today murli 11 september

TODAY MURLI 11 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 11 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 10 September 2018 :- Click Here

11/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have the responsibility of making every home into heaven. Give everyone the aim of becoming pure from impure. Imbibe divine virtues.
Question: What do you children experience by coming into God’s lap?
Answer: Children who come into God’s lap experience the celebration of an auspicious meeting. You know that the confluence age is the age to celebrate a meeting with God. You celebrate a meeting with God and make Bharat into heaven. You children meet God personally at this time. Throughout the whole cycle, no one else can ever celebrate a personal meeting. This is your very small Godly clan. Shiv Baba is the Grandfather and Brahma is the father and you children are brothers and sisters. There are no other relationships.
Song: The buds of the new age.

Om shanti. When Baba comes, you should first sit in silence for some time because, first of all, a donation of remembrance is given. It is only by them having remembrance that impure ones are made pure. You children are making a donation and receiving one. The Father comes and changes thorns into buds and the buds then become flowers. You know that your service is to make each one worthy of heaven, just as you are becoming worthy of that. The Father comes and first gives you health and then gives you wealth. There is first peace and then happiness. In fact, there is happiness in both. You children want both peace and happiness. All the sannyasis etc. just want peace. Sannyasis don’t want happiness; they cannot give happiness. Even if they do give peace, that is for momentary happiness. They say that happiness is like the droppings of a crow. Sannyasis generally want peace to attain liberation. No one else can give you liberation. This is called unlimited liberation and unlimited liberation-in-life which only the unlimited Father can give. You know that at this time all are thorns. Thorns prick you. The Father says: They all kill one another with the sword of lust. They don’t know that using the sword of lust is violence. When you indulge in vice, you cause one another sorrow from the beginning through the middle to the end. This is the world of sorrow. Heaven is called the world of happiness when the world is new and Bharat is new. The people of Bharat, who are worshippers of the deities, know that there used to be a kingdom of those deities which was called heaven. They do feel that. They go to a Lakshmi and Narayan Temple and sing their praise. They believe that they were the masters of Bharat. They feel that Bharat was heaven, but that is just for a short time, like a breeze. They do realise that since there are so many temples built to Lakshmi and Narayan, there must have been their kingdom too. They are called the emperor and empress. However, they have forgotten when they were that. This is such a simple mistake. It hasn’t been a long time; it is a matter of just 5000 years ago. It is 2000 to 2500 years since Christ, Buddha etc. existed. It is said of them that they reincarnated. In fact, each one reincarnates. A soul comes and enters and that too is called a r eincarnation. However, the names of the elders are remembered first. It is said: The Supreme Father, the Supreme Soul, will come and enter a body when He reincarnates. This is the meaning of reincarnation.This is said of those who are well known. For example, there are the reincarnations of Buddha and Christ. You can see Bharat’s connection with the Buddhists and the Christians. They show that Guru Nanak existed about 500 years ago. His reincarnation is only a small one, whereas those (Christ and Buddha) are big. So, everyone reincarnates. They call out to the Supreme Father, the Supreme Soul, but they don’t know when or how He will come. He definitely has to enter a body. However, because He doesn’t take a physical birth, that is called the Reincarnation. He doesn’t become a small child. The biggest reincarnation is said to be that of the Supreme Father, the Supreme Soul. They sing that the Supreme Soul has 24 incarnations. They say that He also incarnated in every stone. They continue to fall down so much. Just as Bharat becomes degraded, whatever they say also continues to be degraded. The Father is the Creator of the new world so He would surely come at the confluence of the old and the new. His is called the biggest reincarnation of all. The reincarnation of Shiva is said to be the biggest of all. However, people don’t understand this because they have turned their faces away from the Supreme Soul. They definitely know about Him being incorporeal, but they don’t know when the Supreme Soul comes or what He does when He comes. It cannot be said that Vishnu has a reincarnation. The deity religion cannot be said to be a reincarnation. You would say that the deity religion is established. They create a play of the incarnation of Vishnu. In fact, there is no question of an incarnation of Vishnu. You are now becoming part of Vishnu’s clan. This is God’s clan. This Brahma is a child of Shiva and you are the children of Brahma. This is called the Godly clan. The Supreme Father, the Supreme Soul, says: I come and make you belong to Me. I come and become the Father of you children. I am everyone’s Father anyway but you now belong to Me through Brahma, and this is why you call Me Dada (Grandfather). I am the Father of souls anyway. You all know that I have come at this time. Only now do you meet Me. You meet the unlimited Father when He gives you birth. I have now adopted you through Brahma. You cannot be children born through vice. There are so many people. There are so many brothers and sisters and so all of them are the mouth-born creation. “A dynasty of sannyasis” is not said because there is no connection of grandfather or father in that. Here, there is the father and also Dada (Grandfather). This one is also called Dada (elder brother). The Father comes and makes you belong to Him. You know that you have come into God’s lap. This is an auspicious meeting. The end of the iron age and the beginning of the golden age is called the confluence age. The meeting takes place at the confluence age. There is a confluence of three rivers. What happens in that? There is the auspicious meeting between the gurus and their followers. That is physical. The auspicious meeting of souls and the Supreme Soul is remembered. This is the best; souls meet the Supreme Father, the Supreme Soul. There is no question of rivers of water in that. You are sitting here. This is your very important, auspicious meeting. Souls are living beings. The Supreme Father, the Supreme Soul, has taken this body on loan. This is called an auspicious meeting. It is said: The kumbh mela. A kumbh is also called a confluence. The meeting of the three rivers is named the Kumbh. What is the biggest confluence of all? That of the Ocean and the rivers. The biggest river is the Brahmaputra. Baba enters this one and so the meeting of the Ocean and the Brahmaputra is there anyway. It is now the kumbh mela of the confluence age. All of you meet the Father, the Ocean of Knowledge. This can be called the Godly kumbh mela. This is the meeting of souls with the Supreme Soul. Kumbh and confluence are one and the same thing. You children know that you are carrying out the establishment of heaven for yourselves. You have to remain pure while living at home. Where there is purity, that would be called heaven. When children remain pure, there is purity, peace and happiness. Your stage should be like that of the deities. You shouldn’t have any defects. That is called heaven. That then becomes heaven permanently. You have to become that worthy at home. This is why it is said: Make every home into heaven. You make human beings worthy of going to heaven. It is sung of you: Make every home into heaven. In the golden age, there was heaven in every home. It is not that any more. You have to give the children who claim the inheritance from the Father the aim of becoming pure from impure while sitting at home. This is the biggest of all living pilgrimages where Shiv Baba, the Ocean, and you souls, the Ganges of knowledge, would definitely be. This is the biggest and the highest mela of all. All those melas are of the path of devotion, whereas this is the mela of the path of knowledge. The melas of the path of devotion continue for birth after birth, whereas the mela of the path of knowledge only takes place once. This is a spiritual meeting. The Supreme Soul comes from the supreme abode to meet His children. This is the best pilgrimage and mela. This living Ocean can go anywhere, whereas non-living oceans do not go anywhere. This Ocean goes. You rivers also go on invitations. The Ocean of Knowledge moves with this River Brahmaputra. All of you are different types of river: some of you are pure and some are impure. Sometimes, many of those who are unable to remain pure come. At least they come. Even householders living outside come. They are allowed to come. It is not that everyone would be allowed. When some friends or relatives come, they are allowed to come in order to be uplifted. Otherwise, there are many regulations. No one impure can come into the Court of Indra. No guide or angel can bring anyone impure with them. This is why the Father says: Remain cautious. You receive a certificate. When you bring someone with you or when you send someone, the responsibility is yours. In fact, the centres give invitations. So many impure ones must be going there. It is only when impure ones go to a centre that you can make them pure. The Ocean is sitting here and this is why there are the disciplines. Their pulse is felt. There are many different doctors and surgeons. When Mama, Baba or the special children speak to them, they can instantly tell whether something sits in their intellects or not. When you explain to them that there are two fathers, they would instantly accept it. They are given the method. Everyone remembers the Supreme Father, the Supreme Soul. We are children of such a Father. It is just that you don’t know His occupation. You children have understood that whatever name and form a person comes with, he definitely has to have that name and form again after 5000 years. The picture of Christ can only be made identical to that at that time. The picture of another person could not be made like that. The form of Krishna cannot be the form of any other person. Souls have now become impure by taking different names, forms and places in different time periods. They are now being made pure. You know that the Father is the Benefactor and that Ravan is the one who causes you harm. It is the Father who gives everyone salvation. In that, it is not just human beings, but everything else also receives salvation. Hell is destroyed and heaven is established. Give invitations to whoever came in the previous cycle – Punjabis, Parsis etc. The Father has come. There is nothing wrong in beating the drums about this. Your pictures are very good. You are now becoming worthy of going to a temple. It requires a lot of effort to remove the evil spirits. It requires so much effort to remove the vices and defects in order to marry Lakshmi and Narayan. Some are slapped by the evil spirit of lust, some by the evil spirit of anger and others by the evil spirit of attachment. They then completely fall. They fall even because of greed. When some daughters from good homes see a sweet (mithai), they take it and secretly eat it. Greed has brought a loss to so many. They steal due to the influence of greed. At first you were in a bhatthi and everyone now has to create a bhatthi in their home. The Father created one big bhatthi. Now He says: You first have to stay in a bhatthi for seven days. Nowadays, it is very difficult for anyone to stay in a bhatthi. When someone goes to a centre he is coloured, but when he goes back home the colour fades away; there is the influence of bad company. It now requires a lot of effort. You children know that you are sitting in God’s clan. There is Dada, Baba and you brothers and sisters. The Brahmin clan is remembered as the most elevated clan. You can also give knowledge to those brahmins: Brahmins are the highest, the topknot. Only these confluence-aged Brahmins become deities. First of all, the Brahmins are even higher than the deities. The topknot is the highest. You brahmins worship the deities, and you consider yourselves to be worshippers and them to be worthy of worship. You can explain this to those worshipper-priest brahmins in the temples. You are the true confluence-aged Brahmins. You are the mouth-born creation of Brahma. You are now becoming deities. It would definitely be the Supreme Father, the Supreme Soul, who makes you into deities of heaven. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Check the defects within yourself and remove them. Beware of the influence of bad company. Imbibe divine virtues and make yourself worthy.
  2. Serve to make every home into heaven. Chase away the evil spirits by having remembrance of the Father. Continue to celebrate an auspicious meeting with the Father.
Blessing: May you be filled with all the treasures of fortune and make the Bestower of Fortune belong to you by using the easy method.
The method to make the Bestower of Fortune belong to you is to have a relationship with both Bap and Dada. Some children say that they have a direct connection with the incorporeal One, that the corporeal one has attained everything from the incorporeal One, and that they too will attain everything from Him. However, that is like using a damaged key. Your fortune cannot be created without you becoming a Brahma Kumar or Kumari. Without the corporeal one, you cannot become a master of the treasure-store of all fortune because the Bestower of Fortune distributes fortune through Brahma. So, know the method and become filled with all the treasures of fortune.
Slogan: Claim the certificate of contentment from yourself, from service and from everyone and you will become an embodiment of success.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 11 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 September 2018

To Read Murli 10 September 2018 :- Click Here
11-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – घर-घर को स्वर्ग बनाने की जिम्मेवारी तुम बच्चों पर है, सबको पतित से पावन होने का लक्ष्य देना है, दैवीगुण धारण करने हैं”
प्रश्नः- ईश्वरीय गोद में आने से तुम बच्चों को कौन सा अनुभव होता है?
उत्तर:- मंगल मिलन मनाने का अनुभव ईश्वरीय गोद में आने वाले बच्चों को होता है। तुम जानते हो संगमयुग है ईश्वर से मिलन मनाने का युग। तुम ईश्वर से मिलन मनाकर भारत को स्वर्ग बना देते हो। इस समय तुम बच्चे सम्मुख मिलते हो। सारा कल्प कोई भी सम्मुख मिलन नहीं मना सकते। तुम्हारा यह बहुत छोटा सा ईश्वरीय कुल है, शिवबाबा है दादा, ब्रह्मा है बाबा और तुम बच्चे हो भाई-बहिन, दूसरा कोई संबंध नहीं।
गीत:- नई उमर की कलियां……..

ओम् शान्ति। बाबा जब आते हैं तो पहले कुछ समय साइलेन्स में बैठना चाहिए क्योंकि पहले-पहले दान दिया जाता है याद का। याद से ही पतितों को पावन बनाना है। तुम बच्चे दान दे रहे हो और ले रहे हो। बाप आकर कांटों से कलियां बनाते हैं फिर कलियों से फूल बनते हैं। तुम जानते हो हमारी सर्विस ही है – हर एक को स्वर्ग के लायक बनाना। जैसे तुम बन रहे हो।

बाप आकर पहले हेल्थ, पीछे वेल्थ देते हैं। पहले शान्ति फिर सुख। वास्तव में सुख दोनों में है। तुम बच्चों को सुख और शान्ति दोनों चाहिए और जो सन्यासी आदि हैं वह सिर्फ शान्ति चाहते हैं। सन्यासी सुख नहीं चाहते हैं। सुख तो वह दे न सकें। अगर शान्ति देवें तो भी अल्पकाल क्षण भंगुर सुख के लिए। कहते हैं कि सुख तो काग विष्टा समान है। सन्यासी बहुत करके शान्ति चाहते हैं मुक्ति के लिए। मुक्ति दूसरा कोई तो दे नहीं सकता। इसको बेहद की मुक्ति, बेहद की जीवनमुक्ति कहा जाता है, सो बेहद का बाप ही दे सकते हैं। तुम जानते हो इस समय सब कांटे हैं। कांटे चुभते हैं। बाप कहते हैं सब एक-दो को काम कटारी से मारते हैं। उनको पता नहीं है कि काम कटारी को हिंसा कहा जाता है। तुम विकार में जाते हो तो आदि-मध्य-अन्त एक-दो को दु:ख देते हो। यह है दु:ख की दुनिया। सुख की दुनिया स्वर्ग को कहा जाता है – जबकि नई सृष्टि नया भारत है। भारतवासी जो देवी-देवताओं के पुजारी हैं, जानते हैं कि इन देवताओं का राज्य था जिसको स्वर्ग कहा जाता है। यह भी महसूसता आती है। लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में जाकर उनकी महिमा गाते हैं। समझते हैं भारत के यह मालिक थे। भारत स्वर्ग था – यह भी महसूसता आती है, परन्तु हवा के मुआफिक। समझते तो हैं भारत में लक्ष्मी-नारायण के इतने मन्दिर बनाते हैं तो उन्हों की राजधानी थी। महाराजा-महारानी कहा जाता है। परन्तु कब थे सो भूल गये हैं। कितनी साधारण भूल है। कोई जास्ती टाइम नहीं हुआ है। पांच हजार वर्ष की बात है। क्राइस्ट, बुद्ध आदि को दो-अढ़ाई हजार वर्ष हुए हैं। उनके लिये ऐसे कहते हैं कि रीइनकारनेशन किया। यूँ तो री-इनकॉरनेट हरेक करते हैं। आत्मा आकर प्रवेश करती है इसको भी री-इनकारनेट कहेंगे। परन्तु पहले बड़ों का नाम गाया जाता है। कहा जाता है – परमपिता परमात्मा रीइनकारनेट करेंगे, तब आकर शरीर में प्रवेश करेंगे। रीइनकारनेट का अर्थ यह है। तो जो बड़े नामीग्रामी होते हैं उनके लिये यह कहा जाता है। जैसे बुद्ध का रीइनकारनेशन, क्राइस्ट का रीइनकारनेशन। बौद्धी और क्रिश्चियन का भारत से कने-क्शन देखने में आता है। गुरूनानक को 500 वर्ष के लगभग ही दिखाते हैं। उनका भी छोटा रीइनकारने-शन है। वह बड़े हैं। तो रीइनकारनेशन सब करते हैं। अब परमपिता परमात्मा को बुलाते हैं। परन्तु वह कब आयेगा, कैसे आयेगा – यह नहीं जानते। शरीर में तो जरूर आना होता है। परन्तु जन्म न लेने कारण उनको रीइनकारनेशन कहा जाता है। छोटा बच्चा तो नहीं बनते हैं। सबसे बड़ा रीइनकारनेशन परमपिता परमात्मा का कहेंगे। गाते हैं – परमात्मा 24 अवतार लेते हैं। अब कह देते पत्थर-पत्थर में अवतार लिया। गिरते जाते हैं। जैसे भारत गिरता जाता है वैसे उनकी कथनी भी गिरती जाती है। बाप नई दुनिया का रचयिता है। सो जरूर नई और पुरानी के संगम पर आयेंगे। उनको सबसे बड़ा रीइनकारनेशन कहेंगे। शिव का सबसे बड़ा रीइनकारनेशन है। परन्तु मनुष्य समझते नहीं हैं क्योंकि परमात्मा से बेमुख हुए हैं। निराकार से परिचित जरूर हैं परन्तु वह यह नहीं जानते कि परमात्मा कब आते हैं, क्या आकर करते हैं? ऐसे नहीं कि विष्णु का रीइनकारनेशन कहेंगे। देवी-देवता धर्म का रीइनकारनेशन नहीं कहेंगे। देवी-देवता धर्म की स्थापना कहेंगे।

विष्णु अवतरण का एक नाटक भी बनाते हैं। अब वास्तव में विष्णु अवतरण की तो बात ही नहीं। तुम अब विष्णु के कुल के बन रहे हो। ईश्वर का कुल है ना। यह शिव का बच्चा ब्रह्मा, ब्रह्मा के बच्चे तुम। इसको ईश्वरीय कुल कहा जाता है। परमपिता परमात्मा कहते हैं मैं आकर तुमको अपना बनाता हूँ। मैं आकर तुम बच्चों का बाप बनता हूँ। हूँ तो सबका बाप। परन्तु अभी तुम ब्रह्मा द्वारा मेरे बने हो, इसलिये तुम मुझे दादा कहते हो। आत्माओं का बाप तो है ही। सब जानते हैं इस समय मैं आया हुआ हूँ। तुम ही अभी मिलते हो। बेहद के बाप से तब मिलते हो जब बाप जन्म देते हैं। अभी तुमको धर्म का बच्चा बनाया है ब्रह्मा द्वारा। विकार के तो बच्चे हो न सकें। इतनी प्रजा है। बहनभाई कितने हैं तो यह सब मुख-वंशावली ठहरे ना। सन्यासियों की वंशावली नहीं होती है क्योंकि उनमें दादा-बाबा का कोई कनेक्शन नहीं है। यहाँ बाप भी है, दादा भी है। दादा इनको (बड़े भाई को) कहा जाता है। बाप आकर अपना बनाते हैं। तुम जानते हो हम ईश्वर की गोद में आये हैं। यह मंगल-मिलन है। कलियुग का अन्त और सतयुग की आदि – इसको ही संगम कहा जाता है। संगम में मिलन होता है। जैसे 3 नदियों का संगम है। उसमें क्या होता है? गुरू लोग और जिज्ञासू का मंगल-मिलन होता है। वह तो हो गया जिस्मानी। गाया भी हुआ है – आत्मा और परमात्मा का मंगल-मिलन। यह सबसे अच्छा है। आत्मायें मिलती हैं – परमपिता परमात्मा से। इसमें पानी के नदी की बात नहीं है। यहाँ तुम बैठे हो। यह तुम्हारा बहुत भारी मंगल-मिलन है। आत्मायें भी चैतन्य हैं। परमपिता परमात्मा का यह लोन लिया हुआ शरीर है, इनको मंगल मिलन कहा जाता है। कुम्भ का मेला कहा जाता है ना। कुम्भ को भी संगम कहेंगे। 3 नदियों के संगम का नाम कुम्भ रख दिया है। सबसे बड़ा संगम कौन-सा है? सागर और नदियों का। सबसे बड़ी नदी है ब्रह्मपुत्रा। उसमें बाबा आते हैं इसलिये सागर और ब्रह्मपुत्रा नदी का इकट्ठा मेला तो है ही। अब कुम्भ का मेला है – संगम पर। तुम सब ज्ञान सागर बाप से मिलते हो, इसको ईश्वरीय कुम्भ का मेला कह सकते हैं। यह है आत्माओं और परमात्मा का संगम। कुम्भ वा संगम, बात एक ही है। तो तुम बच्चे जानते हो हम अपने लिये स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। हमको घर में पवित्र होकर रहना है। जहाँ पवित्रता है, वहाँ ही स्वर्ग कहेंगे। बच्चे पवित्र रहते हैं तो पवित्रता सुख-शान्ति है। तुम्हारी अवस्था ऐसी होनी चाहिये जैसे देवताओं की होती है। कोई भी अवगुण नहीं होना चाहिये, इसको ही स्वर्ग कहेंगे। वही फिर स्थाई स्वर्ग बन जाता है। घर में ऐसा लायक बनना है, इसलिये कहा जाता है घर-घर को स्वर्ग बनाओ। तुम मनुष्यों को स्वर्ग में चलने लायक बनाते हो। तुम्हारे लिये ही गीत है – घर-घर को स्वर्ग बनाओ। सतयुग में घर-घर में स्वर्ग था, अब नहीं है। जो बच्चे बाप से वर्सा लेते हैं उन्हों को अपने घर बैठे पतित से पावन बनने का लक्ष्य देना है।

यह बड़े ते बड़ा चैतन्य तीर्थ है। जहाँ शिवबाबा सागर है, वहाँ तुम आत्मायें गंगायें जरूर होंगी। यह सबसे बड़ा ऊंच ते ऊंच मेला है। वह सब हैं भक्ति मार्ग के मेले, यह है ज्ञान मार्ग का मेला। भक्ति मार्ग के मेले तो जन्म बाई जन्म लगते रहते हैं। ज्ञान मार्ग का मेला एक ही बार लगता है। यह है रूहानी मिलन। सुप्रीम रूह परमधाम से आकर बच्चों से मिलते हैं। सबसे अच्छी यात्रा या मेला यह है। यह चैतन्य सागर तो कहाँ भी जा सकते हैं। वह जड़ सागर तो कहाँ नहीं जाता। यह सागर जाता है। तुम नदियां भी जाती हो निमंत्रण पर। ज्ञान सागर इस ब्रह्मपुत्रा नदी के साथ चलते हैं। तुम भिन्न-भिन्न प्रकार की नदियां हो – कोई पवित्र हैं, कोई अपवित्र हैं। कोई-कोई समय ऐसे बहुत आ जाते हैं जो पवित्र नहीं रह सकते हैं। फिर भी आते तो हैं ना। बाहर के गृहस्थी भी आते हैं। एलाउ किया जाता है। ऐसे भी नहीं, सबको एलाउ करेंगे। कोई मित्र-सम्बन्धी आदि आते हैं, जिन्हों को उठाने के लिये एलाउ करते हैं। नहीं तो कायदे बहुत हैं। इन्द्रप्रस्थ में कोई पतित आ न सकें। कोई भी पण्डा वा सब्जपरी आदि कोई भी पतित को साथ में ले आ नहीं सकती इसलिये बाप कहते हैं ख़बरदार रहना, सर्टीफिकेट तुमको मिलता है। किसको साथ ले आती हो या भेज देती हो, रेसपान्सिबिलिटी तुम्हारे पर है। यूँ तो सेन्टर्स पर तो निमंत्रण भी देते हैं। कितने पतित आते होंगे। सेन्टर पर पतित आयें तब तो उनको पावन बनाओ। यहाँ तो सागर बैठा हुआ है तो नियम रखे हुए हैं। नब्ज देखी जाती है। डॉक्टर्स सर्जन तो भिन्न-भिन्न होते हैं ना। मम्मा-बाबा वा अनन्य बच्चे बात करेंगे तो झट पता लगेगा कि बुद्धि में बैठता है वा नहीं। तुम कोई को भी समझायेंगे कि दो बाप हैं तो झट मानेंगे। युक्ति बतलाई जाती है। परमपिता परमात्मा को तो सब याद करते हैं। हम फलाने बाप के बच्चे हैं। सिर्फ उनके आक्यूपेशन को नहीं जानते। यह तो तुम बच्चे समझ गये हो कि जिस-जिस नाम-रूप से जो मनुष्य आते हैं, उसी नाम-रूप से 5 हजार वर्ष बाद फिर आना है जरूर। क्राइस्ट का जो चित्र है, हूबहू फिर उसी समय ही हो सकता। ऐसा और किसी मनुष्य का हो नहीं सकता। कृष्ण का जो चित्र है वह फिर और किसी मनुष्य रूप में हो न सके। आत्मा भिन्न-भिन्न नाम, रूप, देश, काल में जन्म लेते-लेते अब पतित हो गई है, उसको फिर पावन बनाते हैं।

तुम जानते हो कल्याणकारी बाप है, अकल्याणकारी रावण है। सबको सद्गति देने वाला बाप है। फिर इसमें मनुष्य तो क्या सब चीज़ों की सद्गति हो जाती है। नर्क का विनाश, स्वर्ग की स्थापना होती है। जो कल्प पहले आये थे – कोई पंजाबी, कोई पारसी आते हैं ना, सभी को निमंत्रण देना है। बाप आया हुआ है – ढिंढोरा पीटने में भी हर्जा नहीं है। तुम्हारे चित्र भी बड़े अच्छे हैं। अभी तुम मन्दिर लायक बनते हो। अब भूतों को निकालने में बड़ी मेहनत है। लक्ष्मी अथवा नारायण को वरने लिये विकारी अवगुण निकालने में कितनी मेहनत लगती है। कोई को काम का भूत, कोई को क्रोध का भूत, किसको मोह का भूत थप्पड़ मार देते हैं। एकदम गिर पड़ते हैं। लोभवश भी गिर पड़ते हैं। अच्छे-अच्छे घर की बच्चियां मिठाई देखेंगी तो छिपाकर खा लेंगी। लोभ ने भी कितनों को नुकसान पहुँचाया है। लोभ के वश ही चोरी करते हैं। पहले तुम भट्ठी में थे। अभी तो सबको अपने घर में भट्ठी बनानी पड़े। बाप ने एक ही बड़ी भट्ठी बनाई। अभी तो कहते हैं पहले 7 रोज भट्ठी में रहना पड़े। आजकल किसका भट्ठी में बैठना बड़ा मुश्किल है। सेन्टर में भी आते हैं तो रंग चढ़ाते हो फिर घर में जाने से उड़ जाता है। संगदोष लग जाता है। अभी तो बड़ी मेहनत है।

अभी तुम बच्चे जानते हो हम ईश्वरीय कुल में बैठे हैं। दादा, बाबा और हम भाई-बहन हैं। ब्राह्मण कुल सर्वोत्तम गाया हुआ है। उन ब्राह्मणों को भी तुम ज्ञान दे सकते हो – ब्राह्मण हैं उत्तम चोटी, यह संगमयुगी ब्राह्मण ही फिर देवता बनते हैं, पहले तो देवताओं से भी ऊंच ब्राह्मण हैं, चोटी तो ऊंची ठहरी ना, तुम ब्राह्मण देवताओं की पूजा करते हो, अपने को पुजारी, उनको पूज्य समझते हो। तुम उन पुजारियों, ब्राह्मणों को भी यह समझा सकते हो। तुम तो हो सच्चे-सच्चे ब्राह्मण संगमयुगी। तुम ब्रह्मा मुख वंशावली हो, फिर तुम सो देवता बनते हो। स्वर्ग का देवता जरूर परमपिता परमात्मा ही बनायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिये मुख्य सार :-

1. अन्दर के अवगुणों की जांच कर उन्हें निकालना है। संगदोष से अपनी सम्भाल करनी है। देवताई गुण धारण कर स्वयं को लायक बनाना है।

2. घर-घर को स्वर्ग बनाने की सेवा करनी है। भूतों को बाप की याद से भगाना है। बाप के साथ मंगल मिलन मनाते रहना है।

वरदान:- सहज विधि द्वारा विधाता को अपना बनाने वाले सर्व भाग्य के खजानों से भरपूर भव
भाग्य विधाता को अपना बनाने की विधि है-बाप और दादा दोनों के साथ संबंध। कई बच्चे कहते हैं हमारा तो डायरेक्ट निराकार से कनेक्शन है, साकार ने भी तो निराकार से पाया हम भी उनसे सब कुछ पा लेंगे। लेकिन यह खण्डित चाबी है, सिवाए ब्रह्माकुमार कुमारी बनने के भाग्य बन नहीं सकता। साकार के बिना सर्व भाग्य के भण्डारे का मालिक बन नहीं सकते क्योंकि भाग्य विधाता भाग्य बांटते ही हैं ब्रह्मा द्वारा। तो विधि को जानकर सर्व भाग्य के खजानों से भरपूर बनो।
स्लोगन:- स्वयं से, सेवा से, सर्व से सन्तुष्टता का सर्टीफिकेट लो तब सिद्धि स्वरूप बनेंगे।

TODAY MURLI 11 SEPTEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 11 SEPTEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 10 September 2017 :- Click Here

11/09/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father is the Lord of the Poor. It is only you poor children who take a handful of knowledge from the Father and become wealthy. The Father makes you equal to Himself.
Question: How were the obstacles to the sacrificial fire of Rudra that have been remembered created by devils?
Answer: Human beings think that perhaps devils put all sorts of rubbish and cow dung etc. into the sacrificial fire, but it wasn’t like that. When a child here has ego or there are bad omens, it is as though rubbish is being thrown. When they become angry and speak useless things, these are the things that create the biggest obstacles in this sacrificial fire of Rudra. Some children keep bad company and make their lives worthless. Maya slaps them hard and makes them insolvent.

Om shanti. You children are sitting in remembrance and it is as though you are sitting in yoga. Each of you knows that you have to become satopradhan from tamopradhan. This is incognito effort. There is no question of greatness in this. The Father remains so egoless. The one He enters is also egoless. Prajapita Brahma has so many children and yet his behaviour is so simple; it is like that of an older person at home. It is also said of the incorporeal One: He is egoless; He is incognito. He doesn’t feel that He should have great external show. When there is external show for someone, everyone comes to know about that one. The name is glorified through external show. The Father says: All of those customs and systems are of iron-aged, body-conscious people. Here, He simply comes and goes in silence. Baba always says: No one should come to the station to welcome me. There should be no chaos. The Father says: Let Me remain incognito. Only in this way is there pleasure. People don’t take long to kill someone important or someone who has external show. Baba is the Highest on High and yet His activity is like that of the poorest of the poor. The Father is the Lord of the Poor and He only comes to meet the poor. Wealthy ones would only go to meet famous, well-known people. That One loves poor people. People have mercy for the poor, and so the Father has mercy for you poor ones. He gives you a handful of knowledge so that you can become wealthy. It is difficult for wealthy ones to remain here; they don’t care for this path of knowledge. Wealthy people help the Government a lot; they are well known. There, the names of those who give a lot of donations are published in the newspapers. Here, when a poor person donates something in charity, it should be published in the papers. They (like Sudama) gave a handful and received a palace in return. The Father is remembered as the Lord of the Poor. He meets everyone, whereas an important person would not meet someone who sells spices. However, here, there are only the poor; they are the ones who have to be made wealthy. The Father is incognito. Only the poor will claim their inheritance from the Father as they did in the previous cycle. It is fixed in the drama. The wealthy cannot sacrifice themselves. Yes, if one of them were to make Shiv Baba his Heir, he would show wonders. The Father says: I enter an ordinary body. It is sung: He is incorporeal and egoless. They sing of the Creator who comes wrapped in a quilt (the One who sits in someone else’s body). Just see how Baba sits in the cold with a quilt! No one knows the Purifier Father. Baba sits here and explains: O children of Bharat, who made you into the masters of heaven? The pictures of Lakshmi and Narayan are kept here. Here, you receive the imperishable wealth of knowledge and then you donate it. You surrender your bodies, minds and wealth, and so you must receive the return of that. Even on the path of ignorance, those who give a lot to charity take their next birth in a very important family. Here, you surrender everything to the Father, and so you take your next birth to those who become wealthy at the end. Then you will build palaces etc. there. The world will be the same one. Heaven is not somewhere on the ceiling! Ask them: Where has your father gone? They would say that he has become a resident of Kashi, or that he has attained liberation, that he has gone to heaven. However, you now understand that no one has received liberation or liberation-in-life. Everyone continues to come and go from here; they leave their bodies and take their next bodies according to their karma. The Father explains the significance of action, neutral action and sinful action. Whatever actions people perform in Ravan’s kingdom, they are sinful. An account is started in adolescence. A small child does not accumulate an account. When a child grows up, his parents make him use the sword of lust. That action is also sinful. Maya’s kingdom doesn’t exist there. Not a single human being knows this. The Father now teaches you children to become soul conscious. In no other satsang would they say that your soul has a full part recorded in it. A soul leaves his body, takes the next and plays his part. It is the soul that listens through the ears. You are now being made to have self-realisation. I, the soul, take 84 births. The soul has now developed faith, and so body consciousness ends. This is the first defect; it is due to your being body conscious that all the other vices cling to you. Therefore, you now have to become soul conscious. Baba, we souls have completed our 84 births and are now about to come to You. The drama has ended and we are now to receive a new birth. There should be this happiness. A snake sheds a skin and takes a new one. Sannyasis could never give this example. Here, before you take a new skin you have to shed the old one. Then, in every birth there, you will automatically shed the old skin and take a new one. You children understand that you will now shed your old skins and return home. Then, in heaven, you will leave your old bodies and take new ones at the right time. A snake sheds its skin many times. Here, you are made to practise this. This is the decayed skin of 84 births; it is called the ugly one. When the body is ugly, the soul is also ugly. When gold is real, 24 carat , the ornaments made from it are also real. Previously, it wasn’t allowed for gold to have alloy mixed in; people were able to obtain pure gold. These golden guineas etc. came from foreign lands. In foreign lands they never make coins out of real gold. Real gold coins were only made here. It has all become very expensive now and so they have to mix alloy into the gold. You have incognito happiness in your hearts that you will go and build golden palaces there. Just as you have stone walls here, so you will have walls of gold there. We become ones with divine intellects and so we make golden palaces. Everything old will be destroyed. You have to understand this drama with great wisdom. In the new world, everything is new. These are such easy aspects! Achcha, if you do not understand even this much, remember the Father with a lot of love. This is why Baba has explained all of these deep things last. In the beginning, everything He told you was very simple. You cannot ask why Baba didn’t tell us in the beginning that the soul was so tiny. According to the drama, whatever happens happened in exactly the same way a cycle ago. He is explaining to you exactly as He did previously. Human beings are tied in the bondage of this drama. He is explaining to you like this after a cycle and He will explain to you in the same way in the next cycle. On seeing the ordinary form (of Brahma), many children become confused and start saying wrong things. Maya slaps even very good children. They think that whatever God is, He must be incorporeal. They are right. If it weren’t for the incorporeal One, how could you and I be here? However, surely the incorporeal One needs a chariot. What could He do without a chariot? What could Shiv Baba do? Only when He enters a chariot can you meet Him. You say “I only hear from You” or “I only sit with You”, and so a chariot is definitely needed. Achcha, just try to remember the Incorporeal without the corporeal! Is it that you will receive knowledge through inspiration? In that case, why have you come to Me? This Baba also says that you have to claim your inheritance from Shiv Baba. Shiv Baba says: I sit in this ordinary body and teach you. Study is definitely needed. There are many good children who become arrogant. They open two or four centr e sand then they have ego and they then continue to say wrong things. Then, sometimes, it enters their intellects that what they said was not right, and so they repent. Baba says: How can I explain without the corporeal one? There is no question of inspiration in this. I am sitting in the form of the Teacher. They make so much effort for the poor. It is the poor who have to be given charity. If you are not able to explain something, just say: Achcha, I will ask Baba and let you know. At present, there is a lot of margin for knowledge. As you move forward you will continue to understand everything. Day by day, you will hear new points. You children have to remain completely egoless. Due to ego, all the rubbish inside comes out. It is as though there is a shower of rubbish. People say that devils put rubbish into the sacrificial fire of the knowledge of Rudra; they think that they probably put cow dung etc. into it. In fact, the real cow dung is the wasteful things that they continue to say. They become angry and it is as though they are putting cow dung into the sacrificial fire. While some are moving along they experience bad omens and become orphans. Maya slaps them hard and makes them completely insolvent. While they are earning an income bad omens occur, and this is why it is said: They become amazed by the knowledge, they listen to it, they speak of it to others and then, by keeping bad company, they make their lives worthless. The Father says: You must remain very cautious. Good company takes you across and bad company drowns you. Baba absolutely forbids you (to keep wrong company). Many become enemies of those who are very well known and important people. Here, due to not receiving the food of poison, people become lustful and angry. Then they say: I will kill this one. The Father says: Lust is your enemy. You used to be pure deities and you now say that you are impure and unhappy. Baba says: There will be many obstacles created by devils in this sacrificial fire of knowledge. There have been obstacles from the beginning. The main aspect is that of purity. You call out: O Purifier, come! Therefore, I have come to make you pure. Then, why do you become impure again? From the beginning, there has been this battle going on because of this vice. Daughters even say: We will definitely claim our inheritance from the Father, no matter what happens. What would your father do? All he would do is beat you. So many die in a battle. A father would not kill you, but you definitely have to tolerate all of that. You need to become a mahavir (a brave warrior) for that. The song about the Shiv Shaktis applies to you. They call Adi Dev ‘Mahavir’ but they do not understand the meaning of that. You now understand that you are gaining victory over Maya and inspiring others to do the same. In the Dilwala Temple, there is Jagadamba. There are also the children in the small alcoves. The children of Mahavir are Brahmins. Your intellects have so many secrets. This is your accurate memorial. The Lakshmi and Narayan Temple is also a memorial. People celebrate the anniversary of Gandhi because he did a great thing. They say: Tagore was like this and he did good work. They have written such large biographies! There are so many volumes! Here, your intellects are of the biggest volume : The secrets of the beginning, the middle and the end of the whole world are in your intellects. It is the intellect that imbibes all the knowledge. Some have broad intellects; the intellects of others are less so, it is numberwise. This is new knowledge, which no one except the Father can give you. When you sacrifice yourselves to that Father, He makes you into the masters of heaven. The unlimited Father comes into the impure world in an impure body and makes so much effort on you children. Therefore, you children should definitely sacrifice yourselves. Shiv Baba is incorporeal; He is the Bestower. They say: Shiv Baba, I am sending this much money for the building that is being built. However, I (Shiv Baba) am incorporeal, and so I would definitely have it built through Brahma. I give directions for it to be built for you. I have only come for a very short while, and I will then return to the land beyond sound (nirvana). Baba sits here and explains with so much love! This is something so easy: Renounce your body and all bodily relationships and remember the one Father. If you wish, you can claim self-sovereignty or you can claim the status of a subject. It depends on your efforts. Each king and queen had subjects in the region of hundreds of thousands. Many will listen to this knowledge. You have to make effort to make others equal to yourself. You have to become pure here. You know that the Purifier Father has come. He is explaining to us as He did in the previous cycle. Baba gave us the kingdom but Ravan snatched it away from us. It is in your intellects how you were defeated and how you have to become victorious. Many children even forget this. Maya grabs them by their nose. They claim liberation-in-life in a second and then a life of bondage just as quickly; it doesn’t take long. The Father says: Children, remain cautious! Become rup-basant and let jewels of knowledge constantly emerge from your mouths. You should not even listen to rubbish. You should consider anyone who speaks such things to be your enemy. To listen to anything other than knowledge is evil. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remove the foremost defect of body consciousness and become completely soul conscious.
  2. Donate the imperishable jewels of knowledge you receive from the Father. Become as egoless as the Father and only allow jewels of knowledge to emerge through your lips. Do not listen to anything evil.
Blessing: May you be a carefree emperor who accumulates all treasures and maintains spiritual intoxication.
All you children have received infinite treasures from BapDada. However many treasures you have accumulated within yourself, that much spiritual intoxication is visible in your activity and on your face; that spiritual intoxication of having accumulated is then experienced. However much spiritual intoxication you have, that much sparkle of being a carefree emperor is visible in your every action because where there is intoxication, there are no worries. The hearts of those who are such carefree emperors are constantly happy.
Slogan: A knowledgeable soul is one who performs the dance of harmonising sanskars, together with the dance of knowledge.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 9 September 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 11 SEPTEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 September 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 10 September 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 11/09/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
11/09/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप है गरीब-निवाज़, तुम गरीब बच्चे ही बाप से ज्ञान की मुट्ठी ले साहूकार बनते हो, बाप तुम्हें आप समान बनाते हैं”
प्रश्नः- असुरों के विघ्न जो गाये हुए हैं वह इस रूद्र यज्ञ में कैसे पड़ते रहते हैं?
उत्तर:- मनुष्य तो समझते हैं असुरों ने शायद यज्ञ में गोबर आदि का किचड़ा डाला होगा – परन्तु ऐसा नहीं है। यहाँ जब किसी बच्चे को अहंकार आता है, कोई ग्रहचारी बैठती है तो जैसे किचड़ा बरसने लगता है, क्रोध में आकर मुख से जो फालतू बोल बोलते हैं, यही इस रूद्र यज्ञ में बहुत बड़ा विघ्न डालते हैं। कई बच्चे संगदोष में आकर अपना खाना खराब कर देते हैं। माया थप्पड़ मार इनसालवेन्ट बना देती है।

ओम् शान्ति। याद में बैठे हो तो जैसे योग में बैठे हो। हर एक जानते हैं कि हमको तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है। यह है गुप्त मेहनत। इसमें कोई बड़ाई की बात नहीं। बाप कितना निरहंकारी रहते हैं, जिसमें प्रवेश करते हैं वह भी कितना निरहंकारी है। प्रजापिता ब्रह्मा के कितने ढेर बच्चे हैं। चलन कितनी साधारण है, जैसे घर में बड़ा बाबा चलते हैं। निराकार के लिए भी कहा जाता है – निरहंकारी है। गुप्त है ना। इनको यह नहीं रहता कि हमारा शो हो। भभके से सबको पता पड़े। भभके से नाम तो होता है ना। बाप कहते हैं यह सब रसम-रिवाज कलियुगी देह-अभिमानियों की है। यहाँ तो शान्त में आते जाते हैं। बाबा तो हमेशा कहते हैं स्टेशन पर भी कोई ना आवे। कोई हंगामा नहीं। बाप कहते हैं मुझे गुप्त ही रहने दो, इसमें ही मज़ा है। बड़े भभके वालों को, बड़े आदमी को मारने में भी देरी नहीं करते। बाबा तो है ऊंच ते ऊंच। चलन गरीब से गरीब चलते हैं। बाप गरीब-निवाज़ है ना। गरीबों से ही मिलने आते हैं। साहूकार लोग तो नामीग्रामी मनुष्यों से ही मिलते हैं। इनको तो गरीब ही प्यारे लगते हैं। गरीबों पर ही तरस पड़ता है। तो बाप गरीबों पर तरस खाते हैं। ज्ञान की मुट्ठी भर देते हैं तो तुम साहूकार बनो। साहूकारों का ठहरना मुश्किल है। दरकार ही नहीं है इस ज्ञान मार्ग में। गवर्मेन्ट को तो धनवान लोग बहुत मदद करते हैं ना। नामीग्रामी हैं ना। वहाँ तो बहुत दान करने वालों का नाम अखबार में निकाला जाता है। यहाँ गरीब दान करते हैं तो अखबार में डालना चाहिए। चावल की मुट्ठी देकर फिर महल ले लेते हैं। बाप गरीब-निवाज़ गाया हुआ है। सबसे मिलते जुलते रहते हैं। बड़ा आदमी मसाला बेचने वाले से मिलेगा नहीं। यहाँ तो हैं ही गरीब। उन्हों को ही साहूकार बनाना है। बाप तो है गुप्त। गरीब ही बाप से अपना वर्सा कल्प पहले मुआफिक ले लेंगे। ड्रामा में नूँध ही है। साहूकार तो बलि चढ़ न सकें। हाँ इनको (शिवबाबा को) कोई वारिस बनाये तो कमाल कर दिखावे। बाप कहते हैं मैं आता ही हूँ साधारण तन में। गाया हुआ है निराकार, निरहंकारी। गाते भी हैं ना – गोदरी में करतार… देखो बाबा ठण्डी में गोदरी ले आकर बैठते हैं ना। पतित-पावन बाप को कोई जानते नहीं है। बाबा बैठकर समझाते हैं कि हे भारतवासी बच्चों – तुमको स्वर्ग का मालिक किसने बनाया? लक्ष्मी-नारायण के चित्र भी यहाँ रखे हैं। यहाँ तुम अविनाशी ज्ञान रत्न प्राप्त कर और दान करते हो। तन-मन-धन सब समर्पण करते हो तो इसका एवज़ा मिलना चाहिए। अज्ञान काल में भी बहुत दान करने वाले बड़े आदमियों पास जन्म लेते हैं। यहाँ तुम बाप के आगे सरेन्डर करते हो तो पिछाड़ी में जो साहूकार बनते हैं, उनके पास जाकर जन्म लेते हैं। फिर तुम वहाँ महल माडियाँ बनायेंगे। दुनिया तो यही होगी। वैकुण्ठ कोई छत में थोड़ेही रखा है। पूछो – तुम्हारा बाप कहाँ गया? कहेंगे काशीवास किया और मुक्ति को पाया अर्थात् स्वर्ग पधारा। परन्तु अब तुम समझते हो मुक्ति जीवनमुक्ति किसको मिली नहीं है। सब यहाँ ही आते जाते हैं। कर्मो अनुसार एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हैं। बाप कर्म-अकर्म-विकर्म की गति समझाते हैं। रावण राज्य में जो भी कर्म मनुष्य करते हैं वह विकर्म बन जाते हैं। बालिग अवस्था में ही हिसाब-किताब बनता है। छोटे बच्चे का कुछ जमा नहीं होता है। बच्चा बड़ा होता है तो उनके मॉ बाप काम कटारी पर चढ़ा देते हैं। यह भी कर्म विकर्म हुआ। वहाँ माया का राज्य ही नहीं। यह एक भी मनुष्य जानते नहीं।

तुम बच्चों को बाप देही-अभिमानी बनना सिखलाते हैं। और कोई सतसंग में ऐसे नहीं कहेंगे कि तुम्हारी आत्मा में सारा पार्ट बजाने की नूँध है। आत्मा शरीर छोड़ दूसरा ले पार्ट बजाती है। आत्मा ही कानों से सुनती है। अब तुमको सेल्फ रियलाइजेशन कराया है। हम आत्मा ही 84 जन्म लेते हैं। आत्मा को अब निश्चय हुआ है देह-अभिमान खत्म। पहला अवगुण ही यह है। देह-अभिमान आने से ही और विकार चटकते हैं। तो अब देही-अभिमानी बनना है। बाबा हम आत्मायें बस आई कि आई। 84 जन्म पूरे किये हैं। ड्रामा अब पूरा हुआ। अब हमको नया जन्म मिलेगा। खुशी होनी चाहिए ना। सर्प खल छोड़ता है फिर नई लेता है। सन्यासी यह मिसाल दे नहीं सकते। यहाँ तुम भी नई खाल लेने के पहले पुरानी छोड़ते हो। फिर वहाँ हर जन्म में आपेही पुरानी खाल छोड़ नई ले लेते हो। बच्चे समझते हैं कि अब हम यह पुरानी खाल छोड़ घर जायेंगे। फिर स्वर्ग में समय पर पुराना शरीर छोड़ दूसरा लेते रहेंगे। सर्प तो बहुत बार खाल उतारता है। तुमको तो यहाँ प्रैक्टिस कराई जाती है। यह 84 जन्मों की सड़ी हुई खाल है, इनको श्याम कहा जाता है। चमड़ी (शरीर) काली तो आत्मा भी काली है। सोना 24 कैरेट होता है तो जेवर भी ऐसे बनते हैं। आगे खाद डालने का कायदा नहीं था। सच्चा सोना चलता था। यह गिन्नी आदि विलायत से निकली है। विलायत में सच्ची मुहरें बनती नहीं, यहाँ ही सच्चे सोने की मुहरे थी। अब तो सब मंहगा हो गया है। सोने में खाद डालनी ही है। तुम्हारे दिल में गुप्त खुशी है कि हम तो जाकर सोने के महल बनायेंगे। जैसे यहाँ पत्थरों की दीवार है, वहाँ सोने की दीवार होगी। हम पारसबुद्धि बनते हैं तो महल भी सोने के बनाते हैं। पुराना सब खलास हो जायेगा। इस ड्रामा को बड़ा युक्ति से समझना होता है। नई दुनिया में सब कुछ नया होता है। यह कितनी सहज बातें हैं। अच्छा यह भी समझ में न आये तो बाप को बड़े प्यार से याद करो इसलिए यह सब महीन बातें बाबा ने देर से समझाई हैं। शुरू में बहुत सहज तोतली बातें सुनाते थे। ऐसे थोड़ेही कहेंगे कि बाबा ने यह सब पहले क्यों नहीं सुनाया कि आत्मा इतनी छोटी है। ड्रामा अनुसार जो कुछ पास हुआ, कल्प पहले मुआफिक जैसे समझाया था – ऐसे समझा रहे हैं। मनुष्य इस ड्रामा के बन्धन में बांधा हुआ है। कल्प बाद ही फिर ऐसे समझा रहे हैं। फिर भी ऐसे ही समझायेंगे। बहुत बच्चे साधारण रूप देख मूँझते हैं, उल्टा बोलने लग पड़ते हैं। अच्छे-अच्छे बच्चे उनको भी माया चमाट मार देती है। समझते हैं – बस जो कुछ है निराकार ही है। सो तो ठीक है ना। निराकार नहीं होता तो हम तुम कैसे होते। परन्तु निराकार को तो रथ जरूर चाहिए ना। रथ बिगर क्या करेंगे, शिवबाबा क्या करेगा? रथ में आये तब तो तुम उनसे मिलेंगे। तुम्हीं से सुनूँ, तुम्ही से बैठूँ। तो रथ जरूर चाहिए ना। अच्छा साकार बिगर निराकार को याद कर दिखाओ। क्या तुमको ज्ञान प्रेरणा से मिलेगा? फिर मेरे पास आये ही क्यों हो? यह बाबा भी कहता है कि वर्सा तो शिवबाबा से लेना है। शिवबाबा कहते हैं मैं इस साधारण तन में बैठ पढ़ाता हूँ। पढ़ाई तो जरूर चाहिए ना। बहुत अच्छे-अच्छे बच्चों का माथा ही फिर जाता है। दो चार सेन्टर खोलते तो बस अहंकार आ जाता है। फिर उल्टा बोलते रहते हैं। फिर कभी बुद्धि में आ भी जाता है कि यह हमने ठीक नहीं कहा, फिर पश्चाताप करते हैं। बाबा कहते हैं मैं साकार बिगर कैसे समझाऊंगा। इसमें प्रेरणा की तो बात ही नहीं। मैं टीचर के रूप में बैठता हूँ। गरीबों पर माथा मारते हैं। गरीबों को ही दान करना चाहिए। कोई भी बात समझ में न आये तो बोलो अच्छा बाबा से पूछकर बतायेंगे क्योंकि ज्ञान की अभी बहुत मार्जिन है। आगे चलकर समझते जायेंगे। दिन-प्रतिदिन तुम नई-नई प्वाइंटस सुनते रहेंगे। तुम बच्चों को तो बिल्कुल ही निरहंकारी बनकर रहना है। अहंकार आने से ही फिर सारा किचड़ा बाहर निकल आता है। किचड़े की जैसे वर्षा होती है। कहते भी हैं रूद्र यज्ञ में असुरों का किचड़ा पड़ा – वह समझते हैं शायद गोबर आदि डालते होंगे। सचमुच यह गोबर है। फालतू बोलने लग पड़ते हैं। क्रोध आदि करते यह जैसे गोबर डालते हैं। चलते-चलते किसको ग्रहचारी बैठती है तो छटेले बन जाते हैं। माया थप्पड़ मार एकदम इनसालवेंट बना देती है। कमाई में ग्रहचारी होती है ना। तब तो कहते हैं आश्चर्यवत सुनन्ती, संगदोष में आकर अपना खाना खराब कर देते हैं। बाप कहते हैं बहुत खबरदार रहना है। संग तारे, कुसंग बोरे… बाबा बिल्कुल मना कर देते हैं। बड़े आदमी के दुश्मन बहुत बन पड़ते हैं। यहाँ फिर विष का खाना न मिलने से कामेशु, क्रोधेशु बन पड़ते हैं। बस हम इनको मारेंगे। बाप तो कहते हैं – काम तो तुम्हारा दुश्मन है। तुम पावन देवी-देवता थे। अभी कहते हो कि हम पतित दु:खी हैं। बाबा कहते हैं – इस ज्ञान यज्ञ में असुरों के विघ्न बहुत पड़ेंगे। शुरू से ही पड़ते आये हैं। मुख्य है ही पवित्रता की बात। तुम पुकारते भी हो कि हे पतित-पावन आओ। तो अब आये हैं – पावन बनाते हैं। फिर क्यों पतित बनने चाहते हो? विकारों पर ही शुरू से झगड़ा चलता है। बच्चियाँ भी कहती हैं – हमको तो बाप से वर्सा जरूर लेना है – कुछ भी हो जाए। बाप क्या करेगा? मारेगा ना। लड़ाई में कितने मरते हैं। तुमको बाप कोई मार नहीं डालेगा। हाँ सहन जरूर करना पड़ता है, इसमें महावीरता चाहिए। शिव शक्ति का गायन तुम्हारा ही है। आदि देव को महावीर कहते हैं। परन्तु अर्थ थोड़ेही समझते हैं। अब तुम समझते हो कि माया पर जीत पाते हैं और दूसरों को मायाजीत बनाते हैं। देलवाड़ा मन्दिर में जगत अम्बा भी बैठी है। कोठरियों में बच्चियाँ भी बैठी हैं। महावीर बच्चे सब ब्राह्मण ब्राह्मणियाँ ठहरे। तुम्हारी बुद्धि में कितना राज़ है। हूबहू तुम्हारा ही यादगार है। लक्ष्मी-नारायण का मन्दिर भी यादगार है। गांधी की बरसी मनाते हैं। यह-यह किया, टैगोर ऐसा था, अच्छा काम करते थे। कितनी बड़ी-बड़ी जीवन कहानियाँ लिखी हुई हैं। कितने वाल्युम्स हैं। यहाँ तुम्हारी बुद्धि ही बड़ा वाल्यूम है। सारी सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ तुम्हारी बुद्धि में है। बुद्धि में ही ज्ञान की धारणा होती है। किनकी बुद्धि विशाल है – किनकी कम है। नम्बर हैं ना। यह है नई नॉलेज, जो बाप के सिवाए कोई सुना नहीं सकते। इस बाप पर बलि चढ़ने से तुमको स्वर्ग का मालिक बना देते हैं। बेहद का बाप पतित दुनिया, पतित शरीर में आकर बच्चों के लिए कितनी मेहनत करते हैं। तो जरूर बच्चों को बलि चढ़ना पड़े। वह शिवबाबा तो है ही निराकार, दाता है ना। कहते हैं शिवबाबा हम आपको पैसे भेज देते हैं, मकान बनाने के लिए। मैं तो निराकार हूँ तो जरूर ब्रह्मा द्वारा ही बनाऊंगा। डायरेक्शन देता हूँ – तुम्हारे लिए बनावें। हम तो आये हैं थोड़े समय के लिए, फिर निर्वाणधाम चले जायेंगे। कितना प्यार से बैठ समझाते हैं – कितनी सहज बात है, देह सहित देह के सब सम्बन्ध त्याग एक बाप को याद करो। चाहे तो स्वराज्य पाओ, चाहे प्रजा पद पाओ। तुम्हारे पुरूषार्थ पर है। एक-एक राजा रानी के पास प्रजा कितनी लाखों के अन्दाज में आती है। यह ज्ञान तो ढेर सुनेंगे। आप समान बनाने की मेहनत करनी है। पावन यहाँ बनना है। तुम जानते हो पतित-पावन बाप आया हुआ है। कल्प पहले मुआफिक हमको समझा रहे हैं। बाबा ने राज्य दिलाया था – रावण ने छीन लिया है। हार कैसे हुई है फिर जीतना कैसे है – यह भी बुद्धि में हैं। बहुत बच्चे यह भी भूल जाते हैं। माया नाक से पकड़ लेती है। सेकेण्ड में जीवनमुक्ति पाते हैं फिर झट जीवनबंध भी हो जाते हैं। देरी नहीं करते। बाप कहते हैं बच्चे खबरदार रहो। तुम रूप-बसन्त बन सदा मुख से रत्न ही निकालो। किचड़ा सुनना भी नहीं चाहिए। समझो हमारा यह दुश्मन है। ज्ञान के सिवाए और सब बातें सुनना ईविल है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पहला अवगुण जो देह-अभिमान का है, उसे निकालकर पूरा-पूरा देही-अभिमानी बनना है।

2) अविनाशी ज्ञान धन जो बाप से मिल रहा है, उसका दान करना है। बाप समान निरहंकारी बनना है। मुख से रत्न निकालने हैं। ईविल बातें नहीं सुननी है।

वरदान:- सर्व खजाने जमा कर रूहानी फखुर (नशे) में रहने वाले बेफिकर बादशाह भव 
बापदादा द्वारा सब बच्चों को अखुट खजाने मिले हैं। जिसने अपने पास जितने खजाने जमा किये हैं उतना उनकी चलन और चेहरे में वह रूहानी नशा दिखाई देता है, जमा करने का रूहानी फखुर अनुभव होता है। जिसे जितना रूहानी फखुर रहता है उतना उनके हर कर्म में वह बेफिक्र बादशाह की झलक दिखाई देती है क्योंकि जहाँ फखुर है वहाँ फिक्र नहीं रह सकता। जो ऐसे बेफिक्र बादशाह हैं वह सदा प्रसन्नचित हैं।
स्लोगन:- ज्ञानी तू आत्मा वह है जो ज्ञान डांस के साथ, संस्कार मिलन की डांस जानता है।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 9 September 2017 :- Click Here

Font Resize