today murli 12 june

TODAY MURLI 12 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 12 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 11 June 2018 :- Click Here

12/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you clouds come to the Father, the Ocean of Knowledge, to meet Him personally and fill yourselves. You do not come here to go on a pilgrimage or for the fresh mountain air.
Question: While living at home with your family, what method should you move along with so that you become ever healthy?
Answer: In order to become ever healthy, always say: “Baba, Baba. I want to eat with only You, I want to go around with only You.” Hand over everything to the Father with your intellect. Have the consciousness that you are being sustained by Shiv Baba. Have no attachment to anything. Offer everything to Him and eat according to His orders and everything will become pure and you will become ev er healthy.
Song: The Resident of the faraway land has come into the foreign land.

Om shanti. You daughters come here to meet the One who resides in the faraway land. You daughters don’t come on a pilgrimage or for the fresh mountain air. People go to the mountains for fresh air, but you children come here to meet the Mother and Father. You know that the Mother and Father who resides in the faraway land has come into the foreign land. Why does He come? To create heaven. Children come from very far away, from different villages, to meet Him. They will also come from abroad. For what? It is not to see anything. Souls, that is, human souls, come to meet the Mother and Father. The Mother and Father is the Resident of the faraway land. In front of whom are you sitting? You are sitting in front of the Mother and Father from whom you will receive the happiness of heaven. However, you will only receive that by following His directions. This is why shrimat is praised so much. God’s versions, shrimat, have been remembered. The shrimat of Brahma, Vishnu or Shankar is not remembered. The Mother and Father whose praise is sung is the highest of all. They invoke the Creator of the world, the Mother and Father: Come into this dirty, impure world and purify us. He has now come into the foreign land. You too are sitting in the foreign land. This is Ravan’s land. Akasur, Bakasur, Putna, Supnaka, Hirnakashpa etc. (names of devils) are all names of human beings in this world. There is no other form of devil. Deities neither have any other form nor do they have four arms. Just as these are human beings, so the deities are also human beings, but they take rebirth in the pure land. The golden and silver ages are like God’s home. When you go to heaven, you go to your home. You are now in a foreign home, in Ravan’s home. Therefore, the Father comes and liberates you from Ravan’s home. For half a cycle you have been taking rebirth in the land of Maya. In the golden and silver ages it used to be the kingdom of Rama, the kingdom of God, because it was established by God. For half a cycle you took rebirth there. Then, for half a cycle, you took rebirth in Ravan’s kingdom. You children understand who it is you are now sitting in front of. That One is the Teacher as well as the Satguru. You mothers are also teachers and you are satgurus as well. You also teach in order to change human beings into deities. You are now becoming those who belong to the divine community from the devilish community. The Father is present in this chariot in order to change you from thorns into flowers. That One goes to meet the children in other countries as well, because He is the living Ocean of Knowledge. He is not a non-living ocean who would drown anyone. No, that One is living. It is has been remembered that the soul and the Supreme Soul were separated for a long time. Therefore, God comes here and souls also come here to meet Him. Children come from all directions. The Father also goes around. Devotees have built temples everywhere. They create non-living images of Christ, but he is a bodily being. Brahma, Vishnu and Shankar are also bodily beings. God is the highest of them all. He doesn’t have a body of His own. Everyone calls Him Father, the Supreme Soul, God the Father. He doesn’t have a physical or a subtle body, yet He definitely does come. How does He come? Everyone has forgotten this. It cannot be said that Krishna is the Purifier or that God enters the body of Krishna to purify the impure. Therefore, it is wrong to say that God Shri Krishna speaks. What could He create through Krishna’s mouth? Deities? No. Firstly, Brahmins are needed and for that Brahma is needed. Otherwise, what would Brahma’s occupation be? Because Krishna’s name is used, Brahma’s biography disappears. If the golden age was established through Krishna, then Brahma’s occupation disappears. The children who come here understand, but those who don’t understand think that this is just another satsang where they recite the Gita. You children understand who speaks here. It is the Ocean of Knowledge, the most beloved Mother and Father, who speaks. How sweet and lovely He is! You cannot call any human being sweet, because all are very bitter and vicious. The Father is purifying them. Therefore, God is the Highest on High. Below Him, out of all the human beings who have been and gone, it is Lakshmi and Narayan, and then Rama and Sita. Even they are now impure. Until the Father comes and purifies everyone, they all remain impure and unhappy. Human beings say that the iron age lasts for thousands of years. That is impossible. The great Mahabharat War, through which the gates to the lands of liberation and liberation-in-life will open, is standing ahead. Until then, no one can receive liberation or liberation-in-life. Everyone continues to wander around here. It is as though they are in a maze: they continue to stumble around and are unable to find the exit. They want to go through the gates of liberation and liberation-in-life. When someone dies, they say that he has become a resident of heaven. However, this is hell. They can only go to heaven when the Father comes and teaches Raja Yoga. Only then can they claim the status of a king or subject. This is an income. People ask: What sort of income did so-and-so earn that he became so wealthy? Similarly, when and what sort of income did the deities of the golden age earn in order to become like that? Surely, they must have earned it at the end of the iron age, because that is how they became deities in the golden age. You now understand you are earning such an income that you will become the masters of heaven. You will definitely experience the results of that in heaven. You are now at the confluence of the iron and golden ages. They have made it a separate age. The Father explains the philosophy of karma, neutral karma and sinful karma. He says: Children, now only perform the actions that I teach you. This age cannot be called the iron age; no one knows about the confluence age. Even when the golden age changes into the silver age, no one at that time knows that they are passing through the confluence of the golden and silver ages. It is remembered later on that so-and-so used to rule in the golden age and that so-and-so used to rule in the silver age. When the copper age began, the deities fell onto the path of sin. Only you now understand all of these aspects. No one else has this knowledge. It is only you who study the history and geography of the world. You have the aim and objective. Wherever in the world there are Gita pathshalas they recite the Vedas and scriptures, but they don’t have any aim or objectiveSchools and colleges are called pathshalas (Place of studying). Those studies are at least source s of income. Through this study you have the aim and objective of becoming pure and going to the land of liberation. Then, from there, you will come down to play your part s in the golden age. You know all about the part s you have to play from the beginning of the golden age to the end of the iron age. You clouds have come here to fill yourselves in order to create your source of income for 21 births. This study is very elevated, and the One who teaches it is the one God, the Highest on High. All the rest are brothers and sisters. Brahma, Saraswati, Shankar, Parvati and Vishnu are all His children. Children cannot receive an inheritance from children. An inheritance is received from a father. Whatever effort you make, you will receive an inheritance accordingly. Effort is very easy. Achcha, if you are unable to speak much knowledge, then acquire a small room on three feet of land and open a Gita Pathshala. Put up a board that says: Come and claim your inheritance for 21 births from the Father. Put up a small board. Write on it: To claim the kingdom of heaven for 21 births is your Godly birthright. By all means, come in and inquire. The One whom you call Mother and Father is definitely the Creator of heaven. Therefore, you would surely receive your inheritance of heaven from Him. He says: Constantly remember Me and forget all others. Although you live with this one and see this one in front of you, your intellects should go up above. You receive Baba’s orders, so you should place them on your heads. The Father issues an ordinance: Children, stop the business of drinking poison. He does not speak to anyone else. He only explains to the children. None from outside can sit in this gathering until they have done the seven days’ course. There is a story of how an angel brought an impure human being into the Court of Indra and how she was punished. It is against the rules for anyone to sit here before he has been in a bhatthi for seven days and become clean. Yes, if an important person comes to meet you and, after listening to you, he wants to see the morning class, you can ask permission from the seniors to let him come. When you see that he is good and that he won’t pick up wrong things, you can first explain a little to him and then he can be given permission to come. Explain to everyone: This is our Mother and Father through whom we receive the happiness of heaven. This is our Father, Teacher and Guru, all three. It is as though you have received three engines together. It is at present that you meet all three at once. Outside, you meet them separately: firstly it is the father, then the teacher and then, in old age, a guru is adopted. Who are you now being sustained by? Shiv Baba. Because you offer whatever you have to Shiv Baba, it is as though you are being sustained from Shiv Baba’s treasure-store. You donated everything you had to Shiv Baba, and you are now being sustained from that. You receive very pure food. Elsewhere, it isn’t possible for someone to give a donation and then be sustained from that. There, whoever receives the donation keeps it. Here, whatever you give to Shiv Baba is made very pure and it is from that that you are sustained. The Father says: While living at home, have the consciousness that everything belongs to Baba. When you eat in this consciousness it is as though you are eating from Shiv Baba’s treasure-store. You do not have attachment to it, but you consider it to belong to the Father. It has been given to you by the Father and you have offered it to Him. You eats according to His orders. Although you live at home, you eat from Shiv Baba’s treasure-store. You say: I will eat with only You and I will tour around with only You. By saying “Baba, Baba” your yoga will remain linked to Him. You will become ever healthy. This is the sanatorium to become healthy. People don’t stay in those sanatoriums throughout their whole life. They stay there for a short time and then leave. You are sitting here and becoming ever healthy for 21 births. Why do you come here? In order to become ever healthyever wealthy and ever happy for half a cycle. You come here with this thought. You do not come here for fresh air or to go on a pilgrimage. You come here to meet Shiv Baba. The Father also comes into this foreign land and enters a foreign body. The Gita that has been remembered must be right in some aspects. They invoke the Father to come. Therefore, He surely has to come to purify the impure. Impure ones cannot go to Him in the supreme abode to be purified; they cannot go there. Every devotee soul calls out: Baba come! The Father says: I come in order to grant salvation and liberation to all. There is only the one Father who has mercy for all. What mercy does He have? He gives shrimat. Shrimat is very famous. By following it you will become elevated, that is, the masters of heaven. It all depends on how much you follow these directions. He doesn’t give you any other difficulty such as doing hatha yoga or stumbling to pilgrimage places. Wherever you are, whether in America or the Philippines, you have to live at home with your family and remain like a lotus flower. There is the example of King Janak. Yours is Raja Yoga. Sannyasis say that the happiness of heaven is like the droppings of a crow. However, the Raja Yoga of Bharat is very famous. No one knows it. Only the ancient Father can teach ancient Raja Yoga. The Gita, the Vedas and the scriptures etc. are all the paraphernalia of the path of devotion. The tree has to grow fully and later on that same tree has to bear fruit. You have come to the Mother and Father in order to be refreshed and you will come again and again because you experience pleasure in being personally in front of Him. However, you cannot sit here for ever; that is not the law. You definitely have to take care of your home and family. This study place will still continue to grow a great deal. If these obstacles etc. did not arise, it would grow so much. That is why obstacles come. How can 5000 sit here together and study? That is why a limit is set, so that the Father can see them personally. He only sees souls; He does not see bodies. Those whom Baba looks at with His powerful vision even forget their bodies. Because He is the Magnet, it is as though they become unconscious. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to reach the high destination, you have received three engines in the form of the Father, the Teacher and the Guru. Constantly move forward in this consciousness.
  2. Let your intellect remain aware that you have handed over everything to the Father and that you are being sustained by Him. Remove all your bitterness of impurity and become very sweet and pure.
Blessing: May you experience newness at every second in this new age of the confluence age and become a fast effort maker.
Everything becomes new at the confluence age. This is why it is called the new age. Your way of waking up is new, your way of speaking is new, your way of walking is new. “New” means spiritual. There is newness even in your awareness. All situations are new, your way of meeting is new, your way of seeing is new. When you look, the soul sees the soul, not the body. You have connections with the vision of brotherhood, not with any bodily relationship. In this way, you experience newness in yourself at every second. Whatever stage you had a second before, let it not be the same the next second; move ahead. This is known as being a fast effort-maker.
Slogan: To experience constant supersensuous joy and bliss in your life through God’s love is easy yoga.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 12 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 June 2018

To Read Murli 11 June 2018 :- Click Here
12-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम ज्ञान सागर बाप के पास आते हो – सम्मुख मिलन मनाने, बादल भरने, तुम यहाँ कोई तीर्थ करने वा पहाड़ी की हवा खाने नहीं आते हो।”
प्रश्नः- गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए किस विधि से चलते रहो तो एवरहेल्दी बन जायेंगे?
उत्तर:- एवरहेल्दी बनने के लिए सदैव बाबा-बाबा करते रहो। तुम्हीं से खाऊं, तुम्ही संग घूमूं…. सब कुछ बुद्धि से बाप हवाले कर दो। ऐसा समझकर चलो कि हम शिवबाबा की परवरिश के अन्दर पल रहे हैं। किसी भी चीज़ में ममत्व न रहे। अर्पण करके उसके हुक्म से खाओ तो सब पवित्र हो जायेगा और तुम एवरहेल्दी बन जायेंगे।
गीत:- दूर देश का रहने वाला….

ओम् शान्ति। दूर देश के रहने वाले पास बच्चियाँ मिलने आती हैं। बच्चियाँ कोई तीर्थ पर नहीं आती हैं वा पहाड़ी पर हवा खाने नहीं आती हैं। मनुष्य तो पहाड़ों पर जाते हैं हवा खाने। परन्तु बच्चे यहाँ पर आते हैं मात-पिता पास मिलने। यह जानते हो मात-पिता दूरदेश के रहने वाले आते हैं पराये देश में। क्यों आते है? स्वर्ग रचने। उनसे मिलने लिए बच्चे भिन्न-भिन्न गाँव से, कितना दूरदेश से आते हैं। विलायत से भी आयेंगे। किसलिए? कोई चीज देखने लिए नहीं। आत्मायें अथवा जीव आत्मायें आती हैं मात-पिता से मिलने। मात-पिता भी है दूरदेश का रहने वाला। अब तुम किसके आगे बैठे हो? मात-पिता के सामने बैठे हैं, जिससे स्वर्ग के सुख मिलने हैं परन्तु उनकी मत पर चलने से, इसलिए श्रीमत का इतना गायन है। भगवानुवाच श्रीमत गाई हुई है। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर की श्रीमत का गायन नहीं है। सबसे श्रेष्ठ मात-पिता है जिसका गायन करते हैं। इस सृष्टि के रचयिता मात-पिता का आह्वान करते हैं कि इस छी-छी पतित दुनिया में आओ, हमको पावन बनाओ। अब वह पराये देश में आया है। तुम भी पराये देश में बैठे हो। यह रावण का देश है। यह अकासुर, बकासुर, पूतनायें, सूपनखायें, हिरण्यकश्यप आदि सब इस मनुष्य सृष्टि के मनुष्यों पर नाम हैं। असुरों का कोई दूसरा रूप नहीं है। न देवताओं का कोई दूसरा रूप है, न 4 भुजायें हैं। हैं तो वह भी मनुष्य और देवतायें भी मनुष्य। परन्तु देवताओं का पावन देश में पुनर्जन्म था।

सतयुग-त्रेता जैसे ईश्वर का घर है। स्वर्ग में आते हो तो अपने घर में आते हो। अब हो पराये घर रावण के घर में। तो बाप आकर तुमको रावण के घर से छुड़ाते हैं, लिबरेट करते हैं। आधा कल्प तो तुम माया के देश में पुनर्जन्म लेते रहते हो। सतयुग-त्रेता में तो राम राज्य अर्थात् ईश्वर का राज्य है क्योंकि ईश्वर ने स्थापन किया है। आधा कल्प वहाँ पुनर्जन्म लेते आये। आधा कल्प रावण के राज्य में पुनर्जन्म लिया। अब बच्चों को समझ पड़ी है कि हम किसके सामने बैठे हैं। यह टीचर भी है, सतगुरू भी है। तुम मातायें भी टीचर हो, सतगुरू भी हो। तुम भी पढ़ाती हो – मनुष्य से देवता बनाने लिए। अब तो तुम आसुरी सम्प्रदाय से दैवी सम्प्रदाय बन रहे हो। तुमको काँटों से फूल बनाने इस रथ पर बाप सवार हो आये हैं। यह तो बच्चों से मिलने और देशों में भी जाते हैं क्योंकि चैतन्य ज्ञान सागर है। जड़ सागर तो नहीं है जो डुबो दे। नहीं, यह चैतन्य है। गायन है – आत्मा परमात्मा अलग रहे… तो परमात्मा भी आते हैं। तो उनसे मिलने आत्मायें भी आती हैं। कहाँ-कहाँ से बच्चियाँ आती हैं। बाप भी चक्र लगाते हैं। भक्तों ने तो जहाँ-तहाँ मन्दिर बनाये हैं। जैसे क्राइस्ट के जड़ चित्र भी बनाते हैं। अब वह तो है देहधारी और जो भी हैं ब्रह्मा, विष्णु, शंकर देहधारी हैं। इन सबसे ऊंच ते ऊंच है भगवान, उनको अपना शरीर नहीं है। उनको तो सभी बाप कहेंगे। परमपिता गॉड फादर। उनको तो न स्थूल शरीर है, न सूक्ष्म शरीर है। आते भी हैं जरूर। कैसे आते हैं? यह सब भूल गये हैं। ऐसे तो नहीं कहेंगे कृष्ण पतित-पावन है। न कृष्ण के शरीर में आकर पावन बनाते हैं। तो श्रीकृष्ण भगवानुवाच राँग हो गया। कृष्ण के मुख द्वारा क्या रचे? क्या देवतायें? नहीं। पहले तो ब्राह्मण चाहिए। उसके लिए ब्रह्मा चाहिए। नहीं तो ब्रह्मा का आक्यूपेशन कहाँ? कृष्ण का नाम लगाने से ब्रह्मा की बायोग्राफी गुम हो जाती है। कृष्ण द्वारा सतयुग स्थापन किया तो ब्रह्मा का आक्यूपेशन ही गुम कर दिया। परन्तु तुम बच्चे जानते हो जो यहाँ आते हो, बाकी जो नहीं जानते वह समझेंगे कि यह भी एक सतसंग है जहाँ गीता सुनाते हैं। परन्तु यहाँ कौन सुनाते हैं – यह तुम बच्चे जानते हो। ज्ञान का सागर मोस्ट बिलवेड मात-पिता सुनाते हैं। कितना मीठा, कितना प्यारा है! तुम कोई मनुष्य को मीठा कह नहीं सकते क्योंकि सभी कड़ुवे विकारी हैं। बाप उनको पावन बना रहे हैं। तो ऊंच ते ऊंच है भगवान। उसके बाद जो भी मनुष्य होकर गये हैं, उसमें लक्ष्मी-नारायण और सीताराम। अब तो वह भी पतित हैं। जब तक बाप आकर पावन न बनाये तो सब पतित दु:खी रह जाते हैं। जैसे मनुष्य कहते हैं – कलियुग हजारों वर्ष का है, यह तो इम्पासिबुल है। महाभारी लड़ाई सामने खड़ी है, जिसमें मुक्ति-जीवन्मुक्ति के गेट्स खुलते हैं, तब तक कोई मुक्ति-जीवन्मुक्ति में जा नहीं सकते। सभी यहाँ भटकते रहते हैं। जैसे भूल-भुलैया है। सभी ठोकर खाते रहते हैं। दरवाजा मिलता नहीं। चाहते हैं मुक्ति-जीवन्मुक्ति के गेट में जायें। कोई मरता है तो भी कहते हैं स्वर्गवासी हुआ। परन्तु यह तो नर्क है। स्वर्ग में तब जा सकते हैं जब बाप आये, राजयोग सिखलाये, तब राजाई वा प्रजा पद पा सकते हैं। अब यह है कमाई। कहते हैं ना – इसने कौन-सी कमाई की जो यह इतना साहूकार बना। तो सतयुग के देवताओं ने कौन-सी कमाई और कब की जो यह ऐसे बनें? जरूर कलियुग के अन्त में की होगी तब सतयुग में बनें। अब तुम जानते हो हम ऐसी कमाई कर रहे हैं, जो स्वर्ग के मालिक बनेंगे। जरूर उसकी रिजल्ट तुम स्वर्ग में भोगेंगे। अब तुम कलियुग और सतयुग के संगम पर हो। उनको अलग युग कर दिया है। सारे कर्म-अकर्म-विकर्म की गति बाप समझाते हैं। कहते हैं – बच्चे, अब जो कर्म मैं तुमको सिखाता हूँ वही करो। इसको कलियुग नहीं कहेंगे, संगमयुग का किसको पता नहीं है। जब सतयुग से त्रेता होता है तब भी किसको पता नहीं पड़ता कि सतयुग-त्रेता का संगम पास हो रहा है। यह पीछे गाया जाता है कि सतयुग में फलाने राज्य करते थे, त्रेता में फलाने राज्य करते थे। द्वापर हुआ तो देवी-देवता वाम मार्ग में चले गये, यह सब अब तुमको पता पड़ता है। यह ज्ञान और कोई में नहीं है। तुम ही वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी पढ़ते हो। तुम्हारे पास एम आब्जेक्ट है। जो भी दुनिया में गीता पाठशालायें हैं वहाँ वेद-शास्त्र सुनाते हैं। एम आब्जेक्ट कोई नहीं है। स्कूल-कॉलेज को पाठशाला कहते हैं। वह पढ़ाई फिर भी सोर्स ऑफ इन्कम है। तो तुम्हारे पास एम ऑब्जेक्ट है कि इस पढ़ाई से पावन बन मुक्तिधाम में जायेंगे। फिर वहाँ से पार्ट बजाने सतयुग में आयेंगे। तुमको सतयुग से कलियुग तक कौन-सा पार्ट बजाना है – वह सारा पता है। तुम बादल यहाँ आये हो भरने के लिए। 21 जन्म के लिए सोर्स आफ इनकम बनाने। कितनी ऊंच पढ़ाई है तो पढ़ाने वाला भी ऊंच ते ऊंच भगवान एक है। बाकी तो सब हैं बहन-भाई। ब्रह्मा-सरस्वती, शंकर-पार्वती, विष्णु सब इनके बच्चे हैं। बच्चों को बच्चों से वर्सा नहीं मिलता है। वर्सा बाप से मिलता है। जो जैसा पुरुषार्थ करेंगे वैसा वर्सा मिलेगा। और पुरुषार्थ कितना सहज है। अच्छा, इतना ज्ञान नहीं सुना सकते तो तीन पैर पृथ्वी का लेकर छोटे कमरे में ही गीता पाठशाला खोल दो। बोर्ड में लिख दो – आकर बाप से 21 जन्मों के लिए वर्सा लो। छोटा बोर्ड ही लगाओ। उसमें लिखो कि 21 जन्मों के लिए स्वर्ग की बादशाही तुम्हारा ईश्वरीय जन्म सिद्ध अधिकार है। भल आकर पूछो। तुम जिसको मात-पिता कहते हो वह तो जरूर स्वर्ग का रचता है तो तुमको जरूर स्वर्ग का वर्सा मिलना चाहिए। वह कहते हैं निरन्तर मुझे याद करो और सबको भूलो। इनके साथ रहते हुए, सामने देखते हुए बुद्धि वहाँ लगानी है। बाबा का फरमान मिलता है तो सिर पर रखना चाहिए ना। बाप आर्डीनेन्स निकालते हैं – बच्चे, अब विष का धन्धा बन्द करो। और कोई से बात नहीं करते, बच्चों को ही समझाते हैं। बाहर वाला तो यहाँ सभा में कोई बैठ नहीं सकता। जब तक 7 रोज आकर न समझे। कहानी है ना इन्द्रप्रस्थ में पुखराज परी एक पतित मनुष्य को ले आई तो उनको सजा मिल गई। तो यह कायदा नहीं। जब तक 7 रोज भट्ठी में नहीं डाला है। भट्ठी में स्वच्छ होने बिगर बैठ नहीं सकते। हाँ, कोई बड़े मनुष्य मिलने को आते हैं, सुनते तो हैं ना सुबह का क्लास देखें, तो ऊपर से पूछ कर श्रीमत से बताते हैं। देखते हैं अच्छा है, उल्टा नहीं उठायेगा तो उनको थोड़ा पहले समझाया जाता है। फिर आने की छुट्टी देनी पड़ती है।

तुम सबको समझाओ कि यह हमारे मात-पिता हैं जिससे स्वर्ग के सुख मिलते हैं। यह बाप, टीचर, सतगुरू तीनों हैं। तुमको जैसे 3 इन्जन मिले हैं। इसी समय तीनों इकट्ठे मिलते हैं। वहाँ तो अलग-अलग मिलते हैं। पहले बाप फिर टीचर और वृद्ध अवस्था में गुरू करते हैं। तुम अब किसकी परवरिश के नीचे हो? शिवबाबा की क्योंकि तुम्हारे पास जो कुछ भी है वह शिवबाबा को अर्पण किया है। तुम्हारी परवरिश जैसेकि शिवबाबा के भण्डारे से होती है। तुमने अपना सब कुछ शिवबाबा को दान किया है। अब उनसे ही तुम पलते हो। कितना पवित्र अन्न मिलता है। ऐसे कभी होता नहीं जो कोई धर्म (दान) करे उससे ही उनकी परवरिश हो। वह तो जिसको दान करते वह खा जाता है। यहाँ तो तुम शिवबाबा को देते हो तो कितना पवित्र बन जाता है! इससे तुम्हारी ही परवरिश होती है। बाप कहते हैं घर में रहकर ऐसा समझो सब बाबा का है। ऐसे समझ खाते हो तो हू-ब-हू तुम शिव के भण्डारे से खाते हो। इसमें कोई ममत्व नहीं। बाप का समझते हो। बाप का दिया हुआ है। बाप को अर्पण किया हुआ है। उनके हुक्म से खा रहे हैं। भल बैठा घर में है परन्तु शिव के भण्डारे से खाते हैं। कहते हो ना तुम्हीं से खाऊं… तुम्हीं से घूमूं। बाबा-बाबा कहने से उनसे योग लगा रहेगा। एवरहेल्दी बन जायेंगे। यह है हेल्दी बनने की सेनेटोरियम। उस सेनेटोरियम में सारी आयु थोड़ेही रहते हैं। थोड़ा टाइम रहकर चले जाते हैं। यहाँ तो तुम बैठे हुए हो। एवरहेल्दी 21 जन्मों लिए बनते हो। यहाँ आते हो किसलिए? आधा कल्प लिए एवरहेल्दी, एवरवेल्दी, एवरहैप्पी बनने लिए। इस ख्यालात से आते हो ना। यहाँ हवा खाने लिए वा तीर्थ करने तो नहीं आते हो। यहाँ आते हो शिवबाबा पास। बाप भी आते हैं पराये देश, पराये तन में। गीता जो गाई हुई है, कुछ तो राइट होगा। आह्वान करते हैं – बाप के आने लिए। तो जरूर उनको पतित से पावन बनाने लिए आना पड़े। पतित तो नहीं परमधाम में उनके पास जायेंगे, पावन होने लिए। जा नहीं सकते। हरेक भक्त की आत्मा पुकारती है कि बाबा आओ। बाप कहते हैं मैं आता हूँ सबकी गति-सद्गति करने। सर्व के ऊपर दया करने वाला, सर्वोदया तो एक बाप है ना। कौन-सी दया करते हैं? श्रीमत देते हैं। श्रीमत तो मशहूर है। जिस पर चलने से श्रेष्ठ अर्थात् स्वर्ग के मालिक बनेंगे। फिर जो जितना डायरेक्शन पर चले। कोई तकलीफ तो नहीं देते – हठयोग करने अथवा तीर्थों पर धक्का खाने की। अमेरिका हो, फिलीपाइन हो…. कहाँ भी हो गृहस्थ व्यवहार में तो रहना चाहिए। परन्तु रहते हुए कमल पुष्प समान रहना है। जनक का मिसाल है। तुम्हारा है राजयोग। वह तो कहेंगे स्वर्ग के सुख तो काग विष्टा के समान हैं। परन्तु भारत का राजयोग तो मशहूर है। इसको कोई जानते नहीं। प्राचीन योग तो प्राचीन बाप ही सिखायेंगे। गीता वेद शास्त्र आदि सब भक्तिमार्ग की सामग्री है। झाड़ को पूरा होना ही है, फिर इसी झाड़ को सब्ज होना है। तो तुम आये हो मात-पिता पास रिफ्रेश होने और घड़ी-घड़ी आयेंगे क्योंकि सम्मुख मज़ा आता है। यहाँ सदा के लिए तो बैठ नहीं सकते। लॉ नहीं। अपना गृहस्थ व्यवहार भी सम्भालना है जरूर।

बाकी यह पाठशाला अजुन बहुत वृद्धि को पायेगी। यह विघ्न आदि न पड़ें तो यह बहुत बढ़ जायें इसलिए विघ्न पड़ते हैं। पाँच हजार इकट्ठे बैठ कैसे पढ़ेंगे इसलिए लिमिट है, जिनको बाप सम्मुख देख भी सके। बाप देखते तो आत्माओं को हैं ना। शरीर को नहीं देखते। जोर से देखेंगे तो उनको शरीर ही भूल जायेगा। चुम्बक है ना। तो जैसे अनकॉन्सेस होता जायेगा। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ऊंची मंजिल पर जाने के लिए बाप-टीचर-गुरू के रूप में हमें तीन इन्जन मिले हैं – सदा इसी स्मृति से आगे बढ़ना है।

2) बुद्धि से सब कुछ बाप हवाले कर उनकी परवरिश के नीचे पलना है। बहुत मीठा पावन बनना है। पतितपने का कड़ुवापन निकाल देना है

वरदान:- संगमयुग के इस नये युग में हर सेकण्ड नवीनता का अनुभव करने वाले फास्ट पुरुषार्थी भव
संगमयुग पर सब कुछ नया हो जाता है, इसलिए इसे नया युग भी कहते हैं। यहाँ उठना भी नया, बोलना भी नया, चलना भी नया। नया अर्थात् अलौकिक। स्मृति में भी नवीनता आ गई। बातें भी नई, मिलना भी नया, देखना भी नया। देखेंगे तो आत्मा, आत्मा को देखेंगे, शरीर को नहीं। भाई-भाई की दृष्टि से सम्पर्क में आयेंगे, दैहिक संबंध से नहीं। ऐसे हर सेकण्ड अपने में नवीनता का अनुभव करना, जो एक सेकण्ड पहले अवस्था थी वह दूसरे सेकण्ड नहीं, उससे आगे हो इसको ही फास्ट पुरुषार्थी कहा जाता है।
स्लोगन:- परमात्म प्यार द्वारा जीवन में सदा अतीन्द्रिय सुख व आनंद की अनुभूति करना ही सहजयोग है।

TODAY MURLI 12 June 2017 DAILY MURLI (English)

[wp_ad_camp_1]

 

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 11 June 2017 :- Click Here

12/06/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the multimillions you have here will not be of any use there. Everything is to turn to dust. Therefore, now earn a true income for the land of truth.
Question: Due to which aspect are you Brahmins considered to be more elevated than the deities?
Answer: You Brahmins now serve everyone spiritually. You enable souls to experience meeting the Father, the Supreme Soul. Deities do not do public service. There, as are the king and queen, so the subjects: they experience the reward of the efforts they made here. They do not do any service. This is why you Brahmin servers are more elevated than the deities.

 

Om shanti. Whose gathering is this? It is that of human souls and the Supreme Soul. Someone who has a body is said to be an embodied being, a human being, whereas the other is called the Supreme Soul. Human souls have been separated from the Supreme Soul for a long time, and this now is known as the auspicious meeting. You children know that the Supreme Father, the Supreme Soul, cannot be called a human soul because He takes a body on loan. He takes the support of a body. He Himself comes and says: Children, I also have to take the support of this matter. I do not enter a womb. I incarnate in this one and explain to you. You human souls have your own bodies; I do not have a body of My own, and so this is a unique gathering. It isn’t that we have a guru, disciples or followers. No, this is a school. It isn’t that when the guru leaves you would receive his throne. Here, there is no question of a throne. You children have faith about who is teaching you. No one without faith would come here. The clan of Brahmins is the clan of human souls because the Supreme Father, the Supreme Soul, creates Brahmins through Brahma. You know that you Brahmins are the most elevated, even more elevated than the deities. Deities do not do public service. There, as are the king and queen, so the subjects: they experience their reward according to the efforts they made. There, no one does service. It is Brahmins that do service. You children know that you are learning Raja Yoga from the unlimited Father exactly as you did 5000 years ago. You are children; it isn’t a question of followers. The Father repeatedly calls you ‘children’ and explains to you. You have now become soul conscious. Souls are imperishable, whereas bodies are perishable. The body is called the clothing. This is dirty impure clothing because the soul has been following devilish dictates and indulging in sin and has therefore become impure. The words ‘pure’ and ‘impure’ are specially connected with the vices. The Father says: Do not become impure any more. At the moment, everyone is trapped in the chains of Ravan because this is the kingdom of Ravan. Therefore, the Father liberates you from the kingdom of Ravan and sends you into the kingdom of Rama. They say: God , the Father , is the Liberator. He says: I liberate everyone from sorrow and take them back to the land of peace. Having been there, you children then have to come down and repeat your part s afresh. First, the deities have to repeat their part s. They were the first ones. The original eternal deity religion is once again being established through Brahma. Destruction of the iron age is just ahead. Everyone is in extreme darkness. Many have become millionaires and multimillionaires, but this is the great pomp of Ravan by which they are tempted. The Father explains: That is a false income which is to turn to dust. They will not gain anything. You have come to claim the inheritance for your future 21 births from the Father. This is the true income for the land of truth. Everyone has to go back home. Everyone is in the stage of retirement. The Father says: I am the Satguru, the Bestower of Salvation for all. I uplift the sages and impure ones. Even small children are taught to remember Shiv Baba. You can throw away the rest of the pictures: only one Shiv Baba and none other! You know that you have once again come to claim the inheritance of unlimited happiness from the Father. You have been claiming limited inheritances from limited fathers for birth after birth and you have been becoming impure by following the devilish dictates of Ravan. People do not understand these things. They burn an effigy of Ravan, and so he should be destroyed after he has been burnt. When they burn human bodies, all traces of their names and forms are wiped out, but the name and form of Ravan do not disappear; they burn his effigy again and again. The Father says: These five vices are Ravan. They are your enemies for 63 births. An enemy of Bharat means your enemy. You fell into the jail of Ravan when you started following the path of sin. For precisely half a cycle, it is the kingdom of Ravan. Ravan is not burnt away, nor does he die. Now, you know that you have experienced a lot of sorrow in the kingdom of Ravan. This is a play of sorrow and happiness. It is sung: If you are defeated by Maya, you are defeated by everything, and if you conquer Maya you are able to conquer everything. We are once again conquering Maya and claiming the kingdom of Rama. The kingdom of Rama and Sita is in the silver age; the golden age is the kingdom of Lakshmi and Narayan. There, it is only the original eternal deity religion. That is called the Godly kingdom established by the Father. You cannot call the Father omnipresent because it is a brotherhood. There is only the one Father and you are all brothers. The Father sits here and teaches souls. The Father’s order is: Remember Me! I have come to give the fruit of devotion. To whom? To those who have performed devotion from the beginning to the end. At first, you only perform devotion of one Shiv Baba. How great the Temple of Somnath is (the Lord of Nectar)! You should think about how wealthy you were and how you have now become poor, worth shells. You now have the awareness of 84 births. It has now entered your consciousness what you have become from what you were. The words ‘embodiment of awareness’ refer to this time. This does not mean that God came and spoke the Gita in Sanskrit. If it were in Sanskrit, you children would not understand anything. The main language is Hindi. Everything is explained to you in the language that is Brahma’s language. Every cycle He explains in the same language. You know that you are sitting in front of BapDada. This family is just of Mama, Baba and the brothers and sisters, that’s all. There are no other relationships. The relationship of brother and sister is only when you belong to Prajapita Brahma. In terms of souls, all are brothers. You are receiving the inheritance from the Father. The soul knows that his Father has come. You were the masters of Brahmand; the Father is also the Master of Brahmand. Just as souls are incorporeal, in the same way, the Supreme Soul is also incorporeal. His name is the Supreme Father, the Supreme Soul, that is, the Soul that lives in the region far beyond. “Supreme Soul” means God. You receive the inheritance from the Father. There are no sages, saints or mahatmas here; all are children. They are claiming the unlimited inheritance from the Father. No one else can give the inheritance. The Father is the One who establishes the golden age. He constantly only gives happiness. It is not that He gives both happiness and sorrow; that is not the law. The Father Himself explains: I inspire you to make effort to become deities for 21 births. Therefore, He is the Bestower of Happiness. He is the Bestower of Happiness and the Remover of Sorrow. You now know who causes you sorrow. It is Ravan. This is called the vicious world. Males and females are both vicious. In the golden age, both were viceless. It was the kingdom of Lakshmi and Narayan. The kingdom is ruled lawfully. The elements work under your orders. There, there are no calamities. You children have had visions of establishment. Destruction definitely has to take place. On the day of Holi they make idols and fancy images and ask each other: What will emerge out of this one’s stomach? Then they reply: Missiles! You know what is right. Their science is so powerful. It is the work of the intellect. There is so much arrogance of science. They make aeroplanes and so many other things etc. for happiness, but they will be led to destruction through them. In the end, they will destroy their own clan. You are incognito. You do not have a war with anyone. You do not cause sorrow for anyone. The Father says: You must not cause sorrow for anyone through your mind, words or deeds. Does the Father ever cause sorrow for anyone? He makes you into the masters of the land of happiness, and so you must give happiness to everyone. Baba has explained: If anyone says anything to you, just remain peaceful and cheerful. Stay in yoga and keep smiling, and with your power of yoga they will become quiet as well. The behaviour of the teachers in particular should be very good; there shouldn’t be dislike for anyone. The Father says: I do not have dislike for anyone. I know that you are impure but the drama is made like that. I know what such and such a person’s activity is like and that his food and drink are impure. He just eats whatever is put in front of him. Everyone loves l i fe. I also love life. You know that through this life you have to claim your inheritance from Baba. By staying in yoga, your lifespan will increase and there will be fewer sinful actions and the lifespan of your future 21 births will then increase. The efforts through which a reward is received are made now. Through the power of yoga we become healthy and through knowledge we become wealthy. When there is health and wealth, there is happiness. If you have w ealth but no h ealth, there cannot be happiness. There are many kings who are very wealthy but are crippled. It can be understood that they must have performed some sinful action and that that is the fruit of it. The Father tells you many things, but it should not be that what you hear here is left behind as soon as you go outside. You have to imbibe knowledge. Even if you cannot remember anything else, remember Shiv Baba. Praise Him internally in a very incognito way: Baba, it never even entered my mind or my consciousness that You would come and teach us. It is not mentioned in any scriptures that the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, comes to teach us. Baba, now we know. Instead of the Father’s name, they have inserted the name of Krishna and made the Gita false. It cannot be the divine activities of Krishna. The Gita is the scripture of the confluence age, but they have made it belong to the copper age. The Father says: Children, renounce everything else and pay attention to your studies. If you do not stay in remembrance and do not remain engrossed in your studies, then it is a waste of time. Your time is most valuable, and so you should not waste it. You have to earn your livelihood, but you should not waste time in wasteful thoughts. Every second of yours is as valuable as a diamond. The Father says: Manmanabhav! Time spent in that brings benefit, whereas anything else is a waste of time. Keep a chart and see how much time you waste. It is only one word: Manmanabhav. For half a cycle you have a life of liberation and for half a cycle you have a life of bondage. You came into the satopradhan stage, then sato, and rajo and then tamo. We are becoming liberated in life. The One who is making us this is the Father. Everyone receives liberation in life. According to their own religion, they will experience happiness at first and then sorrow. New souls that come down first experience happiness. Some are praised very much and they have strength because they are new souls. Music of happiness should be playing inside you. We are sitting in front of BapDada. A new creation is being created. Your praise of this time is even greater than the praise of the golden age. Jagadamba and the goddesses existed at the confluence age. The Brahmins also existed then. You know that you are Brahmins at the moment and that you will then become deities, worthy of being worshipped. Temples in memory of you will be built. You become living deities; they are non-living images. Ask them: How did this one become a deity? If someone comes to speak to you, explain: We were Brahmins and then we became deities. You are in the living form. You explain: This knowledge is first-class. You are bringing about establishment. Children say: We will not settle for anything less than the status of Lakshmi and Narayan; we will claim a full inheritance. This school is such that everyone says: We have come to study ancient Raja Yoga. You become deities through yoga. You have now become Brahmins from shudras and you will then become deities from Brahmins. The main aspect is remembrance. It is only in remembrance that Maya creates obstacles. Although you try very hard, the intellect still wanders here and there. All the effort is in this. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a bestower of happiness like the Father. Do not cause sorrow for anyone through your throughts, words or deeds. Let your consciousness be filled with peace and always remain cheerful.
  2. Do not waste your time in wasteful thoughts. Praise the Father internally.
Blessing: May you be a fearless trustee and die to the old world by finishing all the consciousness of “mine”.
People are afraid of dying whereas you have already died. You are living in the new world and have died to the old world, and so how can those who have already died be afraid of dying? They would naturally be fearless. However, if there is any consciousness of “mine” then Maya, the cat, will meow. People are worried about dying, about their possessions and about their family, whereas you are trustees. Even those bodies are not yours and so you are detached. There isn’t the slightest attachment to anyone.
Slogan: Make your heart so unlimited that no limited sanskars emerge even in your dreams.

*** Om Shanti ***

 

[wp_ad_camp_5]

 

Read Murli 10 June 2017 :- Click Here

Read Murli 9 June 2017 :- Click Here

Daily Murli Brahma Kumaris 12 June 2017 – Bk Murli Hindi

[wp_ad_camp_5]

 

Read Daily Murli 11 June 2017 :- Click Here

12/06/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – यहाँ के करोड़ अरब तुम्हारे काम नहीं आने हैं, सब मिट्टी में मिल जायेगा, इसलिए तुम अब सचखण्ड के लिए सच्ची कमाई करो”
प्रश्नः- किस एक बात के कारण तुम ब्राह्मण देवताओं से भी ऊंच माने जाते हो?
उत्तर:- हम ब्राह्मण अभी सर्व की रूहानी सेवा करते हैं। हम सभी आत्माओं का मिलन परमात्मा बाप से कराते हैं। यह पब्लिक सेवा देवतायें नहीं करते। वहाँ तो राजा-रानी तथा प्रजा हैं, जो यहाँ का पुरुषार्थ किया है उसकी प्रालब्ध भोगते हैं। सेवा नहीं करते इसलिए तुम सेवाधारी ब्राह्मण देवताओं से भी ऊंचे हो।

ओम् शान्ति। यह किसकी सभा लगी हुई है? जीव आत्माओं और परमात्मा की। जिनको शरीर है उनको कहा जाता है जीव आत्मा, वो मनुष्य हुए और उन्हें परमात्मा कहते हैं। जीव आत्मायें और परमात्मा अलग रहे बहुकाल…… इसको मंगल मिलन कहा जाता है। बच्चे जानते हैं परमपिता परमात्मा को जीव आत्मा नहीं कह सकते क्योंकि वो लोन लेते हैं। तन का आधार लेते हैं। खुद आकर कहते हैं बच्चे मुझे भी इस प्रकृति का आधार लेना पड़ता है। मैं गर्भ में तो जाता नहीं हूँ। मैं इसमें प्रवेश कर तुमको समझाता हूँ। तुम जीव आत्माओं को तो अपना-अपना शरीर है। मेरा अपना शरीर नहीं है। तो यह न्यारी सभा हुई ना। ऐसे नहीं कि यहाँ कोई गुरू चेले वा शिष्य बैठे हैं। नहीं, यह तो स्कूल है। ऐसे नहीं कि गुरू के पीछे गद्दी मिलनी है। गद्दी की बात नहीं। बच्चों को निश्चय है कि हमें कौन पढ़ाते हैं। बिगर निश्चय कोई भी नहीं आ सकता। जीव आत्माओं का वर्ण है ब्राह्मण वर्ण क्योंकि ब्रह्मा द्वारा परमपिता परमात्मा रचना रचते हैं। तुम जानते हो हम ब्राह्मण हैं सबसे सर्वोत्तम, देवताओं से भी उत्तम। देवतायें कोई पब्लिक सेवा नहीं करते हैं। वहाँ तो यथा राजा रानी तथा प्रजा हैं, जो अपना पुरूषार्थ किया हुआ है उस अनुसार अपनी प्रालब्ध भोगते हैं। सेवा कोई नहीं करते हैं। ब्राह्मण सेवा करते हैं। बच्चे जानते हैं हम बेहद के बाप से हूबहू पाँच हजार वर्ष पहले मुआफिक राजयोग सीख रहे हैं। तुम बच्चे ठहरे। यहाँ चेले-चाटी की बात नहीं। बाप घड़ी-घड़ी बच्चे-बच्चे कहकर समझाते हैं। तुम अभी आत्म-अभिमानी बने हो। आत्मा अविनाशी है, शरीर विनाशी है। शरीर को कपड़ा कहा जाता है। यह मूत पलीती कपड़ा है क्योंकि आत्मा आसुरी मत पर विकारों में जाती है। पतित बनती है। पावन और पतित अक्षर निकलता ही है विकार से। बाप कहते हैं अब ज्यादा पतित मत बनो। अभी सब रावण की जंजीरों में फंसे हुए हैं क्योंकि यह है रावणराज्य। तो बाप तुम्हें रावण राज्य से लिबरेट कर रामराज्य में ले जाते हैं। गॉड फादर इज लिबरेटर, कहते हैं मैं सबको दु:ख से छुड़ाए वापिस शान्तिधाम में ले जाता हूँ। वहाँ जाकर फिर नयेसिर आए बच्चों को अपना पार्ट रिपीट करना है। पहले-पहले पार्ट रिपीट करना है देवताओं को। वही पहले थे। अब गोया ब्रह्मा द्वारा आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना होती है। कलियुग का विनाश सामने खड़ा है। बड़े अन्धेरे में पड़े हैं। भल पदमपति, करोड़पति हो गये हैं। रावण का बड़ा पाम्प है, इसमें ही ललचायमान हो गये हैं। बाप समझाते हैं यह झूठी कमाई है, जो सारी मिट्टी में मिल जायेगी। उन्हों को हाँसिल कुछ भी नहीं होना है। तुम तो भविष्य 21जन्मों के लिए बाप से वर्सा लेने आये हो। यह है सचखण्ड के लिए सच्ची कमाई। सबको वापिस जाना ही है। सबकी वानप्रस्थ अवस्था है। बाप कहते हैं सबका सद्गति दाता सतगुरू मैं हूँ। साधुओं का, पतितों का सबका उद्धार मैं करता हूँ। छोटे बच्चों को भी सिखाया जाता है कि शिवबाबा को याद करो। बाकी और सब चित्र आदि उड़ा दो। एक शिवबाबा दूसरा न कोई।

तुम जानते हो हम बाप से फिर से बेहद सुख का वर्सा लेने आये हैं। हद के बाप से हद का वर्सा तो जन्म-जन्मान्तर लिया है, रावण की आसुरी मत पर पतित बनते आये। मनुष्य इन बातों को समझते नहीं हैं। रावण को जलाते हैं तो जलकर खत्म हो जाना चाहिए ना! मनुष्य को जलाते हैं तो उनका नाम रूप सब खत्म हो जाता है। रावण का नाम रूप तो गुम होता ही नहीं है, फिर-फिर जलाते रहते हैं। बाप कहते हैं यह 5 विकार रूपी रावण तुम्हारा 63 जन्मों का दुश्मन है। भारत का दुश्मन माना हमारा हुआ। जब वाम मार्ग में आये तब रावण की जेल में पड़े। बरोबर आधाकल्प से रावणराज्य है। रावण जलता ही नहीं, मरता ही नहीं। अभी तुम जानते हो रावण के राज्य में हम बहुत दु:खी हुए हैं। सुख और दु:ख का यह खेल है। गाया भी जाता है माया से हारे हार, माया से जीते जीत.. अब माया को जीत कर हम फिर राम राज्य लेते हैं। राम सीता का राज्य तो त्रेता में है। सतयुग में है लक्ष्मी-नारायण का राज्य। वहाँ तो है ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म, उनको ईश्वरीय राज्य कहेंगे, जो बाप ने स्थापन किया है। बाप को कभी सर्वव्यापी नहीं कह सकते हैं। ब्रदरहुड है। बाप एक है तुम सब आपस में भाई-भाई हो। बाप बैठ आत्माओं को पढ़ाते हैं। बाप का फरमान है कि मुझे याद करो। मैं आया हूँ भक्ति का फल देने। किसको? जिन्होंने शुरू से लेकर अन्त तक भक्ति की है। पहले-पहले तुम एक शिवबाबा की भक्ति करते थे। सोमनाथ का मन्दिर कितना जबरदस्त है। विचार करना चाहिए कि हम कितने साहूकार थे। अभी गरीब कौड़ी मिसल बन गये हैं। अभी तुमको 84 जन्मों की स्मृति आई है। अभी तुम जानते हो कि हम क्या से क्या बने हैं।

अभी तुमको स्मृति आई है। स्मृतिर्लब्धा अक्षर भी अभी का है, इसका मतलब यह नहीं समझना चाहिए कि भगवान ने आकर संस्कृत में गीता सुनाई है। संस्कृत होती तो तुम बच्चे कुछ नहीं समझते। हिन्दी भाषा ही मुख्य है। जो इस ब्रह्मा की भाषा है, उस भाषा में ही समझा रहे हैं। कल्प-कल्प इसी ही भाषा में समझाते हैं। तुम जानते हो हम बापदादा के सामने बैठे हैं। यह घर है – मम्मा बाबा, बहन और भाई। बस और कोई सम्बन्ध नहीं। भाई बहिन का सम्बन्ध तब है जब प्रजापिता ब्रह्मा के बने हो। नहीं तो आत्मा के सम्बन्ध से तो भाई-भाई हैं। बाप से वर्सा मिल रहा है। आत्मा जानती है हमारा बाबा आया हुआ है। तुम ब्रह्माण्ड के मालिक थे। बाप भी ब्रह्माण्ड का मालिक है ना! जैसे आत्मा निराकार है, वैसे परमात्मा भी निराकार है। नाम ही है परमपिता परमात्मा अर्थात् परे ते परे रहने वाली आत्मा। परम आत्मा का अर्थ है परमात्मा। पिता से वर्सा मिलता है। यहाँ कोई साधू-सन्त महात्मा नहीं। बच्चे हैं, बाप से बेहद का वर्सा ले रहे हैं और कोई वर्सा दे न सके। बाप है सतयुग की स्थापना करने वाला। बाप सदैव सुख ही देते हैं। ऐसे नहीं कि सुख दु:ख बाप ही देते हैं। ऐसा लॉ नहीं है। बाप स्वयं बताते हैं मैं तुम बच्चों को पुरुषार्थ कराता हूँ, 21 जन्मों के लिए सो देवता बनो। तो सुख दाता हुआ ना, दु:ख हर्ता सुख कर्ता। अभी तुम जानते हो दु:ख कौन देते हैं? रावण। इसको कहा जाता है विकारी दुनिया। स्त्री पुरुष दोनों विकारी हैं। सतयुग में दोनों निर्विकारी थे। लक्ष्मी-नारायण का राज्य था ना। वहाँ कायदे से राज्य चलता है। प्रकृति तुम्हारे आर्डर में चलती है। वहाँ कोई उपद्रव हो नहीं सकता। तुम बच्चों ने स्थापना के साक्षात्कार किये हैं। विनाश भी होना है जरूर, होलिका में सांग बनाते हैं ना। पूछते हैं – इनके पेट से क्या निकलेगा? तो कहा मूसल। राइट बात तो तुम जानते हो। साइन्स उन्हों की कितनी तेज है। बुद्धि का काम है ना? साइंस का कितना घमण्ड है। कितनी चीज़ें एरोप्लेन आदि बनाते हैं सुख के लिए। फिर इन चीज़ों से विनाश भी करेंगे। पिछाड़ी में अपने कुल का ही विनाश करेंगे। तुम तो हो ही गुप्त। तुम कोई से लड़ाई लड़ने वाले नहीं हो, किसको दु:ख नहीं देते हो। बाबा कहते हैं मन्सा-वाचा-कर्मणा कोई को दु:ख नहीं देना है। बाप कभी किसको दु:ख देते हैं? सुखधाम का मालिक बनाते हैं। तुम भी सबको सुख दो। बाबा ने समझाया है – कोई कुछ भी कहे, शान्त में हर्षितमुख रहना चाहिए। योग में रह मुस्कराते रहना चाहिए। तुम्हारे योगबल से वह भी शान्त हो जायेंगे। खास करके टीचर की चलन बड़ी अच्छी चाहिए। कोई से भी घृणा न रहे। बाप कहते हैं मुझे थोड़ेही किसी से घृणा है। जानते हैं सब पतित हैं, यह ड्रामा बना हुआ है। जानता हूँ इनकी चलन ही ऐसी है। खान-पान कितना मलेच्छ का है, जो आता वह खाते रहते हैं। लाइफ सबको प्यारी लगती है। लाइफ हमको भी बहुत प्यारी लगती है। जानते हैं इससे हमको बाबा से वर्सा पाना है। योग में रहने से तुम्हारी आयु बढ़ेगी, विकर्म कम होंगे। भविष्य 21 जन्मों के लिए आयु बड़ी हो जायेगी। पुरुषार्थ अभी का है जिससे फिर प्रालब्ध बनती है। योगबल से हम हेल्दी बनते हैं, ज्ञान से वेल्दी। हेल्थ वेल्थ है तो सुख है। सिर्फ वेल्थ है हेल्थ नहीं तो भी सुख नहीं रह सकता। ऐसे बहुत राजायें, बड़े-बड़े साहूकार हैं, परन्तु लंगड़े, बीमार। उनको कहा जाता है ऐसे विकर्म किये हैं जिसका फल मिला है। बाप तुमको सुनाते तो बहुत हैं, ऐसे नहीं बाहर जाने से यहाँ का यहाँ रह जाये। यह तो नहीं होना चाहिए ना। धारणा करनी है और कुछ याद न पड़े, अच्छा शिवबाबा को याद करो। अन्दर बड़ी गुप्त महिमा करनी है। बाबा यह मन-चित्त में भी नहीं था कि आप आकर पढ़ायेंगे! यह बात कोई शास्त्रों में भी नहीं है कि निराकार परमपिता परमात्मा आकर पढ़ाते हैं। बाबा अब हम जान गये। बाप के बदले कृष्ण का नाम डालने से गीता खण्डन हो गई। कृष्ण के तो चरित्र हो न सकें। गीता है इस संगम का शास्त्र। उन्होंने फिर द्वापर में दिखा दिया है। तो बाप कहते हैं कि बच्चे और सब बातों को छोड़ पढ़ाई पर ध्यान रखना है। बाप की याद न रहे, पढ़ाई में मस्त न रहे तो टाइम वेस्ट हो जायेगा। तुम्हारा टाइम मोस्ट वैल्युबुल है, इसलिए वेस्ट नहीं करना चाहिए। शरीर निर्वाह भल करो। बाकी फालतू ख्यालातों में टाइम नहीं गंवाना चाहिए। तुम्हारा सेकेण्ड-सेकेण्ड हीरे जैसा वैल्युबुल है। बाप कहते हैं मनमनाभव। बस वही टाइम फायदे वाला है, बाकी टाइम वेस्ट जाता है। चार्ट रखो कि हम कितना समय वेस्ट गंवाते हैं? अक्षर ही एक है मनमनाभव। आधाकल्प जीवनमुक्ति थी फिर आधाकल्प जीवनबंध में आये। सतोप्रधान सतो रजो तमो में आये फिर हम जीवनमुक्त बन रहे हैं। बनाने वाला बाप ही है। सबको जीवनमुक्ति मिलती है। अपने-अपने धर्म अनुसार पहले-पहले सुख देखेंगे फिर दु:ख। नई आत्मायें जो पहले आती हैं, वह सुख भोगती हैं। कोई की महिमा निकलती है क्योंकि नई सोल होने के कारण ताकत रहती है। तुम्हारे अन्दर खुशी के बाजे बजने चाहिए। हम बापदादा के सामने बैठे हैं। अब नई रचना हो रही है। तुम्हारी इस समय की महिमा सतयुग से भी बहुत बड़ी है। जगत अम्बा, देवियाँ सब संगम में थी। ब्राह्मण थे। तुम जानते हो अभी हम ब्राह्मण हैं फिर देवता पूज्यनीय लायक बनेंगे। फिर तुम्हारे यादगार मन्दिर बन जाते हैं। तुम चैतन्य देवियाँ बनती हो। वह तो जड़ हैं। उनसे पूछो यह देवी कैसे बनी? अगर कोई बात करे तो समझाओ कि हम सो ब्राह्मण थे फिर हम सो देवता बनते हैं। तुम चैतन्य में हो। तुम बतलाते हो यह नॉलेज कितनी फर्स्टक्लास है। बरोबर तुम स्थापना कर रहे हो। बच्चे कहते हैं बाबा हम लक्ष्मी-नारायण से कम पद नहीं लेंगे। हम तो पूरा वर्सा लेंगे। यह स्कूल ही ऐसा है। सब कहेंगे हम आये हैं प्राचीन राजयोग सीखने लिए। योग से देवी-देवता बनते हैं। अभी तो शूद्र से ब्राह्मण बने हो। फिर ब्राह्मण से देवता बनेंगे। मूल बात ही है याद की। याद में ही माया विघ्न डालती है। तुम बहुत कोशिश करेंगे, फिर भी बुद्धि कहाँ न कहाँ चली जायेगी। इसमें ही सारी मेहनत है। अच्छा –

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप समान सुखदाता बनना है। मन्सा-वाचा-कर्मणा किसी को भी दु:ख नहीं देना है। सदा शान्तचित्त और हर्षितमुख रहना है।

2) फालतू ख्यालातों में टाइम वेस्ट नहीं करना है। बाप की अन्दर से महिमा करनी है।

वरदान:- मेरे-मेरे को समाप्त कर पुरानी दुनिया से मरने वाले निर्भय व ट्रस्ट्री भव
लोग मरने से ड़रते हैं और आप तो हो ही मरे हुए। नई दुनिया में जीते हो, पुरानी दुनिया से मरे हुए हो तो मरे हुए को मरने से क्या डर, वे तो स्वत: निर्भय होंगे ही। लेकिन यदि कोई भी मेरा-मेरा होगा तो माया बिल्ली म्याऊं-म्याऊं करेगी। लोगों को मरने का, चीज़ों का या परिवार का फिक्र होता है, आप ट्रस्टी हो, यह शरीर भी मेरा नहीं, इसलिए न्यारे हो, जरा भी किसी में लगाव नहीं।
स्लोगन:- अपनी दिल को ऐसा विशाल बनाओ जो स्वप्न में भी हद के संस्कार इमर्ज न हों।

 

[wp_ad_camp_5]

 

Read Murli 10 June 2017 :- Click Here

Read Murli 9 June 2017 :-  Click Here

Font Resize