today murli 12 september

TODAY MURLI 12 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 12 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 11 September 2018 :- Click Here

12/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are sitting in the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. You definitely have to listen to whatever Rudra Shiv Baba tells you and relate it to others.
Question: What is the main difference between the sacrificial fire created by the Father and those created by human beings?
Answer: Human beings create sacrificial fires of Rudra for there to be peace, that is, so that destruction is prevented from taking place. However, the Father has created this sacrificial fire of the knowledge of Rudra for the flames of destruction to emerge so that Bharat can become heaven. Through this sacrificial fire of the knowledge of Rudra created by the Father, you become Narayan from an ordinary man, that is, you become deities from human beings. You don’t gain anything from those other sacrificial fires.
Song: My heart desires to call out to You.

Om shanti. This is such a sweet song! It is so meaningful! Those who have unlimited and broad intellects will be able to understand it very well. Intellects too are numberwise; there are the highest, the middle and the lowest. Those who have elevated intellects can understand the meaning of this song very well. “My heart desires to call out to You”. Who is remembering this? (Children) Which children? There are many children. It is those who were deities and who have now become Brahmins, those who have taken the full 84 births who are the ones who have been calling out a great deal. They are also the ones who built the Shiva Temple, that is, the Temple to Somnath. It proves that we, who were worthy-of-worship deities, have now become worshippers. We truly were worthy of worship and we then became worshippers. So we worshipped Somnath, Shiva. Many create sacrificial fires of Rudra, but no one creates the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. They call it a Rudra Yagya. Even now, they are creating a sacrificial fire of Rudra. You can explain to them very clearly who Rudra is. Did Rudra ever create a sacrificial fire? How did He create it, was it successful and what was the result of it? No one knows this. You have now each received a third eye of knowledge. No one, except the Supreme Father, the Supreme Soul, can bestow the third eye of knowledge. The Supreme Father, the Supreme Soul, is remembered as the Ocean of Knowledge. Human beings cannot be called the Ocean of Knowledge. You know that you are now receiving your inheritance from the Grandfather, the One whom you have been remembering and saying: Baba, come and bestow the imperishable jewels of knowledge on us. We will take this donation and then donate it to others. It is very easy. Simply remind them that they have two fathers. On the path of devotion, you have two fathers. In the golden and silver ages, you only have a physical father. The inheritance you receive there is according to the efforts you make here at this time. So, the heads of you children should work on how to go to such places where you can ask them: Who created the sacrificial fire of Rudra? Is it the sacrificial fire of the knowledge of Rudra or the sacrificial fire of Rudra? Its real name is: Sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Rudra is incorporeal. How can He create a sacrificial fire? He would definitely have to adopt a body. People also have a sacrificial fire for Daksh Prajapati. They have shown (in the scriptures) Daksh Prajapati sacrificing a horse in the sacrificial fire. They cut a horse into pieces and burn it and they call that a Daksh Prajapati Yagya. It is now that you understand this and so you should write what type of sacrificial fire this is. People hold sacrificial fires with great pomp and splendour. They collect a lot of money. Eminent and wealthy people donate money. Some donate 100 whereas others donate 500. You sacrifice yourselves completely into this sacrificial fire of the knowledge of Rudra. In other yagyas, they accumulate money bit by bit and then brahmin priests are given alms from that. Here, you have to sacrifice yourselves completely. There, there is no question of sacrificing oneself. Here, children say: Baba, I am coming with my mind, body and wealth. No one would say this there. They do not put such offerings into a sacrificial fire. They perform arti (worship ritual with lamps) and they ask for donations. They take from important people. You children understand that the flames of destruction emerged from this sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Those people create sacrificial fires for peace, not for destruction. There, they make a great deal of noise for peace. Peace is needed throughout the whole world. The Supreme Soul is the Ocean of Peace. The meaning is explained to you children. When you read newspapers, you should think about how to explain to everyone. The Father knows how the Brahma Kumaris are looking after the shops. Only the jaggery and its bag know which of the Businessman’s shops are running well and which of the managers are good. This Brahma is the bag. These are very entertaining things! Therefore, it is written of the sacrificial fire of the knowledge of Rudra that the flames of destruction emerged from that. People create sacrificial fires for peace. This is the real sacrificial fire. Those brahmins have many patrons whereas you Brahmins only have the one Patron and that is the Father, Rudra. Whether you call Him the Father, Rudra or Shiva or Somnath (Lord of Nectar), it is He who creates this sacrificial fire of the knowledge of Rudra in which you are now sitting. Those sacrificial fires last from two to four days, whereas your sacrificial fire of the knowledge of Rudra is huge and so it takes time. This is the sacrificial fire in which you become Narayan from an ordinary man, that is, you become deities from human beings. Those people would not say this. The Father sits here and explains how you should caution them. Tell the important people that there is a mistake in the sacrificial fires they create. The Supreme Father, the Supreme Soul, comes at the confluence age of every cycle. They have made a mistake in the scriptures and said that He comes in every age. In any case, they say that they create a sacrificial fire of Rudra, whereas it is really the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Shiva’s name is Rudra and He is the One who creates the sacrificial fire of knowledge. Just as Abraham established his Islam religion and Buddha established the Buddhist religion, so, in the same way, Rudra establishes the sacrificial fire of knowledge through which the flames of destruction emerge. In fact, those people create sacrificial fires for peace, that is, they do not want destruction. It is good to destroy hell for the sake of creating heaven. Bharat is the imperishable land. Surely, the human community of Bharat should be very large. There was the original eternal deity religion and that began a whole cycle ago. It is mentioned in the scriptures that there were 330 million deities in Bharat. However, it has to be explained that the population of the deity religion would surely be the largest of all the religions, but many were converted. So, how can they emerge? Many left and became Buddhists, Christians and Muslims etc. This is why the population has decreased. This too is in the drama. You need an unlimited and broad intellect to understand this. Until this knowledge sits in their intellects, what benefit is there in them just surrendering? Many surrender themselves, but only those who imbibe this knowledge well and inspire others to imbibe it very well and who create subjects are able to claim a good status. So, this song, “My heart desires to call out to You”, is accurate. Who were the first ones to take 84 births? The ones who existed at the beginning were actually the deities and they existed in Bharat. Many have now been converted; some went to one place and others to another; some even left Bharat completely. However, there is truly no other pilgrimage place as elevated as Bharat was. God has to come into Bharat and purify everyone, even all the founders of religions, because everyone is now impure and there is only the One who purifies everyone. You know this, but, among you too, the accuracy of your understanding is numberwise. You say that you are sitting in the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Can there be a sacrificial fire like this in which people sit for so long? What do you sit and do? You continue to listen to the knowledge that Rudra explains. As long as Rudra Baba is in this body, He will continue to explain. Surely, Prajapita Brahma would also be here. “The day of Brahma and the night of Brahma”, has been remembered. It cannot be the day and night of the Brahma who resides in the subtle region. He is the deity who resides in the subtle region. The question of day and night applies here. The night of Brahma means the time he is impure and, when he becomes pure. it becomes the day. It is the one Satguru who purifies Brahma. He is the true Baba, the true Teacher and the Satguru – all three combined. Firstly, you are the children of the Father and then, you attain your status from the Teacher. This is numberwise. If you even retained this in your intellects, you would remain very happy. Originally, you belonged to the unlimited Father. You came down here to play your parts. You have been remembering the unlimited Father from the beginning of the path of devotion, because He is the Creator of heaven. Surely, He must be the One who gives us the kingdom of heaven. It is very easy to explain this. Only sensible ones are able to explain. In fact, it is you Brahmins who are sensible. Those among you who are intelligent are also numberwise. The people who are intelligent in the world are numberwise too. Here, those who continue to become more sensible will also definitely claim a good number. Each one of you should ask your own heart: To what extent have I become sensible? Just as Baba speaks the murli here, in the same way, it is possible for you to speak the murli there. You should explain to them that there is the difference of day and night between the sacrificial fire of Rudra and the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. When the sacrificial fire of the knowledge of Rudra was created, the flames of destruction emerged and Bharat became heaven, whereas those people create sacrificial fires so that destruction doesn’t take place, so that heaven is not established. That is completely the opposite thing. This is why Baba says: I come to uplift all of those people. I come and create the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Therefore, you make a promise: Baba, whatever we hear from You, we will relate that to others. Achcha, relate it to others, but repeat it here first. Repeat it as often as possible so that you can explain it anywhere. These are first-class points. In other sacrificial fires people offer barley and sesame seeds, whereas the material of the whole of the old world is sacrificed into My sacrificial fire of the knowledge of Rudra. However, not all of these aspects are imbibed very well by the intellects of some. If you do not remember the Father, the lock on your intellect doesn’t open. Baba says: What can I do even? At this time, the intellect of everyone is impure. I come and purify them. Those who do not remember Me are not able to imbibe this knowledge, and so, how would the locks on their intellects open? It is only by having remembrance that they can open. The Father is the most beloved One, and so people praise Him a great deal. There is a great deal of praise of Shiv Baba. Shiva is also worshipped, so He must surely have come, but what could He do without organs? Therefore, I have now entered Brahma. You children are sitting in front of BapDada but, because of body consciousness, you are not able to maintain that much love and regard for the Father; you hardly follow His directions and you become arrogant. The Father says: I am completely egoless. So, why do you have so much arrogance? You think that only you are very clever. You become so body conscious! Now, when someone’s husband dies, the soul leaves and the body is destroyed. Then, that soul is invoked into a brahmin priest. It is not the body that is invoked. They have that feeling of love and devotion and thereby receive the return for it. If a wife continues to remember her husband, she receives a vision of him. It is Baba who grants visions; many have such love. However, it is the soul that comes. When a man is so devoted to his dead wife, he too would receive the return for his devoted feelings; he would see his wife. He would bring something and would adorn her with it himself. Many such things used to take place in the past. Previously, they used to feed the soul with great ceremony. When people remember Ganesh or Nanak etc., they have a vision of them. This can happen to many but only the one Father holds the key to it. The Father says: These things about visions are also fixed in the drama. You are granted visions and the drama continues; it doesn’t wait! You have to understand the drama very well. Ah, you must also have very good regard for Baba. Some find it very difficult to have that much love and regard for the Father; they think that He is incorporeal. When they are told that this one is His chariot, they think: What have I got to do with him? I’m only going to remember the incorporeal One. Achcha, see if you are able to go into the lap of the incorporeal One or eat and drink with the incorporeal One. Why do you come to this one? Then they say: But Baba, You are in this one; we move along believing that You are present in this one. It is difficult for the intellects of some to retain this. There are many who tell lies when they say: I have a great deal of love for Baba. I stay in remembrance of Baba for so many hours. This Baba says: Even I am not able to stay in complete remembrance. I am the only specially loved, long-lost and now-found child, nevertheless, I make a lot of effort. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Along with surrendering yourself, you must also broaden your intellect. In order to claim a high status, imbibe this knowledge very well and inspire others to imbibe it.
  2. Become egoless like the Father. Let go of arrogance and have deep love and regard for the Father. Do not become body conscious.
Blessing: May you be a knowledge-full and sensible soul who accumulates an income of multimillions at every step.
A sensible and knowledge-full soul is one who first considers everything before he acts. Eminent people first have their food checked before they eat it. Similarly, thoughts are food for the intellect and so first of all check them and then put them into practice. By checking your thoughts, your words and deeds automatically become powerful. Where there is power, there is an income. So, become powerful and accumulate an income of multimillions at every step, that is, from every thought, word and deed. This is the qualification of a knowledge-full soul.
Slogan: Only those who fly in the aeroplane of blessings from the Father and everyone are flying yogis.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 12 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 September 2018

To Read Murli 11 September 2018 :- Click Here
12-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम रूद्र ज्ञान यज्ञ में बैठे हो, रूद्र शिवबाबा तुम्हें जो सुनाते हैं वह सुनकर दूसरों को जरूर सुनाना है”
प्रश्नः- बाप ने भी यज्ञ रचा है और मनुष्य भी यज्ञ रचते हैं – दोनों में कौन सा मुख्य अन्तर है?
उत्तर:- मनुष्य रूद्र यज्ञ रचते हैं कि शान्ति हो अर्थात् विनाश न हो लेकिन बाप ने रूद्र यज्ञ रचा है कि इस यज्ञ से विनाश ज्वाला निकले और भारत स्वर्ग बनें। बाप के इस रूद्र ज्ञान यज्ञ से तुम नर से नारायण अर्थात् मनुष्य से देवता बन जाते हो। उस यज्ञ से तो कोई भी प्राप्ति नहीं होती है।
गीत:- तुम्हारे बुलाने को जी चाहता है……

ओम् शान्ति। यह कितना मीठा गीत है और कितना अर्थ सहित है, जो विशाल बुद्धि वाले होंगे वह अच्छी रीति समझ सकेंगे। बुद्धि भी नम्बरवार है ना। उत्तम-मध्यम-कनिष्ट होते हैं। उत्तम बुद्धि वाले इसका अर्थ अच्छी रीति समझ सकते हैं। तुम्हारे बुलाने को जी चाहता है, यह कौन याद करते हैं? (बच्चे) कौन से बच्चे? बच्चे तो ढेर हैं। जो ब्राह्मण बने हैं, जो देवता थे, जिन्होंने ही पूरे 84 जन्म लिए हैं उन्होंने ही जास्ती बुलाया है। वही शिव अथवा सोमनाथ के मन्दिर की स्थापना करते हैं। सिद्ध होता है हम जो पूज्य देवी-देवता थे, अभी पुजारी बने हैं। बरोबर हम पूज्य थे फिर पुजारी बने तो सोमनाथ शिव की पूजा करते हैं। रूद्र यज्ञ बहुत रचते हैं, रूद्र ज्ञान यज्ञ कभी नहीं रचते। रूद्र यज्ञ नाम रखते हैं। अभी भी रूद्र यज्ञ रच रहे हैं। तुम बहुत अच्छा समझा सकते हो – रूद्र कौन है? क्या रूद्र ने कभी यज्ञ रचा था? कैसे रचा फिर क्या उसकी सिद्धि हुई? यह तो कोई नहीं जानते। तुमको अभी ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है। परमपिता परमात्मा के सिवाए ज्ञान का तीसरा नेत्र कोई दे नहीं सकता। ज्ञान सागर परमपिता परमात्मा को ही गाया जाता है। मनुष्य को ज्ञान सागर नहीं कह सकते। अभी तुम जानते हो हमको दादे का वर्सा मिल रहा है जिसको ही याद करते हैं कि बाबा आकर अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान करो। फिर हम भी दान लेकर औरों को करेंगे। बहुत सहज है। सिर्फ याद दिलायेंगे कि तुम्हारे दो बाप हैं। भक्ति मार्ग में दो बाप हो जाते हैं। सतयुग-त्रेता में लौकिक बाप ही होता है। वहाँ वर्सा भी तुम इस समय के पुरुषार्थ अनुसार पाते हो। तो तुम बच्चों का माथा फिरना चाहिए। ऐसी-ऐसी जगह जाकर पूछना चाहिए कि रूद्र यज्ञ किसने रचा था? क्या रूद्र ज्ञान यज्ञ है या रूद्र यज्ञ है? असुल नाम है रूद्र ज्ञान यज्ञ। रूद्र तो है निराकार। वह कैसे यज्ञ रचेगा? जरूर शरीर धारण करना पड़े। दक्ष प्रजापति का यज्ञ भी मनाते आते हैं। दिखाते हैं दक्ष प्रजापति यज्ञ में अश्व को स्वाहा करते हैं। घोड़े को टुकड़े-टुकड़े कर जलाते हैं। उनको दक्ष प्रजापति यज्ञ कहते हैं। यह तुम अभी जानते हो तो वहाँ लिखना चाहिए यह कौन सा यज्ञ है? बड़ा भभके से यज्ञ करते हैं। बहुत पैसे इकट्ठे करते हैं। बड़े-बड़े आदमी दान करते हैं। कोई 100 निकालते, कोई 500 निकालते। इस रूद्र ज्ञान यज्ञ में तो तुम सारे स्वाहा होते हो। उसमें तो थोड़ा-थोड़ा पैसा निकाल इकट्ठा करते हैं फिर ब्राह्मण को दक्षिणा मिलती है। यहाँ तो तुमको स्वाहा होना पड़ता है। वहाँ स्वाहा होने की बात नहीं। यहाँ बच्चे कहते हैं बाबा तन-मन-धन सहित मैं आता हूँ, वहाँ ऐसे नहीं कहेंगे। आहुति में कभी ऐसे नहीं डालेंगे। आरती आदि होगी, चंदा चीरा होगा। बड़ों-बड़ों से लेते हैं। तुम बच्चे जानते हो इस रूद्र ज्ञान यज्ञ से ही विनाश ज्वाला प्रज्जवलित हुई है। वह यज्ञ रचते हैं शान्ति के लिए, विनाश के लिए नहीं। वहाँ शान्ति का बड़ा आवाज़ करते हैं। शान्ति तो सारी दुनिया में चाहिए ना। परमात्मा है शान्ति का सागर। तुम बच्चों को अर्थ समझाया जाता है। अ़खबार पढ़ते हो तो ख्याल चलना चाहिए – कैसे हम सबको समझायें?

बाप जानते हैं कैसे बी.के. दुकान सम्भाल रहे हैं। सेठ का कौन सा दुकान अच्छा चलता है, कौन सा मैनेजर अच्छा है, वह तो गुड़ जाने गुड़ की गोथरी जाने। यह ब्रह्मा है गोथरी। यह बड़ी रमणीक बातें हैं। तो रूद्र ज्ञान यज्ञ के लिए तो लिखा हुआ है इससे विनाश ज्वाला निकली। वह यज्ञ करते हैं शान्ति के लिए। यह है सच्चा-सच्चा यज्ञ। उन ब्राह्मणों के तो अनेक सेठ होते हैं। यह तुम ब्राह्मणों का एक ही सेठ है। बाप है रूद्र। रूद्र बाप कहो, शिव कहो, सोमनाथ कहो, उसने ज्ञान यज्ञ रचा है, जिसमें तुम बैठे हो। वह यज्ञ तो दो-चार दिन चलेगा। तुम्हारा यह रूद्र ज्ञान यज्ञ तो बहुत बड़ा है। उसमें टाइम लगता है। यह है नर से नारायण अथवा मनुष्य से देवता बनने का यज्ञ। वह तो ऐसे नहीं कहेंगे। बाप बैठ समझाते हैं कैसे उन्हों को सावधान करो। बड़ों-बड़ों को बोलो – यह तुम जो यज्ञ रचते हो, उसमें भूल है। परमपिता परमात्मा कल्प-कल्प संगम पर आते हैं। शास्त्रों में युगे-युगे लिख दिया है। यह भूल कर दी है। वैसे ही रूद्र यज्ञ रचते हैं। वास्तव में रूद्र ज्ञान यज्ञ है। शिव का नाम है रूद्र, उसने ही ज्ञान यज्ञ रचा है। जैसे इब्राहम ने अपना इस्लाम धर्म स्थापन किया, बुद्ध ने बौद्धी धर्म स्थापन किया, वैसे रूद्र का है ज्ञान यज्ञ जिससे विनाश ज्वाला प्रज्जवलित होगी। तो गोया वो लोग शान्ति के लिए यज्ञ रचते हैं अर्थात् विनाश नहीं चाहते। स्वर्ग की स्थापना के लिए नर्क का विनाश हो, तो अच्छा ही है ना।

भारत है अविनाशी खण्ड। जरूर भारत के मनुष्य सम्प्रदाय बहुत ज्यादा होने चाहिए। आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। उनको सारा कल्प हुआ है। शास्त्रों में 33 करोड़ लिख दिया है। परन्तु यह तो समझाना चाहिए – जरूर और धर्म वालों से देवता धर्म की आदमशुमारी जास्ती होगी, लेकिन वह कनवर्ट हो गये हैं तो कैसे निकलें। बौद्धी, क्रिश्चियन, मुसलमान आदि जाकर ढेर बने हैं, इसलिए थोड़ी संख्या हो जाती है। यह भी ड्रामा। इसमें समझने की बड़ी विशाल बुद्धि चाहिए। जब तक बुद्धि में ज्ञान नहीं बैठा है तो सिर्फ अर्पणमय होने से क्या फायदा? अर्पणमय तो ढेर बनते हैं परन्तु जो अच्छी रीति धारणा कर और कराते हैं, प्रजा बनाते हैं वही अच्छा पद पा सकते हैं।

तो यह गीत एक्यूरेट है – बुलाने को जी चाहता है…….। सबसे पहले 84 जन्म किसने लिए होंगे? जो पहले-पहले थे, वह थे ही देवी-देवतायें। सो भी भारत में थे। अभी तो कोई कहाँ, कोई कहाँ कनवर्ट हो गये हैं। कई तो भारत से बाहर चले गये हैं। नहीं तो वास्तव में भारत जैसा बड़े ते बड़ा तीर्थ और कोई है नहीं। और सभी धर्म स्थापक जो हैं उन्हों को भी पावन बनाने के लिए भगवान् को भारत में आना पड़ता है क्योंकि सब पतित हैं, सबको पावन बनाने वाला एक है। यह तुम जानते हो। तुम्हारे में भी नम्बरवार यथार्थ रीति जान सकते हैं। तुम कहेंगे हम रूद्र ज्ञान यज्ञ में बैठे हैं, ऐसा कोई यज्ञ होता है क्या, जिसमें इतना समय बैठे हों? क्या बैठ करते हो? रूद्र जो ज्ञान सुनाते हैं वह सुनते ही रहते हो। जहाँ तक रूद्र बाबा इस शरीर में है, सुनाते ही रहेंगे। प्रजापिता ब्रह्मा भी तो जरूर यहाँ होगा ना। ब्रह्मा का दिन और ब्रह्मा की रात गाई हुई है। सूक्ष्मवतनवासी ब्रह्मा का थोड़ेही दिन और रात बनायेंगे। वह तो सूक्ष्मवतनवासी देवता है। दिन और रात का प्रश्न यहाँ का है। ब्रह्मा की रात माना पतित। फिर वही पावन बनते हैं तो दिन होता है। ब्रह्मा को भी पावन बनाने वाला वह एक सतगुरू है। सत बाबा, सत टीचर, सतगुरू तीनों इकट्ठे हैं। पहले जरूर बाप के बच्चे होंगे फिर पद टीचर से पायेंगे। नम्बरवार हैं ना। यह भी बुद्धि में रहे तो कितनी खुशी रहे। तुम पहले बेहद के बाप के थे ना। यहाँ आये हो पार्ट बजाने। भक्ति मार्ग में बेहद के बाप को याद करते आये हो क्योंकि वह है स्वर्ग का रचयिता। जरूर स्वर्ग की राजाई देने वाला होगा। यह समझाना तो बड़ा सहज है। सेन्सीबुल ही समझा सकेंगे। वास्तव में सेन्सीबुल तुम ब्राह्मण हो। तुम्हारे में जो अक्लमंद हैं, उनमें भी नम्बरवार हैं। दुनिया के अक्लमंद भी नम्बरवार हैं ना। यहाँ भी जो सेन्सीबुल बनते जायेंगे वह जरूर अच्छा नम्बर पायेंगे। हर एक अपनी दिल से पूछे हम कहाँ तक सेन्सीबुल बना हूँ? जैसे बाबा मुरली चलाते हैं वैसे वहाँ भी तुम्हारी मुरली चल सकती है। तुम उन्हें समझाओ कि रूद्र यज्ञ और रूद्र ज्ञान यज्ञ में रात-दिन का फ़र्क है। रूद्र ज्ञान यज्ञ रचा तो उससे विनाश ज्वाला निकली, भारत स्वर्ग बना और यह फिर यज्ञ रचते हैं विनाश न हो अर्थात् स्वर्ग स्थापन न हो। यह तो उल्टी बात हो गई। तब तो बाबा कहते हैं मैं इन सबका उद्धार करने आता हूँ। रूद्र ज्ञान यज्ञ रचता हूँ। तो तुम प्रतिज्ञा करते हो – बाबा, हम आपसे सुनकर और सुनायेंगे। अच्छा, औरों को सुनाओ। पहले यहाँ तो रिपीट करो। घड़ी-घड़ी रिपीट करो जो फिर कहाँ समझा सको। फर्स्टक्लास प्वाइंट है। उस यज्ञ में तो जौ-तिल आदि डालते हैं, मेरे रूद्र ज्ञान यज्ञ में तो सारी पुरानी दुनिया की सामग्री स्वाहा हुई थी। परन्तु यह सब बातें कोई की बुद्धि में अच्छी रीति धारण नहीं होती। बाप को याद नहीं करते हैं तो बुद्धि का ताला नहीं खुलता। बाबा कहते हैं – हम भी क्या करें? इस समय सबकी बुद्धि पतित है, उनको पावन बनाता हूँ। जो मेरे को याद नहीं करते, उनमें धारणा नहीं हो सकती। बुद्धि का ताला कैसे खुले? याद से ही खुलेगा। मोस्ट बिलवेड बाप है, उनकी बड़ी महिमा करते हैं। शिवबाबा की कितनी महिमा है! शिव की पूजा भी होती है, तो जरूर आता होगा ना। बिगर आरगन्स क्या आकर करेंगे? तो अब ब्रह्मा में आया हुआ हूँ। तुम बच्चे बापदादा के सामने बैठे हुए हो परन्तु देह-अभिमान होने कारण इतना लॅव, बाप के लिए रिगार्ड नहीं रहता। डायरेक्शन पर मुश्किल चलते हैं। अहंकार में आ जाते हैं। बाप कहते हैं – मैं निरहंकारी हूँ, तुमको इतना अहंकार क्यों आता है? बस, समझते हैं मैं ही होशियार हूँ। इतना देह-अभिमान आ जाता है।

अब कोई का पति मर जाता है तो उसकी देह ख़त्म हो गई। बाकी आत्मा निकल गई फिर ब्राह्मण में आत्मा को बुलाते हैं। देह को तो नहीं बुलाते। भावना रखते हैं तो भावना का भाड़ा मिलता है। पति को याद करते रहे तो पति का साक्षात्कार कर लेंगे। बाबा साक्षात्कार तो कराते हैं ना। ऐसे बहुतों का प्यार होता है। आयेगी तो आत्मा ना। कोई का स्त्री में प्यार है तो भावना का भाड़ा मिल जाता है। स्त्री को देख लेते हैं। चीज़ ले आते हैं, खुद उनको पहनाते हैं। ऐसे बहुत कुछ होता आया है। आगे बहुत विधि से खिलाते थे। जैसे गणेश को अथवा नानक आदि को याद करते हैं तो साक्षात्कार हो जाता है, ऐसे बहुतों को हो सकता है। परन्तु वह चाबी एक ही बाप के हाथ में है। बाप कहते हैं यह साक्षात्कार की बातें भी ड्रामा में नूंधी हुई हैं। साक्षात्कार कराया, ड्रामा चला, ठहरता नहीं है। ड्रामा को भी अच्छी रीति जानना होता है। अरे, बाबा का तो अच्छी रीति रिगार्ड रखो। बाप में इतना रिगार्ड प्यार रखना बड़ा मुश्किल समझते हैं, समझते हैं वह तो निराकार है। कहते हैं यह तो उनका रथ है, इनको हम क्या करेंगे? हम तो निराकार को ही याद करेंगे। अच्छा, निराकार की गोद में जाकर दिखाओ? निराकार साथ खाओ, पियो। तुम इनके पास क्यों आते हो? कहते हैं – नहीं बाबा, आप इसमें हो, आपको ही इसमें विराजमान समझ चलते हैं। यह बड़ा मुश्किल किसकी बुद्धि में रहता है। ऐसे बहुत हैं जो गपोड़े लगाते हैं – हमारा बाबा में बहुत प्यार है, हम इतने घण्टे बाबा को याद करते हैं। बाबा कहते हैं मैं भी पूरा याद नहीं करता हूँ। मैं तो एक ही सिकीलधा बच्चा हूँ फिर भी मैं पुरुषार्थ बहुत करता हूँ। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अर्पण होने के साथ-साथ अपनी बुद्धि को विशाल बनाना है। ऊंच पद के लिए अच्छी रीति धारणा करनी और करानी है।

2) बाप समान निरहंकारी बनना है। अहंकार छोड़ बाप से अति लॅव वा रिगार्ड रखना है। देह-अभिमान में नहीं आना है।

वरदान:- हर कदम में पदमों की कमाई जमा करने वाले समझदार ज्ञानी तू आत्मा भव
समझदार ज्ञानी तू आत्मा वह है जो पहले सोचता है फिर करता है। जैसे बड़े आदमी पहले भोजन को चेक कराते हैं फिर खाते हैं। तो यह संकल्प बुद्धि का भोजन है इसे पहले चेक करो फिर कर्म में लाओ। संकल्प को चेक कर लेने से वाणी और कर्म स्वत: समर्थ हो जायेंगे। और जहाँ समर्थ है वहाँ कमाई है। तो समर्थ बन हर कदम अर्थात् संकल्प, बोल और कर्म में पदमों की कमाई जमा करो, यही ज्ञानी तू आत्मा का लक्षण है।
स्लोगन:- बाप और सर्व की दुआओं के विमान में उड़ने वाले ही उड़ता योगी हैं।

TODAY MURLI 12 SEPTEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 12 SEPTEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 11 September 2017 :- Click Here

12/09/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, whenever you have time, earn a true income. Staying in remembrance of the Father while walking, moving around and performing actions is the basis of earning a true income. There is no difficulty in this.
Question: What are the signs of children who have been enlightened by knowledge?
Answer: Having been enlightened by knowledge, their physical senses become cool. All mischief ends and their stage becomes constant and stable. Their manners continue to be reformed.
Question: What is the result of your intellect not having accurate remembrance of Shiv Baba?
Answer: There is definitely one sinful action or another performed. The intellect doesn’t work even to the extent of making you realise that you are performing sinful actions. Because of disobeying the Father’s orders, you continue to be deceived.
Song: At last the day for which we had been waiting has come.

Om shanti. Now, you children have the assurance that the unlimited Father has come. Krishna cannot be called the unlimited Father. The song was composed by the people who wrote the drama (film). They call Krishna ‘Maharaj Dhiraj’ (Emperor). The Father says: I don’t become that; I make you that. Therefore, one good meaning or another emerges from this song. The unlimited Father is definitely the Lord of the Poor. The Bharat that He made wealthy has now become poor. It is in Bharat that His birth takes place. His birth is not remembered anywhere else. Although every nation worships Him and has an image of Him, His birth takes place here. Similarly, Christ’s birth takes place elsewhere, but his images also exist here. Therefore, Bharat is said to be the birthplace of God, the Father. People don’t understand anything. They simply say that God is omnipresent. Previously, you too didn’t know anything. You now know that Bharat is the birthplace of the Purifier, the Supreme Father, the Supreme Soul. People do believe that God is beyond birth and death. Yes, He is definitely beyond death because He doesn’t have a body of His own, but He does take birth. The Father says: I have come and My birth is divine. All human beings take birth through a womb and grow from small to large. I don’t grow like that. Yes, Krishna does enter the womb of his mother and grows large from small. Every soul enters the womb of his mother and takes birth. This refers to human beings. It is human beings who become poverty-stricken and human beings who become crowned. Bharat was double crowned in the golden age. There are symbols of purity. There were crowns (halos) of purity and also crowns studded with jewels. When purity was lost, they were left with just one crown. They had been the masters of the world. Then, while taking rebirth, they lost one crown and became those with a single crown. These are matters of knowledge. Because of becoming worshippers from being worthy of worship they lost a crown. Kings continued to become impure and they continued to worship the pictures of the pure sun and moon dynasty kings who existed in the past. Those who were pure and worthy of worship then became worshippers. They are the ones who had to take 84 births. The Bharat that was worthy of worship yesterday has today become a worshipper. From being poor and a worshipper, it has to become wealthy and worthy of worship. It is now so poor. There were so many palaces in heaven. Even the temples were studded with so many diamonds and jewels. Therefore, they would have built their palaces even more beautifully. You are now so poor. From poor, you are now once again becoming wealthy. You children have to make effort. You are shown methods for this every day. Whatever timeyou have available, earn this income through remembrance. There are many types of work in which you don’t need to use your intellect. In some tasks you do have to use your intellect. So, when you have time and you go and tour around etc., stay in remembrance of the Father. You have to earn a great deal of this income. This is real income. All the rest is false income for a temporary period. You children receive these teachings at this time. You know that you have to claim your unlimited inheritance from the unlimited Father. There is no difficulty in this. You are not made to leave your household and family. He simply says: Children, don’t indulge in vice! It is generally because of this that there is fighting. There isn’t such fighting in other spiritual gatherings. There, they simply say “It’s true, it’s true” to whatever they hear and then go home. It is here that there is fighting. There will definitely be obstacles from the devils in this sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Innocent ones are assaulted just as they have shown for Draupadi. They called out: Baba, save me from being stripped! The Father’s teachings are: Never allow yourself to be stripped! When your stage becomes constant and stable, your physical senses will become cool. Until then, there will be some mischief or other. While you are enlightened with knowledge, let your intellects have the awareness that you have to live as companions. Abroad, many old people are in the stage of retirement. If they don’t have any children, they think: Who will become the heir at the end? Therefore, they adopt a companion in later life. They leave something to that one before they pass away. You don’t read the newspapers; lots of news is given in the newspapers. You children don’t have to read those things. The Father says: It is good if you haven’t studied anything. Forget whatever you have studied until now. The Father teaches us so that we earn a true income and become the masters of the world. The Father says: Hear no evil ! S ee no evil ! This applies to you. You children are now becoming worthy of being in a temple. You have found the Father, the Ocean of Knowledge, and so you have to listen to Him alone. What need is there for you to listen to other people? When people go to their teachers or gurus, do their gurus tell them not to indulge in vice? They don’t give teachings to become pure. When someone has disinterest, he leaves his home and family and runs away. The Father, who is Shiva, the Teacher, places the urn of knowledge on the heads of you mothers. Where would Lakshmi come from in this impure world? Lakshmi and Narayan exist in the golden age. Shiv Baba now sits here and explains to you through this one. Shiva, the Teacher, speaks through the mouth of Brahma. You truly do open the gates of heaven and so you will definitely become the masters. You open the gates of heaven, that is, you are making effort to become residents of heaven. Your effort is to make human beings who are residents of hell into residents of heaven. The Father also does the service of making impure ones pure. Your business is the same as the Father’s business – making souls into residents of heaven. Everyone wants heaven. When someone dies, others say that that person has gone to heaven. You should ask them: Since that person has gone to heaven, why do you call him back to hell and feed the brahmin priest, etc.? That is the darkness of ignorance. You take food from here to the subtle region to feed them because you know that it is pure food. That person has died, and so he would not receive pure food. Some write: Baba, offer bhog to such-and-such a person so that that soul can receive pure food. It is remembered that even deities loved Brahma Bhojan. Your gathering truly does take place in the subtle region. It isn’t that going into trance is good; no! Yoga isn’t going into trance and going into trance isn’t yoga. The Father says: Connect your intellect’s yoga to Me and your sins will be absolved. People go to Vaikunth (Paradise) in trance and perform a dance, but that is not earning an income. They cannot listen to the murli. Offering bhog to departed spirits is a system that has been created according to the drama. There is the difference of day and night between the customs and systems of people and those of the Brahmins of the confluence age. You go from here and feed them in the subtle region. Until now people understand these things, they will continue to have doubts. We would say that, according to the drama, it was not in their fortune and so they had doubts and left. There is nothing to worry about; it just wasn’t in their fortune. They forget the first thing, that they have to claim their inheritance from the Father. Their intellects develop doubts in something or other. We are only concerned with our inheritance. Why should we stop studying? You have to listen to the murli. How would the incorporeal Father give you directions? He definitely needs a mouth. You have to hear from the mouth of Brahma or those of the Brahma Kumars and Kumaris. Some people live outside, far away and they don’t even receive murlis. Therefore, the Father says: It doesn’t matter. Simply stay in remembrance and spin the discus of self-realisation. You have received this shrimat from the Father. No matter where you are, you are on a battlefield. The Father explains to those in the military: You have to do that service. That is your business. You have to look after the cities. You receive a salary and have made an agreement. Therefore, you have to look after them. You have the aim in your intellect. The unlimited Father is the Creator of heaven. He says: Children, stay in remembrance of Me and your sins will be absolved. Eat while in remembrance of Shiv Baba and the food you eat will be purified. You also have to take precautions as much as possible. In desperate circumstances, eat in remembrance of Baba. This requires effort. Knowledge is not called a battle. Only in remembrance does a battle take place. Only by having remembrance will your sins be absolved. When you consider yourself to be a soul Maya will not slap you and you won’t become body conscious. You continue to remember the body for you have forgotten the soul. This is why you are asked: Do you know who the Father of all souls is? Write down His name, form, land and time period. They write a variety of things in reply to this. Some write that the Father of souls is Hanuman, and some write something else. There is so much ignorance! It is then explained: A soul is incorporeal and your guru is corporeal. How could the Father of an incorporeal one be corporeal? Everything depends on the practice of how you explain. Together with that, you also need good manners. There are many who speak very well. The arrow strikes others very well. Because some don’t have any manners, there is no progress. There has to be very good remembrance. Some relate knowledge very well but they have no yoga at all. It isn’t that knowledge cannot be imbibed without yoga. It is imbibed anyway. For instance, when you relate the history and geography to someone, it very quickly enters your intellect. Nothing of Baba’s remembrance would be in your intellect at that time. Some even eat meat and drink alcohol. That is just a story, and it is easy to remember that. The history and geography are in your intellect. There is no question of remembrance in that. There is no question of even purity in that. There are many like that. When you don’t remember Shiv Baba, your sins are not absolved. You then continue to perform even more sin. It doesn’t even enter your intellect enough to realise that that is a sin. It is a great sin to disobey orders. Shiv Baba orders you to do this! If you disobey Him, you would be deceived a great deal. However, it is very easy to relate the history and geography. Baba has explained that you can go and explain in schools. Say: You study limited history and geography here. You don’t study unlimited history and geography. Tell us where the kingdom of Lakshmi and Narayan went to. Where did the sun and moon dynasties that existed before go? Who snatched away their kingdom? Who attacked them? Only you children know how this cycle turns. If you explain this to others, it would sit in their intellects in seven days. However, they don’t have those manners. It isn’t that by indulging in vice they would forget the history and geography. Yoga is the main thing. It is in yoga that Maya deceives you. You have to become full of all virtues here. Some make a promise and are then unable to remain firm on it. Maya is very powerful. They don’t remember the Father fully and so their sins are not absolved. Instead, they continue to perform doubly sinful actions. They aren’t aware of anything. Even when they are told about it, they can’t understand it. You children know that the Father is the Lord of the Poor. He is the Merciful One. He explains to us children in particular and the world in general. We in particular go to the land of happiness and everyone in general goes to the land of liberation. In the golden age, there truly was the kingdom of Lakshmi and Narayan. Then, there was the moon dynasty and, after them, those of Islam and the Buddhists etc. came. Therefore, the original eternal deity religion disappeared. Go and see the banyan tree in Calcutta; there is no foundation and yet the whole tree is standing. It is like that here too. Establishment is taking place once again. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t develop doubts about anything and thereby stop studying. Remember the Father and the inheritance.
  2. Listen to only the one Father. Forget everything else that you have studied. Hear no evil ! S ee no evil! T alk no e vil !
Blessing: May you be constantly happy in your heart and remain beyond all questions such as “Why?”, ”What?”, “Like this” or “Like that”.
The souls who are happy in their hearts cannot have any questions arise even in their thoughts in connection with the self, others or matter at any time or in any situation. “Why is this like this?” or “What is happening”, “Does this also happen?” For souls who are always happy in their hearts, while performing any action, seeing, hearing or thinking anything, they would always think, “Whatever is happening is good for me and it will always be good”. They never get caught up in the confusion of the questions such as “Why”, “What”, “Like this”, or “Like that”.
Slogan: Perform every action considering yourself to be a guest and you will become great and worthy of praise.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 12 SEPTEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 September 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 11 September 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 12/09/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
12/09/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – जितना समय मिले सच्ची कमाई करो, चलते फिरते कर्म करते बाप की याद में रहना ही सच्ची कमाई का आधार है, इसमें कोई तकलीफ नहीं”
प्रश्नः- जिन बच्चों में ज्ञान की पराकाष्ठा होगी, उनकी निशानी सुनाओ?
उत्तर:- जिनमें ज्ञान की पराकाष्ठा होगी उनकी सब कर्मेन्द्रियाँ शीतल हो जायेंगी। चंचलता समाप्त हो जायेगी। अवस्था एकरस हो जायेगी। मैनर्स सुधरते जायेंगे।
प्रश्नः- शिवबाबा की याद बुद्धि में यथार्थ नहीं है तो रिजल्ट क्या होगी?
उत्तर:- कोई न कोई विकर्म जरूर होगा। बुद्धि इतना भी काम नहीं करेगी कि हमारे द्वारा कोई विकर्म हो रहा है। बाप का फरमान न मानने के कारण धोखा खाते रहेंगे।
गीत:- आखिर वह दिन आया आज…

ओम् शान्ति। बच्चों को खातिरी हो गई है कि बेहद का बाप आया हुआ है। कृष्ण को बेहद का बाप नहीं कहेंगे। यह गीत तो यहाँ के नाटक वालों ने बनाये हुए हैं। महाराजाधिराज कृष्ण के लिए कहते हैं। बाप कहते हैं मैं तो नहीं बनता हूँ, तुम बच्चों को बनाता हूँ। तो इन गीतों से भी कुछ न कुछ अच्छा अर्थ निकलता है। बेहद का बाप गरीब निवाज़ जरूर है, जिस भारत को साहूकार बनाते हैं वह भारत अब गरीब बन गया है। भारत में ही उनका जन्म होता है और कहीं उनका जन्म गाया हुआ नहीं है। भले पूजा करते हैं, कोई भी नेशन में यह चित्र हैं परन्तु जन्म तो यहाँ होता है ना। जैसे क्राइस्ट का जन्म और कोई जगह है परन्तु चित्र तो यहाँ भी हैं ना। तो भारत को गॉड फादर का बर्थ प्लेस कहेंगे। मनुष्य तो कुछ समझते नहीं। वह तो ईश्वर को सर्वव्यापी कह देते हैं। आगे तुमको भी पता नहीं था। अभी जानते हो कि भारत पतित-पावन परमपिता परमात्मा का बर्थप्लेस है। मनुष्य तो समझते हैं कि परमात्मा तो जन्म-मरण से न्यारा है। हाँ, मरण से बेशक न्यारा है क्योंकि उनका अपना शरीर तो है नहीं। बाकी जन्म तो होता है ना। बाप कहते हैं मैं आया हूँ, मेरा दिव्य जन्म है और मनुष्य तो गर्भ में प्रवेश कर फिर छोटे से बड़े बनते हैं। मैं ऐसा नहीं बनता हूँ। हाँ, कृष्ण माँ के गर्भ में जाते हैं। छोटे से बड़ा बनते हैं। हर एक आत्मा अपनी माँ के गर्भ में प्रवेश कर जन्म लेती है। यह मनुष्य मात्र की बात है। मनुष्य ही कंगाल, मनुष्य ही सिरताज बनते हैं। भारत सतयुग आदि में डबल सिरताज था। पवित्रता की निशानी रहती है। पवित्रता का ताज और रतन जड़ित ताज था ना। पवित्रता गुम हो जाने के बाद सिर्फ एक ताज रहता है। विश्व का मालिक थे फिर पुनर्जन्म लेते-लेते एक ताज गुम हो गया। फिर सिंगल ताज वाले बने। यह ज्ञान की बातें हैं। पूज्य से पुजारी बनने के कारण एक ताज गुम हो जाता है। राजायें पतित होते आये हैं और जो पावन राजायें सूर्यवंशी चन्द्रवंशी पास्ट हो गये हैं, उनके चित्रों की पूजा करते आये हैं। जो पवित्र पूज्य थे वही फिर पुजारी बने हैं। उनको ही 84 जन्म भोगने पड़ते हैं। जो भारत कल पूज्य था सो अब पुजारी बना है। फिर पुजारी गरीब से पूज्य साहूकार बनना है। अब तो कितना गरीब है। कहाँ हेविन के महल थे, मन्दिर के ऊपर भी कितने हीरे जवाहरात जड़े हुए थे। तो वे अपना महल तो और ही अच्छा बनाते होंगे ना। अभी तो कितना गरीब है। गरीब से साहूकार अभी तुम फिर बनते हो। पुरूषार्थ तुम बच्चों को करना है। युक्तियाँ रोज़ बतलाते हैं। जितना टाइम फुर्सत मिले यह याद की कमाई करनी है। ऐसे बहुत काम होते हैं जिनमें बुद्धि नहीं लगानी होती है। कोई-कोई में बुद्धि लगानी पड़ती है। तो जब फुर्सत मिलती है, घूमने फिरने जाते हो तो बाप की याद में रहो। यह कमाई बहुत करनी है। यह है सच्ची कमाई। बाकी तो वह है अल्पकाल के लिए झूठी कमाई। यह शिक्षा तुम बच्चों को अभी ही मिलती है।

तुम जानते हो कि हमको बेहद के बाप से बेहद का वर्सा लेना है, इसमें कोई भी तकलीफ नहीं है। घरबार भी नहीं छुड़ाते हैं। सिर्फ कहते हैं बच्चे विकार में नहीं जाना है। इस पर ही अक्सर करके झगड़ा चलता है। और सतसंगों में ऐसे झगड़े थोड़ेही होते हैं। वहाँ तो जो सुनाया वह सत-सत कहकर चले जाते हैं। झगड़ा यहाँ होता है। इस रूद्र ज्ञान यज्ञ में असुरों के विघ्न जरूर पड़ेंगे। अबलाओं पर अत्याचार होते हैं। जैसे द्रोपदी को भी दिखाते हैं – पुकारा है कि बाबा हमें यह नंगन करते हैं, इनसे बचाओ। बाप की तो शिक्षा है कि कभी भी नंगन नहीं होना है। जब एकरस अवस्था हो जाए तब यह कर्मेन्द्रियां शीतल हों, तब तक कोई न कोई चंचलता चलती रहेगी। जब तक ज्ञान की पराकाष्ठा हो – बुद्धि में यह ख्याल रहे कि हमको कम्पेनियन हो रहना है। विलायत में बहुत बूढ़े वानप्रस्थी होते हैं। समझते हैं पिछाड़ी में कौन मालिक बनेंगे, बाल बच्चे तो हैं नहीं, इसलिए पिछाड़ी में कम्पेनियन बना लेते हैं। फिर भी कुछ उनको देकर चले जाते हैं। तुम लोग तो अखबारें पढ़ते नहीं हो, अखबारों में समाचार बहुत आते हैं। तुम बच्चों को कोई वह पढ़ना नहीं है। बाप तो कहते हैं कि कुछ भी नहीं पढ़े हो तो अच्छा है। जो कुछ भी पढ़े हो वह भूल जाओ। हमको बाप ऐसा पढ़ाते हैं जो हम सच्ची कमाई कर विश्व के मालिक बन जाते हैं। बाप कहते हैं हियर नो ईविल, सी नो ईविल… यह तुम्हारे लिए है। अभी तुम बच्चे मन्दिर लायक बन रहे हो। तुमको ज्ञान सागर बाप मिला है तो उनका ही सुनना पड़े। दूसरे की तुमको क्या सुनने की दरकार है। मनुष्य टीचर के पास, गुरू के पास जाते हैं तो गुरू कभी ऐसे कहते हैं क्या कि काम विकार में नहीं जाओ। वह तो पावन बनने की शिक्षा देते नहीं। कोई को वैराग्य आता है तो वह घरबार छोड़ भाग जाते हैं। बाप जो शिवाचार्य है वह ज्ञान का कलष तुम माताओं के सिर पर रखते हैं। बाकी इस पतित दुनिया में लक्ष्मी कहाँ से आई। लक्ष्मी-नारायण तो सतयुग में होते हैं। अभी शिवबाबा इन द्वारा बैठ समझाते हैं। शिवाचार्य वाच ब्रह्मा मुख से – तुम बरोबर स्वर्ग के द्वार खोलते हो तो जरूर तुम ही मालिक बनेंगे। स्वर्ग का द्वार खोलते हो गोया स्वर्गवासी बनने का पुरूषार्थ करते हो। तुम्हारा पुरूषार्थ ही है नर्कवासी मनुष्य को स्वर्गवासी बनाना। बाप भी यह सेवा करते हैं ना – पतित से पावन बनाना, तुम्हारा भी यही धन्धा है, जो बाप का धन्धा है। आत्माओं को स्वर्गवासी बनाओ। स्वर्ग की चाहना तो सब रखते हैं ना। कोई मरता है तो कहते हैं फलाना स्वर्ग पधारा। उनसे पूछना चाहिए कि जब वह स्वर्ग में गया तो फिर नर्क में बुलाकर ब्राह्मण आदि क्यों खिलाते हो। फिर तो यह अज्ञान अन्धियारा हुआ। तुम यहाँ से सूक्ष्मवतन में ले जाकर खिलाते हो क्योंकि तुम जानते हो यह पवित्र भोजन है। वह जो मर जाते हैं उनको पवित्र भोजन थोड़ेही मिलता होगा। लिखते हैं बाबा फलाने का भोग लगाओ – तो उनको पवित्र भोजन मिले। गाया हुआ है देवतायें भी ब्रह्मा भोजन को पसन्द करते हैं। बरोबर तुम्हारी महफिल सूक्ष्मवतन में लगती है। ऐसे नहीं कि ध्यान कोई अच्छा है। नहीं, योग को ध्यान नहीं कहा जाता और ध्यान को योग नहीं कहा जाता। बाप कहते हैं मेरे साथ बुद्धियोग लगाओ तो विकर्म विनाश होंगे। वैकुण्ठ में जाकर रास-विलास करते हैं, वह कोई कमाई नहीं है। मुरली तो सुन नहीं सकते। यह भोग आदि तो एक रसम-रिवाज है ड्रामानुसार। मनुष्यों की रसम-रिवाज और संगमयुगी ब्राह्मणों की रसम-रिवाज में रात-दिन का फर्क है। यहाँ से जाकर सूक्ष्मवतन में खिलाते हैं। इन बातों को जब तक नये समझें नहीं तब तक संशय उठता है। हम कहेंगे ड्रामा अनुसार इसकी तकदीर में नहीं है तो संशय पड़ा और चला गया। फिकर की बात नहीं, इनकी तकदीर में नहीं था। पहली बात भूल जाते हैं कि हमको बाप से वर्सा लेना है। कोई बात में संशयबुद्धि बन पड़ते हैं। अरे हमारा काम है वर्से से। हम पढ़ाई फिर क्यों छोड़े। मुरली तो सुनना है ना। निराकार बाप तुमको डायरेक्शन कैसे सुनायेंगे, उनको मुख जरूर चाहिए। ब्रह्मा मुख से अथवा ब्रह्माकुमार कुमारियों से सुनना है। कोई बाहर में दूर चले जाते हैं। मुरली भी नहीं मिल सकती है तो बाप कहते हैं कोई हर्जा नहीं है। तुम याद में रहो और स्वदर्शन चक्र फिराते रहो। यह बाप की श्रीमत मिली हुई है। कहाँ भी हो, तुम लड़ाई के मैदान में हो।

बाप मिलेट्री वालों को भी समझाते हैं कि तुमको वह सर्विस तो करनी है, यह तो तुम्हारा धन्धा है। शहर की सम्भाल करना है। तुम पघार खाते हो, एग्रीमेंट की हुई है तो सम्भाल भी करनी है। बुद्धि में लक्ष्य तो बैठा हुआ है। बेहद का बाप स्वर्ग का रचयिता है, वह कहते हैं बच्चे तुम मेरी याद में रहो तो विकर्म विनाश होंगे। शिवबाबा की याद में रहकर खाओ तो कोई ऐसी चीज़ होगी वह पवित्र हो जायेगी। जितना हो सके परहेज भी रखनी है। लाचारी हालत में बाबा को याद करके खाओ। इसमें ही मेहनत है। ज्ञान को युद्ध नहीं कहा जाता, याद में ही युद्ध होती है। याद से ही विकर्म विनाश होंगे। माया का थप्पड़ नहीं लगेगा। देह-अभिमानी नहीं बनेंगे। तुम अपने को आत्मा समझो। तुम शरीर को याद करते रहते हो, आत्मा को भूल गये हो। इसलिए पूछा जाता है – आत्मा का बाप कौन है, उनको जानते हो? उनका नाम रूप देश काल लिखो। उनमें भी वैरायटी लिखते हैं। कोई लिखते आत्मा का बाप हनूमान है, कोई क्या लिखते, कितना अज्ञान है। तो फिर समझाया जाता है – आत्मा तो है निराकार। तुम्हारा गुरू तो साकार है। निराकार का बाप साकार कैसे होगा। समझाने की प्रैक्टिस पर सारा मदार है और साथ में मैनर्स भी अच्छे चाहिए। बहुत अच्छे-अच्छे बोलने वाले हैं। दूसरे को तीर अच्छा लग जाता है। खुद में मैनर्स न होने कारण उन्नति होती नहीं। याद बहुत अच्छी चाहिए। कोई तो ज्ञान बहुत अच्छा सुनाते हैं, योग कुछ भी नहीं। ऐसे नहीं कि योग बिगर ज्ञान की धारणा नहीं हो सकती है। धारणा तो हो जाती है। समझो किसको हिस्ट्री-जॉग्राफी सुनाते हैं, वह तो झट बुद्धि में बैठ जायेगा। बाबा की याद का कुछ भी बुद्धि में नहीं होगा। मास-मदिरा भी खाते होंगे। यह तो एक कहानी है, वह याद पड़ना तो सहज है। हिस्ट्री-जॉग्राफी बुद्धि में आ जाती है। याद की बात ही नहीं। पवित्रता की भी बात नहीं। ऐसे भी बहुत हैं। शिवबाबा को याद नहीं करते तो विकर्म विनाश होते नहीं। और ही जास्ती विकर्म करते रहते हैं। इतना भी बुद्धि काम नहीं करती कि यह विकर्म है। फरमान न मानना, यह तो बड़ा पाप है। शिवबाबा का फरमान है ना – यह करो। उनका फरमान नहीं मानेंगे तो बड़ा धोखा खायेंगे। बाकी हिस्ट्री-जॉग्राफी सुनाना तो बड़ा सहज है। बाबा ने समझाया है तुम स्कूलों में भी जाकर समझा सकते हो। यह तुम हद की हिस्ट्री-जॉग्राफी पढ़ते हो। बेहद की तो तुम पढ़ते नहीं हो। लक्ष्मी-नारायण का राज्य बताओ कहाँ गया? सूर्यवंशी, चन्द्रंवशी डिनायस्टी जो चली वह फिर कहाँ गई? उन्हों का राज्य किसने छीना? किसने चढ़ाई की? तुम बच्चे ही जानते हो कि यह चक्र कैसे फिरता है। यह किसको भी समझाओ तो 7 रोज़ में बुद्धि में आ जायेगा। परन्तु मैनर्स नहीं। ऐसे नहीं कि विकार में जाने से हिस्ट्री-जॉग्राफी को भूल जायेंगे। सारी बात योग की मुख्य है। योग में ही माया धोखा देती है। तुमको सर्वगुण सम्पन्न… यहाँ ही बनना है। कई प्रतिज्ञा करके भी फिर ठहर नहीं सकते हैं। माया बड़ी प्रबल है ना। बाप को पूरा याद नहीं करते है तो विकर्म विनाश नहीं होते हैं और ही डबल विकर्म करते रहते हैं। उनको पता भी नहीं पड़ता और कहने से भी समझ नहीं सकते।

तुम बच्चे जानते हो कि बाप गरीब निवाज़, रहमदिल है। हम बच्चों को खास और सबको आम समझाते रहते हैं। इनपर्टीक्युलर (खास) हम सुखधाम में जाते हैं। इनजनरल (आम) मुक्तिधाम में जाते हैं। सतयुग में बरोबर इन लक्ष्मी-नारायण का ही राज्य था – फिर चन्द्रवंशी, उनके बाद इस्लामी, बौद्धी आदि आये हैं तो वह आदि सनातन धर्म गुम हो गया है। बड का झाड़ कलकत्ते में जाकर देखो, फाउन्डेशन है नहीं, सारा झाड़ खड़ा है। यह भी ऐसे है। अब फिर से स्थापना हो रही है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी भी बात में संशय उठाकर पढ़ाई नहीं छोड़नी है। बाप और वर्से को याद करना है।

2) एक बाप से ही सुनना है, बाकी जो पढ़ा है वह सब भूल जाना है। हियर नो ईविल, सी नो ईविल, टॉक नो ईविल…।

वरदान:- क्या, क्यों, ऐसे और वैसे के सभी प्रश्नों से पार रहने वाले सदा प्रसन्नचित्त भव 
जो प्रसन्नचित आत्मायें हैं वे स्व के संबंध में वा सर्व के संबंध में, प्रकृति के संबंध में, किसी भी समय, किसी भी बात में संकल्प-मात्र भी क्वेश्चन नहीं उठायेंगी। यह ऐसा क्यों वा यह क्या हो रहा है, ऐसा भी होता है क्या? प्रसन्नचित आत्मा के संकल्प में हर कर्म को करते, देखते, सुनते, सोचते यही रहता है कि जो हो रहा है वह मेरे लिए अच्छा है और सदा अच्छा ही होना है। वे कभी क्या, क्यों, ऐसा-वैसा इन प्रश्नों की उलझन में नहीं जाते।
स्लोगन:- स्वयं को मेहमान समझकर हर कर्म करो तो महान और महिमा योग्य बन जायेंगे।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 10 September 2017 :- Click Here

 

Font Resize