today murli 1 july

TODAY MURLI 1 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 1 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 June 2018 :- Click Here

01/07/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
14/12/83

The family of God is the most elevated family of all.

Today, BapDada was seeing His elevated Brahmin family. The Brahmin family is the highest family. Do all of you know this very well? BapDada has first of all brought you into the loving relationship of a family. Baba hasn’t just given you knowledge that you are an elevated soul, but the knowledge that you, an elevated soul, are a child. He brought you into the relationship of Father and child and, because of coming into this relationship, the pure relationship of brothers and sisters was forged amongst you. What does it become where there is the relationship of BapDada and brothers and sisters? God’s family. Did you ever even dream about such fortune – that you would become an heir in God’s family in a corporeal form and claim a right to the inheritance? To become an heir is the most elevated fortune of all. Did you ever think that the Father Himself would come and adopt a corporeal form, just like you children, and give you the experience of Father and child and all relationships? You never even thought that you would receive sustenance from God in the corporeal form. However, you are experiencing this now, are you not? You attained the fortune to experience all of this when you became part of God’s family. So, you became the children who have a right to such an elevated family. You are being sustained with such pure sustenance. Look how you are swinging in the swing of subtle attainment! You are experiencing all of this, are you not? Your family has changed. The age has changed. Your religion and actions have changed. Because the age has changed, you have come away from the world of sorrow into the world of happiness. From being ordinary souls you have become the most elevated beings. You lived in the dirt for 63 births and now, from dirt, you have become lotuses. To come into God’s family means to make your line of fortune elevated for birth after birth. This is God’s family (parivar). “Parivar” means to go beyond (par) any attack (var). There can never be an attack on God’s children. When you belong to God’s family, your treasure-store of all attainments becomes full for all time. You become such master almighty authorities that even nature will become the servant of you children of God and serve you. Nature will consider you, who belong to God’s family, to be elevated and will fan you for birth after birth. Elevated souls are fanned as a welcome or as a sign of regard for them. Nature will give you regard all the time. Even today, all souls have love for God’s family. Even today, people continue to give praise and perform worship on the basis of that love. Even today, people listen to and relate the Bhagawad, the scripture of the memorial of the divine activities of God’s family with love. People listen to and speak about the Gita, which is the memorial of the study, the Teacher of this Godly family and the Godly student life , with so much purity and in the right way. The memorial of God’s family is also celebrated and worshipped in the form of the Sun, the moon and the lucky stars in the sky. Those who belong to God’s family become seated on the Father’s heart throne. No one, except those who belong to God’s family, can attain such a throne. This is the speciality of God’s family. However many children there are, all of them become seated on the throne. In no other royal family do all the children claim the throne. However, all of God’s children have a right. Throughout the whole cycle, have you ever seen such a big and elevated throne on which all are able to be seated? God’s family is such that everyone claims a right to self-sovereignty. He makes all of you into kings. As soon as you take birth, BapDada gives all of you children the tilak of self-sovereignty. He doesn’t give all of you the tilak of becoming subjects, but the tilak of becoming a king. Praise is also sung of the tilak of the kingdom. The day of receiving the tilak of the kingdom is especially celebrated. Have all of you celebrated your day of receiving the tilak of the kingdom? Or have you yet to celebrate it? You have celebrated it, have you not? A tilak is a sign of happiness, a sign of fortune and a sign of a serious problem having been removed. When someone is going away to do some special task, his family members send him on his way after applying a tilak so that the task is successfully accomplished. All of you have already applied the tilak, have you not? You have become those who have the tilak, the throne and the crown of world benefit, have you not? The future reward of the crown and tilak is the result of the attainment of this birth. Now is the time for special attainment and to attain the mine of all attainments. If you don’t receive this now, you won’t receive the future reward. The praise of this life is that the children of the Bestower, the children of the Bestower of Blessings, lack nothing. In the future, there will be at least one thing lacking. You won’t have a meeting with the Father, will you? So, to be in God’s family is to have a life of all attainments. You have reached such a family, have you not? You do believe yourselves to be part of such an elevated family, do you not? If you were to praise this life, many nights and days would go by. Look how the devotees spend so many days and nights just singing songs of praise! They are singing them even now. So, do you have such intoxication and happiness all the time? Do you always remember the riddle “Who am I”? You are not caught up in the cycle of remembering and forgetting, are you? You have become free from this cycle, have you not? To become a spinner of the discus of self-realisation means to become free from the spinning of many limited things. You have become like this, have you not? All of you are spinners of the discus of self-realisation, are you not? You are masters, are you not? A master knows everything. Every day at amrit vela, keep in your awareness “Who am I”? and you will always be powerful. Achcha.

BapDada is seeing the unlimited family. The unlimited Father is giving the unlimited family unlimited love and remembrance.

To those who constantly maintain the intoxication of the elevated family and who know the importance of God’s family and thereby become great, to those who attain the treasure-store of all attainments and the elevated fortune of the kingdom, to God’s jewels, love, remembrance and namaste.

BapDada meeti ng Uncle and Auntie from Guyana :

BapDada is meeting and also welcoming the serviceable children. To the extent that you have been remembering Baba at every moment, in return for that, BapDada accordingly merges you in His eyes and welcomes you children. Seeing the children who sing praise of the one Father, BapDada also sings songs of the speciality of such children. You sing such songs every day at every moment, do you not? What does the Father do when the children sing such songs? What do those listening do when someone sings a very good song? They start dancing against their conscious wish. Even though they may not know how to dance, even whilst sitting, they would start dancing. So, when children sing songs of love, BapDada dances in happiness. This is why the dance of Shankar is very well known. Service is also just dancing, is it not? What does the mind do when you are doing service? It dances, does it not? So, doing service is also dancing. Achcha.

BapDada always sees the special speciality of the children. As soon as you took birth you received three tilaks from BapDada. What are they? You have the crown and the throne anyway, but the three tilaks are special. You have already received the tilak of self-sovereignty. The second tilak you received as soon as you took birth is that of being serviceable. The third tilak you received at birth is that of being loving and co-operative with all the family and with BapDada. You received all three tilaks as soon as you took birth, did you not? Therefore, you are those who have the trimurti tilak. Do you always consider yourselves to be such special servers? According to the drama, you have received the service of becoming instruments to give many souls zeal and enthusiasm. Achcha. To the extent that the children remember the Father, the Father also remembers you. The most constant and imperishable remembrance is the Father’s remembrance. Children also get busy in other tasks, but the Father only has this work to do. From amrit vela, He begins the task of awakening everyone. Look how many children He has to awaken, and they are in this land and also abroad; they are not all in one place. Even then, children ask: What does Baba do all day?

After the children, Baba then has to awaken the devotees and then He inspires the scientists. He has to look after all the children. Whether they are knowledgeable or without knowledge, they are all co-operative in many different ways. He has to serve so many types of children. Who is the most busy? The only difference is that there is no bondage of a body. Now, all of you will also become equal to the Father for a time; you will live in the incorporeal world. This desire of everyone will also be fulfilled. Achcha.

BapDada meeting Madhuban residents:

You already know the praise of the Madhuban residents. The praise of Madhuban is also the praise of the residents of Madhuban. What could be greater fortune than to be close to the corporeal form at every moment? You are sitting on the doorstep, you are sitting in the home, you are sitting in the heart. The residents of Madhuban don’t need to make effort. Do you need to have yoga? Your yoga is already connected. Those whose yoga is already connected don’t need to make the effort to connect their yoga. You are natural and constant yogis. Just as a train has an engine connected and all the carriages stay on the rails, they don’t need to be made to move individually, in the same way, all of you are on the rails of Madhuban, the engine is connected and so you automatically continue to move along. “Residents of Madhuban” means conquerors of Maya. Maya will try (koshish) to come, but those who stay in the attraction (kashish) of the Father will always be conquerors of Maya. The efforts of Maya will end from a distance. All of you do very good service. You are an example of service. When someone fluctuates in service somewhere or other, then everyone gives the example of the residents of Madhuban. You all do so much tireless service in Madhuban with love, considering it to be your home; this is what everyone believes. Just as you are all number one in service and you have claimed 100% marks, in the same way, you need to have 100% marks in every subject. You all write on the board: You receive all three – health, wealth and happiness. Therefore, you also need to have these marks in all the subjects. It is the residents of Madhuban who listen to Baba the most. The first fresh produce is eaten by those of Madhuban. Others have special Brahma bhojan once when they come during their turn. You all eat it every day. You receive subtle and physical food hot and fresh! Achcha.

What new preparations are you making? You are decorating your home very well with a lot of love. The speciality of Madhuban is that every time there is one new addition or other. Just as everyone sees newness in a physical way, in the same way, let them see and speak about the newness each time: this time we have seen such and such special wave of attainment in Madhuban. There are different waves, are there not? Sometimes, let there especially be the waves of bliss, sometimes of love, sometimes of the specialities of knowledge. Let each one see just these waves. Just as when someone goes into the waves of the sea, he has to move along with the waves or else he would drown, so let these waves be very clearly visible. What special things will you do in this conferenceVIPswill come, journalists will come, there will be workshops; all this will happen. However, what special things will all of you do? What is the speciality of the physical Dilwala Temple? The design in every little room or alcove is different. Every room has its own speciality. This is why, out of all temples, that temple is unique. Even other temples have idols, but wherever you go in that temple, it has a special carved design. In the same way, in this living Dilwala Temple, let the speciality of every individual idol be visible. Whoever they see, let them see such special specialities that each one’s speciality is more special than that of the others. Just as people say there that it is the wonder of the one who built it, in the same way, here, let them speak about the speciality of each one. All of you should have a meeting about this. It is not a big thing, you can do it. In the golden age the deities listen to their teachers just for the sake of it, but their awareness will be very sharp and they won’t need to make any effort to remember. It is as though they have already heard it and it is just being refreshed. So, for the residents of Madhuban too, everything is already accomplished. There is just a little signal for determined thoughts, that’s all! You do also have very good thoughts but, in that too, repeatedly underline “determination” in them.

Blessing: May you be free from any desire (ichcha) and with remembrance of the Father, the Comforter of Hearts, make all three aspects of time good (achcha).
The children who have remembrance of the one Father, the Comforter of Hearts, in their heart constantly sing songs of “Wah wah!” No sound of distress can emerge in their minds, even in their dreams, because whatever happened was “wah” (wonderful), what is happening is “wah” and whatever is to happen is also “wah”. All three aspects of time are “wah wah”, that is, the best of all. Where everything is good, there cannot be any desire, because everything is said to be good when you have all attainments. To be full of all attainments is to be free of desires.
Slogan: Make your sanskars so pure and cool that no sanskars of force or bossiness emerge.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 1 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 July 2018

To Read Murli 30 June 2018 :- Click Here
01-07-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 14-12-83 मधुबन

प्रभु परिवार – सर्वश्रेष्ठ परिवार

आज बापदादा अपने श्रेष्ठ ब्राह्मण परिवार को देख रहे हैं। ब्राह्मण परिवार कितना ऊंचे ते ऊंचा परिवार है। उसको सभी अच्छी तरह से जानते हो? बापदादा ने सबसे पहले परिवार के प्यारे सम्बन्ध में लाया। सिर्फ श्रेष्ठ आत्मा हो, यह ज्ञान नहीं दिया लेकिन श्रेष्ठ आत्मा, बच्चे हो। तो बाप और बच्चे के सम्बन्ध में लाया। जिस सम्बन्ध में आने से आपस में भी पवित्र सम्बन्ध भाई-बहन का जुटा। जहाँ बापदादा, भाई-बहन का सम्बन्ध जुटा तो क्या हो गया! प्रभु परिवार। कभी स्वप्न में भी ऐसे भाग्य को सोचा था कि साकार रूप से डायरेक्ट प्रभु परिवार में वारिस बन वर्से के अधिकारी बनेंगे? वारिस बनना सबसे श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ भाग्य है। कभी सोचा था कि स्वयं बाप हम बच्चों के लिए हमारे समान साकार रूपधारी बन बाप और बच्चे का वा सर्व सम्बन्धों का अनुभव करायेंगे? सकार रूप में प्रभु पालना लेंगे, यह कभी संकल्प में भी नहीं था। लेकिन अभी अनुभव कर रहे हो ना! यह सब अनुभव करने का भाग्य तब प्राप्त हुआ जब प्रभु परिवार के बने। तो कितने ऊंचे परिवार के अधिकारी बच्चे बने। कितनी पवित्र पालना में पल रहे हो! कैसे अलौकिक प्राप्तियों के झूलें में झूल रहे हो! यह सब अनुभव करते हो ना। परिवार बदल गया। युग बदल गया। धर्म, कर्म सब बदल गया। युग परिवर्तन होने से दु:ख के संसार से सुखों के संसार में आ गये। साधारण आत्मा से पुरुषोत्तम बन गये। 63 जन्म कीचड़ में रहे और अभी कीचड़ में कमल बन गये। प्रभु परिवार में आना अर्थात् जन्म-जन्मान्तर के लिए तकदीर की लकीर श्रेष्ठ बन जाना। प्रभु परिवार, परिवार अर्थात् वार से परे हो गये। कभी भी प्रभु बच्चों पर वार नहीं हो सकता। प्रभु परिवार का बने, सदा के लिए सर्व प्राप्तियों के भण्डार भरपूर हो गये। ऐसे मास्टर सर्वशक्तिमान बन गये जो प्रकृति भी आप प्रभु बच्चों की दासी बन सेवा करेगी। प्रकृति आप प्रभु परिवार को श्रेष्ठ समझ आपके ऊपर जन्म जन्मान्तर के लिए चंवर (पंखा) झुलाती रहेगी। श्रेष्ठ आत्माओं के स्वागत में, रिगार्ड में चंवर झुलाते हैं ना। प्रकृति सदाकाल के लिए रिगार्ड देती रहेगी। प्रभु परिवार से अभी भी सर्व आत्माओं को स्नेह है। उसी स्नेह के आधार पर अभी तक गायन और पूजन करते रहते हैं। प्रभु परिवार के चरित्रों का अभी भी कितना बड़ा यादगार शास्त्र भागवत, प्यार से सुनते और सुनाते रहते हैं। प्रभु परिवार का शिक्षक और गाडली स्टूडेन्ट लाइफ का, पढ़ाई का यादगार शास्त्र गीता कितने पवित्रता से विधिपूर्वक सुनते और सुनाते हैं। प्रभु परिवार का यादगार आकाश में भी सूर्य, चन्द्रमा और लकी सितारों के रूप में मनाते और पूजते रहते हैं। प्रभु परिवार बाप के दिलतख्तनशीन बनते, ऐसा तख्त सिवाए प्रभु परिवार के और किसको भी प्राप्त हो नहीं सकता। प्रभु परिवार की यही विशेषता है। जितने भी बच्चे हैं सब बच्चे तख्तनशीन बनते हैं। और कोई भी राज्य परिवार में सब बच्चे तख्तनशीन नहीं होते हैं। लेकिन प्रभु के बच्चे सब अधिकारी हैं। इतना श्रेष्ठ और बड़ा तख्त सारे कल्प में देखा, जिसमें सभी समा जाएं? प्रभु परिवार ऐसा परिवार है जो सभी स्वराज्य अधिकारी होते। सभी को राजा बना देता। जन्म लेते ही स्वराज्य का तिलक बापदादा सभी बच्चों को देते हैं। प्रजा तिलक नहीं देते, राज्य तिलक देते हैं। महिमा भी राज्य तिलक की है ना। राज-तिलक दिवस विशेष मनाया जाता है। आप सबने अपना राज तिलक दिवस मनाया है या अभी मनाना है? मना लिया है ना! खुशी की निशानी, भाग्य की निशानी, संकट दूर होने की निशानी, तिलक होता है। जब कोई किसी कार्य पर जाते हैं, कार्य सफल रहे उसके लिए परिवार वाले तिलक लगाकर भेजते हैं। आप सबको तो तिलक लगा हुआ है ना। तिलकधारी, तख्तधारी, विश्व-कल्याण के ताजधारी बन गये हो ना। भविष्य का ताज और तिलक इसी जन्म के प्राप्ति की प्रालब्ध है। विशेष प्राप्ति का समय वा प्राप्तियों की खान प्राप्त होने का समय अभी है। अभी नहीं तो भविष्य प्रालब्ध भी नहीं। इसी जीवन का गायन है दाता के बच्चों को, वरदाता के बच्चों को अप्राप्त नहीं कोई वस्तु। भविष्य में फिर भी एक अप्राप्ति तो होगी ना। बाप का मिलन तो नहीं होगा ना। तो सर्व प्राप्तियों का जीवन ही ईश्वरीय परिवार है। ऐसे परिवार में पहुंच गये हो ना। समझते हो ना ऐसे ऊंचे परिवार के हैं! जिसकी महिमा करें तो अनेक रात दिन बीत जाएं। देखो, भक्तों को कीर्तन गाते-गाते कितने दिन और रात बीत जाते हैं। अभी तक भी गा रहे हैं। तो ऐसा नशा और खुशी सदा रहती है? मैं कौन! यह पहेली सदा याद रहती है? विस्मृति-स्मृति के चक्र में तो नहीं आते हो ना! चक्र से तो छूट गये ना। स्वदर्शन चक्रधारी बनना अर्थात् अनेक हद के चक्करों से छूट जाना। ऐसे बन गये हो ना। सभी स्वदर्शन चक्रधारी हो ना। मास्टर हो ना! तो मास्टर सब जानते हैं! रोज़ अमृतवेले मैं कौन – यह स्मृति में रखो तो सदा समर्थ रहेंगे। अच्छा!

बापदादा बेहद के परिवार को देख रहे हैं। बेहद का बाप बेहद के परिवार को बेहद की याद-प्यार देते हैं।

सदा श्रेष्ठ परिवार के नशे में रहने वाले प्रभु परिवार के महत्व को जान महान बनने वाले, सर्व प्राप्तियों के भण्डार श्रेष्ठ राज्य भाग्य प्राप्त करने वाले प्रभु रत्नों को याद-प्यार और नमस्ते।

(ग्याना के अंकल और आंटी से) सर्विसएबुल बच्चों को बापदादा मिलन के साथ स्वागत कर रहे हैं। जितना पल-पल याद करते आये हो उसके रिटर्न में बापदादा नयनों की पलकों में समाए हुए बच्चों का स्वागत कर रहे हैं। एक बाप के गुण गाने वाले बच्चों को देख बापदादा भी बच्चों की विशेषता के गुण गाते हैं। निशदिन, निशपल, गीत गाते रहते हो ना। जब बच्चे गीत गाते तो बाप क्या करते? जब कोई अच्छा गीत गाता है तो सुनने वाले क्या करते हैं? न चाहते हुए भी नाचने लग जाते हैं। चाहे नाचना आवे या न आवे लेकिन बैठे-बैठे भी नाचने लग जाते हैं। तो बच्चे जब स्नेह के गीत गाते हैं तो बापदादा भी खुशी में नाचते हैं ना इसीलिए शंकर डांस बहुत मशहूर है। सेवा भी तो नाचना है ना। जिस समय सर्विस करते हो उस समय मन क्या करता है? नाचता है ना। तो सेवा करना भी नाचना ही है। अच्छा

बापदादा सदा बच्चों की विशेष विशेषता को देखते हैं। जन्मते ही विशेष 3 तिलक बापदादा द्वारा मिले हैं। कौन से? ताज, तख्त तो हैं ही लेकिन 3 तिलक विशेष हैं। एक स्वराज्य का तिलक तो मिला ही है। दूसरा जन्मते ही सर्विसएबल का तिलक मिला। तीसरा जन्मते ही सर्व परिवार के, बापदादा के स्नेही और सहयोगीपन का तिलक। तीनों तिलक जन्मते ही मिले ना। तो त्रिमूर्ति तिलकधारी हो। ऐसे विशेष सेवाधारी सदा अपने को समझते हो। अनेक आत्माओं को उमंग – उत्साह दिलाने के निमित्त बनने की सेवा ड्रामा में मिली हुई है। अच्छा। जितना बच्चे बाप को याद करते हैं, उतना बाप भी तो याद करते हैं। सबसे ज्यादा अखण्ड अविनाशी बाप की याद है। बच्चे और कार्य में भी बिजी हो जाते हैं लेकिन बाप का तो काम ही यह है। अमृतवेले से लेकर सबको जगाने का काम शुरू करते हैं। देखो कितने बच्चों को जगाना पड़ता है और फिर देश-विदेश में, एक स्थान पर भी नहीं हैं। फिर भी बच्चे पूछते सारा दिन क्या करते!

बच्चों के बाद फिर भक्तों को करते, फिर साइंस वालों को प्रेरणा देते। सभी बच्चों की देख-रेख तो करनी पड़े। चाहे ज्ञानी हैं, चाहे अज्ञानी हैं लेकिन कई प्रकार से सहयोगी तो हैं ना। कितने प्रकार के बच्चों की सेवा है। सबसे ज्यादा बिज़ी कौन हैं? सिर्फ अन्तर यह है, शरीर का बन्धन नहीं है। अभी कुछ टाइम तो आप सब भी बाप समान बनेंगे ही। मूलवतन में रहेंगे। यह भी आशा सभी को पूरी होगी। अच्छा-

मधुबन निवासियों के साथ – मधुबन निवासियों की महिमा तो जानते ही हो। जो मुधबन की महिमा है वही मधुबन निवासियों की महिमा है। हर पल समीप साकार में रहना इससे बड़ा भाग्य और क्या हो सकता है। दर पर बैठे हो, घर में बैठे हो, दिल पर बैठे हो। मधुबन निवासियों को मेहनत करने की आवश्यकता नहीं, योग लगाने की आवश्यकता है क्या! योग लगा हुआ ही रहता है। लगे हुए को लगाने की आवश्यकता नहीं। स्वत:योगी, निरन्तर योगी। जैसे ट्रेन में इंजन लगी हुई है, सभी डिब्बे पट्टे पर हैं तो स्वत: चलते रहते हैं, चलाना नहीं पड़ता है। ऐसे आप भी मधुबन के पट्टे पर हो, इंजन लगी हुई है तो स्वत: चलते रहेंगे। मधुबन निवासी अर्थात् मायाजीत। माया आने की कोशिश करेगी लेकिन जो बाप की कशिश में रहते हैं वह सदा मायाजीत रहेंगे। माया की कोशिश दूर से ही समाप्त हो जायेगी। सेवा तो सभी बहुत अच्छी करते हैं। सेवा के लिए एक एग्जैम्पुल हो। कोई कहाँ भी चारों ओर सेवा में थोड़ा भी नीचे ऊपर करते हैं तो सभी मधुबन वालों का ही दृष्टान्त देते हैं। मधुबन में कितनी अथक सेवा प्यार से घर समझकर करते हैं, यह सभी मानते हैं। जैसे सेवा में सभी नम्बरवन हो, 100 मार्क्स ली हैं, ऐसे सब सब्जेक्ट में भी 100 मार्क्स चाहिए। आप लोग बोर्ड पर लिखते हो ना हेल्थ, वेल्थ, हैपीनेस तीनों ही मिलती हैं। तो यह भी सब सबजेक्ट में मार्क्स चाहिए। सबसे ज्यादा सुनते मधुबन वाले हैं। पहला-पहला ताज़ा माल तो मधुबन वाले खाते हैं। दूसरे तो एक टर्न में एक बारी विशेष ब्रह्मा भोजन खाते। आप तो रोज़ खाते। सूक्ष्म भोजन, स्थूल भोजन सब गर्म, ताजा मिलता है। अच्छा –

नई तैयारी क्या कर रहे हो? घर को तो अच्छा प्यार से सजा रहे हो। मधुबन की यह विशेषता है, हर बार कोई न कोई नई एडीशन हो जाती है। जैसे स्थूल में नवीनता देखते, ऐसे चैतन्य में भी हर बार नवीनता देख वर्णन करें कि इस बार विशेष मधुबन में इस प्राप्ति की लहर देखी। भिन्न-भिन्न लहरें हैं ना। कभी विशेष आनन्द की लहर हो, कभी प्यार की, कभी ज्ञान के विशेषताओं की.. हरेक को यही लहर दिखाई दे। जैसे सागर की लहरों में कोई जाता तो लहराना ही पड़ता, नहीं तो डूब जायेगा। तो यह लहरें स्पष्ट दिखाई दें। इस कानफ्रेन्स में विशेष क्या करेंगे? वी.आई.पीज़. आयेंगे, पेपर वाले आयेंगे, वर्कशाप होंगी, यह तो होगा लेकिन आप सब विशेष क्या करेंगे? जैसे स्थूल दिलवाड़ा है उसकी विशेषता क्या है? हरेक कमरे की डिज़ाइन अलग-अलग वैरायटी है। हर कमरे की अपनी-अपनी विशेषता है। इसलिए यह मन्दिर सब मन्दिरों से न्यारा है। मूर्तियां तो औरों में भी होती हैं लेकिन इस मन्दिर में जहाँ जाओ वहाँ विशेष कारीगरी है। ऐसे चैतन्य दिलवाड़ा मन्दिर में भी हर मूर्तियों की विशेषता अपनी-अपनी दिखाई दे। जिसको देखें, उसकी एक दो से आगे विशेष विशेषता दिखाई दे। जैसे वहाँ कहते कमाल है बनाने वाले की। ऐसे यहाँ एक-एक की विशेषता की कमाल वर्णन करें। आप लोग इस बात की मीटिंग करो। कोई बड़ी बात नहीं है, कर सकते हो। जैसे सतयुग में देवतायें सिर्फ निमित्तमात्र टीचर द्वारा थोड़ा-सा सुनेंगे लेकिन स्मृति बहुत तेज़ होगी, याद करने की मेहनत नहीं करनी पड़ेगी। जैसे सुना हुआ ही है, वह सिर्फ फ्रेश हो रहा है। मधुबन वालों के लिए हुआ पड़ा है। सिर्फ थोड़ा-सा दृढ़ संकल्प का इशारा है बस। संकल्प भी बहुत अच्छे-अच्छे करते हो लेकिन उसमें दृढ़ता को बार-बार अन्डरलाइन करो। अच्छा!

वरदान:- दिलाराम बाप की याद द्वारा तीनों कालों को अच्छा बनाने वाले इच्छा मुक्त भव 
जिन बच्चों की दिल में एक दिलाराम बाप की याद है वह सदा वाह-वाह के गीत गाते रहते हैं, उनके मन से स्वप्न में भी ”हाय” शब्द नहीं निकल सकता क्योंकि जो हुआ वह भी वाह, जो हो रहा है वह भी वाह और जो होना है वह भी वाह। तीनों ही काल वाह-वाह है अर्थात् अच्छे ते अच्छा है। जहाँ सब अच्छा है वहाँ कोई इच्छा उत्पन्न नहीं हो सकती क्योंकि अच्छा तब कहेंगे जब सब प्राप्तियां हैं। प्राप्ति सम्पन्न बनना ही इच्छा मुक्त बनना है।
स्लोगन:- संस्कारों को ऐसा शीतल बना लो जो जोश वा रोब के संस्कार इमर्ज ही न हों।

TODAY MURLI 1 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 1 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Her

Read Bk Murli 30 June 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_5]

 

 

01/07/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Shiv Baba’s number one shrimat is: Awaken in the early morning hours and remember Me, the Father, and your boat will then go across.
Question: What are the signs of generous-hearted children?
Answer: They continue to benefit others. They have an interest in making donations. Only those who donate at this time accumulate charity. 2. Generous-hearted children are generous like Baba, the Innocent Lord. They give their bones to this sacrificial fire like Dadichi Rishi.
Song: Who has come with ankle bells to the door of my mind?

 

Om shanti. Who has come for the children? They say “Lord of the Morning” because He is the One who changes the night into the day. Ravan is the Lord of the Night. Note this down clearly, for only then will it sit in your intellects. There is a difference in everyone’s intellect. There are intellects that are satopradhan, sato, rajo and tamo. Some understand just from a signal. You understand that Baba is definitely the Lord of the Morning. He changes the night into the day. He now makes you into the masters of the day, that is, the masters of the new world. You will become the masters when you continually follow shrimat. When business people open their shops in the morning, they first bow their heads. People also do this at temples. They bow in front of their shops before entering, so that they may earn a good income. In order to earn a good income, they say: O Lord, send me a good customer to enable me to earn a lot first thing in the morning. You children know who that One is. We souls recognise Him. He is our Baba, He is our Sai (Lord) Baba, the One who changes the night into the day. Nowadays, there are many Sai Babas, but there is only one Sai Baba who changes the night into the day and He is very innocent. His name is Bholanath (Innocent Lord). He places the urn of nectar on the innocent mothers and kumaris. He gives them the inheritance and makes them into the masters of the world. You should wake up early in the morning and remember your Father so that your boat can go right across. He makes you into the masters of the world; He does not give you any difficulty. Simply continue to do this business; continue to give this message to everyone: The One who changes the night into the day, that is, the One who changes hell into heaven, says: If you remember Me, your sins will be absolved. You have to give this message. Previously, you gave this message to all. You can explain that God, the Father, has come to give us the inheritance. The unlimited Father definitely gives the inheritance of heaven, so simply remember the Father. He shows the innocent mothers such an easy method! Sweetest mothers, sweetest kumaris, sweetest children, I do not give any other difficulty; simply let go of the company of everyone else. You have been giving this guarantee on the path of devotion: When You come, I will belong to only You; I will belong to You and none other. People speak of beloved Lord Krishna, but this one is your Father. They have said that Krishna was someone who looked after cows. In fact, these are living cows (the mothers), and Shiv Baba sustains you with knowledge; Shiv Baba feeds you the grass of knowledge. This Krishna soul is now in the last of his many births. The name, the form, the place and the time continue to change with every birth. You change from shudras to Brahmins, then from Brahmins to deities. It can be called the clan of Radhe and Krishna or the clan of Vishnu. You were the rosary of victory of Vishnu, or you could even say the rosary of Radhe and Krishna. Now, having been around the cycle, you are becoming that once again. You have now become Brahmins and you will then become deities. In the sun dynasty, there is a king and queen and also their subjects who are numberwise according to their efforts. The Father says: Every one follows shrimat according to their capacity. The number one shrimat you receive is: Awaken in the early morning hours and remember Sai Baba, the Lord, the Innocent Lord. The Father says: You are souls. You adopt bodies and play your part s. You souls reside up above. You now understand that our Baba is teaching us souls. Shiv Baba comes cycle after cycle, but only once, at the confluence age. After a cycle you have to develop the faith that you are a soul. You have to remember the Father. There is the example of the genie who said: Give me work to do, otherwise I will eat you up. The Father says: If you don’t remember Me, Maya, the genie , will eat you up. It is not that you will be able to stay in constant remembrance. You are now effort-makers. This is easy Raja Yoga and knowledge. You receive both health and wealth: Manmanabhav and Madhayajibhav. The Father says: Remember Me and the inheritance; that is all. Why should you waste your time? For half a cycle, you wasted time on the path of devotion. For half a cycle, it is the day of Brahma and for the other half, it is the night of Brahma. They have said that the duration of the iron age is hundreds of thousands of years, and that the duration of the golden age is so many years, in which case it could not be half and half. The Father sits here and explains: At first, there was unadulterated devotion and then it became adulterated. People have even started to worship evil spirits, that is, they have even started to worship bodies made of the five elements. Baba has seen how they sit on the banks of the Ganges and allow themselves to be worshipped. There are also various Sai Babas. This Baba is incognito, but your hearts recognise Him. Baba says: I am the Father of you souls. I teach you Raja Yoga. He is H eavenly God the Father. He definitely establishes heaven. Ravan comes and establishes hell. Only you have this understanding. Human beings simply speak for the sake of it, without understanding anything. They say that it is an inverted tree and then they also call it the kalpa tree, but they cannot tell its age. No tree can be hundreds of thousands of years old; that is impossible! The Father sits here and explains with so much love and says: Sweetest, long-lost and now-found, beloved children. He says it just as a lokik father also explains with great love: Go to school and do this. However, everyone is now tamopradhan. At the rajopradhan stage, a teacher gives good teachings and the parents also give good teachings. They create children in order to bring them happiness. People say that they should have at least one child, but if they have a son, they then say: Now, we should also have a daughter, otherwise how would Lakshmi (wealth) enter our home? What is the situation now? Children cause so many difficulties. Such things do not happen in the golden age. What would heaven be otherwise? You sweetest children are now claiming the kingdom of heaven. You understand that the intellects of people have become stone because they do not recognise the Father. Among you too, you know Him, numberwise, according to the effort you make. It takes great effort to remember the Father. You forget again and again. Today, you recognise Him, so don’t say tomorrow, “I am not Your child.” Baba would then say: You are an unworthy child. A father never gives his wealth to an unworthy child. However many sacrificial fires, pilgrimages, donations and acts of charity etc. people have been doing in devotion, they have only continued to become impure through that. Many people do devotion, so why is the state of the world as it is? There is limitless devotion in Bharat. The Father says: Those who are old devotees and have worshipped Shiv Baba from the beginning are the ones who have continued to fall down and become impure. In the picture of the tree, the sun dynasty is also shown first of all, then the moon dynasty, and then the path of devotion. Then, by the time it is the end of devotion, they have become ugly. The world becomes ugly, iron aged. This is the game of the drama. Knowledge will definitely continue for half the cycle and devotion will continue for the other half. You children now have knowledge. The Lord of the Morning gives knowledge. In the world, there are various Sai Babas. Go around the large countries of the world and check it; you will find a variety of them in each place. They will say, “This is the very image of Sai Baba”, or that he is so-and-so. The purpose of the Satguru is to grant salvation, and the Satguru is making you into the masters of heaven. Who is explaining this? The soul says: Baba, You speak the truth. We follow Your shrimat and remember You alone. Cycle after cycle, we remember You and claim the inheritance from You. We have claimed the inheritance from You countless times before and we are claiming it once again. Remember that you truly do claim the inheritance from the Father and that, after 5000 years, you will lose it again in the same way. Then Baba will come and we will claim our inheritance once again. This is such an easy thing. The new home is built while you continue to live in the old home because it does take time. You children understand that Baba is building a new home; so, now, break your intellect’s yoga away from the old one. The golden age is the new home. We will go there and rule the kingdom. That is the unlimited new home, whereas this entire world is the unlimited old home. You children have unlimited disinterest in this old home. We are being removed from the relationships of the old, dirty world of the iron age and are making effort to enter into relationships with those beautiful flowers of the golden age. Therefore, you should make good effort. Souls should have so much love for the Supreme Father, the Supreme Soul. You should remove your love from all others and only have love for the One. All the Draupadis are calling out: Save us from being stripped! Innocent ones are assaulted a great deal. The Father says: It is when they have committed so much sin that the urn of sin becomes full and breaks and destruction takes place. This also happens according to the drama. All the animals and birds etc. also have their part sfixed. Whatever happens today also happened in the previous cycle. In the newspapers they write about all that has happened in the last 100 years. However, that is easy. They have the recorded history. They write about the main things. You can also write exactly what happened 5000 years ago. People read many things in the newspapers. You also have to explain to people what happened 5000 years ago. Whatever happened in the world, tell them: This happened 5000 years ago. They themselves say that Bharat was heaven, whereas you can prove it. Tell them: That same Bharat is now poverty-stricken. This war is not new; it takes place cycle after cycle. However, they will not believe you. Yes, there will be someone or other who will agree that this is accurate and will understand that death is just ahead. They feel that there is someone who is inspiring them to create these bombs etc. against their own conscious wish. The poor people are in total darkness. They do not know anything and they just say whatever enters their minds. Yet they consider themselves to be very clever. You understand that all of this is to be destroyed. Baba says: After the cries of distress, there will be the cries of victory. Then they will only remember God. People remember their special deity, but they do not know God. You understand that God is a point. He is such a tiny dot. It is such a wonder! You do not say that He is such a huge oval image, no. You say that He is a star. The soul is also a star and the part of 84 births is recorded in him. These are very subtle things. These things cannot be explained to people straightaway. First of all, explain: Remember the Father and you will claim the inheritance. These are very deep things. This is why Baba says: I am telling you deep aspects today. He continues to explain in different ways. Baba asked the question last night: How long does it take for Brahma to emerge from Vishnu’s navel, and how long does it take for Vishnu to emerge from Brahma? Yesterday, we were so ignorant; today, we are so knowledge-full. These are such wonderful things; you become sensible, numberwise. Some children also listen to Baba’s murli on tape; children have the desire to listen to the murli, word by word, by tape. Those who have a keen interest and are wealthy and generous will bring benefit to others. Whatever is given in donation now becomes a pure, charitable act, whereas in the iron age, whatever donation is made or charity performed, it makes that soul sinful. Our Sai Baba, the Lord, the Innocent Lord, is so generous hearted. You too must become generous hearted. You have to give your bones to this sacrificial fire like Dadhichi Rishi. The Father says: You are the sweetest, luckiest children in the world, the ones who are claiming their inheritance from the Father. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Have true love for the one Father. Remove your intellect’s yoga from iron-aged, impure relationships. Have unlimited disinterest in this old world.
  2. We are the luckiest children in the world, the ones who claim the inheritance from the Father. Remain in this intoxication and become generous hearted.
Blessing: May you be a powerful soul and protect yourself with the power of discernment from bad and wasteful company.
Some children are protected from wrong company, that is, bad company, but are influenced by wasteful company because wasteful things are entertaining and externally attractive. This is why BapDada’s teachings are: Do not hear anything wasteful, do not speak anything wasteful, do not do anything wasteful, do not think anything wasteful. Become so powerful that you are not influenced by the colour of any company except the Father’s. Use the power of discernment to recognize any bad or wasteful company in advance and transform it and you will then be called a powerful soul.
Slogan: In order to experience lightness constantly keep a balance of being a child and a master.

*** Om Shanti ***

 

[wp_ad_camp_1]

 

Read Bk Murli 29 June 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 1 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 July 2017

July 2017 all murlis :- Click Here

To Read Murli 30 June 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_5]

 

01/07/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – शिवबाबा की नम्बरवन श्रीमत है कि सवेरे-सवेरे उठ मुझ बाप को याद करो तो तुम्हारा बेड़ा पार हो जायेगा”
प्रश्नः- उदारचित बच्चों की निशानी क्या होगी?
उत्तर:- वह औरों का भी कल्याण करते रहेंगे। दान करने का शौक होगा। इस समय जो दान करते हैं उन्हें ही पुण्य मिलता है। 2- उदारचित बच्चे भोलानाथ बाबा जैसे फ्राकदिल होंगे। वे यज्ञ में दधीचि ऋषि मिसल हड्डियां देंगे।
गीत:- कौन आया मेरे मन के द्वारे….

ओम् शान्ति। बच्चों के लिए कौन आया? कहते हैं सुबह का सांई क्योंकि वह रात को सुबह बनाने वाला है। रात का सांई है रावण। यह अच्छी तरह नोट करो तब बुद्धि में बैठेगा। बुद्धि में यह फर्क है ना। सतोप्रधान, सतो, रजो, तमो बुद्धि होती है। कोई तो इशारे से समझ जाते हैं। तुम समझते हो बरोबर सुबह का सांई है। रात को दिन बनाते हैं। तुमको अब दिन का मालिक अर्थात् नई दुनिया का मालिक बनाते हैं। मालिक बनेंगे तब जब श्रीमत पर चलते रहेंगे। सौदागर लोग जब सुबह को दुकान खोलते हैं तो पहले-पहले माथा टेकते हैं। मन्दिर में भी ऐसे करते हैं। दुकान के आगे नमस्कार कर फिर घुसते हैं क्योंकि आमदनी होती है ना। आमदनी के लिए कहते हैं सुबह का सांई बेड़ा बने लाई… ऐसे कहते हैं।

अभी तुम बच्चे जानते हो यह कौन है! उसको हमारी आत्मा जानती है वह हमारा बाबा है। सांई बाबा है, रात को दिन बनाने वाला। आजकल सांई बाबा भी अनेक निकल पड़े हैं। रात को दिन बनाने वाला सांई बाबा एक ही है और बहुत भोला है। नाम ही है भोलानाथ। भोली कन्याओं, माताओं पर ज्ञान का कलष रखते हैं। उन्हों को वर्सा दे विश्व का मालिक बनाते हैं। तुम अपने बाप को सवेरे उठकर याद करते रहो तो एकदम बेड़ा पार हो जाए। तुमको एकदम विश्व का मालिक बना देते हैं। मेहनत कुछ भी नहीं देते हैं। बस यही धन्धा करते रहो। सबको यही परिचय देते रहो। कहो रात को दिन बनाने वाला अथवा नर्क को स्वर्ग बनाने वाला कहते हैं मुझे याद करो तो विकर्म विनाश हो जायेंगे। पैगाम देना है, आगे भी सबको पैगाम दिया था। तुम समझा सकते हो, भगवान बाबा आया है वर्सा देने के लिए। बेहद का बाप जरूर स्वर्ग का ही वर्सा देंगे। सिर्फ बाप को याद करना है। भोली माताओं के लिए कितना सहज उपाय बताते हैं। मीठी-मीठी मातायें वा मीठी-मीठी कन्यायें। मीठे-मीठे बच्चे और कोई मेहनत नहीं देता हूँ। सिर्फ और सभी का संग छोड़ दो, भक्ति मार्ग में तुम गैरन्टी करते आये हो आप आयेंगे तो हम आपके ही बनेंगे। मेरा तो एक आप दूसरा न कोई। गिरधर गोपाल कहते हैं परन्तु यह तो बाप है। उन्होंने गोपाल कृष्ण को बना दिया है। वास्तव में यह हैं चैतन्य गऊयें, शिवबाबा ज्ञान की पालना करते हैं। ज्ञान घास खिलाते हैं। वह कृष्ण की आत्मा भी अभी बहुत जन्मों के अन्त में है। नाम रूप देश काल हर जन्म में फिरता रहता है। तुम शूद्र से ब्राह्मण फिर ब्राह्मण से देवता बनते हो। यह राधे-कृष्ण की वंशावली कहो वा विष्णु की वंशावली कहो। विष्णु की विजय माला वा राधे-कृष्ण की विजय माला तुम थे। फिर अब चक्र लगाकर वह बनते हो। अब तुम ब्राह्मण फिर देवता बनते हो। नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार – सूर्यवंशी राजा रानी प्रजा आदि सब होते हैं। बाप कहते हैं जितना जो श्रीमत पर चलता है। नम्बरवन श्रीमत मिलती है सवेरे उठ सांई भोलानाथ बाबा को याद करो। बाप कहते हैं तुम आत्मा हो ना, शरीर धारण कर पार्ट बजाती हो। ऊपर में तुम आत्मायें रहती हो। अब जानते हो हमारा बाबा हम आत्माओं को पढ़ा रहे हैं। कल्प-कल्प के संगम पर एक ही बार शिवबाबा आते हैं। कल्प के बाद ही तुमको फिर यह निश्चय करना होता है कि मैं आत्मा हूँ। बाप को याद करना है। जिन्न का मिसाल देते हैं ना – कहता था मुझे काम दो नहीं तो खा जाऊंगा। बाप कहते हैं अगर मुझे याद नहीं करेंगे तो जिन्न रूपी माया खा जायेगी। ऐसे भी नहीं कि तुम सदैव याद करेंगे। अभी पुरुषार्थी हो। यह है सहज राजयोग और ज्ञान। हेल्थ और वेल्थ दोनों मिलती हैं। मनमनाभव, मध्याजी भव। बाप कहते हैं मुझे याद करो और वर्से को याद करो। बस फिर क्यों अपना टाइम वेस्ट करना चाहिए। आधाकल्प भक्ति मार्ग में टाइम वेस्ट गंवाया है। आधाकल्प ब्रह्मा का दिन, आधाकल्प ब्रह्मा की रात। उन्होंने फिर लम्बी चौड़ी आयु दे दी है। कलियुग की इतने हजार वर्ष, सतयुग की इतनी। फिर आधा-आधा हो न सके। बाप बैठ समझाते हैं – पहले अव्यभिचारी भक्ति थी, फिर व्यभिचारी बन पड़ी है। भूत पूजा अर्थात् 5 तत्वों के शरीर की पूजा भी करने लगे हैं। बाबा का देखा हुआ है – गंगा के किनारे जाकर बैठते हैं, अपनी पूजा कराते हैं। सांई बाबा भी भिन्न-भिन्न प्रकार के बहुत हैं। यह बाबा तो कितना गुप्त है। उनको तुम्हारी दिल पहचानती है। बाबा कहते हैं मैं तुम आत्माओं का बाप हूँ, तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। वह है ही हेविनली गॉड फादर, जरूर स्वर्ग ही स्थापन करेंगे। रावण आकर नर्क स्थापन करते हैं। यह समझ भी तुमको है। मनुष्य तो सिर्फ कहने मात्र कहते हैं। समझते कुछ भी नहीं हैं। यह भी कहते हैं उल्टा झाड़ है। कल्प वृक्ष भी कहते हैं। परन्तु उनकी आयु बता नहीं सकते। वृक्ष की आयु लाखों वर्ष तो हो न सके, इम्पासिबुल है। बाप कितना प्यार से बैठ समझाते हैं। मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों। जैसे लौकिक बाप प्यार से बैठ समझाते हैं ना – स्कूल में जाओ, यह करो। अभी तो तमोप्रधान हैं। जब रजोप्रधान होंगे तो टीचर भी अच्छी शिक्षा देते होगे। माँ बाप भी अच्छी शिक्षा देते हैं। बच्चों को सुख के लिए ही रचते हैं। कहते हैं एक बच्चा तो जरूर होना चाहिए। एक बच्चा मिला फिर कहेंगे एक बच्ची भी जरूर चाहिए। नहीं तो लक्ष्मी नहीं आयेगी। अभी तो क्या हाल है, बच्चे तो एकदम नाक में दम कर देते हैं। सतयुग में ऐसी बात ही नहीं। स्वर्ग फिर तो क्या।

तुम मीठे-मीठे बच्चे अब स्वर्ग की बादशाही ले रहे हो। तुम जानते हो कि मनुष्य तो कितने पत्थर बुद्धि बने हैं। बाप को ही नहीं जानते। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार जानते हैं। बाप को याद करने की बड़ी मेहनत है। घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। आज तुम पहचानते हो फिर कल ऐसे नहीं कहना कि हम बच्चे नहीं हैं। कहेंगे कि तुम जैसे कपूत हो। कपूत को बाप कभी धन नहीं देते हैं। मनुष्य भक्ति में जो भी जप तप तीर्थ आदि करते हैं उनसे पतित ही बनते आये हैं। भक्ति तो बहुत करते हैं फिर भी ऐसी हालत क्यों? भारत में ही भक्ति अथाह है। बाप कहते हैं जो पुराने भगत हैं, जिन्होंने शुरू से शिवबाबा की पूजा की है, वही नीचे गिरते-गिरते पतित बने हैं। झाड़ में भी देखो पहले सूर्यवंशी चन्द्रवंशी फिर भक्ति मार्ग दिखाया है। फिर भक्ति का अन्त होता है तो काले हो जाते हैं। दुनिया काली आइरन एजड हो जाती है। ड्रामा का खेल है। आधाकल्प ज्ञान, आधाकल्प भक्ति जरूर चलनी है। अब तुम बच्चे ज्ञान लेते हो। सुबह का सांई ज्ञान देते हैं। दुनिया में तो अनेक भिन्न-भिन्न सांई लोग हैं। तुम दुनिया में बड़े-बड़े देशों में चक्कर लगाओ, जांच करो तो तुमको हर जगह से किसम-किसम के मिलेंगे। कहेंगे यह तो साक्षात् सांई बाबा है। फलाना है। सतगुरू है ही सद्गति के लिए। सतगुरू तुमको स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। यह कौन समझाते हैं। आत्मा कहती है बाबा आप सत्य कहते हो। हम आपकी श्रीमत पर आपको याद करते हैं। कल्प-कल्प हम आपको याद कर आपसे वर्सा लेते हैं। अनेक बार आपसे वर्सा लिया है। अब फिर से ले रहे हैं। यह भी याद करो बरोबर हम बाप से वर्सा लेते हैं। फिर 5 हजार वर्ष के बाद ऐसे ही गंवायेंगे फिर आप आयेंगे हम वर्सा लेंगे। कितनी सहज बात है। पुराने घर में रहते नया घर बनाया जाता है। टाइम तो लगता है। तुम बच्चे जानते हो बाबा नया घर बना रहे हैं। पुराने घर से अब बुद्धियोग तोड़ना है। नया घर है सतयुग। वहाँ जाकर हम राजाई करेंगे। वह बेहद का नया घर, अभी यह सारी दुनिया है बेहद का पुराना घर, इससे तुम्हारा वैराग्य है बेहद का। पुराने कलियुगी छी-छी सम्बन्ध से निकल अभी हम सतयुगी गुल-गुल सम्बन्ध के लिए पुरुषार्थ कर रहे हैं। तो पुरुषार्थ भी अच्छा करना चाहिए। परमपिता परमात्मा से आत्माओं का कितना लव होना चाहिए। और सबसे लव हटाए एक से लव होना चाहिए। सभी द्रोपदियां पुकारती हैं – नंगन होने से बचाओ। बहुत अत्याचार करते हैं। बाप कहते हैं इतने पाप करेंगे तब ही पाप का घड़ा भरेगा और विनाश होगा। यह भी ड्रामा अनुसार उसमें जानवर पक्षी आदि जो कुछ भी हैं उनका पार्ट है। आज जो हुआ सो कल्प पहले हुआ था। एक अखबार में लिखते हैं – 100 वर्ष के अन्दर जो हुआ था.. सो तो सहज है। उन्हों के पास हिस्ट्री रहती है। मुख्य-मुख्य बातें लिखते हैं तुम भी लिख सकते हो कि हूबहू 5 हजार वर्ष पहले क्या हुआ था। अखबारों में तो बहुत बातें पढ़ते हैं ना। समझाना भी पड़े कि 5 हजार वर्ष पहले क्या हुआ था। दुनिया में जो कुछ भी हुआ है – बोलो 5 हजार वर्ष पहले यह सब हुआ था। मुख से कहते हैं भारत स्वर्ग था, तुम सिद्ध कर बतायेंगे। बोलो, अभी वही भारत कंगाल है। यह लड़ाई कोई नई नहीं है। कल्प-कल्प लगती रहती है। परन्तु तुम्हारी बात को कोई मानेंगे नहीं। हाँ कोई न कोई निकलेंगे जो समझेंगे यह बात तो ठीक है। यह भी समझते हैं मौत सामने खड़ा है। कोई हैं जो न चाहते भी यह बाम्ब्स आदि बनवाते रहते हैं। बिचारे बिल्कुल अन्धियारे में हैं। कुछ भी पता नहीं है जो आया सो कह देते हैं। अपने को बहुत अकलमंद समझते हैं। तुम जानते हो यह सब विनाश हो जायेंगे। बाबा कहते हैं हाहाकार के बाद फिर जय-जय कार होना है। फिर तो भगवान को ही याद करेंगे। जो जिसका ईष्ट होगा उनको ही याद करेंगे। भगवान को तो जानते ही नहीं। तुम तो जानते हो भगवान एक बिन्दी हैं। कितनी छोटी बिन्दी, कितना वन्डर है। तुम तो नहीं कहेंगे कि वह इतना बड़ा लिंग है। नहीं, तुम कहेंगे स्टार है। आत्मा भी स्टार है। उसमें 84 जन्मों का पार्ट भरा हुआ है। कितनी सूक्ष्म बातें हैं। फट से किसको सब बातें बताई नहीं जाती हैं। पहले-पहले तो समझाना है कि बाप को याद करो तो वर्सा मिलेगा। कितनी महीन बातें हैं, तब तो कहते हैं आज तुम्हें गुह्य बातें सुनाता हूँ। कैसे-कैसे युक्ति से समझाते रहते हैं। देखो बाबा ने रात को प्रश्न पूछा था कि विष्णु की नाभी से ब्रह्मा को निकलने में कितना समय लगता है फिर ब्रह्मा से विष्णु को निकलने में कितना समय लगता है? कल हम कितने अज्ञानी थे आज कितने नॉलेजफुल हैं। कितनी वन्डरफुल बातें हैं। सेन्सीबुल भी नम्बरवार बनते हैं।

तुम बच्चे टेप से भी बाबा की मुरली सुनते हो। बच्चे चाहते हैं टेप से हम अक्षर बाई अक्षर सुनें। जिनको शौक होगा, पैसे वाले होंगे, उदारचित होंगे तो औरों का भी कल्याण करेंगे। इस समय जो दान करते हैं, उनका ही पुण्य बनता है। बाकी कलियुग में जो दान-पुण्य करते हैं, उनसे तो पाप आत्मा ही बनते हैं। हमारा बाबा सांई कितना भोलानाथ फ्राकदिल है। तुमको भी फ्राकदिल बनना चाहिए। यज्ञ में दधीची ऋषि मिसल हड्डियाँ देनी होती हैं। बाप कहते हैं स्वीट लकीएस्ट चिल्ड्रेन इन दी वर्ल्ड तुम हो जो बाप से वर्सा ले रहे हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) एक बाप से सच्चा-सच्चा लव रखना है। कलियुगी पतित सम्बन्धों से बुद्धियोग हटा देना है। इस पुरानी दुनिया से बेहद का वैराग्य रखना है।

2) हम सारे विश्व में लकीएस्ट बच्चे हैं, जो बाप से वर्सा लेते हैं, इसी नशे में रहना है। फ्राकदिल बनना है।

वरदान:- परखने की शक्ति द्वारा कुसंग व व्यर्थ संग से बचने वाले शक्तिशाली आत्मा भव 
कई बच्चे कुसंग अर्थात् बुरे संग से तो बच जाते हैं लेकिन व्यर्थ संग से प्रभावित हो जाते हैं, क्योंकि व्यर्थ बातें रमणीक और बाहर से आकर्षित करने वाली होती हैं इसलिए बापदादा की शिक्षा है-न व्यर्थ सुनो, न व्यर्थ बोलो, न व्यर्थ करो, न व्यर्थ देखो, न व्यर्थ सोचो। ऐसे शक्तिशाली बनो जो बाप के सिवाए और कोई भी संग का रंग प्रभावित न करे। परखने की शक्ति द्वारा खराब वा व्यर्थ संग को पहले से ही परखकर परिवर्तन कर दो-तब कहेंगे शक्तिशाली आत्मा।
स्लोगन:- सदा हल्केपन का अनुभव करना है तो बालक और मालिकपन का बैलेन्स रखो।

 

[wp_ad_camp_1]

 

To Read Murli 29 June 2017 :- Click Here

To Read Murli 28 June 2017 :- Click Here

 

 
Font Resize