today murli 11 november

TODAY MURLI 11 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 11 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 10 November 2018 :- Click Here

11/11/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
26/02/84

BapDada’s unique art gallery.

Today, BapDada is looking at His art gallery. Do you know which art gallery BapDada has? Today, BapDada was seeing in the subtle region the pictures of the divine activities of each child. What have the pictures of the divine activities of each one been like from the beginning up to now? So, just think how big the art gallery would be! Baba saw in those pictures three things especially in each child. The first was the personality of purity. The second was the royalty of reality. The third was the closeness in relationship. Baba saw these three things in each one’s picture.

The personality of purity was visible as a subtle sparkling light around the picture. The royalty of reality was the cheerfulness and cleanliness shining on the face, and the closeness in relationship was the shining star in the centre of the forehead. Some were shining a lot more than others,with rays spreading everywhere. Some were shining with only a few rays. Close souls were souls who were equal to the Father, that is, they were souls with their rays spreading everywhere. They were visible as equal to the Father in both their light and might. Baba saw these three specialities in each one’s picture of their divine activities. As well as this, Baba saw in each one’s picture the result of whether you have always been elevated from the beginning to the end in all these three things or whether you have sometimes been one thing and sometimes another. The pulse is felt in a physical body as to whether everything is fine or whether there is fluctuation; you can find out about someone’s health from his pulse being fast or slow. In the same way, from the centre of each picture, a light from the heart was going all over the body, from the top to the bottom. The speed was also visible: whether the light was travelling from the bottom to the top at the same speed or whether there was a difference in the speed from time to time. As well as this, the colour of the light was also checked in between whether it was a constant colour or whether it changed. Thirdly, whether the light, whilst travelling, stopped anywhere or whether it kept moving all the time. Baba saw each one’s picture of their divine activities in this way. You too can see your own picture, can you not?

Check your picture with the three specialities of personalityroyalty and closeness and see what it is like. What would the speed of your light be? It is of course numberwise, but there wasn’t a majority of those who had all three specialities and who were constant in the speed of all three types of light from the beginning to the end; it was the minority. The speed of three lights and three specialities means six things. In these six things, the majority had four or five of these things and some had three. The form of light of the personality of purity of some was just around their face s in the form of a crown (halo). In others, it was around half their bodies and in others, it was visible all around their bodies. For instance, it was like when you take a photograph. There were those who were pure in their thoughts, words and deeds from the beginning until now. They hadn’t had any impurity in their minds in the form of waste thoughts about themselves or about others. They hadn’t taken on any thoughts about the impurity of anyone’s weakness or defects. In their thoughts they have been Vaishnavs from birth. Thoughts are food for the intellect. “Vaishnavs from birth” means not to have taken into your mind or intellect any impurity, defects or waste thoughts. This is known as being a true Vaishnav and celibate from birth. So, Baba saw in each one’s picture, the lines of the personality of purity in the form of light. The pictures of those who have been pure in their thoughts, words and deeds – relationships and connections are included in deeds – showed them with light sparkling from their forehead to their feet. Do you understand? Do you see your picture in the mirror of knowledge? Look very carefully at the picture that BapDada would have seen of you and what it is like. Achcha.

The list of those who are to meet Baba is long. In the subtle region, you won’t be given a number and there isn’t any question of time. You can meet Baba whenever you want, for as long as you want; and however many want to meet Baba can do so, because that is beyond the world of limits. There are all of these bondages (restrictions) in the corporeal world. This is why the One who is free from bondage also has to be tied in bondage. Achcha.

You teachers are now content, are you not? All of you received your full share, did you not? You are the special souls who have become instruments. BapDada also has special regard for special souls. You are still service companions, are you not? In fact, all are companions but, nevertheless, only when the instruments consider themselves to be instruments is there success in service. In any case, many children continue to move forward in service with a lot of zeal and enthusiasm. However, even then, to give regard to the special instrument souls means to give regard to the Father and, in return for that regard, you receive the Father’s love from His heart. Do you understand? You are not giving regard to the teachers but receiving the return of love from the heart from the Father. Achcha.

To those who are always worthy of receiving love from the heart of the Father, the Comforter of Hearts, that is, to the worthy souls who experience in themselves the personality of purity and royalty of reality, to the children who are close and equal to the Father, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Avyakt BapDada meeting the UK group :

All of you are raazyukt and yogyukt souls who are full of all secrets, are you not? You are souls from the beginning who have been instruments to reveal BapDada’s name everywhere. BapDada is always pleased to see such original jewels and service companions. All of you are the right-hand group of BapDada. You are very good jewels. Some are one type and others are another, but all of you are jewels because you have become experienced and have become instrument souls to make others experienced. BapDada knows that all of you souls remain constantly absorbed in remembrance and service with a lot of zeal and enthusiasm. You have now finished everything else and now there is nothing but just remembrance and service. There is just the One, you belong to the One, you have a constant stage: this is what all of you say. In fact, this is the real elevated life. Those with such an elevated life are constantly close to BapDada. You are those who give the practical proof of having faith in the intellect. You always remember, “Wah, my Baba, and wah, my elevated fortune!” do you not? BapDada is always pleased to see the children who are embodiments of such awareness: Wah, My elevated children, wah! BapDada sings songs of such children. London is the foundation of service abroad. All of you are the foundation stones of service. With the impact of all of you becoming strong, service is continuing to grow. Although the foundation becomes hidden in the growth of the tree, it is still the foundation. Seeing the beautiful growth of the tree, everyone’s vision is drawn to that a lot more. The foundation remains incognito. In the same way, you have also become instruments and become those who give others a chance, but, even then, the original ones are the original ones. You experience happiness in giving others a chance and making them move forward, do you not? You don’t think that the double foreigners have come and so you are hidden away, do you? You are still instruments. You are instruments to give them zeal and enthusiasm. Those who keep others in front of themselves are in front, anyway. For instance, you tell little children always to walk in front of you and the elders stay behind. To make the younger ones move forward means that the older ones stay in front. You definitely continue to receive the visible fruit of that. If you hadn’t become co-operative, there wouldn’t then be so many centres in London. One became an instrument in one place and another became an instrument in another place. Achcha.

BapDada meeting the Malaysia and Singapore group:

Do all of you experience yourselves to be souls who are loved by the Father? Do you always remain stable in the stage of belonging to the one Father and none other? This stage is called a constant stage because when you belong to One, you are constant and stable. If there are many, your stage then fluctuates. The Father has shown you an easy way to see everything in the One. You have become free from remembering many and from wandering in many directions. You are all one, you belong to the One and you constantly continue to move forward in this constant and stable stage.

Let those from Singapore and Hong Kong now have a thought of opening a centre in China. There is no centre as yet in the whole of China. While bringing them into connection with you, give them an experience. Be courageous and have a thought and it will happen. Make them experience God’s love, peace and power through Raja Yoga and souls will automatically be transformed. Make them Raja Yogis. Don’t make them deities. Raja Yogis will automatically become deities. Achcha.

Speaking to the Polish group:

BapDada is happy that all of you children have reached your sweet home. All of you also have this happiness, do you not? That you have reached the great pilgrimage place? By practising this, your life will become elevated anyway. However, you have received such great fortune by coming to this place where you have reached your family that has real God’s love. You have come, having spent so much and, having made so much effort, and you now feel that that expense and effort have been worthwhile. You don’t wonder where you have come to, do you? You are loved so much by the family and the Father. BapDada always sees the speciality of you children. Do you all know your speciality? You have the speciality that through your love you have arrived here from so far away. Now, constantly continue to keep God’s family and God’s method of Raja Yoga with you. Now, when you go back, make that Raja Yoga centre grow very well because there are many souls who are thirsty for real peace, real love and real happiness. You will show them the path, will you not? In any case, when a person is thirsty for water and someone gives that person water at that time, then that person would sing praise of the one who brought that water for the rest of his or her life. So, all of you have to quench souls’ thirst for peace and happiness for birth after birth. By doing this you become charitable souls. Seeing your happiness, everyone will become happy. Happiness is the means of serving.

When you reach this great pilgrimage place, all pilgrimages are merged within it. Bathe in knowledge in this great pilgrimage place and donate all the weaknesses you have. When you go on a pilgrimage you have to renounce something. What will you renounce? Renounce what causes you distress – that’s all! Only then will going on this pilgrimage have been a success. Just donate this and, through this donation, you will become charitable souls, because to let go of something bad means to adopt something good. When you let go of weaknesses and adopt virtues, you automatically become a charitable soul. This is the success of this great pilgrimage place. It is very good that you have come to this great pilgrimage place. To come here means to become part of the list of fortunate souls. This pilgrimage place has this much power. However, what are you going to do from now on? It is one thing to become fortunate and another to become one hundred times fortunate. Then, it is something even more to become multi-million times fortunate. The more you stay in this company and continue to adopt virtues, the more you will continue to become multimillion times fortunate. Achcha.

BapDada speaking to Double foreign teachers :

T eachers should never think that they belong to another religion and have come here. This is something new ones say. You are all older ones and you have therefore become instruments. It is not that you who belonged to a different religion have come into this religion. You belonged to this religion and you have come into this religion. “We are different from them” – let there not be this thought even in your dreams. It is not that Bharat is different from the foreign lands. This thought will bring about division in our unity. Then it becomes “us and them”. What would there be where there is “us and them”? There would only be conflict. This is why you are all united. BapDada refers to you as double foreigners just symbolically; it isn’t that you are different. Don’t think that because you are double foreigners you are different from those of this land; no. Since you have taken a Brahmin birth, what have you become through your Brahmin birth? All Brahmins belong to the one religion; it is not a question of double foreigners and those of this land. We all belong to the one Brahmin religion. We all have a Brahmin life and are all instruments in the one Father’s service. Never use the language: These are our thoughts whereas the thoughts of you from India are like this. This language is wrong. Never speak such words even by mistake. Of course even the people of Bharat themselves can have different ideas – that is a different matter. However, never bring about a difference between Bharat and foreign lands. Never think: Well, it is always like this with us foreigners. No; never say: Our nature is like that anyway. No; never think in that way. There is the one Father and all of us belong to the one Father. Whatever language the instrument teachers speak, others will speak the same language. Therefore, speak every word in very tactfully. Be yogyukt and yuktiyukt at the same time. Some try to go ahead a great deal in yoga, but their deeds are not yuktiyukt. Let there be a balance of the two. The sign of being yogyukt is to be yuktiyukt.

Speaking to the servers:

To receive the fortune of serving the yagya is also a sign of great fortune. Even if you don’t give lectures or give courses, you do receive marks for service. Through this too you will pass. Each subject has it is own marks. Don’t think that because you don’t give lectures, you are behind. Servers have a right to the fruit of the present and also the future. You experience happiness, do you not? Mothers know how to dance in their mind. Even if you do nothing else, simply continue to dance in happiness in your mind and a lot of service will be done through that. Achcha.

Blessing: May you be a special soul who gives the experience of a speciality at every step whilst at the same time maintaining the feeling of equality.
Each and every child has his or her own speciality. The deeds of special souls are different from those of ordinary souls. There has to be a feeling of equality for all, but let it also be visible that each one is a special soul. “Special souls” means those who do something special and don’t just speak about it. Everyone will have a feeling from such a soul that that one is a treasure store of love. Let love be experienced from every step and every glance of yours. This is a speciality.
Slogan: Before the destruction of the world, destroy your own defects and weaknesses.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 11 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 November 2018

To Read Murli 10 November 2018 :- Click Here
11-11-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 26-02-84 मधुबन

बापदादा की अद्भुत चित्रशाला

बापदादा आज अपनी चित्रशाला को देख रहे हैं। बापदादा के पास कौन सी चित्रशाला है, यह जानते हो? आज वतन में हर बच्चे के चरित्र का चित्र देख रहे थे। हर एक का आदि से अब तक का चरित्र का चित्र कैसा रहा! तो सोचो, चित्रशाला कितनी बड़ी होगी! उस चित्र में हर एक बच्चे की विशेष तीन बातें देखीं! एक-पवित्रता की पर्सनैलिटी। दूसरा – रीयल्टी की रॉयल्टी। तीसरा – सम्बन्धों की समीपता – यह तीन बातें हरेक चित्र में देखी।

प्युरिटी की पर्सनैलिटी आकार रूप में चित्र के चारों ओर चमकती हुई लाइट दिखाई दे रही थी। रीयल्टी की रॉयल्टी चेहरे पर हर्षितमुखता और स्वच्छता चमक रही थी और सम्बन्धों की समीपता मस्तक बीच चमकता हुआ सितारा कोई ज्यादा चारों ओर फैली हुई किरणों से चमक रहा था, कोई थोड़ी-सी किरणों से चमक रहा था। समीपता वाली आत्मायें बाप समान बेहद की अर्थात् चारों ओर फैलती हुई किरणों वाली थीं। लाइट और माइट दोनों में बाप समान दिखाई दे रही थीं। ऐसे तीनों विशेषताओं से हरेक के चरित्र का चित्र देखा। साथ-साथ आदि से अन्त अर्थात् अब तक तीनों ही बातों में सदा श्रेष्ठ रहे हैं वा कब कैसे, कब कैसे रहे हैं, उसकी रिजल्ट हर-एक के चित्र के अन्दर देखी। जैसे स्थूल शरीर में नब्ज से चेक करते हैं कि ठीक गति से चल रही है वा नीचे ऊपर होती है। तेज है वा स्लो है, इससे तन्दरुस्ती का मालूम पड़ जाता है। ऐसे हर चित्र के बीच हृदय में लाइट नीचे से ऊपर तक जा रही थी। उसमें गति भी दिखाई दे रही थी कि एक ही गति से लाइट नीचे से ऊपर जा रही है या समय प्रति समय गति में अन्तर आता है। साथ-साथ बीच-बीच में लाइट का कलर बदलता है वा एक ही जैसा रहा है। तीसरा – चलते-चलते लाइट कहाँ-कहाँ रुकती है वा लगातार चलती रहती है। इसी विधि द्वारा हरेक के चरित्र का चित्र देखा। आप भी अपना चित्र देख सकते हो ना।

पर्सनैलिटी, रॉयल्टी और समीपता इन तीन विशेषताओं से चेक करो कि मेरा चित्र कैसा होगा। मेरे लाइट की गति कैसी होगी। नम्बरवार तो हैं ही। लेकिन तीनों विशेषतायें और तीनों प्रकार की लाइट की गति आदि से अब तक सदा ही रही हो – ऐसे चित्र मैजारिटी नहीं लेकिन मैनारटी में थे। तीन लाइटस की गति और तीन विशेषतायें छह बातें हुई ना। छह बातों में से मैजारिटी चार-पांच तक और कुछ तीन तक थे। प्युरिटी की पर्सनैलिटी का लाइट का आकार किसका सिर्फ ताज के समान फेस के आसपास था और किसका आधे शरीर तक और किसका सारे शरीर के आस-पास दिखाई दे रहा था। जैसे फोटो निकालते हो ना! जो मन्सा-वाचा-कर्मणा तीनों में आदि से अब तक पवित्र रहे हैं। मन्सा में स्वयं प्रति या किसी के प्रति व्यर्थ रूपी अपवित्र संकल्प भी न चला हो। किसी भी कमजोरी वा अवगुण रूपी अपवित्रता का संकल्प भी धारण नहीं किया हो, संकल्प में जन्म से वैष्णव, संकल्प बुद्धि का भोजन है। जन्म से वैष्णव अर्थात् अशुद्धि वा अवगुण, व्यर्थ संकल्प को बुद्धि द्वारा, मन्सा द्वारा ग्रहण न किया हो, इसी को ही सच्चा वैष्णव वा बाल ब्रह्मचारी कहा जाता है। तो हरेक के चित्र में ऐसे प्युरिटी की पर्सनैलिटी की रेखायें लाइट के आकार द्वारा देखी। जो मंसा-वाचा-कर्मणा तीनों में पवित्र रहे हैं! (कर्मणा में सम्बन्ध, सम्पर्क सब आ जाता है) उनका मस्तक से पैर तक लाइट के आकार में चमकता हुआ चित्र था। समझा! नॉलेज के दर्पण में अपना चित्र देख रहे हो? अच्छी तरह से देख लेना कि मेरा चित्र क्या रहा, जो बापदादा ने देखा। अच्छा!

मिलने वालों की लिस्ट लम्बी है। अव्यक्त वतन में तो न नम्बर मिलेगा और न समय की कोई बात है। जब चाहे, जितना समय चाहे और जितने मिलने चाहें मिल सकते हैं क्योंकि वह हद की दुनिया से परे हैं। इस साकार दुनिया में यह सब बन्धन हैं इसलिए निरबन्धन को भी बन्धन में बंधना पड़ता है। अच्छा!

टीचर्स तो सन्तुष्ट हो गये ना। सभी को अपना पूरा हिस्सा मिला ना। निमित्त बनी हुई विशेष आत्मायें हैं। बापदादा भी विशेष आत्माओं का विशेष रिगार्ड रखते हैं। फिर भी सेवा के साथी हैं ना। ऐसे तो सभी साथी हैं फिर भी निमित्त को निमित्त समझने में ही सेवा की सफलता है। ऐसे तो सर्विस में कई बच्चे बहुत तीव्र उमंग-उत्साह में बढ़ते रहते हैं फिर भी निमित्त बनी हुई विशेष आत्माओं को रिगार्ड देना अर्थात् बाप को रिगार्ड देना है और बाप द्वारा रिगार्ड के रिटर्न में दिल का स्नेह लेना है। समझा! टीचर्स को रिगार्ड नहीं देते हो लेकिन बाप से दिल के स्नेह का रिटर्न लेते हो। अच्छा।

ऐसे सदा दिलाराम बाप द्वारा दिल का स्नेह लेने के पात्र अर्थात् सुपात्र आत्माओं को सदा स्वयं को प्युरिटी की पर्सनैलिटी, रॉयल्टी की रीयल्टी में अनुभव करने वाले समीप और समान बच्चों को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

यु.के. ग्रुप से अव्यक्त बापदादा की मुलाकात

सभी सर्व राज़ों से सम्पन्न राज़युक्त, योगयुक्त आत्मायें हो ना! शुरू से बापदादा का नाम चारों ओर प्रत्यक्ष करने के निमित्त आत्मायें हो। बापदादा ऐसे आदि रत्नों को, सेवा के साथियों को देखकर सदा खुश होते हैं। सभी बापदादा के राइट-हैण्ड ग्रुप हो। बहुत अच्छे-अच्छे रत्न हैं। कोई कौन सा, कोई कौन सा, लेकिन हैं सब रत्न क्योंकि स्वयं अनुभवी बन औरों को भी अनुभवी बनाने के निमित्त बनी हुई आत्मायें हो। बापदादा जानते हैं कि सभी कितने उमंग-उत्साह से याद और सेवा में सदा मगन रहने वाली आत्मायें हैं। याद और सेवा के सिवाए और सब तरफ समाप्त हो गये। बस एक हैं, एक के हैं, एकरस स्थिति वाले हैं, यही सबका आवाज है। यही वास्तविक श्रेष्ठ जीवन है। ऐसी श्रेष्ठ जीवन वाले सदा ही बापदादा के समीप हैं। निश्चयबुद्धि का प्रत्यक्ष प्रमाण देने वाले हैं। सदा वाह मेरा बाबा और वाह मेरा श्रेष्ठ भाग्य – यही याद रहता है ना। बापदादा ऐसे स्मृति स्वरूप बच्चों को देखकर सदा हर्षित होते हैं कि वाह मेरे श्रेष्ठ बच्चे। बापदादा ऐसे बच्चों के गीत गाते हैं। लण्डन विदेश के सेवा का फाउण्डेशन है। आप सब सेवा के फाउण्डेशन स्टोन हो। आप सबके पक्के होने के प्रभाव से सेवा में वृद्धि होती जा रही है। भले फाउण्डेशन वृक्ष के विस्तार में छिप जाता है लेकिन है तो फाउण्डेशन ना। वृक्ष के विस्तार को सुन्दर देख उस तरफ ज्यादा नज़र होती है। फाउन्डेशन गुप्त रह जाता है। ऐसे आप भी थोड़ा सा निमित्त बन औरों को चांस देने वाले बन गये लेकिन फिर भी आदि, आदि है। औरों को चांस देकर आगे लाने में आपको खुशी होती है ना। ऐसे तो नहीं समझते हो कि यह डबल विदेशी आये हैं तो हम छिप गये हैं? फिर भी निमित्त आप ही हैं। उन्हों को उमंग-उत्साह देने के निमित्त हो। जो दूसरों को आगे रखता है वह स्वयं आगे ही है। जैसे छोटे बच्चे को सदा कहते हैं आगे चलो, बड़े पीछे रहते हैं। छोटों को आगे करना ही बड़ों का आगे होना है। उसका प्रत्यक्षफल मिलता ही रहता है। अगर आप लोग सहयोगी नहीं बनते तो लण्डन में इतने सेन्टर नहीं खुलते। कोई कहाँ निमित्त बन गये, कोई कहाँ निमित्त बन गये। अच्छा।

मलेशिया, सिंगापुर से:- सभी अपने को बाप की स्नेही आत्मायें अनुभव करते हो! सदा एक बाप दूसरा न कोई, इसी स्थिति में स्थित रहते हो? इसी स्थिति को ही एकरस स्थिति कहा जाता है क्योंकि जहाँ एक है वहाँ एकरस हैं। अनेक हैं तो स्थिति भी डगमग होती है। बाप ने सहज रास्ता बताया है कि एक में सब कुछ देखो। अनेकों को याद करने से, अनेक तरफ भटकने से छूट गये। एक हैं, एक के हैं, इसी एकरस स्थिति द्वारा सदा अपने को आगे बढ़ा सकते हो।

सिंगापुर और हांगकांग को अभी चाइना में सेन्टर खोलने का संकल्प करना चाहिए। सारे चाइना में अभी कोई केन्द्र नहीं है। उन्हों को कनेक्शन में लाते हुए अनुभव कराओ। हिम्मत में आकर संकल्प करो तो हो जायेगा। राजयोग से प्रभु प्रेम, शान्ति, शक्ति का अनुभव कराओ, तो आत्मायें आटोमेटिकली परिवर्तन हो जायेंगी। राजयोगी बनाओ, डीटी नहीं बनाओ, राजयोगी डीटी आपेही बन जायेंगे। अच्छा।

पोलैण्ड ग्रुप से:- बापदादा को खुशी है कि सभी बच्चे अपने स्वीट होम में पहुँच गये। आप सबको भी यह खुशी है ना कि हम ऐसे महान तीर्थ पर पहुँच गये। श्रेष्ठ जीवन तो अभ्यास करते-करते बन ही जायेगी लेकिन ऐसा श्रेष्ठ भाग्य पा लिया जो इस स्थान पर अपने सच्चे ईश्वरीय स्नेह वाले परिवार में पहुँच गये। इतना खर्च करके आये हो, इतनी मेहनत से आये हो, अभी समझते हो कि खर्चा और मेहनत सफल हुई। ऐसे तो नहीं समझते हो पता नहीं कहाँ पहुँच गये! कितना परिवार के और बाप के प्यारे हो। बापदादा सदा बच्चों की विशेषता को देखते हैं। आप लोग अपनी विशेषता को जानते हो? यह विशेषता तो है – जो लगन से इतना दूर से यहाँ पहुँचे। अभी सदा अपने ईश्वरीय परिवार को और इस ईश्वरीय विधि राजयोग को सदा साथ में रखते रहना। अभी वहाँ जाकर राजयोग केन्द्र अच्छी तरह से आगे बढ़ाना क्योंकि कई ऐसी आत्मायें हैं जो सच्चे शान्ति, सच्चे प्रेम और सच्चे सुख की प्यासी हैं। उन्हों को रास्ता तो बतायेंगे ना। वैसे भी कोई पानी का प्यासा हो, अगर समय पर कोई उसे पानी पिलाता है तो जीवन भर वह उसके गुण गाता रहता है। तो आप जन्म-जन्मान्तर के लिए आत्माओं की सुख-शान्ति की प्यास बुझाना, इससे पुण्य आत्मा बन जायेंगे। आपकी खुशी देखकर सब खुश हो जायेंगे। खुशी ही सेवा का साधन है।

इस महान तीर्थ स्थान पर पहुँचने से सभी तीर्थ इसमें समाये हुए हैं। इस महान तीर्थ पर ज्ञान स्नान करो और जो कुछ कमजोरी है उसका दान करो। तीर्थ पर कुछ छोड़ना भी होता है। क्या छोड़ेंगे? जिस बात में आप परेशान होते हो वही छोड़ना है। बस। तब महान तीर्थ सफल हो जाता है। यही दान करो और इसी दान से पुण्य आत्मा बन जायेंगे क्योंकि बुराई छोड़ना अर्थात् अच्छाई धारण करना। जब अवगुण छोड़ेंगे, गुण धारण करेंगे तो पुण्य आत्मा हो जायेंगे। यही है इस महान तीर्थ की सफलता। महान तीर्थ पर आये यह तो बहुत अच्छा – आना अर्थात् भाग्यवान की लिस्ट में हो जाना, इतनी शक्ति है इस महान तीर्थ की। लेकिन आगे क्या करना है? एक है भाग्यवान बनना, दूसरा है सौभाग्यवान बनना और उसके आगे है पदमापदम भाग्यवान बनना। जितना संग करते रहेंगे, गुणों की धारणा करते रहेंगे, उतना पदमापदम भाग्यवान बनते जायेंगे। अच्छा!

डबल विदेशी टीचर्स से

कभी भी अपने को अभी हम दूसरे धर्म के यहाँ आये हैं, यह टीचर्स में संकल्प नहीं होना चाहिए। यह नयों की बातें हैं। आप तो पुराने हो तभी निमित्त भी बने हो। हम दूसरे धर्म के इस धर्म में आये हैं, नहीं। इसी धर्म के थे और इसी धर्म में आये हैं। हम और यह अलग हैं, यह संकल्प स्वप्न में भी नहीं। भारत अलग है, विदेश अलग है नहीं। यह संकल्प एकमत को दो मत कर देगा। फिर हम और तुम हो गया ना। जहाँ हम और तुम हो गया वहाँ क्या होगा? खिटपिट होगी ना इसलिए एक हैं। डबल विदेशी, बापदादा निशानी के लिए कहते हैं, बाकी ऐसे नहीं अलग हो। ऐसे नहीं समझना कि हम डबल विदेशी हैं तो अलग हैं, देश वाले अलग हैं। नहीं। जब ब्राह्मण जन्म हुआ तो ब्राह्मण जन्म से ही कौन हुए? ब्राह्मण एक धर्म के हैं, विदेशी देशी उसमें नहीं होते। हम सब एक ब्राह्मण धर्म के हैं, ब्राह्मण जीवन के हैं और एक ही बाप की सेवा के निमित्त हैं। कभी यह भाषा भी यूज़ नहीं करना कि हमारा विचार ऐसे हैं, आप इन्डिया वालों का ऐसे है, यह भाषा रांग है। गलती से भी ऐसे शब्द नहीं बोलना। विचार भिन्न-भिन्न तो भारत वालों का भी हो सकता है, यह दूसरी बात है। बाकी भारत और विदेश, यह फर्क कभी नहीं करना। हम विदेशियों का ऐसे ही चलता है, यह नहीं। हमारे स्वभाव ऐसे हैं, हमारी नेचर ऐसे है, यह नहीं। ऐसे कभी भी नहीं सोचना। बाप एक है और एक के ही सब हैं। यह निमित्त टीचर्स जैसी भाषा बोलेंगे वैसे और भी बोलेंगे इसलिए बहुत युक्तियुक्त एक-एक शब्द बोलना। योगयुक्त और युक्तियुक्त दोनों ही साथ-साथ चलें। कोई योग में बहुत आगे जाने का करते लेकिन कर्म में युक्तियुक्त नहीं होते। दोनों का बैलेन्स हो। योगयुक्त की निशानी है ही युक्तियुक्त। अच्छा।

सेवाधारियों से:- यज्ञ सेवा का भाग्य मिलना, यह भी बहुत बड़े भाग्य की निशानी है। चाहे भाषण नहीं करो, कोर्स नहीं कराओ लेकिन सेवा की मार्क्स तो मिलेंगी ना। इसमें भी पास हो जायेंगे। हर सब्जेक्ट की अपनी-अपनी मार्क्स है। ऐसे नहीं समझो कि हम भाषण नहीं कर सकते तो पीछे हैं। सेवाधारी सदा ही वर्तमान और भविष्य फल के अधिकारी हैं। खुशी होती है ना! माताओं को मन का नाचना आता है और कुछ भी नहीं करो, सिर्फ खुशी में मन से नाचती रहो तो भी बहुत सेवा हो जायेगी।

वरदान:- समानता की भावना होते भी हर कदम में विशेषता का अनुभव कराने वाले विशेष आत्मा भव 
हर एक बच्चे में अपनी-अपनी विशेषतायें हैं। विशेष आत्माओं का कर्म साधारण आत्माओं से भिन्न है। हर एक में भावना तो समानता की रखनी है लेकिन दिखाई दे कि यह विशेष आत्मायें हैं। विशेष आत्मायें अर्थात् विशेष करने वाली, सिर्फ कहने वाली नहीं। उनसे सबको फीलिंग आयेगी कि यह स्नेह के भण्डार हैं, हर कदम में, हर नज़र में स्नेह अनुभव हो – यही तो विशेषता है।
स्लोगन:- सृष्टि की कयामत के पहले अपनी कमियों और र्कैमजोरियों की कयामत करो।

TODAY MURLI 11 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 11 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 10 November 2017 :- Click Here

11/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become Godly helpers and, like the Father, do the service of making the devilish society into the deity society. Be interested in doing service.
Question: Many children are unable to forget the old world even though they try to forget it. What is the reason for this?
Answer: Their karmic bondages are very severe. If you are unable to connect your intellect in yoga to the new world because your intellect is repeatedly running to the old world, then it is said that it is not in your fortune, that is, your actions are wrong.
Question: What taste should you develop so that you cannot stay without doing service?
Answer: A taste for being merciful. Only those who have tasted knowledge know how to be merciful. Merciful children cannot stay without doing service.
Song: You are the Ocean of Love. We thirst for one drop!

Om shanti. You heard the words, “You are the Ocean of Love”. You children know that the Father is the most loved of all. When you remember the Father, you also remember the inheritance. Those who remember the Father and have that faith would definitely be happy. In fact, when people go to a Shiva Temple, they call the Shivalingam there Shiv Baba. So, why don’t they have that much happiness? They also offer milk, fruit and flowers to the Shivalingam. You don’t need to offer milk etc. Incorporeal God is the Father, is He not? The God of devotees is also the Creator. It is remembered that He created this human world. Although they do so much devotion of Him, their mercury of happiness doesn’t rise as much as that of you children. You have goose pimples as soon as you hear God’s name. It enters your intellects that you receive from the Father the inheritance of His home and also His property. A son takes birth in his father’s home. There cannot be any change in that. Among the property, there can be factories and land etc. here and there. Although a house is also part of his property, his other property can be exchanged. The house is called a fixed asset and the rest of the property can be called movable property. You children know that you become the masters of the Father’s home and that this can never change. There cannot be any change in the sweet home, but kingdoms change so much! One is fixed and the other is movable. The land of liberation is fixed. There is change here. From the sun dynasty, you change and become the moon dynasty and then the merchant dynasty. There is liberation and liberation-in-life. You children become the masters of the Father’s property. You know that everyone becomes a master of the Father’s fixed property. However, children receive the movable property, numberwise. We receive the maximum, best property of all. You rule the kingdom in heaven. Out of the four ages, the main clan is the Bharatwasi clan of Brahmins, who belong to the deity religion. Not everyone goes around the whole cycle. Those from this religion who have been converted to other religions will emerge. Many who have been convertedto Christianity and Buddhism will emerge again. Many have been converted in this way. It can be seen that such a time will come when everyone will return to their original religion. Anyone can understand this knowledge. It is a common thing to understand this world cycle. No matter how much of a dull head someone is, at least this much enters the intellect. It isn’t that you become full of all virtues by knowing the world cycle. No, this is a study. That is a limited study whereas this is an unlimited study. Only your intellects have the knowledge of how the cycle turns. All other religions come later. This knowledge is very easy. Some are hardly able to understand it. However, you have to become yogi to that extent. Everyone remembers Him. You know the world cycle, but you also need to have that stage. It requires very good effort to become full of all virtues; one obstacle or another emerges. You yourselves sometimes say that you don’t have the virtue of speaking sweetly. You have to make effort. The aim and objective is straightforward. Baba told you last night that you can write that you are studying Raja Yoga once again exactly as you did 5000 years ago. Whenever you hold an exhibition or a projector show, you must definitely write this wonderful thing, that you are once again showing them this method of studying Raja Yoga through the exhibition exactly as you did 5000 years ago. The Father says: You are making this effort according to shrimat exactly as you did 5000 years ago. They say that the duration of the cycle is hundreds of thousands of years and that the iron age is still in its infancy. You say that you are making effort like you did 5000 years ago to claim the status of your deity self-sovereignty. Then, people will be amazed at what you have written. If they say that it is hundreds of thousands of years since the golden age, ask them where that much deity population is. The population of Hindus is less; Hindus have been converted to other religions. So many Hindus have become Muslims. They are called Sheikhs. There are many of them. Some don’t even believe that they belong to the original eternal deity religion. They speak of the original eternal Hindu religion. However, the Hindu religion is not the original and eternal religion. You can even have these things printed in the newspapers. It is not a question of putting them in magazines. There must be hundreds of thousands of papers being printed. Yes, they do charge a lot of money for that. When you explain to them, they may print it. They may even print the cycle. You can even print in the papers the question that Baba has asked: Is the God of the Gita Krishna or Shiva? Sometimes, they would print it at a cost and sometimes they would even print it free, at no cost. Have this printed in the main, important newspapers. However, only when this is printed every day will people’s eyes open. If you just print it once, some may read it and others may not. By it being printed every day, people’s eyes will open. They will then come to understand knowledge. It requires hard work to make effort. Many storms of Maya come. It does require effort to print something in the papers and hold exhibitions. An exhibition takes place in just one village, whereas the papers are distributed everywhere. Baba thinks about these things throughout the whole day. He has to speak about what can be done and how service can be made to progress. You children are the true helpers of God. To help society is also to serve them. You children know that all of those societies are impure. They now have to be made into divine societies. The society of the whole world has to be made to reach heaven. The boat of the whole world is sinking. The world was heaven at first and it has now become hell. How does this cycle continue to turn? This is the drama. When there is heaven, hell doesn’t exist. Where does it go? Down below. The drama has to turn again. This is a living drama. Every act that takes place, second by second , is in your intellects. Others cannot understand anything. If they were to understand the drama, they wouldn’t be able to say that the cycle is hundreds of thousands of years long. The swastika is also absolutely accurate. They even worship the swastika, but they don’t know what it is. It doesn’t have any meaning. Therefore, you have to explain this cycle to them. This cycle continues to turn around in your intellects. You say that you are changing from human beings into deities, from an ordinary man into Narayan. This is Raja Yoga. You have the picture of the Trimurti in your intellects throughout the whole day. Through Brahma, you receive the kingdom of the land of Vishnu and, through Shankar, this devilish world is destroyed. Simply let your intellects have these thoughts. You have to remain very happy. Baba is having a locket made with which you can explain very easily. You can even have these pictures – the Trimurti and the cycle – printed on bags. The picture of Lakshmi and Narayan has everything else and it also explains about Krishna. These things are not in the picture of the cycle. How many things could be shown in the one picture? This is why that is explained separately. Baba’s intellect works the whole day on how they make very good temples to Lakshmi and Narayan and also to Krishna, but no one knows who Lakshmi and Narayan are or who Radhe and Krishna are. You have now received so much knowledge. Therefore, you should remain very happy. You can go anywhere and do service. You can even go to Shrinath Dware and explain there. Explain to the trustees of the temples there. Take a casket (Shiv Baba’s light) with you, put it on and explain to an important person and he will be very happy. He would think that God Himself has adopted a form and is explaining to him. Some children have a very keen interest in doing service, but they don’t go to eminent people. You can go anywhere and meet such people. There is no question of expense etc. At first, they would think that you have perhaps gone there to receive something from them. You should create many methods for service. Otherwise, time is wasted. Each one of you has to ask your heart. You have to be very merciful and benefit many people. If you haven’t tasted knowledge, there won’t be the taste for being merciful. Otherwise, you children can do very good service. Baba shows you many methods for doing service. As soon as you hear them, you should run, that is, if you have time. You should have a keen interest in doing service for only then will you be able to claim a high status. You can do very good service using the pictures of the Trimurti and the cycle. You can even explain to the foreigners who come here. This knowledge is so good! This is the knowledge of the history and geography of the world. Sannyasis go abroad to give people the knowledge of Bharat’s ancient Raja Yoga, but they are unable to give it. You have all the facts and figures, but you need to have courage to explain them. You can show all the pictures with the projector and give them knowledge and that will be very good. Abroad, too, you can give very good knowledgewith the projectors. People will become very happy when they hear it. Where is Christ now and when will he come again? They will know this. They will at least take the knowledge of the cycle of the drama. If you have a projector with you, you can do very good service. No one can forbid you to do this. You can explain to anyone. Take all the slides with you. It would be better if they were in English. You also have to make effort. If the intellect’s yoga of everyone is connected to Shiv Baba, establishment will take place very quickly. The Father continues to explain to you according to the drama plan. He continues to give you directions. Those who receive these things have to be very sensible, clever and wise. The writing on the slides has to be very clear so that people can read it. It should be in both Hindi and English. You also have to make them in the Urdu and Madrasi languages. Then it will be easy to explain anywhere with the projector. You have to do service to make others similar to yourselves for only then can you hope to claim a good status. If not, what status would you receive? Poor people are very unhappy. When you give them the Father’s introduction, there is happiness. Some have never even seen Baba and they write letters to Baba: Baba, I will definitely claim my inheritance from You. There are so many in bondage. Only when your name is known and your impact spreads everywhere can they become free. You have to liberate from jail those who are your equals. If you don’t do service, what status would you receive? At the end you will have visions of everything. You will then remember all the wrong deeds you have done. The Father will continue to give you visions of what disserviceyou did after belonging to the Father. There will then be repentance. Therefore, the Father continues to explain that you should remain very well occupied in service. Baba needs very good daughters who can do service. You should think about how you can help in Baba’s service so that your sovereignty is quickly established. There should be an interest in doing serviceServiceable children have to beat their heads so much to make those with stone intellects into those with divine intellects. This is not a small thing. Nevertheless, you children should have so much happiness that you are once again claiming your inheritance of heaven from Baba. However, this is incognito. The account of karmic bondage is so severe that you don’t even forget the old world. The yoga of your intellects hangs on to worthless things; they don’t connect to the new world. That is called wrong actions. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Serve to make others similar to yourself. Don’t perform such wrong actions that there would have to be punishment. Make effort to become very, very sweet.
  2. The Father is making us into the masters of the fixed and movable property (liberation and liberation-in-life). Maintain the happiness and intoxication of this.
Blessing: May you be a master almighty authority who makes all your physical senses function under law and order.
master almighty authority Raj yogi is one who, as a king, makes his subjects – his physical senses – function under law and order. Just as a king holds court, in the same way, you also have to hold court of your kingdoms workers – your physical senses – every day and ask them about their welfare and make sure that none of the workers are causing opposition and that they are all under control. Those who are master almighty authorities cannot be deceived by even one of their physical senses. When you say “S top”, they should stop .
Slogan: To use all your powers at the right time is to be a master almighty authority.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_1]

Read Murli 9 November 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 11 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 10 November 2017 :- Click Here
11/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप समान खुदाई खिदमतगार बन आसुरी सोसायटी को दैवी सोसायटी बनाने की सेवा करो, सर्विस का शौक रखो”
प्रश्नः- कई बच्चे पुरानी दुनिया को भुलाते भी नहीं भूल पाते हैं, उसका कारण क्या है?
उत्तर:- उनका कर्मबन्धन बहुत कड़ा है। अगर नई दुनिया में बुद्धियोग नहीं लगता है। बुद्धि बार-बार पुरानी दुनिया तरफ भागती रहती है, तो कहा जाता है इनकी तकदीर में नहीं है अर्थात् कर्म ही इनके खोटे हैं।
प्रश्नः- कौन सा स्वाद आ जाए तो तुम सर्विस के बिगर रह नहीं सकते?
उत्तर:- रहमदिल बनने का स्वाद। जिसे ज्ञान का स्वाद आया है, वही रहमदिल बनना जानते हैं। रहमदिल बच्चे सर्विस के बिगर रह नहीं सकते।
गीत:- तू प्यार का सागर है……

ओम् शान्ति। यह जो अक्षर सुने तू प्यार का सागर है। तुम बच्चे जानते हो कि यह बाप सबसे प्यारा है। बाप को जब याद करते हो तो वर्सा याद आ जाता है। जिसको बाप याद आयेगा, निश्चय हो जायेगा तो जरूर खुशी होगी। यूँ तो शिव के मन्दिर में भी जाते हैं तो शिवलिंग को शिवबाबा ही कहते हैं। परन्तु उन्हों को इतनी खुशी क्यों नहीं होती है? वह तो शिवलिंग पर दूध, फल, फूल आदि चढ़ाते हैं। तुमको तो दूध आदि चढ़ाने की दरकार ही नहीं। निराकार भगवान, वह तो पिता हुआ ना। भक्तों का भगवान वह रचयिता भी है। उन्होंने इस मनुष्य सृष्टि को रचा है। यह भी गाया जाता है। उनकी भक्ति करते हुए भी जितना तुम बच्चों को खुशी का पारा चढ़ता है उतना और कोई को नहीं चढ़ता। भगवान का नाम सुनने से ही तुम्हारे रोमांच खड़े हो जाते हैं। बुद्धि में आता है कि बाप से हमको बाप के घर का भी वर्सा मिलता है और बाप की मिलकियत का भी वर्सा मिलता है। बच्चा तो बाप के घर में ही जन्म लेता है, इसमें कोई अदली-बदली नहीं हो सकती। जायदाद का कारखाना, जमीनें आदि बाहर में इधर उधर रहती हैं। भल घर भी जायदाद है परन्तु प्रापर्टी की फिरती-घिरती (अदली-बदली) होती है। घर को अचल सम्पत्ति कहा जाता है। प्रापर्टी को चल सम्पत्ति कहा जाता है। तुम बच्चे जानते हो कि हम बाप के घर के मालिक बनते हैं, जो कभी बदल-सदल नहीं हो सकता। स्वीट होम की बदल सदल नहीं होगी। बाकी राजाई तो कितना बदल-सदल होती है। वह चल है, वह अचल है। मुक्तिधाम अचल है। यहाँ तो अदली-बदली होती है। सूर्यवंशी से चन्द्रवंशी, वैश्यवंशी में आते हैं। मुक्ति और जीवनमुक्ति। तुम बच्चे बाप की प्रापर्टी के मालिक बनते हो। जानते हो बाप की जो अचल सम्पत्ति है उनके तो सब मालिक बनते हैं। बाकी जो चल सम्पत्ति है वह बच्चों को नम्बरवार मिलती है। तुमको सबसे जास्ती अच्छी प्रापर्टी मिलती है। स्वर्ग में तुम राज्य करते हो। चार युग जो हैं उसमें तो भारतवासी ब्राह्मण कुल ही मुख्य है। जो देवी-देवता धर्म वाले हैं, सब तो सारा चक्र लगाते नहीं। तो इस धर्म वाला कोई और धर्म में कनवर्ट हो गया तो निकल आयेगा। क्रिश्चियन धर्म में, बुद्ध धर्म में बहुत कनवर्ट हो गये हैं वह सब निकल आयेंगे। ऐसे बहुत कनवर्ट हो गये हैं। देखने में आता है, कोई समय ऐसा भी आयेगा। यह जो नॉलेज है उसे कोई भी समझ सकते हैं। इस सृष्टि चक्र को जानना तो कॉमन बात है। भल कितना भी डलहेड हो तो भी बुद्धि में तो यह आता है ना। ऐसे नहीं कि सृष्टि चक्र को जानने से सर्वगुण सम्पन्न बन जाते हैं। नहीं, यह तो पढ़ाई है। वह है हद की पढ़ाई, यह है बेहद की पढ़ाई। सिर्फ तुम जानते हो तुम्हारी बुद्धि में यह रहता है कि यह चक्र कैसे फिरता है और धर्म तो बाद में आते हैं। यह नॉलेज बहुत सहज है। कोई तो मुश्किल समझते हैं, परन्तु फिर इतना योगी बनना है। सब उनको याद करते हैं। सृष्टि चक्र को तो जाना है परन्तु वह अवस्था भी तो चाहिए ना। सर्वगुण सम्पन्न बनने में अच्छी ही मेहनत लगती है। कोई न कोई विघ्न निकल पड़ते हैं। खुद भी कहते हैं कि मेरे में मीठा बोलने का गुण नहीं है। पुरुषार्थ करना पड़ता है। एम आब्जेक्ट तो सीधी है। बाबा ने कल रात को भी समझाया कि यह तुम लिख सकते हो कि हम 5 हजार वर्ष पहले मुआफिक फिर से यह राजयोग सीख रहे हैं। कहाँ भी प्रदर्शनी वा प्रोजेक्टर दिखाया जाए तो यह वन्डरफुल बात जरूर लिखनी चाहिए कि 5 हजार वर्ष पहले मुआफिक फिर से तुमको हम इस प्रदर्शनी के द्वारा राजयोग सीखने के लिए युक्ति बतलाते हैं।

बाप कहते हैं कि 5 हजार वर्ष पहले मुआफिक श्रीमत द्वारा यह पुरुषार्थ कर रहे हो। वह तो कहते हैं कि कल्प की आयु ही लाखों वर्ष की है। कलियुग तो अभी बच्चा है। तुम कहते हो हम 5 हजार वर्ष पहले मुआफिक दैवी स्वराज्य पद पाने के लिए पुरुषार्थ कर रहे हैं। तो मनुष्य वन्डर खायेंगे कि यह क्या लिखते हैं? अगर कहें कि सतयुग को लाखों वर्ष हुए हैं तो पूछो देवताओं की इतनी जनसंख्या (आदमशुमारी) कहाँ है! हिन्दुओं की आदमशुमारी कम निकलती है। हिन्दू और-और धर्मो में कनवर्ट हो गये हैं। हिन्दू ही कितने मुसलमान बने होंगे। उनको शेख कहते हैं। ऐसे भी बहुत हैं। कोई तो अपने को आदि सनातन देवी-देवता धर्म का मानते भी नहीं हैं। आदि सनातन हिन्दू धर्म कह देते हैं। परन्तु हिन्दू धर्म तो आदि सनातन था नहीं। तुम अखबार में भी डाल सकते हो, मैंगजीन की तो बात नहीं। अखबारें तो लाखों की अन्दाज में छपती हैं। हाँ वह पैसे तो बहुत लेते हैं। समझाने से वह डाल सकते हैं। चक्र भी डाल सकते हैं। बाबा ने जो प्रश्न लिखा था कि गीता का भगवान कृष्ण वा शिव? वह भी अखबार में डाल सकते हैं। कभी खर्चे पर डालते हैं, कभी लोन पर भी देते हैं। बड़ी अच्छी अखबार में डालो, परन्तु हमेशा पड़े तब मनुष्यों की ऑख खुले। एक बार डाला कोई ने पढ़ा, कोई ने नहीं भी पढ़ा। रोज़ डालने से मनुष्यों की ऑख खुलेगी। फिर आकर ज्ञान समझेंगे। पुरुषार्थ करने में भी कितनी मेहनत लगती है। बहुत माया के तूफान आते हैं। मेहनत तो है ना। अखबार में डालना, प्रदर्शनी करना। प्रदर्शनी तो एक गांव में होगी। अखबार तो चारों ही ओर जाती है। सारा ही दिन ख्यालात चलते रहते हैं। वर्णन करना पड़ता है कि क्या किया जाए? कैसे सर्विस को आगे बढ़ाया जाए? तुम हो सच्चे-सच्चे खुदाई खिदमतगार बच्चे। सोसायटी की सर्विस करना, यह खिदमत है ना। तुम बच्चे जानते हो कि वह सब आसुरी सोसायटी हैं, अब उनको दैवी सोसायटी बनाना है। सारी दुनिया की सोसायटी को स्वर्ग में पहुँचाना है। सारी दुनिया का बेड़ा गर्क है। दुनिया पहले स्वर्ग थी। अब नर्क बन गई है। यह चक्र कैसे फिरता रहता है। ड्रामा है ना। जब स्वर्ग है तब नर्क नहीं। कहाँ गया? नीचे। ड्रामा को फिर फिरना है। यह चैतन्य ड्रामा है। सेकेण्ड बाई सेकेण्ड जो एक्ट करते हैं, यह तुम्हारी बुद्धि में है और तो कुछ भी नहीं समझ सकते। ड्रामा को समझ जाएं तो फिर यह बातें ठहर न सकें कि यह कल्प लाखों वर्ष का है। स्वास्तिका भी बिल्कुल ठीक निकाला हुआ है। स्वास्तिका की पूजा भी करते हैं। परन्तु उनको यह पता नहीं है कि क्या चीज़ है। अर्थ कुछ नहीं। तो यह चक्र समझाना पड़ता है। तुम्हारी बुद्धि में यह चक्र फिरता रहता है। तुम कहते हो कि हम मनुष्य से देवता, नर से नारायण बन रहे हैं। यह राजयोग है। त्रिमूर्ति का चित्र तो सारा दिन बुद्धि में रहता है। ब्रह्मा द्वारा विष्णुपुरी की राजाई मिलती है। शंकर द्वारा यह आसुरी सृष्टि खलास होती है। बस बुद्धि में यही ख्यालात चलते रहें। बहुत खुशी में रहना होता है। बाबा लाकेट भी बनवा रहे हैं, जिससे तुम बहुत सहज रीति समझा सकते हो। बैग्स में भी यह चित्र लगवा सकते हो। त्रिमूर्ति और पा। भल लक्ष्मी-नारायण के चित्र में और सब हैं। कृष्ण का भी है, सिर्फ चक्र में नहीं है। एक चित्र में सब चीज़ें कहाँ तक डाल सकते हैं इसलिए वह फिर समझाया जाता है। बाबा की बुद्धि सारा दिन चलती रहती है कि लक्ष्मी-नारायण का मन्दिर बहुत अच्छा बनाते हैं। कृष्ण के मन्दिर भी बहुत अच्छे बने हुए हैं। परन्तु यह किसको पता नहीं कि यह लक्ष्मी-नारायण वा राधे-कृष्ण कौन हैं? तुमको अब कितनी नॉलेज मिली है। कितनी खुशी होनी चाहिए। कहाँ भी जाकर तुम सर्विस कर सकते हो। श्रीनाथ द्वारे पर भी जाकर समझा सकते हो। ट्रस्टी लोगों को समझाओ। कासकेट ले कोई भी बड़े आदमी को खोलकर समझाने से बहुत खुशी होगी। समझेंगे कि यह तो जैसे भगवान स्वयं रूप धारण कर समझा रहे हैं। कोई-कोई बच्चों में सर्विस का बहुत शौक है। परन्तु बड़ों-बड़ों के पास जाते नहीं हैं। कहाँ भी जाकर तुम मुलाकात कर सकते हो। खर्चे की बात नहीं है। पहले तो वह समझेंगे कि यह कुछ शायद लेने के लिए आये हैं। सर्विस के लिए अनेक प्रकार की युक्तियां रचनी चाहिए। नहीं तो टाइम वेस्ट जाता है। हर एक को अपनी दिल से पूछना चाहिए। बहुत रहमदिल बन बहुतों का कल्याण करना है। ज्ञान का स्वाद नहीं तो रहमदिली का स्वाद नहीं आता। नहीं तो तुम बच्चे बहुत अच्छी सर्विस कर सकते हो। बाबा तो सर्विस की युक्तियां बहुत बतलाते हैं। सुना बस भागे। अगर फुर्सत हुई। सर्विस का बहुत शौक होना चाहिए तब तो ऊंच पद पा सकेंगे। इस त्रिमूर्ति, चक्र पर बहुत अच्छी सर्विस कर सकते हो। फारेनर्स भी कोई आये तो उनको समझाओ। कितनी अच्छी नॉलेज है। यह तो वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी की नॉलेज है। सन्यासी लोग बाहर जाते हैं भारत के प्राचीन राजयोग की नॉलेज देने, परन्तु वह दे नहीं सकते। तुम्हारे पास फैक्ट फिगर्स सब हैं परन्तु समझाने की हिम्मत चाहिए। प्रोजेक्टर पर भी तुम सब चित्र दिखाए नॉलेज दो तो है बहुत अच्छा। विलायत में भी प्रोजेक्टर पर बहुत अच्छी नॉलेज दे सकते हो। वह सुनकर बहुत खुश होंगे। क्राइस्ट अभी कहाँ है फिर कब आयेगा? उनको पता पड़ जायेगा। ड्रामा के चक्र का ज्ञान तो मिल जायेगा ना। साथ में प्रोजेक्टर है तो उस पर बहुत अच्छी सर्विस कर सकते हैं। इसमें कोई मना नहीं कर सकते। कोई को भी समझा सकते हो, स्लाइडस सब ले जाओ। अंग्रेजी में हो तो अच्छा है। मेहनत भी करनी है। सबका बुद्धियोग शिवबाबा से लग जाये तो जल्दी-जल्दी स्थापना हो जाए। बाप भी ड्रामा प्लैन अनुसार समझाते रहते हैं। मत देते रहते हैं। चीज़ लेने वाला भी बड़ा समझू, सयाना, अक्लमंद चाहिए। स्लाइड्स में अक्षर बहुत क्लीयर चाहिए, जो मनुष्य पढ़ सकें, हिन्दी इंगलिश दोनों हों। उर्दू, मद्रासी भी बनाने पड़े। फिर प्रोजेक्टर पर कहाँ भी समझाना सहज हो जायेगा। आप समान बनाने की सर्विस करनी है तब अच्छा पद पाने की उम्मींद हो सकती है। नहीं तो क्या पद मिलेगा। मनुष्य बिचारे बहुत दु:खी हैं। बाप का परिचय देने से खुशी होती है ना। बाबा को कभी देखा नहीं है। पत्रों में लिखते हैं बाबा हम आपसे वर्सा जरूर लेंगे। कितनी बांधेलियां हैं। वह भी तब छूट सकती हैं जब तुम्हारा नाम निकले, प्रभाव निकले। अपनी हमजिन्स को जेल से छुड़ाना है। सर्विस नहीं तो क्या पद पायेंगे। अन्त में सब साक्षात्कार होंगे। फिर अपने किये हुए करतूत सब याद आयेंगे। बाप साक्षात्कार कराते रहेंगे। बाप का बनकर फिर क्या-क्या डिससर्विस की, फिर पछताना होता है इसलिए बाप समझाते रहते हैं कि सर्विस पर अच्छी रीति लगना है। बाबा को अच्छी-अच्छी बच्चियां चाहिए – सर्विस करने वाली। विचार करना चाहिए कि बाबा की सर्विस में क्या मदद करें जो हमारे स्वराज्य की जल्दी स्थापना हो जाए। सर्विस का शौक होना चाहिए। सर्विसएबुल बच्चों को पत्थरबुद्धि से पारसबुद्धि बनाने में कितना माथा मारना पड़ता है। कम बात नहीं है फिर बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए कि हम स्वर्ग का वर्सा बाबा से ले रहे हैं। परन्तु है गुप्त। कर्मबन्धन का भी हिसाब-किताब कितना कड़ा है, जो पुरानी दुनिया को भूलते नहीं। धूलछांई में जाकर बुद्धियोग लटकता है। नई दुनिया में लगता नहीं, इसको कहा जाता है कर्म खोटे। अच्छा !

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) आप समान बनाने की सेवा करनी है। कोई ऐसी करतूत नहीं करनी है, जिसकी सज़ा खानी पड़े। बहुत-बहुत मीठा बनने का पुरुषार्थ करना है।

2) बाप हमें चल और अचल (मुक्ति और जीवनमुक्ति) प्रापर्टी का मालिक बनाते हैं – इसी खुशी और नशे में रहना है।

वरदान:- सर्व कर्मेन्द्रियों को लॉ और आर्डर प्रमाण चलाने वाले मास्टर सर्वशक्तिमान् भव 
मास्टर सर्वशक्तिमान् राजयोगी वह है जो राजा बनकर अपनी कर्मेन्द्रियों रूपी प्रजा को लॉ और आर्डर प्रमाण चलाये। जैसे राजा राज्य-दरबार लगाते हैं ऐसे आप अपने राज्य कारोबारी कर्मेन्द्रियों की रोज़ दरबार लगाओ और हालचाल पूछो कि कोई भी कर्मचारी आपोजीशन तो नहीं करते हैं, सब कन्ट्रोल में हैं। जो मास्टर सर्वशक्तिमान् हैं, उन्हें एक भी कर्मेन्द्रिय कभी धोखा नहीं दे सकती। स्टॉप कहा तो स्टॉप।
स्लोगन:- समय पर सर्व शक्तियों को कार्य में लगाना ही मास्टर सर्वशक्तिमान् बनना है।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 9 November 2017 :- Click Here

Font Resize