today murli 10 july

TODAY MURLI 10 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 9 July 2018 :- Click Here

10/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, keep a picture of Shiv Baba in a little room. Go there again and again and sit in front of it and talk to Baba and your remembrance will then remain throughout the whole day.
Question: What new and unique type of love can only be experienced at the confluence age?
Answer: To love the Father who has no image is a new type of love. You understand that incorporeal Baba, the One without an image, has come into the corporeal one. You are sitting in front of Him. At the confluence age, you receive love directly from God. This love is new and unique. You have loved bodily beings throughout the whole cycle. Now love the bodiless Father. Such love can only exist at the confluence age.
Song: Who has come to the door of my heart in the early morning.

Om shanti. You children understand that the unlimited Father is without an image. We have now come to Baba and are sitting with Him with this new type of love. This is known as new love. Children only receive God’s love once. You children can understand that we all definitely remember the Supreme Father, the Supreme Soul. He sits and teaches us children. That incorporeal Baba, the One without an image, has entered this one. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Father of us souls. We have now come to know and recognise Him. This love is unique. In fact, love normally only exists between bodily beings but that One is bodiless, without a body. You are sitting in front of Him. He comes and teaches you with great love. So this is a new aspect. Previously, all the desires you had were to receive wealth or a palace. All of those desires have now changed. Your desires compared to those of the whole world have changed. We are now making effort to become the masters of the world through Baba. You are now sitting personally in front of Him. You understand that He is Shiva, the Father of all souls, the Purifier. It is that One whom you have to remember. You are now sitting personally in front of Him. You have the enthusiasm in your hearts that you are to claim your unlimited inheritance from the unlimited Father. Baba is so unique! He is without an image and so wonderful ! No one else knows this. Only you know how the Father comes and makes you belong to Him and teaches you. So, what method can you create so that you continue to remember the Father again and again? The Father advises you: Each of you should keep a picture of Shiv Baba in your home. On seeing Shiv Baba’s picture, you will understand that the unlimited Father, the Purifier, has come to establish the pure world. We are claiming our inheritance of self-sovereignty of heaven from Him as we did 5000 years ago. Souls understand that they will go to heaven and rule their kingdoms through bodies. This is something we never even dreamt of. That One has now come. Therefore, make a little room and keep a picture of Shiva there and write: Baba has come. He has to come to establish heaven, to change the residents of hell into the residents of heaven. If you continue to look at Shiv Baba again and again, you will remember Him. Some people put a photograph (in a locket) around their necks. They even put a photo of their husbands around their necks. A similar thing is also being prepared for you children. To remember the Father from beyond is something unique. Stop remembering everyone else and remember the one Father. Just as people on the path of devotion make a little room or a shrine in their homes for worship, in the same way, on the path of knowledge, make a small room and just keep a picture of Shiv Baba there. Human beings believe that the murli of the Brahma Kumaris frees you from vice. Oh! but this is very good! Vice definitely has to be renounced in order to become pure. They become upset and ask: Why do you renounce devotion? Achcha, we do devotion, but only of the One and none other. Break your intellect’s yoga away from the company of others. Your war is with Maya. You remember the Father and Maya tries to break the connection. We receive our inheritance from Shiv Baba. Continue to have remembrance in this way. If you continue to look at Shiv Baba, your little room will become Paradise. Meera too had visions of Paradise when she did devotion. It was Shiv Baba who granted her visions. It has now entered your intellects that we are becoming the masters of the world through Shiv Baba. People on the path of devotion don’t know what Shiva does or why they sacrifice themselves to Him. You understand that Shiv Baba is the highest of all and that He is called the Supreme Soul. Surely, something new would be received from God. He is called Heavenly God, the Father. Shri Krishna exists in heaven. He cannot be called a father; he is a child. The incorporeal Father is the One who establishes heaven. He is not a bodily being. In fact, nowadays, they call everyone ‘father . They even called Gandhi ‘Bapuji’ (father). However, those of other religions would not call him that. They don’t understand the meaning of that. You understand that the Bapuji of everyone is Shiv Baba. Shiva is not Dada, He is Baba and He resides in the incorporeal world. People remember Krishna, but he is a resident of Paradise. All bodily beings, rishis and munis etc. have been here. God is incorporeal; He doesn’t have a body. Because of the concept of omnipresence, no one’s intellect works. The Father comes and opens the locks of your intellects. This is a new aspect here. In other spiritual gatherings, they do not understand that Shiv Baba is giving them knowledge. Only bodily beings sit there. You have the faith that you are listening to the incorporeal Father. Surely, it is only when the incorporeal One comes into the corporeal that He can introduce Himself. The Father comes every cycle. He comes and makes you into the masters of the world. However, Maya still harasses you a great deal; she creates obstacles. Devils create obstacles in the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Obstacles come when you become body conscious. Baba says: Consider yourselves to be bodiless. We belong to Baba. Baba has come to take us back home. You have to shed your bodies and return home. Talk to yourselves in this way. Renounce remembering subtle and physical bodily beings. Let there be this firm faith: We souls have come from the supreme abode. We are residents of that place. We ruled a kingdom in the golden age for so many births. We have taken 84 births and the play is now coming to an end. We have to return home. If there is any disturbance in your home, keep a picture of Shiv Baba in a little room. Brahmin priests tell women that they shouldn’t worship Shiva. However, Shiv Baba comes especially for the mothers. Many pour water over a Shiv lingam. The priests become very happy, because it is the mothers who give the most money. It is the innocent mothers who have true feelings of devotion, whereas men are very unstable; they repeatedly go away. Their intellects’ yoga wanders a lot. However, a wife has a lot of attachment to her husband. You children understand that this is the land of sorrow. Baba, who creates the land of happiness, has now come. You have to invent methods for remembering the Father. He cannot be seen with these eyes. It is the soul that says: Shiv Baba is our Father. You will experience great happiness on seeing the picture of Shiv Baba. The yoga of you children has to be unadulterated. Keep a picture of Shiva and remember Him again and again. Baba has also given you his own example of how much love he had for the picture of Lakshmi and Narayan. Then, one day, I thought: Why is Lakshmi massaging his feet like a maid? That is not right. So an artist was told to liberate Lakshmi from that. However, the picture of Narayan was kept in his pocket. One was kept in a pocket and another in the cash box. Baba would look at the picture again and again and become intoxicated. However, he would do that secretly, so that no one was able to see him. Otherwise, they would say: What is this person doing? First, he had love for Krishna and then he left him and had love for Vishnu. Just as there is intense devotion, so your remembrance should be just as intense. There is great attainment through this, whereas they attain nothing by doing that. They only attain a little happiness for a temporary period and they then have to make effort again in their next birth. Devotion and business both require effort. First earn; only then can you spend. Baba inspires you to make so much effort in this one birth that you experience its reward for 21 births. There will be no need to make effort there. You will remain constantly happy for 21 births. Therefore, should you not remember such a Father who teaches you to make such effort? He says: Stay in remembrance with every breath. Gurus tell their followers: Rotate the rosary and continue to chant, “Rama, Rama”. That’s all! By chanting Rama’s name, they have goose pimples. While chanting “Rama, Rama” they start swaying in intoxication. It is as though they have reached the land of Rama. Baba says to you: Let there be the soundless chant of remembrance of one Shiv Baba and let nothing else be remembered. However, Maya also opposes you. Maya doesn’t oppose you on the path of devotion. This is the war between Maya and you children of God. Plays are also created in which they portray what God says and what Maya says. It is now the confluence age. Impure and vicious thoughts of Maya will continue to come. Some storms come with such great force that they blow human beings overand throw them far away. These storms are of Maya, Ravan. Baba continues to tell you methods to save yourself from them. You say: The Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching us Raja Yoga. If anyone asks you who inspired you to have renunciation and who your guru is, tell him: It is the Supreme Father, the Supreme Soul. There is no one else for whom God can come and inspire to have renunciation. Elsewhere, it is human beings who inspire other human beings. Here, the Father comes and tells you: Renounce all the relations of bodies, including your own bodies. Renounce this old world and remember the new world. Sannyasis cannot say this. The old world is now to be destroyed in a practical way. Therefore, remove everyone from your intellects and link your intellects to the one Father. You are now engaged. If you remember a bodily being, your engagement is weakened. Renounce all other religions such as: I am so and so, or I am this or that. Renounce all of that and consider yourself to be souls. You have now come to know about your 84 births. You should applaud because you are now to return home in great happiness. You shed a body and take another. Consider yourself to be souls. Previously, I, the soul, was beautiful and I then took 84 births. I will now return home and then come back to rule in the kingdom of heaven. It is so easy to spin this discus of self-realisation. Keep a picture of Shiv Baba in your pocket. Talk to Him in this way: Baba, You have come. You are so sweet. You are our Baba. You used to talk to Krishna in this way on the path of devotion. First-class lockets etc. of Shiva will be made of gold and silver. Poor ones will be given lockets of gold and wealthy ones of silver. These mothers are very sweet. Villagers have very good feelings of devotion. Baba also becomes pleased on seeing His ordinary children. Krishna was known as a village urchin. In fact, Krishna cannot become a village urchin; he is the master of heaven. They have mixed up things about this one with those of Krishna. It is this one who has fully experienced village life. Therefore, neither Shiv Baba nor Krishna can be a village urchin. Yes, this Dada was an urchin in his childhood. He grew up in a village. The Father has come once again and entered this ordinary body. Baba has explained the main aspect of how everything depends on remembrance. You should never forget remembrance. A lokik (physical) child would never say that he forgets his father. Does a bride ever forget her bridegroom? It is impossible. This is the effort you children have to make. It is only by practising remembrance constantly that your sins will be absolved. Otherwise, there will have to be the experience of punishment and you will not become part of the rosary of victory. It is a wonder of the Father that He comes and uplifts the old, the poor, the uneducated and downtrodden ones, the hunchbacks, etc. and makes them all belong to Him. In fact, there is no need for a picture, but Maya makes you forget and this is why a picture is kept. It should remain in your intellects that you are going to Baba. We have seen the path to liberation and liberation-in-life. There are no other guides who can take us there. This is also known as Indraprasth (Court of Indra). If anyone impure comes and sits here secretly, he will become one with a stone intellect. Baba is the One who knows all the secrets. This Baba (Brahma) knows all the external things. That Baba (Shiv Baba) is able to know straight away whether anyone sitting here secretly is impure. Therefore, both the one who brings an impure person and the impure person who comes and sits here will experience punishment. Therefore, you must never bring impure ones here. The laws are very strict. Dirty and impure ones should not be allowed to sit here. Otherwise, you will have to experience very severe punishment. No cheating or stealing can carry on here. Both accounts of sin and charity remain with Dharamraj. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Stop remembering everyone. Disconnect your intellect’s yoga from everyone and stay in remembrance of the one Father. Make a little room for Shiv Baba and sit in unadulterated remembrance of Him.
  2. Tell yourself these sweet things: Previously, we were so beautiful. We have now completed 84 births and are going to return home happily. Talk to yourself in this way and spin the discus of self-realisation.
Blessing: May you have a right to a high status by making your stage constant and stable with remembrance of the One.
In order to make your stage constant and stable, remain constantly stable in the remembrance of One. If you remember anyone else instead of the One, then, instead of having a constant and stable stage, your stage will become diluted (sweetness of many). If any other sweetness attracts you, and your final moment comes at that moment, you cannot claim a high status. So, pay attention at every moment. Make the lesson of One constantly firm: one Father, the one time of the confluence age and stay in a constant and stable stage and you will claim a right to a high status.
Slogan: Those who accept the food of pure thoughts are the true Vaishnavs.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 10 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 July 2018

To Read Murli 9 July 2018 :- Click Here
10-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – शिवबाबा का चित्र एक कोठरी में रख दो, घड़ी-घड़ी जाकर उसके सामने बैठ बातें करो, तो सारा दिन याद बनी रहेगी”
प्रश्नः- नया और अनोखा प्यार कौनसा है, जिसकी अनुभूति केवल संगम पर ही होती है?
उत्तर:- विचित्र बाप के साथ प्यार करना – यह है नया प्यार। तुम जानते हो निराकार विचित्र बाबा इस साकार में आया हुआ है, हम उनके सामने बैठे हैं, हमें संगम पर डायरेक्ट ईश्वर का प्यार मिलता है – यह है नया और अनोखा प्यार। सारा कल्प देहधारियों से प्यार किया, अब विदेही बाप से प्यार करना है। ऐसा प्यार संगम पर ही होता है।
गीत:- कौन आया मेरे मन के द्वारे…..

ओम् शान्ति। बच्चे जानते हैं कि बेहद का बाप विचित्र है और अभी एक नया प्यार लेकर के हम बाबा के पास बैठे हैं वा आये हैं। इसको नया प्यार कहते हैं। ईश्वर का प्यार सिर्फ एक बार बच्चों को मिलता है। बच्चे समझ सकते हैं बरोबर परमपिता परमात्मा को हम सब याद करते हैं। वह बैठ बच्चों को पढ़ाते हैं। वह निराकार विचित्र बाबा इसमें आया हुआ है। परमपिता परमात्मा हम आत्माओं का बाप है। हम अभी उनको जान-पहचान गये हैं। यह प्यार भी अनोखा है। वैसे तो हमेशा देहधारी को ही प्यार किया जाता है। यह है विदेही, बिगर देह के। हम उनके सामने बैठे हैं। वह बहुत प्यार से आकर पढ़ाते हैं। तो नई बात हुई ना। आगे जो आशायें थी – धन मिले, महल मिलें, वह सब आशायें बदल गई हैं। सारी दुनिया में तुम्हारी आश बदली हुई है। हम अभी बाबा से विश्व का मालिक बनने का पुरुषार्थ कर रहे हैं। अभी तुम सम्मुख बैठे हो। जानते हो वही सब आत्माओं का बाप पतित-पावन शिव है। याद भी उनको ही करते हैं। अभी तुम बच्चे सम्मुख बैठे हो। दिल में उमंग है – बेहद के बाप से, बेहद का वर्सा लेना है। कितना विचित्र, अनोखा, वन्डरफुल बाबा है! यह और कोई नहीं जानते। सिर्फ तुम ही जानते हो – बाप कैसे अपना बनाकर फिर पढ़ाते हैं। तो ऐसी क्या युक्ति करें जो घड़ी-घड़ी बाप को याद करते रहें? बाप राय देते हैं – हर एक अपने घर में शिव का चित्र रख दे। शिवबाबा का चित्र देख समझेंगे – बेहद का बाबा पतित-पावन आया हुआ है पावन दुनिया स्थापन करने। उनसे हम अभी 5 हजार वर्ष पहले मुआफिक वर्सा ले रहे हैं, स्वर्ग के स्वराज्य का। आत्मा जानती है – हम स्वर्ग में जाकर शरीर के साथ राज्य करेंगे। जो बात कभी स्वप्न में भी नहीं थी, अब वह आया है तो एक कोठरी अपनी बनाए शिव का चित्र रख उसमें लिख देना चाहिए – बाबा आया हुआ है। उनको आना ही है स्वर्ग की स्थापना करने। नर्कवासियों को स्वर्गवासी बनाने। घड़ी-घड़ी शिवबाबा को देखते रहेंगे तो याद रहेगी। चित्र गले में भी डाल देते हैं। पति का चित्र भी गले में डाल देते हैं ना। तुम बच्चों के लिए भी तैयार करा रहे हैं। पारलौकिक बाप को याद करना बड़ा अनोखा है। और सभी की याद को समेट एक को याद करना है। जैसे भक्ति मार्ग में भी अपने घर में पूजा की कोठी अथवा मन्दिर बनाते हैं ना, वैसे ज्ञान मार्ग में भी कोठी बनाए उसमें सिर्फ शिवबाबा का चित्र रखना चाहिए। मनुष्य समझते हैं – ब्रह्माकुमारियों की मुरली विकार से छुड़ाती है। अरे, यह तो अच्छा है ना। पावन बनने लिए जरूर विकारों को तो छोड़ना होगा। बिगड़ते हैं – भक्ति क्यों छोड़ते हो? अच्छा, हम भक्ति करते हैं परन्तु एक की, दूसरा न कोई। और संग बुद्धियोग तोड़ देना है।

तुम्हारी युद्ध माया से है। तुम बाप को याद करते हो, माया तोड़ने की कोशिश करती है। हमको शिवबाबा से वर्सा मिलता है – ऐसे याद करते रहेंगे। शिवबाबा को देखते रहेंगे तो तुम्हारी कोठी वैकुण्ठ बन जायेगी। मीरा भी भक्ति करती थी तो वैकुण्ठ का साक्षात्कार करती थी। उनको भी साक्षात्कार कराने वाला शिवबाबा है। तुम्हारी बुद्धि में अब आया है – हम शिवबाबा से विश्व का मालिक बनते हैं। भक्ति मार्ग में यह पता नहीं रहता – शिव क्या करते हैं? क्यों उस पर बलि चढ़ते हैं? तुम समझते हो – सबसे ऊंच है शिवबाबा, उनको ही परमात्मा कहा जाता है। परमात्मा से जरूर नई चीज़ मिलेगी। उनको हेविनली गॉड फादर कहा जाता है। स्वर्ग में है श्रीकृष्ण, उनको फादर नहीं कहेंगे। वह तो बच्चा है। स्वर्ग स्थापन करने वाला बाप है निराकार। वह देहधारी नहीं। यूँ तो आजकल सबको फादर कहते रहते हैं। गांधी को भी बापू जी कहते हैं। परन्तु सब धर्म वाले नहीं कहेंगे। अर्थ तो समझते नहीं। तुम जानते हो – सबका बापू जी शिवबाबा है। शिव दादा नहीं, बाबा। वह निराकारी दुनिया में रहते हैं। कृष्ण को याद करेंगे लेकिन वह तो वैकुण्ठ निवासी है। ऋषि-मुनि आदि सब देहधारी यहाँ होकर गये हैं। परमात्मा है निराकार, उनको देह है नहीं। सर्वव्यापी के ज्ञान कारण बुद्धि किसकी भी चलती नहीं। बाप आकर बुद्धि का ताला खोलते हैं। यहाँ है नई बात। और सतसंग में ऐसे नहीं समझते हैं कि शिवबाबा नॉलेज दे रहे हैं। वहाँ तो सब देहधारी बैठे हुए हैं। तुमको निश्चय है – हम निराकार बाप से सुन रहे हैं। निराकार जरूर जब साकार में आये तब तो पहचान दे। कल्प-कल्प बाप आते हैं। आकर मालिक बनाते हैं। फिर भी माया कितना हैरान करती है! विघ्न डालती है। रूद्र ज्ञान यज्ञ में असुरों के विघ्न पड़ते हैं। देह अभिमान आने से ही विघ्न पड़ते हैं। बाबा कहते हैं – अपने को अशरीरी समझो। हम तो बाबा के बने हैं। बाबा वापिस लेने आये हैं। यह शरीर छोड़ अब वापिस जाना है। अपने से बातें करो। सूक्ष्म देहधारी वा स्थूल देहधारी सबकी याद छोड़नी है। पक्का-पक्का निश्चय करना है। हम आत्मायें परमधाम से आई हैं। वहाँ के हम रहने वाले हैं। सतयुग में इतने जन्म राजाई की। 84 जन्म लिए, अब नाटक पूरा होता है। वापिस जाना है। घर में कोई हंगामा हो तो कोठरी में शिव का चित्र रख दो।

ब्राह्मण लोग स्त्रियों को कहते हैं कि शिव की पूजा नहीं करनी है। परन्तु शिवबाबा तो आते ही हैं माताओं के लिए। शिव के ऊपर तो बहुत जाकर लोटियां चढ़ाते हैं। पुजारी लोग खुश होते हैं क्योंकि मातायें सबसे जास्ती पैसे रखती हैं। भक्ति की सच्ची भावना अबलाओं माताओं में रहती है। पुरुष तो जैसे खग्गे हैं। घड़ी-घड़ी बाहर निकल जाते हैं। बुद्धियोग बहुत भटकता है। पत्नि का पति तरफ बहुत मोह जाता है। तुम बच्चे समझते हो यह दु:खधाम है। अब सुखधाम स्थापन करने वाला बाबा आया हुआ है। युक्तियां रचनी है – हम बाप को कैसे याद करें? उनको इन आंखों से नहीं देखा जाता। यह आत्मा कहती है – हमारा शिवबाबा बाप है। शिव का चित्र देखने से बड़ी खुशी होगी।

तुम बच्चों का योग भी अव्यभिचारी चाहिए। शिव का चित्र रख घड़ी-घड़ी याद करते रहो। बाबा ने अपना मिसाल बताया था। लक्ष्मी-नारायण के चित्र से हमारा कितना प्यार था! फिर एक दिन ख्याल आया – लक्ष्मी दासी बन पांव दबा रही है। ऐसे तो ठीक नहीं है। तो आर्टिस्ट को कहा – इससे लक्ष्मी को तो मुक्त कर दो। बाकी नारायण का चित्र पॉकेट में पड़ा रहता था। एक पॉकेट में, एक मुरादी के बॉक्स में। घड़ी-घड़ी चित्र देखता रहता था। जैसे मस्त। परन्तु गुप्त करता था। कोई देखे नहीं। नहीं तो कहेंगे – यह क्या करता है? पहले कृष्ण से प्यार था फिर उनको छोड़ विष्णु से हो गया। जैसे भक्ति नौधा होती है। वैसे यह याद भी नौधा होनी चाहिए, इससे प्राप्ति बहुत भारी है। उनसे तो कुछ नहीं अल्पकाल के लिए थोड़ा सुख मिलता है। फिर दूसरे जन्म में मेहनत करनी पड़े। भक्ति में, धन्धे आदि में मेहनत लगती है। कमाओ, तब खाओ। बाबा तुमको इस एक जन्म में इतनी मेहनत कराते हैं जो 21 जन्म प्रालब्ध भोगते रहेंगे। कुछ मेहनत करने की दरकार नहीं रहेगी। 21 जन्म सदा सुखी रहेंगे। तो ऐसा बाप जो पुरुषार्थ करना सिखलाते हैं, उनको तो याद करना चाहिए ना। कहते हैं – श्वाँसों श्वाँस याद करो। गुरू लोग अपने शिष्यों को कहते हैं – माला फेरो। राम-राम करते रहो, बस। राम-राम जपते-जपते रोमांच खड़े हो जाते हैं। राम-राम की मस्ती में झूलते हैं। जैसे कि राम की पुरी में पहुँच गये हैं। तुमको तो बाबा कहते हैं – एक शिवबाबा की याद का अजपाजाप करो और कुछ याद न आये। परन्तु माया भी सामना करती है। भक्ति मार्ग में थोड़ेही माया सामना करती है। यह है माया और ईश्वर के बच्चों की युद्ध। नाटक भी बनाते हैं – भगवान् ऐसे कहते हैं, माया ऐसे कहती है। अभी है संगमयुग। माया के उल्टे-सुल्टे संकल्प-विकल्प तो आते रहेंगे। तूफान ऐसा जोर से लगता है जो मनुष्य को भी उड़ाकर दूर फेंक देता है। यह फिर माया रावण का तूफान है। उनसे बचने की युक्तियां तो बाबा बताते रहते हैं। तुम कहेंगे हमको परमपिता परमात्मा राजयोग सिखलाते हैं।

तुमसे कोई पूछे – तुमको यह सन्यास किसने कराया? गुरू कौन है? बोलो – परमपिता परमात्मा। ऐसा कोई नहीं होगा जिसको भगवान् आकर सन्यास कराये। वह सब मनुष्य, मनुष्य को कराते हैं। यहाँ बाप आकर कहते हैं – देह सहित जो भी सम्बन्ध हैं उनको छोड़ो। इस पुरानी दुनिया का त्याग कर नई दुनिया को याद करो – सन्यासी ऐसे थोड़ेही कहेंगे। अब तो प्रैक्टिकल में पुरानी दुनिया का विनाश होना है, इसलिए सबका बुद्धि से त्याग कर एक बाप से बुद्धि लगानी है। तुम सगाई करते हो ना। देहधारी को याद किया तो सगाई कच्ची हो जायेगी। सर्व धर्मानि… मैं फलाना हूँ, यह हूँ…। वह सब छोड़ अपने को आत्मा समझो। 84 जन्मों को तो तुम जान गये हो। अब खुशी से वापिस जाते हैं। ताली बजानी चाहिए। हम आत्मायें एक शरीर छोड़ दूसरा लेती हैं। अपने को देही समझना है। हम आत्मा पहले-पहले गोरी थी, फिर 84 जन्म लिए। अब वापिस जाकर के फिर आए स्वर्ग में राज्य करेंगे। यह स्वदर्शन चक्र फिराना कितना सहज है। शिव का चित्र तो पॉकेट में पड़ा रहे। बाबा आप आये हो, कितने मीठे हो, हमारे बाबा हो ना – ऐसी-ऐसी बातें करनी चाहिए। कृष्ण के साथ भक्ति मार्ग में ऐसी बातें करते थे ना। शिव का फर्स्ट क्लास लॉकेट सोने-चांदी का बनायेंगे। गरीबों को सोने का, साहूकारों को चांदी का देंगे। यह मातायें बड़ी मीठी हैं। गांव वालों में भाव अच्छा रहता है। साधारण बच्चों को देख बाबा भी खुश होते हैं। कृष्ण को गांवड़े का छोरा कहते हैं ना। कृष्ण तो गांवड़े का छोरा बन न सके। वह तो स्वर्ग का मालिक है। इनकी और कृष्ण की बातें मिक्स कर दी हैं। गांवड़े का पूरा अनुभव इनको है। तो शिवबाबा वा कृष्ण गांवड़े का छोरा बन न सके। हाँ, यह (दादा) छोटेपन में था। पला ही गांवड़े में हूँ। तो इस साधारण तन में फिर बाप ने आकर प्रवेश किया है। बाबा ने मुख्य बात समझाई है कि सारा मदार है याद पर। याद कभी भूलनी नहीं चाहिए। लौकिक बच्चा थोड़ेही कभी कहेगा – मैं बाप को भूल जाता हूँ। सज़नी कभी साजन को भूल जाती है क्या? इम्पासिबुल है। यह है तुम बच्चों के लिए मेहनत। निरन्तर याद के अभ्यास से ही विकर्म विनाश होंगे। नहीं तो फिर सजा खानी पड़ेगी। विजय माला में आ नहीं सकेंगे। कमाल है बाप की जो बुढ़ियों, गरीबों, गणिकाओं, अहिल्याओं, कुब्जाओं आदि को आकर अपना बनाते हैं। यूँ तो कोई चित्र की दरकार नहीं है। परन्तु माया भुला देती है, इसलिए चित्र रखा जाता है। बुद्धि में रहना चाहिए हम जाते हैं बाबा के पास। रास्ता देख लिया है मुक्ति-जीवनमुक्ति का। और कोई पण्डा होता ही नहीं है। इनको इन्द्रप्रस्थ भी कहते हैं, कोई पतित आकर छिप करके बैठेगा तो पत्थरबुद्धि बन जायेगा। बाबा तो अन्तर्यामी है ना! यह बाबा (ब्रह्मा) बाहरयामी है। उस बाबा को झट मालूम पड़ जाता है – पतित छिपा हुआ बैठा है। तो जिसने ऐसे पतित को लाया उनको और जो पतित आकर बैठा होगा – उन दोनों को सजा मिलेगी इसलिए कभी भी पतित को नहीं लाना चाहिए। लॉ ऐसे कड़े हैं। कोई पतित छी-छी को नहीं बिठाना चाहिए। नहीं तो बड़ी कड़ी सजा के भागी बन जायेंगे। यहाँ कोई चोरी ठगी चल न सके। पाप और पुण्य का हिसाब-किताब धर्मराज के पास रहता है ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सभी की याद को समेट, बुद्धियोग सभी से तोड़ एक बाप की याद में रहना है। शिवबाबा की कोठी बनाए उनकी अव्यभिचारी याद में बैठना है।

2) अपने आपसे मीठी-मीठी बातें करनी है। हम पहले कितने सुन्दर (गोरे) थे, फिर 84 जन्म लिए, अब खुशी से वापिस जाते हैं – ऐसे अपने साथ बातें कर स्वदर्शन चक्र फिराना है।

वरदान:- एक की स्मृति द्वारा एकरस स्थिति बनाने वाले ऊंच पद के अधिकारी भव
एकरस स्थिति बनाने के लिए सदा एक की स्मृति में स्थित रहो। अगर एक के बजाए दूसरा कोई भी याद आया तो एकरस के बजाए बहुरस स्थिति हो जायेगी। जिस समय और कोई रस अकर्षित करता है, उसी समय यदि आपका अन्तिम समय आ जाए तो ऊंच पद नहीं मिल सकता, इसलिए हर सेकण्ड अटेन्शन रखो। सदैव एक का पाठ पक्का हो, एक बाप, एक ही संगम का समय है और एकरस स्थिति में रहना है तो ऊंच पद का अधिकार मिल जायेगा।
स्लोगन:- शुद्ध सकंल्पों का भोजन स्वीकार करने वाले ही सच्चे-सच्चे वैष्णव हैं।

TODAY MURLI 10 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 9 July 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_1]

 

10/07/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you don’t have to renounce performing actions, but you do have to renounce performing sinful actions. Don’t perform any vicious, that is, any sinful act.
Question: With which practice can you children experience dead silence?
Answer: Practise being bodiless. No one except the one Father must be remembered. Let it be as though you are dead to the body. With this practice the soul can experience dead silence.
Question: What is the easy way to become free from all types of sorrow?
Answer: Keep the awareness of the drama very clearly in your intellect. Look at every actor as a detached observer and you will become free from sorrow; you will never be shocked by anything.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. The words that are mentioned in the song ‘Salutations to Shiva’ are words of devotion. “O Shiv Baba, I salute You!” However, devotees don’t know who Shiv Baba is. Not a single devotee of Shiva knows Shiva. The words ‘Shiv Baba’ are completely ordinary words. Therefore, to say “Salutations to Shiva” is also a trace of devotion. So, what should you say? You would never tell others to say, “Salutations to Shiva”. In fact, there is even no need to say that. Children are not repeatedly told to remember their father. It is little children who are taught to do that. Or, they are taught alpha, beta, theta (A, B, C) etc. In fact, there is nothing to say here. You don’t even have to say ‘Manmanabhav!’ That is a Sanskrit word. Nothing has ever been explained to you in Sanskrit. You children know that you only have to remember the Father. You souls know that the Father has given you His introduction: Children, now remember Me and your sins will be absolved. Therefore, it is the duty of you children to remember Him. When you come and sit here in order to have remembrance of the Father, you have to sit bodiless. Knowledge also sits in your intellect. I, the soul, am remembering the Father. This body is an organ; what value does it have? No matter how first-class an instrument is, if the person playing it doesn’t play it well, of what use would that instrument be? In the same way, the soul is the main thing. The soul knows that he has received these organ s in order to perform actions. We are karma yogis. We cannot be renunciates of karma; that is against the law. Sinful actions can be renounced so that you don’t perform any vicious actions or commit sin. The greatest vice is lust. Those of the sannyas religion think that indulging in vice too much is a sin or an enemy. This is why, according to the drama , their religion is to go into the jungle. For them to renounce their homes and families is also fixed in the drama ; they have to do that. That religion is separate. That is not called the original eternal religion of Bharat. The deity religion is the original eternal religion. However, there are countless religions. The religion of the sannyasis is also a religion established by human beings. God doesn’t establish that religion. Baba has explained that human beings establish religions one after another. You would not say that the Supreme Father, the Supreme Soul, established the Christian religion or the religion of the path of isolation of the sannyasis; no. It is remembered that the Supreme Father, the Supreme Soul, establishes the Brahmin, deity and warrior religions. God doesn’t establish any other religion. According to the drama , they all establish their own religion. It isn’t that God says to someone: So-and-so, go and establish a religion now! This drama is predestined. Each one has to come at his own time and establish his religion because he is a pure soul. No one except a pure soul can establish a religion; it is not the law. A soul comes and establishes a religion and remains pure. All other religions are established by human beings. The Father establishes this one deity religion because He is told: O Purifier, come and make the world new! The intellect says that Bharat was pure and it is now impure. This is why they call out. No one will call out in the pure world. People don’t know when the pure world existed. They simply continue to call out and they will continue to call out till the end; they will continue to remember Him. They will not understand these things as much as you do. This is your study. This is the school of the Supreme Father, the Supreme Soul. You can write these questions on a board: Who is the God of the Gita? On one side, write the Father’s praise: He is the Seed of the human world, the Truth, the Living Being, the Ocean of Knowledge. You cannot say that Krishna is the ocean of purity because he comes into birth and death. Also write the praise of Shri Krishna: Full of all virtues…. People have completely forgotten these things. Ravan has made them forget them all. The God of the Gita is the Creator of the world; they have forgotten Him. This is the number one mistake. If the God of the Gita is proved, the idea of omnipresence would then also be removed. God would never say that He is omnipresent. The Father says: I am the Purifier. How could I be omnipresent? So much effort has to be made with each one individually. It has been explained to you children that when you sit here you should not remember anyone but the one Father. However, it is very difficult to remember Shiv Baba constantly for those who don’t practi s e this and are at work all day. By your not remembering Him, there cannot be that dead silence. When you become bodiless, it means you become dead to the body. It is the body that dies, the soul doesn’t die. The soul says: I am shedding this body. It is wrong to say: I am dying. It is right to say that the soul has left the body. It is something to understand how a soul sheds a body and takes another and plays his part. All are actors. Souls continue to play their part s. You children are now receiving this knowledge. According to the drama plan, the soul has to take another body and play a part. Why should we feel sorrow about this? We are actors in this drama. You forget this. If you know the drama you can never feel sorrow. Because you know the beginning, the middle and the end of the drama, you say: Such-and-such a soul shed his body and took another body. All souls are playing their own part s. Although you have received knowledge, until you reach a very firm stage you continue to be shocked by something or other. You have reached a state of total decay in Ravan’s kingdom and you therefore quickly become shocked. In the golden age, you are never shocked by anything. There, you shed your body while you are just sitting somewhere. You now have to take new bodies. There is the example of the snake. Here, people begin to weep so much. They come from so far away to mourn loudly. These things don’t exist in the golden age. Only at the confluence age do you know the customs and systems of the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan. You do not know the kingdom of Ravan in the kingdom of Rama and you do not know the kingdom of Rama in the kingdom of Ravan. You know both of these at the confluence age. Baba comes and tells you the secrets of the beginning, the middle and the end of the whole drama. You should have the feeling that, truly, this is right. Not until you became Brahmins did you know anything. Without knowledge, people are primitive. Even the Government says that human beings definitely need to be educated. Villagers don’t study; they remain engaged on their farms and in their fields. Therefore, people abroad say that they are primitive. The Father now sits here and teaches us. We are becoming flowers of the garden whereas they are thorns of the forest. You now know this and you therefore are able to understand. People in the world consider gurus to be the highest on high because they believe that they grant salvation. However, the Father explains that they trap you in devotion. They sit and continue to sway with that intoxication of devotion. There is no need for you to sway. Here, you have to claim your inheritance from the Father. As a child grows up, he understands that he is to receive his inheritance from his father. The organs of little children are small. You understand how elevated you have to make your life. Truly, Bharat was like a diamond. If the name of the Supreme Father, the Supreme Soul, had been mentioned in the Gita, people would understand that only the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Bestower of Salvation for all. It is only in Bharat that people celebrate the birthday of Shiva. In fact, Bharat is the greatest pilgrimage place. The birth of the Father who grants everyone salvation takes place here in Bharat. You now know how the Father comes here into the land of Bharat. So, which pilgrimage place would you consider to be the highest? You definitely have to consider Bharat to be that. There are temples to Shiva everywhere. Wherever people of all religions see a temple to Shiva, they will garland Shiv Baba. If they came to know that it was Shiv Baba who granted all of us salvation, they would stop wandering around. Bharat alone is called the imperishable land of truth. Bharat is never destroyed. You also know that when there was the deity religion in Bharat there were no other religions and no other lands. You children know that the Father is sitting here with the family. This is God’s family and that is the devilish family. Among you, there are some who understand very well; they have pure pride. Body consciousness is impure pride. The faces of the deities are so cheerful. Your pure pride is incognito. The soul has a lot of happiness. Oho! We have found Baba after a cycle! He is making us worthy to give us our inheritance of the fortune of the kingdom. You should have a lot of happiness. There are a lot against you. The first thing you say is that God is not omnipresent and, secondly, you say that Krishna is not the God of the Gita. These are the two main mistakes. This is why Baba tells you to ask first: What is your relationship with the Supreme Father, the Supreme Soul? Also ask: Who is the God of the Gita? Judge for yourself. By solving this riddle you can receive liberation-in-life in a second. You can receive liberation-in-life in a second like Janak. This is very well known in Bharat. He asked: Who can give me the knowledge of brahm in a second? This is the knowledge of Brahma that Brahmins give. It was Shiva, the Ocean of Knowledge, who gave them this knowledge. They don’t understand these things. They simply refer to the knowledge of brahm. They call Brahma bhojan ‘brahm bhojan’. Brahm is an element whereas Brahma is the father. His Father is Shiva. People don’t know these things at all. These things were not explained to you in the beginning. Earlier, you children were young and you have now grown up. The Father says: I am telling you deep things today. It is very easy: Manmanabhav! There is so much expansion of the tree from the Seed. He continues to explain. We have now become seers of the three aspects of time. We now know the Creator and the beginning, the middle and the end of creation. At this time, no one, apart from you, knows the beginning, middle or end of the world. Even we didn’t know it. You now understand that it has been your stage of descent ever since you started to perform a lot of devotion. When it is the stage of ascent everyone experiences benefit. Does anyone experience benefit in the stage of descent? All of these matters have to be understood. This too is fixed in the drama. ‘Who is the God of the Gita?’ is a very good topic. By solving this riddle you can claim your inheritance from the Father and become a master of the world. People consider the incorporeal One to be the Master of the World. However, the world is this earth. The Father doesn’t become the Master of this world. The Father says: I am the Altruistic Server. You are the most beloved children. I am your obedient Servant. You call out: O Purifier, come and purify us! Present, Sir! I have now come. The Father is the children’s Servant. Some children are even unworthy. The Father is remembered as the incorporeal and egoless One. God is the Highest on High and then this is His chariot. Some children say: I am sending some clothes for Shiv Baba’s chariot. We can at least offer some hospitality to the chariot. Shiv Baba doesn’t eat anything, so to whom should we offer that hospitality? This one’s dress continues to be the same. There is no arrogance, no change. Seeing this one, people think: This one used to be a jeweller, how can he be Prajapita (Father of People)? What is there to be confused about in this? Come and understand! We have become this dynasty through the mouth of Brahma. It is our right to become the masters of the world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Let go of impurity and maintain your pure pride. In order to keep your face as constantly cheerful as those of the deities, stay infinitely happy.
  2. Become egoless, like BapDada. Become a server and prove it; never become unworthy.
Blessing: May you be ever ready, complete and perfect and remain “Manmanabhav” by concentrating your mind on the remembrance of One.
Always have the awareness that you have to be ever ready at every moment. At any time, any situation may arise, but we will be ever ready. Even if destruction takes place tomorrow, we are ready. Ever ready means complete and perfect. In order to become complete and perfect, you need to have made the preparation of belonging to the one Father and none other. If your mind is always focused on One and “Manmanabhav” you will be ever ready. Serve while being ever ready and you will receive co-operation and success in service.
Slogan: In order to become worthy of receiving a thousand-fold help from the Father, step forward with courage.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

 Read Bk Murli 8 July 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 10 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 July 2017

July 2017 all murlis :- Click Here

To Read Murli 9 July 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_5]

 

 

10/07/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें कर्म सन्यास नहीं लेकिन विकर्मों का सन्यास करना है, कोई भी विकर्म अर्थात् पाप कर्म नहीं करने हैं”
प्रश्नः- तुम बच्चे किस अभ्यास से डेड साइलेन्स का अनुभव कर सकते हो?
उत्तर:- अशरीरी बनने का अभ्यास करो। एक बाप के सिवाए दूसरा कोई भी याद न आये। शरीर से जैसे मरे हुए हैं। इसी अभ्यास से आत्मा डेड साइलेन्स की अनुभूति कर सकती है।
प्रश्नः- सर्व दु:खों से छूटने की सहज विधि क्या है?
उत्तर:- ड्रामा को अच्छी रीति बुद्धि में रखो। हर एक पार्टधारी को साक्षी होकर देखो तो दु:खों से छूट जायेंगे। कभी किसी बात का धक्का नहीं आयेगा।
गीत:- ओम् नमो शिवाए….

 

ओम् शान्ति। यह जो गीत में अक्षर निकलते हैं शिवाए नम: यह भक्ति के वचन हैं। हे शिवबाबा आपको हम नमस्कार करते हैं। परन्तु भगत लोग जानते ही नहीं कि शिवबाबा कौन है, कोई एक भी शिव का भगत शिव को नहीं जानते हैं। शिवबाबा बिल्कुल साधारण अक्षर है। तो शिवाए नम: कहना यह भी भक्ति का अंश है। अब तुमको क्या कहना है? तुम कभी ऐसे नहीं कहेंगे कि शिवाए नम: कहो। वास्तव में कहने की भी दरकार नहीं रहती। बच्चों को घड़ी-घड़ी नहीं कहा जाता कि बाप को याद करो। वह तो छोटे बच्चों को सिखलाया जाता है वा अल्फ बे पढ़ाया जाता है। वास्तव में इसमें कहना भी कुछ नहीं है। मनमनाभव भी नहीं कहना होता, यह भी संस्कृत अक्षर है। तुमको तो कभी संस्कृत में समझाया नहीं गया है। बच्चे जानते हैं हमको तो बाप को ही याद करना है। आत्मा स्वयं जानती है, बाप ने परिचय दिया है। बच्चे अब मुझे याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश हो जायेंगे। तो याद करना बच्चों का फर्ज हुआ। यहाँ आकर जब बैठते हो तो बाप की याद में अशरीरी होकर बैठना है। ज्ञान भी बुद्धि में बैठता है। हम आत्मा बाप को याद करते हैं। यह शरीर तो आरगन्स हैं, इनकी क्या वैल्यू है। बाजा कितना भी फर्स्टक्लास हो, अगर मनुष्य बजाता ठीक नहीं हो तो बाजा किस काम का। ऐसे ही मुख्य आत्मा है। आत्मा जानती हैं – हमें यह आरगन्स मिले हैं कर्म करने के लिए। हम कर्मयोगी हैं, कर्म सन्यासी हो नहीं सकते। वह तो कायदे के विरुद्ध है। विकर्मों का सन्यास किया जाता है कि हमसे कोई विकर्म न हो, पाप नहीं हो। सबसे बड़ा विकार है काम का। सन्यास धर्म वाले जास्ती विकार को पाप अथवा दुश्मन मानते हैं इसलिए ड्रामा अनुसार उनका धर्म ही है जंगल में चले जाना। घरबार का सन्यास करना, यह भी ड्रामा में नूंध है। उन्हों को यह करना ही पड़े। वह धर्म ही अलग है। उनको कोई भारत का आदि सनातन धर्म नहीं कहेंगे। आदि सनातन है ही देवी-देवता धर्म। बाकी तो बेशुमार धर्म हैं। सन्यासियों का भी एक धर्म है, जो मनुष्य ही स्थापन करते हैं। भगवान नहीं स्थापन करते हैं। बाबा ने समझाया है कि कोई भी धर्म एक दो के पिछाड़ी मनुष्य स्थापन करते हैं। तुम ऐसा नहीं कहेंगे कि परमपिता परमात्मा ने कोई क्रिश्चियन धर्म स्थापन किया वा सन्यासियों का निवृत्ति मार्ग का धर्म स्थापन किया। नहीं। गाया हुआ है परमपिता परमात्मा ब्राह्मण, देवता, क्षत्रिय धर्म स्थापन करते हैं। और कोई भी धर्म भगवान नहीं स्थापन करते। ड्रामा अनुसार हर एक अपना-अपना धर्म स्थापन करते हैं। ऐसा भी नहीं कि परमात्मा किसको कहते कि फलाने जाओ, जाकर धर्म स्थापन करो। यह बना बनाया ड्रामा है। हर एक को अपने समय पर आकर अपना धर्म स्थापन करना है क्योंकि पवित्र आत्मा है। पवित्र आत्मा बिगर कोई कब धर्म स्थापन कर नहीं सकते, कायदा नहीं। आत्मा आकर धर्म स्थापन करती है और पवित्र रहती है। और सब धर्म मनुष्य स्थापन करते हैं, यह एक देवी-देवता धर्म बाप स्थापन करते हैं क्योंकि उनको कहा जाता है हे पतित-पावन आकर नई दुनिया बनाओ। बुद्धि कहती है भारत पावन था, अब पतित है, इसलिए पुकारते हैं। पावन दुनिया में तो कोई पुकारेंगे नहीं। मनुष्य तो जानते ही नहीं कि पावन दुनिया कब होती है। पुकारते ही रहते हैं, अन्त तक पुकारते रहेंगे। याद करते रहेंगे। वह इन बातों को समझेंगे नहीं, जितना तुम समझते हो। तुम्हारी यह पढ़ाई है, यह पाठशाला है परमपिता परमात्मा की। यह भी प्रश्न बोर्ड पर बनवाकर लिखो, गीता का भगवान कौन? एक तरफ लिखो बाप की महिमा। वह मनुष्य सृष्टि का बीजरूप सत है, चैतन्य है, ज्ञान का सागर है। तुम कृष्ण को पवित्रता का सागर नहीं कह सकते हो क्योंकि वह जन्म मरण में आते हैं। श्रीकृष्ण की भी महिमा लिखनी है सर्वगुण सम्पन्न….। इन बातों को मनुष्य तो एकदम भूले हुए हैं, रावण ने भुला दिया है। गीता का भगवान ही सृष्टि का रचयिता है, उनको भूल गये हैं। पहले नम्बर की एकज़ भूल यह है। गीता का भगवान सिद्ध हो जाए तो सर्वव्यापी की बात भी निकल जाये। भगवान कभी ऐसे कह नहीं सकते कि मैं सर्वव्यापी हूँ। बाप कहते हैं कि मैं पतित-पावन हूँ, मैं सर्वव्यापी कैसे हो सकता। एक एक से कितनी मेहनत करनी पड़ती है। बच्चों को समझाया गया है कि जब यहाँ बैठते हो तो सिवाए एक बाप के और कोई को याद नहीं करो। परन्तु जिनकी प्रैक्टिस नहीं है, सारा दिन सर्विस में रहते हैं, वह निरन्तर शिवबाबा को याद करें, यह बड़ा मुश्किल है। याद न करने से वह डेड साइलेन्स हो नहीं सकते। तुम अशरीरी बन जाते हो, गोया शरीर से मर जाते हो। मरता शरीर है, आत्मा थोड़ेही मरती है। आत्मा कहती है मैं शरीर छोड़ता हूँ। मै मरता हूँ, यह अक्षर कहना रांग है। आत्मा ने शरीर छोड़ा यह राइट अक्षर है। यह समझ की बात है, आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा ले पार्ट बजाती है। पार्टधारी तो सब हैं ना। आत्मा पार्ट बजाती रहती है। अभी तुम बच्चों को यह ज्ञान मिलता है। ड्रामा प्लैन अनुसार उनको दूसरा शरीर ले फिर पार्ट बजाना है। इसमें दु:ख हम क्यों करें। इस ड्रामा में हम एक्टर हैं। यह बात भूल जाती है। ड्रामा को जान जायें तो दु:ख कभी हो नहीं सकता। तुम ड्रामा के आदि मध्य-अन्त को जानकर कहते हो – फलानी आत्मा ने शरीर छोड़ा, जाकर दूसरा शरीर लिया। हर एक अपना पार्ट बजा रहे हैं। भल तुमको ज्ञान मिला है तो भी जब तक परिपक्व अवस्था हो तब तक कुछ धक्का आ जाता है। रावण राज्य में जड़जड़ीभूत हुए हैं ना। तो झट धक्का आ जाता है। सतयुग में कभी धक्का नहीं आता। वहाँ तो बैठे-बैठे शरीर छोड़ देते हैं। अब नया शरीर जाकर लेना है। सर्प का मिसाल….। यहाँ तो ढेर रोने लग पड़ते हैं। कहाँ-कहाँ से आकर सयापा करते हैं। सतयुग में यह बातें नहीं होती हैं। तुम संगमयुग पर ही रामराज्य, रावण राज्य की रसम-रिवाज को जानते हो। रामराज्य में तुम रावण राज्य को नहीं जानते हो। रावण राज्य में तुम रामराज्य को नहीं जानते हो। संगम पर तुम दोनों को जानते हो। बाबा आकर सारे ड्रामा के आदि मध्य अन्त का राज़ समझाते हैं। फीलिंग आनी चाहिए कि बरोबर यह बात ठीक है। जब तक तुम ब्राह्मण नहीं थे तब तक कुछ नहीं जानते थे। ज्ञान बिगर मनुष्य तो जैसे जंगली हैं। गवर्मेन्ट भी कहती है मनुष्य को पढ़ाई जरूर चाहिए। गांवड़े वाले पढ़ते नहीं हैं। अपनी खेती बाड़ी में ही लगे रहते हैं। तो बाहर वाले कहते हैं – यह तो जंगली हैं। हमको तो अब बाप बैठ पढ़ाते हैं। हम गार्डन के फूल बनते हैं। वह हैं जंगल के कांटे। तुमको मालूम पड़ा है तब समझ सकते हो। दुनिया में ऊंच ते ऊंच गुरू को माना जाता है क्योंकि समझते हैं कि वह सद्गति करते हैं। परन्तु बाप ने समझाया है यह तो भक्ति में फंसाते हैं। भक्ति की धुन में बैठते हैं तो झूमते रहते हैं। तुमको झूमने आदि की दरकार नहीं। यहाँ तो बाप से वर्सा लेना है। बच्चा बड़ा होता है – समझ जाता है बाप से हमको वर्सा मिलना है। छोटे बच्चे के आरगन्स ही छोटे हैं। तुम तो समझ सकते हो – हमको अपना जीवन कैसा ऊंच बनाना है। बरोबर भारत हीरे जैसा था। गीता में अगर परमपिता परमात्मा का नाम होता तो सब कुछ समझ जाते। परमपिता परमात्मा ही सर्व का सद्गति दाता है। उनकी शिव जयन्ती भी भारत में ही मनाते हैं। वास्तव में भारत तो सबसे बड़ा तीर्थ है। सबकी सद्गति करने वाला जो बाप है, उनका जन्म यहाँ भारत में होता है। अभी तुमको पता पड़ा है – बाप कैसे भारत देश में आते हैं। अब कौन सा तीर्थ स्थान ऊंच मानेंगे? जरूर भारत को ही मानना पड़े। शिव के मन्दिर तो जहाँ तहाँ हैं। सब धर्म वाले जहाँ भी शिव का मन्दिर देखेंगे तो जाकर शिवबाबा पर हार चढ़ायेंगे। अगर जान जायें कि शिवबाबा ही है जिसने हम सबकी सद्गति की है तो भटकना छूट जाए। भारत को ही अविनाशी सचखण्ड कहते हैं। भारत कभी विनाश नहीं होता है। यह भी तुम जानते हो। भारत में जब देवी-देवता धर्म था तो और धर्म वाले वा खण्ड नहीं थे।

तुम बच्चे जानते हो बाप अभी यहाँ फैमली सहित बैठा है। यह ईश्वरीय फैमली है और वह है आसुरी फैमली। तुम्हारे में भी कोई-कोई हैं जो अच्छी तरह समझते हैं। शुद्ध अहंकार में रहते हैं। देह-अभिमान है अशुद्ध अंहकार। देवताओं के चेहरे पर कितना हर्षितपना रहता है। तुम्हारा शुद्ध अहंकार गुप्त है। आत्मा को बहुत खुशी होती है। ओहो! कल्प बाद फिर से बाबा मिला है। हमको राज्य भाग्य का वर्सा देने के लायक बना रहे हैं। बड़ी खुशी रहनी चाहिए। तुम्हारे अगेंस्ट बहुत हैं। तुम्हारी एक बात है – ईश्वर सर्वव्यापी नहीं है और दूसरा गीता का भगवान कृष्ण नहीं है। यह हैं मुख्य दो भूलें इसलिए बाबा कहते हैं कि पहले-पहले पूछो परमपिता परमात्मा से आपका क्या सम्बन्ध है? और यह भी पूछो कि गीता का भगवान कौन है? जज करो – इस पहेली को। इसको हल करने से सेकेण्ड में जीवनमुक्ति पा सकते हो। जनक मिसल सेकेण्ड में जीवनमुक्ति। यह तो भारत में मशहूर है। उसने कहा कौन है जो हमको सेकेण्ड में ब्रह्म ज्ञान देवे। यह ब्रह्मा ज्ञान है ना। जो ब्राह्मण ब्राह्मणियां देते हैं। उनको ज्ञान देने वाला ज्ञान का सागर शिव है। इन बातों को तो वह समझते नहीं। ब्रह्म ज्ञान कह देते हैं। ब्रह्मा भोजन को ब्रह्म भोजन कह देते हैं। ब्रह्म तत्व है। ब्रह्मा तो है बाप। उनका बाप है शिव। यह बातें मनुष्य बिल्कुल नहीं जानते हैं। पहले तुमको यह बातें थोड़ेही समझाई थी। पहले तो तुम बच्चे सगीर थे, अब बालिग हुए हो। बाप कहते हैं आज तुम्हें गुह्य बातें समझाते हैं। बात बिल्कुल सहज है – मनमनाभव। जैसे बीज और झाड़ का विस्तार कितना लम्बा है। समझाते रहते हैं। अभी हम त्रिकालदर्शी बन गये हैं। रचयिता और रचना के आदि मध्य अन्त को जान गये हैं। इस समय तुम्हारे सिवाए और कोई सृष्टि के आदि मध्य अन्त को नहीं जानते हैं। हम भी नहीं जानते थे। अभी तुम समझते हो जबसे जास्ती भक्ति शुरू हुई है, हमारी उतरती कला होती गई है। चढ़ती कला होती है तो सर्व का भला होता है। उतरती कला में किसका भला होता है क्या? यह सब समझने की बातें हैं। यह भी ड्रामा में नूंध है। यह बड़ी अच्छी टॉपिक है। गीता का भगवान कौन? इस पहेली को हल करने से तुम बाप का वर्सा पाकर विश्व का मालिक बन सकते हो। मनुष्य विश्व का मालिक निराकार को समझते हैं। परन्तु विश्व तो सृष्टि को कहा जाता है। बाप विश्व का मालिक नहीं बनता।

बाप कहते हैं मैं निष्काम सेवाधारी हूँ। तुम मोस्ट बिलवेड चिल्ड्रेन हो। मैं तुम्हारा ओबीडियन्ट सर्वेन्ट हूँ। तुम पुकारते हो हे पतित-पावन आकर पावन बनाओ। हाज़िर सरकार, आया हूँ। बाप बच्चों का सर्वेन्ट ही है। फिर कोई कपूत भी निकल पड़ते हैं। बाप तो निराकारी, निरंहकारी गाया हुआ है। ऊंच ते ऊंच भगवान और फिर उनका यह रथ। कई बच्चे कहते हैं – हम शिवबाबा के रथ के लिए कपड़ा भेज देते हैं। रथ की तो हम खातिरी कर सकते हैं ना। शिवबाबा तो खाते नहीं हैं। किसकी खातिरी करें! इनकी ड्रेस तो वही चली आ रही है। कोई अंहकार नहीं, कोई चेंज नहीं। इनको देखकर समझते हैं – यह तो जौहरी था। यह कैसे प्रजापिता हो सकता। अरे इसमें मूंझने की क्या बात है, आकर समझो। हम ब्रह्मा मुख द्वारा वंशावली बने हैं। हमारा हक लगता है विश्व का मालिक बनने का। अच्छा!

मीठे मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अशुद्धता को छोड़ शुद्ध अंहकार में रहना है। यह चेहरा देवताओं जैसा सदा हर्षित रखने के लिए अपार खुशी में रहना है।

2) बापदादा समान निरंहकारी बनना है। सेवाधारी बनकर सबूत देना है, कभी कपूत नहीं बनना है।

वरदान:- एक की याद में मन को एकाग्र कर मन्मनाभव रहने वाले एवररेडी सम्पूर्ण भव 
सदैव स्मृति में रखो कि हर समय एवररेडी रहना है। किसी भी समय कोई भी परिस्थिति आ जाए लेकिन हम एवररेडी रहेंगे। कल भी विनाश हो जाए तो हम तैयार हैं। एवररेडी अर्थात् सम्पूर्ण। सम्पूर्ण बनने के लिए एक बाप दूसरा न कोई-यह तैयारी चाहिए। मन सदा एक की तरफ मन्मनाभव है तो एवररेडी बन जायेंगे। एवररेडी होकर सेवा करो तो सेवा में भी सहयोग मिलेगा, सफलता भी मिलेगी।
स्लोगन:- बाप की हजार गुणा मदद के पात्र बनना है तो हिम्मत के कदम आगे बढ़ाओ।

 

[wp_ad_camp_1]

 

To Read Murli 8 July 2017 :- Click Here

To Read Murli 7 July 2017 :- Click Here

Font Resize