today murli 10 october

TODAY MURLI 10 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 9 October 2018 :- Click Here

10/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, everything the Father tells you is new for the new world. He gives you new directions and this is why His ways and means are remembered as unique.
Question: In which aspect does the merciful Father caution all you children in order for you to make your fortune elevated?
Answer: Baba says: If you want to make your fortune elevated, do service. If you simply eat and sleep and don’t do service, you won’t be able to make your fortune elevated. To eat without doing service is wrong. Therefore, Baba cautions you. Everything depends on how you study. You Brahmins have to study and teach others. You have to relate the true Gita. The Father has mercy for you and this is why He continues to enlighten you about everything.
Song: From the day that You and I met, everything has seemed new. 

Om shanti. The spiritual Father explains to you. When children find the unlimited Father, everything He tells them is new because this Father is the One who establishes the new world. Human beings cannot say such new things. The Father, who is also called Heavenly God, the Father, is the unlimited Father who establishes heaven. It is Ravan who establishes hell. There are five vices in the female and five vices in the male. That is the Ravan community. So, these things that Baba has told you about are new, are they not? It is the Supreme Father, the Supreme Soul, who is called Rama, who creates heaven. It is Ravan who creates hell. People make an effigy of him every year and burn it. Once someone has been burnt, you wouldn’t be able to see his effigy (form) again. That soul goes and takes another body; his features etc. all change. Here, they make a Ravan with the same features every year and then burn it. In fact, just as incorporeal Shiv Baba doesn’t have any features, in the same way, Ravan doesn’t have any features either. Ravan is the vices. The Father explains what the people on the path of devotion want. God comes to give the fruit of devotion and to give protection because there is a lot of sorrow in devotion. There is temporary happiness. The lives of the people of Bharat are very unhappy. Someone’s child might have died, someone might have gone bankrupt; their lives are unhappy. The Father says: I come to make everyone’s life happy. The Father comes and tells you new things. He says: I have come to establish heaven. There, you will not indulge in vice. That is the viceless kingdom and this is the vicious kingdom. If you want the kingdom of heaven, then only the Father establishes that. Ravan establishes the kingdom of hell. The Father asks you: Will you come to heaven? Will you become the emperors and empresses of Paradise, the masters of the world? These things are not mentioned in the Vedas or scriptures. The Father doesn’t tell you to say, “Rama, Rama” or to stumble from door to door or go to the temples and pilgrimage places or study the Gita and Bhagawad etc; no. There are no scriptures in the golden age. No matter how many Vedas and scriptures you study or how many sacrificial fires you hold or chanting you do or donations you give or charity you perform, all of that is simply stumbling. There is no attainment through that. There is no aim or objective on the path of devotion. I have come to make you into the masters of heaven. At this time, all are residents of hell. If you tell anyone that he is a resident of hell, he would get upset. In fact, you know that the iron age is called hell and that the golden age is called heaven. The Father has brought the sovereignty of Paradise. He says: If you want to become the masters of heaven, you definitely have to become pure. The main thing is purity. Some people say that they would never be able to remain pure. Oh! but you are made pure so that you can go to heaven. First of all, you have to return to the land of peace and then go to heaven. You tell those of all religions: You have to renounce your body, become bodiless and then return home. Therefore, you have to break body consciousness. It is a bodily religions when you say, “I am a Christian” or “I am a Buddhist”. Souls reside in the sweet home. So, the Father says: Will you return to the land of liberation? There, you will remain in peace. Tell Me, how will you be able to go back? Remember Me, your Father, and your sweet home. Renounce all the religions of the body. “This one is a maternal uncle, this one is a paternal uncle”. Renounce all those bodily relations. Consider yourself to be a bodiless soul. Remember Me! That’s all. This is the only effort. I do not tell you anything else. Renounce all the scriptures etc. that you have studied. I am giving you new directions for the new world. It is said that God’s ways and means are unique. ‘Gati’ is said to be liberation. The Father tells you new things. When people hear these things, they say that whatever you tell them here are new things. These are not the things of the scriptures. In fact, these are the things of the Gita, but people have falsified the Gita. I have not taken up the Gita, the religious book. That is written later. I speak knowledge to you. No one else would ever say: You are My long-lost and now-found children. Only the incorporeal, Supreme Soul says this. He speaks to incorporeal souls. The souls listen to Him. This body is the organ. No one understands these things. There, human beings speak to human beings whereas the Supreme Soul sits here and speaks to souls. We souls listen to Him through these ears. You know that the Supreme Father, the Supreme Soul, sits here and explains to us. People wonder how God would explain. They think that it is God Krishna who speaks. Oh! but Krishna is a bodily being. I am not a bodily being. I am bodiless and I speak to bodiless souls. So, people are amazed when they hear these new things. The children who heard this in the previous cycle like this a lot. They study here and they say: Mama, Baba. There cannot be blind faith here. In a worldly way too, children would call their parents mother and father. You now have to stop remembering those worldly parents and remember the parlokik Mother and Father. This parlokik Mother and Father is the One who teaches you the exchange of nectar. He says: O children, now stop giving and taking poison. Give one another the teachings that I give you and you will become the masters of heaven. If you listen to even a little, you will go to heaven. However, if you are unable to make others the same as yourselves, you will go and become maids and servants. Maids and servants are numberwise. The maids and servants who look after the children would surely be those with a good status. If, while staying here, you don’t study, you become maids and servants. Subjects too are numberwise. Those who study well receive a very high status. The wealthy subjects would have maids and servants. Each one of you has to look at your own face: What am I worthy of becoming? If any of you were to ask Baba, Baba would quickly tell you. The Father knows everything and He also shows you the evidence for why that is what you will become. Even though someone may have surrendered himself or herself, there is an account in that too. If they have surrendered themselves but don’t do service and simply continue to eat and drink, they use up and finish what they gave. They eat away all they gave and don’t do service and they therefore become third  class maids and servants. Yes, if someone does service and eats, that’s fine. If someone doesn’t do any service, but simply eats away, he would use everything up and would then accumulate a burden. Some stay here and eat away whatever they gave. Some don’t give anything, but they do perform a lot of service and so they claim a high status. Mama didn’t give any wealth, but she attains a very high status because she does Baba’s spiritual service. There is an account. Some have the intoxication that they gave everything they had to Baba and that they have surrendered themselves. However, they do eat, do they not? Baba gives you all the examples. If you don’t do service , you just eat and finish it all. It is said: Those who sleep lose out. To eat without doing eight hours of service is wrong. If you continue to eat, you won’t be able to accumulate anything and you will then have to do service. The Father has to tell you everything so that no one can say: Why didn’t You tell us before? Baba gave everything and he also continued to do service and that’s why he receives a high status. If you surrender yourself but simply sit and eat away and don’t do service, what would you become? Some don’t follow shrimat. Baba is especially explaining to you so that, at the end, no one can ask: Why is my status like this? The Father explains: This will be the consequence cycle after cycle if you do not do service and eat for free. Therefore, Baba continues to caution you. You should understand that your status would be destroyed for cycle after cycle. Baba feels mercy and this is why He enlightens you about everything. If you don’t do service, you won’t be able to claim a high status. Those who live at home with their families and do service receive a very high status. Everything depends on studying and teaching others. You are Brahmins. You have to relate the true Gita. Those people carry a religious book under their arms. You don’t carry anything under your arms. You are true Brahmins. You have to relate the truth and enable them to have true attainment. All the rest have made you go into loss. This is why it is written that all of that is false. Baba tells you the truth and makes you into the masters of the land of truth. These matters have to be understood. It is not a small thing to become a master of the world! Those who are sensible children will continue to make plans: We will build such buildings with golden bricks. We will do this. While a child of a wealthy person is growing up, he would have such thoughts as: I will do this and I will build this. You too are going to become princes in the future and so you would have the interest: I will build such palaces that no one else would have. Those who study well and teach others would have these thoughts. There will be the sovereignty. So, you should have such thoughts in your intellects: With which number will I pass? This is a very big school. Many hundreds of thousands and millions will come here to study. Only the Father sits here and explains all of these things. God is One. He is called the Mother and Father. He comes and adopts you. These are such deep matters. This is a new school and the One teaching you is new. He explains to you so well. The aprons of those who are worthy will be filled. They will remember the Father. The Mother and Father never forget anyone. So, how can the children of the confluence age forget the Father? Achcha.

The world is in chaos whereas you children are in silence. There is peace in silence and happiness in peace. You know that, after liberation, there is liberation-in-life. You children simply have to remember two words: Alpha, Allah, and beta, the sovereignty. By simply remembering one Alpha, you received the sovereignty. What else remains? There is then just buttermilk left. When you have found Alpha, it means you have found the butter and all the rest is buttermilk. It is like that, is it not? We stay in silence. You know that you stay in silence and follow shrimat. However, it is a wonder that some children don’t remember Alpha fully; they forget Him. Maya brings storms. The Father also says: Manmanabhav, madhyajibhav. These words are mentioned in the Gita. You should ask those who study the Gita: What is the meaning of “Manmanabhav and Madhyajibhav”? The Father says: Remember Me and you will receive the sovereignty. Renounce all bodily religions and become bodiless and remember the Father and you will receive the sovereignty. It is also mentioned in the Granth: Chant the name of Alpha and you will receive the sovereignty. You receive the sovereignty of the land of truth. Compared to the world, you are completely unique. No one else would say this. The Father is telling you new things. All the rest only speak of old things. This is something very easy. Belong to Alpha and you will receive the sovereignty. You still have to make effort. The more service you do to make others the same as yourself, the more fruit you will receive. People neither know Alpha nor beta. Beta means the butter of the sovereignty. They show butter in the mouth of Krishna. Surely, the One who established heaven would have given the sovereignty. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have to return to the sweet home. Therefore, forget bodily religions and relations and consider yourself to be bodiless. Maintain this practice.
  2. Give others the teachings that you have received from the Father. Make others the same as yourself. You definitely have to do eight hours of s ervice.
Blessing: May you give and take power through your drishti and be a great donor and become an image that grant blessings.
As you progress further, there will be no time or circumstances to serve with words. Then, it is only by being a bestower of blessings and a great donor that you will be able to give an experience of the powers of peace, love, happiness and bliss. When you used to go in front of the non-living idols, you received vibrations from their face s and you experienced divinity from their eyes. It is because you did this service in the corporeal form that the non-living images were created. Therefore, practise giving and taking power through your drishti and you will become a great donor and an image that grants blessings.
Slogan: Let there be the sparkle of happiness, peace and joy in your features and you can make the future elevated for many souls.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 10 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 October 2018

To Read Murli 9 October 2018 :- Click Here
10-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – नई दुनिया के लिए बाप तुम्हें सब नई बातें सुनाते, नई मत देते इसलिए उनकी गत-मत न्यारी गाई जाती है”
प्रश्नः- रहमदिल बाप सभी बच्चों को किस बात में सावधान कर ऊंच तकदीर बना देते हैं?
उत्तर:- बाबा कहते – बच्चे, ऊंच तकदीर बनानी है तो सर्विस करो। अगर खाया और सोया, सर्विस नहीं की तो ऊंची तकदीर नहीं बना सकेंगे। सर्विस के बिगर खाना हराम है, इसलिए बाबा सावधान करते। सारा मदार पढ़ाई पर है। तुम ब्राह्मणों को पढ़ना और पढ़ाना है, सच्ची गीता सुनानी है। बाप को रहम पड़ता है इसलिए हर बात की रोशनी देते रहते हैं।
गीत:- जिस दिन से मिले हम तुम…….. 

ओम् शान्ति। रूहानी बाप समझाते हैं। जब बच्चों को बेहद का बाप मिलता है तो हर एक बात नई सुनाते हैं क्योंकि यह बाप नई दुनिया स्थापन करने वाला है। मनुष्य तो ऐसी नई बातें सुना न सकें। बाप, जिसको हेविनली गॉड फादर कहा जाता है, वह बेहद का बाप स्वर्ग की स्थापना करने वाला है। नर्क की स्थापना करने वाला है रावण। 5 विकार स्त्री में, 5 विकार पुरुष में, वह हो गई रावण सम्प्रदाय। तो यह नई बात सुनाई ना! स्वर्ग बनाने वाला है परमपिता परमात्मा, जिसको राम कहते हैं। नर्क बनाने वाला है रावण, जिसका चित्र बनाकर वर्ष-वर्ष जलाते हैं। एक बार जल गया तो फिर उनका एफीजी देखने में थोड़ेही आयेगा। वह आत्मा जाकर दूसरा शरीर लेती है। फीचर्स आदि बदल जाते हैं। यह तो रावण के वही फीचर्स वर्ष-वर्ष बनाते और जलाते हैं। वास्तव में जैसे निराकार शिवबाबा का कोई फीचर नहीं, वैसे रावण का भी कोई फीचर नहीं। यह रावण तो विकार हैं। बाप यह समझाते हैं। मनुष्य भक्ति मार्ग में क्या चाहते हैं? भगवान् आते ही हैं भक्ति का फल देने वा रक्षा करने क्योंकि भक्ति में दु:ख बहुत है। सुख है अल्प-काल क्षण भंगुर। भारतवासियों का बिल्कुल दु:खी जीवन है। कोई का बच्चा मरा, कोई का देवाला निकला, जीवन तो दु:खी रहता है ना। बाप कहते हैं मैं आता हूँ सभी का जीवन सुखी बनाने। बाप आकर के नई बात बताते हैं, कहते हैं मैं आया हूँ स्वर्ग की स्थापना करने। वहाँ तुम विकार में नहीं जायेंगे। वह है निर्विकारी राज्य, यह है विकारी राज्य। अगर तुमको स्वर्ग का राज्य चाहिए तो वह बाप ही स्थापन करते हैं। नर्क का राज्य रावण स्थापन करते हैं। तो बाप पूछते हैं तुम स्वर्ग में चलेंगे? वैकुण्ठ की महारानी-महाराजा विश्व के मालिक बनेंगे? यह कोई वेद-शास्त्र आदि की बातें नहीं हैं। बाप ऐसे नहीं कहते कि राम-राम कहो वा दर-दर धक्के खाओ, मन्दिरों, तीर्थो आदि में जाओ वा गीता, भागवत आदि बैठकर पढ़ो। नहीं, सतयुग में तो शास्त्र होते नहीं। तुम भल कितने भी वेद-शास्त्र आदि पढ़ो, यज्ञ, जप, दान-पुण्य आदि करो – यह है ही धक्के खाना, इनसे प्राप्ति कुछ भी नहीं। भक्ति मार्ग में कोई एम आब्जेक्ट नहीं है। मैं तुमको स्वर्ग का मालिक बनाने आया हूँ। इस समय सब नर्कवासी हैं। अगर कोई को कहो तुम नर्कवासी हो तो बिगड़ेंगे। वास्तव में तुम जानते हो नर्क कलियुग को और स्वर्ग सतयुग को कहा जाता है। बाप वैकुण्ठ की बादशाही ले आये हैं। कहते हैं स्वर्ग का मालिक बनना है तो पवित्र जरूर बनना पड़ेगा। मूल बात सारी पवित्रता की है। कई मनुष्य कहते हैं हम पवित्र तो कभी नहीं रह सकते। अरे, तुमको पावन बनाते हैं स्वर्ग में चलने लिए। पहले वापिस शान्तिधाम में जाकर फिर स्वर्ग में आना है। सभी धर्म वालों को कहते हैं देह को छोड़ अशरीरी बनकर जाना है इसलिए देह के अभिमान को तोड़ो। मैं क्रिश्चियन हूँ, बौद्धी हूँ, यह सब हैं देह के धर्म। आत्मा तो स्वीट होम में रहती है।

तो अब बाप कहते हैं वापिस मुक्तिधाम चलेंगे? वहाँ तुम शान्ति में रहेंगे। बताओ तुम वापिस कैसे चल सकते हो? मुझ बाप को और अपने स्वीट होम को याद करो। देह के सब धर्म छोड़ो। यह मामा है, काका है, चाचा है इन सब देह के सम्बन्धों को छोड़ो। अपने को देही समझो। मुझे याद करो। बस यह है मेहनत और मैं कुछ नहीं सुनाता हूँ। शास्त्र आदि जो पढ़े हो वह सब छोड़ो। मैं नई दुनिया के लिए तुमको नई मत देता हूँ। कहा जाता है ना – ईश्वर की गत और मत न्यारी है। गति कहा जाता है मुक्ति को। बाप नई बात सुनाते हैं ना। मनुष्य भी जब सुनते हैं तो कहते हैं यहाँ तो नई बातें हैं। शास्त्रों की कोई बात नहीं। यूँ तो है गीता की बात परन्तु मनुष्यों ने गीता को भी खण्डन कर दिया है। मैंने तो गीता पुस्तक कुछ भी नहीं उठाई है। वह तो बाद में बनती है। मैं तो तुमको ज्ञान सुनाता हूँ। ऐसे कभी कोई नहीं कहेंगे कि तुम मेरे सिकीलधे बच्चे हो। यह निराकार परमात्मा ही कहते हैं। निराकार आत्माओं से बात करते हैं। आत्मा सुनती है, यह शरीर है आरगन्स। यह बात कभी कोई समझते नहीं। वह मनुष्य, मनुष्य को सुनाते हैं, यह परमात्मा बैठ आत्माओं को सुनाते हैं। हम आत्मायें सुनती हैं इन कानों द्वारा। तुम जानते हो परमपिता परमात्मा बैठ समझाते हैं। मनुष्य तो यह वन्डर खाते हैं – भगवान् कैसे समझायेगा। वह तो समझते हैं कृष्ण भगवानुवाच। अरे, कृष्ण तो देहधारी था। मैं तो देहधारी नहीं, मैं विदेही हूँ और विदेही आत्माओं को सुनाता हूँ। तो यह नई बातें सुनने से मनुष्य चकित हो जाते हैं। जो कल्प पहले बच्चे सुनकर गये हैं उन्हों को तो बहुत अच्छा लगता है, पढ़ते हैं, मम्मा-बाबा कहते हैं। इसमें अन्धश्रधा की तो कोई बात हो न सके। लौकिक रीति भी बच्चे माँ-बाप को, माँ-बाप कहते हैं। अभी तुम उन लौकिक माँ-बाप की याद छोड़ पारलौकिक मात-पिता को याद करो। यह पारलौकिक माँ-बाप तुम्हें अमृत की लेन-देन सिखलाने वाले हैं। कहते हैं – हे बच्चे, अब विष की लेन-देन छोड़ो। मैं तुमको जो शिक्षा देता हूँ वह एक-दो को दो तो तुम स्वर्ग के मालिक बन जायेंगे। थोड़ा सुनेंगे तो भी स्वर्ग में आ जायेंगे। परन्तु औरों को आपसमान नहीं बना सकते तो दास-दासी जाकर बनेंगे। दास-दासियों में भी नम्बरवार होते हैं। बच्चों को सम्भालने वाले दास-दासियां जरूर अच्छे मर्तबे वाले होंगे। यहाँ रहते हुए फिर अगर पढ़ते नहीं तो दास-दासी बन पड़ते हैं। प्रजा में भी नम्बरवार होते हैं। जो अच्छी रीति पढ़ते हैं वह इतना ऊंच पद पाते हैं। प्रजा में साहूकारों के भी दास-दासियां होंगे। हर एक को अपनी शक्ल देखनी है – हम क्या बनने लायक हैं? बाबा से अगर कोई पूछे तो बाबा झट बता देंगे। बाप तो सब-कुछ जानते हैं और सिद्ध कर बतलाते हैं कि इस कारण यह तुम बनेंगे। भल सरेन्डर किया है, उसका भी हिसाब-किताब है। सरेन्डर किया है परन्तु कुछ सर्विस नहीं करते, सिर्फ खाते-पीते रहते तो जो दिया वह खाकर ख़त्म करते हैं। दिया सो खाया, सर्विस नहीं की तो थर्ड क्लास दास-दासी जाकर बनेंगे। हाँ, सर्विस करते हैं और खाते हैं तो ठीक है। धंधा कुछ नहीं करते तो खा-खा कर ख़त्म कर देते हैं फिर और भी बोझा चढ़ जाता है। यहाँ रहते हैं जो दिया सो खाया। जो भल नहीं देते हैं परन्तु सर्विस बहुत करते हैं तो वह ऊंच पद पा लेते हैं। मम्मा ने धन कुछ नहीं दिया, परन्तु पद बहुत ऊंच पाती है क्योंकि बाबा की रूहानी सर्विस करती है। हिसाब है ना। कइयों को नशा रहता है हमने तो सब कुछ दिया है, सरेन्डर हुए हैं। परन्तु खाते भी तो हैं ना। बाबा मिसाल तो सब बताते हैं। सर्विस नहीं की खाया और ख़लास किया। कहते हैं ना – जिन सोया तिन खोया। 8 घण्टा सर्विस करने बिगर खाना हराम है। खाते रहेंगे तो जमा कुछ नहीं होगा फिर सर्विस करनी पड़ेगी। बाप को तो सब बतलाना पड़ता है ना, जो कोई ऐसे नहीं कहे कि हमको बतलाया क्यों नहीं? बाबा ने सब-कुछ दिया और फिर सर्विस भी करते रहते हैं, तो ऊंच पद भी है। सरेन्डर हुए और बैठ खाया, सर्विस नहीं की तो क्या बनेगा? श्रीमत पर चलते नहीं। बाबा ख़ास समझा रहे हैं। ऐसे नहीं कि पिछाड़ी को कहे कि हमारा पद ऐसा क्यों हुआ? तो बाप समझाते हैं सर्विस न करना, मुफ्त में खाना, उसका नतीजा कल्प-कल्पान्तर का यह हो जायेगा इसलिए बाबा सावधान करते हैं। समझना चाहिए कल्प-कल्पान्तर के लिए हमारा पद भ्रष्ट हो जायेगा। बाबा को रहम पड़ता है इसलिए हर बात की रोशनी देते हैं। सर्विस नहीं करेंगे तो ऊंच पद नहीं पा सकेंगे। जो गृहस्थ व्यवहार में रहते सर्विस करते हैं, उनका पद बहुत ऊंच है।

सारा मदार पढ़ाई और पढ़ाने पर है। तुम ब्राह्मण हो, तुमको सच्ची गीता सुनानी है। वह तो कच्छ में कुरम उठाते हैं। तुम्हारे कच्छ में कुछ नहीं। तुम हो सच्चे ब्राह्मण। तुमको सच सुनाना है, सच्ची प्राप्ति करानी है, और सबने घाटा ही दिलाया है इसलिए लिखा जाता है वह सब झूठ है। बाबा सच सुनाकर सचखण्ड का मालिक बनाते हैं। यह तो समझने की बात है। विश्व का मालिक बनना कम बात है क्या! सेन्सीबुल बच्चे जो होंगे वह तो प्लैन बनाते रहेंगे – हम सोने की ईटों का ऐसे-ऐसे मकान बनायेंगे, यह करेंगे। साहूकार का बच्चा जैसे बड़ा होता जायेगा तो उनके ख्यालात चलेंगे – हम ऐसे करेंगे, यह बनायेंगे। तुम भी भविष्य में प्रिन्स बनते हो तो शौक होगा ना – हम ऐसे-ऐसे महल बनायेंगे। जो और कोई का नहीं होगा। यह ख्यालात उनके चलेंगे जो अच्छी रीति पढ़कर पढ़ाते हैं। बादशाही तो होगी ना। तो बुद्धि में यह ख्यालात चलनी चाहिए – हम कितने नम्बर से पास होंगे? बड़ा भारी स्कूल है, इसमें लाखों करोड़ों पढ़ेंगे, ढेर आयेंगे। यह सब बातें बाप ही बैठ समझाते हैं। भगवान् एक है, उनको ही मात-पिता कहते हैं – वह आकर एडाप्ट करते हैं। कितनी गुह्य बातें हैं। यह नया स्कूल है, नया पढ़ाने वाला है। कितना अच्छी रीति समझाते हैं। झोली उनकी भरेगी जो लायक होंगे, बाप को याद करेंगे। माँ-बाप को कभी कोई भूलता नहीं है। फिर संगमयुगी बच्चे बाप को भूल कैसे सकते हैं। अच्छा!

दुनिया धमपा में है और तुम बच्चे चुप हो। चुप में है शान्ति, शान्ति में है सुख। तुम जानते हो मुक्ति के बाद फिर है जीवनमुक्ति। तुम बच्चों को सिर्फ दो अक्षर याद हैं – अल्फ अल्लाह और बे बादशाही। सिर्फ एक अल्फ को याद करने से बादशाही मिल गई। बाकी क्या बचा? बाकी रही छांछ। अल्फ मिला गोया मक्खन मिला, बाकी सब है छांछ। ऐसे हैं ना? हम चुप रहते हैं। जानते हैं चुप रहकर हम श्रीमत पर चलते हैं। परन्तु वन्डर यह है कि बच्चे अल्फ को भी पूरा याद नहीं करते, भूल जाते हैं। माया तूफान लाती है। बाप भी कहते हैं मनमनाभव, मध्याजीभव। गीता में अक्षर हैं। तो तुमको गीता वालों से अर्थ पूछना चाहिए कि मनमनाभव, मध्याजीभव का अर्थ क्या है? बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुमको बादशाही मिलेगी। सब देह के धर्म छोड़ देही बन जाओ और बाप को याद करो तो बादशाही मिलेगी। ग्रंथ में भी कहते हैं – जपो अल्फ को तो बादशाही मिलेगी। सचखण्ड की राजाई मिलती है। हम दुनिया से बिल्कुल न्यारे हैं, और कोई भी ऐसे नहीं कहेंगे। बाप तुम्हें नई बातें सुनाते हैं, बाकी सब पुरानी बातें ही सुनाते हैं। बात बड़ी सहज है। अल्फ के बनो तो बादशाही मिलेगी। फिर भी पुरुषार्थ तो करना पड़े। आपसमान बनाने की जितनी सर्विस करेंगे उतना फल मिलेगा। मनुष्य न अल्फ को जानते हैं, न बे को जानते हैं। बे माना बादशाही का मक्खन। कृष्ण के मुख में मक्खन दिखाते हैं ना। जरूर स्वर्ग की स्थापना करने वाले ने ही बादशाही दी होगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) वापिस स्वीट होम (घर) जाना है इसलिए देह के धर्मों और सम्बन्धों को भूल स्वयं को देही समझना है। इसी अभ्यास में रहना है।

2) बाप की जो शिक्षायें मिली हैं, वह दूसरों को देनी है, आप समान बनाना है। 8 घण्टे सर्विस जरूर करनी है।

वरदान:- दृष्टि द्वारा शक्ति लेने और शक्ति देने वाले महादानी, वरदानी मूर्त भव
आगे चलकर जब वाणी द्वारा सेवा करने का समय वा सरकमस्टांश नहीं होगा तब वरदानी, महादानी दृष्टि द्वारा ही शान्ति की शक्ति, प्रेम, सुख वा आनंद की शक्ति का अनुभव करा सकेंगे। जैसे जड़ मूर्तियों के सामने जाते हैं तो फेस (चेहरे) द्वारा वायब्रेशन मिलते हैं, नयनों से दिव्यता की अनुभूति होती है। तो आपने जब चैतन्य में यह सेवा की है तब जड़ मूर्तियां बनी हैं इसलिए दृष्टि द्वारा शक्ति लेने और देने का अभ्यास करो तब महादानी, वरदानी मूर्त बनेंगे।
स्लोगन:- फीचर्स में सुख-शान्ति और खुशी की झलक हो तो अनेक आत्माओं का फ्यूचर श्रेष्ठ बना सकते हो।

BRAHMA KUMARIS MURLI 10 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

 

10/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम कर्मयोगी हो, कर्म करते हुए बाप की याद में रहो, याद में रहने से कोई भी विकर्म नहीं होगा”
प्रश्नः- बाप से बुद्धियोग न लगने का मुख्य एक कारण है – वह कौन सा?
उत्तर:- लोभ। कोई भी विनाशी चीज़ों में लोभ होगा, खाने का वा पहनने का शौक होगा तो उनकी बुद्धि बाप से नहीं लग सकती इसलिए बाबा विधि बताते हैं बच्चे लोभ रखो – बेहद के बाप से वर्सा लेने का। बाकी किसी भी चीज़ में लोभ नहीं रखो। नहीं तो जिस चीज़ से अधिक प्यार होगा वही चीज़ अन्त में भी याद आयेगी और पद भ्रष्ट हो जायेगा।
गीत:- जाग सजनियां जाग…

ओम् शान्ति। अभी यह तो बच्चे जानते हैं यूँ तो सारी दुनिया में सब कहते हैं कि हम सभी आपस में भाई-भाई हैं। वी आर आल ब्रदर्स। परन्तु क्यों नहीं उन आत्माओं को यह समझ में आता है कि हम बाप के बच्चे हैं। वह रचयिता है, हम रचना हैं। जानवर तो नहीं कहेंगे हम ब्रदर्स हैं। मनुष्य ही समझते हैं और कहते भी हैं कि हम सब ब्रदर्स हैं। रचता बाप एक है। उसको कहा जाता है परमपिता परमात्मा। ऐसे हो नहीं सकता कि बहन को भाई कहें। जब सब अपने को आत्मा समझते हैं तब कहते हैं हम आपस में भाई-भाई हैं। सिवाए आत्मा के और कुछ हो नहीं सकता। एक बाप के जिस्मानी बच्चे तो इतने नहीं हो सकते। अभी तुमको अच्छी तरह याद है कि हम आपस में भाई-भाई हैं। बाप बैठ बच्चों को पढ़ाते हैं। भगवानुवाच – हे बच्चों, तो बहुतों को पढ़ाते हैं ना। सिर्फ ऐसे नहीं कहेंगे हे अर्जुन, एक का नाम नहीं लेंगे। सबको पढ़ाते हैं। स्कूल में मास्टर कहेंगे ना – हे बच्चों, अच्छी तरह पढ़ो। हैं तो स्टूडेन्ट। परन्तु टीचर बड़ा, बुजुर्ग है इसलिए स्टूडेन्ट को बच्चे-बच्चे कहते हैं। वहाँ कोई अपने को आत्मा तो समझते नहीं हैं। वहाँ तो जिस्मानी सम्बन्ध ही रहता है। जैसे गांधी को बापू का मर्तबा दे दिया है। मेयर को भी फादर कहते हैं। ऐसे मर्तबे तो बहुतों को देते हैं। यहाँ तो तुम समझते हो हम आत्मायें भाई-भाई हैं। तो भाईयों का बाप जरूर चाहिए। सब आत्मायें जानती हैं वह हमारा बाप है जिसको गॉड फादर कहते हैं। यह आत्मा ने कहा हमारा गॉड फादर। लौकिक फादर को गॉड नहीं कहेंगे। तुम जानते हो हम आत्मा हैं। बाबा हमको पढ़ाने आये हैं अर्थात् पतितों को पावन बनाने आये हैं। हमको पतित से पावन बनाकर और फिर पावन दुनिया का मालिक बनाते हैं। यह बातें कोई भी जानते नहीं। यहाँ तुम बच्चे जानते हुए भी फिर कर्म करने में भूल जाते हो। याद में रहो तो विकर्म नहीं होगा। कर्मयोगी तो तुम हो ही। सन्यासियों का है कर्म सन्यास। सिर्फ ब्रह्म तत्व से योग लगाते हैं। परन्तु सारा दिन तो योग लगा नहीं सकते। ब्रह्म में जाने के लिए योग रखते हैं। समझते हैं ब्रह्म को याद करने से हम ब्रह्म में लीन हो जायेंगे। परन्तु सारा दिन तो ब्रह्म को याद कर नहीं सकते और उस याद से विकर्म भी विनाश नहीं होते हैं। गाया हुआ है पतित-पावन। वह तो बाप ही है। ऐसे तो नहीं कहते पतित-पावन ब्रह्म अथवा पतित-पावन तत्व। सब बाप को ही पतित-पावन कहते हैं। ब्रह्म को कोई फादर नहीं कहते। न ब्रह्म की कोई तपस्या करते। शिव की तपस्या करते हैं। शिव का मन्दिर भी है। तत्व का मन्दिर बन सकेगा क्या? ब्रह्म में तो अण्डे सदृश्य आत्मायें रहती हैं इसलिए शास्त्रों में ब्रह्माण्ड कहा है। यह नाम कोई है नहीं। वो घर है, जैसे आकाश तत्व में कितने साकारी मनुष्य रहते हैं वैसे वहाँ फिर आत्मायें रहती हैं।

तुम बच्चे जानते हो बाबा से हम ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज ले सारे राज़ को जानकर, सारे झाड़ की नॉलेज समझकर मास्टर बीजरूप बन जाते हैं। परमपिता परमात्मा में सारी नॉलेज है, हम उनके बच्चे हैं। वह बैठ समझाते हैं। इस कल्प वृक्ष की उत्पत्ति, पालना और संहार कैसे होता है, उत्पत्ति कहने से जैसे नई दुनिया उत्पन्न करते हैं। स्थापना अक्षर ठीक है। ब्रह्मा द्वारा पतितों को पावन करते हैं। पतित-पावन अक्षर जरूर चाहिए। सतयुग में सब सद्गति में हैं, कलियुग में सब दुर्गति में हैं। क्यों, कैसे दुर्गति हुई? यह कोई को पता नहीं। गाते भी हैं सर्व का सद्गति दाता एक है। आत्मा समझती है – यह एक खेल है। बाप की महिमा गाते हैं ”सदा शिव।” सुख देने वाला शिव, गाते भी हैं दु:ख हर्ता सुख कर्ता। भारत में लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। अब तो नहीं है। लक्ष्मी-नारायण को भगवती भगवान कहते हैं, उन्हों की राजधानी किसने स्थापन की? भगवान निराकार है, उनसे आत्मायें वर्सा पाती हैं। आत्मा ही 84 जन्म लेते-लेते गिरती आती है। गिरते-गिरते दुर्गति को पाती है। यह बात समझानी है, परमात्मा सर्वव्यापी नहीं है। वह बाप सद्गति दाता है, हम सब भाई-भाई हैं, न कि बाप। ऐसे थोड़ेही कहा जाता है – फादर ने ब्रदर्स का रूप धरा है। नहीं, इसलिए पहले यह बताओ कि परमपिता परमात्मा से तुम्हारा क्या सम्बन्ध है? लौकिक सम्बन्ध को तो सब जानते हैं। आत्माओं का है निराकार बाप। उनको हेविनली गॉड फादर कहते हैं। फादर ने जरूर नई रचना का मालिक बनाया होगा। अभी हम मालिक नहीं हैं। हम सुखी थे। दु:खी किसने बनाया? यह नहीं जानते। आधाकल्प से रावण का राज्य चला है तो भारत की यह हालत हुई है। भारत परमपिता परमात्मा की बर्थ प्लेस है। भारत में भगवान आया है। जरूर स्वर्ग स्थापन किया होगा। शिव जयन्ती भी मनाई जाती है। तुम लिख भी सकते हो – हम फलाना बर्थ डे मना रहे हैं। तो मनुष्य वन्डर खायेंगे, यह क्या कहते हैं? बधाई भी दो। बताओ हम पतित-पावन, सद्गति दाता परमपिता परमात्मा शिव की जयन्ती मना रहे हैं। उस दिन बहुत शादमाना करना चाहिए। सर्व के सद्गति दाता की जयन्ती कम बात है क्या? एरोप्लेन द्वारा पर्चे बड़े-बड़े शहरों में गिराने चाहिए। तो अखबारों में भी पड़ेगा। बहुत सुन्दर-सुन्दर कार्ड बनाने चाहिए। मोस्ट बिलवेड बाप की बहुत महिमा लिखनी चाहिए। भारत को फिर से स्वर्ग बनाने आया है। वही बाप राजयोग सिखला रहे हैं। वर्सा भी वही देते हैं। बहुत भभके के शिव जयन्ती के कार्ड छपाने चाहिए। प्लास्टिक पर भी छप सकते हैं। परन्तु अजुन छोटी बुद्धि हैं, राजा रानी तो कोटों में कोई बनेगा। बाकी जरूर अलबेले जो होंगे वह प्रजा बनेंगे। माला 108 की है, बाकी प्रजा तो बहुत होगी। ऐसे भी नहीं हम तो अलबेले हैं, खूब पुरुषार्थ करना चाहिए। बाबा समझाते बहुत हैं परन्तु अमल में मुश्किल लाते हैं। यहाँ अपने को अल्लाह के बच्चे समझते हैं, बाहर निकलने से माया उल्लू बना देती है, इतनी कड़ी माया है। राजाई लेने वाले थोड़े निकलते हैं। चन्द्रवंशी को भी हम नापास कहेंगे। तुम सबकी पढ़ाई और पद को जानते हो। दुनिया में रामचन्द्र के पद को कोई जानता होगा? बाबा अच्छी तरह समझाते हैं। कैसे हम शिव जयन्ती के लिए फर्स्टक्लास निमंत्रण बनावें जो मनुष्य चक्रित हो जाएं। विचार सागर मंथन गाया हुआ है। शिवबाबा को थोड़ेही विचार सागर मंथन करना है। यह बच्चों का काम है। बाबा राय देते हैं – किसकी बुद्धि में आये और काम न करे तो बाबा उनको अनाड़ी कहेंगे। बच्चे जानते हैं परमपिता परमात्मा हमको ब्रह्मा द्वारा विष्णुपुरी का मालिक बना रहे हैं। शंकर द्वारा विनाश होना है। त्रिमूर्ति ऊपर खड़ा है।

तुम सब पण्डे हो जो रूहानी यात्रा सिखलाते हो। तुम भी लिख सकते हो – सत्य मेव जयते… बरोबर सत्य बाबा हमको विजय पाना सिखलाते हैं अथवा विजय प्राप्त कराते हैं। कोई एतराज उठावे तो उनको समझाना है। बाबा का ख्याल चला कि शिव जयन्ती कैसे मनानी चाहिए। गीता का भगवान शिव है, न कि कृष्ण – इसका बहुत प्रचार करना है। वह रचयिता, वह रचना। वर्सा किससे मिलेगा? श्रीकृष्ण है पहली रचना। दिखाया है सागर में पीपल के पत्ते पर कृष्ण आया। यह है गर्भ महल की बात। स्वर्ग में गर्भ महल में मौज रहती है। यहाँ नर्क में गर्भ जेल में फथकते हैं। सतयुग में गर्भ महल, कलियुग में गर्भ जेल होता है। कृष्ण का चित्र कितना अच्छा है। नर्क को लात मार रहे हैं। कृष्ण के 84 जन्म भी लिखे हुए हैं। भगवानुवाच, तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो, मैं तुमको बतलाता हूँ। तो जिसने पूरे 84 जन्म लिए हैं उनको ही समझाता हूँ। कितना सहज है। साथ में मैनर्स भी चाहिए। लोभ रखना चाहिए – बेहद के बाप से वर्सा लेने का और कोई चीज़ का लोभ नहीं इसलिए ऐसी कोई चीज़ अपने पास नहीं रखनी चाहिए जो बुद्धि जाये। नहीं तो पद भ्रष्ट हो जायेगा। देह सहित जो कुछ है सबसे बुद्धि निकालनी है। एक बाप को याद करना है। कोई मनुष्य बहुत फर्नीचर रखने वाला होगा तो मरने समय वह याद आता रहेगा। जिस वस्तु से जास्ती प्यार होगा वह पिछाड़ी में याद जरूर आयेगी। बाप बच्चों को समझाते हैं कोई भी चीज़ लोभ के वश छिपाकर मत रखो। यज्ञ से हर चीज़ मिल सकती है। छिपाके कुछ रखा तो बुद्धि जरूर लटकेगी। बाबा का फरमान है – शिवबाबा का भण्डारा है – बच्चों को सब कुछ मिलना है। ऐसा भी ख्याल नहीं आना चाहिए कि फलाने को साड़ी अच्छी पड़ी है, हम भी पहनें। अरे तुम बाप से राजाई का वर्सा लेने आई हो कि साड़ी का वर्सा लेने आई हो? जो अच्छी सर्विस करते हैं उन पर सब कुर्बान जाते हैं। बोलो, हम सिवाए शिव के भण्डारे से मिले हुए और कुछ पहन नहीं सकती। हम यज्ञ से ही लेंगी तो बाबा की याद रहेगी। शिवबाबा के भण्डारे से यह मिला। नहीं तो चोरी आदि की आदत पड़ जाती है। अरे यहाँ पीफाइज़ (त्याग) करेंगे तो वहाँ बहुत फर्स्टक्लास चीज़ें मिलेंगी। शिवबाबा कहाँ-कहाँ बच्चों की परीक्षा भी लेते हैं। देखें कितना देह-अभिमान है। तुम्हारा वायदा है – जो खिलायेंगे, जो पहनायेंगे… आदि। दिल में समझना चाहिए – यह शिवबाबा देते हैं। इतनी फर्स्टक्लास अवस्था होनी चाहिए। बाबा से पूरा वर्सा लेना है तो श्रीमत पर पूरा-पूरा पुरूषार्थ करो। बाबा की राय पर चलो। बाबा मम्मा कहते हो तो पूरा-पूरा फालो करो। सबको रास्ता बताओ। बाबा से वर्सा मिला था, अब फिर मिल रहा है। याद की यात्रा करते रहो। बाबा समझाते हैं – तुम जितना रूसतम बनेंगे उतना माया ज़ोर से आयेगी। तुम मूँझते क्यों हो? कोई-कोई बच्चे को बाबा लिखते हैं तुम तो बहुत अच्छी सर्विस करने वाले हो। माया के तूफान आयेंगे – क्या सारी आयु ब्रह्मचर्य में रहेंगे? बुढ़ापे में भी आकर चकरी लगेगी। शादी करें, यह करें। माया बूढ़े को भी जवान बना देगी। ऐसा फथकायेगी। तुम डरते क्यों हो? भल कितना भी तूफान आये, बाबा को याद करने से बच जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) लोभ के वश कोई भी चीज़ छिपाकर अपने पास नहीं रखनी है। बाप के फरमान पर चलते रहना है।

2) बाबा जो खिलाये, जो पहनाये, एक शिवबाबा के भण्डारे से ही लेना है। देह-अभिमान में नहीं आना है। मम्मा बाबा को पूरा फालो करना है।

वरदान:- सत्यता की हिम्मत से विश्वास का पात्र बनने वाले बाप वा परिवार के स्नेही भव
विश्वास की नांव सत्यता है। दिल और दिमाग की ऑनेस्टी है तो उसके ऊपर बाप का, परिवार का स्वत: ही दिल से प्यार और विश्वास होता है। विश्वास के कारण फुल अधिकार उसको दे देते हैं। वे स्वत: ही सबके स्नेही बन जाते हैं इसलिए सत्यता की हिम्मत से विश्वासपात्र बनो। सत्य को सिद्ध नहीं करो लेकिन सिद्धि स्वरूप बन जाओ तो तीव्रगति से आगे बढ़ते रहेंगे।
स्लोगन:- सबसे अधिक धनवान वह है जिसके पास शान्ति व पवित्रता का खजाना है।

[wp_ad_camp_5]

 

TODAY MURLI 10 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

 

10/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are karma yogis. While performing actions, stay in remembrance of the Father. By staying in remembrance, you won’t perform sinful actions.
Question: What is one main reason for not being able to connect your intellect’s yoga to the Father?
Answer: Greed. If there is greed for perishable things or an interest in eating good food or wearing good clothes, then that person’s intellect would not be connected to the Father. This is why Baba shows you a method: Children, just have greed for claiming your inheritance from the unlimited Father. Don’t have greed for anything else. If you do, the thing you love the most will be remembered at the end and your status will be destroyed.
Song: Awaken o brides, awaken! The new age is about to dawn.

Om shanti. You children know that the whole world says, “We are all brothers.” So, why are those souls not able to understand that they are children of the one Father; that He is the Creator and we are the creation? Animals wouldn’t say that they are brothers. It is human beings who understand and say that they are all brothers. The Father, the Creator, is only One. He is called the Supreme Father, the Supreme Soul. It is not possible that a sister would be called a brother. When all of you consider yourselves to be souls, you say that you are brothers. There couldn’t be anything other than souls. There couldn’t be so many physical children of one father. You now remember very well that you are all brothers. The Father sits here and teaches you children. God speaks: O children! Therefore, He is teaching many, is He not? He would not say, “O Arjuna”, to just one person. He would not mention the name of just one person. He is teaching everyone. In a school , the master would say: O children, study very well! They are students, but the teacher is mature and so he calls the students ‘children’. There, no one considers himself to be a soul. They just have physical relationships. Gandhiji was given the status of Bapu (father); a mayor is also called f ather. Such a status is given to many. Here, you souls understand that you are brothers. Therefore, brothers definitely need the Father. All souls know that He is their Father and that He is called God, the Father. Souls say: He is God, our Father. A physical father would not be called God. You know that you are souls. Baba has come to teach you. That is, He has come to purify the impure. He will make us pure from impure and make us into the masters of the pure world. No one knows these things. You know them here, but you forget them when you perform actions. Stay in remembrance and you won’t perform sinful actions. You are karma yogis. Sannyasis have renunciation of karma. They simply have yoga with the brahm element. However, they are unable to have yoga throughout the whole day. They have yoga in order to go to the brahm element. They feel that by remembering the brahm element they will merge into it. However, they’re unable to remember the brahm element throughout the whole day. Their sins cannot be absolved through that remembrance. The Purifier is remembered. Only the Father is that. They don’t call the brahm element or other elements the Purifier. Everyone calls the Father, the Purifier. No one calls brahm, the Father, nor does anyone do tapasya of the brahm element; they do tapasya of Shiva. There are temples to Shiva. Can a temple be built to the elements? Souls reside in the brahm element in their egg form and this is why the name ‘Brahmand’ is mentioned in the scriptures. That is not really a name, for it is the home. For instance, so many corporeal human beings reside beneath the sky element and so souls reside up there in the same way. You children know that you receive the knowledge of the beginning, the middle and the end of the whole drama from Baba. You come to know all the secrets; you understand the knowledge of the whole tree and then become master seeds. The Supreme Father, the Supreme Soul, has all knowledge and we are His children. He sits here and explains to us how this kalpa tree is created, sustained and destroyed. When you speak of creation, it is as though He creates a new world. The word ‘establishment’ is better. He purifies the impure through Brahma. The word ‘Purifier’ is definitely needed. Everyone in the golden age is in salvation whereas everyone in the iron age is in degradation. Why? How did degradation take place? No one knows this. They sing that the Bestower of Salvation for all is One. The soul understands that this is a play. They sing praise of the Father as ‘Sada Shiva’ (Constantly Benevolent). Shiva is the One who gives happiness. He is remembered as the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. There used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan in Bharat. It is no longer that. Lakshmi and Narayan are called a goddess and god. Who established their kingdom? God is incorporeal and souls receive the inheritance from Him. It is souls that take 84 births and continue to descend. While descending, they become degraded. You have to explain that God is not omnipresent. That Father is the Bestower of Salvation and we are all brothers; we are not the Father. It is not said that the Father adopted the form of brothers; no. This is why you first have to ask them: What is your relationship with the Supreme Father, the Supreme Soul? They all know their physical relations. The incorporeal One is the Father of souls. He is called Heavenly God, the Father. The Father must definitely have made you into the masters of the new creation. We are no longer the masters. We were happy. So, who made us unhappy? People don’t know this. Ravan’s kingdom has continued for half the cycle. Therefore this has become the condition of Bharat. Bharat is the birthplace of the Supreme Father, the Supreme Soul. God came in Bharat. He must definitely have established heaven. The birthday of Shiva is also celebrated. You can even write: For example, we are now celebrating such and such a bir thday. People would be amazed at what you say. Also give them greetings and tell them that you are celebrating the birthday of the Purifier, the Bestower of Salvation, the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. On that day, you should have a lot of celebration and festivity. The birthday of the Bestower of Salvation for all is not a small thing. You should drop leaflets from aeroplanes over big cities; it would then also be printed in the newspapers. You should make very beautiful cards. You should write a lot of praise of the most beloved Father. He has come to make Bharat into heaven once again. That same Father is teaching Raja Yoga. He is the One who also gives the inheritance. You should print attractive cards for Shiva’s birthday. You can even print them on plastic. However, as yet, your intellects are very small (limited). Only a handful out of multimillions will become kings and queens whereas those who are careless will surely become subjects. There is the rosary of 108, but there will be many subjects. Don’t just think that you are careless, but make a lot of effort. Baba explains a great deal, but you scarcely put anything into practice. Here, you consider yourselves to be the children of God (Allah) but when you go outside, Maya makes you into bats (ullu). Maya is so strong. Only a few will emerge to claim the kingdom. Even the moon dynasty is considered to be of those who failed. You know everyone’s study and their status. Would anyone in the world know the status of Ramachandra? Baba explains to you very well how you should print firstclass invitation cards for Shiv Jayanti so that people are amazed by them. The churning of the ocean of knowledge has been remembered. Shiv Baba doesn’t have to churn the ocean. This is the duty of you children. Baba advises you: If something enters the intellect of someone, but he doesn’t put it into practice, Baba would call him a fool. You children know that the Supreme Father, the Supreme Soul, is making you into the masters of the land of Vishnu through Brahma. Destruction has to take place through Shankar. The Trimurti is up above. You are all guides who teach the spiritual pilgrimage. You can even write: Truth brings victory. Truly, the true Baba is teaching us how to gain victory, that is, He is enabling us to gain victory. If someone objects to this, you can explain to him. Baba was thinking about how Shiv Jayanti should be celebrated. The God of the Gita is Shiva, not Krishna. You have to make this widely known. That One is the Creator whereas this one is the creation. From whom would you receive the inheritance? Shri Krishna is the first creation. They have portrayed Krishna arriving on a pipal leaf floating on the ocean. This refers to the palace of a womb. In heaven, there is pleasure in the palace of a womb. Here, in hell, a child would be agitated in the jail of a womb. In the golden age, the womb is a palace whereas in the iron age the womb is a jail. The picture of Krishna is so good: he is kicking hell away. You have written about the 84 births of Krishna. God speaks: You don’t know your own births. I tell you about them. Therefore, I explain to those who have taken the full 84 births. It is so easy! Manners are also required. There should be greed for claiming your inheritance from the unlimited Father and not for anything else. Therefore, you mustn’t keep anything that would pull your intellect. Otherwise, your status will be destroyed. Remove your intellect from everything including your body. Remember the one Father. If someone has accumulated a lot of furniture , he would remember that when he dies. Whatever you have a lot of love for, that will definitely be remembered at the end. The Father explains to you children: Don’t keep anything hidden away due to greed. You can receive everything from the yagya. If you keep something secretly hidden away, your intellect will dangle after that. Baba’s orders are: This is Shiv Baba’s treasure-store. Children should receive everything from here. You shouldn’t even have the thought: So-and-so has a good sari, so I too should wear one like that. Oho, have you come to the Father to claim your inheritance of the kingdom or the inheritance of a sari? Everyone has great regard for those who do good service. Tell them: I cannot wear anything except that which I have received from Shiva’s treasure-store. I will receive everything from just the yagya. Then, there will be remembrance of Baba: I received this from Shiv Baba’s treasure-store. Otherwise, the habit of stealing will be instilled. Only if you sacrifice yourself here will you receive many firstclass things there. Sometimes, Shiv Baba even tests the children and sees how much body consciousness they have. You have promised: Whatever You feed me, whatever You give me to wear… You should understand in your hearts that Shiv Baba gave you that. You should have such a first-class stage. If you want to claim your full inheritance from Baba, then make full effort by following shrimat. Follow Baba’s advice. Since you say, “Mama, Baba”, follow them completely. Show everyone the path. We received our inheritance from Baba and we are receiving it once again. Continue to stay on the pilgrimage of remembrance. Baba explains: The more powerful you become, that much more strongly Maya will come to you. Why do you become confused? Baba writes to some children: You are going to do very good service. However, storms of Maya then come: Am I going to remain celibate all my life? Even in old age, your intellects will spin in this way: I want to get married; I want to do this. Maya makes even old ones become young again. She will harass them a great deal. Why are you afraid? No matter how many storms come, you will be saved by remembering Baba. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and goodmorning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t keep anything secretly hidden with you due to greed. Continue to follow the Father’s directions.
  2. Whatever Baba feeds you and whatever He gives you to wear, take everything from Shiv Baba’s treasure-store. Don’t become body conscious. Follow Mama and Baba completely.
Blessing: May you be loving to the Father and the family and with the courage of truth, become trustworthy.
The boat of faith is truth. When there is honesty in your heart and head, there is then automatically love from the heart and trust from the Father and the family. Because of having that trust, such a soul is given full rights. Such souls are automatically loved by all and this is why you have to become trustworthy with the courage of truth. Do not try to prove the truth, but become an embodiment of success and you will continue to move forward at a fast speed.
Slogan: The wealthiest of all is one who has the treasures of peace and purity.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Font Resize