today murli 10 december

TODAY MURLI 10 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 9 December 2018 :- Click Here

10/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, invent new methods for making service expand. Go and serve in every village. In order to do service, you need the enlightenment of knowledge.
Question: What is an easy way to continue to remove the old world from your intellect?
Answer: Repeatedly remember the home. Let it remain in your intellect that you have to settle your accounts with the land of death and go to the land of immortality. Become a beggar in relation to your body; even that body doesn’t belong to you. When you have such practice, you will forget the old world. While living in this old world, you have to make your stage very firm. Make effort to have a constant and stable stage.
Song: Mother o mother! You are the bestower of fortune for all.

Om shanti. There is a lot of praise of Jagadamba in Bharat. No one, except the people of Bharat, knows Jagadamba. They have heard the name of someone called Eve or Bibi. It is now in the intellects of you children that creation cannot be created without Bibi or the Master. Jagadamba definitely has to appear. She definitely did exist, for this is why she is remembered. There is a lot of praise of Bharat. They speak of heaven and they also know that Bharat is ancient. This is why there surely has to be heaven. No one, apart from you Godly children, can understand this. Only those who understood this in the previous cycle will continue to come. The exhibition is taking place. You understand that you also did this in the previous cycle. The words are very good for explaining to everyone! Pure souls receive the crown of light through their purity. Secondly, a charitable soul is one who makes donations and performs charity. In English, such a soul is called a philanthropist. Those who are pure are said to be viceless. There are different words. There are a lot of donations made and charity done in Bharat, but donations are generally made to gurus. They may be called pure souls, but they cannot be called charitable souls. They don’t make donations or perform charity; they accept donations and charity. In order for your intellects’ yoga to break away from all of them and be connected to the Father, the Father has to explain: That is not good. I come to uplift all of them. You are the Ganges of knowledge who have emerged from the Ocean of Knowledge. In fact, ‘Ganges’ is not the right word, but the memorial has continued and this is why the comparison has been made. The Father comes and makes the old things of the old world new. Heaven is something new. Only the Father knows the news of the new things. The world doesn’t know it. There are the versions of God, but, because Krishna’s name was inserted, the intellect’s yoga of everyone has broken away. This is why they have said that God is omnipresent. The intellect’s yoga of many is with Krishna. Wherever there is regard for the Gita, it is as though they also have regard for Krishna. In fact, they have put the hat of the Father’s praise on the child. This too is fixed in the drama. The Father comes and explains this. Baba has repeatedly explained to you why you should ask any people who come what their occupation is and what their relationship is with him (Krishna). Baba has had a good questionnaire made. Very good service can take place. Very good service can take place in the Jagadamba Temple. Go and explain to the people there: This is Jagadamba, the mother who creates the world. Which world does she create? She would surely create a new creation. Achcha, who is the Father of this mother? Who gave her birth? People don’t even understand the meaning of ‘mouth-born creation’. You know that the Supreme Father, the Supreme Soul, has given birth to her. You children have to explain that Jagadamba is a mouth-born creation, but how is she that? The Supreme Father, the Supreme Soul, is incorporeal and He explains through the body of Brahma. It is as though the Supreme Father, the Supreme Soul, has come and adopted Brahma and that He has adopted the daughter in the same way. These things don’t stay permanently in everyone’s intellect; you repeatedly forget. You children can do a lot of service. You should give the introduction in the Jagadamba Temple so that their intellects’ yoga can be connected to the Father. Jagadamba has yoga with Him and so we too should have yoga with Him. Jagadamba is sitting down below doing tapasya and her temple is up above. Down below, she is doing the tapasya of Raja Yoga and then she becomes a princess, a master of heaven, in the golden age. It is now the iron age. It is only when she sits in tapasya again that she can become a master of heaven again. All of this knowledge should remain in your intellects. People are given this true advice. You give each one’s introduction. However, this cannot sit in the intellect of everyone that quickly. It can only sit in their intellects when they engage themselves in service. Very good pictures have been created. You can also go to the Lakshmi and Narayan Temples and explain there. Baba says: Go and relate this to My devotees. You will definitely find devotees in the temples. Explain this picture of Lakshmi and Narayan to them with love. Everyone would say that they were the masters of heaven. Achcha, what is it now? It would surely be said to be the iron age now. In the iron age, there is nothing but sorrow, and so how did they receive the sovereignty? You know this and so you can tell everyone. When you explain to one, a whole gathering will gather there. Everyone will then ask you to go to them. Very big melas take place in the temples. You can also go the Rama Temple and tell them his occupation. You should explain to them tactfully, gradually. Some children also write: Baba, we have explained in this way. When you explain to one person, others will also then invite you and say: It would be good if these lectures continued in my home for seven days. Then others would emerge from there too. When anyone invites you, you should explain in such a way that they don’t leave you. When you give lectures, friends and relatives close by will also gather there. Growth takes place in this way. Not so many can come to the centres. This is a good method. You should make effort in this way. Hardly anyone knows the art of making effort for this. The enlightenment of knowledge is needed. Baba has come from so far away to teach us. If you don’t do service, how would you claim a high status? Children in schools are very clever and they have a lot of enthusiasm. This too is a study. This is a wonderful study. The young, the mature and old people all study here. The poor have an even better chance. In fact, even sannyasis are poor. So many wealthy people invite them to go to them. Sannyasis renounce their homes and become beggars. They don’t have anything with them. You too are now beggars and you then become princes. They are also beggars. There is the question of purity in this. You don’t have anything with you. You even forget your bodies. You renounce everything including your bodies and belong to the one Father. The more you remember the one Father, the more dharna there will be. You need to make effort to have constant dharna. We have to go to Baba and so why should we have thoughts of this old world? Until your stage becomes firm, you have to stay in this old world and in your old bodies. You now have to live at home with your families and remain pure. Your accounts with this land of death are now being settled and you have to go to the land of immortality. When you repeatedly remember the home, the old world will continue to be forgotten. Ask them: What did Baba say in the Gita? Explain that God is called Baba. Incorporeal Baba says: Constantly remember Me alone. Your sins will be absolved with the fire of yoga. Krishna cannot say this. The elevated versions of God are: Renounce this old world and your old body. Become soul conscious and constantly remember Baba. God is incorporeal. That soul takes a body and comes into ‘talkie . Baba doesn’t take a body by taking birth. He only has the one name, Shiva. There are the souls of Brahma, Vishnu and Shankar; they have their own subtle bodies. That One is always the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul and His name is Shiva. He alone is the Ocean of Knowledge. Brahma, Vishnu and Shankar are not called the Creator. Only the one incorporeal One is called the Creator. So, how does He then create the corporeal creation? He comes and speaks through Brahma. It cannot be Krishna who does this. They show the Vedas and scriptures in the hands of Brahma alone. It is remembered: Establishment takes place through Brahma. He tells us the essence of all the scriptures through Brahma. The Incorporeal speaks this through the corporeal. These things have to be imbibed very well. God speaks: I teach Raja Yoga. Establishment is needed before destruction. First of all, there is establishment. Continue to write this very clearly: Establishment of the sun-dynasty kingdom through Brahma. When it is written, the significance of it becomes very clear, but you have to make this effort and become busy in service. When you become busy in service, you will enjoy yourself. Mama and Baba also enjoy doing service. Children also have to do service. Mama would not be taken to the temples. There is great praise of Mama, but you children have to go there. Baba says: Go to those in their stage of retirement and ask them questions and then explain to them: Have you ever studied the Gita? Who is the God of the Gita? There is only one incorporeal God. A corporeal being cannot be called God. God is only One. You should churn the ocean of knowledge a lot to do service. If you want to practi s e this, you have to go and try it out. People go to have a glimpse of Jagadamba every day. People also go to the triveni of the rivers. If you go there and give lectures and do service, many will gather together. They will continue to give you invitations: Come to us and have these spiritual gatherings. Baba and Mama cannot go anywhere; children can go. You can also do a lot of service in the Kali Temple in Bengal. Who is Kali? Give a lecture on this topic. However, courage is needed. Baba knows who can explain this. What service would those who have body consciousness be able to do? They don’t give the proof of service. If you don’t do full service you defame Baba’s name. A yogi has very good power. Baba continues to give you many points for explaining to them. However, even very good maharathis forget them. There is a lot of service to do. This is called unlimited service. They then also receive a lot of respect. The main thing is purity. Some break while moving along. No one ever loses faith in his physical father. Here, you take birth to Baba. You then repeatedly forget such a Father because He is without an image. There is no image of such a Father. The Father says: Remember Me and become pure and you will come to Me. The soul understands that he has played a part for 84 births. Each one’s part is fixed in the soul. The part is not in the body. There is such a huge part recorded in such a tiny soul. There should be so much intoxication in your intellects. While fulfilling your responsibility of interaction with your worldly families, you can also do this service. The mother and father will not go anywhere. You children can go anywhere to do service. Only you children are called lucky stars. Achcha.

To the sweetest, beloved long-lost and now-found lucky stars of knowledge, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Renounce body consciousness and do service. Churn the ocean of knowledge and give the proof of doing unlimited service.
  2. All the old accounts with this land of death have to be settled. Continue to remove your old body and the old world from your intellect.
Blessing: May you be a karma yogi who gives the experience of a spiritual personality by remaining stable in a powerful stage while performing actions.
You children are not just workers, but are karma yogis who perform every act while being yogyukt. Let everyone experience from you that you work with your hands but while working, you are stable in a powerful stage. While you move along in an ordinary way or just stand somewhere, let your spiritual personality be experienced from a distance. Just as worldly personalities attract, similarly, your spiritual personality, your personality of purity and personality of a gyani and yogi soul will automatically attract others.
Slogan: Those who walk along the right path and show everyone the right path are true lighthouses.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 10 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 December 2018

To Read Murli 9 December 2018 :- Click Here
10-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – सर्विस की वृद्धि के नये-नये तरीके निकालो, गांव-गांव में जाकर सर्विस करो, सर्विस करने के लिए ज्ञान की पराकाष्ठा चाहिए”
प्रश्नः- बुद्धि से पुरानी दुनिया भूलती जाए – इसकी सहज युक्ति क्या है?
उत्तर:- घर को घड़ी-घड़ी याद करो। बुद्धि में रहे – अब मृत्युलोक से हिसाब-किताब चुक्तु कर अमरलोक जाना है। देह से भी बेगर, यह देह भी अपनी नहीं – ऐसा अभ्यास हो तो पुरानी दुनिया भूल जायेगी। इस पुरानी दुनिया में रहते अपनी परिपक्व अवस्था बनानी है। एकरस अवस्था के लिए मेहनत करनी है।
गीत:- माता ओ माता…….. 

ओम् शान्ति। जगत अम्बा की महिमा भारत में बहुत है। जगत-अम्बा को भारतवासियों के सिवाए कोई भी जानते नहीं। नाम सुना है जिसको ईव अर्थात् बीबी भी कहते हैं। अब तुम बच्चों की बुद्धि में है कि बीबी और मालिक के सिवाए रचना तो रची नहीं जा सकती। जरूर जगत अम्बा को प्रकट होना पड़े। जरूर थी तब तो गायन करते हैं। भारत की महिमा बहुत है। स्वर्ग भी कहते हैं और यह भी जानते हैं कि भारत ही प्राचीन था इसलिए जरूर हेविन होना चाहिए। यह तुम ईश्वरीय सन्तान बिगर कोई समझ न सके। जिन्होंने कल्प पहले समझा है वही आते रहेंगे। प्रदर्शनी चलती है। समझते हैं कल्प पहले भी की होगी। सबको समझाने के लिए अक्षर बहुत अच्छे हैं। पवित्र आत्मा, पवित्रता से तुम लाइट का ताज पाते हो। दूसरा पुण्य आत्मा उसको कहा जाता है जो दान-पुण्य करते हैं। उसको अंग्रेजी में फ्लैन्थ्रोफिस्ट भी कहा जाता है। पवित्र को वाइसलेस कहेंगे। अलग-अलग अक्षर हैं। भारत में दान-पुण्य होता तो बहुत है परन्तु अक्सर करके दान करते हैं गुरूओं को। अब उन्हें पवित्र आत्मा तो भल कहें परन्तु पुण्य आत्मा नहीं कह सकते। वह दान-पुण्य नहीं करते हैं वह तो दान-पुण्य लेते हैं। तो इन सबसे बुद्धियोग टूटकर बाप से जुट जाए, इसके लिए बाप को समझाना पड़ता है कि यह ठीक नहीं है। इन सबका उद्धार करने मैं आता हूँ। तुम ज्ञान सागर से निकली हुई ज्ञान गंगायें हो। वास्तव में गंगा अक्षर राइट नहीं है परन्तु गायन चला आता है इसलिए भेंट की जाती है। बाप आकर पुरानी दुनिया की पुरानी सब चीज़ों को नया बनाते हैं। स्वर्ग नई चीज़ है। नई चीज़ का समाचार बाप ही जानते हैं, दुनिया नहीं जानती।

भगवानुवाच है परन्तु गीता में कृष्ण का नाम डालने से सबका बुद्धियोग टूट गया है इसलिए सर्वव्यापी कह दिया है। कृष्ण के साथ बहुतों का बुद्धियोग है, जहाँ भी गीता का मान है तो जैसे कृष्ण का मान है। वास्तव में बाप के महिमा की टोपी बच्चे के ऊपर आ गई है। यह भी ड्रामा में नूँध है। यह बाप आकर समझाते हैं।

बाबा बार-बार समझाते हैं – जब कोई आते हैं तो हर एक का आक्यूपेशन पूछो इससे तुम्हारा क्या सम्बन्ध है? बाबा ने प्रश्नावली अच्छी बनाई है। सर्विस तो बहुत अच्छी हो सकती है। सर्विस तो जगत अम्बा के मन्दिर में बहुत अच्छी हो सकती है, वहाँ जाकर समझाओ कि यह है जगत अम्बा सृष्टि को रचने वाली माता। कौन-सी दुनिया रचती है? जरूर नई रचना रचेगी। अच्छा, इस माता का पिता कौन है? इनको जन्म किसने दिया? मनुष्य तो मुख वंशावली का अर्थ भी नहीं समझते हैं। तुम जानते हो इनको परमपिता परमात्मा ने जन्म दिया है। तुम बच्चों को ही समझाना पड़े। जगत अम्बा मुख वंशावली है परन्तु कैसे? परमपिता परमात्मा तो निराकार है, समझाया जाता है ब्रह्मा तन से। परमपिता परमात्मा ने आकर जैसे इस ब्रह्मा को एडाप्ट किया, वैसे बच्ची को भी किया। यह बातें सबकी बुद्धि में स्थाई नहीं ठहरती। घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। बच्चे सर्विस तो बहुत कर सकते हैं। जगत अम्बा के मन्दिर में परिचय देना चाहिए। तो उन्हों का भी बुद्धियोग बाप से जुटे। जगत अम्बा भी उनसे योग लगाती है तो हम भी उनसे योग लगायें। नीचे जगत अम्बा तपस्या में बैठी है, उनका मन्दिर ऊपर है। नीचे राजयोग की तपस्या कर रहे हैं फिर राज-राजेश्वरी स्वर्ग की मालिक बनी सतयुग में। अभी है कलियुग। फिर से जब तपस्या में बैठे तब तो स्वर्ग के मालिक बने ना। तुम्हारी बुद्धि में यह सारा ज्ञान रहना चाहिए। यह सच्ची राय मनुष्यों को दी जाती है। तुम हर एक का परिचय देते हो। परन्तु सबकी बुद्धि में कोई जल्दी थोड़ेही बैठ सकता है। बैठे तब जब सर्विस में लग जायें। चित्र भी बहुत अच्छे बने हुए हैं। लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में जाकर समझा सकते हो। बाबा कहते हैं – मेरे भक्तों को सुनाओ। भक्त जरूर मन्दिर में ही मिलेंगे। उनको प्यार से समझाओ यह जो लक्ष्मी-नारायण के चित्र हैं, इनके लिए सभी कहेंगे यह स्वर्ग के मालिक थे। अच्छा, अब क्या है? जरूर कहेंगे कलियुग। कलियुग में दु:ख ही दु:ख है फिर इनको बादशाही कैसे मिली? तुम जानते हो तो सबको सुना सकते हो। एक को समझायेंगे तो सतसंग इकट्ठा हो जायेगा। फिर सब कहेंगे – हमारे पास आओ। मन्दिर में बड़ा मेला लगता है। राम के भी मन्दिर में जाकर उनका आक्यूपेशन बता सकते हो। आहिस्ते-आहिस्ते युक्ति से समझाना चाहिए। कई बच्चे लिखते भी हैं – बाबा, हमने ऐसे-ऐसे समझाया। एक को समझाने से फिर दूसरे निमंत्रण देते हैं। हमारे घर में भी सात रोज़ भाषण चले तो अच्छा है फिर वहाँ से और कोई निकलेगा। कोई भी निमंत्रण दे उनको ऐसा समझाना चाहिए जो छोड़े नहीं। भाषण करने से आस-पास वाले मित्र सम्बन्धी आदि भी इकट्ठे होंगे। ऐसे ही वृद्धि होती है। सेन्टर पर इतने नहीं आ सकते हैं। यह अच्छी युक्ति है। ऐसी मेहनत करनी चाहिए। मेहनत करने का ढंग मुश्किल किसको आता है। ज्ञान की पराकाष्ठा चाहिए। बाबा कितनी दूर से हमको सिखाने आया है। अगर सर्विस नहीं करेंगे तो ऊंच पद कैसे पायेंगे? स्कूल में बच्चे बहुत अच्छे चमत्कारी होते हैं, उछलते रहते हैं। यह भी पढ़ाई है, यह वन्डरफुल पढ़ाई है – इसमें बूढ़े, जवान, बच्चे सब पढ़ते हैं। गरीबों को और ही अच्छा चांस है। सन्यासी भी वास्तव में गरीब हैं। कितने बड़े-बड़े धनवान मनुष्य अपने पास बुलाते हैं। सन्यासियों ने घरबार छोड़ा बेगर हुए। कुछ भी उन्हों के पास नहीं है। तुम भी अभी बेगर हो फिर प्रिन्स बनते हो। वह भी बेगर हैं। इसमें पवित्रता की बात है। तुम्हारे पास और कुछ नहीं है। तुम देह को भी भूल जाते हो। देह सहित सब कुछ त्याग कर एक बाप के बनते हो। जितना एक बाप को याद करेंगे उतनी धारणा होगी। एकरस धारणा हो जाए उसके लिए मेहनत चाहिए। हमको बाबा के पास जाना है तो इस पुरानी दुनिया का ख्याल क्या रखें। जब तक परिपक्व अवस्था हो तब तक रहना इस पुरानी दुनिया, पुराने शरीर में है।

अब तुम्हें गृहस्थ व्यवहार में रहकर पवित्र बनना है। इस मृत्युलोक से हिसाब-किताब चुक्तू होता है। अब अमरलोक जाना है। घर को घड़ी-घड़ी याद करने से पुरानी दुनिया भूलती जायेगी। बोलो, गीता में बाबा ने क्या कहा है? भगवान् को बाबा कहा जाता है। निराकार बाबा कहते हैं – मामेकम् याद करो। योग अग्नि से तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। कृष्ण ऐसे नहीं कह सकते हैं। यह भगवान् के महावाक्य हैं कि इस पुरानी दुनिया और पुरानी देह को भी छोड़ो। देही-अभिमानी बनकर निरन्तर बाबा को याद करो। भगवान् है निराकार। आत्मा शरीर लेकर टॉकी बनती है। बाबा तो गर्भ से जन्म नहीं लेते। उनका नाम एक ही शिव है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर की आत्मायें हैं, उन्हें अपना सूक्ष्म शरीर है। यह है ही निराकार परमपिता परमात्मा। फिर उनका नाम है शिव। वही ज्ञान का सागर है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को रचता नहीं कहेंगे। रचयिता एक ही निराकार को कहा जाता है। वह फिर साकारी रचना कैसे रचे? तो ब्रह्मा द्वारा आकर समझाते हैं। कृष्ण तो हो न सके। ब्रह्मा के हाथ में ही वेद-शास्त्र दिखाते हैं। गाया भी हुआ है ब्रह्मा द्वारा स्थापना, ब्रह्मा द्वारा सभी शास्त्रों का सार सुनाते हैं। निराकार सुनाते हैं साकार द्वारा। यह बातें अच्छी रीति धारण करनी पड़े। भगवानुवाच – मैं राजयोग सिखलाता हूँ। विनाश के पहले स्थापना भी जरूर चाहिए। पहले-पहले है स्थापना। बड़ा ही क्लीयर लिखते रहते हैं। ब्रह्मा द्वारा सूर्यवंशी घराने की स्थापना। लिखत में बड़ा अच्छा राज़ है परन्तु जबकि कोई मेहनत कर और सर्विस में लग जाए। सर्विस में लग जाने से फिर मजा आयेगा। मम्मा-बाबा को भी सर्विस में मजा आता है। बच्चों को भी सर्विस करनी है, मम्मा को तो मन्दिर में नहीं ले जायेंगे। मम्मा की तो बड़ी महिमा है, बच्चों को तो जाना ही पड़े। बाबा कहते हैं वानप्रस्थियों के पास जाकर उन्हों से प्रश्न पूछो फिर समझाओ कि कभी गीता अध्ययन की है? गीता का भगवान् कौन है? भगवान् तो एक ही निराकार होता है। साकार को भगवान् नहीं कहेंगे। भगवान् एक है। इसमें सर्विस का बहुत विचार सागर मंथन चलना चाहिए। प्रैक्टिस करनी है तो बाहर जाकर ट्रायल करनी चाहिए। जगत अम्बा का दर्शन करने रोज़ आते हैं। त्रिवेणी पर भी मनुष्य बहुत जाते हैं। वहाँ भी जाकर सर्विस करे, भाषण करे तो ढेर आकर इकट्ठे होंगे। निमंत्रण देते रहेंगे – हमारे पास आकर सतसंग करो। बाबा-मम्मा तो कहाँ जा नहीं सकते, बच्चे जा सकते हैं। बंगाल में काली का मन्दिर है वहाँ भी बहुत सर्विस कर सकते हो। काली कौन है? इस पर भाषण करो। परन्तु हिम्मत चाहिए। बाबा जानते हैं कौन समझा सकते हैं? जिनमें देह-अभिमान है वह क्या सर्विस कर सकेंगे? सर्विस का सबूत नहीं देते। सर्विस अगर पूरी नहीं की तो नाम बदनाम करेंगे। योगी में बल बड़ा अच्छा रहता है। समझाने के लिए प्वाइन्ट्स बहुत देते रहते हैं। परन्तु अच्छे-अच्छे महारथी भी भूल जाते हैं। सर्विस तो बहुत है, इसको कहा जाता है बेहद की सर्विस फिर वह मान भी बहुत पाते हैं। मुख्य है पवित्रता की बात। चलते-चलते टूट पड़ते हैं। लौकिक बाप से कभी किसको भी निश्चय नहीं टूटता। यहाँ बाबा के पास जन्म लेते हैं। ऐसे बाप को फिर घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं क्योकि विचित्र है ऐसे बाप का चित्र नहीं है। बाप कहते हैं मुझे याद करो और तुम पवित्र बनो तो मेरे पास आ जायेंगे। आत्मा समझती है – हमने ही 84 जन्मों का पार्ट बजाया है। आत्मा में पार्ट नूंधा हुआ है। शरीर में थोड़ेही पार्ट है। इतनी छोटी सी आत्मा में कितना भारी पार्ट है! यह बुद्धि में कितना नशा रहना चाहिए, व्यवहार के साथ-साथ यह सर्विस भी कर सकते हैं। माँ-बाप तो कहाँ भी नहीं जायेंगे। बच्चे कहाँ भी जाकर सर्विस कर सकते हैं। बच्चों को ही लकी स्टार्स कहा जाता है। अच्छा!

मीठे-मीठे ज्ञान लकी सितारों को मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) देह-अभिमान छोड़ सर्विस करनी है। विचार सागर मंथन कर बेहद की सर्विस का सबूत देना है।

2) इस मृत्युलोक से पुराने सब हिसाब-किताब चुक्तू करने हैं। पुरानी देह और पुरानी दुनिया को बुद्धि से भूलते जाना है।

वरदान:- कर्म करते शक्तिशाली स्टेज पर स्थित हो रूहानी पर्सनैलिटी का अनुभव कराने वाले कर्मयोगी भव
आप बच्चे सिर्फ कर्मकर्ता नहीं हो लेकिन योगयुक्त होकर कर्म करने वाले कर्मयोगी हो। तो आप द्वारा हर एक को यह अनुभव हो कि यह काम तो हाथ से कर रहे हैं लेकिन काम करते भी अपनी शक्तिशाली स्टेज पर स्थित हैं। चाहे साधारण रीति से चल रहे हैं, खड़े हैं लेकिन रूहानी पर्सनैलिटी का दूर से ही अनुभव हो। जैसे दुनियावी पर्सनैलिटी आकर्षित करती है, ऐसे आपकी रूहानी पर्सनैलिटी, प्योरिटी की पर्सनैलिटी, ज्ञानी वा योगी तू आत्मा की पर्सनैलिटी स्वत: आकर्षित करेगी।
स्लोगन:- सही राह पर चलने वाले तथा सबको सही राह दिखाने वाले सच्चे-सच्चे लाइट हाउस हैं।

TODAY MURLI 10 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 9 December 2017 :- Click Here

10/12/17
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
05/04/83

All blessings are your birthright.

BapDada is pleased to see the meeting of the Father and the children. From the copper age onwards, all the meetings that take place in a special form take place on the banks of one or another river and in the presence of one or another deity idol. It is only Shiv Ratri that is celebrated in memory of the Father. However, they don’t have His introduction. The meetings of the copper age are of devotees and deity idols, but this is the meeting of the Father and the children on the banks of the great river and the Ocean. Such a meeting cannot take place at any other time throughout the whole cycle. You witness a doublemeeting in Madhuban. One is the meeting of Bap and Dada, the Ocean and the great river, and the other one is the meeting of BapDada and the children. You have already celebrated this meeting. These meetings will continue to expand. You continue to serve so that there can be growth. Therefore, there will be growth and the meetings have to be celebrated.

Bap and Dada were having a heart-to-heart conversation between themselves. Brahma said that the number of Brahmins would continue to grow until the end of the sacrificial fire. However, along with the expansion, the method of celebrating a meeting in the corporeal form in the corporeal world will have to change, will it not? There is a difference between using something that you have taken on loan and something that belongs to you. You can use your own belongings however you want, whereas this corporeal body of the final birth has been taken on loan. You have to consider the method of using something old that has been taken on loan. Father Shiva smiled and said: According to the growth, the three methods of meeting in three relationships will definitely be transformed. What will these be?

From the form of the Father, your special right is the special toli of a meeting. From the Teacher, you receive the murli. From the Satguru, you are taken beyond with a glance, that is, with the drishti filled with spiritual love of the avyakt meeting. The welcome and the meeting will continue to take place in this way for the children who are yet to come. Everyone has the thought of receiving a blessing. BapDada says: Since you are children of the Bestower of Blessings, all blessings are your birthright. Not just now, but at the very moment you were born, the Bestower of Blessings gave you blessings. The Bestower of Fortune fixed the imperishable line of fortune in your horoscope. In worldly life too, they write a horoscope chart before the naming ceremony. The Father, the Bestower of Fortune and the Bestower of Blessings, and Mother Brahma drew your line of all blessings and imperishable fortune the moment you were born. Before you were named Brahma Kumars and Kumaris, they created the chart of your horoscope. You are blessed for all time. Children who are embodiments of remembrance are always those who have attained all blessings. You are the children who are embodiments of remembrance. Are you lacking anything that you still have to attain? Bap and Dada had such a heart-to-heart conversation. Why has this hall been built? So that three to four thousand Brahmins can come and so that these meetings can keep expanding. Therefore, keep growing a lot more! Is Baba not talking to you when He speaks the murli? Yes, Baba’s vision should fall on you. All of these things will be fulfilled.

Now, there has to be a queue up from Abu. There has to be that much growth. Or, do you think that just the few of you are enough? Servers constantly renounce everything for themselves and are happy serving others. Mothers are experienced in service. You would even renounce your own sleep and cradle your child in your lap. So, through the growth that you help to bring about, you will enable those who are to come to receive their share, will you not? Achcha.

This time, BapDada has finished all the complaints of the children of Bharat. As long as the body that is taken on loan can be an instrument, Baba will continue to answer everyone’s complaints. Achcha.

To all those who experience spiritual love and a spiritual meeting, to the imperishable, elevated, fortunate souls who are filled with blessings at the moment of their birth, to such great renunciates who attain fortune through renunciation, to such multimillionfold fortunate children, to the children from everywhere who are thirsty for love, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Avyakt BapDada’s invaluable versions for the mothers: ( 0 7/ 0 4/83)

BapDada is especially saying a few words to the double servers who are special instruments, to the loving mothers. So, constantly keep your gift of the Father’s teachings with you.

Always have the awareness of being subtle even whilst in the world. Always have the awareness of being a server. Always have the awareness of being a trustee. Have spiritual love and feelings of benevolence for everyone, and good wishes to make them elevated. Just as you look at and speak to many souls with the vision of serving them, in the same way, continue to interact with instrument souls of your worldly family too. Do not become limited in the sense of: My child and my husband should benefit. Let there be benefit for everyone. When there is the consciousness of “mine” you are unable to give soul conscious and benevolent drishti to them. The desire that the majority of you place in front of BapDada is that your child should change or that your husband should co-operate or that family members should become your companions. However, why do you have this desire and only consider those souls as belonging to you? Because of this wall of limitation, your good and benevolent wishes don’t reach those souls. This is why, although your thoughts may be good, if the method is not accurate, how could there be any results? This is why this complaint continues. By constantly maintaining soul-conscious vision and having an attitude of a brotherly relationship, you definitely receive the fruit of your having good wishes for any soul. So, don’t get tired of making effort. Don’t get disheartened by thinking that you have made a lot of effort but that person is not going to change. Let your intellect have faith, be detached from the consciousness of “mine” in relationships and keep moving. Some souls take time to settle their karmic accounts of devotion and claim their Godly inheritance. Therefore, have patience, remain stable on the seat of a detached observer and don’t get disheartened. Continue to give souls the co-operation of peace and power. The importance of double-server, trustee children who remain stable in such a stage and have spiritual feelings for this worldly family is very great. Know your own importance! So, what two titles will you remember?

A conqueror of attachment and an embodiment of remembrance for your unlimited relations. Secondly, “I belong to the Father and He is my constant Companion.” You have to fulfil all relationships with the Father. You will be able to remember this, will you not? Simply remember these two things especially. All of you Shaktis and Pandavas should think that BapDada is speaking to each one of you personally. All of you must think about what Baba has said to you personally. Whilst in the gathering, BapDada is speaking especially to all the householders personally. Baba is speaking privately in public. Do you understand? He is giving each child more love than the next. This is why you come, is it not? So that you receive love and gifts! You become refreshed through this, do you not? The Ocean of Love is giving each loving soul a mine of love that will never end. Is there anything else left to be done? Meeting, speaking and receiving – this is all you want, is it not? Achcha.

To those who are detached from all limited relations, to those who are constantly worthy of God’s love, to the conquerors of attachment, to those who are embodiments of the awareness of world benefit, to the victorious ones whose intellects constantly have faith, to those who remain unshakeable and beyond any upheaval, to such elevated souls, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting different groups:

Do you constantly experience yourselves to be Father’s companions? Someone whose Companion is always the Almighty Authority Father has all attainments. No type of Maya can ever come in front of him. He has bidden farewell to Maya. You don’t offer Maya hospitality, do you? Those who bid farewell to Maya receive congratulations from the Father at every step. If you have not yet bidden her farewell, you will have to cry out in distress over and over again: What should I do? How should I do this? Therefore, always be those who have bidden farewell and thereby receive congratulations. You are such ones with the fortune of happiness, are you not? Your every step is with the Father. So, congratulations are also for you. Always maintain the happiness that God Himself is congratulating you souls. You have attained what you never even thought of. You have attained the Father and so you have attained everything. You have become embodiments of all attainments. Constantly remember this fortune.

  • Do all of you remain absorbed in love for the one Father? Just as you become merged in the ocean, in the same way, you remain merged in the Father’s love. Those who are constantly absorbed in love are unaware of anything of the world. Because of being totally absorbed in love, they are easily able to go beyond everything. They don’t have to make effort. It is said of devotees: They are always lost in their devotion. However, for the children, it is said: You are always absorbed in love. You don’t have any awareness of the world. The consciousness of “mine” in terms of “My home, my children and my possessions” all end. When the one Father is “mine”, the consciousness of all other “mines” end. The consciousness of “Mine” for anything else makes you dirty. When you say, “The Father is mine”, all other “mines” end.
  • Baba has deep love for every child. Whether you are poor or wealthy, educated or uneducated, all of you are the most elevated of all. Each one of you is more loved than the next. For the Father, all of you are special souls. What speciality do all of you have? You have the speciality of knowing the Father. The One whom the great rishis and munis did not know, you now know and have attained. Those poor people went away saying “We do not know, we do not know!” You now know everything. BapDada gives love and remembrance to such special souls every day. He celebrates a meeting with you every day. The time of amrit vela is especially for the children. The queue of devotees comes later. First, there is the line of you children. The time for meeting special souls would definitely be special too. Therefore, constantly consider yourselves to be such special souls and continue to fly in happiness.
  • Brahmin children can find a medicine for their own illnesses. The nourishment of happiness is a medicine that works in a second. Just as those people give a powerful injection that instantly brings about a change, so too, when Brahmins give themselves a tablet of happiness, they inject happiness into themselves. All of you have this stock, do you not? You have to make your body function on the basis of knowledge. The light and might of knowledgehelps a great deal. An illness that comes is a means of taking rest. BapDada invites you to come to the subtle region for two days to play the game of the divine activities of Ashta (eight special jewels). Then, there won’t be any need for a doctor. In the beginning, the trance messengers used to stay in the subtle region for one or two days. In the same way, when anything happens, just come to the subtle region. BapDada will take you on a tour in the subtle region to the devotees in London and America. He will take you on a tour of the world. So, whenever an illness comes, just think that an invitation has come to visit the subtle region and that it is not an illness.

Question: What is the speciality of an easy yogi life?

Answer: A yogi life is a life of constant happiness. Those who are easy yogis constantly swing in the swings of happiness. When the Father, the Bestower of Happiness, belongs to you, there is nothing but happiness. So, continue to swing in the swings of happiness. You have found the Father, the Bestower of Happiness, your life has become one of happiness, you have found the world of happiness. These are the specialities of a yogi life in which there is no name or trace of sorrow.

Question: On what basis should elderly and uneducated children do service?

Answer: On the basis of their experience. Tell everyone stories of your experience. Just as a nanny or grandma tells stories to all the children in the family, in the same way, tell stories of your experiences. Just talk about what you have found and what you have attained. This service that each one of you can do is the greatest service of all. Keep constantly busy in remembrance and service. This is carrying out a task that is equal to that of the Father.

Blessing: May you be an easy effort-maker and make the specialty of your Brahmin birth your natural nature.
When someone is born in a royal family, he or she brings into his or her awareness again and again, “I am a prince/princess”. Their actions may still be ordinary due to some interest, but they do not forget the speciality of their birth. Similarly, the Brahmin birth is a special birth. So, your birth is elevated, your religion (dharma) is elevated and your actions (karma) are elevated. Let the greatness, that is, the speciality of this life stay in your awareness in a natural way and you will become an easy effort-maker. Souls with a special life can never perform ordinary actions.
Slogan: In order to remain double light, become a conqueror of obstacles.

 

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 10 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 December 2017

To Read Murli 9 December 2017 :- Click Here

10/12/17  मधुबन “अव्यक्त-बापदाद”‘  ओम् शान्ति  05-04-83
सर्व वरदान आपका जन्म-सिद्ध अधिकार

बापदादा बाप और बच्चों का मेला देख हर्षित हो रहे हैं। द्वापर से जो भी मेले विशेष रूप में होते हैं, कोई न कोई नदी के किनारे पर होते हैं वा कोई देवी वा देवता की मूर्ति के उपलक्ष में होते हैं। एक ही शिवरात्रि बाप की यादगार में मनाते हैं। लेकिन परिचय नहीं। द्वापर के मेले भक्तों और देवियों वा देवताओं के होते हैं। लेकिन यह मेला महानदी और सागर के कण्ठे पर बाप और बच्चों का होता है। ऐसा मेला सारे कल्प में हो नहीं सकता। मधुबन में डबल मेला देखते हो। एक बाप और दादा महानदी और सागर का मेला देखते। साथ-साथ बापदादा और बच्चों का मेला देखते। तो मेला तो मना लिया ना! यह मेला वृद्धि को पाता ही रहेगा। एक तरफ सेवा करते हो कि वृद्धि को पाते रहें। तो वृद्धि को प्राप्त होना ही है और मेला भी मनाना ही है।

बापदादा आपस में रूहरिहान कर रहे थे। ब्रह्मा बोले ब्राह्मणों की वृद्धि तो यज्ञ समाप्ति तक होनी है। लेकिन साकारी सृष्टि में साकारी रूप से मिलन मेला मनाने की विधि, वृद्धि के साथ-साथ परिवर्तन तो होगी ना! लोन ली हुई वस्तु और अपनी वस्तु में अन्तर तो होता ही है। अपनी वस्तु को जैसे चाहे वैसे कार्य में लगाया जाता है। और लोन भी साकार शरीर अन्तिम जन्म का शरीर है। लोन ली हुई पुरानी वस्तु को चलाने की विधि भी देखनी होगी ना। तो शिव बाप मुस्कराते हुए बोले कि तीन सम्बन्धों से तीन रीति की विधि वृद्धि प्रमाण परिवर्तन हो ही जायेगा। वह क्या होगा?

बाप रूप से विशेष अधिकार है मिलन की विशेष टोली और शिक्षक के रूप में मुरली। सतगुरू के रूप में नज़र से निहाल अर्थात् अव्यक्त मिलन की रूहानी स्नेह की दृष्टि। इसी विधि के प्रमाण वृद्धि को प्राप्त होने वाले बच्चों का स्वागत और मिलन मेला चलता रहेगा। सभी को संकल्प होता है कि हमें कोई वरदान मिले। बापदादा बोले जब हैं ही वरदाता के बच्चे तो सर्व वरदान तो आपका जन्म-सिद्ध अधिकार है। अभी तो क्या लेकिन जन्मते ही वरदाता ने वरदान दे दिये। विधाता ने भाग्य की अविनाशी लकीर जन्मपत्री में नूँध दी। लौकिक में भी जन्मपत्री नाम संस्कार के पहले बना देते हैं। भाग्य विधाता बाप ने वरदाता बाप ने ब्रह्मा माँ ने जन्मते ही ब्रह्माकुमार वा कुमारी के नाम संस्कार के पहले सर्व वरदानों और अविनाशी भाग्य की लकीर स्वयं खींच ली। जन्मपत्री बना दी। तो सदा के वरदानी तो हो ही। स्मृति-स्वरूप बच्चों को तो सदा सर्व वरदान प्राप्त ही हैं। प्राप्ति स्वरूप बच्चे हो। अप्राप्ति है क्या जो प्राप्ति करनी पड़े। तो ऐसी रूह-रिहान आज बापदादा की चली। यह हाल बनाया ही क्यों है! तीन हजार, चार हजार ब्राह्मण आवें। मेला बढ़ता जाए। तो खूब वृद्धि को पाते रहो। मुरली बात करना नहीं है क्या। हाँ नज़र पड़नी चाहिए, यह सब बातें तो पूर्ण हो ही जायेंगी।

अभी तो आबू तक लाइन लगानी है ना। इतनी वृद्धि तो करनी है ना! वा समझते हो हम थोड़े ही अच्छे हैं। सेवाधारी सदा स्वयं का त्याग कर दूसरे की सेवा में हर्षित होते हैं। मातायें तो सेवा की अनुभवी हैं ना! अपनी नींद भी त्याग करेंगी और बच्चे को गोदी के झूले में झुलायेंगी। आप लोगों द्वारा जो वृद्धि को प्राप्त होंगे उन्हों को भी तो हिस्सा दिलावेंगे ना। अच्छा !

इस बारी तो बापदादा ने भी सब भारत के बच्चों का उल्हना मिटाया है। जहाँ तक लोन का शरीर निमित्त बन सकते वहाँ तक इस बारी तो उल्हना पूरा कर ही रहे हैं। अच्छा !

सब रूहानी स्नेह को, रूहानी मिलन को अनुभव करने वाले, जन्म से सर्व वरदानों से सम्पन्न अविनाशी श्रेष्ठ भाग्यवान, ऐसे सदा महात्यागी, त्याग द्वारा भाग्य पाने वाले ऐसे पद्मापदम भाग्यवान बच्चों को, चारों ओर के स्नेह के चात्रक बच्चों को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

10-12-17 प्रात:मुरली ओम् शान्ति ”अव्यक्त-बापदादा” रिवाइज:07-04-83 मधुबन

माताओं के प्रति अव्यक्त बापदादा के महावाक्य

आज विशेष निमित्त बनी हुई डबल सेवाधारी, बापदादा की स्नेही माताओं को विशेष दो बोल सुना रहे हैं। जो सदा बाप के शिक्षा की सौगात साथ रखना।

एक सदा लौकिक में अलौकिक स्मृति, सदा सेवाधारी की स्मृति। सदा ट्रस्टीपन की स्मृति। सर्व प्रति आत्मिक भाव से शुभ कल्याण की भावना, श्रेष्ठ बनाने की शुभ भावना। जैसे अन्य आत्माओं को सेवा की भावना से देखते हो, बोलते हो, वैसे निमित्त बने हुए लौकिक परिवार की आत्माओं को भी उसी प्रमाण चलाते रहो। हद में नहीं आओ। मेरा बच्चा, मेरा पति इसका कल्याण हो, सर्व का कल्याण हो। अगर मेरापन है तो आत्मिक दृष्टि, कल्याण की दृष्टि दे नहीं सकेंगे। मैजारटी बापदादा के आगे यही अपनी आश रखते हैं बच्चा बदल जाए, पति साथ दे, घर वाले साथी बनें। लेकिन सिर्फ उन आत्माओं को अपना समझ यह आश क्यों रखते हो! इस हद की दीवार के कारण आपकी शुभ भावना वा कल्याण की शुभ इच्छा उन आत्माओं तक पहुँचती नहीं इसलिए संकल्प भल अच्छा है लेकिन साधन यथार्थ नहीं तो रिज़ल्ट कैसे निकले इसलिए यह कम्पलेन्ट चलती रहती है। तो सदा बेहद की आत्मिक दृष्टि, भाई भाई के सम्बन्ध की वृत्ति से किसी भी आत्मा के प्रति शुभ भावना रखने का फल जरूर प्राप्त होता है इसलिए पुरूषार्थ से थको नहीं। बहुत मेहनत की है वा यह तो कभी बदलना ही नहीं है – ऐसे दिलशिकस्त भी नहीं बनो। निश्चयबुद्धि हो, मेरेपन के सम्बन्ध से न्यारे हो चलते चलो। कोई-कोई आत्माओं का ईश्वरीय वर्सा लेने के लिए भक्ति का हिसाब चुक्तु होने में थोड़ा समय लगता है इसलिए धीरज धर, साक्षीपन की स्थिति में स्थित हो, निराश न हो। शान्ति और शक्ति का सहयोग आत्माओं को देते रहो। ऐसी स्थिति में स्थित रहकर लौकिक में अलौकिक भावना रखने वाले, डबल सेवाधारी ट्रस्टी बच्चों का महत्व बहुत बड़ा है। अपने महत्व को जानो। तो दो बोल क्या याद रखेंगे?

नष्टोमोहा, बेहद सम्बन्ध के स्मृति स्वरूप और दूसरा ‘बाप की हूँ’, बाप सदा साथी है। बाप के साथ सर्व सम्बन्ध निभाने हैं। यह तो याद पड़ सकेगा ना! बस यही दो बातें विशेष याद रखना। हरेक यही समझे कि बापदादा हरेक शक्ति वा पाण्डव से यह पर्सनल बात कर रहे हैं। सभी सोचते हो ना कि मेरे लिए पर्सनल क्या है। सभा में होते भी बापदादा सभी प्रवृत्ति वालों से विशेष पर्सनल बोल रहे हैं। पब्लिक में भी प्राइवेट बोल रहे हैं। समझा! एक एक बच्चे को एक दो से ज्यादा प्यार दे रहे हैं इसलिए ही आते हो ना! प्यार मिले, सौगात मिले। इससे ही रिफ्रेश होते हो ना। प्यार के सागर हरेक स्नेही आत्मा को स्नेह की खान दे रहे हैं, जो कभी खत्म ही नहीं हो और कुछ रह गया क्या! मिलना, बोलना और लेना। यही चाहते हो ना। अच्छा!

ऐसे सर्व हद के सम्बन्ध से न्यारे, सदा प्रभु प्यार के पात्र, नष्टोमोहा, विश्व कल्याण के स्मृति स्वरूप, सदा निश्चय बुद्धि विजयी, हलचल से परे अचल रहने वाले, ऐसी श्रेष्ठ आत्माओं के प्रति बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

पार्टियों के साथ – अलग-अलग ग्रुप से मुलाकात

1) सदा अपने को बाप के साथी अनुभव करते हो? जिसका साथी सर्वशक्तिवान बाप है उसको सदा ही सर्व प्राप्तियाँ हैं। उनके सामने कभी भी किसी प्रकार की माया नहीं आ सकती। माया को विदाई दे दी है? कभी माया की मेहमान निवाज़ी तो नहीं करते? जो माया को विदाई देने वाले हैं उन्हों को बापदादा द्वारा हर कदम में बधाई मिलती है। अगर अभी तक विदाई नहीं दी तो बार-बार चिल्लाना पड़ेगा – क्या करें, कैसे करें इसलिए सदा विदाई देने वाले और बधाई पाने वाले। ऐसी खुशनसीब आत्मा हो। हर कदम बाप साथ है तो बधाई भी साथ है। सदा इसी स्मृति में रहो कि स्वयं भगवान हम आत्माओं को बधाई देते हैं। जो सोचा नहीं था वह पा लिया! बाप को पाया सब कुछ पाया। सर्व प्राप्ति स्वरूप हो गये। सदा इसी भाग्य को याद करो।

2) सभी एक बाप के स्नहे में समाये हुए रहते हो? जैसे सागर में समा जाते हैं ऐसे बाप के स्नेह में सदा समाये हुए। जो सदा स्नेह में समाये रहते हैं उनको दुनिया की किसी भी बात की सुधबुध नहीं रहती। स्नेह में समाये होने के कारण सब बातों से सहज ही परे हो जाते हैं। मेहनत नहीं करनी पड़ती। भक्तों के लिए कहते हैं यह तो खोये हुए रहते हैं लेकिन बच्चे तो सदा प्रेम में डूबे हुए रहते हैं। उन्हें दुनिया की स्मृति नहीं। घर मेरा, बच्चा मेरा, यह चीज़ मेरी, ये मेरा-मेरा खत्म। बस एक बाप मेरा और सब मेरा खत्म। और मेरा मैला बना देता है, एक बाप मेरा तो मैलापन समाप्त हो जाता है।

3) बाप को हरेक बच्चा अति प्यारा है। सब श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ हो। चाहे गरीब हो, चाहे साहूकार, चाहे पढ़े लिखे हो चाहे अनपढ़, सब एक दो से अधिक प्यारे हैं। बाप के लिए सभी विशेष आत्माये हैं। कौन सी विशेषता है सभी में? बाप को जानने की विशेषता है। जो बड़े बड़े ऋषि मुनि नहीं जान सके वह आपने जान लिया, पा लिया। वह बिचारे तो नेती नेती करके चले गये। आपने सब कुछ जान लिया। तो बापदादा ऐसी विशेष आत्माओं को रोज़ याद-प्यार देते हैं। रोज मिलन मनाते हैं। अमृतवेले का समय खास बच्चों के लिए हैं। भक्तों की लाइन पीछे, बच्चों की पहले। जो विशेष आत्मायें होती हैं उनसे मिलने का समय भी जरूर विशेष होगा ना! तो सदा ऐसी विशेष आत्मा समझो और सदा खुशी में उड़ते चलो।

4) ब्राह्मण बच्चे अपनी बीमारी की दवाई स्वयं ही कर सकते हैं। खुशी की खुराक सेकण्ड में असर करने वाली दवाई है। जैसे वह लोग पॉवरफुल इन्जेक्शन लगा देते हैं तो चेन्ज हो जाते। ऐसे ब्राह्मण स्वयं ही स्वयं को खुशी की गोली दे देते हैं वा खुशी का इन्जेक्शन लगा देते हैं। यह तो स्टॉक हरेक के पास है ना! नॉलेज के आधार पर शरीर को चलाना है। नॉलेज की लाइट और माइट बहुत मदद देती है। कोई भी बीमारी आती है तो यह भी बुद्धि को रेस्ट देने का साधन है। सूक्ष्मवतन में अव्यक्त बापदादा के साथ दो दिन के निमंत्रण पर अष्ट लीला खेलने के लिए पहुँच जाओ फिर कोई डॉक्टर की भी जरूरत नहीं रहेगी। जैसे शुरू में सन्देशियाँ जाती थीं एक या दो दिन भी वतन में ही रहती थी, ऐसे ही कुछ भी हो तो वतन में आ जाओ। बापदादा वतन से सैर कराते रहेंगे, भक्तों के पास ले जायेंगे, लण्डन, अमेरिका घुमा देंगे। विश्व का चक्र लगवा देंगे। तो कोई भी बीमारी कभी आये तो समझो वतन का निमंत्रण आया है, बीमारी नहीं आई है।

प्रश्न:- सहजयोगी जीवन की विशेषता क्या है?

उत्तर:- योगी जीवन अर्थात् सदा सुखमय जीवन। तो जो सहजयोगी हैं वह सदा सुख के झूले में झूलने वाले होते हैं। जब सुखदाता बाप ही अपना हो गया तो सुख ही सुख हो गया ना। तो सुख के झूले में झूलते रहो। सुखदाता बाप मिल गया, सुख की जीवन बन गई, सुख का संसार मिल गया, यही है योगी जीवन की विशेषता जिसमें दु:ख का नाम निशान नहीं।

प्रश्न:- बुजुर्ग और अनपढ़ बच्चों को किस आधार पर सेवा करनी है?

उत्तर:- अपने अनुभव के आधार पर। अनुभव की कहानी सबको सुनाओ। जैसे घर में दादी वा नानी बच्चों को कहानी सुनाती है ऐसे आप भी अनुभव की कहानी सुनाओ, क्या मिला है, क्या पाया है… यही सुनाना है। यह सबसे बड़ी सेवा है, जो हरेक कर सकता है। याद और सेवा में ही सदा तत्पर रहो, यही है बाप समान कर्तव्य।

वरदान:- ब्राह्मण जन्म की विशेषता को नेचरल नेचर बनाने वाले सहज पुरूषार्थी भव
जैसे किसी का जन्म राज परिवार में हो, तो बार-बार स्मृति में लाते हैं कि मैं राजकुमार या राजकुमारी हूँ, चाहे कर्म रूचि के कारण साधारण भी हो लेकिन अपने जन्म की विशेषता को नहीं भूलते। ऐसे ब्राह्मण जन्म ही विशेष जन्म है, तो जन्म भी श्रेष्ठ, धर्म भी श्रेष्ठ और कर्म भी श्रेष्ठ है। इसी श्रेष्ठता अर्थात् विशेषता की जीवन स्मृति में नेचरल रहे तो सहज पुरूषार्थी बन जायेंगे। विशेष जीवन वाली आत्मायें कभी साधारण कर्म नहीं कर सकती।

स्लोगन:- डबल लाइट रहना है तो विघ्न-विनाशक बनो।

 

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize