today murli 12 october

TODAY MURLI 12 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

12/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to remove your intellect’s yoga from this impure world and become an unlimited sannyasi. To be a sannyasi means to become a completely pure and firm yogi.
Question: When you have which stage will the storms of Maya end?
Answer: When your intellect’s yoga is broken from the consciousness of “mine”, that is, “my husband”, “my children” etc., your intellect will then become firm in: “Mine is one Shiv Baba and none other”. When your intellect’s yoga is fully connected to the one Father, the storms of Maya will end.
Song: Who has come to the door of my mind in the early morning hours?

Om shanti. God speaks. You children have understood that the Father of souls is the One who is called the Supreme Father, the Supreme Soul. The Father Himself explains: I don’t have a big physical form. Just as it is said of a soul that it is a star residing in the centre of the forehead, similarly, I too am the Supreme Soul. His praise is greater. He is the Ocean of Knowledge, but He isn’t as big as that image. If He were that big, He wouldn’t be able to push Himself into this body. It is when they worship a Shivalingam that they make it a big form. They say that He is thumb shaped. Soul means soul. It is just that He is called the Supreme Soul and that He resides in the supreme abode. You know that, at this time, it is the devil’s world, the devilish community. In the golden age, there was the kingdom of deities in Bharat. It is now the devilish kingdom. Look what they eat! To eat meat and drink alcohol etc. is to have impure food. People don’t even understand this. In a school, too, some have very good thoughts, some have rajoguni thoughts and others have tamoguni thoughts. Those who are unable to explain to others are called buddhus. Among the Brahma Kumars and Kumaris there are many numberwise maharathis, cavalry and infantry who are unable to explain very well. Because of not having full knowledge, they continue to do disservice. To the extent that someone has knowledge, so he will accordingly be able to explain; it is numberwise. Sometimes, they still make mistakes. You children should have the intoxication that you are becoming deities. The Father Himself says: I enter the world of impure ones. In the golden age, this one was Narayan and I have now entered his body once again to make him into Narayan from an ordinary man. He was the number one worthy-of-worship soul and he then became the number one worshipper. This one has an allround part. This is My fixed body; it cannot change. It isn’t that I would sometimes give a chance to someone else. This drama is predestined. There cannot be any change in this. Baba says: I enter the world of impure ones, but if you tell someone he is impure, he would get upset. However, when God says that all are part of the devilish community, this has to be accepted. “God” means incorporeal God, not Brahma, Vishnu, Shankar or Krishna. He says: I, the Supreme Soul, am the same as you. God speaks: I have come to teach you Raja Yoga. There is so much praise of yoga. Many yoga ashrams have opened. They teach hatha yoga there. However, with the power of yoga you make the whole world into heaven; you transform the world. The whole world will not stay in yoga. There is so much praise of the yoga through which Bharat especially becomes heaven. However, no one knows who made it into heaven. There must definitely have been someone who created heaven. The Father says: Only I come and teach you actions for you to become deities. This is very easy. Those people have many sacrificial fires. Do you have any sacrificial fires etc. here? Only for their fragrance do you burn incense sticks. Otherwise, there are no rituals here. The Father gives you His own introduction: I too am a soul like you, but I don’t take rebirth. I take birth, but I don’t die. People celebrate My birthday. I keep coming and going from this body in order to teach you, and so this is not called death. I come to make you into deities. It then depends on who comes and studies. Those who studied in the previous cycle will come and study again. You are the same long-lost and now-found, beloved children who became separated from Me a long time ago. Others don’t take 84 births. We are the ones who go around the cycle of the full 84 births. People get very fed up if they have to take many births. They tell you that they don’t want to come into the cycle of 84 births. However, we are so strong and brave that we become even happier. By remembering this cycle of 84 births, we become the rulers of the globe. They have shown a cycle in their flag but they have then made it into a spinning wheel. Your Coat of Arms is correct compared to that. At the top is Shiv Baba, below that is the Trimurti; the cycle is also accurate in that. Your flag of Shiva is absolutely accurate. It has been explained to you that there are two types of renunciation. One is renunciation for the path of isolation where they go to the forests. That is half renunciation. Yours is full renunciation. Of what? You renounce the whole of the devilish world. “My husband, my children, my guru”; you break your intellect’s yoga away from all of that consciousness of “mine”. “Mine is one Shiv Baba and none other.” Until you make this your stage, storms will continue to come and you will continue to fluctuate. The Father inspires you to renounce the whole of the devilish world because it is all to be destroyed. Those people don’t say that everything is to be destroyed. You are living with your relatives but, while seeing all of them, your intellects are connected up there. “Nothing belongs to me. So with whom would I indulge in lust or get angry?” This is a very good tactic, but only when it sits in your intellects! This is called Raja Yoga. You have yoga and claim your kingdom. Theirs is hatha yoga. These are deep points. There are many yogis in the world, but Baba says: Not a single one has yoga with Me. Instead of having yoga with Me, they have yoga with My place of residence, the brahm element. Just as the people of Bharat have considered Hindustan, their place of residence, to be their religion, in the same way, they also consider themselves to be children of brahm. However, they don’t in fact even consider themselves to be children, because if they were children, there would have to be an inheritance. They say that they will merge into the element. Baba has experienced all of that. He has experienced all of that with many sannyasis and gurus. They also portray Arjuna as having had many gurus. All of you are Arjuna. At this time there is Ravan’s kingdom over the whole world. The whole world is Lanka. It isn’t just the island of Ceylon that is Lanka. That is the limited Lanka, whereas the whole world is the unlimited Lanka. There is now Ravan’s kingdom over the whole world. There weren’t so many human beings in Rama’s kingdom. When it is Rama’s kingdom, Ravan’s kingdom doesn’t exist. Where does it go? It goes down below. Then, when Ravan’s kingdom comes, Rama’s kingdom goes below. This is the drama. As the cycle turns, the golden age comes up. The copper and iron ages go down and the golden and silver ages come up from down below. It is just a matter of the cycle. Although they have written it like that, it isn’t that it goes beneath the sea or that it emerges from the sea. The Father says: These are very deep things that have to be understood. Purity is first in this and then there also has to be very powerful yoga. This is called complete renunciation. Remove the intellect’s yoga from this world. Among you too, only some of you understand these things. If you were all to understand you would become Ganges of knowledge, small rivers and canals. Even if you were to become a pond and explain to people at home, it would be understood that you have understood something! However, some are not even able to explain at home. The Father says: No matter how poor you may be, you can open a small Gita pathshala at home even if you only have one room where you eat and sleep. Once you have done what you need to, then clear everything away and set the place up for class. You can open such a big hospital on three square feet of land. Leave aside the wealthy ones; the Father is the Lord of the Poor. Wealthy ones say that this is heaven for them. Baba says: OK, stay happy in your heaven! Why should I give you anything? Donations are always given to the poor. If important people had to sit on the floor, they would be offended. Therefore, Baba says: You may live in your palaces. The poor who can study well can come to Me. If you’re unable to relate this to others, you are not even a small lake. You have to become big rivers. You have to follow Mama and Baba. However, if you’re unable to relate anything at home, you are not even like a handful of water. Baba enjoys Himself in front of the Ganges of knowledge. Some listen to Baba personally and become very happy, but as soon as they get up from here and go down the stairs, their intoxication also goes down. Then, as soon as they reach home, they begin to gossip again. Baba can understand from their behaviour. Some come to meet Baba and speak of their husband and children. Where did your husband come from? You come here in order to go to heaven and you are still trapped in this consciousness of “mine”! OK, this much dose is enough. You should only be given as much as you can digest. Baba has explained to you in a nutshell. You are establishing heaven with yoga, but you need knowledge for a sovereignty; there are the two subjects. Baba also makes effort to stay in yoga and this is why he says: Don’t remember and don’t forget! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Completely renounce this old world. Claim the first number in the subjects of purity and yoga.
  2. Become the Ganges of knowledge and serve to make impure ones pure. Follow Mama and Baba and become big rivers.
Blessing: May you be a spinner of the discus of self-realisation and finish all questions with awareness of the knowledge of the time.
The children who are spinners of the discus of self-realisation and have had a vision of the self automatically have a vision of the world cycle. Those who know the secrets of the drama remain constantly happy. They can never have questions such as “Why?” or “What?” because within the drama, the self is benevolent and the time is also benevolent. Those who look at the self and become spinners of the discus of self-realisation easily continue to move forward.
Slogan: In order to serve all souls truly, have pure and positive thoughts for everyone.

*** Om Shanti ***

Invaluable versions of Mateshwariji

Lots of proof that God is not omnipresent.

Versions of God are written in the Gita, which is the jewel of all scriptures: Children, where there is victory, I am there”. These are the elevated versions of the Supreme Soul. I am in the Himalayas, and I am in the snake which is known as Kali. Of the mountains, the Kailash mountain is said to be the highest of all, and among the snakes, the Kali snake is said to be the greatest. This proves that if out of all snakes, God is just in the black snakes, then He does not reside in all the other snakes. If God is in the highest mountain of all, then it means He is not in the mountains that are lower. Then, it is said: Where there is victory, I take birth: This means I am not there when there is defeat. All of these things prove that God is not omnipresent. On the one hand, they say this and then, on the other hand, they say that God incarnates in many forms, just as they have shown 24 incarnations of God. They say that God is in the fish and the crocodiles. All of that is false knowledge. In this way, they have understood God to be present everywhere, whereas it is Maya at this time of the iron age that is present everywhere. So, how can God be present everywhere? It also says in the Gita: I do not reside in Maya. This proves that God is not present everywhere.

The i ncorporeal w orld means the residence of souls.

We know that when we speak of the incorporeal world, “incorporeal” does not mean that it does not have any shape or form. When we speak of the incorporeal world, it means that there definitely is a world, but that it doesn’t have a form or shape in the same way as the physical world. Similarly, God is incorporeal and He definitely has a subtle form (point of light). So, the land of us souls and of God is the incorporeal world. When we say, “world”, it proves that there is that world and we reside there and this is why it is called a world. People of the world think that God’s form is of the element of eternal light. That is the place of residence of God, which is called a retired home. We cannot call God’s home, God. The other world is the subtle world, where Brahma, Vishnu and Shankar reside in their angelic forms, and this is the physical world which is split into two. One is the world of viceless heaven where there is only happiness, purity and peace for half the cycle. The other is the vicious, iron-aged world of sorrow and peacelessness. Why are these called two worlds? Because people say that both heaven and hell are created by God. God’s versions for this are: Children, I did not create a world of sorrow. The world that I created is a world of happiness. This is now the world of sorrow and peacelessness. Because people have forgotten themselves and Me, the Supreme Soul, they are suffering these karmic accounts. It isn’t that when there is the world of happiness and charity, there isn’t a world. Yes, definitely, when we say that that is the residence of the deities, then there is every type of activity there, but there definitely is no creation of vices there. Because of that, there are no karmic bondages. That world is called the heavenly world without any karmic bondage. One is the incorporeal world and the other is the subtle world and the third is the physical world. Achcha. Om shanti.

 

[wp_ad_camp_5]

 

BRAHMA KUMARIS MURLI 12 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

12/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हें इस पतित दुनिया से अपना बुद्धियोग निकाल बेहद का सन्यासी बनना है, सन्यासी माना पूरे पवित्र और पक्के योगी”
प्रश्नः- कौन सी अवस्था आते ही माया के तूफान समाप्त हो जाते हैं?
उत्तर:- जब मेरा पति, मेरा बच्चा…. इस मेरे-मेरे से बुद्धियोग टूट जायेगा। मेरा तो एक शिवबाबा दूसरा न कोई – यह बुद्धि में पक्का होगा। एक बाप से ही पूरा बुद्धियोग लगा होगा तब माया के तूफान समाप्त हो जायेंगे।
गीत:- कौन आया मेरे मन के द्वारे….

ओम् शान्ति। भगवानुवाच – यह तो बच्चे समझ गये हैं कि आत्माओं का बाप, उसे कहा जाता है परमपिता परम आत्मा। बाप खुद समझाते हैं – मेरा कोई आकार में बड़ा रूप नहीं है। जैसे आत्मा के लिए कहते हैं स्टार है, भ्रकुटी के बीच में रहती है। वैसे मैं भी परम आत्मा हूँ, उसकी महिमा बड़ी है। ज्ञान सागर है। बाकी इतना बड़ा चित्र जैसे नहीं है। इतना बड़ा होता तो इस शरीर में घुस नहीं सकता। यह तो शिवलिंग की पूजा करते हैं तो बड़ा बनाते हैं। अंगूठे सदृश्य कहते हैं। आत्मा माना आत्मा सिर्फ उनको परम कहते हैं, जो परमधाम में रहते हैं। तुम जानते हो इस समय है डेविल वर्ल्ड, आसुरी सम्प्रदाय। सतयुग में इस भारत पर देवताओं का राज्य था, अब तो आसुरी राज्य है। देखो, क्या-क्या खा जाते हैं! मास मदिरा यह राक्षसी आहार है, इस बात को भी नहीं समझते हैं। स्कूल में भी कोई के अच्छे ख्यालात, कोई के रजोगुणी, कोई के तमोगुणी होते हैं। जो दूसरों को समझा नहीं सकते उनको बुद्धू कहेंगे। ब्रह्माकुमार कुमारियों में भी नम्बरवार महारथी, घोड़ेसवार, प्यादे बहुत हैं जो अच्छी रीति समझा नहीं सकते हैं। ज्ञान पूरा न होने कारण डिससर्विस करते हैं। जितना जिसमें ज्ञान है, उतना समझायेंगे। नम्बरवार तो हैं। कहाँ भूलें भी करते हैं। बच्चों को नशा होना चाहिए कि हम तो देवता बन रहे हैं। बाप खुद कहते हैं मैं पतितों की दुनिया में आता हूँ। सतयुग में यही नारायण था – अब फिर इनके तन में आया हूँ, इनको ही नर से नारायण बनाता हूँ। नम्बरवन पूज्य भी यह था, अब नम्बरवन पुजारी भी यह बना है। फिर इनका ही आलराउन्ड पार्ट है। यह मेरा मुकरर तन है। यह चेन्ज नहीं हो सकता। ऐसे नहीं कब दूसरे को चांस दूँ। यह ड्रामा बना बनाया है। इसमें चेन्ज नहीं हो सकती। बाबा कहते हैं मैं आता हूँ पतितों की दुनिया में, परन्तु कोई को पतित कहो तो बिगड़ पड़ेंगे। परन्तु जब भगवानुवाच है कि सब आसुरी सम्प्रदाय हैं तो मानना पड़ेगा। भगवान माना भगवान निराकार, न ब्रह्मा, न विष्णु, न शंकर, न कृष्ण… कहते हैं मैं परमात्मा भी तुम्हारे जैसा हूँ। भगवानुवाच मैं तुमको राजयोग सिखाने आया हूँ। योग की कितनी महिमा है। बहुत योग आश्रम खुले हैं। उसमें हठयोग आदि सिखलाते हैं। परन्तु तुम योगबल से सारे विश्व को स्वर्ग बनाते हो। विश्व को परिवर्तन करते हो। सारी दुनिया तो योग में नहीं रहती, योग की कितनी महिमा है, जिससे खास भारत स्वर्ग बनता है। परन्तु कोई को पता नहीं तो इसको स्वर्ग किसने बनाया है? जरूर ऐसा कोई स्वर्ग बनाने वाला होगा। बाप कहते हैं मैं ही आकर देवता बनने का कर्म सिखलाता हूँ। यह तो बड़ा सहज है। वह बहुत यज्ञ करते हैं। यहाँ तुम कोई यज्ञ हवन करते हो क्या? धूप भी खुशबू के लिए जलाते। बाकी यहाँ कर्मकाण्ड की कोई बात नहीं। तो बाप अपना परिचय देते हैं कि मैं आत्मा हूँ जैसे तुम हो। परन्तु मैं पुनर्जन्म नहीं लेता हूँ, जन्म लेता हूँ परन्तु मरण में नहीं आता, मेरी जयन्ती मनाते हैं। मैं इस तन में पढ़ाने के लिए आता जाता रहता हूँ तो इसको मृत्यु नहीं कहेंगे। मैं आता हूँ देवता बनाने। अब जो आकर पढ़ेंगे…, पढ़ेंगे भी वही जिन्होंने कल्प पहले पढ़ा होगा। बहुतकाल से बिछुड़े हुए वही सिकीलधे बच्चे हैं, दूसरे थोड़ेही 84 जन्मों में आते हैं, हम ही सारा 84 का चक्र लगाते हैं। मनुष्य तो बहुत जन्म लेने से तंग होते हैं, तुमको कहेंगे हम 84 के चक्र में नहीं आने चाहते हैं। परन्तु हम कितने पहलवान हैं जो और ही खुश होते हैं। हम इस 84 के चक्र को याद करते-करते चक्रवर्ती राजा बन जाते हैं। उन्हों के झण्डे में भी चक्र है, फिर उन्होंने चर्खा बना दिया है। उनके सामने तुम्हारा कोट आफ आर्मस ठीक है। ऊपर में शिवबाबा, नीचे त्रिमूर्ति और चक्र बिल्कुल ठीक लगा है। यह तुम्हारा शिव का झण्डा बिल्कुल ठीक है।

तुमको समझाया है सन्यास दो प्रकार का है। एक है निवृत्ति मार्ग का सन्यास जो जंगल में जाते हैं, वह है हाफ सन्यास। तुम्हारा है फुल सन्यास। किसका? सारी आसुरी दुनिया का सन्यास करते हो मेरा पति, मेरा बच्चा, मेरा गुरू… उन सब मेरे-मेरे से बुद्धियोग तोड़ते हो। मेरा तो एक शिवबाबा दूसरा न कोई। जब तक यह अवस्था नहीं आयेगी तब तक तूफान आते रहेंगे। झोके खाते रहेंगे। बाप सारी आसुरी दुनिया का सन्यास कराते हैं क्योंकि यह सब भस्म होना है। वह ऐसे नहीं कहते सब भस्म होना है। तुम रहते सम्बन्धियों के बीच में हो परन्तु उनको देखते बुद्धि वहाँ लगी हुई है। मेरा कुछ है नहीं। तो काम क्रोध किससे होगा! यह युक्ति बहुत अच्छी है, परन्तु जब बुद्धि में बैठे। इसको राजयोग कहा जाता है। तुम योग लगाते हो, राजाई लेते हो। वह है हठयोग। यह गुह्य प्वाइंट्स हैं। योगी तो दुनिया में बहुत हैं। परन्तु बाबा कहते हैं एक का भी मेरे से योग नहीं है। मेरे बदले मेरे निवास स्थान ब्रह्म तत्व से योग है। जैसे भारतवासी अपने निवास स्थान, हिन्दुस्तान को अपना धर्म समझ बैठे हैं। वैसे वह भी अपने को ब्रह्म का बच्चा समझते हैं। बच्चे भी नहीं कहते। बच्चा कहें तो फिर वर्सा चाहिए। वह तो कहते कि तत्व में लीन होंगे। बाबा को तो अनुभव है। बहुत सन्यासियों, गुरूओं से अनुभव किया। अर्जुन को भी दिखाते हैं बहुत गुरू थे। तुम सब अर्जुन हो। इस समय सारी दुनिया पर रावण का राज्य है, सारी दुनिया लंका है। एक सीलान का बेट (द्विप) लंका नहीं। वह हद की लंका है। परन्तु बेहद की लंका तो सारी दुनिया है। अब सारी दुनिया पर रावण का राज्य है। राम के राज्य में इतने मनुष्य नहीं थे। जब रामराज्य है तो रावणराज्य नहीं। कहाँ चला जाता है? नीचे पाताल में चला जाता है। फिर रावण राज्य आता है तो रामराज्य नीचे चला जाता है। यह ड्रामा है ना। जब चक्र फिरता है तब सतयुग ऊपर आ जाता है। द्वापर, कलियुग नीचे चला जायेगा तो सतयुग त्रेता नीचे से ऊपर आ जायेगा। है चक्र की बात, उन्होंने ऐसे लिख दिया है। बाकी कोई सागर में नहीं चला जाता है वा सागर से निकल नहीं आता है।

बाप समझाते हैं यह बड़ी गुह्य समझने की बातें हैं। इसमें पवित्रता है फर्स्ट और योग पक्का चाहिए। इसको कहा जाता है कम्पलीट सन्यास। इस दुनिया से बुद्धियोग खलास। यह बातें तुम्हारे में भी कोई समझते होंगे। सब समझें तो ज्ञान गंगा बन जायें। छोटी नदी बनें, कैनाल्स बनें। अच्छा टुबका बन घर में सुनायें तो भी समझें कि कुछ समझा है। परन्तु घर में भी नहीं बता सकते। बाप कहते हैं कि कैसा भी गरीब हो परन्तु घर में गीता पाठशाला खोल सकते हैं। भल एक ही कमरा हो उसमें खाते पीते सोते हो। अच्छा काम उतार सफाई कर फिर यह क्लास लगाओ। तीन पैर पृथ्वी में इतनी बड़ी हॉस्पिटल खोल सकते हो। साहूकार की बातें छोड़ो। बाप तो गरीब निवाज़ है ना। साहूकार तो बोलते कि हमें तो यहाँ ही स्वर्ग है। तो बाबा कहते हैं अच्छा तुम अपने स्वर्ग में ही खुश रहो। मैं तुमको क्यों दूँ। दान भी गरीब को दिया जाता है। बड़ा आदमी तो यहाँ जमीन में बैठने से चमकेंगे। तो बाबा कहते हैं कि भल अपने महलों में रहो। मेरे पास तो गरीब आयें जो अच्छी तरह पढ़ें। अगर दूसरे को नहीं सुना सकते तो छोटा तालाब भी नहीं ठहरे। तुमको तो बड़ी नदी बनना है। मम्मा बाबा को फालो करना है। परन्तु घर में भी नहीं सुना सकते तो चुल्लू पानी (हथेली में पानी) की तरह भी नहीं ठहरे। बाबा को तो मजा आयेगा ज्ञान गंगाओं के सामने। कई बाबा के सम्मुख सुनते हैं तो खुश होते हैं। परन्तु यहाँ से उठे सीढ़ी नीचे उतरे तो नशा भी उतरता जाता है। फिर घर पहुँचे तो फिर वही झरमुई झगमुई (परचिंतन) चालू। बाबा तो चलन से समझ जाते हैं। आते हैं मिलने। कहते हैं मेरा पति, मेरा बच्चा है। अरे तुमको पति कहाँ से आया? आती हो स्वर्ग में चलने फिर भी मेरे-मेरे में फंसी हो। अच्छा इतना डोज़ काफी है। देना इतना चाहिए जितना हज़म कर सकें। बाबा ने नटशेल में बताया है। योग से तुम स्वर्ग की स्थापना कर रहे हो। बाकी बादशाही के लिए नॉलेज चाहिए। दो सब्जेक्ट हैं। बाबा भी योग में रहने का पुरुषार्थ करते हैं तब कहते ना – न बिसरो न याद रहो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चो को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1- इस पुरानी दुनिया का कम्पलीट सन्यास करना है। पवित्रता और योग की सब्जेक्ट में फर्स्ट नम्बर लेना है।

2- ज्ञान गंगा बन पतितों को पावन बनाने की सेवा करनी है। मम्मा बाबा को फालो कर बड़ी नदी बनो।

वरदान:- समय के ज्ञान को स्मृति में रख सब प्रश्नों को समाप्त करने वाले स्वदर्शन चक्रधारी भव 
जो स्वदर्शन चक्रधारी बच्चे स्व का दर्शन कर लेते हैं उन्हें सृष्टि चक्र का दर्शन स्वत: हो जाता है। ड्रामा के राज़ को जानने वाले सदा खुशी में रहते हैं, कभी क्यों, क्या का प्रश्न नहीं उठ सकता क्योंकि ड्रामा में स्वयं भी कल्याणकारी हैं और समय भी कल्याणकारी है। जो स्व को देखते, स्वदर्शन चक्रधारी बनते वह सहज ही आगे बढ़ते रहते हैं।
स्लोगन:- अनेक आत्माओं की सच्ची सेवा करनी है तो शुभचिंतक बनो।

मातेश्वरी जी के अनमोल महावाक्य

1) ‘ईश्वर सर्वव्यापी नहीं है उनके लिये अनेक साबती (सबूत)’

अब यह जो शिरोमणी गीता में भगवानुवाच है बच्चे, जहाँ जीत है वहाँ मैं हूँ, यह भी परमात्मा के महावाक्य हैं। पहाड़ों में जो हिमालय पहाड़ है उसमें मैं हूँ और सांपों में काली नाग मैं हूँ इसलिए पर्वत में ऊंचा पर्वत कैलाश पर्वत दिखाते हैं और सांपों में काली नाग, तो इससे सिद्ध है कि परमात्मा अगर सर्व सांपों में केवल काले नाग में है, तो सर्व सांपों में उसका वास नहीं हुआ ना। अगर परमात्मा ऊंचे ते ऊंचे पहाड़ में है गोया नीचे पहाड़ों में नहीं है और फिर कहते हैं जहाँ जीत वहाँ मेरा जन्म, गोया हार में नहीं हूँ। अब यह बातें सिद्ध करती हैं कि परमात्मा सर्वव्यापी नहीं है। एक तरफ ऐसे भी कहते हैं और दूसरे तरफ ऐसे भी कहते हैं कि परमात्मा अनेक रूप में आते हैं, जैसे परमात्मा को 24 अवतारों में दिखाया है, कहते हैं कच्छ मच्छ आदि सब रूप परमात्मा के हैं। अब यह है उन्हों का मिथ्या ज्ञान, ऐसे ही परमात्मा को सर्वत्र समझ बैठे हैं जबकि इस समय कलियुग में सर्वत्र माया ही व्यापक है तो फिर परमात्मा व्यापक कैसे ठहरा? गीता में भी कहते हैं कि मैं फिर माया में व्यापक नहीं हूँ, इससे सिद्ध है कि परमात्मा सर्वत्र नहीं है।

2) ‘निराकारी दुनिया अर्थात् आत्माओं के रहने का स्थान’

अब यह तो हम जानते हैं कि जब हम निराकारी दुनिया कहते हैं तो निराकार का अर्थ यह नहीं कि उनका कोई आकार नहीं है, जैसे हम निराकारी दुनिया कहते हैं तो इसका मतलब है जरूर कोई दुनिया है, परन्तु उसका स्थूल सृष्टि मुआफिक आकार नहीं है, ऐसे परमात्मा निराकार है लेकिन उनका अपना सूक्ष्म रूप अवश्य है। तो हम आत्मा और परमात्मा का धाम निराकारी दुनिया है। जब हम दुनिया अक्षर कहते हैं, तो इससे सिद्ध है वो दुनिया है और वहाँ रहते हैं तभी तो दुनिया नाम पड़ा, अब दुनियावी लोग तो समझते हैं परमात्मा का रूप भी अखण्ड ज्योति तत्व है, वो हुआ परमात्मा के रहने का ठिकाना, जिसको रिटायर्ड होम कहते हैं। तो हम परमात्मा के घर को परमात्मा नहीं कह सकते हैं। अब दूसरी है आकारी दुनिया, जहाँ ब्रह्मा विष्णु शंकर देवतायें आकारी रूप में रहते हैं और यह है साकारी दुनिया, जिनके दो भाग है – एक है निर्विकारी स्वर्ग की दुनिया जहाँ आधाकल्प सर्वदा सुख है, पवित्रता और शान्ति है। दूसरी है विकारी कलियुगी दु:ख और अशान्ति की दुनिया। अब वो दो दुनियायें क्यों कहते हैं? क्योंकि यह जो मनुष्य कहते हैं स्वर्ग और नर्क दोनों परमात्मा की रची हुई दुनिया है, इस पर परमात्मा के महावाक्य है बच्चे, मैंने कोई दु:ख की दुनिया नहीं रची जो मैंने दुनिया रची है वो सुख की रची है। अब यह जो दु:ख और अशान्ति की दुनिया है वो मनुष्य आत्मायें अपने आपको और मुझ परमात्मा को भूलने के कारण यह हिसाब किताब भोग रहे हैं। बाकी ऐसे नहीं जिस समय सुख और पुण्य की दुनिया है वहाँ कोई सृष्टि नहीं चलती। हाँ, अवश्य जब हम कहते हैं कि वहाँ देवताओं का निवास स्थान था, तो वहाँ सब प्रवृत्ति चलती थी परन्तु इतना जरूर था वहाँ विकारी पैदाइस नहीं थी, जिस कारण इतना कर्मबन्धन नहीं था। उस दुनिया को कर्मबन्धन रहित स्वर्ग की दुनिया कहते हैं। तो एक है निराकारी दुनिया, दूसरी है आकारी दुनिया, तीसरी है साकारी दुनिया। अच्छा – ओम् शान्ति।

 

[wp_ad_camp_5]

 

Font Resize