today murli 11 February

TODAY MURLI 11 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 11 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 10 February 2019 :- Click Here

11/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the power of yoga is needed in the sword of knowledge, for only then can there be victory. When there is the power of yoga in knowledge, it will definitely affect people.
Question: You are God’s messengers. What message do you have to give to the whole world?
Answer: Give the whole world the message that God has said: All of you must consider yourselves to be souls. Renounce body consciousness. Remember Me, your Father, and the burden of sins on your heads will be removed. You will become pure by having remembrance of the one Father. Only the children who are introverted can give everyone this message.

Om shanti. The Father has explained that no human being – neither one with divine virtues nor one with devilish traits – can be called God. You children know that those with divine virtues are in the golden age and that those with devilish traits are in the iron age. This is why Baba had it written: Are you one with divine virtues or one with devilish traits? Are you golden aged or iron aged? These things are very difficult for people to understand. You can explain the picture of the ladder very well. Your arrows of knowledge are very good, but they do need power, just as a sword has strength. Some have a very sharp edge. The sword of Guru Gobind Singh was sent abroad. They take that sword around. They keep it very clean. Some swords are only two paisas. The swords that have power are very sharp; they cost a lot. It is the same with you children. Some have a lot of knowledge but they lack the power of yoga. Those who are poor and in bondage remember Shiv Baba a lot. They lack knowledge, but they do have a lot of power of yoga. They are becoming satopradhan from tamopradhan. The example of Arjuna and the Bhil is shown. The Bhil became more skilful than Arjuna in shooting arrows. Arjuna means those who live at home and listen every day. Those who lived outside became cleverer. They bow down in front of those whose knowledge has that power. It would be said to be destiny. When someone fails or goes bankrupt, they blame it on destiny. Together with knowledge, the power of yoga is also needed. If there isn’t power, you are like a cockerel gyani. Children also feel that. Some love their husband and some love someone else. They are very clever in knowledge, but they have a lot of conflict inside. Here, you have to remain completely ordinary. While seeing everything, it is as though you see nothing. You only love the one Father. This is why it is remembered: Let your hands do the work and your heart be in remembrance. While working at your office, let your intellect remember that you are a soul. The Father has ordered: Continue to remember Me. On the path of devotion too, while doing their work, they continue to remember one or other of their special beloved deities. Those are stone idols. They don’t have souls in them. Lakshmi and Narayan are also worshipped. They too are stone idols. Ask them: Where are their souls? You now understand that they are definitely here with names and forms. Through the power of yoga, you are now becoming pure deities. You also have your aim and objective. Secondly, the Father explains: The Ocean of Knowledge and the Ganges of knowledge only exist at this most auspicious confluence age. They only exist at the one time. The Ocean of Knowledge only comes at the most auspicious confluence age of the cycle. The incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge. He surely needs a body so that He can speak. However, there is no question of water. You receive this knowledge at the confluence age. All the rest have devotion. Those on the path of devotion even worship the water of the Ganges. Only the one Father is the Purifier. He only comes once, when the old world has to change. You need an intellect to be able to explain this to someone. You have to churn the ocean of knowledge in solitude about what should be written so that people can understand that only Shiva is the Ocean of Knowledge, the Supreme Father, the Supreme Soul. When He comes, His children who become Brahma Kumars and Kumaris imbibe knowledge and become the Ganges of knowledge. There are many Ganges of knowledge who continue to relate knowledge. Only they can show salvation. You cannot become pure by bathing in water. Knowledge only exists at the confluence age. You need methods to explain this. You need to be very introverted. Renounce the consciousness of bodies and consider yourselves to be souls. At this time, you would say that you are effort-makers. By remembering the Father, your sins will be absolved and then the war will begin, by which time everyone should have received the message. Only Shiv Baba gives the message. God is called the Messenger. You enable this message to reach everyone: Consider yourself to be a soul and have yoga with the Supreme Father, the Supreme Soul and the Father promises that your sins of birth after birth will be cut away. The Father sits here and tells you this through the mouth of Brahma. What would the Ganges of water explain? The unlimited Father is explaining to the unlimited children. In the golden age, you were so wealthy and prosperous. Now, you have become unhappy and poverty-stricken. This is an unlimited matter. All of those pictures etc. belong to the path of devotion. The paraphernalia of the path of devotion also had to be created. To study the scriptures and to worship is all devotion. I do not teach you the scriptures etc. I give you impure ones knowledge to make you pure: Consider yourselves to be souls. Both souls and bodies are now impure. Now remember the Father and you will become deities. Your attachment to your bodies and to all your old relationships has to end. You used to sing: When You come, I will not listen to anyone else. I will have all relationships with You alone and I will forget all bodily beings. The Father is now reminding you of your promise. The Father says: Only by having yoga with Me will all your sins be absolved and you will then become the masters of the new world. This is your aim and objective. Together with kings, subjects too have to be created. The kings also need maids and servants. The Father continues to explain all of these things to you. If you don’t stay in yoga well, if you don’t imbibe divine virtues, how would you claim a high status? In a home, there is fighting and quarrelling due to one reason or another. The Father writes: It is because you have fighting and quarrelling in your home that the knowledge doesn’t stay. Baba asks: Are both husband and wife moving along well? Your behaviour has to be very good. There should not be the slightest trace of anger. There is now so much upheaval and peacelessness in the world. If some of you become cleverer in knowledge and yoga, then others will also begin to remember Baba a lot more. You will develop a very good practice of this and your intellects will become broad and unlimited. Baba doesn’t like small pictures as much. All the pictures should be large. Put them outside in the main places, just as they have large posters for the films. Make very good pictures so that they do not get spoilt at all. Make a very large picture of the ladder and put it in a place where everyone’s vision falls on it. Use such strong paint that they do not fade or get wet. Put these at the main places, or if there is an exhibition somewhere, then two to three main pictures are enough. In fact, you should make this picture of the cycle as large as the wall, even if it takes eight to ten men to carry it. Then, anyone who sees it from a distance will be able to see everything clearly. There aren’t so many religions in the golden age; they come later on. At first, there are very few people in heaven. You can explain very well whether it is now heaven or hell. Continue to explain to whoever comes. Let there be big pictures. Look how they have made such huge statues of the Pandavas. You too are Pandavas. Shiv Baba teaches you at the confluence age. That Shri Krishna is the first prince of the golden age. By explaining this, you establish your kingdom. Some leave while studying. When someone in a school is unable to study, he leaves. Here, too, there are many who have left the study, so would they not go to heaven? I am the Master of the World and if they hear even two words from Me, they would definitely go to heaven. As you progress further, many will listen. A whole kingdom is being established exactly as it was in the previous cycle. You children understand that you have claimed and lost the kingdom many times. You were like diamonds and have now become like shells. Bharat was like a diamond. What has happened to it now? It would be the same Bharat, would it not? This confluence is called the most auspicious age. There are also the most elevated of all human beings. All the rest are degraded. Those who were worthy of worship have now become worshippers. They take 84 births. Those bodies have finished and the souls have become tamopradhan. When they are satopradhan, they are not worshipped; they are in the living form. You now remember Shiv Baba in the living form. Then, when you become worshippers, you will worship stone. Baba is now in the living form. Then, you will make a stone image of Him and worship that. Devotion begins in the kingdom of Ravan. They are the same souls, but they have continued to adopt different bodies. Devotion begins when you fall. Baba then comes and gives you knowledge and the day begins. Brahmins then become deities. You would not be called deities now. Brahma does not exist in the golden age. Brahma is doing tapasya here. He too is a human being. Shiv Baba is only called Shiva. Even when He is in this one, He is called Shiva. He cannot be given any other name. Shiv Baba only enters this one. He is the Ocean of Knowledge. He gives you knowledge through the body of Brahma. So, the pictures etc. have to be made with great understanding. The writing on them is useful. Is the Purifier the ocean of water or rivers of water? Or, is it the Ocean of Knowledge and the Ganges of knowledge, the Brahma Kumars and Kumaris, that have emerged from Him? The Father gives knowledge to them alone. Those who become Brahmins through Brahma then become deities. You also have to show a very big picture of the variety-form image. This is a main picture. Baba explains: Sweet children, you have to make your intellects civil. When Baba sees that someone has a criminal eye, He knows that that one will not be able to continue. Scarcely anyone understands that you souls are now becoming trikaldarshi. You are very foolish; you divorce the Father. You children understand that a kingdom is being established. All are needed in that. At the end you will have visions of everything. Firstclass maids and servants will also be created. Firstclass maids will sustain Krishna. There will be all types of maids: those who wash the dishes, those who feed him, those who clean everything; they will all emerge from here. The first number will definitely claim a good status. You have that feeling. Baba feels from some children that, although they conduct the murli very well, they lack yoga. Some women go ahead of their husbands. When someone is in knowledge, he or she would say: Baba, the other wheel is not all right. You have to caution one another. This is the family path. The couple has to match. You have to make others the same as yourselves. At the end you will even forget the world. You understand that you are swans and that others are storks. Some have one defect and others have another defect. There is a tug of war. It requires a lot of effort. It is very easy. You receive liberation-in-life in a second. Without spending a penny, you can claim the highest status of all. Those who are poor continue to do very good service. You know who came empty-handed. Those who brought a lot are no longer here today, whereas the poor ones are claiming a very high status. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to fill the sword of knowledge with the power of yoga, become introverted while you do everything and practise: I am a soul. I, the soul, have received the Father’s orders to remember Him alone constantly. Have true love for the one Father. Break your attachment away from your body and bodily relations.
  2. While living at home with your family, caution one another. Become a swan and claim a high status. Remove any trace of anger. Make your intellect civil.
Blessing: May you become double light by making intense effort and cross all situations while experiencing entertainment.
Some children say, “Generally, I am fine, but there is this bondage of sanskars with other people or with the environment.” No matter what the reason may be or how it may be, an intense effort-maker will cross all situations as though nothing has happened. Such a soul constantly experiences entertainment. Such a stage is called the flying stage and the sign of the flying stage is being double light. No type of burden can bring such a soul into any upheaval.
Slogan: Make every virtue and every aspect of knowledge your original sanskar.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 11 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 February 2019

To Read Murli 10 February 2019 :- Click Here
11-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ज्ञान की तलवार में योग का जौहर चाहिए तब ही विजय होगी, ज्ञान में योग का जौहर है तो उसका असर जरूर होगा”
प्रश्नः- तुम खुदा के पैगम्बर हो, तुम्हें सारी दुनिया को कौन-सा पैगाम देना है?
उत्तर:- सारी दुनिया को पैगाम दो कि खुदा ने कहा है – तुम सब अपने को आत्मा समझो, देह-अभिमान छोड़ो, एक मुझ बाप को याद करो तो तुम्हारे सिर से पापों का बोझा उतर जायेगा। एक बाप की याद से तुम पावन बन जायेंगे। अन्तर्मुखी बच्चे ही ऐसा पैगाम सभी को दे सकते हैं।

ओम् शान्ति। बाप ने समझाया है कि कोई भी मनुष्य मात्र, फिर चाहे दैवी गुण वाला हो या आसुरी गुण वाला हो, उनको भगवान नहीं कह सकते। यह तो बच्चे जानते हैं – दैवीगुण वाले होते हैं सतयुग में, आसुरी गुण वाले होते हैं कलियुग में इसलिए बाबा ने लिखत भी बनाई है कि दैवीगुण वाले हो या आसुरी गुण वाले? सतयुगी हो या कलियुगी? यह बातें बड़ी मुश्किल से मनुष्यों को समझ में आती हैं। तुम सीढ़ी पर बहुत अच्छी रीति समझा सकते हो। तुम्हारे ज्ञान के बाण बहुत अच्छे हैं, परन्तु उसमें जौहर चाहिए। जैसे तलवार में भी जौहर होता है। कोई बहुत तीखे जौहर वाले होते हैं। जैसे गुरू गोविन्दसिंह की तलवार विलायत चली गई। उस तलवार को लेकर परिक्रमा देते हैं। बहुत साफ रखते हैं। कोई दो पैसे की तलवार भी होती है, जिसमें जौहर होता है, वह बहुत तीखी होती है। उनका दाम बहुत होता है। बच्चों में भी ऐसे हैं। कोई में ज्ञान बहुत है, योग का जौहर कम है। जो बांधेले हैं, गरीब हैं वह शिवबाबा को बहुत याद करते हैं। उनमें ज्ञान कम है, योग का जौहर बहुत है। वह तमोप्रधान से सतोप्रधान बन रहे हैं। जैसे एक अर्जुन-भील का भी मिसाल दिखाते हैं। अर्जुन से भी भील तीखा हो गया – बाण मारने में। अर्जुन अर्थात् जो घर में रहते हैं, रोज़ सुनते हैं। उनसे बाहर रहने वाले तीखे हो जाते हैं। जिनमें ज्ञान का जौहर है उनके आगे वह भरी ढोते हैं। कहेंगे भावी। कोई फेल होते हैं वा देवाला मारते हैं तो नसीब पर हाथ रखते हैं। ज्ञान के साथ योग का जौहर भी जरूर चाहिए। जौहर नहीं तो गोया कुक्कड़-ज्ञानी हैं। बच्चे भी फील करते हैं। कोई का पति में, कोई का किसमें प्यार होता है। ज्ञान में बहुत तीखे होते लेकिन अन्दर खिटखिट रहती है। यहाँ तो बिल्कुल साधारण रहना है।

सब-कुछ देखते हुए जैसे देखते ही नहीं। एक बाप से ही प्रीत है। तब तो गाया जाता है कम कार डे… आफिस आदि में काम करते भी बुद्धि में याद रहे कि मैं आत्मा हूँ। बाबा ने फरमान किया है कि मुझे याद करते रहो। भक्ति मार्ग में भी कामकाज करते कोई न कोई इष्ट देवता को याद करते रहते हैं। वह तो है पत्थर का बुत। उनमें आत्मा तो है नहीं। लक्ष्मी-नारायण भी पूजे जाते हैं। वह भी पत्थर की मूर्ति है ना। बोलो इनकी आत्मा कहाँ है? अब तुम समझते हो जरूर कोई नाम-रूप में है। अब तुम फिर योगबल से पावन देवता बन रहे हो। एम ऑब्जेक्ट भी है। दूसरी बात, बाप समझाते हैं ज्ञान सागर और ज्ञान गंगायें इस पुरुषोत्तम संगमयुग पर ही होते हैं। बस, एक ही समय पर होते हैं। ज्ञान सागर आते ही हैं कल्प के इस पुरुषोत्तम संगमयुग पर। ज्ञान सागर है निराकार परमपिता परमात्मा शिव। उनको शरीर जरूर चाहिए, जो बात भी कर सके। बाकी पानी की तो बात ही नहीं। यह तुमको ज्ञान मिलता ही है संगमयुग पर। बाकी सबके पास है भक्ति। भक्ति मार्ग वाले गंगा के पानी को भी पूजते रहते हैं। पतित-पावन तो एक ही बाप है। वह आते ही एक बार हैं, जब पुरानी दुनिया बदलनी है। अब यह किसको समझाने में बुद्धि भी चाहिए। एकान्त में विचार सागर मंथन करना पड़े। क्या लिखें जो मनुष्य समझ जायें कि ज्ञान सागर परमपिता परमात्मा एक शिव ही हैं। वह जब आते हैं उनके बच्चे जो ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ बनते हैं, वह ज्ञान धारण कर ज्ञान गंगायें बनते हैं। अनेक ज्ञान गंगायें हैं जो ज्ञान सुनाते रहते हैं। वो ही सद्गति कर सकते हैं। पानी में स्नान करने से पावन नहीं बन सकते। ज्ञान होता ही है संगम पर। यह समझाने की युक्ति चाहिए। बड़ा अन्तर्मुख चाहिए। शरीर का भान छोड़ अपने को आत्मा समझना है। इस समय कहेंगे हम पुरुषार्थी हैं, याद करते-करते जब पाप खत्म होंगे तब लड़ाई शुरू होगी, जब तक सबको पैगाम मिल जाये। पैगाम अथवा मैसेज तो शिवबाबा ही देते हैं। खुदा को पैगम्बर कहते हैं ना। तुम सबको यह पैगाम पहुँचाते हो कि अपने को आत्मा समझ परमपिता परमात्मा के साथ योग लगाओ तो बाप प्रतिज्ञा करते हैं कि तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप कट जायेंगे। यह तो बाप ब्रह्मा मुख से बैठ समझाते हैं। पानी की गंगा क्या समझायेगी। बेहद का बाप बेहद के बच्चों को समझाते हैं – तुम सतयुग में कितने सुखी सम्पत्तिवान थे, अभी दु:खी कंगाल बन पड़े हो। यह है बेहद की बात। बाकी यह चित्र आदि सब भक्ति मार्ग के हैं। यह भक्तिमार्ग की सामग्री भी बननी है। शास्त्र पढ़ना, पूजा करना यह भक्ति है ना। मैं थोड़ेही शास्त्र आदि पढ़ाता हूँ। मैं तो तुम पतितों को पावन बनाने के लिए ज्ञान सुनाता हूँ कि अपने को आत्मा समझो। अभी आत्मा और शरीर दोनों ही पतित हैं। अब बाप को याद करो तो तुम यह देवता बन जायेंगे। देह के सर्व पुराने सम्बन्धियों से ममत्व मिट जाये। गाते भी हैं आप आयेंगे तो हम और कोई की नहीं सुनेंगे, एक आप से ही सब सम्बन्ध जोड़ेंगे और सब देहधारियों को भूल जायेंगे। अब बाप तुमको अपना वायदा याद कराते हैं। बाप कहते हैं मेरे साथ योग लगाने से ही तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। तुम नई दुनिया के मालिक बन जायेंगे। यह है एम ऑब्जेक्ट। राजाओं के साथ प्रजा भी जरूर बननी है। राजाओं को दास-दासियाँ भी चाहिए। बाप सब बातें समझाते रहते हैं। अच्छी तरह योग में नहीं रहेंगे, दैवी गुण धारण नहीं करेंगे तो ऊंच पद कैसे पायेंगे? घर में कोई न कोई बात पर झगड़ा कलह होती है ना। बाप लिख देते हैं तुम्हारे घर में कलह है इसलिए ज्ञान ठहरता नहीं। बाबा पूछते हैं स्त्री पुरुष दोनों ठीक चलते हैं? चलन बड़ी अच्छी चाहिए। क्रोध का अंश भी न रहे। अब तो दुनिया में कितना हंगामा और अशान्ति है। तुम्हारे में बहुत ज्ञान-योग में तीखे हो जायेंगे तो और भी बहुत याद करने लग पड़ेंगे। तुम्हारी प्रैक्टिस भी अच्छी हो जायेगी और बुद्धि भी विशाल हो जायेगी।

बाबा को छोटे चित्र इतने पसन्द नहीं आते हैं। सब बड़े-बड़े चित्र हों। बाहर मुख्य स्थानों पर रखो। जैसे नाटक के बड़े-बड़े चित्र रखते हैं ना। अच्छे-अच्छे चित्र बनाओ जो बिल्कुल खराब न हों। सीढ़ी भी बहुत बड़ी-बड़ी बनाकर ऐसी जगह रखो जो सबकी नज़र पड़े। सीट पर ही रंग आदि ऐसा मजबूत हो जो पानी वा धूप में खराब न हो। मुख्य स्थानों पर रख दो या कहाँ एग्जीवीशन होती है तो मुख्य बड़े दो तीन चित्र ही काफी हैं। यह गोला भी वास्तव में दीवार जितना बनना चाहिए। भल 8-10 आदमी उठाकर रखें। कोई भी दूर से देखे तो एकदम क्लीयर मालूम पड़ जाये। सतयुग में तो और सब इतने धर्म होते नहीं। वह तो आते ही बाद में हैं। पहले तो स्वर्ग में बहुत थोड़े मनुष्य होते हैं। अब स्वर्ग है या नर्क – तुम इस पर बहुत अच्छी तरह समझा सकते हो। जो आये उनको समझाते रहो। बड़े-बड़े चित्र हों। कैसे पाण्डवों के बड़े-बड़े बुत बनाते हैं। तुम भी पाण्डव हो ना।

शिवबाबा तो संगम पर पढ़ाते हैं। वह श्रीकृष्ण है सतयुग का फर्स्ट प्रिन्स, तुम समझाते-समझाते अपनी राजाई स्थापन कर लेते हो। कोई पढ़ते-पढ़ते छोड़ देते हैं। स्कूल में भी कोई नहीं पढ़ सकते हैं तो पढ़ाई छोड़ देते हैं। यहाँ भी बहुत हैं जिन्होंने पढ़ाई को छोड़ दिया है फिर वह स्वर्ग में नहीं आयेंगे क्या? मैं विश्व का मालिक, मेरे से कोई दो अक्षर भी सुनें तो भी स्वर्ग में जरूर आयेंगे। आगे चलकर ढेर सुनेंगे। यह सारी राजधानी स्थापन होती है, कल्प पहले मिसल। बच्चे समझते हैं हमने अनेक बार राज्य लिया है, फिर गंवाया है। हीरे जैसा थे फिर कौड़ी जैसा बने हैं। भारत हीरे मिसल था। अभी फिर क्या हुआ है? भारत तो वो ही होगा ना। इस संगम को पुरुषोत्तम युग कहा जाता है। उत्तम से उत्तम पुरुष भी हैं। बाकी सब हैं कनिष्ट। जो पूज्य थे वही फिर पुजारी बने हैं। 84 जन्म लेते हैं। वह शरीर भी खत्म हो गये, आत्मा भी तमोप्रधान हो गई। जब सतोप्रधान हैं तब तो पूजते ही नहीं। चैतन्य में हैं। अब तुम शिवबाबा को चैतन्य में याद करते हो। फिर पुजारी बनेंगे तो पत्थर को पूजेंगे। अब बाबा चैतन्य है ना। फिर उनकी ही पत्थर की मूर्ति बनाकर पूजते रहते हैं। रावण राज्य में भक्ति शुरू होती है। आत्मायें वो ही हैं, भिन्न-भिन्न शरीर धारण करती आयी हैं। नीचे गिरने से ही भक्ति शुरू होती है। बाबा फिर आकर ज्ञान देते है तो दिन शुरू हो जाता है। ब्राह्मण सो देवता बन जाते हैं। अब तो देवता नहीं कहेंगे। ब्रह्मा तो सतयुग में होता नहीं। यहाँ ब्रह्मा तपस्या कर रहे हैं। मनुष्य है ना। शिवबाबा को शिव ही कहा जाता है। इनमें है तो भी शिवबाबा कहेंगे। दूसरा कोई नाम नहीं रखा जाता, इनमें शिवबाबा आते हैं। वह ज्ञान का सागर है, इस ब्रह्मा तन द्वारा ज्ञान देते हैं। तो चित्र आदि भी बड़ी समझ से बनाने हैं। इसमें लिखत ही काम में आती है। पतित-पावन पानी का सागर या पानी की नदियाँ हैं? वा ज्ञान सागर और उनसे निकली हुइ ज्ञान गंगायें ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ हैं? इनको ही बाप ज्ञान देते हैं। ब्रह्मा द्वारा जो ब्राह्मण बनते हैं वो ही फिर देवता बनते हैं। विराट रूप का चित्र भी बहुत बड़ा दिखाना है। यह है मुख्य चित्र।

बाबा समझाते हैं – मीठे बच्चे, तुम्हें अपनी सिविल बुद्धि बनानी है। जब बाबा देखते हैं कि इनकी क्रिमिनल आई है तो समझ जाते हैं यह चल नहीं सकेंगे। तुम्हारी आत्मा अब त्रिकालदर्शी बनती है, यह कोई विरला समझते हैं। बहुत बुद्धू हैं। बाप को फारकती दे देते हैं। यह तो बच्चे समझते हैं कि राजधानी स्थापन हो रही है। उसमें सब चाहिए। पिछाड़ी में सब साक्षात्कार होंगे। फर्स्टक्लास दास-दासियाँ भी बनेंगी। फर्स्टक्लास दासी कृष्ण की पालना करेगी। बर्तन साफ करने वाली, खाना खिलाने वाली, सफाई करने वाली सब होंगी। यहाँ से ही निकलेंगी। फर्स्ट नम्बर वाली जरूर अच्छा पद पायेगी। वह भासना आती है। बाबा को बच्चों से भासना आती है यह बहुत अच्छी मुरली चलाते हैं, परन्तु योग कम है। कोई स्त्री, पुरुष से भी तीखी हो जाती है। एक ज्ञान में है, कहते हैं बाबा दूसरा पहिया ठीक नहीं है। एक-दो को सावधान करना है। प्रवृत्ति मार्ग है ना। जोड़ी एक जैसी चाहिए। आप समान बनाना है। पिछाड़ी में तुम दुनिया को ही भूल जायेंगे। समझते हो ना कि हम हंस हैं, यह बगुला है। किसमें कोई अवगुण, किसमें कोई। चटाभेटी भी चलती है। मेहनत बहुत है। है भी बहुत सहज। सेकण्ड में जीवनमुक्ति। बिगर कौड़ी खर्च ऊंच से ऊंच पद पा सकते हैं। गरीब जो हैं वह अच्छी सर्विस करते रहते हैं। यह तो पता है ना कि कौन-कौन खाली हाथ आये हैं। बहुत कुछ ले आने वाले आज हैं नहीं और गरीब बहुत ऊंच मर्तबा पा रहे हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान तलवार में याद का जौहर भरने के लिए कर्म करते अन्तर्मुखी बन अभ्यास करना है कि मैं आत्मा हूँ। मुझ आत्मा को बाप का फरमान है कि निरन्तर मुझे याद करो। एक बाप से सच्ची प्रीत रखो। देह और देह के सम्बन्धियों से ममत्व निकाल दो।

2) प्रवृत्ति में रहते एक-दो को सावधान कर हंस बन ऊंच पद लेना है। क्रोध का अंश भी निकाल देना है, अपनी सिविल बुद्धि बनानी है।

वरदान:- तीव्र पुरुषार्थ द्वारा सभी बंधनों को क्रास कर मनोरंजन का अनुभव करने वाले डबल लाइट भव
कई बच्चे कहते हैं वैसे तो मैं ठीक हूँ लेकिन यह कारण है ना – संस्कारों का, व्यक्तियों का, वायुमण्डल का बंधन है.. परन्तु कारण कैसा भी हो, क्या भी हो तीव्र पुरुषार्थी सभी बातों को ऐसे क्रास करते हैं जैसे कुछ है ही नहीं। वह सदा मनोरंजन का अनुभव करते हैं। ऐसी स्थिति को कहा जाता है उड़ती कला और उड़ती कला की निशानी है डबल लाइट। उन्हें किसी भी प्रकार का बोझ हलचल में ला नहीं सकता।
स्लोगन:- हर गुण वा ज्ञान की बात को अपना निज़ी संस्कार बनाओ।

TODAY MURLI 11 FEBRUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 11 February 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 10 February 2018 :- Click Here

11-02-2018
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
30/04/83

The basis of becoming supremely worthy of worship.

All of you have come to Madhuban, the great pilgrimage place, from everywhere in order to celebrate a meeting. As a memorial of this great pilgrimage place, there are even now gatherings at all the other pilgrimage places. Even now, you can see and hear about the memorials of every elevated action of this time in the form of divine activities and songs. You elevated living souls see and hear about your images and divine activities. What elevated thoughts do you have in your intellects at such a time? You do believe that you were those, that you are those now and that you will become those once again every cycle, do you not? No soul, great soul, righteous soul or founder of religion has the awareness or knowledge of “once again,” whereas all of you Brahmin souls have such a clear awareness and knowledge of it that it is as though everything of 5000 years is just a matter of yesterday. You were those yesterday, you are those today and you will be those tomorrow. Therefore, the history of 5000 years is merged in the words “yesterday, today and tomorrow”. Do you experience this easily and clearly? Do you think that someone else will be that? Or, were you those and are those now? Do you have a vision of your real, elevated life through the non-living images? Or, do you think that those images are of the maharathis? Or, are they of all of you? In Bharat they salute 33 million deities. If they don’t worship them, they all at least praise the progeny of you elevated Brahmins who are to become deities and the progeny of that progeny. So, just think how elevated the names of those who are the ancestors would be. The worship of those ancestors would be so elevated. There is praise of 900,000. Before that, there is praise of 16,000 and before them there is the praise of the 108 and then the eight. Even before that, there is the dual-bead; it is numberwise. There is praise of everyone because you have all become the children of the Father, the Bestower of Fortune. It is because of this fortune that you are praised and worshipped. However, there are two types of worship. One is to worship with love in the right way and the other is to worship just as a discipline. There is a difference between the two. So, ask yourself: which type of worship you souls are worthy of? You were told earlier that some devotees perform worship out of fear so that the deities don’t become upset. Some devotees even perform worship just for show. Some think that they have to follow the discipline and fulfil the duty of devotion. Whether it is their hearts’ desire or not, they just have to fulfil that responsibility. They do everything considering it to be their duty. All become one of the four types of devotees in one way or another. Here, too, those who are to become deity souls and those who call themselves Brahma Kumars and Kumaris are of different types. The number one worthy-of-worship souls constantly and easily move along with love, remembrance and service in the right way as yogi souls and imbibe all virtues. They use the right method and have success in all four subjects. The second number , worthy-of-worship souls do not do everything in the right way but do everything considering it to be their discipline. They follow all four subjects fully, but not by being embodiments of the attainment of success who do everything in the right way. They feel that they have to do everything as a discipline; that they have to do that. They continue to move forward with this aim and experience attainment according to the discipline they follow. The love of the heart (of the number one souls) makes everything natural and easy, whereas those who do everything as a discipline find it easy sometimes and difficult at other times. They sometimes have to make effort and, at other times, they experience that love. The number one souls remain absorbed in love, whereas the second number souls just have love. The third number souls observe the four subjects for the majority of the time, not with their hearts, but just for show. They sit in remembrance with the motive of becoming well known for that. They also do a lot of showy service. They even adopt a temporary form according to the time. However, their heads are sharp, hearts are empty. The fourth number souls do everything out of fear, so that no one says anything to them, such as “This one is the last number soul, or “This one will not be able to continue”, so that no one looks at them with that vision. They have become Brahmins and have renounced the shudra way of life, but do not want to be left out of either side. They don’t like the shudra life but they don’t have the courage to follow the Brahmin way of life in the right way and so they are in the middle of an ocean out of compulsion. They continue to move along in this way out of compulsion and fear. In this way, they sometimes experience their lives to be elevated and so are unable to let go of this life. Such souls are said to be the fourth number worthy-of-worship souls. Worship of them is performed only sometimes and out of fear by the devotees who are compelled to fulfil their responsibility. The worship of those who do everything for show is not from the heart either but just for show. This is how they carry on. So, you saw all four types of worthy-of-worship souls. Whatever you yourself become now, so the golden and silver-aged royal families and subjects will be created accordingly and the rosary of devotees in the copper and iron ages will also be created accordingly. Now, ask yourself who you are. Or, do you alternate between all four types of souls? Nevertheless, you have become the children of the Bestower of Fortune and so you will definitely become worthy of worship. You become well known, that is, those with elevated worship in the number up to 16,000. However, the 900,000 become a little worthy of worship up to the end, that is, up to the end of the iron age. So, do you understand that all are worthy of praise? The basis of being worthy of praise is to become a child of the Father, the Bestower of Fortune, but the basis of becoming worthy-of-worship is to have purity, cleanliness, truthfulness and honesty in all four subjects. BapDada offers flowers of love to such souls, that is, He considers such souls to be elevated. The family too considers such souls to be elevated and the world will also beat drums of their wonder and will worship them with respect. Devotees will consider such souls to be their special deities and merge them in their hearts. So, have you become worthy of worship to this extent? Since He is the Supreme Father, not just the Father, He would definitely make you supreme too, would He not? It is not a big thing to be worthy of worship, but to become supremely worthy-of-worship is something else.

BapDada is also pleased to see you children. You have come here out of love, because when there is love you don’t experience anything to be hard work. You have now reached the rest house. You rest both your bodies and minds. Rest doesn’t mean to go to sleep (sona – to sleep, gold), but you have come to rest in order to become gold. You have come to the land of divinity where you have the company of divine souls and into an atmosphere that makes you golden. Everything spoken here, day and night, is for becoming gold. Achcha.

To such constantly and supremely worthy-of-worship souls, to those who attain elevated success by using the right method, to those who constantly become great and make others into great souls, to those who experience themselves to be constantly and easily natural yogis, constant yogis and yogis who are full of love, to the most elevated souls, to all the children everywhere who have adopted subtle forms and are close, to all the children who are present and face to face in the corporeal form and the subtle form, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada speaking to Didi and Dadi:

All of you are supremely worthy of worship, are you not? Very good worshipping is taking place, is it not? BapDada is proud of the very specially beloved children. The Father is proud and the children have all secrets. The Father is always proud of the children who understand all secrets. Those who keep a balance of understanding all secrets (raazyukt), who are accurately linked in yoga (yogyukt) and who constantly use all virtues (gunyukt) constantly stay under the canopy of the Father’s blessingsBlessings are constantly being showered. This shower of blessings began as soon as you took birth, and the shower of golden flowers under this canopy of protection will continue till the end. You are moving along under this canopy, you are being sustained by it and will continue to remain under it till the end. You constantly have the shower of blessings of golden flowers. The Father is with you at every step, that is, blessingsare with you. (To Dadiji) You have constantly been under this canopy. You have been tireless from the beginning and have received the blessing of being tireless and this is why it is as though you are doing everything and yet not doing anything. This is very good. You were given the crown of responsibility when Baba became avyakt. Baba taught this one (Didiji) with sakar Baba, and Baba taught you in a second at the time of his becoming avyakt. Baba taught both of you for your own different ways. This too is part of the drama. Achcha.

At the time of taking leave at 6.30am:

All moments of the confluence age are a good morning, because the whole of the confluence age is amrit vela. In terms of the cycle, the confluence age is amrit vela. So every moment of the confluence age is a good morning. BapDada comes when it is good morning, and He also goes when it is good morningbecause, when the Father comes, it changes from night time and becomes amrit vela. So, He comes at amrit vela, and when He leaves, it becomes the day. However, He only stays here during amrit vela. When it becomes the day, He leaves and you all rule the kingdom as soon as it is the morning, that is, when it is the day of the golden age, the day of Brahma. The Father would become detached, would He not? In terms of the old world, it is always good morning. It is always good and it will always remain good. This is why you can say “good morning, good night or good day”: everything is good. So, good morning to everyone in terms of the iron age and good morning in terms of the confluence age and so double good morning. Achcha.

Avyakt Elevated Versions – Make you r remembrance become an intense, volcanic form.

You can become a redeemer of sins and a remover of sins, the same as the Father, when your remembrance is of the volcanic form. Only such remembrance will reveal your divine form that grants visions. For this, let there not be ordinary remembrance at any time. Always stay in the intense, volcanic and powerful form of remembrance. Together with love, also be in the combined form of power. At present, there is a need for the collective form of intense remembrance. Only intense remembrance will make the atmosphere powerful, and weak souls will then become full of power. All obstacles will easily finish and the flames of destruction of the old world will flare up. Just as the sun gives the experience of light and many perishable attainments to the world, in the same way, you children with your form of being great tapaswis have to give the experience of the rays of attainment. For this, first of all, increase your account of accumulation. Just as the rays of the sun spread in all directions, in the same way, remain in the stage of being master almighty authorities and you will experience rays of powers and specialities to be spreading everywhere.

The main and easy way to become the volcanic form is always to have the one deep concern: I now have to return home and take everyone with me. By having this awareness, you will automatically go beyond all relationships and all attractions of nature, that is, you will become a detached observer. By being a detached observer, you will easily become a companion of the Father and equal to the Father. “Intense, volcanic remembrance” means to maintain the effort, having understood it, of being stable in the stage of a light-and-might-house. Especially become experienced in being an embodiment of knowledge and become powerful. By doing this you elevated souls will enable the many desperate souls, the wandering souls, the souls who are calling out, to experience bliss, peace and power from your pure attitude, your attitude of benevolence and from the atmosphere. When you put something into a fire, its name, form and quality all change. In the same way, when you are put into the fire of remembrance of the Father, you are transformed. You change from human beings into Brahmins and from Brahmins you change into angels and then deities. Just as when clay is put into a mould and then baked, it becomes a brick, in the same way, you also become transformed. This is why this remembrance is called intense form of remembrance. You are a loving server and one who has one Strength and one Support. That is fine, but the stage of a master almighty authority means to have the stage of a lighthouse and might house whilst on the stage. If your remembrance becomes one of an intense form, everyone will come to you like moths and circle around you. For remembrance of the volcanic, intense form, firstly, both the mind and intellect need to have a powerful brake and they also need the power to steer. By doing this, the power of your intellect or any other energy will not be wasted but will instead be saved. The more you accumulate, the more your powers to discern and decide will increase. For this, now continue to pack your baggage of thoughts, that is, imbibe the power to pack up. Whilst performing any task or whilst speaking to someone, every now and then, stop the traffic of thoughts. Stop the thoughts in the mind and even the actions you are performing through your body for a minute. Only by practising this will you be able to stabilise yourself in a powerful stage of a point. Just as it is becoming easier to perform actions through the avyakt stage, in the same way, stabilising in the stage of a point will also become easy. Doctors give laser ray treatment to destroy germs. In the same way, the powerful rays of remembrance burn the germs of all the vices in a second. When your sins are burnt away, you will experience yourself to be light and powerful. You are constant easy yogis, but now let there be force in your paying attention every now and then to make your stage of remembrance powerful. When you imbibe total purity, the power of your elevated thoughts will intensify the fire of love and all the rubbish will be burnt in that fire. Then, only whatever you think of will happen and fast service will automatically take place. In the memorial of the goddesses, it has been shown that the devils were burnt by their (goddesses) intense, volcanic form of fire. In fact, it wasn’t the devils they destroyed but the devilish powers. This is a memorial of the present time. Now, become one with a volcanic form and burn away the devilish sanskars and devilish nature. Become one who burns away the tamoguni qualities of nature and of souls. This huge task will only be accomplished when you do it at a fast speed. No karmic accounts, whether of this birth or past births, can be burnt away without your being stable in the stage of the fire of deep love. By your remaining constantly stable in the form of fire, the accounts of the past will be burnt in the powerful remembrance of the volcanic form, the seed stage and the lighthouse and might house stage and you will experience yourself to be double light. Only when the link of remembrance is constantly connected can there be powerful remembrance of the volcanic form. If the link repeatedly breaks, it takes time to connect it. It also takes effort, so that instead of becoming powerful, you become weak. In order to make your remembrance powerful, whilst going into expansion, let the practice of being stable in the form of the essence not reduce. Don’t forget the essence in the expansion. Eat, drink and serve, but don’t forget to be detached. “Spiritual endeavour” means powerful remembrance and a constant relationship of the heart with the Father. “Spiritual endeavour” isn’t just sitting down for yoga, but, just as you sit down physically, in the same way, let your heart, mind and intellect be directed to the one Father and be seated with Him. Only such concentration will intensify the flames. Let the pilgrimage of remembrance be easy and powerful. Powerful remembrance gives you a double experience at the same time. On the one hand, remembrance works like a fire and burns everything away; it does the work of transformation. On the other hand, it gives you the experience of happiness and lightness. Only such disciplined remembrance is said to be accurate and powerful remembrance.

Blessing: May you have imperishable love and experience the flying stage in the lift of love.
In order to become free from labouring, be loving to the Father. This imperishable love becomes an imperishable lift and enables you to experience the flying stage. However, if there is carelessness in your love, you will not then receive any current from the Father nor will the lift work. Just as you cannot experience the convenience of a lift if there is no electricity or connection, similarly, when there is less love, you experience having to labour. Therefore, be one who has imperishable love.
Slogan: With the tools of pure thoughts and a divine intellect, continue to fly at a fast speed.

 

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 11 FEBRUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 February 2018

To Read Murli 10 February 2018 :- Click Here
11-02-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 30-04-83 मधुबन

परम पूज्य बनने का आधार

सभी मधुबन महान तीर्थ पर मेला मनाने के लिए चारों ओर से पहुँच गये हैं। इसी महान तीर्थ के मेले की यादगार अभी भी तीर्थ स्थानों पर मेले लगते रहते हैं। इसी समय का हर श्रेष्ठ कर्म का यादगार चरित्रों के रूप में, गीतों के रूप में अभी भी देख और सुन रहे हो। चैतन्य श्रेष्ठ आत्मायें अपना चित्र और चरित्र देख सुन रही हैं। ऐसे समय पर बुद्धि में क्या श्रेष्ठ संकल्प चलता है? समझते हो ना कि हम ही थे, हम ही अब हैं और कल्प-कल्प हम ही फिर होंगे। यह ‘फिर से’ की स्मृति और नॉलेज और किसी भी आत्मा को, महान आत्मा को, धर्म आत्मा को वा धर्म पिता को भी नहीं है। लेकिन आप सब ब्राह्मण आत्माओं को इतनी स्पष्ट स्मृति है वा स्पष्ट नॉलेज है जैसे 5000 वर्ष की बात कल की बात है। कल थे आज हैं फिर कल होंगे। तो आज और कल इन दोनों शब्दों मे 5000 वर्ष का इतिहास समाया हुआ है। इतना सहज और स्पष्ट अनुभव करते हो! कोई होंगे वा हम ही थे, हम ही हैं! जड़ चित्रों में अपने चैतन्य श्रेष्ठ जीवन का साक्षात्कार होता है? वा समझते हो कि यह महारथियों के चित्र हैं, वा आप सबके हैं? भारत में 33 करोड़ देवताओं को नमस्कार करते हैं अर्थात् आप श्रेष्ठ ब्राह्मण सो देवताओं के वंश के भी वंश, उनके भी वंश, सभी का पूजन नहीं तो गायन तो करते ही हैं। तो सोचो जो स्वयं पूर्वज हैं उन्हों का नाम कितना श्रेष्ठ होगा! और पूजन भी पूर्वजों का कितना श्रेष्ठ होगा। 9 लाख का भी गायन है। उससे आगे 16 हजार का गायन है फिर 108 का है फिर 8 का है। उससे आगे युगल दाने का है। नम्बरवार हैं ना। गायन तो सभी का है क्योंकि जो भाग्य विधाता बाप के बच्चे बने, इस भाग्य के कारण उन्हों का गायन और पूजन दोनों होता है लेकिन पूजन में दो प्रकार का पूजन है। एक है प्रेम की विधि पूर्वक पूजन और दूसरा है सिर्फ नियम पूर्वक पूजन। दोनों में अन्तर है ना। तो अपने से पूछो मैं कौन सी पूज्य आत्मा हूँ। पहले भी सुनाया था कि कोई-कोई भक्त, देवता नाराज न हो जाए इस भय से पूजा करते हैं। और कोई-कोई भक्त दिखावा मात्र भी पूजा करते हैं। और कोई-कोई समझते हैं भक्ति का नियम वा फर्ज निभाना है। चाहे दिल हो या न हो लेकिन निभाना है। ऐसे फर्ज समझ करते हैं। चारों ही प्रकार के भक्त किसी न किसी प्रकार से बनते हैं। यहाँ भी देखो देव आत्मा बनने वाले, ब्रह्माकुमार कुमारी कहलाने वाले भिन्न-भिन्न प्रकार के हैं ना। नम्बरवन पूज्य सदा सहज स्नेह से और विधि पूर्वक याद और सेवा वा योगी आत्मा, दिव्यगुण धारण करने वाली आत्मा बन चल रहे हैं। चार सबजेक्ट विधि और सिद्धि प्राप्त किये हुए हैं। दूसरे नम्बर के पूज्य विधि पूर्वक नहीं लेकिन नियम समझ करके करेंगे, चार ही सबजेक्ट पूरे लेकिन विधि सिद्धि के प्राप्ति स्वरूप हो करके नहीं। लेकिन नियम समझकर चलना ही है, करना ही है, इसी लक्ष्य से जितना कायदा उतना फायदा प्राप्त करते हुए आगे बढ़ रहे हैं। वह दिल का स्नेह स्वत: और सहज बनाता है और नियम पूर्वक वालों को कभी सहज कभी मुश्किल लगता। कभी मेहनत करनी पड़ती और कभी मुहब्बत की अनुभूति होती। नम्बरवन लवलीन रहते, नम्बर दो लव में रहते। नम्बर तीसरा – मैजारटी समय चारों ही सबजेक्ट दिल से नहीं लेकिन दिखावा मात्र करते हैं। याद में भी बैठेंगे – नामीग्रामी बनने के भाव से। ऐसे दिखावा मात्र सेवा भी खूब करेंगे। जैसा समय वैसा अल्पकाल का रूप भी धारण कर लेंगे लेकिन दिमाग तेज़ और दिल खाली। नम्बर चौथा – सिर्फ डर के मारे कोई कुछ कह न दे कि यह तो है ही लास्ट नम्बर का वा यह आगे चल नहीं सकता, ऐसे कोई इस नज़र से नहीं देखे। ब्राह्मण तो बन ही गये और शूद्र जीवन भी छोड़ ही चले। ऐसा न हो कि दोनों तरफ से छूट जाएं। शूद्र जीवन भी पसन्द नहीं और ब्राह्मण जीवन में विधि पूर्वक चलने की हिम्मत नहीं इसलिए मजबूरी मजधार में आ गये। ऐसे मजबूरी वा डर के मारे चलते ही रहते। ऐसे कभी-कभी अपने श्रेष्ठ जीवन का अनुभव भी करते हैं इसलिए इस जीवन को छोड़ भी नहीं सकते। ऐसे को कहेंगे चौथे नम्बर की पूज्य आत्मा। तो उन्हों की पूजा कभी-कभी और डर के मारे, मजबूरी भक्त बन निभाना है, इसी प्रमाण चलती रहती। और दिखावा वाले की भी पूजा दिल से नहीं लेकिन दिखावा मात्र होती। इसी प्रमाण चलते रहते। तो चार ही प्रकार के पूज्य देखे हैं ना। जैसा अभी स्वयं बनेंगे वैसे ही सतयुग त्रेता की रॉयल फैमली वा प्रजा उसी नम्बर प्रमाण बनेगी और द्वापर कलियुग में ऐसे ही भक्त माला बनेगी। अभी अपने आप से पूछो मैं कौन! वा चारों में ही कभी कहाँ, कभी कहाँ चक्र लगाते हो। फिर भी भाग्य विधाता के बच्चे बने, पूज्य तो जरूर बनेंगे। नामीग्रामी अर्थात् श्रेष्ठ पूज्य 16 हजार तक नम्बरवार बन जाते हैं। बाकी 9 लाख लास्ट समय तक अर्थात् कलियुग के पिछाड़ी के समय तक थोड़े बहुत पूज्य बन जाते हैं। तो समझा गायन तो सबका होता है। गायन का आधार है भाग्य विधाता बाप का बनना और पूजन का आधार है चारों सबजेक्ट में पवित्रता, स्वच्छता, सच्चाई, सफाई। ऐसे पर बापदादा भी सदा स्नेह के फूलों से पूजन अर्थात् श्रेष्ठ मानते हैं। परिवार भी श्रेष्ठ मानते हैं और और विश्व भी वाह-वाह के नगाड़े बजाए उन्हों की मन से पूजा करेगा। और भक्त तो अपना ईष्ट समझ दिल में समायेंगे। तो ऐसे पूज्य बने हो? जब है ही परमपिता। सिर्फ पिता नहीं है लेकिन परम है तो बनायेंगे भी परम ना! पूज्य बनना बड़ी बात नहीं है लेकिन परम पूज्य बनना है।

बापदादा भी बच्चों को देख हर्षित होते हैं। मुहब्बत में मेहनत को महसूस न कर पहुँच जाते हैं। अभी तो रेस्ट हाउस में आ गये ना! तन-मन दोनों के लिए रेस्ट है ना! रेस्ट माना सोना नहीं। सोना बनने की रेस्ट में आये हैं। पारसपुरी में आ गये हो ना। जहाँ संग ही पारस आत्माओं का है, वायुमण्डल ही सोना बनाने वाला है। बातें ही दिन रात सोना बनने की हैं। अच्छा –

ऐसे सदा परम पूज्य आत्माओं को, सदा विधि द्वारा श्रेष्ठ सिद्धि को पाने वाले, सदा महान बन महान आत्मायें बनाने वाले, स्वयं को सदा सहज और स्वत: योगी, निरन्तर योगी, स्नेह सम्पन्न योगी, अनुभव करने वाले, ऐसी सर्व श्रेष्ठ आत्माओं को, चारों ओर के आकारी रूपधारी समीप बच्चों को, ऐसे साकारी आकारी सर्व सम्मुख उपस्थित हुए बच्चों को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

दीदी-दादी जी से:- सभी परमपूज्य हो ना! पूजा अच्छी हो रही है ना! बापदादा को तो अनन्य बच्चों पर नाज़ है। बाप को नाज़ है और बच्चों में राज़ हैं। जो राज़युक्त हैं उन बच्चों पर बाप को सदा नाज़ है। राज़युक्त, योगयुक्त, गुण युक्त… सबका बैलेन्स रखने वाले सदा बाप की ब्लैसिंग की छाया में रहने वाले। ब्लैसिंग की सदा ही वर्षा होती रहती है। जन्मते ही यह ब्लैसिंग की वर्षा शुरू हुई है और अन्त तक इसी छत्रछाया के अन्दर गोल्डन फूलों की वर्षा होती रहेगी। इसी छाया के अन्दर चले हैं, पले हैं और अन्त तक चलते रहेंगे। सदा ब्लैसिंग के गोल्डन के फूलों की वर्षा। हर कदम बाप साथ है अर्थात् ब्लैसिंग साथ है। इसी छाया में सदा रहे हो (दादी से) शुरू से अथक हो, अथक भव का वरदान है इसलिए करते भी नहीं करते, यह बहुत अच्छा। फिर भी अव्यक्त होते समय जिम्मेवारी का ताज तो डाला है ना। इनको (दीदी को) साकार के साथ-साथ सिखाया और आपको अव्यक्त होने समय सेकेण्ड में सिखाया। दोनों को अपने-अपने तरीके से सिखाया। यह भी ड्रामा का पार्ट है। अच्छा!

विदाई के समय 6.30 बजे सुबह :-

संगमयुग की सब घड़ियाँ गुडमार्निंग ही हैं क्योंकि संगमयुग पूरा ही अमृतवेला है। चक्र के हिसाब से संगमयुग अमृतवेला हुआ ना। तो संगमयुग का हर समय गुडमार्निंग ही है। तो बापदादा आते भी गुडमार्निंग में हैं, जाते भी गुडमार्निंग में हैं क्योंकि बाप आता है तो रात से अमृतवेला बन गया। तो आते भी अमृतवेले में हैं और जब जाते हैं तो दिन निकल आता है लेकिन रहता अमृतवेले में ही है, दिन निकलता तो चला जाता है। और आप लोग सवेरा अर्थात् सतयुग का दिन ब्रह्मा का दिन, उसमें राज्य करते हो। बाप तो न्यारे हो जायेंगे ना। तो पुरानी दुनिया के हिसाब से सदा ही गुडमार्निंग है। सदा ही शुभ है और सदा शुभ रहेगा इसलिए शुभ सवेरा कहें, शुभ रात्रि कहें शुभ दिन कहें सब शुभ ही शुभ है। तो सभी को कलियुग के हिसाब से गुडमार्निंग और संगमयुग के हिसाब से गुडमार्निंग तो डबल गुडमार्निंग। अच्छा –

अव्यक्त महावाक्य – याद को ज्वाला स्वरूप बनाओ

बाप समान पाप कटेश्वर वा पाप हरनी तब बन सकते हो, जब आपकी याद ज्वाला स्वरूप हो। ऐसी याद ही आपके दिव्य दर्शनीय मूर्त को प्रत्यक्ष करेगी। इसके लिए कोई भी समय साधारण याद न हो। सदा ज्वाला स्वरूप, शक्ति स्वरूप याद में रहो। स्नेह के साथ शक्ति रूप कम्बाइन्ड हो। वर्तमान समय संगठित रुप के ज्वाला स्वरुप की आवश्यकता है। ज्वाला स्वरूप की याद ही शक्तिशाली वायुमण्डल बनायेगी और निर्बल आत्मायें शक्ति सम्पन्न बनेंगी। सभी विघ्न सहज समाप्त हो जायेंगे और पुरानी दुनिया के विनाश की ज्वाला भड़केगी। जैसे सूर्य विश्व को रोशनी की और अनेक विनाशी प्राप्तियों की अनुभूति कराता है। ऐसे आप बच्चे अपने महान तपस्वी रुप द्वारा प्राप्ति के किरणों की अनुभूति कराओ। इसके लिए पहले जमा का खाता बढ़ाओ। जैसे सूर्य की किरणें चारों ओर फैलती हैं, ऐसे आप मास्टर सर्वशक्तिवान् की स्टेज पर रहो तो शक्तियों व विशेषताओं रुपी किरणें चारों ओर फैलती अनुभव करेंगे।

ज्वाला-रुप बनने का मुख्य और सहज पुरुषार्थ – सदा यही धुन रहे कि अब वापिस घर जाना है और सबको साथ ले जाना है। इस स्मृति से स्वत: ही सर्व-सम्बन्ध, सर्व प्रकृति की आकर्षण से उपराम अर्थात् साक्षी बन जायेंगे। साक्षी बनने से सहज ही बाप के साथी वा बाप-समान बन जायेंगे। ज्वाला स्वरुप याद अर्थात् लाइट हाउस और माइट हाउस स्थिति को समझते हुए इसी पुरुषार्थ में रहो। विशेष ज्ञान-स्वरुप के अनुभवी बन शक्तिशाली बनो। जिससे आप श्रेष्ठ आत्माओं की शुभ वृत्ति व कल्याण की वृत्ति और शक्तिशाली वातावरण द्वारा अनेक तड़पती हुई, भटकती हुई, पुकार करने वाली आत्माओं को आनन्द, शान्ति और शक्ति की अनुभूति हो। जैसे अग्नि में कोई भी चीज़ डालने से उसका नाम, रूप, गुण सब बदल जाता है, ऐसे जब बाप के याद की लगन की अग्नि में पड़ते हो तो परिवर्तन हो जाते हो! मनुष्य से ब्राह्मण बन जाते, फिर ब्राह्मण से फरिश्ता सो देवता बन जाते। जैसे कच्ची मिट्टी को साँचे में ढालकर आग में डालते हैं तो ईट बन जाती, ऐसे यह भी परिवर्तन हो जाता। इसलिए इस याद को ही ज्वाला रूप कहा जाता है। सेवाधारी हो, स्नेही हो, एक बल एक भरोसे वाले हो, यह तो सब ठीक है, लेकिन मास्टर सर्वशक्तिवान की स्टेज अर्थात् लाइट माइट हाउस की स्टेज, स्टेज पर आ जाए, याद ज्वाला रूप हो जाए तो सब आपके आगे परवाने के समान चक्र लगाने लग जाएं। ज्वाला स्वरूप याद के लिए मन और बुद्धि दोनों को एक तो पावरफुल ब्रेक चाहिए और मोड़ने की भी शक्ति चाहिए। इससे बुद्धि की शक्ति वा कोई भी एनर्जी वेस्ट ना होकर जमा होती जायेगी। जितनी जमा होगी उतना ही परखने की, निर्णय करने की शक्ति बढ़ेगी। इसके लिए अब संकल्पों का बिस्तर बन्द करते चलो अर्थात् समेटने की शक्ति धारण करो। कोई भी कार्य करते वा बात करते बीच-बीच में संकल्पों की ट्रैफिक को स्टॉप करो। एक मिनट के लिए भी मन के संकल्पों को, चाहे शरीर द्वारा चलते हुए कर्म को बीच में रोक कर भी यह प्रैक्टिस करो तब बिन्दू रूप की पावरफुल स्टेज पर स्थित हो सकेंगे। जैसे अव्यक्त स्थिति में रह कार्य करना सरल होता जा रहा है वैसे ही यह बिन्दुरुप की स्थिति भी सहज हो जायेगी। जैसे कोई भी कीटाणु को मारने के लिए डॉक्टर लोग बिजली की रेज़ेस देते हैं। ऐसे याद की शक्तिशाली किरणें एक सेकेण्ड में अनेक विकर्मों रूपी कीटाणु भस्म कर देती हैं। विकर्म भस्म हो गये तो फिर अपने को हल्का और शक्तिशाली अनुभव करेंगे। निरन्तर सहजयोगी तो हो सिर्फ इस याद की स्टेज को बीच-बीच में पावरफुल बनाने के लिए अटेन्शन का फोर्स भरते रहो। पवित्रता की धारणा जब सम्पूर्ण रूप में होगी तब आपके श्रेष्ठ संकल्प की शक्ति लगन की अग्नि प्रज्जवलित करेगी, उस अग्नि में सब किचड़ा भस्म हो जायेगा। फिर जो सोचेंगे वही होगा, विंहग मार्ग की सेवा स्वत: हो जायेगी। जैसे देवियों के यादगार में दिखाते हैं कि ज्वाला से असुरों को भस्म कर दिया। असुर नहीं लेकिन आसुरी शक्तियों को खत्म कर दिया। यह अभी का यादगार है। अभी ज्वालामुखी बन आसुरी संस्कार, आसुरी स्वभाव सब-कुछ भस्म करो। प्रकृति और आत्माओं के अन्दर जो तमोगुण है उसे भस्म करने वाले बनो। यह बहुत बड़ा काम है, स्पीड से करेंगे तब पूरा होगा। कोई भी हिसाब-चाहे इस जन्म का, चाहे पिछले जन्म का, लग्न की अग्नि-स्वरूप स्थिति के बिना भस्म नहीं होता। सदा अग्नि-स्वरूप स्थिति अर्थात् ज्वालारूप की शक्तिशाली याद, बीजरूप, लाइट हाउस, माइट हाउस स्थिति में पुराने हिसाब-किताब भस्म हो जायेंगे और अपने आपको डबल लाइट अनुभव करेंगे। शक्तिशाली ज्वाला स्वरूप की याद तब रहेगी जब याद का लिंक सदा जुटा रहेगा। अगर बार-बार लिंक टूटता है, तो उसे जोड़ने में समय भी लगता, मेहनत भी लगती और शक्तिशाली के बजाए कमजोर हो जाते हो। याद को शक्तिशाली बनाने के लिए विस्तार में जाते सार की स्थिति का अभ्यास कम न हो, विस्तार में सार भूल न जाये। खाओ-पियो, सेवा करो लेकिन न्यारेपन को नहीं भूलो। साधना अर्थात् शक्तिशाली याद। निरन्तर बाप के साथ दिल का सम्बन्ध। साधना इसको नहीं कहते कि सिर्फ योग में बैठ गये लेकिन जैसे शरीर से बैठते हो वैसे दिल, मन, बुद्धि एक बाप की तरफ बाप के साथ-साथ बैठ जाए। ऐसी एकाग्रता ही ज्वाला को प्रज्जवलित करेगी। याद की यात्रा सहज भी हो और शक्तिशाली भी हो, पावरफुल याद एक समय पर डबल अनुभव कराती है। एक तरफ याद अग्नि बन भस्म करने का काम करती है, परिवर्तन करने का काम करती है और दूसरे तरफ खुशी और हल्केपन का अनुभव कराती है। ऐसे विधिपूर्वक याद को ही यथार्थ और शक्तिशाली याद कहा जाता है।

वरदान:- स्नेह की लिफ्ट द्वारा उड़ती कला का अनुभव करने वाले अविनाशी स्नेही भव 
मेहनत से मुक्त होने के लिए बाप के स्नेही बनो। यह अविनाशी स्नेह ही अविनाशी लिफ्ट बन उड़ती कला का अनुभव कराता है। लेकिन यदि स्नेह में अलबेलापन है तो बाप से करेन्ट नहीं मिलती और लिफ्ट काम नहीं करती। जैसे लाइट बन्द होने से, कनेक्शन खत्म होने से लिफ्ट द्वारा सुख की अनुभूति नहीं कर सकते, ऐसे स्नेह कम है तो मेहनत का अनुभव होता है, इसलिए अविनाशी स्नेही बनो।
स्लोगन:- शुभ संकल्प और दिव्य बुद्धि के यंत्र द्वारा तीव्रगति की उड़ान भरते रहो।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize