चीजें हैं उनको भूल जाओ। यह 5 विकार मुझे दे दो। अगर अपवित्र बनेंगे तो पवित्र दुनिया में आ नहीं सकेंगे। बाप से प्रतिज्ञा करो, इस अन्तिम जन्म के लिए। फिर तो पवित्रता कायम हो ही जायेगी, 63 जन्म तुम विकारों में गोते खाकर एकदम गन्दे बन पड़े हो। अपने धर्म, कर्म को भूल गये हो। हिन्दू धर्म कहते रहते हो। बाप कहते हैं तुम तो बेसमझ बन गये हो, क्यों नहीं समझते हो भारत स्वर्ग था, हम ही देवता थे। मैंने तुमको राजयोग सिखाया। तुम फिर कहते हो कृष्ण सभी का बाप स्वर्ग का रचयिता है। बाप तो निराकार सब आत्माओं का बाप है। फिर उनके लिए कहते हो कि सर्वव्यापी है। तुम अपने बाप को गाली देते हो। शिव शंकर को मिला दिया है, कितनी ग्लानि कर दी है। शिव तो है परमात्मा। कहते हैं मैं आता ही हूँ देवी-देवता धर्म स्थापन करने। फिर विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण राज्य करेंगे। सचखण्ड स्थापन करने वाला एक ही सतगुरू है। वह इस रथ में रथी हैं। इसे नंदीगण भी कहते हैं, भागीरथ भी कहते हैं। तुम अर्जुनों को कहते हैं मैं इस रथ में आया हूँ, युद्ध के मैदान में तुमको माया पर जीत पहनाने। सतयुग में न रावण होता, न जलाते। अभी तो रावण को जलाते ही रहेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार :-

1) कोई भी चित्र का सिमरण नहीं करना है। विचित्र बाप को बुद्धि से याद करना है। बुद्धि योग ऊपर लटकाना है।

2) वापस घर चलना है इसलिए देह सहित सब पुरानी चीजों से ममत्व निकाल देना है। सम्पूर्ण पावन बनना है।

वरदान:- संस्कार मिटाने और मिलाने में एवररेडी रहने वाले रूहानी सेवाधारी भव 
जैसे स्थूल सेवा में सदा एवररेडी रहते हो, जहाँ बुलावा होता है वहाँ पहुंच जाते हो। ऐसे मन्सा से भी जो संकल्प धारण करने चाहो उसमें भी एवररेडी रहो। जो सोचो उसी समय वह करो। रूहानी सेवाधारी बच्चे रूहानी संबंध और सम्पर्क निभाने में एवररेडी। उन्हें संस्कार मिटाने वा संस्कार मिलाने में टाइम नहीं लगता। जैसे बाप के संस्कार वैसे आप के भी संस्कार हो। यह संस्कार मिलाना बड़े से बड़ी रास है।
स्लोगन:- प्योरिटी की रॉयल्टी का अनुभव करना और कराना ही रॉयल आत्मा की निशानी है।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize