today murli 12 december

TODAY MURLI 12 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 12 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 11 December 2018 :- Click Here

12/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, nothing here except Shiv Baba belongs to you. Therefore, go beyond even the consciousness of the body. Become as empty as a beggar. It is a beggar that will become a prince.
Question: Which thoughts do you stop having when you have accurate knowledge of the drama?
Answer: “Why has this sickness come?” “If I hadn’t done that, this would not have happened.” “Why has this obstacle come?” “Why has this bondage come?” All of these thoughts end when you have accurate knowledge of the drama, because whatever had to happen according to the drama had to take place. It also happened a cycle ago. This is an old body and so there will be many patches. This is why there should not be any unnecessary thoughts.
Song: We have to follow that path where we may fall and rise. So we have to be careful.… 

Om shanti. You have to follow that path. Which path? Who shows you the path? You children understand whose advice you are following. Call it advice or the path or shrimat, it is the same thing. You now have to follow shrimat, but whose shrimat? It has been written: Shrimad Bhagawad Gita. Therefore, our intellect’s yoga would surely be drawn to shrimat. Now, in whose remembrance are you children sitting? If you say: “Shri Krishna’s”, then you have to remember him there. Do you children remember Shri Krishna or not? Do you remember him in his form of the inheritance? You understand that you are to become princes. It is not that you become Lakshmi or Narayan at the moment of birth. We definitely remember Shiv Baba because He gives shrimat. Those who say “God Krishna speaks” will remember Krishna. If Krishna is remembered, where should he be remembered? He is remembered in heaven. Therefore, Krishna cannot use the word ‘Manmanabhav’. He can say ‘Madhyajibhav’ (see the one in the middle -Vishnu). He cannot say, “Remember me” because he is in heaven. The world does not know these things. The Father says: Children, all of those scriptures belong to the path of devotion. The Gita is included with all the religious scriptures. The Gita is definitely the religious scripture of Bharat. In fact, it is the scripture of everyone. It has been said that the Gita is the highest scripture, the jewel of all scriptures, which means it is the most elevated. Shiv Baba is the most elevated of all. He is Shri, Shri, the most elevated of all. Krishna cannot be called Shri Shri. ‘Shri Shri Krishna’ or ‘Shri Shri Rama’ cannot be said; they can only be called Shri. The One who is the most elevated of all comes and once again makes you elevated. God is the most elevated of all. Shri Shri means the One who is the most elevated of all. The names of those who are elevated are famous. Surely, the deities are called the most elevated ones, but they do not exist at the moment. Who is considered to be elevated nowadays? Leaders of today etc. are given so much respect. However, they cannot be called Shri. The word ‘Shri’ cannot be applied to the mahatmas either. You are now receiving knowledge from Supreme Soul, the One who is the Highest on High. The highest of all is the Supreme Father, the Supreme Soul. Then, there is His creation. Among that creation, Brahma, Vishnu and Shankar are the highest of all. Here, too, status is numberwise. The highest of all is the P resident, then the Prime Minister and then the Union Minister. The Father sits here and explains the secret of the beginning, the middle and the end of the world. God is the Creator. When you use the word ‘Creator’ people ask: How was the world created? This is why you definitely need to say that Trimurti Shiva is the Creator. In fact, instead of using the word ‘Creator’ it is better to say, “The One who inspires creation”. He inspires the establishment of the Brahmin clan through Brahma. What is established through Brahma? The deity community. Shiv Baba says: You are now the Brahmin community that belongs to Brahma. The other is the devilish community. You are the Godly community who will later become the deity community. The Father explains the essence of all the Vedas and scriptures through Brahma. Human beings are very confused and continue to beat their heads so much. They say that there should be birth control. The Father says: I come and do this service for Bharat. Here, human beings are tamopradhan. They give birth to 10 to 12 children. The tree definitely has to grow. Leaves will continue to emerge. No one can control this. There is control in the golden age. There is one son and one daughter, that’s all. Only you children understand these aspects. As you go further, more will come and they will continue to understand. It has been remembered that if you want to know about supersensuous joy, ask the gopes and the gopis. When you listen to Baba personally here, you experience happiness. Then, when you get involved with your business etc. you don’t experience as much happiness. Here, you are made trikaldarshi (seers of the three aspects of time). Those who are trikaldarshi are also called spinners of the discus of self-realisation. Human beings say that such-and-such a mahatma was trikaldarshi. You say that the masters of heaven, Radha and Krishna, did not have knowledge of the discus of self-realisation or the three aspects of time. Krishna, the one who is loved by all, is the first prince of the golden age. However, because of not understanding this, people say “You do not accept Shri Krishna as God and you are therefore atheists.” Then they create obstacles. There will be obstacles in this eternal sacrificial fire of knowledge. The kanyas (kumaris) and mothers also experience obstacles. Those who are in bondage have to tolerate a great deal, and so they should understand that, according to the drama , this is their part . When obstacles come, don’t have such thoughts as, “If I hadn’t done that, this would never have happened.” “If I had not done that, I would not have had a fever.” You cannot say these things now. According to the drama you did that, and you also did it in the previous cycle; this is why there is some difficulty. There will definitely be patching up of this old body. Repairs will continue to take place until the end. This is also the old home of the soul. The soul says: I too have become very old; I have no strength left. By having no strength, a weak person experiences sorrow. Maya causes a great deal of sorrow for those who are weak. Maya has definitely made us people of Bharat very weak. We were full of strength and then Maya made us weak. Now, when you try to conquer Maya, she becomes your enemy. It is Bharat that receives the most sorrow. Bharat is in debt to everyone. Bharat has become completely old. It used to be very wealthy, but it has now become a beggar. From a beggar it has to become a prince. Baba says: Go beyond the consciousness of your body and become empty. Nothing here belongs to you except one Shiv Baba and none other. Therefore, you have to become complete beggars. You are being shown many wise methods. There is also the example of Janak. While living at home with your family, remain as pure as a lotus flower and follow shrimat. You have to surrender everything. Janak gave everything, and then he was told to look after his own property and live as a trustee. There is also the example of Harish Chandra. The Father explains: Children, if you don’t sow a seed for yourself, your status will be reduced. Follow the father; this Dada is in front of you. He made Shiv Baba and the Shiv Shaktis complete trustees. However, Shiv Baba will not sit and look after anything. He will not surrender to Himself. He has to surrender Himself to the mothers. It is the mothers who have to be placed in front. The Father comes and gives the urn of the nectar of knowledge to the mothers to enable them to change humans into deities. It was not given to Lakshmi. At this time, she is Jagadamba. In the golden age, she will be Lakshmi. There is a very beautiful song about Jagadamba. People believe in her a great deal. How is she the bestower of fortune? From where does she receive her wealth? Was it from Brahma? Was it from Krishna? No. Wealth is received from the Ocean of Knowledge. These are very incognito things. God’s versions are for everyone. God belongs to everyone. He says to those of all religions: Remember Me alone. Although there are many worshippers of Shiva, they don’t know anything. Therefore, that is devotion. Who is now giving you knowledge? The most beloved Father. Krishna would not be called this. He is called the prince of the golden age. Although people worship Krishna, they don’t think about how he became the prince of the golden age. Previously, we too didn’t know. You children now know that you will once again definitely become princes and princesses. Only then, when you grow older, will you become worthy of marrying Lakshmi or Narayan. This knowle dge is for the future. You receive the fruit of this for 21 births. It cannot be said that Krishna gives the inheritance. The inheritance is received from the Father. Shiv Baba teaches Raja Yoga. Thousands of Brahmins take birth through the mouth of Brahma. They are the ones who receive these teachings. Only you are the Brahmins of the confluence age of the cycle, whereas the rest of the world belong to the iron age. They all say that they are now in the iron age and you say that you are at the confluence age. These aspects are not mentioned anywhere. Keep these new things in your heart. The main thing is to remember the Father and the inheritance. If you do not remain pure, you will never be able to have yoga; the law says this. Therefore, you will not claim a high status either. By having even a little yoga, you will go to heaven. The Father says: If you do not become pure, you will not be able to come to Me. Even if you stay at home, you will still be able to go to heaven and claim a good status, but only if you stay in yoga and remain pure. Without purity, you will not be able to have yoga. Maya will not allow you to have yoga. The Lord is pleased with those who have an honest heart. Those who continue to indulge in vice and say “I remember Shiv Baba” are only pleasing their own heart. The main thing is purity. People say: There should be birth contro l Do not give birth to any more children. This is the tamopradhan world. Baba is now making birth control possible. All of you are kumars and kumaris, and so there is no question of vice. Here, the daughters have to tolerate so much because of vice. Baba says: You must take great precautions. Is there anyone here who drinks alcohol? The Father is asking you children. If you tell lies, there will have to be severe punishment experienced from Dharamraj. You should speak the truth in front of God. Do you drink any alcohol at all, even as medicine? (None raised their hands). You definitely have to speak the truth here. If you make a mistake, you should write to Baba: Baba, I made this mistake; Maya slapped Me. Many write to Baba: Today, the evil spirit of anger came. I slapped someone. Your directions are that you should not slap anyone. It has been shown that Krishna was tied to a tree. All of those things are false. Children should be taught with a great deal of love; they should not be beaten. Stop a meal; don’t give them sweets: you can reform them in this way. To smack them is a sign of anger, and you would be getting angry with a great soul. Little children are like great souls. Therefore, you must not smack them. You cannot even insult them. You should never perform any such action that would give rise to the thought that you did something sinful. If you do, you should instantly write to Baba: Baba, I made this mistake. Forgive me. I will not do it again. Then you should repent for it. There, too, when Dharamraj gives punishment, they say that they are sorry and that they will never do it again. Baba says with great love: Beloved, worthy children, lovely children, don’t ever tell lies. Ask for advice at every step. Your money is now being used to change Bharat into heaven, and so every penny of yours is worth diamonds. It is not that you are donating and doing charity for the sannyasis etc. What do people receive when they build hospitals and collegesetc.? If they open a college, then, in their next birth they receive a good education. If they build a dharamshala, they receive a palace. Here, you receive unlimited happiness from the Father for birth after birth. You receive an unlimited lifespan. No one of any other religion has such a long lifespan as yours. There is a short lifespan here. Therefore, as you walk, as you move, remember the unlimited Father and you will remain in happiness. If there is any difficulty, then ask. However, this does not mean that anyone who is poor can say to Baba: Baba, I belong to You and I will stay with You. There are many poor ones like that in the world. Everyone would say: Let us stay in Madhuban. In that way, hundreds of thousands would congregate here. That too is not the law. You have to stay at home with your family; you cannot stay here like that. People in business always put one or two paisas aside in the name of God. Baba says: Achcha, if you are poor, don’t put anything aside. Understand knowledge and become Manmanabhav. What did your Mama give? She still became clever in knowledge. She is doing service with her mind and body. There is no question of money in that. If, at the most, you give one rupee, you receive as much as a wealthy person. First of all, you have to look after your household. You children shouldn’t be unhappy. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and namaste from the Mother, the Father, BapDada. Good morning. Salutations to the mothers. Salutations to the masters. May you be victorious.

Essence for dharna:

  1. Don’t perform any action for which you would have regrets afterwards and have to repent. Never tell lies. Remain honest with the true Father.
  2. Use every penny you have in a worthwhile way in order to change Bharat into heaven. Surrender yourself like Brahma Baba and become a trustee.
Blessing: May you be sensible and become free of sins by knowing the importance of the directions from instrument souls.
Sensible children will never think that perhaps the directions being given by the instrument souls are given because of someone saying something to them. Let such waste thoughts never arise for instrument souls. Even if someone makes a decision which you do not like, you are not responsible for that and so you will not accumulate sin in that because it is the Father who made that one an instrument and He can change that sin. This is an incognito significance, an incognito machinery.
Slogan: An honest person is one who loves God and loves the world, not one who loves to rest.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 12 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 December 2018

To Read Murli 11 December 2018 :- Click Here
12-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – शिवबाबा के सिवाए तुम्हारा यहाँ कुछ भी नहीं, इसलिए इस देह के भान से भी दूर खाली बेगर होना है, बेगर ही प्रिन्स बनेंगे”
प्रश्नः- ड्रामा की यथार्थ नॉलेज कौन-से ख्यालात समाप्त कर देती है?
उत्तर:- यह बीमारी क्यों आई, ऐसा नहीं करते तो ऐसा नहीं होता, यह विघ्न क्यों पड़ा. . . . बंधन क्यों आया…. यह सब ख्यालात ड्रामा की यथार्थ नॉलेज से समाप्त हो जाते हैं क्योंकि ड्रामा अनुसार जो होना था वही हुआ, कल्प पहले भी हुआ था। पुराना शरीर है इसे चत्तियां भी लगनी ही है इसलिए कोई ख्यालात चल नहीं सकते।
गीत:- हमें उन राहों पर चलना है…….. 

ओम् शान्ति। उन राहों पर चलना है, कौन-सी राहें? राह कौन बताता है? बच्चे जानते हैं कि हम किसकी राय पर चल रहे हैं। राय कहो, राह कहो वा श्रीमत कहो – बात एक ही है। अब श्रीमत पर चलना है। लेकिन श्रीमत किसकी? लिखा हुआ है श्रीमत भगवत गीता, तो जरूर श्रीमत की तरफ हमारा बुद्धियोग जायेगा। अब तुम बच्चे किसकी याद में बैठे हो? अगर श्रीकृष्ण कहते हो तो उनको वहाँ याद करना पड़े। तुम बच्चे श्रीकृष्ण को याद करते हो या नहीं? वर्से के रूप में याद करते हैं। यह तो जानते हो हम प्रिन्स बनेंगे। ऐसे तो नहीं, जन्मते ही लक्ष्मी-नारायण बनेंगे। बरोबर हम शिवबाबा को याद करते हैं क्योंकि श्रीमत उनकी है, कृष्ण भगवानुवाच कहने वाले कृष्ण को याद करेंगे, परन्तु कहाँ याद करेंगे? उनको तो याद किया जाता है वैकुण्ठ में। तो मनमनाभव अक्षर कृष्ण कह नहीं सकते, मध्याजी भव कह सकते हैं। मुझे याद करो वह तो वैकुण्ठ में ठहरा। दुनिया इन बातों को नहीं जानती। बाप कहते हैं-बच्चे, यह सब शास्त्र भक्ति मार्ग के हैं। सभी धर्म शास्त्रों में गीता भी आ जाती है। बरोबर गीता भारत का धर्म शास्त्र है। वास्तव में तो यह सभी का शास्त्र है। कहा भी जाता है श्रीमत सर्व शास्त्रमई शिरोमणि गीता। यानी सबसे उत्तम ठहरी। सभी से उत्तम है शिवबाबा श्री श्री, श्रेष्ठ से श्रेष्ठ। कृष्ण को श्री श्री नहीं कहेंगे। श्री श्री कृष्ण वा श्री श्री राम नहीं कहेंगे। उनको सिर्फ श्री कहेंगे। श्रेष्ठ से श्रेष्ठ जो है वही आकर फिर श्रेष्ठ बनाते हैं। श्रेष्ठ से श्रेष्ठ है भगवान्। श्री श्री अर्थात् सभी से श्रेष्ठ। श्रेष्ठ का नाम बाला है। श्रेष्ठ तो जरूर देवी-देवताओं को कहेंगे, जो अभी नहीं हैं। आजकल श्रेष्ठ किसको समझते हैं? अभी के लीडर्स आदि का कितना सम्मान करते हैं। परन्तु उन्हें श्री तो कह नहीं सकते। महात्मा आदि को भी श्री अक्षर नहीं दे सकते। अभी तुमको ऊंचे से ऊंचे परमात्मा से ज्ञान मिल रहा है। सबसे ऊंचा है परमपिता परमात्मा, फिर है उनकी रचना। फिर रचना में ऊंचे से ऊंचे हैं ब्रह्मा, विष्णु, शंकर। यहाँ भी नम्बरवार मर्तबे हैं। ऊंचे से ऊंचे प्रेजीडेंट फिर प्राइम मिनिस्टर, युनियन मिनिस्टर….।

बाप बैठ सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझाते हैं। भगवान् रचयिता है। अब रचयिता अक्षर कहने से मनुष्य पूछते हैं-सृष्टि कैसे रची गई? इसलिए यह जरूर कहना पड़ता है कि त्रिमूर्ति शिव रचयिता है। वास्तव में रचयिता के बजाए रचवाने वाला कहना ठीक है। ब्रह्मा द्वारा दैवी कुल की स्थापना कराते हैं। ब्रह्मा द्वारा स्थापना किसकी? दैवी सम्प्रदाय की। शिवबाबा कहते हैं अभी तुम हो ब्रह्मा की ब्राह्मण सम्प्रदाय, वह हैं आसुरी सम्प्रदाय, तुम हो ईश्वरीय सम्प्रदाय फिर दैवी सम्प्रदाय बनेंगे। बाप ब्रह्मा द्वारा सभी वेद-शास्त्रों का सार भी समझाते हैं। मनुष्य बहुत मूंझे हुए हैं, कितना माथा मारते रहते हैं – बर्थ कन्ट्रोल हो। बाप कहते हैं मैं आकर भारत की यह सर्विस कर रहा हूँ। यहाँ तो है ही तमोप्रधान मनुष्य। 10-12 बच्चे पैदा करते रहते। झाड़ वृद्धि को जरूर पाना ही है। पत्ते निकलते रहेंगे। इसको कोई कन्ट्रोल कर न सके। सतयुग में कन्ट्रोल है – एक बच्चा, एक बच्ची, बस। यह बातें तुम बच्चे ही समझते हो। आगे चल आते रहेंगे, समझते रहेंगे। गाया भी हुआ है अतीन्द्रिय सुख गोप-गोपियों से पूछो। यहाँ जब तुम सम्मुख सुनते हो तो सुख भासता है। फिर धन्धे-धोरी में जाने से इतना सुख नहीं भासता है। यहाँ तुमको त्रिकालदर्शी बनाया जाता है। त्रिकालदर्शी को स्वदर्शन चक्रधारी भी कहते हैं। मनुष्य कहते हैं फलाना महात्मा त्रिकालदर्शी था। तुम कहते हो वैकुण्ठनाथ राधे-कृष्ण को भी स्वदर्शन चक्र की वा तीनों कालों की नॉलेज नहीं थी। कृष्ण तो सभी का प्यारा सतयुग का फर्स्ट प्रिन्स है। परन्तु मनुष्य न समझने कारण कह देते कि तुम श्रीकृष्ण को भगवान् नहीं मानते इसलिए नास्तिक हो। फिर विघ्न डालते हैं। अविनाशी ज्ञान यज्ञ में विघ्न पड़ते हैं। कन्याओं-माताओं पर भी विघ्न आते हैं। बांधेलियां कितना सहन करती हैं, तो समझना चाहिए ड्रामा अनुसार हमारा पार्ट ऐसा ही है। विघ्न पड़ गया फिर यह ख्यालात नहीं चलना चाहिए कि ऐसे नहीं करते तो ऐसा नहीं होता, ऐसे नहीं करते तो बुखार नहीं होता… हम ऐसे नहीं कह सकते। ड्रामा अनुसार यह किया, कल्प पहले भी किया था, तब तकलीफ हुई। पुराने शरीर को चत्तियां भी लगनी ही हैं। अन्त तक मरम्मत होती रहेगी। यह भी आत्मा का पुराना मकान है। आत्मा कहती है मैं भी बहुत पुरानी हूँ, कोई ताकत नहीं रही। ताकत न होने कारण कमजोर आदमी दु:ख भोगते हैं। माया कमजोर को बहुत दु:ख देगी। हम भारतवासियों को बरोबर माया ने बहुत कमजोर किया है। हम बहुत ताकत वाले थे फिर माया ने कमजोर बना दिया, अब फिर उन पर जीत पाते हैं तो माया भी हमारी दुश्मन बनती है। भारत को ही जास्ती दु:ख मिलता है। सबसे कर्जा ले रहे हैं। भारत बिल्कुल पुराना हो गया। जो बिल्कुल साहूकार था, उनको बहुत बेगर बनना है। फिर बेगर से प्रिन्स। बाबा कहते इस शरीर के भान से भी दूर खाली हो जाओ। तुम्हारा यहाँ कुछ है नहीं, सिवाए एक शिवबाबा दूसरा न कोई। तो तुमको बहुत बेगर बनना पड़े। युक्तियां भी बताते रहते हैं। जनक का मिसाल – गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल समान रहना है, श्रीमत पर चलना है, सब सरेन्डर भी कर देना है। जनक ने सब कुछ दिया फिर उनको कहा कि अपनी मिलकियत तुम सम्भालो और ट्रस्टी होकर रहो। हरिश्चन्द्र का भी दृष्टान्त है।

बाप समझाते हैं-बच्चे, तुम अगर बीज नहीं बोयेंगे तो तुम्हारा पद कम हो जायेगा। फालो फादर, तुम्हारे सामने यह दादा बैठा है। बिल्कुल ही शिवबाबा और शिव-शक्तियों को ट्रस्टी बनाया। शिवबाबा थोड़ेही बैठ सम्भालेंगे। यह अपने पर थोड़ेही बलि चढ़ेगा। इनको माताओं पर बलि चढ़ना पड़े। माताओं को ही आगे करना है। बाप आकर ज्ञान अमृत का कलष माताओं को ही देते हैं कि मनुष्य को देवता बनायें। लक्ष्मी को नहीं दिया है। इस समय यह है जगत अम्बा, सतयुग में होगी लक्ष्मी। जगत अम्बा का गीत कितना अच्छा बना हुआ है। उनकी बहुत मान्यता है। वह सौभाग्य विधाता कैसे है, उनको धन कहाँ से मिलता है? क्या ब्रह्मा से? कृष्ण से? नहीं। धन फिर भी मिलता है ज्ञान सागर से। यह बड़ी गुप्त बातें हैं ना। भगवानुवाच है सबके लिए। भगवान् तो सबका है ना। सब धर्म वालों को कहते हैं मामेकम् याद करो। भल शिव के पुजारी भी बहुत हैं परन्तु जानते कुछ भी नहीं। वह हुई भक्ति। अब तुमको ज्ञान कौन देते हैं? मोस्ट बिलवेड फादर। कृष्ण को ऐसे नहीं कहेंगे, उनको सतयुग का प्रिन्स कहेंगे। भल कृष्ण की पूजा करते हैं परन्तु यह ख्याल नहीं करते कि वह सतयुग का प्रिन्स कैसे बना? आगे हम भी नहीं जानते थे। तुम बच्चे अब जानते हो बरोबर हम फिर से प्रिन्स-प्रिन्सेज बनेंगे तब तो फिर बड़े होकर लक्ष्मी-नारायण को वरेंगे ना। यह नॉलेज है ही भविष्य के लिए। इसका फल 21 जन्म के लिए मिलता है। कृष्ण के लिए नहीं कहेंगे कि वह वर्सा देते हैं। वर्सा बाप से मिलता है। शिवबाबा राजयोग सिखलाते हैं। ब्रह्मा के मुख से हजारों ब्राह्मण निकलते हैं, उन्हों को ही यह शिक्षा मिलती है। सिर्फ तुम ब्राह्मण हो कल्प के संगमयुग के, बाकी सारी सृष्टि है कलियुग की। वह सब कहेंगे अब हम कलियुग में हैं, तुम कहेंगे हम संगम पर हैं। यह बातें कहीं हैं नहीं। यह नई-नई बातें दिल में रखनी हैं। मुख्य बात है बाप और वर्से को याद करना। अगर पवित्र नहीं रहेंगे तो योग कभी नहीं लगेगा, लॉ नहीं कहता इसलिए इतना पद भी नहीं पा सकेंगे। थोड़ा योग लगाने से भी स्वर्ग में तो जायेंगे। बाप कहते हैं अगर पवित्र नहीं बनेंगे तो मेरे पास आ नहीं सकेंगे। भल घर बैठे भी स्वर्ग में आ सकते हैं, अच्छा पद पा सकते हैं, परन्तु तब, जबकि योग में रहें, पवित्र रहें। पवित्रता बिगर योग लगेगा नहीं। माया लगाने नहीं देगी। सच्चे दिल पर साहेब राज़ी होगा। जो विकार में जाते रहते हैं, कहते मैं शिवबाबा को याद करता हूँ, यह तो अपनी दिल खुश करते हैं। मुख्य है पवित्रता। कहते हैं बर्थ कन्ट्रोल करो, बच्चे पैदा मत करो। यह तो है ही तमोप्रधान दुनिया। अभी बाबा बर्थ कन्ट्रोल करा रहे हैं। तुम हो सभी कुमार-कुमारियां, तो विकार की बात नहीं। यहाँ तो विष पर बच्चियों को कितना सहन करना पड़ता है। बाबा कहते हैं बहुत परहेज रखनी है। यहाँ ऐसा तो कोई नहीं होगा जो शराब पीता होगा? बाप बच्चों से पूछते हैं। अगर झूठ बोलेंगे तो धर्मराज की कड़ी सजा भोगनी पड़ेगी। भगवान् के आगे तो सच बोलना चाहिए। कोई जरा भी शराब किसी कारण से अथवा दवाई रीति से पीते हैं? कोई ने हाथ नहीं उठाया। यहाँ सच जरूर बोलना है। कोई भी भूल होती है तो फिर से लिखना चाहिए-बाबा, मेरे से यह भूल हुई, माया ने थप्पड़ मार दिया। बाबा को तो बहुत लिखते भी हैं आज हमारे में क्रोध का भूत आ गया, थप्पड़ मार दिया। आपकी तो मत है थप्पड़ नहीं मारना चाहिए। दिखलाते हैं कृष्ण को ओखरी से बांधा। यह तो सब झूठी बातें हैं। बच्चों को प्यार से शिक्षा देनी चाहिए, मार नहीं देनी चाहिए। भोजन बंद करना, मिठाई न देना… ऐसे सुधारना चहिए। थप्पड़ मारना, क्रोध की निशानी हो जाती है। सो भी महात्मा पर क्रोध करते हैं। छोटे बच्चे महात्मा समान होते हैं ना इसलिए थप्पड़ नहीं मारना चाहिए। गाली भी नहीं दे सकते। ऐसा कर्म नहीं करना चहिए जो ख्याल में आये – हमने यह विकर्म किया। अगर किया तो फौरन लिखना चाहिए – बाबा हमसे यह भूल हुई, हमें क्षमा करो। आगे नहीं करेंगे। तोबाँ करते हैं ना। वहाँ भी धर्मराज सजा देते हैं, तो तोबाँ करते हैं – आगे फिर नहीं करेंगे। बाबा बहुत प्यार से कहते हैं लाडले सपूत बच्चे, प्यारे बच्चे कभी झूठ नहीं बोलना।

क़दम-क़दम पर राय पूछना है। तुम्हारा पैसा अब लगता है भारत को स्वर्ग बनाने में, तो कौड़ी-कौड़ी हीरे समान है। ऐसे नहीं, हम कोई सन्यासियों आदि को दान-पुण्य करते हैं। मनुष्य हॉस्पिटल अथवा कॉलेज आदि बनाते हैं तो क्या मिलता है? कॉलेज खोलने से दूसरे जन्म में विद्या अच्छी मिलेगी, धर्मशाला बनाने से महल मिलेगा। यहाँ तो तुमको जन्म-जन्मान्तर के लिए बाप से बेहद का सुख मिलता है। बेहद की आयु मिलती है। इससे बड़ी आयु और कोई धर्म वाले की होती नहीं। कम आयु भी यहाँ की गिनी जाती है तो अब बेहद के बाप को चलते-फिरते, उठते-बैठते याद करेंगे तब ही खुशी में रहेंगे। कोई भी तकलीफ हो तो पूछो। बाकी ऐसे थोड़ेही गरीब होंगे, कहेंगे बाबा हम तो आपके हैं, अब हम आपके पास बैठ जाते हैं। ऐसे तो दुनिया में गरीब बहुत हैं। सब कहें हमको मधुबन में रख लो, ऐसे तो लाखों इकट्ठे हो जाएं, यह भी कायदा नहीं। तुमको गृहस्थ व्यवहार में रहना है, यहाँ ऐसे रह नहीं सकते।

धन्धे में हमेशा ईश्वर अर्थ एक-दो पैसा निकालते हैं। बाबा कहते हैं-अच्छा, तुम गरीब हो, कुछ भी नहीं निकालो, नॉलेज को तो समझो और मनमनाभव हो जाओ। तुम्हारी मम्मा ने क्या निकाला, फिर वह ज्ञान में भी तीखी है। तन-मन से सेवा कर रही है। इसमें पैसे की बात नहीं। बहुत-बहुत करके एक रूपया दे देना, तुम्हें साहूकार जितना मिल जायेगा। पहले अपने गृहस्थ व्यवहार की सम्भाल करनी है। बच्चे दु:खी न हों। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। वन्दे मातरम्, सलाम मालेकम्। जय जय जय हो तेरी…. ओम् शान्ति।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ऐसा कोई कर्म नही करना है जिसके पीछे ख्याल चले, तोबा-तोबा (पश्चाताप्) करना पड़े। झूठ नहीं बोलना है। सच्चे बाप से सच्चा रहना है।

2) भारत को स्वर्ग बनाने में अपनी एक-एक कौड़ी सफल करनी है। ब्रह्मा बाप समान सरेन्डर हो ट्रस्टी बनकर रहना है।

वरदान:- निमित्त आत्माओं के डायरेक्शन के महत्व को जान पापों से मुक्त होने वाले सेन्सीबुल भव
जो सेन्सीबुल बच्चे हैं वो कभी यह नहीं सोचते कि यह निमित्त आत्मायें जो डायरेक्शन दे रही हैं शायद कोई के कहने से कह रही हैं। निमित्त बनी हुई आत्माओं के प्रति कभी यह व्यर्थ संकल्प नहीं उठाने चाहिए। मानो कोई ऐसा फैंसला भी दे देते हैं जो आपको ठीक नहीं लगता है, लेकिन आप उसमें जिम्मेवार नहीं हो, आपका पाप नहीं बनेगा क्योंकि जिसने इन्हें निमित्त बनाया है वह बाप, पाप को भी बदल लेगा, यह गुप्त रहस्य, गुप्त मशीनरी है।
स्लोगन:- ऑनेस्ट वह है जो प्रभु पसन्द और विश्व पसन्द है, आराम पसन्द नहीं।

TODAY MURLI 12 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 12 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 11 December 2017 :- Click Here

12/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, renounce arrogance of the body and become soul conscious. In order to benefit yourself, keep your chart of remembrance. Especially sit in remembrance. It is only by having remembrance that your sins will be absolved.
Question: What is the first law that the Father has told you children?
Answer: The first law is that, while seeing everything, your intellect should not be disturbed by any of it. Stay in remembrance of the one Father. Examine yourself: Is my attitude spoilt when I see something? While working with your hands, remember the Father with your heart. There is no question of closing your eyes in this.

Om shanti. On the path of devotion, when sannyasis sit, they normally sit with their eyes closed. Here, the law is that while seeing others, your intellect should not be disturbed. Test yourself: Does my attitude become spoilt when I see others? Although I see everything, my intellect’s yoga is with the Father. When people prepare food they don’t prepare it with their eyes closed. This is known as letting your hands do the work and your heart being with the Father. Continue to do everything with your physical organs, but remember the Father. When a wife cooks for her husband she does everything with her hands, but her intellect would be aware that she is cooking for her husband. You children are on the Father’s service. The Father says: Children, I am your o bedient Servant. He would explain to souls, that is, to the children. Souls would say: Sweet Father, we are busy in the service of using the knowledge and yoga that you teach us. You have given us this direction: While living at home with the family and doing everything, repeatedly continue to remember Me. You are unable to remember Me regularly. Some say that they remember Me for 12 hours, but no; Maya definitely repeatedly removes yoga from your intellect. Your battle is with Maya. Maya doesn’t allow you to stay in remembrance because you are conquering Maya. Those who conquer Ravan become conquerors of the world. Rama too was a conqueror of the world. The sun dynasty and the moon dynasty were conquerors of the world. While seeing everything with your eyes, your intellects should remain with the Father. Check that you are not disturbed. You have to remember the Father fully. Don’t think: I belong to Shiv Baba anyway. What need is there to remember Him? But no; you especially have to remember Him and also keep a note of how long you stayed in remembrance throughout the whole day. There are many who write the history of what they did throughout the whole day. It would definitely be good people who do that. They write about their good activities so that others who come after them can see it and learn from it. If people were to write about bad things, then the others who see that would learn bad things. The Father now advises you children: You have to keep your chartKnowledge is very easy. Ancient Raj Yoga of Bharat is very well known. They teach many types of hatha yoga etc. on the path of devotion. They don’t know what yoga the Father taught, even though there are some terms such as: “Manmanabhav”. Renounce your body and all bodily relations and constantly remember Me alone. To call Him omnipresent is wrong. No one can then remember Him. Because of having stone intellects, they don’t understand the meaning of anything. The Father explains: Remember Me, your Father. This body is not Mine. The Krishna soul cannot say this. Only the incorporeal Father can say: Consider yourself to be a bodiless soul. You came bodiless (naked). They have then understood that to mean “naked”. They have taken it wrongly on the path of devotion. The Father said: Consider yourself to be separate from the body. Renounce any arrogance of the body. Become soul conscious. You have been considering yourselves to be bodies all your lives. This is now your final birth. You now have to become soul conscious. The deities in the golden age were soul conscious; they were aware that they had to shed a body and take another. They would shed their old bodies in happiness and take new ones. Sannyasis cannot teach this; they cannot conquer death. You children are conquering death. Those people belong to the path of isolation. They will then go into their religion of renunciation once again. They cannot come on to the family path. That is a good religion for Bharat. They become pure. The praise of Bharat is as great as the praise of the Father. Bharat alone was pure; it isn’t that now. Bharat is the pilgrimage place for everyone. Now, all human beings receive salvation. They say: God , the Father , is the Liberator. He liberates you from sorrow and takes you to the land of peace. If the people of Bharat knew this, they would not call Him omnipresent. They celebrate the birthday of Shiva here. They even sing: O Purifier, come! They remember the incorporeal Father. The people of Bharat sing this. They are the ones who become the most pure. You understand that these things are absolutely right. There are so many scriptures. Those of all religions write their own books. There is a lot of regard for new religions. From the copper age onwards, the people of Bharat have continued to fall. They have all now become impure. The whole world remembers the Purifier Father. The birth of such a Father takes place here. The Somnath Temple is also here. If they were to know this, they would all offer flowers to the One because He is the Liberator of all. Mine is One and none other. When a person dies, flowers are offered to him. Shiv Baba doesn’t die. He takes everyone to the land of peace. There are temples to Shiva everywhere. Even abroad, people everywhere worship a Shiva lingam. However, they don’t know why they worship it. The Father Himself sits here and explains to you that, in Bharat, after the birthday of Shiva, there is the birthday of Krishna. After the birthday of Shiva, the new world comes. The Father comes into the old world to make it new. Bharat is the most elevated; its very name is Paradise. You all become happy that you are now establishing heaven according to shrimat. You are Godly helpers. You are the Salvation Army. You liberate the whole world from the chains of Ravan. You know that you are together with Baba in serving Bharat. Gandhiji liberated Bharat from the foreigners, but there still wasn’t any happiness. Instead, there was even more sorrow; they continue to fight and quarrel. The Father says: I come to liberate you from the chains of Ravan. Because of the chains of Ravan, there are chains of many types. This doesn’t happen in the golden age. There is no question of sorrow there. Here, they observe so many fasts etc. They do all of that in order to go to the land of Shri Krishna. The Father now explains to you children: Father shows son, son shows Father. You show everyone the way home. This is called a maze. People beat their heads so much in devotion, but none of them can claim the inheritance from the Father. They continue to bow their heads while performing devotion and doing tapasya and making donations. Only the one Father can show you the path. If anyone else knew the path, he would show it. This proves that none of them knows it. No one knows the path at all. Now, all are going to go back like a swarm of mosquitoes. Everyone’s body will be destroyed. All the rest of the souls will settle their karmic accounts and return home. This is called the time of settlement. At Deepawali, people write up their annual profit and loss accounts. For you, it is a matter of every cycle. You now have to do everything for 21 births. By remembering the Father you will accumulate that and there will then be no difficulty for 21 births; there won’t be anything lacking. All the attainment of heaven depends on the effort you make at this time. These things are not mentioned in any of the scriptures. You now experience these things. Who would sit and write all of these things when you are already in heaven? All the scriptures etc. are written later. It is written in the scriptures that there were palaces on the banks of the River Jamuna and that Delhi was the land of angels (Paristhan). It is written in the Birla temple that, 5000 years ago, Dharamraj or Yudhisthtra established the land of angels. The names Ganges and Jamuna continue even now. In fact, you are the Ganges of knowledge. There isn’t as much influence of the River Jamuna as there is of the River Ganges. The Ganges flows through Benares, Haridwar…… Many sages etc. go there. They go there and say: Shiv Kashi Vishwanath Ganga. Vishwanath (Lord of the World) allowed the Ganges to flow through the locks of his hair. They say this and they believe that by living on the banks of River Ganges they will receive liberation. Many people go and reside at Kashi. Previously, they used to sacrifice themselves there. Now they say that they will receive liberation. Look what they used to say on the path of devotion and what they say on the path of knowledge: there is such a contrast ! For half the cycle you experienced so many difficulties: you even went and sacrificed yourselves to the goddesses. You now sacrifice yourselves: All of this belongs to God. Therefore, everything that belongs to God is yours. Everything of God’s is heaven, whereas you are now residents of hell. You belong to the Father and are now becoming residents of heaven. You have to follow Baba’s shrimat fully. Shiv Baba doesn’t have to build buildings etc. He is the Bestower. All of this is for the children. Shiv Baba says: Children, look after all of it as trustees. On the path of devotion, they say: Shiv Baba, all of this is given by You. Then, when He takes it back, they become so unhappy. Baba doesn’t take anything from you. The Father simply says: Remove your attachment from it. Become a trustee and look after your household. What would I do with anything I took? All the centres are opened for you. This is a combined hospital and college. You receive both health and wealthEducation is said to be a source of income. However much each of you studies, you claim the inheritance from the Father accordingly. You should make full effort. Follow the Father and Mother. “You are the Mother and Father.” That’s right, is it not? That Father comes and enters this one. He adopts you through this one. He is the Mother and Father. We praise Him. I tell you through the mouth of this one: You are Mine. I adopted you and I then appointed Saraswati to look after the mothers. You are not small children. The Father says: You now belong to Me. Achcha. Now live as trustee s. Look after your households fully. The best of all is to open this spiritual hospital. Shiv Baba says: What would I look after? For Brahma Baba too, it is said: What would this one do? Whatever he had, he gave it to Shiv Baba. You have to become trustee s. Everything here is done for the children. Baba gives all the teachings to you children. It isn’t that this building is for Shiv Baba or Brahma Baba; everything is for the children. You Brahmins are the children. There is no question of fighting over this; it is everyone’s combined property. There are so many of you children. There cannot be any partition. Even the Government cannot do anything. All of this belongs to the Brahmin children. All are masters. All are children. Some are poor and others are wealthy. All come and live here. It is not anyone’s property. There will be children in the region of hundreds of thousands. Everything is for you sweet children. You are spiritual children. Worldly children cannot be loved as much as you are. They are the shudra caste whereas you are the Brahmin caste. This is why your connection with them has broken. Sannyasis would not say “All of this is for You. I too am Yours.” Shiv Baba says: I am the altruistic Server. Human beings cannot be altruistic. Whatever any of them do, they definitely receive the return of it. I cannot take the fruit of anything. I come and enter the old world and an old body. Here, this is the old body for Me. In devotion, they build many big temples to Me. Look where I am sitting at this time! I explain such a deep secret to you children. Baba would not conduct a murli in just any spiritual gathering (satsang). The mercury of happiness rises very high in the children. The Father sits here and teaches you children. Only you know how He comes and teaches you. There is no question of being afraid. All of you are the children of the Father. Whatever is created is for the children. It isn’t that everyone has to come and sit here. You have to live at home with your families. If all of you were to come and live here you would need a place as big as Delhi. That is not possible. Nevertheless, you must continue to have yoga with the Father and your sins will be absolved. The souls will become golden aged. Only then will you return home. You have to pass with honours and return home, the same as Mama and Baba. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become Godly helpers according to shrimat. In order to reveal the Father, show everyone the way home.
  2. Look after everything as a trustee. Don’t have attachment to anyone. Pass with honours, the same as Mama and Baba.
Blessing: May you be master merciful and transform the world of sorrow and suffering by enabling your feelings of mercy to emerge.
When souls are crying out due to some upheaval of nature and are asking for mercy and compassion, your merciful form should emerge and hear their call. In order to transform the world of sorrow and suffering, make yourself complete. Intensify your pure feeling for transformation. By your becoming complete, this world of sorrow will be completed (finished). So, enable your feelings of mercy to emerge for yourself and all souls. Where there is mercy, there will not be any upheaval of “mine” and “yours”.
Slogan: When the two wings of knowledge and yoga are strong you will be able to experience the flying stage.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 12 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 December 2017

To Read Murli 11 December 2017 :- Click Here
12/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – देह-अंहकार छोड़ देही-अभिमानी बनो, अपने कल्याण के लिए याद का चार्ट नोट करो, खास याद में बैठो, याद से ही विकर्म विनाश होंगे”
प्रश्नः- बाप ने तुम बच्चों को पहला-पहला कायदा कौन सा सुनाया है?
उत्तर:- पहला कायदा है – सब कुछ देखते हुए बुद्धि चलायमान न हो। एक बाप की याद रहे। अपनी परीक्षा लेनी है कि मेरी वृत्ति देखने से खराब तो नहीं होती है? तुम्हें हाथ से काम करते दिल से बाप को याद करना है, इसमें आंखे बन्द करने की बात ही नहीं है।

ओम् शान्ति। भक्ति मार्ग में अक्सर करके कोई सन्यासी आदि जब बैठते हैं तो ऑखें बन्द करके बैठते हैं। यहाँ कायदा है देखते हुए भी चलायमान नहीं होना है। अपनी परीक्षा लेनी होती है कि देखने से मेरी वृत्ति खराब तो नहीं होती है? हम भल देखते हैं परन्तु बुद्धि का योग बाप के साथ है। मनुष्य भोजन बनायेंगे तो ऑखें बन्द करके तो नहीं बनायेंगे ना। इसको कहा जाता है हथ कार डे दिल यार डे। कर्मेन्द्रियों से काम लेते रहो परन्तु याद बाप को करो। जैसे स्त्री पति के लिए भोजन बनाती है। हाथ से काम करती रहेगी परन्तु बुद्धि में होगा कि मैं पति के लिए भोजन बनाती हूँ। तुम बच्चे बाप की सर्विस में हो। बाप कहते हैं – बच्चे मैं तुम्हारा ओबिडियन्ट सर्वेन्ट हूँ। बच्चों को अर्थात् आत्माओं को समझायेंगे ना। आत्मा कहेगी – स्वीट फादर, आप जो हमको ज्ञान और योग सिखलाते हो, हम उस सर्विस में ही बिजी हैं। और आपने डायरेक्शन दिया है कि गृहस्थ व्यवहार में रहते, काम करते घड़ी-घड़ी मुझे याद करते रहो। तुम रेगुलर याद कर नहीं सकते। कोई कहे हम 12 घण्टा याद करते हैं, परन्तु नहीं। माया घड़ी-घड़ी बुद्धियोग जरूर हटायेगी। तुम्हारी लड़ाई है ही माया के साथ। माया याद करने नहीं देती है क्योंकि तुम माया पर जीत पाते हो। रावणजीत जगतजीत। राम भी जगतजीत थे। सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी जगतजीत थे। तो इन ऑखों से देखते हुए बुद्धि बाप के साथ रहनी चाहिए। देखना है मेरे को कोई चलायमानी तो नहीं आती है! बाप को पूरा याद करना है। ऐसे नहीं कि मैं तो शिवबाबा का हूँ ही, याद करने की क्या दरकार है। परन्तु नहीं, खास याद करना है और यह नोट रखना है कि सारे दिन में हमने कितना समय याद किया? ऐसे बहुत होते हैं जो सारे दिन की हिस्ट्री लिखते हैं कि हमने सारा दिन यह-यह किया। जरूर अच्छे मनुष्य ही लिखेंगे। अच्छी चाल लिखते हैं तो पिछाड़ी वाले देखकर सीखें। बुराई लिखें तो उनको देख और भी बुराई सीखेंगे। अब बाप बच्चों को राय देते हैं कि तुमको चार्ट रखना है। नॉलेज तो बहुत सहज है। भारत का प्राचीन राजयोग मशहूर है। भक्ति मार्ग में अनेक प्रकार के हठयोग आदि सिखलाते हैं। उन्हों को यह पता नहीं है कि बाप ने कौन सा योग सिखलाया था? भल कोई-कोई अक्षर भी हैं – मनमनाभव, देह सहित देह के सब सम्बन्ध छोड़ मामेकम् याद करो। अब उनके लिए सर्वव्यापी कहना, यह तो रांग हो जाता है। कोई याद कर ही नहीं सकते। पत्थरबुद्धि होने कारण कुछ भी अर्थ नहीं समझते। बाप समझाते हैं – मुझ बाप को याद करो। यह मेरी देह नहीं है। कृष्ण की आत्मा तो कह न सके। निराकार बाप ही कहते हैं अपने को आत्मा अशरीरी समझो। तुम अशरीरी (नंगे) आये थे। उन्होंने फिर नागा समझ लिया है। भक्तिमार्ग में अयथार्थ उठा लिया है। बाप ने कहा – अपने को देह से अलग समझो। देह अहंकार छोड़ो, देही-अभिमानी बनो। सारी आयु तुम अपने को देह समझते आये हो। अभी यह अन्तिम जन्म है। अभी तुमको देही-अभिमानी बनना है। सतयुग में देवतायें आत्म-अभिमानी थे। उनको मालूम रहता था कि एक शरीर छोड़ दूसरा लेना है। खुशी से पुराना शरीर छोड़ नया लेते हैं। सन्यासी तो यह सिखला न सकें। वह काल को जीत नहीं सकते। तुम बच्चे काल पर जीत पाते हो। वह निवृत्ति मार्ग वाले हैं। वह फिर अपने सन्यास धर्म में आयेंगे। प्रवृत्ति मार्ग में आ न सकें। वह भी भारत के लिए अच्छा धर्म है। पवित्र बनते हैं भारत की महिमा इतनी बड़ी है जितनी बाप की बड़ी है। भारत ही पवित्र था, अब नहीं है। भारत सबका तीर्थ स्थान है। सब मनुष्य मात्र की अभी सद्गति होगी। कहते हैं गॉड फादर इज़ लिबरेटर। दु:ख से लिबरेट कर शान्तिधाम में ले जाते हैं। अगर भारतवासियों को मालूम होता तो सर्वव्यापी नहीं कहते। शिवजयन्ति यहाँ मनाते हैं। गाते भी हैं कि हे पतित-पावन। निराकार बाप को ही याद करते हैं। भारतवासी ही गाते हैं। सबसे जास्ती पावन वही बनते हैं। तुम समझते हो बिल्कुल राइट बातें हैं। बाकी शास्त्र तो ढेर हैं, हर धर्म वाले अपनी-अपनी किताब बनाते हैं। नये-नये धर्मों का बहुत मान होता है। भारतवासी द्वापर से गिरते ही आये हैं। अभी सब पतित बन पड़े हैं। सारी दुनिया पतित-पावन बाप को याद करती है। ऐसे बाप का जन्म यहाँ होता है। सोमनाथ का मन्दिर भी यहाँ है, इनको अगर जान जायें तो सब एक पर ही फूल चढ़ायें क्योंकि वह सबका लिबरेटर है। हमारा तो एक दूसरा न कोई। कोई मरता है तो उन पर फूल चढ़ाते हैं। शिवबाबा तो मरते नहीं हैं। सबको शान्तिधाम ले जाते हैं। शिव के मन्दिर जहाँ-तहाँ हैं। विलायत में भी शिवलिंग को सब पूजते हैं। परन्तु यह पता नहीं है कि हम इनको क्यों पूजते हैं। बाप स्वयं बैठ समझाते हैं कि शिवजयन्ति के बाद कृष्णजयन्ति भारत में ही होती है। शिव जयन्ति के बाद नई दुनिया आती है। बाप आते हैं पुरानी दुनिया को नया बनाने। भारत सबसे ऊंच है। नाम ही है पैराडाइज़। तुम सब खुश होते हो कि अभी हम स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं श्रीमत पर। हम खुदाई खिदमतगार हैं, सैलवेशन आर्मी हैं। सारी दुनिया को रावण की जंजीरों से तुम छुड़ाते हो। तुम जानते हो बाबा के साथ हम भारत की खिदमत कर रहे हैं। गाँधी जी ने फारेनर्स से छुड़ाया परन्तु कोई सुख तो नहीं हुआ और ही दु:ख हो गया। लड़ते-झगड़ते रहते हैं। बाप कहते हैं मैं आता हूँ रावण की जंजीरों से छुड़ाने। रावण की जंजीरों के कारण अनेक प्रकार की जंजीरें हैं। सतयुग में यह होती नहीं। वहाँ दु:ख की कोई बात नहीं। यहाँ तो कितने व्रत नेम रखते हैं। यह सब करते हैं श्रीकृष्णपुरी में चलने लिए।

अब बाप बच्चों को समझाते हैं फादर शोज़ सन, सन शोज़ फादर। तुम सबको घर का रास्ता बताते हो। इसको भूल-भूलैया का खेल कहा जाता है। भक्ति में कितना माथा मारते हैं परन्तु बाप से वर्सा कोई ले न सकें। भक्ति, तप, दान करते-करते माथा टेकते रहते हैं। रास्ता बताने वाला एक ही बाप है। अगर कोई रास्ता जानता हो तो बताये। इससे सिद्ध है कि कोई भी जानते ही नहीं हैं। कोई को रास्ते का मालूम ही नहीं है। अभी सब मच्छरों सदृश्य वापिस जाने वाले हैं। सबके शरीर खत्म होंगे। बाकी आत्मायें हिसाब-किताब चुक्तू कर वापिस जायेंगी। इनको कयामत का समय कहा जाता है। मनुष्य दीपावली पर साल का फ़ायदा नुकसान निकालते हैं। तुम्हारी है कल्प-कल्प की बात। अभी तुमको 21 जन्म के लिए करना है। बाप को याद करने से जमा होगा फिर 21 जन्म कोई तकलीफ नहीं होगी। कोई अप्राप्त वस्तु नहीं होगी। स्वर्ग की सारी प्राप्ति अभी के पुरुषार्थ पर होती है। यह बातें कोई शास्त्रों में नहीं हैं। अभी तुम अनुभव पा रहे हो। जब स्वर्ग में चले जाते हो फिर कौन बैठ लिखेंगे। शास्त्र आदि तो बाद में बनते हैं। शास्त्रों में है कि जमुना के कण्ठे पर महल थे, देहली परिस्तान थी। बिरला मन्दिर में लिखा हुआ है 5000 वर्ष पहले धर्मराज ने वा युद्धिष्ठिर ने परिस्तान स्थापन किया था। जमुना-गंगा नाम अभी तक चला आता है। वास्तव में ज्ञान गंगायें तुम हो। जमुना का इतना प्रभाव नहीं जितना गंगा का है। बनारस, हरिद्वार में गंगा है। वहाँ बहुत साधू आदि जाते हैं। वहाँ जाकर कहते हैं शिव काशी विश्वनाथ गंगा। विश्वनाथ ने गंगा बहाई, जटाओं से। ऐसे कहते हैं और समझते हैं गंगा के कण्ठे पर रहने से हमारी मुक्ति हो जायेगी। बहुत जाकर काशीवाश करते हैं। आगे बलि चढ़ते थे। अब कहते हैं हमारी मुक्ति हो जायेगी। देखो, ज्ञान मार्ग में क्या बात और भक्ति मार्ग में क्या बात है। कितना कान्ट्रास्ट है। आधाकल्प अनेक प्रकार की तकलीफें उठाई। देवियों पर जाकर बलि चढ़े। अभी तुम बलि चढ़ते हो – यह सब कुछ ईश्वर का है। तो ईश्वर का सब कुछ तुम्हारा है। ईश्वर का सब कुछ है स्वर्ग। तुम तो अब नर्कवासी हो। बाप का बनकर फिर स्वर्गवासी बन रहे हो। बाबा की श्रीमत पर पूरा चलना पड़े। शिवबाबा को तो मकान आदि बनाना नहीं है। वह तो दाता है। यह सब बच्चों के लिए है। शिवबाबा कहेंगे तुम बच्चे ही ट्रस्टी होकर सम्भालो। भक्तिमार्ग में कहते हैं – शिवबाबा यह सब कुछ आपका दिया हुआ है फिर जब वापिस लेते हैं तो कितना दु:खी होते हैं। अब बाबा तुमसे लेते कुछ भी नहीं हैं। बाप सिर्फ कहते हैं इनसे ममत्व मिटा दो। ट्रस्टी होकर गृहस्थ व्यवहार की सम्भाल करो। बाकी मैं लेकर क्या करूँगा। तुम्हारे लिए ही सेन्टर खुलवाये हैं। यह हॉस्पिटल और कॉलेज कम्बाइन्ड है। हेल्थ और वेल्थ दोनों मिलती है। एज्युकेशन को सोर्स आफ इनकम कहा जाता है। जितना जो पढ़ते हैं वह बाप से इतना वर्सा लेते हैं। पुरुषार्थ पूरा करना चाहिए। फालो फादर और मदर, त्वमेव माता च पिता.. यह है ना। वह पिता आकर इनमें प्रवेश करते हैं। इनसे एडाप्ट करते हैं। वह माता-पिता ठहरा। हम तो उनकी महिमा करते हैं। मैं इनके मुख द्वारा कहता हूँ – तुम हमारे हो। तुमको मैंने एडाप्ट किया है फिर माताओं की सम्भाल लिए सरस्वती को मुकरर किया है। तुम छोटे बच्चे तो नहीं हो। बाप कहते हैं तुम हमारे बने, अच्छा अब ट्रस्टी होकर रहो। गृहस्थ व्यवहार की पूरी सम्भाल करो। सबसे अच्छा है यह रूहानी हॉस्पिटल खोलना। शिवबाबा कहते हैं हम क्या सम्भाल करेंगे। ब्रह्मा बाबा के लिए भी कहते हैं यह क्या करेंगे? इनके पास जो कुछ था सो शिवबाबा को दे दिया। ट्रस्टी बनना पड़ता है। यहाँ तो सब कुछ बच्चों के लिए किया जाता है। तुम बच्चों को ही बाबा सब शिक्षायें देते हैं। ऐसे नहीं यह मकान शिवबाबा वा ब्रह्मा बाबा का है। सब कुछ बच्चों के लिए है। तुम ब्राह्मण बच्चे हो, इसमें झगड़े आदि की कोई बात नहीं है। सबकी कम्बाइन्ड प्रापर्टी है। इतने सब ढेर बच्चे हो, पार्टीशन कुछ हो न सके। गवर्मेन्ट भी कुछ कर न सके। यह ब्राह्मण बच्चों का है, सब मालिक हैं। सब बच्चे हैं। कोई गरीब, कोई साहूकार – यहाँ सब आकर रहते हैं। कोई की प्रापर्टी नहीं है। लाखों की अन्दाज में हो जायेंगे। सब कुछ तुम मीठे बच्चों के लिए है। तुम हो रूहानी बच्चे। तुम जितना प्यारे हो उतना लौकिक हो न सकें। वह शूद्र जाति के तुम ब्राह्मण जाति के, इसलिए उनसे कनेक्शन टूट जाता है। सन्यासी यह नहीं कहेंगे यह सब तुम्हारे लिए है। मैं भी तुम्हारा हूँ। शिवबाबा कहते हैं – मैं निष्काम सेवाधारी हूँ। मनुष्य निष्कामी हो न सकें। जो करेगा उसको उनका फल जरूर मिलेगा। मैं फल नहीं ले सकता हूँ। पुरानी दुनिया, पुराने शरीर में आकर प्रवेश करता हूँ। यहाँ मेरे लिए यह पुराना शरीर है। भक्ति में मेरे लिए बड़े-बड़े मन्दिर बनाते हैं। इस समय देखो मैं कहाँ बैठा हूँ। कितना गुह्य राज़ बच्चों को समझाता हूँ। बाबा कोई सतसंग में थोड़ेही मुरली चलायेगा। बच्चों को बहुत खुशी का पारा चढ़ता है। बाप बैठ बच्चों को पढ़ाते हैं। कैसे आकर पढ़ाते हैं, यह तुम ही जानते हो। डरने की कोई बात नहीं है। सब बाप के बच्चे हैं। जो कुछ बनता है बच्चों के लिए। ऐसे नहीं सबको यहाँ आकर बैठ जाना है। तुमको तो अपने गृहस्थ व्यवहार में रहना है। सब आकर इकट्ठे रहें तो सारी देहली जितना तुम्हारे लिए चाहिए। ऐसा तो हो न सके। फिर भी बाप से योग लगाते रहो तो विकर्म विनाश होंगे। आत्मा गोल्डन एज़ड बन जायेगी, तब ही घर में जायेंगे। मम्मा बाबा मुआफिक इज्जत से पास होकर जाना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार :-

1) श्रीमत पर खुदाई-खिदमतगार बनना है। बाप का शो करने के लिए सबको घर का रास्ता बताना है।

2) ट्रस्टी होकर सब कुछ सम्भालना है। किसी में भी ममत्व नहीं रखना है। मात-पिता के मुआफिक इज्जत से पास होना है।

वरदान:- रहम की भावना को इमर्ज कर दु:ख दर्द की दुनिया को परिवर्तन करने वाले मास्टर मर्सीफुल भव 
प्रकृति की हलचल में जब आत्मायें चिल्लाती हैं, मर्सी और रहम मांगती हैं तो अपने मर्सीफुल स्वरूप को इमर्ज कर उनकी पुकार सुनो। दुख दर्द की दुनिया को परिवर्तन करने के लिए स्वयं को सम्पन्न बनाओ। परिवर्तन की शुभ भावना को तीव्र करो। आपके सम्पन्न बनने से यह दुख की दुनिया सम्पन्न (समाप्त) हो जायेगी, इसलिए स्वयं प्रति, चाहे सर्व आत्माओं के प्रति रहम की भावना इमर्ज करो। जहाँ रहम होगा, वहाँ तेरा-मेरा की हलचल नहीं होगी।
स्लोगन:- ज्ञान और योग के दोनों पंख मजबूत हों तब उड़ती कला का अनुभव कर सकेंगे।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize