today murli 11 august

TODAY MURLI 11 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 11 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 10 August 2018 :- Click Here

11/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only by having unadulterated remembrance will your stage become unshakeable and immovable. Make such effort that you remember nothing but the one Father.
Question: What service does Shiv Baba do and what is that you children have to do?
Answer: At the confluence age, Shiv Baba removes all souls from the graveyard, that is, He does the service of purifying souls who, having come into body consciousness, have become impure. You children have to become lighthouses and, along with the Father, show everyone the way to the land of peace and land of happiness. Let there be liberation in one eye and liberation-in-life in the other.
Song: Who created this play and then hid Himself away?

Om shanti. In fact, this song belongs to the path of devotion. There is definitely someone this praise belongs to. You children understand very clearly that it is the Father who does everything. He is Karankaravanhar. Sikh people sing His praise a great deal because their religion is new, whereas that religion is very old. They remember ‘Ek Om Kar’ (God is one, an oval image). Baba has also explained the meaning of ‘Om’ very clearly, whereas they give a very long and complicated explanation. I tell you that I, the Supreme Soul, am the Resident of the supreme abode. I do not take rebirth; you take rebirth. The Father sits here and introduces Himself to you children. I reveal Myself to only you children. It has been explained to you that I am the Supreme Father, the Supreme Soul, the One you souls have been remembering on the path of devotion as God, the Father. He is praised as the Purifier, the Merciful One and the Liberator. He is also called the Guide. This is the Pandava Army. The Guide shows the path to liberation and liberation-in-life. People sing: Take our boat across. God is definitely called the Boatman as well as the Master of the Garden. He says: You used to be very intoxicated. You were carefree emperors in the golden and silver ages. You had so many riches. At Shrinathdware, they cook rich food for the bhog they offer. They cook very rich, nourishing food there, whereas they only cook rice and dal at the Jagadnath Temple. Dirty images of deities are displayed there. All of you are now dirty. At the Shrinathdware Temple, they make firstclass food, which they offer to Shrinath as bhog. It is then taken by priests who sell it at their stalls. They earn their livelihood through that. You children are becoming the masters of heaven. Your maids and servants also eat the same rich food that you eat there. Thirty six varieties of food are prepared, but you couldn’t eat that much, and so the maids and servants eat it as well. However, you mustn’t simply be content with that. A whole kingdom is being created. You will live there in great pleasure and comfort. You children receive your fortune of the kingdom of heaven that is established by the World Almighty Authority. It is said: Knowledge, devotion and disinterest. Now, there are two types of disinterest. The disinterest of sannyasis is limited; they leave their homes and businesses and go and live in the jungles. They help to bring a lot of benefit to Bharat in an incognito way. It is said that the gates of heaven open through destruction. In the same way, sannyasis help through their purity. This is why their praise is sung in the drama. The Father says: This knowledge will later disappear. So, their disinterest is limited, whereas yours is unlimited. The unlimited Father inspires you to have unlimited disinterest: Stay in your households and simply remove everything from your intellects. These are old bodies; your 84 births are now complete. Forget your bodies and all your bodily religions and relationships and consider yourself to be souls. They say that souls are immune to the effect of action, that you can eat and drink whatever you want and you will not be affected in any way. There are many different opinions and many different systems and customs. Whatever idea someone starts it just carries on. For instance, some refer to Adi Dev as Mahavir, but then they also call Hanuman Mahavir. In fact, all of you are mahavirs (great warriors) who gain victory over Maya. You make effort based on shrimat. You have to create a stage like that of Angad, whom Ravan wasn’t able to shake. No matter how many storms of Maya come, you great warriors must not shake. You cannot have this stage at this time, but it will be like that at the end. No matter how many storms of vicious thoughts come, you must remain unshakeable. You should have unadulterated remembrance; no one else should be remembered. A great deal of effort is required for this. Only at the end will you be completely unshakeable and immovable. There is a memorial of Achalghar (home of the unshakeable one). Above that is Guru Shikhar. You now understand that Shiv Baba is the Highest on High; He is the Creator. What does He create first? This too should remain in your intellects. Shiv Baba is the Highest on High. Then there are Brahma, Vishnu and Shankar, the residents of the subtle region. Why is Vishnu shown with four arms? This is the proof of the household path they follow. Your path is the household path. Establishment takes place through Brahma. The Brahmin religion is the highest of all; you are even more elevated than the deities because you do service. You carry out the establishment of the deity religion and you then become the masters of the world. The one Father is the highest of all, that is, only Shiv Baba and no one else is worthy of praise. The principal birthday is Shiv Baba’s, because no one else does as much service. Lakshmi and Narayan just experience their reward. It is now the time of settlement for everyone. Initially, it is the Father who is worshipped. That worship is unadulterated. Worship has now become completely adulterated. Starting with Shiv Baba, you know everyone’s occupation. You are now sitting with Baba in practic e. You understand that you are once again making Bharat into heaven. Those who create it will then go and rule there. There, there will be the dynasty of Lakshmi and Narayan and then that of Rama. Now, what benefit is there in worshipping them? They have to descend. They simply experienced their reward, that’s all! You are now becoming worthy of worship from worshippers. Where is Ganesh with a trunk and Hanuman with a tail and the goddesses with eight to ten arms? All of that is the expansion of the path of devotion. You understand what happens on the path of devotion and how you take 63 births. You are now Brahmins. Then, from Brahmins, you go through the deity, warrior, merchant and shudra castes. This drama is eternally fixed; no one can stop it. This is a game of somersaulting. People go on a pilgrimage while somersaulting. Previously, the game of somersaulting while on a pilgrimage was considered very important. Now, so many different opinions have emerged. No one except the one Father can grant liberation or liberation-in-life. You now have liberation in one eye and liberation-in-life in the other. Your intellects say: We are lighthouses. You are the lighthouses who show human beings the path. First of all, you have to return to your sweet home. This play is now about to end. You children understand that this true Gita is being created so that those who are weak can study and become strong. Everything else is to be destroyed. The same Gita will be created again. They quote a verse from the Gita and then explain the meaning of it. It says in the Gita: “God speaks”. It was God who spoke the Gita, but people don’t understand that. The Father says: I cannot be found by studying those scriptures. I come when devotion ends. Knowledge is the day and devotion is the night. For half a cycle it is the kingdom of Ravan. Ravan is not visible. It can be understood with the intellect when someone has the evil spirit of lust and someone has the evil spirit of anger. These words of impurity are not used in the golden age. Here, people continue to insult one another. None of these things exist in the golden age. You now understand that the Father, the Purifier, is the Creator of heaven. He creates heaven and then hides Himself away. No one is able to know Him. Even though there is the image of Shiva, people don’t understand anything about when or how Shiv Baba came, what the significance of Brahma, Vishnu and Shankar is or where they reside. How did Lakshmi and Narayan claim such an elevated kingdom in heaven? They do not exist in the iron age. You now understand how they claimed the kingdom. You children have to study very well with the Father and then teach others. The Father says to all His children: My long-lost and now-found children, o My saligrams, I enter this body in order to explain to you. I have adopted this body of Brahma. Brahmins are created through Brahma. People don’t object when you go to other satsangs, but they do object when you come here. Quarrels take place due to poison. It is about this that the Father says: This poison causes you sorrow from its beginning through the middle to the end. This is the number one enemy. Conquer this enemy of lust, the enemy that has caused you sorrow from its beginning through the middle to the end. This is why people call out: O Purifier come. They know that they are impure. That is why they go and bow their heads in front of pure ones. Sannyasis attract others with their purity and this is why they are given a high status. They also think that no one throughout the whole of Bharat is as elevated as they are. You Shaktis also shot the arrows at them. If it had been a question of physical arrows, it would not have been said that it was God who inspired them to shoot those arrows. Those arrows were knowledge. You are Brahma Kumaris but they call you ‘brahm kumaris’. They say that the brahm (element of light) is God. The Father says: That is their brahm (imagination). Many sannyasis now come to you. Many eminent people also go to the sannyasis. They say: Mahatmaji, come, we will offer you food. They offer them very good hospitality; they are a symbol of purity. Nowadays, many robbers dress up as sannyasis. You are completely honest and you are also Raj Rishis. You now understand everything from the top to the bottom. You understand that you will become deities like Lakshmi and Narayan and claim your reward. Half way through the cycle, when other religions come, wars begin. All of that is fixed in the drama. You have become knowledge-full, having come to know the supreme region, the subtle region and the physical world, and the beginning, the middle and the end of the world. You also understand the cycle in order to become rulers of the globe. Lakshmi and Narayan were the king and queen with a double crown in Bharat. Those with a single crown bow down to them. They had the power of purity. In the golden age they were completely viceless. People sing: You are completely viceless, full of all divine virtues. Why do they sing this praise? Because they themselves are vicious worshippers. The whole play rests on Bharat. There was a double crown and then a single crown and now there is no crown. You have come to understand the whole world cycle. You now understand who the Creator, the Director and the principal Actor is. You will then become deities. The dirt of Maya is being washed off you. The Father says: I am the Laundryman and also the greatest Goldsmith. You ornaments are now put in a furnace. You will then become real ornaments. The Father is also the Barrister who releases you from the jail of the five vices. He liberates you. You are in the jail of Ravan. Baba gives you legal advice on how you can free yourself from this jail. The Father says: I carry out My task, give you the fortune of the kingdom and then I disappear. You become happy. Once you have claimed your kingdom, I will go into retirement. Achcha, who are the most fortunate ones? Baba says: The kumaris are the most fortunate. Baba says: I fulfil My duty. You are impure and unhappy and you cry out. Therefore, the Father’s duty is to grant the children liberation and liberation-in-life. There is no one else who can grant liberation. Those people give themselves many titles, but they are all completely wrong. The intellects of human beings are completely without love at the time of destruction. You children continue to say: Baba, Baba. However, people don’t understand the significance of this. They think that you are perhaps remembering this Baba. You children know that Baba has made you into the masters of heaven innumerable times. This is your Godly birth. The Father says: Remember Me alone. It is this that requires effort. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Study well with the Father and teach others. Become a l ig hthouse and show everyone the path to liberation and liberation-in-life.
  2. Stay in unadulterated remembrance of the one Father, and thereby create an unshakeable and immovable stage for yourself. Become a great warrior.
Blessing: May you be a conqueror of matter and remain beyond any influence of the upheaval of matter by staying in a high stage.
You are becoming conquerors of Maya, but you now also have to become conquerors of matter because there is now going to be a lot of upheaval of matter. Sometimes, the water of the oceans will show its influence and sometimes, the earth will show its influence. If you are a conqueror of matter, none of the upheaval of matter will be able to shake you. You will always be a detached observer and observe all the games. Just as angels are always shown on a high mountain, similarly, you angels have to stay constantly in a high stage and the higher you are, the more you will automatically remain beyond any upheaval.
Slogan: To give all souls the experience of co-operation with your elevated vibrations is tapasya.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 11 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 August 2018

To Read Murli 10 August 2018 :- Click Here
11-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अव्यभिचारी याद से ही तुम्हारी अवस्था अचल-अडोल बनेगी, पुरुषार्थ करो एक बाप के सिवाए दूसरा कुछ भी याद न आये”
प्रश्नः- शिवबाबा कौन-सी सर्विस करते हैं और तुम बच्चों को क्या करना है?
उत्तर:- संगम पर शिवबाबा सभी आत्माओं को कब्र से निकालते हैं अर्थात् आत्मायें जो देह अभिमान में आकर पतित बन गई हैं उन्हें पतित से पावन बनाने की सर्विस करते हैं। तुम बच्चे भी बाप के साथ-साथ सबको शान्तिधाम और सुखधाम का रास्ता बताने के लिए लाइट हाउस बनो। तुम्हारी एक आंख में मुक्ति और दूसरी आंख में जीवनमुक्ति हो।
गीत:- किसने यह सब खेल रचाया…….. 

ओम् शान्ति। यह वास्तव में भक्ति मार्ग का गीत है। कोई है जरूर, जिसकी यह महिमा है। बच्चे अच्छी रीति समझ सकते हैं कि यह बाप ही है जो सब कुछ करते हैं, करनकरावनहार है। सिक्ख लोग बहुत महिमा गाते हैं क्योंकि नया धर्म है और यह है बहुत पुराना धर्म। गाते हैं एकोअंकार… ओम् का अर्थ भी बाबा ने बहुत अच्छी रीति समझाया है। वह तो बहुत लम्बा-चौड़ा अर्थ कर देते हैं। मैं कहता हूँ मैं परमात्मा परमधाम का रहने वाला हूँ। मैं पुनर्जन्म में नहीं आता हूँ, तुम पुनर्जन्म में आते हो। बाप बच्चों को बैठ परिचय देते हैं। मैं बच्चों के सामने ही प्रत्यक्ष हूँ। इन्हों को समझाया है मैं हूँ परमपिता परमात्मा, जिसको तुम आत्मायें भक्ति मार्ग में याद करती हो – ओ गॉड फादर। उनकी महिमा भी है पतित-पावन, रहमदिल, लिबरेटर। उनको गाइड भी कहते हैं। यह है पाण्डव सेना। पण्डा मुक्ति-जीवनमुक्ति की राह बताता है। गाते भी हैं ना नईया मेरी पार लगाओ। बरोबर परमात्मा को खिवैया भी कहते हैं, बागवान भी कहते हैं। कहते हैं तुम कितने मस्त थे। सतयुग-त्रेता में बेपरवाह बादशाह थे। कितने वैभव थे! श्रीनाथ द्वारे में कितने वैभव खिलाते हैं, पक्की रसोई बनाते हैं, जगन्नाथ के मन्दिर में दाल-चावल बनाते हैं। वहाँ काले चित्र दिखाते हैं। अभी तुम सब काले हो। श्रीनाथ द्वारे में बहुत फर्स्टक्लास चीजें बनती हैं, फिर जो श्रीनाथ को भोग लगाते हैं, वह पुजारियों को मिलता है। वह फिर दुकान में बेचते हैं। उससे शरीर निर्वाह होता है। तुम बच्चे तो स्वर्ग के मालिक बनते हो। वहाँ जो वैभव तुम खाते हो, वह दास-दासियां भी खाते हैं। 36 प्रकार के वैभव बनते हैं, इतने तो खा नही सकेंगे तो फिर दास-दासियां खाते हैं। परन्तु इसमें ही खुश नहीं होना है। राजधानी तो सारी बननी है। तुम वहाँ बहुत मौज में रहेंगे। वर्ल्ड ऑलमाइटी अथॉरिटी का स्थापन किया हुआ स्वर्ग का राज्य-भाग्य तुम बच्चों को मिलता है।

कहते हैं ज्ञान, भक्ति, वैराग्य। अब वैराग्य दो प्रकार का होता है। सन्यासियों का है हद का वैराग्य। घर-बार छोड़ जाकर जंगल में बैठते हैं फिर वह गुप्त मदद करते हैं। भारत का बहुत फ़ायदा करते हैं। जैसे विनाश के लिए कहा जाता है इनसे स्वर्ग के गेट खुलते हैं। वैसे यह भी पवित्रता की मदद करते हैं, इसलिए ड्रामा में उन्हों की महिमा है। बाप कहते हैं यह ज्ञान प्राय:लोप हो जाता है। तो उनका है हद का वैराग्य, तुम्हारा है बेहद का। तुम्हें बेहद का बाप वैराग्य दिलाते हैं। गृहस्थ व्यवहार में रहते सिर्फ बुद्धि से भूलना है। यह तो पुराना शरीर है, अब 84 जन्म पूरे हुए। देह सहित देह के सब धर्मों, सर्व सम्बन्धों को भूलना है। अपने को देही समझना है। वह तो कह देते कि आत्मा निर्लेप है। कुछ भी खाओ-पियो, लेप-छेप नहीं लगता। अनेक मत-मतान्तर हैं। कैसी रस्म-रिवाज है, जिसने जो मत चलाई चल पड़ती है। जैसे यहाँ कोई आदि देव को महावीर कहते हैं। महावीर फिर हनुमान को भी कहते हैं। वास्तव में तुम सब महावीर-महावीरनियां हो जो माया पर जीत पाते हो। श्रीमत पर पुरुषार्थ करते हो। तुमको अपनी अवस्था ऐसी रखनी है, जैसे अंगद को रावण हिला नहीं सका।

तुम महावीरों को भी भल कितना भी माया का तूफान लगे, परन्तु हिलना नहीं है। यह अवस्था अभी नहीं होगी। पिछाड़ी में ऐसी अवस्था होनी है। कितने भी विकल्पों के तूफान आयें लेकिन अडोल रहना है। अव्यभिचारी याद रहे और किसकी याद ना आये, इसमें मेहनत बहुत करनी है। पिछाड़ी में ही अचल-अडोल बनेंगे। अचलघर यादगार है ना। उसके ऊपर गुरूशिखर है। अभी तुम समझते हो ऊंच ते ऊंच है शिवबाबा, वह है रचयिता। पहले-पहले क्या रचते हैं, वह भी बुद्धि में रखना है। ऊंच ते ऊंच है शिवबाबा फिर हैं ब्रह्मा-विष्णु-शंकर सूक्ष्मवतनवासी, विष्णु को चार भुजायें क्यों देते हैं? इससे यह प्रवृत्ति मार्ग सिद्ध होता है। तुम्हारा है प्रवृत्ति मार्ग। ब्रह्मा द्वारा स्थापना कराते हैं। ब्राह्मण धर्म है ऊंच ते ऊंच, देवताओं से भी तुम ऊंच हो क्योंकि तुम सर्विस करते हो। दैवी धर्म की स्थापना कर फिर तुम विश्व के मालिक बनते हो। ऊंच ते ऊंच है एक बाप अथवा महिमा लायक एक ही शिवबाबा है, दूसरा न कोई। बर्थ डे एक शिवबाबा का ही मुख्य है। बाकी तो कोई सर्विस नहीं करते। लक्ष्मी-नारायण भी प्रालब्ध भोगते हैं। अभी तो सबकी कयामत का समय है। पहले-पहले भक्ति भी शुरू होती है एक बाप की। वह है अव्यभिचारी भक्ति। अभी तो बिल्कुल व्यभिचारी बन गये हैं। तुम शिवबाबा से लेकर सभी के आक्यूपेशन को जानते हो। अभी तुम प्रैक्टिकल में बाबा के पास बैठे हो, जानते हो कि हम फिर से भारत को स्वर्ग बना रहे हैं। जो बनाते हैं, वही फिर राज्य करेंगे। फिर वहाँ लक्ष्मी-नारायण की डिनायस्टी चलती है फिर राम की। अब उनकी क्या पूजा करें? उनको तो नीचे उतरना ही है, प्रालब्ध भोग पूरी की, बस। तुम ही पूज्य से पुजारी बनते हो। बाकी सूंढ़ वाला गणेश, पूंछ वाला हनूमान, 8-10 भुजा वाली देवियाँ कहाँ हैं? यह सब भक्ति मार्ग के बखेरे हैं। तुम जानते हो कि भक्ति मार्ग में क्या होता है? 63 जन्म कैसे लेते हैं? अभी तुम ब्राह्मण हो फिर ब्राह्मण से देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र वर्णों मे आयेंगे – यह ड्रामा अनादि बना हुआ है। कोई रोक नहीं सकता। बाजोली खेली जाती है ना। तीर्थों पर बाजोली खेलते जाते हैं। आगे बाजोली का बड़ा प्रभाव था। अभी तो अनेकानेक मतें निकल पड़ी हैं सिवाए एक बाप के और कोई मुक्ति-जीवनमुक्ति दे नहीं सकता। अब तुम्हारी एक आंख में है मुक्ति, दूसरी आंख में है जीवनमुक्ति। बुद्धि कहती है हम लाइट हाउस हैं।

तुम हो मनुष्यों को रास्ता दिखाने वाले लाइट हाउस। पहले-पहले जाना है स्वीट होम। अभी नाटक पूरा होना है। तुम बच्चे जानते हो कि यह सच्ची गीता आदि क्यों बनाते हैं? जो कच्चे हैं वह पढ़ कर पक्के बनें। बाकी तो यह सब ख़त्म हो जाने हैं। फिर वही गीता आदि निकलेगी। गीता का एक श्लोक उठाकर उसका अर्थ करते जाते हैं। गीता में तो है भगवानुवाच। गीता भगवान् ने सुनाई थी, परन्तु समझते नहीं हैं। बाप कहते हैं मैं इन शास्त्रों से नहीं मिलता हूँ, जब भक्ति पूरी होती है तब मैं आता हूँ। ज्ञान है दिन, भक्ति है रात। आधाकल्प है रावण का राज्य, रावण देखने में नहीं आता है। बुद्धि से समझ सकते हैं – इनमें काम का भूत, क्रोध का भूत है। यह अशुद्ध अक्षर सतयुग में काम नहीं आते। यहाँ तो एक-दो को गाली देते रहते हैं। यह सब बातें सतयुग में नहीं होती। अभी तुम समझते हो बाप पतित-पावन स्वर्ग का रचयिता है। स्वर्ग रचकर फिर अपने को छिपा लेते हैं। इनको कोई भी जान नहीं सकता। भल शिव का चित्र है परन्तु पता कुछ भी नहीं। शिवबाबा कब आया, कैसे आया? ब्रह्मा, विष्णु, शंकर का क्या राज़ है, वह कहाँ रहते हैं? लक्ष्मी-नारायण को सतयुग में इतनी ऊंच राजाई कैसे मिली? कलियुग में तो है नहीं। कैसे वह राजाई पाते हैं – यह अब तुम समझते हो। बच्चों को बाप से अच्छी रीति पढ़कर फिर औरों को पढ़ाना है। बाप सभी बच्चों को कहते हैं कि मेरे सिकीलधे बच्चे, ओ मेरे सालिग्रामों मैं इस शरीर में आकर तुमको समझाता हूँ, इस ब्रह्मा का तन लिया हुआ है। ब्रह्मा से ब्राह्मण पैदा होते हैं। और कोई सतसंग में ऐसे कोई मना नहीं होती है। यहाँ मना करते हैं। विष पर ही झगड़े होते हैं। जिसके लिए ही बाप कहते हैं – यह विष आदि-मध्य-अन्त दु:ख देते हैं। यह है नम्बरवन दुश्मन, इस काम महाशत्रु को जीतो जिसने तुमको आदि-मध्य-अन्त दु:ख दिया है इसलिए कहते हैं पतित-पावन आओ। जानते हैं हम पतित हैं तब तो जाकर पावन के आगे माथा टेकते हैं। पवित्रता की कशिश होती है, इसलिए उन्हों का मर्तबा रखते हैं। वह भी समझते हैं, हमारे जैसा ऊंच भारत में कोई है नहीं। उन्हों को भी तुम शक्तियों ने बाण मारे हैं। अगर स्थूल बाणों की बात होती तो ऐसे थोड़ेही कहते कि परमपिता ने बाण मरवाये हैं। यह हैं ज्ञान के बाण। तुम हो ब्रह्माकुमारियाँ, वह फिर ब्रह्म कुमारियाँ कह देते हैं। कहते हैं ब्रह्म ही भगवान् है। बाप कहते हैं यह तुम्हारा भ्रम है। अब तुम्हारे पास सन्यासी लोग भी बहुत आते हैं। बड़े-बड़े आदमी सन्यासियों के पास जाते हैं। बोलते हैं – महात्मा जी, चलिये हम आपको भोजन खिलायें। बहुत उन्हों की ख़ातिरी करते हैं। पवित्रता की निशानी है ना। आजकल तो कई डाकू भी सन्यासी का वेष धारण कर लेते हैं। तुम तो बिल्कुल साफ हो और तुम हो भी राजऋषि। अभी तुम ऊपर से नीचे तक समझ गये हो, जानते हो हम सो देवता लक्ष्मी-नारायण बन प्रालब्ध भोगते हैं। आधाकल्प बाद फिर जब और धर्म आते हैं तब लड़ाइयां आदि लगती हैं। यह भी सब ड्रामा में है। तुम मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूल वतन, सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानकर नॉलजेफुल बन गये हो। चक्र को भी जान लिया है चक्रवर्ती राजा बनने के लिए। भारत में डबल सिरताज राजा-रानी यह लक्ष्मी-नारायण ही थे। सिंगल ताज वाले उन्हों को नमन करते हैं। पवित्रता की ताकत थी, सतयुग में वाइसलेस सम्पूर्ण निर्विकारी थे। गाते भी हैं सर्वगुण सम्पन्न…… यह क्यों गाते हैं? खुद पुजारी विकारी हैं। भारत पर ही सारा खेल है। डबल सिरताज और सिंगल सिरताज, अभी तो नो ताज……। तुम सारे सृष्टि चक्र को समझ गये हो। क्रियेटर, डायरेक्टर, मुख्य एक्टर कौन हैं – तुम अभी जानते हो। फिर तुम देवता बन जायेंगे।। माया की जो कीचड़ लगी है वह धोई जाती है। बाप कहते हैं मैं धोबी भी हूँ, बड़े ते बड़ा सुनार भी हूँ। तुम्हारे जेवर को अभी भट्ठी में डालते हैं। तुम सच्चा जेवर बन जायेंगे। बाप बैरिस्टर भी है। तुमको 5 विकारों की जेल से छुड़ाते हैं, लिबरेट करते हैं। तुम रावण की जेल में हो, जेल से छुड़ाने लिए वकालत सिखलाते हैं कि अपने को कैसे छुड़ाओ। बाप कहते हैं मैं अपना कार्य कर तुमको राज्य-भाग्य दे फिर मैं गुम हो जाऊंगा। तुम सुखी बन जायेंगे। तुम राजधानी ले लेंगे फिर मैं वानप्रस्थ में बैठ जाऊंगा।

अच्छा, सबसे भाग्यशाली कौन है? बाबा कहते हैं कि कन्यायें भाग्यशाली हैं। बाबा कहते मैं तो अपना फ़र्ज पालन करता हूँ। तुम पतित-दु:खी हो, पुकारते हो, तो बाप का फ़र्ज है बच्चों को मुक्ति-जीवनमुक्ति देना। ऐसा मुक्ति दाता और कोई नहीं, बाकी टाइटिल वह लोग बहुत रखवाते हैं परन्तु है बिल्कुल रांग। मनुष्यों की बिल्कुल ही विनाश काले विपरीत बुद्धि है। तुम बच्चे बाबा-बाबा कहते रहते हो, मनुष्य थोड़ेही इस राज़ को समझेंगे। वह समझेंगे शायद इस बाबा को याद करते हैं। तुम बच्चे जानते हो कि अनेक बार बाबा ने हमको स्वर्ग का मालिक बनाया है। यह है ईश्वरीय जन्म। बाप कहते हैं सिर्फ एक मुझे याद करो इसमें ही मेहनत है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से अच्छी रीति पढ़कर औरों को पढ़ाना है। लाइट हाऊस बन सबको मुक्ति-जीवनमुक्ति की राह दिखानी है।

2) एक बाप की अव्यभिचारी याद से अपनी अवस्था एकरस अचल-अडोल बनानी है। महावीर बनना है।

वरदान:- ऊंची स्टेज पर रह प्रकृति की हलचल के प्रभाव से परे रहने वाले प्रकृतिजीत भव
मायाजीत तो बन रहे हो लेकिन अब प्रकृतिजीत भी बनो क्योंकि अभी प्रकृति की हलचल बहुत होनी है। कभी समुद्र का जल अपना प्रभाव दिखायेगा, तो कभी धरनी अपना प्रभाव दिखायेगी। अगर प्रकृतिजीत होंगे तो प्रकृति की कोई भी हलचल हिला नहीं सकेगी। सदा साक्षी होकर सब खेल देखेंगे। जैसे फरिश्तों को सदा ऊंची पहाड़ी पर दिखाते हैं, ऐसे आप फरिश्ते सदा ऊंची स्टेज पर रहो तो जितना ऊंचें होंगे उतना हलचल से स्वत: परे हो जायेंगे।
स्लोगन:- अपने श्रेष्ठ वायब्रेशन से सर्व आत्माओं को सहयोग की अनुभूति कराना भी तपस्या है।

BRAHMA KUMARIS MURLI 10 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 August 2018

To Read Murli 9 August 2018 :- Click Here
10-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – जिस मात-पिता से तुम्हें बेहद का वर्सा मिलता है उस मात-पिता का हाथ कभी छोड़ना नहीं, पढ़ाई छोड़ी तो छोरा-छोरी बन जायेंगे”
प्रश्नः- खुशनसीब बच्चों का पुरुषार्थ क्या रहता, उनकी निशानी सुनाओ?
उत्तर:- जो खुशनसीब बच्चे हैं – वह देही-अभिमानी रहने का पुरुषार्थ करते हैं। जो सुनते हैं उसका औरों को दान देते हैं। वह शंखध्वनि करने बिगर रह नहीं सकते। धारणा भी तब हो जब दान करें। खुशनसीब बच्चे दिन-रात सेवा में फर्स्टक्लास मेहनत करते हैं। कभी भी धर्मराज से डोंट केयर नहीं रहते। सिर्फ अच्छा-अच्छा खाया, अच्छा-अच्छा पहना, सर्विस नहीं की, श्रीमत पर नहीं चले तो माया बहुत बुरी गति कर देती है।
गीत:- भोलेनाथ से निराला…….. 

ओम् शान्ति। बिगड़ी को सुधारने वाला तो एक ही है – यह दुनिया नहीं जानती। तुम बच्चे समझते हो, जो यहाँ बैठे हो। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार जानते हैं। बिगाड़ने वाली है माया। आसुरी मत पर चलने वाले ही बिगड़ते हैं। अब तुम बच्चे जानते हो भोलानाथ शिव को ही कहा जाता है। शंकर को भोलानाथ नहीं कहते हैं। भोलानाथ उनको कहा जाता है जो बिगड़ी को बनाने वाला है, बड़ा भोला है, गरीबों को अखुट खजाना देने वाला है। बच्चों को आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान देते हैं, जिसके यह चित्र बने हुए हैं। और कोई ऐसा नहीं समझाते कि यह उल्टा वृक्ष है। भगवानुवाच है कि इस झाड़ और ड्रामा का ज्ञान और कोई भी वेद शास्त्र में नहीं है। भगवान् ने ही दिया है। उनका ही शास्त्र है, जिसके लिए कहा जाता है सर्व शास्त्र शिरोमणी भगवत गीता।

परमपिता परमात्मा कितना मीठा बाबा है परन्तु उसकी याद माया भुला देती है। तुम शिवबाबा को याद करने की कोशिश करते हो, लेकिन माया बड़ी जबरदस्त है, वह तुमको याद करने नहीं देगी। अब बाबा तुमको इस रोने की दुनिया से दूर ले जाते हैं, जहाँ 21 जन्म तुमको रोने की दरकार ही नहीं रहती है। तुमने 63 जन्म तो रोया है। 84 जन्म नहीं कहेंगे। यह भी तुम बच्चे ही जानते हो। भोलानाथ बैठ समझाते हैं। जबसे रावण बिगाड़ना शुरू करते हैं, तब से तुम रोने लगते हो। मनुष्यों को समझाने के लिए ही यह बड़ा झाड़ और गोला बनवाया जाता है क्योंकि बड़े चित्रों पर अच्छी रीति समझाया जा सकता है। भल कोई बच्चे अपने कर्मों अनुसार इतना नहीं भी धारण कर सकते हैं। सभी तो राजा-रानी नहीं बनेंगे। अच्छे कर्म किये हैं तो उसका फल आगे जरूर मिलता है। कर्मों की गति है ना। बाप कहते हैं मैं कर्म-अकर्म-विकर्म की गति को जानता हूँ और समझाता हूँ। टीचर तो सभी को एक जैसा ही पढ़ाते हैं। फिर कोई अच्छे नम्बर से पास होते हैं, कोई नापास होते हैं। कहेंगे क्या करें, कर्मों का ऐसा ही हिसाब-किताब है जो हम पढ़ते नहीं। यहाँ भी ऐसा है। कोई तो अच्छा पढ़ते हैं, कोई तो पढ़ाई अथवा कॉलेज को ही छोड़ देते हैं। कॉलेज छोड़ा गोया बाप-टीचर-सतगुरू को छोड़ा। छोड़ने से छोरा बन जाते हैं। छोरा उनको कहा जाता है जिनके माँ-बाप नहीं होते हैं। तो मात-पिता, जिनसे स्वर्ग का वर्सा मिलता है उनको छोड़ा तो छोरा-छोरी बन जाते हैं। यहाँ भी कई समझते हैं – यहाँ से छूट पुरानी दुनिया में जायें। लेकिन वहाँ ज्ञान तो उठा नहीं सकते। वहाँ तो नाटक, बाइसकोप, घूमना-फिरना, अच्छा कपड़ा आदि मिलेगा। जिनकी तकदीर में नहीं है तो फिर ऐसे ख्यालात चलते हैं। विनाश काले विपरीत बुद्धि होती है तो फिर पुरानी दुनिया तरफ चले जाते हैं। तुम जानते हो पुरानी दुनिया तो जल्द ख़त्म होनी है। साथ में तो कुछ नहीं चलना है। तुमको इस देह-अभिमान को भी छोड़ना है। देह-अभिमान के कारण ही और सब विकार आते हैं। देही-अभिमानी बनने में बहुत मेहनत है। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो। मैं भी टैप्रेरी इस तन में आया हूँ। हम सो देवता थे, अब फिर हम सो शूद्र बने हैं। श्रीमत पर चल हम विश्व को स्वर्ग बनाते हैं। तुम बच्चे कितने खुशनसीब हो! जब शिवबाबा आते हैं तब तुम भारत माताओं को ही शक्ति सेना बनाते हैं इसलिए ही तुम्हारा नाम पड़ा है शिव शक्ति सेना। तुम शिव से शक्ति ले अपना स्वराज्य स्थापन कर रहे हो। ऊंच ते ऊंच है शिवबाबा। दुनिया तो बिल्कुल ही घोर अन्धियारे में है। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार सोझरे में हैं। कोई-कोई की ज्योत जगती ही नहीं है। वह भी ड्रामा में नूँध है। किसी की ज्योत जगती भी है तो फिर माया बुझा देती है। चलते-चलते माया का तूफान लगने से फिर वैसे का वैसा बन जाते हैं। इस दुनिया में कोई तो बहुत साहूकार हैं, कोई 10 रूपया भी नहीं कमाते। कई मनुष्यों को भोजन भी मुश्किल से मिलता है। खाने के लिए कितना पुकारते हैं। बाबा उन द्वारा (विदेशों द्वारा) सहायता करवा रहे हैं। यह मनुष्य तो नहीं जानते। यह भी ड्रामा में राज़ है। तुम जब बहुत दु:खी होते हो तब बाप आते हैं। अगर उन्हों को प्रेरणा नहीं मिलती तो तुमको मदद नहीं करते। अभी तुम्हारी कम्पलीट राजधानी स्थापन नहीं हुई है।

तो यह चित्र हैं किसको समझाने के लिए। इनका बहुत महत्व है। जैसे मैप्स (नक्शे) होते हैं, मैप के सिवाए कैसे पता पड़े फलाना शहर कहाँ है। यह मैप्स वहाँ नहीं होंगे। यहाँ तो भारत कितना बड़ा है। वास्तव में भारत की सबसे जास्ती संख्या होनी चाहिए। तो रहने लिए कितनी जगह चाहिए। स्वर्ग में तो बहुत थोड़े रहेंगे। तुम्हारी बुद्धि में यह बातें हैं। विनाश होगा तो हम बाकी बहुत थोड़े रहेंगे। झाड़ का फाउन्डेशन है ना। फिर बाद में झाड़ वृद्धि को पाता रहेगा। फिर नम्बरवार और झाड़ लगते रहेंगे। तुम्हारे में भी बहुत थोड़े हैं जो इन बातों को समझते हैं और नशे में रहते हैं। हम बाबा द्वारा नॉलेजफुल बनते हैं। बाबा तो बहुत सहज बतलाते हैं। कहते हैं सिर्फ इस सृष्टि चक्र को ध्यान में रखो। सृष्टि चक्र और शंख। जो ज्ञान का शंख बजाने वाले नहीं होंगे तो उनको गीता सुनाने वाला ब्राह्मण कैसे कहेंगे? गीता सुनाने वाले भी नम्बरवार होते हैं। जो अच्छे पक्के विद्वान होंगे उन्हों को नशा रहेगा। कितने हजारों मनुष्य बैठ सुनते हैं। तुम्हारी तो हैं नई बातें। कहते हैं इन्हों का ज्ञान न हिन्दुओं का है, न मुसलमानों का है, पता नहीं कहाँ से लाया है। फिर भी कई तो समझते हैं ना – भोलानाथ बाबा, भक्तों का रक्षक भगवान्, पतित-पावन आया है। उनको आना जरूर है। बाप कहते हैं मेरी यादगार के भी मन्दिर हैं। मैं आया ही हूँ पतितों को पावन बनाने। यह तुम बच्चे जानते हो – बाबा आकर हमको 5 हजार वर्ष पहले समान समझा रहे हैं। तुम कहते हो – बाबा, हम भी 5 हजार वर्ष पहले आये थे, आपसे वर्सा लिया था। इतने ढेर बच्चे कहते हैं, इसमें अन्धश्रधा की कोई बात ही नहीं। सभी कहते हैं – बाबा, हम आपके पोत्रे, ब्रह्मा के बच्चे हैं। कोई से भी पूछो तो कहेंगे – हाँ, शिवबाबा के बच्चे तो सब भाई-भाई हैं। फिर साकार में ब्रह्मा की औलाद होने से बहन-भाई ब्रह्माकुमार-कुमारी हो गये। तो यह बुद्धि में रहना चाहिए। हम ब्रह्मा के बच्चे ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ ठहरे, इसमें विकार की कोई बात नहीं। एक ही कुल हो गया। प्रजापिता ब्रह्मा रचयिता है। जरूर यह प्रजा है ना। शिवबाबा आकर ब्रह्मा द्वारा बच्चे बनाते हैं, तो जरूर सतयुग के पहले आये होंगे। जो ब्राह्मण फिर देवता बनते हैं वह जरूर पवित्र रहेंगे। जो-जो पवित्र बनते हैं वह अपना राज्य-भाग्य लेते हैं। शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा यह रचना रच रहे हैं। तुम जानते हो हम 5 हजार वर्ष पहले भी संगम पर थे, अब भी हैं फिर हम देवता बनेंगे। सतयुग में वा कलियुग में कोई ब्रह्माकुमार-कुमारियां नहीं होते हैं, संगम पर ही होते हैं। ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ भाई-बहन बनते हैं – यह पवित्र रहने की युक्ति है। जो पवित्र नहीं बनते वह तो विश्व का राज्य ले न सके। ब्राह्मण ही देवता बनने वाले हैं। बाप समझाते हैं – बच्चे, पुरुषार्थ करके धारण करो और दूसरों को कराओ। जब देवता बनने लायक बन जायेंगे तब विनाश होगा। विनाश सामने खड़ा है। जो अच्छे सर्विसएबुल बच्चे हैं उन्हों की बुद्धि में ठहरता है। दान नहीं करते तो बुद्धि में ठहरता ही नहीं है। कई ब्रह्माकुमार-कुमारियां अच्छी फर्स्टक्लास मेहनत करते हैं, कोई सेकेण्ड, कोई थर्ड क्लास करते हैं, तो मिलेगा भी ऐसा ही। सभी कहते हैं हमको फर्स्टक्लास ब्रह्माकुमारी भेजो। अब इतनी कहाँ से लायेंगे? यह भी शिवबाबा जानते हैं कि फर्स्टक्लास कौन हैं? हर एक की अवस्था को जानते हैं। बहुत बच्चियाँ अच्छी सर्विस करती हैं।

ब्राह्मणों (लौकिक ब्राह्मण) को खाने का बहुत रहता है, जगह-जगह धामा खाते रहते हैं। बच्चों में भी कोई-कोई हैं, अच्छा भोजन न मिले तो आराम न आये। बाबा-मम्मा का नाम बदनाम कर देते हैं। फिर समझाओ तो गुस्सा आ जाता हैं। कई धर्मराज को भी डोंटकेयर करने वाले हैं। वह फिर आश्चर्यवत् भागन्ती हो जाते हैं। माया ऐसी बुरी गति करा देती है, जो श्रीमत पर नहीं चलते। फिर विकार के लिए अबलाओं पर कितने अत्याचार करते हैं। अत्याचार भी अहो सौभाग्य है। बाप से वर्सा तो ले लेंगे ना। बहुतों पर अत्याचार होते हैं क्योंकि विष बिगर रह नहीं सकते। यह है दुर्गति की दुनिया। इसमें किसकी सद्गति हो नहीं सकती। मृत्युलोक और अमरलोक को कोई नहीं जानते। अमरलोक सतयुग में है आदि, मध्य, अन्त सुख। दिखाते हैं अमरनाथ ने पार्वती को कथा सुनाई। अब सूक्ष्मवतन में तो कथा सुनने की दरकार नहीं। तो यह कथायें आदि कहाँ से आई? अमरकथा सुनाई फिर सूक्ष्मवतन से कहाँ गये? कुछ भी पता नहीं। तो इन बातों को अच्छी रीति समझाना चाहिए। कथा सुनाने वाले तो बहुत हैं, पहले उन्हों की बात सुनकर फिर समझाना चाहिए। दशहरे पर बड़े-बड़े आदमी रावण को देखने जाते हैं। सेन्सीबुल मनुष्य समझेंगे कि बन्दर कैसे राम को सहायता करेंगे? कुछ भी नहीं समझते। इस समय तो नेशन (देश), नेशन से लड़ते रहते हैं। एक क्राइस्ट के बच्चे आपस में लड़ते हैं। बाप कहते हैं यह भी ड्रामा की भावी है। ड्रामा का मालूम पड़ा है तब तो तुम अब पुरुषार्थ करते हो। जानते हो अब खेल पूरा होता है, बाबा से वर्सा लेना है। यह ड्रामा का राज़ और कोई की बुद्धि में नहीं हैं। बाबा ने आकर सब राज़ समझाये हैं। पढ़ाने वाला, पतित-पावन वह बाप है। बलिहारी उनकी है। माया नींच बनाती है। ऊंच ते ऊंच बाप ही आकर ऊंच बनाते हैं। कहते हैं – बच्चे, अब मेरे से सुनो, पुरानी देह का भान छोड़ने का पुरुषार्थ करते रहो। अभी तो तुमको पतियों का पति मिल गया है, जो स्वर्ग की बादशाही देते हैं। वहाँ है ही सम्पूर्ण निर्विकारी। यह है सम्पूर्ण विकारी दुनिया। दुनिया एक ही है। वही सम्पूर्ण निर्विकारी फिर सम्पूर्ण विकारी बनते हैं। पहले भारत स्वर्ग था, अब नर्क है। यह चित्र बड़े वैल्युबुल हैं। विलायत में कोई को समझाकर दो तो कहेंगे कि यह चीज़ तो बड़ी अच्छी है। कैसे सृष्टि का चक्र फिरता है, किस-किस की डिनायस्टी चलती है, सबके चित्र इनमें हैं। कोई भी धर्म वाले को समझाने से खुश होंगे। हाँ, आगे चल एक-दो से सब सुनेंगे – यह तो बहुत अच्छी नॉलेज है। विलायत में कोई सेन्सीबुल जाये तो बहुत सर्विस हो सकती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कर्म-अकर्म-विकर्म की गति को बुद्धि में रख श्रेष्ठ कर्म करने हैं। पढ़ाई कभी नहीं छोड़नी है।

2) ज्ञान दान करने से ही धारणा होगी इसलिए दान जरूर करना है। कभी भी बाप की आज्ञाओं को डोंटकेयर नहीं करना है।

वरदान:- अटेन्शन और चेकिंग की विधि द्वारा व्यर्थ के खाते को समाप्त करने वाले मा. सर्व-शक्तिमान् भव
ब्राह्मण जीवन में व्यर्थ संकल्प, व्यर्थ बोल, व्यर्थ कर्म बहुत समय व्यर्थ गंवा देते हैं। जितनी कमाई करने चाहो उतनी नहीं कर सकते। व्यर्थ का खाता समर्थ बनने नहीं देता इसलिए सदा इस स्मृति में रहो कि मैं मास्टर सर्वशक्तिमान हूँ। शक्ति है तो जो चाहे वो कर सकते हैं। सिर्फ बार-बार अटेन्शन दो। जैसे क्लास के समय वा अमृतवेले की याद के समय अटेन्शन देते हो, ऐसे बीच-बीच में भी अटेन्शन और चेकिंग की विधि अपना लो तो व्यर्थ का खाता समाप्त हो जायेगा।
स्लोगन:- राजऋषि बनना है तो ब्राह्मण आत्माओं की दुआओं से अपनी स्थिति को निर्विघ्न बनाओ।

TODAY MURLI 11 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 11 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 10 August 2017 :- Click Here

11/08/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, make effort to stay constantly in remembrance of the one Father. This is unlimited satopradhan effort.
Question: Which company should you children keep and which company should you not keep?
Answer: Keep the company of those who talk about knowledge and are serviceable. Stay away from the company of those who gossip and talk about useless matters. Hear no evil, see no evil !
Question: What damage is caused by being careless?
Answer: Those who are careless keep making mistakes at every moment. They continue to defame the Father’s name. Everyone dislikes them. They do not reach the golden age; they accumulate a lot of severe punishment.
Song: Mother, o mother, you are the bestower for all.

Om shanti. This is praise of mothers. All of you are mothers. It is said: The mothers of Bharat are the incarnation of Shakti. Only the incarnation of One is remembered. He incarnates in order to purify the world. The intellects of you children are aware that the Supreme Father, the Supreme Soul, has now come to make us pure from impure. He is in the body of Brahma. That Dilwala Temple is your accurate memorial. All the memorials of the path of devotion are of this confluence age. Such things do not take place in the golden and silver ages. Then, in Ravan’s kingdom, people become unhappy. Ravan makes you rajo and tamo. Now, at this time, this world is tamopradhan. When the world was satopradhan, you children used to rule there. You have the discus of self-realisation in your intellect. Only you Brahmins become spinners of the discus of self-realisation. Only the one Ocean of Knowledge gives you knowledge. The sign of this is the Dilwala Temple and then there is also Achal Ghar (the home of stability) and Guru Shikhar. You know that Shikhar is the peak of the mountain. There is a Shiv Baba temple in the mountains about which it is said: When the Satguru gave the ointment of knowledge, the darkness of ignorance was dispelled. Therefore, He is the Ocean of Knowledge, is He not? That is an absolutely accurate memorial. You too are sitting here to climb to the top in order to become part of the rosary of Rudra around the neck of the Supreme Father, the Supreme Soul. You receive knowledge here and when you become unshakeable (stable), you become part of the rosary of Rudra. When you become satopradhan, you reside with the Father. This is like a double fathers’ home. It is the home of Prajapita Brahma, and Shiv Baba has also come here to decorate you children with knowledge. That is the unlimited Father’s home and that is the in-laws’ home. Other homes are limited. When a girl goes to her in-laws’ house, she wears jewellery etc., and believes that there is happiness in that. You understand that you are now sitting in the unlimited Father’s home. In order to go to your in-laws’ home you are imbibing the imperishable jewels of knowledge. Your

aprons are becoming full for 21 births. However, the speed isn’t fast enough. Those who are satopradhan are said to be ones with a fast speed. Some are satoguni and some are even now rajoguni. There are three types of effort-maker. The highest-on-high effort-makers always keep the one Father in their intellect. The Highest on High is the Father. You children know that you are now going into unlimited happiness and so you also have to make very good unlimited effort for that. The soul says: I have now come into the iron age. I have now found the Supreme Father, the Supreme Soul, and He says: Children, you have to make effort here and go to the golden age. When your stage has become like that, you will go to the golden age. You have to become satopradhan from tamopradhan. Everyone has to become satopradhan. Your parts are in the golden age. This is why you become satopradhan. However, everyone has to return home. Everyone has to become part of the rosary of Rudra, numberwise. This rosary of Rudra is so big. There is a rosary of eight jewels and also one of 108. The Dilwala Temple that has been created is such an accurate memorial of you. Down below, you are sitting in tapasya and up on the ceiling the kingdom is shown. In another temple, they even have the name of the main one, Jagadamba. That is the part of you mothers. The Father comes and enables you mothers to have the status of a guru. Here, too, the majority is you mothers. This is why the incarnation of Shakti, the Mother of Bharat, is remembered. This is also called an army because there are a lot of you. You can see that your number continually grows. Sannyasis leave their homes and families to become pure. When Ravan’s kingdom begins, there is a need for purity. At that time there is a lot of distress. Earthquakes must have taken place. Where did all those palaces etc. go? All of them were destroyed or sank beneath the sea. How the world cycle turns is something to be understood. It has to go from the iron age to the golden age. Heaven is your unlimited in-laws’ home for which you are making effort. Only when you have full knowledge and you make full effort will your mercury of happiness rise. The supersensuous joy of the final time is remembered. At the end you will know how much effort each one has made and what status they will claim. You understand that you’ll make effort and reach the golden age by the end. Those who don’t reach that stage will experience punishment. It is now the time of settlement. Everyone has to settle his or her karmic accounts and return home. You are continuing to settle them with knowledge and the power of yoga. It is remembered: Those who climb up taste the sweetness of heaven, whereas those who fall down are completely destroyed, because they fall into vice. It is only after becoming body conscious that they fall into vice and then they cannot climb up again. They climb and then fall and it takes time. It is not possible for them to continue to move straight ahead. When the stage becomes even a little good, body consciousness then comes. There is then the feeling that there are some bad omens. There are many storms in the mind. It takes time to ascend. Baba explains every day: Children, study every day. You continue to receive many points daily. Remember the Father and the inheritance. This play is coming to an end. We have to claim our inheritance once again. In the golden age, there will be the king, the queen and the subjects. Whatever actions we perform, that is, whatever effort we make, we will receive the fruit accordingly. The kingdom begins with Lakshmi and Narayan. That is the era of the conquerors of sinful actions. You conquer sin and claim your fortune of the kingdom. You will receive a status, numberwise, according to the effort you make. Each one of you can continue to see the result of your efforts: How much effort am I making? You have to go from tamopradhan to satopradhan. The soul says: I have to make effort and attain the sun-dynasty kingdom. I will study fully and remember the Father fully. You now have the enlightenment of the full knowledge and know what you will become in the future. Many children forget because of being careless. They also continue to be disobedient. They become instruments to cause defamation of the unlimited Father. They even cause a lot of damage because of anger. It is understood that so and so has the evil spirit of anger. That is why you have to remain very distant from those who are lustful and angry. You mustn’t keep their company. Keep the company of those who continue to buzz knowledge. Don’t keep the company of those who gossip and defame others. You mustn’t listen to anything except knowledge. These things are also very well known. They have shown that, because of tale tellers, Rama and Sita were sent into exile. Telling tales causes a lot of damage. Hear no evil ! Never become trapped in the company of those who say false things; they cause a lot of damage. They make you break your intellect’s yoga away from the unlimited Father. When they don’t have full yoga, they fail and go into the moon dynasty. It isn’t that Ravan abducted Sita from the kingdom of Rama. No, all of those are stories of falling down. From the copper age onwards, people have been calling out because they have been falling. That is why God has to come. If they had salvation, God wouldn’t need to come. There is salvation in the golden and silver ages and so no one remembers God there; no one there even calls out to Him. No one knows the secrets of the drama or about the stages of ascent and descent. The Father sits here and personally explains to you. The whole world is not going to study. Only those who studied in the previous cycle will study. The Father continues to caution you. You souls have become aware from this study of how elevated you were and how you have now fallen. The Father says: Become pure from impure and then go to the golden age. Become ever healthy through the power of remembrance and ever wealthy through the power of knowledge. An ordinance for purity has been issued. Only by becoming pure do you claim an immortal status. Nothing of yours is destroyed. Everything else is destroyed. You will settle your karmic accounts and return home. Shiv Baba says: If you become pure you will become the masters of the pure world. Otherwise, there will be punishment experienced and then you will return home. This ordinanceis so important. You understand that destruction truly is just ahead. This is why you have to become very strong. Baba continues to tell you many different points. You should listen to them. If you don’t listen to them, you won’t be able to become part of the rosary. You have to come into the rosary, numberwise. You should claim your full inheritance from the Father. Good students engage themselves in their studies very well. Baba even asks for the registers of the centres to be sent to Him. Baba also cautions everyone. You definitely do have to study. You cannot make excuses about this. You children have a lot of time. Do the Government’s job for eight hours and make effort for the rest of the time. You should be concerned about how long you remained in Baba’s serviceand how long you stayed in remembrance of Baba. Some children send their chart s to Baba, but those chart s should remain all the time. It isn’t that Baba will sit and check each one’s chart. That is the work of the teachers at the centres. Brahmin teachers are also numberwise. None of them have reached the goldenage yet. There is still some time left for that. Some slip away because of not following shrimat and then no one gives them respect; no one would like them.

[wp_ad_camp_3]

 

You children mustn’t speak of worldly matters at all. When someone is gossiping, consider that one to be your enemy and that that one will make you fall. Don’t speak of useless matters. Check yourself as to how far you have reached. The one Father is the Satguru and He is filled with this knowledge. You have to go to Guru Shikhar, the top (Paramdham). All of these are matters of knowledge. There is no question of a mountain etc. You have to go beyond everything. No one knows about these things. The Father says: You were tamopradhan at first. You now have to become satopradhan. There are many who don’t have this faith; they don’t have full yoga. They explain to others and those people are benefited. It isn’t that they have given them benefit. No, those people understand the secrets according to their fortune. There are many who go faster than their teacher. Even some children now have a lot of body consciousness. At the end, even your body must not be remembered. Amongst the sannyasis too, there are a few rare ones who shed their bodies while just sitting somewhere and there is dead silence at that time. They still go and take birth to householders. Then they go to the forests to become elevated. This is Maya’s kingdom. You also have to understand how this cycle turns. There are many daughters who have never even seen the Father and yet they continue to remember Him. Therefore, surely, they will claim a high status. Everything is a game of the effort you make. Some make a lot of effort day and night. You know that you have to become satopradhan in this impure world and in those bodies. It takes time to become pure. For as long as this world exists and there is the study, you have to continue to study. Drink nectar for as long as you live so that you can reach your karmateet stage. Remove all attachment from those bodies and this world. It requires effort to become kings and queens. Those who study well climb on to the heart-throne. You can understand inside to what extent you are a helper. The unlimited Father loves you on seeing your stage. The Father says: If you want to benefit yourself, follow shrimat. Don’t perform any such actions that would make others dislike you. This is boxing. It takes you so long in this war. Achcha.

To the sweetest bouquet of flowers of knowledge and those making effort in knowledge and yoga, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Fill your apron with the imperishable jewels of knowledge and decorate yourself. In order to experience supersensuous joy, fill your intellect with knowledge.
  2. Telling tales causes a lot of damage. Therefore, don’t listen to or talk about anything except knowledge. Remain distant from the company of those who say false things.
Blessing: May you be full of the fragrance of spirituality and experience God’s love by staying beyond all limits.
Just as a rose is on a stem of thorns and yet is detached from the thorns and remains fragrant; it doesn’t get spoilt by being amongst the thorns, in the same way, a spiritual rose that remains beyond all limits and detached from the body cannot be influenced by anything and remains full of the fragrance of spirituality. Such fragrant souls are loved by the Father and the Brahmin family. God’s love is so infinite, so strong and so much that everyone can receive it; the way to receive it is to remain detached.
Slogan: In order to experience the avyakt stage, remain beyond gross feelings and intentions.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_3]

 

Read Bk Murli 9 August 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 11 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 August 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 10 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 11/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
11/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – निरन्तर एक बाप की याद में रहने का पुरूषार्थ करो – यही है बेहद का सतोप्रधान पुरूषार्थ”
प्रश्नः- तुम बच्चों को कौन सा संग करना है, कौन सा नहीं?
उत्तर:- जो ज्ञान की रूहरिहान करते हैं, सर्विसएबुल हैं उनका ही संग करो बाकी जो झरमुई झगमुई करते हैं, फालतू बातें सुनाते हैं, उनके संग से दूर रहो। हियर नो ईविल, सी नो ईविल…
प्रश्नः- ग़फलत करने से कौन से नुकसान होते हैं?
उत्तर:- जो गफलत में रहते उनसे हर समय भूलें होती रहती हैं। वह बाप का नाम बदनाम करते रहते हैं। उनसे सभी को ऩफरत आती है। वह गोल्डन एज में नहीं पहुँचते फिर बहुत कड़ी सजा के भागी बनते हैं।
गीत:- माता ओ माता…

ओम् शान्ति। यह है माताओं की महिमा। तुम सब मातायें हो। भारत माता शक्ति अवतार – ऐसे कहा जाता है क्योंकि अवतार एक का ही गाया जाता है। वह विश्व को पावन बनाने के लिए अवतार लेते हैं। अभी तुम बच्चों की बुद्धि में है कि परमपिता परमात्मा हमको पतित से पावन बनाने आये हैं। ब्रह्मा के तन में हैं। यह जो दिलवाला मन्दिर है – यह पूरा यादगार है। जो भी भक्तिमार्ग के यादगार हैं, यादगार होते ही इस संगम के हैं। सतयुग त्रेता में तो ऐसी बात होती नहीं, फिर रावणराज्य में मनुष्य दु:खी होते हैं। रावण ही रजो तमो बनाते हैं। अब इस समय यह सृष्टि है तमोप्रधान। जब सृष्टि सतोप्रधान थी तो तुम बच्चे वहाँ राज्य करते थे। तुम्हारी बुद्धि में यह स्वदर्शन चक्र है। तुम ब्राह्मण ही स्वदर्शन चक्रधारी बनते हो। ज्ञान देने वाला एक ही ज्ञान सागर है, जिसकी निशानी यह देलवाड़ा मन्दिर है और फिर अचलगढ़ और गुरूशिखर भी है। तुमको मालूम है – शिखर चोटी को कहा जाता है। पहाड़ी पर शिवबाबा का मन्दिर है। जिसके लिए कहा जाता है – ज्ञान अजंन… ज्ञान का सागर हुआ ना। यह बिल्कुल एक्यूरेट यादगार है। तुम बैठे भी यहाँ ही हो – चोटी पर चढ़ने लिए। परमपिता परमात्मा के गले की रूद्र माला बनने लिए। तुमको यहाँ ज्ञान मिलता है। फिर जब तुम अचल, स्थेरियम बनते हो तो तुम जाकर रूद्र माला बनते हो। जब तुम सतोप्रधान बन जाते हो तो तुम बाप के साथ निवास करते हो। यह जैसे डबल पियरघर है। प्रजापिता ब्रह्मा का भी है और शिवबाबा भी यहाँ आया है, तुम बच्चों को ज्ञान श्रृंगार कराने। यह है बेहद का पियरघर, ससुरघर, वह तो हद के होते हैं, कन्या ससुरघर जाकर जेवर आदि पहनती है, उसमें सुख समझती है। तुम अभी समझ गये हो कि हम बेहद के बाप के घर में बैठे हैं। ससुरघर जाने के लिए अविनाशी ज्ञान रत्नों की धारणा कर रहे हैं। 21 जन्मों के लिए तुम्हारी झोली भर रही है। परन्तु तीव्रवेगी इतने नहीं हैं, सतोप्रधान को तीव्रवेगी कहा जाता है। कोई सतोगुणी और कोई अब तक भी रजोगुणी हैं। 3 प्रकार के पुरूषार्थी होते हैं। ऊंच ते ऊंच पुरूषार्थी सदैव बुद्धि में एक बाप को ही याद रखते हैं। ऊंच ते ऊंच है वह बाप। अभी तुम जानते हो हम बच्चे बेहद सुख में जा रहे हैं तो उसके लिए पुरूषार्थ भी बहुत अच्छा करना पड़े – बेहद का। आत्मा कहती है मैं आइरन एज में आ गई हूँ। अब परमपिता परमात्मा मिला है – कहते हैं बच्चे तुमको यहाँ पुरूषार्थ कर गोल्डन एज में जाना है। जब ऐसी अवस्था हो जायेगी तब गोल्डन एज में आयेंगे। तमोप्रधान से फिर सतोप्रधान बनना है। सतोप्रधान भी सबको बनना है। तुम्हारा पार्ट ही सतयुग में है, इसलिए तुम सतोप्रधान बनते हो, परन्तु जाना तो सबको है ना। सबको नम्बरवार रूद्र माला बनना है। यह रूद्र माला कितनी बड़ी है। 8 रत्नों की भी माला है, तो 108 की भी है।

तुम्हारा यादगार कितना एक्यूरेट दिलवाला मन्दिर बना हुआ है। नीचे तपस्या में बैठे हैं, ऊपर में राजाई दिखाई है। और मन्दिर में मुख्य जगदम्बा का भी नाम है। पार्ट तो तुम माताओं का है ना। बाप आकर गुरू पद तुम माताओं को ही देते हैं। यहाँ भी मैजारिटी माताओं की है इसलिए भारत माता शक्ति अवतार गाया जाता है। सेना भी कहा जाता है क्योंकि आपस में बहुत हैं ना। तुम देखते हो वृद्धि को पाते रहते हैं। सन्यासी घरबार छोड़ते हैं पवित्र बनने लिए, रावण राज्य शुरू होता है तो पवित्रता की जरूरत रहती है। उस समय हाहाकार हो जाता है। अर्थक्वेक आदि हुआ होगा। इतने सब महल आदि कहाँ गये! सब विनाश को पाते हैं वा सागर में चले जाते हैं। यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है, यह समझने की बात है। आइरन एज से फिर गोल्डन एज में जाना है। स्वर्ग है तुम्हारा बेहद का ससुरघर, जिसके लिए तुम पुरूषार्थ करते हो। पूरा ज्ञान हो, पूरा पुरूषार्थ करें तब खुशी का पारा चढ़े। अतीन्द्रिय सुख अन्त का गाया हुआ है। पिछाड़ी में तुमको पता पड़ जायेगा कि किस-किस ने कितना पुरूषार्थ किया! क्या पद पायेंगे! पिछाड़ी में समझेंगे, जब तक पुरूषार्थ कर गोल्डन एज तक पहुँच जायेंगे। जो नहीं पहुँचते हैं वह फिर सजा खाते हैं। अभी तो कयामत का समय है। सबको हिसाब-किताब चुक्तू कर जाना है। तुम चुक्तू करते रहते हो ज्ञान और योगबल से। गाया भी जाता है चढ़े तो चाखे वैकुण्ठ रस… क्योंकि विकार में गिर पड़ते हैं। देह-अभिमान में आने के बाद ही विकार में गिरते हैं, फिर चढ़ न सकें। चढ़ते हैं फिर गिरते हैं, टाइम तो लगता है ना। ऐसा हो नहीं सकता जो सीधा चलता जाए। थोड़ी भी अवस्था अच्छी होती है फिर देह-अभिमान आ जाता है। महसूसता आती है कोई ग्रहचारी है। मन्सा में तूफान बहुत आते हैं। चढ़ने में तो टाइम लगता है। बाबा रोज़ समझाते रहते हैं कि बच्चे पढ़ाई रोज़ पढ़ो। प्वाइंट्स दिन-प्रतिदिन बहुत मिलती रहती हैं। बाप और वर्से को याद करो। यह नाटक पूरा होता है। हमको फिर से वर्सा लेना है। सतयुग में राजा रानी, प्रजा सब होंगे। जैसे कर्म अथवा जो पुरूषार्थ करेंगे वैसा ही फल मिलेगा। लक्ष्मी-नारायण से ही राज्य शुरू होगा। वह होता है विकर्माजीत संवत, विकर्मों पर जीत पहनकर तुम अपना राज्य-भाग्य लेते हो। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार पद पायेंगे। हर एक अपने पुरूषार्थ की रिजल्ट देखते चलो। हम कितना पुरूषार्थ करते हैं। तमोप्रधान से सतोप्रधान में जाना है। आत्मा कहती है मुझे पुरूषार्थ करके सूर्यवंशी राजाई पानी है। हम तो पूरा पढ़कर बाप को पूरा याद करेंगे। तुमको अभी सारे ज्ञान की रोशनी मिलती है। भविष्य में तुम क्या बनेंगे! बहुत बच्चे ग़फलत करने के कारण भूल जाते हैं। अवज्ञा भी करते रहते हैं। बेहद बाप की निंदा कराने के निमित्त बन पड़ते हैं। क्रोध के कारण भी कितना नुकसान कर देते हैं। समझते हैं इनमें तो क्रोध का भूत है इसलिए कामी और क्रोधी से बहुत दूर रहना चाहिए, उनका संग नहीं करना चाहिए। संग उनका होना चाहिए जो ज्ञान की टिकलू-टिकलू करते हैं। ऐसे नहीं जो झरमुई झगमुई करते, किसकी निंदा करते – उनका संग हो। सिवाए ज्ञान के कोई बात नहीं सुनना चाहिए। यह बातें भी नामीग्रामी हैं। दिखाते भी हैं धूतियों के कारण राम-सीता को वनवास मिला। धूतीपना नुकसान कर देता है। हियर नो ईविल… उल्टी-सुल्टी बातें करने वालों के संग में कभी नहीं फँसना। बहुत नुकसान कर देते हैं। बेहद के बाप से बुद्धियोग तुड़ा देते हैं। पूरा योग नहीं तो फेल हो चन्द्रवंशी में चले जाते हैं। बाकी ऐसे नहीं कि रामराज्य में कोई रावण सीता को चुरा ले गया। नहीं, यह सब गिरावट की बातें हैं। द्वापर से लेकर पुकारते आते हैं क्योंकि गिरते हैं तब तो भगवान को आना पड़ता है। अगर सद्गति होती तो भगवान को आने की दरकार नहीं होती। सतयुग त्रेता में सद्गति है तो कोई भगवान को याद नहीं करते, कोई बुलाते ही नहीं। ड्रामा के राज़ को, चढ़ती कला, उतरती कला को कोई जानते ही नहीं। बाप सन्मुख बैठ समझाते हैं। सारी दुनिया को तो पढ़ना नहीं है। पढ़ेंगे वही जो कल्प पहले पढ़े थे। बाप सावधान करते रहते हैं। इस पढ़ाई से तुम्हारी आत्मा को पता पड़ा है कि हम कितना ऊंच थे। अब गिरे हैं। बाप कहते हैं पतित से पावन बन फिर गोल्डन एज में जाना है। याद के बल से एवरहेल्दी, ज्ञान के बल से एवरवेल्दी बनना है। पवित्रता का आर्डीनेंस निकाला है। पवित्र बनने से ही तुम अमरपद को पाते हो। तुम्हारा विनाश नहीं होता है। बाकी सब विनाश हो जाते हैं, हिसाब-किताब चुक्तू कर जायेंगे।

शिवबाबा कहते हैं पवित्र बनेंगे तो पवित्र दुनिया का मालिक बनेंगे। नहीं तो फिर सजायें खाकर जायेंगे। कितना बड़ा आर्डीनेंस है। तुम समझते हो बरोबर विनाश सामने खड़ा है, इसलिए हमको मजबूत हो जाना है। किसम-किसम की प्वाइंट्स बाबा सुनाते रहते हैं, सुननी चाहिए। अगर सुनेंगे नहीं तो माला में आ नहीं सकेंगे। माला में नम्बरवार आने हैं। बाप से पूरा वर्सा लेना चाहिए। अच्छे स्टूडेन्ट अच्छी तरह पढ़ाई में लग जाते हैं। बाबा सेन्टर का रजिस्टर भी मंगाते हैं। बाबा सबको खबरदार भी करते हैं। पढ़ना जरूर है, इसमें कोई कारण दे नहीं सकते हैं। टाइम तो बच्चों को बहुत है। 8 घण्टा भी गवर्मेन्ट की नौकरी करो, बाकी टाइम में मेहनत करनी है। ख्याल करना है – सारे दिन में हम बाबा की सर्विस में कितना समय रहा? बाबा की याद में कितना समय रहा? कोई कोई बच्चों का चार्ट आता है परन्तु वह चार्ट जब सदैव के लिए रहे। ऐसे भी नहीं बाबा एक-एक का बैठ देखेंगे। यह फिर सेन्टर की ब्राह्मणियों का काम है। ब्राह्मणियों में भी नम्बरवार हैं। गोल्डन एज में कोई पहुँची नहीं हैं। उसमें अजुन समय पड़ा है। कोई तो और ही श्रीमत पर न चलने के कारण खिसक पड़ते हैं फिर उनको कोई मान भी नहीं देते हैं। कोई भी उनको पसन्द नहीं करते हैं।

[wp_ad_camp_5]

 

तुम बच्चों को दुनियावी बातें बिल्कुल नहीं करनी है। कोई झरमुई झगमुई करते हैं तो समझो हमारा दुश्मन है। यह हमको गिराने वाला है। फालतू बातें नहीं करनी हैं। अपने को देखना है – कहाँ तक पहुँचे हैं। सतगुरू एक बाप है, उसमें यह ज्ञान भरा हुआ है। तुमको तो ऊपर गुरूशिखर (परमधाम) में जाना है। यह सब ज्ञान की बातें हैं। पहाड़ आदि की कोई बात नहीं है। सबसे पार चले जाना है। इन बातों को कोई जानते नहीं हैं। बाप कहते हैं – तुम पहले तमोप्रधान थे। अब तुमको सतोप्रधान बनना है। बहुत हैं जिनको यह भी निश्चय नहीं है, पूरा योग नहीं है। दूसरों को समझाते हैं, उन्हों का कल्याण हो जाता है। ऐसे नहीं वह कल्याण करते हैं। नहीं, वह तो अपने भाग्य अनुसार राज़ को समझ जाते हैं। ऐसे बहुत हैं जो ब्राह्मणी से भी तीखे चले जाते हैं। कई बच्चों में अभी तक देह-अभिमान बहुत है, पिछाड़ी में देह भी याद न रहे। सन्यासियों में भी कोई विरले ऐसे होते हैं जो बैठे-बैठे शरीर छोड़ देते हैं और सन्नाटा हो जाता है। फिर भी गृहस्थियों के पास जाकर जन्म लेते हैं। फिर श्रेष्ठाचारी बनने के लिए जंगल में चले जाते हैं। माया का राज्य है ना। यह चक्र कैसे फिरता है उनको भी समझना है। बहुत बच्चियां हैं जिन्होंने बाबा को कब देखा भी नहीं है तो भी याद करती रहती हैं, तो जरूर ऊंच पद पायेंगे। सारा पुरूषार्थ का खेल है ना। कोई तो रात-दिन बहुत मेहनत करते हैं। तुम जानते हो इस पतित दुनिया में इस ही शरीर में तुमको सतोप्रधन बनना है। टाइम लगता है पावन बनने में। जब तक यह दुनिया है, यह पढ़ाई है तब तक पढ़ना है। जहाँ तक जीना है – वहाँ तक पीना है, ताकि कर्मातीत अवस्था में चले जायेंगे। इस देह से, दुनिया से बिल्कुल ममत्व निकल जाए। राजा रानी बनने में मेहनत है। जो पढ़ेंगे वह दिल रूपी तख्त पर बैठेंगे। अन्दर में समझते हैं, कहाँ तक मददगार हैं। बेहद का बाप अवस्था देख प्यार करेंगे ना! बाप कहते हैं अपना कल्याण करना चाहते हो तो श्रीमत पर चलो। ऐसा काम नहीं करो जो दूसरे को ऩफरत आ जाए। बॉक्सिंग है ना। तुमको इस युद्ध में कितना टाइम लगता है। अच्छा!

मीठे-मीठे ज्ञान गुल्जारी, ज्ञान योग के पुरूषार्थी बच्चों को मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपनी झोली अविनाशी ज्ञान रत्नों से भरकर अपना श्रृंगार करना है। अतीन्द्रिय सुख के लिए बुद्धि को ज्ञान से भरपूर करना है।

2) धूतीपना बहुत नुकसान करता है इसलिए ज्ञान के सिवाए कोई भी बात सुननी सुनानी नहीं है। उल्टी बात सुनाने वालों के संग से बहुत दूर रहना है।

वरदान:- हदों से न्यारे रह परमात्म प्यार का अनुभव करने वाले रूहानियत की खुशबू से सम्पन्न भव 
जैसे गुलाब का पुष्प कांटों के बीच में रहते भी न्यारा और खुशबूदार रहता है, कांटों के कारण बिगड़ नहीं जाता। ऐसे रूहे गुलाब जो सर्व हदों से वा देह से न्यारे हैं, किसी भी प्रभाव में नहीं आते वे रूहानियत की खुशबू से सम्पन्न रहते हैं। ऐसी खुशबूदार आत्मायें बाप के वा ब्राह्मण परिवार के प्यारे बन जाते हैं। परमात्म प्यार अखुट है, अटल है, इतना है जो सभी को प्राप्त हो सकता है, लेकिन उसे प्राप्त करने की विधि है-न्यारा बनना।
स्लोगन:- अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए व्यक्त भाव और भावनाओं से परे रहो।

[wp_ad_camp_3]

 

To Read Murli 9 August 2017 :- Click Here

Font Resize