today murli 13 december

TODAY MURLI 13 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 13 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 12 December 2018 :- Click Here

13/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, unadulterated love for the one Father can be forged when your intellects’ yoga is broken away from your body and all bodily relations.
Question: What race do you children have? What is the basis of going ahead in this race?
Answer: Your race is to pass with honours. The basis of this race is your intellects’ yoga. The more your intellects’ yoga is connected to the Father, the more your sins will be cut away. You will then attain the unshakeable kingdom of constant peace and happiness for 21 births. For that, the Father advises you: Children, become conquerors of sleep. Stay in remembrance for an hour or half an hour and continue to increase this practice. Keep your record of remembrance.
Song: Neither will He be separated from us, nor will our love (ulfat) for Him be removed from our hearts.

Om shanti. You children heard the song. ‘Ulfat’ is another name for love. The love of you children is now tied to unlimited Father Shiva. You BKs call Him Dada. There is no human being who doesn’t know the occupation s of his father and his grandfather. There is no other organisation where so many of them say that they are Brahma Kumars and Kumaris. Mothers are not kumaris, so why do you call yourselves Brahma Kumaris? You are the mouth-born creation of Brahma. All of you Brahma Kumars and Kumaris are the mouth-born creation of Prajapita Brahma. You are all the daughters of the one father. You also have to know the occupation of Brahma. Whose child is Brahma? Shiva’s. Brahma, Vishnu and Shankar are the three children of Shiva and they are residents of the subtle region. However, Prajapita Brahma has to be a resident of the corporeal world. So many children say that they are the mouth-born creation of Prajapita Brahma. They cannot be a physical creation; they are not a creation born through a womb. People don’t even ask how so many of you can be called Brahma Kumars and Kumaris. Mothers too are called Brahma Kumaris and so the children of Brahma are surely a mouth-born creation. All of them are the children of God. Who is God? He is the Supreme Father, the Supreme Soul, the Creator. What does He create? He creates heaven. Therefore, He would definitely give His grandsons and granddaughters the inheritance of heaven. He needs a body so that He can teach you Raja Yoga. He would not be given this title just like that. Shiv Baba sits here and once again teaches Raja Yoga to the mouth-born creation of Brahma, because He is establishing heaven once again. Otherwise, where would so many Brahma Kumars and Kumaris come from? It is a wonder that no one has the courage to ask. There are so many centres. They should ask: Who are you? Give us your introduction. It is clear that you are the sons and daughters of Prajapita Brahma and the grandsons and granddaughters of Shiva. We have become His children. We love Him. Shiv Baba also says: Remove your love, that is, your intellects’ yoga from everyone else and connect it to Me alone. I am teaching you Raja Yoga through Brahma and you Brahma Kumars and Kumaris are listening to Me. This is something so easy and straightforward. At least ask! Therefore, this is the cowshed. The cowshed of Brahma has been remembered in the scriptures. In fact, it is Shiv Baba’s cowshed. Shiv Baba enters this Nandigan (bull) but because of the word ‘cowshed’, they have shown a cow in the scriptures. Since there is Shiva’s birthday (Jayanti), Shiva must definitely have come. He would definitely have entered the body of someone. You know that this is the school of God, the Father. God Shiva speaks. He is the Ocean of Knowledge and the Purifier. Krishna himself is pure. Why would he be concerned about entering an impure body? It is sung: The Resident of the faraway land came to the foreign land. Even the body is foreign (it doesn’t belong to Him). Therefore, Shiv Baba must surely have created him and that is how the human world was created. So this proves that they are BapDada. Prajapita Brahma is Adi Dev, Mahavir, because he conquers Maya. Jagadamba is also remembered. Shri Lakshmi too is remembered. The world doesn’t know that Jagadamba is Saraswati, the daughter of Brahma. She is a Brahma Kumari. This one is also a Brahma Kumari. Shiv Baba has made her belong to Him through the mouth of Brahma. The love of all your intellects is now with Him. It is said: Love God! Break it away from everyone else and connect it to the One. That One is God, but they don’t know Him. How can they know Him? Only when the Father comes and gives His introduction can there be faith. Nowadays, they have taught everyone that each soul is the Supreme Soul. Because of this, their relationship has broken. You children are now listening to the real story of the true Narayan. He is Sukhdev and you are Vyas. The name ‘Vyas’ is mentioned in the Gita. He was a human being, but you are the true Vyas. The Gita that you create will also be destroyed. It is now that there are the true and false Gitas. There is no mention of falsehood in the land of truth. You are claiming your inheritance from Dada (Grandfather). It is not the property of this Baba. Shiv Baba, not Brahma, is the Creator of heaven. Brahma is the creator of the human world. The Brahmin clan was created through the lotus mouth of Brahma. You are the grandchildren of Shiva, that is, you are the Godly community. He has made you belong to Him. You are called the grandchildren of the Guru. You are now the grandsons and granddaughters of the Satguru. There, there are just grandsons, that is, males. There are no granddaughters. Only the one Shiv Baba is the Satguru. It is said: There is extreme darkness without the Satguru. Your name, Brahma Kumars and Kumaris, is so wonderful. The Father explains so much, but some children just don’t understand. The Father says: By knowing Me, the unlimited Father, you will know everything. In the golden and silver ages, there are the sun and moon dynasty kingdoms. Then, in the kingdom of Ravan, the night of Brahma begins. You are Brahma Kumars and Kumaris in a practical way. Only the golden age is called heaven where rivers of ghee and milk flow. Here, you can’t even obtain ghee. The Father says: Children, this old world is now to end. One day, this haystack will be set on fire and everything will be destroyed. At that time, you won’t be able to receive the inheritance from Me. When I come, I definitely have to take a body on loan ; I need a building. Baba is so good at explaining in such an entertaining way. You now come to know everything from Me. No one knows how this world cycle turns. Who takes 84 births? Not everyone will take them. Surely, the deities who come first will take 84 births. I am now once again teaching them Raja Yoga. I come once again to make Bharat into heaven from hell. I liberate it. Then I become the Guide and take you back home. I am also called the form of a jyoti (flame). Even the form of a jyoti has to come. He Himself says: Children, I am your Father. My light is never extinguished. It is a starthat resides in the centre of the forehead. All other souls shed a body and take another. So, an imperishable part of 84 births is recorded in the soul, the star. Souls take 84 births and then begin from number one again. As are the king and queen, so the subjects. How else would a soul have such a part recorded in him? This is called the most wonderful , deep secret. Each soul of the human world has a part fixed in him. He says: I have this part in Me and that too is imperishable; there cannot be any change in it. The Brahma Kumars and Kumaris know My part. The part is called the biography. Since there is Prajapita Brahma, there must also be Jagadamba. She too has changed from a shudra to a Brahmin. You children know that you love the Father. Your love is only for One. It doesn’t take long for there to be unadulterated love. However, Maya, the cat, is no less. Some women are jealous of each other. When we love Shiv Baba, Maya feels jealous and so she creates storms. You want to throw a double six, but Maya, the cat, interferes in this. You live at home with your family and so you are told: Remove your intellects’ yoga from your bodies and bodily relations and remember Me. I am your most b eloved Father. I will make you into the masters of heaven if you follow My shrimat. The directions of Brahma are very well known. So, surely, the directions of the children of Brahma would also be well known. They would give the same directions too. Only the Father tells you the news of the whole world. You may look after your children etc. but let your intellects yoga be connected to the Father. Consider this to be a graveyard and that you are going to the land of angels. This is something so simple. The Father explains: Do not connect your intellects in yoga to any corporeal or subtle deity. The Father tells you this as the Agent. It is remembered that souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. It was the deities who were separated for a long time. They are the ones who come first to play their parts. When you found the Satguru, the Agent, the beautiful meeting took place. As the Agent, He says: Constantly remember Me alone and promise that you will get off the pyre of lust and sit on the pyre of knowledge. You will then claim your fortune of the kingdom. Keep a record with you of how much you remember such a most beloved Father. A woman remembers her husband day and night. The Father says: O children, who are conquerors of sleep, now make effort, for an hour or half an hour. Start with that and then gradually increase it. Have yoga with Me and you will pass with honours. This is a race of intellects. It takes time. Only through the yoga of your intellects will your sins be cut away. You will then rule the unshakeable, constant, peaceful and happy kingdom for 21 births. You ruled it in the previous cycle. Now claim your fortune of the kingdom once again. We are the ones who create heaven every cycle and then we rule there. Then, Maya makes us into residents of hell. We are now in Rama’s community. We love Him. The Father has given us His introduction. The Father is the Creator of heaven. We are His children and so why are we in hell? We were definitely in heaven at some point. The Father created heaven. The Brahma Kumars and Kumaris are those who give the donation of life to everyone. Death would not come unlawfully and take their lives; they would not experience untimely death. It is impossible for there to be untimely death there. There is no crying there either. You have seen in visions how Shri Krishna takes birth. There is light all around at that time. He is the first prince of the golden age. Krishna is the number one satopradhan soul. He then goes through the stages of sato, rajo and tamo. When his body becomes tamo and reaches a state of total decay, he sheds that body and takes another. This is practi s ed here. Baba, I am coming to You and I will then go from there to heaven and take a new body. I now have to return to Baba. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to be saved from untimely death, serve to give everyone the donation of life. Make the community of Ravan into the community of Rama.
  2. Let the love of your heart be for the one Father. Do not allow your intellect’s yoga to wander. Conquer sleep and continue to increase remembrance.
Blessing: May you be a master of the self by becoming rup and basant, that is, by being gyani and yogi according to the time.
Those who are masters of the self can become rup when they want and basant when they want. They can create either of the two stages in a second. Let it not be that you want to be rup but you keep remembering things of knowledge instead. Put a full stop in less than a second. A powerful brake works when it is applied. For this, practise stabilising your mind and intellect in whatever stage you want at whatever time. Let there be such controlling and ruling powers.
Slogan: A messenger of peace is one who gives the gift of peace to those who create upheaval.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 13 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 December 2018

To Read Murli 12 December 2018 :- Click Here
13-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हारा अव्यभिचारी प्यार एक बाप के साथ तब जुट सकता है जब बुद्धियोग देह सहित देह के सब सम्बन्धों से टूटा हुआ हो”
प्रश्नः- तुम बच्चों की रेस कौन-सी है? उस रेस में आगे जाने का आधार क्या है?
उत्तर:- तुम्हारी रेस है ”पास विद् आनर बनने की” इस रेस का आधार है बुद्धियोग। बुद्धियोग जितना बाप के साथ होगा उतना पाप कटेंगे और अटल, अखण्ड, सुख-शान्तिमय 21 जन्म का राज्य प्राप्त होगा। इसके लिए बाप राय देते हैं – बच्चे, नींद को जीतने वाले बनो। एक घड़ी, आधी घड़ी भी याद में रहते-रहते अभ्यास बढ़ाते जाओ। याद का ही रिकार्ड रखो।
गीत:- न वह हमसे जुदा होंगे, न उलफत दिल से निकलेगी……. 

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। उल़फत कहा जाता है प्यार को, अब तुम बच्चों का प्यार बांधा हुआ है बेहद के बाप शिव के साथ। तुम बी.के. उनको दादा कहेंगे। ऐसे कोई मनुष्य नहीं होगा जो अपने बापदादा के आक्यूपेशन को न जानता हो। ऐसी कोई संस्था नहीं जहाँ इतने ढेर के ढेर कहें कि हम ब्रह्माकुमार-कुमारी हैं। मातायें तो कुमारी नहीं हैं फिर ब्रह्माकुमारी क्यों कहलाती हैं? यह तो हैं ब्रह्मा मुख वंशावली। इतने ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं प्रजापिता ब्रह्मा की मुख वंशावली। एक बाप की बच्चियां हैं। ब्रह्मा के आक्यूपेशन को भी जानना है। ब्रह्मा किसका बच्चा है? शिव का। शिव के तीन बच्चे ब्रह्मा, विष्णु, शंकर सूक्ष्मवतन वासी हैं। अब प्रजापिता ब्रह्मा तो स्थूलवतन वासी होना चाहिए। इतने सब कहते हैं प्रजापिता ब्रह्मा के मुख वंशावली हैं। कुख वंशावली तो हो न सकें। यह कोई गर्भ की पैदाइस नहीं है। और फिर तुमसे पूछते भी नहीं कि इतने सब ब्रह्माकुमार-कुमारियां कैसे कहलाते हो? माताएं भी ब्रह्माकुमारियां हैं तो जरूर ब्रह्मा के बच्चे हुए ब्रह्मा के मुख वंशावली। यह सब हैं ईश्वर की सन्तान। ईश्वर कौन है? वह है परमपिता परमात्मा, रचता। किस चीज़ की रचना करते हैं? स्वर्ग की। तो जरूर अपने पोत्रे-पोत्रियों को स्वर्ग का वर्सा देते होंगे। उनको शरीर चाहिए जो राजयोग सिखाये। ऐसे थोड़ेही पाग रख देंगे। शिवबाबा बैठ ब्रह्मा मुख वंशावली को फिर से राजयोग सिखलाते हैं क्योंकि फिर से स्वर्ग की स्थापना करते हैं। नहीं तो फिर इतने ब्रह्माकुमार-कुमारियां कहाँ से आयें? वन्डर है, कोई हिम्मत रख पूछते भी नहीं! कितने सेन्टर्स हैं! पूछना चाहिए आप हैं कौन, अपना परिचय दो? यह तो साफ है प्रजापिता ब्रह्मा के कुमार-कुमारियां और शिव के पोत्रे-पोत्रियां हैं। हम उनके बच्चे बने हैं। उनसे हमारा प्यार है। शिवबाबा भी कहते हैं सबसे प्यार अथवा बुद्धियोग हटाए मुझ एक के साथ रखो। मैं तुमको ब्रह्मा द्वारा राजयोग सिखला रहा हूँ ना और तुम ब्रह्माकुमार-कुमारी सुन रहे हो ना। कितनी सहज सीधी सी बात है। पूछो तो सही। तो यह हो गई गऊशाला। शास्त्रों में ब्रह्मा की गऊशाला भी गाई हुई है। वास्तव में शिवबाबा की गऊशाला है, शिवबाबा इस नंदीगण में आता है तो गऊशाला अक्षर के कारण शास्त्रों में फिर गऊ आदि दिखा दी है। शिव जयन्ती है तो जरूर शिव आया होगा। जरूर किसी तन में आया होगा। तुम जानते हो यह गॉड फादर का स्कूल है। शिव भगवानुवाच। ज्ञान सागर पतित-पावन वह है। कृष्ण तो स्वयं पावन है, उनको क्या पड़ी है जो पतित तन में आये। गाया भी जाता है दूर देश का रहने वाला आया देश पराये……..। शरीर भी पराया है। तो जरूर शिवबाबा ने इनको रचा होगा तब तो मनुष्य सृष्टि रची जाए। तो सिद्ध हुआ कि यह बापदादा है। प्रजापिता ब्रह्मा है आदि देव, महावीर क्योंकि माया पर जीत पाते हैं। जगदम्बा भी गाई हुई है। श्री लक्ष्मी भी गाई हुई है। दुनिया को पता नहीं कि जगदम्बा कोई ब्रह्मा की बेटी सरस्वती है। वह भी ब्रह्माकुमारी है। यह भी ब्रह्माकुमारी है। शिवबाबा ने ब्रह्मा मुख से इनको अपना बनाया है। अब इन सभी के बुद्धि का योग (उल़फत) उनके साथ है। कहा भी जाता है उल़फत परमात्मा के साथ रखो। और सब साथ तोड़ एक साथ जोड़ो। वह एक है भगवान्। परन्तु जानते नहीं। जाने भी कैसे? जब बाप आकर अपना परिचय दे, तब निश्चय हो। आजकल तो सिखला दिया है – आत्मा सो परमात्मा….. जिससे संबंध ही टूट गया है। अब तुम बच्चे वास्तव में सच्ची-सच्ची सत्य नारायण की कथा सुनते हो। वह है सुखदेव और तुम हो व्यास। गीता में भी व्यास का नाम है ना। वह तो मनुष्य ठहरा। परन्तु सच्चे व्यास तुम हो। तुम जो गीता बनाते हो वह भी विनाश हो जायेगी। झूठी और सच्ची गीता अभी है। सचखण्ड में झूठ का नाम नहीं रहता। तुम वर्सा ले रहे हो दादे से। इस बाबा की प्रापर्टी नहीं है। स्वर्ग का रचता है शिवबाबा, न कि ब्रह्मा। ब्रह्मा मनुष्य सृष्टि का रचयिता है। ब्रह्मा मुख कमल से ब्राह्मण वर्ण रचा गया। तुम हो शिव के पोत्रे अर्थात् ईश्वरीय सम्प्रदाय। उनको अपना बनाया है। गुरू पोत्रे कहलाते हैं ना। अब तुम हो सतगुरू पोत्रे और पोत्रियां। वह तो सिर्फ पोत्रे हैं अर्थात् मेल्स हैं। पोत्रियां हैं नहीं। सतगुरू तो एक शिवबाबा है। गाया जाता है सतगुरू बिन घोर अन्धियारा। तुम्हारा ब्रह्माकुमार-कुमारी नाम बड़ा वन्डरफुल है। बाप कितना समझाते हैं परन्तु कई बच्चे समझते नहीं। बाप कहते हैं मुझ बेहद के बाप को जानने से तुम सब कुछ जान जायेंगे। सतयुग-त्रेता में सूर्यवंशी चन्द्रवंशी राज्य था। फिर रावण राज्य में ब्रह्मा की रात शुरू होती है। प्रैक्टिकल में ब्रह्माकुमार-कुमारियां तुम हो। सतयुग को ही स्वर्ग कहा जाता है जहाँ घी दूध की नदी बहती है। यहाँ तो घी मिलता नहीं। बाप कहते हैं बच्चे यह पुरानी दुनिया अब विनाश होनी है। एक दिन इस भंभोर को आग लगेगी, सब खत्म हो जायेंगे फिर मेरे से वर्सा तो पा नहीं सकेंगे।

मैं आऊं तो जरूर शरीर का लोन लेना पड़े। मकान तो चाहिए ना। बाबा कितना अच्छा, रमणीक रीति से समझाते हैं। तुम अब मेरे द्वारा सब कुछ जान गये हो। यह सृष्टि चक्र कैसे चलता है, यह कोई को भी पता नहीं। 84 जन्म कौन लेते हैं? सब तो नहीं लेंगे। जरूर पहले आने वाले देवी-देवता ही 84 जन्म लेंगे। अब उनको फिर से मैं राजयोग सिखाता हूँ। भारत को फिर से नर्क से स्वर्ग बनाने मैं आता हूँ। इनको लिबरेट मैं करता हूँ। फिर गाइड बन वापिस भी ले जाता हूँ। मुझे ज्योति स्वरूप भी कहते हैं। ज्योति स्वरूप को भी आना पड़े, स्वयं कहते बच्चे मैं तुम्हारा बाप हूँ। मेरी ज्योति कभी बुझती नहीं। वह स्टॉर है जो भ्रकुटी के बीच रहते हैं। बाकी सब आत्मायें एक शरीर छोड़ दूसरा लेती हैं। तो आत्मा रूपी स्टॉर में 84 जन्मों का पार्ट अविनाशी नूंधा हुआ है। 84 जन्म भोग फिर पहले नम्बर से शुरू करते हैं। यथा राजा रानी तथा प्रजा। नहीं तो भला बताओ आत्मा में इतना पार्ट कहाँ से भरा हुआ है। इसको कहा जाता है बहुत गुह्य वन्डरफुल बात है। सारी मनुष्य सृष्टि की आत्माओं का पार्ट नूंधा हुआ है। कहते हैं मेरे में यह पार्ट है, वह भी अविनाशी है। उसमें कोई तबदीली (अदली-बदली) नहीं हो सकती। मेरे पार्ट को ब्रह्माकुमारकुमारियां जानते हैं। पार्ट को बायोग्राफी कहा जाता है। प्रजापिता ब्रह्मा है तो जरूर जगदम्बा भी होगी। वह भी शूद्र से ब्राह्मण बनी है। तो तुम बच्चे जानते हो हमारी उल़फत बाप के साथ है और हमारा एक के ही साथ प्यार है। अव्यभिचारी प्यार होने में देरी नहीं लगती है। माया बिल्ली भी कम नहीं है। कई स्त्रियां होती हैं जिनकी आपस में ईर्ष्या हो जाती है। हम भी शिवबाबा से प्यार रखते हैं तो माया को ईर्ष्या हो जाती है इसलिए तूफान लाती है। तुम चाहते हो पऊंबारा डालें (चौपड़ का खेल) परन्तु माया बिल्ली तीन दाने डाल देती है। तुम गृहस्थ व्यवहार में रहते हो सिर्फ तुम्हारा बुद्धियोग देह सहित देह के सब सम्बन्धों से हटाए कहते हैं मेरे को याद करो। मैं तुम्हारा मोस्ट बिलवेड बाप हूँ। मैं तुमको स्वर्ग का मालिक बनाऊंगा, यदि मेरी श्रीमत पर चलेंगे तो। ब्रह्मा की राय भी मशहूर है। तो जरूर ब्रह्मा के बच्चों की भी मशहूर होगी। वे भी ऐसी राय देते होंगे। यह सारे सृष्टि चक्र का समाचार तो बाप ही बतलाते हैं। भल बच्चों आदि को सम्भालो परन्तु बुद्धियोग बाप के साथ हो। समझो यह कब्रिस्तान है, हम परिस्तान में जाते हैं। कितनी सहज बात है।

बाप समझाते हैं कि कोई भी साकारी वा आकारी देवता से बुद्धियोग नहीं लगाओ। बाप दलाल बनकर कहते हैं। गाते हैं ना आत्मायें परमात्मा अलग रहे बहुकाल। अब बहुकाल से अलग तो देवी-देवता हैं। वही पहले-पहले पार्ट बजाने आते हैं। सुन्दर मेला कर दिया जब सतगुरू मिला दलाल। दलाल के रूप में कहते हैं मामेकम् याद करो और प्रतिज्ञा करो कि हम काम चिता से उतर ज्ञान चिता पर बैठेंगे। फिर तुम राज्य भाग्य ले लेंगे। अपने पास रिकार्ड रखो कि हम कितना समय ऐसे मोस्ट बिलवेड बाप को याद करते हैं। कन्या दिन-रात पति को याद करती है ना। बाप कहते हैं – हे नींद को जीतने वाले बच्चे, अब पुरूषार्थ करो। एक घड़ी आधी घड़ी……. शुरू करो फिर धीरे-धीरे बढ़ाते जाओ। मेरे से योग लगायेंगे तो पास विद् आनर हो जायेंगे। यह रेस है बुद्धि की। समय लगता है, बुद्धियोग से ही पाप कटेंगे। और फिर तुम अटल, अखण्ड, सुख-शान्तिमय 21 जन्म राज्य करेंगे। कल्प पहले भी किया था, अब फिर राज्य-भाग्य लो। कल्प-कल्प हम ही स्वर्ग बनाते, राज्य करते हैं। फिर हमको ही माया नर्कवासी बनाती है। अभी हम हैं राम सम्प्रदाय। हमारा उनसे प्रेम है। बाप ने हमको अपनी पहचान दी है। बाप है स्वर्ग का रचयिता। हम उनके बच्चे हैं तो फिर हम नर्क में क्यों पड़े हैं? जरूर स्वर्ग में कभी थे। बाप ने तो स्वर्ग रचा है। ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं सबको प्राण दान देने वाले। उनके प्राणों को कभी काल आकर बेकायदे, अकाले नहीं ले जायेंगे। वहाँ अकाले मृत्यु होना असम्भव है। वहाँ रोना भी होता नहीं। तुमने साक्षात्कार में भी देखा है कि श्रीकृष्ण कैसे जन्म लेते हैं। एकदम बिजली चमक जाती है। सतयुग का फर्स्ट प्रिन्स है ना। कृष्ण है नम्बरवन सतोप्रधान। फिर सतो, रजो, तमो में आते हैं। जब तमो जड़जड़ीभूत शरीर होता है तो फिर एक शरीर छोड़ दूसरा ले लेते हैं। यह प्रैक्टिस यहाँ की जाती है। बाबा, अब हम आपके पास आते हैं फिर वहाँ से हम स्वर्ग में जाकर नया शरीर लेंगे। अब तो वापिस बाबा के पास जाना है ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अकाले मृत्यु से बचने के लिए सबको प्राण दान देने की सेवा करनी है। रावण सम्प्रदाय को राम सम्प्रदाय बनाना है।

2) दिल की उल़फत (प्यार) एक बाप से रखना है। बुद्धियोग भटकाना नहीं है, नींद को जीत याद को बढ़ाते जाना है।

वरदान:- समय प्रमाण रूप-बसन्त अर्थात् ज्ञानी व योगी तू आत्मा बनने वाले स्व शासक भव
जो स्व-शासक हैं वह जिस समय चाहें रूप बन जाएं और जिस समय चाहें बसन्त बन जाएं। दोनों स्थिति सेकण्ड में बना सकते हैं। ऐसे नहीं कि बनने चाहें रूप और याद आती रहें ज्ञान की बातें। सेकण्ड से भी कम टाइम में फुलस्टाप लग जाए। पावरफुल ब्रेक का काम है जहाँ लगाओ वहाँ लगे, इसके लिए प्रैक्टिस करो कि जिस समय जिस विधि से जहाँ मन-बुद्धि को लगाना चाहें वहाँ लग जाए। ऐसी कन्ट्रोलिंग वा रूलिंग पावर हो।
स्लोगन:- शान्तिदूत वह है जो तूफान मचाने वालों को भी शान्ति का तोहफा दे।

TODAY MURLI 13 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 13 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 12 December 2017 :- Click Here

13/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, when sitting in remembrance, sit with your eyes open because you have to stay in remembrance of the Father while eating, drinking, walking and moving around.
Question: What is the reason why people wander from door to door searching for God?
Answer: Because people have said that God is omnipresent and made others wander around a great deal. If He were omnipresent, where would you find Him? They then say that God is beyond name and form. If He were beyond name and form, how would you find Him? For whom would you look? This is why they continue to wander from door to door. You children have now stopped wandering around. You say with faith that Baba has come from the supreme abode. He speaks to us children through these organs. However, there is nothing that is beyond name or form.

Om shanti. Sweetest children, you are sitting in remembrance of the Father. Who said this and to whom? The Father of all souls said this to His children, the souls. The souls heard through their organs what Baba said. The Father asked: Are you remembering your Father? Do you need to close your eyes to remember your father? When children remember their father, their eyes are open. While sitting, walking and moving around, children remember their father. There is no need to close your eyes. The soul knows that his Father is speaking to him through the organs. He has come from the supreme abode to make this old, impure world new. This is in your intellects and your eyes are open. Baba is speaking to you. You are listening to Him and are also remembering Him. Who is telling you this? The Supreme Father, the Supreme Soul. What is His name? The name of your body continues to change. You take a body, shed that and then take another and so you receive another name. The name of the soul doesn’t change. The Father says: I am a soul and you too are souls. I am the Supreme Soul who is the Resident of the supreme abode and that is why I am called the Supreme Soul. The Highest on High is said to be the Supreme. There are elevated souls and also degraded souls. Some are charitable souls and others are sinful souls. The Father says: I, the soul, always have the one name Shiva. He definitely needs to have a name. Because of not having knowledge, people say that He is beyond name and form. However, there cannot be anything in existence that is without a name or form. For instance, there is the sky. It is not a physical object; it is just space. It still has a name – sky. It is a very subtle element. OK, deities reside even beyond that. That too is a space. They are sitting beyond the sky. Beyond that is another sky. That too is a place for souls to sit. That sky is called the brahm element. There are the three elements: Corporeal, subtle and incorporeal. Souls would definitely reside in a space. Therefore, there are three skies. The play takes place under this sky and so light is needed. There is not a play in the incorporeal world. That is called the element of brahm where souls reside. That is the highest of all. There are three worlds, that is, three storeys of the world. It isn’t that there is another world below the sea. There is just earth below the water. The water stays on top of that. These are the three worlds. Silence, movie, talkie. Shiv Baba sits here and explains these things. Do you have to have your eyes closed in order to remember Shiv Baba? No. Why do other people close their eyes? Because their eyes deceive them. People say that God is beyond name and form. They then say that He is in the pebbles and stones and in everything, that He takes 24 incarnations and that He incarnates as a fish and a crocodile. In fact, all of that is nothing but lies. By saying that God is omnipresent, they have created so much confusion. The path of devotion is the path for stumbling. They even make Me stumble around so much. Devotees now remember God in order to become free from devotion and stumbling around. When they come here and meet Him, they say: Baba, I have searched for You a great deal. I stumbled around a great deal, but I didn’t find You. Since when have you been stumbling around? Baba, I don’t know this. The Father now explains that it is only through knowledge that there can be salvation. People go to the Kumbha mela for stumbling around. Wherever there is water, they go and bathe there. “Kumbha” means a meeting. In fact, it is the meeting of souls with the Supreme Soul, but on the path of devotion, they have made it into a meeting of the ocean and the river. Melas take place in every country. Those melas are where they bathe in water. Some believe in these things and others don’t. Some neither believe in devotion nor in knowledge. They believe that human beings are born and then die, that that is nature. There are innumerable opinions. In the same family the opinion of the wife would be different from that of her husband. One would believe in purity and the other one wouldn’t. You are now receiving shrimat. It is remembered: Shrimat are the versions of God. It is through His directions that human beings change into deities. The deity religion doesn’t exist now. The pictures are signs that prove there used to be the original eternal deity religion. They ruled in the past and departed. The oldest things are those that belong to the deities. They speak of Lord Krishna or they say: God Shri Narayan. You know that there used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan and that it was called Paradise. Shri Krishna was a master of Paradise. He was the prince of the golden age. So, how did that same Krishna get into the copper age? He cannot go there in that same name and form. The non-living image of the one that existed in the living form exists here. However, where did that soul go? No one knows this. The Father tells you that the soul is now playing his part here while taking 84 births. He has been playing a part of different names, forms, places and time. The soul says: I shed a body and take another. His name, form, place, time, friends and relatives are all different. All of those change in the next birth. You know that you are now studying. You will then become deities once again. You will take eight births in the sun dynasty. You will shed a body and take another. That is not the jail of a womb; it is the palace of a womb. Here, a lot of punishment is experienced in the jail of a womb. After they have suffered, they say: OK, now let me out! I won’t commit any more sin. However, outside, because it is the kingdom of Maya, they begin to commit sin again. There, a soul lives comfortably in the palace of a womb. The Father says: Only to you do I tell the essence of all the Vedas and scriptures. Achcha, Baba will now explain about the Kumbha mela where many people go to bathe. There are many crowds there. There is a mela at Allahabad where the three rivers meet (Triveni). That is not a meeting. There should be a meeting of the rivers with the ocean. That is a meeting of rivers, where two rivers meet. They then say that the third river is incognito. There cannot be an incognito river. There are just two rivers; only two are visible. One is clean water and the other is dirty water. There is not another one. There are the Ganges and the Jamuna. There aren’t three rivers. That too is a lie. There isn’t a meeting either. In Calcutta, the ocean and the Brahmaputra meet. People sit in a boat and go to the other side where a mela takes place. They make so much effort. They go on pilgrimage to Amarnath. There, too, there is an oval image of a Shivalingam. That could be kept at home, too; there would then be no need to go there. However, that stumbling around is also fixed in the drama. They go to the Triveni River (meeting of thethree rivers) thinking that it is the Purifier. Some don’t even know where the rivers come from; they come from the mountains. However, water comes from the ocean. When clouds rain, then, because the mountains are high, the water becomes ice. Then, when the sun shines, the ice melts and the water collects and flows into the rivers. So, now, just think about it: Are the Supreme Father, the Supreme Soul, the Ocean of Knowledge and the rivers of knowledge the Purifier, or is it the ocean and rivers of water? People are stumbling a lot in the darkness. How can you tell them that rivers are not the Purifier and that that is just rainwater? Water comes from the clouds; the clouds draw water from the ocean. Water cannot be the Purifier. They sing: The Purifier is Rama who belongs to Sita. O Purifier, come! Souls say: O Purifier of the impure! Baba, have mercy! The Father explains: No one becomes pure by stumbling around in devotion. Rivers are eternal. Water is for drinking and for irrigating the fields. How could it purify? This is now your final birth. I have come to make you pure. The golden age was the pure world. This is the impure world. Those who were pure have become impure by taking 84 births. Therefore, they call out to the Father to make them pure. There has been the stage of descent for half the cycle. Bharat was very happy in the golden age; it was pure. It is now unhappy because it is impure. This is why they call out: O God, the Father! Then they say that He doesn’t have a name or form. So, to whom are they calling out? They don’t even understand this much! They say that a soul is like a star , that a wonderful star shines in the centre of the forehead. A soul is absolutely tiny like a point. They also apply a tilak to the forehead and say that a wonderful star shines in the middle of the forehead. An imperishable part of 84 births is recorded in the soul, which is as tiny as a point. It can never be erased. This whole play is immortal. The cycle continues to turn. It isn’t that the world is standing in one place. The original, eternal, deity religion that used to exist in the beginning no longer exists. I would surely come when it doesn’t exist. I come and once again establish the deity religion. The cycle continues to turn. History and geography repeat again. There used to be the sun-dynasty kingdom in the golden age and the moon dynasty in the silver age. You now know about the 84 births and how you go into the stage of ascent. The Father shows all of you children the path to change from impure to pure. He doesn’t say: Close your eyes and remember Me. You have to remember Me while eating, drinking and moving around. Would you eat with your eyes closed? A fly would also be eaten. The souls of you children know that Baba is teaching you. Krishna was a human being. How could he be called God? The Father says: Now remember Me and you will become pure. For as long as people are on a pilgrimage they remain pure. When they return home they become impure again. Yours is the spiritual pilgrimage which the Father inspires you to stay on. The Father says: If you want to go to the land of immortality, remember Me! Only when you souls become pure will you be able to fly. Your final thoughts will lead you to your destination. Only by following the Father’s shrimat do you receive salvation. Shrimat says: O souls, constantly remember Me alone and the alloy will be removed and you will go to the land of liberation and then come into liberation-in-life. By knowing this cycle, you will become rulers of the globe. You were pure in the golden and silver ages. Therefore, the Father would of course ask who made you impure. You children understand at this time that you became impure from the time the kingdom of Ravan began. After half the cycle the world becomes old. Then you have to receive happiness in the new world. I Myself come and give you that. I purify you, whereas Ravan makes you impure. I give you your inheritance whereas Ravan curses you. This is a game. Ravan is your great enemy. People make an effigy of him and burn it. Have you ever seen anyone take an image of Shiva and burn that? No; Shiva is incorporeal. Rama is the One who gives happiness, so how could they burn Him? Ravan is the one who causes sorrow. It is said that they have been burning him from the beginning. So, does that mean it was the kingdom of Ravan from the beginning? Was there never the kingdom of Rama? All of this has to be explained. None of them knows when Ravan’s kingdom began. It began after half the cycle. All of you Draupadis call out: Baba, protect us! Ah! you could tell them that you don’t want to become impure. You need courage; you have to become destroyers of attachment. I will give you refuge when you become destroyers of attachment. Mine is one Shiv Baba and none other. If you continue to remember your husband and children etc., you won’t be able to claim your inheritance. While living at home with your family, remember the Father. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Follow shrimat and show everyone the way to become pure. Create methods to give the Purifier Father’s introduction.
  2. In order to claim your inheritance from the Father and to take refuge with the Father, finish all attachment. Practise remembering the Father with your eyes open.
Blessing: May you be constantly happy and carefree and remain safe from the shadow of Maya by staying under the canopy of the Father’s protection.
The means to remain safe from the shadow of Maya is to stay under the Father’s canopy of protection. To remain under the canopy means to remain happy. You have given all of your worries to the Father. Those who lose their happiness, who become weak are influenced by the shadow of Maya because weakness invokes Maya. If the shadow of Maya comes even in your dreams, you will continue to be distressed and you will have to battle. Therefore, remain constantly under the Father’s canopy of protection. Remembrance is the canopy.
Slogan: Those who have love for the murli are master murlidhars.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 13 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 December 2017

To Read Murli 12 December 2017 :- Click Here
13/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – याद में बैठते समय आंखे खोलकर बैठो क्योंकि तुम्हें खाते-पीते, चलते-फिरते बाप की याद में रहना है”
प्रश्नः- भगवान को ढूँढने के लिए मनुष्य दर-दर धक्के क्यों खाते हैं – कारण?
उत्तर:- क्योंकि मनुष्यों ने भगवान को सर्वव्यापी कह बहुत धक्के खिलाये हैं। सर्वव्यापी है तो कहाँ से मिलेगा? फिर कह देते हैं परमात्मा तो नाम-रूप से न्यारा है। जब नाम-रूप से ही न्यारा है तो मिलेगा फिर कैसे और ढूँढेंगे किसको? इसलिए दर-दर धक्के खाते रहते हैं। तुम बच्चों का भटकना अब छूट गया। तुम निश्चय से कहते हो – बाबा परमधाम से आये हैं। हम बच्चों से इन आरगन्स द्वारा बात कर रहे हैं। बाकी नाम-रूप से न्यारी कोई चीज़ होती नहीं।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चे बाप की याद में बैठे हैं। यह किसने कहा और किसको? सभी आत्माओं के बाप ने अपने बच्चों, आत्माओं से बोला। आत्माओं ने आरगन्स से सुना कि बाबा ने क्या कहा? बाप ने कहा, अपने बाप को याद करते हो? बाप को याद करने के लिए क्या आंखें बन्द करनी होती हैं? बच्चे जब बाप को याद करते हैं तो आंखे तो खुली हुई होती हैं। उठते-बैठते, चलते-फिरते बच्चों को बाप की याद रहती है। आंखे बन्द करने की दरकार नहीं। आत्मा जानती है कि मेरा बाप इन आरगन्स से मेरे से बात करते हैं। परमधाम से आये हैं, इस पतित पुरानी दुनिया को नई दुनिया बनाने। यह बुद्धि में है, आंखे तो खुली हुई हैं। बाबा बात करते हैं, तुम सुनते भी हो और याद में भी हो। कौन सुनाते हैं? परमपिता परमात्मा। उनका नाम क्या है? जैसे तुम्हारे शरीर का नाम है। वह बदलता रहता है। एक शरीर लिया, छोड़ा फिर दूसरा लिया तो नाम भी दूसरा पड़ेगा। आत्मा का नाम बदलता नहीं है। बाप कहते हैं मैं भी आत्मा हूँ, तुम भी आत्मा हो। मैं परमधाम में रहने वाला परम आत्मा हूँ, इसलिए सुप्रीम आत्मा कहते हैं। सुप्रीम ऊंचे ते ऊंच को कहा जाता है। ऊंच आत्मायें भी हैं तो नीच आत्मायें भी हैं। कोई पुण्य आत्मा, कोई पाप आत्मा। बाप कहते हैं – मुझ आत्मा का नाम सदैव एक ही शिव है। नाम तो जरूर चाहिए ना। न जानने के कारण कह देते हैं नाम-रूप से न्यारा है। परन्तु नाम-रूप से न्यारी कोई चीज़ हो न सके। जैसे आकाश है, कोई चीज़ तो नहीं है ना। पोलार ही पोलार है। उनका भी नाम तो हैं ना आकाश। बहुत सूक्ष्म तत्व है। अच्छा उनसे भी ऊपर देवता रहते हैं। वह भी पोलार है। आकाश में बैठे हैं। फिर उनसे भी ऊपर और आकाश, उसमें भी आत्माओं के बैठने की जगह है। वह भी आकाश है, जिसको ब्रह्म तत्व कहते हैं। यह तीन तत्व हैं – स्थूल, सूक्ष्म, मूल। आत्मायें तो जरूर पोलार में रहेंगी ना। तो तीन आकाश हो गये। इस आकाश में खेल होता है तो जरूर रोशनी चाहिए। मूलवतन में खेल नहीं होता, उसको ब्रह्म तत्व कहते हैं। वहाँ आत्मायें निवास करती हैं। वह है ऊंच ते ऊंच तीन लोक अर्थात् तीन मंजिल हैं दुनिया की। ऐसे नहीं सागर के नीचे कोई लोक है। पानी के नीचे फिर भी धरती है, जिस पर पानी ठहरता है। तो यह हैं तीन लोक। साइलेन्स, मूवी और टॉकी। यह शिवबाबा बैठ समझाते हैं। क्या शिवबाबा को आंखे बन्द कर याद करना है? नहीं। दूसरे लोग आंखे क्यों बन्द करते हैं? क्योंकि आंखे धोखा देती हैं।

मनुष्य खुद कह देते हैं परमात्मा नाम-रूप से न्यारा है। फिर कहते हैं पत्थर भित्तर सबमें हैं। 24 अवतार हैं। कच्छ मच्छ अवतार है। वास्तव में है सब झूठ ही झूठ। ईश्वर को सर्वव्यापी कह कितना रोला कर दिया है। भक्ति मार्ग है ही धक्का खाने का मार्ग। मुझे भी पूरे धक्के खिलाते हैं। अब भक्त भगवान को याद करते हैं कि हमको भक्ति से, धक्कों से बचाओ। जब यहाँ आकर मिलते हैं तो कहते हैं बाबा हमने आपको बहुत ढूँढा। बहुत धक्के खाये परन्तु आप मिले नहीं। अरे कब से धक्के खाये? बाबा यह पता नहीं। अब बाप समझाते हैं ज्ञान से ही सद्गति होती है। मनुष्य कुम्भ के मेले पर धक्के खाने जाते हैं। जहाँ भी पानी होगा वहाँ जाकर स्नान करेंगे। कुम्भ अर्थात् संगम। असुल है आत्मा और परमात्मा का मेला। परन्तु भक्ति में फिर वह सागर और पानी का मेला बना दिया है। देश-देशान्तर मेला लगता है। वह है पानी में स्नान करने का मेला। कई इन बातों को मानते हैं। कई नहीं भी मानते हैं। कई तो न भक्ति को, न ज्ञान को मानते हैं। बस मनुष्य पैदा होता है फिर मरता है। नेचर ही है। अनेक मतें हैं। एक ही घर में स्त्री की मत और पुरुष की मत और हो जाती है। एक पवित्रता को मानेंगे दूसरा नहीं मानेंगे। अभी तुमको श्रीमत मिल रही है। गाया भी हुआ है – श्रीमत भगवानुवाच। उनकी मत से ही मनुष्य से देवता बन जाते हैं। देवता धर्म अभी है नहीं। निशानियाँ चित्र हैं जिससे सिद्ध है कि आदि सनातन देवी-देवता धर्म था वह राज्य करके गये हैं। पुराने से पुरानी चीज़ है देवी-देवताओं की। लार्ड कृष्णा कहते हैं वा तो कहेंगे गॉड श्री नारायण। तुम जानते हो लक्ष्मी-नारायण का राज्य था जिसको वैकुण्ठ कहा जाता है। श्रीकृष्ण वैकुण्ठ का मालिक था, सतयुग का प्रिन्स था फिर वही कृष्ण द्वापर में कैसे गया? उसी नाम-रूप से तो आ न सके। वो जो चैतन्य था उनके जड़ चित्र यहाँ हैं। परन्तु वह आत्मा कहाँ गई? यह कोई नहीं जानते। बाप बतलाते हैं – आत्मा 84 जन्म लेते अभी यहाँ पार्ट बजा रही है। भिन्न नाम-रूप, देश, काल का पार्ट बजाती आई है। आत्मा ही कहती है हम एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हैं। नाम-रूप, देश, काल, मित्र सम्बन्धी सब अलग-अलग हैं। दूसरे जन्म में बदल जायेंगे।

तुम जानते हो अभी हम पढ़ रहे हैं। फिर हम सो देवी-देवता बनेंगे। सूर्यवंशी में 8 जन्म लेंगे। एक शरीर छोड़ दूसरा लेंगे। वह गर्भ जेल नहीं, गर्भ महल होगा। यहाँ गर्भ जेल में बहुत सज़ा भोगते हैं। दु:ख होता है तब कहते बस अभी बाहर निकालो। हम फिर पाप नहीं करेंगे। परन्तु बाहर माया का राज्य होने कारण फिर से पाप करने लग पड़ते हैं। वहाँ गर्भ महल में आराम से रहते हैं। तो बाप कहते हैं सब वेद-शास्त्र आदि का सार मैं तुमको ही समझाता हूँ। अच्छा बाबा कुम्भ के मेले पर समझाते हैं बहुत स्नान करने जायेंगे। बहुत भीड़ होगी। इलाहाबाद में त्रिवेणी पर मेला लगता है। अभी वह कोई संगम तो है नहीं। संगम होना चाहिए सागर और नदियों का। यह तो नदियों का संगम है। दो नदियाँ मिलती हैं। वह फिर कह देते तीसरी नदी गुप्त है। अब गुप्त नदी कोई होती नहीं। हैं ही दो नदियां। देखने में भी दो आती हैं। एक का पानी सफेद, एक का मैला दिखाई देता है और तो कोई है नहीं। गंगा, जमुना हैं। तीन नहीं हैं। यह भी झूठ हुआ ना। संगम भी नहीं है। कलकत्ते में सागर और ब्रह्म पुत्रा मिलती हैं। नांव में बैठकर उस पार जाते हैं, वहाँ मेला लगता है। कितनी मेहनत करते हैं। अमरनाथ पर तीर्थ यात्रा करने जाते हैं, वहाँ भी शिवलिंग की मूर्ति है। वह घर में भी रख सकते हैं। फिर वहाँ जाने की दरकार नहीं, यह भी धक्का खाना ड्रामा में नूँध है। त्रिवेणी में जाते हैं, समझते हैं वह पतित-पावनी है। कोई-कोई को यह भी मालूम नहीं नदियाँ कहाँ से आती हैं। पहाड़ से आती हैं। परन्तु पानी तो सागर से आता है। बादल बरसते हैं तो ऊंचे पहाड़ होने कारण बर्फ जम जाती है। फिर धूप लगने के कारण जब बर्फ गलती है तो पानी इकट्ठा होकर नदियों में आता है। अब विचार करो कि पतित-पावन परमपिता परमात्मा ज्ञान का सागर वा ज्ञान नदियाँ? वा पानी का सागर और नदियाँ? बहुत अन्धकार में धक्का खाते रहते हैं। अब उनको कैसे बतायें कि यह पतित-पावनी नहीं है, यह तो बरसात का पानी है। बादलों से पानी आता है, बादल फिर सागर से पानी खींचते हैं। पानी तो पतित-पावन हो नहीं सकता। गाते भी हैं पतित-पावन सीताराम, हे पतित-पावन आओ। आत्मायें कहती हैं हे पतितों को पावन बनाने वाले बाबा रहम करो।

बाप समझाते हैं – यह भक्ति के धक्के खाने से कोई पावन बनते नहीं हैं। यह नदियाँ तो अनादि हैं ही। पानी है पीने और खेती करने के लिए। वह कैसे पावन करेगा? अभी यह तुम्हारा अन्तिम जन्म है। मैं आता हूँ तुमको पावन बनाने। सतयुग पावन दुनिया थी। यह है पतित दुनिया। जो पावन थे वही 84 जन्म ले पतित बने हैं इसलिए फिर पावन बनने के लिए बाप को बुलाते हैं। आधाकल्प से उतरती कला होती आई है। भारत सतयुग में बहुत सुखी था, पावन था। अब दु:खी है क्योंकि पतित हैं इसलिए पुकारते हैं ओ गॉड फादर और फिर कह देते उनका नाम-रूप है नहीं। तब पुकारते किसको हैं? यह भी समझते नहीं जैसे कहते हैं आत्मा स्टॉर मिसल है। चमकता है अजब सितारा। आत्मा बिल्कुल छोटी बिन्दी मिसल है। टीका भी यहाँ लगाते हैं और कहते हैं भ्रकुटी के बीच चमकता है अजब सितारा… तो इतनी छोटी सी बिन्दी आत्मा में 84 जन्मों का अविनाशी पार्ट नूँधा हुआ है। वह कभी मिट नहीं सकता। यह सारा नाटक इमार्टल है। चक्र फिरता रहता है। ऐसे नहीं सृष्टि एक जगह खड़ी है। आदि सनातन देवी-देवता धर्म जो पहले था, वह अब नहीं है। जरूर जब ना हो तब तो मैं आऊं। मैं आकर फिर से देवी-देवता धर्म की स्थापना करता हूँ। तो चक्र फिरता है। हिस्ट्री-जॉग्राफी फिर रिपीट होती है। सतयुग में सूर्यवंशी राज्य था। त्रेता में चन्द्रवंशी अब फिर तुमको 84 जन्मों का पता पड़ा है ना। कैसे हम चढ़ती कला में आते हैं। बाप सभी बच्चों को पतित से पावन बनाने का रास्ता बताते हैं। ऐसे नहीं कहते कि आंखे बन्द कर मुझे याद करो। खाते-पीते चलते मुझे याद करना है। आंखे बन्द कर खाना खायेंगे क्या? मक्खी अन्दर चली जाए।

तुम बच्चों की आत्मा जानती है कि बाबा हमको पढ़ा रहे हैं। कृष्ण तो मनुष्य था उनको भगवान कैसे कहेंगे। बाप कहते हैं – अब मुझे याद करो तो तुम पावन बनेंगे। जितना समय यात्रा में रहते हैं तो मनुष्य पवित्र रहते हैं। लौटकर आते हैं तो घर में फिर पतित बन जाते हैं। तुम्हारी है रूहानी यात्रा जो बाप कराते हैं। बाप कहते हैं – तुमको अमरलोक में चलना है तो मुझे याद करो। आत्मा पवित्र होने से ही तुम उड़ सकेंगे। अन्त मती से गती होगी। बाप की श्रीमत से ही सद्गति मिलती है। श्रीमत कहती है हे आत्मायें मामेकम् याद करो तो खाद निकल जाए और तुम मुक्तिधाम में चले जायेंगे, फिर जीवनमुक्ति में आयेंगे। इस चक्र को समझने से तुम चक्रवर्ती राजा बनेंगे। सतयुग त्रेता में तुम पावन थे फिर बाप तो पूछेंगे ना कि तुमको पतित किसने बनाया? यह भी अभी तुम बच्चे समझते हो कि जब से रावण राज्य शुरू होता है तो पतित बन पड़ते हैं। आधाकल्प के बाद पुरानी दुनिया हो जाती है। फिर तुमको सुख तो नई दुनिया में मिलना चाहिए। वह मैं ही आकर देता हूँ। हम तुमको पावन बनाते हैं, वह तुमको पतित बनाते हैं। मैं वर्सा देता हूँ, रावण श्राप देते हैं। यह है खेल। रावण तुम्हारा बड़ा दुश्मन है। उनका बुत बनाकर जलाते हैं। कभी देखा शिव का चित्र उठाकर जलायें? नहीं। शिव तो है निराकार। राम सुख देने वाला उनको कैसे जलायेंगे। दु:ख देने वाला है रावण, कहते हैं यह अनादि जलाते आते हैं। तो क्या शुरू से ही रावण राज्य था? रामराज्य हुआ ही नहीं? यह सब समझाना पड़े। रावण राज्य कब से शुरू हुआ, यह किसको पता नहीं। आधाकल्प से शुरू होता है। तुम सब द्रोपदियां पुकारती हो – बाबा हमारी रक्षा करो। अरे तुम बोलो हमको पतित बनना ही नहीं है। हिम्मत चाहिए, नष्टोमोहा बनना है। मैं शरण तब दूंगा जब तुम नष्टोमोहा बनेंगी। मेरा तो एक शिवबाबा दूसरा न कोई। पति, बाल बच्चे याद पड़ते रहेंगे तो वर्सा पा नहीं सकेंगी। गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए बाप को याद करो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) श्रीमत पर सबको पावन बनाने का रास्ता बताना है। पतित-पावन बाप का परिचय देने की युक्ति रचनी है।

2) बाप से वर्सा लेने के लिए वा बाप की शरण में आने के लिए पूरा-पूरा नष्टोमोहा बनना है। आंख खोलकर बाप को याद करने का अभ्यास करना है।

वरदान:- बाप की छत्रछाया के नीचे रह माया की छाया से बचने वाले सदा खुश और बेफिक्र भव 
माया की छाया से बचने का साधन है-बाप की छत्रछाया। छत्रछाया में रहना अर्थात् खुश रहना। सब फिक्र बाप को दे दिया। जिनकी खुशी गुम होती है, कमजोर हो जाते हैं उन पर माया की छाया का प्रभाव पड़ ही जाता है क्योंकि कमजोरी माया का आह्वान करती है। अगर स्वप्न में भी माया की छाया पड़ गई तो परेशान होते रहेंगे, युद्ध करनी पड़ेगी इसलिए सदा बाप की छत्रछाया में रहो। याद ही छत्रछाया है।
स्लोगन:- जिनका मुरली से प्यार है वही मास्टर मुरलीधर हैं।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize