today murli 10 september

TODAY MURLI 10 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 9 September 2018 :- Click Here

10/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, there is only the one company of the Truth through which you attain salvation; you souls become pure. All the rest is bad company. This is why it is said: The company of the Truth takes you across and bad company drowns you.
Question: What is the Father’s task which no other founder of a religion can do?
Answer: The Father’s task is to make everyone pure from impure and take them back home. The Father comes to liberate everyone from their bodies, that is, to grant death to everyone. No founder of a religion can accomplish this task. In fact, when all the souls follow the founder of their religion down from up above, they are pure. Then, while playing their own parts , they become impure from pure.
Song: Awaken, o brides, awaken! The new age is about to come.

Om shanti. You children heard the song. Who sang it? The Bridegroom. All are brides; they are also called devotees. God is the One whom devotees remember and so He is called the Bridegroom. Both males and females are included in ‘devotee’. Therefore everyone becomes a Sita, whereas there is only the one Rama. There are many devotees, but only the one God. That God is called the Supreme Father. A physical father cannot be called the Supreme Father. That is a father who gives you a physical body. The Supreme Father resides in the supreme region. He is the Father of all souls. Every human being has two fathers: one is a physical father and the other is the spiritual Father. The inheritance you receive in each birth from a physical father is different. In each birth you have a different father. Just consider how many births you take and how many fathers you would have had. (84.) Yes, in 84 births you surely had 84 fathers and 84 mothers. In every birth you would have one physical mother and one physical father. The other father is the Supreme Father, the Supreme Soul. However, in the golden and silver ages you never remember Him or say: O God , the Father! O Supreme Father, Supreme Soul, have mercy! You never say these words there. This is why it is explained that you just have one father in the golden and silver ages. Then, in the copper and iron ages, which are called the path of devotion, everyone has two fathers. Both males and females have two fathers. Everyone remembers the spiritual Father because this is the land of sorrow. You have two fathers in the land of sorrow and just one father in the land of happiness. Here, one is your physical father, and the other is the Father who liberates everyone from sorrow, whom everyone remembers and to whom they say: Liberate us from sorrow and have mercy on us! For half a cycle there is the land of sorrow and for the other half it is the land of happiness. The golden age is the new age, and the iron age is the old age. The Father says: I am now establishing the golden age, the new world. The old iron age is to be destroyed. The golden age will come after the iron age. The end of the iron age and the beginning of the golden age is called the confluence of the cycles. This is the beneficial age, because it is the age when you have to become pure from impure. There are impure human beings in the iron age and pure deities in the golden age. The Father explains that this is the devilish community of Ravan; the five vices are present in everyone. It can be said that Ravan is omnipresentGod is not omnipresent. The five vices are present in everyone, which is why this is called the impure world. The golden and silver ages are called the pure world, Shivalaya (Temple of Shiva). The iron age is a brothel. Therefore, the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, comes to establish the new age. The Father explains: Awaken now! The time has come for the new age, that is, for the land of happiness. The kingdom of Lakshmi and Narayan is about to come. This is Raja Yoga. This is not a common satsang. One is the company of the Truth and the other is the company of falsehood, bad company. The company of the Truth takes you across and bad company makes you drown. Only the one Father is the Truth. People call out to Him: O Purifier come! It is He who comes and purifies you for half the cycle. Then, Maya, Ravan, comes and makes you impure for the other half cycle. It is not that the Father makes you impure. It is now the kingdom of Ravan. There can be no company of the Truth until the true Father comes. All other types of company are false; they are bad company. You are the Sitas who do devotion. You understand that God will come and give you the fruit of your devotion. Therefore, He would definitely come when the time of devotion is about to end. For half a cycle there is the reward of knowledge and for half a cycle it is the reward of devotion. You are now making effort on the basis of God’s shrimat. There is only one God and He is the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, the Father of souls. He only comes at the confluence age. The copper and iron ages are called the period of the activity of devotion. The golden and silver ages are called the period of the activity of knowledge. It is the Ocean of Knowledge, the Supreme Father, the Supreme Soul, who has this knowledge. Knowledge of the scriptures is not knowledge. If they contained knowledge, you would attain salvation. Bharat was like a diamond; it is no longer that. The Father comes and makes it like that again. You are now becoming like diamonds. Your life is being transformed. You souls are imbibing divine virtues. Normally, people become barristers, engineers and surgeons etc., but it is the task of the Supreme Father, the Supreme Soul, the Ocean of Knowledge, to make human being into deities. He alone is called the Truth. Only He tells the truth, that is, He is the One who establishes the land of truth, whereas all the rest tell lies. They are the ones who establish the land of falsehood. They follow the dictates of Ravan. You become elevated on the basis of following shrimat. Bharat was new in the new age. It was called the kingdom of the World Almighty Authority. It was the kingdom of Lakshmi and Narayan. Who gave them their fortune of that kingdom? Surely, it must have been the One who established heaven. While taking 84 births, you lost that inheritance. The cycle is now coming to its completion and everyone has to go back. Only the one Father is the Liberator. Only He liberates everyone and takes everyone back home. This is why He is also called the Death of Deaths. The Father says: Your 84 births are now over and you have to return home. The Father sits here and explains how this world cycle turns, that is, He makes you into knowers of the three aspects of time. He gives you the knowledge of the three worlds and the three aspects of time. He alone is the Purifier, the Ocean of Knowledge and the Seed. It is from Him that you receive your inheritance of the land of truth. You have come here in order to claim your inheritance from the Supreme Father, the Supreme Soul, the One who establishes heaven. You understand that you are the ones who become the masters of heaven again. Lakshmi and Narayan etc. of the golden age are said to belong to the deity religion, which is the most elevated religion. Their religion is elevated and their actions are also elevated. No one there is degraded, whereas in the copper and iron ages there is not a single elevated person. It is because of forgetting the Father that everyone has reached such a bad state. Then, the Father comes and makes you pure from impure. The founders of religions do not come to purify the impure. Only the one Father is the Purifier. He alone is the True Guru. All the others come to establish their own religions. Pure souls come from up above and then become impure. At this time, all are impure. It is the Father’s task to purify everyone. He alone is the Purifier. Guru Nanak also sang praise of that Satguru. The great (Mahabharat) war is for the destruction of this old world. It is not that you are given knowledge on a battlefield. You need solitude to study knowledge. You have to stay in a bhatthi for seven days. All the rest is the paraphernalia of the path of devotion. Even some of the devotees are very powerful. There is the rosary of Rudra as well as the rosary of devotees. That is the rosary of devotees and this is the rosary of knowledge. At the beginning (of the rosary) is Shiva, then the dual-bead and then their clan. Human beings turn this. They chant “Rama, Rama” because they are unhappy. The community of Ravan remembers Rama (God) and says: Come and make us belong to You. You have now come into God’s lap. In fact, all souls are children of the Supreme Father, the Supreme Soul. All human beings of this world are the children of Prajapita Brahma. The human world was created through Prajapita Brahma. Souls are imperishable and the Father of souls is also imperishable. You now have two fathers; one is perishable and the other is imperishable. Brahma also sheds his body. Shiv Baba doesn’t have a body of His own; He is beyond birth and death. It is you children who come into birth and death. Only you original, eternal deities take 84 births. There is an account of this. It is only 500 years since Guru Nanak existed. Therefore, how could he take 84 births? There is no question of hundreds of thousands of births. The Father explains that everyone’s births have now come to an end and that the play will begin anew in the golden age. Very few are required for the golden age, so where will everyone else go? It is for them that this haystack is to be set ablaze. Everything will be destroyed by bombs and natural calamities etc., and all souls will return to the land of liberation. This is the time of settlement for everyone; everyone has to go back. Bharat is called the imperishable land because it is Bharat that is the Father’s birthplace. Shiv Baba only comes in Bharat. Since the Purifier Father takes birth here, Bharat must be the greatest pilgrimage place for the people of all religions. Such is the importance of Bharat. However, this importance has been blown away. The Father comes and explains that this too is part of the drama. The Father says: Only I am the Ocean of Knowledge. Lakshmi and Narayan cannot be called the Ocean of Knowledge. They do not have the knowledge of the Creator or the beginning, the middle and the end of creation. That knowledge is definitely in you. It is you who become deities from human beings. You come here to become pure from impure and to become the masters of the pure world. The Father sits here and speaks to you souls. The incorporeal Father takes this one’s organs on loan and teaches you souls and you souls listen through your organs. Baba has explained that a soul is like a star and that it resides in the centre of the forehead and that that Father is the Supreme Soul. That Supreme comes and makes you souls as supreme as He is and takes you back with Him. He is the Guide for all souls. He alone is called the Bestower of Happiness and the Remover of Sorrow. He will liberate you from sorrow and take you back with Him. There is no sorrow in the golden age. The knowledge of the new age is also new. People have never even heard these things. Although there are good and bad people, everyone is still impure. This is why they go to the Ganges to bathe and be purified. The Ganges has been given the name of “Purifier”. In fact, only the Father can be called, “The Purifier”. At the end of the impure world, the pure world is established. The golden age is called the viceless world. The world above is the incorporeal ,silence world. Souls come down here to play their parts. Your part are of 84 births: you play all-round part s. This drama is predestined. Everyone has his own imperishable part within him which can never be erased. You will continue to experience 84 births. The cycle has no beginning or end. The question “When did the drama begin?” can never arise; it doesn’t have a beginning or an end. The beginning of the golden age was the truth, it is the truth and it will be the truth. By understanding this cycle, you become the rulers of the globe, emperors and empresses of heaven. That is called the world almighty authority kingdom and it is received from the World Almighty Father. You receive your inheritance of constant happiness for 21 generations from the unlimited Father. The Father is called Heavenly God, the Father. The Father who gives you the inheritance of heaven says: I come at the confluence age of the cycle to give you your inheritance of heaven. Those who make effort will come into the kingdom of the sun dynasty. This is not a common satsang; this is the Godly University. These are God’s versions. God teaches human beings and makes them into deities. There is no other satsang where they say that they will make you into deities from human beings. You children are now making effort to claim a deity status in the new world. You should explain that there are two fathers: one is the unlimited Father and the other is a limited father. We are claiming our inheritance from the unlimited Father and we also advise you to claim your inheritance from Him. By following the directions of the most elevated One of all, the Supreme Father, the Supreme Soul, you can become the masters of heaven. Only the one Father is the Truth. He comes and teaches you. He says through this one’s organs: Through the body of Brahma, I grant My inheritance to you mouth-born children of Brahma. You receive the Grandfather’s inheritance through Brahma. All souls have a right to the Grandfather’s inheritance. In worldly relationships, only males receive an inheritance. You are all souls and you are therefore all brothers. You all receive the inheritance from Shiv Baba. You are receiving your inheritance from the Grandfather. The Father says: I make you worthy of being in a temple. Just look how much anger there is in human beings. They destroy one another. This is a brothel. It used to be the Temple of Shiva and it will become that again. The Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, comes and makes it into the Temple of Shiva. He liberates you from the brothel and then, as the Guide, takes you back to the Temple of Shiva. Everyone will be liberated from their old bodies and return home with Me. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Imbibe divine virtues and transform your own life. In order to go to the land of truth, remain true to the true Father.
  2. Stay in the true company of the one true Father. Study this knowledge very well to become deities from human beings and claim your unlimited inheritance.
Blessing: May you be multimillion times fortunate and make your fortune elevated by performing elevated acts.
The lines of fortune of those whose acts are elevated, are just as long and clear. The way to make your fortune is with your elevated acts. So, be one who performs elevated acts and attain the fortune of being multimillion times fortunate. However, the basis of elevated acts is having an elevated awareness. It is only by staying in the awareness of the most elevated Father of all that you will perform elevated acts and thereby draw a line of fortune as long as you want. You can create a fortune for many births in this one birth.
Slogan: To make others content with your personality of contentment is to be a jewel of contentment.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 10 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 September 2018

To Read Murli 9 September 2018 :- Click Here
10-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – सत का संग एक ही है जिससे तुम्हारी सद्गति होती है, आत्मा पावन बनती है, बाकी सब हैं कुसंग, इसलिए कहा जाता – संग तारे कुसंग बोरे”
प्रश्नः- बाप का ऐसा कौनसा कर्तव्य है जो कोई भी धर्म स्थापक नहीं कर सकता?
उत्तर:- बाप का कर्तव्य है सबको पतित से पावन बनाकर वापिस घर ले जाना। बाप आते हैं – सबको इन शरीरों से मुक्त करने अर्थात् मौत देने। यह काम कोई धर्म स्थापक नहीं कर सकता। उनके पिछाड़ी तो उनके धर्म की पावन आत्मायें ऊपर से उतरती हैं और अपना-अपना पार्ट बजाए पावन से पतित बनती हैं।
गीत:- जाग सजनिया जाग……..

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। किसने सुनाया? साजन ने। सब हैं सजनियां जिसको भक्तियां कहा जाता है। भगवान् एक है, जिसको भक्त याद करते हैं। तो उसको कहा जाता है साजन। भक्त कहने से मेल अथवा फीमेल दोनों उसमें आ जाते हैं। तो सब हो गई सीतायें। राम एक है। भक्त अनेक हैं, भगवान् एक है। उस भगवान् को कहा जाता है परमपिता। लौकिक बाप को परमपिता नहीं कहेंगे। वह है लौकिक शरीर देने वाला पिता। परमपिता है परमधाम में रहने वाला, सब आत्माओं का पिता। हर एक मनुष्य को दो बाप हैं – एक लौकिक, दूसरा पारलौकिक बाप। लौकिक बाप का जन्म बाई जन्म वर्सा अलग होता है। हर एक जन्म में बाप अलग-अलग रहते हैं। तुम विचार करो कितने जन्म लेते हैं, कितने बाप मिलते होंगे? (84) हाँ 84 जन्मों में जरूर 84 बाप और 84 माँ मिलेंगे। हर जन्म में एक ही लौकिक बाप और एक ही माँ रहती है। दूसरा बाप है परमपिता परमात्मा। परन्तु सतयुग-त्रेता में कभी ओ गॉड फादर कह याद नहीं करते। हे परमपिता परमात्मा मेहर करो – ऐसे कभी नहीं कहते इसलिए समझाया जाता है – सतयुग-त्रेता में एक ही बाप होता है। फिर द्वापर-कलियुग, जिसको भक्ति मार्ग कहा जाता है – वहाँ सबको दो बाप हैं। मेल अथवा फीमेल सबको दो बाप हैं। पारलौकिक बाप को याद करते हैं क्योंकि यह दु:खधाम है। दु:खधाम में दो बाप, सुखधाम में है एक ही बाप। यहाँ तो एक लौकिक बाप है, दूसरा फिर सबके दु:ख निवारण करने वाला बाप है। जिसको सभी याद करते हैं कि इस दु:ख से छुड़ाओ, रहम करो। आधाकल्प है दु:खधाम, आधाकल्प है सुखधाम। सतयुग है नया युग, कलियुग है पुराना युग। बाप कहते हैं अब हम सतयुग नई दुनिया की स्थापना कर रहे हैं। कलियुग पुराने युग का विनाश होना है। कलियुग के बाद फिर सतयुग आना है। कलियुग के अन्त, सतयुग के आदि को कल्प का संगम कहा जाता है। यह है कल्याणकारी युग क्योंकि पतित से पावन बनना होता है। कलियुग में हैं पतित मनुष्य, सतयुग में हैं पावन देवतायें। बाप समझाते हैं कि यह आसुरी रावण सम्प्रदाय है। हरेक के अन्दर 5 विकारों की प्रवेशता है। उसको कहेंगे रावण ओमनी प्रेजेन्ट, गॉड ओमनी प्रेजेन्ट नहीं। 5 विकार प्रवेश हैं, इसलिए इनको पतित दुनिया कहा जाता है। सतयुग-त्रेता को पावन दुनिया शिवालय कहा जाता है। कलियुग है वेश्यालय। तो शिव परमपिता परमात्मा आकर नव युग की स्थापना करते हैं। बाप समझाते हैं अब जागो, नव युग अथवा सुखधाम का समय अब आया है। लक्ष्मी-नारायण का राज्य आ रहा है। यह है ही राजयोग। यह कोई कॉमन सतसंग नहीं है। एक होता है सत संग, दूसरा होता है झूठा संग, कुसंग। सत का संग तारे, कुसंग बोरे……. सत तो एक ही बाप है। उनको कहते हैं पतित-पावन आओ। वही आकर पावन बनाते हैं – आधाकल्प के लिए। फिर माया रावण आकर आधाकल्प पतित बनाती है। ऐसे नहीं, बाप ही पतित बनाते हैं। अभी है ही रावण राज्य। जब तक सत बाप न आये तब तक सतसंग नहीं। सब हैं झूठ संग अथवा कुसंग। तुम हो सीतायें, तुम भक्ति करती हो। समझती हो भक्ति का फल भगवान् आकर देंगे। तो जरूर जब भक्ति का समय समाप्त होना होगा तब तो आयेंगे ना। आधाकल्प है ज्ञान की प्रालब्ध और आधाकल्प है भक्ति की प्रालब्ध। अभी तुम पुरुषार्थ कर रहे हो भगवान् की श्रीमत पर। भगवान् एक होता है, वह है निराकार परमपिता परमात्मा, आत्माओं का बाप। वह आते ही हैं संगम पर। द्वापर-कलियुग को भक्ति काण्ड कहा जाता है। सतयुग-त्रेता को ज्ञान काण्ड कहा जाता है। ज्ञान है ही ज्ञान सागर परमपिता परमात्मा के पास। शास्त्रों का ज्ञान कोई ज्ञान नहीं। अगर उनमें ज्ञान होता तो सद्गति होती। भारत जो हीरे जैसा था अब है नहीं। फिर बाप बनाते हैं। तुम अब हीरे जैसा बन रहे हो। तुम्हारा जीवन पलट रहा है। आत्मा दैवीगुण धारण कर रही है। यूँ तो मनुष्य बैरिस्टर, इन्जीनियर, सर्जन आदि बनते हैं। बाकी मनुष्य को देवता बनाना यह परमपिता परमात्मा, ज्ञान सागर का कर्तव्य है। उनको ही ट्रुथ कहा जाता है। वही सच बतलाते हैं अर्थात् सचखण्ड की स्थापना करते हैं। बाकी सब हैं झूठ बोलने वाले, झूठ खण्ड की स्थापना करते हैं। रावण की मत पर चलते हैं। तुम श्रीमत से श्रेष्ठ बनते हो। नये युग में भारत नया था। वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी कहा जाता था। लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। उन्हों को किसने यह राज्य भाग्य दिया? जरूर जो स्वर्ग की स्थापना करने वाला होगा। अभी वह वर्सा गँवाया है – 84 जन्म लेकर। अब फिर चक्र पूरा होता है। सबको वापिस जाना है। लिबरेटर एक ही बाप है। वही लिबरेट कर सबको ले जाते हैं इसलिए उनको कालों का काल भी कहा जाता है। बाप कहते हैं अब तुम्हारे 84 जन्म पूरे हुए। अब वापिस चलना है। यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है – सो बाप बैठ समझाते हैं अर्थात् त्रिकालदर्शी बनाते हैं। तीनों लोकों, तीनों कालों की नॉलेज देते हैं। वही पतित-पावन, ज्ञान सागर, बीजरूप है। उनसे ही सचखण्ड का तुमको वर्सा मिलता है। यहाँ तुम आये हो परमपिता परमात्मा से वर्सा लेने के लिए, जो स्वर्ग की स्थापना करने वाला है। तुम जानते हो हम ही फिर स्वर्ग के मालिक बनेंगे।

सतयुग के लक्ष्मी-नारायण आदि को कहा जाता है डीटी रिलीजन, वह है श्रेष्ठ धर्म। उन्हों का धर्म भी श्रेष्ठ है तो कर्म भी श्रेष्ठ है। वहाँ भ्रष्टाचारी कोई नहीं रहते। द्वापर-कलियुग में फिर एक भी श्रेष्ठाचारी नहीं रहते। बाप को भूलने के कारण ही बुरी गति होती है। फिर बाप आकर पतित से पावन बनाते हैं। धर्म स्थापक कोई पतित से पावन बनाने नहीं आते। पतित-पावन तो एक ही बाप है। वही सच्चा गुरू है। बाकी वह तो आकर अपना धर्म स्थापन करते हैं। ऊपर से पावन आत्मायें आती हैं फिर पतित बनती हैं। इस समय सब पतित हैं। सबको पावन बनाना बाप का ही काम है। वही पतित-पावन है। गुरूनानक ने भी उस सतगुरू की महिमा की है। इस पुरानी दुनिया के विनाश लिए ही यह महाभारत लड़ाई है। बाकी ऐसे नहीं, तुमको लड़ाई के मैदान में ज्ञान देते हैं। ज्ञान के लिए तो एकान्त चाहिए। 7 रोज भट्ठी में रहना पड़े। बाकी तो है भक्ति की सामग्री। भक्तों में भी कोई बड़े तीखे-तीखे होते हैं। रूद्र माला भी है तो भक्त माला भी है। वह है भक्तों की माला, यह है ज्ञान माला। ऊपर में शिव फिर युगल दाना फिर है उनकी वंशावली जो माला मनुष्य सिमरते हैं। राम-राम कहते रहते हैं क्योंकि दु:खी हैं, रावण सम्प्रदाय राम को याद करते हैं कि आकर अपना बनाओ। अभी तुम ईश्वरीय गोद में आये हो। वास्तव में सब आत्मायें परमपिता परमात्मा की सन्तान हैं। मनुष्य सृष्टि प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान है। प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा मनुष्य सृष्टि रची है। आत्मा तो अविनाशी है। आत्माओं का अविनाशी बाप है। अभी तुमको दो बाप हैं – एक विनाशी, दूसरा अविनाशी। ब्रह्मा भी शरीर छोड़ देते हैं। शिवबाबा को तो अपना शरीर है नहीं। वह तो जन्म-मरण रहित है। जन्म-मरण में तुम बच्चे आते हो। तुम आदि सनातन देवी-देवताओं के ही 84 जन्म हैं। हिसाब है ना। गुरूनानक को तो 500 वर्ष हुए। तो इतने में 84 जन्म कैसे लेंगे। बाकी लाखों जन्म की तो बात ही नहीं। बाप समझाते हैं अभी सबके जन्म आकर पूरे हुए हैं। फिर नयेसिर खेल सतयुग से शुरू होगा। सतयुग में तो थोड़े चाहिए। बाकी इतने सब कहाँ जायेंगे? उन्हों के लिए ही यह भंभोर को आग लगनी है। इन बाम्बस नैचरल कैलेमिटीज आदि से सब ख़त्म हो जायेंगे। बाकी आत्मायें सब चली जायेंगी मुक्तिधाम। यह कयामत का समय है, सबको वापिस जाना है। भारत को अविनाशी खण्ड कहा जाता है क्योंकि भारत ही बाप का जन्म स्थान है। शिवबाबा भारत में ही आते हैं। पतित-पावन बाप यहाँ जन्म लेते हैं तो गोया सभी धर्म वालों के लिए भारत बड़े ते बड़ा तीर्थ स्थान है। इतना भारत का महत्व है परन्तु महत्व को उड़ा दिया है। यह भी ड्रामा का खेल है जो बाप ही आकर समझाते हैं। बाप कहते हैं मैं ही ज्ञान का सागर हूँ। लक्ष्मी-नारायण को ज्ञान सागर नहीं कहा जाता। उनमें रचयिता और रचना के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान नहीं है।

वह ज्ञान जरूर तुम्हारे में है। तुम ही मनुष्य से देवता बनते हो। तुम यहाँ आते हो पतित से पावन बन पावन दुनिया का मालिक बनने। बाप आत्माओं से बैठ बात करते हैं। निराकार बाप इनके आरगन्स का लोन लेकर पढ़ाते हैं। तुम्हारी आत्मा भी इन आरगन्स से सुनती है। बाबा ने समझाया है आत्मा स्टॉर है, जो भ्रकुटी के बीच रहती है और वह बाप है सुप्रीम आत्मा। वह सुप्रीम आकर इनको आप समान सुप्रीम बनाए साथ ले जाते हैं। सब आत्माओं का गाइड है। उनको ही दु:ख हर्ता, सुख कर्ता कहा जाता है। दु:ख से तुमको लिबरेट कर ले जायेंगे। सतयुग में दु:ख होता नहीं। नवयुग की नॉलेज भी नई है ना। यह बातें मनुष्यों ने कभी सुनी नहीं हैं। भल अच्छे और बुरे मनुष्य हैं। परन्तु हैं सब पतित, तब तो गंगा पर स्नान करने, पावन बनने जाते हैं। गंगा का पतित-पावनी नाम रख दिया है। वास्तव में पतित-पावन तो बाप को ही कहा जाता है। पतित दुनिया के बाद फिर पावन दुनिया की स्थापना होती है। सतयुग को वाइसलेस वर्ल्ड कहा जाता है। और वह है साइलेन्स इनकारपोरिअल वर्ल्ड। आत्मायें यहाँ आकर पार्ट बजाती हैं। पार्ट है 84 जन्मों का। तुम आलराउन्ड पार्ट बजाते हो। यह है बना-बनाया ड्रामा। हरेक में अपना-अपना पार्ट अविनाशी है। वह कभी मिटता नहीं है। तुम 84 जन्म भोगते रहेंगे। चक्र का आदि, अन्त नहीं है। ड्रामा कब शुरू हुआ – यह प्रश्न नहीं उठता। न आदि है, न अन्त है। सतयुग आदि सत, है भी सत, होसी भी सत……। इस चक्र को समझने से तुम स्वर्ग के चक्रवर्ती महाराजा महारानी बनते हो। उसको वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी राज्य कहा जाता है, जो वर्ल्ड आलमाइटी बाप से मिलता है। तुम बेहद के बाप से 21 पीढ़ी के लिए सदा सुख का वर्सा पाते हो। बाप को कहा जाता है हेविनली गॉड फादर। हेविन का वर्सा देने वाला बाप कहते हैं मैं कल्प के संगमयुग पर आकर स्वर्ग का वर्सा देता हूँ। जो पुरुषार्थ करेंगे वह सूर्यवंशी राजाई में आयेंगे। यह कोई कॉमन सतसंग नहीं। यह है गाडली युनिवर्सिटी। भगवानुवाच है ना। भगवान् पढ़ाकर मनुष्य को देवता बनाते हैं। ऐसा कोई सतसंग नहीं होगा जिसमें कहें कि हम मनुष्य से देवता बनायेंगे।

अभी तुम बच्चे नई दुनिया में देवी-देवता पद पाने के लिए पुरुषार्थ कर रहे हो। समझाना चाहिए दो बाप होते हैं – एक बेहद का बाप, एक हद का। हम बेहद के बाप से वर्सा ले रहे हैं। तुमको भी राय देते हैं वर्सा लो। श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ परमपिता परमात्मा की मत पर चलने से तुम स्वर्ग का मालिक बनेंगे। सच्चा है ही एक बाप। वह आकर पढ़ाते हैं। इनके आरगन्स द्वारा कहते हैं ब्रह्मा तन से ब्रह्मा मुख वंशावली को वर्सा देता हूँ। ब्रह्मा द्वारा तुमको दादे का वर्सा मिलता है। दादे के वर्से पर सभी आत्माओं का हक है। लौकिक सम्बन्ध में सिर्फ मेल को वर्सा मिलता है। तुम तो आत्मायें हो। सब ब्रदर्स ठहरे। सबको शिवबाबा से वर्सा मिलता है। तुमको दादे से वर्सा मिल रहा है।

बाप कहते हैं हम तुमको मन्दिर लायक बनाते हैं। मनुष्यों में देखो क्रोध कितना है। एक-दो का विनाश कर देते हैं। यह है वेश्यालय। शिवालय था, सो फिर अब बनना है। परमपिता परमात्मा शिव आकर शिवालय बनाते हैं। वेश्यालय से लिबरेट कर फिर गाइड बन सबको वापिस शिवालय में ले जाते हैं। सभी अपने पुराने शरीरों से मुक्त हो मेरे साथ चलेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) दैवी गुण धारण कर स्वयं की जीवन को पलटाना है। सचखण्ड में चलने के लिए सच्चे बाप से सच्चा रहना है।

2) एक सत बाप के संग में रहना है। मनुष्य से देवता बनने की पढ़ाई अच्छी तरह पढ़कर बेहद का वर्सा लेना है।

वरदान:- श्रेष्ठ कर्मधारी बन ऊंची तकदीर बनाने वाले पदमापदम भाग्यशाली भव
जिसके जितने श्रेष्ठ कर्म हैं उसकी तकदीर की लकीर उतनी लम्बी और स्पष्ट है। तकदीर बनाने का साधन है ही श्रेष्ठ कर्म। तो श्रेष्ठ कर्मधारी बनो और पदमापदम भाग्यशाली की तकदीर प्राप्त करो। लेकिन श्रेष्ठ कर्म का आधार है श्रेष्ठ स्मृति। श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ बाप की स्मृति में रहने से ही श्रेष्ठ कर्म होंगे इसलिए जितना चाहो उतना लम्बी भाग्य की लकीर खींच लो। इस एक जन्म में अनेक जन्मों की तकदीर बन सकती है।
स्लोगन:- अपने सन्तुष्टता की पर्सनैलिटी द्वारा अनेकों को सन्तुष्ट करना ही सन्तुष्टमणि बनना है।

TODAY MURLI 10 SEPTEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 SEPTEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 9 September 2017 :- Click Here

10/09/17
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
03/01/83

BapDada’s heart to heart conversation with double-foreign children.

Today, BapDada has especially come to meet the double foreign children. All you children from far away have reached your sweet home , where you automatically receive the blessing of experiencing all attainments. You have come to meet the Father, the Bestower of Blessings in this land of blessings. BapDada is pleased to see the children of every cycle who have all rights. BapDada is seeing that, even now, many souls in Bharat who live very close are thirsty souls and are still searching. However, the double-foreign children, who live far away in their corporeal forms, have recognised their Father from far away, and claimed their rights. Those who are sitting far away have become close, whereas those who are close have become distant. BapDada is pleased to see the wonder of the fortune of such children. Today, in the subtle region, Bap and Dada were having a heart to heart conversation about the specialities of the double foreign children. The children from Bharat and the children from abroad both have their own specialities. Today, they were singing praise of the wonders of the children. What did you renounce and what fortune did you attain? Baba was seeing the cleverness of you children in the way that you didn’t renounce anything without receiving your fortune. You are very clever businessmen when it comes to making a deal. You first experience attainment. You saw the good attainment and you then renounced wasteful things. Therefore, what did you let go of and what did you attain? What would be the result , if you were to make a list of those? You renounced one thing and attained multi-millions. So, is this renouncing or attaining? Did you souls ever think that you would become such special, elevated souls of the world, that you would become those who have a direct relationship with the Father? Did you ever think that you would go to the land of Krishna from being Christians? You were the followers of a religious founder. Instead of remaining in the trunk, you got trapped in a branch. However, you have now become part of the trunk of the variety tree of life – those who belong to the original, eternal Brahmin and therefore deity religion. You have become the foundation. Seeing such attainment, what did you renounce? You simply conquered sleep for a short time. You renounced sleep (sona) and you became gold (sona). Seeing you double-foreign children getting ready early in the morning, BapDada smiles. You were those who used to wake up comfortably at your own time, whereas how do you get up now? You have renounced sleep. You saw the fortune before you renounced anything. What does this sleep feel like after having the unique experience of amrit vela? Did you renounce your food and drink or did you renounce illness? To renounce food and drink means to become free from many illnesses. You have become free, have you not? Instead, you received both health and wealth. This is why you were told that you are very clever businessmen. Another speciality that Baba saw in the double-foreign children is that whatever you set out to do, you do it with great intensity. Because of moving at a fast speed, you also want to have the full attainment of everything. You move along very fast and, therefore if there is even a minor obstruction from Maya whilst you are moving along, you become afraid very fast. What happened? Does this also happen? You become amazed. Nevertheless, because your love is strong, you overcome the obstacle and become stronger in the future. You are brave soldiers, moving towards your destination. You are not delicate, are you? You are not those who become afraid, are you? You perform a very good drama. You also create very good facilities for chasing away Maya. So, even in this unlimited drama, you actors are such brave soldiers, are you not? Between love and labour, do you remain in love or do you labour? Do you remain constantly merged in the remembrance of the Father? Or, do you constantly remember again and again? Or, are you embodiments of remembrance? Do you remain constantly with the Father? Or, are you constantly making the effort to remain with the Father? Those who are becoming equal to the Father are constant embodiments: embodiments of remembrance, embodiments of all virtues and embodiments of all powers. To be an embodiment means that that becomes your form. Not that the virtue and power should be separate; they should be merged in your form, just as weak sanskars or a defect has become your form over a long period of time. You don’t need to make effort to adopt it, because it has become your natural nature. You want to relinquish it, you do realise that you shouldn’t have it, but, sometimes, even against your conscious wish, that nature or natural sanskar does its work because it has become your form. Similarly, let every virtue and every power become your original form. My nature and natural virtues have to become equal to those of the Father. Those who become such embodiments of virtues, embodiments of power and embodiments of remembrance are said to be equal to the Father. Therefore, do all of you experience yourselves to be embodiments of these? This is your aim, is it not? In terms of attaining, are you going to attain to the fullest extent, or are you happy with just a little? Will you become part of the moon dynasty? (No.) The moon dynasty kingdom is no less! How many will become part of the sun dynasty? Will all of you sitting here become part of the sun dynasty? The praise of Rama is no less! It is good that you always have elevated zeal and enthusiasm.

Do you know what the souls of the world want from all of you? Every soul is now calling out for you worthy-of-worship souls to experience you in the visible form. They are not only calling out to the Father but they are also calling out to you worth of worship souls. Each of them feels that their messenger, prophet or deity soul should come and take them back home. Who is going to fulfil these calls of the world?

They are waiting for you worthy of worship, deity souls. They want their deities to come, awaken them and take them back. What preparations are you making for that? The deities will be revealed after this conference. Now, make a programme individually and collectively to reveal yourselves as elevated souls before the conference. Through this conference, from being hopeless, let them experience hope. You will ignite those lamps at the inauguration and also break coconuts. As well as that, you will also ignite the lamps of pure hopes for all the souls. Just as you crack a coconut, so too, let them be stamped with having seen the destination. Therefore, those from abroad and also those from Bharat have to make these preparations together in advance. Only then will the great pilgrimage be revealed. The rays of revelation should spread everywhere from the Father’s home. You say that Abu is a lighthouse for the world. This lightshould give the experience of a new awakening in the midst of darkness. This is why all of you have come, is it not? Or, will you yourselves just be refreshedand go away?

The basis of success in a task is the one united thought of all Brahmins. Everyone needs co-operation. If even one brick of a fortress is weak, the whole fortress can be shaken. This is why all of you, young and old, are the bricks of this fortress of the Brahmin family. Therefore, all of you have to make the task successful with just one thought. The sound that should emerge from everyone’s mind is: This is my responsibility. Achcha. To the extent that children remember the Father, Baba gives love and remembrance accordingly. Achcha.

To those who constantly have such determination, to those who put into practice the birthright of success, to those who remain powerful by constantly remaining aware of their elevated fortune, to those who constantly use their speciality for a task, to those who constantly experience the Father’s task to be their own task, to those who remain stable in an unlimited stage in every task, to the children who have broad and unlimited intellects, love, remembrance and namaste.

BapDada meeting Groups: Brazil group: Your country is the furthest away in terms of distance, but you are the souls who remain closest to the heart, are you not? Even whilst staying far away, you experience yourselves to be with the Father, do you not? You souls become flying birds and reach the Father’s world, Madhuban, in a second do you not? Do you constantly tour around? The Father sees the love of you children and how you made effort from your hearts to come to Madhuban in the corporeal form from so far away and have arrived here. Baba congratulates you for this. BapDada is giving you the blessing for the future: Remain constantly victorious and make everyone else constantly victorious! Achcha.

* * * O M S H A N T I * * *

The easy way to become a constant and easy yogi.

Today, the Master of the Garden is pleased to see the variety of fragrant flowers in His garden. BapDada was taking the fragrance of the variety of spiritual flowers and seeing the beauty of their form and singing songs of the speciality of each one. Whichever one of you He sees, each of you is more loved and elevated than the next. Even though you are numberwise, even the last number is extremely loved by BapDada, because even though you may be weak in becoming a conqueror of Maya according to your capacity, you have still recognised the Father and said, “My Baba”, even once, from your heart. Therefore, BapDada, the Ocean of Mercy, also looks at such children in return with multi-millionfold spiritual love, with the vision that you are His children and are special souls. He looks at you with that vision, because you at least belong to the Father. Therefore, because you belong to Him, BapDada, with the vision of love and mercy, continues to make such children move forward. This spiritual consciousness of “mine” becomes a blessing for such children to be filled with power. BapDada doesn’t need to give blessings through His mouth because words of the mouth are secondary, whereas the thought of love is powerful and also enables you to experience the number one attainment. With this subtle thought of love, BapDada, in the form of both Mother and Father, is sustaining all the children. In worldly life too, parents continue to sustain their dearly loved children with many powerful things in an incognito way. You speak of this as special hospitality. Therefore, BapDada, whilst sitting in the subtle region, also gives special hospitality to the children, in the same way that, when you come to Madhuban, you are given special hospitality. BapDada invokes all the children in their subtle angelic forms and calls them in front of Him. Because you are the children who have all rights, He gives you children through His thoughts the subtle hospitality of making you full of all special powers. It is one thing is to attain power through your own efforts. This is to receive special hospitality in the form of the sustenance of love from the Mother and Father, in the same way that here, too, some children receive special hospitality. According to the discipline, you are offered special hospitality with a variety of food; you are given extrathings. Similarly, Mother Brahma also has special love. Mother Brahma cannot stay in the subtle region without the splendour and sparkle of the children. He has spiritual, motherly attachment. Invoking subtle love, Baba emerges the special group of children. You probably remember how in the sakar days, Baba, as an embodiment of special love, used to invite every group and feed them with His own hand and also entertain them. That sanskar of love still continues now in a practical way. For you children to have this experience, you just need to become equal to the Father in the angelic form. At amrit vela, Mother Brahma calls out to you children, saying, “Come children, come children”, and feeds you with the nourishment of special powers. Just as when Baba was here in the physical form, Baba used to feed you with ghee and also make you do exercises, so, Baba also gives you the ghee of subtle powers in the subtle region and also helps you to do the exercise of this practice. He inspires you to tour around with your intellects and go to the supreme region one moment to the subtle region the next moment and to be in the corporeal world leading a Brahmin life the next moment. He makes you run a race across all three regions. Through this you have special hospitality merged in your life. So, did you hear what Mother Brahma does?

Double-foreign children have the habit of going on an excursion somewhere far away during their holidays. So, BapDada is also giving you double-foreign children a special invitation. Whenever you are free, just come to the subtle region! Don’t go on the dirty sand at the seaside. Come to the shores of the Ocean of Knowledge. You will experience a lot of attainment with no expense. Experience the rays of the Sun, the moonlight of the Moon, have a picnic and also play games. However, you will have to come in the aeroplane of your intellect. The aeroplane of everyone’s intellect is ever ready, is it not? Just start the switch of thoughts and you will arrive there. The aeroplane is ready with all of you, is it not? Or, is it that it sometimes doesn’t start or that you sometimes run out of petrol and so you turn back half-way? Otherwise, it is a matter of arriving there in just a second. All you need is double-refined petrol. What is the double refined-petrol? One is the intoxication of the faith of being incorporeal: “I am a soul, a child of the Father”. The second is the intoxication of all relationships with the Father in the corporeal form. Not just the intoxication of the relationship of Father and child, for, this is the pure family path. Therefore, you should experience the intoxication of the sweetness of all relationships with the Father in the corporeal form whilst walking and moving around. This intoxication and happiness makes you a constant and easy yogi. This is why there is a need for the double-refined method of being incorporeal and corporeal. Achcha.

Today, Baba has to meet groups and so Baba will tell you more about corporeal and incorporeal intoxication some other time. BapDada is giving special congratulations to the double-foreign children for the practical and visible fruit of their service and for obeying all directions. Each of you has brought a big, good group. You have presented BapDada with the best bouquets of all. For doing this, BapDada is giving you faithful children the blessing from His heart with a lot of love: “May you live eternally and continue to move forward!” Achcha.

To all the loving children everywhere who are engaged with deep love in remembrance and service, to the long-lost and now-found children who are instruments to reveal the Father, please accept love in return for your service and eternal love in return for your remembrance. To those who maintain such eternal deep love, please accept eternal, love, remembrance and namaste.

Blessing: May you have the fortune of happiness and constantly experience and give others the experience of spiritual intoxication in every action.
At the confluence age, you children have the greatest fortune of happiness because God Himself has chosen you. You have become the masters of the unlimited. Your name is in God’s dictionary of “Who’s who”. You have found the unlimited Father, you have received the unlimited fortune of the kingdom, and the unlimited treasure. Always have this intoxication and you will continue to experience supersensuous joy. This is unlimited, spiritual intoxication. Continue to experience this and give others this experience and you will be said to have the fortune of happiness.
Slogan: Use the facilities for service, not to become one who likes comfort.

 

*** Om Shanti **

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 8 September 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 10 SEPTEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 September 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 9 September 2017 :- Click Here
10/09/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
03-01-83

डबल विदेशी बच्चों से बाप दादा की रूह-रिहान

आज बापदादा विशेष डबल विदेशी बच्चों से मिलने के लिए आये हैं। सभी बच्चे दूर-दूर से अपने स्वीट होम में पहुँच गये। जहाँ सर्व प्राप्ति का अनुभव करने का स्वत: ही वरदान प्राप्त होता है। ऐसे वरदान भूमि पर वरदाता बाप से मिलने आये हैं। बापदादा भी कल्प-कल्प के अधिकारी बच्चों को देख हर्षित होते हैं। बापदादा देख रहे हैं भारत में नजदीक रहने वाली कई आत्मायें अभी तक प्यासी बन ढूंढ रही हैं। लेकिन साकार रूप से दूर-दूर रहने वाले डबल विदेशी बच्चों ने दूर से ही अपने बाप को पहचान, अधिकार को पा लिया। दूर वाले समीप हो गये और समीप वाले दूर हो गये। ऐसे बच्चों के भाग्य की कमाल देख बापदादा भी हर्षित होते हैं। आज वतन में भी बापदादा डबल विदेशी बच्चों की विशेषताओं पर रूह-रिहान कर रहे थे। भारतवासी बच्चों की और डबल विदेशी बच्चों की दोनों की अपनी-अपनी विशेषता थी। आज बच्चों की कमाल के गुण गा रहे थे। त्याग क्या किया और भाग्य क्या लिया। लेकिन बच्चों की चतुराई देख रहे थे कि त्याग भी बिना भाग्य के नहीं किया है। सौदा करने में भी पक्के व्यापारी हैं। पहले प्राप्ति का अनुभव हुआ, अच्छी प्राप्ति को देख व्यर्थ बातों का त्याग किया। तो छोड़ा क्या और पाया क्या! उसकी लिस्ट निकालो तो क्या रिजल्ट निकलेगी? एक छोड़ा और पदम पाया। तो यह छोड़ना हुआ या पाना हुआ? हम आत्मायें विश्व की ऐसी श्रेष्ठ विशेष आत्मायें बनेंगी, डायरेक्ट बाप से सम्बन्ध में आने वाली बनेंगी – ऐसा कब सोचा था! क्रिश्चियन से कृष्णपुरी में आ जायेंगे, यह कभी सोचा था। धर्मपिता के फालोअर थे। तना के बजाए टाली में अटक गये। और अब इस वैरायटी कल्प वृक्ष का तना आदि सनातन ब्राह्मण सो देवता धर्म के बन गये। फाउन्डेशन बन गये। ऐसी प्राप्ति को देख छोड़ा क्या! अल्पकाल की निंद्रा को जीता। नींद में सोने को छोड़ा और स्वंय सोना (गोल्ड) बन गये। बापदादा डबल विदेशियो का सवेरे-सवेरे उठ तैयार होना देख मुस्कराते हैं। आराम से उठने वाले और अभी कैसे उठते हैं। नींद का त्याग किया – त्याग के पहले भाग्य को देख, अमृतवेले का अलौकिक अनुभव करने के बाद यह नींद भी क्या लगती है। खान-पान छोड़ा या बीमारी को छोड़ा? खाना पीना छोड़ना अर्थात् कई बीमारियों से छूटना। मुक्त हो गये ना। और ही हेल्थ वेल्थ दोनों मिल गई इसलिए सुनाया कि पक्के व्यापारी हो। विदेशी बच्चों की और एक विशेषता यह देखी कि जिस तरफ भी लगते हैं तो बहुत तीव्रगति से उस तरफ चलते हैं। तीव्रगति से चलने के कारण प्राप्ति भी सर्व प्रकार की फुल करने चाहते हैं। बहुत फास्ट चलने के कारण कभी कभी चलते चलते थोड़ी सी भी माया की रूकावट आती है तो घबराते भी फास्ट हैं। यह क्या हुआ! ऐसे भी होता है क्या! ऐसे आश्चर्य की स्थिति में पड़ जाते हैं। फिर भी लगन मजबूत होने के कारण विघ्न पार हो जाता है और आगे के लिए मजबूत बनते जाते हैं। मंजिल पर चलने में महावीर हो, नाज़ुक तो नहीं हो ना। घबराने वाले तो नहीं हो? ड्रामा तो बहुत अच्छा करते हो। ड्रामा में माया को भगाने के साधन भी बहुत अच्छे बनाते हो। तो इस बेहद के ड्रामा अन्दर प्रैक्टिकल में भी ऐसे ही महावीर पार्टधारी हो ना? मुहब्बत और मेहनत, दोनों में से मुहब्बत में रहते हो वा मेहनत में? सदा बाप की याद में समाये हुए रहते हो वा बार बार याद करने वाले हो वा याद स्वरूप हो? सदा साथ रहते हो वा सदा साथ रहें, इसी मेहनत में लगे रहते हो? बाप समान बनने वाले सदा स्वरूप रहते हैं। याद स्वरूप, सर्वगुण स्वरूप, सर्व शक्तियों स्वरूप। स्वरूप का अर्थ ही है अपना रूप ही वह बन जाए। गुण वा शक्ति अलग नहीं हो, लेकिन रूप में समाये हुए हों। जैसे कमजोर संस्कार वा कोई अवगुण बहुतकाल से स्वरूप बन गये हैं, उसको धारण करने की कोई मेहनत नहीं करते हो लेकिन नेचर और नैचुरल हो गये हैं। उनको छोड़ने चाहते हो, महसूस करते हो यह नहीं होना चाहिए लेकिन समय पर फिर से न चाहते भी वह नेचर वा नैचुरल संस्कार अपना कार्य कर लेते हैं क्योंकि स्वरूप बन गये हैं। ऐसे हर गुण, हर शक्ति निजी स्वरूप बन जाए। मेरी नेचर और नैचुरल गुण बाप समान बन जाऍ। ऐसा गुण स्वरूप, शक्ति स्वरूप, याद स्वरूप हो जाता है, इसको ही कहा जाता है बाप समान। तो सब अपने को ऐसे स्वरूप अनुभव करते हो? लक्ष्य तो यही है ना। पाना है तो फुल पाना या थोड़े में भी राज़ी हो? चन्द्रवंशी बनेंगे? (नहीं) चंद्रवंशी राज्य भी कम थोड़ेही है। सूर्यवंशी कितने बनेंगे? जो भी सब बैठे हैं सूर्यवंशी बनेंगे? राम की महिमा कम तो नहीं है। उमंग-उत्साह सदा श्रेष्ठ रहे, यह अच्छा है।

अब विश्व की आत्मायें आप सबसे क्या चाहती हैं, वह जानते हो? अभी हर आत्मा अपने पूज्य आत्माओं को प्रत्यक्ष रूप में पाने के लिए पुकार रही है। सिर्फ बाप को नहीं पुकार रहे हैं लेकिन बाप के साथ आप पूज्य आत्माओं को भी पुकार रहे हैं। हरेक समझते हैं हमारा पैगम्बर कहो, मैसेन्जर कहो, देव आत्मा कहो वह आवे और हमें साथ ले चले। यह विश्व की पुकार पूर्ण करने वाले कौन हैं?

आप पूज्य देव आत्माओं का इन्तजार कर रहे हैं कि हमारे देव आयेंगे, हमें जगायेंगे और ले जायेंगे। उसके लिए क्या तैयारी कर रहे हो? इस कानफ्रेंस के बाद देव प्रत्यक्ष होंगे। अभी कानफ्रेंस के पहले स्वयं को श्रेष्ठ आत्मा प्रत्यक्ष करने का स्वयं और संगठित रूप से प्रोग्राम बनाओ। इस कानफ्रेंस द्वारा निराशा से आशा अनुभव होनी चाहिए। वह दीपक तो उद्घाटन में जगायेंगे, नारियल भी तोड़ेंगे। साथ-साथ सर्व आत्माओं प्रति शुभ आशाओं का दीपक भी जगायेंगे। ठिकाना दिखाने का ठका हो जाए। जैसे नारियल का ठका करते हो ना। तो विदेशी चाहे भारतवासी दोनों को मिलकर ऐसी तैयारी पहले से करनी है। तब है महातीर्थ की प्रत्यक्षता। प्रत्यक्षता की किरण अब्बा के घर से चारों ओर फैले। जैसे कहते भी हो कि आबू विश्व के लिए लाइट हाउस है। यही लाइट अन्धकार के बीच नई जागृति का अनुभव करावे, इसके लिए ही सब आये हो ना वा सिर्फ स्वयं रिफ्रेश हो चले जायेंगे?

सर्व ब्राहमणों का एक संकल्प, वही कार्य की सफलता का आधार है। सबको सहयोग चाहिए। किले की एक ईट भी कमजोर होती तो किले को हिला सकती है इसलिए छोटे बड़े सब इस ब्राह्मण परिवार के किले की ईट हो तो सभी को एक ही संकल्प द्वारा कार्य को सफल करना है। सबके मन से यह आवाज निकले कि यह मेरी जिम्मेवारी है। अच्छा – जितना बच्चे याद करते हैं उतना बाप भी याद प्यार देते हैं। अच्छा।

ऐसे सदा दृढ़ संकल्प करने वाले, सफलता के जन्म-सिद्ध अधिकार को साकार में लाने वाले, सदा अपने श्रेष्ठ भाग्य को स्मृति में रखते हुए समर्थ रहने वाले, स्वंय की विशेषता को सदा कार्य में लगाने वाले, सदा हर कार्य में बाप का कार्य सो मेरा कार्य ऐसे अनुभव करने वाले, सर्व कार्य में ऐसे बेहद की स्थिति में स्थित रहने वाले विशाल बुद्धि बच्चों को यादप्यार और नमस्ते।

ब्राजील पार्टी से:-

देश में सबसे दूर लेकिन दिल के समीप रहने वाली आत्मायें हो ना। सदा अपने को दूर बैठे भी बाप के साथ अनुभव करते हो ना। आत्मा उड़ता पंछी बन सेकण्ड में बाप के वतन में, मधुबन में पहुँच जाती है ना। सदा सैर करते हो? बापदादा बच्चों की मुहब्बत को देख रहे हैं कि कितनी दिल से साकार रूप में मधुबन में पहुँचने का प्रयत्न कर पहुँच गये हैं, इसके लिए मुबारक देते हैं। बापदादा आगे के लिए सदा विजयी रहो और सदा औरों को भी विजयी बनाओ, यही वरदान देते हैं। अच्छा –

10-09-17 प्रात:मुरली ओम् शान्ति ”अव्यक्त-बापदादा” रिवाइज:06-01-83 मधुबन

निरन्तर सहज योगी बनने की सहज युक्ति

आज बागवान अपने वैरायटी खुशबूदार फूलों के बगीचे को देख हर्षित हो रहे हैं। बापदादा वैरायटी रूहानी पुष्पों की खुशबू और रूप की रंगत देख हरेक की विशेषता के गीत गा रहे हैं। जिसको भी देखो हरेक एक दो से प्रिय और श्रेष्ठ है। नम्बरवार होते हुए भी बापदादा के लिए लास्ट नम्बर भी अति प्रिय है क्योंकि चाहे अपनी यथा शक्ति मायाजीत बनने में कमजोर है फिर भी बाप को पहचान दिल से एक बार भी ‘मेरा बाबा’ कहा तो बापदादा रहम के सागर ऐसे बच्चे को भी एक बार रिटर्न में पदमगुणा उसी रुहानी प्यार से देखते कि मेरे बच्चे विशेष आत्मा हैं। इसी नज़र से देखते हैं फिर भी बाप का तो बना ना। तो बापदादा ऐसे बच्चे को भी रहम और स्नेह की दृष्टि द्वारा आगे बढ़ाते रहते हैं क्योंकि ‘मेरा’ है। यही रूहानी मेरे-पन की स्मृति ऐसे बच्चों के लिए समर्थी भरने की आशीर्वाद बन जाती है। बापदादा को मुख से आशीर्वाद देने की आवश्यकता नहीं पड़ती क्योंकि शब्द, वाणी सेकेण्ड नम्बर है लेकिन स्नेह का संकल्प शक्तिशाली भी है और नम्बरवन प्राप्ति का अनुभव कराने वाला है। बापदादा इसी सूक्ष्म स्नेह के संकल्प से मात-पिता दोनों रूप से हर बच्चे की पालना कर रहे हैं। जैसे लौकिक में सिकीलधे बच्चे की माँ बाप गुप्त ही गुप्त बहुत शक्तिशाली चीज़ों से पालना करते हैं जिसको आप लोग खोरश (खातिरी) कहते हो। तो बापदादा भी वतन में बैठे सभी बच्चों की विशेष खोरश (खातिरी) करते रहते हैं। जैसे मधुबन में आते हो तो विशेष खोरश (खातिरी) होती है ना। तो बापदादा भी वतन में हर बच्चे को फरिश्ते आकारी रूप में आह्वान कर सम्मुख बुलाते हैं और अधिकारी रूप में अपने संकल्प द्वारा सूक्ष्म सर्व शक्तियों की विशेष बल भरने की खातिरी करते हैं। एक है अपने पुरुषार्थ द्वारा शक्ति की प्राप्ति करना। यह है मात-पिता के स्नेह की पालना के रूप में विशेष खातिरी करना। जैसे यहाँ भी किस-किस की खातिरी करते हो। नियम प्रमाण रोज़ के भोजन से विशेष वस्तुओं से खातिरी करते हो ना। एकस्ट्रा देते हो। ऐसे ब्रह्मा माँ का भी बच्चों में विशेष स्नेह है। ब्रह्मा माँ वतन में भी बच्चों की रिमझिम बिना नहीं रह नहीं सकते। रूहानी ममता है। तो सूक्ष्म स्नेह के आह्वान से बच्चों के स्पेशल ग्रुप इमर्ज करते हैं। जैसे साकार में याद है ना हर ग्रुप को विशेष स्नेह के स्वरूप में अपने हाथों से खिलाते थे और बहलाते थे। वही स्नेह का संस्कार अब भी प्रैक्टिकल में चल रहा है। इसमें सिर्फ बच्चों को बाप समान आकारी स्वरूपधारी बन अनुभव करना पड़े। अमृतवेले ब्रह्मा माँ ”आओ बच्चे, आओ बच्चे”कह विशेष शक्तियों की खुराक बच्चों को खिलाते हैं। जैसे यहाँ घी पिलाते थे और साथ-साथ एक्सरसाइज भी कराते थे ना। तो वतन में घी भी पिलाते अर्थात् सूक्ष्म शक्तियों की (ताकत की) चीज़ें देते और अभ्यास की एक्सरसाइज भी कराते हैं। बुद्धि बल द्वारा सैर भी कराते हैं। अभी-अभी परमधाम, अभी-अभी सूक्ष्मवतन। अभी-अभी साकारी सृष्टि ब्राह्मण जीवन। तीनों लोकों में दौड़ की रेस कराते हैं, जिससे विशेष खातिरी जीवन में समा जाए। तो सुना ब्रह्मा माँ क्या करते हैं!

डबल विदेशी बच्चों को वैसे भी छुट्टी के दिनों में कहाँ दूर जाकर एक्सकरशन करने की आदत है। तो बापदादा भी डबल विदेशी बच्चों को विशेष निमंत्रण दे रहे हैं। जब भी फ्री हो तो वतन में आ जाओ। सागर के किनारे मिट्टी में नहीं जाओ। ज्ञान सागर के किनारे आ जाओ। बिगर खर्चे के बहुत प्राप्ति हो जायेगी। सूर्य की किरणें भी लेना, चन्द्रमा की चाँदनी भी लेना, पिकनिक भी करना और खेल कूद भी करना। लेकिन बुद्धि रूपी विमान में आना पड़ेगा। सबका बुद्धि रूपी विमान एवररेडी है ना। संकल्प रूपी स्विच स्टार्ट किया और पहुँचे। विमान तो सबके पास रेडी है ना कि कभी-कभी स्टार्ट नहीं होता है वा पेट्रोल कम होता तो आधा में लौट आते। वैसे तो सेकण्ड में पहुँचने की बात है। सिर्फ डबल रिफाइन पेट्रोल की आवश्यकता है। डबल रिफाइन पेट्रोल कौन सा है? एक है निराकारी निश्चय का नशा कि मैं आत्मा हूँ, बाप का बच्चा हूँ। दूसरा है साकार रूप में सर्व सम्बन्धों का नशा। सिर्फ बाप और बच्चे के सम्बन्ध का नशा नहीं। लेकिन प्रवृत्ति मार्ग पवित्र परिवार है। तो बाप से सर्व सम्बन्धों के रस का नशा साकार रूप में चलते फिरते अनुभव हो। यह नशा और खुशी निरन्तर सहज योगी बना देती है इसलिए निराकारी और साकारी डबल रिफाइन साधन की आवश्यकता है। अच्छा –

आज तो पार्टियों से मिलना है इसलिए फिर दुबारा साकारी और निराकारी नशे पर सुनायेंगे। डबल विदेशी बच्चों को सर्विस के प्रत्यक्ष फल की, आज्ञा पालन करने की विशेष मुबारक बापदादा दे रहे हैं। हरेक ने अच्छा बड़ा ग्रुप लाया है। बापदादा के आगे अच्छे ते अच्छे बड़े गुलदस्ते भेंट किये हैं। उसके लिए बापदादा ऐसे वफादार बच्चों को दिल व जान सिक व प्रेम से यही वरदान दे रहे हैं – ”सदा जीते रहो – बढ़ते रहो” अच्छा !

चारों ओर के स्नेही बच्चों को, जो चारों ओर याद और सेवा की धुन में लगे हुए हैं, ऐसे बाप को प्रत्यक्ष करने के निमित्त बने हुए सिकीलधे बच्चों को सेवा के रिटर्न में प्यार और याद के रिटर्न में अविनाशी याद। ऐसे अविनाशी लगन में रहने वालों को अविनाशी याद प्यार और नमस्ते।

वरदान:- सदा हर कर्म में रूहानी नशे का अनुभव करने और कराने वाले खुशनसीब भव 
संगमयुग पर आप बच्चे सबसे अधिक खुशनसीब हो, क्योंकि स्वयं भगवान ने आपको पसन्द कर लिया। बेहद के मालिक बन गये। भगवान की डिक्शनरी में ”हू इज हू” में आपका नाम है। बेहद का बाप मिला, बेहद का राज्य भाग्य मिला, बेहद का खजाना मिला … यही नशा सदा रहे तो अतीन्द्रिय सुख का अनुभव होता रहेगा। यह है बेहद का रूहानी नशा, इसका अनुभव करते और कराते रहो तब कहेंगे खुशनसीब।
स्लोगन:- साधनों को सेवा के प्रति यूज़ करो – आरामपसन्द बनने के लिए नहीं।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 8 September 2017 :- Click Here

Font Resize